विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

27 नए मामलों के साथ हरियाणा के 15 जिलों तक पहुंचा कोरोना, कुल संख्या हुई 103, 18 हजार लोग निगरानी में

हरियाणा के चरखी दादरी जिले में सोमवार को कोरोना पॉजिटिव केस सामने आया। इसके साथ ही प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या 77 हो गई।

6 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

रेवाड़ी

मंगलवार, 7 अप्रैल 2020

रेवाड़ी दिल्ली रोड स्थित गांव मसानी में लॉकडाउन के दौरान झोलाछाप डॉक्टर शराब बेचते हुए गिरफ्तार

रेवाड़ी के शेल्टर होम में मची खलबली, मजदूरों के बीच 14 के हाथों में लगी मिली क्वारंटीन की मोहर

सोमवार को रेवाड़ी के दिल्ली-जयपुर हाईवे स्थित मालपुरा में बनाए गए शेल्टर होम में उस समय खलबली मच गई, जब दर्जनों श्रमिकों के बीच 14 मजदूर ऐसे पाये गए जिनके हाथों पर क्वांरटीन की मोहर लगी थी। यह सभी कुछ दिन पहले ही गुजरात से यूपी जाने के लिए पैदल निकले थे लेकिन दो दिन पहले इन्हें राजस्थान में एक राहत शिविर में पकड़ने के बाद उनकी जांच के बाद उन्हें 14 दिन के लिए क्वांरटीन कर हाथों पर मोहर लगा दी थी।

लेकिन यह सभी चकमा देकर राहत कैंप से भाग निकले और सोमवार को रेवाड़ी पहुंच गए। रेवाड़ी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी अब सभी की दोबारा से जांच कर रहे है। सूचना के बाद आला अधिकारी भी शाम को शैल्टर होम पहुंचे। रेवाड़ी से होकर गुजरने वाले नेशनल हाइवे नंबर-8 पर मालपुरा गांव में जिला प्रशासन ने शैल्टर होम बना रखा था। इसकी जिम्मेदारी गांव के सरपंच मलखान सिंह के पास है। रविवार रात से यहां काफी संख्या में मजदूर रूके थे।

सोमवार सुबह मलखान सिंह की नजर एक मजदूर के हाथ पर पड़ी। उसके हाथ पर होम क्वांरटीन की मुहर लगी थी। ये देखते ही उन्होंने एक-एक मजदूर के हाथ चेक करवाए। ऐसा करने पर 14 मजदूर मिले, जिनके हाथ पर राजस्थान स्वास्थ्य विभाग ने होम क्वांरटीन की मुहर लगाई थी लेकिन वे नहीं रूके। 

रेवाड़ी के रास्ते यूपी के शामली जा रहे थे। मलखान सिंह ने इसकी सूचना पुलिस व स्वास्थ्य विभाग को दी। इसकी जानकारी मिलने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम मालपुरा पहुंची। उन्होंने एक-एक मजदूर से पूछताछ की। धारूहेड़ा स्वास्थ्य केंद्र के डॉ. जय प्रकाश का कहना है कि इन मजदूरों की मेडिकल हिस्ट्री को जाना है। अभी तक उनमें कोरोना जैसे कोई लक्षण नहीं मिले हैं। फिर भी जांच की जा रही है।
... और पढ़ें

गुजरात से चले श्रमिकों को राजस्थान में किया गया था होम क्वॉरंटीन, वहां से भागे तो धारूहेड़ा में धरे

सोमवार को रेवाड़ी के दिल्ली-जयपुर हाईवे स्थित मालपुरा में बनाए गए शेल्टर होम में उस समय खलबली मच गई, जब दर्जनों श्रमिकों के बीच 14 श्रमिक ऐसे पाये गए, जिनके हाथों पर क्वारन्टीन की मोहर लगी हुई थी। यह सभी कुछ दिन पहले ही गुजरात से यूपी जाने के लिए पैदल निकले थे, लेकिन दो दिन पहले इन्हें राजस्थान में एक राहत शिविर में पकड़ने के बाद उनकी जांच के बाद उन्हें 14 दिन के लिए क्वारन्टीन कर हाथों पर मोहर लगा दी थी। लेकिन वे सभी चकमा देकर राहत कैंप से भाग निकले और सोमवार को रेवाड़ी पहुंच गए। रेवाड़ी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी अब सभी की दोबारा से जांच कर रहे हैं। सूचना के बाद आला अधिकारी भी शाम के समय शेल्टर होम पहुंचे। रेवाड़ी से होकर गुजरने वाले नेशनल हाईवे नंबर-8 पर मालपुरा गांव में जिला प्रशासन ने शेल्टर होम बना रखा था। इसकी जिम्मेदारी गांव के सरपंच मलखान सिंह ने रखी थी। रविवार रात से ही इसमें काफी संख्या में मजदूर रुके हुए थे। सोमवार सुबह मल्खान सिंह की नजर एक मजदूर के हाथ पर पड़ी, उसके हाथ पर होम क्वारन्टीन की मुहर लगी हुई थी। ये देखते ही उनके दिमाग में घंटी बजी और एक-एक करके सब मजदूरों के हाथ चेक किए। ऐसा करने पर 14 मजदूर मिले, जिनके हाथ पर राजस्थान स्वास्थ्य विभाग ने होम क्वारन्टीन की मुहर लगाई थी, लेकिन वे नहीं रुके। रेवाड़ी के रास्ते यूपी के शामली जा रहे थे। मलखान सिंह ने इसकी सूचना पुलिस व स्वास्थ्य विभाग को दी। इसकी जानकारी मिलने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम मालपुरा पहुंची। उन्होंने एक-एक मजदूर से पूछताछ की। धारूहेड़ा स्वास्थ्य केंद्र के डॉ. जय प्रकाश का कहना है कि इन मजदूरों की मेडिकल हिस्ट्री को जाना है। अभी तक उनमें कोरोना जैसे कोई लक्षण नहीं मिले हैं, फिर भी जांच की जा रही है। ... और पढ़ें

कोरोना राहत कोष में योगदान देने में रेवाड़ी डिपो प्रदेशभर में अव्वल

रेवाड़ी। कोरोना राहत कोष में सहयोग देने के लिए जहां आम से लेकर खास तक आगे आ रहे हैं वहीं राज्य परिवहन के रेवाड़ी डिपो के करीब 630 कर्मचारियों में से 97 प्रतिशत ने कोरोना राहत कोष में अपने बेसिक वेतन का 10 से 20 प्रतिशत हिस्सा जमा करवा प्रदेशभर में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। आपदा के समय राज्य परिवहन के कर्मचारियों की ओर से दिए गए सहयोग पर डिपो के जीएम नवीन कुमार भारद्वाज ने सभी कर्मचारियों को बधाई दी है। लॉक डाउन के चलते डिपो में कार्यरत सभी कर्मचारियों को फोन के माध्यम से सूचना देकर स्वेच्छा से सहयोग की अपील की गई थी जिसके बाद 97 प्रतिशत कर्मचारियों ने सहमति जताई। वहीं बचे हुए 3 प्रतिशत कर्मचारियों में से अधिकांश से संपर्क नहीं हो पाया या फिर जानकारी के अभाव में सहयोग नहीं कर पा रहे हैं।
स्टैंड इंचार्ज देवेन्द्र तिवाड़ी ने बताया कि महाप्रबंधक नवीन कुमार भारद्वाज के निर्देशन में रोडवेज ज्वाइंट एक्शन कमेटी पदाधिकारियों के सहयोग से 97 प्रतिशत कर्मचारियों ने स्वेच्छता से कोरोना राहत कोष में सहयोग किया है। एक्शन कमेटी के प्रधान कैलाश गुर्जर ने बताया कि इसलिए सरकार की ओर से ऑनलाइन कटौती का ऑप्शन दिया। जिसके लिए स्टेनो कैलाशचंद यादव, प्रधान बीर सिंह यादव, राजपाल, सुनील कुमार, रविंद्र कुमार, संजीव कुमार, अनिल कुमार, पवन, भूपेन्द्र सिंह, उद्यम सिंह, रवि प्रधान, अरविंद कुंडू, राजबीर सहित अन्य कर्मचारियों ने योगदान देने के लिए तत्परता से दिखाई। उन्होंने कहा कि सरकार व प्रशासन की ओर से कर्मचारियों से जो भी सहयोग मांगा जाएगा वह दिया जाएगा।
डिपो के लिए गर्व की बात
चालक संघ हरियाणा के राज्य सचिव बाबूलाल यादव, परिवहन कर्मचारी संघ के डिपो प्रधान यशपाल यादव, संयुक्त कर्मचारी संघ प्रधान प्रवीण यादव और चेयरमैन रामौतार यादव ने कहा कि रेवाड़ी डिपो के लिए यह गर्व की बात है। प्रदेशभर के सभी 24 डिपो में रेवाड़ी डिपो ने आपदा के समय प्रदेशभर में सबसे अधिक योगदान दिया है। डिपो प्रधान यशपाल यादव ने कहा कि देश में कोरोना रूपी आपदा के समय सभी कर्मचारी अपनी सेवाएं देने के लिए तैयार हैं। प्रशासन व सरकार के आदेशों पर हर कर्मचारी कोरोना से बचाव के अभियान में सहयोग को तैयार हैं।
... और पढ़ें
सामान्य बस अड्डा रेवाड़ी। सामान्य बस अड्डा रेवाड़ी।

जिले में अपराध लॉकडाउन, संगीन अपराध 100 व अन्य अपराधों में 95 प्रतिशत की आई कमी

रेवाड़ी। कोरोना वासरस के प्रकोप के चलते पूरे देश में लॉकडाउन चल रहा है, इससे अपराधों में भी कमी आ गई है। जिन झपटमारों, बदमाशों, तस्करों को पुलिस और कानून का डर नहीं था उन्हें कोरोना वायरस ने डरा दिया है। जिले में संगीन अपराध में 100 प्रतिशत और अन्य अपराध में 90 से 95 प्रतिशत तक कमी आई है। जिले के 15 पुलिस थानों में धारा 188 के मामलों को छोड़ दिया जाए तो महज 21 मुकदमे दर्ज हुए हैं।
कोरोना के कारण लागू किए गए कर्फ्यू के कारण जहां सड़क हादसे में काफी कमी आई वहीं शराब तस्करी, चोरी और अन्य अपराध भी कम हुए हैं। कोरोना से पहले की बात की जाए तो अधिकतर मामले शराब तस्करी, अन्य नशे की तस्करी, मारपीट और चोरी को लेकर दर्ज किए जाते थे जो कि कोरोना के बाद से काफी कम हो गए है। हत्या, गैर इरादतन हत्या, सुसाइड और दुष्क र्म जैसे क्राइम पर तो अंकुश ही लग गया है। यह कहने से इंकार नहीं किया जा सकता कि जिन बदमाशों, तस्करों को पुलिस और कानून का कोई डर नहीं था, उन्हें अब कोरोना ने डरा दिया है।
लॉकडाउन के बाद स्थिति
अपराध -केस
हत्या -0
गैर इरादतन हत्या -1
सुसाइड -1
रेप- 0
लूट- 0
चोरी -3
सड़क हादसे -2
शराब तस्करी -5
अन्य नशों की तस्करी -9
मारपीट -3
दहेज प्रताड़ना 0
संगीन अपराध हुआ जिले से खत्म
लॉकडाउन से पहले की बात की जाए तो शराब तस्करी के औसतन रोजाना 2 से 5, अन्य नशों की तस्करी के 5 से 10, चोरी के 3 से 5 मामले दर्ज किए जाते थे। इसके अलावा सड़क हादसों में भी लोगों की जान चलती जाती थी। हत्या, गैर इरादतन हत्या, दुष्कर्म का भी कभी-कभी कोई मामला सामने आ जाता था। परंतु लॉकडाउन होने बाद उक्त सभी अपराध कम हो गए।
सड़कों पर नहीं घूम पा रहे चोर और अपराधी
जिला में लॉकडाउन के दौरान कोई गंभीर अपराध नहीं हुआ है। पिछले 13 दिनों में जिले के 15 थानों में महज 21 केस दर्ज हुए हैं। जिले में जगह-जगह पुलिस का प्वाइंट लगने से शातिर अपराधियों के हौसले भी पस्त है। वाहनों पर नियंत्रण होने के कारण दुर्घटनाएं भी नहीं हुई हैं। पुलिस की पेट्रोलिंग और नाकेबंदी से अपराधिक किस्म के युवक फिलहाल घरों में ही हैं।
पुलिस अधीक्षक नाजनीन भसीन ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान जिलावासी पुलिस को पूर्ण सहयोग दे रहे हैं। सभी लोग अपने घरों में रहकर कोरोना से बचने के लिए लॉकडाउन की पालना कर रहे हैं। यहीं कारण है कि जिले में अपराध में भी कमी आई है। वैसे भी जिला के लोग शांति प्रिय है।
... और पढ़ें

कोरोना संक्रमण को लेकर सहकारिता मंत्री ने प्रशासन के साथ की समीक्षा बैठक

प्रदेश के सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल ने सोमवार को जिला सचिवालय पहुंचकर कोरोना की रोकथाम के उपायों का जायजा लिया। उन्होंने जिला जिला प्रशासन के साथ समीक्षा बैठक भी की। कोसली से भाजपा विधायक लक्ष्मन सिंह यादव, गुरुग्राम आयुक्त अशोक सांगवान, उपायुक्त यशेन्द्र सिंह, एसपी नाजनीन भसीन सहित अन्य अधिकारी रहे मौजूद रहे। बता दें कि जिला में प्रवासी श्रमिकों को ठहरने के लिए 23 अस्थयी शेल्टर होम बनाए गए हैं। इनमें से करीब 17 श्रमिकों को खाने में रहने की व्यवस्था की गई है। जिले में अब तक 23 लोगों के कोरोना के सैंपल लेकर जांच की गई है, जिनमें सभी निगेटिव पाए गए हैं। अभी तक जिला में एक भी पॉजिटिव केस नहीं आया है। ... और पढ़ें

ये कैसा लॉकडाउनः शाम ढलते ही पुलिस नाकों व चौराहों से हट जाती है

रेवाड़ी। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए चल रहे लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने के लिए शहर के चौक-चौराहों पर नाकाबंदी कर पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। लेकिन शाम को आठ बजे बाद के बाद शहर के बाहरी चौराहों से न केवल पुलिसकर्मी गायब हो जाते हैं, बल्कि अधिकतर बैरिकेट्स भी हटा दिए जाते हैं। ऐसे में लोगों का बेरोक-टोक आवागमन शुरू हो जाता है, जिससे लॉकडाउन बेमानी सा लगने लगा है। शाम के समय शहर की सड़कों खासकर शहर के हुडा बाईपास पर बाइकर्स का रेला देखा जा सकता है।
उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए प्रधानमंत्री के आह्वान 25 मार्च से देशभर में लॉकडाउन किया गया है। ऐसे में बेवजह घूमने वालों व लॉकडाउन की सख्ती से पालन कराने के लिए विभिन्न चौक-चौराहों पर पुलिस बल को तैनात किया गया है। हालांकि पुलिसकर्मी बेवजह घूमने वालों को समझाने के साथ ही सख्ती से भी पेश आ रहे हैं। लेकिन शहर के कुछ चौराहों से शाम को आठ बजे के बाद न केवल पुलिस कर्मी गायब हो जाते हैं, बल्कि बैरिकेट्स को भी हटा दिया जाता है। ऐसे में आपराधिक किस्म के एवं बेवजह घूमने वाले लोगों की कोई रोक-टोक करने वाला नहीं होता। इससे ये लोग आसानी से न केवल आपराधिक वारदात को अंजाम देते हैं, बल्कि लॉकडाउन को भी उल्लंघन करते हैं।
2 मार्च शाम 7 बजे दिया जा चुका है वारदात को अंजाम
शहर के बाहरी चौराहों से पुलिस का नदारद होने से लॉकडाउन के कोई मायने नहीं रह जाते हैं। इसका फायदा आपराधिक वारदातों को अंजाम देने वाले उठाते हैं। 2 मार्च को भी कसौला थाना क्षेत्र के गांव मुंडनवास में बुजुर्ग पर गोली चलाकर हत्या का प्रयास करने वालों ने भी पुलिस की इसी ढील का फायदा उठाया था। हालांकि सीआईए रेवाड़ी के प्रयासों से रात को ही दो आरोपियों को काबू कर लिया गया था। लेकिन इसके बाद लॉकडाउन में पुलिस की नाकाबंदी पर लोगों ने सवाल उठाने शुरू कर दिए थे।
शहर के अंदर है चौकसी
ऐसा भी नहीं है कि शहर में लॉकडाउन बेअसर है। शहर के अंदरूनी हिस्सों में पुलिस काफी मुस्तैैदी से बेवजह घूमने वालों पर शिकंजा कस रही है। रात को भी चौराहों पर पुलिसकर्मी तैनात दिखाई देते हैं।
इन चौराहों पर दिखी है लापरवाही
जिन चौराहों पर शाम को लोगों के आवागमन को आसान बना दिया जाता है। उनमें राव अभयसिंह चौक, पोसवाल चौक, कालाका रोड पर पंडित भगवत दयाल शर्मा चौक, पायलट चौक, बावल रोड पर रणबीर हुड्डा चौक, नारनौल रोड पर गोपालदेव चौक, बनीपुर चौक, कसौला चौक, खंडोडा बार्डर व जयसिंहपुर खेड़ा बार्डर शामिल हैं।
... और पढ़ें

एप को हैंग कर 80 हजार रुपये खाते से निकाले

शहर के अग्रसैन चौक पर शाम आठ बजे के बाद पुलिस तैनात नहीं होने के चलते दौड़ते वाहन।
रेवाड़ी। साइबर ठग आए दिन लोगों को अपना निशाना बना रहे हैं। बदमाशों ने फोन-पे एप को हैंग कर एक व्यक्ति के खाते से 80 हजार रुपये की नकदी साफ कर दी। मोबाइल में मैसेज आने के बाद ठगी का पता चला। उसके बाद पुलिस को शिकायत दी गई।
ठठेरा कॉलोनी निवासी रवि ने कहा कि उसने अपने मोबाइल पर फोन-पे एप डाउनलोड की हुई थी। उसमें अपने एचडीएफसी बैंक के खाते को अचेट किया हुआ है। बीते दिन साइबर बदमाशों ने उसके खाते से 80 हजार रुपये की नकदी साफ कर दी। जबकि उसने किसी को न पासवर्ड बताया तथा न ही किसी से कोई बात हुई। मोबाइल में मैसेज आने के आने बाद नकदी साफ होने की जानकारी हुई। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

भगवानपुर में रात 11: 45 बजे 20 लोगों की हुई थर्मल स्क्रीनिंग

बावल। बावल क्षेत्र के गांव भगवानपुर में 20 बाहरी लोगों के पहुंचने की शिकायत के बाद बावल सामुदायिक केंद्र की चिकित्सकों की रैपिड एक्शन टीम ने वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. रामनिवास की अगुवाई में गांव पहुंचकर 20 लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग की। सीएचसी के एसएमओ डॉ. इंद्रजीत का कहना है कि स्क्रीनिंग में सभी लोग ठीक पाए गए हैं।
डॉ. इंद्रजीत ने बताया कि टीम को शनिवार रात 11.45 बजे उपायुक्त कार्यालय से गांव भगवानपुर में 20 के करीब संदिग्ध शरणार्थियों कि सूचना मिली थी। बाहरी लोगों के आने क ी सूचना झूठी है, यह परिवार 6-7 साल से गांव में ही रहता है। रैपिड एक्शन टीम ने कार्रवाई करते हुए पुलिस कि मदद से 20 लोगों की मेडिकल जांच की गई। मेडिकल जांच में सभी सही पाए गए।
बावल सीएचसी में 8 लोगों की मेडिकल टीम तैनात
एसएमओ डॉ. इंद्रजीत ने बताया कि बावल क्षेत्र में कोरोना वायरस के खतरे से निपटने के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की रैपिड एक्शन टीम 24 घंटे तैयार रहती है। वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. रामनिवास के नेतृत्व में 8 सदस्यों की रैपिड एक्शन टीम बनाई गई है। यह टीम 24 घंटे कोरोना के संदिग्ध मरीजों की जांच कर सकेगी।
... और पढ़ें

बाहरी लोग रात के समय गांव और कालोनियों में प्रवेश न कर सकें, ठीकरी पहरा शुरू

जमीनी विवाद में राठी गैंग के कुख्यात बदमाश चांदराम के पिता पर चार युवकों ने किए दो फायर

गांव मुंडनवास निवासी राठी गैंग के कुख्यात गैंगस्टर चांदराम के पिता पर वीरवार की शाम दो बाइक पर सवार होकर आए चार बदमाशों ने दो फायरिंग कर जानलेवा हमला किया। इस फायरिंग में वह बाल-बाल बच गए। फायरिंग की सूचना के बाद गांव में हड़कंप मच गया। सूचना के बाद कसौला थाना पुलिस भी मौके पर पहुंची। पुलिस को जमीन विवाद में में फायरिंग का अंदेशा है। चांदराम राठी गैंग का कुख्यात शूटर है तथा वर्तमान में जेल में बंद है।
पुलिस के अनुसार चांदराम का पिता पृथ्वी सिंह वीरवार की शाम खाना खाने के बाद घर के बाहर बैठा हुआ था। इसी दौरान कुछ हथियारबंद चार युवक वहां पहुंचे तथा पृथ्वी सिंह पर फायरिंग कर दी। परंतु पृथ्वी सिंह को गोली नहीं लग पाई। हमलावरों में गांव के भी कुछ युवक शामिल बताए जा रहे है। फायरिंग की आवाज सुन कर ग्रामीण मौके पर पहुंचे तो बदमाश फरार हो गए। सूचना के बाद कसौला थाना एसएचओ आइपीएस पूजा वशिष्ठ मौके पर पहुंची तथा बदमाशों की तलाश शुरू की, परंतु उनका कहीं भी पता नहीं लग पाया। बता दें कि एक प्लाट को लेकर चांदराम का अपने ही गांव के कुछ लोगों वे विवाद भी चल रहा है। अंदेशा है कि प्लाट विवाद की रंजिश में ही पृथ्वी सिंह पर गोली चलाई है। पृथ्वी सिंह की ओर से पुलिस को कुछ युवकों के खिलाफ पुलिस को शिकायत भी दी गई है। कसौला थाना पुलिस ने शिकायत पर मामले की जांच शुरू कर दी है
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us