विज्ञापन
विज्ञापन
घर बैठें बनवाएं फ्री जन्मकुंडली और जानें भविष्य की कहानी ग्रह - नक्षत्रों की ज़ुबानी
Kundali

घर बैठें बनवाएं फ्री जन्मकुंडली और जानें भविष्य की कहानी ग्रह - नक्षत्रों की ज़ुबानी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

राहत की खबर: 10 नवंबर तक जमा हो सकेंगे उत्तराखंड बोर्ड परीक्षा के फार्म, ये है संशोधित कार्यक्रम

उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा बोर्ड 2021 की 10वीं व 12वीं की संस्थागत और व्यक्तिगत परीक्षा के आवेदन फार्म अब 10 नवंबर तक जमा हो सकेंगे। शिक्षा विभाग ने निर्धारित शुल्क के साथ आवेदन फार्म जमा करने की अंतिम तिथि बढ़ा दी है।

सचिव विद्यालयी शिक्षा आर मीनाक्षी सुंदरम ने बृहस्पतिवार को यह आदेश जारी किए। कोरोना से बचाव व रोकथाम के लिए स्कूल बंद होने से बोर्ड परीक्षा के अधिकांश छात्र पूर्व में निर्धारित तिथि में परीक्षा प्रवेश फार्म नहीं भर सके थे।

यह भी पढ़ें: 
पंतनगर विवि: प्रवेश के लिए अंतिम मौका, 26 से होगी बीटेक पाठ्यक्रमों की स्पॉट राउंड काउंसलिंग

अब उनकी सुविधा के लिए परीक्षा फार्म जमा करने की अंतिम तिथि बढ़ाई गई है। यह व्यवस्था केवल बोर्ड परीक्षा 2021 के लिए ही लागू होगी। पूर्व में हाईस्कूल व इंटर के संस्थागत छात्रों के लिए फार्म जमा करने की अंतिम 31 जुलाई और व्यक्तिगत छात्रों के लिए 14 अगस्त निर्धारित थी। 
... और पढ़ें
उत्तराखंड बोर्ड उत्तराखंड बोर्ड

Coronavirus in Uttarakhand: 402 नए संक्रमित मिले, आठ मरीजों की हुई मौत

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण की रफ्तार अब धीमी हो रही है। गुरुवार को प्रदेश में 402 नए संक्रमित मरीज मिले हैं। वहीं, आठ मरीजों की मौत हुई है। आज 568 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया है। एक्टिव केस की संख्या 4897 हो गई है। 

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार, आज 11297 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। वहीं, सबसे ज्यादा 107 संक्रमित मरीज देहरादून में मिले हैं। अल्मोड़ा में 15, बागेश्वर में 11,चमोली में 28, चंपावत में नौ, हरिद्वार में 32, नैनीताल में 46, पौड़ी में 48, पिथौरागढ़ में नौ, रुद्रप्रयाग में 37, टिहरी में 19, ऊधमसिंह नगर में 27 और उत्तरकाशी में 14 मरीज मिले हैं। 


यह भी पढ़ें:
 Coronavirus: उत्तराखंड में राष्ट्रीय औसत से अधिक है मृत्यु दर, देहरादून जिले में सबसे ज्यादा

प्रदेश में अब तक 53200 मरीज ठीक हो चुके हैं। जबकि मरने वालों की संख्या 968 हो गई है। 
... और पढ़ें

चीन सीमा से लगे चिन्यालीसौड़ पहुंचा वायुसेना का एएन-32 विमान, किया लैंडिंग और टेकऑफ का अभ्यास

उत्तराखंड में चीन सीमा से लगे चिन्यालीसौड़ एयरपोर्ट हवाई अड्डे पर गुरुवार को भारतीय वायु सेना का मल्टी परपज एएन-32 विमान पहुंचा। इस दौरान विमान ने लैंडिंग और टेकऑफ का अभ्यास किया। 

सीमा के सबसे नजदीकी एयर बेस चिन्यालीसौड़ हवाई अड्डे पर सेना की गतिविधियां बढ़ गई हैं। बीते करीब दो माह से हवाई अड्डा क्षेत्र सेना की छावनी में तब्दील हो गया है। यहां आए दिन सेना के वाहनों के जत्थे पहुंच रहे हैं।


यह भी पढ़ें: 
उत्तराखंड से लगी चीन सीमा पर चेतक हेलीकॉप्टर से पहुंचे वायुसेना के अधिकारी, लिया व्यवस्थाओं का जायजा 

यहां विश्राम के पश्चात सेना के जवानों को बॉर्डर पर भेजा जा रहा है। दो दिन पहले हेलीकॉप्टर से चिन्यालीसौड़ पहुंचे वायु सेना के अधिकारियों ने यहां हवाई अड्डे का जायजा लिया था।
... और पढ़ें

नेवले ने किया हमला तो कोबरा ने कार के इंजन में घुसकर बचाई जान, ऐसे निकाला बाहर, तस्वीरें...

पुष्पांजलि बिल्डर्स मामला: कंपनी के निदेशकों पर दो और मुकदमे दर्ज, जल्द हो सकती है गैंगस्टर की कार्रवाई 

माइनस आठ डिग्री तापमान में सीमा की निगहबानी कर रहे जवान, लिपुपास और नाभिढांग में जमने लगा पानी

उच्च हिमालयी क्षेत्र में हल्का हिमपात शुरू होने से कड़ाके की ठंड पड़ने लगी है। रात को तापमान माइनस आठ डिग्री तक पहुंच रहा है। तापमान में गिरावट आने से नलों का पानी भी जमने लगा है। कड़ाके की ठंड के बावजूद भारतीय सुरक्षा एजेंसियों के जवान सीमा पर मुस्तैदी के साथ डटे हुए हैं। 

उच्च हिमालयी क्षेत्र में अक्तूबर से हल्का हिमपात होने लगता है। पिछले वर्षों तक चीन सीमा पर तैनात सुरक्षा बलों के जवान अक्तूबर-नवंबर तक अग्रिम चौकियों से निचली चौकियों में शिफ्ट हो जाते थे। इस बार चीन से चल रही तनातनी को देखते हुए शीतकाल में भी जवान अग्रिम चौकियों में तैनात रहेंगे। 


यह भी पढ़ें: 
Weather Today: बदला मौसम, चारों धाम समेत हेमकुंड साहिब में हुई सीजन की पहली बर्फबारी

सूत्रों के अनुसार लिपुपास, नाभिढांग सहित अन्य क्षेत्रों में पिछले एक सप्ताह में तापमान में भारी गिरावट आई है। इन क्षेत्रों का तापमान माइनस 8 डिग्री तक पहुंचने लगा है। इसके चलते नलों का पानी भी जमने लगा है।

धूप निकलने के बाद नलों से पानी बहना शुरू होता है। शीतकाल में अग्रिम चौकियों में जवानों के लिए रसद की आपूर्ति कर दी गई है। हाड़ कंपाने वाली ठंड से सुरक्षा के लिए जवानों को खास पोशाकें भी उपलब्ध कराई गई हैं।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X