विज्ञापन
विज्ञापन
आज ही बनवाएं फ्री जन्म कुंडली और पाएं समस्त परेशानियों के ज्योतिष्य समाधान
Kundali

आज ही बनवाएं फ्री जन्म कुंडली और पाएं समस्त परेशानियों के ज्योतिष्य समाधान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

मेरठ में कोरोना का कहर जारी, चिकित्सक समेत तीन की मौत, 46 नए संक्रमित

उत्तर प्रदेश के मेरठ में शुक्रवार को कोरोना संक्रमण से निजी चिकित्सक समेत तीन मरीजों की मौत हो गई। वहीं, संक्रमण के 46 नए मरीज मिले हैं। कोरोना संक्रमण से जिन लोगों की मौत हुई है, उनमें 43 वर्षीय निवासी गोविंदपुरी कंकरखेड़ा, 44 वर्षीय हाल निवासी स्पोर्ट्स सिटी सुपरटेक मोदीपुरम और 68 वर्षीय निवासी टीकरी जानी हैं। 

बताया गया कि डॉक्टर मूल रूप से गाजियाबाद के रहने वाले थे, जो मोदीपुरम क्षेत्र में कार्य करते थे। उनकी सुभारती में मौत हुई है। सीएमओ डॉ. राजकुमार ने बताया कि नए मिले मरीजों में व्यापारी, अधिवक्ता, पेंशनर, छात्र, महिलाएं, श्रमिक शामिल हैं। कोरोना के मरीजों की संख्या अब 2399 पहुंच गई है। जबकि अभी तक 97 मरीजों की मौत हो चुकी हैं। 1993 मरीज अभी तक डिस्चार्ज हो चुके हैं। 309 मरीज कोविड-19 अस्पतालों में भर्ती हैं। 

यह भी पढ़ें: 
कमरे में पड़ी मिली मां-बेटों की लाश, गांव में पसरा मातम, खौफनाक है पूरी वारदात

सीएमओ डॉ. राजकुमार के अनुसार 44 वर्षीय चिकित्सक मूल रूप से गाजियाबाद के शास्त्रीनगर के रहने वाले थे। जो मेरठ में स्पोर्ट्स सिटी सुपरटेक में रह रहे थे। जिनका सुभारती में इलाज चल रहा था। जहां जांच के दौरान चिकित्सक को कोरोना की पुष्टि हुई थी। उन्हें सांस लेने में दिक्कत होने के साथ ही कई दिन पहले से बुखार भी हो रहा था। मौत के बाद शव स्वास्थ्य विभाग की गाइड लाइन के तहत परिवार के लोगों को सौंप दिया गया। सीएमओ ने बताया कि कोरोना से हुई निजी चिकित्सक की मौत को मेरठ में ही दर्ज किया गया है।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें

यूपी: लखनऊ तक गूंजा मामला, पांच तस्कर गिरफ्तार, दीवारों पर लिखा था 'मकान बिकाऊ है'

बागपत जनपद के बड़ौत में गुराना रोड पर ‘मकान बिकाऊ है’ लिखने का मामला लखनऊ तक गूंजा तो शुक्रवार को पुलिस प्रशासन हरकत में आ गया। पुलिस ने अभियान चलाकर चार महिला समेत पांच नशा तस्करों को गिरफ्तार कर लिया। उनके कब्जे से दस किलो गांजा बरामद किया गया। उधर, पुलिस की कार्रवाई से संतुष्ट होकर मोहल्लेवासियों ने अपने मकान की दीवारों पर लिखा ‘मकान बिकाऊ है’ मिटा दिया।

बता दें कि तीन दिन पूर्व गुराना रोड में दूसरे वर्ग के लोगों ने वीरेंद्र शर्मा को गोली मारकर घायल कर दिया गया, जबकि पथराव में 10 से अधिक लोग को घायल हो गए थे। मोहल्लेवासियों ने इसके पीछे गांजा बिक्री का विरोध कराना बताया था। साथ ही अपने मकान की दीवारों पर ‘मकान बिकाऊ है’ लिख दिया था। यह मामला लखनऊ तक गूंजा तो पुलिस और प्रशासनिक अफसरों में हड़कंप मच गया। 

