विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को
Astrology Services

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

हरियाणाः रेवाड़ी में दो बच्चों को लेकर नहर में कूदी पुलिसकर्मी की पत्नी, महिला-बेटे का शव मिला

हरियाणा से बड़ी खबर आ रही है। रेवाड़ी में एक पुलिसवाले की पत्नी अपने दो बच्चों को लेकर नहर में कूद गई।

21 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

कुरुक्षेत्र

बुधवार, 21 अगस्त 2019

बच्चा चोर गिरोह समझकर हिसार के परिवार को लोगों ने जबरन रोका

लाडवा। बच्चा चोर गिरोह द्वारा बच्चे उठाने की अफवाह मंगलवार को हिसार जिले के एक परिवार के लिए आफत बन गई थी। कार में जा रहे इस परिवार को लाडवा में लोगों ने बच्चा चोर गिरोह के सदस्य समझ लिया और इनकी कार को पीछा करके जबरन रुकवा लाडवा थाने ले आए। थाने में इस परिवार के लोगों ने अपने पहचान पत्र आदि के आधार पर खुद को किसी तरह बचाया। इस पूरी कवायद में परिवार में शामिल तीन महिलाएं एवं पांच बच्चे बुरी तरह सहमे रहे।
सुरेंद्र एवं सुनील निवासी गांव सहलपुर थाना मंडी आदमपुर जिला हिसार मंगलवार को हरिद्वार से अपने किसी परिजन का पिंडदान कराकर परिवार सहित गांव जा रहे थे। लाडवा में जब उनकी कार सुबह इंद्री चौक पहुंची तो लोगों ने डिग्गी में बच्चों को बैठा देख चोर गिरोह समझ लिया। लोगों ने बच्चा चोर गिरोह का पकड़ने के लिए शोर मचा दिया, जिससे तुरंत कुछ जागरूक लोग कारों में उनके वाहन का पीछा करने लगे। पीछा कर रहे लोगों ने लाडवा-कुरुक्षेत्र रोड पर गोशाला से पहले उनकी कार को ओवरटेक किया और जबरन रुकवा लिया। लोग उन्हें लेकर लाडवा थाने पहुंचे। इस दौरान बच्चा चोर पकड़े जाने के मैसेज सोशल मीडिया में भी फ्लैश हो गए और बड़ी संख्या में शहरवासी थाने में जमा होने लगे। थाने में जमा भीड़ देख और अचानक कार रुकवाने से कार में सवार महिलाएं तथा बच्चे दहशत में आ गए। बच्चे तो डर के मारे रोने लगे तो बुजुर्ग महिला बच्चों को हौसला देकर चुप कराती रही। पूछताछ में जब असलियत सामने आई तो थाने में जमा भीड़ धीरे-धीरे खिसक गई, लेकिन डेढ़ घंटे चले ड्रामे में पीड़ित परिवार को बड़ी परेशानी झेलनी पड़ी। थाना प्रभारी ने पीड़ित परिवार के सदस्यों को बिठाकर चाय-नाश्ता कराया और उनके पहचान-पत्र की फोटो कॉपी लेकर भेज दिया। ... और पढ़ें

