विज्ञापन
विज्ञापन
दीर्घकाल से चल रहें मुकदमें होंगे समाप्त, आज ही बुक करें कामाख्या देवी मंदिर में विजय दशमी की विशेष पूजा !
Navratri Special

दीर्घकाल से चल रहें मुकदमें होंगे समाप्त, आज ही बुक करें कामाख्या देवी मंदिर में विजय दशमी की विशेष पूजा !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

यूपी: तेज रफ्तार पिकअप पेड़ से टकरा कर गड्ढे में पलटी, दो की मौत

उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। यहां तरकुलवा थाना क्षेत्र के कसया-देवरिया सड़क पर सोंहुला रामनगर के समीप शनिवार की सुबह अनियंत्रित मुर्गा लदा पिकअप पेड़ से टकराकर गड्ढे में गिर गई। हादसे में पिकअप चालक सहित दो की मौत हो गई। वहीं एक युवक गंभीर घायल है। जिसका जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है।

आजमगढ़ जिले के थाना फूलपुर कस्बा निवासी फैसल (23) पुत्र लल्लन, रानीसराय निवासी छोटू (20) व नवादा निवासी आतिक (20) पुत्र नियाज अन्य साथियों के साथ चंदौली जिले के कहानियां से मुर्गा पिकअप पर लोड कर बिहार के बेतिया जिले के नौतन लेकर जा रहे थे।

अभी गाड़ी तरकुलवा थाना क्षेत्र के सोंहुला रामनगर गांव के समीप पहुंचा था कि पिकअप चला रहे फैसल को नींद आ गई। पिकअप अनियंत्रित होकर पेड़ से टकराकर गड्ढे में पलट गई।

इस दौरान सड़क पर टहल रहे युवकों ने पुलिस को सूचना देकर मदद करने में जुट गए। मौके पर पहुंची पुलिस पिकअप का दरवाजा काट कर सभी को बाहर निकाली। जिसमें चालक फैसल की मौत हो गई थी। पुलिस तीनों युवकों को एंबुलेंस से जिला अस्पताल भेजवाया।

इलाज के दौरान छोटू की मौत हो गई। वहीं घायल आतिक का इलाज चल रहा है। पुलिस मृतकों का शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दी है। इस संबंध में प्रभारी निरीक्षक प्रदीप शर्मा ने बताया कि घटना के बाद घायलों को इलाज के लिए अस्पताल भेजवा दिया। मृतकों के परिजन तहरीर देगें तो कार्रवाई की जाएगी।

 
... और पढ़ें
हादसे में दो की मौत हो गई। हादसे में दो की मौत हो गई।

पत्नी से अवैध संबंध के शक में कर दी थी दोस्त की हत्या, एक साल बाद ऐसे हुआ खुलासा

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां कैंपियरगंज इलाके के धरमपुर गांव के राजबारी टोला निवासी बब्बन मौर्या का शव करीब एक साल पहले उसके घर के पास मिला था। अब एक साल बाद इस घटना का क्राइम ब्रांच ने पर्दाफाश करते हुए आरोपी को दबोच लिया है। पता चला है कि बब्बन के दोस्त ने पत्नी से अवैध संबंध के शक में उसकी हत्या कर दी थी।

ये है मामला
इस मामले को हादसा बताकर पुलिस दो बार फाइनल रिपोर्ट लगाकर फाइल बंद कर चुकी थी। एसएसपी ने एक बार फिर फाइल खुलवाकर मामले की जांच क्राइम ब्रांच से कराई तो हत्या के साक्ष्य मिले। पुलिस इस मामले के दूसरे आरोपी की तलाश में जुटी है।  एसएसपी जोगेंद्र कुमार और एसपी क्राइम आलोक वर्मा ने प्रेस कांफ्रेंस कर घटना का पर्दाफाश किया।

अफसरों ने बताया कि 3 जून 2019 को बब्बन मौर्या का शव उसके घर के पास ही मिला था। इसमें पुलिस ने हत्या का केस दर्ज किया था, लेकिन फिर जांच में यह कहते हुए फाइनल रिपोर्ट लगा दी गई थी कि शराब के नशे में सड़क पर गिर जाने से बब्बन के सिर में चोट लग गई और उसकी मौत हो गई। इस मामले की फाइल दोबारा क्राइम ब्रांच में खोली गई तो एक बार फिर यही रिपोर्ट लगाकर फाइल को बंद कर दिया गया।
... और पढ़ें

Exclusive: पेट्रोलियम, एलपीजी और कंप्रेस्ड बायोगैस उत्पादन-वितरण का हब बनेगा गोरखपुर, पढ़िए खास रिपोर्ट

अब गोरखपुर पेट्रोलियम, लिक्विड पेट्रोलियम गैस (एलपीजी), कंप्रेस्ड बायो गैस व एथेनॉल उत्पादन के साथ वितरण का हब बनेगा। इसका खाका इंडियन ऑयल कारपोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल) ने तैयार कर लिया है। गोरखपुर के एलपीजी बॉटलिंग प्लांट से ही बिहार और मध्य प्रदेश को सप्लाई दी जाएगी। यूपी के अलग-अलग जिलों में पेट्रोलियम कंपनी ने 2500 करोड़ रुपये निवेश करने का फैसला किया है। इसमें से 1550 करोड़ रुपये का निवेश गोरखपुर और देवरिया जिलों में किया जा रहा है। यूपी में निवेश, पेट्रोलियम व एलपीजी की वितरण की व्यवस्था को और बेहतर बनाने के संबंध में आईओसीएल के कार्यकारी निदेशक व राज्य प्रमुख डॉ. उत्तीय भट्टाचार्य ने शुक्रवार को अमर उजाला को विस्तार से जानकारी दी। वह एक कार्यक्रम के सिलसिले में गोरखपुर आए थे। पेश है बातचीत के प्रमुख अंश-

सवाल- धुरियापार का कंप्रेस्ड बायोगैस व एथेनॉल प्लांट कब तक बन जाएगा?
जवाब- देखिए, यह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ड्रीम प्रोजेक्ट है। एक हजार करोड़ रुपये का निवेश किया गया है। कंप्रेस्ड बायोगैस प्लांट साल 2021 तक बनकर तैयार हो जाएगा। इस प्लांट में कूड़े से बायोगैस बनाई जाएगी। इसका इस्तेमाल सीएनजी के वाहनों में आराम से किया जा सकेगा। गोरखपुर के सभी पेट्रोल पंपों पर कंप्रेस्ड बायोगैस उपलब्ध कराई जाएगी। ज्यादा से ज्यादा बायोगैस बनाने का लक्ष्य रखा गया है। एथेनॉल प्लांट भी साल 2022 से पहले शुरू हो जाएगा। यह प्लांट आधुनिक होगा। खाने में इस्तेमाल से जो तेल बचेगा, उसी से एथेनॉल व बायो डीजल बनाया जाएगा। केंद्र सरकार ने पेट्रोल में 10 फीसदी तक एथेनॉल और डीजल में पांच फीसदी तक बायो डीजल मिलाकर बेचने की अनुमति दी है। एक शोध के मुताबिक देश में प्रति वर्ष खाने में इस्तेमाल के बाद तेल बचता है।
... और पढ़ें

दिवाली और छठ पर यात्रियों की राह आसान करेगा रोडवेज, गोरखपुर से चलेंगी 100 अतिरिक्त बसें

आईओसीएल के कार्यकारी निदेशक व राज्य प्रमुख डॉ. उत्तीय भट्टाचार्य से विशेष बातचीत।
दिवाली और छठ पर्व में यात्रियों की भीड़ को देखते हुए परिवहन निगम इस बार गोरखपुर परिक्षेत्र में 100 अतिरिक्त बसें संचालित करेगा। ये बसें दिल्ली, लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज, वाराणसी आदि मार्गों पर सात नवंबर से चलाई जाएंगी। यह सेवा छठ पूजा तक जारी रहेगी।

राप्ती नगर डिपो से लखनऊ के लिए 11 अतिरिक्त बसें, प्रयागराज के लिए 10 और दिल्ली के लिए 11 अतिरिक्त बसें चलाई जाएंगी। इसी तरह से गोरखपुर डिपो से भी कई प्रमुख स्थानों के लिए अतिरिक्त बसों की सेवा शुरू करने की तैयारी की जा रही है। इसके अलावा गोरखपुर परिक्षेत्र में 325 अनुबंधित बसों के फेरों में बढ़ोतरी की जाएगी।
 
गोरखपुर क्षेत्रीय प्रबंधक पीके तिवारी ने बताया कि आगामी त्योहारों को देखते हुए यात्रियों को कोई दिक्कत न हो इस लिहाज से गोरखपुर परिक्षेत्र में 100 अतिरिक्त बसें बढ़ाई जाएंगी। इन बसों का संचालन सात नवंबर से शुरू किया जाएगा।
... और पढ़ें

सीएम योगी ने जांचीं त्योहार की तैयारियां, दिया ये खास निर्देश

गोरखपुर में चार दिवसीय प्रवास पर शुक्रवार को पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने त्योहारों की तैयारियों के साथ ही प्रमुख सड़कों की प्रगति के बारे में भी अफसरों से जानकारी ली। उन्होंने निर्देश दिया कि कोविड 19 से बचाव के प्रोटोकॉल का पूरी तरह पालन करते हुए त्योहारों को संपन्न कराया जाय।

डीएम के. विजयेंद्र पांडियन ने बताया कि मुख्यमंत्री ने प्रतिमा विसर्जन के लिए तालाब आदि की जानकारी ली। उन्हें बताया गया कि शहर क्षेत्र में राजघाट सहित तीन स्थानों पर नौ कृत्रिम तालाब बनवाए गए हैं। शनिवार यानि आज डीएम खुद इन तालाबों का निरीक्षण करेंगे।

इस बार ज्यादातर प्रतिमाएं छोटी स्थापित की गई हैं। प्रतिमा विसर्जन जुलूस पर प्रशासन की नजर रहेगी। लोगों से अपील की गई है कि जुलूस में कम ही लोग शामिल हों ताकि सामाजिक दूरी बनी रहे। डीएम ने बताया कि इस बार राघव-शक्ति मिलन में भी समय का प्रबंधन किया गया है। गाड़ी पर जुलूस निकालने की अपील की गई है।
 
जंगल कौड़िया फोरलेन की रफ्तार तेज करने का निर्देश

मुख्यमंत्री ने जंगल कौड़िया से मोहद्दीपुर सड़क चौड़ीकरण के बारे में भी जानकारी ली। गोरखनाथ मंदिर के सामने हो रहे निर्माण की भी प्रगति पूछी। उन्होंने दोनों सड़कों के निर्माण में तेजी लाकर उसे जल्द पूरा करने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री ने कोविड 19 पर नियंत्रण को लेकर की जा रही तैयारियों के बारे में भी जानकारी ली।
... और पढ़ें

गोरखपुर में 880 युवाओं के नौकरी का सपना होगा साकार, यहां करें आवेदन

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय की ओर से ऑनलाइन रोजगार का कार्यक्रम जारी कर दिया गया है। इच्छुक युवा सेवायोजन विभाग के पोर्टल पर (sewayojan.up.nic.in) रोजगार मेला में शामिल होने के लिए 26 अक्तूबर तक पंजीकरण करा सकते हैं। आठ कंपनियों की ओर से विभिन्न पदों में 880 युवाओं को नौकरी का अवसर मुहैया कराया जाएगा। न्यूनतम अर्हता हाईस्कूल और इंटर तक निर्धारित की गई है।

सहायक निदेशक सेवायोजन अवधेंद्र प्रताप वर्मा ने बताया कि रोजगार मेला में शामिल होने के लिए ऑनलाइन ही पंजीकरण स्वीकार किया जा रहा है। अभ्यर्थियों की ओर से किए जाने वाले आवेदनों का सत्यापन सबसे पहले विभाग की ओर से किया जाएगा। उसके बाद पूरा रिकार्ड आवेदन करने वाली कंपनियों को भेजा जाएगा।

कंपनी की ओर से युवाओं का इंटरव्यू फोन या वीडियो कॉलिंग के माध्यम से लिया जाएगा। नियुक्ति पत्र भी ऑनलाइन ही प्रदान किए जाएंगे। इसके बाद युवाओं का जाकर कार्यस्थल पर ज्वाइनिंग की प्रक्रिया को पूरा करना होगा। उन्होंने बताया कि 18-32 वर्ष की आयु के युवा रोजगार मेला में शामिल हो सकते हैं। न्यूनतम मानदेय 8500-12500 रुपये तक है। ... और पढ़ें