वहीं बृहस्पतिवार की रात व शुक्रवार की तड़के कोतवाल अजय शर्मा के नेतृत्व में गठित चार टीमों ने गांजा तस्करों के मकान पर ताबड़तोड़ दबिश दी। चार महिलाओं समेत पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। उनके पास से दस किलो गांजा भी बरामद हुआ है। 

यह भी पढ़ें: 
मेरठ: होटल के बराबर में चल रहा था हुक्का बार, डीएम ने बैठाई जांच बिल्डिंग कराई सील

कोतवाल ने बताया कि पकड़े गए गांजा तस्करों में तौहिद पुत्र तैय्यब, हिना पत्नी आशु, रूकसार पत्नी सोनू, सीमा पत्नी तौहिद व शकीला पत्नी अख्तर निवासी गुराना रोड गली नंबर आठ शामिल है। पकड़े गए आरोपियों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट में मुकदमा दर्ज किया गया है। 

उधर, पुलिस की कार्रवाई से संतुष्ट होकर मोहल्लेवासियों ने अपने-अपने मकानों की दीवारों पर लिखा ‘मकान बिकाऊ है’ मिटा दिया। पुलिस कार्रवाई की प्रशंसा की। साथ ही पूर्णतया इस गोरखधंधे पर अंकुश लगवाने की मांग की। दबिश देने वाली टीम ने एसएसआई धुरेंद्र सिंह, महिला सब-इंस्पेक्टर साक्षी सिंह सहित अन्य लोग शामिल रहे।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें

यूपी के बड़ौत में किशोरी की चाकू गोदकर हत्या, घर में घुसकर दिया वारदात को अंजाम

उत्तर प्रदेश के बागपत में बड़ौत कोतवाली क्षेत्र में पारिवारिक विवाद में किशोरी की घर में ही चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई। तीन हमलावरों ने घर में घुसकर वारदात को अंजाम दिया। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। एसपी ने घटनास्थल का निरीक्षण किया।

मोहल्ला शोरगिरान निवासी मजदूर अहसान ने पुलिस को बताया कि शुक्रवार को वह जुमे की नमाज पढ़ने के लिए गया हुआ था। घर पर परिवार की महिलाएं और उसकी बेटी सना (17) मौजूद थीं। शाम चार बजे तीन युवक घर में घुसे।

हमलावरों ने चाकू निकाले, इससे परिवार की महिलाएं डरकर सीढ़ियों से होते हुए छत पर चढ़ गई। हमलावरों ने सना को पकडक़र उसकी चाकू से गोदकर हत्या कर दी और फरार हो गए।

पुलिस मौके पर पहुंची। एसपी अजय कुमार सिंह ने घटनास्थल पर पहुंचकर जानकारी जुटाई। एसपी का कहना है कि जांच पड़ताल में पारिवारिक विवाद के कारण हत्या होना सामने आया है। पुलिस आरोपियों की तलाश में जुट गई है। 
 
नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें

https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें

गांजा तस्करी मामले में चौकी इंचार्ज और दो सिपाही लाइन हाजिर

गुराना रोड पर पहले रक्षाबंधन पर सांप्रदायिक झगड़े और इसके बाद गांजा तस्करों के खिलाफ हंगामे ने तूल पकड़ा। अब एसपी अजय कुमार सिंह ने बड़ौत की बस स्टैंड चौकी प्रभारी कन्छिद सिंह, सिपाही महेश और रामबक्स को लाइन हाजिर कर दिया है। वहीं, पुलिस चौकी बोहला पर तैनात सिपाही उदित चौधरी को लगातार मिल रही शिकायतों पर लाइन हाजिर किया गया है।

एसपी अजय कुमार सिंह ने बताया कि बड़ौत के गुराना रोड पर तीन अगस्त की रात दो पक्षों के बीच झगड़ा हो गया था। प्रकरण में पुलिस चौकी इंचार्ज और अन्य पुलिसकर्मियों ने लापरवाही बरती, जिस कारण मामला बढ़ता गया। अधिकारियों को सही जानकारियां नहीं दी गई। लापरवाही बरतने वाले बस स्टैंड चौकी प्रभारी कन्छिद सिंह को लाइन हाजिर कर दिया है। 