सात माह में 12 लोगों की हत्या, तीन दिन में तीन, बेखौफ घूम रहे कातिल

आए दिन हो रही हत्याओं से कुरुक्षेत्र दहल उठा है। हत्यारों को पुलिस का कोई खौफ नहीं है और वह बेखौफ घूम रहे हैं। बीते तीन दिनों में तीन हत्याओं से लोगों में दहशत है। हालात इतने पेचीदा हो चुके हैं कि पिछले सात माह में आपसी रंजिश एवं मामूली कहासुनी होने पर ही 12 लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया, लेकिन पुलिस अधिकतर हत्यारों को काबू कर पाने में असमर्थ है। वीरवार को पिहोवा के पृथूदक पार्क में मामूली कहासुनी पर हलवाई की हत्या कर दी गई। शुक्रवार देर रात को चचेरी बहन पर टिप्पणी करने पर विवाद में एचडीएफसी बैंक अधिकारी राकेश कुमार की तेजधार हथियार से हत्या की गई। वहीं बीड़ पिपली स्थित सरस्वती नदी में हत्या कर पत्थर बांधकर फैसा सांपला निवासी रवि का शव मिलने से जिलेभर में दहशत है।
पुलिस एवं स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जनवरी 2019 से अब तक आपसी रंजिश एवं मामूली कहासुनी होने 12 लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया। 24 जनवरी को थानेसर के धर्मबीर की हत्या की गई। 15 मार्च को अज्ञात व्यक्ति को रस्सी से गला घोटकर मौत के घाट उतारा गया। 2 मई को गांव गुढ़ा निवासी मनदीप की हत्या, 20 मई को केयू परिसर में छात्र नेता अनीश बंसल पर जानलेवा हमला किया गया था, जिसके बाद अनीश ने पीजीआई चंडीगढ़ में 22 मई को दम तोड़ दिया था। 30 मई को झांसा निवासी महिंद्र सिंह की हत्या, 9 जून को बाबैन के मदन पाल की हत्या, 11 जून को करनाल के अरविंद की पिहोवा क्षेत्र में हत्या हुई। इसके पश्चात 3 जुलाई को ढांड रोड पर व्यापारी संदीप गर्ग पर दिन दहाड़े फायरिंग कर मौत के घाट उतारा था। यही नहीं 31 जुलाई को शाहाबाद क्षेत्र में 40 वर्षीय व्यक्ति की हत्या, 8 अगस्त को मामूली कहासुनी होने पर पिहोवा के पृथूदक पार्क में ध्यान सिंह हलवाई की हत्या, 10 अगस्त को सेक्टर-13 के मकान में एचडीएफसी बैंक अधिकारी राकेश कुमार की हत्या और 11 अगस्त को हत्या को अंजाम देकर पत्थर से बांधकर बीड़ पिपली स्थित सरस्वती नदी में शव मिलने से सनसनी फैल गई। अगर 2018 के आंकड़ों पर बात करें तो 17 लोगों को अलग-अलग तरह से वारदातों को अंजाम देते हुए मौत के घाट उतारा गया। 15 दिसंबर को पिता ने अपनी ही पुत्री रूबल की गोलियां मारकर हत्या की थी। 21 जून को शाहाबाद के गांव चढूनी जटान में नशेड़ी बेटे ने पहले कस्सी से मां स्वर्णजीत कौर और फिर घर के आंगन में सो रहे पिता श्योराम पर कुल्हाड़ी से वार कर मौत के घाट उतारा था। इनमें से ज्यादातर मामलों में पुलिस जांच तक ही सीमित हैं।
युवक पर फायरिंग मामले में मात्र एक की हुई गिरफ्तारी
बाबैन में 23 जुलाई को बाइक सवार युवक कोमल जीत सिंह पर फयारिंग मामले में पुलिस अब तक एक आरोपी को गिरफ्तार कर पाई है, जबकि पुलिस ने शिकायत के आधार पर शराब माफिया अंग्रेज सिंह सहित पांच युवकों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था।
राकेश व रवि हत्याकांड में के आरोपी नहीं पकड़े गए
सांवला निवासी रवि और कैथल के गांव कसान निवासी राकेश हत्याकांड में पुलिस अब तक किसी भी हत्यारोपी को काबू नहीं कर सकी। पुलिस के मुताबित राकेश हत्याकांड मामले में सीआईए सहित चार टीमें गठित की गई है, जो हत्यारोपियों के पैतृक गांव सहित अन्य ठिकानों पर छापेमारी कर रही है। वहीं रवि हत्याकांड मामले में पिपली थाना सहित सीआईए व एंटी नारकोटिक सैल की चार टीमें जांच में जुटी हुई है। बता दें कि पहले रवि की हत्या किसी रस्सी या कपड़े से गला घोटकर की गई है। हत्या के पश्चात उसके हाथ व पैर पत्थर से बांधकर शव को सरस्वती नदी में फैंका गया है। सिटी थाना प्रभारी सुभाष चंद्र ने कहा कि पुलिस को राकेश हत्याकांड मामले में हत्यारोपियों के बारे में कुछ अहम सुराग हाथ लगे हैं, पुलिस की विभिन्न टीमें ल्द ही हत्यारोपियों को काबू करेंगी।
हत्या में शामिल दोषियों को नहीं जाएगा बख्शा : आस्था मोदी
पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी ने कहा कि पिछले तीन दिनों में हुई तीन हत्याएं आपसी रंजिश व विवाद के कारण हुई हैं। कई व्यक्ति अधिक शराब के नशे में अपना आपा खो बैठते हैं और मामूली कहासुनी होने पर एक-दूसरे पर जानलेवा हमला कर देते हैं। हत्या में शामिल किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। पुलिस सभी मामलों में गहनता से जांच कर रही है। सभी मामलों को जल्द ही सुलझा लिया जाएगा। ... और पढ़ें

