विज्ञापन
विज्ञापन
अपनी जन्मकुंडली से पाएं अपने जीवन की सारी मुश्किलों का हल
Astrology

अपनी जन्मकुंडली से पाएं अपने जीवन की सारी मुश्किलों का हल

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

मंगल पर भेजे गए नासा के अंतरिक्ष यान में उत्तराखंड की इन दो बहनों के भी नाम, जानिए इनके बारे में...

मंगल ग्रह पर जीवन की संभावनाओं को तलाशने के लिए अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा की ओर से भेजे अंतरिक्ष यान में उत्तराखंड के हल्द्वानी शहर की दो बहनों शिव...

23 फरवरी 2021

विज्ञापन
Digital Edition

टनकपुर-दिल्ली के बीच आज से दौड़ेगी पूर्णागिरि जनशताब्दी एक्सप्रेस, रेल मंत्री पीयूष गोयल दिखाएंगे हरी झंडी

उत्तराखंड में सीमांत के लोगों को शुक्रवार को पूर्णागिरि जनशताब्दी एक्सप्रेस के रूप में नई रेल गाड़ी का तोहफा मिलने जा रहा है। रेल मंत्री पीयूष गोयल वर्चुअल माध्यम से दोपहर 1:25 बजे टनकपुर स्टेशन से इस ट्रेन को हरी झंडी दिखाएंगे। रेलवे की ओर से कार्यक्रम की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। बृहस्पतिवार को डीआरएम आशुतोष पंत ने अधिकारियों के साथ टनकपुर पहुंचकर तैयारियों का जायजा लिया। 

राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी की पहल पर टनकपुर रेलवे स्टेशन से दिल्ली के लिए मां पूर्णागिरि नाम से जनशताब्दी एक्सप्रेस का संचालन शुरू किया जा रहा है। रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी राजेंद्र सिंह ने बताया कि शुक्रवार को रेल मंत्री 1: 25 बजे वीडियो लिंक के माध्यम से एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाएंगे। उन्होंने बताया कि टनकपुर रेलवे स्टेशन में आयोजित होने वाले उद्घाटन कार्यक्रम में राज्यसभा सांसद व भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अनिल बलूनी,  सांसद अजय टम्टा और नैनीताल सांसद अजय भट्ट मौजूद रहेंगे।

डीआरएम ने बृहस्पतिवार को यहां आकर उद्घाटन कार्यक्रम की तैयारी का जायजा लिया। उन्होंने स्टेशन में खड़ी जनशताब्दी एक्सप्रेस का निरीक्षण कर जरूरी दिशा-निर्देश दिए। डीआरएम ने कहा कि एक्सप्रेस के संचालन से सीमांत क्षेत्र के लोगों को देश की राजधानी दिल्ली के लिए रेल सेवा का लाभ मिलेगा। 
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

उत्तराखंड: अब नए सर्किल रेट के आधार पर होगा वन भूमि की लीज का नवीनीकरण

उत्तराखंड में वन भूमि पर मिलने वाली लीज में अब सर्किल रेट को भी देखा जाएगा। नए सर्किल रेट पर वन भूमि की लीज का नवीनीकरण किया जाएगा। बृहस्पतिवार को हुई कैबिनेट बैठक में लीज निर्धारण नीति के कई बिंदुओं में संशोधन पर मुहर लगा दी गई।

संशोधित नीति के तहत पेजयल, सिंचाई, गूल, घराट, पंचायत घर, रास्ता एवं स्कूल जैसे सामुदायिक एवं जनोपयोगी प्रयोजनों हेतु सरकारी संस्थाओं को दी गई लीजों का नवीनीकरण निशुल्क होगा जबकि गैर सरकारी या निजी संस्थाओं के लिए एक रुपये वार्षिक लीज रेंट दर तय की गई है।

सरकारी संस्थाओं जैसे कृषि, उद्यान, पशुपालन विभागों को दी गई वन भूमि की लीज का नवीनीकरण निशुल्क होगा। गैर सरकारी या निजी संस्थाओं को एक हेक्टेयर तक लैंड होल्डिंग के लिए एक रुपये प्रति नाली की दर से वार्षिक लीज रेंट देना होगा। घर, छप्पर, झोपड़ी, गोशाला के लिए लीज के नियम भी बदले गए हैं।

