विज्ञापन
विज्ञापन
आज ही बनवाएं फ्री जन्म कुंडली और पाएं समस्त परेशानियों के ज्योतिष्य समाधान
Kundali

आज ही बनवाएं फ्री जन्म कुंडली और पाएं समस्त परेशानियों के ज्योतिष्य समाधान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

कोरोना वायरस : एक की मौत, 18 जवान एवं 7 बैंककर्मी सहित 99 संक्रमित

कोरोना वायरस का कहर जारी है। रामबाग कॉलोनी गली नंबर 6 के एक 78 वर्षीय बुजुर्ग की कोरोना वायरस से मौत हो गई। 45 वीं पीएसी के 18 जवान एवं पिसावा एसबीआई के 7 बैंककर्मी सहित 99 लोग कोरोना वायरस की चपेट में आए हैं। संक्रमितों में 23 महिलाएं एवं 11 बच्चे हैं, जो 10 साल तक की कम उम्र के हैं। जनपद में अब तक कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 1936 तक पहुंच गई है।
जेएन मेडिकल कॉलेज, प्राइवेट लैब एवं एंटीजन टेस्ट में शुक्रवार को 99 लोग संक्रमित पाए गए हैं। 38 वीं वाहिनी के बाद अब 45 वीं पीएसी के 18 जवान संक्रमित हुए हैं। पिसावा एसबीआई ब्रांच के 7 बैंककर्मी भी कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं। इसकी वजह से वहां ताला लग गया है। रघुवीरपुरी एवं गूलर रोड के 5-5 लोग संक्रमित है। सर सैयद नगर, संगम विहार एवं अकराबाद के 3-3 लोग चपेट में आए हैं। रायल होम्स तालानगरी के 2 लोग संक्रमित हुए हैं। जिलाधिकारी चंद्रभूषण सिंह ने बताया कि संक्रमित मरीजों को लक्षण के आधार पर कोविड-19 हॉस्पिटल एवं होम आइसोलेट किया जा रहा है। परिजनों को क्वारंटीन एवं घर के आसपास के एरिया को सील कर सैनिटाइज किया जाएगा।
... और पढ़ें

पूर्व विधायक ने अपनी ही पार्टी के जिला उपाध्यक्ष को जान से मारने की धमकी दी

सपा के निवर्तमान जिला उपाध्यक्ष कुंवर बहादुर बघेल ने अपनी ही पार्टी के पूर्व विधायक ठा. राकेश सिंह पर जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगा कर सनसनी मचा दी है। कुंवर बहादुर ने कहा है कि गत दिनों वह अपनी रामघाट रोड स्थित दुकान पर बैठे थे, उसी वक्त पूर्व विधायक 8-10 हथियारबंद लोगों के साथ वहां आए और उसको जल्द से जल्द जान से मारने की धमकी देने लगे। इससे पहले पूर्व विधायक ने फोन पर भी उनको धमकाया था।
फोन पर बात करते करते उन्होंने पूछा था कि वह कहां है। जब उन्होंने रामघाट रोड स्थित दुकान में होने का जिक्र किया तो पूर्व विधायक दो कारों में साथियों के साथ वहां पहुंचे थे। बकौल कुंवर बहादुर बघेल पूर्व विधायक इस बात से नाराज थे, कि बघेल अपनी टीम के साथ लगातार छर्रा में ही क्यों सपा के पत्रक बांट रहे हैं। हालांकि इन आरोपों को लेकर पूर्व विधायक ठा. राकेश सिंह से बात करने की कोशिश की गई, मगर इस विषय पर बात नहीं हो सकी।
कुंवर बहादुर ने बताया कि उन्होंने इस घटना की जानकारी सोशल मीडिया के माध्यम से अपने साथियों को दी। जिसके बाद से मामला प्रकाश में आया है। उन्हें पार्टी की ओर से इस मामले में समुचित कार्रवाई का भरोसा है, इसलिए उन्होंने पुलिस में कोई शिकायत दर्ज नहीं की है। खैर, अब ये मामला प्रदेश नेतृत्व को बताया गया है। कुंवर बहादुर ने बताया कि उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम को पूरा प्रकरण बता दिया है। अब उनको पार्टी स्तर से कार्रवाई का इंतजार है।
... और पढ़ें

मेरी भी सुन लो, एमएलए-एमपी वही करेंगे जो महामंत्री कहेगा

भाजपा के महानगर अध्यक्ष विवेक सारस्वत एवं उपाध्यक्ष कुशलपाल सिंह के बाद अब जिला महामंत्री शिवनारायण शर्मा का ऑडियो वायरल हुआ है। इसमें भाजपा के जिला महामंत्री शहर के एक उद्योगपति को फोन पर धमका रहे हैं कि मेरी भी सुन लो, एमएलए-एमपी वही करेंगे, जो महामंत्री कहेगा। कोई मामला फंस जाएगा, तब तुमको बताएंगे कि महामंत्री और नेता क्या होता है।
यह ऑडियो चंद रोज पहले का है। जिला महामंत्री ने एक युवक को रोजगार देने के लिए करीब 15 दिन पहले उद्योगपति अनमोल रतन से फोन कर आग्रह किया था। युवक ने इंटरव्यू दिया था लेकिन नौकरी नहीं मिली। उसी संबंध में भाजपा के जिला महामंत्री ने उद्योगपति को फोन किया था। बातचीत तो ‘नमस्कार भाई साहब’ से शुरू हुई लेकिन खत्म गाली-गलौज से हुई। वायरल ऑडियो में भाजपा नेता कह रहे हैं कि एक युवक के लिए निवदेन किया था। उद्योगपति का कहना था कि जुलाई में ही नियुक्ति हो चुकी है। इसके जवाब में भाजपा नेता कह रहे हैं कि हमलोगों को सिफारिश करनी ही नहीं चाहिए क्योंकि नेताओं से आप लोगों का काम पड़ता ही नहीं है।
उद्योगपति ने समझाया कि हमें जो जरूरत है, वहीं तो रखूंगा। उसके बाद भाजपा नेता गुस्से में आ गए। अनमोल रतन भी उखड़ गए और उन्होंने कहा कि मैं तुम्हारे कहने से किसी को नौकरी पर नहीं रखूंगा। जवाब में भाजपा नेता ने कहा कि मेरे कहने से नहीं रखोंगे तो बता दूंगा किसी दिन। उसके बाद भाजपा नेता ने असंसदीय भाषा का प्रयोग किया और बात गाली-गलौज तक पहुंच गई।
हालांकि इस प्रकरण में उद्योगपति अनमोल रतन द्वारा भाजपा नेता के खिलाफ शिकायत नहीं की गई है। संगठन के लोग मामले को रफा-दफा करने के प्रयास में जुट गए हैं। भाजपा के जिलाध्यक्ष चौधरी ऋषिपाल सिंह एवं एक विधायक उद्योगपति से इस सिलसिले में मिल चुके हैं।
इधर, भाजपा नेता शिवनारायण शर्मा का कहना है कि उद्योगपति मेरे मित्र है। एक युवक के रोजगार को लेकर बात हो रही थी। उसी दौरान कुछ कह दिया होगा। उनकी तरफ से कोई शिकायत नहीं हुई है। उद्योगपति अनमोल रतन ने ऑडियो की पुष्टि की है। उनका कहना है कि अभी तक किसी से शिकायत नहीं की है। कुछ लोग आकर उनसे मिले हैं।
... और पढ़ें

अलीगढ़ः कोरोना से उबरे बुजुर्ग की मौत, 59 नए संक्रमित मिले

जिले में कोरोना का कहर कम नहीं हो रहा है। शनिवार को 72 वर्षीय बुजुर्ग की जेएन मेडिकल कालेज में मौत हो गई। बुजुर्ग व उनका बेटा चार अगस्त को संक्रमित पाए थे। बुजुर्ग की शनिवार सुबह रिपोर्ट निगेटिव आ गई और शाम को मौत हो गई। इधर, शनिवार को 59 नये केसों की पुष्टि हुई। संक्रमितों में 42 पुरुष व 17 महिलाएं हैं। सासनी गेट इंस्पेक्टर सहित थाने के तीन कर्मचारी और क्वार्सी थाने का एक कर्मचारी संक्रमित मिला है। अब तक जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या कुल 1988 हो गई है।


प्रशासन की ओर से जारी सूची के मुताबिक संक्रमितों में दो लोग सिविल लाइंस इलाके, एक कनवरी गंज, आवास विकास सासनी गेट में तीन, सासनी गेट थाने में इंस्पेक्टर सहित तीन, चंदुआ इलाके में तीन, खामनपुर (अकराबाद) में छह, तालसपुर (लोधा) में एक, आईटीएम अस्थाई जेल में दो, बन्नादेवी में इलाके में दो, गोविंद नगर में दो, क्वार्सी थाने में एक कर्मचारी, सुरेंद्र नगर में चार, फायर बिग्रेड कालोनी, बन्नादेवी और अकराबाद में एक-ंएक, धनीपुर में एक, बारहद्वारी में एक, विष्णुपुरी में दो, ब्रज विहार में एक, इंड्रस्ट्रियल स्टेट में एक, सूरजपुर में एक, डोरी नगर में एक, नीलकंठ कालोनी में एक, बराय स्ट्रीट में एक, कावेरी वाटिका में एक, सरायगढ़ी में एक, मंजूरगढ़ी में एक, पनहेरा में एक, गोवली में एक, पिसावा में एक, नगला मसानी में एक, ल्हौरा  में एक, बाबू नगर में दो, बेगमबाग में एक, जमालपुर में एक, सिकंदरपुर में एक, लेखराजपुर-नौरंगाबाद में एक-एक, जीवन ज्योति हॉस्पिटल में एक व दो अन्य संक्रमित शहर के ही रहे। इनके इलाके की जानकारी जुटाने में देर रात तक प्रशासन लगा रहा।  डीएम चंद्रभूषण सिंह ने 59 मरीजों के कोरोना केस आने की पुष्टि की है।

कोरोना से सही बुजुर्ग की अस्थमा से मौत, घर में मचा कोहराम
कोरोना के नोडल अफसर व सीडीओ अनुनय झा व सीएमओ बीपी कल्याणी के मुताबिक जेएन मेडिकल कालेज में दम तोड़ने वाले 72 वर्षीय बुजुर्ग रॉयल होम्स में रहते थे। उनके साथ चार अगस्त को उनके बेटे की भी रिपोर्ट आई थी। मगर, सुबह उनकी रिपोर्ट निगेटिव आ गई थी। जेएन मेडिकल कालेज में उपचार के दौरान उनकी हालत में देखते हुए उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। उनको अस्थमा की भी शिकायत थी। मरीज की मौत होने पर कोविड-19 के प्रोटोकॉल के तहत शव को परिवार वालों को सौंपा गया। इधर, बुजुर्ग की मौत से परिवार में कोहराम मच गया। 
... और पढ़ें
कोरोना की जांच के लिए सैंपल लेता स्वास्थ्य कर्मी कोरोना की जांच के लिए सैंपल लेता स्वास्थ्य कर्मी

