विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को
Astrology Services

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

प्रेमी जोड़े को जूतों की माला पहना गांव से निकाला, गुप्तांग में सरिया डालने समेत लगे ये आरोप

करनाल थाना सदर क्षेत्र में एक प्रेमी जोड़े की पिटाई करने के बाद मुंह काला करने और जूतों की माला पहनाकर गांव में घुमाने का मामला प्रकाश में आया है।

22 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

अंबाला

गुरूवार, 22 अगस्त 2019

बुकिंग कार्यालय में कुली को जड़ा थप्पड़, डीआरएम तक पहुंचा विवाद

रेलवे स्टेशन छावनी पर मौजूद कुली महाबीर को बुकिंग कार्यालय में मौजूद एक कर्मी ने थप्पड़ जड़ दिया। इतना ही नहीं कर्मी ने कुली के साथ जमकर दुव्र्यवहार भी किया। जब अपनी शिकायत लेकर कुली स्टेशन मैनेजर के पास पहुंचा तो उन्होंने भी उसकी एक न सुनी। दोपहर करीब साढ़े 3 बजे से लेकर रात तक कुली यहां से वहां भटकते रहे। लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई तो रात करीब साढ़े 9 बजे कुली सीधे डीआरएम आवास पहुंचे। वहां पर उनकी शिकायत सुनी गई।
हुआ यूं कि कुली महावीर 24 नंबर कमरे में अपना रेलवे का पास बनाने के लिए गया। मौके पर मौजूद एक हेड क्लर्क ने उसे बुकिंग कार्यालय में काम के लिए भेज दिया। काउंटर पर गए तो वहां मौजूद एक कर्मी ने काम से इंकार कर दिया जबकि दूसरे गालियां दे दी। इसके बाद उक्त कर्मी ने कुली को थप्पड़ दिया। मामला तूल पकड़ गया और सभी कुली मिलकर स्टेशन मैनेजर बीएस गिल के पहुंचे। उन्होंने भी कुलियों की कोई सुनवाई नहीं की। लिहाजा सारे कुली एकजुट होगा डीआरएम, एडीआरएम व सीनियर डीसीएम के पास पहुंचे। रात करीब साढ़े 9 बजे डीआरएम के घर पर ही सभी अफ सर मौजूद थे। अधिकारियों ने आश्वासन दिया कि जिसने भी दुव्र्यवहार किया है उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। मौके पर महाबीर सिंह, तारा सिंह, शंकर, महेंद्र, चेतराम, चुन्नी लाल, अनिल यादव, संजय, महेंद्र, रमेश इत्यादि करीब 60 कर्मी मौके पर मौजूद। ... और पढ़ें

आरोप ः डाॅक्टरों की लापरवाही से बच्चे की गर्भ में हुई मौत

डाक्टरों की लापरवाही से 9 माह की 24 वर्षीय गर्भवती मोहिता पेट में पल रहे अजन्मे ने मंगलवार को दम तोड़ दिया। परिजनों ने आरोप लगाते हुए कहा कि वह अपनी बेटी को लेकर सोमवार शाम को अस्पताल पहुंचे थे लेकिन वहां उस पर किसी ने ध्यान नहीं दिया। वह दर्द से तड़पती रही लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।
शाम छह बजे से लेकर रात साढ़े 9 बजे तक उसे किसी ने नहीं देखा। इसके बाद जब उसे रात को देखा तो मौके पर मौजूद स्टाफ ने बच्चे की धड़कनें देखी लेकिन कोई स्थिति स्पष्ट नहीं की। साथ ही अल्ट्रासाउंड कराने की बात कही। लेकिन अस्पताल में सोमवार को सरकारी अवकाश और मंगलवार को अल्ट्रासाउंड करने वाले एकमात्र डाक्टर अवकाश पर थे। इसीलिए वहां अल्ट्रासाउंड नहीं हो पाया। परिजन शहर के एक निजी अस्पताल में उसे लेकर पहुंचे लेकिन वहां भी 11 बजे के बाद ही अल्ट्रासाउंड करने की बात कही गई लिहाजा परिजन उसे छावनी के एक निजी अस्पताल में लेकर पहुंचे जहां अल्ट्रासाउंड के बाद डाक्टर ने बताया कि गर्भ में पल रहा मासूम दम तोड़ चुका है।
क्या है पूरा मामला
पीड़िता की मां नाहन हाउस निवासी अनीता ने बताया कि उन्होंने करीब 3 साल पहले अपनी बेटी मोहिता की शादी मोहड़ा संगरूर पंजाब निवासी सुखविंद्र से की थी। जब उसकी बेटी 7वें महीने में थी तो वह अपने मायके अंबाला आ गई थी। उसका इलाज शहर नागरिक अस्पताल में ही चल रहा था। डॉक्टर ने उसे बताया था कि 14 अगस्त को 9 महीने पूरे होंगे। लेकिन 8 अगस्त की शाम करीब 5 बजे अचानक मोहिता को दर्द हुआ। उसे लेकर नागरिक अस्पताल पहुंचे। जहां से उसे पीजीआई सेक्टर 32 में रेफर कर दिया गया। वहां रातभर उसे रखा गया और डाक्टरों ने इंजेक्शन उसे लगाया। इससे उसका दर्द बंद हो गया। इसलिए उसे वापस घर भेज दिया। 12 अगस्त की शाम मो मोहिता के पेट में दर्द शुरू हो गया। उसे लगा कि बच्चा पेट में हलचल नहीं कर रहा। इसलिए परिजन उसे शाम करीब 6 बजे अस्पताल ले गए। आरोप हैं कि वहां उसे समय पर इलाज नहीं मिला। इसी कारण बच्चे ने दम तोड़ दिया। ... और पढ़ें

अब आम नहीं रहेगा मॉल रोड, कांग्रेस के पंजे के दम पर सेना की जीत

सेना और सिविलियन के बीच माल रोड को लेकर करीब 29 साल से चल रहा विवाद मंगलवार को खत्म हो गया। कांग्रेस के पंजे के दम पर सेना की इस मुद्दे पर जीत हुई और भाजपा के पार्षदों का सदन में बहुमत होने के बावजूद उन्हें हार का सामना करना पड़ा। जिससे अब माल रोड आम नहीं रहेगा और इसे सिविलियन के लिए बंद कर दिया जाएगा। मॉल रोड बंद करने को लेकर करीब 40 मिनट तक कैंटनोमेंट बोर्ड हाउस की बैठक में तर्क-वितर्क चला जो कि किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सका। जिसके बाद बोर्ड के सीईओ अनुज गोयल ने वोट डलवाने के आदेश दिए। करीब 10 मिनट चली वोटिंग के बाद 8 वोट सेना के पक्ष में पड़े जबकि सिविलियन के पक्ष में 6 पार्षदों ने वोट पड़े। हाउस में मौजूद एक सदस्य ने वोटिंग ही नहीं की।
सैर के लिए और एंबुलेंस व फायर बिग्रेड को मिलेगी छूट
बिग्रेडियर एसएस सिद्धु ने सदन में यह स्पष्ट कर दिया कि सुबह और शाम की सैर करने वाले सिविलियन के लिए माल रोड पर कोई दिक्कतें नहीं आएंगी। वहीं एंबुलेंस और फायर बिग्रेड के अलावा जिन लोगों के वहां पर बंगले या आवास है उन्हें सेना स्टीकर या पास जारी कर देगी ताकि किसी को दिक्कतें न आएं। लेकिन आम नागरिक और वाहनों की आवाजाही इस रोड पर हमेशा के लिए बंद हो जाएगी।
इस तरह दो कांग्रेसी पड़े छह भाजपाइयों पर भारी:-
दरअसल सदन में 8 पार्षद हैं। इनमें अजय बवेजा, आसीमा, नीलम रानी, सन्नी, वीरेंद्र गांधी, सुरेंद्र तिवारी, राजू बाली और लक्ष्मी देवी शामिल हैं। इनमें वीरेंद्र गांधी और सुरेंद्र तिवारी दोनों कांग्रेसी पार्षद हैं। वहीं सदन में सेना की और डिप्टी जीओसी बिग्रेडियर एसएस सिद्धु, कर्नल विजय माथुर, कर्नल आरएस दलाल, कर्नल विभोर पंथ, कर्नल आरडी देसाईं और कर्नल दीपांकर गोगई के अलावा कैंटोमेंट बोर्ड के सीईओ अनुज गोयल शामिल हैं। इस तरह कुल 15 सदस्यों का सदन हैं। इस तरह छह पार्षद भाजपा के होने के कारण उन्हीं का बहुमत है। लेकिन सेना के साथ दो कांग्रेसी मिलने से उनका पलड़ा भारी हो गया और 8 वोट सेना को मिलने से सेना की जीत हो गई।
एक वोट किसने नहीं किया को लेकर विवाद:
भाजपा के सभी पार्षदों ने दावा किया कि उन्होंने सिविलियन के पक्ष में वोटिंग की। यदि छह के छह पार्षदों ने वोटिंग में हिस्सा लिया तो इसका मतलब आर्मी की ओर से एक वोट नहीं पड़ा लेकिन आर्मी तो लंबे समय से इस रोड को बंद करना चाहती थी। ऐसे में एक वोट का प्रयोग किसने नहीं किया यह एक सवाल है। वहीं कांग्रेसी पार्षदों ने भाजपाइयों को घेरते हुए कहा कि उनके ही एक पार्षद ने उनके पक्ष में वोट नहीं डाली। ... और पढ़ें

गांव खेड़ा में घर में जली हालत में मिला शव

मुलाना। खेड़ा गांव की एक विवाहिता ने नारायणगढ़ स्थित एक स्वीट हाउस के मालिक पर उसके पति को जलाकर मारने का आरोप लगाया है। महिला ने बताया कि उसका पति उसी स्वीट हाउस में काम करता था। वहीं घटना की सूचना मिलते ही मुलाना पुलिस मामले की जांच में जुट गई। खेड़ा गांव निवासी रेखा के अनुसार उसका 38 वर्षीय पति मायाराम पिछले छह महीने से नारायणगढ़ में एक स्वीट हाउस में काम करता था। रेखा ने पुलिस को बताया कि बुधवार सुबह उसका पति काम पर चला गया और कुछ देर बाद वह भी कहीं चली गई। वह दोपहर करीब 1 बजे घर पहुंची तो देखा कि उसके पति का शव जली अवस्था में पड़ा था। विवाहिता ने स्वीट हाउस के मालिक पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने उसके पति की जलाकर हत्या की और शव को उसके घर पर छोड़ दिया। सूचना मिलते ही डीएसपी नारायणगढ़ अमित कुमार मौके पर पहुंच गए। वहीं मृतक के चचेरे भाई सोमनाथ ने बताया कि वह बुधवार को स्वीट हाउस पर नहीं गया था।
सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई थी। मृतक के चचेरे भाई सोमनाथ ने ऐसी कोई शिकायत नहीं दी है। मौत के कारणों का पता पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद पता चलेगा।
- अमरजीत सिंह, इचार्ज, कलालटी चौकी। ... और पढ़ें

गांव कक्कड़ माजरा से अवैध शराब से भरी पिकअप पकड़ी

शहजादपुर। राष्ट्रीय राजमार्ग-73 पर स्थित गांव कक्कड़ माजरा के निकट से शहजादपुर पुलिस ने 118 पेटी अवैध शराब से भरी पिकअप पकड़ी है। जानकारी के अनुसार मंगलवार की रात को शहजादपुर पुलिस को सूचना मिली थी कि शराब से भरी एक महिंद्रा पिकअप गाड़ी कक्कड़माजरा की तरफ से गांव मुकंदपुर तरफ जाएगी। इस पर पुलिस ने गांव कक्कड़ माजरा से मुकंदपुर के बीच नाकेबंदी कर दी। करीब ढाई बजे पुलिस ने पिकअप को रोकर तलाशी ली तो उसमें से 118 पेटी अंग्रेजी व देशी शराब बरामद हुई। इस दौरान पकड़े गए आरोपी की पहचान गांव मुकंदपुर निवासी प्रदीप कुमार के रूप में हुई। जांच अधिकारी श्याम लाल ने बताया कि पिकअप से अलग-अलग ब्रांड की 118 पेटी अवैध शराब बरामद कर कब्जे में ली है। आरोपी को डीटीसी अंबाला आबकारी विभाग के समक्ष पेश किया जाएगा। इसके बाद आगामी कार्रवाई की जाएगी। गौर हो कि क्षेत्र में नशे के खिलाफ कई गांवों के लोग व पंचायत प्रतिनिधि डीसी अंबाला को मिलकर अवगत करवा चुके हैं। इसके बाद भी नशे पर लगाम नहीं लग पा रही है। ... और पढ़ें

कुत्ते को बचाने के चक्कर में पलटी एक्टिवा, एयरफोर्स स्कूल की शिक्षिका की मौत

अंबाला सिटी। एयरफोर्स स्कूल की शिक्षिका किरण धीमान की की सड़क हादसे में मौत हो गई। हादसा उस वक्त हुआ जब शिक्षिका मंगलवार सुबह अपने पति के साथ स्कूटी पर स्कूल जा रही थी। इसी दौरान सामने कुत्ता आ जाने से उन्होंने ब्रेक लगा दी। छावनी के नागरिक अस्पताल में शिक्षिका के शव का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौंप दिया गया।
एयरफोर्स से रिटायर्ड सुशील कुमार अपनी पत्नी छोट्टा खुड्डा निवासी किरण धीमान (39) को साहा स्थित सैन्य स्कूल में छोड़ने जा रहे थे। इसी दौरान उनकी स्कूटी के सामने कुत्ता आ गया। मिट्ठापुर के पास कुत्ते को बचाने के लिए उन्होंने स्कूटी को ब्रेक मार दी, जिससे स्कूटी पलट गई। सिर में चोट लगने से किरण गंभीर रूप से घायल हो गई। उसे छावनी के सैन्य अस्पताल में लाया गया। यहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। जांच अधिकारी हेडकांस्टेबल राजीव के अनुसार आवारा कुत्ते की वजह से यह हादसा हुआ है। सुशील के बयान पर साहा पुलिस ने इत्तेफाकिया कार्रवाई की। गौर हो कि लावारिस पशुओं के कारण हादसे थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। दो दिन पूर्व शहर में एक कांग्रेसी कार्यकर्ता व उसका सहयोगी सड़क पर लड़ रहे सांडों की चपेट में आकर घायल हो गए थे। ... और पढ़ें

खुड्डा स्कूल से विज्ञान संकाय खत्म कर बच्चों को सपहेड़ा स्कूल में शिफ्ट करने के आदेश, रोष

अंबाला। खुड्डा कलां के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल से मंगलवार को विज्ञान संकाय खत्म करने का परिजनों ने विरोध जताया है। परिजनों का आरोप है इस निर्णय से छात्रों की दिक्कत बढ़ गई है। स्कूल से जुड़े गांवों के लोगों ने मामले को लेकर कुरुक्षेत्र के सांसद नायब सैनी से भी मुलाकात की है। फिलहाल ग्रामीणों को राहत मिलती नजर नहीं आ रही है। प्रिंसिपल वत्सला शर्मा ने कहा कि वे खुद नहीं चाहती कि उनके स्कूल से विज्ञान संकाय खत्म हो। डीईओ से लेकर वे कई शिक्षा अधिकारियों से मामले में हस्तक्षेप का आग्रह कर चुकी हैं।
11 छात्रों को तुरंत सपेहड़ा जाने के आदेश
खुड्डा कलां के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल में इस समय नॉन मेडिकल के 11 छात्र हैं। यहां विज्ञान संकाय समाप्त होने के बाद इन छात्रों को तुरंत प्रभाव से सपेहड़ा के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल में शिफ्ट होने के आदेश दिए हैं। छात्रों के लिए बड़ी दिक्कत स्कूल की दूरी को लेकर है। खुड्डा से सपेहड़ा स्कूल के बीच दूरी करीब साढ़े तीन किलोमीटर है। ऐसे में उन छात्रों की मुश्किल बढ़ गई जोकि दूसरे गांवों से खुड्डा में पढ़ने के लिए आते हैं। इन छात्रों को अब आठ से दस किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ेगी। रिजल्ट व व्यवस्थाओं के लिहाज से भी छात्र व उनके परिजन खुड्डा स्कूल को बेहतर बता रहे हैं। इसी वजह से ये छात्र दूसरे स्कूल में शिफ्ट नहीं होना चाहते। परिजनों की ओर से इस सिलसिले में सीएम मनोहर लाल, सांसद नायब सैनी व शिक्षा अधिकारियों को भी लेटर भेजा है।
खुड्डा स्कूल में विज्ञान का परिणाम बेहद शानदार है। मैं खुद नहीं चाहती कि विज्ञान संकाय यहां से शिफ्ट हो। शिक्षा अधिकारियों से मैंने आग्रह किया है। शिफ्टिंग न रुकने से छात्रों की दिक्कत तो बढ़ना लाजिमी है। फिर भी मैं कोशिश कर रही हूं। बच्चों के परिजन भी अपने स्तर पर जोर लगा रहे हैं। - वत्सला शर्मा, प्रिंसिपल, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल, खुड्डा कलां ... और पढ़ें

अब राजीव गांधी स्टेडियम में 2.63 करोड़ की लागत से बनेगा सामान्य स्वीमिंग पूल

अंबाला शहर। 10 करोड़ की लागत से अंबाला शहर के राजीव गांधी खेल स्टेडियम में बनने वाला ऑल वेदर स्वीमिंग पूल अब 2.63 करोड़ में सिमट गया है। न केवल इसका बजट अब करीब साढ़े 7 करोड़ रुपये घटाया गया है बल्कि अब नए सिरे से इसका स्वरूप तैयार कर दिया गया है। अच्छी बात यह है कि अब इस स्वीमिंग पूल की राह में कोई रोड़ा नहीं रहा। अब यहां साधारण स्वीमिंग पूल बनाने का न केवल टेंडर जारी किया गया है बल्कि इसे बनाने का ठेका कुरुक्षेत्र की बीएस कंस्ट्रक्शन को जारी कर दिया गया है। यह ठेका 5 अगस्त को जारी किया गया है। इतना ही नहीं ठेकेदार को एक साल के भीतर इस स्वीमिंग पूल को बनाकर विभाग के सुपुर्द करना होगा।
3 साल खूब चली स्वीमिंग पूल को लेकर राजनीति
शहर के राजीव गांधी खेल स्टेडियम पर तीन साल खूब राजनीति चली। मुख्यमंत्री
मनोहर लाल ने इस खेल स्टेडियम में ऑल वेदर स्वीमिंग पूल बनाने की घोषणा की
28 मई 2016 थी। इसके लिए 10 करोड़ का प्रस्ताव भी बनाया गया। सब कुछ
ठीक-ठाक चल रहा था, लेकिन अचानक इस प्रोजेक्ट पर 2018 में ब्रेक लग गई।
घोषणा हुई कि यहां साधारण स्वीमिंग पूल ही बनाया जाएगा। वहीं छावनी में साधारण
स्वीमिंग पूल की जगह आल वेदर स्वीमिंग पूल बनाने की घोषणा हो गई। छावनी के
वार हीरोज स्टेडियम में इसका निर्माण कार्य चल भी रहा है। इस तरह शहर के हाथ
से आल वेदर स्वीमिंग पूल निकल जाने के बाद राजनीतिक गलियारों में तरह-तरह की
चर्चाएं हुई थी। स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज और शहर विधायक असीम गोयल के
बीच बयानबाजी भी इस स्वीमिंग पूल को लेकर सुर्खियों में रही थी। इन सब के बीच
तीन साल बाद अब इसका टेंडर अलॉट किया गया है।
बताया गया था तकनीकी कारण
कारण चाहे अधिकारी जो भी बता रहे हों, लेकिन शहर में ऑल वेदर स्वीमिंग पूल न
बनने के पीछे मुख्य कारण राजनीति ही रहा। हालांकि अधिकारियों ने दावा किया था
कि पूल को लेकर आई तकनीकी कमेटी ने ऑल वेदर प्रोजेक्ट में तकनीकी खामियां
बताई थीं। इसीलिए इसे साधारण का रूप देना पड़ा। इस पूल को बैडमिंटन हाल के
साथ पड़ी जगह पर बनाना प्रस्तावित किया है। आल वेदर के हिसाब से स्टैंडर्ड साइज
25 गुना 50 मीटर है। इसमें पार्किंग की व्यवस्था, फिल्टरेशन प्लांट, सोलर
प्लांट, चेंजिंग रूम व शौचालयों का प्रावधान है। हालांकि, इंडोर के हिसाब से इस
प्रोजेक्ट में तकनीकी खामी बताते हुए साधारण पूल बनाए जाने का प्रोजेक्ट उच्च
अधिकारियों को भेज दिया गया था।
स्वीमिंग पूल को बनाने का टेंडर कुरुक्षेत्र की एक कंपनी को जारी कर दिया गया है।
जल्द ही इस स्वीमिंग पूल के निर्माण कार्य का उद्घाटन किया जाएगा। यह स्वीमिंग
पूल मुख्यमंत्री की घोषणाओं में से एक है। - राजबीर सिंह, एसडीओ, हुडा ... और पढ़ें

प्रदेश की ढाई करोड़ जनता मेरा परिवार : मनोहर लाल

अंबाला सिटी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि प्रदेश की ढ़ाई करोड़ जनता मेरा परिवार है। मैंने व मेरी टीम ने परिवार के हितों को ध्यान में रखते हुए बिना भेदभाव के विकास करवाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्षों में अंबाला सिटी विधानसभा में 600 करोड़ के विकास कार्य करवाए गए हैं। सीएम देर शाम सिटी में जन आशीर्वाद यात्रा के भव्य स्वागत पर कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यहां नौरंगराय तालाब का जीर्णोद्धार, बस स्टैंड का निर्माण, तारामंडल का निर्माण व महावीर पार्क का निर्माण हो रहा है। इससे पहले यहां पहुंचने पर विधायक असीम गोयल ने मुख्यमंत्री को पगड़ी पहनाकर तलवार भी भेंट की। सीएम ने कहा कि सिटी में नागरिक अस्पताल को 200 से 300 बिस्तर का करना व माता गुजरी के नाम से लखनौर साहिब में 37 करोड़ रुपये की लागत से वीएलडी कॉलेज का शिलान्यास किया गया है। यहां विधायक असीम गोयल ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल व जन आशीर्वाद यात्रा में साथ चल रहे अन्य नेताओं का स्वागत करते हुए कहा कि हरियाणा में एक बार फिर मनोहर लाल की नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने जा रही है। यहां पहुंचने पर जन आशीर्वाद यात्रा का कालका चौक व बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ चौक पर पर विधायक असीम गोयल, जिला प्रधान जगमोहन लाल कुमार, प्रदेश प्रवक्ता संजय शर्मा, एडवोकेट जनरल ब्रिजेश शर्मा सहित अन्य पदाधिकारियों ने भव्य स्वागत किया था। ... और पढ़ें

ट्रैक से छू गया बारिश का पानी, रेलवे को करनी पड़ीं 19 ट्रेन डायवर्ट, कई रद्द

अंबाला। भारी बरसात के चलते और मारकंडा का जलस्तर खतरे के निशान से पार होने के बाद रविवार रात अंबाला के दुखेड़ी में रेलवे के गार्डर पर पानी पहुंच गया। इसी कारण अंबाला कैंट से पानीपत, दिल्ली, गाजियाबाद और मुरादाबाद को जाने वाली 19 ट्रेनों को रेलवे ने डायवर्ट कर दिया। इनमें मुंबई-अमृतसर गोल्डन टेंपल मेल, बिलासपुर-अमृतसर एक्सप्रेस, कोलकाता-जम्मू एक्सप्रेस, हावड़ा-अमृतसर मेल, बनारस-जम्मू एक्सप्रेस, धनबाद-फिरोजपुर एक्सप्रेस, बरोनी-जम्मू एक्सप्रेस, हावड़ा-जम्मू एक्सप्रेस, जम्मू-बनारस एक्सप्रेस, चंडीगढ़-लखनऊ एक्सप्रेस 12312 और 15012, अमृतसर-बिलासपुर एक्सप्रेस, अमृतसर-हावड़ा एक्सप्रेस, अमृतसर-हावड़ा मेल, फिरोजपुर-धनबाद एक्सप्रेस 13308, अमृतसर-धनबाद एक्सप्रेस 15212, अमृतसर-मुंबई गोल्डन टेंपल 12904 और चंडीगढ़-डिबरूगढ़ एक्सप्रेस को रद्द किया गया है। इसके अलावा अंबाला एक्सप्रेस 14522, 14521, अंबाला-दिल्ली एक्सप्रेस 14681, 14682, न्यू दिल्ली-जालंधर सिटी एक्सप्रेस, श्री माता देवी कटरा-ऋषिकेश-हेमकुंट एक्सप्रेस 14610, श्री माता देवी कटरा-ऋषिकेश-हेमकुंट एक्सप्रेस 14609 आज भी रद्द रहेंगी। इसके अलावा जम्मू तवी-अहमदाबाद एक्सप्रेस 19224 को पठानकोट-जालंधर सिटी, लुधियाना, मोगा, फिरोजपुर से डायवर्ट किया गया है। सहरसा-अमृतसर जनसेवा एक्सप्रेस 14617 और कोलकाता-अमृतसर अकालतख्त 12317 को हापुड़, मेरठ सिटी, सहारनपुर से डायवर्ट किया गया है। फिरोजपुर-धनबाद सतलुज एक्सप्रेस 13308 को फिरोजपुर, मोगा, लुधियाना, अहमदाबाद-श्री माता वैष्णोदेवी कटरा एक्सप्रेस 19415 और बठिंडा-जम्मू तवी एक्सप्रेस 19225 को फिरोजपुर, लुधियाना, जालंधर सिटी से डायवर्ट किया गया है। ... और पढ़ें

दादुपुर नलवी नहर के तटबंध कई जगह से टूटे, कई गांव जलमग्र फसलें भी डूबी

बराड़ा। बरसाती पानी के साथ मारकंडा की मार झेल रहे कस्बे के लोगों पर सोमवार सुबह एक और आफत पड़ गई। दादुपुर नलवी नहर के तटबंध गांव सुभरी के पास कई जगह से टूट गए। जैसे ही तटबंध टूटे तो नहरी पानी गांव सुभरी, राजोखेड़ी व उगाला स्थित खेतों में घुस गया। इससे धान की 150 से ज्यादा एकड़ फसल डूब गई। इतना ही नहीं गांव सुभरी की गलियों में पानी भर गया। लोगों ने अपने स्तर पर बांध पर मिट्टी डालकर उसे बंद करना चाहा, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। सुबह 7 बजे से दोपहर 11 बजे तक गांव और अपनी फसलों को बचाने के प्रयास में ग्रामीण जुटे रहे। मगर सफल न हो पाए
नदी का पानी तेज रफ्तार से गांव और खेतों में घुस रहा था। जिला प्रशासन के साथ-साथ किसानों और ग्रामीणों के भी इस विकट स्थिति में पसीने छूट रहे थे। इसके बाद दोपहर करीब 11 बजे प्रशासन की ओर से जेसीबी मंगवाई गई। इसे कई जगह से तटबंध पर मिट्टी सेट कर ठीक किया। वहीं कई जगह पर मिट्टी के बैग रख पानी रोका गया। सुभरी गांव के धीर सिंह, शक्ति सिंह, पवन कुमार, सानू व महिन्द्र ने बताया कि बरसात के कारण दादुपुर नलवी नहर में पानी भर जाने से तटबंध टूट गए। लोगों ने सुबह देखा कि खेतों व गांव में पानी घुस गया है। जब लोगों ने नहर के किनारे जा कर देखा तो नहर के कई जगह से तट बंध टूटे हुए थे। जबकि कई जगह किनारों के नीचे से पानी खेतों में जा रहा था। लोगों ने बताया कि गांव में कई कई फुट पानी गलियों में भर गया। लोगों ने बताया कि कई घरों में पानी भर गया था। जिसे निकाल दिया गया। वहीं सिंचाई विभाग के एक जेसीबी पहुंची, जिससे नहर के तटबंध पर मिट्टी डाल कर सही किए गए। ... और पढ़ें

एसई ने लगाई फटकार बोले, सबको कर दूंगा सस्पेंड, ईस्ट सब डिवीजन ने बिठा दिया भट्ठा

अंबाला सिटी। सबको सस्पेंड कर दूंगा। ईस्ट सब डिवीजन ने तो भट्ठा बिठा रखा है...। बिजली निगम के उपभोक्ता कष्ट निवारण फोरम की बैठक में आई समस्याओं से परेशान एसई आरके खन्ना ने सोमवार को कुछ इसी तरह अधिकारियों को फटकार लगाई। ईस्ट सब डिवीजन में सबसे ज्यादा समस्याएं पहुंची थीं। इसीलिए गुस्साए एसई ने सीए सूरज कुमार को फोन मिलाकर जमकर फटकार लगाई। एसई बोले कि छोटे-छोटे कार्य के लिए जनता को यहां तक आना पड़ रहा है। हालांकि बैठक में 11 लोग ही समस्या लेकर पहुंचे थे, लेकिन इन 11 की ही सुनवाई में उपभोक्ता फोरम के चेयरमैन दीपक झा और एसई आरके खन्ना के पसीने छूट गए। बैठक सुबह करीब 11 बजकर 40 मिनट पर शुरू होकर 12 बजकर 56 मिनट तक चली। इस दौरान उपभोक्ता केडी शर्मा ने कहा कि एससी साहब हम तो आपके कारण चुप हैं, वरना आपके जेई कितना काम करते हैं यह आप भी अच्छे से जानते हैं।
उपभोक्ता बोला नहीं सुनी जाती समस्याएं, यहां तो होती है ड्रामेबाजी
दयालबाग छावनी से आए उपभोक्ता ओमप्रकाश ने कहा कि सरकार ने खुले दरबार इसीलिए लगवाने शुरू करवाए थे कि उपभोक्ताओं की समस्याओं का समाधान हो। लेकिन यहां पर तो ड्रामेबाजी होती है। उपभोक्ता ने यह बात उस समय कही जब एसई आरके खन्ना ने उसे कहा कि आपके ऊपर तो चोरी का केस बना है हम इसमें कुछ नहीं कर सकते। आपको कुछ कहना है तो कोर्ट में जाएं। इस पर ओमप्रकाश ने कहा कि 50 हजार रुपये का जुर्माना उस पर लगाया गया है। इस पर 50 हजार रुपये अदालत में खर्च कर दूं, मेरे पास इतने रुपये नहीं हैं। गलती आपके विभाग की है। तो इसका हर्जाना मैं क्यों दूं। ओमप्रकाश ने बताया कि उसने इस बारे में 22 नोटिस दिए हैं और 7 बार आरटीआई की अपील डाली, लेकिन कोई जवाब नहीं दे रहा है। दुखड़ा रोते हुए कहा कि 2010 में वाईएमपीएल कंपनी ने मीटरों का सर्वे किया था। लेकिन उस समय हमें कुछ नहीं बताया गया। 2017 में हमें बताया गया कि उस समय आपका मीटर स्लो चल रहा था। इसी कारण सात साल बाद मेरे ऊपर चोरी का केस डाल दिया गया। इस बारे में मैंने 20 मई 2019 और इससे पहले 18 जून 2019 को भी दरबार में शिकायत दी थी। उससे पहले भी 2018 में एप्लीकेशन दी, लेकिन उसे एसडीओ ने एक साल तक दबाए रखा। इसीलिए मेरे साथ अन्याय हो रहा है। ... और पढ़ें

मारकंडा में पहुंचा 32 हजार क्यूसिक पानी, घरों से लेकर खेतों तक पर छाए आफत के बादल

पहाड़ों पर हुई बरसात के चलते मारकंडा और बेगना बरसाती नदी का जल स्तर बढ़ गया है। लिहाजा इस नदी के आसपास के एरिया में रहने वाले लोगों की सांसे अटक गई हैं। मारकंडा को लेकर विभाग ने हाई अलर्ट कर दिया है। रविवार दोपहर साढ़े चार बजे तक मारकंडा नदी में 55 हजार क्यूसिक पानी आ चुका है जोकि खतरे के निशान से महज दो फीट नीचे है। अलबत्ता कई गांव में पानी घुस गया जिससे लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
इन गांवों में घुसा पानी
मारंकडा नदी का पानी गांव हेमा माजरा, ब्राह्मण माजरा और जफरपुर में घुस गया। गांव जफरपुर के लोगों को आवागमन में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। गांव जफरपुर में शनिवार रात को मारकंडा नदी का पानी ओवरफ्लो होने के कारण खेतों के रास्ते गांव की गलियों में घुस गया। गांव के रहने वाले सौरभ शर्मा, सुभाष शर्मा और अनिल राणा ने बताया कि मारकंडा नदी पूरे उफान पर है। पानी गांव में घुस जाने से बिजली का खंबा उखड़ कर गिर गया जिस कारण गांव के एक हिस्से में बिजली सप्लाई बाधित हो गई।
फसलें बर्बाद होने की कगार पर
बरसाती पानी खेतों तक पहुंच चुका है। इसी कारण सैकड़ों एकड़ धान की फसल बर्बाद होने के कगार पर है। अगर नदी में जल स्तर बढ़ा गया तो नदी के किनारे लगते गांव बिंजलपुर, पप्लौथा, हेमा माजरा, घेलड़ी, तंदवाल व खानपुरा गांव के खेतों में पानी घुस जाने से किसानों की फसले बर्बाद होने का खतरा मंडराने लगा है।
बाबा बालक नाथ मंदिर में फंसे श्रद्धालु
मुलाना में झाड़ु माजरा मार्ग पर मारकंडा पुल के पास बने बाबा बालक नाथ मंदिर परिसर में मत्था टेकने आए श्रद्धालु अचानक पानी का जलस्तर बढ़ने के कारण आश्रम में फंस गए। ग्रामीणों ने मशक्कत कर निकाला। आश्रम व आश्रम के आस पास लगभग चार फीट तक पानी एकत्रित हो गया है ।
खतरे के निशान से केवल दो फीट नीचे
नहरी विभाग एसडीओ मुलाना सुधीर कुमार ने बताया कि मारकंडा नदी का जलस्तर बहुत बढ़ गया है जिसके हाई अलर्ट जारी किया गया है। रविवार दोपहर साढ़े चार बजे तक मारकंडा नदी में 55 हजार क्यूसिक पानी आ चुका है। जिसका जलस्तर लगातार 10.5 फीट है। जोकि खतरे के निशान से दो फुट नीचे है। कालाआम क्षेत्र में मारकंडा नदी का पानी घटना शुरू गया है। यहां भी जल्द ही पानी घटने लगेगा। ... और पढ़ें

तीन बडे सब स्टेशन की सप्लाई ठप, शाम तक छावनी की दर्जनों कालोनियों में रहा ब्लैक आउट

बारिश के चलते छावनी के तीन बड़े सब स्टेशन की बिजली सप्लाई ठप हो गई। कई एरिया ऐसे हैं जहां पर शाम तक बिजली सप्लाई बहाल नहीं हो पाई। अलबत्ता उपभोक्ताओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। छावनी में बारिश का सिलसिला शनिवार से शुरू हुआ था लेकिन शाम को चार से पांच बजे बिजली की सप्लाई ने आंख मिचौली का खेल खेलना शुरू कर दिया। रात को जैसे ही बारिश तेज हुई तो बिजली की सप्लाई बंद हो गई। बारिश का सिलसिला पूरी रात जारी रहा। इसलिए बिजली की सप्लाई पूरी रात बंद रहीं। घरों के में इनवर्टर तक बंद हो गए हैं।
पूजा विहार में 20 घंटे से बिजली गुल
सब डिवीजन बब्याल के 66 केवी सब स्टेशन इंडस्ट्रीयल एरिया से जुड़े प्रभु प्रेम पुरम, पूजा विहार में बीते 20 घंटे से बिजली की सप्लाई नहीं है। पूजा विहार निवासी विजय, राकेश, मोहन, आरती, सुरजीत सिंह और आकाश चोपड़ा ने बताया कि कल शाम चार बजे बिजली की सप्लाई बंद हुई थी रविवार शाम चार बजे तक नहीं आई। बीते 20 घंटे की सप्लाई बंद होने से यहां के लोगों को बड़ी दिक्कत झेलनी पड़ रही है।
12 घंटे बंद रही बिजली
ब्राह्मण माजरा फीडर की बिजली सप्लाई शनिवार रात को 9 बजे बंद हुई थी पूरी रात बिजली नहीं आई। सुबह 9 बजे बिजली की सप्लाई बहाल हुई। इसीलिए फीडर से जुड़े करधान, नग्गल, खोजकीपुर, खुड्डा खुर्द, प्रोफसर कॉलोनी समेत अन्य एरिया में बिजली की सप्लाई रात भी बंद रहीं। रात भर लोगों को जागकर रात काटनी पड़ी।
हाथाीखाना और पालम विहार बंद
बारिश के चलते हाथीखाना और पालम विहार फीडर की बिजली की सप्लाई बंद रहीं। करीब 10 घंटे के पॉवर कट के बाद लोगों को बिजली सप्लाई नसीब हुई। पंजाबी बाग निवासी अमरजीत, रोहन, देशराज, अर्जुन सिंह ने बताया कि बारिश के चलते रात भर बिना बिजली सप्लाई रहना पड़ा। कोई अधिकारी फोन नहीं उठाता।
दुकानदार भी परेशान
छावनी के सदर बाजार, निकलसन रोड, राय मार्केट, रेलवे रोड, कबाड़ी बाजार समेत अन्य दर्जनों बाजार के दुकानदारों को शाम के वक्त बिजली की सप्लाई गुल होने से दिक्कत झेलनी पड़ी। दुकानदारों ने कहा कि त्योहारी सीजन में बिजली सप्लाई उनके लिए हमेशा दिक्कत पैदा करती है। ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree