विज्ञापन
विज्ञापन
MyCity App MyCity App
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

#ladengecoronase: सेना में भर्ती हुए बेटे ने भेजी पहली सैलरी, मां ने जरूरतमंदों के लिए दे दी

बेटा सेना में भर्ती हुआ। ट्रेनिंग पूरी हुई तो उसने अपनी पहली सैलरी मां को भेजी। मां ने मिसाल पेश करते हुए बेटे की पहली सैलरी जरूरतमंदों के लिए दे दी।

4 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

देहरादून

रविवार, 5 अप्रैल 2020

उत्तराखंड: धरासू थाना के पास पहाड़ी से भारी मलबा आने से गंगोत्री हाईवे बंद

धरासू के निकट भारी भूस्खलन का सिलसिला जारी रहने के कारण गंगोत्री हाईवे शुक्रवार अपराह्न तीन बजे से अवरुद्ध है। मैदानी क्षेत्रों से सब्जी, खाद्यान्न आदि आवश्यक सामान लेकर उत्तरकाशी आ रहे दर्जनों वाहन वहीं फंस गए हैं।

भूस्खलन जारी रहने के कारण यहां यातायात बहाली के प्रयास अभी तक सफल नहीं हो पाए हैं। इस हिस्से में नदी किनारे से पैदल आवाजाही लायक रास्ता तैयार किया गया है, जबकि वाहनों को बनचौरा, ब्रह्मखाल होते हुए उत्तरकाशी की ओर भेजा जा रहा है।

हाईवे के करीब सौ मीटर हिस्से में ऊंची पहाड़ी से भारी बोल्डर एवं मलबा गिर रहा है। थानाध्यक्ष धरासू विनोद थपलियाल ने बताया कि आवश्यक सेवाओं वाले वाहनों को बड़ेथी से बनचौरा, ब्रह्मखाल होते हुए उत्तरकाशी भेजा जा रहा है। ऐसे में वाहनों को करीब 70-80 किमी. की अतिरिक्त दूरी तय करनी पड़ रही है।
... और पढ़ें

Lockdown: काशीपुर पुलिस ने यूपी से जुड़ी दोनों सीमाओं को किया सील, दूध और सब्जी विक्रेताओं की भी नो एंट्री

Uttarakhand Lockdown : जमातियों के पकड़े जाने के बाद रुद्रपुर का जयनगर गुजर खत्ता गांव सील, पूरी आबादी होम क्वारंटीन

रुद्रपुर के दिनेशपुर के जयनगर गुजर खत्ता में छह जमातियों के पकड़े जाने के बाद गांव को सील कर दिया गया है। एहतियातन गांव के सभी लोगों को होम क्वारंटीन किया गया है। साथ ही स्वास्थ्य विभाग और पुलिस विभाग की टीम गांव पर नजर बनाए हुए है। 

बीते शुक्रवार को दिनेशपुर के जयनगर गुजर खत्ते में छह जमाती पकड़े गए थे। पुलिस और स्वास्थ्य विभाग ने सभी को पकड़कर ब्लड सैंपल जांच को भेजकर सभी को क्वारंटीन कर दिया। इसके बाद से ही गांव में अलर्ट जारी कर दिया गया है।

एसपी सिटी देवेंद्र पिंचा ने बताया पूरे गांव को सील कर लोगों को होम क्वारंटीन कर दिया है। लोगों पर हर पल नजर रखी जा रही है।
... और पढ़ें

Lockdown Uttarakhand Updates Live: हरिद्वार में दुकानदार पर मुकदमा दर्ज, हिरासत में लिए आठ लोग

लॉकडाउन के बाद भी उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। प्रदेश में अब कोरोना से संक्रमित कुल मरीजों की संख्या 22 पहुंच गई है। पुलिस भी लोगों पर निगरानी रखने के लिए चप्पे-चप्पे पर तैनात है। वहीं, कई जगह ड्रोन कैमरे से नजर रखी जा रही है।

लाइव अपडेट

- हरिद्वार की रानीपुर कोतवाली पुलिस ने लॉक डाउन का उल्लंघन करने पर दुकानदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। वहीं सड़कों पर घूमते मिले  आठ लोगों को हिरासत में लिया।

-लॉकडाउन का उल्लंघन कर रुद्रपुर में सोशल मीडिया में भड़काऊ पोस्ट डालने के आरोप में पुलिस ने एक युवक पर मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस के अनुसार शनिवार की रात सुभाष कॉलोनी निवासी युवक ने व्हाट्सएप के जरिए लोगों को मैसेज भेजकर भड़काने का प्रयास किया। आरोपी ने प्रधानमंत्री के खिलाफ भी वीडियो बनाकर वायरल की। कोतवाल केसी भट्ट ने बताया आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। 

- शनिवार को दो कॉलोनियों में कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के बाद लोग खौफ में हैं। इसके चलते बंजारावाला की हरिओम कॉलोनी में लोगों ने खुद ही डंडे लगाकर रास्ता आम लोगों की आवाजाही के लिए बंद कर दिया। 

-देहरादून में सुबह घंटाघर पर कम ही लोग दिखे। बेवजह निकले लोगों का पुलिस ने चालान भी किया। वहीं, धारा चौकी पहुंचकर कुछ लोगों ने पुलिस के पास राशन के लिए रजिस्ट्रेशन भी कराया।

-हल्द्वानी मंगल पड़ाव क्षेत्र में प्रशासन द्वारा सब्जियों के ठेले बाजार में प्रवेश न करें इसके लिए रास्ता बंद कर दिया।

-रामनगर में सुबह तमाम गलियां और बाजार सूने दिखे। वहीं, मेडिकल की दुकान एटीएम खुले लेकिन लोग नहीं पहुंचे।

-चमोली जिले के पोखरी में सुबह 7 बजे से ही दुकानें खुली, लेकिन ग्राहक नहीं पहुंचे। 
... और पढ़ें
उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण

Uttarakhand Lockdown: स्विगी ने शुरू की राशन की होम डिलीवरी, आपके घर तक सामान पहुंचाएंगे सेल्समैन

देहरादून में लॉकडाउन के दौरान स्विगी के सेल्समैन लोगों के घर आटा, दाल, चावल पहुंचाएंगे। स्विगी ने कई क्षेत्रों में राशन की होम डिलीवरी की सुविधा शुरू कर दी है। इसके लिए स्विगी ने कई ग्रॉसरी स्टोर्स से टाइअप किया है।

लॉक डाउन के कारण इन दिनों कई लोगों को राशन खरीदने के लिए परेशान होना पड़ रहा है। विशेषकर उन परिवारों को जहां केवल बुजुर्ग या महिलाएं और बच्चे ही हैं। इसको देखते हुए स्विगी ने कई इलाकों में राशन की होम डिलीवरी की सुविधा शुरू की है। दिन में ग्रॉसरी स्टोर खुले रहने के समय स्विगी के सेल्समैन इन इलाकों में घर-घर जा कर राशन पहुंचाएंगे।

इन दिनों ज्यादातर होटल और रेस्टोरेंट बंद होने के कारण पकवानों की होम डिलीवरी लगभग बंद है। कुछ रेस्टोरेंट केवल जरूरतमंदों के लिए खाना तैयार कर रहे हैं। इससे स्विगी के सेल्समैन भी खाली बैठे हुए हैं। राशन की होम डिलीवरी होने से अब उन्हें लॉक डाउन में काम मिल सकेगा।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: जंगल की आग में जिंदा जली दो महिलाएं, तीसरी ने भागकर बचाई अपनी जान

उत्तराखंड के बागेश्वर में कपकोट क्षेत्र में घास काटने गई दो महिलाएं शनिवार देर शाम जंगल की आग में जिंदा जल गईं। एक महिला का शव शनिवार को ही बरामद कर लिया गया था। जबकि दूसरी महिला का शव रविवार सुबह बरामद हुआ। 

कपकोट के चचई गांव की महिला नंदी देवी (40) पत्नी मदन राम, इंदिरा देवी पत्नी तारा राम और गांव की एक अन्य महिला शनिवार शाम पुड़कुनी के जंगल में घास काटने गई थीं।

उस वक्त जंगल में आग लगी हुई थी। शाम करीब सात बजे आग की चपेट में आने से नंदी देवी पत्नी मदन राम बुरी तरह जल गई और उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई। वहीं, इंदिरा देवी (36) पत्नी तारा राम का शव रविवार सुबह जंगल से बुरी तरह जली अवस्था में बरामद हुआ।
... और पढ़ें

Coronavirus Uttarakhand: जंगल के रास्ते छिपकर देहरादून आए सात जमाती दबोचे, किया क्वारंटीन

कोरोना संक्रमण से बचाव को पुलिस की अपील से जमाती बेअसर हैं। पुलिस ने बेहट की जमात से जंगल के रास्ते देहरादून की सीमा में आए डोईवाला के सात जमातियों को पकड़ लिया। मेडिकल जांच के बाद इन जमातियों को क्वारंटीन कर दिया गया। 

निजामुद्दीन मरकज़ में जमातियों में कोरोना पॉजिटिव आने के बाद से जमाती पुलिस और खुफिया विभाग के निशाने पर हैं। पुलिस लगातार मुस्लिम धर्म गुरुओं से संपर्क कर रही है कि जमाती खुद आगे आकर महामारी रोकने में सहयोग करें, लेकिन जमाती इसके लिए तैयार नहीं हैं। 

पुलिस अधीक्षक नगर श्वेता चौबे ने बताया खुफिया विभाग की मदद से शनिवार सुबह खबर मिली कि जमातियों की एक टोली पुलिस से बचने को जंगल के रास्ते आ रही हैं। इसी आधार पर पुलिस और मेडिकल टीम को नया गांव के जंगल में गोपनीय ढंग से भेजा गया।

इन सात जमातियों को सुद्दोवाला के एक इंस्टिट्यूट में क्वारंटीन कर दिया गया है। डोईवाला के ये जमाती 11 मार्च को सहारनपुर के बेहट में जमात में भाग लेने गए थे। पुलिस से बचने को इन लोगों ने बेहट से दून आने के लिए जंगल का रास्ता तय किया था। जमातियों को पकड़ने वाली पुलिस टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा की है।
... और पढ़ें

Coronavirus in Uttarakhand: अप्रैल से मई माह तक शादियों की बुकिंग हुई कैंसिल, 15 जून के बाद संभावना

कोरोना महामारी के बीच लॉकडाउन के चलते शादियों के लिए बुकिंग डेट आगे बढ़ने लगी हैं। ज्यादार लोग जून माह तक अपनी शादियों को टाल चुके हैं। रोजाना वैडिंग प्वाइंट संचालकों के पास अप्रैल और मई माह की बुकिंग को
कैसिंल कर जून में नई बुकिंग डेट पूछने के लिए फोन आ रहे हैं। अब तक क्षेत्र में 150 से अधिक शादियां कैंसिल हो चुकी हैं।

मालूम हो कि इस बार 16 अप्रैल से शादियों का सीजन शुरू हो रहा है। 24 मई तक विवाह के लिए कई मुहूर्त भी हैं, लेकिन महामारी फैलने के बाद से सरकार ने वर्तमान में बड़े समारोह के आयोजन पर रोक लगा दी है। पंडितों के अनुसार 16 अप्रैल से 24 मई तक शादियों के लिए कई मुहूर्त हैं। जिसके बाद 24 मई से 15 जून तक तारा डूबा रहेगा। उसके बाद ही विवाह के अगले मुहूर्त निकल सकेंगे।
... और पढ़ें

#ladengecoronase:  पुलिसकर्मी सड़कों पर तैनात, घर में पत्नियां बना रहीं मास्क 

अल्मोड़ा : रामगंगा में डूबने से तीन युवकों की मौत, घटना के बाद घरों में मचा कोहराम

भिकियासैंण से सात किलोमीटर दूर दुगोलीबाग में रामगंगा नदी में नहाते समय फलसों के तीन युवकों की मौत हो गई। सूचना मिलने पर पुलिस और प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंच गए। स्थानीय ग्रामीणों की मदद से तीनों को नदी से निकाला गया, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी।

जानकारी के मुताबिक फलसों निवासी विरेंद्र रौतेला (28) पुत्र ख्याल सिंह, दीपक रौतेला (19) पुत्र कृपाल सिंह, चंदन सिंह रौतेला (25) पुत्र प्रताप सिंह शनिवार दोपहर 12 बजे के आसपास दुगोलीबाग में रामगंगा नदी में नहा रहे थे। कुछ ही देर में तीनों युवक नदी के भंवर में फंसते चले गए और गहरे पानी में डूब गए।

सूचना मिलने पर पुलिस और प्रशासन की टीम मौके पर पहुंच गई। स्थानीय लोगों के सहयोग से रेस्क्यू कर तीनों युवकों को नदी से बाहर निकाला गया, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। राजस्व पुलिस ने घटनास्थल पर पंचनामा भरा। इसकी सूचना तीनों के परिजनों को दे दी गई है।
... और पढ़ें

Coronavirus: उत्तराखंड में मिले कोरोना के छह नए मरीज, संक्रमितों की कुल संख्या हुई 22

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। शनिवार को प्रदेश में छह और मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए। माना जा रहा है कि उक्त सभी विभिन्न शहरों से जमात में शामिल होकर लौटे हैं।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से सभी मरीजों का यात्रा इतिहास खंगाला जा रहा है। इसी के साथ अब प्रदेश में कोरोना से संक्रमित कुल मरीजों की संख्या 22 पहुंच गई है। शनिवार को मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी और एम्स ऋषिकेश से आई सैंपल जांच रिपोर्ट में छह और मरीजों में कोरोना की पुष्टि हुई है।

इनमें नैनीताल से पांच और हरिद्वार जनपद के रुड़की से एक मरीज संक्रमित पाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार रुड़की के पनियाला गांव का 25 वर्षीय युवक 31 मार्च को राजस्थान के अलवर से लौटा था। कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखाई देने पर उसे सिविल अस्पताल रुड़की में आइसोलेशन में भर्ती किया गया था। सैंपल जांच में युवक कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। जबकि नैनीताल के पांच मरीजों में चार युवक और एक बुजुर्ग शामिल हैं।

इन सभी को मिलाकर प्रदेश में कुल 22 लोग संक्रमित हैं। वहीं, इनके अलावा देहरादून निवासी तीन जमातियों को यूपी के प्रतापगढ़ में आइसोलेशन में भर्ती किया गया है। तीनों निजामुद्दीन जमात में शामिल होकर प्रतापगढ़ पहुंचे थे, जांच में तीनों में ही कोरोना की पुष्टि हुई थी।

वहीं देहरादून के कारगी और भगत सिंह कॉलोनी क्षेत्र को पूरी तरह सील कर दिया गया हैं। अब यहां सिर्फ आवश्यक सेवाओं की आपूर्ती के लिए ही आवाजाही होगी। यहां से विगत दिनों में पांच कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद यह फैसला लिया गया है।
... और पढ़ें

Coronavirus Uttarakhand: विकासनगर में मिला निजामुद्दीन तब्लीगी जमात से लौटा युवक, किया होम क्वारंटीन

देशभर में हुई विभिन्न जमातों में शामिल होकर देहरादून जिले के विकासनगर क्षेत्र में लौटे 20 लोगों को होम क्वारंटीन किया गया है। ये सभी जमाती 15 मार्च से पूर्व क्षेत्र में दाखिल हुए थे। वर्तमान में सभी पूरी तरह से ठीक हैं।

शनिवार को तहसील प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जमनीपुर में 15, बैरागीवाला में एक, बरोटीवाला में एक और केदारवाला गांव में तीन लोगों को होम क्वारंटीन किया। बरोटीवाला का युवक जगाधरी हरियाणा की जमात में शामिल होने के बाद निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात में भी शमिल हुआ था। वह 24 दिन पूर्व वापस लौटा था।

अपर स्वास्थ्य निदेशक डॉ. केके शर्मा ने बताया कि प्रशासन की ओर से उपलब्ध कराई गई सूची के आधार पर जमात से लौटे सभी लोगों की स्वास्थ्य जांच की जा रही है। मामला संदिग्ध प्रतीत होने पर लोगों को आइसोलेशन वॉर्ड में शिफ्ट भी किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की टीम सभी लोगों पर पूरी तरह से नजर बनाए हुए हैं। विभाग की टीम बीते दो दिन से लगातार अभियान चला मस्जिदों और आसपास के घरों में रहने वाले जमातियों की जांच कर रही है।

अब तक 56 से अधिक जमातियों को आइसोलेट और होम क्वारंटीन किया गया है। वहीं, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चकराता के प्रभारी डॉ. केशर चौहान ने बताया कि क्षेत्र के हाजा और डाडवा गांव में भी दिल्ली क्षेत्र से पहुंचे दो युवकों को 14 दिन के लिए होम क्वारंटीन किया गया है।
... और पढ़ें

कंसिस्टेंसी और मेहनत से सुनिश्चित है सफलता: डिजिटल इनफ्लुएंसर संदीप गंगोला

वर्तमान में सोशल मीडिया ने प्रोफेशनल और कैरियर जगत की परिभाषा ही बदल दी है हम जितने करियर ऑप्शंस के बारे में जान रहे हैं। सोशल मीडिया विशेषकर फेसबुक इंस्टाग्राम एवं यूट्यूब में कई प्रतिभाशाली युवाओं को ना केवल अपनी प्रतिभा प्रदर्शित करने का मौका दिया है बल्कि इसमें बेहतरीन सफलता हासिल करने का जरिया भी बना है। कई युवा इनफ्लुएंसर्स अपनी प्रतिभा के दम पर सोशल मीडिया पर अपना सिक्का जमा रहे हैं।इन्हीं में से एक नाम है संदीप गंगोला।

8 नवंबर 1999 को उत्तराखंड में जन्मे संदीप गंगोला ब्लॉगर एवं डिजिटल मार्केटिंग एक्सपर्ट है। हालांकि फॉर्मल एजुकेशन सिस्टम एवं पढ़ाई की तरफ उनकी विशेष रुचि नहीं है किंतु डिजिटल मीडिया की तरफ उनका रुझान काफ कम उम्र से ही है। डिजिटल मीडिया में करियर की शुरुआत उन्होंने मात्र 14 वर्ष की उम्र में कर ली थी। स्व शिक्षा से उन्होंने फेसबुक एड्स,गूगल ऐडसेंस,डिजिटल मार्केटिंग, वेबसाइट ट्रेफिक मैनेजमेंट, चैनल ट्रेफिक मैनेजमेंट एवं एथिकल हैकिंग की सिर्फ जानकारी हासिल ही नहीं की बल्कि वह इन सभी में बेहद कुशल हैं।

संदीप गंगोला मानते हैं की फॉर्मल एजुकेशन सिस्टम गलत नहीं है पर यह कुछ विशेष करियर्स में ही सफलता दे सकता है किंतु अगर आप मेहनती हैं और आपमें किसी क्षेत्र में प्रतिभा है जिसको फॉर्मल एजुकेशन सिस्टम सपोर्ट नहीं करता तो आप उस प्रतिभा को अपने दृढ़ शक्ति एवं मेहनत से ना केवल निखार सकते हैं बल्कि उसे बेहतरीन करियर ऑप्शन के तौर पर चुन भी सकते हैं। सोशल मीडिया ना केवल आपको अपनी प्रतिभा लाखों तक पहुंचाने का मौका देता है बल्कि एक कुशल जीवन यापन मेंआर्थिक मदद भी कर सकता है।

उनकी ब्लॉग्स एवं इंस्टाग्राम के कंटेंट की कुशलता एवं सफलता देखकर आप शायद ही यकीन करेंगे कि संदीप गंगोला 12वीं कक्षा में दो बार अनुत्तीर्ण हुए थे। लेकिन उन्होंने इस असफलता को दरकिनार करके अपने पैशन की तरफ ना केवल पुरजोर मेहनत की बल्कि निरंतर काम करके सफलता भी हासिल की है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us