पुलिस लाइन से उपनिरीक्षक अमोल कुमार शर्मा को चौकी बस स्टैंड प्रभारी बनाया गया है। इसके अलावा सिपाही महेश, रामबक्स को लाइन हाजिर कर दिया है। अधिकारियों को रोजाना मिल रही शिकायतों के बाद पुलिस चौकी बोहला पर नियुक्त सिपाही उदित चौधरी को लाइन हाजिर किया है।

शराब, गांजा और नशीले पदार्थों की तस्करी की शिकायतें
बस स्टैंड चौकी और बोहला चौकी क्षेत्र में शराब, गांजा और नशीले पदार्थों की तस्करी की शिकायतें अधिकारियों को मिल रही थीं। महिलाओं ने हंगामा किया, लेकिन स्थानीय पुलिस नहीं जागी। इसी कारण अब पुलिसकर्मियों पर यह कार्रवाई की गई है।

इंस्पेक्टर और एसआई किए गए थे निलंबित
गाधी गांव में हुए झगड़े के मामले में भी पुलिस लापरवाही बनी रही। रक्षाबंधन के दिन गांव में हत्या हो गई। इंस्पेक्टर और हल्का इंचार्ज को निलंबित कर दिया गया था।
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

सीएम योगी दौरा: सर्किट हाउस पहुंचे रालोद कार्यकर्ता, मुख्यमंत्री वापस जाओ के लगाए जमकर नारे

सहारनपुर के सर्किट हाउस में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे हैं। वहीं गन्ना भुगतान की मांग को लेकर रालोद कार्यकर्ता भी सर्किट हाउस पर पहुंच गए। इस दौरान उन्होंने गन्ना मूल्य भुगतान न दिलाए जाने पर रोष व्यक्त किया। साथ ही रालोद कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री वापस जाओ के जमकर नारे भी लगाए।

सर्किट हाउस में बैठक के दौरान शनिवार दोपहर करीब दो बजे सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात न कराए जाने से नाराज रालोद कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया। उनकी यहां तैनात पुलिस टीमों से जमकर कहासुनी और खींचतान हुई। रालोद कार्यकर्ताओं ने जब सीएम से मिलने के लिए गेट के अंदर जाने का प्रयास किया तो पुलिस ने उन्हें रोक दिया। बाद में सिटी मजिस्ट्रेट सुरेश कुमार सोनी ने उनका ज्ञापन लिया। तब वे शांत होकर लौटे।

पुलिस से खींचतान के बीच रोष जाहिर करते हुए रालोद जिलाध्यक्ष राव केसर सलीम ने कहा कि सूबे के मुखिया होने के बावजूद सीएम से उन्हें मिलने नहीं दिया। किसानों के हित की बात नहीं कहने दी गई, यह तानाशाही है। वे लोकतांत्रिक तरीके से ज्ञापन देना चाहते थे। यदि सरकार जनता की बात नहीं सुनेगी तो कौन सुनेगा। रालोद के प्रदेश महासचिव चौधरी धीर सिंह ने कहा कि ये तो अघोषित कर्फ्यू के हालात हैं। इसका विरोध किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सहारनपुर मंडल में किसानों का 2400 करोड़ रुपये गन्ना मूल्य भुगतान बकाया है। सरकार इसे दिलवा नहीं पाई। उन्होंने कहा कि प्रदेश के गन्ना मंत्री सुरेश राणा भी यहां मौजूद हैं। उनसे भी नहीं मिलने दिया गया। यह अच्छा नहीं है। इस दौरान रालोद कार्यकर्ता हाथों में मुख्यमंत्री वापस जाओ, गन्ना भुगतान दिलाओ जैसे नारे वाले पर्चे भी लिए हुए थे। प्रदर्शन करने वालों में सागर चौधरी, राव इरफान, राव अल्तमश, राव आरिफ, उदित चौधरी, आसिफ, प्रवेश कश्यप, विशाल चौधरी आदि शामिल रहे।

मान जाओ, शांत हो जाओ, वापस चले जाओ
हंगामे के दौरान देहात कोतवाली प्रभारी मुनेंद्र सिंह प्रदर्शनकारियों से बोले- मान जाओ, शांत हो जाओ, वापस चले जाओ। लेकिन कार्यकर्ता गुस्से में रहे और नहीं माने। इसके बाद ही पुलिस और कार्यकर्ताओं में काफी देर तक खींचतान चलती रही। करीब आधा घंटे के हंगामे के बाद कार्यकर्ता आंदोलन की चेतावनी देते हुए लौटे।

यह भी पढ़ें: 
सीएम योगी से सहारनपुर को ये बड़ी उम्मीदें, योजनाएं पूरी होने का इंतजार, लोग आज फिर करेंगे मांग
... और पढ़ें

सहारनपुर में कांग्रेस विधायक समेत मिले कोरोना के 93 मरीज, तीन लोगों की मौत, मचा हड़कंप

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर शहर में शनिवार को कोरोना के 93 संक्रमित मरीज मिले हैं। इनमें देहात से कांग्रेस विधायक मसूद अख्तर भी शामिल हैं। इसके अलावा तीन लोगों की कोरोना से मौत हो गई।जहां एक दिन में 93 संक्रमित मरीज मिलने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मचा हुआ है तो वहीं लोगों में भी दहशत बढ़ रही है। शहर में लगातार मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है।

वहीं सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को जनपद के मेडिकल कॉलेज का औचक निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना को लेकर पूरी गंभीरता से कार्य करने का निर्देश दिया। कोविड मरीजों के लिए एम्बुलेंस आरक्षित करने और प्रशिक्षित स्टाफ की उनमें ड्यूटी लगाने को कहा है। साथ ही कोविड केयर एल 2/ एल3 में बेड़ों की संख्या बढ़ाने और ऑक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था रखने का भी निर्देश दिया। 

यह भी पढ़ें: 
सीएम योगी दौरा: सर्किट हाउस पहुंचे रालोद कार्यकर्ता, मुख्यमंत्री वापस जाओ के लगाए जमकर नारे

बता दें कि सीएम योगी के सहारनपुर में रहने के दौरान करीब तीन घंटे तक एसबीडी जिला अस्पताल प्रशासन और चिकित्सकों की सांसें अटकी रहीं। मुख्यमंत्री के जाने के बाद सभी ने राहत की सांस ली।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें

लॉकडाउन: शराब के ठेके खोलने के विरोध में सड़कों पर उतरीं महिलाएं, किया प्रदर्शन

उत्तर प्रदेश के मेरठ जनपद में शनिवार को महिलाएं सड़कों पर उतर आईं। इस दौरान उन्होंने शराब की दुकानें खुलने का विरोध किया। उनका कहना है कि लॉकडाउन में शराब की दुकानें भी बंद रहनी चाहिए।

उधर, सूचना मिलने पर पुलिस अधिकारी मौके पर पुहंचे और महिलाओं को समझाने का प्रयास किया। वहीं महिलाओं ने अधिकारियों से शराब की दुकानें बंद कराने की मांग की। 

बता दें कि उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए शनिवार और रविवार को लॉकडाउन रहता है। इस दौरान जरूरी सामान की दुकानें व शराब के ठेके ही खुले रहते हैं। लोगों का गुस्सा इस बात को लेकर है कि बाजार की दुकानें बंद रखी जा रही हैं, जबकि शराब के ठेके खोले जा रहे हैं। 

व्यापारियों ने की सातों दिन प्रतिष्ठान खोलने की मांग
व्यापारी स्वाभिमान मंच के पदाधिकारियों ने कलेक्ट्रेट पर शक्ति प्रदर्शन किया। शनिवार और रविवार को भी सभी व्यापारिक प्रतिष्ठान खोलने की मांग की गई। इसके अलावा  होटल व रेस्टोरेंट खोलने की भी मांग की गई। 

व्यापारी स्वाभिमान मंच ने वैश्विक महामारी में लगातार लगभग 100 दिन सभी व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रखने के बाद शासन द्वारा सप्ताह में पांच दिन खोले जाने के फैसले के लिए आभार व्यक्त किया। परंतु सप्ताह में अभी भी दो दिन शनिवार और रविवार को संपूर्ण लॉकडाउन के निर्णय का व्यापारियों ने विरोध किया। जिलाध्यक्ष अनीता पुंडीर ने कहा कि आबकारी की दुकानें सप्ताह में सातों दिन खुल रहीं हैं तो बाजारों को खोलने की भी अनुमति मिलनी चाहिए। 

यह भी पढ़ें: 
सीएम योगी दौरा: सर्किट हाउस पहुंचे रालोद कार्यकर्ता, मुख्यमंत्री वापस जाओ के लगाए जमकर नारे
... और पढ़ें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहारनपुर पहुंचे, चप्पे-चप्पे पर फोर्स तैनात, देखिए ये तस्वीरें

प्रदर्शन करती महिलाएँ

हुक्का बार में अश्लीलता की हद पार... धुएं में उड़ रहा कानून, आपत्तिजनक सामान बरामद, देखिए तस्वीरें

सीएम योगी से सहारनपुर को ये बड़ी उम्मीदें, योजनाएं पूरी होने का इंतजार, लोग आज फिर करेंगे मांग

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज सहारनपुर में आ रहे हैं। जिले को उनसे कई उम्मीदें हैं। कुछ ऐसी परियोजनाएं हैं जो जिले के विकास को पंख लगाएंगी तो कुछ पुरानी समस्याएं भी हैं जिनका समाधान नहीं हो रहा है। वहीं कुछ ऐसे कार्य हैं जो अधर में लटके हैं, जिनका पूरा होना आवश्यक है।

कृषि और किसान
सहारनपुर जिले के किसानों का करीब 650 करोड़ रुपये चीनी मिलों पर बकाया है, जबकि मंडल की बात करें तो करीब 2400 करोड़ रुपये बकाया है। चीनी मिल मालिक मनमानी करते हैं, समय पर भुगतान नहीं मिलता। 14 दिन में भुगतान करने के नियम का भी पालन नहीं हो रहा है। किसान आंदोलन भी कर रहे हैं। भुगतान हो जाए तो किसानों को काफी राहत मिलेगी।

स्वास्थ्य
जिले में स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर बनाने की दरकार है। राजकीय मेडिकल कॉलेज तो है, मगर सुविधाओं का अभाव है। गंभीर मरीज को रेफर कर दिया जाता है, कॉर्डियोलॉजिस्ट भी नहीं है। जिला अस्पताल में ही फिजीशियन तक नहीं और चिकित्सकों के 50 प्रतिशत तक पद रिक्त हैं। चिकित्सकों की तैनाती हो जाए तो व्यवस्था और बेहतर ढंग से चल सकेगी।

शिक्षा
- यूनिवर्सिटी के लिए धनराशि जारी हो गई है, लेकिन निर्माण शुरू नहीं हो सका है। सीसीएसयू से हटाकर मंडल के तीनों जिले के कॉलेजों को राजकीय यूनिवर्सिटी से संबद्ध कराकर शैक्षिक सत्र शुरू कराने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें: 
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज सहारनपुर में, अधिकारियों के साथ होगी अहम बैठक, ये होगा पूरा कार्यक्रम

सड़क
- दिल्ली सहारनपुर हाईवे का निर्माण अभी जिले में रफ्तार नहीं पकड़ सका है, इसका शिलान्यास सितंबर 2018 में किया गया था। सहारनपुर से प्राचीन सिद्धपीठ शाकंभरी देवी मंदिर तक मार्ग का चौड़ीकरण होना है, मगर कार्य शुरू नहीं हो पाया है। इसका चौड़ीकरण हो जाए तो शाकंभरी देवी मंदिर के दर्शन को जाने वाले श्रद्धालुओं को राहत मिलेगी।

