विज्ञापन
विज्ञापन
शनि अमावस्या के दिन सूर्य ग्रहण के समय करें पंच दान, होगा हर समस्या का समाधान - 4 दिसम्बर, 2021
Myjyotish

शनि अमावस्या के दिन सूर्य ग्रहण के समय करें पंच दान, होगा हर समस्या का समाधान - 4 दिसम्बर, 2021

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Digital Edition

हरियाणा: बढ़ने लगे कोरोना के मामले, गुरुग्राम फिर बन रहा हॉट स्पॉट, जानें- किस जिले में कितने केस

पिछले कुछ दिनों से हरियाणा में कोरोना के नए मामलों में बढ़ोतरी हो रही है। गुरुवार को 27 नए मामले मिले हैं, जो पिछले तीन माह में सबसे अधिक हैं। गुरुग्राम कोरोना का फिर से हॉटस्पॉट बन रहा है। यहां सबसे अधिक 19 नए मरीज मिले हैं। अब प्रदेश में एक्टिव केसों की संख्या बढ़कर 155 पहुंच गई है। इनमें से 128 होम आइसोलेशन में हैं। नए मरीजों में फरीदाबाद-अंबाला 2-2, यमुनानगर, पानीपत, पंचकूला, रोहतक में 1-1 मरीज मिला है।

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर भी स्वास्थ्य अलर्ट है। स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज निर्देश दे चुके हैं कि विदेश से आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग की जाए और उनको क्वारंटीन किया जाए। अभी तक प्रदेश में ओमिक्रॉन का कोई मामला सामने नहीं आया है। 

बढ़ाई सैंपलों की संख्या

पिछले तीन दिन से प्रदेश में 20 से अधिक नए केस मिल रहे हैं। इसी के चलते स्वास्थ्य विभाग ने रोजाना लिए जाने वाले सैंपलों की संख्या भी बढ़ा दी है। गुरुवार को प्रदेश में कुल 31641 लोगों के सैंपल लिए गए। एक दिन में 40 हजार सैंपल लेने का लक्ष्य रखा गया है।

गुरुग्राम-फरीदाबाद और पंचकूला में अधिक एक्टिव केस

इस समय गुरुग्राम में सबसे अधिक 77, फरीदाबाद 30, पंचकूला 23, यमुनानगर में कोरोना के 8 मरीज एक्टिव हैं। इसी प्रकार, सोनीपत 4, हिसार 3, अंबाला-सिरसा-रोहतक-कैथल में 2-2, करनाल- पानीपत-चरखी दादरी-कुरुक्षेत्र में 1-1 मरीज है। जबकि 8 जिलों में कोई केस एक्टिव नहीं है। वहीं, अब तक प्रदेश में कुल 2.89 करोड़ लोगों का टीकाकरण हो चुका है। गुरुवार को 32198 ने पहली और 93902 ने दूसरी खुराक ली। दूसरी खुराक लेने के लिए कम लोग आ रहे हैं। 

विदेश से आने वालों की सिर्फ करनाल ने दी रिपोर्ट, बाकी ने किया आदेश दरकिनार

हरियाणा स्वास्थ्य विभाग ने सभी सीएमओ से दूसरे देशों से लौटने वालों की रिपोर्ट मांगी है। अभी करनाल जिले से ही रिपोर्ट पहुंची है। बाकी जिलों ने आदेश दरकिनार कर दिया। करनाल की रिपोर्ट के मुताबिक जिले में तीन दिन में 126 लोग विदेश से लौटे हैं और इनमें भी 33 लोग उच्च जोखिम वाले देशों से आए हैं।  

सिविल सर्जन डॉ. योगेश शर्मा की ओर से स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज, स्वास्थ्य विभाग की अतिरिक्त जिम्मेदारी संभाल रहीं आईएएस जी. अनुपमा व स्वास्थ्य निदेशालय को जानकारी भेजी है कि 126 में से 116 को ढूंढ लिया गया है। बाकी 10 की तलाश जारी है। वहीं, अन्य जिलों में भी विदेश से आए लोगों को ट्रेस किया जा रहा है लेकिन अभी तक रिपोर्ट नहीं भेजी गई है।
 
... और पढ़ें

चंडीगढ़ विधानसभा चुनाव: टिकट बंटवारे से असंतुष्ट कई नेताओं की बगावत से भाजपा में हड़कंप, मान-मनौव्वल का दौर शुरू

