विज्ञापन
विज्ञापन
कुंडली में स्थित मंगल और शनि का सम्बन्ध किस प्रकार करेगा आपको प्रभावित !
astrology

कुंडली में स्थित मंगल और शनि का सम्बन्ध किस प्रकार करेगा आपको प्रभावित !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

यूपी: बहन को फावड़े से काटकर मौत के घाट उतारा भाई, बोला- 'अब जी सकेंगे इज्जत की जिंदगी'

मौके पर पहुंची पुलिस व रोते बिलखते परिजन (इनसेट में मृतका की फाइल फोटो)। मौके पर पहुंची पुलिस व रोते बिलखते परिजन (इनसेट में मृतका की फाइल फोटो)।

पेंशनर जीवित प्रमाण-पत्र: एक बार दस्तावेज लिंक कराइए और फिर घर बैठे दें सबूत

अब पेंशनरों को अपने जिंदा रहने का सबूत देने के लिए कोषागार या बैंक जाने की बाध्यता नहीं रह गई है। घर बैठे कोई भी पेंशनर साल में कभी भी जीवित प्रमाण पत्र जमा कर सकता है। जानकार और संसाधनों से युक्त पेंशनर के लिए तो कोई दिक्कत ही नहीं। वे घर से ही आधार समेत सभी जरूरी दस्तावेज शासन की वेबसाइट के जरिए लिंक कर सकते हैं।

जिनके पास संसाधन नहीं हैं, उन्हें भी सिर्फ एक बार कोषागार कार्यालय जाकर अपने आधार समेत कुछ जरूरी दस्तोवज लिंक कराने होंगे। इसके बाद उन्हें भी आने वाले किसी भी साल कोषागार या बैंक जाकर जीवित प्रमाण पत्र नहीं जमा करना होगा। वे अपने नजदीक के जन सेवा केंद्र या फिर किसी भी साइबर कैफे पर 25 रुपये खर्च कर अपना प्रमाण पत्र जमा कर सकते हैं।

दरअसल, वरिष्ठ नागरिकों के लिए रिटायरमेंट के बाद पेंशन आय का एक महत्वपूर्ण स्रोत है। पेंशन जीवन के अंतिम पड़ाव में बुर्जगों को आर्थिक रूप से सक्षम बनाकर उनकी जरूरतें पूरी करने में और आपातकालीन परिस्थितियों में सहायता करती है। अब तक पेंशनरों को सेवानिवृत्ति के बाद हर साल बैंक जाकर अपने जीवित होने का प्रमाण पत्र जमा करना होता था। इसके बाद ही उन्हें पेंशन दी जाती थी।

इस व्यवस्था में तमाम वृद्ध और शारीरिक रूप से कमजोर पेंशनर्स के लिए मुश्किल होती थी। उनकी इन्हीं मुश्किलों को आसान करने के लिए प्रदेश सरकार ने पूरी व्यवस्था ही ऑनलाइन कर दी जिससे अब कोषागार या बैंक तक जाने की अनिवार्यता खत्म हो गई है।  

 
... और पढ़ें

घर के बाहर बदमाशों ने युवक पर बरसाई थी गोलियां, पिता ने कहा- दोस्तों ने आईपीएल सट्टेबाजी में करवाया वारदात

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के पीपीगंज इलाके के किस्तुराजा पब्लिक स्कूल के पास व्यापारी पुत्र संदीप को गोली मारने के मामले में उसके तीन दोस्तों अखिलेश, मिथिलेश और रामू निषाद के खिलाफ साजिश और हत्या की कोशिश की धारा में केस दर्ज किया गया है।

संदीप के पिता ने आशंका जताई है कि आईपीएल सट्टेबाजी और पुराने विवाद को लेकर दोस्तों ने शूटरों की मदद से वारदात को अंजाम दिलाया है। पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी है। उधर, लखनऊ में भर्ती संदीप की सेहत अब भी स्थिर बनी हुई है।

जानकारी के मुताबिक, पीपीगंज के वार्ड नंबर 11 में बीते मंगलवार को घर के बाहर मोबाइल फोन पर बातचीत करने के दौरान संदीप अग्रहरि को गोली मारी गई थी। पिता दीप चंद्र अग्रहरि की तहरीर पर दर्ज केस के मुताबिक, संदीप का उसके दोस्त अखिलेश, मिथिलेश और रामू से कई दिनों से विवाद चल रहा था। घटना के दो दिन पहले भी आईपीएल सट्टेबाजी को लेकर मारपीट की कोशिश की गई थी।
 
उधर, मामले की जांच में जुटी पुलिस ने बुधवार को दस लोगों को हिरासत में लिया था। इसमें से सात से अब भी पूछताछ जारी है। एसपी नार्थ अरविंद पांडेय खुद मामले की मॉनीटरिंग कर रहे हैं। उनका कहना है कि जल्द ही मामले का पर्दाफाश कर लिया जाएगा।
... और पढ़ें

गोरखपुर मेयर के बेटे समेत पांच पर बलवा, हत्या की कोशिश का केस दर्ज

गोरखपुर में खोराबार पुलिस ने एक पुराने मामले में कोर्ट के आदेश पर गुरुवार को मेयर सीताराम जायसवाल के पुत्र अजय जायसवाल, तीन सगे भाइयों समेत पांच लोगों के खिलाफ हत्या की कोशिश, बलवा, लापरवाही से वाहन चलाने व आर्थिक नुकसान की धाराओं में दर्ज किया है। घटना 20 जुलाई 2020 की सुबह 11 बजे की बताई गई है। पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू कर दी है। पीड़ित के मुताबिक, अजय जायसवाल से पुरानी रंजिश है।

जानकारी के मुताबिक, खोराबार क्षेत्र के चंवरी निवासी पंकज श्रीवास्तव ने कोर्ट में प्रार्थना पत्र देकर बताया था कि 20 जुलाई 2020 को दिन में 11 बजे घर से कचहरी जाने के लिए बाइक से निकले थे। अभी सूबाबाजार से आगे एस्सार पेट्रोल पंप के पास पहुंचे थे कि चार पहिया वाहन से ठोकर मार दी।

इससे वह घायल हो गए और बाइक भी क्षतिग्रस्त हो गई। घटना के बाद देखा कि कार में राजघाट क्षेत्र के मिर्जापुर गोडियाना निवासी अरविंद कुमार अग्रहरी उर्फ गुड्डू अपने दो भाई विष्णु अग्रहरी, पंकज अग्रहरी, शेषपुर निवासी विजेन्द्र अग्रहरी और मिर्जापुर निवासी अजय जायसवाल बैठे थे। इन लोगों से मेरे परिवार की पुरानी रंजिश चली आ रही है।

उनका कहना था कि हत्या की नियत से बाइक को ठोकर मारी गई थी। राहगीरों की मदद से मुझे खोराबार स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया गया था। 23 जुलाई को एसएसपी को घटना की सूचना डाक के जरिए दी मगर पुलिस ने केस दर्ज नहीं किया। फिर कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया था। अब कोर्ट ने उचित कार्रवाई का आदेश दिया है। इसी आधार पर खोराबार पुलिस ने केस दर्ज करके मामले की छानबीन शुरू कर दी है।


 
... और पढ़ें

गोरखपुर में मिले 52 नए कोरोना पॉजिटिव, एक्टिव मरीज हुए 874

प्रतीकात्मक तस्वीर
गोरखपुर जिले में गुरुवार को दो डॉक्टरों समेत 52 नए कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। किसी संक्रमित की मौत नहीं हुई है। पोर्टल पर एक मृतक का नाम दो बार चढ़ गया था। एक नाम हटाने के बाद मृतकों की संख्या 306 हो गई है।

स्वास्थ्य महकमे ने बृहस्पतिवार को जो रिपोर्ट जारी की है, उसके मुताबिक अस्थायी जेल में रखे गए आठ बंदी कोरोना संक्रमित मिले हैं। बीआरडी मेडिकल कॉलेज व पादरी बाजार स्थित निजी अस्पताल के डॉक्टर भी संक्रमित पाए गए। कमिश्नर कैंप कार्यालय का एक कर्मचारी भी पॉजिटिव मिला है।

अब जिले में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 18867 हो गई है। अब तक 17687 मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं। सक्रिय मरीजों की संख्या 874 है। नए कोरोना मरीजों के मिलने की पुष्टि सीएम डॉ. श्रीकांत तिवारी ने की है।

शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण
शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में 52 संक्रमित पाए गए हैं। इसमें से  26 शहरी और 17 ग्रामीण क्षेत्र से संबंधित हैं। नौ कोरोना संक्रमित अन्य जगहों से पाए गए। शहरी क्षेत्र में सबसे अधिक शाहपुर से 13, कैंट से पांच, गोरखनाथ, राजघाट, कोतवाली और रामगढ़ताल से दो-दो संक्रमित पाए गए हैं। ग्रामीण क्षेत्र से सबसे अधिक संक्रमित चरगांवा से सात, भटहट से दो, बांसगांव, खोराबार, गोला, बड़हलगंज, कौड़ीराम, पिपराइच, खजनी और सहजनवां से एक-एक संक्रमित मिले हैं।
... और पढ़ें

वसंत पंचमी के समय होगा नाथपंथ और योग पर अंतराराष्ट्रीय सम्मेलन, सीएम योगी ने की तैयारियों की समीक्षा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर में गोरखपुर विश्वविद्यालय के महायोगी गुरु श्री गोरखनाथ शोध पीठ की ओर से ‘नाथ पंथ और योग’ पर आयोजित किए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन की तैयारियों की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने वसंत पंचमी के आसपास सम्मेलन का उद्घाटन करने के लिए अपनी सहमति दी।

कुलपति प्रो. राजेश सिंह ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में देश और दुनिया के प्रसिद्ध विशेषज्ञों और शिक्षाविदों को आमंत्रित किया जाएगा। इस दौरान नाथ पंथ में योग के विभिन्न आयामों पर चर्चा की जाएगी।

यह सम्मेलन योग के मूल सिद्धांतों और विशेष रूप से ‘हठ योग’ के बारे में ज्ञान का प्रसार करेगा। इस क्षेत्र से संबंधित विभिन्न प्रतिष्ठित संस्थानों के सहयोग से आयोजित होने वाले इस सम्मेलन में योग के पारंपरिक स्कूलों पर एक विशेष सत्र आयोजित किया जाएगा।
... और पढ़ें

पार्टी के रंग में रेलवे अस्पताल का यूरिनल देख बिफरे थे सपा कार्यकर्ता, पोती कालिख, रेलवे प्रशासन ने लगवाया सफेद पेंट

प्रेमी के भेजे सिंदूर को मांग में सजाया तो भाई ने काट दिया बहन का गला, खुद फोन कर पुलिस को बताई पूरी बात

गोरखपुर के चिलुआताल इलाके के परमेश्वरपुर गांव के भंडारो टोला में प्रेमी के भेजे सिंदूर को मांग में सजाने से नाराज बड़े भाई ने फावड़े से काटकर बहन अंजलि (16) की हत्या कर दी।

गुरुवार की शाम चार बजे के करीब वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी रामगोविंद ने खुद पुलिस बुलाई। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। बताया जा रहा है कि नाबालिग बहन का गांव के एक युवक से प्रेम संबंध था। इससे किशोरी के घरवाले नाराज थे। इसे लेकर कई बार थाने में पंचायत भी हुई थी। शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाकर पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

जानकारी के मुताबिक, पिता रामबुझारत रेलवे के वर्कशॉप में काम करते हैं। उनकी दो बेटी और तीन बेटों में अंजलि सबसे छोटी थी। अंजलि की दोस्ती गांव के ही एक युवक से हो गई थी और वह उसके साथ ही रहना चाहती थी। 15 दिन पहले वह प्रेमी के साथ बाहर चली गई थी। तब उसके घरवालों ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने अंजलि को ढूंढ निकाला। फिर थाने में सुलह समझौते के बाद अंजलि को घरवालों के साथ भेज दिया गया। इसके बाद भाइयों ने अंजलि को मौसी के घर भेज दिया था।

इसी बीच घर पर दुर्गा प्रतिमा स्थापित की गई। मां गंगोत्री ने बेटी अंजलि को मौसी के घर से बुला लिया। बताया जा रहा है कि दो दिन पहले प्रेमी ने सिंदूर भेजा था, जिसे अंजलि ने गुरुवार की दोपहर अपनी मांग में लगा लिया। इसी बीच बाहर से आए बड़े भाई रामगोविंद की नजर बहन की मांग में सिंदूर पर पड़ी तो वह आपा खो बैठा।

फावड़ा उठाया और उसने बहन पर ताबड़तोड़ वार कर दिया। पुलिस के मुताबिक, गले और सीने पर वार करके अंजलि को मौत के घाट उतारा गया है। मां और परिवार के लोगों ने बीच बचाव की कोशिश की, लेकिन तब तक अंजलि की मौके पर ही मौत हो गई। आरोपी भाई ने फोन कर पुलिस बुलाई और हत्या की वजह बताते हुए गिरफ्तारी दे दी।
... और पढ़ें

गोरखपुर विश्वविद्यालय की प्रवेश परीक्षाओं का परिणाम घोषित, यहां देखें अपना रिजल्ट

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय की स्नातक तथा परास्नातक कक्षाओं में प्रवेश के लिए आयोजित परीक्षाओं के परिणाम गुरुवार घोषित कर दिए गए। प्रवेश प्रक्रिया का विस्तृत कार्यक्रम शीघ्र ही घोषित किया जाएगा।

कुलसचिव डॉ. ओम प्रकाश ने बताया कि सभी परीक्षा परिणाम गुरुवार विवि की वेबसाइट
www.ddugu.ac.in पर घोषित कर दिए गए है जहां अभ्यर्थी अपना रोल नंबर तथा जन्मतिथि अंकित करते हुए अपना परिणाम देख सकेंगे। कुलसचिव ने बताया कि 14 अक्तूबर से आरंभ होकर 23 अक्तूबर तक चली, इन परीक्षाओं में स्नातक तथा परास्नातक कक्षाओं में प्रवेश के लिए कुल 38,167 अभ्यर्थियों ने परीक्षा दी।

समन्वयक, स्नातक प्रवेश परीक्षा प्रो. राजवंत राव ने बताया कि गुरुवार को बीएससी(बायो), बीएससी (गणित), बीएससी(कृषि),बीएससी(गृह विज्ञान), बीएससी (नर्सिंग बेसिक), बीपीटी, बीएससी (एमएलटी), बीए, बीए एलएलबी, बी कॉम, बीबीए तथा बीसीए की प्रवेश परीक्षाओं के परिणाम घोषित कर दिए गए।

परास्नातक प्रवेश परीक्षा के समन्वयक प्रो विजय कुमार ने बताया कि परास्नातक इलेक्ट्रॉनिक्स, पर्यावरण विज्ञान, प्राणि विज्ञान, भौतिकी, गणित, वनस्पति विज्ञान, रसायन विज्ञान, बायोटेक्नोलॉजी, गृहविज्ञान, माइक्रो बायोलॉजी, भूगोल, मनोविज्ञान, उर्दू, समाजशास्त्र, इतिहास, प्राचीन इतिहास, अंग्रेजी, राजनीति विज्ञान, हिंदी, अर्थशास्त्र, दृश्यकला,शिक्षाशास्त्र, एम कॉम,एलएलएम, एलएलबी, बीएससी( नर्सिंग पोस्ट बेसिक) के लिए आयोजित परीक्षाओ के परिणाम घोषित कर दिये गए।

उन्होंने बताया कि एमएससी (कृषि) तथा बीजे के परीक्षा परिणाम अतिशीघ्र घोषित किए जाएंगे l


  ... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X