अलीगढ़ः इगलास का टॉप-10 अपराधी बबलू पहलवान मुठभेड़ में गिरफ्तार

कोतवाली से भागे मोहकमपुर के प्रधान व काले तेल के कुख्यात कारोबारी बबलू पहलवान को मुठभेड़ के बाद शनिवार देर शाम दबोच लिया गया। फायरिंग में रपट लगने से एक सिपाही जख्मी हो गया और इंस्पेक्टर भी चोटिल हुए हैं। मुठभेड़ में उसका एक साथी भाग जाने में सफल रहा। गिरफ्तारी की खबर पर देर रात एसपी देहात भी यहां पहुंच गए और ढाई घंटे तक बबलू से पूछताछ करते रहे।


पुलिस को सूचना मिली कि थाने से भागने का आरोपी टॉप-10 अपराधी बबलू गांव में अपने घर पर आया हुआ है। कोतवाल प्रवीन कुमार मान, उपनिरीक्षक योगेन्द्र धामा व पुलिस बल के साथ गांव पहुंचे। पुलिस के आने पर बबलू पहलवान व साथी रोहताश निवासी दुमैड़ी भागने लगे। पुलिस के मुताबिक, बबलू पहलवान ने अपने घिरता देखकर गोली चला दी, गोली एक सिपाही के हाथ को रगड़ते हुए चली गई। कोतवाल के भी चोट आई है। इसके बाद एक टीम बबलू को पकड़कर थाने ले आई, जबकि एक टीम उसके साथी की तलाश में जुटी रही। देर रात घायलों का मेडिकल परीक्षण कराया जा रहा था। 
वर्जन
- थाने से भागे काले तेल के कारोबारी व टॉप-10 अपराधी को मुठभेड़ में गिरफ्तार किया गया है। देर रात उससे पूछताछ चल रही है। बाकी जानकारी पूछताछ के बाद दी जाएगी।-अतुल शर्मा एसपी देहात



कोतवाली से पुलिस को चकमा देकर भाग गया था बबलू
आरोपी 24 जुलाई को गोरई चौकी इंचार्ज शक्ति राठी तथा चौकी इंचार्ज बेसवां योगेन्द्र धामा कोतवाली लेकर पहुंचे थे। बबलू पहलवान पुलिस को चकमा देकर कोतवाली से फरार हो गया था। इस प्रकरण में उच्चाधिकारियों ने नाराजगी व्यक्त करते हुए आरोपी के फरार होने की जांच के आदेश सीओ इगलास को दिए थे। शनिवार को गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने राहत की सांस ली है। सूत्रों की मानें तो आईजी ने कोतवाल को 11 अगस्त तक फरार चल रहे आरोपी की गिरफ्तारी का समय दिया गया था। फरार होने के बाद आरोपी के नोयडा में रोहताश के साथ रहने तथा मथुरा में एक फ्लैट में रहने की जानकारी भी पुलिस को मिली है।  

पकड़ा गया था काले तेल व अवैध शराब का गोरखधंधा
18 मार्च 2020 को एसपी देहात अतुल शर्मा की मौजूदगी में जिला पूर्ति अधिकारी व आबकारी विभाग की टीम नें संयुक्त रुप से छापामार कार्रवाई करते हुए यहां से मिट्टी का तेल, शराब बनाने के लिये प्रयोग में आने वाली स्प्रिट बरामद की गई थी। इसके बाद बबलू व अन्य के खिलाफ ईसी ऐक्ट और आबकारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। इस मुकदमे में वह वांछित चल रहा था। इसी मामले में आरोपी को हिरासत में थाने लेकर पुलिस टीम आई थी।

लंबा चौड़ा है रसूखदार अपराधी का इतिहास
बबलू पहलवान मौजूदा ग्राम प्रधान है और पत्नी जिला पंचायत सदस्य हैं। उसने अपने कारोबार की शुरुआत वर्ष 2015 में काले तेल के धंधे से की और इसके बाद पीछे मुड़कर नहीं देखा पुलिस व प्रशासन के साथ संबंध रखे और तेल माफिया बन गया। सबसे पहले उसके खिलाफ वर्ष 2012 में अपराध संख्या 06376 अन्तर्गत धारा 302, 504 में वर्ष 2013 में अपराध संख्या 498 धारा 147, 148, 149, 307, 506, वर्ष 2015 में अपराध संख्या 381 धारा 147, 332, 353, वर्ष 2015 में ही अपराध संख्या 382धारा 3/7 ईसी एक्ट, वर्ष 2016 में अपराध संख्या 49 धारा 307, 452, 504, 506, वर्ष 2018 में अपराध संख्या 322 धारा 3/7 ईसी एक्ट व अपराध संख्या 743 धारा 3/7 ईसी व, 2019 में अपराध संख्या 696 धारा 498ए, 304बी, 248ए, 147, 504, 307 हाल ही में अपर पुलिस अधीक्षक अतुल कुमार शर्मा की मौजूदगी में की गई छापेमारी के बाद अपराध संख्या 114 धारा 60, 63, 72 और अपराध संख्या 116 धारा 3/7 ईसी एक्ट के तहत दर्ज किए गए हैं। 
... और पढ़ें

अलीगढ़ : डेरी हटाने के विरोध में उतरे संचालक, नगर निगम की टीम के साथ नोकझोंक, भारी पुलिस बल तैनात 

सासनी गेट क्षेत्र के पंचनगरी में शनिवार को डेयरी हटाने पहुंची नगर निगम की टीम को भारी विरोध का सामना करना पड़ा। खूंटे एवं हौद तोड़ने से नाराज लोगों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। डेयरी संचालकों के समर्थन में सपा नेता अज्जू इशहाक के आने के बाद भीड़ के तेवर और उग्र हो गए। लोगों ने नारेबाजी शुरू कर दी।

