विज्ञापन
विज्ञापन
MyCity App MyCity App
विज्ञापन
ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

वॉल ऑफ फेम की सूची में शामिल हुआ उत्तराखंड के तीन शिक्षकों का नाम

प्रदेश के तीन शिक्षकों को शिक्षा के क्षेत्र में काम करने वाली संस्था ‘स्टार्टअप यूएलईकेटीजेड’ ने देश के शीर्ष-50 शिक्षकों की वॉल ऑफ फेम में जगह दी है।

5 दिसंबर 2019

विज्ञापन

आपकी आवाज़

अपने शहर के मुद्दे और शिकायतों को यहां शेयर करें
विज्ञापन

देहरादून

शुक्रवार, 6 दिसंबर 2019

घोटालेबाजों पर कार्रवाई करना भूला वन विकास निगम

देहरादून। वन विकास निगम में हुए वित्तीय घोटाले में नियोजन एवं मूल्याकंन अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई व उन्हें कार्यालय संबद्ध किए जाने के बाद बाकी घोटालेबाज अधिकारियों पर छह माह बाद भी कार्रवाई नहीं हो पायी है। यह स्थिति तब है कि जब प्रबंध निदेशक मोनिष मल्लिक जांच अधिकारी एवं निगम के कुमाऊं क्षेत्र के क्षेत्रीय प्रबंधक डॉ. टीसी पंत को कई बार लिखापढ़ी कर चुके हैं। जांच अधिकारी ने यह तर्क देकर बचाव किया है कि आरोपियों से कई कागजात मांगे गए थे जिसे उन्होंने नहीं मुहैया कराया है ऐसे में रिपोर्ट तैयार करने में दिक्कतें आ रही है।
प्रबंध निदेशक मोनिष मल्लिक का कहना है कि तमाम पहलुओं की जांच की जा रही है और वित्तीय घोटाले में जिन जिन अधिकारियों, कर्मचारियेां की संलिप्तता पायी जाएगी उनके खिलाफ नियमानुसार विभागीय कार्रवाई सुनिश्चित करायी जाएगी। बता दें, वन विकास निगम में वित्तीय वर्ष 2015 - 16 और 2016- 17 में अधिकारियों के खानपान पर 47 लाख रुपये का गोलमाल किए जाने, लाखों की सामग्री को कौड़ियों के भाव नीलाम किए जाने और गाड़ियों की मरम्मत में लाखों का फर्जीवाड़ा किए जाने का मामला सामने आया था। प्रकरण उजागर होने के बाद तत्कालीन अपर मुख्य सचिव डॉ. रणवीर सिंह ने जांच के आदेश जारी कर दिए थे। प्रकरण की जांच सचिव वन एवं पर्यावरण को सौंपी गई थी। प्रकरण उजागर होनेे के बाद वित्त नियंत्रक ने भी इसकी जांच करायी थी। वित्त नियंत्रक ने भी अपनी रिपोर्ट में वित्तीय अनियमितताओं की ओर इशारा किया था। इतना सब कुछ होने के बावजूद निगम अधिकारियों ने जांच रिपोर्ट को न सिर्फ दबा दिया वरन घोटालेबाज अफसरों, कर्मचारियों पर कोई आंच नहीं आने दी। काफी हो-हल्ला मचाए जाने पर प्रबंध निदेशक ने नियोजन एवं मूल्याकंन अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई कर उन्हें कार्यालय से संबद्ध कर दिया। जबकि बाकी घोटालेबाज अधिकारियों पर छह माह बाद भी कार्रवाई नहीं हो पायी है।
पार्टी पर 50 लाख और दीपावली पर बांट दिए 4.44 लाख के उपहार
वन विकास निगम के घोटालेबाज अधिकारियों ने निगम के पैसों को अंधाधुंध तरीके से खर्च करते हुए जहां अधिकारियोें को दी जाने वाली पार्टियों पर 50 लाख रुपये खर्च कर डाले। वहीं दीपावली पर 4.44 लाख रुपये की मिठाई व उपहार बांट डाले। इतना ही नहीं अधिकारियों ने यात्रा बिलों में भी जमकर हेराफेरी की। अफसरों, कर्मचारियेां की इस करतूत का खुलासा ऑडिट रिपोर्ट में किया गया है। इसके बावजूद घोटालेबाज अफसरों ने संबंधित के खिलाफ कार्रवाई के बजाए प्रकरण को ठंडे बस्ते में डाल रखा है।
... और पढ़ें

फर्जीवाड़े से जमीन बेचकर हड़पे 9.25 लाख रुपये

देहरादून। साथियों के साथ मिलकर एक युवक ने अपनी जमीन को दो बार बेच दिया। पहली बार तो सही सौदा किया, लेकिन दूसरी बार में महिला से 9.25 लाख रुपये हड़प लिए। मामले की शिकायत पर एसआईटी ने जांच की और अब तीन आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।
धोखाधड़ी और ठगी की घटना विमला देवी पत्नी गुणानंद निवासी श्रीकोट गंगाली पोस्ट श्रीकोट तहसील श्रीनगर पौड़ी गढ़वाल के साथ हुई है। विमला देवी ने अमित सिंह निवासी हरभजवाला मेहूंवालामाफी से जमीन खरीदी थी। इसके लिए विमला देवी ने उन्हें 9.25 लाख रुपये दिए थे। गवाह के रूप में अमित के साथ चेतन प्रसाद निवासी अजबपुर कलां और राकेश नैनवाल भी थे। राकेश नैनवाल एक निजी अस्पताल में पीआरओ के पद पर तैनात हैं। सौदे के बाद विमला देवी ने अमित से बाउंड्री वॉल कराने को कहा तो वह टालने लगा। इस पर ज्यादा दिन हो गए तो उन्होंने मामले की जांच कराई। जांच में पता चला कि यह जमीन पहले ही दो लोगों को बेची जा चुकी है। इसके बाद उन्होंने एसआईटी में शिकायत दर्ज कराई।
... और पढ़ें

सरकार पर लगाया वादा खिलाफी का आरोप

शीशमबाड़ा स्थित सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट के विरोध में स्थानीय लोगों का धरना-प्रदर्शन बृहस्पतिवार को 55वें दिन भी जारी रहा। स्थानीय महिलाओं ने सामूहिक रूप से क्रमिक अनशन कर सरकार पर वादा खिलाफी का आरोप लगाया।
महिलाओं ने कहा कि सरकार क्षेत्रीय लोगों के जीवन को लेकर चिंतित नहीं है। लंबे समय से लोग प्लांट के दुष्प्रभाव को लेकर आंदोलन कर रहे हैं, लेकिन कोई भी उनकी इस मांग पर कार्रवाई नहीं कर रहा है। प्रदेश के मुखिया के दर से भी क्षेत्रीय लोगों को निराश लौटना पड़ा। क्षेत्रवासियों में सरकार के खिलाफ खासा रोष है। सत्ता पक्ष हो या विपक्ष सभी ने प्लांट के मुद्दे पर खामोसी की चादर ओढ़ी हुई है। कहा कि यदि सरकार प्लांट को नहीं हटाती तो लोगों को उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होना पड़ेगा। इसकी जिम्मेदार सरकार होगी। बृहस्पतिवार को नीमा जोशी, कुसुम भट्ट, सुमित्रा सती, रेखा भट्ट, आशा मैंदौला, दीपा जोशी, नीति पंवार क्रमिक अनशन पर बैठे। प्रदर्शन करने वालों में सतपाल धानिया, निरंजन चौहान, रजनीश कांबोज, नसीबुद्दीन, अमित बिष्ट, एके झा, सपना शर्मा, कमला नेगी, लक्ष्मी बुटोला, आशा रावत, आहना रावत, संदीप भंडारी, विनीता भंडारी, सुमित्रा रावत, श्रीपाल ठाकुर, अरविंद, सुनील शर्मा, राखी झा, सुरेश भारद्वाज, कुंदन सिंह रावत, द्रोपदी झा आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

बोली अपराजिताएं, दून सुरक्षित, पुलिस भी अच्छी लेकिन पब्लिक ट्रांसपोर्ट की स्थिति बेहद खराब

महिलाओं के लिए दून पूरी तरह सुरक्षित है। पुलिस भी अच्छी है और महिलाओं से जुड़े ज्यादातर मामलों में समय पर मदद भी उपलब्ध कराती है। लेकिन शहर में पब्लिक ट्रांसपोर्ट की स्थिति बेहद खराब है। महिलाओं को सबसे ज्यादा परेशानी पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करने के दौरान ही होती है। ये कहना है दून की कामकाजी महिलाओं का।

बृहस्पतिवार को अमर उजाला अपराजिता-कब तक निर्भया कार्यक्रम में शामिल होने पटेलनगर स्थित कार्यालय पहुंची कामकाजी महिलाओं ने ऐसी ही कई अन्य नागरिक सुविधाओं और सेवाओं के मूल्यांकन के आधार पर अपने शहर का रिपोर्ट कार्ड तैयार किया।

नागरिक सुविधाओं और सेवाओं का मूल्यांकन करते हुए कामकाजी महिलाओं ने अंक भी दिए। उन्होंने व्यवस्थाओं और सुविधाओं की गुणवत्ता के आधार पर अंक दिए। महिला सुरक्षा के मामले में पुलिस व्यवस्था से काफी हद तक संतुष्ट होते हुए उन्होंने 70 फीसदी अंक दिए। उन्होंने कहा कि अधिकतर बार पुलिस पीड़ित की मदद करती है। लेकिन कई बार पुलिस पहुंचती ही नहीं या फिर बहुत देर से पहुंचती है।

वहीं, नशाखोरी पर लगाम लगा पाने के मामले में उन्होंने दून को फेल घोषित किया। महिलाओं ने कहा कि इसमें पुलिस के साथ ही पैरेंट्स भी जिम्मेदार हैं, जो अपने बच्चों पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं देते। पब्लिक ट्रांसपोर्ट को उन्होंने महिलाओं के लिए दून की सबसे बड़ी समस्या माना। इसके अलावा उन्होंने दून की सुरक्षा व्यवस्था, नागरिक जागरूकता, सेल्फ डिफेंस, स्ट्रीट लाइट, जिम्मेदार पैरेंटिंग पर भी उन्होंने अंक दिए। 
... और पढ़ें
अपराजिता कार्यक्रम अपराजिता कार्यक्रम

पीसीएस-जे परीक्षा-2018: 16-17 दिसंबर को होंगे इंटरव्यू, यहां से डाउनलोड करें प्रवेश पत्र

उत्तराखंड लोक सेवा आयोग की ओर से उत्तराखंड न्यायिक सेवा सिविल जज (जूनियर डिवीजन) परीक्षा-2018 का साक्षात्कार 16 और 17 दिसंबर को होगा। आयोग की ओर से कार्यक्रम जारी किया गया है। इसमें 29 अभ्यर्थी प्रतिभाग करेंगे।

प्रथम सत्र के साक्षात्कार सुबह साढ़े नौ बजे, जबकि द्वितीय सत्र के साक्षात्कार दोपहर साढ़े 12 बजे से शुरू होंगे। 16 दिसंबर को 14 और 17 दिसंबर को 15 अभ्यर्थियों के इंटरव्यू होंगे।

अभ्यर्थी आयोग की अधिकृत वेबसाइट से अपने प्रवेश पत्र डाउनलोड कर सकते हैं। उत्तराखंड लोक सेवा आयोग के सचिव राजेंद्र कुमार की ओर से साक्षात्कार के लिए योग्य पाए गए अभ्यर्थियों के रोल नंबर की सूची वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है।

इस वेबसाइट से डाउनलोड करें प्रवेश पत्र-
ukpsc.gov.in
... और पढ़ें

पहाड़ी दरकने से बंद हुआ बदरीनाथ हाईवे, 300 से अधिक वाहन रास्ते में ही फंसे 

ऑलवेदर रोड परियोजना में हिल कटिंग के दौरान बदरीनाथ हाईवे पर चाड़ा नामक तोक में पहाड़ी का बड़ा हिस्सा दरक कर हाईवे पर आ गया। जिससे दोपहर से वाहनों की आवाजाही ठप पड़ी हुई है।

हाईवे के दोनों ओर से लगभग 300 वाहन फंसे हुए हैं। गनीमत रही कि जेसीबी मशीन और मजदूर उस वक्त दूसरी तरफ काम कर रहे थे। जिससे बड़ा नुकसान होने से बच गया। इन दिनों चाड़ा तोक में एनएचआईडीसीएल की ओर से हिल कटिंग का काम किया जा रहा है।

यहां सड़क बेहद संकरी है। जिससे कार्य करने में कार्यदायी संस्था की मशीनों को दिक्कतें हो रही हैं। बृहस्पतिवार को दोपहर ढाई बजे हिल कटिंग के दौरान अचानक पहाड़ी का एक बड़ा हिस्सा दरक कर हाईवे पर आ गया।
... और पढ़ें

उत्तराखंड पहुंचे स्वीडन के राजा-रानी, हरिद्वार में किया देश के पहले हाईब्रिड एम्यूनिटि एसटीपी का लोकार्पण

बदरीनाथ हाईवे बाधित
स्वीडन के 16 वें नरेश कार्ल गुस्ताफ और रानी सिल्विया आज उत्तराखंड के दौरे पर पहुंचे हैं। प्रोटोकॉल मंत्री डा. धनसिंह रावत ने जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर उनका स्वागत किया। इसके बाद वे ऋषिकेश के रामझूला पर भ्रमण के लिए गए। यहां पर वे रामझूला पुल पर पैदल चलकर नाव घाट पहुंचे। इस दौरान उन्होंने पुल पर कुछ देर रुककर मां गंगा की मनोहर छटा निहारी। 

यहां पर उन्होंने नागपुर से आई महिला पुरोहित दया व्याघ्र ने पूजा अनुष्ठान कराया। करीब आधे घंटे धार्मिक अनुष्ठान के बाद राजा और रानी पर्यावरण कार्यकर्ता रिद्धिमा पांडेय व उनकी सहयोगी बालिकाओं से बात की। राजा ने बच्चों से गंगा स्वक्षता और पर्यावरण संरक्षण पर हो रहे प्रयासों के बारे में करीब 15 मिनट वार्ता की। इसके बाद वे हरिद्वार के लिए रवाना हो गए। 

हरिद्वार के सराय में नमामि गंगे योजना से नवनिर्मित देश के पहले हाईब्रिड एम्यूनिटि एसटीपी का लोकार्पण  किया। राजा कार्ल गुस्ताफ ने कहा कि यह एसटीपी (सीवर ट्रीटमेंट प्लांट) बहुत महत्वपूर्ण और बेस्ट प्रोजेक्ट है। लोकार्पण के बाद राजा-रानी ने केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के साथ पूरे संयंत्र का निरीक्षण किया और देखा कि किस तरह से गंदे पानी को ट्रीटमेंट के बाद साफ किया जा रहा है। 

नमामि गंगे योजना के अंतर्गत हरिद्वार के सराय में हाईब्रिड एम्यूनिटि वित्तीय मॉडल पर आधारित 14 एमएलडी क्षमता का सीवेज शोधन संयंत्र बनाया गया है। संयंत्र ने काफी समय पहले काम करना शुरू कर दिया था, लेकिन इसका विधिवत लोकार्पण नहीं हुआ था। स्वीडन के राजा और रानी ने लोकार्पण समारोह के बाद नमामि गंगे और पर्यटन विभाग की ओर से लगाई गई प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। राजा ने कार्ल गुस्ताफ ने पूरे प्रोजेक्ट की सराहना की। 

42 प्रतिशत आबादी की आवश्यकताएं पूरी कर रही गंगा : शेखावत 
केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि गंगा देश की 42 प्रतिशत आबादी की आवश्यकताओं की पूर्ति कर रही है। नमामी गंगे प्रोजेक्ट से गंगा के रखरखाव कर पुनजीर्वित करने का काम किया है। उन्होंने बताया कि 1144.37 करोड़ रुपये की लागत से 165.50 एमएलडी के 34 एसटीपी में 23 के काम पूरे हो चुके हैं। सभी के काम करने के बाद गंगा का प्रदूषण काफी कम हो जाएगा। उन्होंने बताया कि इस 14 एमएलडी के एसटीपी को पीपीपी मोड पर चलाया जाएगा। उन्होंने कहा कि स्वीडन देश में वेस्टेज का सबसे अधिक उपयोग किया है। 
... और पढ़ें

पेट्रोल का खर्चा न प्रदूषण का डर, 11 साल के बच्चे ने बनाई हवा से चलने वाली ये बाइक, देखिए...

चमोली: मेले से लौट रहे तीन लोगों को कुचलता हुआ खाई में जा गिरा वाहन, एक की मौत

उत्तराखंड के चमोली में पोखरी-चांदनीखाल मोटर मार्ग पर बृहस्पतिवार को ट्राले ने तीन लोगों को कुचल दिया। बताया जा रहा है कि ट्राला तेज रफ्तार में था। हादसे में एक व्यक्ति ने मौके पर ही दम तोड़ दिया है। जबकि दो घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पोखरी में भर्ती किया गया है। 

घटना के बाद अनियंत्रित ट्राला सड़क से करीब पांच मीटर नीचे खाई में जा गिरा। ट्राले का चालक घटना के बाद से फरार है। पोखरी थाने के थानाध्यक्ष मनोहर भंडारी ने बताया कि गुरुवार को अपराह्न लगभग तीन बजे योगंबर सिंह बासकंडी (49)पुत्र खुशहाल सिंह, यशपाल सिंह (47) और धीशराज सिंह (26) पुत्र भगत लाल, ग्राम-बासकंडी कांडई, पोखरी, चमोली पोखरी शरदोत्सव मेले से घर लौट रहे थे। 
... और पढ़ें

#कबतकनिर्भया: देहरादून की सड़कों पर रात 10 बजे, चार लड़कियां, चार खराब स्कूटी और यह नतीजा

हैदराबाद में बिटिया के साथ हुई दरिंदगी के बाद अमर उजाला ने देहरादून का मिजाज जानने की कोशिश की। अमर उजाला ने अपनी चार अंडर कवर महिला रिपोर्टरों को शहर के चार चुनिंदा स्थानों(चंद्रबनी, केदारपुरम, कैनाल रोड और बंजारावाला)पर भेजा। इन जगहों पर भी हैदराबाद जैसे ही हालात थे। महिला रिपोर्टन घुप अंधेरे में सड़क पर अकेले खड़ी थी। उनकी स्कूटी भी खराब थी। काफी देर तक इंतजार करने के बाद भी कोई मदद के लिए नहीं आया तो कहीं पुलिस का फोन ही नहीं लगा। हां, बंजारावाला में पुलिस ने जरूर मुस्तैदी दिखाई। चलिए पढ़ते हैं पूरे हालात की ग्राउंड रिपोर्ट....
 
... और पढ़ें

उत्तराखंड विस सत्र का दूसरा दिन: 2533. 90 करोड़ का अनुपूरक बजट हुआ पेश, तीन विधेयक हुए पारित

उत्तराखंड विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन यानी आज बृहस्पतिवार को प्रदेश सरकार अनुपूरक बजट पेश किया। सरकार ने प्रदेश में वेतन, शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार को लेकर करीब 2533. 90 करोड़ के बजट को पेश किया।

इस दौरान तीन विधेयक(इसके अलावा सदन में बुधवार को पेश हुए उत्तराखंड फल पौधशाला (विनियमन) विधेयक, उत्तराखंड राज्य विधानमंडल (अनर्हता निवारण)(संशोधन) विधेयक और उत्तराखंड माल और सेवा कर (संशोधन)  विधेयक ) का विधेयर पारित किया गया। साथ ही छह नए विधेयर  पेश किए गए। हालांकि इस बार 4200 करोड़ रुपये के बजट की उम्मीद थी। 

इसके अलावा उत्तराखंड (उत्तरप्रदेश औद्योगिक विवाद अधिनियम, 1947) (संशोधन) विधेयक, व्यवसाय संघ (उत्तराखंड संशोधन) विधेयक,  उत्तराखंड मंत्री (वेतन, भत्ता और प्रकीर्ण उपबंध)(संशोधन) विधेयक, उत्तराखंड जैविक कृषि विधेयक, उत्तराखंड (उत्तरप्रदेश लोक सेवा) (शारीरिक रूप से विकलांग, स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के आश्रित और पूर्व सैनिकों के लिए आरक्षण) अधिनियम, 1993)(संशोधन) विधेयक,  उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद अिधिनयम, 2001(संशोधन) अधिनयम सदन पटल पर रखे गए।

उधर, विधानसभा में कार्यस्थगन प्रस्ताव के तहत विपक्ष ने गन्ना किसानों के बकाया भुगतान और रानीखेत विधानसभा में पर्यावरणीय स्वीकृति के बावजूद सड़क न बनाए जाने को लेकर विधानसभा में वेल में आकर नारेबाजी के बीच प्रदर्शन किया। पूर्व कांग्रेस सरकार के समय स्वीकृत हुई सड़क को बनाए जाने का ठोस आश्वासन न मिलने से नाराज रानीखेत के विधायक करन महरा वेल में आकर धरने पर बैठ गए। इस दौरान उनके समर्थन में बाकी विपक्षी सदस्य भी वेल में आ गए। इस दौरान उन्होंने जमकर नारेबाजी की।  
... और पढ़ें

संस्कृति के प्रचार-प्रसार में कलाकारों की भूमिका अहम : प्रेमचंद

देहरादून। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि कलाकारों की समाज में संस्कृति के प्रचार-प्रसार में अहम भूमिका होती है। ऐसे में हमें अपने क्षेत्र की परंपराओं एवं मूल्यों को आगे बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास करने चाहिए। वह बृहस्पतिवार को नगर निगम सभागार में भारतीय कला कुंज संस्थान की ओर आयोजित पर्वतीय संध्या एवं दून श्री सम्मान समारोह कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।
विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि उत्तराखंड के युवा कलाकारों में अपार प्रतिभा है। हमारे युवाओं ने विभिन्न क्षेत्रों में शानदार प्रदर्शन कर देश का नाम विश्वपटल पर गौरवांवित किया है। उन्होंने सभी कलाकारों से अपने प्रदेश की सांस्कृतिक जड़ों को सुदृढ़ करने का आह्वान किया। इससे पहले विधानसभा अध्यक्ष ने दीप जलाकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वालों को सम्मानित किया। नगर निगम टाउन हॉल में हुए कार्यक्रम के दौरान कई लोक गायकों ने रंगारंग प्रस्तुति दी। सम्मानित होने वालों में डॉ. कमलप्रभा नवानी, विक्रम बिष्ट, समीर रतूड़ी, प्रेम पंचोली एवं जसवंत सिंह रावत शामिल थे। कार्यक्रम का संचालन कांता प्रसाद ने किया। इस अवसर पर मेयर सुनील उनियाल गामा, लोक गायक नरेंद्र सिंह नेगी, राज्यमंत्री घनानंद, पद्मश्री प्रीतम भरतवाण, डॉ. जयंत नवानी, संस्था संस्थापक मणि भारती, अजय भारती, रेनू भारती, जगदीश प्रसाद, सतीश आर्य आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election