विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
मात्र 2 दिन शेष ,गंगा दशहरा पर कराएं गंगा आरती एवं दीप दान, पूरे होंगे रुके हुए काम
Puja

मात्र 2 दिन शेष ,गंगा दशहरा पर कराएं गंगा आरती एवं दीप दान, पूरे होंगे रुके हुए काम

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

दिल्ली: आरएमएल अस्पताल के डीन की हालत में सुधार, सोशल मीडिया पर लिखा भावुक पोस्ट

राम मनोहर लोहिया अस्पताल के डीन के संक्रमित पाए जाने के बाद अस्पताल प्रबंधन की चिंता बढ़ गई थी, लेकिन शनिवार को उनकी हालत में सुधार दर्ज किया गया। बताया गया कि उनकी तबीयत में तेजी से सुधार आ रहा है।

आज उन्हें आईसीयू से रूम में शिफ्ट कर दिया गया है। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उन्हें मैक्स साकेत के आईसीयू में भर्ती कराया गया था। मालूम हो कि उनकी पत्नी और दामाद भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। हालांकि अब उनकी हालत में सुधार हो रहा है।

इसी बीच रूम में शिफ्ट किए जाने के बाद डीन ने सोशल मीडिया पर अपने शुभचिंतकों को समर्पित एक भावुक पोस्ट लिखा है। उन्होंने लिखा कि मेरा यह पोस्ट सभी मित्रों और शुभचिंतकों को समर्पित है जिन्होंने ऐसे संकट के समय में मेरे स्वस्थ होने की कामना की।



इस घड़ी में मुझे कॉल कर मेरा हाल जानने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन, केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के निदेशक का बहुत आभार। 

उन्होंने ने आगे लिखा कि आप सभी के आशीर्वाद से मुझे प्लाजमा थेरेपी और एंटी वायरल थेरेपी के बाद फिर से रूम में शिफ्ट कर दिया गया है। मेरी पत्नी और दामाद की हालत में भी सुधार हो रहा है। 
... और पढ़ें

दिल्ली में ऐसा होगा लॉकडाउन 5.0, पढ़ें किन चीजों में मिलेगी छूट और कहां जारी रहेंगे प्रतिबंध

लॉकडाउन के चौथे चरण के खत्म होने के बाद एक जून से देशभर में लॉकडाउन 5.0 लागू होगा। इसे लेकर गृह मंत्रालय ने दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं। नए नियमों के मुताबिक कई चीजों में छूट मिली है, लेकिन कंटेनमेंट जोन में आने वाले इलाकों में राहत नहीं दी गई है।

दिशा-निर्देशों के मुताबिक राजधानी दिल्ली में भी कुछ खास छूट नहीं मिली है। यहां पढ़ें लॉकडाउन 5.0 के तहत दिल्ली में किन चीजों को मिलेगी अनुमति और कौन से काम रहेंगे प्रतिबंधित। 

इन्हें मिलेगी छूट-
  • होटल और औद्योगिक संस्थान आठ जून के बाद खुल सकेंगे।
  • रात में 9 बजे से जारी होगा कर्फ्यू। सुबह पांच बजे तक बाहर निकलने पर रोक।
  • 8 जून से होटल, धार्मिक स्थल और रेस्टोरेंट को खोलने की मिली अनुमति।
  • दिल्ली से बाहर दूसरे राज्य जाने के लिए नहीं होगी पास की जरूरत।
  • मॉल्स को आठ जून के बाद खोलने की मिली मंजूरी।

यहां जारी रहेंगे प्रतिबंध
  • कंटेनमेंट जोन में लॉकडाउन के नियम पहले की तरह की लागू रहेंगे।
  • यह नियम कंटेनमेंट जोन में 30 जून यानी लॉकडाउन-5.0 तक लागू रहेंगे।
  • दवा और आवश्यक सामानों की ही डिलीवरी होगी ।
  • मेट्रो सेवाएं बंद रहेंगी।
... और पढ़ें

Delhi-NCR Live: गुरुग्राम में 157 नए संक्रमित, दिल्ली में कुल मरीजों की संख्या 18 हजार के पार

दिल्ली में 122 कंटेनमेंट जोन
दिल्ली में अब कुल कंटेनमेंट जेन की संख्या 122 हो गई है। अब तक कुल 53 इलाकों को कंटेनमेंट जोन की सूची से बाहर किया जा चुका है।



गुरुग्राम में 157 नए संक्रमित
दिल्ली से सटे गुरुग्राम में भी कोरोना का खतरा बढ़ता ही जा रहा है। शनिवार को यहां 157 नए मरीज सामने आए, जिसके बाद जिले में कुल संक्रमितों की संख्या 677 पहुंच गई है।

गाजियाबाद: 11 मरीजों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि 
गाजियाबाद में आज कोरोना संक्रमण के 11 नए मरीजों की पुष्टि हुई है। इसमें इंदिरापुरम के आशियाना ग्रीन, वसुंधरा, खोड़ा, सूर्य नगर, वैशाली,  कौशांबी, लोनी व लोहिया नगर के मरीज शामिल हैं। शनिवार को 211 सैंपल जांच के लिए भेजे गए, जिनमें से 167 की रिपोर्ट आई है। इनमें से 11 मरीज पॉजिटिव पाए गए हैं, जबकि अभी भी विभाग को 508 सैंपलों की जांच रिपोर्ट का इंतजार है। 

बुलंदशहर में आज मिले 9 कोरोना संक्रमित
बुलंदशहर के सिकंदराबाद क्षेत्र में मृत कोरोना पॉजिटिव की घरेलु सहायिका के पति समेत तीन की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। नगर के आवास विकास कालोनी प्रथम निवासी अधिवक्ता की पत्नी भी कोरोना संक्रमित पाई गईं। वहीं खुर्जा क्षेत्र में पूर्व में मिले संक्रमित के संपर्क में आने पर तीन अन्य लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है।

इसके अलावा सिकंदराबाद में एक मेडिकल स्टोर संचालक कोरोना संक्रमित पाया गया है और नगर के देवीपुरा प्रथम निवासी डायलिसिस मरीज में भी कोरोना की पुष्टि हुई है। अब जनपद में कुल संक्रमितों की संख्या 125 पहुंच गई है। इनमें से 83 मरीज ठीक हो चुके हैं, जबकि दो की मौत हो चुकी है और 40 मरीजों का इलाज चल रहा है।

दिल्ली में 1163 नए मामले
दिल्ली सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक शनिवार को राजधानी में कोरोना संक्रमण के 1163 नए मामले सामने आए, जिसके बाद संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 18549 हो गई है।
 

दिल्ली सचिवालय में एक कोरोना संक्रमित मिलने पर जीएडी विभाग सील
दिल्ली सचिवाल के जनरल एडमिनिस्ट्रेशन विभाग(जीडीए) में एक कोरोना संक्रमित मिलने के बाद इस विभाग को सैनिटाइजेशन के लिए सील कर दिया गया है। जीएडी को दिल्ली सरकार का हेडक्वार्टर कहा जाता है और सरकार का कामकाम यहीं से देखा जाता है।

गुरुग्राम में सामने आए 61 नए मामले, शाम तक और बढ़ेगी संख्या
गुरुग्राम में दोपहर तक 61 नए कोरोना के केस सामने आए हैं। शाम की बुलेटिन तक इनके और बढ़ने की बात कही जा रही है। बता दें कि बीते तीन दिनों में गुरुग्राम में कोरोना के केस बड़ी संख्या में सामनेे आ रहे हैं। गुरुवार को 68 मामले सामने आए थे और शुक्रवार को 115 केस सामने आए। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के चलते ही गुरुग्राम प्रशासन ने दिल्ली बॉर्डर सील कर दिया है। उनका मानना है कि यहां दिल्ली से ही संक्रमण बढ़ा है।

एनडीएमसी में तीन नए संक्रमित मामले सामने आए
नई दिल्ली नगर निगम में तीन और संक्रमित सामने आए हैं जिसके बाद यहां संक्रमितों की कुल संख्या 19 हो गई है। इसमें से 15 सक्रिय केस हैं, जबकि 4 लोग ठीक हो चुके हैं।

दिल्लीः जीटीबी अस्पताल कोविड अस्पताल घोषित
दिल्ली सरकार ने गुरु तेग बहादुर अस्पताल को कोविड अस्पताल घोषित कर दिया है। इस अस्पताल में कोरोना वायरस के पुष्ट और संदिग्ध मरीजों को भर्ती करने के लिए 500 बेड का इंतजाम है। दिल्ली में जीटीबी पांचवा ऐसा अस्पताल है जिसे कोविड अस्पताल घोषित किया गया है।

दिल्ली-फरीदाबाद बॉर्डर पर भी हो रही चेकिंग
बदरपुर फरीदाबाद बॉर्डर पर भी वाहनों की लंबी कतार लगी है क्योंकि पुलिसकर्मी सिर्फ पहचान पत्र और पास देखने के बाद ही लोगों को बॉर्डर पार करने दे रहे हैं। 

दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर आज भी सख्ती जारी
सिंधु बॉर्डर पर पुलिसकर्मी वाहनों की जांच कर रहे हैं। हरियाणा सरकार ने दिल्ली के साथ हरियाणा की सीमाओं को सील कर दिया है, सिर्फ जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों और जिनके पास 'पास' है, उन्हीं को आवाजाही की अनुमति है। 

ओखाल मंडी में स्क्रीनिंग के बाद प्रवेश
दिल्ली की ओखला सब्जी मंडी में आज सुबह बड़ी संख्या में लोग खरीदारी करने पहुंचे, मंडी में प्रवेश से पहले सभी लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग की गई। ... और पढ़ें

दिल्ली में कोरोना LIVE: रिकार्ड मामले आए सामने, एक दिन में 1295 लोग संक्रमित

दिल्ली में कोरोना के रिकॉर्ड मामले 
दिल्ली में रविवार को कोरोना वायरस के 1295 नए मामले सामने आए हैं। इसी के साथ कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 19844 हो गई है। रविवार को राजधानी में 416 लोगों को डिस्चार्ज किया गया है। जबकि अबतक 8478 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। 

स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार कोरोना वायरस से रविवार को 13 लोगों की मौत हुई। अबतक दिल्ली में कोरोना वायरस से 473 लोगों की मौत हो चुकी है। दिल्ली में अभी 10893 एक्टिव केस हैं। 


कालकाजी मंदिर खोलने की तैयारी
दिल्ली का कालकाजी मंदिर प्रशासन लॉकडाउन के बाद मंदिर खोलने के लिए एहतियाती कदम उठा रहे हैं। सरकार ने 8 जून से सभी धार्मिक स्थलों को फिर से खोलने की अनुमति दे दी है। मंदिर के पुजारी ने कहा कि हम सामाजिक दूरी और मंदिर की सैनिटाइजेशन सुनिश्चित करेंगे। भक्तों से अनुरोध है कि वो मास्क पहने और प्रसाद लाने से भी बचें। 

लॉकडाउन के कारण दिल्ली पर मंडराया आर्थिक संकट
कोरोना काल के इस दौर में दिल्ली को अब आर्थिक चुनौतियों का भी सामना करना पड़ रहा है। रविवार को उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि दिल्ली सरकार के पास अब कर्मचारियों को देने के लिए पैसे नहीं हैं। दिल्ली सरकार को आर्थिक सहायता की जरूरत है इसलिए केंद्र उन्हें तत्काल पांच हजार करोड़ रुपये की सहायता करे।

दिल्ली पुलिस के एक अन्य कर्मचारी की कोरोना से मौत
दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने बताया कि रविवार को कोरोना संक्रमण से पुलिसकर्मी की मौत का तीसरा मामला सामने आया है। 52 वर्षीय पुलिसकर्मी की आज कोरोना से मौत हो गई। 
 


कोरोना से एक पुलिसकर्मी की मौत
दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा में नियुक्त एक पुलिसकर्मी की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई। डीसीपी सेंट्रल, संजय भाटिया ने बताया कि कुछ दिनों पहले उन्हें कोरोना संक्रमित पाया गया था, जिसके बाद उनका उपचार चल रहा था, लेकिन शनिवार को उन्होंने दम तोड़ दिया।

दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर चेकिंग
दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर आवागमन करने वालों की पुलिस गहनता से जांच कर रही है। पास और आईडी कार्ड देखने के बाद ही लोगों को बॉर्डर पार करने की अनुमति दी जा रही है। दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर हरियाणा सरकार ने अपनी सीमा को पूरी तरह सील कर दिया है।
 
... और पढ़ें
दिल्ली में कोरोना वायरस दिल्ली में कोरोना वायरस

दो बार निगेटिव आई दिल्ली पुलिस के कर्मचारी की रिपोर्ट, हालत बिगड़ने पर हुई कोरोना की पुष्टि, पांच दिन बाद मौत

कोरोना की चपेट में आने के कारण दिल्ली पुलिस के कर्मचारी की मौत का तीसरा मामला सामने आया है। बाहरी जिले के सुल्तानपुरी पुलिस स्टेशन में तैनात एएसआई की आज सुबह मौत हो गई। 

बताया गया कि वे एक मई से ही सुल्तानपुरी में हाइवे की पेट्रोलिंग ड्यूटी कर रहे थे। 11 और 22 मई को कराई गई जांच में उनकी रिपोर्ट भी निगेटिव आई थी। 22 मई तो तबीयत खराब लगने पर वे एसजीएम अस्पताल पहुंचे, जहां डॉक्टर ने उन्हें एक सप्ताह के लिए आराम करने की सलाह दी।

26 मई की सुबह वो किराड़ी सुलेमान नगर स्थित अपने आवास पर थे, जब अचानक उन्हें सांस लेने में समस्या होने लगी। उन्हें तत्काल एसजीएम अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसी दिन शाम में उन्हें आर्मी बेस अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया जहां उनका इलाज चल रहा था। 

26 मई को ही तीसरी बार आर्मी बेस अस्पताल में उनकी कोरोना जांच की गई, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव निकली। इसके बाद से उसी अस्पताल में उनकी इलाज चल रहा था। रविवार सुबह उनकी तबीयत अचानक बिगड़ने लगी और 11:30 बजे के करीब उन्होंने दम तोड़ दिया।

शनिवार को भी एक पुलिसकर्मी ने तोड़ा दम
इससे पहले शनिवार को दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा में नियुक्त एक पुलिसकर्मी की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई थी। डीसीपी सेंट्रल, संजय भाटिया ने बताया कि तीन दिन पहले असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर शेषमणि पांडेय को कोरोना संक्रमित पाया गया था, जिसके बाद उनका उपचार चल रहा था, लेकिन शनिवार को उन्होंने दम तोड़ दिया।

बीते 26 मई को बुखार और खांसी होने पर लेडी हर्डिंग अस्पताल में उनकी जांच की गई थी। 28 मई को आई रिपोर्ट में उन्हें कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। इसके बाद उन्हें दिल्ली कैंट स्थित बेस आर्मी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां कल शाम उनकी मौत हो गई। इनसे पहले कांस्टेबल अमित राणा की भी कोरोना संक्रमण के कारण मौत हो गई थी।
... और पढ़ें

दिल्ली: 24 घंटे में बने 20 नए कंटेनमेंट जोन, कुल 122 इलाकों को किया गया सील

लॉकडाउन-5 की तरफ कदम बढ़ाती दिल्ली में कोरोना वायरस का संक्रमण भी तेजी से बढ़ रहा है। शनिवार को कंटेनमेंट जोन की संख्या अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गई। एक दिन में दिल्ली सरकार ने 20 नए कंटेनमेंट जोन घोषित किए, जिससे 122 इलाके सील कर दिए गए हैं। 

हालांकि, इस बीच तीन कंटेनमेंट जोन को डि-कंटेन भी किया गया। अधिकारियों का कहना है कि दिल्ली का सबसे संवेदनशील जिला उत्तरी दिल्ली है। संक्रमण मिलने से बीते 24 घंटों में यहां तीन नए कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। इससे इनकी संख्या 24 पार हो गई है। 

दूसरे नंबर पर दक्षिण पूर्वी जिला है, जहां 17 कंटेनमेंट जोन हैं। पश्चिमी दिल्ली जिले में शनिवार को चार नए जोन बनने से 16 इलाकों को सील किया गया है। इसके अलावा 12-12 कंटेनमेंट जोन दक्षिणी और दक्षिण पश्चिमी जिले में हैं। 

सबसे कम कंटेनमेंट जोन नई दिल्ली जिले में हैं। यहां सिर्फ तीन कंटेनमेंट जोन सक्रिय हैं। अधिकारियों का कहना है कि दिल्ली सरकार की सख्ती की वजह से कंटेनमेंट जोन की संख्या बढ़ रही है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने निर्देश दिया है कि अगर किसी इलाके में संक्रमण के मामले मिलते हैं तो उनको सील किया जाए। इससे संक्रमण पर रोक लगाई जा सकेगी। इसी वजह से बीते दो दिनों में कंटेनमेंट जोन की संख्या तेजी से बढ़ी है। 

48 घंटे में यह 95 कंटेनमेंट जोन से बढ़कर शनिवार को 122 हो गए। हालांकि, धीरे-धीरे पुराने इलाकों को डी-कंटेंन भी किया जा रहा है। अभी तक 53 इलाके को कंटेनमेंट जोन की सूची से बाहर किया जा चुका है।
... और पढ़ें

सीमा सील होने के कारण दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर लगा जाम, वाहनों की जांच कर रही पुलिस

दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर हरियाणा सरकार ने अपनी सीमा को पूरी तरह सील कर दिया है। रविवार सुबह दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर पुलिस आवागमन करने वालों की गहनता से जांच कर रही है। इस दौरान बॉर्डर पर यात्रियों को जाम का सामना करना पड़ा।

बॉर्डर पर पुलिस पास और आईडी कार्ड देखने के बाद ही लोगों को आने-जाने की अनुमति दे रही है। चेक पोस्ट पर तैनात पुलिसकर्मी सभी वाहनों को रोककर ई-पास देख रहे हैं उसके बाद ही किसी को आगे जाने की अनुमति दी जा रही है। इस वजह से बॉर्डर पर जाम की स्थिति बन जा रही है।

मालूम हो कि दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों का असर गुरुग्राम में भी नजर आने लगा है। दिल्ली गुरुग्राम सीमा पर सैकड़ों लोग हर रोज आना जाना करते हैं। ऐसे में गुरुग्राम में भी संक्रमण के फैलने का खतरा बढ़ गया है। इसीलिए हरियाणा सरकार ने दिल्ली ने सटी राज्य की सीमा को पूरी तरह सील करने का फैसला लिया है।
 
शनिवार को मिले थे 157 नए मरीज
गुरुग्राम में शनिवार को 157 नए कोरोना संक्रमित सामने आए। इसी के साथ आशंका जताई जा रही है कि अगली समीक्षा में गुरुग्राम जिला फिर रेड जोन में आ सकता है। लगातार दूसरे दिन जिले में 100 से अधिक संक्रमित मिले हैं। अब जिले में कुल संक्रमितों की संख्या 677 हो गई है। 

  ... और पढ़ें

दिल्ली: आर्मी कैंटीन में लगी आग, मौके पर दमकल की आठ गाड़ियां मौजूद

बॉर्डर पर जांच करती पुलिस
दिल्ली कैंट इलाके में स्थित आर्मी कैंटीन में रविवार सुबह आग लगने के कारण अफरा-तफरी मच गई। जानकारी मिलते ही दमकल की आठ गाड़ियां मौके पर पहुंचीं और आग पर काबू पाने में जुट गईं।
 
कुछ दिन पहले आनंद विहार में आग ने किया था नुकसान
इससे पहले 28 मई को पूर्वी दिल्ली के आनंद विहार इलाके में एक रिहायशी इमारत में आग लग गई थी। दमकल विभाग के निदेशक अतुल गर्ग ने बताया था कि दोपहर 12 बजकर 27 मिनट पर आग लगने की सूचना मिली, जिसके बाद मौके पर दमकल की सात गाड़ियां भेजी गईं। हालांकि उस घटना में किसी के घायल होने की सूचना नहीं मिली।

उन्होंने बताया था कि आग ने इमारत की दूसरी मंजिल और छत पर एक अस्थायी ढांचे को अपनी चपेट में ले लिया था। दूसरी मंजिल पर आग की वजह से घरेलू सामान के स्टोर का पूरा सामान जलकर राख हो गया। आग पर दोपहर एक बजकर 25 मिनट तक काबू पा लिया गया था।
... और पढ़ें

दिल्ली: अपराध शाखा में कार्यरत पुलिसकर्मी की कोरोना संक्रमण से मौत, डीसीपी सेंट्रल ने दी जानकारी

दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा में कार्यरत एक पुलिसकर्मी की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई। डीसीपी सेंट्रल, संजय भाटिया ने बताया कि तीन दिन पहले असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर शेषमणि पांडेय को कोरोना संक्रमित पाया गया था, जिसके बाद उनका उपचार चल रहा था, लेकिन शनिवार को उन्होंने दम तोड़ दिया।

एएसआई शेषमणि पांडेय इससे पहले सेना में कार्यरत थे। सेना में सेवा देने के बाद साल 2014 में उन्होंने दिल्ली पुलिस ज्वाइन किया था। वह मूल रूप से मध्यप्रदेश के रीवा जिले के रहने वाले थे और दिल्ली में नारायणा गांव में रहते थे।

बीते 26 मई को बुखार और खांसी होने पर लेडी हर्डिंग अस्पताल में उनकी जांच की गई थी। 28 मई को आई रिपोर्ट में उन्हें कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। इसके बाद उन्हें दिल्ली कैंट स्थित बेस आर्मी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां कल शाम उनकी मौत हो गई।
 
कोरोना वायरस के कारण दिल्ली पुलिस के किसी पुलिसकर्मी की मौत का यह दूसरा मामला सामने आया है। शनिवार को दिल्ली पुलिस के फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर शेषमणि पांडेय की मौत हो गई। गौरतलब है कि इनसे पहले कांस्टेबल अमित राणा की भी कोरोना संक्रमण के कारण मौत हो गई थी।
... और पढ़ें

दिल्ली-एनसीआर के कई इलाकों में फिर से बारिश, आसमान में नजर आया इंद्रधनुष

दिल्ली एनसीआर के कई इलाकों में रविवार शाम को बारिश हुई। फरीदाबाद में हल्की बारिश के बाद आसमान में इंद्रधनुष देखा गया। दोपहर बाद आसमान में बादल छाए रहे, जिसके बाद शाम को तेज बारिश हुई। बता दें रविवार सुबह 4 बजे के आस-पास भी एनसीआर के कई हिस्सों में बारिश हुई थी। 

शनिवार आधी रात के बाद दिल्ली-एनसीआर में हवाओं के साथ झमाझम बरसात का सिलसिला देर तक चलता रहा। मानसून से पहले की इस बारिश ने दिल्ली और एनसीआर में रहने वालों को उस भीषण गर्मी से मुक्ति दे दी है जो वे बीते कई दिनों से झेल रहे थे। मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली-एनसीआर में 30 से 35 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने का अनुमान है।  

मौसम विभाग के अनुसार अगले तीन दिनों तक आसमान खुला रहेगा। उस वक्त तापमान में बढ़ोतरी दर्ज की जाएगी। चार जून से दोबारा बारिश का अंदेशा है। इससे तापमान में गिरावट आएगी। मौसम विभाग के अनुसार रविवार को दिल्ली में आंधी-तूफान के साथ बारिश होने का पूर्वानुमान था। जबकि अधिकतम तापमान 35 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने की आशंका थी। 

जानकारी के मुताबिक बारिश के बाद बदरपुर इलाके में दिल्ली-फरीदाबाद बॉर्डर के पास पर जल भराव भी हुआ। 
... और पढ़ें

कोरोना संक्रमणः जनसंख्या के लिहाज से देश में सबसे अधिक जांच दिल्ली में 

देश में जनसंख्या के लिहाज से सबसे अधिक जांच दिल्ली में हो रही है। यहां दो करोड़ की आबादी पर 1,91,977 लाख लोगों के सैंपल लिए जा चुके हैं। अन्य राज्यों से तुलना करें तो राजधानी इस मामले में पहले स्थान पर है।

दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, यहां प्रतिदिन सात हजार लोगों की कोरोना जांच हो रही है। 18 मई तक चार हजार टेस्ट हो रहे थे, जो अब करीब दो गुना तक बढ़ गए हैं। जनसंख्या के आधार पर यह आबादी का करीब 2 फीसदी है।

अन्य राज्यों से तुलना करें तो सबसे अधिक 23 करोड़ की आबादी वाले उत्तर प्रदेश में करीब ढाई लाख लोगों की जांच हुई है। वहां आबादी के लिहाज से 0.17 लोग फीसदी के ही टेस्ट हुए हैं। राजधानी में प्रति 10 लाख की आबादी पर लगभग 10 हजार लोगों की जांच हो रही है। यह राष्ट्रीय स्तर से अधिक है।

12 दिनों में ही आए 7 हजार मामले
राजधानी में लॉकडाउन-4 के बाद दो सप्ताह से भी कम समय में सात हजार मामले आ चुके हैं। रोजाना औसतन कोरोना संक्रमण के 600 केस आ रहे हैं। यह देश में महाराष्ट्र और तमिलनाडु के बाद सबसे ज्यादा है।

राज्य                    कुल आबादी                         आबादी का प्रतिशत    कुल जांच
दिल्ली                     2 करोड़                                  1.0                     1,91,977 2
तमिलनाडु                8 करोड़                                  0.65                   4,35,900
राजस्थान                  8 करोड़                                  0.54                 3,65,566 4
आंध्र प्रदेश                  9 करोड़                                  0.43                  3.34,378 5
महाराष्ट्र                    13 करोड                                  0.42                  4,06,800
गुजरात                       7 करोड                                  0.37                  1,98,400
मध्य प्रदेश                 9 करोड़                                    0.24               1,42,800 8
पश्चिम बंगाल                10 करोड़                               0.21                  1,58,700 9
उत्तर प्रदेश                      23 करोड़                             0.15               2,56,588
बिहार                           12 करोड़                                0.08              70,741
नोट : सभी आंकड़े लगभग में हैं।
... और पढ़ें

कोरोना मरीजों को क्यों नहीं मिल पाती पर्याप्त ऑक्सीजन? इस कमी को कैसे दूर करते हैं डॉक्टर

कोरोना वायरस नाक, गले और फेफड़ों पर सबसे ज्यादा आक्रमण करता है। वायरस के प्रभाव से फेफड़ों में सूजन हो जाती है, जिसके कारण यह पर्याप्त वायु अपने अंदर नहीं ले पाता है।


संक्रमित व्यक्ति को दर्द भी होता है जिसके कारण वह सांस लेने में तकलीफ महसूस करता है। इससे खून में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है। हालत गंभीर होने पर मरीज को ऑक्सीजन मास्क लगााकर ऑक्सीजन की कमी पूरी की जाती है।

स्थिति बहुत ज्यादा गंभीर होने पर उसे वेंटीलेटर का सपोर्ट देना पड़ता है।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के सचिव डॉक्टर एसके पोद्दार ने अमर उजाला को बताया कि कोविड वायरस फेफड़ों को संक्रमित कर रक्त में ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित कर देता है।

ऑक्सीजन की कमी के कारण व्यक्ति की सांस फूलने लगती है। इससे व्यक्ति को बहुत अधिक दर्द और कमजोरी का अहसास होता है।

अगर ऑक्सीजन की कमी को समय से पूरा कर दिया जाए तो व्यक्ति को आराम महसूस होता है।

यही कारण है कि स्थिति बिगड़ने पर डॉक्टर मरीज को तुरंत ऑक्सीजन उपलब्ध कराने की कोशिश करते हैं।

लगभग 80 फीसदी मामलों में ऑक्सीजन मास्क से शरीर को आवश्यक मात्रा में ऑक्सीजन की पूर्ति हो जाती है। व्यक्ति की हालत स्थिर होने पर दवाओं के प्रभाव से वह स्वस्थ होने लगता है।

लेकिन जब किसी व्यक्ति में संक्रमण बहुत अधिक हो जाता है और वह बिल्कुल सांस लेने की स्थिति में नहीं होता, तब उसे वेंटीलेटर पर रखना पड़ता है।

यही कारण है कि कोरोना काल में आईसीयू बेड और वेंटीलेटर की उपलब्धता पर सबसे ज्यादा जोर दिया जा रहा है।

दिल्ली में कितने बेड्स पर ऑक्सीजन उपलब्ध

डॉ. एसके पोद्दार के मुताबिक ऑक्सीजन सिलेंडर अब हर अस्पताल की मूल आवश्यकता में शामिल हैं। यही कारण है कि दिल्ली के लगभग सभी प्रमुख अस्पतालों, प्राइवेट अस्पतालों में यह सुविधा उपलब्ध है।

दिल्ली सरकार ने जिन पांच अस्पतालों को समर्पित कोविड अस्पताल घोषित किया है, उनमें भी आईसीयू, ऑक्सीजन सिलेंडर और वेंटीलेटर्स की पर्याप्त उपलब्धता है।

सरकार यह संख्या लगातार बढ़ाने पर काम कर रही है।

दिल्ली में 6600 कोविड बेड बनाए जा चुके हैं। इनमें 3180 बेड्स ऑक्सीजन सपोर्ट के साथ उपलब्ध हैं। दिल्ली सरकार ने गुरु तेग बहादुर अस्पताल को भी पूरी तरह कोविड अस्पताल में बदल दिया है।

इस समय यहां 500 बेड हैं जिसे इसी हफ्ते 2000 तक बढ़ाए जाने की योजना है। इन सभी बेड्स पर ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जा रही है।

इसके बाद ऑक्सीजन सपोर्टेड बिस्तरों की संख्या में दो हजार की वृद्धि हो जाएगी।

दिल्ली सरकार के मुताबिक पांच जून तक कोरोना बिस्तरों की संख्या बढ़ाकर 9500 तक कर दी जाएगी। प्राइवेट अस्पतालो में भी ऑक्सीजन सपोर्टेड बिस्तरों की पर्याप्त संख्या उपलब्ध है।

राजधानी के विभिन्न अस्पतालों में इस समय लगभग 320 वेंटीलेटर्स उपलब्ध हैं। इनमें सरकारी अस्पतालों में 250 वेंटीलेटर्स तो बाकी प्राइवेट अस्पतालों के पास हैं।

इनकी उपलब्धता बढ़ाने पर भी काम चल रहा है।

 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन