विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
क्या कुंडली मिलने पर विवाह करना सही है
kundali milan

क्या कुंडली मिलने पर विवाह करना सही है

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

तस्वीरेंः ऐतिहासिक पलों का गवाह बना अनंतनाग, राम मंदिर के लिए जम्मू-कश्मीर में गजब का उत्साह

जम्मू-कश्मीर में जश्न का माहौल जम्मू-कश्मीर में जश्न का माहौल

जम्मू-कश्मीर के शोपियां में आतंकी हमला, पुलिस और सीआरपीएफ की टीम पर आतंकियों ने फेंका ग्रेनेड

जम्मू-कश्मीर के शोपियां में आतंकियों ने सुरक्षाबलों को निशाना बनाने की नापाक हरकत की है। इलाके के संगालो पुल पर तैनात पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों को निशाना बनाते हुए आतंकियों ने ग्रेनेड हमला किया है। इस घटना के बाद इलाके में तलाशी अभियान चलाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें-
तस्वीरेंः ऐतिहासिक पलों का गवाह बना अनंतनाग, राम मंदिर के लिए जम्मू-कश्मीर में गजब का उत्साह

बता दें कि पिछले वर्ष पांच अगस्त को अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से आतंकी संगठन बौखलाए हुए हैं। घाटी का माहौल खराब करने की लगातार साजिशें रची जा रही हैं। अनुच्छेद 370 हटाए जाने की पहली वर्षगांठ से एक दिन पहले मंगलवार सुबह पूरी कश्मीर घाटी में कर्फ्यू लगा दिया गया। श्रीनगर में पुलिस ने मुख्य सड़कों को तारबंदी कर सील कर दिया है।

सुरक्षा एजेंसियों को नए जम्मू-कश्मीर की पहली वर्षगांठ पर पांच अगस्त को आतंकी हमले के इनपुट के मद्देनजर सोमवार रात को हुई सुरक्षा समीक्षा के बाद मंगलवार की सुबह श्रीनगर में सड़कों पर सुबह से ही पुलिस की गाड़ियां कर्फ्यू का ऐलान करती दिखाई दीं।

इसके साथ ही लोगों से घरों में ही रहने की अपील की गई। साथ ही चेतावनी दी कि अगर कोई पाबंदियों का उल्लंघन करेगा तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इतना ही नहीं पुलिस ने मुख्य सड़कों पर रास्तों को तारबंदी कर सील कर दिया।
... और पढ़ें

पांच महीने बाद जम्मू-कश्मीर में 16 अगस्त से खुल जाएंगे धार्मिक स्थल, इन पर जारी रहेगी पाबंदी

लगभग पांच महीने बाद 16 अगस्त से प्रदेश के सभी धार्मिक स्थल खुल जाएंगे। जुलूस और धार्मिक आयोजनों पर फिलहाल रोक रहेगी। सरकार की ओर से इस बारे में विस्तृत दिशा-निर्देश बाद में जारी किए जाएंगे। इसके साथ ही जिम तथा योग केंद्र भी खुल जाएंगे। उन्हें एसओपी का पालन करना होगा। प्रदेश सरकार की ओर से अनलॉक-3 की नई गाइडलाइन मंगलवार को जारी की गई, जो पांच अगस्त से प्रभावी होंगी।  

नए दिशा-निर्देश के अनुसार सिनेमा हॉल, बार, स्वीमिंग पूल, स्कूल-कॉलेज आदि बंद अभी बंद रहेंगे। अंतरराज्यीय तथा अंतरसंभागीय परिवहन सेवा भी बंद रहेगी। ऑरेंज तथा ग्रीन जिलों के बीच अंतरजनपदीय सार्वजनिक परिवहन सेवा की अनुमति रहेगी।

राज्य में आने वाले वाले यात्रियों के लिए पहले जैसी व्यवस्था ही प्रभावी रहेगी। ट्रेन तथा हवाई मार्ग से आने वालों को होम क्वारंटीन किया जाएगा, जबकि सड़क मार्ग से आने वालों को 14 दिन तक प्रशासनिक क्वारंटीन में रखा जाएगा। सभी जिलों में रात दस बजे से सुबह पांच बजे तक रात्रि का कर्फ्यू भी जारी रहेगा।

बांदीपोरा को छोड़ पूरा कश्मीर रेड जोन
बांदीपोरा जिले को छोड़कर पूरा कश्मीर रेड जोन में है। जम्मू संभाग का रामबन जिला भी रेड जोन में है। कुल 10 जिले रेड जोन में हैं। जम्मू, कठुआ, सांबा, बांदीपोरा, रियासी, उधमपुर, पुंछ व राजोरी जिलों को ऑरेंज जोन और डोडा व किश्तवाड़ को ग्रीन जोन में रखा गया है।
... और पढ़ें

इस बार किसान सीधे मंडियों में बेचेंगे केसर, सरकार देने जा रही ई-मार्केटिंग सुविधा

कश्मीरी केसर को मंडियों में उतारने के लिए सरकार इस बार किसानों को ई-मार्केटिंग सुविधा देने जा रही है। इसके लिए प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। किसानों का रिकॉर्ड ऑनलाइन किया जा रहा है। नवंबर माह से किसान मंडियों से सीधा संपर्क कर केसर बेच सकेंगे और कीमत भी ऑनलाइन ले सकेंगे। किसानों को इसका फायदा ये होगा कि वह बिचौलियों के बजाय खुद ही सीधे मंडियों में फसल बेच सकेंगे। इससे उन्हें कमीशन नहीं देनी होगी और उनकी आय में इजाफा होगा।  

सरकार की तरफ से केसर मिशन के तहत केसर के उत्थान के लिए जीआई टैगिंग शुरू की गई है। इसमें किसानों को केसर की पैदावार बढ़ाने के अलावा अन्य सुविधाएं भी मुहैया करवाई गई हैं। साथ ही बिचौलियों को बीच से हटाया गया है।

पैकिंग में गुणवत्ता और जीआई टैगिंग भी
कश्मीरी केसर की इस बार पैकिंग भी आधुनिक तकनीक से होगी। इसमें कश्मीरी केसर की गुणवत्ता और जीआई टैगिंग का जिक्र होगा। इसका मतलब है कि केसर शत प्रतिशत गुणवत्ता वाला है, घटिया नहीं। इसके लिए डिजाइन तैयार किया जा रहा है। डिजाइन एक माह के अंदर फाइनल होना है।

इस बार तीन लाख प्रति किलो बिकने के आसार
226 गांवों के 40 हजार से ज्यादा किसान इस व्यवसाय से जुड़े हैं। साल 2014 में बाढ़ आने और अन्य प्राकृतिक आपदाओं के कारण आधे से ज्यादा किसान केसर की खेती छोड़ चुके हैं। अब केसर मिशन के तहत किसानों को बाजार उपलब्ध कराने समेत अन्य सुविधाएं दी गई हैं। इस बार किसान अच्छे पैसे कमा सकेंगे। इस बार केसर की कीमत एक लाख नहीं बल्कि तीन लाख प्रति किलो बिकने की संभावना है।
केसर को बेचने के लिए ई मार्केटिंग सुविधा दी गई है। मंडियो में किसान सीधा संपर्क करेंगे और केसर को बेचेंगे। राशि भी सीधी किसानों के खाते में जाएगी। खरीद के दौरान बिचौलिये पैसे कमाते थे। इस बार इन्हें हटा दिया गया है।- अल्ताफ अंद्राबी, मिशन निदेशक, केसर मिशन
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर में प्रशासन ने भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनाया कड़ा रुख, कई अफसर और नेता नपे

कश्मीरी केसर
जम्मू-कश्मीर में निजाम बदलते ही भ्रष्टाचारियों के खिलाफ भी शिकंजा कस दिया गया है। सबसे बड़ी कार्रवाई जेएंडके बैंक पर हुई। बैंक के कई पूर्व अफसरों पर मुकदमा दर्ज हुआ। पूर्व वित्त मंत्री अब्दुल रहीम राथर के बेटे हिलाल राथर तथा पूर्व मंत्री लाल सिंह पर सीबीआई ने शिकंजा कसा। केंद्रीय कानून लागू होने के बाद अब रिश्वत लेने व देने वाले दोनों को जिम्मेदार बनाया गया है।