एंबुलेंस का 108 नंबर बंद, पुलिस को दी घायल की सूचना

ीएसएनएल के अधिकारी अपनी ड्यूटी के प्रति कितने सतर्क व जागरूक हैं, जिसका प्रत्यक्ष प्रमाण सोमवार को तब देखने को मिला, जब स्वास्थ्य विभाग की एंबुलेंस की संचार सेवाएं ठप हो गई, लेकिन संबंधित अधिकारियों को अवगत कराने के बावजूद भी देर रात तक समस्या का समाधान नहीं किया गया। सड़क दुर्घटना पीड़ितों ने पुलिस कंट्रोल रूम के 100 नंबर पर कॉल कर सड़क दुर्घटना की सूचना दी, जिसके बाद पुलिसकर्मियों ने स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी से संपर्क कर एंबुलेंस की सुविधा उपलब्ध कराई।
जानकारी के अनुसार सोमवार सुबह करीब 10 बजे एंबुलेंस सहायता नंबर 108 किसी अपरिहार्य कारण से बंद हो गया, जिससे आपातकालीन एवं डिलीवरी संबंधित फोन कॉल सेवाएं बाधित रही। इस संदर्भ स्वास्थ्य विभाग कर्मचारी ने सुबह 11 बजकर 32 मिनट पर बीएसएनएल के कार्यकारी अभियंता रणबीर सिंह को अवगत कराया तो उन्होंने एसडीओ पवन गोयल का नंबर देते हुए संपर्क करने का सुझाव दिया, लेकिन तीन बार कॉल करने के बाद भी एसडीओ ने कॉल रिसीव नहीं की। इस तरह से बीएसएनएल अधिकारियों की अनदेखी के कारण सोमवार देर रात तक भी एंबुलेंस सहायता नंबर सुचारू नहीं हो पाया। स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत कर्मचारियों का कहना है कि प्रतिदिन आपातकालीन एवं डिलीवरी से संबंधित लगभग 35-40 कॉल 108 पर आती है, जो सोमवार को बाधित रही। वहीं सोमवार को करीब सवा तीन बजे गांव शरीफगढ़ के नजदीक हुई सड़क दुर्घटना की सूचना एक राहगीर ने 100 नंबर पर कॉल कर पुलिस को दी, जिसके बाद पुलिस कर्मियों ने एंबुलेंस कंट्रोल रूम में संपर्क कर एंबुलेंस उपलब्ध कराई।
108 नंबर की सेवाएं सुबह तक हो जाएगी सुचारू: एक्सइएन
इस संदर्भ में एक्सइएन रणबीर सिंह ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत एक कर्मचारी ने उन्हें कॉल कर अवगत कराया था, जिसको संबंधित एसडीओ पवन गोयल से संपर्क करने के लिए उनका फोन नंबर दिया था, लेकिन उक्त कर्मचारी ने उनसे दोबारा संपर्क नहीं किया कि इस संदर्भ में संबंधित अधिकारी से बात हुई या नहीं। उन्होंने कहा कि 108 नंबर की सेवाएं मंगलवार सुबह तक सुचारू हो जाएगी। ... और पढ़ें

साध्वी से दुष्कर्म के मामले में डॉक्टर दोषी करार

अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायधीश लाल चंद की अदालत ने साध्वी से दुष्कर्म के प्रयास के मामले में आरोपी डॉक्टर को दोषी करार दिया है। अदालत बुधवार को उसे सजा सुनाएगी।
गौरतलब है कि 2016 में ब्रह्मसरोवर स्थित एक आश्रम की साध्वी ने आयुर्वेदिक कॉलेज के एक डॉक्टर पर दुष्कर्म का प्रयास करने का आरोप लगाया था। सेक्टर सात स्थित महिला पुलिस थाने में दी शिकायत में 24 वर्षीय साध्वी ने बताया था कि आरोपी डॉक्टर उनके आश्रम से पिछले कई सालों से जुड़ा हुआ था और वह मुझे अपनी बेटी की तरह मानते था। मैं भी उन्हें बापू कहकर बुलाती थी। साध्वी ने बताया कि एक दिन आरोपी डॉक्टर ने उसे अकेला पाकर गलत नीयत से उसे पकड़ लिया,जिसपर उसने विरोध जताया। इस हरकत के बारे में आश्रम संचालकों को बताने को कहा। जिसपर आरोपी पीछे हट गया। साध्वी ने कहा कि वह कई दिनों तक किसी को शर्म के कारण कुछ नहीं बता पाई, लेकिन वह काफी गहरे तक सदमें में चली गई। एक दिन आश्रम संचालिका ने इसका कारण पूछा तो पूरी बात बता दी। साध्वी की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरु कद दी थी। ... और पढ़ें

अंतिम संस्कार में भी नहीं आई बेटी और पत्नी

जिंदगी में कितनी भी कड़वाहट हो लेकिन मौत के बाद दुश्मन भी ऐसा बर्ताव नहीं करता, जैसा बुजुर्ग व्यापारी प्रेमचंद्र के साथ हुआ। पोस्टमार्टम के बाद शव के अंतिम संस्कार के लिए पुलिस के फोन के बाद भी जब कोई रिश्तेदार नहीं पहुंचा तो करनाल की एक समाजसेवी संस्था को उनका शव सौंप दिया गया। इसी संस्था ने उनका अंतिम संस्कार किया। अन्य रिश्तेदारों की बात कौन करें, उनकी पत्नी व बेटी भी न तो शव लेने पहुंची और न अंतिम संस्कार में ही शामिल हुई।
मालूम हो कि रविवार सेक्टर तीन से आई किसी कॉलोनीवासी की फोन कॉल के बाद पुलिस ने एक मकान से प्रेमचंद्र (70) का शव बरामद किया था। टेंट कारोबारी प्रेमचंद्र मूल रूप से कैथल के रहने वाले थे और पिछले तीन साल से सेक्टर तीन में किराए के मकान में अपनी पत्नी और बेटी के साथ रहते थे। कारोबार में मंदी के चलते उनकी आर्थिक स्थिति फिलहाल गड़बड़ा गई थी। जिसकी वजह से वह मुफलिसी में दिन गुजार रहे थे। इस वजह से तमाम रिश्तेदारों ने तो पहले ही उनसे मुंह मोड़ लिया था। हां, कुछ माह पहले जरूर बीमारियों ने उनसे नाता जोड़ लिया था। जिंदगी की जद्दोजहद में प्रेमचंद बीमार हो गए तो उनकी पत्नी और बेटी भी मानसिक तौर पर कमजोर हो गई। ऐसे समय अंधविश्वास ने दोनों को सम्मोहित किया। परिणामस्वरूप चार दिन पूर्व जब प्रेमचंद्र की मौत हो गई तो दोनों ने किसी को सूचना नहीं दी। घर में ही तीन दिन तक दोनों ने उनके शव को छिपाए रखा। शव की दुर्गंध से जब पड़ोसियों का जीना मुहाल हुआ तो किसी ने पुलिस को सूचना दी। इसके बाद शव को बरामद किया जा सका। हालांकि उस दौरान भी पत्नी व बेटी ने शव पुलिस को सौंपने से इंकार करते हुए आत्मा के शरीर में वापस आने के करिश्मे की बात दोहराई।
बहरहाल, उस दौरान कई दिन पुराने शव को पुलिस ने रोहतक पीजीआई पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। सोमवार को रोहतक में पोस्टमार्टम होने के बाद जब पुलिस ने प्रेमचंद्र की बेटी व पत्नी की सुपुर्दगी में शव देने की बात कही तो दोनों ने शव लेने से इंकार कर दिया। जिसके बाद पुलिस ने करनाल की समाज सेवा संस्था जनसेवा सदन को अंतिम संस्कार के लिए शव सौंप दिया। संस्था ने सोमवार की शाम को उनका अंतिम संस्कार कर दिया। इस दौरान भी प्रेमचंद्र का कोई रिश्तेदार मौजूद नहीं रहा। ... और पढ़ें

मारकंडा नदी में बढ़ते जलस्तर से हाई अलर्ट

कालाअंब से मारंकडा नदी में 35 हजार क्यूसिक से ज्यादा पानी आने से सीमावर्ती गांवों में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है। जिला प्रशासन ने शाहाबाद में कंट्रोल रूम बनाया है, जिससे किसी आपात स्थिति से निपटा जा सके। इसके अलावा रविवार तड़के उपायुक्त ने शाहाबाद के कई गांवों का दौरा कर जमीनी तैयारियों की हकीकत भी जानी। वहीं, इलाके के गांवों में नदी के पानी बढ़ने के बाद से हड़कंप की स्थिति है। ग्रामीणों ने हजारों एकड़ फसल डूबने की आशंका जताई है।
राजस्व व सिंचाई विभाग के अधिकारियों की रिपोर्ट के अनुसार मारकंडा नदी में रविवार सुबह कालाअंब से 35 हजार 664 क्यूसिक पानी छोड़ा गया जबकि मुलाना से 30740, शाहाबाद में 5151 तथा झांसा में 6248 क्यूसिक पानी छोड़ा गया। इसलिए मारकंडा नदी पर प्रशासन की तरफ से निरंतर नजर रखी जा रही है। इस स्थिति के बारे राजस्व व सिंचाई विभाग के अधिकारी पल पल की खबर प्रशासन को मुहैया करवा रहें है, ताकि प्रशासन किसी भी स्थिति पर नियंत्रण कर सके। वहीं, रविवार तड़के हाई अलर्ट जारी होने के बाद उपायुक्त डॉ. एसएस फुलिया ने शाहाबाद के गांव कलसाना, कटवा, मुगलमाजरा, तंगौर, दामली, दयालपुर व गुमटी सहित अन्य गांवों का निरीक्षण किया। उन्होंने ग्रामीणों से बातचीत की। जबकि नदी का जल स्तर बढ़ने से पानी तटबंधों को छू रहा है। आशंका है कि रात्रि के समय मारकंडा नदी का जल स्तर और अधिक बढ़ गया तो हजारों एकड़ फसल बर्बाद हो सकती है।
इस तरह बढ़ा नदी का जलस्तर
समाचार लिखे जाने तक मारकंडा नदी में करीब 14 हजार क्यूसेक पानी बह रहा था, जो कि अलसुबह 6 बजे मात्र 1900 क्यूसेक था। सुबह 7 बजे यह बढ़कर 3 हजार क्यूसेक, 8 बजे 7500 क्यूसेक, दोपहर दो बजे 8 हजार क्यूसेक, 3 बजे 9 हजार क्यूसेक तथा सायं 4 बजे 10 हजार क्यूसेक तथा 6 बजे यह पानी 14 हजार क्यूसेक तक पहुंच गया था। गेज रीडर रोशन लाल ने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा नदी पर नजर रखी हुई है और हर घंटे बाद गेज मापकर प्रशासन को सूचित किया जा रहा है। आंशका जताई जा रही है कि मारकंडा नदी का जलस्तर देर रात को और बढ़ सकता है। प्रशासन द्वारा बढ़ते जलस्तर पर निगाह रखी जा रही है।
इन क्षेत्रों में बाढ़ का खतरा
पहाड़ों से छोड़ा गया पानी एवं बरसात का पानी निकटवर्ती बाजीगर कॉलोनी, गांव मुगल माजरा, गुमटी, मलिकपुर, रावा, कलसाना, कठवा, तंगौर, झरौली अरूपनगर तथा नदी के साथ लगते गांवों में नुकसान पहुंचाता है। वहीं इस्माईलाबाद क्षेत्र के दर्जनों गांव बाढ़ की चपेट में आते हैं।
नदी का जलस्तर बढ़ने से ग्रामीण भयभीत
गांव कठवा के सरपंच अमरिंद्र सिंह ने कहा है कि बाढ़ के पानी के कारण गांव कलसाना, मलिक पुर, मुगलमाजरा, अरूप नगर, गुमटी, कठुवा सहित अनेक गांवों में हजारों एकड़ की फसलों का नुकसान हुआ है। किसानों के सामने पशुओं के चारे की समस्या भी पैदा हो गई है। उन्होंने कहा कि अगर नहर विभाग व कृषि विभाग समय रहते बाढ़ को रोकने का प्रबंध करते तो काफी हद तक बचा जा सकता था। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष सिंचाई विभाग के आलाधिकारियों को मौके पर बुलाकर स्थिति से अवगत कराया गया था कि नदी की व्यवस्थित ढंग से कभी सफाई नहीं होती, जिसकी वजह से पानी की निकासी बाधित होती है। बताया कि हर बार ऐसी स्थिति में किसानों की हजारों एकड़ फसल पूर्णात: नष्ट हो जाती है।
बचाव की तैयारियां पूरी, नहीं होगा समस्या
मारंकडा नदी का जलस्तर बढ़ने से ग्रामीणों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं आने दी जाएगी। इसके लिए तैयारी कर ली गई है। प्रशासन द्वारा नौकाओं, गोताखोरों एवं रस्सों इत्यादि की व्यवस्था की गई है तथा तहसील कार्यालय मश्ें कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। उन्होंने बताया कि यदि 50 से 60 हजार क्यूसिक तक पानी आता है तो चिंता की कोई बात नहीं, लेकिन बाढ़ का पानी लाखों क्यूसेक में आता है तो ज्यादा नुकसान होने की आशंका बनी रहती है। ... और पढ़ें

गीता महोत्सव के मुरीद हुए लंदनवासी, फिर आने का दिया न्योता, धार्मिक भाईचारे की दिखी मिसाल

लंदन में आयोजित अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव के समापन के उपरांत हरियाणा सरकार और केडीबी अधिकारियों सदस्यों सहित जीओ गीता के प्रतिनिधियों का करीब 170 सदस्यीय लोगों का प्रतिनिधिमंडल कई मीठी यादें लेकर भारत लौटा है।

आप लंदन बार बार आओ... यह निमंत्रण भी यूके की अनेक संस्थाओं ने भारतीय प्रतिनिधिमंडल को प्रेमपूर्वक दिया है। हालांकि लंदन में आयोजित उपरोक्त कार्यक्रम के दौरान अगला अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव नार्दन आयरलैंड और कनाडा में आयोजित करने के प्रस्ताव आ चुके हैं। 

वहीं हिंदू कौंसिल ट्रस्ट यूके के चेयरमैन उमेश शर्मा और महासचिव अरुण ठाकुर ने अगला आयोजन भी लंदन में आयोजित करने की मांग के साथ स्वामी ज्ञानानंद महाराज के दिसंबर 2019 में कुरुक्षेत्र में होने वाले अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव का निमंत्रण स्वीकार करने के साथ यह वादा किया है कि लंदन से बड़ी संख्या में लोग कुरुक्षेत्र के इस आयोजन में भाग लेंगे। 

उल्लेखनीय है कि लंदन की पार्लियामेंट के एटली हॉल, यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के लोगन हॉल और साउथ हॉल में आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में दूसरे कई देशों के राजदूत, उच्चायुक्त, स्कालर और विभिन्न संस्थाओं के प्रतिनिधि शामिल हुए थे, जिनकी मौजूदगी में कुरुक्षेत्र के महत्व और गीता पर मंथन हुआ। 
... और पढ़ें

देश के लघु एवं मध्यम उद्योग झेल रहे तमाम परेशानी

हरियाणा चैंबर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज की एक महत्वपूर्ण बैठक निजी होटल में आयोजित हुई। बैठक में लघु एवं मध्यम उद्योगों की दिन प्रतिदिन खराब हो रही स्थिति को लेकर उद्योगपतियों, निर्यातकों एवं व्यवसायियों द्वारा चिंता व्यक्त की गई। इस बैठक की अध्यक्षता करते हुए हरियाणा चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज के जिलाध्यक्ष राजेंद्र सिंघल ने कहाकि लघु एवं मध्यम उद्योगों से देश की आर्थिक स्थिति पर प्रभाव पड़ता है। सरकार को इस ओर विशेष ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि आज उद्योग जगत को कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। उनमें प्रमुख बैंकों द्वारा समय पर कर्ज सुविधा न देना, बैंकों की ब्याज दर का अधिक होना तथा लेबर कानून में पेचीदगियों का होना देश उद्योग जगत के लिए खतरे की घंटी है।
प्रधान राजेंद्र सिंघल ने कहाकि लघु एवं मध्यम दर्जे के उद्योंगों की स्थिति सुधारने के लिए सरकार की नीतियों पर विचार करने की जरूरत है। उन्होंने सरकारी आंकड़ों पर चर्चा करते हुए बताया कि आज से आठ वर्ष पूर्व लघु एवं मध्यम दर्जे के उद्योगों से करीब साढ़े आठ करोड़ लोगों को रोजगार मिल रहे थे, जो अब केवल छह करोड़ लोगों तक ही सीमित रह गए हैं। सिंघल ने बताया कि देश की जीडीपी के अंदर भी लघु एवं मध्यम उद्योगों का 65 प्रतिशत योगदान था, जो अब केवल 45 प्रतिशत रह गया है।
उन्होंने बताया इन उद्योगों का देश का निर्यात में 53 प्रतिशत से घटकर 36 प्रतिशत रह गया है। इसके लिए उन्होंने ऑनलाइन मार्केटिंग को भी दोषी ठहराया है। बैठक में महासचिव डॉ. नरेंद्रपाल गुप्ता, रविंद्र अग्रवाल, ईश्वर गुप्ता, कुलवंत सैनी, पंकज बजाज, अशोक गोयल, मंगत राम, रोशन लाल गर्ग, नरेंद्र ढींगरा, केवल अरोड़ा, अमित गर्ग, सत प्रकाश गुप्ता, रचित बंसल, राजेश सिंगला, सुखबीर सिंह व सतपाल खुराना मौजूद रहे। ... और पढ़ें

गुरुकुल में जिला स्तरीय वुशू प्रतियोगिता आज

industrea
जिला वुशू संघ द्वारा 12वीं जिला स्तरीय वुशू प्रतियोगिता का आयोजन रविवार को गुरुकुल कुरुक्षेत्र में किया जाएगा। एसोसिएशन के महासचिव संतोष पासवान ने बताया कि प्रतियोगिता का शुभारंभ जिला वुशू संघ के अध्यक्ष धर्मवीर मिर्जापुर करेंगे। प्रतियोगिता में जिला कुरुक्षेत्र के 300 महिला, पुरुष खिलाड़ी विभिन्न भार वर्गों में भाग लेंगे। विजेता खिलाडिय़ों का चयन सितंबर में होने वाली हरियाणा राज्य स्तरीय वुशू प्रतियोगिता में किया जाएगा। इस प्रतियोगिता में आयु वर्ग 6 से 13, 14 से 17 और 18 से ऊपर भारवर्ग के खिलाड़ी हिस्सा ले सकेंगे। ... और पढ़ें

मारकंडा नदी उफान पर, किसान भयभीत

पहाड़ी क्षेत्र में हुई बरसात से मारकंडा नदी एक बार फिर से उफानाई हुई है। इससे नदी के तटबंधों के पास के गांवों के लोग तथा किसान भयभीत है। शनिवार को मारकंडा नदी में करीब सात हजार क्यूसेक पानी चल रहा था। मौसम के करवट बदलने, आसमान में छाए बादलों से और अधिक बरसात होने से मारकंडा नदी का जलस्तर बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।
मालूम हो कि जुलाई माह में भी कई बार मारकंडा नदी का जलस्तर बढ़ने से गांव झांसा, जलबेहड़ा, नैसी, मडाडों, शेरगढ़, जोधपुर, जैतपुरा, जंधेडी, बालपुर, दानीपुर व ठसका मीरांजी सहित दर्जन भर गांवों की हजारों एकड़ धान की फसल बरबाद हो चुकी है। किसान वीरेंद्र, बलदेव शर्मा, विक्की, अश्वनी, अनिल, गौरव आदि ने बताया कि इस समय किसानों ने धान फसल पर पूरा खर्च कर दिया है और फसल भी अपने निसारे पर है। ऐसे में मारकंडा नदी में आया उफान किसानों के लिए चिंता का विषय बना हुआ है।
नहरी विभाग के एसडीओ विनोद कुमार ने कहा कि मारकंडा नदी का जल स्त्तर खतरे के निशान से कम है। फिर भी विभाग के अधिकारी व कर्मचारी मारकंडा नदी के तटबंधों पर नजर बनाए हुए है। किसानों व डेरावासियों को घबराने की जरूरत नहीं है। ... और पढ़ें

सरपंच पति को मारने की नीयत से देसी कट्टे के साथ एक गिरफ्तार

गांव झांसा की सरपंच मीनू मल के पति पुनीत मल को मारने के इरादे से आए युवक को पुलिस की अपराध शाखा दो ने काबू किया। आरोपित के कब्जे से एक देसी कट्टा व एक कारतूस बरामद हुआ है। पुलिस ने आरोपित को अदालत में पेश किया, जहां से उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी ने बताया कि पुलिस की अपराध शाखा दो के मुख्य सिपाही लखन सिंह, दिलबाग, सिपाही सतपाल व चालक बलविंद्र सिंह थाना झांसा क्षेत्र में गश्त कर रहे थे। पुलिस ने झांसा बस अड्डे से एक युवक को शक के आधार पर काबू किया। उसने अपना नाम गांव झांसा के वार्ड नंबर चार निवासी गोल्डी बताया। तलाशी लेने पर उसके कब्जे से एक देसी कट्टा व एक कारतूस बरामद हुआ है। पूछताछ में बताया कि वह मोहन नगर निवासी नवदीप से ये लेकर आया था। आरोपित ने बताया कि गांव झांसा की सरपंच मीनू मल के पति पुनीत मल ने उसके पिता के खिलाफ किसी महिला के साथ मिली भगत करके छेड़छाड़ का मामला दर्ज कराया था व कोर्ट में गवाही भी दी थी, इसलिए वह सरपंच पति को मारने की नीयत से देसी कट्टा ले कर आया था। एसपी ने बताया कि आरोपी के खिलाफ थाना शहर थानेसर में पहले ही दो मामले दर्ज हैं, जिनमें एक मामला मारपीट और दूसरा मामला हवाई फायर करने का और इसके अलावा एक मामला थाना झांसा में भी मार-पीट का दर्ज है, जो सभी मामले कोर्ट में विचाराधीन है। कोर्ट में बुलाने पर वह कभी भी कोर्ट में पेश नही हुआ।
रक्षाबंधन के दिन देना था वारदात को अंजाम
एसपी आस्था मोदी ने बताया कि पुलिस की गहन पूछताछ में आरोपित गोल्डी ने बताया कि उसने सरपंच पति को रक्षाबंधन के दिन मारने का योजना बनाई थी, क्योंकि उस दिन पुनीत अपने घर पर ही होता। आरोपी इससे एक दिन पहले ही 14 अगस्त को पकड़ा गया। ... और पढ़ें

भाई को राखी बांध कर लौट रही बहन की सड़क दुघर्टना में मौत

रक्षाबंधन पर भाई की कलाई पर राखी बांध कर बहन हमेशा के लिए भाई से दूर हो गई। अपने पति तेजपाल के साथ भाई को राखी बांधने के अगले दिन मोटरसाइकिल से वापिस आ रही 45 वर्षीय गांधी नगर वासी बबली देवी की मथाना के पास सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। इस दौरान पति को मामूली चोटें आई। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस ने मौके पर पहुंच महिला के शव को कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम करा शव परिजनों को सौंप दिया।
जानकारी देते हुए महिला के पति तेजपाल ने बताया कि वह वीरवार को रक्षाबंधन वाले दिन अपनी पत्नी के साथ यमुनानगर के गांव छछरौली अपने ससुराल गया था। शुक्रवार को वहां से वापस आते समय मथाना के पास सड़क पर चल रही एक ट्रैक्टर ट्राली को जब वे ऑवरटेक करने लगे तो साइड से गुजरी एक तेज रफ्तार कार के कारण उनका संतुलन बिगड़ गया और वे सड़क पर गिर गए। तभी पीछे से आ रही ट्राली का टायर उसकी पत्नी के सिर पर चढ़ गया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। दुर्घटना में पति को काई चोट नहीं आई। पुलिस ने सूचना मिलते ही मौके पर पहुंच शव को कब्जे में ले लिया और पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौंप दिया। ... और पढ़ें

पिस्तौल दिखाकर ट्रक चालक से छीने आठ लाख रुपये

थाना सदर के अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित गांव खानपुर कोलियां के समीप पिस्तौल के बल पर छह युवक ने एक ट्रक चालक से आठ लाख रुपये की पेमेंट व ट्रक छीन लिया। आरोपित चालक व परिचालक को रास्ते में उतार कर फरार हो गए। पुलिस ने शिकायत के आधार पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
सोनीपत के सेक्टर-23 निवासी कृष्ण ने थाना सदर में शिकायत दर्ज कराई कि 13 अगस्त की रात को उसने चालक गोहाना निवासी अमित कुमार व सह चालक विनोद कुमार को एक पैकेट में आठ लाख रुपये अखबार में लपेट कर टैप लगा कर लुधियाना से सोया लाने के लिए दिए थे। इसके अलावा साढ़े 11 हजार रुपये गाड़ी के खर्च के लिए दिए। रात 11 बजे चालक अमित कुमार ने उसके मोबाइल पर फोन किया कि जीप सवार छह युवकों ने पिस्तौल के बल पर ट्रक को रोका। पहले उन युवकों ने कागज मांगे और फिर चालक व सहचालक को जीप में बैठा लिया। युवकों में से दो युवक ट्रक को लेकर चले गए। चालक व सहचालक को युवकों ने शाहाबाद से बराड़ा रोड पर लगभग तीन किलोमीटर की दूरी पर उतार कर खेतों में छोड़ दिया। आरोपितों ने उन्हें कहा कि अगर वे रुके तो गोली मार देंगे। पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ लूट व शस्त्र अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। ... और पढ़ें

धर्मनगरी में बर्फ के शिवलिंग पर पहुंचा सफेद कबूतरों का जोड़ा

कुरुक्षेत्र। सावन मास के चलते वैसे तो धर्म नगरी के सभी शिव मंदिरों में श्रद्धालुओं की आस्था देखते ही बनती है, लेकिन बाहरी गांव का श्री नाभेश्वर महादेव मंदिर शिव भक्तों के लिए विशेष आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। भगवान भोले नाथ के भक्त यहां बाबा अमरनाथ की तर्ज पर बने बर्फ के शिवलिंग के दर्शन करने पहुंच रहे हैं। बर्फ के शिवलिंग के साथ यहां दो सफेद कबूतर भी विचरण कर रहे हैं, जिससे मंदिर में पूजा अर्चना और दर्शनों के लिए श्री नाभेश्वर महादेव मंदिर में शिव भक्तों की भारी भीड़ उमड़ रही है। हर समय यहां हर-हर महादेव, बम बम भोले और ओम नम: शिवाय का उद्घोष हो रहा है। श्रद्धालु सागर ने बताया कि जो लोग अमरनाथ की दुर्गम यात्रा में जा कर भगवान भोले नाथ के विशाल बर्फ के शिवलिंग के दर्शन नहीं कर सकते, उनके लिए कुरुक्षेत्र में ही बाबा अमरनाथ की तर्ज पर बर्फानी गुफा का पवित्र शिवलिंग श्री नाभेश्वर महादेव मंदिर में मौजूद है। उन्होंने बताया भगवान शंकर तथा उनके दो सफेद कबूतरों के दर्शनों के लिए दूरदराज से श्रद्धालु पहुंच रहे हैं। मंदिर से ही जुड़े शिव भक्त अशोक कुमार ने बताया मंदिर में बाबा अमरनाथ की तर्ज पर इस बर्फ के शिवलिंग को बर्फ की सिल्लियां लाकर बनाया गया है और बर्फ के शिवलिंग के साथ जीवित विचरण करते कबूतर मौजूद हैं। उन्होंने बताया कि बाहरी गांव में 23 मार्च 1977 को शिवलिंग रूप में स्वयं भगवान शंकर का आश्चर्य जनक अवतरण हुआ था। तभी से श्री नाभेश्वर महादेव मंदिर में शिव भक्तों की गहरी आस्था है। ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree