विज्ञापन
विज्ञापन
खत्म होंगी सारी मुश्किलें जब जन्मकुंडली बताएगी समाधान
Kundali

खत्म होंगी सारी मुश्किलें जब जन्मकुंडली बताएगी समाधान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

अमर उजाला एक्सक्लूसिवः फ्रांस की कंपनी से हुआ करार, रैपिड रेल भरेगी सुरक्षित रफ्तार

रैपिड रेल में आपके सफर को सुरक्षित बनाने के लिए राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम (एनसीआरटीसी) ने फ्रांस की सर्टिफर कंपनी से करार किया है। यह कंपनी दिल्ली से मेरठ के बीच बन रहे रैपिड रेल कॉरिडोर के डिजाइन से लेकर संचालन तक एक-एक मानक की जांच कर प्रमाणित करेगी। इसके बाद ही रैपिड रेल का दिल्ली से मेरठ के बीच संचालन शुरू होगा। इस परियोजना पर 88 लाख रुपये खर्च होंगे। 

82 किलोमीटर के इस कॉरिडोर में विश्वस्तरीय तकनीक का उपयोग किया जा रहा है। देश के पहले रैपिड रेल कॉरिडोर का दावा करने वाली राष्ट्रीय राजधानी परिवहन क्षेत्र निगम किसी भी तरह की लापरवाही बरतना नहीं चाहता है। उसने सुरक्षा को देखते हुए सुरक्षा जांच कराने के लिए भी बजट बनाया है, जिससे यात्रियों को रैपिड रेल में बैठने से पहले सुरक्षा का प्रमाण-पत्र भी दिखाया जाए। इन सुरक्षा जांच में डिजाइन, सिविल, संचालन सहित अन्य कार्य शामिल हैं। 

जरूरी होता है मूल्यांकन 
दरअसल बड़ी परियोजना में सुरक्षा जांच कराना जरूरी होता है। इसे स्वतंत्र सुरक्षा मूल्यांकन (इंडीपेंडेंट सेफ्टी एसेसमेंट) कहा जाता है। इससे परियोजना बनाने वाली कंपनी को भी सुरक्षा जांच के समय अपनी कमियों का पता चल जाता है। इन कमियों को संचालन से पहले सुधार करने में आसानी होती है।

बड़ी परियोजनाओं में शामिल रही कंपनी
सर्टिफर कंपनी ने विश्व के अन्य देशों में रेलवे की बड़ी परियोजनाओं की सुरक्षा जांच की है। इसके बाद ही उनका संचालन शुरू हो सका है। इनमें इटली, बेल्जियम, आस्ट्रेलिया, ब्राजील जैसे देश शामिल हैं। इन देशों में चली रेल परियोजनाओं में इसी कंपनी ने सुरक्षा जांच की थी। हालांकि, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम ने इस कार्य को करने के लिए टेंडर निकाला था, जिसमें तीन कंपनियों ने टेंडर डाला था। अंतिम चरण तक सर्टिफर कंपनी ही तकनीकी जांच में फिट हो सकी। 

प्रमुख परियोजनाओं की सुरक्षा जांच
परियोजना                साल
1. सिडनी लाइट रेल - 2015-19
2. रियो डी जेनेरो लाइट मेट्रो, ब्राजील - 2019
... और पढ़ें

नेताजी के हर कदम के साथी थे मेरठवासी, शहीद स्मारक संग्रहालय में सहेजी हैं यादें

नेताजी सुभाषचंद्र बोस के जीवन में मेरठवासी हमेशा साथी बने। कांग्रेस हाईकमान से मनमुटाव के बाद जब नेताजी कुछ नया करने की सोच से मेरठ आए तो यहां युवाओं ने उनका पूरा साथ दिया। आईएनए के गठन के सपने को पूरा करने में युवाओं ने सहभागिता निभाई। इन यादों की गवाही आज भी टाउनहॉल और घंटाघर देता है।

