विज्ञापन

रेवाड़ी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

रेवाड़ी: अमित शाह के पीएसओ के घर से लाखों की नकदी व जेवरात चोरी, चाचा के घर में भी लगाई सेंध

हरियाणा के रेवाड़ी के गांव चिल्हड़ में शुक्रवार रात को चोरों ने एक सेवानिवृत्त इंस्पेक्टर के घर में सेंध लगा लाखों रुपये के जेवरात चोरी कर लिये। चोरों ने दिल्ली पुलिस में कार्यरत उनके भतीजे के घर में भी चोरी की वारदात की है। बताया जा रहा है कि उनका भतीजा गृह मंत्री अमित शाह के पीएसओ हैं। शनिवार की सुबह चोरी की वारदात का पता लगने के बाद पुलिस को सूचना दी गई।

गांव से चिल्हड़ निवासी दयानंद यादव सीमा सुरक्षा बल से इंस्पेक्टर के पद से सेवानिवृत्त है। शुक्रवार की रात को चोरों ने उनके घर में सेंध लगा दी और एक कमरे का ताला तोड़कर संदूक में रखे लाखों रुपये के सोने-चांदी के जेवरात व एक लाख 75 हजार की नकदी चोरी कर ले गए। इसके बाद चोर उनके भतीजे दिल्ली पुलिस में कार्यरत नरेंद्र यादव के घर में भी घुस गए।

चोरों ने यहां से भी संदूक में रखे चांदी के सिक्के चोरी कर लिए। जाते समय चोर रसोई में रखा करीब पांच किलोग्राम देसी घी भी अपने साथ ले गए। शनिवार की सुबह परिवार के सदस्य उठे रसोई व कमरे में सामान बिखरा हुआ था। सूचना मिलने के बाद सदर थाना पुलिस मौके पर पहुंची। फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट की मदद से पुलिस ने साक्ष्य जुटाने का भी प्रयास किया। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
 
... और पढ़ें

रेवाड़ी: व्यापारी ने जहरीला पदार्थ खाकर की खुदकुशी, आत्महत्या से पहले वीडियो बनाकर बयां किया दर्द

हरियाणा के रेवाड़ी जिले में एक व्यापारी ने खुदकुशी कर ली। आत्महत्या से पहले व्यापारी ने 2 मिनट 22 सेकेंड का वीडियो भी बनाकर वायरल किया जिसमें वह अपनी पत्नी के मामा, साले और पत्नी को अपनी मौत का जिम्मेदार ठहराते हुए सख्त कार्रवाई की मांग कर रहा है। गुरुवार की सुबह उसका शव गांव गोकलगढ़ स्थित जोहड़ के पास मिला। सूचना के बाद मौके पर पहुंची सदर पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया। पुलिस ने मृतक के पिता की शिकायत पर पत्नी सहित तीन लोगों पर मामला दर्ज किया है।

शहर के चार किलोमीटर दूर गांव गोकलगढ़ निवासी क्रांति यादव (35) ने शहर की ब्रास मार्केट में रेडीमेड कपड़े का शोरूम खोला हुआ था। वह पिछले काफी समय से घरेलू कलह के चलते परेशान था। उसने जहरीला पदार्थ खाकर खुदकुशी कर ली। सुबह की सैर पर निकले ग्रामीणों ने उसे जोहड़ के पास पड़ा देख पहले परिजनों को सूचना दी और फिर पुलिस को सूचित किया गया।

सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लिया तथा पोस्टमार्टम के लिए नागरिक अस्पताल भिजवा दिया। पुलिस ने दोपहर बाद पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया। ग्रामीणों ने बताया कि कुछ साल पहले ही उसकी मां की बीमारी के चलते मौत हो गई थी। घर में उसके अलावा बुजुर्ग पिता व एक छोटा भाई है। कुछ समय से क्रांति काफी ज्यादा परेशान चल रहा था।

वीडियो में बयां किया दर्द
क्रांति यादव ने खुदकुशी से पहले एक वीडियो बनाया, जिसमें क्रांति यादव खुद का नाम बताकर दावा कर रहा है कि उसकी लाइफ बहुत बढ़िया चल रही थी। उसकी पत्नी ने उसे बहुत परेशान कर दिया। कुछ लॉकडाउन की वजह से नुकसान हुआ तो पत्नी समझने लगी कि नुकसान की भरपाई नहीं होगी और उसने सारा पैसा अपने भाई को दे दिया।

मैं अपनी पत्नी और साले से परेशान होकर आत्महत्या कर रहा हूं। मैंने अपना खुद का घर बनाया, जिससे आज मैं ही बाहर हूं। जिसने मेरी शादी कराई उसके मामा से भी बात की। सास के नंबर मांगे, लेकिन नहीं मिले। बार-बार पुलिस में झूठी शिकायतें दी। मैं अपनी घरवाली, उसके भाई और मामा की वजह से अपनी जीवन लीला समाप्त कर रहा हूं...।
 
युवक ने फंदा लगाकर दी जान
युवक के सुसाइड करने के कारण का पता नहीं पाया है। रामपुरा थाना पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है। शहर से सटे गांव रामपुरा में रामप्रसाद के बेटे गोपाल (25) ने बुधवार की रात अपने ही घर में अज्ञात कारणों से फंदा लगाकर जान दे दी।

सुबह देर तक कमरा नहीं खुला तो परिजनों को शक हुआ। खिड़की से देखा तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। गोपाल पंखे से फंदा लगाकर लटका हुआ था। परिजनों ने तुरंत इसकी सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची रामपुरा थाना पुलिस ने शव को नीचे उतार कर नागरिक अस्पताल में पहुंचाया, जहां दोपहर के समय पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। हालांकि अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि गोपाल ने आत्महत्या किस वजह से की। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

दो बच्चों के पिता ने लगाया फंदा
कोसली। गांव नांगल मूंदी निवासी 43 वर्षीय दो बच्चों के पिता ने गांव बेरली के पास खेतों में एक पेड़ से फंदा लगाकर जान दे दी। सूचना मिलने के बाद जाटूसाना पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर इसकी शिनाख्त में जुट गई। शव की शिनाख्त गांव नांगल मूंदी निवासी रामकिशन के रूप में हुई।

परिजनों ने पुलिस को बताया कि मृतक कई दिनों से मानसिक रूप से परेशान था। इसके बाद में पुलिस ने परिजनों के बयान दर्ज करके इस मामले में सामान्य कार्यवाही करते हुए शव को पंचनामा कार्रवाई के लिए रेवाड़ी के सामान्य अस्पताल भिजवा दिया। 

इस संबंध में जाटूसाना पुलिस एचएचओ निरीक्षक जितेंद्र कुमार ने बताया कि सूचना मिलने के बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचनामा कार्यवाही के लिए सामान्य अस्पताल रेवाड़ी भिजवा दिया है। उक्त अधिकारी ने बताया कि परिजनों ने मृतक के मरने की वजह मृतक के मानसिक रूप से परेशान होना बताई है।    
... और पढ़ें

रेवाड़ी: चिटफंड कंपनी ने प्लॉट और रुपये दोगुना कराने का झांसा देकर ठगे करोड़ों, आठ पर मामला दर्ज

हरियाणा के रेवाड़ी जिले में एक चिटफंड कंपनी ने कई लोगों के करोड़ों रुपये हड़प लिये। रुपये इन्वेस्ट करने वाले लोगों को प्लॉट और रुपये दोगुना करके लौटाने का झांसा दिया गया। समय पूरा होने के बाद उनके हाथ कुछ नहीं लगा। ऊपर से जो बॉन्ड और कागजात दिए थे, वे भी कंपनी ने वापस नहीं किए। मॉडल टाउन थाना पुलिस ने आठ लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है।

शहर में बावल रोड पर वर्ष 2011 में रेवाड़ी ऑफ कर्मभूमि रियल एस्टेट प्राइवेट लिमिटेड के नाम से एक कार्यालय खुला था। इसमें रेवाड़ी के गांव खोरी निवासी सुरेंद्र कुमार बतौर ब्रांच मैनेजर और गुमीना निवासी निर्मल कुमार, अलीगढ़ के सुरेंद्र नगर निवासी देवेंद्रपाल, मथुरा निवासी मनोज कुमार, अलवर निवासी विजय कुमार, मामडपुर निवासी पूर्व प्रकाश, मथुरा निवासी राजेश्वरी सैंगर, गुमीना निवासी रजनी सिंह विभिन्न पदों पर कार्यरत थे।

ऑफिस खोलने के साथ ही खूब प्रचार-प्रसार किया गया कि उनकी कंपनी मल्टीपल इन्सटॉलमेंट स्कीम के जरिये पैसा इन्वेस्ट करने पर न केवल महंगी कीमत के प्लॉट मुहैया कराएगी बल्कि लोगों के पैसे कुछ साल में दोगुने करके लौटाए जाएंगे। इसी लालच में रेवाड़ी व आसपास के गांवों के लोग कंपनी के झांसे में आ गए। पीड़ित बिमला यादव, शकुंतला यादव, बिरेंद्र सिंह, इंद्रमल अग्रवाल, सुनीता यादव, ललिता, हेमलता, मुन्नी, मुकेश देवी व नरेश सोनी सहित दर्जनों लोगों ने कंपनी में खुद और अपने रिश्तेदारों के करोड़ों रुपये इन्वेस्ट कर दिए।
 
पैसे इन्वेस्ट करने वाले 65 लोग
पैसे इन्वेस्ट करने वालों की सूची में अभी 65 लोगों के नाम सामने आए हैं। इन लोगों को कंपनी की तरफ से पैसे जमा कराने पर बॉन्ड भी भरकर दिए गए लेकिन 2 साल का समय पूरा होने के बाद न तो उन्हें प्लॉट मिला और न ही पैसा वापस मिला। करोड़ों रुपये लौटाने का दबाव बनने पर कंपनी ने ऑफिस बंद कर दिया। उसके बाद कंपनी पदाधिकारियों से लोगों ने अपने पैसे वापस मांगे तो उनसे भरे हुए बॉन्ड वापस मंगवा लिए गए और फिर बॉन्ड और कागजात अपने कब्जे में लेने के बाद आरोपी फरार हो गए।

मथुरा से चलता था मेन ऑफिस
काफी दिनों तक धक्के खाने के बाद भी जब इन्वेस्ट करने वाले लोगों के पैसे नहीं मिले तो शिकायत पुलिस को दी गई। पुलिस ने जांच की तो पता चला कि 65 से ज्यादा लोगों के करोड़ों रुपये कंपनी ने हड़पे हैं। पुलिस कंपनी के मेन ऑफिस मथुरा तक पहुंच गई। मथुरा पहुंचने के बाद पता चला कि वर्ष 2016 में यहां से कंपनी के अधिकारी ऑफिस बंद कर भाग चुके हैं। मॉडल टाउन थाना पुलिस ने करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है।
 
... और पढ़ें

Rewari: दिल्ली कोर्ट में नौकरी लगवाने का झांसा देकर 3 युवकों से ठगे 20 लाख रुपये, ज्वाइनिंग की मेल भी भेजी

हरियाणा के रेवाड़ी जिले के कोसली कस्बे में सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर 20 लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आया है। कस्बा कोसली के 3 युवकों को दिल्ली कोर्ट में क्लर्क लगवाने का झांसा देकर ठगा गया है। उन्हें ज्वाइनिंग से संबंधित फर्जी ई-मेल भी भेजी गई, लेकिन जब कोर्ट जाकर पता किया तो सबकुछ फर्जी निकला। कोसली थाना पुलिस ने धोखाधड़ी का केस दर्ज कर लिया है।

गांव टूमना निवासी बलवान ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि महेन्द्रगढ़ जिले के गांव कुरावहटा निवासी धौलाराम उर्फ फतेहसिंह की बेटी की उनके गांव में शादी हुई है, जिसकी वजह से उसका टूमना गांव में आना-जाना लगा रहता था। अच्छी जान पहचान होने की वजह से धौलाराम उनके भी घर आ जाता था।

दिसंबर 2020 में धौलाराम ने बताया कि उनका एक रिश्तेदार दिल्ली हाईकोर्ट में जज हैं। वह उनके बेटे को दिल्ली कोर्ट में क्लर्क लगवा सकता है। पहले तो बलवान उसकी बातों में नहीं आया, लेकिन जब धौलाराम ने गांव के ही सुरेश और सुशीला को भी उनके बेटों को नौकरी दिलाने के लिए तैयार कर लिया तो वह भी उसके जाल में फंस गया।

आरोप है कि धौलाराम ने जनवरी 2021 में बलवान के बेटे देवेन्द्र को नौकरी लगवाने के नाम पर 9 लाख कैश, सुरेश के बेटे अजय की नौकरी के लिए 4 लाख का चेक और सुशीला के बेटे मिलन को नौकरी दिलाने के नाम पर 7 लाख रुपये ले लिए। धौलाराम ने तीनों को बताया कि 21 मार्च 2021 को उनकी पक्की नौकरी लग जाएगी, लेकिन इस बीच अपने स्तर पर जांच की तो संदेह हुआ।

तीनों ने धौलाराम से अपने पैसे वापस मांगे, लेकिन धौलाराम ने विश्वास दिलाया कि वह नौकरी लगवा देगा। अगर नौकरी नहीं भी लगी तो ब्याज सहित पैसे लौटा देगा। बलवान की मानें तो धौलाराम किसी परिक्षित नाम के शख्स के टच में था, जिसके मार्फत वह नौकरी दिलाने की बात कर रहा था। धौलाराम की तरफ से बलवान के बेटे देवेंद्र को एक ई-मेल भेजी गई।

ईमेल में बताया गया कि 21 जुलाई 2021 को उनकी दिल्ली कोर्ट में ज्वाइनिंग है। देवेन्द्र के अलावा अजय व मिलन तीनों दिल्ली कोर्ट पहुंच गए। वहां जाकर पता किया तो जानकारी मिली की कोर्ट में क्लर्क की कोई पद ही नहीं है। तीनों धौलाराम के पास अपने पैसे मांगने पहुंचे, लेकिन आज तक उन्हें पैसे वापस नहीं मिले। उल्टे उन्हें ही जान से मारने की धमकी दी जा रही है। कोसली पुलिस ने बलवान की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

टूमना के बलवान की शिकायत पर जिला महेंद्रगढ़ के गांव कुुराहवटा निवासी धौलाराम के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है तथा आरोपी की तलाश की जा रही है। - सुमेर सिंह, थाना प्रभारी, कोसली
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

Fraud: सेना में नौकरी दिलाने के नाम पर दो युवकों से ठगे 15 लाख रुपये, केस दर्ज

हरियाणा के रेवाड़ी जिले में दो युवकों के साथ सेना में नौकरी दिलाने के नाम पर 15 लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आया है। ठगी करने वाले ने फर्जी सत्यापन और साक्षात्कार पत्र भी दिए। कोसली पुलिस ने शिकायत के आधार पर केस दर्ज कर लिया है।

गांव झोलरी निवासी अजय और झज्जर जिले के गांव खानखुर्द निवासी अजय पुत्र महेंद्र दोनों रोहतक स्थित डिफेंस एकेडमी में एयरफोर्स और नेवी की तैयारी करते थे। दोनों वहीं हॉस्टल में रहते थे। उनकी मुलाकात एकेडमी में चरखी दादरी के हिंडोन निवासी संजीव से हो गई। इस दौरान संजीव ने उन्हें बताया कि उसके पिता दोनों का सेना में नौकरी लगवा देंगे।
 
इसके लिए दोनों को 15 लाख देने होंगे। हॉस्टल में साथ रहने की वजह से दोनों उस पर विश्वास कर बैठे और उसकी बातों में आकर साढ़े चार-साढ़े चार लाख यानी 9 लाख रुपये उसे दे दिए। संजीव ने भरोसा दिया कि इंटरव्यू कराने के बाद बची हुई रकम देनी होगी।
 
कुछ दिन बाद संजीव ने दोनों को सत्यापन (वेरीफिकेशन) पत्र भेजवा दिया, जिसे संबंधित थाना और एसडीएम से सत्यापित कराकर देना था। दोनों ने वेरिफिकेशन कराने के बाद संजीव को दे दिया। इसके बाद संजीव गांव झोलरी पहुंचा और दोनों से तीन-तीन लाख रुपये और ले लिए। 6 लाख रुपये लेने के कुछ दिन बाद संजीव ने एक साक्षात्कार (इंटरव्यू) पत्र भेजा, जिसपर चंडीगढ़ के मनीमाजरा स्थित 102 वाहिनी पंजाब का पता लिखा था।
 
दोनों बताई गई तारीख पर इंटरव्यू देने पहुंचे तो पता चला कि यह इंटरव्यू पत्र फर्जी है। दोनों वापस आ गए और संजीव से अपने पैसे मांगे, लेकिन संजीव अब पैसे देने से साफ इंकार कर रहा है। दोनों ने कोसली थाना पुलिस को शिकायत दी। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

दो युवकों की शिकायत पर धोखाधड़ी का केस दर्ज कर लिया गया है। मामले में चरखी दादरी जिला के गांव हिंडोल निवासी युवक की तलाश की जा रही है। जल्द ही उसे काबू कर लिया जाएगा। - सुमेर सिंह, थाना प्रभारी, कोसली
... और पढ़ें

Rewari: कहासुनी के चलते पड़ोसियों में खूनी संघर्ष, दोनों पक्षों में चले लाठी-डंडे और रॉड, एक की मौत

हरियाणा के रेवाड़ी शहर में मामूली कहासुनी के बाद दो पक्षों में लाठी-डंडे और रॉड चली। झड़प में एक शख्स की मौत हो गई और एक गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल को रेवाड़ी ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया है। वहीं मृतक के शव का रोहतक पीजीआई में पोस्टमार्टम कराया गया है। रामपुरा थाना पुलिस ने हत्या का केस दर्ज कर लिया है।

शहर के मोहल्ला कुतुबपुर स्थित देवनगर निवासी सुनील (46) का रविवार रात को करीब दो बजे किसी बात को लेकर पड़ोसियों के साथ झगड़ा हो गया। पड़ोसियों ने सुनील और एक अन्य युवक पर लोहे की रॉड और लाठी-डंडों से हमला कर दिया। हमले में घायल दोनों को तुरंत ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया।

सुनील की हालत गंभीर होने के कारण उसे रोहतक पीजीआई रेफर कर दिया गया। सोमवार की दोपहर बाद पीजीआई में सुनील ने दम तोड़ दिया। सूचना के बाद रामपुरा थाना पुलिस की टीम रोहतक पीजीआई पहुंची। वहां सुनील के शव का पोस्टमार्टम कराया गया। साथ ही पुलिस ने सुनील के परिजनों की शिकायत पर हत्या का केस दर्ज कर लिया है।
 
... और पढ़ें

Gangwar in Rewari: झोंटा और आलू गैंग के बीच ताबड़तोड़ फायरिंग, एक राहगीर समेत पांच लोगों को लगी गोली

हरियाणा के रेवाड़ी में शहर में धारूहेड़ा चुंगी के पास दो नामी गैंग के बीच ताबड़तोड़ फायरिंग हुई। फायरिंग में एक राहगीर के अलावा दोनों गैंग से जुड़े चार लोगों को गोलियां लगी हैं। इनमें एक बदमाश आलू गैंग तो तीन अन्य बदमाश झोटा गैंग के बताए जा रहे हैं। रात 11 बजे शहर के धारूहेड़ा चुंगी पर आलू और झोटा गैंग का आमना-सामना हो गया। दोनों तरफ से करीब दो दर्जन राउंड गोलियां चलीं। 

राहगीर गोविंद के पैर में गोली लगी है। वहीं झोटा गैंग के धारूहेड़ा चुंगी निवासी राजेश के हाथ में, यादव नगर निवासी नवीन को पैर में व गांव भोतवास अहीर निवासी मोटा के पीठ और कूल्हे में गोली लगी है। इसके अलावा आलू गैंग के धारूहेड़ा निवासी विकास उर्फ विक्की की पीठ में गोली लगी है। गोविंद को पुष्पाजंलि, राजेश व मोटा को ट्रामा सेंटर तथा विकास को एक अन्य प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 

 दोनों गैंग के कई बदमाशों की हो चुकी हत्या
गैंगवार के चलते आलू और झोटा गैंग के बीच पहले भी कई बार खूनी संघर्ष हो चुका है। झोटा गैंग ने 2014 में कुख्यात बदमाश रवि उर्फ आलू की हत्या कर दी थी। इसके बाद आलू गैंग ने झोटा गैंग के बदमाश संजय उर्फ चवन्नी के अलावा एक अन्य बदमाश का मर्डर कर दिया था। इसके अलावा कुख्यात बदमाश झोटा पर भी जानलेवा हमला हुआ था। पुलिस सूत्रों के अनुसार, कुख्यात बदमाश राजकुमार उर्फ झोटा फिलहाल जमानत पर जेल से बाहर आया हुआ है जबकि आलू गैंग का सरगना सुनील फिलहाल जेल में बंद है। दोनों ही गैंग के कुछ गुर्गे फिलहाल बाहर हैं जिनके बीच गोलियां चली हैं।

वर्ष 2008 में शुरू हुई थी रंजिश
धारूहेड़ा चुंगी निवासी रवि उर्फ आलू व संघी का बास निवासी राजकुमार उर्फ झोटा पहले एक साथ ही काम करते थे। इन दोनों के बीच वर्ष 2008 में पहली बार झगड़ा हुआ था। बात इतनी बढ़ गई थी कि आलू गैंग के बदमाशों ने कुख्यात झोटा को शहर की पंजाबी धर्मशाला के पास बेरहमी से पीटा और मरा समझकर चले गए। हालांकि झोटा इस हमले में बच गया था। इसके बाद से दोनों के अलग-अलग गैंग बने और गैंगवार शुरू हो गया। 

2014 में आलू की हुई थी गोली मारकर हत्या 
दोनों गैंग के कुख्यात बदमाशों की खूनी संघर्ष कहानी वर्ष 2014 में शुरू हुई। झोटा के पूरी तरह सही होने तक दोनों गुटों के बीच किसी तरह की झड़प नहीं हुई लेकिन झोटा की हालत में सुधार होते ही उसकी गैंग के बदमाश राकेश शर्मा व संदीप सोनी ने शहर के गांधी नगर में कुख्यात बदमाश रवि उर्फ आलू की गोली मारकर हत्या कर दी थी। बदले में आलू गैंग के बदमाशों ने झोटा के भाई पर उसी के घर में फायरिंग की थी। दोनों वारदात के समय झोटा भौंडसी जेल में बंद था। रेवाड़ी की सेशन कोर्ट ने आलू हत्याकांड में नामजद झोटा गैंग के शिव कॉलोनी निवासी राकेश शर्मा व नई आबादी निवासी संदीप सोनी को उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

झोटा गैंग के गुर्गे चव्वनी की 2017 में हुई थी हत्या   
24 फरवरी 2017 की देर रात दुर्गा कॉलोनी निवासी देवेंद्र और नई आबादी निवासी संजय उर्फ चवन्नी बाइक पर धारूहेडा चुंगी से पुरानी तहसील रेवाड़ी की तरफ जा रहे थे। वाल्मीकि बस्ती में स्थित सार्वजनिक शौचालय के नजदीक आलू गैंग के सुनील ने दोनों पर गोली चला दी। आरोपी योगेश ने लोहे की राड बाइक चला रहे संजय उर्फ चवन्नी को मारी जिससे दोनों बाइक समेत मौके पर ही गिर पड़े।

आरोपियों ने अन्य साथियों के साथ मिलकर दोनों पर लोहे की राड और डंडों से जानलेवा हमला कर घायल कर दिया। इसमें संजय उर्फ चवन्नी की रोहतक पीजीआई में उपचार के दौरान मौत हो गई थी। वहीं चवन्नी हत्याकांड में शामिल तीन आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। गिरफ्तार आरोपी वाल्मीकि बस्ती धारूहेड़ा चुंगी निवासी तरुण कुमार उर्फ तन्नू, बंजारवाड़ा निवासी बिरेंद्र उर्फ बिंदर और वाल्मीकि बस्ती निवासी योगेश उर्फ भोटा है। 
 
झोटा गैंग के दो और गुर्गों की कर दी थी हत्या
शहर के मोहल्ला धारूहेड़ा चुंगी निवासी विजय व उत्तम नगर निवासी पंकज नामक दो युवकों का 27 जून 2017 को अपहरण कर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। दोनों युवकों के शव रामगढ़ रोड पर मिले थे। हत्या के इस मामले में सुनील डुलगच व उसकी गैंग के अन्य लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया था। गैंग से जुड़े तीन-चार बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था लेकिन सरगना सुनील लगातार फरार चल रहा था।

आलू गैंग के सरगना पर था एक लाख का इनाम  
आलू गैंग के सरगना सुनील डुलगच पर हत्या, हत्या के प्रयास, मारपीट व आर्म्स एक्ट के करीब 17 आपराधिक मामले दर्ज हैं। बदमाश की केस हिस्ट्री को देखते हुए 27 अगस्त 2017 को पुलिस ने उस पर एक लाख रुपये का इनाम रखा था। विजय व पंकज की हत्या से पहले भी 25 फरवरी को सुनील डुलगच की गैंग ने झोंटा गैंग से जुड़े दो युवकों पर जानलेवा हमला किया था। इनमें से एक युवक संजय उर्फ चवन्नी की मौत हो गई थी।

इसके अतिरिक्त बावल में आरोपी पर हत्या का षडयंत्र रचने और वारदात को अंजाम देने के लिए हथियार मुहैया कराने का मामला दर्ज है। इस मामले में भी आरोपी अदालत से भगौड़ा घोषित किया जा चुका था। 27 जून 2017 को हत्या की वारदात के बाद उसके गैंग के कमल उर्फ पल्टी, पवन व प्रवीण उर्फ मियां को तो गिरफ्तार कर लिया था, लेकिन सुनील यहां से सीधा दिल्ली भाग गया था। दिल्ली से हरिद्वार व इसके बाद हिमाचल प्रदेश में भी रहा।  

चवन्नी हत्याकांड में 8 आरोपियों को सुनाई सजा
19 नवंबर 2021 को चवन्नी हत्याकांड में जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने गैंगवार के कारण चार साल पहले हुई हत्या में आलू गैंग के सरगना सुनील डुलगच सहित आठ आरोपियों को दोषी पाते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। 

शुक्रवार की रात आलू व झोटा गैंग में दोनों ओर से क्रॉस फायरिंग हुई है। फायरिंग में एक आलू का तो तीन बदमाश झोटा गैंग के घायल हुए हैं। बताया जा रहा है कि राजकुमार उर्फ झोटा वारदात के समय वहीं पर मौजूद था। अभी पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। - मोहम्मद जमाल खान, डीएसपी।
 

वारदात में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। अभी सभी से पूछताछ जारी है। बाकी की जानकारी आपको शुक्रवार को दे दी जाएगी। - प्रवीण कुमार, पीआरओ पुलिस, रेवाड़ी
... और पढ़ें

Rewari: कलयुगी बेटे ने मां-बाप को बुरी तरह पीटा, मां के शरीर में कई जगह फ्रैक्चर, पिता भी गंभीर

सांकेतिक तस्वीर।
अपने मां-बाप की कलयुगी बेटे ने इस कदर पिटाई की कि मां के शरीर में कई जगह फ्रैक्चर हो गए हैं और पिता भी बुरी तरह चोटिल हुए हैं। मां-बाप का इलाज निजी अस्पताल में चल रहा है। बताया जाता है कि शहर से सटे गांव गोकलगढ़ निवासी अमीचंद और उनकी 77 साल की पत्नी शकुंतला दोनों घर पर ही थे। बीती रात उनका बड़ा बेटा राजकुमार घर पहुंचा।

पहले तो राजकुमार ने शकुंतला के साथ गाली-गलौज और हाथापाई की। इसके बाद उन्हें बुरी तरह पीटना शुरू कर दिया। बीच बचाव करने आए पिता अमीचंद को भी पीटा। इसके बाद मां शकुंतला को धक्का देकर गिरा दिया जिससे शकुंतला के दोनों हाथ और पैर में फ्रैक्चर हो गया।

राजकुमार मारने की धमकी देकर फरार हो गया। घायल महिला और उनके पति को पड़ोसियों ने शहर के ही एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। वहीं सदर पुलिस ने आरोपी राजकुमार के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया है। अब आरोपी की तलाश में दबिश दे रही है।
... और पढ़ें

खुलासा: बेटे ने पहले मां के साथ मिलकर पिता को मार डाला, डेढ़ माह बाद मां को भी उतारा मौत के घाट

जिस औलाद को पाने के लिए मां-बाप लाख दुआ मांगते हैं उसी औलाद ने अपनी मां के साथ मिलकर पहले पिता को मौत के घाट उतार दिया। उसके बाद उसने हथौड़े से मां की भी हत्या कर दी। पुलिस ने हत्या के आरोपी बेटे जोगेंद्र को गिरफ्तार कर लिया है। मंगलवार को उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा। 

बता दें, हरियाणा के रेवाड़ी जिले के गांव खुरमपुर में छह दिन पहले बेटे ने अपनी मां सुशीला की हत्या हथौड़े से मारकर कर दी थी। पुलिस ने हत्या का राज खोलते हुए उसके बेटे को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के कठोर होने पर जोगेंद्र ने बताया कि डेढ़ माह पहले अपनी मां के साथ मिलकर उसने पिता की भी हत्या कर दी थी। मां की हत्या अनबन और पिता की हत्या का कारण शराब पीकर तंग करना सामने आया है।

इस बाबत, बावल डीएसपी राजेश लोहान ने बताया कि पुलिस को दी शिकायत में गांव खुरमपुर निवासी जागेंद्र ने कहा था कि वह एक कंपनी में काम करता है। वह खेतों में मकान बना कर रहता है। 1 जून को वह ड्यूटी पर गया हुआ था। उस समय उसकी 40 वर्षीय मां सुशीला घर पर अकेली थी।

रात करीब 11 बजे जब वह घर पहुंचा तो मेनगेट बाहर से बंद था। गेट खोल कर घर के अंदर से तीन युवक बाहर की तरफ भागते हुए निकल गए। वह तीनों को पहचान नहीं कर पाया। वह घर के अंदर पहुंचा तो सीढ़ियों के निकट उसकी मां सुशीला मृत अवस्था में पड़ी हुई थी और चारों ओर खून बिखरा पड़ा था। सूचना के बाद ग्रामीण व बावल थाना पुलिस मौके पर पहुंची थी तो महिला के सिर व चेहरे पर तेजधार हथियार से चोट के निशान भी मिले थे।

पेड़ पर फंदे से लटकता मिला था पति का शव
महिला सुशीला के पति रामनिवास की अप्रैल महीने में संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी। नौ अप्रैल की रात को रामनिवास घर के बाहर पशुओं के पास सो रहा था। अगले दिन सुबह उसका शव एक पेड़ पर फंदे से लटका हुआ मिला था। उस समय आत्महत्या समझ कर बिना पुलिस कार्रवाई के शव का अंतिम संस्कार कर दिया था। 

दो शादियां की थी रामनिवास ने, सुशीला थी दूसरी पत्नी
मृतक रामनिवास की दो शादियां हुई थी। पहली पत्नी रामरती से एक बेटा मनोहर व बेटी राजबाला थे। पहली पत्नी की मौत के बाद उन्होंने दूसरी शादी सुशीला से की थी। दूसरी शादी से तीन बेटी कविता, मनीषा, सविता व एक बेटा जोगेंद्र है। तीनों बेटियों की शादी हो चुकी है जबकि जोगेंद्र अविवाहित है। 

शक की सुई घूमी जोगेंद्र पर
सुशीला के मर्डर की गुत्थी को सुलझाने के लिए बावल डीएसपी राजेश लोहान व बावल थाना एसएचओ विद्यासागर ने टीम गठित की थी। पुलिस ने अपने स्तर पर जांच की तो पता लगा कि सुशीला के पति रामनिवास की मौत भी संदिग्ध थी और उसके बारे में पुलिस को कोई सूचना नहीं दी गई थी। रामनिवास के शव पर लोगों ने चोट के निशान भी देखे थे जबकि परिवार ने उसे आत्महत्या करना बताया था। पुलिस के हाथ रामनिवास के फंदा लगा कर आत्महत्या करने के फोटो भी लगे थे। फोटो की जांच के बाद पुलिस का संदेह और बढ़ गया। पुलिस ने जोगेंद्र को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने दोनों हत्या करना स्वीकार कर लिया। 

पूछताछ में बताई यह वजह
पूछताछ में आरोपी ने बताया कि उसका पिता रामनिवास शराब पीकर उसे व उसकी मां को तंग करता था। नौ अप्रैल की रात को जोगेंद्र ने अपनी मां सुशीला के साथ मिल कर रामनिवास की गला दबा कर हत्या कर दी थी और शव के गले में फंदा डाल कर शीशम के पेड़ पर लटका दिया था। दूसरे दिन पुलिस को बिना सूचना व बिना पोस्टमार्टम के रामनिवास के शव का अंतिम संस्कार भी कर दिया था।

अब जोगेंद्र की उसकी मां सुशीला के बीच भी अनबन रहने लगी थी और झगड़े होते थे। वारदात के दिन भी दोनों के बीच झगड़ा हुआ था। रात को ड्यूटी से आने के बाद जोगेंद्र ने हथौड़े से सिर में चोट मार कर अपनी मां की हत्या कर दी और परिवार व पुलिस को झूठी कहानी बता दी। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। उसे मंगलवार को अदालत में पेश कर रिमांड पर लिया जाएगा।
... और पढ़ें

रेवाड़ी: शोरूम संचालक से मांगी 50 करोड़ की फिरौती, मना किया तो फायरिंग कर फरार हुए दो बदमाश

हरियाणा के जिला रेवाड़ी के कस्बा बावल में बदमाशों ने मंगलवार की शाम टाइल एंड सेनेटरी शोरूम के संचालक से 50 करोड़ रुपये की फिरौती मांगी और मना करने पर फायरिंग कर दी। वारदात के बाद हमलावर फरार हो गए। मिली जानकारी के अनुसार, रेवाड़ी शहर के सेक्टर-3 निवासी सतीश बतरा ने बावल कस्बा के रेवाड़ी रोड स्थित एक्सीस बैंक के पास पार्वती टाइल्स एंड बतरा सेनेटरी के नाम से शोरूम खोला हुआ है। मंगलवार की शाम एक बाइक पर सवार 3 बदमाश उनके शोरूम पर पहुंचे। उस वक्त शोरूम पर सतीश बतरा का बेटा राहुल बतरा बैठा हुआ था। कुछ देर बदमाशों ने राहुल से बाद की और फिर सीधे 50 करोड़ रुपये की फिरौती की डिमांड की।

इस बीच राहुल बतरा ने बदमाशों को पैसे देने से मना कर दिया। बदमाश खुद को एक नामी गैंग के बदमाश अनिल खेड़ा और संदीप खेड़ा के बंद बता रहे थे। फिरौती की रकम देने से मना करने पर बाहर निकले बदमाशों ने शोरूम पर फायरिंग कर दी। एक गोली शोरूम के बाहर लगे शीशे पर लगी, जिससे शीशा चकनाचूर हो गया। वारदात के बाद बदमाश सरेआम हथियार लहराते हुए फरार हो गए। राहुल बतरा ने तुरंत इसकी सूचना पुलिस को दी।

सूचना के बाद मौके पर पहुंचे बावल थाना प्रभारी विद्या सागर ने शोरूम व आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज कब्जे में लिए है। थाना प्रभारी विद्या सागर ने बताया कि पूरे मामले की जांच की जा रही है। अभी फिरौती की रकम क्लीयर नहीं है। हालांकि बदमाशों की धर पकड़ शुरू कर दी गई है।

बता दें कि अनिल खेड़ा और संदीप खेड़ा जिन दो बदमाशों के नाम सामने आए है। दोनों ही पेशेवर बदमाश बताए गए हैं। उन पर पहले भी हत्या का प्रयास और फिरौती जैसे संगीन मामले दर्ज है। पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी है। इधर दिन दहाड़े बावल कस्बा में हुई इस वारदात के बाद से व्यापारियों में खौफ पैदा हो गया है।

एसपी ने घटनास्थल का लिया जायजा
बावल में व्यापारी के साथ घटना की सूचना मिलने के बाद एसपी राजेश कुमार ने घटनास्थल का जायजा लिया। इस दौरान पीड़ित व्यापारी को जल्द से जल्द बदमाशों की गिरफ्तारी का आश्वासन भी दिया। 
 
... और पढ़ें

Rewari: मां-बेटे को बंधक बनाकर 19 तोला सोने के आभूषण और नकदी की चोरी

हरियाणा के रेवाड़ी जिले में हथियारबंद बदमाश एक घर में घुस गए। बदमाशों ने घर में सो रहे मां-बेटे को गन पाइंट पर बंधक बनाया और फिर घर से 19 तोले सोना के आभूषण और नकदी चोरी की। बदमाश दोनों को चारपाई पर बांधकर फरार हो गए। बदमाश पीड़ित का पर्स भी चोरी करके ले गए जिसमें कागजात व पैसे थे। बावल थाना पुलिस ने अज्ञात बदमाशों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

मूलरूप से जिले के गांव टिकला निवासी प्रवीण कुमार का परिवार करीब 20 साल से गांव रघुनाथपुरा में मकान बनाकर रह रहा है। बीती रात प्रवीण कुमार और उसकी मां दोनों चारपाई डालकर सो रहे थे। तभी पालतू कुत्ता भोंकने लगा तो प्रवीण की आंख खुल गई। इस बीच दीवार फांदकर 4 बदमाश घर में दाखिल हुए। बदमाशों ने मुंह पर चुन्नी बांधी हुई थी।

बदमाश सीधे प्रवीण के पास पहुंचे और कनपटी पर पिस्टल तान दी। धमकी दी कि शोर मचाया तो जान से मार देंगे। इतने में मां की आंख खुली तो दूसरे बदमाश ने उन पर भी पिस्टल तान दी। बदमाशों ने प्रवीण को घर की रसोई में बंद कर दिया और फिर घर के कमरों में रखी अलमारी से 19 तोला सोना, जिसमें 4 सोने की चेन, 4 सोने की अंगूठी, 2 मंगलसूत्र, 4 जोड़ी कानों की बाली, 800 ग्राम चांदी व 9500 रुपए नकदी चोरी कर ली।

हाथ-पैर बांधकर चारपाई पर सुलाया
वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाशों ने प्रवीण और उसकी मां के हाथ-पैर रस्सी से बांध दिए और दोनों को चारपाई पर लेटा दिया। काफी शोर मचाने के बाद पड़ोसी सोनू घर पहुंचा और दोनों के हाथ-पैर खोले। सोनू के मोबाइल से पुलिस को सूचना दी गई। सूचना के बाद मौके पर पहुंची बावल थाना पुलिस ने जांच के बाद केस दर्ज कर लिया है। हालांकि अभी चोरों का पता नहीं चल पाया है। पुलिस की कई टीमें बदमाशों को पकड़ने में लगी है।
... और पढ़ें

हैवानियत: बाप ने छह साल की बेटी से किया दुष्कर्म, राहगीर ने बच्ची के रोने की आवाज सुनी तो पकड़ा 

हरियाणा के रेवाड़ी क्षेत्र में एक हैवान बाप ने अपनी ही छह साल की बेटी को हवस का शिकार बना डाला। बच्ची के रोने की आवाज सुनकर एक व्यक्ति ने उसे पकड़ लिया। पिता बच्ची को बंद एक फैक्टरी के पास लेकर पहुंचा था। तभी उसके रोने की आवाज सुनकर एक शख्स आ पहुंचा और आरोपी को पकड़ लिया। आरोपी के खिलाफ धारूहेड़ा थाना पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है।

बताया जाता है, मध्यप्रदेश का रहने वाला एक परिवार कई सालों से जिले में किराये पर रहता है। परिवार के सदस्य फैक्टरी में काम करते हैं। सोमवार की सुबह हैवान पिता अपनी 6 साल की बेटी को दिल्ली-जयपुर हाईवे पर बंद एक मिल में लेकर पहुंचा। पिता उसके साथ दुष्कर्म करने लगा।

बच्ची जोर-जोर से रोने लगी तो पास से ही गुजर रहा विनोद नाम का शख्स मौके पर पहुंच गया। उस वक्त आरोपी दरिंदा बच्ची के साथ घिनौनी वारदात कर रहा था। विनोद ने आरोपी को मौके पर ही पकड़कर धारूहेड़ा पुलिस को सूचित किया। धारूहेड़ा थाना पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। साथ ही बच्ची को इलाज के लिए रेवाड़ी अस्पताल में भर्ती कराया। आरोपी के खिलाफ पॉक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है।
... और पढ़ें

रेवाड़ी: कोसली में जोहड़ में मिले महिला व दो बच्चों के शव, शनिवार से थे लापता, मौत का कारण तलाश रही पुलिस

हरियाणा के रेवाड़ी जिले के कोसली कस्बा में मठ के पीछे वाले जोहड़ में तैरते हुए 35 वर्षीय महिला और उसके 7 व 9 वर्ष के दो बच्चों के शव बरामद किए गए। मृतका शनिवार से अपने दोनों बच्चों सहित लापता थी जो मूल रूप से मध्यप्रदेश की रहने वाली थी। वह कुछ समय से अपने परिवार के साथ कस्बा कोसली में रह रही थी। पुलिस ने तीनों शव को जोहड़ के पानी से निकलवाकर पोस्टमार्टम के लिए स्थानीय नागरिक अस्पताल में भिजवा दिया। 

पुलिस के अनुसार गांव कोसली निवासी सीता देवी (35), उसा बेटा लक्ष्य (7) और बेटी मनीषा (9) शनिवार को अचानक घर से लापता हो गए थे। इन तीनों को इनके परिजनों ने काफी जगहों पर तलाशा। मृतका की सास ने कोसली थाने में गत दिवस महिला एवं उसके दो बच्चों के लापता होने की शिकायत दर्ज कराई थी।

सोमवार को इन तीनों के शव मठ के पीछे वाले जोहड़ के पानी में तैरते देखे गए। सूचना मिलने के बाद कोसली पुलिस मौके पर पहुंची और इन तीनों शवों को पानी से बाहर निकलवाकर इनकी शनाख्त कराई गई। मृतका मध्य प्रदेश की मूल निवासी थी, जिसका परिवार कोसली में रहता है। उसके साथ दो अन्य बच्चों की शव, मृतका के पुत्र और पुत्री के निकले।

पुलिस ने ग्रामीणों और अग्निशमन कर्मचारियों की मदद से तीनों शवों को बाहर निकाला और पंचनामा के लिए नागरिक अस्पताल भिजवा दिया। हालांकि अभी यह साफ नहीं हो पाया कि महिला और उसके दोनों बच्चों की मौत के पीछे की वजह क्या है लेकिन पुलिस शुरुआती जांच में इसे आत्महत्या से जुड़ा मामला मान रही है और मामले की जांच जारी है। 

नहीं रुक रही जोहड़ में डूबने की घटनाएं 
इससे पहले इसी माह 13 मई को गांव धवाना के कृष्ण नामक युवक की गांव सीहा के जोहड़ में डूबने से मौत हो गई थी। यह युवक जोहड़ में नहाने गया और गहरे पानी में डूब गया। इसके बाद 14 मई को गांव दखौरा के जोहड़ में भी एक महिला का शव मिला। पुलिस की जांच में सामने आया कि यह जिला महेंद्रगढ़ के गांव कांटी की मूल निवासी थी जिसका विवाह गांव दखौरा में हुआ था। वह मानसिक रूप से परेशान थी, जिसकी वजह से उसने अपनी जान दे दी। 
 
... और पढ़ें
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00