बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध वृषभ राशि में हुए मार्गी, 7 जुलाई तक इन 4 राशि वालों के जीवन में आएंगी अपार खुशियां
Myjyotish

बुध वृषभ राशि में हुए मार्गी, 7 जुलाई तक इन 4 राशि वालों के जीवन में आएंगी अपार खुशियां

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

गर्व : चंडीगढ़ की शूटर गौरी श्योराण बनीं ग्लोबल एंबेसडर, अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर मिला सम्मान

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर चंडीगढ़ की शूटर गौरी श्योराण को इंटरनेशनल वुमन क्लब ने 2021 का ग्लोबल एंबेसडर नियुक्त किया है। एक ऑनलाइन कार्यक्रम में चेक...

18 अप्रैल 2021

विज्ञापन
Digital Edition

वारदात: मायके से पति के साथ निकली थी, ड्रेन में मिला पांच माह की गर्भवती का शव

एक गर्भवती महिला की गला रेत कर हत्या करने का मामला सामने आया है। हत्या के बाद उसका शव गोहाना में गांव माहरा के पास से गुजर रही ड्रेन नंबर आठ में फेंक दिया गया। परिजनों के अनुसार महिला सुबह ही अपने पति के साथ मायके से आई थी। महिला के पिता का आरोप है कि उसकी बेटी की हत्या उसके पति गुलशन ने की है। इसके साथ ही उन्होंने ससुराल पक्ष के अन्य लोगों पर दहेज प्रताड़ना का आरोप लगाया है।

भैंसवान पुलिस चौकी को सुबह सूचना मिली थी कि ड्रेन नंबर आठ में एक महिला का शव पड़ा है। इस पर बरोदा थाना प्रभारी बदन सिंह अपनी टीम के साथ पहुंचे। इसके कुछ ही देर बाद महिला के परिजन भी मौके पर पहुंचे। 


परिजनों ने बताया कि उनकी बेटी ज्योति करीब 5 महीने की गर्भवती है। शुक्रवार सुबह ही उसे उसका पति उत्तम नगर गोहाना निवासी गुलशन लेकर ससुराल गया था। उसने ही उन्हें फोन करके सूचना दी कि ज्योति बोल नहीं रही है, आप ड्रेन नंबर आठ के पास आ जाए। वह मौके पर पहुंचे तो वहां पुलिस मिली। उन्होंने देखा कि उसकी बेटी का शव ड्रेन में पड़ा था। 

महिला के पिता मामन का आरोप है कि गुलशन ने ही उसकी बेटी की तेजधार हथियार से हत्या की है। वह और उसके परिजन शादी के बाद से ही उसकी बेटी को दहेज के लिए तंग करते थे। यही नहीं बेटी से उनकी बात भी नहीं कराते थे। फिलहाल पुलिस ने एफएसएल टीम के साथ मौके पर कार्रवाई कर शव को पोस्टमार्टम के लिए गोहाना के सामान्य अस्पताल में भिजवा दिया है।
... और पढ़ें
गोहाना में ड्रेन से मिला महिला का शव। गोहाना में ड्रेन से मिला महिला का शव।

चंडीगढ़: एयरपोर्ट पर चेहरे से हो सकेगी पहचान, नहीं रहेगी पासपोर्ट की जरूरत... पंजाब यूनिवर्सिटी में हो रहा शोध 

चंडीगढ़ के पंजाब विश्वविद्यालय से हर साल 300 से अधिक शोधार्थी पास होते हैं। यूनिवर्सिटी के कई शोध समाज को लाभ पहुंचा रहे हैं। वहीं कई विषयों पर शोध अभी चल रहे हैं। पीयू में कुछ ऐसे विषयों पर शोध चल रहे हैं जो पूरे होने पर काफी फायदेमंद होंगे और सरकारी मशीनरी को भी लाभ पहुंचाएंगे। इन शोध का सभी को इंतजार है।  

चेहरा बताएगा... कहां के हैं नागरिक
विदेश जाने वाले लोगों को पासपोर्ट की आवश्यकता है। पासपोर्ट बनाने के लिए कई प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ता है। कई लोग इस व्यवस्था में भी सेंध लगाने की कोशिश करते हैं। इन सभी से निजात दिलाने के लिए पीयू का एंथ्रोपोलॉजी विभाग शोध कर रहा है। इस शोध के जरिए चेहरा ही बता देगा कि आप किस देश के नागरिक हैं, यानी पासपोर्ट की जगह फेस स्कैन ले लेगा। जैसे ही लोग एयरपोर्ट पर पहुंचेंगे तो चेहरा मशीन से गुजरेगा और सारी रिपोर्ट वहां के अधिकारियों को मिल जाएगी। बताते हैं कि शोध का कार्य लगभग पूरा हो गया है। यह जल्द सामने आएगा।
... और पढ़ें

सिरसा: सात साल के बाद इस शख्स ने कटवाई दाढ़ी, ओपी चौटाला को सजा होने पर खाई थी न कटवाने की प्रतिज्ञा

गांव भरोखा के ओम प्रकाश नाई ने इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला को 10 साल की सजा होने पर प्रतिज्ञा ली थी कि जब तक पूर्व मुख्यमंत्री जेल से रिहा नहीं होंगे तब तक वह अपनी दाढ़ी नहीं कटवाएंगे। गुरुवार को इनेलो महिला विंग की प्रधान महासचिव सुनैना चौटाला और इनेलो जिला अध्यक्ष कश्मीर सिंह करीवाला गांव भरोखा पहुंचे। इनकी उपस्थिति में ओमप्रकाश ने अपनी दाढ़ी कटवाई। मौके पर सुनैना चौटाला ने उन्हें 5100 रुपये देकर सम्मानित किया। 

सुनैना चौटाला ने कहा कि इनेलो सुप्रीमो चौधरी ओमप्रकाश चौटाला को अपने कार्यकर्ता जान से प्यारे हैं। वे कार्यकर्ताओं को पार्टी की रीढ़ मानते हैं। वहीं करीवाला ने कहा कि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के कार्यकर्ता झुकने और टूटने वाले नहीं हैं। वे पार्टी के प्रति समर्पित हैं। कार्यकर्ता अब दोगुनी ताकत से जुट जाएं और पार्टी को मजबूती प्रदान करें।

पूर्व सीएम की रिहाई पर बांटे लड्डू
जेबीटी भर्ती केस में पूर्व सीएम ओमप्रकाश चौटाला की सजा पूरी होने से इनेलो कार्यकर्ता उत्साहित हैं। सजा पूरी होने की सूचना पर कार्यकर्ताओं ने गांव जमाल में लड्डू बांटकर खुशी जताई। इनेलो कार्यकर्ताओं ने कहा कि पूर्व सीएम ओमप्रकाश चौटाला की रिहाई से इनेलो पार्टी को और मजबूती मिलेगी। इस मौके पर डूंगर राम डूडी, घनश्याम डूडी, शतानंद बैनीवाल, मदन बैनीवाल, रामजीलाल, राजेंद्र कस्वां, सुनील भारी, अजय ज्यानी, मनीष, जुगलाल बैनीवाल ने लड्डू बांटकर खुशी जताई। 
... और पढ़ें

तीसरी लहर से पहले सतर्कता: हरियाणा में लोगों को वैक्सीन की दूसरी खुराक देने पर होगा फोकस, अलग कैंप भी लगेंगे

कोरोना की तीसरी संभावित लहर के पहले अब प्रदेश के अधिक से अधिक लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज देने पर फोकस किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग और नेशनल हेल्थ मिशन की ओर से इसके लिए विशेष तैयारियां की जा रही हैं। दूसरी डोज के लिए अलग टीकाकरण कैंप लगाने का फैसला लिया गया है। प्रदेश के सभी सीएमओ को इसके लिए निर्देश भेजे गए हैं, ताकि इस पर जल्दी से काम शुरू किया जा सके।

टीकाकरण को लेकर की गई समीक्षा बैठक में यह फैसला लिया गया। बता दें कि अब तक हरियाणा में करीब 81 लाख लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। इनमें से केवल 12 लाख लोगों ने ही दूसरी डोज ली है।

स्वास्थ्य अधिकारियों का मानना है कि वैक्सीन की दोनों डोज लेने के बाद ही व्यक्ति के अंदर एंटीबाडी बनती है। इसलिए तीसरी लहर से पहले ज्यादा आबादी को सुरक्षा चक्र देने की कोशिश है। इसके तहत दूसरी डोज देने के लिए विशेष रूप से जिलों में कैंप लगाने की बात कही गई है।

कोवैक्सीन का स्टॉक कम, कोविशील्ड पर्याप्त
एनएचएम के अधिकारियों का कहना है कि इस समय प्रदेश में कोवैक्सीन का स्टॉक कम है। वह केंद्र से कम मात्रा में मिल रही है, इसलिए इसका प्रयोग खासकर दूसरी डोज के लिए किया जाए। क्योंकि सरकार के पास कोविशील्ड का पर्याप्त स्टाक है, इसलिए इसका प्रयोग पहली डोज के लिए किया जाए।

इस समय कोरोना वैक्सीन का पहला टीका लगवाने के लिए रोजाना 50 हजार से अधिक लोग आ रहे हैं, जबकि दूसरी डोज लेने वालों की संख्या औसतन 12 से 15 हजार रहती है। अब तक प्रदेश में कोविशील्ड की 6957672 डोज और कोवैक्सीन की 1206178 डोज दी जा चुकी है।

अन्य प्रोग्राम पर भी फोकस के निर्देश
एनएचएम के एमडी प्रभजोत सिंह ने बैठक में सीएमओ समेत एनएचएम के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे कोरोना वैक्सीनेशन के साथ-साथ मिशन के अन्य कार्यक्रम पर भी दोबारा से फोकस करें, ताकि उनकी गति दी जा सके। क्योंकि इस समय कोरोना के नाम मात्र के केस सामने आ रहे हैं। ऐसे में मातृत्व योजना के तहत गर्भवती महिलाओं का चेकअप फिर से शुरू करने के निर्देश दिए हैं।
... और पढ़ें

भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक: एक सुर में मंत्री बोले- किसान आंदोलन का चरम हुआ समाप्त, अब सिर्फ राजनीति हावी

कोरोना टीका
हरियाणा भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में गुरुवार को पार्टी नेताओं ने एक सुर में किसान आंदोलन पर कटाक्ष किया और इस आंदोलन को राजनीति से प्रेरित बताया। भाजपा नेताओं ने बैठक में कहा कि किसान आंदोलन का चरम समाप्त हो चुका है, अब वहां सिर्फ राजनीति हावी है। आंदोलन का एजेंडा पूरी तरह बदल चुका है और यह सिलेक्टिव बनकर रह गया है। 

प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ ने कहा कि किसान आंदोलन में एकतरफा लोकतंत्र रह गया है। यह लोग सिर्फ अपनी बात कहते हैं, दूसरों की बात नहीं सुनते। आंदोलन अपनी साख खो रहा है। बंगाली मूल की युवती से दुष्कर्म, पंजाब की महिलाओं से छेड़छाड़, ग्रामीण को जिंदा जलाने जैसी घटनाएं साबित करती हैं कि आंदोलन जिस एजेंडे को लेकर चला था अब उसका स्वरूप बदल चुका है।
 
धनखड़ ने कहा कि हरियाणा में बाजरा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदा जाता है। गन्ने का रेट भी देश में यहां सबसे ज्यादा है। 16 हजार किसानों के खाते में पैसा सीधे गया है। 85 लाख मीट्रिक टन की खरीद हुई है। फसल बीमा की राशि सीधे खाते में गई है। पंजाब में ऐसा कुछ भी नहीं है फिर भी वहां कभी भी गन्ने की एमएसपी बढ़वाने के लिए आंदोलन नहीं होता। राजस्थान में कभी बाजरे की खरीद के लिए एमएसपी की मांग पर आंदोलन नहीं होता। 

इस दौरान सरकार की ओर से किसानों के हित के लिए किए गए कार्यों को पार्टी और संगठन के प्लेटफार्म पर पेश किया गया। साथ ही कार्यकर्ताओं को नसीहत दी गई कि पार्टी ने किसानों के लिए जो किया है उससे ज्यादा किसी सरकार ने नहीं किया। पार्टी के नेताओं ने इस आंदोलन के लिए पड़ोसी राज्य पंजाब को भी कटघरे में खड़ा किया।

भाजपा के सभी मंत्रियों ने किसान आंदोलन पर सवाल उठाए। केंद्रीय राज्य मंत्री राव इंद्रजीत सिंह, वरिष्ठ नेता रामबिलास शर्मा, सांसद कृष्ण पाल गुर्जर, रतन लाल कटारिया, संजय भाटिया और अनिल विज ने एक सुर में आंदोलन पर कटाक्ष किया। वहीं हिसार समेत कई जिलों में भाजपा का विरोध और जिला कार्यालय पर प्रदर्शन के संबंध में धनखड़ ने कहा कि कार्यकारिणी की बैठक बहुत अच्छे माहौल में हुई सभी गतिविधियां सुचारू रूप से चलीं।
... और पढ़ें

शिकायत के बावजूद कार्रवाई नहीं: लालू यादव के समधी के आधार कार्ड से बिहार में तीन बार खरीदी गई सब्सिडी वाली खाद

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के समधी एवं हरियाणा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व मंत्री कैप्टन अजय सिंह यादव के आधार कार्ड पर बिहार में तीन बार सब्सिडी पर खाद खरीदने का मामला सामने आया है। बीते दो माह के दौरान तीन बार उनके आधार नंबर पर बिहार में सब्सिडी लेकर खाद खरीदी गई।

मोबाइल पर मैसेज आने के बाद पूर्व मंत्री ने प्रशासनिक अधिकारियों को शिकायत भी की लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। उन्होंने गुरुवार को पुलिस अधीक्षक अभिषेक जोरवाल को शिकायत दी है। पूर्व मंत्री कैप्टन अजय सिंह यादव ने बताया कि दो महीने में तीन बार उनके फोन पर मैसेज आए कि उन्होंने खाद की 45 किलोग्राम की बोरी खरीदी है, जिसकी सब्सिडी भी उनको मिली है जबकि उन्होंने कोई खरीदारी नहीं की है। 

पहली बार मैसेज आया तो उन्होंने उपायुक्त को इसकी जानकारी दी थी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। 18 जून को दोबारा मैसेज आया तो उन्होंने कृषि विभाग के उपमंडल अधिकारी दीपक यादव को शिकायत दी। कृषि विभाग से पता लगा कि बिहार में उनके आधार कार्ड पर यह खरीदी गई। अब तीसरी बार उनके आधार कार्ड से खाद खरीदी गई है। कैप्टन अजय यादव ने पुलिस अधीक्षक अभिषेक जोरवाल को शिकायत देकर कानूनी कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि बिहार में नीतीश कुमार की सरकार में भ्रष्टाचार का खेल चल रहा है। इस भ्रष्टाचार की जांच होनी चाहिए।
... और पढ़ें

हरियाणा: जेपी नड्डा बोले- दिसंबर तक 257 करोड़ वैक्सीन की डोज होगी तैयार, 19 कंपनियां करेंगी उत्पादन

भाजपा कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने में कोई कोताही नहीं बरतेगी। इसकी बानगी पार्टी की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में देखने को मिली है। राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने पदाधिकारियों को पार्टी की रणनीति से वाकिफ करवा दिया है। जिसके क्रियान्वयन की जिम्मेदारी हरियाणा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ओपी धनखड़ की होगी।

नड्डा ने वर्चुअल संवाद के माध्यम से कहा कि इस साल दिसंबर तक देश में 257 करोड़ कोरोना डोज तैयार हो जाएंगी। मई में देश में आठ करोड़ कोरोना वैक्सीन डोज की क्षमता थी, जो अगले महीने तक बढ़कर 17 करोड़ हो जाएगी। वर्तमान में देश में 13 कंपनियां कोरोना वैक्सीन बना रही हैं। लेकिन दिसंबर तक इनकी संख्या बढ़कर 19 हो जाएंगी।

कोरोना वैक्सीन पर विपक्ष की तरफ से की गई राजनीति पर नड्डा ने कहा कि जब प्रधानमंत्री कोरोना वैक्सीन को लेकर प्रयास कर रहे थे, उस समय विपक्ष ने बहुत दिक्कतें पैदा कीं और सवाल उठाए। यहां तक कि कांग्रेस शासित राज्य की एक स्वास्थ्य मंत्री ने तो कोरोना वैक्सीन नहीं लगाने का एलान किया था। लोगों में तरह-तरह के भ्रम फैलाए गए।

उन्होंने कहा कि जब पूरी दुनिया से चेचक, काली खांसी, जैसी बीमारियां खत्म हो गई थीं। इसके 15 साल बाद तत्कालीन सरकारों ने इन बीमारियों को खत्म करने के लिए अभियान चलाया था। ऐसा ही पोलियो बीमारी को खत्म करने में भी हुआ था। लेकिन सबसे पहले पोलियो बीमारी को खत्म करने के लिए दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री रहते हुए डॉ हर्षवर्धन ने इस योजना को शुरू किया था। जिसे बाद में केंद्र सरकार ने भी अपनाया और आज भारत पोलियो मुक्त हो चुका है।
... और पढ़ें

योगेंद्र यादव से अमर उजाला की बातचीत: सरकार वोटों की भाषा समझती है, इसलिए यूपी चुनाव होगा आंदोलन का केंद्र

कृषि कानूनों के खिलाफ सात माह से आंदोलन के बावजूद केंद्र पर दबाव बनाने में नाकाम रहने के बाद अब किसान उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव पर ध्यान केंद्रित करेंगे। स्वराज अभियान के अध्यक्ष और संयुक्त किसान मोर्चा के नेता योगेंद्र यादव ने संकेत दिए हैं कि यूपी चुनाव के संबंध में जल्द ही बड़ी घोषणा हो सकती है।

यादव ने अमर उजाला से बातचीत में कहा कि केंद्र सरकार वोटों के अलावा कोई और भाषा नहीं जानती तो इसी भाषा में उसे जवाब दिया जाएगा। पूरे उत्तर प्रदेश में जाकर किसानों को सच्चाई बताई जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार चाहती है कि मुद्दों को लटकाया जाए ताकि आंदोलन कमजोर हो जाए। 

लंबा खिंचने के बावजूद आंदोलन का प्रभाव क्षेत्र बढ़ा है। उत्तर प्रदेश और राजस्थान में अब पहले से कहीं ज्यादा प्रभावशाली हुआ है। धरनों के अलावा जो लोग घर बैठकर आंदोलन का समर्थन कर रहे हैं, उनका दायरा भी बढ़ा है। यही सरकार की परेशानी का कारण बन गया है। इसीलिए सरकार रोजाना नए हथकंडे अपना कर आंदोलन को बदनाम करने की साजिश रच रही है। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us