इतिहासकार डॉ. केडी शर्मा के अनुसार नेताजी 1940 में मेरठ में आए थे। यहां टाउनहाल में उनका पहला भाषण हुआ था। इसमें नेताजी ने युवाओं को आजादी की लड़ाई में सहभागिता के लिए ललकारा था। बीएवी इंटर कॉलेज से रिटायर हुए बीएन पाराशर के अनुसार नेताजी 1940 में मेरठ आए थे। 1969 में यहां हमने नेताजी सुभाष जन्मदिवस समिति का गठन किया था।

संग्रहालय में सहेजी हैं यादें
राजकीय स्वतंत्रता संग्राम संग्रहालय में आईएनए के सिपाही की वर्दी, बैज, टोपी है। नेताजी के 210 फोटो हैं जो विभिन्न मुद्राओं में हैं। नेताजी के मित्रों की तस्वीरें, बैज हैं। प्रमुख पत्र शामिल हैं। इनमें अधिकांश फोटो कोलकाता स्थित नेताजी रिसर्च ब्यूरो से एकत्र किए गए हैं।

नेताजी को समर्पित घंटाघर, प्रेक्षागृह
शहर का प्रमुख स्मारक घंटाघर द्वार नेताजी के नाम पर है। चौधरी चरण सिंह विवि कैंपस में नेताजी सुभाष चंद्र बोस के नाम पर प्रेक्षागृह है। 1957 में मेरठ नगर पालिका ने घंटाघर का नाम नेताजी के नाम पर किया। नेताजी के भतीजे अमीय नाथ बोस भी 1970 से 1980 के बीच कई बार मेरठ आए। कमिश्नरी के सामने के पार्क का नाम भी सुभाष चंद्र बोस के नाम पर 23 जनवरी 1985 को रखा गया था, बाद में यह नाम बदल गया।

यह भी पढ़ें: 
नेताजी सुभाषचंद्र बोस की मुंह बोली बहन हैं माता गौरी रैना, पढ़िए क्या है पूरी कहानी
... और पढ़ें

भजन गायक नरेंद्र चंचल का मेरठ से रहा गहरा नाता, शहरवासियों ने साझा की उनकी जुड़ी यादें

भजन गायक नरेंद्र चंचल का मेरठ से गहरा नाता रहा है। वह 80 के दशक में पहली बार धानेश्वर चौक पर आयोजित कार्यक्रम में आए थे। इसके बाद 2012 से 2017 तक अक्सर आते रहे। बाबा औघड़नाथ मंदिर, जिमखाना मैदान समेत कई मंदिरों और मंडपों में कार्यक्रमों में शामिल हुए।

कंकरखेड़ा मित्र मंडल समिति के अध्यक्ष नीरज मित्तल ने बताया कि छह अक्तूबर 2012 को खिर्वा रोड पर उनकी संस्था द्वारा खाटू श्याम बाबा का कार्यक्रम आयोजित किया था। रात करीब 9:40 बजे नरेंद्र चंचल मंच पर पहुंचे थे। यहां हजारों लोग पहुंचे थे। शहर की जनता को पहली बार नरेंद्र चंचल से रूबरू होने का मौका मिला। नटेशपुरम के लोग नरेंद्र चंचल की एक झलक पाने के लिए छतों पर चढ़े थे। गढ़ रोड व्यापार संघ महामंत्री विपुल सिंघल ने बताया कि दस वर्ष पूर्व नरेंद्र चंचल जिमखाना मैदान में कार्यक्रम में शामिल हुए। व्यापारी नेता अंकित गुप्ता ने बताया कि बाबा औघड़नाथ मंदिर में आयोजित भजन संध्या में नरेंद्र चंचल के भजन सुनकर श्रद्धालु झूम उठे थे।

यह भी पढ़ें: 
एक्सक्लूसिव: यूपी सरकार के नाम दर्ज होगी पाकिस्तान के प्रथम प्रधानमंत्री के परिवार की जमीन

