विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
यह उपाय बनाएंगे आपको धनवान
Astrology Tips Money Gain

यह उपाय बनाएंगे आपको धनवान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

आदर्श बनी दिल्लीः पीक से पहले वापसी, विशेषज्ञ बोले- उम्मीद से बेहतर हैं परिणाम

कोरोना संक्रमण की चपेट में आने के बाद लगातार स्वस्थ हो रहे मरीजों से दिल्ली की रिकवरी दर तेजी से आगे बढ़ रही है। महामारी और गणितीय मॉडल पर काम करने वाले विशेषज्ञ इसे उम्मीद से ज्यादा बेहतर परिणाम मान रहे हैं। उनका मानना है कि कोरोना पीक से पहले ही दिल्ली की अद्भुत वापसी देखने को मिल रही है। विशेषज्ञ और चिकित्सक इसे दूसरे राज्यों के लिए मॉडल मान रहे हैं।

वाशिंगटन के थिंक टैंक ब्रुकिंग्स इंस्टीट्यूट के भारत केंद्र में रिसर्च की पूर्व निदेशक रह चुकीं प्रो शमिका रवि के अनुसार वर्तमान में दिल्ली में बेहतर रिकवरी देखने को मिल रही है। बाकी महानगरों की तुलना करें तो दिल्ली के बाद चेन्नई सबसे बेहतर स्थिति में है। मुंबई की स्थिति में थोड़ा सुधार और बंगलूरू के लिए सतर्क रहने का वक्त नजर आ रहा है।

दिल्ली में अब तक 1.15 लाख, मुंबई में 95 हजार, चेन्नई में 80 हजार और बंगलूरू में करीब 21 हजार कोरोना मरीज मिल चुके हैं। अगर इन चारों शहरों की तुलना की जाए तो दिल्ली और चेन्नई एकमात्र ऐसे महानगर हैं, जहां कोरोना वायरस का ग्राफ एक कर्व (नीचे की ओर) के रूप में दिखाई दे रहा है।

वहीं, जोधपुर स्थित इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के पूर्व प्रोफेसर रिजो एम जॉन का कहना है कि अगर पिछले एक महीने की तुलना करें तो राष्ट्रीय स्तर पर कोरोना वायरस के ग्राफ में बहुत ज्यादा अंतर देखने को नहीं मिल रहा है। 15 जून को एक दिन में 12 हजार संक्रमित देश भर में मिले थे, जबकि 15 जुलाई को यह आंकड़ा 29 हजार पार कर चुका है। यानी, संक्रमितों की संख्या में करीब दोगुने से ज्यादा वृद्धि हुई है। ठीक इसी अवधि में दिल्ली की स्थिति देखें तो 15 जून को 2224 नए केस सामने आए थे जोकि धीरे धीरे बढ़कर चार हजार तक पहुंच गया था। अब वापस से यह आंकड़ा दो हजार से नीचे आ चुका है। वाकई यह एक विलक्षण वापसी है।

सफदरजंग अस्पताल के सामुदायिक चिकित्सा विभागाध्यक्ष डॉ. जुगल किशोर का कहना है कि शुरुआत से ही महाराष्ट्र में सबसे गंभीर हालात देखने को मिल रहे हैं, लेकिन दूसरे नंबर पर दिल्ली और तमिलनाडु के बीच एक ऐसी स्थिति मिली थी कि कभी दिल्ली तो कभी तमिलनाडु में ज्यादा मरीज मिल रहे थे। कोरोना के इस ग्राफ को देखते हुए ही इन महानगरों में वायरस का पीक अलग-अलग मिलने की आशंका जताई जा रही थी। हालांकि पिछले कुछ दिनों में दिल्ली में आए सुधारों ने यह साबित कर दिया कि राजधानी कोरोना वायरस के पीक से पहले ही वापस पटरी पर लौट आई है।