बताया जाता है कि इस बीच ईट-पत्थर भी फेंके गए। इस बवाल में एक कर्मचारी चोटिल हो गया। सूचना पर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट एवं एसीएम द्वितीय ने लोगों को समझा-बुझाकर शांत किया। इस मामले में सपा नेता अज्जू इशहाक, सचिन समेत 12 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है। सिटी मजिस्ट्रेट ने डेयरी हटाने के लिए 15 अगस्त तक का समय दिया है। 


उच्च न्यायालय के आदेशों के क्रम में महानगर में संचालित डेयरियों को शहर की सीमा से बाहर करने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। शनिवार को सहायक नगर आयुक्त राज बहादुर सिंह के नेतृत्व में नगर निगम की टीम ने पंचनगरी और सराय हरनारायण में कार्रवाई की। पंचनगरी में टीम ने तीन डेयरियों में पशु बांधने के खूंटे व हौद तोड़ दिए। इससे लोगों में आक्रोश फैल गया। उन्होंने विरोध शुरू कर दिया। मौके पर पहुंचे सपा नेता अज्जू इशहाक व सचिन यादव को देखकर भीड़ के तेवर उग्र हो गए।

उन्होंने नगर निगम के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। इस बीच अफवाह फैल गई कि कार्रवाई से आहत एक व्यक्ति को हृदयाघात हुआ है। बताते हैं कि इससे गुस्साए लोगों ने ईंट-पत्थर फेंकने शुरू कर दिए।  इससे घबराए नगर निगम के अधिकारियों ने पुलिस, जिला प्रशासन व नगर आयुक्त को मामले की जानकारी दी। मौके पर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट विनीत कुमार व अपर नगर मजिस्ट्रेट रंजीत सिंह ने स्थिति  को नियंत्रण कर भीड़ को तितर-बितर कराया।

साथ ही डेयरी संचालकों की मांग पर उनको 15 अगस्त तक डेयरी शिफ्ट करने की मोहल्लत दी। अपर नगर मजिस्ट्रेट रंजीत सिंह ने बताया कि लॉकडाउन के पश्चात सोमवार से सभी डेयरी संचालक अपनी डेयरी सामान सहित शिफ्ट करेंगे और 15 अगस्त के पश्चात नगर निगम व जिला प्रशासन डेयरी शिफ्ट करने की कार्रवाई करेगा।

इधर इंस्पेक्टर सासनी गेट के मुताबिक इस मामले में दो मुकदमे दर्ज हुए हैँ। पहला म़ुकदमा नगर निगम की ओर से सपा नेता अज्जू इशहाक, सचिन यादव आदि के खिलाफ सरकारी कार्य में बाधा आदि का दर्ज कराया गया है। दूसरा मुकदमा  चौकी इंचार्ज की ओर से इन्हीं लोगों के खिलाफ लॉक डाउन उल्लंघन महामारी अधिनियम के तहत दर्ज कराया गया है।  मारपीट पथराव जैसी कोई घटना नहीं हुई है। वहीं अज्जू का कहना है कि इन मुुकदमों के वाबजूद वह अपने आंदोलन से पीछे नहीं हटेंगे।

प्रशासन ने सात दिन की मोहलतदी है : सासनीगेट क्षेत्र के सराय हरनारायण मोहल्ले के कई लोग सपा के निवर्तमान जिलाध्यक्ष एवं वहां के निवासी अशोक यादव के पास पहुंचे। इन लोगों की मांग पर अशोक यादव ने मंडलायुक्त, जिलाधिकारी और नगर आयुक्त से इस संबंध में वार्ता की। अशोक यादव ने बताया कि फिलहाल सभी को सात दिन की मोहलत मिल गई है। 
... और पढ़ें

सीएए और एनआरसी के खिलाफ देश में बड़ा आंदोलन जल्द : महमूद प्राचा 

दिल्ली के शाहीन बाग आंदोलन से जुड़े सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता महमूद प्राचा ने कहा है कि जल्द ही पूरे देश में नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के खिलाफ एक बड़ा आंदोलन शुरू होगा। 


 महमूद प्राचा शनिवार को अलीगढ़ में इसी मुहिम के सिलसिले में आए थे। अमर उजाला से विशेष बातचीत में उन्होंने कहा कि यह आंदोलन नागरिकता और संविधान दोनों को ही बचाने के लिए शुरू किया जाएगा।


वह प्रत्येक शहर में जाकर इसके लिए लोगों को जागरूक कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अलीगढ़ में इस आंदोलन की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण रहेगी। क्योंकि अलीगढ़ से एक संदेश पूरे देश और दुनिया में जाता है। इसलिए इस आंदोलन के लिए अलीगढ़ बेहद खास है। 


उन्होंने कहा कि जिस तरह पुरी की जगन्नाथ यात्रा को सशर्त अनुमति दी गई कि 500 से अधिक लोग इस रथयात्रा में उपस्थित नहीं होंगे। इसी तरह हमने सुप्रीम कोर्ट से मांग की है कि मोहर्रम के जुलूस को भी शर्तों के साथ अनुमति दी जाए। क्योंकि जो नियमन एक धर्म के लिए हो सकता है, वह अन्य धर्म पर भी लागू हो सकता है।


उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ आंदोलन करने वाले लोगों को झूठे मुकदमे लगा कर जेलों में बंद किया गया। उन्हें देश के सामने खलनायक प्रस्तुत किया गया जो कि उचित नहीं है। अब वह सही तस्वीर सामने लाएंगे।
... और पढ़ें

खुर्जा डिपो की बस के परिचालक से गांधी पार्क बस अड्डे पर मारपीट

महमूद प्राचा।
गांधी पार्क बस अड्डे पर शनिवार को खुर्जा डिपो की एक रोडवेज बस के परिचालक से मारपीट हो गई। मारपीट का आरोप बस अड्डे के कर्मचारियों पर लगा है।
खुर्जा डिपो की बस के परिचालक अमर सिंह ने बताया कि वह दोपहर को बस लेकर गांधी पार्क बस अड्डे पहुंचा था। वहां आवाज लगाकर बस में सवारियों को बैठाने लगा। इस पर अड्डे पर तैनात कर्मचारी आए और बस को ले जाने को कहा। इसका विरोध करने पर उन्होंने मारपीट कर दी। आरोप है कि वह एक प्राइवेट बस में सवारियों को बैठा रहे थे। इसके चलते उन्होंने बस को ले जाने और विरोध करने पर मारपीट की। मामले में चौकी पुलिस को कार्रवाई के लिए कहा। मगर, पुलिस ने भी मामला रफा-दफा कर दिया।
इंस्पेक्टर गांधी पार्क मणिकांत शर्मा के मुताबिक, अगर परिचालक के साथ मारपीट हुई है और उसने तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की तो जरूर मामला दर्ज किया जाएगा। पूरे मामले की रिपोर्ट चौकी प्रभारी से ली जाएगी।
... और पढ़ें

कोरोना : चालान व जुर्माना जितना चाहो करो...मगर, ये नहीं सुधरेंगे

राहुल दक्ष
कोरोना महामारी को रोकने के लिए शासन-प्रशासन तमाम जतन कर रहा है। मगर, लोगों की लापरवाही से कोरोना का संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है। यह स्थिति तब है जब पुलिस-प्रशासन की ओर से लगातार कार्रवाई की जा रही है। जिले में अब तक 9573 लोगों को विभिन्न धाराओं में पाबंद करते हुए 946850 रुपये का जुर्माना वसूला जा चुका है। इसके बाद भी जनता सबक नहीं ले रही है। 1929 कोरोना मरीजों की संख्या के साथ अलीगढ़ जिला मंडल में टॉप पर है और यदि यही रफ्तार रही तो अलीगढ़, आगरा जैसे बड़े जिले से आगे निकल जाएगा।
हर दिन मास्क को लेकर हो रहे सौ से अधिक चालान
कोरोना महामारी को फैलने से रोकने के लिए शासन ने मास्क अनिवार्य कर दिया है। इसके बाद भी लोग इसे पहनने को तैयार नहीं हैं। जिले में हर रोज 100 से अधिक लोगों का चालान किया जा रहा है। आंकड़ों की बात की जाए तो अब तक सार्वजनिक स्थानों पर बिना मास्क घूमने पर 6664 लोगों का चालान काटा गया है। इनसे 666400 जुर्माना भी वसूला गया है। वहीं, दो पहिया वाहन पर दूसरी सवारी के तौर पर पत्नी के अलावा किसी अन्य को ले जाने की अनुमति नहीं है। इसके बाद भी लोग सामाजिक दूर को तार-तार कर दो या कभी-कभी तो तीन-तीन लोग बैठकर घूमते हैं। ऐसे 623 लोगों का चालान काटा गया है। इनसे 156150 रुपये का जुर्माना वसूला जा चुका है। वहीं, सरकारी गाइडलाइन का उल्लंघन, करने, धार्मिक जुलूस निकालने, रात्रि कर्फ्यू का उल्लंघन करने जैसे मामलों में 1077 चालान काटे गए हैं। इनसे 124300 रुपये का जुर्माना वसूला गया। वहीं, धारा 188 के तहत 1209 लोगों को अभी तक पाबंद किया जा चुका है।
आगरा से लगी है अलीगढ़ की होड़
अलीगढ़ जिला फिलहाल मंडल में कोरोना के मामलों में टॉप पर है। सात अगस्त रात 12 बजे तक के आंकड़ों के मुताबिक अलीगढ़ में 1929 केस, हाथरस में 331, एटा में 478, कासगंज में 442 केस हैं। इन सबमे अलीगढ़ तीन से चार गुना आगे है। वहीं, बात की जाए आगरा की तो वहां 2031 केस अब तक मिले हैं। यानी अलीगढ़ सिर्फ 102 केस पीछे है। मगर, हालातों को देखकर लगता है कि जल्द ही अलीगढ़ जिला आगरा को पीछे छोड़ देगा। इससे पहले बुलंदशहर को पछाड़ा ही जा चुका है।
कोरोना का कहर
कुल केस- 1929
सक्रिय केस- 566
कुल मौत- 27
स्वस्थ हुए- 1337
कुल जांच- 50345
कार्रवाई का आंकड़ा
धारा 188 में पाबंद किए लोग- 1209
बिना मास्क लगाए घूमने पर चालान- 6664
गाइडलाइन का उल्लंघन, धार्मिक जुलूस निकालने पर चालान-1077
बाइक पर दूसरी सवारी को बैठाकर यात्रा करने पर चालान- 623
वर्जन-
प्रशासन कोरोना की रोकथाम में लगा है। पुलिस चालान कर रही है। मजिस्ट्रेट गश्ती कर लोगों को समझा रहे हैं। इसके बाद भी लापरवाही बरतना साफ तौर पर कानून का उल्लंघन है। मजिस्ट्रेट और थानाध्यक्षों को निर्देशित कर चेकिंग बढ़ाई जाएगी। लोगों को हर हाल में सामाजिक दूरी और मास्क पहनने के नियम का पालन करना होगा।
चंद्रभूषण सिंह, जिलाधिकारी
... और पढ़ें

आत्मनिर्भर भारत का असहयोग झेल रही खादी

आशीष निगम
श्रीगांधी आश्रम की स्थापना के सौ वर्ष पूरे हो रहे हैं। इसके 47 क्षेत्रीय श्रीगांधी आश्रमों के अंतर्गत खादी और सूती कपड़ा बनाने की पूरी मशीनरी हाथ पर हाथ रख कर बैठी है। लॉकडाउन के बाद से इनकी हालात और खराब हो गई है। ये हाल तब है जब केंद्र की मोदी और प्रदेश की योगी सरकार आत्मनिर्भर भारत का नारा बुलंद करा रही है। सरकारों के निर्देश पर प्रशासनिक अधिकारी भी हर दिन नई ऊर्जा दे रहे हैं। लेकिन हालात इससे ठीक उलट हैं।
हकीकत यह है कि गांव-गांव कपास उगाने वाले, रुई बनाने वाले, सूत कातने वाले, कपड़ा बनाने वाले बुनकर इन दिनों हजारों की तादाद बेरोजगार हो चुके हैं, क्योंकि इनके पास काम नहीं है। इन कपड़ों से शहरों में चमकने वाले क्षेत्रीय श्रीगांधी आश्रम और हरदुआगंज उत्पत्ति केंद्र के भंडार एवं बिक्री केंद्र भी धुंधले हो रहे हैं, जिनकी संख्या दो दर्जन के करीब है। यहां सैकड़ों के स्टाफ में से केवल चंद लोग ही बचे हैं। उनको भी यहां पर्याप्त काम और मेहनताना नहीं नसीब हो रहा है। जिससे शहरी युवाओं का रोजगार भी छूट रहा है। वो दूसरे कामों की ओर जाने को मजबूर हैं। यकीन मानिए... आत्मनिर्भर भारत का नारा बुलंद कराने वाले नेता जिन सूती कुर्तों में चमकते हैं, अगर उसी सूती और खादी को ईमानदारी से संभाल लेते तो कुछ हजार बेरोजगारों की संख्या कुछ तो कम होती...।
पहले थे हजारों हाथ और अब..
मेडू के केंद्र से जुड़े अंबर चरखा के एक्सपर्ट वीरेंद्र सिंह ने बताया कि वर्तमान में यहां के आश्रम से 40 बुनकर, 150 अंबर चरखे वाली कातिन, 600 के करीब साधारण चरखे की कातिन काम कर रही हैं। इनमें से कई के पास महीनों से काम नहीं है। इससे पहले 1990 के दशक तक इनकी संख्या हजारों में थी। जिसमें एक हजार के करीब बुनकर ही थे। इसके अलावा तीन से चार हजार कातिन थी। जिसकी वजह से खादी और सूती कपड़ा हजारों मीटर में बनता था और इसकी हाथोंहाथ बिक्री होती थी। इनमें से अधिकांश संख्या महिलाओं की है जो घर के कामकाज के साथ कातिन और बुनकर भी होती हैं।
अंबर चरखा : बीस हजार रुपये में आना वाला ये चरखा एक साथ आठ पूनी बनाने में सक्षम होता है।
किसान चरखा : 300 रुपये में आना वाला ये चरखा केवल एक पूनी पर ही काम करता है।
नर्मदा चरखा : 600 रुपये तक आने वाले इस चरखे में एक पूनी पर ही सूत काता जा सकता है।
बारीक सूत : 30 से 35 नंबर तक का सूत महीन और बेहद बारीक कपड़ा बुनने में काम आता है। नेताओं के महंगे कुर्ते अक्सर इसी नंबर के सूत से बने कपड़े से बनते हैं। जो महंगे होने के साथ ही बेहद आकर्षक होते हैं।
मोटा सूत : 7 से 12 नंबर वाले सूत से बने कपड़े से मोटी खादी, दरी, खेज, रजाई-गद्दे-ताकिये के खोल, चादर, रजाई और गद्दे के कवर आदि बनाए जाते हैं।
आखिर खादी क्यों हैं महंगी..?
सूत मोटा हो या महीन। इसका कपड़ा बनाने में उतना ही खर्च होता है जितने का सूत होता है। मसलन अगर 100 रुपये का सूत है तो इसका कपड़ा तैयार करने में भी इतना ही पैसा लगेगा। क्योंकि सूत, कपड़ा, धुलाई, रंगाई, छपाई के बाद पूरा थान जब स्टोर पहुंचता है, तो इतना खर्च हो जाता है। सभी प्रक्रिया अलग अलग स्थानों पर होने से खर्च अधिक होता है। इसीलिए बाजार में खादी दूसरे कपड़ों से पिछड़ रही है। अगर सूत से कपड़ा तक सारी प्रक्रिया एक स्थान पर हो, तो ये काफी सस्ता हो सकता है। इससे उत्पादन बढ़ भी सकता है। लेकिन सरकारी नियंत्रण के कारण ऐसा होना मुश्किल है।
72 से 22 पर पहुंचा स्टाफ
श्रीगांधी आश्रम उत्पत्ति केंद्र हरदुआगंज के जामवंत मौर्य ने बताया कि रामघाट रोड पर 150 बीघे में बने इस आश्रम का शिलान्यास उस वक्त के मंत्री भालचंद्र पांडेय ने 27 जनवरी 1983 को किया था। उस वक्त यहां के व्यवस्थापक भरत प्रसाद थे। अलीगढ़ स्थित क्षेत्रीय श्रीगांधी आश्रम से हरदुआगंज का कामकाज उसी दिन से अलग हो गया। इसके बाद हरदुआगंज आश्रम अपने स्तर पर सूत कातने, कपड़ा बनवाने का काम करने लगा। शुरुआती दौर में यहां पर लगभग 72 लोगों का स्टाफ था। अब इसकी संख्या 22 तक सिमट गई है।
10 हजार मीटर से एक हजार तक गिरा उत्पादन
इस आश्रम के अंतर्गत आने वाले बुनकर और कातिन मिल कर हर दो महीने में दस हजार मीटर खादी और सूती वस्त्र बनाते थे। अब ये एक हजार मीटर तक रह गया है। लॉकडाउन से लेकर अभी तक केवल इतना ही कपड़ा आया है। जिसे केंद्रों पर बेचने को भेजा गया है।
खत्म होते रहे केंद्र, बचीं केवल दुकानें
उत्पत्ति केंद्र हरदुआगंज के महेश प्रसाद ने बताया कि यहां के अधीन एक दर्जन केंद्र एवं भंडार गृह हैं। जिसमें हरदुआगंज आश्रम के गेट के बाहर एक केंद्र व एक भंडार गृह है। इसके अलावा समद रोड, चुहरपुर, अतरौली, कौडिय़ागंज, जवां, छर्रा, मेड़ू, जटटारी में एक केंद्र हैं। दो केंद्र सिकंदराराऊ में हैं। लगभग चार से पांच वर्ष पहले तक इन सभी केंद्रों पर कपड़ा बनवाने का काम होता है भंडारण होता था अब ये केवल बिक्री केंद्र रह गए हैं।
... और पढ़ें

कोरोना संक्रमण के बीच बीएड प्रवेश परीक्षा आज

कोरोना संक्रमण काल में बीएड की प्रवेश परीक्षा आज (रविवार) दो पालियों में होगी। परीक्षा में तकरीबन साढ़े नौ हजार अभ्यर्थी प्रतिभाग करेंगे। चूंकि, कोरोना संक्रमण काल में यह परीक्षा जिले के 22 केंद्रों पर आयोजित हो रही है। ऐसे में मास्क, सैनिटाइजेशन और सामाजिक दूरी का पालन कराना प्रशासन के लिए चुनौतीपूर्ण रहेगा।
रविवार को बीएड प्रवेश परीक्षा जिले के 22 परीक्षा केंद्रों पर संपन्न होंगी। परीक्षा में साढ़े नौ हजार अभ्यर्थियों ने पंजीकरण कराया है। सुबह नौ बजे से 12 बजे तक पहली पाली और दोपहर दो बजे से शाम पांच बजे तक दूसरी पाली में परीक्षा होगी। मास्क, सैनिजाइजेशन और सामाजिक दूरी पालन कराने के लिए एडीएम सिटी राकेश कुमार मालपाणी ने अधीनस्थों को आदेश देकर बस स्टैंड और रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा कर्मियों को तैनात किया गया है। यह सुरक्षा कर्मी भीड़ को इकट्ठा नहीं होंगे देंगे, साथ ही सामाजिक दूरी, मास्क और सैनिटाइजेशन की व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे।
रविवार को लॉकडाउन होने के कारण केवल अभ्यर्थियों को परीक्षा केंद्र तक पहुंचाने के लिए टेंपो और ई-रिक्शा चलने की अनुमति दी गई है। अगर परीक्षार्थियों के अलावा अन्य सवारियां मिलती हैं तो टैंपो और ई रिक्शा को सीज किया जाएगा। परीक्षार्थियों के वाहनों को आने जाने की अनुमति दी गई है। प्रवेश पत्र ही पास के रूप में मान्य होगा। अब देखना होगा कि दोनों पालियों में प्रशासन किस तरीके से बिना किसी व्यवधान के परीक्षा संपन्न कराता है।
... और पढ़ें

मडराक पुलिस ने दबोचा नकली शराब बनाने वाला गिरोह

मडराक पुलिस ने शुक्रवार रात को कोठिया गांव की ओर जाने वाले रास्ते पर वाहन चेकिंग के दौरान एक नकली शराब माफिया गिरोह के पांच सदस्यों को दबोचा। उनके पास से भारी मात्रा में शराब बरामद की गई। आरोपियों से पूछताछ के बाद उनको जेल भेज दिया गया।
इंस्पेक्टर राजीव कुमार ने बताया कि कोठिया गांव के पास चेकिंग के दौरान एक बुलेरो गाड़ी आती दिखी। उसे रोक कर तलाशी की गई तो उसमें पांच व्यक्ति बैठे थे। गाड़ी की डिग्गी में
185 पव्वा देशी शराब गुड ईवनिंग मार्का, 29 खाली पव्वा देशी शराब गुड ईवनिंग ब्रांड, एक कैन 20 लीटर प्लास्टिक की, जिसमें 15 लीटर रेक्टीफाइड स्पिरिट, एक कैन 20 लीटर प्लास्टिक की जिसमें 10 लीटर अपमिश्रित शराब व पांच मोबाइल और 2950 रुपये नगद बरामद हुए। पूछताछ में इनकी पहचान राजेश पुत्र वेदप्रकाश तोमर, हिमांशु उर्फ सोनू पुत्र राजू उर्फ प्रदीप कुमार, भोला उर्फ रवेंद्र पुत्र दरयाब सिंह निवासीगण ग्राम महुआ, महुआ, वालेश पुत्र मेघसिंह निवासी ग्राम कोठिया, मडराक, कालिया उर्फ हलीम खां पुत्र शौकत अली निवासी ग्राम हस्तपुर, इगलास के तौर पर हुई।
राजेश पर इगलास थाने में पहले से कई मुकदमे दर्ज हैं। भोला का महुआ चौराहा पर ढाबा है। वह वहीं से शराब की सप्लाई करता था। गैंग सरगना कालिया उर्फ हली है। यह इगलास के हस्तपुर गांव के ही एक शराब ठेेके पर सेल्समैन है। यहीं से यह शराब दिलवाता और उसमें मिश्रण कर नकली शराब तैयार करवाने का खेल करता था। इस गिरोह से आसपास के गांव में अपने गुर्गे पाल रखे हैं। वह शराब की सप्लाई लोगों तक करने का काम करते हैं। इनकी गाड़ी को भी सीज कर दिया गया है। सभी आरोपियों को जेल भेज दिया है। गिरफ्तार करने वाली टीम में एसआई नरेंद्र सिंह, हरेंद्र कु मार, जयपाल सिंह, प्रेमवीर सिंह, सूरज कुमार शामिल रहे।
... और पढ़ें

डेयरी हटाने गई नगर निगम की टीम पर पथराव, एक कर्मचारी चुटैल

सासनी गेट क्षेत्र के पंचनगरी में शनिवार को डेयरी हटाने पहुंची नगर निगम की टीम को भारी विरोध का सामना करना पड़ा। खूंटे एवं हौद तोड़ने से नाराज लोगों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। डेयरी संचालकों के समर्थन में सपा नेता अज्जू इशहाक के आने के बाद भीड़ के तेवर और उग्र हो गए। लोगों ने नारेबाजी शुरू कर दी। बताया जाता है कि इस बीच ईट-पत्थर भी फेंके गए। इस बवाल में एक कर्मचारी चोटिल हो गया। सूचना पर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट एवं एसीएम द्वितीय ने लोगों को समझा-बुझाकर शांत किया। इस मामले में सपा नेता अज्जू इशहाक, सचिन समेत 12 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है। सिटी मजिस्ट्रेट ने डेयरी हटाने के लिए 15 अगस्त तक का समय दिया है।
उच्च न्यायालय के आदेशों के क्रम में महानगर में संचालित डेयरियों को शहर की सीमा से बाहर करने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। शनिवार को सहायक नगर आयुक्त राज बहादुर सिंह के नेतृत्व में नगर निगम की टीम ने पंचनगरी और सराय हरनारायण में कार्रवाई की। पंचनगरी में टीम ने तीन डेयरियों में पशु बांधने के खूंटे व हौद तोड़ दिए। इससे लोगों में आक्रोश फैल गया। उन्होंने विरोध शुरू कर दिया। मौके पर पहुंचे सपा नेता अज्जू इशहाक व सचिन यादव को देखकर भीड़ के तेवर उग्र हो गए। उन्होंने नगर निगम के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। इस बीच अफवाह फैल गई कि कार्रवाई से आहत एक व्यक्ति को हृदयाघात हुआ है। बताते हैं कि इससे गुस्साए लोगों ने ईंट-पत्थर फेंकने शुरू कर दिए।
इससे घबराए नगर निगम के अधिकारियों ने पुलिस, जिला प्रशासन व नगर आयुक्त को मामले की जानकारी दी। मौके पर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट विनीत कुमार व अपर नगर मजिस्ट्रेट रंजीत सिंह ने स्थिति को नियंत्रण कर भीड़ को तितर-बितर कराया। साथ ही डेयरी संचालकों की मांग पर उनको 15 अगस्त तक डेयरी शिफ्ट करने की मोहल्लत दी। अपर नगर मजिस्ट्रेट रंजीत सिंह ने बताया कि लॉकडाउन के पश्चात सोमवार से सभी डेयरी संचालक अपनी डेयरी सामान सहित शिफ्ट करेंगे और 15 अगस्त के पश्चात नगर निगम व जिला प्रशासन डेयरी शिफ्ट करने की कार्रवाई करेगा।
संचालकों को अंतिम मोहलत : सिटी मजिस्ट्रेट
सिटी मजिस्ट्रेट विनीत कुमार ने कहा कि उच्च न्यायालय के आदेशों के क्रम में डेयरी संचालकों को अंतिम मोहल्लत दी गई है। स्थानीय पार्षद व प्रधान संयुक्त रूप से डेयरी संचालकों से बात कर डेयरी शिफ्ट कराएंगे।
उच्च न्यायालय के आदेशों का होगा पालन
नगर आयुक्त सत्य प्रकाश पटेल ने कहा कि उच्च न्यायालय के आदेशों का शत प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित कराया जाएगा। डेयरी नगरीय सीमा से बाहर होंगी और इस कार्यवाई में बाधा डालने वालों के विरुद्ध नगर निगम विधिक रूप से सख्त से सख्त एक्शन लेगा।
उच्च न्यायालय व एनजीटी के दिशा-निर्देशों के अनुपालन में की जा रही सरकारी कार्रवाई में बाधा डालने पर सपा नेता अज्जू इशहाक, सचिन यादव समेत 12 लोगों के विरुद्ध सासनीगेट थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है। - राज बहादुर सिंह, सहायक नगर आयुक्त
सासनी गेट स्थित पंचनगरी में डेयरियों हटाने पहुंचे नगर निगम टीम और पुलिस का विरोध करते लोग।
सासनी गेट स्थित पंचनगरी में डेयरियों हटाने पहुंचे नगर निगम टीम और पुलिस का विरोध करते लोग।- फोटो : CITY OFFICE
... और पढ़ें
Karwachauth Coupon
Karwachauth Coupon
Karwachauth Coupon
Karwachauth Coupon
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us