शनिपीठाधीश्वर महेंद्र दास जी महाराज ने बताया कि तीन वर्ष पूर्व काली नदी के समीप वोल्गा मंडप में सराफ पंकज अग्रवाल ने कार्यक्रम कराया था। वहां उनकी नरेंद्र चंचल से भेंट हुई। वहीं, नौचंदी ग्राउंड स्थित पटेल मंडप में 28 मई 2016 को आयोजित माता की चौकी में नरेंद्र चंचल पहुंचे थे। उन्होंने सुरीली आवाज में माता की भेंट प्रस्तुत कर मंत्रमुग्ध कर दिया था।

यह भी पढ़ें: नेताजी के साथ कंधा मिलाकर लड़े शामली के सिपाही, घर छोड़कर आजाद हिंद फौज में हो गए थे भर्ती

गानों का संग्रह किया
फूलबाग कॉलोनी निवासी बेसिक शिक्षा विभाग में कार्यरत गौरव शर्मा ने बताया कि वह 1947 से लतानामा तैयार कर रहे हैं। नरेंद्र चंचल ने भी लता जी के साथ कई फिल्मों में गाने गाए। उन्होंने फिल्म एक-दूजे के लिए व रोटी कपड़ा और मकान आदि के गानों का संग्रह किया है।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें

शहादत को सलाम: बाॅर्डर पर सीज फायरिंग में शहीद हुआ सहारनपुर का लाल, घर पहुंचा पार्थिव शरीर

पाकिस्तान की ओर से सीमा पर की गई सीज फायरिंग में सहारनपुर के लाल निशांत शर्मा शहीद हो गए। वह राजौरी सेक्टर में तैनात थे। शहीद का पार्थिव शरीर रविवार रात 10:35 पर सहारनपुर में न्यू शारदा नगर स्थित उनके आवास पर पहुंचा। इस दौरान पुलिसकर्मी और अन्य लोग मौके पर मौजूद रहे। पार्थिव शरीर पहुंचते ही परिवार में कोहराम मच गया। उधर जवान की शहादत के बाद परिजनों को सांत्वना देने वालों का तांता लगा हुआ है। 

जनपद के न्यू शारदानगर निवासी नायक निशांत शर्मा 61RR (JAT) बटालियन में राजौरी सेक्टर जम्मू कश्मीर में तैनात थे। जनवरी 2021 को पाकिस्तान की ओर से किए गए सीज फायर के उल्लघंन के दौरान हुई गोलीबारी में निशांत बुरी तरह घायल हो गए थे। जिसके बाद उन्हें कमांड हाॅस्पिटल उधमपुर लाया गया, जहां उन्हें आज सुबह अतिंम सांस ली।

वहां इलाज के दौरान रविवार सुबह निशांत ने अंतिम सांस ली। जिला सैनिक बोर्ड के अधिकारी मोहर सिंह की ओर से जिलाधिकारी अखिलेश सिंह और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. एस चनप्पा को निशांत की शहादत के बारे में जानकारी दी गई। वहीं, इस सूचना के बाद निशांत के परिवार में कोहराम मच गया।
  
शहीद के परिजनों ने बताया कि 18 जनवरी को पेट्रोलिंग के समय दुश्मन देश की तरफ से की गई फायरिंग और बमबारी के दौरान नायक निशांत गंभीर रूप से घायल हो गए थे। तब से निशांत के ठीक होने का इंतजार किया जा रहा था, मगर उन्हें बचाया नहीं जा सका। शहीद सैनिक नायक निशांत का पार्थिव शरीर सड़क मार्ग द्वारा आज शाम तक उनके पैतृक आवास पर लाया जाएगा।

शहीद सैनिक के घर पर सांत्वना देने वालों का तांता लगा हुआ है। बेटे की शहादत की खबर सुनते ही जवान की मां बेहोश हो गई। अन्य परिजनों को भी रो रोकर बुरा हाल है।

पत्नी का हुआ बुरा हाल, हाथ किया जख्मी
निशांत के शहीद होने की सूचना के बाद घर में कोहराम मच गया। पत्नी सोनम शर्मा ने खुद को एक कमरे में बंद कर लिया। पति की मौत के सदमे से सोनम इतनी आहत हुई कि उसने अपना हाथ भी घायल कर लिया। बाद में उसे कमरे से निकाला गया और एंबुलेंस मंगवाकर अस्पताल ले जाया गया। 
... और पढ़ें
martyer nishant sharma martyer nishant sharma

दुश्मन से लोहा लेते हुए शहीद हुए नायक निशांत शर्मा, परिजनों को रो-रोकर बुरा हाल

मेरठ पुलिस की गोकशों से मुठभेड़,तीन शातिर गिरफ्तार, पांच फरार

मेरठ में पुलिस ने मुठभेड़ के बाद नौचंदी पुलिस ने रविवार तड़के तीन गो तस्करों को गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान एक आरोपी गोली लगने से घायल हो गया।  जिसे पुलिस ने मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। फरार 5 आरोपियों की तलाश की जा रही है।

रविवार तड़के पांच बजे हापुड़ अड्डा चौराहे पर नौचंदी पुलिस चेकिंग कर रही थी। इस दौरान मुखबिर से सूचना मिली की टाटा मैजिक में गो मांस जा रहा है। पुलिसकर्मियों ने वाहन को रोकने का प्रयास किया तो एक बदमाश ने गोली चला दी।

यह भी पढ़ें: 
शहादत को सलाम: बाॅर्डर पर सीज फायरिंग में शहीद हुआ सहारनपुर का लाल, परिजनों में मचा कोहराम

जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने तीन बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान दूसरी गाड़ी में चल रहे पांच तस्कर फरार हो गए। इंस्पेक्टर नौचंदी संजय वर्मा ने बताया कि गोली लगने से फरमान घायल हो गया, जबकि फैजल और शावेज निवासी सरधना को पकड़ लिया। फरार आरोपियों की तलाश की जा रही है।

 एसपी सिटी अखिलेश नारायण सिंह का कहना है कि मुठभेड़ में घायल एक बदमाश को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अन्य जो फरार हैं उनकी तलाश में दबिश दी जा रही है। मौके से गाड़ी में जो मीट मिला है प्रथम दृष्टा गोवंश का है। जिसकी जांच कराकर आगे की कार्रवाई की जा रही है।

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें

https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें

तीन वर्षों से छात्रवृत्ति का पैसा डकार गए मदरसा संचालक, जांच में सही पाई गई शिकायत

कर्ण मंदिर- हस्तिनापुर
सरकार की सख्त नीतियों के बाद भी छात्रवृत्ति हड़पने का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। गांव जई स्थित मदरसा एनएस जामिया अरेबिक एजुकेशन ने लगभग साढ़े पांच लाख रुपये का गबन कर सरकारी धनराशि का दुरुपयोग किया है। इस मामले में मदरसे के छात्रवृत्ति नोडल अधिकारी सरफराज निवासी ग्राम जई को जांच में दोषी मानते हुए जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी मौहम्मद तारिक ने भावनपुर थाने में तहरीर दी है। मदरसा संचालक पिछले तीन वर्षोँ से छात्रवृत्ति हड़पने का काम कर रहा था। 

हाल ही में न्यू मलियाना निवासी प्रवीन राही के दिए गए शिकायती पत्र के आधार पर विभागीय जांच शुरू की गई थी। मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने गांव में मौजूद लोगों से बातचीत की। उन्होंने छात्रवृत्ति न मिलने के बारे में जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी से शिकायत की।

मदरसे में 144 में से 50 बच्चे शिकायत लेकर अधिकारी के पास पहुंचे। कक्षा-छह से आठ तक के इस मदरसे में तीन वर्षों से छात्रवृत्ति हड़पने की शिकायतें मिलीं। एक वर्ष में प्रति बच्चे को 5700 रुपये छात्रवृत्ति दी जाती है।

शिकायत कर रहे लोगों ने बताया कि मदरसा संचालक उनसे छात्रवृत्ति के नाम पर अंगूठा लगवाते रहे। जबकि उन्हें एक बार भी छात्रवृत्ति नहीं दी गई। इसके साथ-साथ कुछ बच्चे अन्य स्कूल में पढ़ाई कर रहे हैं, जबकि मदरसे का संचालक छात्रवृत्ति हड़पने के लिए दूसरे स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के नाम भी अपने रजिस्टर में दिखाते हुए छात्रवृत्ति हड़प रहे हैं।

काली सूची में मदरसा, मान्यता भी होगी रद
वहीं, इस मदरसे पर जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी की तरफ से शासन को भी रिपोर्ट भेज दी गई है। शासन स्तर पर  मदरसे को काली सूची में डाल दिया जाएगा। वहीं, मदरसा बोर्ड से इसकी मान्यता रद करने के बारे में भी पत्र लिखा जाएगा।

वहीं, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी ने अन्य मदरसा संचालकों को भी सुधरने के लिए निर्देश दिए हैं। उनका कहना है कि अगर अन्य स्थानों से भी ऐसी कोई शिकायत मिली तो उन्हें भी बख्शा नहीं जाएगा।
... और पढ़ें

किसानों को लेकर खुफिया विभाग अलर्ट, ट्रैक्टर परेड में जाने वाले किसानों की हो रही निगरानी 

गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में ट्रैक्टर परेड में शामिल होने की तैयारी में जुटे किसानों की निगरानी में खुफिया विभाग लगा है। रोहटा, सरूरपुर, जानी, सरधना और मवाना, दौराला थाना क्षेत्रों के 45 गांव के लोगों पर पुलिस गंभीरता से नजर रखे हुए है। शासन ने भी निर्देश दिए हैं कि किसानों से लगातार बातचीत की जाए। उन्हें समझाया जाए कि वे दिल्ली न जाएं।

जिले से सैकड़ों किसान ट्रैक्टरों से दिल्ली जाने की तैयारी में है। किसान संगठनों के पदाधिकारी, गांवों के निवर्तमान प्रधान, पूर्व प्रधान भी निजी वाहनों से जाने की तैयारी कर रहे हैं। इसको लेकर खुफिया विभाग सक्रिय है।

पुलिस प्रशासन ने भी कई गांवों के लोगों को चिह्नित किया है। रविवार से पुलिस अलग-अलग स्थानों पर किसानों को रोककर समझाने का प्रयास करेगी। 25 जनवरी को गंग नहर मार्ग, एनएच-58, मेरठ पौड़ी मार्ग और अलग-अलग स्थानों पर अतिरिक्त फोर्स लगाने की भी योजना है। 

26 जनवरी को दिल्ली में होने वाली किसान जवान परेड में शामिल होने के लिए आज जनपद मेरठ से भारतीय किसान यूनियन के जिला अध्यक्ष मनोज त्यागी राजकुमार करनावल सतवीर जंगठी आदि किसान नेताओ की 100 से अधिक ट्रैक्टर रैली को समर्थन देने प्रसपा नेता शैंकी वर्मा,जीतुनागपाल, दीपक सिरोही,नितिन बालियान अपने समर्थकों के साथ भोले की झाल पहुंचे और अपना समर्थन दिया।

कहा कि 26 को अपने साथियों के साथ दिल्ली पहुचेंगे और राकेश टिकैत जी की अगुवाई में किसान परेड में शामिल होंगे।प्रसपा नेता शैंकी वर्मा ने कहा यह भारत किसान और जवान दोनों का है लेकिन भाजपा इसे भारत पर राज करना चाहती है, उसे इस मंशा में कामयाब नही होने देंगे।यह काले कानून जल्द से जल्द वापस हों। 

किसानों को लगातार समझाया जा रहा: एसपी
एसपी देहात केशव कुमार का कहना है कि किसान संगठनों, पदाधिकारियों और नेताओं को गणतंत्र दिवस पर दिल्ली न जाने के लिए लगातार समझाया जा रहा है। इस संबंध में शासन के निर्देशों का भी पालन कराया जा रहा है। प्रयास किए जा रहे हैं कि किसानों को अलग-अलग स्थानों पर रोका जाए। उन्हें रोकने में बल प्रयोग नहीं किया जा सकता। 
... और पढ़ें

