विज्ञापन
विज्ञापन
MyCity App MyCity App
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Uttarakhand Lockdown : लॉकडाउन में इस सिपाही ने ड्यूटी के साथ ही ली विक्षिप्तों के संरक्षण की जिम्मेदारी

कोरोना महामारी के खिलाफ जंग लड़ने के अलावा पुलिस कई सकारात्मक कार्य भी कर रही है।

8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

देहरादून

शुक्रवार, 10 अप्रैल 2020

घर पर खादी के मास्क बनाकर बांटे

शिवसेना ने किया क्षेत्र में सैनेटाइज

शिवसेना ने किया क्षेत्र में सैनेटाइज देहरादून। शिवसेना व्यापार प्रकोष्ठ के जिला प्रमुख विशाल बेदी व उप प्रमुख शिवम गोयल की ओर से कई क्षेत्रों में सैनेटाइज किया गया। विशाल बेदी ने बताया कि कांवली रोड खुड़बुड़ा, शिवाजी मार्ग, गोविन्दगढ़ में लोगों जागरूक भी किया। शिवम गोयल ने कहा कि समाज सेवा का दूसरा नाम शिवसेना है लॉक डाउन के 15वें दिन भी शिवसेना जरूरतमन्दों को राशन वितरण, भोजन व दैनिक उपयोग की वस्तुएं की उपलब्ध करा रही है। अभियान में मीनू बेदी, वैणीराम उनियाल, रेखा मित्तल, रोहित बेदी, अमित कर्णवाल, मनोज सरीन, विजय गुलाटी शामिल रहे। वहीं, दून यूनिवर्सिटी की ओर से भी भोजन से भोजन के पैकेट बांटे गए। ... और पढ़ें

आज खिली रहेगी तेज धूप

Uttarakhand Lockdown: उत्तराखंड में जानलेवा नहीं हुआ कोरोना वायरस, पांच संक्रमित हुए ठीक, बाकी मरीजों की हालत स्थिर

उत्तराखंड में कोरोना वायरस से संक्रमितों के मामले प्रतिदिन बढ़ रहे हैं, लेकिन वायरस जानलेवा साबित नहीं हुआ है। कोरोना से जंग में फ्रंट लाइन पर मोर्चा संभाल रहे डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ को इन संक्रमित मरीजों को ठीक करने में कामयाबी मिल रही है। प्रदेश में अब तक पांच कोरोना संक्रमित मरीज ठीक हो चुके हैं। जबकि बाकी मरीजों की हालत स्थिर है।

प्रदेश में 15 मार्च से लेकर आठ अप्रैल 2020 तक कोरोना वायरस के कुल 35 मामले सामने आए हैं। इसमें एक सप्ताह के भीतर 28 लोगों में कोरोना संक्रमण पाया गया। देहरादून, नैनीताल, ऊधमसिंह नगर और हरिद्वार जनपदों में कोरोना वायरस का प्रभाव है।

इन्हीं जनपदों से कोरोना पॉजिटिव के ज्यादा मामले हैं। डॉक्टरों के रात दिन एक करने से पांच लोगों ने कोरोना से जिंदगी की जंग जीती है। 27 मार्च को पहला ठीक हुए संक्रमित मरीज को घर भेजा गया। जबकि एक अप्रैल को दूसरा और छह अप्रैल को तीन संक्रमित मरीजों को अस्पताल से घर भेजा गया।

कब कहां से कितने संक्रमित मामले

जनपद          दिनांक                    कोरोना संक्रमित
देहरादूून         15 मार्च 2020             01
देहरादून          19 मार्च 2020             02
देहरादून          23 मार्च 2020             01
पौड़ी               25 मार्च 2020             01
देहरादून          28 मार्च 2020            01
देहरादून           29 मार्च 2020            01
यूएस नगर       02 अप्रैल 2020           03
देहरादून           03 अप्रैल 2020          05
यूएस नगर        03 अप्रैल 2020          01
नैनीताल           04 अप्रैल 2020          05
हरिद्वार           04 अप्रैल 2020          01
देहरादून            05 अप्रैल 2020          03
नैनीताल           05 अप्रैल 2020          01
देहरादून           06 अप्रैल 2020           04
अलमोड़ा          06 अप्रैल 2020           01
हरिद्वार          08 अप्रैल 2020           02
नैनीताल          08 अप्रैल 2020           02

प्रदेेश के अलग-अलग जनपदों के अस्पतालों में आइसोलेशन वार्डों में भर्ती संक्रमित मरीजों की हालत सामान्य है। दो बार सैंपल रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद ही उन्हें अस्पताल से छुट्टी दी जाएगी। डॉक्टर व पैरामेडिकल स्टाफ के साथ अन्य कर्मचारी रात दिन कोरोना से जारी जंग में मोर्चे पर डटे हैं।
- डॉ.अमिता उप्रेती, महानिदेशक, स्वास्थ्य
 
... और पढ़ें

Coronavirus Uttarakhand: हल्द्वानी का बनभूलपुरा क्षेत्र हॉटस्पॉट घोषित, सभी 41 मार्ग बंद, पीएसी तैनात

उत्तराखंड में देहरादून के बाद अब हल्द्वानी के बनभूलपुरा क्षेत्र को जिला पुलिस ने पांच सेक्टरों में बांटकर हॉटस्पॉट घोषित कर दिया है। अब पूरे इलाके में एक भी दुकान नहीं खुलेगी। सुरक्षा के मद्देनजर एसएसपी ने क्षेत्र में पीएसी की एक और कंपनी तैनाती कर दी है।

बिना परमिशन किसी को अंदर घुसने की इजाजत नहीं है। इस क्षेत्र के जमात में शामिल सात लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। वहीं, मुरादाबाद में भर्ती पांच कोरोना संक्रमित मरीज भी इसी क्षेत्र के हैं।एसएसपी सुनील कुमार मीणा बनभूलपुरा क्षेत्र की खुद मॉनीटरिंग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बनभूलपुरा को हॉटस्पॉट घोषित कर दिया गया है। गुरुवार को एसपी सिटी अमित श्रीवास्तव और सीओ शांतनु पाराशर देर रात तक बनभूलपुरा क्षेत्र में घूमकर हालात का जायजा लेते रहे।

पुलिस सुबह से शाम तक लाउड हेलर के माध्यम से लोगों को घरों में रहने की हिदायत दे रही है। जिला पुलिस ने पूरे क्षेत्र को पांच सेक्टरों में बांटकर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। थानाध्यक्ष सुशील कुमार ने बताया कि बनभूलपुरा में किसी को दुकान खोलने की इजाजत नहीं है।

पार्षद के माध्यम से ही लोगों को जरूरी सामान की सप्लाई की जाएगी। अभी तक पुलिस के साथ पीएसी की एक कंपनी यहां तैनात थी, अब एक और कंपनी तैनात कर दी गई है। बनभूलपुरा के सभी 41 रास्तों को बंद कर दिया है। आठ मुख्य मार्गों पर भी आवाजाही बंद रहेगी। पुलिस ने कब्रिस्तान का गेट भी बंद करा दिया है। पुलिस ने यहां के छह जमात के 75 लोगों को क्वारंटीन में रखा है। जमातियों के संपर्क में आए काफी संख्या में लोगों को होम क्वारंटीन और क्वारंटीन सेंटर में रखा गया है।
... और पढ़ें

Coronavirus Uttarakhand: काशीपुर में कोरोना संदिग्ध युवक की मौत से हड़कंप, पूरे परिवार को किया होम क्वारंटीन

उत्तराखंड के काशीपुर में मोहल्ला थानासाबिक में कोरोना संदिग्ध युवक की मौत से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मृतक के घर पहुंचकर परिवार के आठ सदस्यों के सैंपल लिए हैं। इसके साथ ही विभाग ने पूरे परिवार को होम क्वारंटीन कर दिया है। उनके सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

थानासाबिक निवासी एक युवक को ब्रेन ट्यूमर की शिकायत थी। 29 मार्च को दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में उसका ऑपरेशन हुआ था।  इस दौरान वहां हुई जांच में सर गंगाराम अस्पताल के कई डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इसके बाद कई मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई और अन्य अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया। 

इसके चलते युवक भी पांच अप्रैल को काशीपुर वापस लौट आया था। दो दिन पहले उसकी हालत बिगड़ने पर उसे मुरादाबाद रोड स्थित एक निजी अस्पताल ले जाया गया। लेकिन अस्पताल प्रबंधन ने कोरोना संदिग्ध मानते हुए उसे भर्ती करने से इंकार कर दिया।
... और पढ़ें

Lockdown: गाड़ी पर स्वास्थ्य विभाग का पर्चा लगाकर तीन बार की यूपी से उत्तराखंड में घुसने की कोशिश, पुलिस ने रोका तो हुए फरार

कार पर स्वास्थ्य विभाग का पर्चा लगाकर यूपी से उत्तराखंड में घुसने की कोशिश कर रहे दो युवकों को पुलिस ने खानपुर-पुरकाजी बॉर्डर पर रोक लिया। पुलिस ने पूछताछ की तो दोनों हड़बड़ा गए और कार लेकर भाग निकले।

उन्होंने सिकंदरपुर-पुरकाजी और दल्लावाला-मोरना बॉर्डर पार करने की कोशिश की, लेकिन कामयाब नहीं हो सके। लॉकडाउन के चलते पुलिस ने खानपुर-पुरकाजी, सिकंदरपुर-पुरकाजी, दल्लावाला-मोरना और बालावाली-मंडावर बॉर्डर को पूरी तरह सील किया हुआ है।

खानपुर-पुरकाजी बॉर्डर पर तैनात उपनिरीक्षक भानू पंवार ने बताया कि बृहस्पतिवार सुबह लगभग 11 बजे पुरकाजी की ओर से एक कार आती दिखी। उस पर स्वास्थ्य विभाग की नेम प्लेट लगी थी। जब पुलिसकर्मियों ने कार सवारों से नीचे उतरकर कागजात दिखाने को कहा तो वे हड़बड़ा उठे और कार लेकर फरार हो गए।

उन्होंने बताया कि इसके बाद कार सवार युवक उत्तराखंड में प्रवेश करने के लिए सिकंदरपुर-पुरकाजी और दल्लावाला-मोरना बॉर्डर पर भी पहुंचे, लेकिन उन्होंने आसपास के बॉर्डर पर तैनात पुलिसकर्मियों को इस बारे में सूचना दे दी। लिहाजा कार सवार सफल नहीं हो सके।
... और पढ़ें

Lockdown: हरिद्वार से जमाती फरार, मदद में सामने आई मां की भूमिका, दोनों पर हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज

हरिद्वार के ज्वालापुर क्षेत्र होम क्वारंटीन एक जमाती फेसिलिटी क्वारंटीन कराने पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम को गच्चा देकर फरार होने में कामयाब रहा। जमाती को फरार कराने में उसकी मां की मुख्य भूमिका समाने आई है। पुलिस ने मां-बेटे दोनों के खिलाफ हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज किया है। क्षेत्र के मोहल्ला मछियारों वाली गली तेलियान का रहने वाला सावेज पुत्र गुलजार 20 मार्च को जमात में शामिल होने देहरादून गया था। वह 26 मार्च को लौटा था।

जानकारी मिलने पर डॉ. विनय सिंह ने सावेज को सीएचसी बहादराबाद में मेडिकल परीक्षण के बाद छह अप्रैल तक होम क्वारंटीन किया था। बाकायदा स्वास्थ्य विभाग ने घर के बाहर नोटिस भी चस्पा कर दिया था। बुधवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम सावेज को होम क्वारंटीन से पिरान कलियर में फेसिलिटी क्वारंटीन कराने के लिए उसके घर पहुंची। आरोप है कि सावेज की मां गुलशाना ने बेटे को घर से भगा दिया। टीम ने पूरे घर को खंगाला पर वह नहीं मिला।

जमाती के गायब होने की खबर मिलते ही हड़कंप मच गया। इस संबंध में रेल चौकी प्रभारी सुनील रावत की तरफ से मां और बेटे के खिलाफ हत्या के प्रयास समेत प्रभावी धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया गया है। आरोप है कि मां बेटे की वजह से कई आमजन की जिंदगी खतरे में पड़ गई है। कोतवाली प्रभारी योगेश सिंह देव ने बताया कि युवक की तलाश कर रहे हैं। उसका मोबाइल फोन भी स्विच ऑफ है।
... और पढ़ें

Lockdown: उत्तराखंड में 60 दवा निर्माता कंपनियों को हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन दवा बनाने की अनुमति

दुनिया में फैले कोरोना वायरस के खतरे के बीच हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन दवा की भारी मांग को देखते हुए राज्य सरकार में 60 दवा निर्माता कंपनियों को इस दवा के बनाने को लेकर मंजूरी दे दी है ।

औषधि नियंत्रक की ओर से सभी कंपनियों को हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन दवा बनाने की मंजूरी दे दी गई है। सरकार व स्वस्थ विभाग के इस फैसले से जहां हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन की किल्लत को दूर किया जा सकेगा वहीं अमेरिका , स्पेन, ब्राज़ील, समेत कई देशों को भी दवा की आपूर्ति की जा सकेगी। बता दें कि कोरोना वायरस बीमारी से निपटने को लेकर मलेरिया के इलाज में इस्तेमाल की जाने वाली हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन दवा की मांग तेजी से बढ़ी है। अमेरिका ,स्पेन ,ब्राजील ,इटली, जैसे देशों में इस दवा की मांग की जा रही है ।

वैसे तो भारत में हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन दवा का बड़े पैमाने पर उत्पादन होता है लेकिन जिस तरीके से कोरोना वायरस का खतरा मंडरा रहा है उसे देखते हुए पिछले दिनों केंद्र सरकार ने इसके निर्यात पर रोक लगा दी थी । हालांकि अब सरकार ने इसे नए सिरे से खोल दिया है। देश-दुनिया में दवा की भारी मांग को देखते हुए उत्तराखंड औषधि नियंत्रक ने हरिद्वार ,काशीपुर, रुद्रपुर , समेत राज्य के कई इलाकों में संचालित 60 दवा निर्माता कंपनियों को यह दवा बनाने की मंजूरी दे दी है।

ड्रग कंट्रोलर ताजवर सिंह का कहना है कि मंजूरी मिलने के साथ ही अब ना सिर्फ हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन दवा के निर्माण में तेजी आएगी वरन इसकी भारी कमी को भी तत्काल दूर किया जा सकेगा। बता दें कि जबसे ककोरोना वायरस फैला है तब से हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन दवा की मांग तेजी से बढ़ रही है। राजधानी देहरादून के अलावा राज्य के अन्य जिलों में भी दवा की भारी कमी महसूस की जा रही है ।
... और पढ़ें

Coronavirus in Uttarakhand : हरिद्वार में निजामुद्दीन मरकज से लौटे कोरोना संक्रमित जमाती समेत तीन के खिलाफ मुकदमा दर्ज

Uttarakhand Lockdown:  शराब के सुरूर के चक्कर में लुट मत जाइएगा हुजूर, ऐसे हो रही है ठगी

Coronavirus Uttarakhand: गुरुवार को 46 सैंपलों की रिपोर्ट आई नेगेटिव, दून अस्पताल के एक डॉक्टर को आइसोलेशन वार्ड में किया भर्ती

दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल के एक डॉक्टर को आइसोलशन वार्ड में भर्ती कराया गया। भर्ती माइक्रोबायोलॉजिस्ट ने खुद में कोरोना जैसे लक्षण होने की बात कही थी। जिसके बाद उन्हें आइसोलेट किया गया। दून अस्पताल के डिप्टी एमएस डा. एनएस खत्री के मुताबिक सीएमओ कार्यालय के एक माइक्रोबायोलॉजिस्ट को भर्ती किया गया है।

इन्होंने क्वारंटीन सेंटरों में ठहरे हुए कई जमतातियों के सैंपल लिए थे। उन्हें विशेषज्ञ डाक्टरों की देखरेख में रखा गया है। उनकी तबीयत सामान्य है। दून अस्पताल में 14 कोरोना पॉजिटिव मरीजों का इलाज चल रहा है। जबकि करीब 30 अन्य संदिग्ध मरीज भर्ती हैं। ऐसे में उन्हें एहतियातन बुधवार रात को ही आइसोलेट कर दिया गया था।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us