मंदिर, आश्रम, धर्मशाला और कुटिया के लिए लीज पर दी जाने वाली वन भूमि के लिए उच्च स्तरीय समिति ने तीन श्रेणियों में वर्गीकरण किया है। किसी भी धर्मग्रंथ में वर्णित स्थल या पुरातात्विक प्रमाणों से प्रमाणित स्थल को संरक्षित एवं विकसित करने का काम राज्य सरकार करेगी।
... और पढ़ें

कुंभ मेला 2021: भव्य यात्रा के साथ हरकी पैड़ी पर स्थापित हुई धर्मध्वजा, गंगा मैया के उद्घोष से गूंजी कुंभनगरी, तस्वीरें...

श्री गंगा सभा ने विधि विधान और मंत्रोच्चार के साथ हरकी पैड़ी पर धर्मध्वजा की स्थापना की। इससे पहले तीर्थ पुरोहितों ने कुशावर्त घाट से शंखनाद करते हुए घंटों और घड़ियालों की ध्वनि के साथ भव्य धर्मध्वजा यात्रा निकाली। स्थानीय व्यापारियों और आम लोगों ने धर्मध्वजा का स्वागत किया। तीर्थ पुरोहितों कुंभ मेला सकुशल संपन्न कराने के लिए गंगा मैया से प्रार्थना की।

आईजी कुंभ संजय गुंज्याल भी धर्मध्वजा यात्रा में शामिल हुए। धर्मध्वजा पताका के साथ तीर्थ पुरोहितों सुभाष घाट, मोती बाजार, सब्जी मंडी, रामघाट विष्णुघाट, बिरला पुल, ललतारौ पुल, वाल्मीकि चौक, पोस्ट ऑफिस, अपर रोड होते हुए हरकी पैड़ी पहुंचे। इस दौरान स्थानीय लोगों ने अपने घरों की छतों से धर्मध्वजा को नमन करते हुए पुष्पवर्षा की। स्थानीय व्यापारियों और जनप्रतिनिधियों ने हर हर महादेव और जय गंगे मैया के जयकारों के साथ धर्मध्वजा का स्वागत किया। यात्रा में मां गंगा के अलावा भव्य झांकियां भी आकर्षण का प्रमुख केंद्र बनी। हरकी पैड़ी पहुंचने के बाद विधि विधान से ब्रहमकुंड के पास धर्मध्वजा स्थापित की गई। श्री गंगा सभा के महामंत्री तन्मय वशिष्ठ ने धर्मध्वजा स्थापित होने के बाद कहा कि मां गंगा के आशीष से दिव्य, भव्य और सुरक्षित कुंभ का आयोजन होगा। उन्होंने श्री गंगा सभा कुंभ मेला के आयोजन में पूरा सहयोग करेगी।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: फरवरी की गर्मी ने तोड़ा 15 साल का रिकॉर्ड, देहरादून और हरिद्वार में सबसे गर्म दिन रहा गुरुवार

इस साल की फरवरी के महीने में गर्मी ने पिछले 15 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया। देहरादून में गुरुवार को तापमान 31.3 डिग्री सेल्सियस  तापमान दर्ज किया गया। यह अभी तक फरवरी का सबसे गर्म दिन रहा।

अभी तक सबसे गर्म फरवरी का महीना वर्ष 2006 में रहा था। तब अधिकतम तापमान 31.2 दर्ज किया गया था। लेकिन, गुरुवार को तापमान ने इस आंकड़े को भी पार कर दिया। इससे एक दिन पहले बुधवार को भी 29.2 डिग्री के साथ 10 साल का नया रिकॉर्ड बना था।

इस साल की फरवरी में गर्मी हो रहे इजाफे से हर कोई हैरान है। आमतौर पर फरवरी अंत तक ठंड महसूस होती थी, लेकिन इस बार तापमान में लगातार इजाफा हो रहा है। मौसम केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि यह रिकॉर्ड अधिकतम तापमान है। 

वहीं, कुंभनगरी हरिद्वार में बीते 15 सालों में गुरुवार का दिन सबसे अधिक गर्म रहा। 25 फरवरी को अधिकतम तापमान 31 डिग्री रिकॉर्ड हुआ। जबकि 2006 को 25 फरवरी को अधिकतम तापमान 31.6 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया है। डेढ़ दशक में सबसे अधिक गर्म दिन की वजह बीते साल अक्तूबर और नवंबर माह में बारिश का नहीं होनेे माना जा रहा है। मौसम विभाग के मुताबिक मार्च शुरुआत से अभी सताएगी। 
... और पढ़ें

केदारनाथ-गौरीकुंड हाईवे पर अचानक टूटी चट्टान, वाहन पर भरभराकर गिरे बोल्डर, तस्वीरें...

गर्मी
केदारनाथ-गौरीकुंड राष्ट्रीय राजमार्ग पर भटवाड़ीसैंण के समीप पहाड़ी से चट्टान का बड़ा हिस्सा टूटकर एक वाहन के आगे के हिस्से में जा गिरा। हादसे में वाहन में बैठी सवारियों में तीन लोगों को हल्की चोट आई हैं, जिन्हें मौके पर चिकित्सालय में भर्ती किया गया। रेस्क्यू दल द्वारा पत्थरों को हटाकर वाहन को बाहर निकाला गया। चौड़ीकरण कार्य के चलते हाईवे कई जगहों पर संवेदनशील बना हुआ है।

बृहस्पतिवार को अगस्त्यमुनि से एक मैक्स वाहन आठ सवारियों को लेकर रुद्रप्रयाग आ रहा था। इस दौरान भटवाणीसैंण के समीप नैल में पहाड़ी से भरभराकर चट्टान का बड़ा हिस्सा वाहन के आगे की तरफ पर जा गिरा, जिससे शीशा बोनट क्षतिग्रस्त हो गया। चट्टान के बड़े-बड़े बोल्डरों के वाहन के ऊपर गिरने से गुंजन (4) पुत्री सुरेश, अंकिता (13) पुत्री सुरेश, निवासी नरकोटा और मुकेश (23) पुत्र भीम लाल, निवासी भट्टगांव तिलवाड़ा को हल्की चोट आई। जबकि चालक जयपाल सिंह पुत्र राय सिंह, निवासी चंद्रापुरी समेत अन्य चार लोग सुरक्षित हैं। सूचना पर अगस्त्यमुनि के थाना प्रभारी जयपाल सिंह नेगी व तिलवाड़ा चौकी प्रभारी सीमा चौहान मय फोर्स मौके पर पहुंचे। रेस्क्यू दल द्वारा वाहन के ऊपर गिरे बोल्डरों को हटाकर तीनों घायलों को तत्काल जिला चिकित्सालय रुद्रप्रयाग में भर्ती किया गया।
... और पढ़ें

कुंभ मेला 2021: पहली बार आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम से होगी कुंभ की निगरानी, चप्पे-चप्पे पर ऐसे नजर रखेगी पुलिस

कुंभ मेला क्षेत्र में किसी भी तरह की अप्रिय घटना को नाकाम करने के लिए पहली बार आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम की मदद ली जाएगी। अत्याधुनिक तकनीक से न केवल सड़कों, पार्किंग स्थलों और घाटों पर श्रद्धालुओं व वाहनों के दबाव की सटीक जानकारी मिलेगी बल्कि लावारिस सामान और श्रद्धालुओं की गिनती भी हो सकेगी।

इसके अलावा चप्पे चप्पे पर नजर रखने के लिए 1500 सीसीटीवी कैमरों की मदद ली जाएगी। कैमरों को कंट्रोल रूम से जोड़ने के लिए कुंभ पुलिस संचार विभाग की चार टीमें जुटी हैं। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम कंट्रोल रूम को हर जानकारी देने के साथ मोबाइल पर अलर्ट आएगा। कुंभ में लाखों की संख्या में भीड़ उमड़ेगी और वाहनों का अत्यधिक दबाव होगा। भीड़ और यातायात संचालन सबसे बड़ी चुनौती होगी।

हरिद्वार कुंभ में पहली आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम की मदद ली जाएगी। 100 से अधिक सीसीटीवी कैमरों को इस अत्याधुनिक सिस्टम से जोड़े जाएंगे। जरूरत के हिसाब से लोकेशन बदली और पांच एप्लीकेशन फीड हो सकेंगे। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम से पहली बार श्रद्धालुओं की सटीक गिनती हो सकेगी। सेंसर हेड काउंट करेंगे। पार्किंग और सड़कों पर वाहनों के दबाव को भी सेंसर रीड करेंगे। यदि किसी पार्किंग की क्षमता एक हजार वाहनों की है और उसमें 950 वाहन खड़े हो चुके हैं तो सिस्टम कंट्रोल रूम को अलर्ट जारी कर देगा।
... और पढ़ें

माघ पूर्णिमा स्नान 2021: तीन दिन हरिद्वार में भारी वाहनों की एंट्री बैन, लाखों श्रद्धालुओं के उमड़ने की संभावना

हरिद्वार में 27 फरवरी को होने वाले माघ पूर्णिमा स्नान को लेकर कुंभ पुलिस ने अपनी तैयारी कर ली है। स्नान पर लाखों श्रद्धालुओं के पहुंचने की उम्मीद है। यातायात प्लान के तहत शुक्रवार से 28 फरवरी की रात आठ बजे तक शहर के अंदर भारी व व्यावसायिक वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित होगा। 

कुंभ मेला आईजी संजय गुंज्याल ने बताया कि दिल्ली-मेरठ-मुजफ्फरनगर से आने वाले वाहनों को मंगलौर से लंढौर-लक्सर होते हुए जगजीतपुर से दक्षद्वीप और फिर बैरागी कैंप होकर चमगादड़ टापू पार्किंग में खड़ा कराया जाएगा। 

Maha Kumbh 2021: निरंजनी अखाड़ा के रमता पंचों ने जमात के साथ किया कुंभनगरी में प्रवेश, तस्वीरों में देखें

सहारनपुर की तरफ से आने वाले वाहनों को भगवानपुर से पुहाना-झबरेड़ा-मंगलौर-लंढौरा-लक्सर होते हुए जगजीतपुर होकर चमगादड़ टापू पार्किंग पहुंचाया जाएगा। नजीबाबाद से आने वाले वाहन गौरीशंकर पार्किंग में पार्क होंगे। देहरादून और ऋषिकेश से आने वाले वाहन मोतीचूर पार्किंग व पावन धाम पार्किंग पर खड़े होंगे। 

उन्होंने बताया कि सभी राज्यों की रोडवेज बसें स्थानीय रोडवेज बस अड्डे व ऋषिकुल बस अड्डे पर खड़ी होंगी। आवश्यक सेवाओं वाले वाहनों पर अपरिहार्य परिस्थितियों के अतिरिक्त कोई भी प्रतिबंध लागू नहीं रहेगा। स्थानीय वाहन कुछ प्रतिबंधों के साथ आवागमन कर सकेंगे।

शिव मूर्ति तिराहे से लेकर अपर रोड पर भीमगोड़ा बैरियर तक सभी प्रकार के वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। श्री गंगा सभा, स्थानीय व्यापारी और इस क्षेत्र में रहने वाले नागरिक व इस क्षेत्र में कार्य करने वाले व्यक्तियों के दो पहिया वाहनों को प्रतिबंध से मुक्त रखा जाएगा।
... और पढ़ें

कुंभ मेला 2021: सभी 13 अखाड़ों की धर्मध्वजा और पेशवाई की तिथियां घोषित, यहां पढ़ें...

शैव संन्यासी संप्रदाय, बैरागी और उदासीन संप्रदाय के अखाड़ों की धर्म ध्वजा और पेशवाई निकाले जाने की तिथियां घोषित हो गई हैं। सभी अखाड़े अपनी-अपनी तैयारियों में जुट गए हैं। पेशवाईयां भव्य निकाली जाएंगी। इनमें हाथी, रथ, घोड़ों के अलावा देवभूमि की सांस्कृतिक झलक के साथ कोविड बचाव का संदेश दिया जाएगा। हेलीकाॅप्टर से फूल बरसाए जाएंगे। हजारों की संख्या में साधु, संत और महापुरुष शामिल होंगे।

अखाड़ों की धर्मध्वजा और पेशवाईयों की तारीख

  • पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी की पेशवाई तीन मार्च को एसएमजेएन पीजी कॉलेज गोविंदपुरी से निकलेगी और मायापुर निरंजनी अखाड़ा में प्रवेश करेगी। 27 फरवरी को धर्मध्वजा फहराई जाएगी।
  • श्री पंचदशनाम जूना और श्री पंचदशनाम पंच अग्नि अखाड़ा की पेशवाई चार मार्च को कांगड़ी प्रेमगिरि आश्रम से निकाली जाएगी। जूना अखाड़ा छावनी में प्रवेश करेगी। तीन मार्च को धर्मध्वजा फहराई जाएगी।
  • श्री पंचदशनाम आह्वान अखाड़ा की पेशवाई पांच मार्च को प्राचीन गुघाल मंदिर से निकाली जाएगी। धर्मध्वजा तीन मार्च को फहराई जाएगी।
  •  आनंद अखाड़ा पेशवाई एसएमजेएन पीजी कॉलज से पांच मार्च की निकाली जाएगी। धर्मध्वजा 27 फरवरी को आनंद अखाड़ा में फहराई जाएगी।
  •  श्री पंचायती महानिर्वाणी अखाड़ा की पेशवाई आठ मार्च को छावनी से निकलेगी। धर्मध्वजा 28 फरवरी को छावनी परिसर में फहराई जाएगी।
  •  श्री पंचायती नया बड़ा उदासीन अखाड़ा की पेशवाई पांच अप्रैल को बिशनपुर कटारपुर से निकलेगी। धर्म ध्वजा तीन अप्रैल को फहराई जाएगी।
  • श्री पंचायती बड़ा उदासीन अखाड़ा की चार अप्रैल को दूधाधारी चौक से पेशवाई निकाली जाएगी। दो अप्रैल को धर्म ध्वजा होगी।
  •  श्री निर्मल अखाड़ा की पेशवाई नौ अप्रैल एकड़ कला से निकाली जाएगी। निर्मला छावनी में प्रवेश होगी। धर्म ध्वजा दस अप्रैल को फहराई जाएगी।
  •  श्री दिगंबर अणी अखाड़ा, श्री निर्वाणी अणी अखाड़ा और श्री पंच निर्मोही अणी अखाड़ा की पेशवाई छह अप्रैल को दुर्गादास भूपतावाला से सामूहिक निकाली जाएगी। पेशवाई छावनी में प्रवेश करेगी। दो अप्रैल को बैरागी कैंप में धर्मध्वजा फहराई जाएगी।
  • श्री पंच अटल अखाड़ा की पेशवाई नौ मार्च को स्वरूपानंद आश्रम के पास से निकलेगी। धर्म ध्वजा 28 फरवरी को फहराई जाएगी।
... और पढ़ें

कुंभ मेला 2021: 600 बेड क्षमता का बनेगा अस्थायी कोविड अस्पताल, यूपी से मिलेंगे 100 डॉक्टर और 148 पैरामेडिकल स्टाफ

कोविड महामारी की रोकथाम के लिए तीर्थ नगरी हरिद्वार में छह सौ बेड की क्षमता का अस्थायी कोविड अस्पताल बनाया जाएगा। मंत्रिमंडल ने इसकी मंजूरी दे दी है। अस्पताल में 50 आईसीयू बेड भी बनेंगे। अस्थायी अस्पताल कम लागत में बनकर तैयार हो जाएगा। पहले 90 करोड़ की लागत से कोविड अस्पताल बनाने की योजना थी। 
बृहस्पतिवार को हुई मंत्रिमंडल की बैठक में कुंभ मेला में आने वाले लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने और अस्थायी कोविड अस्पताल बनाने की मंजूरी दी गई। पहले स्वास्थ्य विभाग ने डीआरडीओ (रक्षा अनुसंधान विकास संगठन) के माध्यम से दो हजार बेड क्षमता का कोविड अस्पताल बनाने का प्रस्ताव तैयार किया गया है।

माघ पूर्णिमा स्नान 2021: तीन दिन हरिद्वार में भारी वाहनों की एंट्री बैन, लाखों श्रद्धालुओं के उमड़ने की संभावना

इस पर 90 करोड़ खर्च होने का अनुमान था। राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) की ओर से राज्य सरकार को सुझाव दिया कि कुंभ मेला में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए छह सौ बेड का अस्थायी कोविड अस्पताल बनाया जाएगा।

इसमें 50 आईसीयू बेड की व्यवस्था भी रहेगी। सरकार की ओर से हरिद्वार में किसी अस्पताल या भवन लेकर उसे अस्थायी रूप से कोविड अस्पताल बनाने की योजना है। इससे निर्माण लागत में कमी आएगी। सरकार का मनाना है कि डेढ़ से दो करोड़ की लागत में कोविड अस्पताल बन जाएगा।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X