देहरादून जाने से रोकने पर किसानों ने जाम किया दून हाईवे, उत्तराखंड पुलिस से हाथापाई

कृषि कानूनों के विरोध में शनिवार को देहरादून राजभवन का घेराव करने जा रहे भाकियू के किसानों की सीमा पर उत्तराखंड पुलिस के साथ जमकर धक्का मुक्की हुई। यहां से बैरिकेडिंग तोड़कर किसान देहरादून की तरफ बढ़े तो टांडा मान सिंह में उन्हें यूपी पुलिस ने रोक लिया। इससे खफा किसानों ने हाईवे जाम कर चार घंटे तक धरना दिया। इसके बाद मौके पर पहुंचे एडीएम देहरादून को ज्ञापन देने के बाद किसान लौट गए।

भाकियू के आह्वान पर प्रदेश उपाध्यक्ष चौ. विनय कुमार, जिलाध्यक्ष चौ. चरण सिंह, मंडल अध्यक्ष गढ़वाल संजय चौधरी, प्रदेश महासचिव उत्तराखंड रवि कुमार और जिला अध्यक्ष हरिद्वार विजय शास्त्री के नेतृत्व में किसान सुबह साढे़ 11 बजे ट्रैक्टर-ट्रालियों से काफिले के रूप में देहरादून के लिए चले। किसान जब छुटमलपुर-बिहारीगढ़ के बीच स्थित उत्तराखंड के हरिद्वार जनपद की अमानतगढ़ पुलिस चौकी पर पहुंचे तो वहां के पुलिसकर्मियों ने इन्हें रोक लिया।

यहां किसानों और पुलिसकर्मियों के बीच जमकर नोकझोंक हुई। किसानों ने पुलिस द्वारा लगाए गए बैरिकेड को भी तोड़ दिया। इस दौरान पुलिसकर्मियों से उनकी हाथापाई भी हुई। यहां से किसान देहरादून के लिए कूच कर गए, लेकिन यूपी की सीमा में बिहारीगढ़ थाना क्षेत्र के मनोहरपुर गांव में पहुंचते ही यूपी पुलिस ने इन्हें रोक लिया। यहां पहले से ही एसडीएम बेहट और सीओ बेहट भारी पुलिस और पीएसी के जवानों के साथ डटे थे।
... और पढ़ें

डोली की जगह घर से उठा फिरदौस का जनाजा, बहन के देवर ने रची साजिश और भाई से ही करा दी हत्या

कुछ ही घंटों बाद जिस घर से फिरदौस की डोली उठनी थी, बेरहम भाई की बदौलत उस घर से बेटी का जनाजा उठा। फिरदौस की मौत से परिवार की खुशियां मातम में बदल गईं। परिजन रो-रोकर हत्यारोपी भाई फिरोज को कोस रहे थे कि उसे मारने की क्या जरूरत थी। परिवार के लोगों ने ही फोन कर पुलिस को सूचना दी। पिता की तहरीर पर बेटे फिरोज और दामाद के भाई कासिम के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है। 

आज (रविवार) को फिरदौस की बरात आनी थी। इस्लामाबाद स्थित घर में तैयारियां चल रही थीं। घर पर पांच रिश्तेदार भी आ चुके थे। किसी ने सोचा तक नहीं था कि भाई फिरोज ही उसकी हत्या कर देगा। क्योंकि वह भी जोर शोर से शादी की तैयारियों में लगा था।

फिरदौस से शादी न होे पाने के गुस्से में बड़ी बहन के देवर कासिम ने ही उसकी हत्या की साजिश रच डाली। उसने शादी से पहले के फोटो-वीडियो भेजकर फिरदौस के खिलाफ फिरोज को भड़का दिया। कहा कि ऐसी बहन रिश्तेदारों की भी बदनामी करा रही है। इसको मारने में ही परिवार की इज्जत बच सकती है। 
... और पढ़ें

उज्ज्वला योजना: लकड़ी जलाकर चूल्हे पर पका रहीं भोजन, उपभोक्ता नहीं भरवा रहे गैस सिलिंडर 

केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है उज्ज्वला गैस कनेक्शन। महिलाओं को लकड़ी या उपले जलाकर खाना बनाने से दूर करने के लिए यह योजना लाई गई, लेकिन शत-प्रतिशत उपभोक्ता सिलिंडर ही नहीं भरवा पा रहे हैं। बहुत सी महिलाएं आज भी चूल्हे में लकड़ी जलाकर खाना पकाने को मजबूर हैं। लॉकडाउन के बाद सिलिंडर भरवाने में कमी आई है, जिसके लिए योजना के लाभार्थी आर्थिक परेशानी बता रहे हैं। 

दरअसल, सहारनपुर जिले में शहर और देहात को मिलाकर 54 गैस एजेंसियां हैं। इनसे उज्ज्वला गैस योजना के तहत 2,13,241 महिलाओं को गैस कनेक्शन वितरित किए गए थे। योजना की शुरूआत में सिलिंडर भरवाने की स्थिति ठीक थी, लेकिन अब वह बदल गई थी। सहारनपुर शहर के ही कई गैस एजेंसी संचालकों से बात की तो, यही स्थिति सामने आई कि 60 से 65 प्रतिशत लोग ही सिलिंडर भरवा रहे हैं।
... और पढ़ें

मोस्ट वांटेड बद्दो की कोठी पर तीसरे दिन भी चला बुलडोजर, कार्रवाई के दौरान नहीं पहुंचे अधिकारी

मेरठ में ढाई लाख के इनामी बदन सिंह बद्दो की कोठी पर शनिवार को तीसरे दिन भी एमडीए का बुलडोजर चला। कार्रवाई के दौरान आज भी कोई अधिकारी नहीं पहुंचा। इससे पहले शुक्रवार को भी कार्रवाई के दौरान कोई पुलिस अधिकारी न्यू पंजाबीपुरा नहीं पहुंचा था। हालांकि टीपी नगर थाना पुलिस और एमडीए के अधिकारी ही दिनभर मौजूद रहे।

शुक्रवार सुबह 11 बजे से शाम पांच बजे तक कार्रवाई चली थी। बुलडोजर से कोठी को करीब 90 फीसदी ध्वस्त कर दिया गया। एमडीए ने 50 से ज्यादा मजदूर भी काम पर लगाए। आसपास के लोगों का कहना है कि कोठी का मलबा पड़ोसियों के घर के सामने तक फैल गया है। इसके चलते उन्हें दिक्कतें हो रही हैं। पुलिस ने आश्वासन दिया कि मलबा जल्द हटा दिया जाएगा।

आज पोर्कलेन मशीन से तोड़ी गई कोठी
बद्दो की कोठी के ध्वस्तीकरण की कार्रवाई आज तीसरे दिन भी जारी रही। गली संकरी होने से कोठी को गिराने में काफी दिक्कतें आ रही हैं। शुक्रवार को नगर निगम से पोर्कलेन मशीन मांगी गई थी। कागजी कार्रवाई पूरी न होने के कारण वह नहीं मिल सकी। जोनल अधिकारी धीरज सिंह ने बताया कि अगर संकरी गली न होती तो जेसीबी से ही काम पूरा हो जाता।

शातिर अपराधी मोस्ट वांटेड बद्दो की कोठी को पूरी तरह ध्वस्त किया जाएगा। उसकी अचल संपति को भी जब्त करने की कार्रवाई जल्द शुरू होगी। बद्दो से जुड़े सभी उसके साथियों पर भी कार्रवाई होगी। - अजय साहनी, एसएसपी

यह भी पढ़ें: 
सहारनपुर में जिद पर अड़े हैं किसान, समझाने पहुंचे अफसर, तस्वीरों में देखें मौके का हाल
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X