विज्ञापन
विज्ञापन
शरद पूर्णिमा पर जरूर रखें इन बातों का ख़ास ख्याल, जानें क्या करें और क्या नहीं ?
astrology

शरद पूर्णिमा पर जरूर रखें इन बातों का ख़ास ख्याल, जानें क्या करें और क्या नहीं ?

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

यमुना एक्सप्रेस वे पर हादसाः सड़क किनारे खड़ी कार में पीछे से मारी टक्कर, पति-पत्नी और बेटे की मौत

यमुना एक्सप्रेस वे पर थाना महावन क्षेत्र में माइल स्टोन 114 पर बुधवार सुबह दर्दनाक हादसा घटित हो गया। सड़क किनारे खड़ी ऑल्टो कार में पीछे से एक अन्य कार ने टक्कर मार दी। इस हादसे में तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। एक युवक घायल है जिसे उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

बताया गया है कि महावन छेत्र में राया बॉर्डर पर गाड़ी नंबर HR 26BS5989 ऑल्टो K10 में धर्मवीर सिंह राणा पुत्र दोजी राम निवासी हाउस नंबर 12 गली नंबर 4 राजीव नगर गुड़गांव, और ऊषा राना पत्नी धर्मवीर, अविनाश राणा पुत्र धर्मवीर सिंह गाड़ी को सड़क के किनारे खड़ा किया था।


इसी दौरान पीछे से गाड़ी नंबर PB 02CZ 4941 के चालक कुलदीप उर्फ लकी और प्रवीण कुमार निवासी गुरनाम नगर थाना बीडवीजन जिला अमृतसर पंजाब ने पीछे से ऑल्टो में टक्कर मार दी। ऑल्टो सवार धर्मवीर सिंह, ऊषा राणा और अविनाश राणा की इस हादसे में मृत्यु हो गई। दूसरी कार का ड्राइवर कुलदीप भी घायल हो गया। उसे उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया है। वहीं मृतकों के शव पोस्टमार्टम के लिए भेजे गए हैं।
 
... और पढ़ें
इसी कार से हुआ हादसा इसी कार से हुआ हादसा

पीएम के ड्रीम प्रोजेक्ट काशी विश्वनाथ धाम का निर्माण कार्य तेज, खास गुलाबी पत्थरों से लगा दमकने 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट श्री काशी विश्वनाथ धाम अब चुनार के गुलाबी पत्थरों से सजने लगा है। जयपुर में तराशे गए करीब 65 हजार क्यूबिक फीट गुलाबी पत्थरों की पहली खेप पहुंचने के बाद काम अब पूरा होने की ओर है। पत्थरों की दूसरी खेप भी आने लगी है। काशी विश्वनाथ धाम का निर्माण कार्य भी तेज हो गया है।

धाम का गुलाबी स्वरूप अब धीरे-धीरे आकार ले रहा है। मंदिर के चौक का काम अब प्रगति की ओर है। गुलाबी पत्थरों की आभा अब दर्शनार्थियों को भी नजर आने लगी है। नक्काशीदार पत्थरों की खूबसूरती भी उभरकर सामने आ रही है। श्री काशी विश्वनाथ धाम में मिले मंदिरों के जीर्णोद्धार और संरक्षण की जिम्मेदारी बीएचयू और संस्कृति मंत्रालय को सौंपी गई है।
 
... और पढ़ें

IPL 2020: अलीगढ़ में सट्टा विवाद में युवक की गोली मारकर हत्या, बवाल, आगजनी

बरेली शिक्षक हत्याकांड
सासनीगेट क्षेत्र के मिश्रित आबादी वाले सराय मिस्र में मंगलवार रात सट्टे के विवाद में वाल्मीकि-कोली समाज के युवकों की भिड़ंत में एक युवक की हत्या कर दी गई। हत्या के बाद उग्र हुए वाल्मीकि समाज ने जमकर बवाल काटा। एक तरफ आरोपी भाइयों के घरों पर पथराव व तोड़फोड़ कर आग लगाने की कोशिश की और फैक्टरी से बाइकें व स्कूटी निकालकर तोड़फोड़ करते हुए उनको भी फूंकने की कोशिश की। 

खबर पर एसएसपी, एसपी सिटी सहित तमाम पुलिस बल पहुंच गया। तब जाकर माहौल सामान्य हुआ। इधर, देर रात जिला अस्पताल में भी जुटी भीड़ हंगामा कर रही थी। वहां अलग पुलिस टीम उन्हें समझाने में लगी थी। वहीं, पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

सराय मिस्र गोबर खूंदा में वाल्मीकि व कोली समाज की मिश्रित आबादी रहती है। मंगलवार रात करीब 10 बजे वाल्मीकि समाज व कोली समाज के युवकों में सट्टे के विवाद में झगड़ा हो गया। आरोप है कि वाल्मीकि समाज के 24 वर्षीय शक्ति पुत्र प्रमोद को गोली मार दी। गोली मारने का आरोप कोली समाज के दो भाइयों पर लगा। गोली युवक के सीने में लगी थी। आनन-फानन उसे जिला अस्पताल ले जाया गया। जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। 

जैसे ही शक्ति की मौत की खबर उसके मोहल्ले में आई तो लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया और आरोपी भाइयों शंकर व वीरपाल के घर में घुसकर तोड़फोड़ कर दी। पास ही हार्डवेयर फैक्टरी में खड़ी स्कूटी व बुलेट बाइक को बाहर खींचकर उसमें तोड़फोड़ करते हुए आग लगाने की कोशिश की गई। घर में पथराव किया और आग लगाने की कोशिश की गई। खबर पर कई थानों का फोर्स व पीएसी मौके पर आ गई। पुलिस के सामने भी लोग घर में घुसकर तोड़फोड़ व पथराव कर रहे थे। 

देररात एसएसपी मुनिराज जी, एसपी सिटी अभिषेक कुमार, सीओ सुदेश गुप्ता समेत फोर्स मौजूद था। फॉरेंसिक टीम भी साक्ष्य जुटाने में लगी थी। पुलिस बल किसी तरह लोगों को रोके था। बार-बार लोग उग्र हो रहे थे। इधर, जिला अस्पताल में भी हंगामे के हालात बने थे। वहां कई थानों का फोर्स मौजूद था। सीओ प्रथम सुदेश गुप्ता ने मौत की पुष्टि करते हुए बताया कि आपसी विवाद में यह घटना हुई है।

आपसी विवाद में गोली चलने से एक युवक की मौत हो गई है। जिन दो भाइयों पर आरोप है, उनमें से एक को गिरफ्तार कर लिया गया है। घटना स्थल पर हालात नियंत्रित हैं। जांच के बाद ही घटना का मूल कारण पता चल सकेगा। 
- मुनिराज जी एसएसपी
... और पढ़ें

केन-बेतवा जल परियोजनाः यूपी और एमपी में पानी बंटवारे को लेकर फंसा नया पेच

महत्वाकांक्षी केन-बेतवा जल परियोजना में पानी बंटवारे को लेकर इन दिनों नया पेच फंसा हुआ है। पानी की मात्रा तय हो गई, लेकिन दोनों राज्य उत्तर प्रदेश (यूपी) और मध्य प्रदेश (एमपी) के बीच पानी लेने की समय अवधि को लेकर गतिरोध पैदा हो गया। मध्य प्रदेश जहां मानसूनी सीजन में अधिकांश पानी देने पर जोर दे रहा। वहीं, यूपी इसके लिए तैयार नहीं। सिंचाई अफसरों का कहना है नई दिल्ली में होने वाली उच्च स्तरीय बैठक में इस पर बीच की राह निकालने की कोशिश होगी। 

बुंदेलखंड, खासतौर से झांसी के लिए यह जल परियोजना काफी अहम है। इसके जरिए बुंदेलखंड के करीब 13695 हेक्टेयर भूमि की सिंचाई हो सकेगी। इसमें अधिकांश हिस्सा झांसी का है। वर्ष 2005 में एमओयू में हस्ताक्षर होने के बाद भी जल बंटवारे को लेकर मप्र-उप्र के बीच विवाद चल रहा है। लेकिन, सिंचाई अधिकारियों का कहना है कि यह मामला तकरीबन सुलझ चुका। दोनों ही राज्य 1700-1700 एमसीएम (मिलियन क्यूबिक मीटर) पानी पर राजी हो गए। लेकिन, अब नया पेच फंस गया। 

मप्र शासन बारिश के दिनों में ही पानी आगे छोड़ने को राजी है। जबकि उप्र उसकी यह शर्त मानने को राजी नहीं। सिंचाई अफसरों का कहना है बारिश में यूपी के पास भी पानी भरपूर रहता है, ऐसे में यह शर्त मानने पर नुकसान होगा। इसी बात को लेकर पिछले काफी समय से दोनों प्रदेशों के बीच गतिरोध चल रहा है। पिछले दिनों दोनों प्रदेशों के अधिकारियों के बीच बैठक हुई लेकिन, निर्णय नहीं हो सका। अब बृहस्पतिवार को होने वाली सालाना उच्च स्तरीय बैठक में इस पर चर्चा होने की उम्मीद है। स्थानीय सिंचाई अफसर बैठक की तैयारियों में जुटे रहे।     
 
बरुआसागर में आकर मिलेगी मुख्य नहर
केन-बेतवा जलपरियोजना झांसी के लिहाज से काफी अहम परियोजना है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई के कार्यकाल में देश की 37 नदियों को आपस में जोड़ने की कवायद शुरू हुई थी। उसमें इस परियोजना को सबसे पहले आरंभ करने निर्णय लिया गया था। करीब छह हजार करोड़ रुपये की इस परियोजना का मुख्य बांध पन्ना के टाइगर रिजर्व के डोंदन गांव पर बनाया जाना है। इसके जरिए चार बांध बनाए जाने हैं। यह सभी बांध मप्र में ही बनाए जाने हैं। 218 किमी लंबी मुख्य नहर झांसी के बरुआसागर में लाकर मिलाने का प्रस्ताव है। इससे झांसी के सूखा ग्रस्त इलाकों तक भी आसानी से पानी पहुंच सकता है। लेकिन, पिछले 15 साल से उप्र एवं मप्र के बीच पानी को लेकर गतिरोध बना हुआ है।
... और पढ़ें

बदलते मौसम में खानपान में बदलाव से रहेंगे स्वस्थ, खाने में शहद समेत इन चीजों को करें शामिल व इनसे बनाएं दूरी

हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचे अबदुल्ला आज़म

इलाहाबाद हाईकोर्ट के रामपुर की स्वार विधान सभा सीट पर चुनाव कराने के आदेश के खिलाफ अब्दुल्ला आज़म सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए हैं। उन्होंने अपने अधिवक्ता के माध्यम से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है, जिस पर बुधवार को सुनवाई हो सकती है। 

यह सीट यहां के विधायक अब्दुल्ला आजम का निर्वाचन हाईकोर्ट द्वारा रद्द किए जाने की वजह से रिक्त हो गई है। सदस्यता रद्द करने के हाइकोर्ट के 16 दिसंबर 2019 के फैसले को उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे रखी है, जो अभी विचारधीन है। इस वजह से चुनाव आयोग ने इस सीट पर उप चुनाव कराने का एलान नहीं किया था। 

इसको लेकर नगर पालिका परिषद स्वार के पूर्व अध्यक्ष शफीक अहमद द्वारा हाई कोर्ट में याचिका दायर कर इस सीट पर उप चुनाव कराय जाने की मांग की गई थी। हाई कोर्ट के न्यायमूर्ति शशिकांत गुप्ता और न्यायमूर्ति पंकज भाटिया की खंडपीठ ने चुनाव आयोग को इस सीट पर उप चुनाव कराने के आदेश दिए थे। 

इस आदेश को अब्दुल्ला आज़म ने सुप्रीम कोर्ट में एसएलपी दायर कर चुनौती दी है। इस पर बुधवार को सुनवाई हो सकती है। हाई कोर्ट ने 22 अक्तूबर को स्वार विधानसभा सीट पर उप चुनाव कराने का आदेश दिया था।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X