बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव
Myjyotish

बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

दिल्लीः ऑनलाइन क्लास न कर पाने वाले बच्चों के लिए कांस्टेबल बने सहारा, मंदिर में ले रहे क्लास

दिल्ली पुलिस का एक कांस्टेबल कोरोना काल में जरूरतमंद बच्चों के लिए मदद का बड़ा हाथ बनकर सामने आया है। कांस्टेबल ने कोरोनाकाल के दौरान गरीब और जरूरतमंद...

20 अक्टूबर 2020

Digital Edition

मोबाइल से खुला राज: प्रोपर्टी के लिए 20 साल में पांच लोगों का कत्ल, नहीं लगी किसी को भनक, ऐसे उठा रहस्य से पर्दा

मुरादनगर के गांव बसंतपुर सैंथली के शातिर किसान लीलू त्यागी ने 20 साल में एक-एक कर पांच परिजनों की जान ले ली। चार करोड़ की संपत्ति के लिए उसने रिश्तों का खून इतनी सफाई से किया कि किसी को भनक तक नहीं लगी। तीन के खून से उसने अपने हाथ रंगे, जबकि दो का कत्ल सुपारी देकर कराया। डेढ़ माह पहले आठ अगस्त को रिटायर्ड दरोगा सुरेंद्र त्यागी को चार लाख रुपये देकर कराई पांचवीं हत्या के रहस्य से बृहस्पतिवार को पर्दा उठाने के साथ पुलिस ने पांचों वारदात का सिलसिलेवार खुलासा हो जाने का दावा किया है। लीलू, सुरेंद्र और सुपारी किलर राहुल गिरफ्तार कर लिए गए हैं।

एसपी ग्रामीण डॉ. ईरज राजा ने बताया, लीलू ने बड़े भाई सुधीर, भतीजे रेशू (पुत्र ब्रिजेश) की हत्या सुपारी देकर कराई। भतीजी पायल और पारुल (पुत्री सुधीर) और भतीजे नीशू (पुत्र ब्रिजेश) की हत्या खुद की। लीलू, ब्रिजेश और सुधीर के नाम 16 बीघा जमीन थी। वह सुधीर और ब्रिजेश के हिस्से की लगभग चार करोड़ कीमत की जमीन हड़पना चाहता था। रेशू के लापता होने की जांच के दौरान पता चला कि उसकी और लीलू के मोबाइल की लोकेशन आठ अगस्त को एक ही जगह बुलंदशहर के पहासू की थी। इससे शक होने पर की गई उसके मोबाइल की छानबीन में एक कॉल रिकॉर्डिंग मिल गई, जिसमें वह सुपारी किलर से रेशू की हत्या की बात कर रहा था।

इसके बाद की पूछताछ में उसने रेशू के साथ अन्य चार हत्या की पूरी कहानी बयां कर दी। रेशू की गला घोंटकर हत्या पहासू में की थी और शव को गंगनहर में फेंक दिया था। हापुड़ के नंगौला निवासी रिटायर्ड दरोगा सुरेंद्र ने लीलू से चार लाख लेकर 1.5 लाख में हत्या की सुपारी पहासू के गांव सैंगली निवासी बदमाश विक्रांत को दे दी थी। हत्या में लीलू, सुरेंद्र, विक्रांत, संभल निवासी राहुल (सुरेंद्र का नौकर) और अरनिया, बुलंदशहर का निवासी मुकेश (विक्रांत का भांजा) शामिल थे। 21 सितंबर को विक्रांत और मुकेश एक अन्य मामले में बुलंदशहर में जेल चले गए।
... और पढ़ें
सभी मृतक सभी मृतक

गरज के बरसे बदरा: दिल्ली-एनसीआर में अचानक बदला मौसम, कई इलाकों में हुई झमाझम बारिश

दिल्ली-एनसीआर में गुरुवार रात मौसम का मिजाज अचानक बदल गया। कई इलाकों में झमाझम बारिश हुई। मौसम सुहाना होने से लोगों को गर्मी से राहत मिली है। 

विदाई की ओर मानसून
पिछले कई दिनों से बादलों की आंख मिचौली चल रही थी। गुरुवार रात अचानक मौसम ने करवट ली और झमाझम बारिश हुई। गर्मी से परेशान लोगों ने राहत की सांस ली। बता दें कि दिल्ली-एनसीआर से मानसून विदाई की ओर है। जाते-जाते लोगों को बारिश ने भिगो दिया। 

अगले तीन दिनों के लिए जारी किया गया है ग्रीन और यलो अलर्ट 
दिल्ली-एनसीआर वासियों को सप्ताह भर तक उमस भरी गर्मी से राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। मौसम विभाग ने अगले तीन दिनों के लिए ग्रीन व यलो अलर्ट के साथ बादल छाए रहने के साथ हल्की बारिश की संभावना जताई है। इस बीच धूप के कड़े तेवर भी झेलने पड़ सकते हैं। साथ ही उमस से भी बुरा हाल रहेगा। 

मौसम विभाग के मुताबिक, बृहस्पतिवार को अधिकतम तापमान सामान्य से एक कम 33.3 व न्यूनतम तापमान सामान्य से एक अधिक 24.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। बीते 24 घंटों में हवा में नमी का स्तर 66 से 89 फीसदी तक दर्ज किया गया। दिनभर बादल और सूरज के बीच आंख मिचौली का खेल चलता रहा और कभी धूप व कभी छांव का अहसास बना रहा। 

मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि अगले 24 घंटों में बादल छाए रहेंगे और कुछ जगहों पर हल्की बारिश दर्ज की जा सकती है। इसके अगले दो दिन के लिए यलो अलर्ट जारी किया गया है। इस बीच बारिश की अधिक संभावना है। 
... और पढ़ें

किसान आंदोलन के 300 दिन: सर्दी, बरसात और गर्मी तीनों नहीं डिगा सकी हौसला, पढ़ें- वो प्रमुख पड़ाव जिसने इसे किया और मजबूत

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों को दिल्ली पुलिस की तरफ से 26 नवंबर 2020 को दिल्ली में जाने से रोकने के बाद दिल्ली की सीमा पर डटे आज 300 दिन हो चुके हैं। केंद्र सरकार से वार्ता सफल न होने के चलते लाखों किसान धूप, बारिश, ठंड व विषम परिस्थितियों में सड़कों पर हैं। लेकिन उन्होंने अपनी हिम्मत नहीं हारी है। किसान दिल्ली के सिंघु, टीकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर डटे हुए हैं। संयुक्त किसान मोर्चा की अगुवाई में चल रहे आंदोलन में अब तक 605 किसानों की मौत हो चुकी है। यह दावा खुद संयुक्त किसान मोर्चा ने किया है। 

संयुक्त किसान मोर्चा ने एक ब्लॉग में उन मृत किसानों की लिस्ट भी जारी की है। यहां क्लिक कर आप उस
ब्लॉग  पर जाकर उन किसानों की लिस्ट देख सकते हैं। मृत किसानों की यह लिस्ट बताती है कि कितने किसान 24 नवंबर से इस आंदोलन में शहीद हुए।

300 दिन यानी लगभग 10 महीने से यह आंदोलन लगातार चल रहा है। इस दौरान कई बार ऐसा लगा कि अब जल्द ही यह खत्म हो जाएगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ। हर बार इसे नई शक्ति मिली और यह फिर उठ खड़ा हुआ। इस दौरान इस आंदोलन के कई टर्निंग प्वाइंट रहे जिससे आप आसानी से इस आंदोलन के महत्व को समझ सकते हैं।

पढ़ें कौन से रहे वो प्रमुख पड़ाव जिसने दिया आंदोलन को बल...

- 24 से 26 नवंबर के बीच पुलिस द्वारा दिल्ली जाने से रोके जाने पर लाखों किसानों ने सिंघु, टीकरी, गाजीपुर बॉर्डर और चिल्ला बॉर्डर पर बैठकर ही अपना आंदोलन आगे बढ़ाया।
- इस बीच जो सरकार पहले किसानों से आंदोलन खत्म होने पर बात करने को कह रही थी वह उनसे वार्ता करने लगी। हालांकि 10 से ज्यादा दौर की किसानों और केंद्र सरकार की बैठक से कुछ बड़ा हासिल नहीं हो सका।
- 26 जनवरी 2021 को किसानों ने किसान ट्रैक्टर परेड निकाली जो पहले दिल्ली के बाहर-बाहर रहने वाली थी लेकिन प्रदर्शनकारियों का एक गुट दिल्ली के अंदर घुस गया। इसके बाद यहां काफी हिंसा हुई और लाल किले तक में भी कुछ उपद्रवी घुस गए और तोड़फोड़ के साथ ही धार्मिक झंडा भी फहरा दिया।
- 26 जनवरी की घटना के बाद से ही किसान आंदोलन के प्रति लोगों का रवैया कुछ बदल गया। पुलिस ने दिल्ली के सभी बॉर्डर खाली कराने की कोशिश की लेकिन नाकाम रही।
- 26 जनवरी के बाद एक बार लगा था कि शायद अब यह आंदोलन खत्म हो जाएगा लेकिन 29 जनवरी को गाजीपुर बॉर्डर पर भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत के आंसुओं ने इस आंदोलन को संजीवनी दी और दोबारा से सभी सीमाओं पर प्रदर्शनकारी किसानों की भीड़ बढ़ने लगी।
- इसके बाद किसानों ने गांव-गांव में किसान पंचायत लगानी शुरू की और राकेश टिकैत इसके नेता बन गए। हालांकि 26 जनवरी के बाद ही दिल्ली की सभी सीमाओं पर पुलिस ने गड्ढे खोदने के साथ ही लोहे की कीलें भी लगा दीं ताकि दोबारा किसान ट्रैक्टर आदि लेकर दिल्ली में घुसने की कोशिश न कर सकें।
- इसके बाद बड़ा बदलाव आया संसद के मानसून सत्र के दौरान जब 22 जुलाई से 9 अगस्त के बीच जंतर-मंतर पर किसानों की संसद चली। उनका मकसद था कि मानसून सत्र में आ रहे सांसद उनकी आवाज बनें।
- सिंघु बॉर्डर पर 26-27 को अखिल भारतीय किसान-मजदूर सम्मेलन भी आयोजित किया गया, जिसमें पूरे देश से सिर्फ किसान ही नहीं ट्रेड यूनियन, छात्र नेता आदि भी शामिल हुए। यहीं तय हुआ कि आगे आंदोलन कैसा रहेगा।
- करनाल में 28 अगस्त हरियाणा सीएम का विरोध कर रहे किसानों पर लाठीचार्ज हुआ जिसने एक बार फिर प्रदेश सरकार को बैकफुट पर ला दिया। लाठीचार्ज में दर्जनों किसान घायल हुए और एक की मौत हो गई। चार दिन तक किसानों ने करनाल में लघु सचिवालय घेर कर रखा।
- सितंबर को मुजफ्फरनगर में अब तक की सबसे बड़ी महापंचायत हुई। संयुक्त किसान मोर्च दावा करता है कि इसमें 10 लाख से ज्यादा किसान आए थे। 
- 27 सितंबर को संयुक्त किसान मोर्चा ने कृषि कानूनों के खिलाफ भारत बंद करने का ऐलान किया है। इसे लेकर देशभर में बैठक व पंचायतों का दौर जारी है।
  ... और पढ़ें

प्रदूषण से जंग: दिल्ली सरकार की पड़ोसी राज्यों से गुजारिश- हमने पटाखे बैन किए आप भी करें, केंद्र को भेजे कई सुझाव

हर साल सर्दियों के मौसम में दिल्ली में होने वाले प्रदूषण को लेकर दिल्ली सरकार ने कमर कस ली है। गुरुवार को हुई एक संयुक्त बैठक के दौरान दिल्ली सरकार ने पड़ोसी राज्यों से पटाखा बैन करने की गुजारिश की है। इसके साथ ही दिल्ली सरकार ने न सिर्फ केंद्र को प्रदूषण नियंत्रित करने के कई सुझाव दिए हैं बल्कि दिल्ली के जनरेटर उपयोगकर्ताओं को भी प्रदूषण कम करने वाले यंत्र लगाने को कहा है।

प्रदूषण को लेकर हुई कई राज्यों की बैठक के दौरान दिल्ली सरकार के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने केंद्र को सुझाव दिया है कि वह पड़ोसी राज्यों को कहे कि एनसीआर रीजन में सिर्फ सीएनजी वाहनों का इस्तेमाल हो। बैठक के दौरान गोपाल राय ने उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, पंजाब से गुजारिश की है कि दिल्ली ने पटाखों पर बैन लगा दिया तो वो भी लगाएं।

डीपीसी ने डीजल जनरेटर उपयोगकर्ताओं को दिए प्रदूषण नियंत्रित उपकरण लगाने के निर्देश
दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण कमेटी ने राजधानी के उन सभी डीजल जनरेटर उपयोगकर्ताओं को जो 125 किलोवाट या उससे अधिक क्षमता का जनरेटर चलाते हैं, निर्देश दिया है कि उन्हें प्रदूषण नियंत्रण उपकरण लगाना होगा। यह काम सभी को अक्तूबर के अंत तक कर लेना होगा।

