बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध वृषभ राशि में हुए मार्गी, 7 जुलाई तक इन 4 राशि वालों के जीवन में आएंगी अपार खुशियां
Myjyotish

बुध वृषभ राशि में हुए मार्गी, 7 जुलाई तक इन 4 राशि वालों के जीवन में आएंगी अपार खुशियां

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

अवाम की आवाज: उप-राज्यपाल ने सराहा नर्स का काम, जानिए मीना शर्मा ने क्या कहा

कोरोना काल में डॉक्टरों और फ्रंट लाइन कोरोना वारियर्स जिसमें नर्स और अन्य पैरा मेडिकल स्टाफ की तरह फीमेल मल्टीपर्पस हेल्थ वर्कर मीना शर्मा कोविड मरीजो...

21 मई 2021

विज्ञापन
Digital Edition

जम्मू-कश्मीर: बिजली गिरने से सेना के एक जवान की मौत, दो घायल

पुंछ जिले के सवजियान सेक्टर में आकाशीय बिजली गिरने से सेना के एक जवान की मौत हो गई है। साथ ही दो जवान गंभीर रूप से घायल हुए हैं। घायलों का उपचार चल रहा है।

प्रदेश में धीरे-धीरे मानसून की सक्रियता बढ़ रही है। कई हिस्सों में गुरुवार को बारिश और तेज हवाओं से मौसम में बदलाव आया। दिन के तापमान में सामान्य से थोड़ी गिरावट से राहत मिली है। मौसम विज्ञान केंद्र श्रीनगर के अनुसार 25 और 26 जून को जम्मू और कश्मीर के कुछ हिस्सों में बारिश के आसार हैं।

जम्मू में गुरुवार सुबह पांच बजे अचानक बादलों की गड़गड़ाहट के साथ मौसम बदल गया। तेज हवाओं के साथ बारिश की बौछारें शुरू हो गईं। कुछ देर के लिए हुई तेज बारिश के बाद ठंडी हवाओं से राहत मिली। लेकिन, दिन चढ़ने के साथ मौसम साफ हो गया। दोपहर को तपिश का फिर एहसास हुआ, लेकिन 0.7 मिलीमीटर बारिश के बाद दिन का तापमान सामान्य से 2.7 डिग्री गिरकर 35.5 और बीती रात का न्यूनतम तापमान 24.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

बनिहाल में 4.6 मिलीमीटर बारिश के साथ दिन का तापमान 28.8, कटड़ा में 11.4 मिलीमीटर बारिश के साथ 32.6 डिग्री सेल्सियस, बटोत में 6.2 मिलीमीटर बारिश के साथ 28.8, लेह में 20.8 डिग्री सेल्सियस, कारगिल में 26.9 डिग्री सेल्सियस और श्रीनगर में 29.0 डिग्री सेल्सियस दिन का तापमान दर्ज किया गया। 

यह भी पढ़ें- 
जम्मू-कश्मीर: अब नहीं दिखते पत्थरबाज, लद गए पाक-परस्त और देश-विरोधियों के दिन, देखिए तस्वीरें 
यह भी पढ़ें- अनुच्छेद 370 और डोभाल का मिशन कश्मीर: घाटी आए और अपना काम कर गए, पढ़ें किस्सा उस गजब की प्लानिंग का
... और पढ़ें
आकाशीय बिजली आकाशीय बिजली

आतंक की परवरिश में जुटा पाकिस्तान:  तीन साल में सीमा पार से भेजी गई पांच हजार करोड़ रुपये की हेरोइन

पाकिस्तान की शह पर पलने वाले आतंकी संगठन फंडिंग से जूझ रहे हैं। इन संगठनों को न तो कश्मीर में अलगावादियों से फंडिंग हो रही है, न ही विदेश में सक्रिय मददगारों से इन्हें मदद मिल रही है। इसके साथ ही स्थानीय स्तर पर सक्रिय आतंकी अपने लिए फंड नहीं जुटा पा रहे हैं। लिहाजा पाकिस्तान नारको टेरेरिज्म से इन संगठनों को फंडिंग करा रहा है। 

