विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्रि पूजन में सबसे महत्वपूर्ण है यह चार चीज़ें, जानें महत्व !
Navratri Special

नवरात्रि पूजन में सबसे महत्वपूर्ण है यह चार चीज़ें, जानें महत्व !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

कोरोना: हरियाणा में 14 और मौतें, 1193 पॉजिटिव मिले, पंजाब में 23 ने दम तोड़ा, 499 नए मामले

हरियाणा में कोरोना वायरस से 14 और संक्रमित मरीजों की मौत हो गई है, जबकि 1193 नए मरीज सामने आए हैं। 1070 मरीज ठीक भी हुए हैं। संक्रमण की वजह से गुरुग्राम दो, पानीपत में एक, हिसार में तीन, पंचकूला में दो, झज्जर में एक, भिवानी में एक, यमुनानगर में दो, फतेहाबाद में एक व चरखी दादरी में एक मरीज की मौत हो गई है। 44 दिनों में अब मरीजों की संख्या दोगुनी हो रही है।

हरियाणा में अब कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 153367 हो गई है, जिसमें 141506 मरीज ठीक हो गए हैं। 10187 मरीज अभी भी वायरस से ग्रस्त हैं। रिकवरी रेट 92.27 प्रतिशत पहुंच गई है। संक्रमण की दर 6.33 प्रतिशत है। संक्रमण से मृत्यु दर 1.09 प्रतिशत है। प्रदेश में स्वास्थ्य महकमे ने 181110 मरीजों को मेडिकल सर्विलांस में रखा है। 5264 संदिग्ध मरीजों की सैंपल रिपोर्ट का इंतजार है। प्रदेश में अब तक इस संक्रमण से कुल 1674 मरीज दम तोड़ चुके हैं।

हरियाणा में पिछले 24 घंटे में फरीदाबाद में 187, गुरुग्राम में 304, सोनीपत में 66, रेवाड़ी में 68, अंबाला में 25, रोहतक में 29, पानीपत में 23,  करनाल में 14, हिसार में 104, पलवल में 25, पंचकूला में 30, महेंद्रगढ़ में 41, झज्जर में 50, भिवानी में 46, कुरुक्षेत्र में 33, नूंह में 6, सिरसा में 36, यमुनानगर में 29, फतेहाबाद में 13, कैथल में 18, जींद में 29 व चरखी दादरी में 17 नए मरीज सामने आए हैं।

पंजाब में कोरोना से 23 और की मौत, 499 नए मामले
पंजाब में कोरोना से मौतों के आंकड़ों में गिरावट का दौर जारी है। बुधवार को राज्य में कोरोना से 23 लोगों की जान चली गई। इसके साथ ही सूबे में वायरस से मरने वालों की संख्या 4060 पहुंच गई है। इसके अलावा 499 नए मामले भी सामने आए हैं। राज्य में अब तक 129088 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार अब तक राज्य में संदिग्ध मामलों की संख्या 23,85,846 पहुंच गई है। जिनमें पॉजिटिव मरीजों की संख्या 1,29,088 दर्ज की गई है। 1,20,220 लोग ठीक हो चुके हैं। सांस लेने में परेशानी होने पर 121 सक्रमित मरीजों को ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया है। 31 लोगों की हालत गंभीर होने पर वेंटिलेटर पर रखा गया है। 

संक्रमण से मौतों के मामले में लुधियाना नंबर वन बना हुआ है। यहां अब तक सबसे ज्यादा 825 लोग संक्रमण से मौत का शिकार हो चुके हैं। जालंधर में 458 और पटियाला में 371 लोग कोरोना से दम तोड़ चुके हैं। बुधवार को बठिंडा में 4, लुधियाना में 4, अमृतसर, पटियाला में 3-3, जालंधर में 2, फरीदकोट, फिरोजपुर, गुरदासपुर, होशियारपुर, कपूरथला, एसएएस नगर और संगरूर में 1-1 संक्रमित की मौत हो गई। 
... और पढ़ें
कोरोना वायरस (प्रतीकात्मक तस्वीर) कोरोना वायरस (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पांच नकाबपोश बदमाशों ने बैंक से दिन दहाड़े फायर कर लूटे 7.11 लाख रुपये, छीन ले गए गार्ड की बंदूक

नेशनल हाईवे-71 स्थित माछरौली गांव के पंजाब नैशनल बैंक की शाखा में दिनदहाड़े पांच नकाबपोश बदमाशों ने हवाई फायर कर कैश काउंटर से 7 लाख 11 हजार 331 रुपये लूट लिए। इससे पहले बदमाशों ने बैंक के बाहर तैनात सुरक्षाकर्मी की आंख पर मुक्का मारकर उसकी डबल बैरल लाइसेंसी बंदूक छीन ली और बैंक में घुस गए।

दहशत फैलाने के लिए आरोपियों ने हवाई फायर किया और नकदी लूट दो बाइकों पर फरार हो गए। सूचना मिलने पर एसपी हिमांशु गर्ग, दो डीएसपी, सीआईए की टीम मौके पर पहुंची। इसके बाद जिलेभर में नाकेबंदी कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी।

जानकारी के अनुसार माछरौली गांव स्थित पंजाब नेशनल बैंक में सुबह करीब 11 बजे सामान्य दिनों की तरह काम चल रहा था। गार्ड सतेंद्र कुमार बैंक के मुख्य द्वार पर तैनात था। इसी दौरान एक बाइक पर तीन नकाबपोश आए और बैंक के बाहर हवाई फायर कर दिया। इसके बाद सुरक्षा कर्मी की आंख पर मुक्का मारकर उसकी बंदूक छीन ली। इसके बाद दो नकाबपोश और पहुंच गए।

सभी बैंक के अंदर घुस गए और कैश काउंटर पर मौजूद महिला कैशियर से करीब सात लाख 11 हजार 331 रुपये लूट कर फरार हो गए। वारदात के समय बैंक में करीब 20 उपभोक्ता मौजूद थे। बताया जा रहा है कि वारदात के बाद पांचों बदमाश खुडन गांव की तरफ भाग निकले। सूचना मिलने पर सीआईए की टीम ने बदमाशों के पीछे लगी लेकिन कोई सुराग नहीं लगा। पुलिस बैंक और आसपास की सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है।

जिले में निश्चित रूप से बड़ी वारदात है। दो बाइक सवार पांच नकाबपोशों ने फायरिंग कर बैंक के कैशियर से 7 लाख से अधिक रुपये लूटे हैं। इस मामले में दो डीएसपी मामले की मॉनीटरिंग के लिए लगा दिए गए हैं। जल्द ही बदमाशों की पहचान कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा। - हिमांशु गर्ग, पुलिस अधीक्षक, झज्जर।
 
... और पढ़ें

हरियाणा: महान उर्दू शायर महेंद्र प्रताप चांद का निधन, मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने जताया शोक

उर्दू अदब के महान शायर महेंद्र प्रताप ‘चांद’ दुनिया को अलविदा कह गए। वे कई दिनों से बीमार चल रहे थे। उनके निधन पर प्रदेश सरकार ने गहरा दुख व्यक्त किया है। वे अंबाला शहर के रहने वाले थे। हरियाणा सरकार एवं हरियाणा उर्दू अकादमी ने उन्हें दो वर्ष पूर्व ही अकादमी की ओर से ‘फख्र-ए- हरियाणा’ सम्मान से नवाजा था। 

अकादमी अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री मनोहर लाल, अकादमी के कार्यकारी उपाध्यक्ष राजेश खुल्लर और निदेशक डॉ. चंद्र त्रिखा ने उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर एक शोक सभा का भी आयोजन किया गया, जिसमें सभी अधिकारी व कर्मचारी एवं अदीब शामिल हुए। 

उर्दू अकादमी के पूर्व सचिव सेवानिवृत्त आईएएस रमेंद्र जाखू ‘साहिल’ और केंद्रीय साहित्य अकादमी के उपाध्यक्ष माधव कौशिक ने ‘चांद’ साहब की उपलब्धियों का भी विस्तार से जिक्र किया।

चांद साहब की कुछ मुख्य रचनाओं में ‘उर्दू अदब और हरियाणा’, ‘हर्फ-ए-राज’, ‘जख्म आरजूओं के’, ‘उर्दू की सातवीं किताब’, ‘हाली पानीपती की गजलें’, ‘आजार-ए-गम-इश्क’, ‘हर्फ-ए-आशना’, ‘दूध की कीमत’, ‘उजालों के सफीर’, ‘निशात-ए-कलम’, ‘जाते हुए लम्हों’ शामिल हैं। महेंद्र प्रताप को हरियाणा अवार्ड, सैय्यद मुजफ्फर हुसैन बर्नी अवार्ड के अलावा कई सरकारी व गैर-सरकारी संस्थाएं सम्मानित कर चुकी हैं।
... और पढ़ें

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज बोले- कांग्रेस सपने देखती है और सपने कभी सच नहीं होते

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि कांग्रेस तो सपने देखती है और सपने कभी सच नहीं होते। कांग्रेस की सरकार आने पर सबसे पहले कृषि कानूनों को फाड़ने की बात पर विज ने अपने ही अंदाज में तंज कसा। उन्होंने कहा कि न नौ मन तेल होगा और न राधा नाचेगी।

सारी दुनिया जानती है कि झूठ कौन बोलता है और झूठ बोलने की फैक्ट्री किसने लगा रखी है। कांग्रेस का झूठ सुन-सुन कर लोगों के कान पक गए हैं। सब जानते हैं कि झूठ राहुल गांधी व कांग्रेस पार्टी ही बोलती है।

नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र हुड्डा पर पलटवार करते हुए विज ने कहा कि यह प्रजातंत्र है और प्रजातंत्र में कोई भी मुख्यमंत्री बन सकता है। सभी विधायकों ने ही उन्हें मुख्यमंत्री चुना है। इसका मतलब यह है कि हुड्डा प्रजातंत्र को चुनौती दे रहे हैं। विज के अनुसार नीतीश व भाजपा के राज में ही बिहार ने तरक्की की है और बिहार का सत्यानाश कांग्रेस सरकारों में हुआ। 

उन्होंने कभी भी बिहार को उभरने नहीं दिया। कभी ऐसी नीति नहीं बनाई कि बिहार आत्मनिर्भर बन सके। विज ने कहा कि जो भी किसानों के हक में होगा वह करेंगे। जो विधेयक पंजाब ने पास किए हैं, उन्हें पढ़ेंगे। अभी ये भी देखना है कि कोई राज्य इस तरह से कर सकता है या नहीं।
... और पढ़ें

बरोदा उपचुनाव: मतदान और मतगणना के दिन हलके में, साथ लगते तीन किलोमीटर क्षेत्र में 'ड्राई डे'

गृह मंत्री अनिल विज।
हरियाणा में बरोदा विधानसभा उपचुनाव के 3 नवंबर को होने वाले मतदान व 10 नवंबर को मतगणना के दिन पूरे विधानसभा क्षेत्र व साथ लगते 3 किलोमीटर इलाके में ‘ड्राइ डे’ रहेगा। शराब के ठेके या शराब परोसने वाले प्रतिष्ठान पूरी तरह बंद रहेंगे।

हरियाणा शराब लाइसेंस नियम, 1970 के नियम 37 (10) के प्रावधानों के अनुपालना और आबकारी नीति 2020-21 के खंड 2.13.1 के अनुसार 1 नवंबर को शाम 6 बजे से 3 नवंबर 2020 को मतदान की समाप्ति शाम छह बजे तक शराब की दुकानें बंद रहेंगी।

मतगणना वाले दिन 10 नवंबर को भी मतगणना समाप्त होने तक यह आदेश लागू रहेंगे। बिना लाइसेंस के परिसर में शराब रखने और भंडारण के संबंध में आबकारी कानूनों में निर्धारित प्रतिबंधों को सख्ती से लागू किया जाएगा। व्यक्तियों द्वारा शराब का भंडारण न किया जा सके, इसलिए पूरी निगरानी बरती जा रही है।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी अनुराग अग्रवाल का कहना है कि उपचुनाव निष्पक्ष, शांतिपूर्ण व पारदर्शी तरीके से संपन्न कराया जाएगा। धनबल या शराब से मतदाताओं को प्रभावित नहीं होने देंगे। 
... और पढ़ें

कोरोना इफेक्टः खेलों के इतिहास में पहली बार बिना कुश्ती के लगा नेशनल कैंप, चोट से उबरीं साक्षी

खेलों के इतिहास में पहली बार नेशनल कैंप में पहलवानों के बीच कुश्ती नहीं कराई जा रही है। सोनीपत के साई सेंटर में पुरुष पहलवान और लखनऊ में महिला पहलवान नेशनल कैंप में शामिल जरूर हो गए हैं, लेकिन अभी तक कुश्ती का दांवपेंच अभी तक एक-दूसरे पर नहीं आजमाया है। क्योंकि कोरोना के कारण केवल दौड़, रोलिंग, जिम आदि का अभ्यास कराया जा रहा है और किसी पहलवान को दांव लगाने की प्रैक्टिस करनी है तो वह बिना कुश्ती लड़े अकेले ही प्रैक्टिस कर सकता है।

कोरोना के कारण नेशनल कैंप स्थगित होने पर पहलवान काफी समय तक कुश्ती से दूर रहे थे। सरकार के साई सेंटर खोलने की अनुमति मिलने के बाद एक सितंबर से सोनीपत में पुरुष पहलवानों का कैंप शुरू किया गया था। जबकि महिला पहलवानों का कैंप लगातार आगे खिंचता चला गया और वह 10 अक्तूबर से लखनऊ के साई सेंटर में शुरू किया गया। जहां पहलवानों को एक सप्ताह तक कमरे में रहना पड़ा तो उसके बाद भी पहलवान दांवपेंच लगाने के लिए आपस में कुश्ती नहीं लड़ सकते हैं।

खेलों के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है कि पहलवानों का नेशनल कैंप बिना कुश्ती लड़े चलाया जा रहा है। पहलवानों को कोच केवल दौड़, रोलिंग, जिम आदि करा रहे है। इस तरह नया दांवपेंच अभी तक नेशनल कैंप में पहलवान नहीं सीख सके है तो वह अपनी कमियां भी फिलहाल दूर नहीं कर सकते है। 
... और पढ़ें

पंचकूला: शहीद पुलिसकर्मियों को सीएम मनोहर लाल ने दी श्रद्धांजलि

हरियाणाः निजी कंपनियों के ऐप का बहिष्कार, 50 हजार से ज्यादा शिक्षक मोबाइल से हटाएंगे

हरियाणा के सरकारी शिक्षकों ने स्कूल शिक्षा विभाग में निजी कंपनियों के ऐप का बहिष्कार शुरू कर दिया है। 50 हजार से ज्यादा शिक्षक आठ प्रमुख ऐप सहित अन्य को भी अपने मोबाइल से हटाने जा रहे हैं। लगभग दस हजार शिक्षकों ने इन्हें अभी तक हटा दिया है। डाटा सुरक्षा, निजी गोपनीयता लीक होने के डर व मानसिक तनाव के कारण शिक्षकों ने यह कदम उठाया है।

प्रदेश में प्रमुख शिक्षक संगठनों के एक लाख से ज्यादा शिक्षक सदस्य हैं। ये बीते माह विभाग से उच्च अधिकारियों के समक्ष ईमेल, फोन इत्यादि के जरिए निजी ऐप को लेकर विरोध दर्ज करा रहे हैं, लेकिन सुनवाई नहीं हो रही। जिसे देखते हुए शिक्षक संगठनों ने तालमेल कमेटी (हसला, हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ, हरियाणा मास्टर वर्ग एसोसिएशन, राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ, हजरस, हरियाणा राजकीय अध्यापक संघ) बनाकर ऐप को मोबाइल से हटाने की मुहिम शुरू कर दी है। इससे विभाग के सामने मुश्किलें खड़ी हो गई हैं।

चूंकि, बच्चों, स्कूल से जुड़े प्रशासनिक कार्य व शिक्षकों का प्रशिक्षण इत्यादि भी ऐप से ही कराया जा रहा है। तालमेल कमेटी के फैसले के अनुसार किसी शिक्षक के मोबाइल में निजी कंपनियों के विभागीय ऐप नहीं होंगे। न ही विभाग के दबाव में कोई शिक्षक भविष्य में इन ऐप को डाउनलोड करेगा। शिक्षक संगठनों का तर्क है कि विभाग अपनी प्रणाली विकसित करे, निजी कंपनियों के हाथ में वे अपना डाटा नहीं सौंपेंगे। निजी ऐप से शिक्षकों के मोबाइल अक्सर सही से काम नहीं करते, इंटरनेट डाटा के लिए कोई राशि नहीं मिलती, जेब से सारा खर्च करना पड़ रहा है। शिक्षकों की कार्यप्रणाली भी प्रभावित हो रही है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X