विज्ञापन
विज्ञापन
आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली, और जानें कुंडली पर सूर्य का प्रभाव
Kundali

आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली, और जानें कुंडली पर सूर्य का प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

चित्रकूट में दर्दनाक सड़क हादसा, बोलेरो की टक्कर से मासूम की मौत, मां घायल

झांसी मिर्जापुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर रैपुरा थानाक्षेत्र के लालापुर गांव स्थित प्राचीन वाल्मीकि आश्रम के पास बोलेरो ने एक महिला व उसके मासूम बेटे को पीछे से टक्कर मार दी। हादसे में दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए और साथ मेें मौजूद भतीजी बाल बाल बच गई।

पुलिस ने दोनों को जिला अस्पताल मेें भर्ती कराया, जहां मासूम की मौत हो गई। थाना क्षेत्र के अगरहुडा गांव के गिरधारापुरवा निवासी निशा देवी (25) पत्नी रामबाबू सोमवार को अपने दो वर्षीय पुत्र सुधीर व भतीजी अंजू (6) पुत्री बलरामदास के साथ वाल्मीकि आश्रम स्थित देवी मंदिर में दर्शन करने के लिए जा रही थी।

आश्रम पहुंचने से पहले ही प्रयागराज की ओर से आ रही एक बोलेरो ने निशा व उसके बेटे सुधीर को पीछे से टक्कर मार दी। इसमें मासूम सुधीर व उसकी मां निशा घायल हो गईं और भतीजी अंजू बाल-बाल बच गई। पुलिस घायलों को जिला अस्पताल ले गई, जहां डॉक्टरों ने सुधीर को मृत घोषित कर दिया।

सुधीर के दादा बलराम ने बताया कि वह निशा का इकलौता पुत्र था। पिता रामबाबू मजदूरी कर परिवार चलाते हैं। थानाध्यक्ष सुशील चंद्र शर्मा ने बताया कि शव को पोस्टमार्टम को भेजा है। बोलेरो पकड़ ली गई है, उसके मालिक व चालक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।
... और पढ़ें
मासूम की फाइल फोटो व अस्पताल में भर्ती मां मासूम की फाइल फोटो व अस्पताल में भर्ती मां

बसपा विधायक विनय शंकर तिवारी और उनकी पत्नी के खिलाफ सीबीआई ने दर्ज की एफआईआर, घोटाले का लगा है आरोप

सीबीआई ने सोमवार को बैंक से लोन लेकर धोखाधड़ी करने के मामले में गंगोत्री इंटर प्राइजेज कंपनी के निदेशकों के ठिकानों पर छापे मारे हैं। यह कंपनी बसपा के गोरखपुर की चिल्लूपार सीट से मौजूदा विधायक विनय शंकर तिवारी की बताई जा रही है।

सीबीआई की टीम ने विनय तिवारी के लखनऊ आवास और कंपनी के कार्यालय के अलावा नोएडा में छापे मारे। इस दौरान कई अहम दस्तावेज सीबीआई अपने साथ ले गई है। सीबीआई के प्रवक्ता ने बताया कि बैंक आफ इंडिया की ओर से शिकायत दर्ज कराई गई थी कि गंगोत्री इंटरप्राइजेज लिमिटेड के अधिकारियों ने बैंक को 753.24 करोड़ का नुकसान पहुंचाया। इन लोगों ने फर्जी दस्तावेज के सहारे बैंक से क्रेडिट लिया और फिर उस पैसे का इस्तेमाल दूसरी जगह किया गया।

प्रवक्ता ने बताया कि उक्त कंपनी के महानगर स्थित कार्पोरेट आफिस है। यह कंपनी सड़कों के निर्माण, पुल और ओवर ब्रिज बनाने का काम करती है। कंपनी ने इसी तरह के काम के नाम पर बैंक से क्रेडिट लिया था। सूत्रों का कहना है कि इन पैसों को दूसरी कंपनी में डायवर्ट कर हेराफेरी की गई। इस धोखाधड़ी में गंगोत्री इंटरप्राइजेज के अलावा रायल एंपायर मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड व कंदर्प होटर इंटरप्राइजेज भी शामिल हैं।

 
... और पढ़ें

इलाहाबाद हाईकोर्ट में यूपी सरकार ने माना, 31661 पदों पर शिक्षक भर्ती के मामले में हुईं गलतियां, रद्द होगा गलत चयन

फाइल फोटो
69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती में 31661 पदों पर भर्ती के मामले में प्रदेश सरकार ने स्वीकार किया है कि चयन में गलतियां हुई हैं और कुछ कम मेरिट के लोगों को नियुक्ति मिल गई। जबकि अधिक मेरिट वालों को नहीं मिल सकी। 

इलाहाबाद हाईकोर्ट में चल रही इस मामले की सुनवाई के दौरान महाधिवक्ता राघवेंद्र सिंह ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से उपस्थित होकर बताया कि एनआईसी और बेसिक शिक्षा परिषद से हुई इस गलती के जांच के लिए सरकार ने कमेटी गठित कर दी है। 

उन्होंने कहा कि जो भी गलतियां हुई हैं, उनको सुधारा जाएगा और सरकार गलत चयन रद्द करेगी। संजय कुमार यादव व अन्य की याचिकाओं पर सुनवाई कर रहे न्यायमूर्ति अजीत कुमार ने जब महाधिवक्ता से पूछा कि क्या अदालत उनका यह बयान रिकार्ड कर दे तो उन्होंने इस पर सहमति देते हुए कहा कि सूची जारी करने में एनआईसी और बेसिक शिक्षा परिषद के स्तर से हुई गलती को सुधारा जाएगा तथा कम गुणांक वालों को दिया गया नियुक्तिपत्र निरस्त कर अधिक गुणांक पाने वालों को दिया जाएगा। 

याची के पक्ष से अधिवक्ता अग्निहोत्री कुमार त्रिपाठी, अनिल सिंह बिसेन आदि का कहना था कि नियुक्ति पत्र देने के लिए जारी की गई सूची में बहुत से ऐसे मामले हैं, जिनमें कम गुणांक वालों को नियुक्ति पत्र दे दिया गया जबकि अधिक गुणांक पाने वाले चयन से बाहर हैं। 
... और पढ़ें

हाथरस कांड: सुरक्षा को लेकर चिंतित दिखा बिटिया का परिवार, कहा-इस गांव से तो हमारा ‘देश निकाला’ ही हो जाएगा

बाहुबली हरिशंकर तिवारी के परिवार पर बकाया है सात बैंकों का 1129 करोड़ रुपये, कई बैंक जारी कर चुके हैं समन

बाराबंकी में दो छात्राएं मिली पॉजिटिव, अभिभावकों को बुलाकर होम आइसोलेट के लिए भेजा

सात माह बाद सोमवार को बाराबंकी जिले के 292 माध्यमिक विद्यालय खुले। पहले दिन पंजीकृत कुल विद्यार्थियों की अपेक्षा 10 फीसदी विद्यार्थी ही स्कूल पहुंचे। जबकि अभिभावकों की सहमति वाले भी एक चौथाई बच्चों ने ही  अपनी उपस्थित दर्ज कराई। विद्यालयों में कोविड-19 के प्रोटोकाल का पालन करते हुए उनकी कक्षाओं का संचालन किया गया। वहीं शहर के राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में सीएमओ कार्यालय की टीम ने पहुंचकर पूरे स्टाफ व उपस्थित सभी छात्राओं की कोरोना की एंटीजन जांच की। जिसकी रिपोर्ट में दो छात्राएं पॉजिटिव पाई गई। इसके बाद हड़कंप मच गया। ऐसे में छात्राओं के  अभिभावकों को सूचना देकर बुलाया गया। उसके बाद उनकी जिला अस्पताल जांच कराने के बाद छात्राओं को होम आइसोलेट की सलाह के साथ घर भेज दिया गया।

मार्च माह से बंद माध्यमिक विद्यालय नवीं से 12वीं तक की कक्षाओं के संचालन के लिए सोमवार से दो पालियों में खोले गए। जिले में 315 माध्यमिक विद्यालयों में 1.27 लाख छात्र-छात्राएं पंजीकृत है। इसमें से 41 हजार विद्यार्थियों के अभिभावकों ने उन्हें विद्यालय भेजने की अनुमति विद्यालयों को दी थी। कोविड-19 के प्रोटोकाल की तहत तैयारी करने वाले 292 विद्यालय सोमवार को खुले मगर, करीब 10 फीसदी विद्यार्थी ही पहले दिन स्कूल पहुंचे। हालांकि अनुमति देने वाले 41 हजार बच्चों के पहले दिन स्कूल पहुंचने की उम्मीद थी। जिसके चौथाई ही बच्चे स्कूल आए। ऐसे में सुबह की पाली में 9वीं व 10वीं के छात्र-छात्र-छात्राएं तो दूसरी पाली में 11वीं व 12वीं कक्षा के विद्यार्थी स्कूल पहुंचे।  अधिकांश विद्यार्थियों ने मास्क तो कुछ रूमाल से मुंह बांध रखे थे। सरकारी व एडेड स्कूलों में गिनती के बच्चे ही पहले दिन की क्लास में दिखे। जबकि वित्त विहीन कॉलेजों में संख्या ठीक-ठाक रही।

कोविड-19 के प्रोटोकाल को लेकर जहां स्कूलों में साफ-सफाई दिखी। वहीं सैनिटाइजेशन कराने के साथ ही मुख्य गेट पर बच्चों को हाथ सैनिटाइज करने का पैनल लगाया गया था। हर बच्चे की थर्मल स्क्रीनिंग की जांच कर उन्हें प्रवेश दिया गया। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो, इसलिए कई विद्यालयों ने गेट के बाहर गोला बना रखा था। विद्यालयों में लंबे समय बाद सोमवार को शैक्षिक माहौल दिखने के बाद क्लास रूम का सन्नाटा टूटा। हालांकि बच्चों को सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर दूर-दूर बैठाया गया था।

पहले दिन एहतियात के तौर पर राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में सीएमओ कार्यालय से पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पूरे स्टाप व दोनों पालियों में उपस्थित 115 छात्राओं की कोरोना की एंटीजन जांच की। जिसकी रिपोर्ट में दो छात्राएं पॉजिटिव मिली तो हड़कंप मच गया। हालांकि उनके अभिभावकों को सूचना देकर बुलाया  गया। उसके बाद उनकी जांच जिला अस्पताल में कराने के बाद छात्राओं को होम आइसोलेट करने की सलाह देकर घर भेज दिया गया। वहीं कॉलेज को सैनिटाइज कराया गया।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X