विज्ञापन
विज्ञापन
लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

राज्यपाल ने सराहा: लॉकडाउन में जन्मा बाल लेखक, महज 11 साल की उम्र में लिख डाली ‘वन एंड हॉफ ईयर’

जब हम सच्चाई या फिर कल्पना के करीब होते हैं, तब जन्म लेते हैं शब्द। डर-दहशत, खुशी-हंसी, प्रेम-नफरत जैसी संवेदनाएं जब हमें झकझोरती हैं तो सृजन या विध्व...

18 अक्टूबर 2021

Digital Edition

मिशन यूपी: जनता को जो सुविधाएं छत्तीसगढ़ में मिल सकती हैं, वो यूपी में क्यों नहीं- भूपेश बघेल

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की ओर से यूपी विधानसभा चुनाव के लिए वरिष्ठ पर्यवेक्षक नियुक्त किए गए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इन दिनों यहां भी पूरी फॉर्म में हैं। वह कहते हैं कि जब हम छत्तीसगढ़ में बिजली बिल माफ और हाफ कर सकते हैं तो यूपी में यह क्यों नहीं हो सकता है? छत्तीसगढ़ में गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए जरूरतमंदों को 20 लाख रुपये तक की आर्थिक सहायता देते हैं।

यूपी में जनता की समस्याओं के स्थायी समाधान की जरूरत है। इसे कांग्रेस ही सत्ता में आने पर कर सकती है। यूपी का पार्टी पर्यवेक्षक बनाए जाने पर कहते हैं कि माता कौशल्या का मायका छत्तीसगढ़ में होने के कारण दोनों राज्यों के बीच गहरा रिश्ता है। इसलिए उन्हें मिली नई जिम्मेदारी से अचंभित होने की आवश्यकता नहीं है। प्रस्तुत है भूपेश बघेल से ‘अमर उजाला’ की बातचीत के मुख्य अंश:

सवाल : पर्यवेक्षक बनाए जाने के बाद यूपी में आपके कई दौरे हो चुके हैं। आगामी विस चुनाव में कांग्रेस की स्थिति को लेकर क्या आकलन है?
जवाब : कांग्रेस पार्टी ने जनता की समस्याओं के समाधान के लिए अभी तक कुल आठ प्रतिज्ञाओं की घोषणा की है। शीघ्र ही कुछ और प्रतिज्ञाएं भी सामने आएंगी, जोकि हमारे चुनावी घोषणापत्र का हिस्सा हैं। आम मतदाताओं में इसका व्यापक असर देखने को मिल रहा है। हमारी ये प्रतिज्ञाएं यूपी में बदलाव की राजनीति है।

सवाल : यूपी और छत्तीसगढ़ का मिजाज एकदम अलग है। ऐसे में आपको यूपी इलेक्शन का पर्यवेक्षक बनाए जाने के पीछे की क्या मंशा है?
जवाब : यह बात सही है कि हमारे यहां 32 प्रतिशत आबादी अनुसूचित जनजाति से है। जबकि छत्तीसगढ़ में पिछडे़ वर्ग की आबादी 50 प्रतिशत से ज्यादा है। इस लिहाज से दोनों राज्यों की स्थिति में काफी समानता है। वहां के अनुभव, यहां भी काम आएंगे।

सवाल : छत्तीसगढ़ में ऐसे कौन से मुद्दे हैं, जो यूपी में भी कारगर हो सकते हैं?
जवाब : लगातार तीसरे साल हम बिजली बिल या तो माफ कर रहे हैं या हाफ कर रहे हैं। केंद्र सरकार के अड़ंगे के बावजूद किसानों समेत सभी तबकों के लिए विशेष रियायतें देने में सफल हुए हैं। जब छत्तीसगढ़ जैसे राज्य में हम ये सुविधाएं और रियायतें दे सकते हैं, तो यूपी में क्यों नहीं दे सकते हैं। यह सवाल लेकर भी हम जनता के बीच जाएंगे।

सवाल : यूपी में कांग्रेस संगठन की स्थिति दूसरे प्रतिद्वंद्वी दलों के मुकाबले कमजोर मानी जाती है?
जवाब : दो साल में स्थिति बदल चुकी है। न्याय पंचायत स्तर तक हमारे प्रशिक्षण शिविर हो चुके हैं। 15 साल हम छत्तीसगढ़ में विपक्ष में रहे। वहां के संगठन और कार्यकर्ता खड़े करने के अनुभव का यहां भी निश्चय ही लाभ मिलेगा। आज यूपी में न्याय पंचायत और ग्राम पंचायत स्तर तक हमारा संगठन खड़ा हो चुका है।

सवाल : यूपी के वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य के बारे में आपका क्या ख्याल है?
जवाब : भाजपा की योगी सरकार के खिलाफ लोगों में काफी गुस्सा है। किसान अपनी समस्याओं को खुलकर सामने रख रहे हैं। बेरोजगार भी विरोध कर रहे हैं। यूपी सरकार ने बरसों से काम कर रहे कर्मचारियों को नियमित करने का अपना वादा नहीं निभाया। आने वाले चुनाव में जनता कांग्रेस की ओर ही देख रही है।

सवाल : सीएम चेहरे को सामने लाए बिना कैसे सफलता हासिल करेंगे?
जवाब : सीएम चेहरा कौन होगा, यह तो पार्टी हाईकमान ही बता सकता है। मैं इतना कह सकता हूं कि महासचिव प्रियंका गांधी के नेतृत्व में हम जनता के मुद्दों पर लगातार संघर्ष कर रहे हैं। यूपी सरकार ने प्रियंका गांधी को कई दिनों तक हिरासत में रखा, इसके बावजूद न उनके और न ही कार्यकर्ताओं के संघर्ष के जोश में कोई कमी आई है। आम जनता के लिए यही संघर्ष हमें यूपी में सत्ता तक पहुंचाएगा।

सवाल : नेतृत्व के लिहाज से प्रदेश कांग्रेस की क्या स्थिति महसूस करते हैं?
जवाब : यूपी में नेतृत्व की कमी थी। इसकी भरपाई प्रियंका गांधी ने कर दी है। आगे इसके अच्छे नतीजे भी देखने को मिलेंगे। लखीमपुर में प्रियंका के खड़ा होने से कांग्रेस के आंदोलन में युवाओं की लंबी कतार लग गई।

सवाल : सपा-बसपा की चुनौती को किस रूप में लेते हैं?
जवाब : इन वर्षों में सपा या बसपा जमीन पर कहीं आपको संघर्ष करती हुई दिखी? जनता सब समझ रही है कि सपा, बसपा या कांग्रेस में जमीन पर संघर्ष कौन कर रहा है। हाथरस, उन्नाव और सोनभद्र में आम जनता की आवाज बनकर कांग्रेस ही सामने आई। यह अब किसी से छिपा नहीं रह गया है।

सवाल : पर्यवेक्षक के तौर पर यूपी को कितना समय देंगे?
उत्तर : मुझे छत्तीसगढ़ और यूपी में ही रहना है। हर हफ्ते यूपी आऊंगा। सोमवार को कई सामाजिक संगठनों के लोगों से मुलाकात की। यह सिलसिला लगातार चलता रहेगा। मैं यहां सबसे मिलूंगा। कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं से और सामाजिक व कर्मचारी संगठनों के लोगों से भी। 

सवाल : छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की जीत के क्या कारण मानते हैं। क्या ये मुद्दे यूपी में भी प्रभावी होंगे?
जवाब : कार्यकर्ताओं की एकजुटता, किसानों की आवाज बनना और पार्टी नेता राहुल गांधी का मार्गदर्शन हमारी सफलता का आधार बने। राहुल गांधी ने चुनाव के दौरान जो वादे किए जनता ने उन पर पूरा भरोसा किया।
... और पढ़ें

क्रूज ड्रग्स मामला: मुख्य गवाह किरण गोसावी लखनऊ में करेगा समर्पण, मड़ियांव थाने के बाहर पुलिस बल तैनात

क्रूज ड्रग्स मामले के मुख्य गवाह किरण गोसावी को एनसीबी तलाश रही है। अचानक सोमवार को उसके लखनऊ में समर्पण करने की सूचना आई। उसका नाम इस मामले में सबसे पहले तब सामने आया था, जब उसने शाहरूख खान के बेटे आर्यन के साथ अपनी फोटो सोशल मीडिया पर अपलोड की थी। उस समय लोगों को लगा था कि किरण एनसीबी का अधिकारी है लेकिन बाद में एनसीबी के अधिकारियों ने साफ किया कि वह एक निजी जासूस व एक प्लेसमेंट एजेंसी का मालिक है। क्रूज मामले में 10 गवाहों में एक वह भी है। इस सूचना के बाद से कमिश्नरेट में हड़कंप मच गया। वहीं देर रात तक मड़ियांव पुलिस अलर्ट पर रही। रात में थाने के गेट पर पुलिस मुस्तैद कर दी गई थी।

सूत्रों के मुताबिक, एनसीबी मुंबई को मुख्यालय ने निर्देश दिया है कि मामले के गवाह किरण गोसावी को तलब किया जाए जिससे जांच जल्द पूरी हो सके। ऐसे में एनसीबी उसकी तलाश कर रही है। किरण गोसावी पर युवकों को विदेश में नौकरी दिलाने को लेकर लाखों की ठगी के मामले में महाराष्ट्र की केलवा पुलिस ने केस दर्ज किया है। इस केस के बाद गोसावी के खिलाफ महाराष्ट्र में धोखाधड़ी एवं अन्य आरोप में दर्ज मामलों की संख्या चार हो गई। इस संबंध में एसीपी अलीगंज अखिलेश कुमार सिंह ने बताया कि सिर्फ सूचना है। लेकिन उसके खिलाफ न तो मड़ियांव थाने में कोई मुकदमा दर्ज है और न ही कोई लखनऊ के केस से जुड़ा वारंट जारी है। ऐसे में वह मड़ियांव थाने में किस आधार पर समर्पण करेगा। यह समझ से परे है। हालांकि इस सूचना को लखनऊ कमिश्नरेट ने गंभीरता से लिया है। प्रभारी निरीक्षक मड़ियांव मनोज सिंह को सतर्क कर दिया गया है।

किरण गोसावी के मड़ियांव थाने में समर्पण की सूचना पर राजधानी में हड़कंप मच गया। पुलिस के अधिकारियों ने संबंधित क्षेत्र के एसीपी व निरीक्षक को अलर्ट कर दिया। देर रात तक थाने के बाहर व अंदर पुलिस बल तैनात कर दिया गया था। देर शाम 8 बजे के बाद से मड़ियांव थाने के बाहर मीडिया का जमावड़ा लग गया। इस पर पुलिस अधिकारी भी सतर्क हो गए। वहीं प्रभारी निरीक्षक मनोज कुमार सिंह अपनी टीम के साथ थाने के गेट पर मुस्तैद थे। हालांकि देर रात करीब 11 बजे तक किरण गोसावी का कोई पता नहीं चला। फिर भी पुलिस अलर्ट पर ही रही।

हेलो मैं किरण गोसावी बोल रहा हूं...
हेलो मड़ियांव पुलिस चौकी से बोल रहे हैं। सर, आप चौकी पर अभी हो? सर, वहां पर आना था। मैं किरण गोसावी बोल रहा हूं, मुझे सरेंडर करना है। पुलिसकर्मी ने पूछा क्यूं सरेंडर करना है? तो उधर से आवाज आई नजदीकी पुलिस स्टेशन है। इतनी बात सुनने केबाद पुलिसकर्मी ने थाने आने से मना कर दिया। यह ऑडियो देर शाम सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसमें किरण गोसावी बनकर किसी ने बात की। उसने मड़ियांव थाने के फोन नंबर पर बात करने की बात कही। हालांकि इस बातचीत के बारे में पुलिस पुष्टि नहीं कर रही है।
 
... और पढ़ें

यूपी चुनाव: अमित शाह 29 को लखनऊ से करेंगे सदस्यता अभियान का आगाज, करेंगे तैयारियों की समीक्षा

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 29 अक्तूबर को लखनऊ से भाजपा के सदस्यता अभियान का आगाज करेंगे। शाह आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह, महामंत्री संगठन सुनील बंसल के साथ सरकार और संगठन की बैठक भी लेंगे। भाजपा ने शाह के लखनऊ प्रवास की तैयारियां शुरू कर दी हैं।

प्रदेश में भाजपा के 2.30 करोड़ सदस्य हैं। पार्टी ने सदस्यता अभियान के जरिये 1.70 करोड़ नए सदस्य बनाकर प्रदेश में पार्टी के चार करोड़ सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा है। पार्टी नेताओं का मानना है कि प्रदेश में चार करोड़ नए सदस्य बनने से विधानसभा चुनाव में 50 प्रतिशत वोट हासिल करने की राह आसान होगी। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में पांच से 10 हजार नए सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा गया है।

भाजपा नेताओं के अनुसार, विधायकों को सदस्यता के लिए 10-10 शिविर लगाने, फॉर्म और मिस्ड कॉल के जरिये सदस्य बनाने के निर्देश दिए गए हैं। एक अनुमान के मुताबिक विधानसभा चुनाव में प्रदेश में 1.74 लाख बूथ बनाए जाएंगे। पार्टी ने प्रत्येक बूथ पर 100 नए सदस्य बनाने की रणनीति तैयार की है। नए सदस्यों में केंद्र व प्रदेश सरकार की योजनाओं के लाभार्थियों को भी शामिल किया जाएगा। 
... और पढ़ें

यूपी : कोविड प्रोटोकाल उल्लंघन के तीन लाख मुकदमें वापस लेने का फैसला, माननीयों के खिलाफ दर्ज मुकदमे वापस नहीं

प्रदेश सरकार ने कोरोना महामारी के दौरान कोविड प्रोटोकाल व लॉक डाउन उल्लंघन से जुड़े तीन लाख से अधिक दर्ज मुकदमे वापस लेने का फैसला किया है। हालांकि, वर्तमान व भूतपूर्व सांसदों, विधायकों व विधान परिषद सदस्यों के खिलाफ दर्ज मुकदमे वापस नहीं होंगे। विधि एवं न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा है कि योगी सरकार के इस निर्णय से सामान्य नागरिकों को अनावश्यक अदालती कार्यवाही व फौजदारी प्रक्रिया की कार्यवाही से बड़ी राहत मिलेगी।

विधि एवं न्याय मंत्री ने पिछले दिनों कोविड प्रोटोकाल उल्लंघन के तहत दर्ज मुकदमे वापस लिए जाने का एलान किया था। प्रमुख सचिव न्याय प्रमोद कुमार श्रीवास्तव ने मंगलवार को इस संबंध में विस्तृत दिशानिर्देश जारी कर दिए हैं। शासन ने अपर पुलिस महानिदेशक कानून-व्यवस्था व अपर महानिदेशक अभियोजन आदि से इस संबंध में सूचना प्राप्त की। बताया गया कि आपदा प्रबंध अधिनियम-2005, महामारी अधिनियम-1897 तथा भारतीय दंड संहिता की धारा-188, 269,270, 271 व इससे संबद्ध अन्य कम गंभीर अपराध की धाराओं से संबंधित पूरे प्रदेश में तीन लाख से अधिक अभियोग दर्ज किए गए हैं।

शासन ने इन तीन लाख मुकदमों में से, जिनमें आरोप पत्र न्यायालय में दाखिल हो गए हैं, उन्हें वापस लिए जाने की अनुमति दे दी है। इसके अंतर्गत अधिकतम दो वर्ष तक की सजा तथा जुर्माने के प्राविधान से संबंधित पूरे प्रदेश में दर्ज मुकदमों को वापस लेने के लिए लोक अभियोजक को न्यायालय में प्रार्थना पत्र प्रस्तुत करने की अनुमति दी गई है। प्रमुख सचिव न्याय ने प्रदेश के समस्त जिलाधिकारियों को दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा-321 के प्रावधानों पर अमल करते हुए आवश्यक कार्यवाही कराने का निर्देश दिया है।

केंद्र की सलाह पर वापस हुए मुकदमे
विधि एवं न्याय मंत्री ने बताया कि कोविड-19 महामारी से पूरे देश में उत्पन्न अभूतपूर्व स्थिति से निपटने के लिए केंद्र व राज्य सरकारों ने आपदा प्रबंध अधिनियम-2005, महामारी अधिनियम-1897 तथा भारतीय दंड संहिता-1860 आदि के प्रावधानों को लागू किया था। इसके अलावा केंद्र सरकार द्वारा जारी अन्य दिशानिर्देशों के प्रभावी क्रियान्वयन से स्थिति नियंत्रण में आई। मंत्री ने बताया कि केंद्र सरकार ने राज्यों को सलाह दी है कि कोविड-19 प्रोटोकाल के उल्लंघन की वजह से दर्ज आपराधिक मामलों की उपयुक्त समीक्षा कर वापस लेने पर विचार किया जाए।

इससे सामान्य नागरिकों को अनावश्यक अदालती कार्यवाही से बचाने व न्यायालयों में लंबित फौजदारी मामलों को रोकने में मदद मिलेगी। उन्होंने बताया कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने भी इस संबंध में आठ अक्तूबर को पारित आदेश में दिशानिर्देश जारी किए हैं। प्रदेश सरकार ने इन सुझावों व आदेशों पर अमल करते हुए यह निर्णय लिया है।
... और पढ़ें
विधि एवं न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक विधि एवं न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक

लखनऊ : जियो के डीजीएम के सुसाइड के मामले में पत्नी गिरफ्तार, पिता की तहरीर पर दर्ज हुआ था खुदकुशी के लिए उकसाने का मुकदमा

लखनऊ के सुशांत गोल्फ सिटी के नंदिनी एन्क्लेव निवासी व रिलायंस जियो के डीजीएम अभिषेक शुक्ला (39) ने सोमवार सुबह खुद को गोली से उड़ा लिया। इस मामले में देर रात को डीजीएम के पिता रामजी शुक्ला ने पत्नी कुमुद सहित चार लोगों को खुदकुशी के  लिए उकसाने का मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने मुकदमा दर्ज करने के  बाद आरोपियों की तलाश शुरू की। मंगलवार सुबह पोस्टमार्टम हाउस पहुंची पत्नी कुमुद को गिरफ्तार कर लिया। वहीं तीन अन्य आरोपियों की तलाश शुरू हो गई है। पुलिस ने मौके से मिले पिस्तौल, मोबाइल, सुसाइड नोट व अन्य दस्तावेज जांच के लिए प्रयोगशाला भेजा दिया है। जल्द ही इसकी रिपोर्ट आएगी। जिसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

प्रभारी निरीक्षक सुशांत गोल्फ सिटी विजयेंद्र सिंह के मुताबिक मूलरूप से गोरखपुर के कूड़ाघाट स्थित गोरक्ष कॉलोनी निवासी अभिषेक शुक्ल रिलायंस जियो में डीजीएम थे। वह गोरखपुर विश्वविद्यालय की छात्र राजनीति से लंबे समय तक जुड़े रहे। अभिषेक शुक्ला नंदिनी एन्क्लेव 501 में परिवार सहित रहते थे। परिवार में पत्नी व बच्चे हैं। पुलिस के मुताबिक अभिषेक भाजपा से लंबे समय से जुड़े थे। रविवार देर रात को वह अपने फ्लैट में गोरखपुर के कूड़ाघाट निवासी पवन पांडेय के साथ मौजूद था। दोनों ने देर रात तक आपस में बातचीत की। इस दौरान अभिषेक लगातार सिगरेट पी रहा था। जिससे पवन को दिक्कत होने लगी। इस कारण वह दूसरे कमरे में जाकर सो गया। सुबह उसकी आंख गोली चलने की आवाज थी नहीं सुनाई दी। जब अभिषेक के रिश्तेदार ऋषि ने कॉल किया तो उसकी आंख खुल।

ऋषि ने बताया कि अभिषेक को काफी देर से कॉल कर रहे लेकिन उठा नहीं रहे है। जब वह अभिषेक को जगाने के लिए उसके कमरे की तरफ बढ़ा तो ड्राइंग रूम में उसका शव कुर्सी पर पड़ा मिला। पास में लाइसेंसी पिस्तौल, मोबाइल पड़ा था। पवन ने ही पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस ने अभिषेक के पास से सात पन्ने का सुसाइड नोट बरामद किया। जिसमें उसने खुदकुशी के लिए पत्नी कुमुद, उसके रिश्तेदार अपूर्व सिंह उर्फ शुभम, कशिश उर्फ बिल्लो और शुभम के दोस्त सुगंध श्रीवास्तव को दोषी ठहराया। सुसाइड नोट को अभिषेक ने खुदकुशी के पहले अपनी मां मनोरमा शुक्ला के व्हाट्सएप पर भेजा था। जिसके आधार पर देर रात को पिता रामजी शुक्ला ने तहरीर दी। जिस पर पुलिस ने चारों के खिलाफ खुदकुशी के लिए उकसाने का मुकदमा दर्ज कर पड़ताल शुरू कर दी।

हैंडराइटिंग एक्सपर्ट की रिपोर्ट पर होगी कार्रवाई
रिलायंस के डीजीएम अभिषेक शुक्ला की खुदकुशी के मामले में पुलिस ने मौके से एक सात पन्ने का सुसाइड नोट बरामद किया है। जिसमें उसने अपने दस साल की वैवाहिक जीवन का पूरा दर्द लिखा था। उसमें पत्नी, उसके बहन के बेटे, रिश्तेदार व उसके दोस्तों द्वारा किये गये करतूतों की पूरी जानकारी सुसाइड नोट में लिख दी। पुलिस ने सुसाइड नोट अभिषेक शुक्ला द्वारा लिखा गया है। इसकी पड़ताल शुरू कर दी है। इसके लिए घर से अभिषेक के हैंडराइटिंग में कई अन्य दस्तावेज भी बरामद किये है। जिनकों हैंडराइटिंग एक्सपर्ट को जांच के लिए भेजा है। वहीं पिस्तौल भी बैलेस्टिक जांच के लिए गई है। साथ ही मोबाइल की भी पड़ताल की जाएगी।

पिता ने लगाया आरोप, खत्म करवा दिया था सारे रिश्ते
राम शुक्ला ने बताया कि अभिषेक ने 2010 में प्रेम विवाह किया। इसके बाद उसकी पत्नी कुमुद उसे लेकर लखनऊ आ गई। यहीं रहने लगी। कुमुद ने अभिषेक का परिवारीजनों से सारे रिश्ते खत्म करवा दिये। अभिषेक पत्नी से छिपकर माता-पिता से बातें करता था। इसकी जानकारी होने पर कुमुद उससे विवाद करती थी। अभिषेक खुद रिलायंस में डीजीएम के  पद पर तैनात था। वहीं पत्नी के नाम से एयरटेल के टावर का काम लेता था। इसके लिए एक फर्म बना रखी थी। जिसमें कुमुद ने अपने बहन के बेटे अपूर्व सिंह उर्फ शुभम को भी शामिल कर लिया था। कुमुद और अपूर्व की हरकतों से अभिषेक बहुत परेशान रहता था। उसने दोनों को आदतें सुधारने के लिए कहा तो कुमुद ने उसे ही खुदकुशी करने के लिए कह दिया। इसकी जानकारी होने पर अभिषेक को कई बार समझाया। कुमुद व उसके बहन के बेटे अपूर्व उर्फ शुभम, बेटी कशिश उर्फ बिल्लो और शुभम के दोस्त सुगंध श्रीवास्तव की प्रताड़ना से तंग आकर सोमवार को अभिषेक ने खुदकुशी कर ली। इसके पहले उसने सात पन्ने का सुसाइड नोट अपनी मां के नंबर पर भेजा था।
... और पढ़ें

वीडियो वायरल : स्काई हिल्टन के सामने युवती की पिटाई, यौन शोषण के आरोपी पर महिला मित्रों से हमला कराने का आरोप

लखनऊ में आशियाना इलाके में होटल स्काई हिल्टन के सामने सोमवार देर रात सहेली संग कार से जा रही युवती को दो अन्य युवतियों ने रोक लिया। फिर एक युवती को कार से उतारकर गंभीर आरोप लगाते हुए उसकी जमकर पिटाई कर दी। भीड़ जुटने पर किसी तरह मामला शांत हुआ। पता चला कि जिस युवती को कार से उतारकर पीटा गया, वो शादी का झांसा देकर यौन शोषण की रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए कई दिन से आशियाना कोतवाली के चक्कर काट रही थी। आरोप है कि यौन शोषण के आरोपी ने ही अपनी महिला मित्रों को भेजकर उसकी पिटाई करा दी। मामले में कार्रवाई नहीं होने से क्षुब्ध पीड़िता ने मंगलवार को आशियाना कोतवाली में जमकर हंगामा किया। जिसके बाद पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर छानबीन शुरू की है।

इंटरनेट मीडिया पर मंगलवार को एक वीडियो वायरल हुआ। आशियाना इलाके के होटल स्काई हिल्टन के सामने का ये वीडियो सोमवार देर रात का है। इसमें दो युवतियां टाटा नैनो कार से एक युवती को खींचती दिखीं। फिर एक युवती ने कार से उतारकर युवती की पिटाई शुरू कर दी। वीडियो में वह अश्लील क्लिप बनाने व ब्लैकमेलिंग के आरोप लगाने के साथ ही लगातार गालियां दे रही है। राहगीरों ने किसी तरह बीचबचाव कराया। इसी बीच हमलावर युवती ने उसे दोबारा पीटना शुरू कर दिया। इस पर राहगीरों ने किसी तरह उसे बचाया।

वीडियो की छानबीन में पता चला कि जिस युवती को पीटा गया वो एलडीए कॉलोनी, कानपुर रोड की रहने वाली है। पीड़िता के मुताबिक 15 दिन पहले उसने आशियाना कोतवाली में चिनहट के स्प्रिंग ग्रीन अपार्टमेंट निवासी रॉबिन कुमार के खिलाफ तहरीर दी थी। इसमें बताया था कि इवेंट मैनेजमेंट का काम करने वाले रॉबिन से पांच साल पहले एक प्रोग्राम में मुलाकात के बाद दोस्ती हो गई थी। फिर रॉबिन ने शादी का झांसा देकर पांच साल तक उसका यौन शोषण किया। रॉबिन के पहले से शादीशुदा होने का पता चला तो उसने पिटाई करके भगा दिया।

पीड़िता का आरोप है कि आशियाना पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज करने के बजाय दबाव बनाकर जबरन समझौता पत्र लिखवा लिया। इससे विपक्षी के हौसले बढ़ गए और सोमवार रात जब वह खाना लेने स्काई हिल्टन होटल गई थी। तभी रॉबिन ने अपनी महिला मित्रों से उसकी पिटाई करा दी। मंगलवार को पीड़िता आशियाना कोतवाली पहुंची और रिपोर्ट दर्ज करने की मांग को लेकर हंगामा करने लगी। युवती ने आशियाना क्षेत्र के ही एक चौकी प्रभारी पर विपक्षी से रिश्वत लेकर समझौता करने का दबाव बनाने का भी आरोप लगाया।

इंस्पेक्टर धीरज कुमार शुक्ल का कहना है कि युवती की तहरीर पर छानबीन के बाद मंगलवार को आरोपी रॉबिन और उसकी महिला मित्र के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है। रिपोर्ट दर्ज करने के लिए न तो पीड़िता को टरकाया गया और न ही पुलिस ने समझौते का दबाव बनाया। आरोप बेबुनियाद हैं। इंस्पेक्टर का कहना है कि युवती व आरोपी के बीच पहले दोस्ती थी, फिर विवाद हो गया। इस पर दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर आरोप लगाए हैं। छानबीन कर कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

यूपी : 29 इंस्पेक्टर और 185 सब इंस्पेक्टर के हुए तबादले, तबादलों के लिए 35 पीपीएस अफसरों की सूची भी तैयार

प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए तबादलों का दौर शुरू हो गया है। मंगलवार को 29 इंस्पेक्टर और 185 सब इंस्पेक्टरों के तबादले किए गए। डीजीपी मुख्यालय ने इस बाबत आदेश जारी कर दिया है। उधर, तबादले के लिए 35 पीपीएस अधिकारियों सूची भी तैयार है।

नोएडा पुलिस कमिश्नरेट को 10 इंस्पेक्टर, लखनऊ पुलिस कमिश्नरेट को चार इंस्पेक्टर, वाराणसी कमिश्नरेट को तीन इंस्पेक्टर, कानपुर पुलिस कमिश्नरेट को दो इंस्पेक्टर दिए गए हैं। इसके अलावा आगरा जोन को तीन, प्रयागराज व मेरठ जोन को दो-दो, गोरखपुर और बरेली जोन को एक-एक इंस्पेक्टर दिए गए हैं। एक इंस्पेक्टर को यूपीपीसीएल भेजा गया है। बताया जा रहा है कि अभी कम से कम 150 और इंस्पेक्टर के तबादले किए जाएंगे।

सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर गठित समिति ने पुलिस उपाधीक्षक और अपर पुलिस अधीक्षक समेत 35 पीपीएस अधिकारियों को चिह्नित किया है, जो एक ही स्थान पर तीन साल या उससे अधिक समय से तैनात हैं। इनमें पीएसी बटालियन में तैनात अधिकारी भी शामिल हैं। अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार का कहना है कि चुनाव आयोग के निर्देशानुसार पुलिस अधिकारियों के तबादलों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। जल्द ही चिह्नित अफसरों का स्थानांतरण किया जाएगा।
... और पढ़ें

Top News of UP: केजरीवाल का बड़ा एलान, अयोध्या की मुफ्त यात्रा करेंगे दिल्ली वासी, प्रदेश के 75 जिलों में सिर्फ 5 नए कोरोना संक्रमित

ट्रांसफर(सांकेतिक)
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को अयोध्या में रामलला के दर्शन किए साथ ही एलान किया कि अब दिल्लीवासी अयोध्या की मुफ्त यात्रा कर सकेंगे। वहीं, उनकी इस यात्रा पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तंज किया कि जो लोग भगवान श्रीराम के अस्तित्व पर सवाल उठा रहे थे वो अब चुनाव के समय रामलला का दर्शन करने आ रहे हैं। यहां पढ़ें पूरी खबर

केजरीवाल का पलटवार: कहा- योगी जी, दिल्ली के लोग फ्री अयोध्या की यात्रा करेंगे, आपको आपत्ति क्यों

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को अयोध्या में रामलला के दर्शन किए और घोषणा की है कि दिल्ली सरकार दिल्ली की जनता को अयोध्या तीर्थ की यात्रा फ्री कराएगी। दरअसल, एक सम्मेलन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि जिन लोगों ने पहले भगवान श्रीराम के अस्तित्व को नकार दिया था वो भी अब अयोध्या आ रहे हैं। इन लोगों से दिल्ली तो संभलता नहीं यूपी में फ्री-फ्री कर रहे हैं।
पढ़ें पूरी खबर

75 जिलों में सिर्फ 5 नए कोरोना संक्रमित मिले, मुख्यमंत्री योगी बोले- प्रदेश में कोरोना पूरी तरह नियंत्रित
उत्तर प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण न्यूनतम स्थिति में है। विगत 24 घंटे में हुई एक लाख  48 हजार 946 सैम्पल की टेस्टिंग में लखनऊ, कानपुर नगर और जालौन जिलों को छोड़ शेष किसी भी जिले में एक भी नया केस नहीं पाया गया। इसी अवधि में 07 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए। पढ़ें पूरी खबर

दिल्ली के सीएम ने हनुमानगढ़ी मंदिर में की पूजा-अर्चना, बोले- हर किसी को मिले ये सौभाग्य
आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार की सुबह अयोध्या के हनुमानगढ़ी मंदिर में पूजा की। इसके बाद सीएम केजरीवाल ने राम जन्मभूमि में भगवान राम की पूजा-अर्चना की। पढ़ें पूरी खबर

यूपी में सियासी सरगर्मियां बढ़ीं: पुलिस ने कसी कमर, प्रदेश को चार जोन में बांटकर की जा रही तैयारी
उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी बढ़ गई है। नेताओं के दौरे व रथ यात्राएं शुरू हो चुकी हैं। अगले महीने से रैलियों व सम्मेलनों का दौर शुरू होगा। इसे देखते हुए पुलिस ने कमर कस ली है। बड़े चुनावी कार्यक्रमों के दौरान सुरक्षा-व्यवस्था कायम रखने के लिए प्रदेश को चार जोन में बांटा गया है। पढ़ें पूरी खबर

दो एयरपोर्ट पूर्वी यूपी के विकास को देंगे डबल उड़ान, गोरखपुर-कुशीनगर से हवाई सेवा पूर्वांचल के लिए बड़ी सौगात
कभी पिछड़े इलाके में शुमार रहे पूर्वांचल में बमुश्किल 50 किमी के फासले पर सात साल के अंदर दो-दो हवाई अड्डे आने से घरेलू और अंतरराष्ट्रीय हवाई सेवा की सौगात पूर्वी उत्तर प्रदेश के लिए किसी सपने के साकार होने से कम नहीं है। दोनों हवाई अड्डे विकास को नई उड़ान तो देंगे ही, साथ ही खराब मौसम में एक-दूसरे का विकल्प भी बनेंगे। पढ़ें पूरी खबर
... और पढ़ें

यूपी: मुख्यमंत्री योगी बोले- अखिलेश के 'मैं आ रहा हूं' का मतलब अराजकता और गुंडागर्दी को प्रोत्साहन देना है

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सपा प्रमुख अखिलेश यादव के ‘मैं आ रहा हूं’ का मतलब प्रदेश में फिर लूटपाट, अपहरण, अव्यवस्था, अराजकता और दंगाइयों को प्रोत्साहन देना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि लेकिन अब यह संभव नहीं है क्योंकि प्रदेश अब बदल चुका है। भाजपा के सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन में मंगलवार को लोधी समाज के लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कांग्रेस, सपा, बसपा और आम आदमी पार्टी पर जमकर हमला बोला। मुख्यमंत्री ने कहा कि 2017 से पहले रोजा इफ्तार के सरकारी आयोजन के लिए होड़ लगती थी लेकिन अब प्रदेश सरकार ने साफ कह दिया है कि यदि धर्मनिरपेक्ष व्यवस्था है तो सभी केलिए समान है। उन्होंने कहा कि 2017 से पहले भारतीय आस्था को कैद किया जाता था, बहुसंख्यक वर्ग के पर्व और त्योंहार पर दंगे कराकर कर्फ्यू लगाया जाता था।

इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित सम्मेलन में मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ दिन पहले औरेया में सपा का एक विज्ञापन जारी हुआ ‘मैं आ रहा हूं’ उसके बाद वहां सपा के एक नेता ने आठ लोगों का अपहरण कर लिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि 2017 में भाजपा सरकार बनते ही किसानों का कर्ज माफ किया गया और बहन-बेटियों की सुरक्षा के लिए एंटी रोमियो स्क्वायर्ड का गठन किया गया। वहीं 2012 में सपा सरकार बनते ही अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर आतंकी हमले की साजिश के आरोपी आतंकी का मुकदमा वापस लिया गया था। सम्मेलन में सांसद राजबीर सिंह, सांसद मुकेश राजपूत, नरेंद्र कश्यप, विपिन वर्मा डेविड, विमलेश वर्मा मौजूद थे।




पहले यूपी बिहार वालों को भगाया अब यूपी की याद आ रही है
मुख्यमंत्री ने आम आदमी पार्टी का नाम लिए बिना कहा कि एक दिल्ली वाले हैं जिन्होंने कोरोना के समय दिल्ली से सबसे पहले यूपी और बिहार के लोगों को बाहर निकाला था। उन्होंने कहा कि अब वही लोग यूपी विधानसभा चुनाव आते ही यहां दौरे कर रहे है। उन्होंने कहा कि भगवान राम को गाली देने वाले लोग अब अयोध्या में रामलला के दर्शन करने पहुंच रहे है। उन्होंने कहा कि जिनसे एक छोटा सा दिल्ली नहीं संभला वे देश के सबसे बड़े प्रदेश की बात कर रहे है।
... और पढ़ें

यूपी: 75 जिलों में सिर्फ 5 नए कोरोना संक्रमित मिले, मुख्यमंत्री योगी बोले- प्रदेश में कोरोना पूरी तरह नियंत्रित

उत्तर प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण न्यूनतम स्थिति में है। विगत 24 घंटे में हुई एक लाख  48 हजार 946 सैम्पल की टेस्टिंग में लखनऊ, कानपुर नगर और जालौन जिलों को छोड़ शेष किसी भी जिले में एक भी नया केस नहीं पाया गया। इसी अवधि में 07 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए।

75 जिलों में मात्र 5 संक्रमित मिलना कोविड पर प्रभावी नियंत्रण की पुष्टि करता है। वर्तमान में एक्टिव कोविड केस की संख्या 94 रह गई है, जबकि 16 लाख 87 हजार 108 प्रदेशवासी कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर स्वस्थ हो चुके हैं। 42 जिलों में एक भी कोरोना संक्रमित नहीं है। स्थिति संतोषजनक है। त्योहारों के दृष्टिगत सतर्कता-सावधानी बनाए रखी जाए। ये बातें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को टीम 9 की बैठक में अपने संबोधन में कही। इस दौरान उन्होंने अफसरों को निर्देश भी दिए।

उन्होंने कहा कि एग्रेसिव ट्रेसिंग, टेस्टिंग और त्वरित ट्रीटमेंट के साथ-साथ तेज टीकाकरण की रणनीति कोविड से बचाव में अत्यंत कारगर रही है। प्रदेश में अब तक 12 करोड़ 67 लाख से अधिक कोविड वैक्सीन डोज लगाए जा चुके हैं। हमारे 03 करोड़ से अधिक प्रदेशवासी टीके की दोनों खुराक प्राप्त कर चुके हैं। जबकि 09 करोड़ 65 लाख से अधिक लोगों (पात्र आबादी का 65.46%) ने कम से कम एक डोज लगवा ली है। दूसरी डोज के लिए क्लस्टर मॉडल के आधार पर तेजी से टीकाकरण किया जाए।

भविष्य की आवश्यकताओं के दृष्टिगत प्रदेश में ऑक्सीजन प्लांट स्थापना अभियान स्वरूप में की जा रही है। अब तक स्वीकृत 548 में से 507 प्लांट्स क्रियाशील हो चुके हैं। इन प्लांट्स के संचालन के लिए हर केंद्र पर न्यूनतम तीन प्रशिक्षित युवाओं की तैनाती की जाए। स्थानीय स्तर पर पैरामेडिक्स व अन्य स्वास्थ्य कर्मियों का भी व्यवहारिक प्रशिक्षण कराया जाए।
... और पढ़ें

केजरीवाल का पलटवार: कहा- योगी जी, दिल्ली के लोग फ्री अयोध्या की यात्रा करेंगे, आपको आपत्ति क्यों

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को अयोध्या में रामलला के दर्शन किए और घोषणा की है कि दिल्ली सरकार दिल्ली की जनता को अयोध्या तीर्थ की यात्रा फ्री कराएगी। दरअसल, एक सम्मेलन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि जिन लोगों ने पहले भगवान श्रीराम के अस्तित्व को नकार दिया था वो भी अब अयोध्या आ रहे हैं। इन लोगों से दिल्ली तो संभलता नहीं यूपी में फ्री-फ्री कर रहे हैं।

जिस पर पलटवार करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया कि योगी जी, दिल्ली मतलब सबको मुफ्त दवाई, बेहतर शिक्षा, बेटियों की सुरक्षा और बुजुर्गों का सम्मान है।

आज (मंगलवार को) मैंने एलान किया कि दिल्ली के लोगों को कल से अयोध्या तीर्थ यात्रा फ्री कराएंगे फिर इसे यूपी में भी लागू करेंगे। इस योजना से करोड़ों जनता प्रभु के दर्शन कर पाएगी। योगीजी, इसमें आपको आपत्ति क्यों है?

मुख्यमंत्री योगी ने केजरीवाल की अयोध्या यात्रा पर बयान दिया था कि केजरीवाल से दिल्ली संभलती नहीं और यूपी में फ्री-फ्री की बात करते हैं। कोरोना काल में इन लोगों ने ही यूपी के लोगों को दिल्ली से निकाल दिया था और अब चुनाव आए हैं तो फ्री-फ्री के वादे कर रहे हैं।

अरविंद केजरीवाल ने रामलला के दर्शन करने के बाद कहा, आज मुझे रामजन्म भूमि में रामचन्द्र जी के दर्शन का सौभाग्य मिला। कल सरयू आरती की थी। आज हनुमान बाबा के भी दर्शन किए। मैं भगवान से अपने देश की खुशहाली की प्रार्थना करता हूं। हमारे देश से कोरोना खत्म हो और का विकास हो। मैं चाहता हूं ये सौभाग्य हर भारतवासी को मौका मिले सब लोग यहां आएं और प्रभु के दर्शन करें।
... और पढ़ें

रामलला के दर पर केजरीवाल: दिल्ली के सीएम ने हनुमानगढ़ी मंदिर में की पूजा-अर्चना, बोले- हर किसी को मिले ये सौभाग्य

आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार की सुबह अयोध्या के हनुमानगढ़ी मंदिर में पूजा की। इसके बाद सीएम केजरीवाल ने राम जन्मभूमि में भगवान राम की पूजा-अर्चना की।

दर्शन करने के बाद केजरीवाल ने कहा कि आज मुझे भगवान के दर्शन करने का सौभाग्य मिला। मैं चाहता हूं कि यह सौभाग्य हर भारतवासी को प्राप्त हो। मैं बहुत छोटा सा आदमी हूं लेकिन भगवान ने मुझे बहुत कुछ दिया, मेरे पास जो क्षमता और साधन है उनका मैं यहां ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को दर्शन कराने में इस्तेमाल करूंगा। 

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अगर उत्तर प्रदेश में हमारी सरकार बनती है तो हम सभी उत्तर प्रदेश वासियों को अयोध्या में राम जी के दर्शन कराने के लिए सबकी मुफ़्त में व्यवस्था करेंगे, जैसी हमने दिल्ली में की है। 

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली की मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना में हम कल स्पेशल कैबिनेट बैठक में अयोध्या को भी जोड़ेंगे और अब दिल्ली के लोग अयोध्या में राम जन्मभूमि आकर यहां के दर्शन भी कर पाएंगे। 

भारत बने दुनिया का नंबर एक देश : केजरीवाल
इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल दो दिवसीय दौरे पर सोमवार दोपहर बाद अयोध्या पहुंचे। उन्होंने शाम को सरयू तट पर मां सरयू का अभिषेक पूजन कर महाआरती उतारी। करीब 40 मिनट तक पूजन-अर्चन के दौरान वे भक्तिभाव में लीन नजर आए। 

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि अयोध्या आकर अभिभूत हूं। यहां की आध्यात्मिक ऊर्जा प्रभावित करती है। भगवान श्रीराम की जन्मस्थली अयोध्या में प्रार्थना की है कि भारत दुनिया का नंबर एक देश बने।

केजरीवाल ने कहा कि 130 करोड़ भारतवासी मिलकर इसको संभव बना सकते हैं। मेरा दिल्ली प्रदेश की सरकार चलाने का जो पांच साल का अनुभव है, उसके आधार पर यदि हम एक परिवार की तरह, टीम की तरह काम करें, बीच के भेदभाव, दीवारों को गिराकर काम करें तो निश्चित ही हम दुनिया की बड़ी शक्ति बन सकते हैं। 

कहा कि मां सरयू से दिल्ली, उत्तरप्रदेश व भारत के कल्याण की कामना की है। पूरा देश कोरोना से जूझ रहा है। अभी स्थिति थोड़ी सुधरी है। भगवान श्रीराम से प्रार्थना है कि देश को जल्द ही इस महामारी से निजात मिले। 
... और पढ़ें

यूपी में सियासी सरगर्मियां बढ़ीं: पुलिस ने कसी कमर, प्रदेश को चार जोन में बांटकर की जा रही तैयारी

उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी बढ़ गई है। नेताओं के दौरे व रथ यात्राएं शुरू हो चुकी हैं। अगले महीने से रैलियों व सम्मेलनों का दौर शुरू होगा। इसे देखते हुए पुलिस ने कमर कस ली है। बड़े चुनावी कार्यक्रमों के दौरान सुरक्षा-व्यवस्था कायम रखने के लिए प्रदेश को चार जोन में बांटा गया है।

अपर पुलिस महानिदेशक कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि पूर्वी व पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अलावा मध्य व बुंदेलखंड को चार भाग में बांटकर सुरक्षा-व्यवस्था के प्रबंध किए जा रहे हैं। जो भी बड़ी रैली या बड़े नेता के कार्यक्रम होंगे उनके लिए हर क्षेत्र को आपस में लिंक किया गया है। मसलन वाराणसी में प्रधानमंत्री के कार्यक्रम के लिए प्रयागराज से फोर्स ली गई।

गोरखपुर में कार्यक्रम के लिए अयोध्या से फोर्स ली गई। इसी तर्ज पर बुंदेलखंड क्षेत्र के कार्यक्रमों में कानपुर व प्रयागराज जोन से और  पश्चिमी यूपी के लिए आगरा व बरेली जोन की मदद ली जाएगी। मध्य क्षेत्र के लिए लखनऊ जोन की फोर्स और मुख्यालय के अधिकारियों की मदद ली जाएगी। इसके अतिरिक्त फोर्स की आवश्यकता होने पर मुख्यालय से उपलब्ध कराई जाएगी। साइड पोस्ट वाले पुलिस अधिकारियों को भी विशेष ड्यूटी पर लगाया जाएगा।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00