पुलिस
- भौगोलिक स्थिति के लिहाज से जिले में कई थानों के क्षेत्र काफी बड़े हैं। नए थानों के सृजन का प्रस्ताव पूर्व में तैयार हुआ था। इनमें गंगोह कोतवाली क्षेत्र में अंबेहटा चौकी और शेखपुरा चौकी को थाना बनाने की बेहद जरूरत है। इसके अलावा शहर में कुतुबशेर और कोतवाली देहात थाना सड़क किनारे पर चल रहे हैं। पुलिस द्वारा जब्त किए वाहन सड़क तक खड़े रहते हैं। इन थानों को अन्यत्र शिफ्ट किए जाने की जरूरत है।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें

ऊर्जा मंत्री ने की तीन मंडलों की समीक्षा, बोले- 15 फीसदी से कम होगा लाइन लॉस तो मिलेगी 24 घंटे बिजली

उत्तर प्रदेश के ऊर्जा एवं अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री पं. श्रीकान्त शर्मा ने शनिवार को मेरठ, सहारनपुर एवं मुरादाबाद मंडल अधीन जनपदों की विद्युत आपूर्ति की वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा की। उन्होंने गलत बिलिंग की शिकायतों पर तत्काल संबंधित क्षेत्र की बिलिंग एजेंसी के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए। कहा कि कहीं भी गलत बिल की शिकायत स्वीकार्य नहीं है, ऐसी शिकायतों पर संबंधित क्षेत्र के अधिकारी तत्काल कार्रवाई करें, जिससे उपभोक्ता को परेशान न होना पड़े। उन्होंने कहा कि सरकार उपभोक्ताहित में काम कर रही है। हमारा संकल्प 24 घंटे निर्बाध विद्युत आपूर्ति का है। हम सभी जनप्रतिनिधियों और आम लोगों के सहयोग से इस संकल्प को पूरा करेंगे। 

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि सरकार सभी गांवों को 24 घंटे आपूर्ति की सुविधा का महाभियान चला रही है। इसके लिए सांसदों व विधायकों व अन्य जन प्रतिनिधियों को भी आगे आना होगा। उन्हें भी ऊर्जा विभाग को सहयोग करना होगा तभी सस्ती और सुलभ बिजली का संकल्प पूरा होगा। कहा कि इसके लिए लाइन लॉस को 15 प्रतिशत से नीचे लाना होगा। हर जनपद में ऊर्जा विभाग ने 60-60 फीडर निगरानी हेतु चुने हैं, सांसद व विधायक गण भी 10-10 फीडरों की निगरानी का जिम्मा लेकर इस अभियान का हिस्सा बनें। जिससे 24 घंटे आपूर्ति के संकल्प को पूरा किया जा सके।

उन्होंने सहारनपुर, मेरठ, संभल, हापुड़, अमरोहा और मुजफ्फरनगर में कुछ स्थानों पर गलत बिलिंग व टेबल बिलिंग की शिकायतों की जांच के निर्देश दिए। कहा कि गलत बिलिंग से उपभोक्ताओं में रोष उत्पन्न होता है और इसका असर विभाग की छवि पर होता है। उन्होंने शिकायतों के आधार पर संबंधित बिलिंग एजेंसियों के खिलाफ एफआईआर व अधिकारियों की जवाबदेही सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें: 
सीएम योगी दौरा: सर्किट हाउस पहुंचे रालोद कार्यकर्ता, मुख्यमंत्री वापस जाओ के लगाए जमकर नारे
 
... और पढ़ें

यौन शोषण मामला: हाईकोर्ट ने लिया संज्ञान, ऐसे हुआ था ढोंगी बाबा की करतूत का खुलासा

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जनपद में गौड़ीय मठ में बच्चों का यौन शोषण किए जाने के मामले में त्वरित सुनवाई होगी। गवाहों को बुलाने के लिए विशेष अपर सत्र न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट संजीव कुमार तिवारी ने जिला जज राजीव शर्मा से विशेष अनुमति मांगी है। इस मामले का लखनऊ हाईकोर्ट और राष्ट्रीय बाल आयोग ने भी संज्ञान लिया है।