खतरा अब भी बरकरार
एम्स के डॉक्टरों का कहना है कि दिल्ली ने काफी कम समय में काफी तेजी से रिकवरी की है। यह दूसरे राज्यों के लिए एक आदर्श मॉडल बन गया है। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि संक्रमण का खतरा टल गया हो। दिल्ली एम्स के ही निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया कह चुके हैं कि अब तक के ट्रेंड से स्पष्ट है कि कोरोना वायरस का ग्राफ नीचे जाने के साथ ही दोबारा ऊपर आ सकता है। इसलिए सावधानी जरूरी है। अब तक संक्रमण से बहुत कुछ सीखने को मिल चुका है।
... और पढ़ें
दिल्ली की अद्भुत वापसी... दिल्ली की अद्भुत वापसी...

गाजियाबाद: ऑनलाइन थाली बुक कर युवक ने की 10 रुपये की पेमेंट, खाते से उड़ गए 70 हजार

साइबर ठगों ने गाजियाबाद के वसुंधरा में रहने वाले एक व्यक्ति के खाते से सात बार में 70 हजार रुपये निकाल लिए। ठगों ने पीड़ित को एक के साथ एक नि:शुल्क थाली देने का लालच देकर ठगी को अंजाम दिया। पीड़ित ने अज्ञात के खिलाफ इंदिरापुरम थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है।

वसुंधरा सेक्टर-4 ए में रहने वाले कौशल किशोर नोएडा स्थित एक कंपनी में उप प्रबंधक हैं। उन्होंने बताया कि करीब चार दिन पहले उनके फोन पर किसी व्यक्ति ने कॉल की और ऑनलाइन थाली मंगाने पर एक के साथ एक थाली मुफ्त में देने का ऑफर दिया। 

कॉल करने वाले ने थाली की 200 रुपये कीमत बताई थी। उन्होंने थाली बुक की। कॉल करने वाले ने पहले 10 रुपये भुगतान करने का झांसा देकर बाकी रुपये डिलीवरी के समय देने की बात कही। 

उन्होंने क्रेडिट कार्ड से 10 रुपये का भुगतान कर दिया। कुछ समय बाद उनके फोन पर एक के बाद एक सात मैसेज आए। मैसेज में 70 हजार रुपये कटने की जानकारी हुई। उन्होंने तुरंत क्रेडिट कार्ड ब्लॉक कराया। थाना एसएचओ संजीव शर्मा ने बताया कि मामले में रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।
... और पढ़ें

दिल्ली सरकार ने हाईकोर्ट को बताया, प्रसव से पहले अनिवार्य नहीं होगी कोरोना जांच

प्रसव से पहले सभी गर्भवती महिलाओं की कोविड-19 जांच कराना अनिवार्य नहीं है। अस्पताल में भर्ती होने के बाद भी महिला की जांच करवाई जा सकती है। दिल्ली सरकार ने यह जानकारी बुधवार को संबंधित मामले में सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट को दी। हाईकोर्ट ने इन महिलाओं की जांच में लगने वाले समय पर सवाल उठाते हुए दिल्ली सरकार को स्थिति साफ करने का निर्देश दिया था। 

मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति प्रतीक जालान की पीठ के समक्ष दिल्ली सरकार ने इस संबंध में हलफनामा दाखिल किया। दिल्ली सरकार ने हलफनामे में कहा कि अस्पताल में प्रसव से पहले सभी गर्भवती महिलाओं की कोविड-19 जांच करवानी अनिवार्य नहीं है। हालांकि संदिग्ध लगने वाली महिलाओं की जांच पहले करवाई जाएगी।
 
दिल्ली सरकार ने स्पष्ट किया उन्हीं महिलाओं की खासतौर पर कोरोना जांच करवाई जाएगी जो कोरोना हॉटस्पॉट वाले इलाकों से हों या किसी कोरोना मरीज के संपर्क में आई हों। इस पर कोर्ट ने कहा कि गर्भवती महिलाओं के लिए सरकार द्वारा तय दिशा-निर्देशों से स्पष्ट है कि महिलाओं के प्रसव से पहले कोविड-19 जांच के लिए परेशानी नहीं उठानी पडे़गी। लिहाजा कोर्ट इस मामले में आगे और निगरानी नहीं करेगी।

वहीं कोर्ट ने दिल्ली सरकार से कहा कि जिन गर्भवती महिलाओं की कोरोना जांच के लिए नमूने लिए जाएं, उनकी रिपोर्ट आने में 24 घंटे से ज्यादा का समय नहीं लगना चाहिए। गर्भवती को ऐसी हालत में ज्यादा इंतजार नहीं करवाया जा सकता। कोर्ट ने दिल्ली सरकार को निर्देश दिया कि वह गर्भवती महिलाओं संबंधी दिशा-निर्देशों को सरकारी व निजी अस्पतालों में तत्काल पहुंचाएं। 

गर्भवती महिलाओं के अलावा पीठ ने दिल्ली सरकार की ओर से कोविड-19 जांच में तेजी लाने को लेकर पेश किए गए आंकड़ों पर संतुष्टी जताई। पीठ ने याचिका का निपटारा करते हुए कहा कि संक्रमण से ज्यादा से ज्यादा जांच करके ही निपटा जा सकता है। 
... और पढ़ें

दिल्ली: बेसबॉल बैट से अधमरा होने तक पीटा, गोलियां चलीं और तस्कर दबोचा

कोरोना के काबू आने की खबरों के साथ ही दिल्ली में अपराध का ग्राफ एक बार फिर चढ़ने लगा है। दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में अपराध और हिंसा की कई घटनाएं पुलिस रिकॉर्ड में दर्ज हुई हैं। उत्तर-पश्चिमी दिल्ली के आदर्श नगर इलाके में भाभी पर अश्लील टिप्पणी करने वाले युवक को दो भाइयों ने बेसबॉल के बैट से पीट-पीटकर अधमरा कर दिया। घटना की सीसीटीवी फुटेज वायरल हुई है, जिसमें दोनों रोहन कुमार को पीट रहे हैं। पुलिस ने रोहन को नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया है। उसकी टांगों में फ्रेक्चर है। पुलिस ने हमलावर भाइयों विक्की और रितिक को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक, तीन-चार दिन पूर्व रोहन ने राजा नामक युवक की पत्नी पर अश्लील टिप्पणी कर दी थी। इसका पता राजा के छोटे भाई विक्की और रितिक को लगा तो वे रोहन की तलाश करने लगे। सोमवार को रोहन गली में मिल गया तो दोनों ने बेसबॉल के बैट से उसे बुरी तरह पीटा। इस दौरान भीड़ ने दोनों को रोकने का प्रयास नहीं किया। बाद में कुछ महिलाओं ने उन्हें रोका। इसके बाद कुछ युवक भी उन्हें पकड़ लेते हैं। 
 
... और पढ़ें

पालम में महिला कांस्टेबल की हत्या, साथ रह रहा युवक फरार

बेसबॉल के बैट से पीट-पीटकर किया अधमरा...
दक्षिण-पश्चिम दिल्ली के पालम इलाके में बुधवार दोपहर महिला सिपाही प्रीति बेनीवाल (23) का शव उसके किराए के कमरे में बिस्तर से बरामद हुआ। कमरे की कुंडी बाहर से लगी थी, जबकि उसके साथ दो दिन से रह रहा युवक फरार है। प्रथम दृष्टया उसकी हत्या गला घोंटकर की गई थी।

पुलिस के मुताबिक, मूल रूप से हरियाणा के रेवाड़ी निवासी प्रीति ने पालम गांव के मकान में चार दिन पूर्व ही कमरा किराए पर लिया था। इसके परिवार में माता-पिता के अलावा एक भाई हैं। वर्ष 2018 में पुलिस में भर्ती होने के बाद प्रीति अकेली ही दिल्ली में रह रही थी। उसकी तैनाती तीसरी बटालियन में थी। 

बटालियन ने उसकी पोस्टिंग तिहाड़ जेल में डीडी एंट्री पर की थी। मंगलवार शाम करीब 7 बजे वह तिहाड़ से कमरे पर लौटी थी। बुधवार सुबह मकान मालिक ने देखा कि प्रीति के कमरे की कुंडी बाहर से लगी है। काफी देर बाद भी प्रीति बाहर नहीं निकली तो उसने दोपहर 12:12 बजे पुलिस को सूचना दे दी। 

पुलिस ने कमरा खोला तो प्रीति का शव बिस्तर पर पड़ा मिला। उसकी जीभ बाहर निकली थी और गले पर भी निशान थे। पड़ोसियों ने पुलिस को बताया कि दो दिन से एक युवक उसके साथ रह रहा था। युवक भी रेवाड़ी का बताया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक, वह फरार होते हुए सीसीटीवी कैमरे में कैद हुआ है।
... और पढ़ें

सबसे सस्ती कोरोना जांच किट लॉन्च, कीमत महज 650 रुपये

आईआईटी दिल्ली के वैज्ञानिकों और युवा शोधार्थियों द्वारा विकसित कोविड-19 की सबसे सस्ती जांच किट कल लॉन्च हो गई। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने ‘कोरोस्योर आरटी-पीसीआर’ किट लॉन्च की। 

आईआईटी दिल्ली कोविड-19 ‘कोरोस्योर आरटी-पीसीआर’ किट तैयार करने वाला पहला शिक्षण संस्थान है। इस किट की कीमत 650 रुपये होगी जबकि अभी तक मार्केट में 4500 रुपये खर्च करने पड़ते हैं। सरकारी लैब या अस्पताल आईसीएमआर के माध्यम से इस किट को प्राप्त कर सकते हैं। जबकि निजी अस्पताल सीधे कंपनी से खरीद सकेंगे। 

आईआईटी के डायरेक्टर प्रो. राव ने कहा कि यह देश में पैमाने और लागत दोनों के संदर्भ में कोविड-19 जांच के प्रतिमान को बदल देगा।  उन्होंने कहा कि भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद और भारतीय दवा महानियंत्रक द्वारा स्वीकृत इस उत्पाद को पेश किया जा रहा है। 
... और पढ़ें

शाबाश आन्या: न कोचिंग, न ट्यूशन, सेल्फ स्टडी के बल पर सभी विषयों में हासिल किया 100 में से 100 अंक

दिल्ली के अर्वाचीन इंटरनेशनल स्कूल की छात्रा आन्या ने 500 में से 500 अंक लाकर परिवार व स्कूल का नाम रोशन कर दिया। सीबीएसई 10वीं बोर्ड के परिणाम घोषित होते ही अपने अंक देखकर उसे यकीन नहीं हुआ कि उसे इतने अंक हासिल हुए हैं। 

वह कॉमर्स में भविष्य बनाना चाहती है और 11वीं में कॉमर्स में दाखिला लिया है। पेशे से सीए माता-पिता की संतान आन्या कहती हैं कि वह सीए भी कर सकती हैं, लेकिन अभी सोचा नहीं है। 

आन्या को फ्रैंच, इंफोर्मेशन टेक्नॉलॉजी, अंग्रेजी, साइंस व हिंदी में 100 में से 100 अंक मिले हैं। उत्तर पूर्वी दिल्ली में दंगों के कारण उनकी अंग्रेजी व हिंदी की परीक्षा नहीं हुई। इस कारण बेस्ट तीन विषयों के अंकों के आधार पर हिंदी व अंग्रेजी में अंक मिले हैं। 

वह कहती हैं कि 95 फीसदी तक अंकों की उम्मीद की थी, लेकिन इतने अंकों के बारे में नहीं सोचा था। आन्या ने सेल्फ स्टडी को अपना हथियार बनाया और किसी प्रकार की कोचिंग नहीं ली। 

सीनियर व स्कूल टीचर्स से जरूरी टिप्स लिए, इसके साथ ही एक लक्ष्य निर्धारित कर पढ़ाई पूरी की। आन्या कहती हैं कि इतने अंक पाकर सेलिब्रेशन करने का दिल है, लेकिन कोरोना के कारण बाहर नहीं जा सकते इसलिए ऑनलाइन ही सेलिब्रेशन होगा।
... और पढ़ें

दिल्ली में कोरोना वायरस के 1647 नए मामले आए सामने, 41 लोगों की मौत

दिल्ली में बुधवार को कोरोना वायरस के 1647 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 41 लोगों की मौत हो गई है। बुधवार को 2463 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया है। इसी के साथ राजधानी में कुल संक्रमितों की संख्या 116993 पहुंच गई है। 

राजधानी में अब तक 95699 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। दिल्ली में कोरोना वायरस से अब तक 3487 लोगों की मौत हो चुकी है। राजधानी में अभी 17807 सक्रिय मामले हैं। 

दिल्ली में अब तक 736436 टेस्ट किए जा चुके हैं। इनमें से 6564 रैपिड एंटीजेन/ट्रुनेट टेस्ट और 15964 रैपिड एंटीजेन टेस्ट आज ही किए गए हैं।

... और पढ़ें

दिल्ली के अन्य अस्पतालों में भी बनेंगे प्लाज्मा बैंक, ठीक हुए मरीजों को दान देने के लिए किया जाएगा प्रेरित

दिल्ली में देश के पहले प्लाज्मा बैंक के बेहतर परिणाम मिलने के बाद अब बाकी अस्पतालों में भी इसे शुरू करने की योजना है। जानकारी के अनुसार प्लाज्मा बैंक के साथ-साथ सरकार अस्पतालों को इस बात का भी जोर दे रही है कि डिस्चार्ज करते वक्त मरीजों को प्लाज्मा दान के बारे में पर्याप्त जानकारी दी जाए। 

साथ ही निगेटिव आने के ठीक 14 से 15 दिन बाद उसे फोन कर याद दिलाया जाए कि उसे प्लाज्मा दान करने के लिए आना है। ऐसा करने से प्लाज्मा दान को न सिर्फ बढ़ावा मिलेगा, बल्कि कोरोना के गंभीर मरीजों को बचाया भी जा सकता है। 

हालांकि कोरोना के उपचार में प्लाज्मा थेरेपी अभी परीक्षण के चरण में है। वैज्ञानिक स्तर पर यह साबित नहीं हो पाया है कि प्लाज्मा देने से मरीज स्वस्थ हो सकता है। 

आईसीएमआर की निगरानी में देश के कई अस्पतालों में इस पर परीक्षण चल रहा है। कोरोना वायरस को हराने के बाद वापस चिकित्सीय सेवाओं में लौटे आरएमएल अस्पताल के डीन डॉ. राजीव सूद का कहना है कि जल्द ही आरएमएल में भी प्लाज्मा थेरेपी शुरू किया जाएगा। 

इसकी अनुमति संस्थान को मिल चुकी है। प्लाज्मा दान की व्यवस्था भी पहले से अस्पताल में मौजूद है। इसे और बढ़ावा देने के लिए नई योजना पर काम शुरू होगा। वहीं, पूर्वी दिल्ली के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल जीटीबी में भी प्लाज्मा थेरेपी और बैंक दोनों पर काम शुरू हो चुका है। यहां प्लाज्मा दान करने के बाद कोविड मरीजों में इसका इस्तेमाल हो सकेगा। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us