विज्ञापन
विज्ञापन
लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

हरियाली के प्रहरी: पहले उठाते हैं कूड़ा फिर लगाते हैं बूटा, पीयू के इन प्रोफेसरों का योगदान है महान

आज हम हरियाली के एक ऐसे प्रहरी से आपका परिचय करवाने जा रहे हैं जिनके शोध तो देश-दुनिया में प्रसिद्ध हैं हीं, साथ ही पर्यावरण बचाने के लिए बेहतरीन कार्...

24 अक्टूबर 2021

Digital Edition

थाने को घेरकर बैठे किसानः चढूनी ने लगाया पुलिस पर किसानों को पीटने व पगड़ी उतारने का आरोप, केस दर्ज कराने की मांग

हरियाणा के ऐलनाबाद विधानसभा क्षेत्र के गांव जमाल में उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला की जनसभा के दौरान विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों के साथ पुलिस द्वारा बदसलूकी और मारपीट करने के मामले को लेकर किसानों ने विरोध स्वरूप नाथूसरी चौपटा थाने का घेराव शुरू कर दिया है। भारतीय किसान यूनियन के नेता गुरनाम सिंह चढुनी भी सैकड़ों साथियों के साथ नाथूसरी चौपटा थाने के बाहर पहुंच गए हैं और किसान नेता सिकंदर रोड़ी व अन्य किसानों के साथ हुए दुर्व्यवहार मामले में दोषी पुलिस कर्मचारियों के विरुद्ध मामला दर्ज कर जांच करने की मांग कर रहे हैं।

गांव जमाल में भाजपा प्रत्याशी गोबिंद कांडा के समर्थन में उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला द्वारा जनसभा को संबोधित करने के दौरान किसानों ने विरोध स्वरूप काले झंडे दिखाने शुरू कर दिए। इसी दौरान पुलिस ने किसान नेता सिकंदर सिंह व अन्य साथियों के साथ बदसलूकी कर धरना स्थल से किसानों को दूर खदेड़ दिया। इस मामले के विरोध स्वरूप किसानों ने पहले नाथूसरी चौपटा थाने में दोषी पुलिस अधिकारियों के साथ के विरोध में मामला दर्ज करने की मांग की।

लेकिन नहीं मानने पर किसानों ने नाथूसरी चौपटा थाने का घेराव शुरू कर दिया। इसी दौरान भारतीय किसान यूनियन के नेता गुरनाम सिंह भी अपने साथियों के साथ नाथूसरी चौपटा थाना पहुंच गए और किसानों के साथ हुए दुर्व्यवहार मामले में दोषी अधिकारियों के विरुद्ध मामला दर्ज कर जांच करने की मांग पर अड़ गए। गुरनाम सिंह चढुनी का कहना है कि पुलिस बिना मजिस्ट्रेट के आदेश के किसी भी विरोध प्रदर्शन के दौरान मारपीट नहीं कर सकती लेकिन जमाल में किसान नेताओं के साथ दुर्व्यवहार किया गया है।

यह भी पढ़ें : 
ऐलनाबाद उपचुनाव: मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री का जबरदस्त विरोध, उपमुख्यमंत्री के रोड शो में किसानों ने दिखाए काले झंडे

गौरतलब है कि 27 अक्टूबर को नाथूसरी चौपटा में किसान महापंचायत का भी आयोजन किया जाना है जिसमें देश के प्रमुख किसान नेता राकेश टिकैत सहित कई नेताओं की आने की संभावना है।
... और पढ़ें
मांगों को लेकर पुलिस से बातचीत करते किसान। मांगों को लेकर पुलिस से बातचीत करते किसान।

तृणमूल की तर्ज पर होगी कैप्टन की पार्टी: अमरिंदर सिंह आज कर सकते हैं एलान, कांग्रेस में हलचल हुई तेज

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब की सियासत में आज अपने अगले कदम के बारे में बड़ी घोषणा कर सकते हैं। बुधवार को वे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करने वाले हैं। बताया जा रहा है कि इस मौके पर वे अरूसा आलम, बीएसएफ और कृषि कानून जैसे गंभीर मुद्दों पर भी कड़ी प्रतिक्रिया देंगे। उनकी इस घोषणा से पंजाब कांग्रेस में भी हलचल तेज हो गई है। आलाकमान सहित कई दिग्गजों ने विधायकों से संपर्क साधना शुरू कर दिया है।
  
इस बीच कैप्टन के करीबी सांसद जसबीर सिंह डिंपा ने ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने संकेत दिए हैं कि कैप्टन की नई पार्टी के नाम में कांग्रेस का नाम शामिल होगा। जिस प्रकार ममता बनर्जी ने तृणमूल कांग्रेस और शरद पवार ने नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी बनाई है, उसी प्रकार से कैप्टन भी अपनी पार्टी के नाम में कांग्रेस शब्द को शामिल करेंगे। बताया जा रहा है कि नई पार्टी के गठन के मौके पर 10 से अधिक कांग्रेस के विधायक भी कैप्टन के साथ मंच साझा करेंगे, जिसमें उनकी पत्नी सांसद परनीत कौर भी शामिल हो सकती हैं।

कैप्टन की होगी दूसरी पार्टी
52 वर्ष के राजनीतिक सफर में 79 वर्षीय कैप्टन के लिए यह दूसरा मौका होगा, जब वह अपनी राजनीतिक पार्टी का गठन करेंगे। 1992 में शिरोमणि अकाली दल से अलग होकर उन्होंने शिरोमणि अकाली दल (पंथक) पार्टी का गठन किया था। हालांकि वह इसमें सफल नहीं हो पाए, 1998 के चुनाव में दो सीटों पटियाला और तलवंडी साबो पर उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। जिसके बाद उन्होंने वापस कांग्रेस पार्टी ज्वाइन कर ली थी।

मेरे समर्थकों को मिल रहीं धमकियां: कैप्टन
पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने एक ट्वीट किया कि अब पटियाला और अन्य स्थानों पर मेरे समर्थकों को धमकाने और परेशान करने का सहारा लिया जा रहा है। मैं अपने विरोधियों से कहना चाहता हूं कि वे मुझे इतने निचले स्तर के राजनीतिक खेल से नहीं हरा सकते। इस तरह के कदमों से न तो वोट जीत पाएंगे और न ही लोगों का दिल। उन्होंने कहा है कि वह इस तरह की हरकतों से नहीं डरते। 
... और पढ़ें

हजारों करोड़ के ड्रग कारोबार का मामला: हाईकोर्ट पहले सीलबंद रिपोर्ट का करेगा अध्ययन, 18 नवंबर तक सुनवाई स्थगित

पंजाब में हजारों करोड़ के ड्रग कारोबार मामले में राज्य सरकार द्वारा डीजीपी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय की सीलबंद रिपोर्ट को खोलने की मांग पर पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में करीब आधा घंटा सुनवाई हुई। खंडपीठ ने कहा कि मामले में लंबे समय से सुनवाई नहीं हुई थी ऐसे में खंडपीठ पहले इन रिपोर्ट का अध्ययन करेगी, इसके बाद मामले में सुनवाई होगी।

पंजाब सरकार ने अर्जी में कहा है कि हाईकोर्ट के आदेश पर ही डीजीपी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय की अध्यक्षता वाली एसआईटी ने तत्कालीन एसएसपी राजजीत सिंह, इंस्पेक्टर इंदरजीत सिंह और अन्य अधिकारियों की जांच की थी। इस रिपोर्ट को खोला जाए ताकि पंजाब सरकार दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की प्रक्रिया को आगे बढ़ा सके। मई 2018 को पंजाब के ड्रग माफिया और पूर्व मंत्री विक्रम सिंह मजीठिया के बीच के रिश्तों की जांच कर एसटीएफ ने हाईकोर्ट में जो सीलबंद रिपोर्ट पेश की थी, उसे खोलने की एडवोकेट नवकिरण पहले ही मांग कर चुके हैं।
 
मंगलवार को सुनवाई आरंभ होते ही पंजाब सरकार की ओर से एडवोकेट जनरल ने अपनी अर्जी के समर्थन में दलीलें दीं। करीब आधा घंटा चली सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने कहा कि कोरोना के चलते इस केस पर काफी लंबे अरसे बाद सुनवाई आरंभ हुई है। इस मामले में कई सीलबंद रिपोर्ट को खोलने की मांग की गई है। ऐसे में खंडपीठ को पहले इन रिपोर्ट का अध्ययन करना होगा ताकि इस मामले को सिरे चढ़ाया जा सके। हाईकोर्ट ने सुनवाई को 18 नवंबर तक स्थगित करते हुए रजिस्ट्रार जुडीशियल को आदेश दिया कि वह इन सभी रिपोर्ट को चैंबर में उपलब्ध करवाएं। अगली तारीख से पहले खंडपीठ इन का अध्ययन करेगी और उसके बाद इन पर सुनवाई होगी। 
... और पढ़ें

इनवेस्ट पंजाब समिट: पहले दिन 3500 करोड़ के निवेश का एलान, महिंद्रा ग्रुप पठानकोट में बनाएगा होटल

दो दिवसीय इनवेस्ट पंजाब समिट का मंगलवार को विधिवत आगाज हो गया। समिट के पहले दिन विभिन्न औद्योगिक इकाइयों के प्रमुखों ने राज्य में 3500 करोड़ के निवेश का एलान किया, जिसमें ट्राइडेंट ग्रुप ने प्लांटों के प्रसार के लिए 2000 करोड़ रुपये, एचयूएल ने 1200 करोड़ और एमिटी यूनिवर्सिटी ने उच्च शिक्षा के क्षेत्र में 300 करोड़ रुपये के निवेश का एलान किया। 

महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप ने राज्य में अपने ग्रुप की तीसरी ट्रैक्टर यूनिट और पठानकोट में एक होटल बनाने की घोषणा की। मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी सहित देश-विदेश के उद्यमियों ने वर्चुअल रूप से समिट में हिस्सा लिया। इस समिट में 500 से अधिक उद्यमियों के शामिल होने की उम्मीद है। 

दूसरे दिन बुधवार को लुधियाना में समिट में सभी मंत्री और विधायक शामिल होंगे। मोहाली में वर्चुअल समिट में उद्योग मंत्री गुरकीरत कोटली ने कहा पंजाब में उद्योग की अपार संभावनाएं हैं। यही कारण है कि 4.5 साल में राज्य में 99 हजार करोड़ रुपये का निवेश हो चुका है। पहले दिन समिट में वित्त मंत्री मनप्रीत बादल, उद्योग विभाग के प्रमुख सचिव तेजवीर सिंह, मुख्यमंत्री के प्रिंसिपल सेक्रेटरी हुस्न लाल सहित बठिंडा रिफाइनरी के मालिक लक्ष्मी मित्तल भी शामिल हुए। 

काम नहीं होते तो निवेश कहां से आया 
पंजाब सरकार की चौथी इन्वेस्टर्स समिट को लेकर कैप्टन की टीम हमलावर दिखी। कैप्टन की टीम ने सवाल उठाए हैं कि 4.5 वर्षों तक यदि उद्योग क्षेत्र में काम नहीं किया गया तो 99 हजार करोड़ रुपये का निवेश कहां से आया। 
... और पढ़ें

टीकरी बॉर्डर पर बंगाल की युवती से दुष्कर्म का मामला: आरोपी की अग्रिम जमानत याचिका पर पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने रखा फैसला सुरक्षित

इनवेस्ट पंजाब समिट
टीकरी बॉर्डर पर कोरोना से जान गंवाने वाली बंगाली युवती से दुष्कर्म के आरोपी जगदीश सिंह बराड़ की अग्रिम जमानत याचिका पर मंगलवार को पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने सभी पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया।

मंगलवार को जैसे ही जगदीश की याचिका पर सुनवाई आरंभ हुई तो हरियाणा सरकार ने जमानत का विरोध किया। राज्य सरकार के वकील ने कहा कि याची पर गंभीर आरोप हैं और मामले की जांच जारी है। यदि याची को जमानत का लाभ दिया गया तो वह जांच को प्रभावित कर सकता है।

वहीं, याची पक्ष की ओर से कहा गया कि इस मामले में उसकी कोई भूमिका नहीं है और उसे फंसाया जा रहा है। याची पक्ष ने कहा कि वह जांच में सहयोग करने को पूरी तरह से तैयार है, लेकिन उसे हिरासत में न रखा जाए। दोनों पक्षों को सुनने के बाद हाईकोर्ट ने याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया। इससे पहले हाईकोर्ट इस मामले में अन्य दो आरोपियों की जमानत याचिका को खारिज कर चुका है।

यह भी पढ़ें: 
नारनौल: बिमला मर्डर केस में गैंगस्टर पपला गुर्जर को उम्रकैद, छह साल बाद मिला परिवार को इंसाफ

यह है मामला
बातचीत की रिकार्डिंग पुलिस को देते हुए पिता ने बताया था कि जब उसकी बेटी ट्रेन से टीकरी बॉर्डर की ओर जा रही थी तो आरोपियों ने उससे छेड़छाड़ की थी। इसके बाद टीकरी बॉर्डर पहुंचने पर उसे अंकुर, अनूप व अन्य के साथ टेंट साझा करना पड़ा था। वे इस दौरान लगातार दबाव बनाते हुए उसे ब्लैकमेल कर रहे थे। पिता ने बताया था कि इस बारे में उसने अपनी साथियों से भी बात की थी। इसके बाद पीड़िता कोरोना से संक्रमित हो गई और जिसके चलते उसकी मौत हो गई थी। पीड़िता के पिता की शिकायत पर बहादुरगढ़ पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया था।
... और पढ़ें

बड़ी खबर: अब रोहतक में बनेंगे सेना के लिए बुलेट प्रूफ जैकेट, हेलीकॉप्टर और बख्तरबंद वाहन, आईएमटी में लगेगा देश का पहला प्लांट

भारतीय सेना और दूसरे सशस्त्र बलों के लिए रोहतक में बुलेट प्रूफ जैकेट, बुलेट प्रूफ हेलीकॉप्टर, बख्तरबंद और माइन प्रूफ गाड़ियां बनेंगी। यह देश का पहला संयंत्र होगा, जहां हर तरह का सुरक्षा कवच बनेगा। भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र की टेक्नोलॉजी पर सर्वाधिक सुरक्षित भाभा कवच (बुलेट प्रूफ जैकेट) बनेगा। मिश्र धातु निगम के इस संयंत्र का उद्घाटन आजादी का अमृत महोत्सव के तहत केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह दिसंबर में करेंगे। ये बातें मंगलवार को निगम के चेयरमैन डॉ. संजय कुमार झा ने बताई।

ये भी पढ़ें-
हिसार: दोपहर को मुख्यमंत्री मनोहर लाल पहुंचे एयरपोर्ट, विकास कार्यों का किया निरीक्षण

डॉ. संजय ने बताया कि 2017 में मिश्र धातु निगम ने आईएमटी में 10 एकड़ जमीन पर यह संयंत्र स्थापित किया, जिसका 80 फीसदी से ज्यादा काम हो चुका है। अभी तक सुरक्षा कवच विदेशी तकनीक पर आधारित हैं, मगर अब स्वदेशी व सर्वाधिक सुरक्षित कवच भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र की तकनीक पर बनेगा। नई तकनीक के सुरक्षा कवच का नाम भाभा कवच रखा है, जो 20 से 30 फीसदी हल्का है। इसके अलावा रोहतक में मूविंग व्हीकल (बख्तरबंद गाड़ियां) बनेंगी।

नक्सल प्रभावित एरिया में बारूदी सुरंग बिछाकर होने वाले विस्फोट से बचाव को लेकर माइन प्रूफ गाड़ियां भी रोहतक में बनेंगी। बुलेट प्रूफ हेलीकॉप्टर भी बनेंगे। इस संयंत्र का शुभारंभ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से दिसंबर में कराया जाएगा। इस दौरान मुख्यमंत्री मनोहर लाल के अलावा सैन्य व अर्द्धसैनिक बलों के अधिकारी भी मौजूद रहेंगे।

ये भी पढ़ें-जगी आस: 11 महीने से बंद टीकरी बॉर्डर खुलवाने के लिए हरियाणा सरकार और किसानों के बीच बातचीत शुरू

एक साल में इतने बन सकेंगे सुरक्षा कवच
डॉ. संजय ने बताया कि फिलहाल संयंत्र में एक साल के अंदर 15 हजार भाभा जैकेट, 25 हेलीकॉप्टर, 100 बख्तरबंद गाड़ियां और हजारों की संख्या में वेस्ट पुलिस जैकेट, एनएसडी जैकेट, बीपी हेलमेट व पटके बनाए जा सकेंगे।

बॉर्डर नजदीक होने की वजह से चुना रोहतक
डॉ. संजय ने बताया कि रोहतक से न सिर्फ देश की राजधानी नजदीक है, बल्कि पाकिस्तान का बॉर्डर भी ज्यादा दूर नहीं है। जरूरत पर सैन्य बलों को तुरंत आपूर्ति की जा सके, इसलिए रोहतक को संयंत्र लगाने के लिए चुना गया है।

ये भी पढ़ें-फतेहाबाद: भूना के ठेकेदार पंकज खुराना हत्याकांड में आरोपी सुखा बुवान और प्रवीण पिन्नी गिरफ्तार

विशेष कपड़ा व कार्बन नैनो ट्यूब से बना है भाभा कवच
डॉ. संजय ने बताया कि भाभा कवच पूर्णरूप से सुरक्षित है, जिस पर एके-47 के कई हमले भी बेअसर होते हैं। इसमें विशेष किस्म का कपड़ा (अल्ट्रा हाई मॉलीक्यूल वेट पॉलीथिलीन और कार्बन नैनो ट्यूब आदि इस्तेमाल होता है।

नियमानुसार 75 फीसदी कर्मी होंगे हरियाणा के
चेयरमैन ने बताया कि संयंत्र में हरियाणा राज्य सरकार के नियमानुसार 70-75 फीसदी कर्मी हरियाणा के होंगे। इसके अलावा अन्य लोगों को भी अस्थायी रोजगार मिलेगा। उन्होंने बताया कि जिन लोगों का चयन किया जाएगा, उनको इंजीनियर ट्रेनिंग देंगे।

ये भी पढ़ें-नारनौल: बिमला मर्डर केस में गैंगस्टर पपला गुर्जर को उम्रकैद, छह साल बाद मिला परिवार को इंसाफ

सर्विलांस सिस्टम और सुरक्षा पहरा होगा सख्त
चेयरमैन ने बताया कि संयंत्र की सुरक्षा हर पहलू से होगी। न सिर्फ अपना सर्विलांस सिस्टम काम करेगा, बल्कि सुरक्षा पहरा भी कड़ा होगा। इसके अलावा वॉच टावर भी लगाए जाएंगे। 
... और पढ़ें

जगी आस: 11 महीने से बंद टीकरी बॉर्डर खुलवाने के लिए हरियाणा सरकार और किसानों के बीच बातचीत शुरू

किसान आंदोलन के कारण 11 महीने से बंद टीकरी बॉर्डर को खुलवाने के लिए राज्य सरकार की हाई पावर कमेटी और संयुक्त किसाम मोर्चा के प्रतिनिधियों के बीच मंगलवार को बहादुरगढ़ में बातचीत शुरू हुई। सरकार की कमेटी, एसकेएम के प्रतिनिधि और उद्यमियों के प्रतिनिधि बैठक में शामिल हैं। पहले दौर की बातचीत खत्म हो गई है। अब दोनों पक्षों ने रास्ता खोलने की संभावनाएं देखने के लिए टीकरी बॉर्डर का दौरा किया। इसके बाद कुछ ही देर में बातचीत का दूसरा दौर शुरू होगा। 

यह भी पढ़ें - 
कैप्टन की प्रेस कांफ्रेंस कल: बड़ा सियासी धमाका कर सकते हैं अमरिंदर, पंजाब से दिल्ली तक कांग्रेस में हलचल 

बैठक शुरू होने से पहले पत्रकारों से बातचीत में किसान नेता अमरीक सिंह ने कहा कि हम दिल्ली जा रहे थे। जंतर मंतर पर धरना देना चाहते थे। लेकिन सरकार ने रास्ते रोक दिए। अब भी सरकार ने रास्ते बंद कर रखे हैं। खोलना तो सरकार का ही काम है। राज्य सरकार की ओर से अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा, डीजीपी अग्रवाल, रोहतक रेंज के आईजी पुलिस संदीप खिरवार, और झज्जर व सोनीपत जिला प्रशासन के अधिकारी बैठक में मौजूद हैं।

एसकेएम की टीकरी बॉर्डर कमेटी की तरफ से अमरीक सिंह व कुलवंत सिंह मौलवीवाला सहित छह किसान नेता आंदोलनकारियों का पक्ष रख रहे हैं। टीकरी बॉर्डर बंद होने से बहादुरगढ़ के उद्योगों को हर रोज करोड़ों का नुकसान हो रहा है। इसलिए उद्यमी भी मीटिंग में अपनी समस्याएं रखेंगे। वे किसान नेताओं के समक्ष अपना दुखड़ा रोएंगे। उद्यमियों के प्रतिनिधियों के रूप में बहादुरगढ़ चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज (बीसीसीआई) के महासचिव सुभाष जग्गा और नरिन्दर छिकारा समेत कई उद्यमी बैठक में भाग ले रहे हैं।
... और पढ़ें

पंजाब कांग्रेस की कलह: नवजोत कौर का कैप्टन पर वार, कहा-अकेला आदमी पार्टी नहीं बनाता

पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह बुधवार को चंडीगढ़ में नई पार्टी का एलान कर सकते हैं। पंजाब कांग्रेस में हलचल तेज हो गई है। इसी बीच पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू ने कैप्टन अमरिंदर पर निशाना साधा है। नवजोत कौर ने कहा कि कांग्रेस का कोई विधायक कैप्टन के साथ नहीं जाएगा। हां, अगर उन्होंने किसी पर कोई एहसान किया, तो वो जा सकते हैं। लोग पार्टी से जुड़ जाते हैं, अकेले एक आदमी पार्टी नहीं बनाता है। कांग्रेस से जुड़े लोग नहीं जाएंगे।

यह भी पढ़ें -  
जगी आस: 11 महीने से बंद टीकरी बॉर्डर खुलवाने के लिए हरियाणा सरकार और किसानों के बीच बातचीत शुरू 

नवजोत कौर ने कहा कि पार्टी ने उन्हें पूरी आजादी दी लेकिन उन्होंने किसी कार्यकर्ता को शक्ति नहीं दी। कभी किसी मंत्री या विधायक से खुलकर मुलाकात नहीं की। उन पर कौन भरोसा करेगा। उनके लिए यह सबसे अच्छा होता अगर वह शिअद में शामिल हो जाते। इससे लोगों का संदेह शांत होता और वह कुछ सीटें जीत पाते।

बुधवार को चंडीगढ़ में प्रेस कांफ्रेंस करेंगे कैप्टन
पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह बुधवार सुबह 11 बजे चंडीगढ़ में प्रेस कांफ्रेंस करेंगे। संभावना है कि वे कांग्रेस को विधिवत तौर पर अलविदा कहकर अपनी नई पार्टी का एलान कर दें। वहीं कैप्टन के एलान के बाद से पंजाब कांग्रेस में हलचल तेज हो गई है। इसके अलावा कैप्टन भाजपा से गठजोड़, बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र में बढ़ोतरी और अरूसा आलम के आईएसआई से रिश्ते पर भी अपनी राय रख सकते हैं। 

नाराज नेताओं पर नजर
वहीं कैप्टन की नई पार्टी का पंजाब कांग्रेस के कई नेता भी हिस्सा बन सकते हैं। विधानसभा टिकट बंटवारे के दौरान पंजाब कांग्रेस में असंतोष पनपने की आशंका है। अगर ऐसा होता है तो अमरिंदर सिंह इस अवसर को भुनाने की कोशिश जरूर करेंगे। वहीं शिअद से नाराज टकसाली नेताओं पर भी कैप्टन का फोकस है। हाल ही में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने यह दावा किया था कि कई विधायक उनके संपर्क में हैं।
... और पढ़ें

कैप्टन की प्रेस कांफ्रेंस कल: बड़ा सियासी धमाका कर सकते हैं अमरिंदर, पंजाब से दिल्ली तक कांग्रेस में हलचल

पंजाब की सियासत में पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह कल बड़ा धमाका कर सकते हैं। बुधवार को बुलाई प्रेस कान्फ्रेंस में कैप्टन नई पार्टी के नाम की घोषणा करेंगे। साथ ही अरूसा आलम, बीएसएफ और कृषि आंदोलन जैसे गंभीर मुद्दों पर भी वह बड़ी घोषणा कर सकते हैं। उनकी इस घोषणा से पंजाब कांग्रेस में भी हलचल तेज हो गई है। आलाकमान सहित दिग्गज कांग्रेसियों ने पार्टी विधायकों से संपर्क साधना शुरू कर दिया है।

यह भी पढ़ें - 
सोनीपत: कुंडली बॉर्डर पर किसान आंदोलन के 11 माह पूरे, लखीमपुर हत्याकांड के विरोध में आज देशभर में तीन घंटे प्रदर्शन करेंगे किसान 
 
पंजाब विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है वैसे-वैसे सियासी घमासान भी बढ़ता जा रहा है। कांग्रेस पार्टी के अंदरूनी विवाद को सुलझाना अभी बाकी है। कैप्टन और कांग्रेसियों के बीच अरूसा को लेकर जुबानी जंग छिड़ी हुई है। मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह लगातार कांग्रेस पर हमले कर रहे हैं। वहीं कांग्रेस के मंत्री और नेता कैप्टन पर तरह-तरह के मामलों को लेकर कैप्टन के हमलों का जवाब दे रहे हैं। कप्तान पर उनकी महिला मित्र अरूसा आलम को लेकर भी लगातार निशाने साधे जा रहे हैं। इन सबके बीच कैप्टन ने मंगलवार को ट्विटर पर एक पोस्ट शेयर कर 27 तारीख बुधवार को चंडीगढ़ में प्रेस कांफ्रेंस बुला ली है। इस प्रेस कांफ्रेंस का मुख्य मुद्दा नई पार्टी का गठन होगा। चर्चा यह भी है कि इसमें अरूसा आलम, बीएसएफ और कृषि कानूनों के मुद्दों को भी कैप्टन उठा सकते हैं। साथ ही कांग्रेस छोड़ने के मुद्दे पर कैप्टन अमरिंदर सिंह पहले ही कह चुके हैं कि सिद्धू के खिलाफ उनकी लड़ाई जारी रहेगी।

भाजपा के साथ बागी अकालियों को लेंगे साथ
चर्चा यह भी है कि कैप्टन नई पार्टी की घोषणा के साथ ही भाजपा और बागी अकालियों को साथ लेंगे। 2022 में होने वाले चुनाव से पहले कैप्टन केंद्र और आंदोलनरत किसानों के बीच सेतु का काम करेंगे और कृषि कानूनों को लेकर दोनों के बीच विवाद को सुलझाने का काम करेंगे।

पार्टी में जोड़ेंगे कांग्रेस
नई पार्टी को लेकर कैप्टन के करीबी सांसद जसबीर सिंह डिंपा ने ट्वीट किया है। जिसमें उन्होंने साफ संकेत दिए हैं कि कैप्टन की नई पार्टी के नाम में कांग्रेस शामिल रहेगा।  कैप्टन के करीबियों का कहना है कि जिस प्रकार ममता बनर्जी ने तृणमूल कांग्रेस और शरद पवार ने नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी बनाई है, उसी प्रकार से कैप्टन भी अपनी पार्टी के नाम में कांग्रेस शब्द को शामिल करेंगे।

कैप्टन की होगी दूसरी पार्टी
52 वर्ष के राजनीतिक सफर में 79 वर्षीय कैप्टन के लिए यह दूसरा मौका होगा, जब वह अपनी राजनीतिक पार्टी का गठन करेंगे। 1992 में शिरोमणि अकाली दल से अलग होकर उन्होंने शिरोमणि अकाली दल (पंथक) पार्टी का गठन किया था। हालांकि वह इसमें सफल नहीं हो पाए, 1998 के चुनाव में दो सीटों पटियाला और तलवंडी साबो पर उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। जिसके बाद उन्होंने वापस कांग्रेस ज्वाइन कर ली थी।

पत्नी का भी मिलेगा साथ
कैप्टन की पत्नी और पटियाला से सांसद परनीत कौर नई पार्टी की सदस्यता लेंगी। चर्चा यह भी है कि कैप्टन की नई पार्टी के गठन पर 10 से अधिक कांग्रेस के विधायक भी कैप्टन के साथ मंच साझा करेंगे। जानकारी यह भी है कि उनके कार्यकाल में मंत्री रह चुके कई दिग्गज कांग्रेसी भी अलग-अलग रूप में कैप्टन का साथ देने का आने वाले समय में एलान करेंगे।
... और पढ़ें

नारनौल: बिमला मर्डर केस में गैंगस्टर पपला गुर्जर को उम्रकैद, छह साल बाद मिला परिवार को इंसाफ

नारनौल के गांव खैरोली निवासी बिमला हत्याकांड में कोर्ट ने मंगलवार को राजस्थान एवं हरियाणा के वांछित गैंगस्टर विक्रम उर्फ पपला गुर्जर को उम्रकैद की सजा सुनाई है। उसे सोमवार को दोषी करार दिया गया था। मामले की सुनवाई सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से हुई थी। इस मामले में सुनवाई के दौरान 19 लोगों की गवाही हुई। कोर्ट ने पपला को दोषी मानते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई है। मालूम हो कि विक्रम उर्फ पपला पर बिमला के भाई महेश एवं उसके बेटे संदीप की हत्या का आरोप था। पपला उक्त मामले में राजीनामा करना चाहता था।

ये भी पढ़ें-
हरियाणा: अधिक बारिश से गिरी धान की फसल, बासमती चावल के काला पड़ने की आशंका, निर्यात होगा प्रभावित

राजीनामा नहीं करना चाहती थी बिमला
बिमला राजीनामे के लिए बिल्कुल तैयार नहीं थी। बाद में विक्रम उर्फ पपला ने बिमला को खत्म करने का ही फैसला लिया। 21 अगस्त 2015 की रात बिमला अपने घर पर सो रही थी। उस रात विक्रम उर्फ पपला गुर्जर एवं उसके साथियों ने बिमला पर अंधाधुंध फायरिंग कर हत्या कर दी थी। बिमला को 23 गोलियां लगी थी। बाद में विक्रम उर्फ पपला ने नवंबर 2015 में बिमला के पिता श्रीराम निवासी बिहारीपुर नांगल चौधरी की भी हत्या कर दी।

चार लोगों की कर चुका हत्या
श्रीराम अपने बेटे महेश की हत्या का गवाह था। इस प्रकार आरोपी बिमला के भाई महेश, बेटा संदीप, बिमला स्वयं तथा पिता श्रीराम की हत्या कर चुका था। राजस्थान पुलिस ने 27 जनवरी 2021 को उसकी महिला मित्र जिया के साथ उसे महाराष्ट्र के कोल्हापुर से गिरफ्तार किया था। तब से वह अजमेर की अति सुरक्षित जेल में बंद था। 28 सितंबर को उसे नारनौल जेल में शिफ्ट किया गया था।

ये भी पढ़ें-हिसार: पिता ने ज्योति को बॉक्सर बनाना चाहा तो पड़ोसी मारने लगे ताने, आज जीत रहीं मेडल, पति भी मिला कोच-खुद दे रहा ट्रेनिंग

वहीं, पीड़ित पक्ष के अधिवक्ता अजय चौधरी ने कहा था कि वे फांसी की सजा के लिए दलील देंगे। जबकि आरोपी पक्ष के अधिवक्ता कुलदीप भरगड़ ने कहा था कि वो इस मामले में हाई कोर्ट जाएंगे। इसी केस में छह आरोपी पहले बरी हो चुके हैं। बिमला की हत्या के मामले में मृतका के देवर दूड़ाराम की शिकायत पर विक्रम उर्फ पपला एवं उसके साथियों पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया था। लगभग छह वर्ष चले मुकदमे में मंगलवार को फैसला सुनाया गया। इस मामले में 19 लोगों ने गवाही दी।

छह आरोपी हो चुके बरी
इसके अलावा पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार महिला के शरीर से छह गोलियां मिलीं थीं, जबकि 23 गोलियां मारी गई थीं। इसमें से कुछ आर-पार निकल गई, तो कुछ साइड से। शरीर से निकाली गईं कुछ गोलियां 9 एमएम तथा कुछ देसी पिस्टल की चली हुई थीं। इस मामले में अन्य छह आरोपियों को 12 अप्रैल 2018 को एडिशनल सेशन जज नाजर सिंह ने संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया था।

ये भी पढ़ें-हरियाणा: गृह मंत्री अनिल विज ने महबूबा मुफ्ती पर साधा निशाना, बोले-उनके डीएनए में ही दोष, कैसे अपने आपको भारतीय साबित करेंगी

दो बार पुलिस पर हमला कर पपला को छुड़ाया
विक्रम उर्फ पपला पर महेंद्रगढ़ में पांच लोगों की हत्या करने का आरोप है। पपला ने वर्ष 2014-15 में चार हत्याएं की थीं। पपला के साथी 7 सितंबर 2017 को महेंद्रगढ़ न्यायिक परिसर में पुलिस पर हमला कर उसे छुड़ा ले गए थे। इस फायरिंग में एक एएसआई के सिर में गोली लगी थी और करीब दो साल बाद कोमा में उसकी मौत हो गई थी। 8 सितंबर 2019 को राजस्थान के अलवर जिले के बहरोड़ थाना पुलिस ने गुर्जर को गिरफ्तार किया था।

महिला मित्र के साथ महाराष्ट्र में रहा
यहां से भी उसके साथी एके-47 से पुलिस पर हमला कर उसे छुड़ा ले गए थे। जयपुर पुलिस के विशेष दस्ते ने हरियाणा और राजस्थान पुलिस के पांच लाख के इनामी मोस्टवांटेड विक्रम उर्फ पपला गुर्जर को 27 जनवरी 2021 को उसकी महिला मित्र जिया के साथ महाराष्ट्र के कोल्हापुर से गिरफ्तार किया था। ... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00