विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

क्लैट 2019 : सोशल मीडिया से दूरी बनाकर की तैयारी, पाई 26वीं रैंक, दिए कारगर टिप्स

क्लैट में ऑल इंडिया 26वीं रैंक हासिल करने वाली अदिति सेठ ने सोशल मीडिया से दूरी बनाकर तैयारी की।

16 जून 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

गुजरात

मंगलवार, 22 अक्टूबर 2019

मिसाल: जन्म देते ही मां चल बसी तो मजिस्ट्रेट और डीडीओ ने लिया बच्ची को गोद

गुजरात के आणंद में एक बेहद रोचक मामला सामने आया है। राज्य के आणंद में एक मां बेटी को जन्म देते ही चल बसी। जिसके बाद आणंद के मजिस्ट्रेट और डीडीओ ने नवजात बच्ची को गोद ले लिया। दोनों अधिकारियों ने इंसानियत की मिसाल पेश की है। बच्ची को मजिस्ट्रेट मां और डीडीओ पिता मिल गए है। 

दंपती ने बच्ची का नामकरण भी कर दिया है। उन्होंने गुजरात के मुख्य नदी माही के नाम पर बच्ची का नाम माही रखा है। मामला तीन अगस्त का है। गुजरात में मूसलाधार बारिश हो रही थी। वासद इलाके के स्वास्थय केंद्र में बच्ची को जन्म देने के बाद एक महिला की मौत हो गई। 

घटना की सूचना मिलने के बाद डीडीओ अमित प्रकाश स्वास्थय केंद्र पहुंचे। डीडीओ के साथ उनकी मजिस्ट्रेट पत्नी चित्रा रत्नू भी साथ थीं। नवजात बच्ची की फीडिंग करने के लिए कोई महिला तैयार नहीं थी। बच्ची भूख से रो रही थी। जिसके बाद मजिस्ट्रेट ने बच्ची को फीडिंग करवाई। जिसके बाद उन्होंने मासूम बच्ची को गोद लेने का फैसला किया। 

दंपती का एक बेटा भी है जिसकी उम्र डेढ़ साल है। दरअसल, जिस महिला की मौत हुई, उसकी पहले से ही दो बेटियां हैं। दोनों दंपत्ती ने बच्ची को गोद लेर बेटी बचाओ बेटी पढाओं के नारे के सच कर दिखाया है। 

चित्रा रत्नू और अमित प्रकाश यादव का कहना है कि हमारे घर माही का आगमन लक्ष्मी के रूप में हुआ है। हम माही को अच्छी शिक्षा देकर उसे एक श्रेष्ठ नागरिक बनाएंगे। हमारे माता-पिता ने बेटा-बेटी के बीच कभी भेदभाव नहीं रखा। हमारे भी यही संस्कार हैं। 

माही के जन्म के बाद से चित्रा उसको फीडिंग करा रही हैं। उन्होंन कहा कि जन्म देने वाली ही नहीं, पालने वाली भी मां कहलाती है।

 
... और पढ़ें

वडोदरा में 31 जुलाई से अब तक बचाए गए 35 मगरमच्छ 

गुजरात के वडोदरा शहर और इसके आसपास के क्षेत्रों में पिछले एक पखवाड़े में हुई भारी बारिश के बीच अब तक 35 मगरमच्छ बचाए जा चुके हैं। वडोदरा और इससे लगे इलाको में एक अगस्त की सुबह तक प्रतिदिन करीब 500 मि.मी. बारिश हुई है, जिसकी वजह से बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए। 

उफनती विश्वमित्र नदी का पानी शहर के कई इलाकों में घुस आया, जिसके साथ कई मगरमच्छ भी आ गए। वडोदरा क्षेत्र वन अधिकारी निधि दवे के अनुसार आठ अगस्त तक करीब 22 मगरमच्छ बचाए गए। इसके बाद से शहर के कई इलाकों से कम से कम 13 और मगरमच्छ बचाए जा चुके हैं।

उन्होंने बताया कि वन विभाग के अलावा, वन्यजीव और पशु कल्याण के क्षेत्र में काम करने वाले गैर सरकारी संगठनों के स्वयंसेवक और एनडीआरएफ की टीमें शहर के कुछ हिस्सों से मगरमच्छों को सुरक्षित पकड़ने और बचाने के काम में जुटी हुई हैं। 
... और पढ़ें

गुजरात: स्वतंत्रता दिवस के दिन तिरंगा फहराते समुद्र में उतरेंगी 250 मछली पकड़ने वाली नौकाएं

स्वतंत्रता दिवस के लिए देश भर में तैयारियों का दौर शुरू हो चुका है। इसी को ध्यान में रखते हुए गुजरात के धोलाई बंदरगाह पर जश्न की तैयारी की जा रही है। नवसारी जिले में स्थित धोलाई बंदरगाह से 250 मछली पकड़ने वाले जहाजों में तिरंगा झंडा लगाया जाएगा। 

दरअसल, बंदरगाह पर खड़ी 250 मछली पकड़ने वाली नौकाओं पर तिरंगा लहराया जाएगा जिसके बाद इन नौकाओं में सवार ढाई हजार मछुआरे आजादी के दिन यानी 15 अगस्त को मछली पकड़ने के लिए रवाना होंगे। 

इस बार 15 अगस्त को देश स्वतंत्रता दिवस के साथ रक्षा बंधन का त्यौहार भी मनाएगा। साथ ही इस दिन मछुआरे भी अपना परंपरागत त्यौहार नारियल पूर्णिमा मनाकर समुद्र में उतरेंगे। 

ये मछुआरे अपनी नौकाओं के साथ पोरबंदर, वेरावल, दीव, ओखा, मुबंई और गोवा के समुद्र तक जाते हैं। ये लोग 20 गांवों से 10-12 की संख्या में टुकड़ी बनाकर मछलियां पकड़ने निकलते हैं। 

गौरतलब है कि बारिश के मौसम के शुरू होने पर मछुआरे समुद्र में जाना बंद कर देते हैं। सावन पूर्णिमा के दिन से ये अपना काम शूरू करते हैं। मछुआरे समुद्र में जाने से पहले वरुण देव की पूजा करते हैं और समुद्र में नारियल अर्पित करते हैं। 

मछुआरों द्वारा समुद्र में बाधा से बचने के लिए ऐसा किया जाता है। इसलिए मछुआरे इस दिन को नारियल पूर्णिमा के रूप में मनाते हैं। 
... और पढ़ें

ऑटो वाले ने पांच साल में 257 बार तोड़ा नियम, पुलिस बोली- भरो 76 हजार रुपए का जुर्माना

गुजरात के सूरत में भेस्तान आवास में रहने वाले ऑटो चालक मुशर्रफ शेख को पांच साल में 257 बार ट्रैफिक नियम तोड़ना भारी पड़ रहा है। दरअसल पुलिस ने उस पर 76,375 रुपए का जुर्माना लगाया है। यह जुर्माना मुशर्रफ पर ड्राइवर सीट पर सवारी बैठाकर ऑटो चलाने पर लगाया गया है। ये नियमों का उल्लंघन है और ऐसा किए जाने पर चालान किए जाने का प्रावधान है।

इस नियम को मुशर्रफ पिछले पांच साल में कई बार तोड़ चुका है। मुशर्रफ के नाम का पहला मेमो नौ मार्च 2014 की सुबह 9.03 बजे उधना दरवाजा के पास बना था। लेकिन उसके घर का पता बदल जाने की वजह से उसे यह नहीं मिला।

ऐसे में अब बीते गुरुवार मुशर्रफ को डीसीपी यातायात के दफ्तर में बुलाकर जुर्माने की जानकारी दी गई। वहीं करीब छह महीने पहले मुशर्रफ ने अपना ऑटो मुन्ना नाम के एक दोस्त को 30 हजार रुपए में बेच दिया था और उसके बाद से वह अपने किसी दोस्त का ऑटो चला रहा था।

जब मुशर्रफ को जुर्माने के बारे में पता चला तो उसे मुन्ना से अपना ऑटो वापस लेना पड़ा। मुशर्रफ चार बच्चों का पिता है साथ ही उसका कहना है कि इतना जुर्माना मैं कैसे भरूंगा?

उल्लेखनीय ये है कि मुशर्रफ द्वारा नियमों का ये उल्लंघन नए ट्रैफिक नियमों के लागू होने के बाद चर्चा में आया है लेकिन मामला पांच साल पुराना है। इतने साल तक मुशर्रफ तक मेमो का ही नहीं पहुंच पाना पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़े करता है।               
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

गुजरात में नौवीं की परीक्षा में पूछा सवाल, गांधी जी ने खुदकुशी कैसे की थी

महात्मा गांधी के बारे में एक बेतुके सवाल ने विवाद छेड़ दिया है। यह सवाल था - 'गांधीजी ने आत्महत्या करने के लिए क्या किया था?' यह सवाल गुजरात में गुजराती विषय की परीक्षा दे रहे 9वीं कक्षा के विद्यार्थियों से पूछा गया। सवाल चार अंकों का था।

इतना ही नहीं, यहां 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों को भी परीक्षा में अजीब सवाल दिया गया। उनके प्रश्नपत्र में लिखा था - 'आपके इलाके में शराब बेचने वाले और शराबियों का आतंक बढ़ गया है। इसकी शिकायत करने के लिए जिला पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखें।' यह सवाल पांच अंको का था।

रिपोर्ट के अनुसार, ये दोनों सवाल बीते शनिवार को गांधीनगर स्थित विकास संकुल स्कूल में गुजराती विषय की परीक्षाओं में पूछे गए। अब इन सवालों पर विवाद छिड़ गया है। शराब से संबंधित सवाल के मामले में लोगों का कहना है कि गुजरात में शराबबंदी है। ऐसे में छात्रों से इस तरह के सवाल का क्या मतलब बनता है।
 

क्या कह रहे हैं शिक्षा मंत्री

इस मामले गुजरात के शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूडास्मा से जब सवाल किया गया, तो उनका जवाब था - 'ये गुजरात राज्य शिक्षा बोर्ड का प्रश्नपत्र नहीं है। इन परीक्षाओं के लिए निजी क्षेत्र के लोगों द्वारा प्रश्नपत्र तैयार करवाए जाते हैं। हालांकि इस तरह के सवाल पूछना उचित नहीं है।'
... और पढ़ें

सात डॉक्टरों, 450 इंजीनियरों ने ज्वाइन की चपरासी की नौकरी, दिए ऐसे तर्क

ये खबर चौंकाने वाली जरूर है, लेकिन सच है। हाल में हुए एक नियुक्ति प्रक्रिया में सात डॉक्टरों और करीब 450 इंजीनियरों ने प्यून की नौकरी स्वीकार कर ली है। इतना ही नहीं, कारण पूछे जाने पर अभ्यर्थियों ने अपने-अपने तर्क भी दिए हैं।

अब इसे सरकारी नौकरी के प्रति युवाओं की दीवानगी कहें, या उनके क्षेत्रों में रोजगार की कमी। लेकिन चपरासी सहित वर्ग-4 के पदों पर नौकरी पाने के लिए हजारों की संख्या में डॉक्टरों, इंजीनियरों और स्नातक अभ्यर्थियों ने आवेदन कर डाले। 

30 हजार रुपये मिलेगा वेतन

ये भर्तियां गुजरात उच्च न्यायालय और अधीनस्थ अदालतों में चपरासी सहित वर्ग-4 के कुल 1149 पदों को भरने के लिए निकाली गई थीं। इसके लिए कुल 1,59,278 आवेदन प्राप्त हुए। इनमें से 44,958 स्नातक डिग्री धारक रहे। चयन प्रक्रिया पूरी होने के बाद 7 डॉक्टरों, 450 इंजीनियरों और 543 स्नातकों ने वर्ग-4 की नौकरी स्वीकार की है। इन्हें 30 हजार रुपये वेतन मिलेगा।

नौकरी लेने के ऐसे तर्क

... और पढ़ें

तेज हुआ चक्रवात ‘हिका’, मौसम विभाग ने गुजरात के मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की दी सलाह

गांधी
चक्रवात ‘हिका’ अरब सागर के पश्चिम की ओर बढ़ते हुए बेहद भीषण चक्रवात में तब्दील हो गया है और इसके मंगलवार को ओमान तट पार करने की संभावना है। मौसम विज्ञान विभाग ने यह जानकारी दी।

विभाग ने गुजरात के मछुआरों को मछली पकड़ने के लिए समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी है क्योंकि वहां बुधवार सुबह तक मौसम बेहद खराब रहने की आशंका है।  भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने एक बुलेटिन में बताया कि कि भीषण चक्रवात हिका पिछले छह घंटे से 22 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पश्चिम की ओर बढ़ रहा है और यह उत्तर-पश्चिम तथा निकट के पश्चिम-मध्य अरब सागर की ओर बढ़ते हुए बेहद भीषण चक्रवात में तब्दील हो गया है। 

इसमें कहा गया है कि इसका केन्द्र मंगलवार सुबह तक पाकिस्तान के कराची से 820 किलोमीटर पश्चिम-दक्षिण पश्चिम और ओमान के माशिराह से 220 किलोमीटर पूर्व-दक्षिणपूर्व तथा ओमान के दुक्म से 350 किलोमीटर पूर्व-उत्तर पूर्व की ओर है।

आईएमडी ने कहा कि ऐसी एंभावना है कि अगले छह घंटे तक चक्रवात भीषण बना रहेगा और इसके बाद यह कमजोर होगा।

बयान के अनुसार चक्रवात के पश्चिम-दक्षिण पश्चिम की ओर बढ़ने और मंगलवार रात दुक्म के निकट ओमान तट पार करने की संभावना है। इस दौरान 110 से 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी।

आईएमडी ने कहा कि छह घंटे के दौरान 130-140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं उत्तर-पश्चिम और पश्चिम-मध्य अरब सागर पर छा जाने की संभावना है। इसके बाद हवा की गति धीरे-धीरे कम हो कर 100-110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पर आ जाएगी।
... और पढ़ें

मच्छरों के कारण कई शैक्षणिक संस्थानों पर सरकार ने लगा दिया ताला

मच्छरों के कारण कई शैक्षणिक संस्थानों पर सरकार को ताला लगाना पड़ा है। यह कदम स्वास्थ्य विभाग, अहमदाबाद (गुजरात) नगर निगम द्वारा उठाया गया है। इस संबंध में अब तक नौ शिक्षण संस्थानों को सील कर दिया गया है। जबकि संस्थानों को सरकार द्वारा कुल 297 नोटिस जारी किए जा चुके हैं और करीब 5.13 लाख रुपये के जुर्माने भी लगाए जा चुके हैं।

विभाग ने शहर में मच्छरों के कारण फैल रही बीमारियों के मद्देनजर ये कदम उठाया है। पिछले कुछ दिनों से विभाग की टीम लगातार शहर के अलग-अलग शैक्षणिक संस्थानों का निरीक्षण कर रही है। स्कूलों से लेकर कॉलेजों, विश्वविद्यालयों और कोचिंग संस्थानों तक का निरीक्षण किया जा रहा है। अब तक 979 शैक्षणिक संस्थानों का निरीक्षण हो चुका है, जिनमें से 297 को नोटिस दिए गए और 9 संस्थानों को सील कर दिया गया है। सबसे ज्यादा 107 नोटिस अहमदाबाद के दक्षिणी जोन में दिए गए हैं।

ये भी पढ़ें : 
सेमेस्टर सिस्टम पर साल में दो बार बोर्ड परीक्षा, जानें CBSE ने क्या कहा

जिन संस्थानों को सील किया गया वहां छतों, पानी की खुली टंकियों, गमलों और वॉटर कूलर्स जैसी गंदगी वाली जगहों पर मच्छर पनपते दिखे। निगम का कहना है कि आने वाले हफ्तों में भी निरीक्षण की ये प्रक्रिया जारी रहेगी।

जिन संस्थानों को सील किया गया है, उनमें आरसी हाई स्कूल ऑफ कॉमर्स, हरिओम ट्यूशन क्लासेज, धरती स्कूल, महावीर स्कूल, नारायणी स्कूल, वेद ग्रुप ट्यूशन क्लासेज व अन्य शामिल हैं।

ये भी पढ़ें : CBSE 2020: बोर्ड ने जारी किए 10वीं और 12वीं परीक्षा के सैंपल पेपर्स

जबकि नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन (NID Paldi), आनंद निकेतन स्कूल, सिल्वर ओक कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, निरमा यूनिवर्सिटी, साल कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग समेत अन्य कई संस्थानों पर जुर्माने लगाए गए हैं।

ये भी पढ़ें : CLAT 2020: तैयारी के लिए अपनाएं ये रणनीति, कोचिंग की भी जरूरत नहीं
... और पढ़ें

जिस दुकान पर पीएम मोदी ने बेची थी चाय, उसे बनाया जाएगा पर्यटक स्थल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब भी अपनी जिंदगी के बारे में बात करते हैं तो उसमें वह चाय का जिक्र जरूर करते हैं। साल 2014 के दौरान जब वह प्रधानमंत्री बने तो उन्हें चायवाला प्रधानमंत्री कहा गया। वहीं, बचपन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने गृह नगर वडनगर में रेलवे स्टेशन पर जहां चाय बेचा करते थे, उस चाय की दुकान को पर्यटन मंत्रालय द्वारा पर्यटक स्थल बनाने की योजना की है। 

2014 लोकसभा चुनावों के दौरान कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने तब भाजपा के प्रधानमंत्री उम्मीदवार रहे नरेंद्र मोदी के चाय वाला बोलकर चुटकी ली थी। जिसके बाद भाजपा ने इसे एक बड़ा मुद्दा बनाया था। भाजपा ने इसके बाद चाय पर चर्चा अभियान भी शुरू कर दिया था।  

केंद्रीय पर्यटन मंत्री और संस्कृति मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल ने हाल ही में पीएम के गृहनगर का दौरा किया था। वहां उन्होंने पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उन जगहों की पहचान की जिसे आने वाले समय में विकसित किया जाएगा। साथ ही वह वडनगर रेलवे स्टेशन भी गए। यहां प्लेटफॉर्म वह दुकान अब भी मौजूद है जहां नरेंद्र मोदी चाय बेचा करते थे। खुद प्रधानमंत्री ने कई बार इस बात का जिक्र किया है। 
पर्यटन मंत्री ने इस दुकान को देखा। टीन की बनी इस दुकान का नीचे का हिस्सा जंग लगने के कारण गलने लगा है। इसे बचाने के लिए पटेल ने अधिकारियों से कहा है कि दुकान को शीशे से ढ़क दिया जाए। उन्होंने आदेश दिया है कि उस दुकान का मौजूदा स्वरूप बरकरार रखा जाए। 


 
... और पढ़ें

गुजरात की भाजपा सरकार ने ट्रैफिक जुर्माना किया आधा, केंद्र ने कहा- ऐसा नहीं कर सकते

ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वालों के लिए संशोधित मोटर वाहन एक्ट के अनुसार बढ़ी जुर्माने की रकम में गुजरात सरकार ने मंगलवार को कटौती कर दी। कई जुर्माने को तो लगभग आधा ही घटा दिया गया। आश्चर्य की बात है कि केंद्र में सत्ताधारी भाजपा की ही गुजरात में भी सरकार हैं। 



गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने इसकी घोषणा करते हुए कहा कि नए कानून में बताए गए जुर्माने केंद्र सरकार ने जुर्माने की जो रकम सुझाई थी वह अधिकतम रकम थी। विस्तृत चर्चा के बाद हमारी सरकार ने इनमें कटौती की घोषणा की है।  

उन्होंने बताया कि राज्य सरकार जुर्माने की सेटलमेंट राशि को घटाया है, हमने मोटर व्हीकल के आर्टिकल-200 के तहत अधिकार इस्तेमाल किया है। नए नियम के अनुसार बिना सीट बेल्ट पर चालक पर 1000 के बजाय 500 रुपए, बिना लाइसेंस पर 5000 के बजाय 3000 रुपए तक, बिना आरसी 5000 के बजाय पहली बार 500 और दूसरी बार 1000 रुपए जुर्माना लगेगा।

राज्य द्वारा सुझाए गए नए नियम 16 सितंबर से पूरी तरह लागू हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार जुर्माना घटाकर नियम तोड़ने वालों को बढ़ावा नहीं दे रही है। मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि नया कानून लागू होने से पहले वसूले जा रहे जुर्मानों से ये अब भी 10 गुना ज्यादा है। 

इस मामले पर केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि हमने राज्यों इस बात की जानकारी ली है। अभी तक कोई भी ऐसा राज्य नहीं है, जिसने यह कहा हो कि इस एक्ट को लागू नहीं करेंगे। कोई भी राज्य इस एक्ट से बाहर नहीं जा सकता। मुझे विश्वास है कि लोगों की जान बचाने के लिए सभी राज्य इसे लागू करेंगे। 

बता दें कि सेटलमेंट यानी मौके पर ही मामले का निपटारा को लेकर गुजरात सरकार ने एक्ट नहीं बदला है, बल्कि इसमें सेटलमेंट क्लॉज जोड़ा है। इसके लिए नई राशि तय की गई है। असल में यही राशि वसूली जानी है। 
... और पढ़ें

गुजरात: मंदिर गया पांच साल का मासूम हुआ अगवा, चार दिन बाद कुएं में मिली लाश

गुजरात के राजकोट में चार दिन से अगवा पांच साल के एक बच्चे का शव जिले के एक कुएं में लटका मिला। पुलिस ने इस बात की जानकारी दी। पुलिस के अनुसार, प्रिंस नाकिया मंगलवार रात जिले के थोरियाली गांव में एक मंदिर से लापता हो गया था।

पुलिस निरीक्षक शक्तिसिंह गोहिल ने बताया कि बच्चा अपने दादा के साथ मंदिर गया था। वह मंदिर परिसर में खेल रहा था वहीं उसके दादा मंदिर में हो रहे कार्यक्रम में शामिल हो रहे थे। 

गोहिल ने बताया कि जब प्रिंस के दादा वापस लौटे, तो उन्होंने प्रिंस को गायब पाया। मंदिर के पास लगे सीसीटीवी फुटेज में देखा जा सकता है कि प्रिंस दो लोगों के साथ कहीं जा रहा है। 

घटनाक्रम से परिचित पुलिस अधिकारियों ने कहा कि प्रिंस का शव थोरियाली गांव के एक फार्महाउस में स्थित एक कुएं में लटका हुआ पाया गया, जहां वह अपने परिवार के साथ रहता है।

पुलिस अधिकारियों ने कहा कि प्रिंस के शव को शव परीक्षण के लिए भेज दिया गया है और वे रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं।
... और पढ़ें

गुजरात: सूरत के कपड़ा फैक्ट्री में लगी भीषण आग, दमकल की 18 गाड़ियां आग बुझाने में लगी

गुजरात के सूरत में स्थित एक कपड़ा मिल में शनिवार सुबह आग लग गई। आग लगने से पूरे इलाके में अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया। घटनास्थल पर राहत एवं बचाव का कार्य जारी है। दमकल की गाड़ियां मौके पर पहुंच कर आग बुझाने का प्रयास कर रही है। अभी तक किसी के घायल होने की खबर नहीं मिली है। 


जानकारी के अनुसार, सूरत के पांडसेरा में स्थित एक कपड़ा फैक्ट्री में शनिवार सुबह अज्ञात कारणों से आग लग गई। सूचना के बाद दमकल की 18 गाड़ियों ने मौके पर पहुंचकर आग बुझाने का कार्य शुरू कर दिया है। जानकारी के अनुसार आग लगने की वजह का खुलासा नहीं हुआ है। अभी तक किसी के हताहत होने की सूचना नहीं मिली है। 
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree