विज्ञापन
विज्ञापन
लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

आरआईएमसी परिणाम: उत्तराखंड की एक मात्र सीट पर देहरादून के ओम दत्त शर्मा का चयन

राष्ट्रीय इंडियन मिलिट्री कॉलेज (आरआईएमसी) देहरादून में उत्तराखंड राज्य की एक मात्र सीट पर देहरादून के ओम दत्त शर्मा का चयन हुआ है।

17 अक्टूबर 2021

Digital Edition

केदारनाथ धाम: पीएम नरेंद्र मोदी के दौरे में सिक्स सिग्मा को मिली स्वास्थ्य सेवाओं की जिम्मेदारी 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 5 नवंबर को केदारनाथ दौरे में स्वास्थ्य एवं चिकित्सा व्यवस्था की जिम्मेदारी सिक्स सिग्मा हाई एल्टीट्यूड मेडिकल सर्विस को दी गई है। इस दौरान धाम में तीन चिकित्सकीय दल तैनात रहेंगे जिसमें विशेषज्ञ डॉक्टर, नर्स व पैरामेडिकल स्टाफ के लोग शामिल होंगे।

सिक्स सिग्मा के अधिकारियों को चिकित्सकीय व्यवस्था के लिए नई दिल्ली से जरूरी निर्देश भी मिल चुके हैं। साथ ही संस्थान ने केदारनाथ में सेटेलाइट कम्युनिकेशन (हेम रेडियो) भी स्थापित कर दिया है। इससे केदारनाथ से नई दिल्ली 24 घंटे बेहतर तरीके से संपर्क किया जा सकेगा। 

उत्तराखंड: दीपावली पर 10 कुंतल फूलों से सजेगा केदारनाथ मंदिर, प्रधानमंत्री मोदी के दौरे की तैयारियां भी शुरू

पीएम मोदी के केदारनाथ भ्रमण को लेकर जिला प्रशासन मूलभूत सुविधाओं व सुरक्षा तैयारियों में जुट गया है। साथ ही धाम में स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया करा रहे सिक्स सिग्मा हाई एल्टीट्यूट मेडिकल सर्विस को स्वास्थ्य व्यवस्था चाक चौबंद रखने को कहा गया है।

नई दिल्ली से मिले निर्देशों के तहत संस्थान द्वारा तीन चिकित्सकीय दल तैयार किए जा रहे हैं। इनमें हृदय रोग विशेषज्ञ, छाती रोग विशेषज्ञ, हड्डी रोग विशेषज्ञ, त्वचा रोग विशेषज्ञ, फिजिशियन शामिल होंगे।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: दीपावली पर ड्यूटी करने वाले रोडवेजकर्मियों को परिवहन निगम देगा प्रोत्साहन राशि

इस दीपावली पर उत्तराखंड परिवहन निगम की बसें चलाने वाली ड्राइवर, कंडक्टर और अन्य कर्मचारियों पर धनवर्षा होगी। परिवहन निगम ने इसके लिए दीपावली प्रोत्साहन योजना लांच की है। निगम ने फेस्टिवल सीजन में अधिक से अधिक आय अर्जित करने के लिए यह योजना शुरू की है।

निगम के महाप्रबंधक संचालन दीपक जैन ने बताया कि रोडवेज के ड्राइवर, कंडक्टर व तकनीकी कर्मचारियों के साथ ही संचालन से सीधे तौर पर जुड़े कर्मचारियों के लिए यह प्रोत्साहन योजना शुरू की गई है। यह योजना 11 दिन यानी 30 अक्तूबर से दस नवंबर तक लागू रहेगी।

निगम का मकसद है कि चार नवंबर को दीपावली, पांच नवंबर को गोवर्धन पूजा, छह नवंबर को भैया दूज पर निगम की सभी बसें पूरी क्षमता के साथ संचालित हों। इसके तहत जिन कर्मचारियों का साप्ताहिक अवकाश आएगा, वह बाद में दिया जाएगा। सभी को प्रोत्साहन राशि सीधे डिपो से ही नगद मिलेगी। 

एक अवकाश लेकर 11 दिन ड्यूटी पर यह सौगात
- ड्राइवर-कंडक्टरों को मैदानी मार्ग पर 2750 किलोमीटर (प्रतिदिन औसत 250 किमी), मिश्रित मार्गों पर 2200 किलोमीटर (प्रतिदिन औसत 200 किमी) और पर्वतीय मार्गों पर 1980 किलोमीटर (प्रतिदिन औसत 180 किमी) बस चलानी होगी।
- इस अवधि में जो भी ड्राइवर-कंडक्टर 11 दिन की ड्यूटी करेंगे, उन्हें निगम एक-एक हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि देगा।
- इस अवधि में जो कार्यशाला के तकनीकी कर्मचारी पूरे 11 दिन ड्यूटी करेंगे, उन्हें निगम 600 रुपये प्रति कर्मचारी प्रोत्साहन राशि देगा।
- इस अवधि में कार्यशाला में जो आउटसोर्स कर्मचारी 11 दिन की ड्यूटी करेंगे, उन्हें निगम 500 रुपये प्रति कार्मिक प्रोत्साहन राशि देगा।
- डिपो के संचालन में सीधे तौर पर जुड़े डीजल, बैग, चेकिंग, कैशियर व समयपाल लिपिकों को भी इस अवधि में 11 दिन ड्यूटी पर 500-500 रुपये की प्रोत्साहन राशि मिलेगी।
- जो ड्राइवर, कंडक्टर दीपावली के त्यौहार के दौरान दो नवंबर, तीन नवंबर, पांच नवंबर और छह नवंबर यानी चार दिन मैदानी मार्ग पर 1850 किमी, मिश्रित मार्ग पर 1400 किमी और पर्वतीय मार्गों पर 1000 किमी वाहन चलाएगा, उसे निगम अलग से एक-एक हजार रुपये प्रोत्साहन राशि देगा।
- इस अवधि में उच्च आय हासिल करने वाले तीन डिपो के सहायक महाप्रबंधकों और उपाधिकारियों को निगम अलग से प्रोत्साहित करेगा।

सबसे कम आय वालों पर गिरेगी गाज
परिवहन निगम ने इस प्रोत्साहन योजना में कम आय करने वालों पर सख्ती का प्रावधान भी किया है। इसके तहत हर डिपो में आय प्राप्ति की समीक्षा की जाएगी। इस समीक्षा में सबसे कम आय देने वाले पांच ड्राइवर-कंडक्टर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

चारधाम देवस्थानम बोर्ड: समिति ने सरकार को सौंपी अंतरिम रिपोर्ट, अब फैसले का इंतजार

चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड को लेकर गठित उच्च स्तरीय समिति ने सरकार को अंतरिम रिपोर्ट सौंप दी है। सोमवार को समिति के अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद मनोहर कांत ध्यानी ने सचिवालय में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से भेंट कर रिपोर्ट सौंपी है। समिति की रिपोर्ट का अध्ययन करने के बाद ही सरकार देवस्थानम बोर्ड पर कोई निर्णय लेगी।

त्रिवेंद्र सरकार में चारधाम देवस्थान प्रबंधन बोर्ड बनाया था। जिससे बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री धाम समेत 51 मंदिरों को शामिल किया गया था। चारधाम के तीर्थ पुरोहितों, हकहकूकधारियों ने शुरू से ही बोर्ड का विरोध कर सरकार से भंग करने की मांग कर रहे थे।

अगस्त 2021 में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बोर्ड पर उच्च स्तरीय समिति गठित करने की घोषणा की थी। पूर्व सांसद मनोहर कांत ध्यानी को समिति का अध्यक्ष बनाया गया था। सरकार ने समिति से सभी हितधारकों के पक्ष को सुनने के बाद देवस्थानम बोर्ड पर सिफारिश देने को कहा था। समिति ने दो माह के भीतर सरकार को अपनी अंतरिम रिपोर्ट सौंप दी है। समिति ने रिपोर्ट को सरकार ने गोपनीय रखा है। सरकार समिति की सिफारिशों के आधार पर देवस्थानम बोर्ड पर निर्णय लेगी। 

सरकार के फैसले का इंतजार
चारधाम तीर्थ पुरोहित हकहकूधारी महापंचायत के प्रवक्ता डॉ.बृजेश सती का कहना है कि देवस्थानम बोर्ड पर सरकार के फैसले का इंतजार है। उच्च स्तरीय समिति ने चाहे जो रिपोर्ट सरकार को सौंपी हो। तीर्थ पुरोहितों को सांसद अनिल बलूनी से भरोसा दिया कि देवस्थानम बोर्ड का फैसला वापस लिया जाएगा। तीर्थ पुरोहितों को बलूनी पर पूरा भरोसा है।
... और पढ़ें

उत्तराखंड चुनाव 2022: 30 अक्तूबर को देहरादून में जनसभा को संबोधित करेंगे अमित शाह, तैयारी में जुटा संगठन

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 30 अक्तूबर को देहरादून में एक जनसभा को संबोधित करेंगे। जनसभा से पहले वह सहकारिता विभाग की घसियारी कल्याण योजना का शुभारंभ करेंगे। इस दौरान वह प्रदेश भाजपा की कोर कमेटी की बैठक लेंगे।

विधानसभा चुनाव के लिहाज से शाह के इस दौरे को खासा अहम माना जा रहा है। कार्यक्रम को भव्य बनाने के लिए पार्टी जोर-शोर से जुटेगी। मंगलवार को प्रदेश पार्टी कार्यालय में शाह के कार्यक्रम को लेकर मंथन हुआ। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मदन कौशिक की अध्यक्षता में हुई बैठक में प्रदेश महामंत्री संगठन अजेय कुमार, प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार शामिल थे। 

उत्तराखंड चुनाव 2022: हरीश रावत बोले- भाजपा में अस्थिरता की स्थिति, कई नेता कांग्रेस में होना चाहते हैं शामिल

धर्मपुर विधानसभा में होगी जनसभा
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की जनसभा धर्मपुर विधानसभा में होगी। पहले जनसभा रायपुर विधानसभा में होने की चर्चा थी, लेकिन अब जनसभा बन्नू स्कूल मैदान में होगी।

चुनावी माहौल बनाने में मिलेगी मदद
पार्टी का मानना है कि शाह की सभा से भाजपा के पक्ष में चुनावी वातावरण बनाने में मदद मिलेगी। शाह की सभा में जिले की सभी विधानसभा से कार्यकर्ताओं को बुलाया जाएगा। सरकार के सभी मंत्री और पार्टी के पदाधिकारी व कार्यकर्ता इस कार्यक्रम में शामिल होंगे। 
... और पढ़ें
अमित शाह अमित शाह

देहरादून: महंगाई के खिलाफ सड़कों पर उतरी उक्रांद, गैस सिलिंडरों के साथ भैंसा-बुग्गी पर बैठकर निकाली रैली, तस्वीरें 

बेतहाशा बढ़ रही महंगाई, पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार बढ़ोतरी और देशभर में बढ़ती बेरोजगारी के खिलाफ उत्तराखंड क्रांतिदल के पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं ने पार्टी जिलाध्यक्ष दीपक रावत की अगुवाई में देहरादून में भैंसा-बुग्गी पर सवार होकर रैली निकाली। रैली की शुरुआत पार्टी कार्यालय से हुई जो महाराज अग्रसेन चौक, तहसील चौक, दर्शनलाल चौक, घंटाघर, गांधी पार्क, परेड ग्राउंड होते हुए कचहरी स्थित कार्यालय पर समाप्त हुई।

रैली के बाद आयोजित सभा में केंद्रीय महामंत्री जय प्रकाश उपाध्याय ने कहा कि महंगाई एवं बेरोजगारी अपने चरम स्तर पर है। जनता त्राहिमाम कर रही है, लेकिन केंद्र एवं राज्य सरकार महंगाई और बेरोजगारी दूर करने के लिए कोई कदम नहीं उठा रही है।

युवा केंद्रीय अध्यक्ष राजेंद्र बिष्ट ने कहा कि उक्रांद जनता की मांग और उनके हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं। राज्य की हालत देखकर हम उसको सुधारने के लिए सड़कों पर संघर्ष करते हैं। पछवादून जिलाध्यक्ष गणेश काला ने कहा कि बेरोजगारी चरम पर पहुंच गई है।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: बाबा केदार के दर पहुंचे हरीश रावत, मांगा मिशन-2022 की सफलता का आशीर्वाद, तस्वीरें

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने केदारनाथ पहुंचकर बाबा केदार के दर्शन कर पूजा-अर्चना की। उन्होंने मिशन-2022 की सफलता के लिए बाबा से आशीर्वाद भी मांगा। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में कांग्रेस को सत्ता में वापस लाना पहली प्राथमिकता है। उन्होंने तीर्थपुरोहितों से भेंटकर उनकी समस्याएं भी सुनीं। 

उत्तराखंड चुनाव 2022: हरीश रावत बोले- भाजपा में अस्थिरता की स्थिति, कई नेता कांग्रेस में होना चाहते हैं शामिल

मंगलवार को पूर्व सीएम हरीश रावत हेलीकॉप्टर से केदारनाथ पहुंचे। उन्होंने मंदिर में आराध्य बाबा केदार के दर्शन कर पूजा-अर्चना की और जलाभिषेक किया। उन्होंने आराध्य से उत्तराखंड की सुख-समृद्धि के साथ आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की विजयश्री का आशीर्वाद मांगा।

उत्तराखंड: पीएम मोदी की यात्रा से पहले केदारनाथ पहुंचे हरीश रावत, लगाए जा रहे सियासी मायने

बाबा के दर्शन कर मंदिर से बाहर आते समय उन्होंने प्रवेश द्वार से धाम में मौजूद यात्रियों का भी गर्मजोशी से अभिनंदन किया। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से बूथ स्तर पर जनसंपर्क कर आमजन को भाजपा सरकार की नाकामियों से अवगत कराने का आह्वान किया।
... और पढ़ें

उत्तराखंड आपदा: सुंदरढूंगा ग्लेशियर से बंगाल के पांचों ट्रैकरों के शव बरामद, गाइड का नहीं लगा कोई सुराग

सुंदरढूंगा ग्लेशियर में जान गंवाने वाले पांच ट्रैकरों के शवों को आखिरकार एसडीआरएफ की टीम, गाइड और स्थानीय लोगों ने ढूंढ लिया। पांचों ट्रैकर बंगाल के रहने वाले थे। इनके शव निकाल लिए गए हैं। पश्चिम बंगाल से पहुंचे उनके परिजनों ने शवों की शिनाख्त की। लापता गाइड कपकोट के जैकुनी (वाछम) निवासी खिलाफ सिंह दानू का कोई सुराग नहीं लगा है। उनकी खोज के लिए एसडीआरएफ की दूसरी टीम सुंदरढूंगा रवाना की जाएगी। 

पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिले के बागवान निवासी सागर डे (27) चंद्रशेखर दास (32), सरित शेखर दास (35) नदिया राजघाट निवासी प्रीतम राय (27) और कोलकाता बिहाला निवासी सादान बसाक (63) 12 अक्तूबर को जैकुनी निवासी गाइड खिलाफ सिंह दानू और चार पोर्टरों के साथ सुंदरढूंगा के लिए रवाना हुए थे। 17 अक्तूबर को बारिश और बर्फबारी के कारण दल लौटने लगा लेकिन बुजुर्ग ट्रैकर सादान बसाक की तबियत बिगड़ने के कारण इन लोगों को लौटने में दिक्कत आई। 18 अक्तूबर को गाइड खिलाफ सिंह दानू ने चारों पोर्टरों से कठलिया लौटकर बेस कैंप बनाने के लिए कहा। पोर्टर तो लौट गए लेकिन खिलाफ सिंह और पांचों ट्रैकर नहीं लौट पाए।

उत्तराखंड: आपदा प्रभावितों को मिलेगी राहत, सरकार ने बढ़ाई आर्थिक सहायता राशि

वापस आए पोर्टरों ने पांचों ट्रैकरों और गाइड के देवीकुंड नामक स्थान में फंसने की जानकारी दी।  21 अक्तूबर से जिला प्रशासन ने खोज और बचाव अभियान शुरू किया। सेना के हेलीकॉप्टरों से भी रेकी की गई लेकिन खराब मौसम के कारण सफलता नहीं मिली। 23 और 24 अक्तूबर को एसडीआरएफ की टीम के साथ स्थानीय लोगों को खोजबीन के लिए पैदल रवाना किया गया। दल ने 25 अक्तूबर को पांच शव देवीकुंड ग्लेशियर में पड़े देखे। मंगलवार को एसडीआरएफ ने बर्फ में दबे पांचों शवों को निकाल लिया।  शवों को सेना के दो हेलीकॉप्टरों के माध्यम से कपकोट के केदारेश्वर मैदान में बनाए गए हेलीपैड लाया गया। कपकोट सीएचसी में पांचों शवों की शिनाख्त बंगाल से आए उनके परिजनों सुब्रतो डे, अभिजीत राय और  विश्वजीत दास ने की। पोस्टमार्टम के बाद शवों को दिल्ली से आए रेजीडेंट कमिश्नर को सौंप दिया गया। रेजीडेंट कमिश्नर दिल्ली से दो एंबुलेंस के साथ कपकोट पहुंचे थे। शवों को दिल्ली से हवाई जहाज से पश्चिम बंगाल ले जाया जाएगा।
... और पढ़ें

अहोई अष्टमी 2021: बन रहे तीन विशेष योग, माताओं को पूजा के लिए मिलेगा 01 घंटे 17 मिनट, ये है शुभ मुहूर्त...

शवों को कपकोट लेकर पहुंची टीम
संतान की दीर्घायु एवं सुखी जीवन के लिए बृहस्पतिवार 28 अक्तूबर को अहोई अष्टमी का व्रत रखा जाएगा। यह व्रत करवा चौथ के चार दिन बाद और दीपावली से आठ दिन पूर्व खखा जाता है। आचार्य राकेश कुमार शुक्ला ने बताया कि इस बार अहोई अष्टमी पर तीन विशेष योगों के बीच माताएं उपवास रखेंगी। इसमें सर्वार्थ सिद्धि योग, रवि योग और गुरु पुष्य योग एक साथ बन रहे हैं।

इन योगों में पुष्य नक्षत्र को सभी नक्षत्रों का सम्राट कहा जाता है। बृहस्पतिवार को गुरु पुष्य नक्षत्र योग होने से काफी लाभ मिलता है। ऐसे में इस बार अहोई व्रत का फल माताओं को कई गुना ज्यादा मिलेगा।

डॉ. आचार्य सुशांत राज के अनुसार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को संतान के सुखी और समृद्धि जीवन के लिए अहोई अष्टमी को व्रत रखा जाता है। 28 अक्तूबर को शाम 5:39 से शाम 6:56 बजे तक अहोई अष्टमी की पूजा का शुभ मुहूर्त है।

अहोई अष्टमी के दिन अहोई माता की पूजा का मुहूर्त शाम को 01 घंटे 17 मिनट का है। इस दिन महिलाएं निर्जला व्रत कर अहोई माता की विधि-विधान से पूजा-अर्चना करती हैं। इस व्रत में शाम को तारों को अर्घ्य दिया जाता है।
... और पढ़ें

उत्तराखंड चुनाव 2022: बयानों से असहज भाजपा, कौशिक ने की हरक और फर्त्याल से बात

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने मंगलवार को यमुना कॉलोनी स्थित अपने सरकारी आवास में कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत और पार्टी विधायक पूरन सिंह फर्त्याल से मंत्रणा की। बंद कमरे में चली इस मंत्रणा के बाद कौशिक ने इसे सामान्य मुलाकात बताया। हालांकि, सियासी हलकों में दोनों नेताओं को तलब किए जाने की चर्चाएं तैर रही थीं। बकौल कौशिक, हरक सिंह हमारे वरिष्ठ नेता हैं और साथ मिलकर काम करेंगे और पार्टी चुनाव में 60 से अधिक सीटें जीतेगी।

उत्तराखंड चुनाव 2022: हरीश रावत बोले- भाजपा में अस्थिरता की स्थिति, कई नेता कांग्रेस में होना चाहते हैं शामिल

कौशिक ने नाश्ते पर बुलाया, नहीं गए रावत

सूत्रों के मुताबिक, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मदन कौशिक ने कैबिनेट मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत से सुबह फोन पर बात की। उन्हें नाश्ते के लिए आमंत्रित किया। रावत नहीं गए। बकौल रावत, किसी कारणवश उन्हें देरी हो गई, जिससे वह नाश्ते पर नहीं जा सके। सियासी हलकों में चर्चा रही कि रावत ने कौशिक का प्रस्ताव ठुकरा दिया है। हालांकि, रावत ने इसका खंडन किया और कहा कि उन्हें लंच के समय कौशिक के घर जाना है। दोपहर बाद वह कौशिक के घर पहुंचे जहां उनकी मंत्रणा हुई। 

फर्त्याल को गाड़ी बैठाकर आवास पर ले गए कौशिक
लोहाघाट के पार्टी विधायक पूरन फर्त्याल को भी प्रदेश कार्यालय में बुलाया गया था। फर्त्याल पार्टी कार्यालय पहुंचे। बैठक खत्म करने के बाद कौशिक बाहर निकले तो उन्होंने फर्त्याल को अपने वाहन बैठने को कहा। फर्त्याल उनके वाहन में बैठकर आवास गए जहां बंद कमरे में उनसे चर्चा की गई।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: पीएम मोदी की यात्रा से पहले केदारनाथ पहुंचे हरीश रावत, लगाए जा रहे सियासी मायने

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत आज मंगलवार को केदारनाथ धाम पहुंचे। उन्होंने बाबा केदार के दर्शन और पूजा कर आशीर्वाद लिया। वहीं, पीएम नरेंद्र मोदी आगामी पांच नवंबर को केदारनाथ आ रहे हैं। इस दौरान वे केदारनाथ पुर्ननिर्माण कार्यों का लोकार्पण भी कर सकते हैं। ऐसे में उनके दौरे से पहले पूर्व सीएम हरीश रावत की केदारनाथ यात्रा के सियासी मायने भी लगाए जा रहे हैं। 

केदारनाथ धाम: पीएम नरेंद्र मोदी के दौरे में सिक्स सिग्मा को मिली स्वास्थ्य सेवाओं की जिम्मेदारी

2013 में केदारनाथ में आई आपदा के तुरंत बाद अपने कार्यकाल में शुरू कराए गए पुनर्निर्माण कार्यों का जिक्र हरीश रावत अकसर करते रहे हैं। जबकि पीएम मोदी की भी केदारनाथ पुनर्निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका रही है। ऐसे में दोनों ही पार्टियां इस मुद्दे को लेकर नफा नुकसान का आकलन करती रही हैं। 

चुनाव में विजय का आशीर्वाद मांगा
पूर्व सीएम रावत ने मिशन-2022 की सफलता के लिए बाबा से आशीर्वाद भी मांगा। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में कांग्रेस को सत्ता में वापस लाना पहली प्राथमिकता है। उन्होंने तीर्थपुरोहितों से भेंटकर उनकी समस्याएं भी सुनीं। मंगलवार को पूर्व सीएम हरीश रावत हेलीकॉप्टर से केदारनाथ पहुंचे। उन्होंने मंदिर में आराध्य बाबा केदार के दर्शन कर पूजा-अर्चना की और जलाभिषेक किया। उन्होंने आराध्य से उत्तराखंड की सुख-समृद्धि के साथ आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की विजयश्री का आशीर्वाद मांगा। बाबा के दर्शन कर मंदिर से बाहर आते समय उन्होंने प्रवेश द्वार से धाम में मौजूद यात्रियों का भी गर्मजोशी से अभिनंदन किया।

उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से बूथ स्तर पर जनसंपर्क कर आमजन को भाजपा सरकार की नाकामियों से अवगत कराने का आह्वान किया। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने केदारनाथ में तीर्थपुरोहितों से भी बातचीत की।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: माइनस 10 डिग्री तापमान के बीच दुग्तू में फंसे सीपू के ग्रामीण, सरकार से लगाई बचाव की गुहार

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में माइनस 10 डिग्री तापमान के बीच दारमा घाटी के सीपू गांव के लोग दुग्तू और बालिंग में फंसे हुए हैं। उनका राशन भी खत्म हो गया है। दुग्तू के ग्रामीण उन्हें खाना खिला रहे हैं। कड़ाके की ठंड के बीच भूखे प्यासेइन लोगों ने वीडियो जारी कर विधायक और जिला प्रशासन से हेलीकॉप्टर भेजकर उन्हें वहां से निकालने की मांग की है। उनका कहना है कि तापमान में लगातार गिरावट से बच्चों और बुजुर्गों को सबसे अधिक परेशानी हो रही है।

उत्तराखंड आपदा: सुंदरढूंगा ग्लेशियर से बंगाल के पांचों ट्रैकरों के शव बरामद, गाइड का नहीं लगा कोई सुराग

सीमांत के सीपू गांव में पिछले दिनों हुई बारिश और बर्फबारी के बाद ग्रामीण निचले क्षेत्रों की ओर आ रहे हैं लेकिन कई जगह पैदल रास्ते ध्वस्त होने के कारण ये लोग दुग्तू और बालिंग में अपने मवेशियों के साथ फंसे हुए हैं। ग्रामीणों के समूह में महिलाएं, बच्चे और बुजुर्ग भी हैं। इन लोगों ने कहा कि वहां तापमान माइनस 10 डिग्री से कम हो गया है। ऐसे में बच्चों और बुजुर्गों को सबसे ज्यादा दिक्कत हो रही है।

सुरक्षा एजेंसियों की भी दिक्कतें बढ़ी 
मुनस्यारी- मिलम पैदल रास्ते के बंद होने के बाद सुरक्षा एजेंसियों की भी दिक्कतें बढ़ गईं हैं। उच्च हिमालयी क्षेत्रों को जाने वाले जवानों को भी खासी दिक्कतें हो रहीं हैं। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड मौसम: पहाड़ से मैदान तक खिली चटख धूप, चारधाम यात्रा सुचारू, हेलंग-उर्गम सड़क पर शुरू हुई आवाजाही

उत्तराखंड में आज मौसम साफ बना हुआ है। पहाड़ से लेकर मैदान चटख धूप खिली है। वहीं, चारधाम यात्रा भी सुचारू है। यमुनोत्री हाईवे पर जानकी चट्टी से पैदल मार्ग पर आवाजाही सुचारू है। आज मंगलवार को सुबह से अभी तक 350 यात्रियो ने मां यमुना के दर्शन किए। यमुना के पुजारी कुलदीप उनियाल व जानकी चट्टी पुलिस चौकी इंचार्ज गंभीर तोमर ने बताया कि दोपहर तक यात्रियों की आवाजाही मे बढ़ोतरी होती है। 

हेलंग-उर्गम सड़क पर शुरू हुई आवाजाही
हेलंग-उर्गम मोटर मार्ग पर वाहनों की आवाजाही शुरू हो गई है। सड़क खुलने पर स्थानीय ग्रामीणों ने राहत की सांस ली है। हालांकि अब भी किमी पांच जीरो बैंड पर भूस्खलन का खतरा बना हुआ है। यहां सड़क के पांच किलोमीटर हिस्से में भूस्खलन हो रहा है।  17 अक्तूबर को भारी बारिश के दौरान उर्गम मोटर मार्ग बाधित हो गया था। 25 अक्तूबर को देर शाम सड़क पर यातायात सुचारु हो गया। ब्लॉक प्रमुख जोशीमठ हरीश परमार, प्रधान संगठन के अध्यक्ष अनूप सिंह, ग्राम प्रधान देवग्राम देवेंद्र रावत, उप प्रधान चंद्रप्रकाश नेगी, उर्गम प्रधान मिंकल देवी, भर्की प्रधान मंजू देवी और जनदेश संस्था के सचिव लक्ष्मण नेगी ने कहा कि दस साल पहले इस सड़क का निर्माण हुआ था। लेकिन आज तक सड़क की स्थिति को सुधारा नहीं गया है। सड़क पर कहीं पुश्ते नहीं हैं तो कहीं नाली नहीं है। उर्गम घाटी में पंचम केदार कल्पेश्वर और पंच बदरी में ध्यानबदरी मंदिर स्थित है, जिससे यहां पर्यटकों और तीर्थयात्रियों की वर्षभर आवाजाही बनी रहती है। साथ ही इस सड़क से उर्गम घाटी की करीब 15 हजार आबादी जुड़ी हुई है।

बदरीनाथ में अलाव जलाने के आदेश
बदरीनाथ धाम में पड़ रही कड़ाके की ठंड को देखते हुए तहसील प्रशासन ने नगर पंचायत बदरीनाथ को धाम में शाम ढलते ही अलाव जलाने के आदेश दिए हैं। साथ ही निर्धन और असहाय तीर्थयात्रियों के लिए रात्रि निवास और कंबल उपलब्ध कराने को भी कहा गया है। दरअसल लगातार मौसम बदलने से बदरीनाथ की चोटियों पर बर्फबारी का सिलसिला जारी है। जिससे बदरीनाथ धाम में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। एसडीएम जोशीमठ कुमकुम जोशी ने बताया कि ठंड को देखते हुए बदरीनाथ धाम के सार्वजनिक स्थानों पर अलाव जलाने के लिए कहा गया है। 

उत्तराखंड: आपदा प्रभावितों को मिलेगी राहत, सरकार ने बढ़ाई आर्थिक सहायता राशि

निचले क्षेत्रों को लौटने लगे नीती घाटी के ग्रामीण 

भारत-तिब्बत (चीन) सीमा क्षेत्र के गांवों के लोग अपने शीतकालीन प्रवास की ओर लौटने लगे हैं। घाटी में भोटिया जनजाति के ग्रामीण निवास करते हैं। ग्रामीण प्रतिवर्ष 20 अक्तूबर से निचले क्षेत्रों की ओर लौटने लग जाते थे लेकिन इस बार हाईवे अवरुद्ध होने के कारण लौट नहीं पा रहे थे। रविवार रात को हाईवे सुचारू होने के बाद सोमवार से ग्रामीणों का शीतकालीन प्रवास की ओर लौटना शुरू हो गया है। नीती गांव के मां भगवती के पुजारी बृजमोहन खाती, वचन सिंह खाती का कहना है कि घाटी का प्रसिद्ध लास्पा मेला संपन्न होने के बाद अब ग्रामीण अपने शीतकालीन प्रवास की ओर लौटना शुरू हो गए हैं। बांपा गांव के धर्मेंद्र पाल, मनोज पाल, धीरेंद्र सिंह गरोड़िया व प्रेम सिंह फोनिया का कहना है कि मलारी हाईवे के बंद होने के चलते वे निचले क्षेत्रों में लौट नहीं पा रहे थे।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00