विज्ञापन
विज्ञापन
शिक्षा, शादी, करियर, जॉब फ्री जन्मकुंडली से जानें कैसे रहेगा भविष्य
astrology

शिक्षा, शादी, करियर, जॉब फ्री जन्मकुंडली से जानें कैसे रहेगा भविष्य

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

दिल्लीः ऑनलाइन क्लास न कर पाने वाले बच्चों के लिए कांस्टेबल बने सहारा, मंदिर में ले रहे क्लास

दिल्ली पुलिस का एक कांस्टेबल कोरोना काल में जरूरतमंद बच्चों के लिए मदद का बड़ा हाथ बनकर सामने आया है। कांस्टेबल ने कोरोनाकाल के दौरान गरीब और जरूरतमंद...

20 अक्टूबर 2020

विज्ञापन
Digital Edition

खतरनाक श्रेणी में पहुंचा राजधानी का प्रदूषण स्तर, बवाना का हाल सबसे बुरा, 453 पहुंचा एक्यूआई

पराली के धुएं और हवा की गति कम होने से राजधानी में बृहस्पतिवार को प्रदूषण स्तर खतरनाक श्रेणी में पहुंच गया। शाम चार बजे तक औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 402 दर्ज किया गया। दिनभर छाए रहे स्मॉग के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

केंद्र के वायु चेतावनी व्यवस्था के अनुसार, बुधवार को पंजाब, हरियाणा व उत्तर प्रदेश समेत पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने की करीब तीन हजार घटनाओं का सीधा असर दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर पश्चिम भारत की हवा पर पड़ा। 

राजधानी के प्रमुख हॉटस्पॉट क्षेत्रों में शामिल शादीपुर में एक्यूआई 406 दर्ज किया गया जबकि पटपड़गंज में 411, जहांगीरपुरी में 429 व विवेक विहार में 432 रिकॉर्ड हुआ। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार, बृहस्पतिवार सुबह 10 बजे तक पार्टिकुलेट मैटर (पीएम)10 का स्तर 420 माइक्रोग्राम पर क्यूबिक मीटर दर्ज किया गया है, जो इस सीजन का सबसे अधिक रहा। 

सफर के मुताबिक, बवाना में एक्यूआई 453 रिकॉर्ड किया गया, जबकि शादीपुर में 421, पटपड़गंज में 411, जहांगीरपुरी में 429, विवेक विहार में 432 और मुंडका में 427 रिकॉर्ड हुआ। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार, बृहस्पतिवार सुबह 10 बजे तक पार्टिकुलेट मैटर (पीएम)10 का स्तर 420 माइक्रोग्राम पर क्यूबिक मीटर दर्ज किया गया है, जो इस सीजन का सबसे अधिक रहा। पीएम 10 का स्तर 100 ग्राम पर क्यूबिक मीटर से कम होने पर सुरक्षित माना जाता है। पीएम 10 बहुत सूक्ष्म तत्व होता है, जिसका व्यास 10 माइक्रोमीटर से भी कम होता है। यही वजह है कि यह आसानी से फेफड़ों में प्रवेश कर जाता है।
 

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के वायु मानक संस्था सफर के अनुसार, बुधवार को पराली जलने की वजह से पीएम 2.5 का स्तर 18 फीसदी दर्ज हुआ था, जबकि मंगलवार को यह 23 फीसदी, सोमवार को 16, रविवार को 19 और शनिवार को नौ फीसदी रहा था। सफर के अनुसार, स्थानीय प्रदूषण के कारण और उत्तर पश्चिम दिशा की ओर से आने वाली हवा के साथ आ रहे पराली के धुएं की वजह से राजधानी में पीएम 2.5 का स्तर बढ़ा है।

मौसम विभाग के अनुसार, दिल्ली में हवा की अधिकतम गति आठ किलोमीटर प्रति घंटा और न्यूनतम तापमान 12.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो इस सीजन का सबसे कम तापमान रहा। यही वजह है कि इन दिनों प्रदूषण में बढ़ोतरी हो रही है।
... और पढ़ें
दिल्ली का हाल... दिल्ली का हाल...

निकिता हत्याकांड: तीन राज्यों में सुलग रही विरोध की चिंगारी, दिल्ली के हिंदूवादी संगठन भी सक्रिय

बल्लभगढ़ के अग्रवाल कॉलेज गेट पर बीकॉम अंतिम वर्ष की छात्रा निकिता तोमर की सरेआम हत्या के बाद से विरोध की चिंगारी हरियाणा समेत तीन राज्यों में सुलगने लगी है। इस हत्याकांड के बाद से ही जहां यूपी के साठा-चौरासी में लोगों में आक्रोश है, वहीं दिल्ली के कुछ हिंदूवादी संगठन भी इस मामले को लेकर सक्रिय हो गए हैं। 

बृहस्पतिवार को राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना और अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज ने भी सेक्टर-8 स्थित महाराणा प्रताप भवन में जल्द न्याय नहीं मिलने पर दिल्ली-एनसीआर में चक्का जाम की चेतावनी दी है। ऐसे में स्थानीय पुलिस-प्रशासन की जरा सी लापरवाही हरियाणा सरकार के लिए परेशानी का सबब बन सकती है। तीनों ही राज्यों में एकजुट हो रहे विभिन्न संगठनों ने सरकार को इशारा कर दिया है कि जल्द ही हत्यारों को सख्त सजा नहीं मिली तो सरकार आंदोलन के लिए तैयार रहे। 

साठा-चौरासी में पंचायत में बदल गई शोकसभा
बुधवार को यूपी के हापुड़ जिले स्थित गांव रघुनाथपुर में निकिता की हत्या पर एक शोकसभा का आयोजन किया गया था। रघुनाथपुर निकिता के पिता मूलचंद तोमर का पैतृक गांव है। सुबह गढ़मुक्तेश्वर में निकिता की अस्थियां गंगा में विर्सजित किए जाने के बाद भाई नवीन और परिवार के अन्य लोग भी इस शोकसभा में पहुंचे थे। हापुड़ में यह इलाका साठा-चौरासी के नाम से जाना जाता है। यहां ठाकुर बहुल 84 गांव हैं। ऐसे में गांव की बेटी की शोकसभा का जिसे भी पता चला, वह गांव रघुनाथपुर जा पहुंचा। 

देखते ही देखते शोकसभा ने पंचायत का रूप ले लिया। इसमें विश्व हिंदू परिषद, हिंदू जागरण मंच, बजरंग दल, भारतीय किसान संगठन, करणी सेना आदि के पदाधिकारी भी पहुंचे। इस पंचायत में निर्णय हुआ है कि अगर जल्द ही गांव की बेटी के हत्यारों को फांसी नहीं दी गई तो हरियाणा से लेकर यूपी तक लोग सड़कों पर होंगे। बृहस्पतिवार शाम के समय भी साठा-चौरासी के गांव गालंद से जिंदल नगर तक युवा एकता समिति के नेतृत्व में कैंडल मार्च का आयोजन किया गया। शुक्रवार को भी स्थानीय लोग इस हत्याकांड के विरोध में गांव रघुनाथपुर से डीएम कार्यालय प्रीत विहार तक पदयात्रा किए जाने की घोषणा कर चुके हैं।

दिल्ली के हिंदूवादी संगठन भी रखे हैं नजर
निकिता हत्याकांड के मामले में हिंदूवादी संगठन भी पूरी तरह से सक्रिय हो गए हैं। विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय संयुक्त सचिव सुरेंद्र जैन ने बुधवार को निकिता की मौत को जबरन धर्म परिवर्तन का मामला करार दिया था। दिल्ली से हिंदू आर्मी संगठन से जुड़े कई सदस्य संजीव भाटी के नेतृत्व में फरीदाबाद पहुंचे थे। बिटिया के परिजनों से मिलने के बाद हिंदूवादी संगठनों ने इस बात पर आशंका जताई थी कि इलाके में जबरन धर्म परिवर्तन के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। दिल्ली से आए इन लोगों ने सोहना रोड पर कुछ देर के लिए जाम भी लगाया था।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस : दिल्ली में दूसरे दिन भी सामने आए रिकॉर्ड तोड़ मामले, 5739 संक्रमितों की पुष्टि 

दिल्ली में गुरुवार को दूसरे दिन लगातार रिकॉर्ड तोड़ मामले सामने आए हैं। गुरुवार को राजधानी में 5739 संक्रमितों की पुष्टि हुई है। जबकि 27 लोगों की मौत हो गई। दिल्ली में गुरुवार को 60124 कोरोना जांच की गई। इसमें 17029 आरटी-पीसीआर और 43095 रैपिड एंटीजन जांच शामिल हैं। दिल्ली में अब तक कुल 45,76,724 जांच की गई हैं। 
 


राजधानी में अभी पॉजिटिविटी रेट 8.21 प्रतिशत है। दिल्ली में गुरुवार को 4138 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। पिछले 10 दिनों में मृत्यु दर 0.90 प्रतिशत दर्ज की गई है। राजधानी में अभी कुल 18069 मरीज होम आइसोलेशन में हैं। 

दिल्ली में अब तक कुल 3,75,753 लोग कोरोना वायरस की चपेट में आए हैं। इसमें से 3,38,378 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। राजधानी में संक्रमण से अब तक कुल 6423 मरीजों की मौत हो चुकी है। दिल्ली में अभी कुल 30952 सक्रिय मरीज हैं।
... और पढ़ें

दिल्ली : यमुना के पानी में बढ़ा अमोनिया का स्तर, जलापूर्ति होगी प्रभावित

यमुना में अमोनिया का स्तर बढ़ने की वजह से दिल्ली में जलापूर्ति प्रभावित रहेगी। दिल्ली जल बोर्ड के अध्यक्ष राघव चड्ढा ने गुरुवार को कहा कि हरियाणा द्वारा यमुना में छोड़े जाने वाले पानी में अमोनिया का स्तर असमान्य रूप से बढ़ जाने के चलते दिल्ली के कुछ हिस्सों में जलापूर्ति प्रभावित होगी। 

चड्ढा ने कहा कि हरियाणा द्वारा छोड़े जाने वाले यमुना के अशोधित जल में प्रदूषकों (अमोनिया) का स्तर असामान्य रूप से बढ़ जाने के चलते सोनिया विहार और भागीरथी जल शोधन संयंत्र में जल शुद्धिकरण कार्य प्रतिकूल रूप से प्रभावित होगा। उन्होंने कहा कि इसके परिणामस्वरूप पूर्वी, उत्तर पूर्वी और दक्षिण दिल्ली के कुछ हिस्सों में जलापूर्ति प्रभावित होगी।
... और पढ़ें

प्रदूषण नियंत्रण के लिए केंद्र लाया नया कानून, उल्लंघन करने पर 5 साल जेल या 1 करोड़ का जुर्माना

राघव चड्ढा
 दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण की समस्या पर काबू पाने के प्रयासों के तहत केंद्र एक अध्यादेश के जरिए नया कानून लेकर आया है, जो तुरंत प्रभाव से लागू हो गया।

विधि और न्याय मंत्रालय द्वारा गुरुवार को जारी अध्यादेश में कहा गया कि प्रावधानों का उल्लंघन करने पर पांच साल तक जेल की सजा या एक करोड़ रुपये का जुर्माना या एक साथ दोनों सजा हो सकती है।

इसमें कहा गया है कि अध्यादेश को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) और इससे जुड़े क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन के लिए आयोग अध्यादेश 2020 कहा जा सकता है। यह राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और आसपास के उन इलाके तक लागू होगा, जहां वायु प्रदूषण से संबंधित मुद्दे हैं ।

अध्यादेश पर राष्ट्रपति ने बुधवार को हस्ताक्षर किए थे। अध्यादेश के मुताबिक दिल्ली और एनसीआर से जुड़े इलाके और आस पास के क्षेत्र जहां यह लागू होगा उसमें पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और उत्तर प्रदेश हैं।

आयोग में 20 सदस्य होंगे, जो इसके नियमों का कड़ाई से पालन करवाना सुनिश्चित करेंगे। इसमें कहा गया है कि आयोग के किसी भी प्रावधान या नियमों या आदेश या निर्देश का पालन नहीं करना दंडनीय अपराध होगा जिसके लिए पांच साल जेल की सजा या एक करोड़ रुपये जुर्माना या एक साथ दोनों सजा हो सकती है। आयोग के एक अध्यक्ष भी होंगे।

आयोग में दो पूर्णकालिक सदस्य होंगे जो केंद्र सरकार के संयुक्त सचिव होंगे। इसके अलावा तीन पूर्णकालिक स्वतंत्र तकनीकी सदस्य होंगे जिन्हें वायु प्रदूषण संबंधी वैज्ञानिक जानकारी होगी। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के एक तकनीकी सदस्य भी होंगे और इसरो एक तकनीकी सदस्य को नामित करेगा।

वायु प्रदूषण रोकने के संबंध में अनुभव रखने वाले एनजीओ के तीन सदस्य भी होंगे। आयोग सहयोगी सदस्यों को भी नियुक्त कर सकता है। आयोग में निगरानी और पहचान, सुरक्षा और प्रवर्तन तथा अनुसंधान और विकास में प्रत्येक से एक-एक के साथ तीन उप कमेटी होगी।

आयोग के पास वायु (प्रदूषण रोकथाम और नियंत्रण) कानून 1981, और पर्यावरण (संरक्षण) कानून 1986 जैसे मौजूदा कानूनों के तहत निवारण के लिए मामलों का स्वत: संज्ञान लेने, शिकायतों पर सुनवाई, आदेश जारी करने का अधिकार होगा। आयोग के पास एनसीआर और आसपास के क्षेत्रों में वायु प्रदूषण के लिए जिम्मेदार किसी भी गतिविधियों पर पाबंदी लगाने का अधिकार होगा।
... और पढ़ें

26 साल बाद सबसे ठंडा रहा 29 अक्तूबर, 12.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ तापमान

दिल्ली सरकार ने 'युद्ध, प्रदूषण के विरुद्ध' के तहत ग्रीन दिल्ली एप किया लॉन्च, कर सकेंगे शिकायत

प्रदूषण को कम करने के खिलाफ दिल्ली सरकार युद्ध स्तर पर काम कर रही है। ग्रीन वार रूम से जहां प्रदूषण पर मॉनीटरिंग की जा रही है तो वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को ग्रीन दिल्ली एप लॉन्च किया। इसका मकसद है कि दिल्ली के एक-एक लोग दिल्ली सरकार के युद्ध प्रदूषण के विरुद्ध में शामिल हो।

इस मौके पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवा लने बताया कि हर किस्म की शिकायत इस एप पर दर्ज होगी। इतना ही नहीं टाइम-लाइन फ्रेम में शिकायत की समस्या का समाधान होगा। मसलन कही आग से धुआ निकल रहा हो, कोई वाहन प्रदूषण फैला रहा हो या इंडस्ट्रियल एरिया में प्रदूषण हो रहा है इसकी शिकायत आम लोग शिकायत दर्ज करा सकेंगे इस एप के माध्यम से।

प्रदूषण के विरुद्ध युद्ध के लिए 70 मार्शल तैनात होंगे
दिल्ली सरकार के इस जंग के लिए 70 मार्शलों की तैनाती की जाएगी। ये मार्शल जहां कही भी प्रदूषण की शिकायत मिलेगी मौके पर पहुंचकर तत्काल समस्या का समाधान करेंगे। शिकायत मिलने के साथ ही प्रदूषण कैसे रोका जाए इस पर निगरानी रखेंगे।

टाइम फ्रेम में शिकायत का समाधान
मुख्यमंत्री ने बताया कि एप के माध्यम से भेजी गई शिकायत सिर्फ दर्ज नहीं होगी। संबंधित अधिकारी टाइम-लाइन के अनुसार निगरानी करने के साथ शिकायत को दूर करेंगे। इतना ही नहीं शिकायत करने वाले अगर अधिकारियों की कार्रवाई से संतुष्ट नहीं होंगे तो एप के माध्यम से ही शिकायत करने वाले दोबारा शिकायत कर यह बता सकेंगे।

सचिवालय से मॉनीटरिंग की जाएगी
दिल्ली सचिवालय में पिछले दिनों ग्रीन वॉर रूम तैयार किया गया था। इस वॉर रूम से ही एप के माध्यम से पहुंचने वाली शिकायत पर नजर रखी जाएगी। मार्शल भी इसपर निगरानी रखेंगे। शिकायत मिलते ही संबंधित विभाग को इसकी सूचना भेजी जाएगी। सूचना मिलते ही पूरी सक्रियता के साथ शिकायत को दूर की जाएगी।
... और पढ़ें

बिना हेलमेट रोकने पर ई-चालान मशीन ले भागा युवक, पकड़े जाने पर पटककर तोड़ा

मंडावली इलाके में बिना हेलमेट पहने बुलेट सवार को रोकने पर उसने यातायात पुलिस से ई चालान मशीन छीनकर भागने लगा। कुछ दूरी पर पकड़े जाने पर आरोपी ने मशीन को जमीन पर पटककर तोड़ दिया। मंडावाली थाना पुलिस ने युवक के खिलाफ सरकारी काम में बाधा पहुंचाने और लूट का मामला दर्जद कर उसे गिरफ्तार कर लिया। 

पुलिस के अनुसार आरोपी की पहचान गांधीनगर निवासी शंतम खजूरिया के रूप में हुई है। मंगलवार शाम यातायात विभाग में तैनात एएसआई कैलाश चंद मदर डेयरी के पास ड्यूटी कर रहे थे। इसी दौरान एक बुलेट सवार एक लड़की के साथ वहां पहुंचा। बुलेट चला रहा युवक हेलमेट नहीं पहन रखा था। जिसकी वजह से पुलिसकर्मियों ने उसे रोका और उससे गाड़ी के कागजात मांगे। युवक कागजात देने के बजाय पुलिसकर्मियों से बदतमीजी करने लगा। वह पुलिसकर्मियों से ऑनलाइन चालान करने को कहा। पुलिसकर्मियों ने उसे बताया कि ऑनलाइन चालान करने पर उसे ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी जमा करानी होगी। 

यह बात सुनकर युवक सिपाही बसंत के हाथ से मशीन छीनकर भागने लगा। पुलिसकर्मियों ने उसका पीछा किया और कुछ दूरी पर उसे पकड़ लिया। युवक मशीन वापस करने के बदले उसे जमीन पर पटककर तोड़ दिया। एएसआई की शिकायत पर मंडावली थाना पुलिस ने युवक को गिरफ्तार कर लिया। 
... और पढ़ें

क्या दिल्ली आ चुकी है कोरोना की तीसरी और क्यों बढ़ रही संक्रमितों की संख्या, सत्येंद्र जैन दिए जवाब

दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामले बीते दो दिनों से सभी रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं। इसे कई लोग कोरोना की तीसरी लहर मान रहे हैं। इस बीच दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इन सभी सवालों का विस्तृत जवाब दिया।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि सरकार ने अपनी रणनीति में बदलाव किया है और संक्रमितों के सम्पर्क में आए लोगों की पहचान तथा जांच अब और तेजी से की जा रही है। जैन ने पत्रकारों से कहा कि कोविड-19 के नए मामले तेजी से बढ़ने को लेकर इसे संक्रमण के प्रसार की तीसरी लहर कहना अभी जल्दबाजी होगी।

त्योहारों के मौसम और बढ़ते वायु प्रदूषण के बीच दिल्ली में बुधवार को पहली बार कोविड-19 के सर्वाधिक 5,600 से अधिक मामले सामने आए थे। राष्ट्रीय राजधानी में अचानक पिछले कुछ दिनों में संक्रमण के नए मामले तेजी से बढ़े हैं।

जैन ने कहा, हमने अपनी रणनीति में बदलाव किया है और अब हम संक्रमित व्यक्तियों के संपर्क में आए लोगों की और तेजी से पहचान और जांच कर रहे हैं। इसलिए भी मामलों में वृद्धि देखी जा रही है।

उन्होंने कहा कि संक्रमित व्यक्तियों के पूरे परिवार, करीबी लोगों, जिनमें इस रोग के कोई लक्षण नहीं है, उनकी भी जांच की जा रही है। आरटी-पीसीआर जांच भी बढ़ाई गई है।

विशेषज्ञों द्वारा एक दिन में 15,000 मामले सामने आने का अनुमान लगाए जाने पर उन्होंने कहा, नए मामलों में वृद्धि को देखते हुए विशेषज्ञों ने यह अनुमान लगाया है, लेकिन मामले उस स्तर तक नहीं पहुंचेंगे। हालांकि, हम पूरी तरह तैयार रहना चाहते हैं।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X