बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव
Myjyotish

बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

हिंदी हैं हम: कई भाषाओं में अच्छी पकड़ रखने वाली इस अभिनेत्री ने कहा- हिंदी साहित्य को पढ़कर देखिए, इश्क हो जाएगा

‘हिंदी के लेखकों की किताब पढ़कर तो देखिए, मेरा यकीन माने इन किताबों से आपको इश्क हो जाएगा। मैंने लॉकडाउन में खासतौर पर हिंदी की किताबें पढ़ीं और मेरी...

4 सितंबर 2021

Digital Edition

उत्तराखंड में कोरोना: गुरुवार को मिले 17 नए संक्रमित, एक भी मरीज की मौत नहीं 

उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 17 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं। वहीं, एक  भी मरीज की मौत नहीं हुई है। जबकि 20 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया। सक्रिय मामलों की संख्या 249 पहुंच गई है। जबकि बुधवार को प्रदेश में 256 सक्रिय मामले थे।  

एम्स ऋषिकेश: उत्तराखंड में स्क्रब टाइफस बड़ा खतरा, गंभीरता से लेने की जरूरत

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार, गुरुवार को 16274 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। चार जिलों बागेश्वर, चमोली, पौड़ी और ऊधमसिंह नगर में एक भी संक्रमित मरीज नहीं मिला है। वहीं, अल्मोड़ा, चंपावत, हरिद्वार, नैनीताल और टिहरी में एक -एक, देहरादून में छह, पिथौरागढ़ , रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी में दो-दो मरीज मिले हैं। 

प्रदेश में अब तक कोरोना के कुल संक्रमितों की संख्या 343445 हो गई है। इनमें से 329715 लोग ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में कोरोना के चलते अब तक कुल 7391 लोगों की जान जा चुकी है। प्रदेश की रिकवरी दर 96 प्रतिशत और संक्रमण दर 0.10 प्रतिशत दर्ज की गई है। 
... और पढ़ें
कोरोना वायरस की जांच कोरोना वायरस की जांच

देहरादून: बारिश के बीच बड़ी संख्या में मसूरी पहुंचे पर्यटक, भूस्खलन ने बढ़ाई परेशानी, लगा जाम, तस्वीरें...

पहाड़ों की रानी मसूरी में लगातार हो रही बारिश से मौसम में ठंड लौटने से मौसम खुशनुमा हो गया है। पर्यटक भी मसूरी के मौसम का जमकर लुत्फ उठा रहे हैं। बारिश और कोहरे के बीच शहर में लगातार पर्यटक पहुंच रहे हैं। वहीं, सड़कों पर कई जगह भूस्खलन ने भी परेशानी बढ़ा दी है। 

शहर में पिछले कई दिनों से बारिश जारी है। इससे मसूरी में ठंड ने भी दस्तक दे दी है। लोगों के गर्म कपड़े बाहर निकल आए हैं। सैलानी भी गर्म कपड़ों की खूब खरीदारी कर रहे हैं। कोहरे में लिपटी मसूरी को देखकर पर्यटक भी रोमांचित नजर आ रहे हैं। सैलानी प्रीति का कहना है कि बारिश के बाद मसूरी में ठंड हो रही है और मौसम खुशनुमा है।

उत्तराखंड: पूरे हफ्ते मसूरी घूमने आ सकते हैं पर्यटक, शाम पांच बजे के बाद माल रोड पर वाहनों की एंट्री बैन, तस्वीरें...

मसूरी आकर गर्मी से राहत मिली है। पहली बार मसूरी आई हूं, यहां का मौसम और वादियां बहुत खूबसूरत हैं। काशीपुर से आए पर्यटक पुलकित ने कहा कि मसूरी प्राकृतिक रूप से सुंदर तो है ही, लेकिन यहां का खुशनुमा मौसम उत्साहित करता है। पल-पल बदलते मौसम का अपना ही मजा है। यहां ठंड होने से गर्म कपड़े भी खरीदने पड़ रहे हैं। 
... और पढ़ें

शक्तिमान प्रकरण: अमेरिका से कृत्रिम पैर मंगवाने के बाद भी नहीं बची थी जान, जानें पूरा मामला जिसमें फंस गए थे भाजपा नेता

देहरादून में शक्तिमान (पुलिस का घोड़ा) की मौत के मामले में आरोपी कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी समेत पांचों आरोपियों को सीजेएम (मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट) कोर्ट ने संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया है। इस मामले में लगाए गए आरोपों को साबित करने के लिए अभियोजन के पास पर्याप्त ठोस सुबूत नहीं थे। अदालत के फैसले के बाद मंत्री गणेश जोशी ने बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ प्रसन्नता भी जाहिर की।

पुलिस के घोड़े शक्तिमान को बचाने के लिए हर संभव प्रयास किए गए थे। उसके इलाज में स्थानीय से लेकर अमेरिका तक के डॉक्टरों को बुलाया गया था। अमेरिकी डॉक्टर जेमी वॉघन ने तो शक्तिमान के लिए कृत्रिम पैर मंगाया था, लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद शक्तिमान को नहीं बचाया जा सका। 

शक्तिमान प्रकरण: गणेश जोशी समेत पांच आरोपी दोषमुक्त, पुलिस के घोड़े शक्तिमान की हुई थी मौत

14 मार्च से 20 अप्रैल 2016 पूरे 36 दिनों तक शक्तिमान ने मौत से जंग लड़ी थी। उसके इलाज के लिए बॉलीवुड एक्टर रणदीप हुड्डा के घोड़ों के डॉक्टर को भी देहरादून बुलाया गया था। उन्होंने भी शक्तिमान के पैर का ऑपरेशन किया। डॉक्टरों की टीम ने शक्तिमान के पैर को काटकर अलग कर दिया था।
... और पढ़ें

हरिद्वार: गंगा किनारे धड़ल्ले से हो रहा अवैध निर्माण, आनंद गिरि का आश्रम सील करने के बाद सामने आए कई मामले 

कुंभनगरी हरिद्वार में ही नहीं उससे कई किलोमीटर दूर भी गंगा के किनारे धड़ल्ले से अवैध निर्माण किया जा रहा है। रसूखदारों ने श्यामपुर क्षेत्र में एकदम गंगा के धारा से सटाकर होटल और आश्रमों को खड़ा कर दिया है। अखाड़ा परिषद के शिष्य रहे आनंद गिरि का आश्रम सील होने के बाद यह नए मामले सामने आए हैं। ऊंची पहुंच रखने वालों के सामने जिला प्रशासन और हरिद्वार-रुड़की विकास प्राधिकरण के अधिकारी नतमस्तक बने हैं। हरिद्वार में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के आदेशों की खुलेआम अनदेखी हो रही है।

नरेंद्र गिरि केस: एसआईटी जांच में सामने आए कई नए तथ्य, कॉल डिटेल में मिले हरिद्वार के 18 रसूखदारों के नंबर

एनजीटी मानकों को धता बताकर श्यामपुर कांगड़ी में गंगा किनारे रसूखदारों ने होटल, आश्रम और सोसाइटी का निर्माण कर लिया है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि की मौत के बाद उनके शिष्य आनंद गिरि को जिस आश्रम से गिरफ्तार किया गया था, वह भी श्यामपुर कांगड़ी गांव में गंगा किनारे ही बन रहा है। आश्रम की नीव गंगा की धारा के नजदीक खड़ी की गई थी। आश्रम को एचआरडीए के अधिकारियों ने सील कर दिया था। 

अकेले आनंद गिरि का आश्रम गंगा किनारे नहीं बना है। आनंद गिरि के आश्रम के बराबर में एक अन्य आश्रम का निर्माण तेजी से हो रहा है। इस आश्रम का जो घाट बनाया गया है वह गंगा पर ही बना है। इसके साथ ही गंगा किनारे एक फिल्म अभिनेत्री के पति का होटल भी है। वहीं दूसरी तरफ एक मंत्री का आश्रम भी गंगा के किनारे बना है। यहीं नहीं गंगा के किनारे सोसाइटी भी काटी जा रही है। 
... और पढ़ें

पितृ पक्ष 2021: हरिद्वार में नारायणी शिला पर तर्पण के लिए उमड़ी भीड़, जानें क्या है इस जगह का महत्व, तस्वीरें...

गंगा किनारे अवैध निर्माण
वैसे तो पितृ पक्ष में किसी भी धार्मिक स्थल पर श्राद्ध किया जा सकता है, लेकिन धर्मनगरी हरिद्वार के नारायणी शिला पर तर्पण करने से पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। पुराणों में भी ऐसा उल्लेख मिलता है। यही कारण है कि पितृ पक्ष में श्राद्ध कर्म के लिए यहां देशभर के श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ रही है। बृहस्पतिवार को भी यहां बड़ी संख्या में लोगों ने गंगा स्नान कर पितरों के निमित्त तर्पण किया।

हिंदू धर्म में मान्यता है कि पितृपक्ष में 16 दिन तक पितृ पृथ्वी पर आते हैं, इसलिए इन दिनों लोगों को ऐसा कोई कार्य नहीं करना चाहिए, जिससे पितृ नाराज हों। हरिद्वार के मायापुर स्थित देवपुरा में स्थापित प्राचीन नारायणी शिला मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य मनोज कुमार ने बताया कि श्राद्ध पक्ष में नारायणी शिला पर पितरों के निमित्त कर्मकांड करने से उनको मुक्ति मिलती है।

श्राद्ध 2021: दशकों बाद बना संयोग, इस बार 16 नहीं 17 दिन के होंगे पितृपक्ष, ऐसे करें पूजन

पितृ पक्ष के दौरान दुनियाभर से श्रद्धालुओं का यहां तांता लगा रहता है। इसके साथ ही बदरीनाथ में ब्रह्मा कपाली और गया में विष्णु पद मंदिर में श्राद्ध के दौरान पितरों का पूजन किया जाता है। 20 सितंबर से शुरू हुए पितृ पक्ष में हरिद्वार के नारायणी शिला पर कर्मकांड कराने के लिए बड़ी संख्या में लोग पहुंच रहे हैं। बृहस्पतिवार को श्रद्धालुओं ने पितरों के निमित्त कर्मकांड कराया। 
... और पढ़ें

नरेंद्र गिरि केस: एसआईटी जांच में सामने आए कई नए तथ्य, कॉल डिटेल में मिले हरिद्वार के 18 रसूखदारों के नंबर

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि की आत्महत्या के मामले में यूपी की एसआईटी जांच में कई नए तथ्य सामने आ रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक नरेंद्र गिरि के मोबाइल कॉल डिटेल में हरिद्वार के 18 लोगों के नंबर मिले हैं। जिनसे नरेंद्र गिरी की लगातार कई बार लंबी बातें हुई। इनमें कई प्रॉपर्टी डीलर बताए जा रहे हैं। कनखल थाना क्षेत्र की कई बीघा जमीन का सौदा होना बताया जा रहा है। यूपी पुलिस की एसआईटी ने हरिद्वार पुलिस से भी इस मामले में संपर्क किया है। 

हरिद्वार: नरेंद्र गिरि के निधन के बाद हरकत में आया एचआरडीए, फिर सील किया आनंद गिरि का आश्रम

एसआईटी जांच के दायरे में हरिद्वार के रसूखदारों का नाम जुड़ने से हड़कंप मचा है। इनमें कई संत और नेता भी बताए जा रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक जमीन की डील नरेंद्र गिरि के माध्यम से हुई थी। नरेंद्र गिरि को एडवांस के रूप में पैसे भी दिए थे।

हरिद्वार: ...तो क्या आनंद गिरि के आश्रम में छिपे हैं महंत नरेंद्र गिरि की मौत के राज, कई सेवक हुए फरार

काफी वक्त से डील पूरी नहीं होने पर प्रॉपर्टी डीलर एडवांस दिए रुपये वापस मांग रहे थे। इसका भी नरेंद्र गिरि पर काफी दबाव था। जिसके लिए उनको इसी शुक्रवार को हरिद्वार भी आना था। लेकिन नरेंद्र गिरि की 20 सितंबर को संदिग्ध परिस्थितियों में प्रयागराज में मौत हो गई। 

महंत नरेंद्र गिरि केस: अखाड़ों के प्रतिनिधि करेंगे नए अध्यक्ष का चयन, हरिद्वार से भी कई संत प्रबल दावेदार
... और पढ़ें

उत्तराखंड: कानपुर निवासी भाई-बहन के गंगा में बहने की आशंका, देवप्रयाग संगम तट पर दिखे थे आखिरी बार

उत्तराखंड में देवप्रयाग  संगम स्थल पर कानपुर निवासी बुजुर्ग भाई-बहन के गंगा नदी में बहने का अंदेशा जताया जा रहा है। दोनों अविवाहित बताए जा रहे हैं। वह बदरीनाथ यात्रा जाने की बात कहकर दो दिन पहले यहां एक होटल में ठहरे थे। पुलिस और एसडीआरएफ की टीम गंगा में दोनों की तलाश कर रही है। 

गत बुधवार शाम संगम घाट पर जूते व कपड़ों का थैला मिलने पर लोगों ने पुलिस को इसकी सूचना दी। मौके पर पूछताछ करते हुए पुलिस को पता चला कि शाम 4 बजे महिला-पुरुष ने संगम तट पर पंडितों से पूजा करवाई थी। शाम लगभग छह बजे वह ओट मेें बने महिला घाट की ओर चले गए। यहां से दोनों को लौटते हुए किसी नेे नहीं देखा। घाट में पुलिस को चप्पल और एक बैग मिला, लेेकिन इसमें पहचान संबंधी कोई कागजात नहीं मिले। मौके पर सामान मिलने और दोनों के नहीं लौटने पर उनके गंगा में बहने की आशंका जताई गई। 

उत्तराखंड: घरेलू कलह से तंग आकर पहले मां ने तकिये से मुंह दबाकर बेटे को मारा, फिर की आत्महत्या, तस्वीरें

जांच के दौरान पुलिस को उस होटल का पता चल गया, जिसमें दोनों ठहरे हुए थे। होटल में उनका कमरा खुला मिला। यहां कपड़ों से भरे दो ब्रीफकेस व बैग मिले। होटल के रजिस्टर व पेन कार्ड के आधार पर दोनों की पहचान परागनगर कानपुर (यूपी) निवासी नागेश्वर प्रसाद के पुत्र अरविंद (65) व पुत्री सुमन (62) के रूप में हुई। पुलिस को उनके सामान के साथ पुराना मोबाइल फोन मिला। फोन में कॉल रिकार्ड के आधार पर पुलिस ने संबंधित नंबरों पर संपर्क किया।

इसमें पुलिस का संपर्क लखनऊ निवासी जितेंद्र प्रसाद से हुआ। जितेंद्र ने बताया कि दोनों अविवाहित हैं। तीन वर्ष पूर्व उसने लखनऊ में इनसे 11 लाख रुपये में घर खरीदा था। इसके बाद वे दोनों किराये में लखनऊ में ही रह रहे थे। दोनों बहुत कम ही बाहर निकलते थे। छह माह पूर्व उनसे मुलाकात हुई थी। उन्होंने यात्रा पर जाने की बात कही थी। थाना प्रभारी महिपाल सिंह रावत ने बताया कि 20 सितंबर की शाम दोनों लोग देवप्रयाग पहुंचे थे। यहां बदरीनाथ यात्रा पर जाने की बात कहकर एक होटल में ठहरे थे। 21 सितंबर को दोनों देवप्रयाग व आसपास घूमते रहे। 22 सितंबर की शाम दोनों ने संगम में पूजा करवाई।
... और पढ़ें

देहरादून: 17 लाख रुपये की ठगी में नाइजीनियन समेत तीन दबोचे, मेट्रीमोनियल वेबसाइट के जरिए दिया था धोखा 

देहरादून में मेट्रीमोनियल वेबसाइट के जरिए व्यक्ति को ठगने के आरोप में एसटीएफ ने नाइजीरिया मूल के व्यक्ति समेत तीन को गिरफ्तार किया है। आरोपियों में एक महिला भी शामिल है। आरोप है कि इन्होंने शादी का झांसा देकर व्यक्ति से 17 लाख रुपये से ज्यादा ठगे थे। 

एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बृहस्पतिवार को खुलासा करते हुए बताया कि सुनील डोरा निवासी प्रकाश नगर, चकराता रोड की तहरीर पर अप्रैल में इस मामले में केस दर्ज किया गया था। भारत मैट्रीमोनियल साइट के जरिए वह एक महिला के नाम से बने प्रोफाइल के संपर्क में आए। दोनों के बीच शादी की बात हुई। इसके बाद पीड़ित को केसर युक्त ऑयल, जो जानवर की ताकत की दवाई में प्रयोग होता है उसके व्यापार के बारे में बताया। पीड़ित को तेल सप्लाई के लिए अलग-अलग लोगों से संपर्क कराने का झांसा देकर 17 लाख रुपये से ज्यादा रकम अपने बैंक खातों में जमा करवा ली। 

इसके बाद उन्होंने और रकम मांगी तो सुनील को ठगी का अहसास हुआ। एसटीएफ ने पुणे में दबिश देकर वहां से स्वर्णलता बी मिंज हाल निवासी किंगस्टन स्रीन, हिंदवाड़ी, नवाओकोरो चिके स्टेनली हाल निवासी पुणे (मूल नाइजीरिया) और रमेश निवासी जोधपुर राजस्थान, हाल निवासी पुणे को गिरफ्तार किया गया। जिसका स्थानीय न्यायालय से ट्रांजिट रिमांड लेकर देहरादून लाया गया। आरोप है कि इन्होंने भारत के कई हिस्सों में ठगी को अंजाम दिया है। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड: देहरादून में झमाझम बारिश, बदरीनाथ, यमुनोत्री और गंगोत्री हाईवे बंद, उफनाए कुलागाड़ नाले को पार करते समय बही महिला

मौसम के बदले मिजाज के चलते बृहस्पतिवार को राजधानी देहरादून व आसपास के इलाकों में हुई मूसलाधार बारिश ने दर्जन भर से अधिक इलाकों में जनजीवन अस्त व्यस्त करके रख दिया। झमाझम बारिश से राजधानी के प्रमुख चौराहे दिलाराम चौक, सर्वे चौक, घंटाघर, महाराजा अग्रसेन चौक, कारगी चौक, एश्लेहाल पर जबरदस्त जलभराव हो गया। 

जबरदस्त बारिश के चलते राजधानी के बसंत विहार, किशननगर, चकराता रोड, डालनवाला, राजपुर रोड, खुड़बुड़ा मोहल्ला, ईसी रोड, धर्मपुर, नेहरू कालोनी, आईएसबीटी, माजरा, पटेलनगर समेत कई इलाकों में जलभराव होने से लोगोें के सामने भारी मुसीबत खड़ी हो गई।

नालों का पानी आसपास की कॉलोनियों में दाखिल होने के साथ ही लोगों के घरों में घुस गया। तमाम इलाकों में जबरदस्त जल भराव होने और घरों में पानी के दाखिल होने से लोगों में अफरा-तफरी मच गई। बारिश थमने के बाद लोगों ने राहत की सांस ली। मूसलाधार बारिश के चलते तमाम चौराहों पर जलभराव होने से यातायात बाधित हो गया। यातायात बहाल कराने में पुलिसकर्मियों को भारी जद्दोजहद करनी पड़ी।
 
बदरीनाथ, यमुनोत्री और गंगोत्री हाईवे बंद
मसूरी में कल रात को बारिश हुई है। चमोली जिले में बुधवार रात से बारिश हो रही है। यहां मलबा आने से बदरीनाथ हाईवे पागलनाला, क्षेत्रपाल, और कर्णप्रयाग में बंद हो गया है। मार्ग खोलने के प्रयास किए जा रहे हैं। 

उत्तराखंड: चमोली के पिंडर क्षेत्र में तीन साल में सातवीं बार फटा बादल, तस्वीरों में देखें तबाही का मंजर...

यमुनोत्री हाईवे जगह-जगह भूस्खलन, मलबा, बोल्डर आने से बाधित हो रखा है। बारिश के कारण हाईवे खोलने में दिक्कत हो रही है। गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग यातायात हेतु सुचारू है। वहीं, गंगोत्री हाईवे भी धरासू थाने के पास बलवा व पत्थर आने के कारण बंद हो गया है। बीआरओ की टीम मार्ग खोलने में जुटी है।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X