विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विनायक चतुर्थी पर सिद्धिविनायक मंदिर(मुंबई ) में भगवान गणेश की पूजा से खत्म होगी पैसों की किल्लत 30-नवंबर-2019
Astrology Services

विनायक चतुर्थी पर सिद्धिविनायक मंदिर(मुंबई ) में भगवान गणेश की पूजा से खत्म होगी पैसों की किल्लत 30-नवंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

लखनऊ: ट्रैफिक कांस्टेबल ने दिया ईमानदारी का परिचय, युवक को लौटाया खोया मोबाइल

लखनऊ के इंजीनियरिंग कॉलेज चौराहे पर तैनात सतीश कुमार वर्मा ने खोया मोबाइल फोन लौटा कर अपनी ड्यूटी निभाई।

11 नवंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

लखनऊ

मंगलवार, 19 नवंबर 2019

प्रदेश कैबिनेट की बैठक खत्म, संविदा शिक्षकों के मानदेय में डेढ़ गुना वृद्धि

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार को लोकभवन में प्रदेश कैबिनेट की बैठक पूरी हो गई है। इस बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। कैबिनेट ने राजकीय मेडिकल कॉलेजों के संविदा शिक्षकों के मानदेय में डेढ़ गुना वृद्धि के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही औद्योगिक निवेश प्रोत्साहन दिए जाने का निर्णय लिया गया जिससे हजारों की संख्या में रोजगार उत्पन्न होने की संभावना है। जानिए कैबिनेट में लिए गए निर्णयों के बारे में-

1- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में संपन्न कैबिनेट बैठक में 10 महत्वपूर्ण प्रस्तावों को मंजूरी दी गई। सोनभद्र के उभभा गांव के 37 परिवारों को मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान का लाभ मिलेगा। सरकार ने प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना से छूटे लोगों को मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना में लाभ देने का फैसला किया था। इसमें 1.68 लाख नए परिवार भी जोड़े जाएंगे।

2- सीएम रक्षा कोष में संशोधनों को मंजूरी दे दी गई है। पहले 24000 रुपये तक लोगों को मदद दी जाती थी। अब ग्रामीण क्षेत्र में बीपीएल की सीमा 46000 रुपये तक और शहरी क्षेत्र में बीपीएल सीमा 56500 रुपये तक मदद दी जा सकेगी।

3- कैबिनेट ने राजकीय मेडिकल कॉलेजों के संविदा शिक्षकों के मानदेय में डेढ़ गुना वृद्धि के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। अब आचार्य का मानदेय 90000 से बढ़ाकर 1.35 लाख, सह आचार्य का मानदेय 80000 से बढ़ाकर 1.20 लाख, सहायक आचार्य का मानदेय 70000 से बढ़ाकर 90000 व प्रवक्ता का मानदेय 50000 से बढ़ाकर ₹75000 कर दिया गया है।

4- औद्योगिक निवेश प्रोत्साहन दिए जाने का निर्णय लिया गया। गौतमबुद्धनगर, अलीगढ़, मुजफ्फरनगर, बाराबंकी, शाहजहांपुर, हरदोई व शामली की इन कंपनियों ने 2862.70 करोड़ का निवेश किया है। इन कंपनियों के निवेश से 7592 रोजगार के अवसर सृजित होंगे। लेटर आफ कंफर्ट जारी होने से इन कंपनियों को प्रोत्साहन मिलने का रास्ता साफ हो गया है।

5- राज्य संपति विभाग को 16 पुराने चार पहिया वाहनों के स्थान पर नए वाहन खरीदने की अनुमति दी गई है। इनमें 15 फॉर्च्यूनर व एक इनोवा क्रिस्टा गाड़ी होगी। इन गाड़ियों की खरीद पर 4.75 खर्च होंगे। पुरानी गाड़ियों की नीलामी से सरकार को ₹7700000 मिले थे।
 
... और पढ़ें

माध्यमिक स्कूलों में पढ़ाने के लिए रिटायर्ड शिक्षक भी नहीं मिल रहे

माध्यमिक शिक्षा विभाग के राजकीय एवं सहायता प्राप्त हाईस्कूल और इंटर कॉलेजों में सेवानिवृत्त शिक्षक भी काम नहीं करना चाहते हैं। ढाई वर्ष में माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड से चयनित अभ्यर्थियों में से भी करीब 20 फीसदी ने कार्यभार ग्रहण नहीं किया है। शिक्षक नहीं मिलने से बोर्ड परीक्षा से पहले स्कूलों में शिक्षण व्यवस्था बिगड़ रही है।

दरअसल, राज्य सरकार ने राजकीय और सहायता प्राप्त स्कूलों में स्थायी शिक्षकों की नियुक्ति होने तक रिटायर्ड शिक्षकों की तैनाती की व्यवस्था शुरू की है। इसके लिए हर जिले में राजकीय स्कूलों के लिए बनाए गए सेवानिवृत्त शिक्षकों के पूल में 1200 शिक्षक पंजीकृत किए गए थे। लेकिन जरूरत 1527 शिक्षकों की है। पंजीकृत शिक्षकों में से 795 ने ही स्कूलों में कार्यभार ग्रहण किया। गोरखपुर, मैनपुरी, कासगंज, आजमगढ़, महाराजगंज, शाहजहांपुर, हमीरपुर और श्रावस्ती में एक भी शिक्षक ने कार्यभार ग्रहण नहीं किया।

इसी तरह सहायता प्राप्त माध्यमिक स्कूलों के लिए जिलों में बने रिटायर्ड शिक्षकों के पूल में 4075 शिक्षक पंजीकृत हैं। इनमें से 3789 शिक्षकों की नियुक्ति की डिमांड थी। लेकिन 2351 सेवानिवृत्त शिक्षकों ने ही सहायता प्राप्त स्कूलों में कार्यभार ग्रहण किया। मैनपुरी, आजमगढ़, महोबा, लखनऊ और गाजीपुर में एक भी रिटायर्ड शिक्षक ने कार्यभार ग्रहण नहीं किया।

बड़ी संख्या में पद रिक्त
प्रदेश के 2258 राजकीय हाई स्कूलों एवं इंटर कॉलेजों में प्रवक्ता के 8458 में से 5315 पद और सहायक अध्यापक के 18491 में से 11440 से अधिक पद रिक्त हैं। इसी प्रकार 4512 सहायता प्राप्त स्कूलों में प्रवक्ता के 22303 में से 2297 और सहायक अध्यापक के 72120 में से 14122 पद रिक्त हैं।
... और पढ़ें

लखनऊ से जनकपुर के लिए जाने वाली एसी बस सेवा बंद, यात्रियों में आक्रोश

यूपी राज्य सड़क परिवहन निगम के अफसरों की लापरवाही के चलते लखनऊ से जनकपुर के बीच चलने वाली एक जोड़ी जनरथ एसी बस का संचालन बंद हो गया है। राज्य सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट भारत-नेपाल मैत्री बस सेवा को इससे झटका लगा है तो वहीं यात्रियों में आक्रोश है।

यह बस 10 सितंबर 2019 के बाद से बंद चल रही है। निगम के प्रबंध निदेशक ने लखनऊ परिक्षेत्र के क्षेत्रीय प्रबंधक से रिपोर्ट तलब की है। जानकार सूत्रों के मुताबिक, बस के परमिट के नवीनीकरण में अफसरों द्वारा लापरवाही बरती गई जिससे लगभग सवा दो माह से बस सेवा ठप है।

उधर, परिवहन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि सरकार की प्राथमिकता वाली बस के परमिट का नवीनीकरण तो हाथोंहाथ होता है। इस संबंध में परमिट के नवीनीकरण की पैरवी करने वाले अफसराें ने अवगत ही नहीं कराया है। यह बस आलमबाग बस टर्मिनल से रोजाना दोपहर दो बजे रवाना होकर दूसरे दिन सुबह जनकपुर पहुंचती थी। वापसी में जनकपुर से दोपहर 12 बजे चलकर दूसरे दिन सुबह 4:00 बजे आलमबाग पहुंचती थी।
... और पढ़ें

मायावती ने देश में बढ़ रहे प्रदूषण पर जताई चिंता, ट्वीट कर सरकार को ठोस कदम उठाने की दी सलाह

बसपा सुप्रीमो मायावती ने देश में लगातार बढ़ रहे प्रदूषण पर चिंता जताई है। उन्होंने मंगलवार को ट्वीट कर सरकार को इसके लिए ठोस कदम उठाने की सलाह दी है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि प्रदूषण की समस्या केवल राजधानी दिल्ली में नहीं बल्कि पूरे देश में है। खासकर उत्तर प्रदेश जैसे विशाल जनसंख्या वाले प्रदेश के ज्यादातर शहर इस भयानक समस्या से पीड़ित हैं।

इसके मूल कारणों को समझकर इस पर समुचित ध्यान देना अब बहुत ही जरूरी है। सरकार इस पर तुरन्त प्रभावी ध्यान दे तो बेहतर है। मायावती ने कहा वैसे तो सरकारी लापरवाही आदि के कारण प्रदूषण व्यापक जनसमस्या का रूप ले चुका है तथा लोग इसके खिलाफ सड़कों पर उतरने को मजबूर हो रहे हैं। इसलिए प्रदूषण पर संसद में चर्चा के बाद इस पर ठोस नीति व कार्यक्रम बनाकर इसको सख्ती से लागू करने की जरूरत है, जो जनहित का सबसे बड़ा एक काम होगा।
... और पढ़ें

डिफेंस एक्सपोः रिवरफ्रंट पर लाइव डेमो, हथियारों व टैंक समेत इन साजो सामान को देखने का मिलेगा मौका

डिफेंस एक्सपो में 5 फरवरी से 9 फरवरी तक रिवर फ्रंट पर हनुमान सेतु से खाटू श्याम मंदिर के बीच लाइव डेमो होगा। यहां आयुध उपकरणों की प्रदर्शनी लगेगी। यहां सेना से  जुड़े अत्याधुनिक हथियारों, टैंक, हल्कीयुद्धपोत व अन्य साजो-सामान शहरवासियों को करीब से देखने का मौका मिलेगा। यहां 2500 लोगों के बैठने की व्यवस्था होगी। यह स्थल मुख्य आयोजन स्थल वृंदावन कॉलोनी से अलग होगा।

जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने बताया कि सोमवार को हुई उच्च स्तरीय बैठक के बाद रिवर फ्रंट के हुनमान सेतु पुल से लेकर खाटू श्याम मंदिर तक के गोमती किनारे को एक्सपो प्रदर्शनी के आयोजन स्थल के लिए चिह्नित किया गया। बैठक में सीडीओ मनीष बंसल की अध्यक्षता में एक चार सदस्यीय कोर कमेटी का गठन भी किया गया। कोर कमेटी में नगर आयुक्त के साथ ही आयोजन से जुड़े एचएएल और तीनों सेना की तरफ से रक्षा विभाग के एक अधिकारी को नामित किया गया है।

ये कमेटी चिह्नित स्थल पर डिफेंस एक्सपो के दौरान आयोजित होने वाली प्रदर्शन व लाइव डेमो के लिए सभी जरूरी व्यवस्थाओं को तय समयावधि में पूरा कराएगी। इसमें मुख्य तौर से सुरक्षा व्यवस्था से लेकर प्रदर्शनी में जुटने वाली भीड़ को नियंत्रित कर व्यवस्थित करने पर जोर रहेगा।
... और पढ़ें

पीएफ घोटालाः बिजली दफ्तरों में नहीं हुआ काम, राजस्व वसूली ठप, भटकते रहे उपभोक्ता

भविष्य निधि घोटाला के विरोध में दो दिनी कार्य बहिष्कार के पहले दिन सोमवार को प्रदेश भर में 45 हजार अभियंताओं व कर्मचारियों ने प्रदर्शन किया। इससे प्रदेश भर में राजस्व वसूली का कार्य ठप हो गया। कार्य बहिष्कार मंगलवार को भी जारी रहेगा।

विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के संयोजक शैलेंद्र दुबे ने कहा कि 20 नवंबर को समिति पदाधिकारियों एवं अन्य संगठनों बैठक में आरपार की लड़ाई का एलान किया जाएगा। हालांकि संविदा कर्मियों ने बिजली की सप्लाई को जिम्मेदारी संभाल रखी है।

कार्य बहिष्कार के चलते सोमवार को उपभोक्ता सेवाएं प्रभावित रहीं। विद्युत उपकेंद्र और कार्यालय में अभियंताओं और कर्मचारियों के न होने से कारण बिल संशोधन, खराब मीटर को बदलवाने समेत अन्य कार्यों के लिए उपभोक्ता भटकते रहे।


गौरतलब है कि अवर अभियंता कार्य बहिष्कार में शामिल नहीं थे, लेकिन वे उपकेंद्र में बैठक के बजाय इधर-उधर ही रहे। उधर, विद्युत परिषद आशुलेखक संघ ने भी मंगलवार को कार्य बहिष्कार में शामिल होने का फैसला किया है। यह जानकारी केंद्रीय अध्यक्ष वीके सिंह कलहंस ने दी।
... और पढ़ें

भाजपा के साथ विहिप ने भी किया था अयोध्या एक्ट का विरोध, अब ले रहे हैं उसी कानून का सहारा

बिजली कर्मचारियों ने प्रदर्शन कर दिखाई एकजुटता
बाबरी ढांचा ढहाए जाने के तत्काल बाद केंद्र सरकार ने संघ पर छह माह के लिए प्रतिबंध लगा दिया था। उसके अनुषांगिक संगठन विहिप, बजरंग दल, दुर्गावाहिनी आदि से जुड़े लोगों की धर-पकड़ चल रही थी। इसी दौरान 7 जनवरी, 1993 को तत्कालीन राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा ने अयोध्या एक्ट को मंजूरी दे दी थी। बाद में इसे बिल के रूप जब संसद में पेश किया गया तो भाजपा ने कड़ा विरोधा जताया।

दरअसल भाजपा को आशंका थी कि कहीं कांग्रेस राम मंदिर बनवाकर श्रेय न ले ले। तत्कालीन गृहमंत्री एसबी चव्हाण ने इस बिल को मंजूरी के लिए लोकसभा के सामने रखा था। पास होने के बाद इसे अयोध्या अधिनियम कहा गया। हालांकि उस वक्त भाजपा ने इसका विरोध किया था। नरसिंहा राव सरकार इस अधिनियम के जरिए 2.77 एकड़ की विवादित भूमि ही नहीं, बल्कि इसके चारों ओर की 60.70 एकड़ जमीन भी अधिगृहीत कर रही थी।

इस पर कांग्रेस सरकार राम मंदिर, एक मस्जिद, म्यूजियम और अन्य सुविधाओं का निर्माण करना चाहती थी। तत्कालीन भाजपा उपाध्यक्ष एसएस भंडारी ने इस कानून को पक्षपातपूर्ण, तुच्छ और प्रतिकूल बताते हुए खारिज कर दिया था। भाजपा के साथ मुस्लिम संगठनों ने भी इस कानून का विरोध किया था। नरसिंहा राव सरकार ने अनुच्छेद 143 के तहत सुप्रीम कोर्ट से भी इस मसले पर सलाह मांगी थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने राय देने से मना कर दिया था।

सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से पूछा था कि क्या राम जन्मभूमि/बाबरी मस्जिद की विवादित जमीन पर पहले कोई हिंदू मंदिर या हिंदू ढांचा था। सुप्रीम कोर्ट के 5 जजों जस्टिस एमएन वेंकटचलैया, जेएस वर्मा, जीएन रे, एएम अहमदी और एसपी भरूचा की खंडपीठ ने इन सवालों पर विचार तो किया लेकिन कोई जवाब नहीं दिया।
... और पढ़ें

पीएफ घोटाला : बिजली कर्मियों का कार्य बहिष्कार, उपद्रवियों पर लगेगा रासुका

यूपी पावर कॉर्पोरेशन में पीएफ घोटाले में दोषी आईएएस अफसरों पर कार्रवाई को लेकर बिजलीकर्मियों ने सोमवार से पूरे प्रदेश में 48 घंटे का कार्य बहिष्कार शुरू कर दिया। इसे लेकर प्रदेश सरकार सख्त हो गई। कार्य बहिष्कार के दौरान उपद्रव व तोड़फोड़ करने वाले कर्मचारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिए गए हैं। यही नहीं, जरूरत पड़ने पर उनके खिलाफ खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत भी कार्रवाई की जाएगी।

प्रदर्शनकारियों की मांग है कि सरकार निधि के भुगतान की गारंटी लेकर अधिसूचना जारी करें और जिम्मेदार आईएएस अफसरों पर कार्रवाई करे। पीएफ घोटाले के विरोध में पहले दिन करीब 45 हजार अभियंताओं एवं कर्मचारियों ने कार्य बहिष्कार किया। लखनऊ में लेसा व मध्यांचल सहित सभी दफ्तरों के बिजली कर्मचारी व अभियंता काम छोड़कर शक्ति भवन मुख्यालय पर जुट गए।

परियोजनाओं के मुख्य गेट पर सभाएं कर नारेबाजी की। इससे लखनऊ से लेकर प्रदेश भर में राजस्व वसूली का कार्य बाधित हो गया। हालांकि संविदा कर्मचारियों ने बिजली की निर्बाध सप्लाई की जिम्मेदारी संभाल ली है।
... और पढ़ें

लखनऊः थाने में अधिवक्ता-पुलिसकर्मी भिड़े, पुलिसकर्मियों पर केस, ये था मामला

लखनऊ के पीजीआई थाना में रविवार रात परिचित के साथ हुई मारपीट का केस दर्ज कराने पहुंचे अधिवक्ता रमाशंकर तिवारी की पुलिसकर्मियों से भिड़ंत हो गई। अधिवक्ता ने पुलिसकर्मियों पर मारपीट और लूटपाट का आरोप लगाते हुए केस दर्ज कराया है।

उपनिरीक्षक आशुतोष कुमार सिंह ने भी रमाशंकर तिवारी व उनके साथी वकीलों पर मारपीट, गाली गलौज, धमकी व सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने का आरोप लगाते हुए तहरीर दी है। हालांकि, पुलिस अधिकारियों के हस्तक्षेप से मामला शांत करा दिया गया।

इंस्पेक्टर अशोक कुमार सरोज ने बताया कि रविवार देर शाम तेलीबाग के द्वारिकापुरी निवासी पूर्व सैनिक अरविंद कुमार के साथ बाइक सवार कुछ लोगों ने मारपीट की थी। पूर्व सैनिक बाइक से घर जा रहे थे तभी ईश्वरीखेड़ा के पास एसयूवी सवार चार-पांच बदमाशों ने ओवरटेक करके रोक लिया और गाली-गलौज शुरू कर दी।

विरोध करने पर उन्होंने मारपीट की। हमलावरों ने उन पर फायरिंग की लेकिन वह बाल-बाल बच गए। शोरगुल मचने पर हमलावर भाग गए तो उन्होंने चिनहट के गोयल अपार्टमेंट निवासी अधिवक्ता मित्र रामशंकर तिवारी को सूचना दी। रात करीब आठ बजे अधिवक्ता थाने पहुंचे और एफआईआर दर्ज कराने के लिए तहरीर दी।  
... और पढ़ें

दावत के बाद दिव्यांग दोस्त पर किया धारदार हथियार से हमला, लकड़ी की गुमटी में बंद कर भागा

लखनऊ के पीजीआई थानाक्षेत्र में रविवार को शराब व मुर्गा की दावत के बाद राम नारायण साहू ने अपने दोस्त राजेश रावत पर धारदार हथियार से हमला कर दिया। घटना एल्डिको पुलिस चौकी से 20 मीटर की दूरी पर हुई। यही नहीं, इसके बाद राजेश को उसकी गुमटी में बंद कर आरोपी भाग निकला।

सुबह उधर से गुजरे राहगीर ने पीड़ित के कराहने की आवाज सुनकर पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने घायल को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराने के साथ ही आरोपी की तलाश शुरू कर दी है। पुलिस के मुताबिक, दोनों दोस्त दिव्यांग हैं। घायल के पिता राम नरेश की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है।

एल्डिको चौकी प्रभारी अरुण कुमार यादव ने बताया कि बाराबंकी निवासी राजेश रावत (30) चौकी के पास ही गुमटी डालकर हेलमेट बेचता है। उसके बगल में प्रतापगढ़ निवासी राम नारायण साहू ई-रिक्शा चलाता है। रविवार को दोनों ने गुमटी के बाहर खाना बनाया और दावत की।
 
... और पढ़ें

फर्जी लेटर पैड पर तबादले की सिफारिश करने वाला गिरफ्तार, एसटीएफ कर रही थी जांच

बिहार सरकार के फर्जी लेटर पैड पर यूपी सरकार से दो शिक्षकों के तबादले की सिफारिश करने वाले जौनपुर निवासी शिवाजी यादव को एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया। राज्य सरकार ने इस सिफारिशी पत्र को संदिग्ध मानते हुए एसटीएफ को जांच सौंपी थी। एसटीएफ ने इस जालसाज को जियामऊ से दबोचा। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि उसने इंटरनेट पर बिहार सरकार के लेटर पैड व पत्र लेखन का एक विडियो देखा था।

उसी के अनुसार उसने कंप्यूटर व प्रिंटर से बिहार सरकार का लेटर पैड बनाया। इसमें उसने उच्च प्राथमिक विद्यालय, बेसार, ब्लॉक महराजगंज, जौनपुर के सहायक अध्यापक गीतम सिंह व उच्च प्राथमिक विद्यालय, अहिरौली, ब्लॉक ठेकमा, आजमगढ़ के सहायक अध्यापक राहुल कुमार यादव के स्थानांतरण के लिए सिफारिश की थी। इस फर्जी लेटर पैड पर उसने खुद हस्ताक्षर कर यूपी सरकार को पत्र भेजा था। इस बारे में उसने गीतम और राहुल को कुछ नहीं बताया था।

शिवाजी ने पूछताछ में बताया कि उसके काम में अभिनव प्राथमिक विद्यालय, डालूपुर, जौनपुर के प्रधानाध्यापक रामपाल और कोल्हुआ, जौनपुर के मुन्ना यादव भी शामिल थे। स्थानांतरण हो जाता तो एक लाख रुपये मिलते, जिसे तीनों लोग आपस में बांट लेते। शिवाजी के खिलाफ गौतमपल्ली थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है।
... और पढ़ें

लखनऊः युवक का क्षत-विक्षत शव ट्रैक किनारे मिला, परिवारीजनों ने जताई हत्या की आशंका

लखनऊ में सरोजनीनगर के अनौरा इलाके में सोमवार सुबह रेलवे ट्रैक किनारे दो दिन से लापता पारा के बुद्धेश्वर निवासी संदीप मिश्रा (35) का क्षतविक्षत शव मिला। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव पोस्टमार्टम को भेजवाया। परिवारीजनों ने हत्या का शक जताया है।

पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। परिवारीजनों के मुताबिक, संदीप आर्या नगर नाका की खोवा मंडी में वसूली का काम करता था। शनिवार को घर से वसूली करने गया था। पत्नी सोनी ने बताया कि सुबह खोवा मंडी में 15 सौ की वसूली के बाद से वे घर नहीं आए।

शाम चार बजे से उनका फोन भी स्विच ऑफ हो गया। संदीप के भांजे शुभम ने हत्या का संदेह जताते हुए जांच की मांग की है। शुभम का कहना है कि हत्या कर शव फेंका गया है। शुभम ने बताया कि सोमवार को पारा थाने में गुमशुदगी लिखवाने गए तो शव मिलने की जानकारी मिली।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election