विज्ञापन
Home ›   Video ›   Uttar Pradesh ›   Prayagraj ›   Allahabad high court verdict is big jolt for swami swaroopanand and swami vasudevanand

64 साल बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, स्वरूपानन्द को झटका

वीडियो डेस्क, अमर उजाला टीवी/ इलाहाबाद Updated Sat, 23 Sep 2017 12:10 PM IST

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने 64 साल से चले रहे मुकदमें में बड़ा फैसला सुनाया है। न्यायालय ने शंकराचार्य स्वरूपानन्द सरस्वती और स्वामी वासुदेवानन्द दोनों को ही ज्योतिष पीठ का शंकराचार्य नहीं माना है। न्यायालय ने स्वामी वासुदेवानन्द को छत्र चंवर दण्ड, सिंहासन और शंकराचार्य पदनाम का उपयोग न करने का भी आदेश सुनाया है। न्यायालय ने उन्हें सन्यासी भी नहीं माना है।

अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Latest

Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X