नारको टेरेरिज्म के लिए पाकिस्तान ने पंजाब और जम्मू-कश्मीर के नशा तस्करों को अपने साथ मिलाया है। इनसे तस्करी कराकर बड़े पैमाने पर पैसा आतंकी संगठनों तक पहुंचाया जा रहा है। खासकर बॉर्डर पार से बड़े स्तर पर हेरोइन भेजकर पंजाब और जम्मू-कश्मीर तक पहुंचाई जा रही है। पिछले तीन वर्षों की बात करें तो एलओसी और बॉर्डर पार से लगभग पांच हजार करोड़ रुपये की हेरोइन भेजी गई है। फिर चाहे इसे तस्कर लेकर आए हों, या फिर आतंकी। आगे की स्लाइड में पढ़िए पाकिस्तान का आतंक प्रेम और साजिश...
... और पढ़ें

बाबा अमरनाथ : पवित्र गुफा में 14 फीट तक विराजमान हैं हिमलिंग, बर्फ से ढके हैं आसपास के पहाड़

शिव भक्तों के लिए खुशखबरी है। कोविड महामारी के चलते इस साल भले की भौतिक तौर पर श्रद्धालु बाबा बर्फानी के दर्शन से महरूम रहेंगे, लेकिन 28 जून से 22 अगस्त तक पवित्र गुफा में प्रात और सायंकाल में होने वाली आरती के लाइव प्रसारण में विशाल हिमलिंग के दर्शनों का उन्हें सौभाग्य प्राप्त होगा।

इस साल पवित्र गुफा में 12 से 14 फीट तक विशाल स्वरूप में हिमलिंग विराजमान हैं। चूंकि इस बार यात्रा रद्द होने से भक्तों का आवागमन नहीं होगा, जिससे रक्षाबंधन तक पवित्र गुफा में हिमलिंग के बने रहने की उम्मीद है। 

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर अमरनाथ यात्रा के लिए पवित्र गुफा में प्रथम पूजा में शामिल हुए न्यास से सुदर्शन खजूरिया ने बताया कि पवित्र गुफा में विशाल स्वरूप में हिमलिंग का नजारा देखते ही बनता है। यात्रा ट्रैक को पूरी तरह से क्लीयर किया गया है, लेकिन ट्रैक के आसपास अभी भी बर्फ जमी हुई है। पवित्र गुफा के आसपास मौसम सुहाना बना है और तापमान में गिरावट से ठंडक कायम है। पवित्र गुफा के आसपास के पहाड़ बर्फ से ढके हुए हैं। 

उन्होंने कहा कि यह उनके लिए सौभाग्य की बात है कि उन्हें हिमलिंग के प्रथम दर्शन करने का मौका मिला है। पवित्र गुफा में हिमलिंग के अलावा आगे स्थल पर भी बर्फ की चादर बिछी हुई है। गुफा के पास दो लंगर स्थापित हैं जो वहां तैनात सुरक्षाबलों और अन्य कर्मियों की सेवा में जुटे हुए हैं। हर साल लाखों यात्रियों के आवागमन पर हिमलिंग समय से पूर्व से अंर्त्धान हो जाते थे, लेकिन इस बार यात्रियों के न आने से हिमलिंग आखिर तक बने रहेंगे। 

उन्होंने बताया कि बोर्ड की ओर से यात्रा के लिए पूरे प्रबंध किए गए हैं, लेकिन इस साल कोविड महामारी के कारण भक्तों को पवित्र गुफा तक न पहुंचने से मायूस होना पड़ा है। मगर लाइव आरती के प्रसारणमें उन्हें विशाल हिमलिंग के दर्शन मात्र से ही उनकी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर:  छह महीने पहले हथियारों के साथ पकड़े तीन आतंकियों के खिलाफ चार्जशीट पेश

जम्मू शहर के नरवाल से छह महीने पहले पकड़े गए लश्कर-ए-तैयबा के तीन आतंकियों के खिलाफ पुलिस ने एनआईए कोर्ट में चालान पेश किया। ये आतंकी दिसंबर 2020 में जम्मू से कश्मीर हथियार ले जाते हुए पकड़े गए थे। इनमें कुलगाम का रहने वाले रईस अहमद डार, सब्जार अहमद और अनंतनाग का जाहुर अहमद राथर शामिल हैं। 

पुलिस ने नरवाल के यार्ड नंबर-6 में कार (नंबर जेके18ए 9967) से इन्हें दबोचा था। इनके पास मौजूद बैग से एक एके-47 राइफल, एक पिस्टल और कारतूस मिले थे। पूछताछ में पता चला कि रईस अहमद डार कुलगाम से कार लेकर जम्मू आया था। उसे जाहुर अहमद ने टारगेट दिया था कि जम्मू से हथियार लेकर आने हैं।

जम्मू पहुंचने पर रईस की मुलाकात बस स्टैंड के मुस्लिम होटल पर सब्जार से हुई। रईस ने कहा कि उसे कश्मीर हथियार ले जाने पर काफी पैसा मिलेगा और यदि वह उसकी मदद करता है तो उसे आधे पैसे दे देगा। इस पर सब्जार मान गया और ये लोग हथियार लेने के लिए नरवाल चले गए।

यहां पर इन लोगों को किसी अज्ञात व्यक्ति ने हथियार दिए। इन लोगों को 24 दिसंबर, 2020 को कुलगाम के लिए निकलना था। लेकिन हाईवे बंद होने के कारण ये नहीं जा सके और नरवाल आकर रुक गए। 25 दिसंबर को पुलिस ने इनको गिरफ्तार कर लिया।
यह भी पढ़ें- 
जम्मू-कश्मीर: अब नहीं दिखते पत्थरबाज, लद गए पाक-परस्त और देश-विरोधियों के दिन, देखिए तस्वीरें 
यह भी पढ़ें- अनुच्छेद 370 और डोभाल का मिशन कश्मीर: घाटी आए और अपना काम कर गए, पढ़ें किस्सा उस गजब की प्लानिंग का
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: मंदिरों के शहर में प्लास्टिक कचरे से बनेंगी सड़कें, एनएचएआई को दिए गए ये निर्देश

सांकेतिक तस्वीर, आतंकवादी
मंदिरों के शहर जम्मू में प्लास्टिक की सड़कों का निर्माण करने की तैयारी की जा रही है। जम्मू शहर के आसपास पायलट परियोजना के रूप में प्लास्टिक सड़कों के निर्माण के बाद इसे जम्मू-कश्मीर के अन्य जिलों में भी शुरू किया जाएगा। प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण समिति (जेकेपीसीसी) के चेयरमैन सुरेश चुग ने निदेशक राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण भारत (एनएचएआई) के निदेशक यशपाल जादोन को प्लास्टिक सड़कों के निर्माण के लिए जम्मू शहर के आसपास राष्ट्रीय राजमार्ग पर हिस्सों की पहचान करने के लिए कहा है।

चुग ने एनएचएआई को पायलट प्रोजेक्ट के आधार पर सड़क निर्माण के लिए आवश्यक प्लास्टिक (जब्त पॉलीथिन) उपलब्ध कराने और जरूरी तकनीकी सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया। निदेशक ने कहा कि जम्मू-कश्मीर पीसीसी और एनएचएआई की संयुक्त पहल को सफल बनाने के लिए सभी रसद व्यवस्थाएं की जा सकती हैं। भारतीय सड़क कांग्रेस ने पहले ही देशभर में प्लास्टिक सड़कों के निर्माण के लिए दिशा निर्देश जारी किए हैं। इसके लिए विशेष प्रोटोकॉल निर्धारित किए गए हैं।

बीएम शर्मा ने बताया कि एनएचएआई की ओर से कुंजवानी में प्लास्टिक कचरे का उपयोग करके पांच किलोमीटर की एक सड़क का निर्माण किया गया था। लेकिन जम्मू-कश्मीर में ऐसी और प्लास्टिक सड़कों की जरूरत है। चुग ने अधिकारियों को राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण और जल निकायों में सीधे मलबा डालने से होने वाले प्रदूषण की जानकारी दी। हाल ही में एनएचएआई पर रामबन बनिहाल खंड में दो करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया था।

यह भी पढ़ें- 
जम्मू-कश्मीर: अब नहीं दिखते पत्थरबाज, लद गए पाक-परस्त और देश-विरोधियों के दिन, देखिए तस्वीरें 
यह भी पढ़ें- अनुच्छेद 370 और डोभाल का मिशन कश्मीर: घाटी आए और अपना काम कर गए, पढ़ें किस्सा उस गजब की प्लानिंग का
 
... और पढ़ें

तो घटेंगीं दिलों की दूरियां!: पढ़िए सर्वदलीय बैठक के बाद जम्मू-कश्मीर के नेताओं की प्रतिक्रिया और मंथन का सार

जम्मू कश्मीर में शांति के लिए सभी जिम्मेदार लोगों को साथ चलना होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू कश्मीर के राजनीतिक नेताओं के साथ सर्वदलीय बैठक में कई अहम बातें कही हैं। जम्मू कश्मीर में विधानसभा क्षेत्रों के परिसीमन में सभी की भागीदारी हो व परिसीमन के बाद विधानसभा के चुनाव की बात भी कही हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा हैं कि जम्मू कश्मीर में हर क्षेत्र में विकास हो। इसके लिए पंचायती चुनाव से लेकर जिला विकास परिषद के चुनाव सफलतापूर्वक आयोजित किए गए हैं। कश्मीरियत और जम्हूरियत की मजबूती पर जोर देते हुए दिल्ली ने पाकिस्तान समेत दुनिया को एक संदेश भी दिया है। बैठक के बाद तमाम नेताओं ने एक सुर में कहा कि बातचीत अच्छे माहौल में हुई। बैठक में केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर के नेताओं के सामने प्रदेश के विकास का ब्लू प्रिंट सामने रखा। तमाम नेताओं की बात सुनने के बाद प्रधानमंत्री ने कहा, जम्मू-कश्मीर उनके दिल में बसता है। प्रदेश के विकास के लिए वह हर संभव कोशिश करेंगे। जम्मू-कश्मीर में लोकतंत्र को मजबूत करना सरकार की प्राथमिकता है।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: मिशन कश्मीर के तहत मोदी ने गुपकार गठबंधन के साथ कांग्रेस को भी साधा

दिल्ली में वीरवार को जम्मू-कश्मीर के नेताओं की हुई सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मिशन कश्मीर के तहत गुपकार गठबंधन के साथ ही कांग्रेस को भी साधा। सत्ता में आने पर 370 व 35ए पर पुनर्विचार करने की कांग्रेस की बात को बैठक में कोई तवज्जो नहीं मिली। जम्मू-कश्मीर के सभी हितधारकों के साथ ही पाकिस्तान से भी बात करने की महबूबा की मांग परवान नहीं चढ़ सकी। दिल्ली दरबार ने कश्मीर आधारित दलों के विश्वास को भी जीतने की कोशिश की।

घाटी में अपनी जमीन खो चुकी पीडीपी में आम कश्मीरियों का दिल जीतने की छटपटाहट है। इसलिए वह कश्मीर में अवाम के सामने तमाम वायदे कर रही है ताकि उनका भरोसा जीता जा सके। हालांकि, दिल्ली दरबार में ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। पाकिस्तान से बातचीत का मुद्दा तक नहीं उठाया जा सका। यह पीडीपी की बड़ी मांग थी। महबूबा की ओर से लगातार पाकिस्तान का राग अलापा जाता रहा है।

यह भी पढ़ें-
जम्मू-कश्मीर: रोजगार के लिए युवाओं को मिलेंगे सार्वजनिक वाहन, जुलाई में शुरू होगी वाहन देने की कवायद

... और पढ़ें

सर्वदलीय बैठक: पीएम ने सुने कश्मीरी नेताओं के गिले-शिकवे, कश्मीर से दिल्ली और दिल की दूरी पाटने की कोशिश

अनुच्छेद-370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर और दिल्ली के बीच जमी बर्फ पिघलने से आगे की बातचीत के द्वार खोल दिए हैं। विशेष दर्जा खत्म करने के बाद कश्मीरी नेताओं के साथ इस पहली बैठक में केंद्र ने घाटी की दिल्ली व दिल की दूरी पाटने की कोशिश की है। दिल्ली दरबार की ओर से जम्मू-कश्मीर में परिसीमन के बाद जल्द विधानसभा चुनाव करवाने के भरोसे के बीच गुपकार गठबंधन भी परिसीमन प्रक्रिया में शामिल होने के लिए तैयार हो गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महीनों नजरबंद रहे नेताओं के गिले-शिकवे सुन उन्हें मरहम भी लगाने की कोशिश की। कश्मीरियत और जम्हूरियत की मजबूती पर जोर देते हुए दिल्ली ने पाकिस्तान समेत दुनिया को एक संदेश भी दिया है। बैठक के बाद तमाम नेताओं ने एक सुर में कहा कि बातचीत अच्छे माहौल में हुई।

बैठक में केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर के नेताओं के सामने प्रदेश के विकास का ब्लू प्रिंट सामने रखा। तमाम नेताओं की बात सुनने के बाद प्रधानमंत्री ने कहा, जम्मू-कश्मीर उनके दिल में बसता है। प्रदेश के विकास के लिए वह हर संभव कोशिश करेंगे। जम्मू-कश्मीर में लोकतंत्र को मजबूत करना सरकार की प्राथमिकता है।

यह भी पढ़ें-
जम्मू-कश्मीर: रोजगार के लिए युवाओं को मिलेंगे सार्वजनिक वाहन, जुलाई में शुरू होगी वाहन देने की कवायद

महबूबा के बयान से किनारा कर फारूक ने दिया संदेश
पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला ने पाकिस्तान से बातचीत करने के महबूबा के बयान से किनारा कर कई संदेश दिए हैं। वीरवार को दिल्ली पहुंचते ही सर्वदलीय बैठक से पहले फारूक ने कहा कि पीडीपी प्रमुख महबूबा का अपना एजेंडा है और उनका अपना। मुझे पाकिस्तान से नहीं अपने वतन से बात करनी है। अपने प्रधानमंत्री से बात करनी है।

प्रधानमंत्री मोदी की सर्वदलीय बैठक बुलाने की पहल स्वागत योग्य कदम है। फारूक के इस बयान के कई मायने निकाले जा रहे हैं। इसे पाकिस्तान को संदेश, दिल्ली दरबार से नजदीकी बढ़ाने और गुपकार गठबंधन के भविष्य से भी जोड़कर देखा जा रहा है।

... और पढ़ें

पाकिस्तान से बात पर रैना की दो टूक: जम्मू कश्मीर में जब तक जारी है खून खराबा नहीं होगी बातचीत

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना ने कहा हैं कि जम्मू कश्मीर में खून खराबा जारी रहने तक पाकिस्तान से बातचीत नहीं हो सकती। पाकिस्तान आतंकवाद व अलगाववाद को प्रायोजित करता रहा हैं। जो लोग पाकिस्तान को वार्ता में शामिल करने की बात कर रहे हैं। उन्हें आतंकवाद से पीड़ित परिवारों से मिलकर पहले उनका दर्द समझना चाहिए।

जम्मू कश्मीर में राष्ट्रवाद की भावना और लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए भाजपा प्रतिबद्ध हैं और यही बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हुई सर्वदलीय बैठक में तीन सदस्यीय भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने कही हैं। रैना ने कहा पाकिस्तान, अलगाववाद और आतंकवाद की भावना को खत्म करके प्रदेश में शांति और खुशहाली के लिए भारतीयता की भावना को मजबूत करने की जरूरत हैं। खून व डीएनए में भारतीयता की भावना आने के बाद सही मायने में शांति व खुशहाली जम्मू कश्मीर में होगी।

यह भी पढ़ें-
जम्मू-कश्मीर: रोजगार के लिए युवाओं को मिलेंगे सार्वजनिक वाहन, जुलाई में शुरू होगी वाहन देने की कवायद ... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us