विज्ञापन

उत्तर प्रदेश

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

रायबरेली : चबूतरे में मिट्टी डालने को लेकर हुए विवाद मे अधेड़ को पीट-पीट कर मौत के घाट उतारा

रायबरेली में डलमऊ कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में जमीन विवाद को लेकर दबंगों ने पिता, पुत्र व  पुत्री को पीट पीट कर मरणासन्न कर दिया। परिजनों की पुकार सुनकर आसपास के लोगों ने किसी तरह विवाद शांत कराकर घायलों को सीएचसी लेकर पहुंचे, जहां पर अधेड़ की  इलाज के दौरान मौत हो गई है। वहीं युवक व युवती का इलाज जारी है।  
                          
डलमऊ कोतवाली क्षेत्र के पूरे झंडा मजरे चक मलिक भीटी निवासी श्यामलाल 60 वर्ष पुत्र शंकर के दरवाजे के पास बने चबूतरे पर परिवार के लोग मिट्टी छोप रहे थे। इसी बीच श्याम लाल अपने चबूतरे पर परिवारिक लोगों के  मिट्टी छोपने का विरोध करने लगा। देखते ही देखते दोनों परिवारों का विवाद बढ़ गया। दबंगों ने श्यामलाल व उसके पुत्र हरिकेश 35 वर्ष तथा श्याम लाल की पुत्री रीना 20  वर्ष को लाठी-डंडों से पीटने लगे। मारपीट से तीनों लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।
 
घायलों को पड़ोसियों की मदद से डलमऊ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां पर श्यामलाल की इलाज के दौरान मौत हो गई। वही रीना और हरकेश का इलाज जारी है। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पड़ताल करने में जुट गई है। घटनास्थल पर क्षेत्राधिकारी अशोक कुमार सिंह ने मौके का जायजा लिया। वही गांव में घटी घटना से हड़कंप मचा हुआ है।
... और पढ़ें

बाराबंकी : अधिवक्ता के पुत्र की हत्या कर मांगी 50 लाख की फिरौती, दो आरोपी गिरफ्तार

फिरौती के लिए एक अधिवक्ता के नाबालिग पुत्र की दो युवकों ने हत्या कर दी। इसकी सूचना पर सक्रिय हुई पुलिस ने दोनों आरोपियो को पकड़ लिया और उनकी निशानदेही पर किशोर का शव एक नाले से बरामद किया है। 

बाराबंकी कोतवाली शहर के फतहाबाद में रहने वाले वकील बीएल गौतम के छोटे पुत्र आशुतोष गौतम उर्फ सूरज (17) गुरुवार सुबह संदिग्ध हालात में लापता हो गया था। वह सफदरगंज के एक कॉलेज में स्नातक प्रथम वर्ष का छात्र था। काफी देर तक घर नहीं आने पर करीब दो बजे परिजनों ने फोन किया तो उसका फोन भी स्वीच आफ था।

परिजन तलाश ही रहे थे की आशुतोष के बड़े भाई अनुराग के फोन पर काल आई और 50 लाख फिरौती न देने पर हत्या की धमकी दी। इससे परेशान परिजन कोतवाली पहुंचे और  पिता ने अज्ञात लोगों के खिलाफ तहरीर दी। हरकत में आई पुलिस ने सर्विलांस के जरिए दोनों आरोपित को लखपेड़ाबाग स्थित एक कमरे से दबोच लिया। 

पकड़े गए दोनों आरोपित में एक बलिया और दूसरा बहराइच का रहने वाला है। इन दोनों की रिश्तेदारी किशोर के गांव में है। यह दोनों बाराबंकी में ही रहकर ठेला लगाकर जीवन यापन करते हैं। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि कमरे में पार्टी करने के दौरान आशुतोष के सिर पर पीछे तवे से हमला कर हत्या की थी। इसके बाद शव को रामसेवक स्कूल के पीछे स्थित एक नाले में फेंक दिया था। सीओ सिटी सीमा यादव ने बताया कोतवाली पुलिस के साथ आरोपियों की निशानदेही पर शव बरामद कराया। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है पुलिस दोनों आरोपियों से पूछताछ कर रही है।
... और पढ़ें

लखीमपुर बवाल : सभी आठ मृतक के परिजनों के खाते में भेजी गई मुआवजे की रकम, फर्जी मैसेज वायरल करने वालों पर भी होगी सख्त कार्रवाई

लखीमपुर खीरी बवाल में अपनी जान गंवाने वाले सभी 8 मृतकों के परिजनों के खातों में मुआवजे की रकम जमा कर दी गई। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि सोमवार को मृतकों के परिजनों को 45-45 लाख रुपये देने की घोषणा की गई थी। उसी क्रम में त्वरित कार्रवाई करते हुए सभी प्रक्रिया को पूरा किया गया और 48 घंटे के भीतर सभी आठ मृतकों के परिजनों के खातों में पैसे आनलाइन ट्रांसफर कर दिए गए।
    
उधर, अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि इस मामले में दोनों ओर से एफआईआर दर्ज कराई गई है। दोनों एफआईआर की विवेचना पर निगरानी के लिए अपर पुलिस अधीक्षक की अध्यक्षता में सात सदस्यीय टीम बनाई गई है। उन्होंने कहा है कि इस मामले में जो भी दोषी होगा वह बख्शा नहीं जाएगा वह चाहे जितना ताकतवर क्यों न हो। प्रशांत कुमार ने बताया कि लखीमपुर की घटना को लेकर कई मार्फ वीडियो या दूसरे स्थानों के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किए जा रहे हैं। उन्होंने ऐसे लोगों से बाज आने को कहा है। प्रशांत कुमार ने कहा है कि अफवाह फैलाने वालों पर भी नजर रखी जा रही है और उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।

लखीमपुर जाने से रोकने पर दी सफाई
प्रशांत कुमार ने कहा कि राजनैतिक दलों के नेताओं को लखीमपुर जाने से रोकने के दो कारण थे। पहला कारण वीआईपी को खतरा था और दूसरा कारण घटना के फौरन बाद पहुंचने से वहां कानून व्यवस्था की स्थिति भी उत्पन्न हो सकती थी। अब वहां स्थिति सामान्य हो गई है, इस लिए जाने दिया गया है।
... और पढ़ें

चिकित्सक से 73 लाख की साइबर ठगी: आगरा पुलिस को मिली जानकारी, बिहार के 34 खातों में ट्रांसफर कर निकाले रुपये

आगरा में दयालबाग के प्रेम नगर निवासी डॉ. अरुण कुमार गुप्ता के दो खातों से 73 लाख रुपये निकालने के लिए बिहार की बैंकों के 34 खातों का प्रयोग साइबर अपराधियों ने किया। पुलिस को खातों की जानकारी मिल गई है। पुलिस अब खाताधारकों की पूरी डिटेल निकलवा रही है। डिटेल मिलने पर खाताधारकों से पूछताछ की जाएगी। 
खाता बंद होने का मैसेज भेजा
डॉ. अरुण कुमार गुप्ता के मोबाइल पर एक मैसेज भेजा गया था। इसमें खाता बंद होने के बारे में बताया गया था। एक नंबर दिया था। इस पर कॉल करने पर मोबाइल में स्क्रीन शेयरिंग और एक्सेस करने वाला एप डाउनलोड कराने के बाद उनके दो खातों से नेट बैंकिंग के माध्यम से 73 लाख रुपये निकाल लिए गए थे। उन्होंने रेंज साइबर थाना में मुकदमा दर्ज कराया है।
बिहार की अलग-अलग बैंकों की शाखाओं के 34 खातों में रकम भेजी गई
साइबर क्राइम थाना पुलिस के मुताबिक, जिन खातों में रकम ट्रांसफर हुई, उनकी डिटेल निकलवाई है। इसमें पता चला कि बिहार की अलग-अलग बैंकों की शाखाओं के 34 खातों में रकम भेजी गई थी। इसके बाद एटीएम से रकम निकाली गई। पुलिस ने संबंधित बैंकों से खाताधारकों की जानकारी मांगी है, जिससे खाताधारकों से संपर्क किया जा सके। आशंका है कि जिन खातों में रकम गई है, वह फर्जी आईडी पर खुले हों। साइबर अपराधी रकम के लिए खातों को किराये पर भी लेते हैं। ऐसे में खाताधारक फंसता है। खाताधारकों से पूछताछ में पुलिस को साइबर अपराधियों की जानकारी मिल सकती है। उधर, एटीएम में लगे सीसीटीवी के फुटेज भी मांगे गए हैं।
... और पढ़ें
Cyber Crime Cyber Crime

यूपी: गर्भवती होने के बाद भी लेखपाल करता था किशोरी से दुष्कर्म, पीड़िता ने पुलिस व कोर्ट के बयानों में बताई थी बर्बरता की दास्तां

कानपुर में सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता किशोरी (15) की प्रसव के दौरान मौत के मामले में पुलिस ने बुधवार को आरोपी लेखपाल रंजीत वरबार को जेल भेज दिया। आउटर पुलिस ने ककवन थाना क्षेत्र स्थित गांव जाकर केस की पड़ताल की तो कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए।

जांच में सामने आया कि गर्भवती होने के बाद भी आरोपी किशोरी को हवस का शिकार बनाते थे। साथ ही किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी देते थे। ग्रामीणों ने लेखपाल को कई बार नशे में किशोरी की झोपड़ी में जाते देखा था। पीड़िता ने उसपर हो रही ज्यादती की बात अपनी चाची से कही थी।

पीड़िता ने बयानों में कहा था कि आरोपियों ने उससे कई बार दुष्कर्म किया है। किशोरी आठ महीने की गर्भवती थी। जनवरी में उसका प्रसव होना था। चूंकि 11 अक्तूबर को दर्ज एफआईआर में दुष्कर्म कब हुआ यह जानकारी नहीं दी गई थी। न बयानों में एक निश्चित तारीख का पता चला।
... और पढ़ें

रायबरेली में दो हत्याएं: प्रेमिका के घर में प्रेमी का कत्ल, भतीजे ने चाचा को मार डाला

रायबरेली जिले में अलग-अलग थाना क्षेत्रों में दो लोगों की हत्या कर दी गई। डीह इलाके में प्रेमिका के घर प्रेमी का कत्ल कर दिया गया जबकि सलोन इलाके में भतीजे ने चाचा को मार डाला। पुलिस ने घटनास्थल का जायजा लिया और हत्या आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए थानेदार को निर्देशित किया।

डीह थाना क्षेत्र के पूरे रनबहादुर मजरे टेकारी दांदू निवासी अंकित यादव (21) शुक्रवार की रात दिनेश वर्मा निवासी टेकारी दांदू के घर गया था जहां आरोपियों ने युवक को घर के अंदर बुला कर सिर पर कुल्हाड़ी से हमला कर हत्या कर दी। घर की एक महिला से अंकित के अवैध संबंध थे।

हत्या की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। मृतक अंकित के पिता शिवबालक यादव की तहरीर पर दिनेश वर्मा, महेश वर्मा व सरोजनी पत्नी दिनेश वर्मा के विरुद्ध हत्या का मामला दर्ज किया गया।

उधर, सलोन कोतवाली क्षेत्र के कोडरी गांव में शनिवार की सुबह घूरा लगाने के विवाद में चाचा व भतीजे में जमकर मारपीट हुई जिसमें 70 वर्षीय चाचा सतन पुत्र हुलासी की जिला अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई।

पुलिस मौके पर पहुंच कर जांच पड़ताल में जुट गई है। गांव में तनाव बना हुआ है। अपर पुलिस अधीक्षक विश्वजीत श्रीवास्तव का कहना है कि दोनों मामले में एफआईआर दर्ज की जा रही है।
... और पढ़ें

भर्ती घोटाला : यूपीएसएसएससी के पांच कर्मियों पर चलेगा मुकदमा, विजिलेंस जांच में पाए गए हैं दोषी 

उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के माध्यम से सपा शासन काल में हुई 54 विभागों में वैयक्तिक सहायक व आशु लिपिक 808 पदों पर हुई भर्ती में अनियमितता की पुष्टि हुई है। इस मामले में सतर्कता अधिष्ठान ने आयोग के पांच अधिकारियों को दोषी माना है और शासन से इन अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए अभियोजन स्वीकृति मांगी है।

जानकारी के अनुसार सपा शासन काल में कुल 54 विभागों में वैयक्तिक सहायक व आशु लिपिक के 808 पदों पर उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने भर्तियां की थीं। इन भर्तियों की जांच 2017 में योगी सरकार ने सतर्कता अधिष्ठान को सौंप दी थी। सतर्कता अधिष्ठान ने इस मामले में अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के पांच अधिकारियों को दोषी माना है। 

इसमें तत्कालीन अनुभाग अधिकारी राम बाबू यादव, प्रवर वर्ग सहायक अनुराग यादव, जंग बहादुर, विरेंद्र कुमार यादव और सुरेंद्र कुमार के खिलाफ आईपीसी की धारा 166, 120 बी और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 7 के तहत अभियोजन की कार्रवाई किए जाने का निर्णय लिया गया है। इस मामले में कार्मिक विभाग ने अधीनस्थ सेवा चयन आयोग को पत्र लिखकर संबंधित अधिकारियों के खिलाफ अभियोजन की कार्रवाई के लिए सतर्कता निदेशक को स्वीकृति उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। 

चयनित अभ्यर्थियों के भविष्य पर संकट
दर असल इस पूरे मामले में शिकायत की गई थी कि पात्र अभ्यर्थियों की जगह पर अपात्रों को नियुक्ति दे दी गई। जिसके बाद प्रदेश सरकार ने सभी भर्तियों की जांच कराई। इसमें 54 विभागों के वैयक्तिक सहायक व आशु लिपिक  के यह 808 पद भी शामिल थे। यह सभी मौजूदा समय में अपने अपने विभागों में नौकरी कर रहे हैं। सतर्कता की जांच के बाद अब इनके भविष्य पर भी संकट गहरा गया है।
... और पढ़ें

गोंडा : घर में घुसकर माता-पिता व दो बेटियों को तलवार से काट डाला, तीन की मौत, एक बेटी की हालत नाजुक

अखिलेश यादव और सीएम योगी
शहर के गल्ला मंडी रोड स्थित एक कॉलोनी में बुधवार की शाम रेलवे के सेवानिवृत्त कर्मचारी के घर में घुसकर एक युवक ने पूरे परिवार पर तलवार से हमला बोल दिया। युवक ने घर में घुसते ही अंदर से चैनल गेट बंद कर लॉक कर दिया। इसके बाद तलवार से पिता, माता व उनकी दोनों बेटियों को काट डाला। इसमें माता-पिता व एक बेटी की मौत हो गई, जबकि छोटी बेटी को गंभीर हालत में इलाज के लिए लखनऊ भेजा गया है।

नगर कोतवाली क्षेत्र के गल्लामंडी रोड के बगल शिवनगर कॉलोनी में बुधवार की शाम दिल दहलाने वाली घटना हुई। यहां रहने वाले रेलवे के सेवनिवृत्त कर्मचारी देवी प्रसाद (67), देवी प्रसाद की पत्नी पार्वती देवी  (65), देवी प्रसाद की बड़ी बेटी शिंपा  (25) व छोटी बेटी इस्पा  (22) अपने घर में थे। शाम तकरीबन साढ़े छह बजे एक युवक उनके घर पहुंचा और अंदर से चैनल गेट बंद कर लिया। इसके बाद देवी प्रसाद, उनकी पत्नी पार्वती देवी, शिंपा व इस्पा को तलवार से काट डाला। इसमें देवी प्रसाद, उनकी पत्नी पार्वती व शिंपा की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि देवी प्रसाद की छोटी बेटी इस्पा गंभीर रूप से घायल हो गई।

देवी प्रसाद की बहू लक्ष्मी ने बताया कि उनकी ननद शिंपा शहर के एक ही निजी अस्पताल में काम करती थी। लक्ष्मी के पति अशोक सुबह लखनऊ गये थे। घटना के वक्त लक्ष्मी घर की दूसरी मंजिल पर थी। आरोपी दूसरी मंजिल पर उन्हें भी मारने के लिए पहुंचा था। मगर उनके शोर मचाने पर वह छत से रस्सी के सहारे कूदकर भाग निकला। लक्ष्मी के मुताबिक मारने वाला युवक कानपुर का रहने वाला है। उसका नाम मनोज है। वह उनकी ननद शिंपा को पिछले दो साल से फोन करके शादी का दबाव बना रहा था। उन्होंने बताया कि शिंपा की शादी अभी तय हुई है। लक्ष्मी के मुताबिक बुधवार की सुबह से ही वह फोन करके शिंपा को मारने की धमकी दे रहा था। डीआईजी उपेंद्र कुमार अग्रवाल ने बताया कि प्रेम प्रसंग में एक ही परिवार के चार लोगों पर हमला किया गया है। जिसमें तीन लोगों की मौत हुई है, एक की हालत नाजुक है। आरोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम लगाई गई है।
... और पढ़ें

शौच को गई किशोरी से दरिंदगी: बलिया में दो युवकों ने किया सामूहिक दुष्कर्म, एफआईआर के बाद गिरफ्तार

बलिया जिले के गड़वार थाना क्षेत्र के एक गांव में रविवार की देर शाम शौच करने जा रही किशोरी के साथ गांव के ही दो युवकों ने दुष्कर्म किया। किशोरी ने घर पहुंच कर अपने परिवारवालों को आपबीती बताई। पीड़िता के पिता की तहरीर पुलिस ने सोमवार देर शाम दो युवकों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

एक गांव निवासी किशोरी अपने घर से रविवार की देर शाम शौच के लिए गई थी। इसी बीच पहले से ही योजना बनाए मनबढ़ युवकों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। किशोरी ने परिवार वालों को अपनी आपबीती बताई। इसकी सूचना गड़वार पुलिस को दी।

नामजद तहरीर देकर गांव के ही दो युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। घटना को लेकर गांव में आक्रोश है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। सीओ सिटी भूषण वर्मा ने बताया कि पिता की तहरीर पर दो लोगों के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है। मामले की छानबीन की जा रही है।
... और पढ़ें

मथुरा में महिला की हत्या: बंद कमरे में चारपाई पर बिजली के तारों से बंधा मिला शव, प्रवाहित हो रहा था करंट

मथुरा के मांट मूला के ईदगाह रोड पर बट वाली बगीची के पास महिला को चारपाई पर इलेक्ट्रिक तारों से बांधकर बेरहमी से हत्या की गई। हत्या से पहले महिला को बिजली का करंट दिया गया। बंद कमरे से दुर्गंध आने पर सोमवार की दोपहर ग्रामीणों की सूचना पर पहुंची मांट पुलिस ने शव को कब्जे में लिया। पुलिस ने बताया कि शव करीब चार दिन पुराना प्रतीत हो रहा है। हत्या करंट देकर ही गई है। हत्या करके पति फरार हो गया है।
कमरे से आ रही थी गंध
मांट मूला में ईदगाह रोड पर बंद कमरे में से दुर्गंध आ रही थी, तभी मोहल्ले के लोगों ने मांट पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने बंद कमरे का ताला तोड़ा तो चारपाई से बंधा महिला का शव मिला। इलेक्ट्रिक तारों से बंधे शव को पुलिस ने कब्जे में लिया। एसपी देहात श्रीशचंद ने बताया कि मृतका स्मृति (30) पत्नी विपिन उर्फ बाली निवासी राधा निवास वृंदावन एवं हाल निवासी बट वाली बगीची मांट मूला थी। ग्रामीणों ने पुलिस को बताया कि महिला और उसका पति छह माह से इसी कमरे में रह रहे थे और आए दिन मारपीट होती रहती थी। उनके कोई बच्चा नहीं था। पिछले कुछ दिन से पति लापता है। एसपी देहात ने बताया कि प्रथम दृष्टया करंट देकर महिला की हत्या की गई है। शव की पहचान मिटाने के लिए चेहरे को भी बिगाड़ा गया है। शव करीब चार दिन पुराना प्रतीत हो रहा है। पोस्टमार्टम वीडियोग्राफी के मध्य डॉक्टरों के पैनल से कराया जाएगा। पुलिस पति की तलाश कर रही है।
... और पढ़ें

भदोही में शातिर गैंग का पर्दाफाश: हिमाचल प्रदेश के ट्रस्ट से 2.40 करोड़ निकालने की थी साजिश, चेक का क्लोन बनाने वाले नौ आरोपी गिरफ्तार

हिमांचल प्रदेश के हमीरपुर जिले के एक ट्रस्ट के चेक का क्लोन चेक बनाने वाले गिरोह का भदोही (यूपी) जिले की पुलिस ने खुलासा किया है। इस मामले में नौ आरोपी भी गिफ्तार किए गए हैं। उनके पास से क्लोन चेक, एक कार, स्कूटी आदि बरामद की गई। आरोपी 2.40 करोड़ रुपये की ठगी करने के चक्कर मे थे।

भदोही पुलिस अधीक्षक डॉक्टर अनिल कुमार ने बताया कि 16 नवंबर को भदोही जिले की ज्ञानपुर एचडीएफसी बैंक शाखा में बाबा बालक नाथ टेंपल ट्रस्ट (हिमांचल प्रदेश) का 2 करोड़ 40 लाख रूपये का चेक जमा किया गया था। देवेंद्र सिंह (कमला बजाज बाइक एजेंसी दानूपुर) व अभिषेक पाठक ने क्लीयरेंस के लिए रग हाउस के संचालक ओम प्रकाश मौर्या और प्रमोद मौर्या के खाते में जमा किया था।

क्लोन चेक पाए जाने पर शाखा प्रबंधक ने क्राइम ब्रांच और ज्ञानपुर थाना में लिखित तहरीर देकर एफआईआर दर्ज कराई। इस बड़ी ठगी के प्रयास में शामिल गैंग का पर्दाफाश करने के लिए क्राइम ब्रांच ने एक टीम गठित की। उसी आधार पर मामले की जांच में सोमवार की शाम 9 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। इन्हें ज्ञानपुर थाना क्षेत्र के भुड़की के पास ब्रम्ह मंदिर के पास से पकड़ा था।
... और पढ़ें

कातिल भाई: सच जानकर अफसर भी हैरान, शर्म से झुके परिजनों के सिर, आरोपी ने उगला कत्ल का पूरा राज

मेरठ में रेड कारपेट बैंक्वेट हॉल में दूल्हे की भांजी की हत्या का बुधवार को सनसनीखेज खुलासा हुआ। हत्यारोपी कोई और नहीं बल्कि पिलखुआ निवासी मौसेरा भाई विशाल गुप्ता निकला। युवती के साथ उसी ने दुष्कर्म करने का प्रयास किया था और विरोध करने पर गला घोंटकर हत्या कर दी थी। भावनपुर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर क्राइम सीन भी दोहराया। घटनास्थल पर सिपाही रवि बालियान भी मौजूद था, जिसकी जांच करने का पुलिस दावा कर रही है। 

सोमवार रात बैंक्वेट हॉल में दूल्हे की भांजी की हत्या हो गई थी। परिवार ने सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या होने का आरोप लगाया था। एसएसपी प्रभाकर चौधरी व एसपी देहात केशव कुमार ने पुलिस लाइन में बताया कि विशाल गुप्ता ने शादी समारोह में युवती को कमरे में बुलाकर दुष्कर्म का प्रयास किया था, विरोध करने पर उसकी हत्या कर दी। वारदात के बाद आरोपी मंडप से बाहर आ गया और करीब दो घंटे बाद वापस शादी समारोह में पहुंचा। युवती का पता न लगने पर विशाल और युवती के भाई के बीच कहासुनी भी हुई थी। विशाल ने परिवार के साथ मिलकर युवती को ढूंढने का नाटक भी किया था।
... और पढ़ें

लखनऊ : कल्बे जवाद ने वसीम रिजवी के खिलाफ दी तहरीर, तत्काल गिरफ्तारी व किताब की बिक्री रोकने की मांग

मौलाना कल्बे जवाद ने वसीम रिजवी पर पैगंबर हजरत मुहम्मद साहब का अपमान का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ चौक कोतवाली में तहरीर दी है। मंगलवार को दी गई तहरीर में उन्होंने केस दर्ज कर रिजवी को तत्काल गिरफ्तार कर उनकी किताब की बिक्री पर रोक लगाने की मांग की है।

मौलाना जवाद ने कहा कि रिजवी ने मुहम्मद साहब पर पुस्तक लिखकर उनका अपमान करने की कोशिश की है। रिजवी ने किताब में ऐसी बातें लिखी हैं जो अभद्र और ऐतिहासिक तथ्यों के खिलाफ है। वसीम ने मुसलमानों की भावना भड़काकर देश में अशांति फैलाने की कोशिश की है।

जवाद ने कहा कि आज तक मुहम्मद साहब की तस्वीर नहीं बनी है, लेकिन किताब में पैगंबर की तस्वीर के साथ एक भड़काऊ तस्वीर पेश की गई है। इससे मुस्लिम समुदाय आहत हुआ है। तहरीर देते समय जवाद के साथ मौलाना सैय्यद रजा हुसैन रिजवी, मौलाना सैय्यद रजा हैदर, मौलाना निसार अहमद जौनपुरी, मौलाना हैदर अब्बास रिजवी, मौलाना नकी अस्करी व मौलाना काजिम अब्बास सहित कई उलमा मौजूद थे।
... और पढ़ें
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00