मिजोरम के मामित जिले के छह और त्रिपुरा के नॉर्थ त्रिपुरा जिले के चार बच्चों का गौड़ीय मठ में यौन शोषण होने के मामले में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो ने मणिपुर के मामित जिले के डीएम, त्रिपुरा के नॉर्थ त्रिपुरा के डीएम, यूपी की बाल कल्याण विभाग की प्रमुख सचिव, मुजफ्फरनगर जिले के पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों से ऑन लाइन बातचीत की। उन्होंने इस प्रकरण को आज के समाज के लिए बहुत ही निंदनीय बताते हुए इसमें पीड़ितों की हर संभव सहायता और उन्हें त्वरित न्याय दिलाने के निर्देश दिए। यह भी कहा कि इसमें त्वरित सुनवाई होनी चाहिए।

लखनऊ हाईकोर्ट ने समाचार पत्रों के आधार पर इस मामले में स्वत: संज्ञान लेते हुए प्रमुख सचिव बाल कल्याण विभाग राधा एस चौहान से पूरी रिपोर्ट तलब की। चौहान ने इस मामले में जिला प्रशासन से पूरे प्रकरण पर जवाब मांगा है। बताया जा रहा है कि इसकी पूरी रिपोर्ट प्रमुख सचिव को भेज दी गई है। विशेष अपर सत्र न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट संजीव कुमार तिवारी ने जिला जज राजीव शर्मा से इस मामले में गवाही कराने के लिए अनुमति मांगी है। जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी राजीव शर्मा का कहना है कि हाईकोर्ट ने इस समय गवाहों को न्यायालय में बुलाने पर रोक लगा रखी है। गौड़ीय मठ का मामला बहुत ही गंभीर है। जिला जज की विशेष अनुमति के बाद इसमें गवाहों को न्यायालय में पेश किया जाएगा। पॉक्सो एक्ट के विशेष लोक अभियोजक कोरोना संक्रमित मिले थे, जो क्वारंटीन है। वह दो दिन बाद सोमवार से ड्यूटी पर आ सकते हैं, जिसके बाद ट्रायल शुरू हो जाएगा।

यह भी पढ़ें: 
हुक्का बार में अश्लीलता की हद पार... धुएं में उड़ रहा कानून, आपत्तिजनक सामान बरामद, देखिए तस्वीरें

जिला जज से त्वरित सुनवाई के लिए किया आग्रह: डीएम
डीएम सेल्वा कुमारी जे ने बताया कि बच्चों के साथ यौन उत्पीड़न का गंभीर मामला है। इस मामले में जल्द निर्णय हो और दोषी को सजा मिले, इसके लिए हमने जिला जज राजीव शर्मा से आग्रह किया है। इस मामले में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग सीधे निगाह रखे हुए है। हम लोग भी इस प्रकरण पर लगातार पर्यवेक्षण कर रहे हैं।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें

यूपी: लापरवाही बरतना पड़ा भारी, उपनिरीक्षक और तीन सिपाही लाइन हाजिर, ये था पूरा मामला

उत्तर प्रदेश में बागपत जनपद के बड़ौत में गुराना रोड पर हुए दो पक्षों के झगड़े के मामले में लापरवाही बरतने पर एक उपनिरीक्षक और तीन कांस्टेबलों को लाइन हाजिर कर दिया गया है।

ये था मामला
बड़ौत में गुराना रोड पर रक्षाबंधन की रात हुए दो पक्षों के झगड़े के में लापरवाही बरतने वाले उप निरीक्षक कन्छिद सिंह प्रभारी चौकी बस स्टैंड थाना बड़ौत, सिपाही महेश, रामबक्स को तत्काल प्रभाव से लाइन हाजिर किया गया है।

उक्त के अतिरिक्त पुलिस लाइन से उपनिरीक्षक अमोल कुमार शर्मा को चौकी बस स्टैंड प्रभारी बनाया गया है। बड़ौत की चौकी बोहला पर नियुक्त सिपाही उदित चौधरी को लाइन हाजिर किया गया है।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us