डीपीसीसी दो जुलाई को जारी किए गए एक आदेश को दोहराते हुए कहा है कि अगर ऐसे डीजल जनरेटर उपयोगकर्ता पहले नोटिस के 120 दिन के अंदर प्रदूषण नियंत्रक उपकरण नहीं लगवाएंगे तो उन्हें सख्त कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा।

डीपीसीसी ने ये भी कहा कि, डीजल जनरेटर पर लगे प्रदूषण नियंत्रक उपकरण को केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण द्वारा प्रमाणित पांच में से किसी एक लैब से मान्य होना चाहिए। साथ ही इस उपकरण से कम से कम 70 फीसदी प्रदूषण कम होना चाहिए। ऐसे डीजल जनरेटर उपयोगकर्ताओं के पास गैस बेस जनरेटर इस्तेमाल करने का भी ऑप्शन है।

दिल्ली सरकार यह सारे उपाय कर रही है ताकि समय रहते ही सर्दियों में होने वाले वायु प्रदूषण को रोका जा सके।
... और पढ़ें

दिल्ली: ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वाले 100 चालकों की लिस्ट होगी जारी, चार अपराधों के आधार पर पहचान

गोपाल राय
दिल्ली में यातायात की स्थिति को सुधारने के लिए ट्रैफिक पुलिस लगातार प्रयास कर रही है। इस बीच दिल्ली ट्रैफिक पुलिस 100 ऐसे चालकों की लिस्ट जारी करेगी, जिन्होंने लगातार यातायात नियमों का उल्लंघन किया है। 

पहली बार इस तरह की लिस्ट तैयार कर रही पुलिस 
अधिकारी के मुताबिक, यह पहला मौका है जब पुलिस इस तरह की सूची तैयार कर रही है। लिस्ट में जिन चालकों के नाम होंगे, उनकी पहचान चार अपराधों के आधार पर की जाएगी। रेड लाइट जंप, तेज गति, शराब पीकर गाड़ी चलाना और खतरनाक ड्राइविंग के आधार पर होगी।

यह भी पढ़ें- 
दिल्ली में जंगलराज : छात्रा से सरेआम छेड़छाड़, विरोध करने पर कपड़े फाड़े

ड्राइवर को जागरूक करने की जरूरत
ट्रैफिक विशेष पुलिस आयुक्त मुक्तेश चंद्र ने कहा कि चालकों को जागरूक करने की जरूरत है। इसके पीछे का मकसद उन ड्राइवरों को यह बताना है कि उनका ड्राइविंग कौशल बहुत खराब है और उन्हें इसमें सुधार करने की आवश्यकता है।
... और पढ़ें

दिल्ली: पांचवीं मंजिल से कूदी महिला, मरने से पहले पति को किया था आई लव यू का मैसेज

दिल्ली के मुखर्जी नगर इलाके की एक सोसाइटी में मंगलवार को एक महिला ने अपनी बिल्डिंग की पांचवीं मंजिल से कूदकर आत्महत्या कर ली। दिल्ली पुलिस के मुताबिक, मुखर्जी नगर थाना क्षेत्र के निरंकारी कॉलोनी निवासी नेहा (52) ने मंगलवार शाम अपनी बिल्डिंग की पांचवीं मंजिल से नीचे छलांग लगा दी।

नीचे गिरने के बाद महिला गंभीर रूप से घायस हो गई थी जिसे इलाज के लिए नजदीक के अस्पताल में भर्ती कराया गया था लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। जानकारी मिली है कि महिला अपने पति के साथ रहती थी। इस दंपती का एक बेटा और एक बेटी है, जो अमेरिका में रहते हैं।

पुलिस घटना की जांच में जुट गई है। शव को कब्जे लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पुलिस ने बताया कि उसे घटना की सीसीटीवी फूटेज मिली है। महिला की हत्या के पीछे के कारणों का पता लगाया जा रहा है। महिला के पास से बरामद मोबाइल से पता चला है कि उसने आत्महत्या करने से पहले अपने पति को आई लव यू का मैसेज भेजा था। 
... और पढ़ें

नियंत्रण में कोरोना: दिल्ली में 0.04% सैंपल ही मिले कोरोना संक्रमित, एक दिन में संक्रमण से नहीं हुई कोई मौत

कोरोना महामारी को लेकर दिल्ली के हालात काफी नियंत्रण में आ चुके हैं। पिछले एक दिन की बात करें तो यहां 0.04 फीसदी सैंपल ही कोरोना संक्रमित मिले हैं। जबकि जांच 70651 सैंपल की हुई थी। 

बुधवार को स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि पिछले एक दिन में 30 लोग कोरोना संक्रमित मिले थे। जबकि 19 मरीजों को स्वस्थ घोषित किया गया। इस दौरान एक भी मरीज की संक्रमण के चलते मौत नहीं हुई है। 17 सितंबर को एक मरीज की मौत हुई थी लेकिन इसके बाद 18, 19, 20 और 21 सितंबर को किसी भी मरीज की मौत दर्ज नहीं की गई है। 

इसी के साथ ही राजधानी में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 14,38,586 हो चुकी है जिनमें से 14,13,090 मरीज अब तक स्वस्थ भी हो चुके हैं लेकिन 25085 मरीजों की मौत हो चुकी है। दिल्ली में कोरोना की अब तक संक्रमण दर 5.30 फीसदी रही है लेकिन मृत्युदर 1.74 फीसदी दर्ज की गई है। 

विभाग के मुताबिक संक्रमण के नए मामले अधिक और रिकवरी कम होने की वजह से पिछले एक दिन में 11 सक्रिय केस बढ़े हैं। इसके चलते कुल सक्रिय केस बढ़कर 411 हो चुके हैं जिनमें से 131 मरीज अपने घरों में आइसोलेशन में उपचार ले रहे हैं। जबकि अस्पतालों में भर्ती 242 मरीज अभी भी संक्रमण से जूझ रहे हैं। 

इनके अलावा आठ मरीजों में संक्रमण के हल्के लक्षण हैं जिनकी वजह से उन्हें कोविड निगरानी केंद्र में रखा गया है। फिलहाल राजधानी में कंटेनमेंट जोन की संख्या भी बढ़कर 100 हो चुकी है। 

एक दिन में लगी करीब दो लाख वैक्सीन
विभाग ने जानकारी दी है कि राजधानी में पिछले एक दिन में करीब दो लाख लोगों को वैक्सीन दी गई है। इसी के साथ ही अब तक 1.63 करोड़ से अधिक टीकाकरण दर्ज किया जा चुका है। इनमें से 49.97 लाख लोग दोनों खुराक लेकर टीकाकरण पूरा कर चुके हैं। जबकि 1.13 करोड़ से अधिक लोग अभी एक खुराक ले पाए हैं। 
... और पढ़ें

नियुक्ति: प्रोफेसर योगेश सिंह होंगे दिल्ली विश्वविद्यालय के नए कुलपति, राष्ट्रपति ने दो नियुक्तियों को दी मंजूरी

दिल्ली प्रोद्योगिक विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर योगेश सिंह को बुधवार को नया कार्यभार सौंपा गया है। शिक्षा मंत्रालय ने जानकारी दी है कि प्रो. योगेश सिंह को दिल्ली विश्वविद्यालय का कुलपति नियुक्त किया गया है।

जानकारी के अनुसार राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जो केंद्रीय विश्वविद्यालयों के विजिटर हैं, उन्होंने बुधवार को दो कुलपतियों की नियुक्ति को मंजूरी दी है। योगेश सिंह को दिल्ली विश्वविद्यालय और नीलिमा गुप्ता को डॉ. हरि सिंह गौड़ विश्वविद्यालय, सागर के कुलपति पद पर नियुक्त किया गया है।

नीलिमा गुप्ता वर्तमान में बिहार के तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय में कुलपति के पद पर कार्यरत हैं।
... और पढ़ें

गौतमबुद्ध नगर में सीएम योगी: सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा का किया अनावरण, कहा- राष्ट्रधर्म को रखना होगा सर्वोपरि

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने सात जिलों के दौरे के कार्यक्रम के तहत बुधवार को गौतमबुद्ध नगर पहुंचे। आज सीएम ग्रेटर नोएडा के दादरी पहुंचे और यहां उन्होंने सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा का अनावरण किया। हालांकि उनके दौरे से पहले से ही मिहिर भोज के वंशज होने का दावा करने वाले राजपूतों और गुर्जरों में गतिरोध बुधवार को भी जारी रहा। यहां सीएम योगी ने एक जनसभा को भी संबोधित किया। पढ़िए उनके भाषण की खास बातें....

हम गुलाम बने क्योंकि हम अलग-अलग थे
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, देश में गुलामी का कारण एक ही था क्योंकि हम अलग-अलग थे। हम जाति के बंधन में बंधे थे। हम संप्रदाय के बंधन में बंधे थे। कोई भी विदेशी आक्रांता आता था, वो हमारी बहू-बेटियों के साथ छेड़छाड़ करता था।

2017 से पहले नहीं निकलने दी जाती थी कांवड़ यात्रा
सीएम ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि 2017 से पहले कोई कांवड़ यात्रा नहीं निकलने दी जाती थी। दुर्गा पूजा का त्योहार नहीं मनाने दिया जाता था। तब कोई विदेशी आक्रमणकारी तो यहां शासन नहीं कर रहा था, लेकिन आज की स्थिति बदली है। आज सभी व्यवस्था हो रही है। 2017 में हमारी सरकार बनने के तुरंत बाद अवैध बूचड़खाने को बंद करा दिया गया। बहन-बेटियों की सुरक्षा को सुनिश्चित किया गया।

राष्ट्रधर्म को रखना होगा सर्वोपरि
मुख्यमंत्री ने कहा कि, राष्ट्रधर्म सबसे पहला धर्म होना चाहिए। अगर देश की सुरक्षा पर कोई आंच आई, तो हम सब सुरक्षित नहीं होंगे। इसलिए हमें राष्ट्रधर्म को सर्वोपरि रखना होगा।

प्रदेश में पहले था गुंडाराज अब विकास की बात: योगी आदित्यनाथ
ग्रेटर नोएडा के नॉलेज पार्क स्थित इंडिया एक्सपो सेंटर और मार्ट आए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के एनसीआर क्षेत्र में अब विकास की बात होती है। पहले जहां गुंडाराज था, वहां अब निर्यात और निवेश का माहौल है। मुख्यमंत्री एक निजी कार्यक्रम में आए थे। एनसीआर विषय पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा की जेवर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट से पूरे प्रदेश ही नहीं अन्य प्रदेशों को भी लाभ होगा। वहीं यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में फिल्म सिटी का फायदा उत्तर भारत तक होगा। इससे रोजगार और विकास के नए आयाम बनेंगे।

इकलौता प्रदेश जहां अधिक संख्या में एक्सप्रेसवे कम समय में बने
मुख्यमंत्री ने कहा कि, प्रदेश में आठ एक्सप्रेस वे का निर्माण चल रहा है। यह इकलौता प्रदेश है जहां इतनी अधिक संख्या में एक्सप्रेस वे का निर्माण कम समय में हुआ। भाजपा सरकार आने से पहले केवल दो स्थानों पर प्रदेश में मेट्रो थी। अब छह स्थानों में मेट्रो दौड़ेगी। उन्होंने अपने साढ़े चार वर्ष के कार्यकाल में किए गए कार्यों का भी लेखा जोखा दिया। उन्होंने कहा कि पहले उद्योगों के इज ऑफ डूइंग बिजनेस में प्रदेश देश में 23वें नम्बर पर आता था। अब यह दूसरे स्थान पर पहुंच गया है।

कोरोना काल में भी नोएडा-ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण लाए सबसे अधिक निवेश
मुख्यमंत्री ने कहा, कोरोना काल में नोएडा-ग्रेटर नोएडा और यमुना प्राधिकरण ही देश में सबसे अधिक निवेश लाने वाले प्राधिकरण या क्षेत्र रहे। कार्यक्रम में उन्होंने उद्यमियों, किसानों, शिक्षाविदों और चिकित्सकों के प्रश्नों के भी उत्तर दिए।

मूर्ति के नीचे लगी पट्टिका से मिटाया गुर्जर शब्द
मूर्ति के नीचे लगी पट्टिका पर गुर्जर शब्द किसी ने मिटा दिया था। इस बात के सामने आते ही प्रशासन में हड़कंप मच गया और आनन-फानन दोबारा उसे लिखवाया गया। वहीं दादरी में आज सुबह भी सैनिटाइजेशन का काम निगम ने किया। दूसरी ओर सुबह से हो रही बारिश के चलते कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे लोग अपने को वहां रखी कुर्सियों से बचा रहे हैं।

किसान भी कर रहे प्रदर्शन 
मुआवजे को लेकर ग्रेटर नोएडा के किसानों ने भी मंगलवार को विरोध प्रदर्शन किया। मंगलवार को प्रदर्शन के दौरान किसानों और पुलिस के बीच झड़प भी हुई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज ग्रेटर नोएडा के दौरे पर हैं, ऐसे में पुलिस किसी भी तरह व्यवस्था को बनाए रखना चाहती है।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X