विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

उत्तराखंड : देहरादून पहुंचे गृहमंत्री अमित शाह, आज करेंगे आपदा प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण 

केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह देहरादून पहुंच गए हैं। जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, केन्द्रीय मंत्री अजय भट्ट और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने केन्द्रीय गृहमंत्री का स्वागत किया। अमित शाह आज उत्तराखण्ड में आपदा प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे। 

जानकारी मिली है कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह बृहस्पतिवार को आपदा प्रभावित स्थानों का पहले हवाई सर्वेक्षण करेंगे। उसके बाद जौलीग्रांट स्थित देहरादून एयरपोर्ट पर ही अधिकारियों की बैठक लेंगे और दिशा-निर्देश देंगे।

उत्तराखंड में आई प्राकृतिक आपदा को लेकर केंद्र सरकार और भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व भी चिंता में है। इसी के मद्देनजर प्रदेश भाजपा ने बूथ स्तर से लेकर प्रदेश स्तर तक के सभी कार्यक्रम 24 अक्तूबर तक स्थगित कर दिए हैं। शहीद सम्मान यात्रा भी टाल दी गई है। कैबिनेट मंत्रियों ने भी अपने कार्यक्रम टाल दिए हैं।

आज : गृहमंत्री का मिनट टू मिनट कार्यक्रम
 9:30 बजे गृहमंत्री राजभवन से जीटीसी हेलीपैड के लिए रवाना होंगे। 
9:45 बजे जीटीसी हेलीपैड से बीएसएफ हेलीकॉप्टर के माध्यम से 
11:30 बजे तक गृहमंत्री, आपदा प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे। 
11:40 बजे जॉलीग्रांट एयरपोर्ट स्थित राज्य अतिथि गृह पहुंचेंगे। 
11:45 से 12:45 बजे तक जॉलीग्रांट एयरपोर्ट स्थिति राज्य अतिथि गृह में बैठक करेंगे। 1:00 बजे गृहमंत्री अमित शाह जौली ग्रांट एयरपोर्ट से आईएएफ एयरक्राफ्ट से नई दिल्ली रवाना हो जाएंगे।

आपदा में अब तक 55 की मौत
कुमाऊं में बेमौसम बारिश के  कहर से सात और गढ़वाल में तीन और लोगों की मौत हुई है। इसके साथ ही आपदा की भेंट चढे़ लोगों की संख्या अब 55 हो गई है।

मदद की तैयारी
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के मुताबिक, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने दूरभाष पर प्रदेश में बारिश के बाद राहत कार्यों का जायजा लिया। उन्होंने पार्टी पदाधिकारियों और संगठन के कार्यकर्ताओं को आपदा प्रभावितों की मदद में जुटने का आह्वान किया। कौशिक ने कहा कि प्रदेश महामंत्री राजेंद्र भंडारी और कुलदीप कुमार को समन्वय की जिम्मेदारी दी गई है। पार्टी के सभी कॉल सेंटर सक्रिय हैं और बूथ स्तर तक जुड़े हैं। 

कुमाऊं मंडल में जिलाध्यक्ष व संगठन के वरिष्ठ पदाधिकारियों को तत्काल टीमें बनाकर प्रभावित स्थलों पर पहुंचकर लोगों की मदद करने के निर्देश दिए गए हैं। प्रशासन के साथ समन्वय बनाकर राशन किट, कपड़े और जरूरी सामान जरूरतमंदों को मुहैया कराया जाएगा।

... और पढ़ें
गृहमंत्री अमित शाह देहरादून में... गृहमंत्री अमित शाह देहरादून में...

उत्तराखंड: कहर बरपा रही मौसम की उलटबांसी, जून में जल प्रलय, फरवरी में बाढ़ और अक्तूबर में बारिश मूसलाधार

उत्तराखंड में मौसम की उलटबांसी कहर बरपा रही है। दो दिन की रिकाॅर्ड तोड़ बारिश ने जून 2013 की आपदा के जख्मों को हरा कर दिया। फरवरी में ऋषिगंगा की बाढ़ और अक्तूबर के महीने में अत्यधिक बारिश ने हुक्मरानों, नीति नियंताओं और पर्यावरण कार्यकर्ताओं को चिंता में डाल दिया। दो दिन की बारिश से मची तबाही में 55 हंसती खेलती जिंदगी मौत के आगोश में समा चुकी हैं।

उत्तराखंड आपदा: कुमाऊं में सात और लोगों के शव हुए बरामद, मृतकों की संख्या 55 पहुंची

दो दिन में राज्य को जानमाल की बहुत अधिक हानि हुई है। सरकारी तंत्र यदि अतिरिक्त चौकसी नहीं दिखाता तो नुकसान कई गुना अधिक हो सकता था। चारधाम यात्रा को तत्काल रोकर हजारों की संख्या में उत्तराखंड पहुंचे पर्यटकों को हिफाजत हो सकी।

उत्तराखंड आपदा: मलबे में दबने से एक ही परिवार के चार लोगों की मौत, 18 घंटे बाद बरामद हुए शव

बेमौसम आपदा ने हमेशा बरपाया कहर
उत्तराखंड में बेमौसम आपदा ने हमेशा कहर ही बरपाया है। मानसून के दौरान भी भूस्खलन, बाढ़ और वज्रपात की घटनाएं हुईं। इन आपदाओं से निपटने के लिए पूरे सिस्टम की तैयारियां भी दिखीं, लेकिन अचानक आई आपदाओं के आगे पूरा तंत्र बेबस नजर आया। इसकी सबसे ताजा बानगी 16 जून 2013 में आपदा थी, जिसमें केदारनाथ जलप्रलय में हजारों लोग मारे गए। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड आपदा: कुमाऊं में सात और लोगों के शव हुए बरामद, मृतकों की संख्या 58 पहुंची

कुमाऊं में बेमौसम बारिश के  कहर से सात और गढ़वाल में तीन और लोगों की मौत हुई है। इसके साथ ही आपदा की भेंट चढे़ लोगों की संख्या अब 58 हो गई है। वहीं, बुधवार को रामनगर में कोसी में बही बच्ची और कांडा (बागेश्वर) में बारिश के दौरान एक पोस्ट ऑफिस कर्मी लापता हैं। गढ़वाल में 14 लोग लापता बताए गए थे जिनमें देर शाम तीन की मौत की पुष्टि हो गई। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री धामी को फोनकर आपदा में हुए नुकसान की जानकारी ली। बुधवार की देर रात देहरादून में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के डेरा डालने की सूचना है। बृहस्पतिवार को वह प्रदेश के आपदा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करेंगे।

उत्तराखंड मौसम अपडेट: देहरादून में मौसम साफ, बुधवार को नदियों का जलस्तर हुआ कम, मिली कुछ राहत

ताजा मामले में भारी बारिश के साथ आए मलबे की चपेट में आने से लोहाघाट ब्लॉक में नेपाल सीमा से लगे सुल्ला गांव के कैलाश सिंह  (32) उनकी पत्नी चंचला देवी (28), उनके दो बेटों रोहित सिंह (12) और  भुवन सिंह (8) की मौत हो गई है। 18 घंटे की मशक्कत के बाद शवों को मलबे से निकाला जा सका। पिथौरागढ़ जिले की धारचूला तहसील के दारमा घाटी के ग्राम चल के बुग्याल गए दो लोगों की बर्फ में दबकर मौत हो गई। ग्राम लदुआ ढिकुली में ऊंट की सवारी कराने वाले बिजनौर निवासी इस्लामुद्दीन उर्फ मुंशी की सात वर्षीय बेटी आलिया रामनगर में कोसी नदी के तेज बहाव में बह गई। घटना के वक्त बच्ची बकरियों को चराने नदी किनारे गई थी। बच्ची को बहता देख वहां मौजूद पड़ोस की महिला ने भी तेज पानी में छलांग लगा दी, लेकिन वह बच्ची को नहीं बचा पाई। महिला खुद भी बहती चली गई, उसे किसी तरह बचा लिया गया।

उत्तराखंड: बर्फबारी के चलते भारत-चीन सीमा पर तीन पोर्टर लापता, रेस्क्यू के लिए वायु सेना का हेलीकॉप्टर पहुंचा
बुधवार को मौसम खुला तो मलबे में दबे लोगों की खोजबीन का काम शुरू हुआ। इस दौरान ओखलकांड के थलाड़ी में एक व्यक्ति की मौत का पता चला। मलबे में ढूंढखोज के दौरान उसका शव बरामद हुआ। इसके अलावा मंगलवार को मलबे में दबे चार और लोगों के शव मलबे में खोजबीन के दौरान निकाले गए। इनमें दो शव कैंची धाम और दो शव बोहराकोट से निकाले गए। सेना के हेलिकॉप्टर ने पांच बार थलाड़ी (ओखलकांडा) के लिए उड़ान भरी।

सीएम धामी ने ट्रैक्टर पर सवार होकर आपदाग्रस्त इलाकों का जायजा लिया 
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधरवार को खटीमा, चंपावत और नैनीताल जिले के रामगढ़ क्षेत्र में आपदाग्रस्त इलाकों का जायजा लिया। खटीमा में उन्होंने ट्रैक्टर पर बैठकर जलभराव क्षेत्रों का जायजा लेकर पीड़ितों का जाना हाल। इस दौरान किसानों ने मुआवजे की मांग को लेकर उन्हें ज्ञापन सौंपा। इस दौरान सीएम की फ्लीट में शामिल पुलिस पेट्रोलिंग कार नौसर सड़क पर पानी के तेज बहाव में बह गई थी।  ... और पढ़ें

उत्तराखंड: दारमा घाटी के चल गांव में बर्फ में दबकर दो लोगों की मौत, दुग्तु और दांतू गांव में फंसे 80 पर्यटक

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में दारमा घाटी के ग्राम चल के बुग्याल में अपने जानवरों के साथ गए दो लोगों की बर्फ में दबकर मौत हो गई। 18 अक्तूबर को ग्राम चल निवासी शंकर सिंह (51) पुत्र गोपाल सिंह और दीपक सिंह (18) पुत्र करन सिंह जानवर चराने बुग्यालों में गए थे। उसी दौरान मौसम खराब होने के कारण भारी बर्फबारी शुरू हो गई।

उत्तराखंड आपदा: कुमाऊं में सात और लोगों के शव हुए बरामद, मृतकों की संख्या 55 पहुंची

आसपास कोई सुरक्षित स्थान न होने के कारण दोनों भारी बर्फबारी में फंस गए और उनकी मौत हो गई। अन्य ग्रामीणों ने वीसेट से घटना की जानकारी परिजनों दी। सूचना मिलने पर शंकर की बहू सरस्वती देवी और सामाजिक कार्यकर्ता सुखराज सिंह ने एसडीएम एके शुक्ला को पत्र भेजकर क्षेत्र में बचाव दल भेजने की मांग की है। उन्होंने बताया कि मौसम सही होने पर ग्रामीण शवों को लेने घटनास्थल की ओर गए हैं।
... और पढ़ें

उत्तराखंड आपदा: मलबे में दबने से एक ही परिवार के चार लोगों की मौत, 18 घंटे बाद बरामद हुए शव

दारमा घाटी में बर्फ
उत्तराखंड के चंपावत में भारी बारिश के साथ आए मलबे की चपेट में आने से लोहाघाट ब्लॉक के नेपाल सीमा से लगे सुल्ला गांव के एक ही परिवार के चार लोगों की मौत हो गई है। आपदा राहत टीमों ने 18 घंटे की मशक्कत के बाद शवों को मलबे से निकाला। 

उत्तराखंड: दारमा घाटी के चल गांव में बर्फ में दबकर दो लोगों की मौत, दुग्तु और दांतू गांव में फंसे 80 पर्यटक

मंगलवार देर शाम करीब नौ बजे भारी बारिश के दौरान सुल्ला निवासी कैलाश सिंह के भवन में मलबा घुस गया। बारिश का पानी और मलबा इतनी तेजी से घर में घुसा कि किसी को संभलने का मौका तक नहीं मिला। मलबे की चपेट में आने से कैलाश सिंह  (32) पुत्र कुंवर सिंह, चंचला देवी (28) पत्नी कैलाश सिंह, रोहित सिंह (12) और  भुवन सिंह (8) पुत्र कैलाश सिंह मलबे की चपेट में आ गए।

उत्तराखंड आपदा: कुमाऊं में सात और लोगों के शव हुए बरामद, मृतकों की संख्या 55 पहुंची

घटना की सूचना मिलने के बाद एसडीएम केएन गोस्वामी के निर्देश के निर्देश पर फायर, राजस्व, पंचेश्वर कोतवाली से राहत और बचाव टीमें गांव के लिए रवाना हुईं। बुधवार देर शाम चारों शवों को बरामद कर लिया गया। एसडीएम ने बताया कि चारों शवों का पोस्टमार्टम मौके पर ही किया गया।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: पत्नी ने सो रहे पति की ईंट से कूंचकर की हत्या, चाकू से भी किए वार फिर खुद लगाई फांसी, तस्वीरें

उत्तराखंड के रुद्रपुर में महिला ने सो रहे पति की ईंट से कूंचकर हत्या कर दी। उसके बाद खुद भी फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। महिला ने पति के गले पर चाकू से भी वार किया। पुलिस ने ससुर की तहरीर पर मृतक बहू के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है।

रंपुरा वार्ड नंबर 22 में सुनील दिवाकर (26) अपनी पत्नी गीता (24), तीन बच्चों और परिजनों के साथ रहता था। दोनों में अक्सर विवाद होता रहता था। मंगलवार रात खाना खाने के बाद पहली मंजिल पर सुनील के पिता रामभरोसे, मां कमलेश, तीन बच्चे, दिव्यांग भाई राजू सोए हुए थे। दूसरी मंजिल पर गीता और छत पर सुनील सोया था। बुधवार सुबह परिजन उठे तो सुनील नहीं मिला। रामभरोसे के मुताबिक उसने सबसे बड़ी पोती दीक्षा को दूसरी मंजिल पर भेजा तो वह रोते हुए नीचे आ गई।

इसके बाद वह छत पर गया तो सुनील लहूलुहान मृत पड़ा था। कमरे में बहू गीता चुन्नी के फंदे पर लटकी हुई थी। इसके बाद परिजनों में चीखपुकार मच गई और आसपास के लोग घर में जमा हो गए। सूचना पर प्रभारी निरीक्षक विक्रम राठौर, एसएसआई सतीश कापड़ी टीम के साथ मौके पर पहुंचे और शवों का मुआयना किया। सुनील के माथे पर ईंट से कई वार किए गए थे। खून लगी ईंट भी मौके से बरामद हुई।

सुनील का गला काटने की कोशिश की गई थी। पुलिस को मृतका के कमरे से चाकू भी मिला, लेकिन कोई सुसाइड नोट नहीं मिला। पुलिस ने आवश्यक कार्रवाई के बाद शव पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी भिजवाए हैं। प्रभारी निरीक्षक राठौर ने बताया कि गीता ने ईंटों से पति के माथे पर कई वार किए थे और चाकू से गला काटने की कोशिश की। दोनों शव पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंपे जाएंगे।
... और पढ़ें

हरिद्वार: बेरोजगारों को चूना लगाने वाला कछुआ गिरफ्तार, नेताओं संग फोटो खिंचवाकर करता था ठगी 

उत्तराखंड में कोरोना: बुधवार को आठ नए संक्रमित मिले, दो हफ्ते बाद एक मरीज की मौत

उत्तराखंड में अब कोरोना संक्रमण कम हो गया है। बीते 24 घंटे में प्रदेश में आठ नए कोरोना संक्रमित मिले हैं। वहीं, दो हफ्ते बाद एक मरीज की मौत हुई है। जबकि छह मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया। सक्रिय मामलों की संख्या घटकर 176 पहुंच गई है। 

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार, बुधवार को 7462 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। नौ जिलों अल्मोड़ा, बागेश्वर, चमोली, चंपावत, पिथौरागढ़, रुद्रप्रयाग, टिहरी, ऊधमसिंह नगर और उत्तरकाशी में एक भी संक्रमित मरीज नहीं मिला है। वहीं, देहरादून में चार, हरिद्वार में दो और नैनीताल व पौड़ी में एक-एक संक्रमित मरीज मिला है। 

उत्तराखंड में कोरोना: सरकार ने एक महीने के लिए बढ़ाए कोविड प्रतिबंध, नई एसओपी जारी

संक्रमण दर 0.11 प्रतिशत पहुंची
प्रदेश में अब तक कोरोना के कुल संक्रमितों की संख्या 343773 हो गई है। इनमें से 330071 लोग ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में कोरोना के चलते अब तक कुल 7398 लोगों की जान जा चुकी है। प्रदेश की रिकवरी दर 96.01 प्रतिशत और संक्रमण दर 0.11 प्रतिशत दर्ज की गई है। 

22 हजार ने लगवाई कोविड वैक्सीन 
प्रदेश में कोविड टीकाकरण की रफ्तार लगातार कम हो रही है। बुधवार को 694 केंद्रों पर 22 हजार से अधिक लोगों ने कोविड वैक्सीन की पहली या दूसरी डोज लगवाई है। राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. कुलदीप सिंह मर्तोलिया ने बताया कि आपदा के चलते प्रदेश के कई जिलों में टीकाकरण कार्य प्रभावित हुआ है। बुधवार को 22 हजार लोगों को वैक्सीन की पहली या दूसरी डोज लगवाई गई। बागेश्वर, पिथौरागढ़ जिले में काफी कम टीकाकरण हुआ है। उन्होंने बताया कि बृहस्पतिवार को देश में कोविड वैक्सीन लगवाने वालों का आंकड़ा 100 करोड़ पार हो जाएगा। इस उपलब्धि पर प्रदेश के कई टीकाकरण केंद्रों पर कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00