किसान आंदोलन के झटके से भाजपा अभी संभली भी नहीं थी कि चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव में टिकट बंटवारे के बाद उभरे असंतोष से पार्टी नेता सकते में हैं। कई नेताओं के बगावत ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) को भी चिंता में डाल दिया है। पार्टी अध्यक्ष द्वारा मेहनत से तैयार किए गए पन्ना प्रमुख भी चिंतित हैं कि उनके समर्थकों को पार्टी ने दरकिनार क्यों किया। 

टिकट बंटवारे के बाद पैदा हुए हालातों से निपटना भाजपा और आरएसएस के लिए आसान काम नहीं है। पार्टी ने वार्ड नंबर-9 से गुरप्रीत हैप्पी को टिकट नहीं दिया तो उन्होंने बुधवार को ही इस्तीफा दे दिया और आजाद उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ने का एलान कर दिया। हैप्पी ने गुरुवार को एक शक्ति प्रदर्शन भी किया। दड़वा में सैकड़ों लोग एकत्रित हुए। इसके बाद एक रैली भी की गई। शक्ति प्रदर्शन ने भाजपा की नींद उड़ी दी। 

दोपहर एक बजे भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अरुण सूद उन्हें मनाने के लिए दड़वा पहुंचे। दोनों के बीच काफी देर तक बातचीत हुई। इस दौरान सैकड़ों लोग हैप्पी के समर्थन में मौके पर पहुंच गए। सूत्रों के अनुसार पार्टी ने हैप्पी को किसी अन्य सीट से लड़ने का ऑफर दिया है, जिसे उन्होंने ठुकरा दिया। इसके बाद सूद ने उन्हें शुक्रवार तक इंतजार करने के लिए बोला है। हैप्पी को मनाने के लिए हरियाणा विधानसभा के स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता भी लगे हुए हैं। 

कृपानंद ठाकुर बोले- सर्वे की बात झूठी, कार्यकर्ताओं को धोखे में रखा

भाजपा ने वार्ड नंबर-20 से देबी सिंह को टिकट दिया है। इससे नाराज होकर जिला सचिव कृपानंद ठाकुर ने आजाद उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ने का एलान किया है। वह शुक्रवार को नामांकन भरेंगे। उन्होंने कहा कि वह पिछले 20 साल से पार्टी की सेवा कर रहे हैं। आरएसएस के स्वयंसेवकों ने भी पार्टी को उन्हीं का नाम भेजा, लेकिन पार्टी ने पहले से ही अपने चहेतों को टिकट देने का मन बनाया था। सर्वे की बात भी झूठी है। कार्यकर्ताओं को धोखे में रखा गया। 2005 में वह पार्टी के मंडल सचिव थे। तब से वह पार्टी के साथ हैं। विपरीत परिस्थितियों में पार्टी को जिताया, तब देबी सिंह का कोई नाम भी नहीं था। 

पलसौरा और किशनगढ़ में भी बगावत, कइयों ने दिया इस्तीफा

वार्ड नंबर-29 (सेक्टर-55, 56, पलसौरा) से भाजपा ने जिला अध्यक्ष रविंद्र पठानियां को टिकट दिया है। इसके खिलाफ कई कार्यकर्ताओं ने इस्तीफा दे दिया है। कहा है कि मंडल प्रधान ने 19 नाम भेजे हैं। उनमें से किसी का चयन किया जाना चाहिए। उन्हें बाहरी उम्मीदवार स्वीकार नहीं है। एक पत्र में 30 से ज्यादा कार्यकर्ताओं ने साइन किए हैं। इनमें जिला के कई पदों के नेता हैं। उधर, किशनगढ़ से भी वार्ड नंबर-4 कार्यकारिणी सदस्य, बूथ इंचार्ज समेत अन्य ने इस्तीफा दिया है। मंडल महासचिव ने भी निजी कारणों का हवाला देते हुए पार्टी छोड़ दी है।
... और पढ़ें

चंडीगढ़ : दक्षिण अफ्रीका से लौटी महिला क्वारंटीन के नियमों को तोड़ पहुंची होटल, एफआईआर दर्ज

पंजाब में फिर प्रशासनिक फेरबदल: 10 आईएएस व छह पीसीएस अधिकारियों का तबादला, पढ़ें- किसे-कहां मिली नियुक्ति

पंजाब सरकार ने शुक्रवार को तत्काल प्रभाव से 10 आईएएस और छह पीसीएस अधिकारियों के तबादला व नियुक्ति आदेश जारी किया है। आईएएस अधिकारियों में मालविंदर सिंह जग्गी को सचिव पशु पालन, मछली पालन व डेयरी विकास विभाग के साथ सचिव (लेबर) कार्यकारी निदेशक पंजाब राज्य अनुसूचित जाति लैंड डेवलपमेंट एंड वित्त कारपोरेशन और कार्यकारी निदेशक बैकफिनको का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। 

प्रदीप कुमार अग्रवाल को महानिदेशक स्कूल शिक्षा नियुक्त किया गया है और विशेष सचिव स्कूल शिक्षा का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है। अमृत कौर गिल को निदेशक सामाजिक न्याय, सशक्तिकरण व अल्पसंख्यक नियुक्त किया और इसी विभाग में विशेष सचिव पद का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। 

परमवीर सिंह को एडिशनल मैनेजिंग डायरेक्टर पीएसआईईसी लगाते हुए एडिशनल डायरेक्टर इंडस्ट्रीज का अतिरिक्त चार्ज, उमाशंकर गुप्ता को एडिशनल सीईओ पंजाब ब्यूरो ऑफ इनवेस्टमेंट प्रमोशन लगाते हुए एडिशनल मैनेजिंग डायरेक्टर पंजाब सूचना एवं संचार तकनीकी कारपोरेशन लिमिटेड और एडिशनल सचिव गृह एवं न्याय विभाग का अतिरिक्त चार्ज, राहुल गुप्ता को एडिशनल सचिव (कृषि) का जिम्मा सौंपते हुए एडिशनल सचिव मेडिकल शिक्षा व अनुसंधान के साथ-साथ मैनेजिंग डायरेक्टर मार्कफेड का अतिरिक्त चार्ज दिया है।

कृपा शंकर सरोज को विशेष मुख्य सचिव एनआरआई मामले लगाते हुए विशेष मुख्य सचिव रक्षा सेवाओं का अतिरिक्त चार्ज दिया है। मोहम्मद तैय्यब को निदेशक खजाना व लेखा विभाग लगाते हुए विशेष सचिव खर्च, विशेष सचिव विजिलेंस और मैनेजिंग डायरेक्टर पंजाब इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट बोर्ड का अतिरिक्त चार्ज, नीलिमा को मैनेजिंग डायरेक्टर पंजाब सूचना एवं संचार तकनीक कारपोरेशन लिमिटेड लगाते हुए विशेष सचिव (कृषि) का अतिरिक्त चार्ज और भूपिंदर सिंह-2 को मैनेजिंग डायरेक्टर पंजाब हेल्थ सिस्टम कारपोरेशन लगाते हुए मुख्य कार्यकारी अधिकारी राज्य सेहत एजेंसी का अतिरिक्त चार्ज दिया है।

पीसीएस अधिकारियों में राजेश त्रिपाठी को एडिशनल डायरेक्टर रोजगार उत्पत्ति व प्रशिक्षण नियुक्त करते हुए एडिशनल मिशन डायरेक्टर पंजाब स्किल डेवलपमेंट मिशन का अतिरिक्त चार्ज दिया है। परमिंदरपाल सिंह को डायरेक्टर खेल एवं युवक सेवाएं नियुक्त करते हुए एडिशनल सचिव खेल एवं युवक सेवाएं के अतिरिक्त चार्ज, हरजोत कौर को एडिशनल डिप्टी कमिश्नर शहरी विकास निगम, सरबजीत कौर को डिप्टी डायरेक्टर (प्रशासन) जल स्रोत विभाग और कृपाल बीर सिंह को मुख्यमंत्री का उप मुख्य सचिव लगाया है। लतीफ अहमद को मुख्य कार्यकारी अधिकारी पंजाब वक्फ बोर्ड लगाते हुए एडिशनल डिप्टी कमिश्नर शहरी विकास संगरूर का अतिरिक्त चार्ज दिया गया है।
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

शीतकालीन सत्र: विधानसभा में प्रवेश के लिए टीकाकरण जरूरी, वैक्सीन नहीं लगी तो लानी होगी आरटीपीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट

हरियाणा विधानसभा में 17 दिसंबर से शुरू हो रहे शीतकालीन सत्र में भाग लेने वाले विधायकों, अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए कोविडरोधी टीकाकरण अनिवार्य कर दिया गया है। इस संबंध में विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता के निर्देश पर विधानसभा सचिवालय की ओर से सभी विधायकों और प्रदेश सरकार के सभी विभागों को सूचित किया गया है। 

नए निर्देशों के मुताबिक सत्र में भाग लेने वाले विधायकों और अधिकारियों को कम से कम एक कोविड रोधी इंजेक्शन लगा होना चाहिए। जो किन्हीं भी कारणों से 17 दिसंबर तक इजेक्शन नहीं लगवा पाएंगे उन्हें अपने साथ कोविड टेस्ट आरटीपीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट लानी होगी। 

विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने कहा कि विधानसभा के शीतकालीन सत्र के लिए नए दिशानिर्देश तैयार किए जा रहे हैं। इनके तहत विधान भवन में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति के लिए कोविड रोधी पहला इंजेक्शन लगवाना अनिवार्य है। विस अध्यक्ष ने सत्र संबंधी कार्यों से विधान भवन आने वाले सभी आगंतुकों से आग्रह किया है कि अगर उन्होंने पर्याप्त समय पूर्व कोविड का पहला टीका लगवा लिया है, वे दूसरा भी लगवाएं।

शीतकालीन सत्र की अवधि पर 16 दिसंबर को लगेगी मुहर
हरियाणा विधानसभा के शीतकालीन सत्र की अवधि पर 16 दिसंबर को मुहर लगेगी। विधानसभा स्पीकर ज्ञान चंद गुप्ता ने दोपहर 12 बजे कार्य सलाहकार समिति की बैठक बुलाई है। स्पीकर अपने कक्ष में बैठक की अध्यक्षता करेंगे। उनके अलावा बैठक में सीएम मनोहर लाल, उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला, गृह मंत्री अनिल विज, संसदीय कार्य मंत्री कंवर पाल, नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र हुड्डा व डिप्टी स्पीकर रणबीर गंगवा मौजूद रहेंगे।

सरकार ने मंत्रिमंडल बैठक में निर्णय लेते हुए 17 से 21 दिसंबर तक सत्र की अवधि प्रस्तावित की है। 17 को दोपहर बाद 2 बजे सत्र की कार्यवाही शुरू होगी। 18 व 19 को अवकाश रहेगा। 20 व 21 को सदन की कार्यवाही चलेगी। कार्य सलाहकार समिति अपनी बैठक में विधायी कार्य को देखते हुए सत्र की यही अवधि रखने या बढ़ाने पर निर्णय लेगी। मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस अनेक ज्वलंत मुद्दे होने के कारण सत्र की अवधि बढ़ाने की मांग रखने वाली है। जबकि, सरकार विधायी कार्य पर जोर देते हुए मंत्रिमंडल की प्रस्तावित अवधि पर ही मुहर लगवाने के प्रयास में है।
... और पढ़ें

Farmer Protest: एसकेएम ने कहा- प्रधानमंत्री को लिखे खत का नहीं मिला जवाब, आंदोलन करने के लिए बाध्य कर रही सरकार

संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने कहा कि केंद्र सरकार की तरफ से अभी तक कोई औपचारिक आश्वासन नहीं मिलने के कारण किसान अपनी लंबित मांगों के लिए संघर्ष करने को मजबूर हैं। प्रधानमंत्री को लिखे अपने पत्र में आंदोलन को वापस लेने के लिए 6 प्रमुख मांगें उठाई थीं मगर सरकार की ओर से अब तक कोई जवाब नहीं मिला है। ऐसे में किसानों को आंदोलन जारी रखने के लिए बाध्य किया जा रहा है।

एसकेएम समन्वय समिति के सदस्य डॉ. दर्शन पाल ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में जिन 6 मुद्दों का जिक्र किया है उनमें से एक प्रदर्शनकारी किसानों के खिलाफ दर्ज मुकदमों को वापस लेने का था। विशेष रूप से भाजपा शासित राज्यों हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश और हिमाचल प्रदेश में हजारों किसानों के खिलाफ सैकड़ों बेबुनियाद और झूठे मुकदमे दर्ज किए गए हैं।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि यह केवल हरियाणा के मामलों के बारे में नहीं है बल्कि हिमाचल प्रदेश जैसे राज्यों में भी मामले हैं। इस बीच, दिल्ली की सीमाओं और अन्य जगहों पर दर्जनों स्थानों पर पक्के मोर्चा जारी हैं, जो विरोध कर रहे किसानों के अनुशासन और दृढ़ संकल्प को दर्शाता है।

यह भी पढ़ें ः 
हरियाणा भाजपा अध्यक्ष बोले: मुआवजा देने के लिए आंदोलन में जान गंवाने वाले किसानों की जुटाई जा रही जानकारी

साथ ही दर्शाता है कि सरकार किसानों को आंदोलन जारी रखने के लिए बाध्य कर रही है। भाजपा नेता और उसकी राज्य सरकारें केंद्र सरकार से एक संकेत की प्रतीक्षा कर रही हैं। ऐसे में यह केंद्र सरकार की जिम्मेदारी है कि वह लंबित मांगों पर तत्काल कार्रवाई करे।

भाजपा विधायक के वीडियो ने खोली अपनी सरकार की पोल

एसकेएम नेता ने कहा कि उत्तर प्रदेश से भाजपा विधायक रोमी शाहनी अपनी ही प्रदेश सरकार पर किसानों के मुद्दों को हल करने के लिए दबाव डाल रहे हैं। राज्य में चुनाव नजदीक हैं। एक वीडियो में भाजपा विधायक को गन्ना किसानों के बकाया का भुगतान करने की गुहार लगाते हुए सुना जा सकता है। इससे जाहिर है कि भाजपा के दावों के विपरीत किसानों के गन्ने का भुगतान अभी बकाया है।
... और पढ़ें

पंजाब:  सोने के बनवाए बैग के पहियों के लॉक, कस्टम अधिकारियों को हुआ शक, एयरपोर्ट पर पकड़ा गया युवक

पंजाब: नवजोत सिंह सिद्धू को हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत, आईटी कमिश्नर का आदेश रद्द

सोने के बनवाए बैग के पहियों के लॉक।
पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिद्धू को बड़ी राहत देते हुए इनकम टैक्स कमिश्नर के आदेश को रद्द कर दिया है। कमिश्नर ने 2016-17 की आय की गलत समीक्षा के खिलाफ सिद्धू की अपील को खारिज किया था। हाईकोर्ट ने अब कमिश्नर को आदेश दिया है कि वह नए सिरे से सिद्धू की याचिका पर सुनवाई कर निर्णय लें।

नवजोत सिंह सिद्धू ने हाईकोर्ट को बताया था कि उन्होंने 2016-17 के लिए अपनी आय 9 करोड़ 66 लाख 28 हजार 470 रुपये बताई थी और कर जमा करवा दिया था। उन्हें तब हैरानी हुई, जब आयकर विभाग ने 13 मार्च 2019 को उन्हें बताया कि उनकी आय उस वर्ष के दौरान 13 करोड़ 19 लाख 66 हजार 530 रुपये थी। 

सिद्धू ने आय की समीक्षा के खिलाफ आयकर आयुक्त के समक्ष रिवीजन दाखिल कर चुनौती दी। इस रिवीजन को 27 मार्च 2021 को खारिज कर दिया गया। सिद्धू ने बताया कि उन्होंने जो रिवीजन दाखिल की थी, वह बेहद मामूली आधार पर कमिश्नर ने खारिज की थी। कमिश्नर का कहना था कि केवल विशेष परिस्थिति में ही रिवीजन दायर की जा सकती है। 

सिद्धू ने हाईकोर्ट को सुप्रीम कोर्ट के कुछ आदेश का हवाला देते हुए कहा कि वह रिवीजन दायर कर सकते हैं। हाईकोर्ट ने सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद इनकम टैक्स कमिश्नर के 27 मार्च के आदेश को रद्द करते हुए उन्हें नए सिरे से रिवीजन पर निर्णय लेने का आदेश दिया है।
... और पढ़ें

अलका लांबा का बड़ा हमला: केजरीवाल को बताया महाठग, कहा- दिल्ली वाले भुगत रहे नतीजा, अब पंजाब की बारी

कांग्रेस प्रवक्ता अलका लांबा ने आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल पर हमला बोला। उन्हें महाठग बताते हुए लांबा ने पंजाब के लोगों को सचेत रहने की नसीहत दे डाली। उन्होंने कहा कि केजरीवाल जो दावे इस समय पंजाब के लोगों के साथ कर रहे हैं, ऐसे ही दावे दिल्ली के लोगों के साथ कर चुके हैं। इसका नतीजा अब दिल्ली वाले भुगत रहे हैं।
 
यही नहीं पंजाब के लोगों को दिखाने के लिए जो एक लाख बिजली बिल अपने साथ लेकर आए थे, वह तो सर्दी के थे। अगर बाकी के नौ माह के बिल साथ लेकर आते तो उनके झूठ की पोल खुल जाती। यहां बताते चले कि अलका लांबा दो दिवसीय पंजाब के दौरे पर हैं। 

शुक्रवार दोपहर बाद वह लुधियाना के कमला लोहटिया कॉलेज में विद्यार्थियों से संवाद करने पहुंची थीं। हालांकि इस समारोह में परिवहन मंत्री राजा वड़िंग को भी पहुंचना था लेकिन सिद्धू मूसेवाला को लेकर दिल्ली चले गए हैं। लांबा ने कहा कि दिल्ली में मुफ्त बिजली ही सबसे बड़ी ठगी है। वहां पर प्रत्येक व्यक्ति को 2000 रुपये माह का बिल देना ही पड़ता है, क्योंकि दिल्ली में 200 यूनिट मुफ्त है लेकिन 201 पर आधा बिल और 401 पर छह रुपये 50 पैसे प्रति यूनिट के हिसाब से बिल चुकाना पड़ता है। 

गर्मी में हर व्यक्ति को बिल देना पड़ता है। यही नहीं दिल्ली में एक साल से लोकायुक्त को ही नहीं तैनात किया गया है। इनके ही 87 विधायकों के खिलाफ मामले लंबित हैं। केजरीवाल पंजाब में आकर बहू-बेटियों को सरकार आने पर एक हजार रुपये भत्ता देने की बात कर रहे हैं लेकिन दिल्ली में ऐसा क्यों नहीं करते हैं। पंजाब के लोगों को सवाल उठाना चाहिए कि वह पहले दिल्ली में कैबिनेट की बैठक बुलाएं और वहां की महिलाओं को एक हजार रुपये भत्ता दें और फिर फरवरी में आकर यहां वोट ले लें। 

‘पंजाब के लिए नहीं, अपने लिए वोट मांग रहे केजरीवाल’
अलका लांबा ने आम आदमी पार्टी द्वारा जारी की किताब स्वराज भी दिखाई। उन्होंने कहा कि इसी किताब के सहारे ही तो दिल्ली में वोट मांगे थे। जो बातें इसमें लिखी हैं, वह पूरी नहीं हुई हैं और लोग वहां ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। यही नहीं अब उनके सिर पर सफेद टोपी, जिसकी एक तरफ स्वराज और दूसरी तरफ लोकपाल बिल लिखा होता था, वह नहीं दिख रही है। मुख्यमंत्री का सपना पंजाब से वोट लेकर अपनी पार्टी को राष्ट्रीय पार्टी बनाने का है और कुछ भी नहीं है। अब तो थोड़ी बहुत पंजाबी भी सीख ली है और वोट पंजाब के लिए नहीं बल्कि अपने लिए मांग रहे हैं। 
... और पढ़ें

विरोध: मनाली से मुंबई जा रही कंगना रणौत के काफिले को किसानों ने रोपड़ में रोका, माफी मांगकर हुईं रवाना

किसानों के प्रति बयानबाजी कर चर्चा में रहने वाली फिल्म अभिनेत्री पद्मश्री कंगना रणौत को किसान यूनियनों ने कीरतपुर साहिब में दो घंटे तक घेरे रखा और कंगना की गाड़ी के आगे रोष प्रदर्शन किया। कंगना रणौत मनाली से मुंबई जाने के लिए चंडीगढ़ हवाई अड्डे जा रही थी तो कीरतपुर साहिब में किसान यूनियनों को इसके बारे में पता चला। किसानों ने बुंगा साहिब के नजदीक कंगना की गाड़ी को घेर लिया।
 
स्थानीय पुलिस को इसकी सूचना मिलते ही अफरा तफरी मच गई और पंजाब पुलिस के कई सीनियर अधिकारी मौके पर पहुंचे। कंगना के सुरक्षा कर्मियों और पंजाब पुलिस के जवानों ने कंगना की गाड़ी को घेर लिया। इस दौरान पंजाब पुलिस के अधिकारियों ने किसानों को काफी समझाने की कोशिश की लेकिन किसान माफी मांगवाने की जिद पर अड़े रहे। यहां बड़ी संख्या में महिलाएं भी मौजूद थीं।

महिलाओं ने कंगना की गाड़ी के आगे रोष व्यक्त कर माफी मांगने को कहा। महिलाओं ने कंगना से कहा कि वह उनकी बेटी की तरह है लेकिन उन्होंने किसानों और पंजाब की महिलाओं के प्रति गलत बयान दिया है। शुरुआत में किसानों की संख्या कम थी लेकिन जैसे-जैसे इसके बारे में लोगों को पता चला तो किसानों की संख्या बढ़ती गई। इससे पुलिस प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए। इस दौरान कंगना ने अपने अकाउंट से कार में बैठकर लाइव किया और इंस्टाग्राम पर पोस्ट किया कि उनको किसानों के नाम पर घेर लिया गया है। जब पुलिस प्रशासन के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे तो कंगना राणौत के मैनेजर ने कंगना से बात की तो इस बात के लिए वह राजी हुई कि वह किसान महिलाओं से माफी मांग लेती है।

... और पढ़ें

बेअदबी मामला: एसआईटी के सामने विपासना इंसां व पीआर नैन नहीं हुए पेश, अब डेरा सच्चा सौदा जाकर पूछताछ करने की तैयारी

श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की बेअदबी मामले में विशेष जांच दल (एसआईटी) ने तीसरी बार समन जारी किया लेकिन डेरा प्रबंधन हाजिर नहीं हुआ। डेरा सच्चा सौदा की चेयरपर्सन विपासना इंसां और पीआर नैन को लुधियाना के आईजी दफ्तर तलब किया गया था। पीआर नैन ने एक बार फिर से बीमार होने की बात कहते अपना मेडिकल भेज दिया है। इसमें डॉक्टर ने उन्हें चार दिन बेड रेस्ट करने को कहा है। 

चेयरपर्सन विपासना इंसां की तरफ से कोई जवाब नहीं भेजा गया है। इस रवैये को देखते हुए अब एसआईटी डेरा सच्चा सौदा जाकर दोनों से पूछताछ करेगी। आईजी एसपीएस परमार ने बताया कि तीन बार दोनों को पूछताछ के लिए बुला चुके है, अब डेरा सच्चा सौदा (सिरसा) जाकर उनसे पूछताछ होगी।
 
गौरतलब है कि बुर्ज जवाहर सिंह वाला में एक जुलाई 2015 को श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का पावन स्वरूप चोरी हुआ था। 12 अक्तूबर 2015 को गांव बुर्ज जवाहर सिंह की गलियों में पावन स्वरूप के अंग बिखरे हुए थे। इस मामले में पुलिस ने तीन एफआईआर दर्ज की। इनमें पांच डेरा प्रेमियों रणदीप सिंह उर्फ नीला, रणजीत सिंह, बलजीत सिंह, निशान सिंह और नरिंदर कुमार शर्मा को गिरफ्तार किया गया, जो अब जमानत पर चल रहे हैं। 

डेरा सच्चा सौदा की नेशनल कमेटी के तीन सदस्य संदीप बरेटा, प्रदीप कलेर और हर्ष धूरी के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया गया है। इन तीनों का अभी तक कोई सुराग नहीं है।। छह जुलाई 2019 को डेरा प्रमुख को बाजाखाना थाने में दर्ज एफआईआर नंबर-62 में नामजद किया गया था।

नौ नवंबर को एसआईटी डेरा प्रमुख से पूछताछ करने रोहतक की सुनारिया जेल गई थी। सूत्रों के अनुसार उन्होंने एसआईटी को बेअदबी में किसी तरह की संलिप्तता से साफ मना कर दिया था। वह सिर्फ सत्संग और डेरा अनुयायियों को उपदेश देने का काम करते थे। डेरा में निर्णय लेने का काम प्रबंधकों का था। इसी वजह से एसआईटी के निशाने पर चेयरपर्सन विपासना इंसां और पीआर नैन आ गए। उनसे पूछताछ के लिए एसआईटी तीन बार समन भेज चुकी है लेकिन वह एसआईटी के सामने पेश नहीं हुए। 
... और पढ़ें

चंडीगढ़ नगर निगम चुनावः भाजपा से मेयर रविकांत ने भरा पहला नामांकन, किया दावा- जीत हमारी होगी

चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव के मद्देनजर टिकटों की घोषणा के बाद शुक्रवार को नामांकन का दौर शुरू हो गया है। भाजपा से सबसे पहला नामांकन मेयर रविकांत शर्मा ने भरा है। उन्होंने सेक्टर-42 स्थित एसडीएम दफ्तर में जाकर पर्चा दाखिल किया। इस दौरान उनके साथ प्रदेश भाजपा के कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे। नामांकन भरने के बाद शर्मा ने कहा कि पार्टी इस बार सभी सीटों पर जीत दर्ज करेगी।

वार्ड नंबर 17 से उम्मीदवार हैं मेयर रविकांत

भाजपा ने रविकांत शर्मा को वार्ड नंबर-17 से टिकट दिया है। यहां मेयर रविकांत शर्मा के सामने इंटक के प्रदेश अध्यक्ष नसीब जाखड़ कांग्रेस से खड़े हो रहे हैं। इस वार्ड पर सबकी नजर रहेगी। भाजपा ने अब तक 35 में से 29 सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अरुण सूद ने अनुसार अन्य सीटों पर शुक्रवार शाम तक उम्मीदवारों की घोषणा कर दी जाएगी। सूद इस बार खुद चुनाव नहीं लड़ रहे हैं, उनके वार्ड नंबर-25 (सेक्टर-37 व 38) से भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के प्रधान विजय राणा को टिकट दी गई है। 

सूद ने बताया कि प्रत्याशियों की सूची में आयु वर्ग, क्षेत्र, समेत सभी पहलुओं को ध्यान में रखकर संतुलित सूची जारी की गई है। पार्टी हाईकमान की स्वीकृति के बाद उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की गई है। बता दें कि नामांकन की छंटनी 6 दिसंबर को होगी, जबकि 9 दिसंबर तक उम्मीदवार नामांकन को वापस ले सकेंगे। इसके बाद 24 दिसंबर को मतदान होंगे और 27 दिसंबर को वोटों की गिनती और परिणाम घोषित किए जाएंगे।

इस बार ऑनलाइन नामांकन दाखिल करने की सुविधा

चुनाव आयोग इस बार ऑनलाइन नामांकन भरने की भी सुविधा दी है। उम्मीदवार https://secdelhi.tk/SECChandigarh2021EVoterWeb/index.php वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन नामांकन भर सकते हैं। इसके अलावा https://chandigarh.gov.in/departments/state-election-commission वेबसाइट पर जाकर चुनाव संबंधी अन्य दस्तावेजों को डाउनलोड किया जा सकता है। हालांकि एफिडेविट व हस्ताक्षर कर दस्तावेजों को फिजिकल भी जमा कराना होगा। वोटिंग मशीन पर प्रत्याशी की फोटो होगी। इसलिए दो फोटो भी मांगे गए हैं।

शिकायत के लिए इन नंबरों पर करें कॉल

चुनाव संबंधी किसी शिकायत या जानकारी के लिए लोग 5025108, 5025109 और 5003206 पर कॉल कर सकते हैं। सेक्टर-17 स्थित राज्य चुनाव आयोग के दफ्तर में जाकर भी शिकायत कर सकेंगे।
... और पढ़ें

दुल्हन को गोली मारने का मामला: गर्दन, हाथ व पेट में 5 गोली लगने के बाद भी तनिष्का पति से पूछती रही... आप ठीक हो ना

हरियाणा के रोहतक जिले में शादी के बाद ससुुराल जा रही दुल्हन तनिष्का पर फायरिंग के मामले में कई नए खुलासे हुए हैंं। गर्दन, हाथ व पेट में पांच गोलियां लगने के बावजूद तनिष्का को खुद से ज्यादा पति मोहन की फिक्र थी। लहूलुहान हालत में पीजीआई पहुंचने तक उसने पांच बार अपने पति से पूछा, आप तो ठीक हो ना। पीजीआई में डॉक्टरों ने उसकी चार गोलियां तो निकाल दी हैं, लेकिन अब भी वह जिंदगी व मौत के बीच संघर्ष कर रही है। वहीं दूल्हे मोहन ने बताया कि तनिष्का का परिवार उसकी रिश्तेदारी में आता है। तीन माह पहले दोनों के बीच रिश्ता तय हुआ। बैंड-बाजे के साथ वह बुधवार को बरात लेकर सांपला पहुंचा। धूमधाम से शादी हुई, लेकिन किसी को अनहोनी की आशंका नहीं थी। रात करीब साढ़े 10 बजे विदाई के बाद वे भाली आनंदपुर के लिए रवाना हुए। कार उसका चचेरा भाई सुनील चला रहा था, जबकि साला उज्ज्वल आगे बैठा था। जबकि मोहन दुल्हन के साथ पीछे बैठा था। गांव के शिव मंदिर के सामने ओवरटेक करके गाड़ी आई और उसमें से नीचे उतरे दो युवकों ने तनिष्का को गोलियां मार दीं।
... और पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00