विज्ञापन
विज्ञापन
लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

पुलवामा: इन दो भाइयों के मुरीद हुए पीएम मोदी, जानिए युवाओं के लिए प्रेरणा बने बिलाल और मुनीर के बारे में रोचक बातें

बिलाल ने अपने घर पर ही वर्मी कंपोस्ट की यूनिट लगाई है। इस यूनिट से तैयार होने वाले बायो फ र्टिलाइजर से न केवल खेती में काफी लाभ हुआ है बल्कि यह लोगों...

26 सितंबर 2021

Digital Edition

जम्मू-कश्मीर: पुलिस की व्यवस्था में सेंध लगा रहे आतंकी संगठन, जेल के भीतर से लेकर बाहर तक सांठगांठ

आतंकी संगठन पुलिस की व्यवस्था और सुरक्षा तंत्र में भी सेंध मार रहे हैं। जेलों से लेकर बाहर तक आतंकी संगठनों ने सांठगांठ बना रखी है। इसमें पुलिसकर्मी तक शामिल हैं। अभी एक हफ्ता पहले ही अनंतनाग के रहने वाले एक पुलिस कर्मी को गिरफ्तार किया गया, जो आतंकियों तक हथियार पहुंचाने और अन्य तरह की मदद पहुंचाता था। अब जम्मू की कोट भलवाल जेल में एक ऐसे आतंकी से मोबाइल फोन बरामद हुआ, जो जेल में बैठकर पुंछ में होने वाली मुठभेड़ में शामिल आतंकियों को ऑपरेट कर रहा था।

ऐसा पहली बार नहीं है। पिछले कुछ समय नजर डालें तो साफ दिखता है कि किस तरह से आतंकी पुलिस तंत्र में घुसकर अपना नेटवर्क चला रहे हैं। 21 अक्तूबर को पुलिस अशफाक मलिक को अनंतनाग के वेरीनाग से गिरफ्तार करके लाई। अशफाक लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों के लिए काम करता था। वह फलाएं मंडाल के सुहांजना में पाकिस्तान द्वारा ड्रोन से फेंके गए हथियार मामले में भी शामिल था। अब तीन दिन पहले ही जम्मू की कोट भलवाल जेल से एक पाकिस्तानी आतंकी जिया मुस्तफा को पकड़ा गया। वह जेल से अपने मोबाइल के जरिये पुंछ मुठभेड़ को ऑपरेट कर रहा था। आतंकी संगठन पुलिस और जेल व्यवस्था में घुसकर अपने नेटवर्क को चला रहे हैं, जो पुलिस और जेल प्रशासन की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठाते हैं। 

12 जनवरी 2020 को पुलिस ने कश्मीर के कुलगाम से डीएसपी देविंदर सिंह को हिजबुल आतंकी के साथ पकड़ा था, जबकि जम्मू की कोट भलवाल सेंट्रल जेल, श्रीनगर की सेंट्रल जेल में आतंकियों से मोबाइल फोन मिल चुके हैं। इसी साल जम्मू की सेंट्रल जेल में दो बार आतंकियों से मोबाइल फोन मिला है। इन घटनाओं से कहीं न कहीं पुलिस की व्यवस्था पर सवाल उठ रहे हैं। आतंकी संगठन पुलिस की व्यवस्था में घुसकर इनके लोगों का इस्तेमाल कर रहे हैं।

सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई पुलिस कर्मियों से संपर्क साध कर उनके जरिए काम कराने की फिराक में है। वह जेल की सुरक्षा में भी सेंध लगा रहे हैं। इसके लिए बड़े स्तर पर पुलिस कर्मियों को पैसा देने का आश्वासन दिया जा रहा है। आतंकी संगठन उन पुलिस कर्मियों से संपर्क साधने की कोशिश में हैं, जिनके पूर्व में किसी न किसी रिश्तेदार या परिवार के सदस्य का आतंकवाद से लिंक रहा हो।
... और पढ़ें

सीआरपीएफ कैंप पहुंचे अमित शाह: जवानों से कहा- आपका और आपके परिवार का ध्यान रखना सरकार का दायित्व

देश के गृह मंत्री अमित शाह पुलवामा जिले के लेथपोरा में सीआरपीएफ कैंप पहुंचे। गृह मंत्री अमित शाह और एलजी मनोज सिन्हा ने सीआरपीएफ जवानों के साथ डिनर किया। गृह मंत्री आज रात कैंप में रहेंगे। 

अमित शाह ने कहा कि आतंकवाद मानवता के खिलाफ है और हम इसे बर्दाश्त नहीं कर सकते। मोदी सरकार की आतंकवाद के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति है। एक समय था जब कश्मीर में पथराव होता था। आज ऐसी घटनाओं की संख्या में काफी कमी आई है। 

जवानों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा आयुष्मान भारत योजना का आप सभी लाभ लें। जवानों को दो कार्ड मिलेंगे, जिसमें से एक कार्ड वो अपने पास रखें और दूसरा परिवार को दें। आपका और आपके परिवार का ध्यान रखना भारत सरकार का दायित्व है। सीआरपीएफ के सभी सेक्टरों में आपने मोर्चा संभाला है। देश की सुरक्षा में लगे सभी बलों के जवानों के साथ रहने का मौका मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

कहा कि देश में कहीं भी चुनाव या दंगे होते हैं तो संबंधित राज्य के मुख्यमंत्री मांग करते हैं कि उन्हें सीआरपीएफ के जवान उपलब्ध कराए जाएं। ये आपकी सेवा और समर्पण का फल है। मैं आप सभी के बीच आकर बहुत प्रसन्न हूं। मैं शहीदों को सरकार और अपनी ओर से श्रद्धांजलि देता हूं। 
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: दिन में हमारे साथ रात को कहीं और..., जानिए फारूक अब्दुल्ला ने ऐसा क्यों कहा

नेकां(नेशनल कांफ्रेंस) अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. फारूक अब्दुल्ला ने मेंढर के बाद मंडी में कार्यकर्ताओं को ईमानदारी से काम करने की नसीहत दी। पार्टी के कई बड़े नेताओं के पार्टी को छोड़ने से खफा नेकां अध्यक्ष ने कहा कि ऐसे सौ लोगों से दस ईमानदार लोग बेहतर हैं। इसके लिए उन्होंने अपने पिता शेख अब्दुल्ला की बात का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि दिन में हमारे साथ और रात को कहीं और होने वाले लोगों से पार्टी कार्यकर्ता सावधान रहें।
यह भी पढ़ें- 
फारूक अब्दुल्ला के बोल: अनुच्छेद-370 हटाकर बेईमानी की, आतंकवाद बढ़ गया, अब खामियाजा भुगतना होगा     

सोमवार को मंडी में डॉ. फारूक ने अपने भाषण में कहा कि आज जम्मू में हालात सही नहीं हैं। जम्मू में हर क्षेत्र में आरएसएस के एजेंट मौजूद हैं। जो लोगों को इधर-उधर की बातें बता रहे हैं। हाल ही में नेशनल कांफ्रेंस छोड़कर गए लोगों का नाम लिए बिना उन्होंने कहा कि हमें पार्टी के लिए ईमानदार बन कर काम करना होगा। दल बदलने वाले पहले भी होते थे, आज भी हैं और आगे भी रहेंगे, लेकिन हमें पार्टी के लिए ईमानदारी रखने वालों को बढ़ावा देना होगा। जो लोग पार्टी के लिए जी जान से जुटे हैं। उन्हें आगे आने का मौका ही नहीं मिलता है। जो लोग यहां वहां घूमते हैं, वह सबसे आगे हो जाते हैं। मेरे पिता कहते थे कि ऐसे सौ लोगों से दस लोग अच्छे हैं जो पार्टी के लिए ईमानदार हैं।
यह भी पढ़ें- सीआरपीएफ कैंप पहुंचे अमित शाह: जवानों से कहा- आपका और आपके परिवार का ध्यान रखना सरकार का दायित्व    

पुंछ के तीन दिवसीय दौरे के पहले दिन मेंढर में भी फारूक अब्दुल्ला इसी प्रकार भावुक होकर पार्टी कार्यकर्ताओं को पार्टी में बने रहने और ईमानदारी से काम करने की नसीहत दे चुके हैं। जम्मू के संभागीय अध्यक्ष देवेंद्र सिंह राणा, सुरजीत सिंह सलाथिया सहित कई नेता पार्टी छोड़ के अन्य पार्टियों का दामन थाम चुके हैं। जिले में भी कई लोग नेकां को अलविदा कर चुके हैं।
... और पढ़ें

अब्दुल्ला बोले: पाकिस्तान के समर्थन में नहीं, भाजपा को चिढ़ाने के लिए हुए जश्न, कभी भी फट सकता है ज्वालामुखी

पूर्व मुख्यमंत्री और (नेकां)नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष डॉ. फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि टी-20 विश्वकप के मैच में पाकिस्तान की जीत पर जो जश्न मनाए गए, वो पाकिस्तान के समर्थन में नहीं बल्कि भाजपा को चिढ़ाने के लिए थे। यह लोगों की आवाज दबाकर अनुच्छेद-370 हटाने का नतीजा है। यह ज्वालामुखी फटने जैसे हालात हैं, जो आने वाले दिनों में किस रूप और व्यापकता के साथ फटेगा, कहा नहीं जा सकता।

एलओसी से सटे पुंछ जिले के दौरे पर डॉ. फारूक अब्दुल्ला ने सुरनकोट में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि युवा लड़कों और लड़कियों ने भाजपा को साफ संदेश दे दिया है कि आपको जम्मू-कश्मीर को अनुच्छेद 370 लौटाना ही पड़ेगा। उन्होंने कहा कि गृहमंत्री दावा कर रहे हैं कि अनुच्छेद-370 हटाने पर एक गोली भी नहीं चली। वह पूछना चाहते हैं कि जब हर घर के बाहर आप सैनिक खड़े कर देंगे तो ऐसा कैसे मुमकिन था।
यह भी पढ़ें- 
ऑपरेशन भाटादूड़ियां: मुठभेड़ स्थल से हथियार और गोला-बारूद बरामद, आतंकियों तक कैसे पहुंच रही हैं ये चीजें    

उन्होंने कहा कि भारत और पाकिस्तान जंग की तैयारी पर अपने बजट का बड़ा हिस्सा खर्च करते हैं। जम्मू-कश्मीर के लोग इसमें सैंडविच बन रहे हैं। ऐसे हालात में गरीब लोग पिस रहे हैं। दोनों मुल्कों की दुश्मनी ही हिंदू और मुसलमान में दरारें पैदा कर रही है। 
... और पढ़ें
नेशनल कॉन्फ्रेंस अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला नेशनल कॉन्फ्रेंस अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला

नया सिक्योरिटी सिस्टम:  गैर-कश्मीरी कॉलोनियों में ड्रोन और सीसीटीवी कैमरे लगेंगे, संदिग्धों पर होगी पैनी नजर

कश्मीर में टारगेट किलिंग के बाद नए सिरे से सिक्योरिटी सिस्टम लागू किया जाएगा। पुलिस, सेना, सीआरपीएफ और अन्य एजेंसियां मिलकर एक इंटीग्रेटेड सिस्टम तैयार करेंगी। इसके तहत गैर कश्मीरी कॉलोनियों में ड्रोन और सीसीटीवी कैमरे लगेंगे। इसका एक जगह कंट्रोल रूम होगा और उन कॉलोनियों में संदिग्ध लोगों या गतिविधियों पर नजर रखी जाएगी। इसके साथ ही उक्त इलाकों में बैरिकेडिंग और गश्त बढ़ाई जाएगी। कश्मीर के संवेदनशील इलाकों में खुफिया विंग के अतिरिक्त कर्मियों की तैनाती होगी। 

सुरक्षा एजेंसियां कश्मीर में अपना इंटेलिजेंस सिस्टम मजबूत करेंगी। इसमें कश्मीर के स्थानीय लोगों को शामिल कर उनको अपने साथ जोड़ा जाएगा। सूत्रों का कहना है कि 23 अक्तूबर को कश्मीर में गृहमंत्री अमित शाह ने सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारियों के साथ बैठक कर सुरक्षा पुख्ता करने के लिए कहा है।

नए सिस्टम के तहत संवेदनशील क्षेत्रों में चौबीसों घंटे इलेक्ट्रॉनिक निगरानी, बेहतर खुफिया नेटवर्क, शहरों, सड़कों और राजमार्गों पर मजबूत गश्त, अधिक बैरिकेडिंग और सुरक्षा बंकरों के साथ आतंकियों के प्रवेश और निकास को रोकने में नई सुरक्षा प्रणाली की प्रमुख विशेषताएं होंगी।
यह भी पढ़ें- 
अब्दुल्ला बोले: पाकिस्तान के समर्थन में नहीं, भाजपा को चिढ़ाने के लिए हुए जश्न, कभी भी फट सकता है ज्वालामुखी    

80 परिवारों के युवक लापता, हाइब्रिड आतंकी बनने की आशंका
कश्मीर घाटी में 80 ऐसे परिवार हैं, जिनके घरों से युवा लापता हैं। इन युवकों के हाइब्रिड आतंकी बनने की आशंका है। सुरक्षा एजेंसियों ने इन युवाओं की तलाश तेज कर दी है। नए सिक्योरिटी सिस्टम से लापता युवकों की मूवमेंट को पकड़ने में भी मदद मिलेगी।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर:  अनंतनाग में आतंकवादियों की साजिश नाकाम, सुरक्षाबलों ने बरामद की आईईडी

कश्मीर में सुरक्षाबलों ने आतंकियों की साजिश को नाकाम किया है। अनंतनाग के नल्लाहा फथपोरा इलाके में आईईडी(इंप्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस) बरामद हुई है। जिसे निष्क्रिय करने के लिए बम निरोधक दस्ते को बुलाया गया। इस दौरान कुछ देर के लिए इलाके में लोगों की आवाजाही रोक दी गई।

बीते सप्ताह बारामुला-कुपवाड़ा हाई-वे और पुंछ में रची गई थी साजिश
गुरुवार को सुरक्षाबलों को निशाना बनाने की दो साजिशें नाकाम की गई थीं। बारामुला-कुपवाड़ा हाई-वे और पुंछ के सुरनकोट तहसील में प्लांट आईईडी को बरामद की गई थी। उत्तरी कश्मीर में बारामुला-कुपवाड़ा हाई-वे पर सड़क किनारे ट्रगपोरा व चाकलो के बीच शादीपोरा में आतंकियों ने आईईडी प्लांट कर रखी थी। सुबह सेना के काफिले के लिए रोड ओपनिंग पार्टी (आरओपी) डॉग स्क्वायड के साथ छानबीन कर रही थी। इसी दौरान टीम में शामिल लांस नायक एसके यादव ने शादीपोरा के पास संदिग्ध वस्तु देखी। स्क्वायड में शामिल बम निरोधक कुत्ते बीरो ने संदिग्ध वस्तु को सूंघने के बाद विस्फोटक होने का संकेत दिया।
यह भी पढ़ें- 
ऑपरेशन भाटादूड़ियां: मुठभेड़ स्थल से हथियार और गोला-बारूद बरामद, आतंकियों तक कैसे पहुंच रही हैं ये चीजें    

इसके बाद पूरे इलाके में वाहनों की आवाजाही रोक दी गई। 40 बटालियन बीएसएफ, 92 बटालियन सीआरपीएफ, एसओजी तथा 32 राष्ट्रीय राइफल्स की ओर से तत्काल मौके पर पहुंचकर छानबीन शुरू कर दी गई। आईईडी की पुष्टि होने के बाद 32 राष्ट्रीय राइफल्स के सीओ कर्नल बीएस खंदारे, इंजीनियरिंग प्लाटून के सूबेदार रंजू व 169 बम निरोधक बटालियन ने आईईडी को निष्क्रिय किया। लगभग छह घंटे बाद हाई-वे को आवागमन के लिए खोला गया। पुंछ जिले के सुरनकोट तहसील के रतनपीर इलाके में भी कच्चे रास्ते पर प्लांट की गई साढ़े तीन किलो की आईईडी बरामद कर निष्क्रिय किया गया। आतंकियों ने इस रास्ते पर पेट्रोल करने वाले सेना के जवानों को निशाना बनाने के लिए इसे प्लांट किया था।
... और पढ़ें

ऑपरेशन भाटादूड़ियां: जड़ांवाली गली से बींबर गली के बीच बंद रहा पुंछ-जम्मू राजमार्ग, हजारों लोग परेशान

जम्मू में पुंछ जिले के भाटादूड़ियां में पुंछ-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग से सटे जंगल में आतंकियों के खिलाफ सुरक्षा बलों की कार्रवाई जारी है। 13वें दिन भी जड़ांवाली गली से बींबर गली तक के बीच पुंछ-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पूरी तरह बंद रहा। इस मार्ग पर आज भी सभी प्रकार के वाहनों की आवाजाही पर रोक रही। इसके चलते जिले के सुरनकोट, मंडी एवं पुंछ हवेली तहसील के हजारों लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

पुंछ से जम्मू एवं जम्मू से पुंछ आने वाले लोगों को वाया मेंढर अथवा वाया कृष्णा घाटी के रास्ते गंतव्य तक पहुंचने में 10 से 11 घंटे का समय लग रहा है। क्योंकि इन क्षेत्रों में सड़कें तंग होने के कारण वाहन चालकों और यात्रियों को घंटों जाम में फंसें रहना पड़ रहा है। वहीं इतने दिनों से राष्ट्रीय राजमार्ग के इस 24 किलोमीटर के क्षेत्र में रहने वाले लोगों को जहां आज भी जरूरी कामों के लिए पैदल ही आवाजाही करनी पड़ी। इससे लोग परेशान हो रहे हैं।
यह भी पढ़ें- 
ऑपरेशन भाटादूड़ियां: मुठभेड़ स्थल से हथियार और गोला-बारूद बरामद, आतंकियों तक कैसे पहुंच रही हैं ये चीजें    

इतना ही नहीं राष्ट्रीय राजमार्ग बंद होने के कारण जम्मू से सामान लेकर आने वाले बड़े माल वाहक वाहन ट्रक एवं ट्रालों के पुंछ पहुंचने में तीन से चार दिन का समय लग रहा है, जिससे पुंछ नगर, मंडी एवं सुरनकोट कस्बों में सब्जियों और खाने पीने की वस्तुओं की भी किल्लत होने लगी है। जिसे लेकर आम लोगों और दुकानदारों ने उपराज्यपाल से मांग की है कि पुंछ जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग को बींबरगली जड़ांवाली गली के बीच खोला जाए। इसके लिए अगर वाहनों को सुरक्षा देनी पड़े तो भी सुरक्षा देकर ही वाहनों की आवाजाही बहल की जाए, जिससे लोगों की परेशानियां कम हों।
... और पढ़ें

ऑपरेशन भाटादूड़ियां: मुठभेड़ स्थल से हथियार और गोला-बारूद बरामद, आतंकियों तक कैसे पहुंच रही हैं ये चीजें

पुंछ में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन
जम्मू-कश्मीर में पुंछ जिले के भाटादूड़ियां जंगल में मंगलवार को तलाशी अभियान के दौरान मुठभेड़ स्थल से हथियार और गोला-बारूद बरामद किया गया है। जिसमें एके-47 मैग्जीन, 29 कारतूस, दो ग्रेनेड, चार बिस्किट के पैकेट, दो कंबल, टिफिन, दो डेटोनेटर, दो सिरिंज और कुछ कपड़े भी मिले हैं। इस महीने की 12 तारीख से आतंकियों के खिलाफ लगातार ऑपरेशन चल रहा है। लेकिन अभी तक घुसपैठ कर सीमा में घुसा कोई आतंकी मारा नहीं गया है। आतंकियों तक रसद कौन पहुंचा रहा है, सुरक्षा एजेंसियां इस पर गंभीरता से काम कर रही हैं। संदिग्धों और आतंकियों के मददगारों पर सुरक्षाबल नजर बनाए हुए हैं।

सुरक्षाबलों ने आतंकियों के छह से आठ ठिकाने भी खोज निकाले है। जिनका इस्तेमाल आतंकी लंबे समय से कर रहे थे। सुरक्षाबल जंगल के बड़े हिस्से में तलाशी अभियान चल रहे हैं। इससे पहले सोमवार सुबह जैसे ही सुरक्षाबलों ने प्राकृतिक गुफाओं की घेराबंदी को कड़ा किया, जंगल में छिपे आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी।
 
... और पढ़ें

पांच बड़ी खबरें: बांदीपोरा में ग्रेनेड हमला, आतंकी मुस्तफा की मौत को कश्मीरी पंडितों ने बताया ईश्वरीय न्याय

उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा के सुंबल पुल इलाके में मंगलवार को आतंकवादियों के ग्रेनेड हमले में छह लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। धमाके में कई वाहनों के शीशे टूट गए हैं। अचानक हुए इस हमले के बाद मौके पर भगदड़ मच गई। हमले की सूचना के बाद सुरक्षाबल इलाके में पहुंच गए हैं। सभी घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के मुताबिक, आतंकियों ने सुरक्षाबलों को निशाना बनाते हुए ग्रेनेड हमला किया था। ग्रेनेड सड़क के दूसरी तरफ गिरने के बाद फटा गया। इसकी चपेट में आने से छह लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हें इलाज के लिए स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

ऑपरेशन भाटादूड़ियां: कश्मीरी पंडितों ने कहा, मुठभेड़ में मारे गए पाकिस्तानी आतंकी की मौत ईश्वरीय न्याय
पुलवामा के नदीमार्ग में 24 कश्मीरी पंडितों के नरसंहार में शामिल पाकिस्तानी दहशतगर्द जिया मुस्तफा की मौत को कश्मीरी पंडितों ने ईश्वरीय न्याय बताया है। 2003 में जिया मुस्तफा को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। रविवार को पुंछ के मेंढर के भाटादूड़ियां जंगल में सुरक्षाबलों ने जिया मुस्तफा को मार गिराया है। पनुन कश्मीर के चेयरमैन अजय चरंगु ने कहा कि जिया मुस्तफा की मौत पीड़ितों के लिए एक ईश्वरीय  न्याय के रूप में देखते हैं। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

जम्मू कश्मीर: बर्फीले इलाके में फंसे लोगों की तलाश शुरू, रियासी पुलिस का दस्ता गोगरा इलाके में पहुंचा
बर्फीले इलाके में फंसे गुज्जर-बक्करवाल परिवारों को बचाने के लिए रियासी पुलिस गोगरा इलाके में पहुंच गई है। ऊंचाई वाले इलाके में भारी बर्फबारी के बीच कई लोगों के फंसे होने की सूचना है। जम्मू-कश्मीर की रियासी पुलिस का एक दस्ता लोगों की तलाश के लिए उस इलाके में पहुंच गया है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

ऑपरेशन भाटादूड़ियां: छह से अधिक आतंकी ठिकाने खोज निकाले, सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच फिर मुठभेड़ शुरू
पुंछ जिले के भाटादूड़ियां जंगल में मंगलवार को आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई। फायरिंग की आवाज दूर तक सुनाई दे रहे है। इससे पहले सुरक्षाबलों को आतंकियों के छह से आठ ठिकाने खोज निकाले है। इसका इस्तेमाल आतंकी लंबे समय से कर रहे थे। आतंकी ठिकानों से कपड़े दवाइयां, खाने के पैकेट समेत कुछ बारूद भी बरामद किया गया है। मंगलवार को सुरक्षाबल जंगल के बड़े हिस्से में तलाशी अभियान चल रहे हैं। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पाकिस्तान की जीत का जश्न: श्रीनगर में मेडिकल छात्रों के खिलाफ केस, सांबा में छह लोगों को किया गया गिरफ्तार
टी-20 विश्वकप में भारत पर पाकिस्तान की जीत का कथित तौर पर जश्न मानने के मामले में जीएमसी और स्किम्स मेडिकल कालेज के कुछ छात्रों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। जम्मू-कश्मीर पुलिस के आईजी विजय कुमार ने इस मामले में पुष्टि की है। बताया कि अन्य की जांच चल रही है। इससे पहले मनोहर गोपाला गांव के लोगों के विरोध पर सांबा पुलिस ने इसी मामले में एफआईआर दर्ज कर छह युवकों को गिरफ्तार किया है। चार अन्य की तलाश की जा रही है। सांबा पुलिस ने बताया कि रविवार रात भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैच खत्म होने पर मनोहर गोपाला गांव में एक समुदाय से जुड़े युवकों ने जश्न मनाना शुरू कर दिया। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
... और पढ़ें

ऑपरेशन भाटादूड़ियां: कश्मीरी पंडितों ने कहा, मुठभेड़ में मारे गए पाकिस्तानी आतंकी की मौत ईश्वरीय न्याय 

पुलवामा के नदीमार्ग में 24 कश्मीरी पंडितों के नरसंहार में शामिल पाकिस्तानी दहशतगर्द जिया मुस्तफा की मौत को कश्मीरी पंडितों ने ईश्वरीय न्याय बताया है। 2003 में जिया मुस्तफा को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। रविवार को पुंछ के मेंढर के भाटादूड़ियां जंगल में सुरक्षाबलों ने जिया मुस्तफा को मार गिराया है।
 
पनुन कश्मीर के चेयरमैन अजय चरंगु ने कहा कि जिया मुस्तफा की मौत पीड़ितों के लिए एक ईश्वरीय  न्याय के रूप में देखते हैं। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि इस मामले का मास्टरमाइंड होने के बावजूद, वह एक विचाराधीन कैदी था। यह कानून प्रणाली की खामियों को उजागर करता है। आतंकवादी कृत्यों में शामिल दोषियों को तत्काल सजा देने के लिए न्याय प्रणाली में सुधार की आवश्यकता है।

ऑल स्टेट कश्मीरी पंडित कांफ्रेंस (एएसकेपीसी) के पूर्व महासचिव टीके भट ने कहा कि जिया मुस्तफा की मौत ईश्वरीय न्याय है, क्योंकि सरकार हमें न्याय देने में विफल रही थी। जिया मुस्तफा रावलकोट का रहने वाला था, जो लश्कर का एक प्रशिक्षित कमांडर था। 2007 में इसे जम्मू के कोट भलवाल जेल में भेजा गया था।

शाह के दौरे से अल्पसंख्यकों की सुरक्षा के लिए बनेगा माहौल: चुरंगू 

भाजपा के राजनीतिक फीडबैक विभाग के प्रभारी एवं कश्मीरी पंडित नेता अश्विनी कुमार चुंरगू ने कहा कि केंद्रीय गृहमंत्री के प्रदेश के दौरे से घाटी में अल्पसंख्यकों की सुरक्षा के लिए माहौल बनेगा। कश्मीर में पिछले कुछ अरसे से अल्पसंख्यकों की टारगेट किलिंग से हालात चुनौतीपूर्ण होते जा हैं।

ऐसे समय में गृहमंत्री के प्रदेश के दौरे और हालात की समीक्षा करने से उम्मीद बंधी है कि अल्पसंख्यक की सुरक्षा के लिए ठोस नीति बनेगी। चुरंगू ने अमित शाह के जम्मू-कश्मीर के दौरे की प्रासंगिकता विषय पर वेबिनार में यह बातें कहीं। उन्होंने कहा गृहमंत्री अमित शाह ने अनुच्छेद 370 की समाप्ति के बाद प्रदेश का पहला दौरा किया है। ऐसे में अल्पसंख्यकों में विश्वास की भावना पैदा हो पाएगी। ब्यूरो
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: बांदीपोरा में ग्रेनेड हमला, गाड़ियों के टूटे शीशे, कई नागरिक घायल

उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा के सुंबल पुल इलाके में मंगलवार को आतंकवादियों के ग्रेनेड हमले में छह लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। धमाके में कई वाहनों के शीशे टूट गए हैं। अचानक हुए इस हमले के बाद मौके पर भगदड़ मच गई। हमले की सूचना के बाद सुरक्षाबल इलाके में पहुंच गए हैं। सभी घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया है।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के मुताबिक, आतंकियों ने सुरक्षाबलों को निशाना बनाते हुए ग्रेनेड हमला किया था। ग्रेनेड सड़क के दूसरी तरफ गिरने के बाद फटा गया। इसकी चपेट में आने से छह लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हें इलाज के लिए स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

घायलों में मोहम्मद अल्ताफ निवासी नानिनारा, फैसल फयाजी निवासी सफापोरा, मुश्ताक आह निवासी मारकुंडल, तसलीमा बानो निवासी मारकुंडल, अब हमीद निवासी मारकुंडल और फयाज आह निवासी आशम शामिल है। सभी घायलों की हालत स्थिर बताई जा रही है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि इलाके में आतंकियों की तलाश की जा रही है। 

सितंबर में पुलवामा में ग्रेनेड फटने से तीन लोग हुए घायल 
सितंबर माह में पुलवामा में आतंकियों ने सुरक्षाबलों को निशाना बनाकर ग्रेनेड फैंका था। इसके फटने से तीन लोग घायल हो गए थे। घाटी में सुरक्षाबलों की कड़ी चौकसी के कारण आतंकी बैखलाहट के चलते ग्रेनेड हमलों को अंजाम देने की साजिश रच रहे हैं। जिससे की सुरक्षाबलों को नुकसान पहुंचाया सकें। इन घटनाओं को ओवर ग्राउंड वर्करों (ओजीडब्ल्यू) और हाइब्रिड आतंकियों द्वारा अंजाम दिया जा रहा है ताकि अगर उनमें से कोई मारा या पकड़ा भी जाता है तो आतंकी संगठनों को ज़्यादा बड़ा धक्का न लगे।

अगस्त माह में श्रीनगर ग्रेनेड हमले में दस नागरिक हुए थे घायल 
10 अगस्त को लाल चौक से कुछ दूरी पर स्थित हरी सिंह हाई स्ट्रीट इलाके में आतंकियों ने सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) के बंकर को निशाना बनाते हुए ग्रेनेड हमला किया था। इस हमले में 10 नागरिक घायल हो गए। हमले के बाद एक नाके पर पुलिस ने एक व्यक्ति को दो ग्रेनेड के साथ गिरफ्तार किया था। 
... और पढ़ें

पाकिस्तान की जीत का जश्न: श्रीनगर में मेडिकल छात्रों के खिलाफ केस, सांबा में छह लोगों को किया गया गिरफ्तार

टी-20 विश्वकप में भारत पर पाकिस्तान की जीत का कथित तौर पर जश्न मानने के मामले में जीएमसी और स्किम्स मेडिकल कालेज के कुछ छात्रों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। जम्मू-कश्मीर पुलिस के आईजी विजय कुमार ने इस मामले में पुष्टि की है। बताया कि अन्य की जांच चल रही है।
इससे पहले मनोहर गोपाला गांव के लोगों के विरोध पर सांबा पुलिस ने इसी मामले में एफआईआर दर्ज कर छह युवकों को गिरफ्तार किया है। चार अन्य की तलाश की जा रही है। सांबा पुलिस ने बताया कि रविवार रात भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैच खत्म होने पर मनोहर गोपाला गांव में एक समुदाय से जुड़े युवकों ने जश्न मनाना शुरू कर दिया।

आरोप है कि कुछ युवकों ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे भी लगाए। इसके चलते क्षेत्र में माहौल बिगड़ने लगा। स्थानीय लोग भी एकत्रित होने लगे। इसकी सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर छह युवकों को गिरफ्तार किया है। चार अन्य की तलाश जारी है।  

पीएसए लगाने की मांग
 कैली मंडी के सरपंच लबलु संब्याल ने पाकिस्तान का जश्न मनाने वालों का विरोध किया। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की जीत पर जश्न मनाने वालों को बख्शा नहीं जाना चाहिए। उनके खिलाफ पीएसए लगाया जाए, जो हमारे क्षेत्र का माहौल बिगाड़ रहे हैं। उधर, रविवार को पाकिस्तान की जीत पर जश्न मनाने वालों का समर्थन करते हुए महबूबा ने ट्वीट किया कि पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने के लिए कश्मीरियों के खिलाफ इतना गुस्सा क्यों? कुछ लोग देश के गद्दारों को गोली मारो जैसे नारे भी लगा रहे हैं।

उन्होंने आगे लिखा कि कोई यह नहीं भूल सकता कि जम्मू-कश्मीर से विशेष दर्जा छीनने पर मिठाइयां बांटी गई थीं। महबूबा ने कहा कि खेल को विराट कोहली की तरह सही भावना से लें, जिन्होंने सबसे पहले पाकिस्तानी क्रिकेट टीम को बधाई दी थी। 

केंद्र सरकार कर रही कश्मीरी युवाओं के खिलाफ प्रतिशोधात्क कार्रवाई: महबूबा मुफ्ती  
पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने केंद्र पर कश्मीरी युवाओं के खिलाफ प्रतिशोधात्मक कार्रवाई करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने पर छात्रों के खिलाफ केस दर्ज किए जाने जैसे कदम उन युवाओं को और ‘दूर’ कर देंगे।  राजकीय मेडिकल कॉलेज व एसकेआईएमएस सौरा के छात्रावासों में रहने वाले मेडिकल छात्रों के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) के तहत दो मामले दर्ज किए गए हैं।
... और पढ़ें

जम्मू कश्मीर: बर्फीले इलाके में फंसे लोगों की तलाश शुरू, रियासी पुलिस का दस्ता गोगरा इलाके में पहुंचा

बर्फीले इलाके में फंसे गुज्जर-बक्करवाल परिवारों को बचाने के लिए रियासी पुलिस गोगरा इलाके में पहुंच गई है। ऊंचाई वाले इलाके में भारी बर्फबारी के बीच कई लोगों के फंसे होने की सूचना है। जम्मू-कश्मीर की रियासी पुलिस का एक दस्ता लोगों की तलाश के लिए उस इलाके में पहुंच गया है।

उधर मौसम विभाग के मुताबिक प्रदेश में मौसम आगामी दिनों साफ रहेगा। मौसम विज्ञान केंद्र, श्रीनगर के अनुसार 29 अक्तूबर तक बारिश या बर्फबारी के कोई आसार नहीं हैं। सोमवार को जम्मू में सुबह से ही मौसम साफ रहा और तेज धूप भी खिली। इससे तापमान में बढ़ोतरी भी हुई हैं। हालांकि प्रदेश के सभी जिलो में तापमान में हल्की बढ़ोतरी के बावजूद तापमान सामान्य से कम बना हुआ हैं। इस वजह से सुबह और शाम को लोग गर्म कपड़े पहन रहे हैं। 

जम्मू में दिन का अधिकतम तापमान 26. 5 डिग्री सेलियस दर्ज हुआ।  न्यूनतम तापमान 13. 7 डिग्री रहा। कटड़ा में दिन का अधिकतम तापमान 23. 9 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ हैं। श्रीनगर में दिन का अधिकतम तापमान 13. 7 डिग्री रहा हैं। पहलगाम में दिन का अधिकतम तापमान 7. 0 डिग्री रहा हैं। जबकि न्यूनतम तापमान 0. 2 रउग्री सेल्सियस दर्ज किया गया हैं। गुलमर्ग में दिन का अधिकतम तापमान 1. 8 डिग्री और न्यूनतम तापमान माइनस 1. 2 डिग्री रहा हैं।

बारिश थमते ही किसान फसल समेटने में जुटे
सुंदरबनी तथा आसपास के क्षेत्रों में बीते दो दिन से बारिश जारी रहने के बाद मंगलवार को पूरे क्षेत्र में मौसम साफ होने के बाद लोगों ने राहत महसूस की है। सोमवार को मौसम साफ होने के बाद भी बहुत से किसान अपनी जमीन में फसलों को समेटने से परहेज कर रहे थे, लेकिन फिर भी बहुत से किसानों ने बारिश से खराब हुई फसलों को समेटने का काम शुरू कर दिया। ताकि फिर से बारिश होने तक फसलों को संभाल सकें।

क्षेत्र में मूसलाधार बारिश के साथ गिरे ओलों से सब्जियों तथा धान की फसलों का काफी नुकसान हो जाने के कारण सब्जी उत्पादक किसानों ने सरकार से मांग की है, कि क्षेत्र में सब्जियों की फसलों को हुए नुकसान का सर्वे करके किसानों को खराब हुई फसलों का मुआवजा दिया जाए। इस संबंध में किसानों सवर्ण सिंह, ओम प्रकाश नेत्र कुमार, संजय कुमार गुलशन कुमार, रमेश चंद्र आदि का कहना है कि वह लोग सब्जियों की खेती करके रोजी रोटी कमाते हैं, लेकिन बारिश के साथ गिरे ओलों से उनकी फसलों को भारी नुकसान हुआ है। उन्होंने सरकार से मांग की कि उनकी सब्जियों की फसलों को हुए नुकसान का सर्वे कराकर उन्हें हुए नुकसान का मुआवजा दिलाया जाए।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00