विज्ञापन
विज्ञापन
धन - धान्य से परिपूर्णता प्राप्ति हेतु आज ही बुक करें शरद पूर्णिमा पर महालक्ष्मी सूक्त पाठ एवं हवन
astrology

धन - धान्य से परिपूर्णता प्राप्ति हेतु आज ही बुक करें शरद पूर्णिमा पर महालक्ष्मी सूक्त पाठ एवं हवन

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

Diwali 2020 Date: जानिए कब शुरू हो रहा है दिवाली का उत्सव, ग्रह-नक्षत्रों के संयोग से बन रहे हैं ये खास योग

प्रतीकात्मक तस्वीर। प्रतीकात्मक तस्वीर।

यूपी: विदेश भेजने वाली फर्म के कार्यालय में घुसकर 22 लाख रुपये की लूट, पुलिस को है इस बात की आशंका

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के कैंट इलाके के सिंघड़िया आदर्श नगर कॉलोनी में पांच बदमाशों ने गल्फ टेक्निकल इंस्टीट्यूट एंड ट्रेनिंग सेंटर के दफ्तर में घुसकर मंगलवार शाम 7:20 बजे 22 लाख रुपये लूट लिए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने तहकीकात शुरू की तो कार्यालय के अंदर स्थित कमरे से एक मेज के नीचे से नौ लाख रुपये बरामद हुए। संदेह पर पुलिस ने कंपनी संचालक के घर जाकर जांच की है तो वहां से भी 20 लाख रुपये से अधिक की नकदी बरामद हुई। कार्यालय से एक हजार पासपोर्ट और जाली स्टांप मिले हैं।
 
नकदी और तमाम संदिग्ध दस्तावेज की बरामदगी के साथ ही लूट की घटना पर सवाल उठने लगे हैं। देर रात तक पुलिस ने लूट की वारदात को खारिज नहीं किया, मगर कई अन्य नजरिए से पड़ताल शुरू कर दी। बकौल एसएसपी, लूट की आशंका कम है, विदेश भेजने के नाम पर फर्जीवाड़ा करने वाले बड़े गिरोह का भंडाफोड़ होने की आशंका ज्यादा है। पुलिस, संचालक व उनकी पत्नी, भाई, रिश्तेदार सहित अन्य को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

जानकारी के मुताबिक, देवरिया के खानपार थाना क्षेत्र के भवानी छपरा के मूल निवासी संतोष सिंह पुत्र राधा सिंह करीब चार साल पहले सिंघड़िया के आदर्श नगर में मकान बनवाकर भाई अभिषेक और पत्नी के साथ रहने लगे। अपने मकान से चंद कदम की दूरी पर लेखा परीक्षा अधिकारी प्रवीण मिश्रा का मकान किराए पर लेकर उन्होंने गल्फ टेक्निकल इंस्टीट्यूट की शुरुआत कर दी। यहां पर विदेश भेजने वाले युवकों को ट्रेनिंग दी जाती है।
... और पढ़ें

गोरखपुर के 547 शिक्षकों को विद्यालय के आवंटन की प्रक्रिया शुरू, सोशल डिस्टेंसिंग के साथ हुई काउंसलिंग

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में 547 नए शिक्षकों के विद्यालय आवंटन की प्रक्रिया आज से बीएसए दफ्तर में शुरू हो गई है। पहले दिन महिला-पुरुष दिव्यांग के अलावा महिला शिक्षकों को काउंसलिंग के लिए बुलाया गया था। सुबह दस बजे से काउंसलिंग शुरू हुई। सोशल डिस्टेंसिंग के लिहाज से अभ्यर्थियों को क्रमवार प्रवेश मिला।
 
नए शिक्षकों से प्रेरणा एप के माध्यम से पसंदीदा पांच-पांच विद्यालयों की च्वाइस को लॉक कराया जा रहा है। रिक्तियों के सापेक्ष ही उन्हें विद्यालय का आवंटन होगा। पुरुष अभ्यर्थियों को रोस्टर के मुताबिक विद्यालय मिलेंगे।

बता दें कि 29 अक्तूबर तक काउंसलिंग जारी रहेगा। 30 अक्तूबर को विद्यालय का आवंटन होगा। जिसके बाद अभ्यर्थियों को तीन नवंबर तक आवंटित विद्यालय पर कार्यभार ग्रहण करना होगा।  

काउंसलिंग का कार्यक्रम
29 अक्तूबर की सुबह 10 से शाम तीन बजे तक काउंसलिंग के जरिए विद्यालय आवंटित किया जाएगा। वहीं 29 अक्तूबर को ही समस्त छूटे अभ्यर्थियों की शाम तीन से चार बजे तक काउंसलिंग होगी।
... और पढ़ें

अब प्रधानाध्यापकों और शिक्षकों की जांची जाएगी गुणवत्ता, कम अंक मिले तो शासन को भेजी जाएगी रिपोर्ट

परिषदीय विद्यालयों में पढ़ाई की गुणवत्ता को सुधारने के लिए अब प्रधानाध्यापकों और शिक्षकों के वार्षिक गोपनीय प्रविष्टी (एसीआर) का 100 नंबरों के आधार पर कड़ाई से मूल्यांकन किया जाएगा। 50 प्रतिशत के कम नंबर मिलने पर शिक्षकों की रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी। अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार का आदेश गोरखपुर के बेसिक शिक्षा विभाग में पहुंच गया है।

आदेश के मुताबिक आपरेशन कायाकल्प, छात्र और शिक्षक उपस्थिति, लर्निंग आउटकम समेत नौ बिंदुओं पर शिक्षकों का मूल्यांकन होगा। पहले शिक्षक सेल्फ अप्रेजल भरेंगे। उसके बाद खंड शिक्षा अधिकारी इनकी समीक्षा कर बेसिक शिक्षा अधिकारी को अपनी रिपोर्ट देंगे।

एसीआर की मॉनीटरिंग को लेकर नियमों में बदलाव तो पहले ही किया गया है। मगर निगरानी और समीक्षा के अभाव में ये अपने लक्ष्य को हासिल नहीं कर पा रही है। जिसके बाद से शासन ने सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी कर इसकी कार्ययोजना बना लेने का निर्देश दिया है। बीएसए के द्वारा ही सौ नंबर के आधार पर एसीआर को अंतिम रूप दिया जाएगा। इसे मानव संपदा पोर्टल पर भी ऑनलाइन करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।
... और पढ़ें

चीन निर्मित दीयों को टक्कर देंगे खास दीये, खुद भी जलकर हो जाएंगे राख

सांकेतिक तस्वीर

बस्ती: ट्रक की ठोकर से तीन बाइक सवार घायल, बालिका की मौत

उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के डुमरियागंज मार्ग पर सोनहा थाना क्षेत्र के महनुवा चौराहे के समीप मंगलवार देर रात अज्ञात ट्रक ने बाइक में ठोकर मार दिया। जिससे बाइक सवार तीन लोग घायल हो गए। जिनमें सोनहा थाना क्षेत्र अंतर्गत कनेथू निवासी उदयभान (35) पुत्र बाबूराम और उसकी बेटी शिवांगी (10) व लालपति (55) गंभीर रूप से घायल हो गए।

राहगीरों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने तीनों घायलों को भानपुर अस्पताल पहुंचाया गया। जहां से तीनों को नाजुक स्थिति में जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। रास्ते में 10 वर्षीय शिवांगी ने दम तोड़ दिया। जबकि लालपति को गोरखपुर रेफर कर दिया गया।

बाइक चला रहे उदयभान का इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है। घटना की जानकारी होने पर परिवार में कोहराम मच गया। परिजन शिवांगी का शव लेकर घर चले आए। मृतका की मां कुसुम बदहवास हो गई। पिता हरिराम, बहन खुशबू, भाई अनुमोल, सहित परिवार के सभी लोगों का रो-रोकर बुरा हाल है।

परिजनों ने बताया कि तीनों अपने रिश्तेदार के मौत होने पर सागर राऊजवा थाना भवानीगंज देखने गए थे। वहां से लौटते समय घटना हो गई। परिजनों ने शव का अंतिम संस्कार गांव के समीप में ही कर दिया है। एसओ सोनहा ने बताया कि सूचना मिलते ही तत्काल मौके पर पहुंचकर घायलों को इलाज के लिए अपने वाहन से भेजा गया। मामले में अभी कोई तहरीर नहीं मिली है।
... और पढ़ें

सीडीएफ यूपी में घमासान, अध्यक्ष-महामंत्री में टकराव, एक दूसरे को निष्कासित करने का किया दावा

केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट फेडरेशन (सीडीएफ) यूपी में घमासान मचा है। अलग-अलग मुद्दों पर अध्यक्ष दिवाकर सिंह और महामंत्री सुरेश गुप्ता ने एक दूसरे को ही संगठन से निष्कासित करने का दावा किया है। इस बीच महामंत्री पक्ष से लखनऊ के गिरिराज रस्तोगी को संगठन का कार्यवाहक अध्यक्ष बना दिया गया है। वह अप्रैल 2021 में चुनाव होने तक अपने पद पर बने रहेंगे।

ऑल इंडिया ऑर्गेनाइजेशन ऑफ केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट फेडरेशन (एआईओसीडी) से सीडीएफ यूपी जुड़ा है। यह यूपी के दवा कारोबारियों का सबसे बड़ा व मजबूत संगठन माना जाता है, जो आंतरिक चुनौतियों से जूझ रहा है। संगठन के पदाधिकारी ही एक दूसरे के खिलाफ मोर्चा खोले हैं।

दरअसल, सीडीएफ यूपी की आमसभा मंगलवार को हुई। इसमें अध्यक्ष दिवाकर सिंह पर दूसरे संगठन से जुड़ने के आरोप लगाए गए। इसपर जवाब भी मांगा गया लेकिन अध्यक्ष ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। इसे आमसभा ने संगठन विरोधी माना और उन्हें संगठन से निष्कासित करने का फैसला कर लिया। इससे पहले सीडीएफ यूपी के संरक्षक गिरिराज रस्तोगी व चेयरमैन इब्राहिम मंसूरी के माध्यम से अध्यक्ष को नोटिस भेजा गया था। संगठन की उठापटक पर गोरखपुर में भी हलचल देखने को मिली है। संगठन के अलग-अलग गुटों से जुड़े दवा कारोबारी दिनभर चर्चा में लगे रहे।
... और पढ़ें

धान की फसल बेचने के लिए क्रय केंद्रों पर जाने से कतरा रहे हैं किसान, खरीद का नंबर कब आएगा पता नहीं

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में धान की फसल खरीदने के लिए खाद्य विभाग की ओर से 442 क्रय केंद्र बनाए गए हैं। इन केंद्रों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर धान खरीदने का दावा किया जा रहा है, लेकिन किसान इन केंद्रों पर धान की फसल बेचने से बच रहे हैं।

अधिकतर किसान आढ़तियों के माध्यम से फसल बेच रहे हैं। किसानों का कहना है कि क्रय केंद्रों पर बिक्री का नंबर बहुत देरी से आता है। किसानों के पास इतना समय नहीं होता कि वह तोल के लिए लंबे समय तक इंतजार कर सकें। लिहाजा, क्रय केंद्रों से किनारा करना मजबूरी है।  

सरकारी क्रय केंद्रों पर धान की बिक्री की अमर उजाला संवाददाता ने पड़ताल की। जो किसान मिले, उनके मुताबिक क्रय केंद्रों पर धान की फसल खरीदने से पहले कभी अधिक नमी का हवाला दिया जाता तो कभी दाना सही नहीं होने की बात कही जाती है। सरकार के निर्धारित मानकों पर खरा नहीं होने की बात कह कर या तो दाम कम दिए जाते हैं या नमी को सुखाने की बात कही जाती है।

नमी को सुखाने में कई दिन लगते हैं। इतना समय किसानों के पास नहीं होता है कि वह मंडी में कई दिनों तक फसल की रखवाली करता रहे। ऐसे में किसान आढ़तियों का सहारा लेते हैं। किसानों की इसी मजबूरी का फायदा बिचौलिए उठाते हैं। बिचौलिए किसानों की फसल को क्रय केंद्रों की तुलना में निर्धारित मूल्य से पांच-छह सौ रुपये कम दाम पर खरीदते हैं।
... और पढ़ें

घर के बाहर मोबाइल पर हुई गाली गलौच फिर सिर में मारी गोली, आरोपी फरार

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के पीपीगंज थाने से महज 700 मीटर की दूरी पर स्थित किस्तुराजा पब्लिक स्कूल के सामने मंगलवार शाम को बाइक सवार दो बदमाशों ने व्यापारी पुत्र संदीप अग्रहरि (24) के सिर में गोली मार दी। छीनाझपटी में बदमाश की पिस्टल वहीं पर गिर गई, लेकिन बदमाश फरार हो गए। पुलिस का कहना है कि ऐसा लगता है आशनाई में वारदात की गई है। परिजनों के संदेह पर कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।
 
वहीं, घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायल संदीप को पहले एक निजी अस्पताल पहुंचाया, जहां से उसे मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया। गंभीर हालत देखते हुए डॉक्टरों ने संदीप को लखनऊ रेफर कर दिया है। पुलिस मौके से पिस्टल और घायल के मोबाइल फोन को कब्जे में लेकर छानबीन शुरू कर दी है।
 
जानकारी के मुताबिक, दीपचंद अग्रहरि की कस्बे में बक्शा और रसोई गैस सिलिंडर की दुकान है। बेटा संदीप उसी दुकान में मदद करता है। मंगलवार शाम संदीप दुकान से घर आ गया था। करीब 7.20 बजे उसके मोबाइल फोन पर किसी की कॉल आई। बात करते हुए वह घर से बाहर आ गया। फोन पर गाली गलौच होने लगी। इस पर उसके घरवाले भी बाहर आ गए।

इसी बीच बाइक सवार दो बदमाश आ गए और संदीप के साथ मारपीट करने लगे। भाई के साथ मारपीट होते देख बहनें भी दौड़ पड़ीं। खुद को घिरा देख बदमाशों ने फायर कर दिया। एक गोली संदीप के सिर में जा लगी। गोली चलने की आवाज सुनते ही आसपास के लोग बाहर आ गए। बहनें भाई को संभालने में जुटीं, इसी दौरान मौका पाकर बाइक सवार दोनों बदमाश भाग गए। एक बदमाश हेलमेट लगाए हुए था।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X