विज्ञापन
विज्ञापन
आर्थिक वृद्धि हेतु शरद पूर्णिमा पर कराएं माँ लक्ष्मी का श्री सूक्त पाठ एवं 700 आहुतियों के साथ विशेष हवन - 31 अक्टूबर 2020 - महालक्ष्मी मंदिर, कोल्हापुर
astrology

आर्थिक वृद्धि हेतु शरद पूर्णिमा पर कराएं माँ लक्ष्मी का श्री सूक्त पाठ एवं 700 आहुतियों के साथ विशेष हवन - 31 अक्टूबर 2020 - महालक्ष्मी मंदिर, कोल्हापुर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

पढ़िए इस मंदिर की अद्भुत कहानी, यहां 300 सालों से चल रही मां दुर्गा को रक्त चढ़ाने की परंपरा

बांसगाव दुर्गा मंदिर। बांसगाव दुर्गा मंदिर।

तस्वीरें: विजय जुलूस के लिए नाथ पंथ के पारंपरिक परिधान में निकले गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ, शोभायात्रा से पहले की गो-सेवा

गोरखपुर में हैं तो जरूर पढ़ लें ये खबर, कल से दो दिन तक इन रास्तों पर नहीं कर सकेंगे सफर

दुर्गा मूर्तियों के विसर्जन के चलते 26 अक्तूबर को सुबह आठ बजे से 27 अक्तूबर को मूर्ति विसर्जन तक महानगर की यातायात व्यवस्था बदली रहेगी। इस दौरान कई रास्तों पर आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा।

इन रास्तों पर आवागमन प्रतिबंधित रहेगा
  • नौसड़ चौराहा से ट्रांसपोर्ट नगर चौराहा की तरफ
  • दुर्गाबाड़ी, अलीनगर, बक्शीपुर, टीपी नगर, राप्ती नदी पुल पर
  • घोष कंपनी से नखास और घोष कंपनी से रेती चौक की ओर  
  • अलहदादपुर तिराहा से घंटाघर की ओर
  • नार्मल टैक्सी स्टैंड से पांडेयहाता, घंटाघर रोड पर
  • हुमायूंपुर रेलवे ओवरब्रिज से गंगेज चौराहा, अलीनगर, बक्शीपुर, घंटाघर की ओर
  • अग्रसेन तिराहा से बक्शीपुर चौराहा की ओर
  • विजय चौक से अलीनगर, चरनलाल चौक की ओर
  • खूनीपुर, साहबगंज से बक्शीपुर की ओर
  • घसीकटरा, मिर्जापुर, लालडिग्गी से बक्शीपुर रोड पर
  • लालडिग्गी से गीता प्रेस रोड, रेती चौक की ओर
  • फलमंडी चौराहा से राजघाट की ओर
  • जटाशंकर तिराहा से अलीनगर की ओर
  • मदीना मस्जिद चौराहा से शाहमारूफ की ओर
... और पढ़ें

सीएम योगी ने इन व्यापारियों को दी राहत, अब शादियों में बैंड-बाजा और रोड लाइट को मिल सकती है इजाजत

सीएम योगी आदित्यनाथ ने नौ कन्याओं के पांव पखारने के बाद कराया भोजन।
उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में शादी विवाह के मांगलिक आयोजनों में बैंड-बाजा और रोड लाइट का काम करने वाले लोगों ने गोरखनाथ मंदिर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। सीएम योगी ने उन्हें बड़ी राहत दी है। कोरोना महामारी के बीच संक्रमण से बचाव के लिए निर्धारित दिशानिर्देशों का पालन करते हुए शादी-विवाह के आयोजनों में अब बैंड-बाजा और रोड लाइट के साथ बरात निकल सकेगी। सीएम योगी ने आश्वस्त किया कि शीघ्र ही इसके लिए स्पष्ट गाइड लाइन जारी करा दी जाएगी।

राज्यमंत्री व्यापार कल्याण बोर्ड उत्तर प्रदेश के उपाध्यक्ष पुष्पदंत जैन, उत्तर प्रदेश बैंड बरात श्रृंगार वेलफेयर एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र कुमार धानक, प्रदेश संयोजक सुनील जायसवाल, जिला मंत्री भाजपा गोरखपुर शंकुतला जायसवाल एवं शुभम जायसवाल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की।

मुलाकात के बाद महेंद्र कुमार धानक ने बताया कि उन्होंने सीएम के समक्ष अपनी समस्या रखी कि विभिन्न जिलो में जिलाधिकारी शादी विवाह में बैंड-बाजा और रोड लाइट की अनुमति यह कहते हुए नहीं दे रहे कि स्पष्ट गाइड लाइन नहीं है। जबकि सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा इसकी घोषणा की जा चुकी है।

महेंद्र कुमार धानक ने केंद्रीय श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार संतोष कुमार गंगवार का पत्र भी सीएम को दिया। गंगवार ने पत्र में लिखा था कि अनलॉक-5 के अंतर्गत विवाह समारोह आदि में बैंड के प्रयोग की घोषणा की जा चुकी है परन्तु शासन द्वारा जारी गाइडलाइन में बैंड आदि के बारे में कोई दिशा-निर्देश नहीं है। इससे बैंड वालों के सामने गंभीर आर्थिक संकट उत्पन्न हो गया है। महेंद्र कुमार धानक ने आश्वस्त किया कि सीएम ने शीघ्र ही बैंड बाजा और रोड लाइट के लिए गाइड लाइन जारी कराने का आश्वासन दिया।
... और पढ़ें

मामूली बात को लेकर दो भाईयों में हुआ विवाद, भतीजे ने चाचा पर किया जानलेवा हमला

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के चिलुआताल क्षेत्र के बरगदवा चौराहे पर स्थित चावला बेकर्स व सिद्धि विनायक मिष्ठान भंडार के मालिकों के बीच लेन देन को लेकर काफी समय से विवाद चल रहा है। विवाद इस कदर बढ़ गया कि सिद्धि विनायक के मालिक पर उनके भतीजे ने जानलेवा हमला कर दिया। जिससे सिर में गंभीर चोट आई है। हालत नाजुक होने के कारण उन्हें लखनऊ रेफर कर दिया गया है।

जानकारी के मुताबिक, दोनों प्रतिष्ठान के मालिक सगे भाई हैं। चावला बेकर्स के मालिक विजय चावला व सिद्धि विनायक के इंद्र चावला हैं। इंद्र चावला ने विजय चावला से कुछ दिनों पहले पुराने लेन देन का हिसाब करने को कहा था, जो आज के दिन ही होना था।

शनिवार की देर रात को इंद्र चावला विजय चावला की दुकान पर गए। इस दौरान विजय चावला के दो बेटे हितेश व करन उनके साथ थे। बात-बात में ही दोनों में कहासुनी शुरू हो गई जिसके बाद इंद्र चावला अपने दुकान पर चले आए।

कुछ देर बाद विजय के लड़के ने इंद्र के लड़के संदीप को फोन करके दुकान के बाहर बुलाया। जहां पर विजय व उनके दोनों पुत्र मौजूद थे, यहां आपस में कहासुनी होने के बाद मामला हाथापाई तक पहुंच गया।

हाथापाई देखकर इंद्र चावला वहां आए तो उन्हें विजय के बेटे ने पटक दिया जिससे इंद्र वहीं अचेत अवस्था में गिर गए और नाक से खून आने लगा। आनन-फानन इंद्र चावला को निजी अस्पताल ले जाया गया। जहां से डाक्टरों ने हालत नाजुक बताते हुए उन्हें लखनऊ रेफर कर दिया।

घटना की जानकारी चिलुआताल पुलिस को लिखित तहरीर के माध्यम से इंद्र चावला के पुत्र संदीप ने दे दिया है। प्रभारी निरीक्षक नीरज राय ने बताया कि घायल के पुत्र द्वारा तहरीर दिया गया है। दोषियों के विरुद्ध मारपीट, गाली गलौज व गैर इरादतन हत्या करने का प्रयास की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

'संतों की अदालत' में दंडाधिकारी होंगे गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ, नाथ योगियों के विवादों का करेंगे निपटारा

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में विजयदशमी पर गोरखनाथ मंदिर में दिन के कार्यक्रमों की समाप्त होने के बाद 'संतों की अदालत' लगेगी। इसमें गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ दंडाधिकारी की भूमिका में होंगे। वह नाथ पंथ के योगियों के विवादों का निपटारा करेंगे। उनका फैसला अंतिम माना जाता है।
 
विजयदशमी के दिन होने वाले इस आयोजन में योगी आदित्यनाथ नाथ पंथ के संतों के विवादों का निपटारा करते हैं। इसके पूर्व नाथ योगी एवं संत पात्र देवता के रूप में प्रतिष्ठित कर उनका पूजन करते हैं। नाथ पंथ के अनुयायियों  के मुताबिक नाथ संप्रदाय में पात्र पूजा की परंपरा पौराणिक है। यह संतों के बीच अनुशासन बनाए रखने का जरिया है। योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री के साथ ही नाथ पंथ के सर्वेसर्वा भी हैं। देश भर के नाथ योगी उन्हें अपना मुखिया मानते हैं। गोरक्षपीठ नाथ पंथ की सबसे बड़ी पीठ है।

पात्र देवता के रूप में प्रतिष्ठित होते हैं गोरक्षपीठाधीश्वर
नाथ पंथ की परंपरा के अनुसार विजयदशमी को गोरक्षपीठाधीश्वर पात्र देवता के रूप में प्रतिष्ठित होते हैं।  नाथ योगी उनकी पूजा करते हैं। दक्षिणा भी देते हें। इसमें नाथ पंथ में दीक्षित योगी ही शामिल होते हैं। वहां संप्रदाय और गुरू की घोषणा करनी होती है। कोई नाथ पंथी पात्र देवता के सामने झूठ नहीं बोलता है। दूसरे दिन बाहर से आए नाथ पंथ के साधुओं को दक्षिणा व अंगवस्त्र देकर विदा किया जाता है।
... और पढ़ें

डीडीयू के कुलपति ने सीएम योगी से की मुलाकात, कहा- 'पूरी दुनिया में गूंजेगी नाथ पंथ की महिमा'

गोरखपुर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर राजेश सिंह ने गोरखनाथ मंदिर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। उन्होंने महायोगी गुरु गोरक्षनाथ शोध पीठ को विश्वस्तरीय बनाने का मसौदा सीएम के समक्ष रखा। कुलपति ने कहा कि नाथ पंथ की महिमा को जन-जन तक पहुंचाया जाएगा। इसी लिहाज से नाथ पंथ पर आधारित इनसाइक्लोपीडिया को तैयार करने का काम तेजी से चल रहा है। जल्द ही यह जनता के बीच होगा। नाथ पंथ पर आधारित इनसाइक्लोपीडिया की पहुंच पूरी दुनिया में होगी।
 
गोरखनाथ मंदिर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले कुलपति ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अंतर्गत प्रस्तावित नए सेंटर एवं इंस्टीट्यूट के माध्यम से विश्वविद्यालय में विश्वस्तरीय और रोजगारपरक शिक्षा और सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। कोर्स पूरा करने वाले विद्यार्थियों को रोजगार की तलाश में भटकना नहीं पड़ेगा।

स्नातक, परास्नातक से लेकर पीजी डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स को डिजाइन किया जा रहा है। इनमें थ्योरी के साथ-साथ प्रैक्टिकल पर भी पूरा फोकस होगा ताकि विद्यार्थी केवल किताबी ज्ञान तक ही न सिमट कर रह जाएं। सीएम ने रूपरेखा को समझने के बाद हर संभव मदद का भरोसा दिलाया।
... और पढ़ें

सीएम योगी ने प्रदेश वासियों को दी दशहरा की शुभकामनाएं, बोले- यह पर्व असत्य पर सत्य की विजय का प्रतीक है

तीन दिवसीय प्रवास पर गोरखपुर आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को प्रदेशवासियों को विजयादशमी की शुभकामनाएं दी हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि विजयादशमी का पर्व अधर्म पर धर्म, बुराई पर अच्छाई और असत्य पर सत्य की विजय का प्रतीक है। इस दिन भगवान श्रीराम ने रावण का संहार किया था। सम्पूर्ण भारत में यह पर्व परंपरागत श्रद्धाभाव एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।
 
 

गोरखनाथ मंदिर में अष्टमी की पूजा व आरती के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम सत्य, मर्यादा, न्याय, शांति, परोपकार और लोक कल्याण हेतु समर्पित रहे। नैतिक, मानवीय और सामाजिक मूल्यों के प्रतीक भगवान श्रीराम का जीवन सद्मार्ग पर चलने व आदर्श जीवन जीने की प्रेरणा प्रदान करता है।

विजयादशमी का पर्व आशा, उत्साह और ऊर्जा के साथ अपने लक्ष्य को प्राप्त करने का संदेश देता है। विजयादशमी के दिन मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम ने आतंक, अन्याय एवं अधर्म के पर्याय रावण पर विजय प्राप्त की थी। विजयादशमी शक्ति उपासना का उत्सव है।

नवरात्र के नौ दिन जगदंबा की उपासना करके भक्तों में शक्ति का संचार होता है।  मुख्यमंत्री ने विजयादशमी के अवसर पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में कोविड-19 के प्रोटोकॉल व सोशल डिस्टेसिंग के पालन की अपील की है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X