सीएम योगी बोले- शासन की मंशा में खोट नहीं, तभी योग्य शिक्षक हो रहे चयनित

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में राजकीय माध्यमिक विद्यालयों के नवनियुक्त सहायक अध्यापकों के नियुक्ति पत्र वितरण समारोह में सीएम योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर की दो शिक्षिकाओं से एनआईसी भवन में ऑनलाइन संवाद किया। सीएम ने उनसे शिक्षक बनने के बाद की अनुभूति के बारे में पूछा। अंग्रेजी की शिक्षिका निखत परवीन से कहा कि अब आपकी जिम्मेदारी बढ़ गई है। आप अपने साथ-साथ अपने समाज की महिलाओं और बेटियों को शिक्षा के प्रति जागरूक करेंगी न ? इस पर शिक्षिका ने सहर्ष दिव्यांग बच्चों को भी जागरूक करने का संकल्प लिया।

सीएम ने कहा कि शासन का एजेंडा जब विकास होता है तो पारदर्शी तरीके से योग्य अभ्यर्थियों का चयन होता है। आप जैसे योग्य लोग आगे बढ़ रहे हैं, क्योंकि शासन की मंशा में कोई खोट नहीं है। शासन ने तय किया था कि ईमानदारी से चयन करना है। इसी के तहत लोक सेवा आयोग ने आपकी परीक्षा ली और योग्य अभ्यर्थियों का चयन किया है।

मुख्यमंत्री ने बड़हलगंज की नवनियुक्त शिक्षिका हेम प्रभा ओझा से संवाद किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि आपका चयन गृह विज्ञान की शिक्षिका के रूप में हुआ है। आप कौन-कौन से काम जानती हैं? शिक्षिका ने कहा कि मैं बच्चों को कुपोषण से बचाने के अलावा छात्राओं को आत्मनिर्भर बनाने का कार्य करूंगी।

सीएम ने स्कूलों में आयोजित होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों व एसेंबली में गृह विज्ञान का एक अलग कार्यक्रम बनाने पर जोर दिया। कार्यक्रम में सदर सांसद रवि किशन, राज्यसभा सदस्य शिव प्रताप शुक्ला, विधायक एमपी सिंह, शीतल पांडेय, संत प्रसाद, फतेह बहादुर सिंह, डीएम के. विजयेंद्र पांडियन, सीडीओ इंद्रजीत सिंह, जेडी योगेंद्रनाथ सिंह व डीआइओएस ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह भदौरिया आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

248 शिक्षकों के रिकॉर्ड की जांच एसटीएफ से कराने की तैयारी, जानिए क्या है वजह

मानव संपदा पोर्टल पर सर्विस रिकार्ड की जानकारी अपलोड करने से आनाकानी करने वाले 248 शिक्षकों की जांच एसटीएफ करेगी। बेसिक शिक्षा विभाग ने इन शिक्षकों को चिंहित कर लिया है। साथ ही आखिरी बार 10 नवंबर तक रिकार्ड अपलोड करने का अल्टीमेटम दिया है।

तय समय तक जानकारी न देने वाले शिक्षकों को संदिग्ध माना जाएगा। साथ ही उनकी सूची बनाकर एसटीएफ को जांच के लिए भेजी जाएगी। शासन स्तर से इसे लेकर जारी आदेश गोरखपुर के बेसिक शिक्षा विभाग में भी पहुंच गया है।

जिले में 248 शिक्षकों ने अभी तक पोर्टल पर विवरण अपलोड नहीं कराया है। बेसिक शिक्षा विभाग में शिक्षकों के नौकरी से संबंधित विवरण को मानव संपदा पोर्टल पर अपलोड किया जाना है। विभाग के मुताबिक पोर्टल पर विवरण अपलोड होने के बाद विभाग में फर्जी शिक्षकों की पहचान हो सकेगी।

पोर्टल पर शिक्षकों, शिक्षामित्रों, अनुदेशकों व कर्मचारियों का विवरण अपलोड किया जाना है। पोर्टल पर विवरण अपलोड करने के लिए विभाग ने कई बार समय बढ़ाया। इसके बावजूद विवरण अपलोड करने को लेकर शिक्षक लापरवाही बरतते रहे। अब शासन ने इनसे सख्ती से निपटने का फैसला किया है।

 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X