अक्तूबर 2019 में एसीबी ने जेएंडके बैंक के पूर्व चेयरमैन मुश्ताक अहमद के खिलाफ फर्जी लोन मंजूर करने का केस दर्ज किया। ठीक दो महीने बाद जनवरी 2020 में बैंक के अधिकारियों पर बैंक में 3 हजार अवैध नियुक्तियों के अलावा करोड़ों रुपये के लोन बांटने के आधा दर्जन केस दर्ज किए गए। 2020 में जेएंडके बैंक की रेजिडेंसी रोड शाखा जम्मू में भी वित्तीय घोटाले का केस दर्ज किया गया। एसीबी ने जम्मू सेंट्रल कोआपरेटिव बैंक लिमिटेड के जीएम, राजोरी की कोआपरेटिव बैंक शाखा में भी भ्रष्टाचार को लेकर केस दर्ज किया।

जेएंडके बैंक में अवैध नियुक्तियों और करोड़ों रुपये के लोन की जांच में एसीबी ने नेशनल कांफ्रेंस, पीडीपी की सरकारों के कार्यकाल में हुई धांधलियों का कच्चा चिट्ठा बाहर निकाला। एसीबी ने नेशनल कांफ्रेंस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अब्दुल रहीम राथर के बेटे हिलाल राथर पर जेएंडके बैंक से 177 करोड़ रुपये का लोन लेने और वापस न करने का केस दर्ज किया। एसीबी की सिफारिश पर अब सीबीआई जांच चल रही है। हाल ही में पूर्व मंत्री लाल सिंह के शिक्षण संस्थान के लिए जमीन आवंटित करने के मामले में सीबीआई ने कार्रवाई शुरू की है।

इसके साथ ही एसीबी ने जेएंडके बैंक के अलावा सिकॉप के पूर्व एमडी पर अवैध नियुक्ति, बेनामी संपत्ति का केस दर्ज किया। इसी तरह से उधमपुर के सीएपीडी के निदेशक पर 260 करोड़ रुपये का राशन घोटाला करने का केस, जनजाति मामलों के निदेशक पर स्कॉलरशिप घोटाले का केस, पीडीडी के चीफ इंजीनियर प्रोजेक्ट विंग पर सौभाग्य योजना के तहत हेराफेरी का केस दर्ज किया।
... और पढ़ें

विधायक निधि की तर्ज पर ब्लॉक विकास निधि का गठन, उपराज्यपाल ने दी मंजूरी, 25 लाख रुपये फंड निर्धारित

विधायक निधि की तर्ज पर प्रदेश में ब्लॉक विकास निधि का गठन किया गया है। उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू ने निधि के गठन को मंजूरी दी। पंचायतों को और अधिक शक्ति संपन्न बनाने तथा विकास की गति को तेज करने के उद्देश्य से इसका गठन किया गया है।

प्रत्येक ब्लॉक के लिए निधि को मंजूरी दी गई है। इसके लिए 25 लाख रुपये निर्धारित किया गया है। ब्लॉक डेवलपमेंट काउंसिल (बीडीसी) के चेयरमैन को इस राशि को विकास कार्यों के लिए खर्च करने का अधिकार दिया गया है। इस राशि से ब्लॉक स्तर पर विकास कार्यों को पूरा कराया जाएगा। विकास कार्यों को चिह्नित करने में स्थानीय जरूरतों को प्राथमिकता दी जाएगी। ज्ञात हो कि पंचायतों को अधिकार संपन्न बनाने की दिशा में प्रदेश सरकार की ओर से कई कदम उठाए गए हैं। इसके तहत इन्हें हाल ही में खनन का लाइसेंस भी जारी किया गया है। इसके साथ ही कई मामलों में टैक्स वसूली का अधिकार भी सौंपा गया है।

जनता की शिकायतों के समाधान के लिए बनाए गए जम्मू-कश्मीर सरकार के ऑनलाइन प्लेटफॉर्म को केंद्र सरकार के जन शिकायत पोर्टल से एकीकृत कर दिया गया है। शिकायतों के प्रभावी निपटारे के लिए रक्षा मंत्रालय के आईआईटी कानपुर तथा प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत विभाग के साथ त्रिपक्षीय करार के दौरान केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने यह जानकारी दी। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और डॉ. सिंह की उपस्थिति में समझौते पर हस्ताक्षर हुए।

जितेंद्र सिंह ने कहा, केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय के तहत काम करने वाला जन शिकायत व प्रशासनिक सुधार विभाग भी जम्मू-कश्मीर सरकार के ‘आवाज-ए-अवाम’ पोर्टल के लिए डैशबोर्ड तैयार करने में मदद कर रहा है। इससे जन शिकायतों को विभिन्न वर्गों के तहत श्रेणीबद्ध करने में मदद मिल पाएगी।

केंद्रीय कार्मिक राज्य मंत्री ने जन शिकायत सेल को प्रशासन में जन भागीदारी का अहम हिस्सा बताते हुए कहा कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने 2014 में सत्ता संभाली थी तो हर साल तकरीबन 1.5 लाख जन शिकायतें ऑनलाइन तरीके से दर्ज कराई जाती थीं, जो अब बढ़कर करीब 20 लाख प्रति वर्ष तक पहुंच चुकी हैं।

उन्होंने कहा, यह जन शिकायतों के त्वरित और समयबद्ध निस्तारण के कारण ही संभव हो पाया है, जिसके चलते जनता में अपनी शिकायतों को सेंट्रल पब्लिक ग्रिवेंस रिड्रेसल एंड मॉनीटरिंग सिस्टम (सीजीआरएएमएस) के जरिये दर्ज कराने का विश्वास बढ़ा है। उन्होंने कहा, कोरोना वायरस महामारी के दौरान भी सीपीजीआरएएमएस ने इससे जुड़ी शिकायतों के लिए एक अलग विंडो तैयार की और हर शिकायत को औसतन 1.4 दिन से भी कम समय में निस्तारित कर दिखाया है।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः नियंत्रण रेखा पर 10 पाकिस्तानी सैनिक ढेर, चौकियां तबाह

जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर अक्सर संघर्षविराम का उल्लंघन करने वाले पाकिस्तान को भारतीय सेना ने करारा सबक सिखाया है। तत्तापानी क्षेत्र में भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान के कम से कम 10 सैनिक मारे गए, जबकि कुछ घायल भी हुए हैं। सेना ने पाकिस्तान की कई चौकियां भी तबाह कर दीं।

दरअसल, एलओसी पर मंगलवार सुबह करीब सात बजे पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले के कृष्णा घाटी, मनकोट सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर संघर्षविराम का उल्लंघन करते हुए सेना की चौकियों के साथ ही रिहायशी इलाकों को निशाना बनाकर गोलाबारी शुरू की। मोर्टार भी दागे। पाकिस्तानी सेना की इस नापाक करतूत का भारतीय सेना ने माकूल जवाब दिया, जिसके चलते करीब तीन घंटे बाद दोनों तरफ से गोलाबारी थम गई। 

गोलाबारी में मनकोट क्षेत्र के कई घरों को भी नुकसान पहुंचा और कई मवेशी भी घायल हो गए। अचानक गोलाबारी शुरू होने से ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर पनाह लेकर जान बचानी पड़ी। उधर, सेना की तरफ से पाकिस्तानी सेना की उन चौकियों पर मोर्टार बरसाए गए, जहां से गोलाबारी की जा रही थी। पाकिस्तानी चौकियों से धुएं का गुबार उठता हुआ देखा गया।

जुलाई में एलओसी पर 47 बार गोलाबारी
जुलाई में पाकिस्तान ने एलओसी पर पुंछ, राजौरी, कुपवाड़ा और बारामूला जिलों में 47 बार सीजफायर का उल्लंघन किया है। पाकिस्तानी गोलाबारी के बारे में ग्रामीणों का कहना है कि जब से अनुच्छेद 370 समाप्त हुआ है, तब से पाकिस्तानी सेना की तरफ से लगातार हर दिन गोलाबारी की घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है। इससे हम लोगों का जीवन कठिन हो गया है।

श्रीनगर-बारामूला हाईवे पर सैन्य वाहनों को उड़ाने की साजिश नाकाम
 अनुच्छेद 370 हटने की पहली वर्षगांठ से एक दिन पहले श्रीनगर-बारामूला हाईवे पर सैन्य वाहनों के काफिले को उड़ाने की आतंकी साजिश को सेना ने नाकाम कर दिया। मंगलवार सुबह तापर पट्टन इलाके में श्रीनगर-बारामूला राष्ट्रीय राजमार्ग पर सेना की 29 राष्ट्रीय राइफल्स की रोड ओपनिंग पार्टी ने गश्त के दौरान सड़क के किनारे एक आईईडी देखी, जिसे आतंकियों ने बड़े हमले को अंजाम देने के लिए लगा रखी थी। सतर्क जवानों ने तुरंत इसकी जानकारी बम निरोधक दस्ते को दी, जिसने इसे निष्क्रिय कर दिया।
---
... और पढ़ें

अनंतनागः मुश्ताक जानिसार ने आपदा को बनाया अवसर, अब मास्क बेचकर चल रही जिंदगी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन के बीच राष्ट्र संबोधन में आपदा को अवसर बनाने की बात कही थी। अनंतनाग के युवा मुश्ताक जानिसार ने इसे आत्मसात किया। लॉकडाउन के कारण नौकरी छूट जाने पर मुश्ताक ने मास्क बेचने शुरू किए। अब इसी से इनका और इनके घर का जीवन-यापन चल रहा है।

कोकेरनाग निवासी मुश्ताक ने कहा कि कोविड से पहले में अपने घर को चलता था, घर से जब भी काम के लिए निकलता था तो मां रोज सुबह दुआ मांगती थी। अचानक कोविड 19 ने मेरी जिंदगी बदल कर रख दी। लॉकडाउन शरू होते ही मुझे भी घर में ही बैठना पड़ा। फिर एकाएक मन में ख्याल आया कि क्यों न मास्क ही बेचा जाए। इससे लोगों को जागरूक भी करूंगा और घर की रोटी भी चलेगी।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः आतंकियों ने सरपंच को मारी गोली, आरिफ अहमद श्रीनगर रेफर

अनुच्छेद 370 हटने की पहली वर्षगांठ के एक दिन पहले मंगलवार को आतंकियों ने दक्षिणी कश्मीर में दो हमले किए। एक पंच को गोली मारकर घायल कर दिया गया, जबकि ग्रेनेड हमले में तीन जवान घायल हो गए। घटना के बाद पूरे इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया गया है। 

पांच अगस्त तक आतंकी हमले के पहले से इनपुट मिले हैं। घाटी में लगभग एक महीने बाद दूसरे पंचायत प्रतिनिधि को निशाना बनाया गया है। इससे पहले कश्मीरी पंडित सरपंच अजय पंडिता की आतंकियों ने जून महीने में हत्या कर दी थी।

कुलगाम जिले के मीरबाजार के अखरान इलाके में पंच पीर आरिफ अहमद शाह पर आतंकियों ने हमला किया। गोलियों से निशाना बनाए जाने से वे खून से लथपथ होकर गिर पड़े। उन्हें तत्काल स्थानीय अस्पताल ले जाया गया, जहां से स्थिति गंभीर होने पर श्रीनगर रेफर कर दिया गया। 

इससे पहले आतंकियों ने पुलवामा जिले के वानपोरा में सुरक्षा बलों को निशाना बनाकर ग्रेनेड हमला किया। इसमें दो पुलिसकर्मी घायल हो गए। दोनों ही घटनाओं के बाद आतंकी मौके से भाग निकले।
... और पढ़ें
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us