विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

हरियाणा सरकार को हाईकोर्ट की फटकार: एनडीपीएस मामलों में बिना एफएसएल रिपोर्ट पेश किया था चालान, मिली जमानत

एनडीपीएस के मामले में नशे की 7000 गोलियों की रिकवरी के चलते दर्ज हुए केस में आरोपी को पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने जमानत दे दी। हाईकोर्ट ने कहा कि बिना फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट के एनडीपीएस का मामला टिकता नहीं है। हाईकोर्ट ने ऐसे चालान पेश करने के चलन पर हरियाणा सरकार को फटकार लगाई।
 
सिरसा निवासी याचिकाकर्ता ने हाईकोर्ट को बताया कि एफआईआर के अनुसार 20 दिसंबर 2020 को पुलिस गश्त पर थी और याची ट्रैक्टर से उनकी तरफ बढ़ रहा था। याची ने जब पुलिस को देखा तो ट्रैक्टर को खेतों में उतारने का प्रयास किया। इस दौरान उसका ट्रैक्टर रुक गया और पुलिस ने जांच में पाया कि मडगार्ड के पास बने थैले में नशे की 7000 गोलियां थीं। इसके बाद 4 मार्च 2021 को पुलिस ने चालान पेश कर दिया, लेकिन इस चालान में फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट नहीं थी।

यह भी पढ़ें - 
कैप्टन पर भड़के नवजोत सिद्धू: पुराना वीडियो शेयर कर अमरिंदर को बताया कृषि कानूनों का निर्माता 

याची ने कहा कि 180 दिन में इस रिपोर्ट को सौंपना होता है और यह अवधि 20 जून 2021 को पूरी हो गई। बिना एफएसएल की रिपोर्ट के चालान को पूरा नहीं माना जा सकता। हाईकोर्ट ने सभी दलीलों को सुनने के बाद कहा कि एनडीपीएस के मामले में बरामद की गई सामग्री को नशीला पदार्थ साबित करना जरूरी होता है। इसके लिए एफएसएल की रिपोर्ट बेहद आवश्यक होती है। बिना एफएसएल की रिपोर्ट के केस पूरी तरह से गिर जाता है। 

हाईकोर्ट ने कहा कि एफएसएल रिपोर्ट के बिना चालान को अधूरा माना जाए या नहीं, यह मामला बड़ी बेंच के समक्ष विचाराधीन है। ऐसे में याची 9 माह से जेल में है और उसे जमानत का लाभ दिया जाना चाहिए। हालांकि हाईकोर्ट ने स्पष्ट किया कि यदि बड़ी बेंच का फैसला याची के खिलाफ आता है तो पुलिस उसकी जमानत को खारिज करने की अर्जी दाखिल करने को स्वतंत्र है।
... और पढ़ें
पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट। पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट।

सोनीपत: कुंडली बॉर्डर पर निहंग फिर विवादों में, इस बार मुर्गा नहीं देने पर पोल्ट्री फार्म के कारिंदे को पीटा, वीडियो वायरल

कुंडली बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन में निहंग लगातार चर्चा में है। युवक की नृशंस हत्या की जिम्मेदारी लेने, केंद्रीय कृषि मंत्री के साथ फोटो वायरल होने का मामला अभी थमा भी नहीं था कि अब एक निहंग युवक पर पोल्ट्री फार्म के कारिंदे ने मुर्गा देने से इनकार करने पर लाठी से बुरी तरह पिटाई करने का आरोप लगाया है। हमले में उसके पैर का मांस फट गया, जिसे सोनीपत के जिला अस्पताल में दाखिल कराया गया है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी निहंग नवीन संधू को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी बाबा अमन सिंह के डेरे का बताया गया है। 

यह भी पढ़ें-
पीएम मोदी ने की मनोहर लाल की तारीफ: कहा- हरियाणा को मिली ईमानदार सरकार, उनके प्रयोगों से हम भी लेते हैं सीख
 
बिहार के जिला दरभंगा के गांव कन्हौठी निवास मनोज पासवान ने पुलिस को बताया कि वह दिल्ली के गांव सिंघु में सिंह पोल्ट्री फार्म पर करीब 15 साल से मजदूरी करता है। वह गुरुवार को रेहड़ी में मुर्गे लेकर कुंडली की तरफ आ रहा था इसी दौरान बाबा अमन सिंह डेरे के निहंग सिख करनाल के गगसीना गांव निवासी नवीन संधू ने उसका रास्ता रोक लिया। संधू ने मनोज से एक मुर्गा देने को कहा। जब उसने इनकार किया तो आरोपी ने उस पर बीड़ी पीने का आरोप लगाकर लाठी से हमला कर दिया। उसके पैर का मांस फट गया। उसके साथी पप्पू से भी मारपीट की गई। 

संयुक्त किसान मोर्चा के कुछ वॉलंटियर व किसानों ने मारपीट का वीडियो बनाकर वायरल कर दिया। मनोज ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा ने काफी सख्ती दिखाई तो निहंग राजा राज सिंह, बाबा धर्मसिंह, बाबा गुरुसेवक व अन्य मौके पर पहुंच गए। निहंग जत्थेदार राजा राज सिंह ने कुंडली थाना पुलिस को सूचना दी और नवीन संधू को पुलिस को सौंप दिया। पुलिस ने नवीन को हिरासत में लेकर जांच शुरू कर दी है। 

किसान आंदोलन से शुरुआत से जुड़ा है आरोपी 
नवीन संधू किसान आंदोलन से शुरुआत से ही जुड़ा हुआ है। उसकी मुलाकात बाबा अमन सिंह से हुई। 13 अप्रैल को बैसाखी के दिन नवीन संधू ने अमृत चखा और निहंग सिख बन गया। इसी वजह से अभी उसके बाल भी छोटे हैं। इस पर कई सवाल उठ रहे थे। करनाल के किसान नेताओं ने इसकी पुष्टि की कि नवीन संधू नकली नहीं, बल्कि असली निहंग सिख है। 

पूरे मामले की तह तक जाए पुलिस 
निहंग जत्थेदार राजा राज सिंह का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह पूरे मामले की तह तक जाने की बात कह रहे हैं। उनका कहना है कि मामले में अमन सिंह से भी पुलिस पूछताछ करना चाहे तो कर सकती है। निहंग जत्थेदार इसका विरोध नहीं करेंगे। 

युवक को घायल अवस्था में अस्पताल में लाया गया था। हमले में उसके पैर का मांस फट गया है। उसका उपचार किया गया है।  - डॉ. संदीप मलिक, चिकित्सक सामान्य अस्पताल सोनीपत

किसान आंदोलन के दौरान हिंसक घटनाएं
  • 12 अप्रैल को कुंडली बार्डर पर निहंग ने युवक शेखर पर तलवार से जानलेवा हमला।
  • 12 जून को सेरसा गांव के तत्कालीन पंच रामनिवास पर हमला।
  • 3 अगस्त को सीआरपीएफ जवान पर जानलेवा हमला, 10-15 अज्ञात प्रदर्शनकारियों पर मुकदमा दर्ज हुआ।
  • 2 अक्तूबर को लंगर में दाल लेने गए युवक राजू पर तलवार से हमला, गंभीर रूप से घायल।
  • मनौली के कार सवार किसान पर जानलेवा हमला, गाड़ी तोड़ी
  • कुंडली में दुकान में घुसकर दुकानदार पर हमला।
  • 15 अक्तूबर को पंजाब के लखबीर की नृशंस हत्या। 
... और पढ़ें

करनाल प्रकरण: दिवाली बाद आईएएस आयुष सिन्हा का तीखे सवालों से होगा सामना, आयोग जल्द जारी करेगा नोटिस

जस्टिस एसएन अग्रवाल आयोग करनाल प्रकरण में आईएएस आयुष सिन्हा से दिवाली के बाद पूछताछ करेगा। आयोग की ओर से करनाल के तत्कालीन एसडीएम आयुष को जांच में शामिल होने के लिए जल्दी नोटिस जारी किया जाएगा। करनाल के वर्तमान डीसी, एसपी को भी आयोग तलब करने वाला है। आयुष से पूछताछ के लिए विशेष प्रश्नावली तैयार हो रही है। 

बसताड़ा टोल प्लाजा लाठीचार्ज के समय वह करनाल में एसडीएम थे। पुलिसकर्मियों को आंदोलनरत किसानों के सिर फोड़ने के आदेश देते हुए उनका एक वीडियो वायरल हुआ था। जिस पर मामला खासा तूल पकड़ गया। सरकार ने जांच आयोग गठित करने के निर्णय के साथ ही आयुष को एसडीएम पद से हटाकर छुट्टी पर भेज दिया है। 

जांच पूरी होने तक वह अवकाश पर ही रहेंगे। अग्रवाल आयोग प्रकरण की तह तक जाने के लिए उनसे तीखे सवाल पूछने की तैयारी कर रहा है। आयोग दो नवंबर को किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी से पूछताछ करेगा। 3 नवंबर को छोटी दिवाली और 4 को दिवाली है। इसके बाद आयुष सिन्हा से पूछताछ होगी। 25 से 29 अक्तूबर तक 6-7 के समूह में किसानों के बयान कलमबद्घ किए जाएंगे। लाठीचार्ज का शिकार 32 से अधिक किसानों की गवाही होनी है।

जांच की अवधि बढ़ाने के लिए आज लिखेंगे पत्र
जस्टिस अग्रवाल आयोग करनाल प्रकरण की जांच एक महीने में पूरी नहीं कर सकता। गुरुवार को आयोग अध्यक्ष सरकार को जांच की समय अवधि बढ़ाने के लिए पत्र लिखेंगे। कम से कम तीन महीने का समय मांगा जाएगा। सरकार ने 25 सितंबर से एक महीने के अंदर रिपोर्ट मांगी है, जो संभव नहीं है। नियुक्ति पत्र के बाद 11 अक्तूबर को उन्होंने ज्वाइन कर जांच शुरू की है। इसलिए एक महीने में जांच रिपोर्ट तैयार नहीं हो सकती। इस मामले की अभी बहुत पड़ताल बाकी है।

आयुष को इस तरह के प्रश्नों का करना होगा सामना
  • आपका वायरल वीडियो करनाल प्रकरण से कितने समय पहले का है। क्या बसताड़ा टोल प्लाजा पर किसानों के सिर उनके आदेश पर फोड़े गए।
  • वीडियो में जिस जगह पुलिस कर्मियों को लाठीचार्ज करने के आदेश दिए जा रहे हैं, क्या वह घटनास्थल ही है।
  • किसानों के सिर फोड़ने के लिए उन्हें किसी ने आदेश दिए थे या धारा प्रवाह में वह खुद ऐसा बोल गए।
  • प्रदर्शन कर रहे आंदोलनकारी किसानों को किसने उकसाया। लाठीचार्ज से पूर्व स्थिति नियंत्रित करने के लिए बतौर डयूटी मजिस्ट्रेट उन्होंने क्या कदम उठाए।
  • जिस प्रदर्शनकारी किसान की मौत हुई है, क्या उस पर बसताड़ा टोल प्लाजा पर लाठीचार्ज हुआ था।
... और पढ़ें

सोनीपत: कुंडली बॉर्डर पर आंदोलन में शामिल पंजाब के एक और किसान की मौत

सोनीपत के कुंडली बॉर्डर पर तीन कृषि कानूनों को रद्द कराने की मांग को लेकर जारी आंदोलन में शामिल पंजाब के एक और किसान की बुधवार रात को मौत हो गई। शुरुआती जांच में मौत का कारण हार्ट अटैक बताया जा रहा है। हालांकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर ही मौत के सही कारणों का पता लग सकेगा। पुलिस ने शव को सामान्य अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है। पंजाब के जिला पटियाला के गांव रेनो निवासी करनैल सिंह (61) कुंडली बॉर्डर पर जारी आंदोलन में शामिल होने आए थे।

ये भी पढ़ें-
ऐलनाबाद उपचुनाव: जींद में बोले पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह-हरियाणा की आगामी राजनीति तय करेंगे इसके नतीजे

दो माह से शामिल था आंदोलन में
करनैल सिंह दो माह से आंदोलन में शामिल थे। उनकी तीन-चार दिन से तबियत खराब थी। बुधवार रात को वे बेसुध हो गए। जब साथी किसानों ने उन्हें उठाने का प्रयास किया तो नहीं उठे। इस पर चिकित्सक को बुलाकर जांच कराई तो उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। मामले की सूचना कुंडली थाना पुलिस को दी गई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर सामान्य अस्पताल में भिजवा दिया है। साथी किसानों का कहना है कि वे अविवाहित थे। पुलिस ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत के सही कारणों का पता लग सकेगा। ... और पढ़ें

पीएम मोदी ने की मनोहर लाल की तारीफ: कहा- हरियाणा को मिली ईमानदार सरकार, उनके प्रयोगों से हम भी लेते हैं सीख

मृतक किसान की फाइल फोटो।
देश ने कोरोना टीकाकरण में 100 करोड़ का आकंड़ा पार कर लिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 21 अक्तूबर का दिन इतिहास में दर्ज हो चुका है। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी लोगों का आभार जताया।

प्रधानमंत्री मोदी ने झज्जर के कैंसर संस्थान में विश्राम सदन का उद्घाटन किया। इस दौरान पीएम मोदी ने मनोहर लाल की नेतृत्व वाली हरियाणा सरकार की जमकर तारीफ की। उन्होंने मौजूदा सरकार को हरियाणा की अब तक की सबसे ईमानदार सरकार बताया। मनोहर लाल के विजन और कार्यों की सराहना ही। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि यह सदन मरीजों के परिवार व रिश्तेदारों को ठहरने की सुविधा प्रदान करेगा।कोरोना काल में सबके प्रयास से बनकर तैयारा हुआ है। इसमें सरकार और कारपोरेट की साझा शक्ति लगी है। यह विश्राम घर 10 मंजिला है। इमारत का निर्माण इंफोसिस ने किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंफोसिस फाउंडेशन की अध्यक्ष सुधा मूर्ति की जमकर तारीफ की और कहा कि वे करुणा से भरी हैं। 

पीएम मोदी ने कहा कि झज्जर का यह विश्राम सदन विश्वास सदन का भी काम करेगा। देश के अन्य लोगों को ऐसे ही विश्राम सदन बनाने की प्रेरणा देगा। हमारी सरकार ने कैंसर की 400 दवाओं की कीमतों को कम किया। गरीबों को जनऔषधि केंद्रों में बहुत कम कीमत पर दवाएं मिल रही हैं। देश के हर जिले में एक मेडकिल कॉलेज खोलने का लक्ष्य है। 

मनोहर लाल की पीएम ने की जमकर तारीफ
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज जब हरियाणा के लोगों से बात कर रहा हूं तो कुछ और भी बताना चाहूंगा। मेरा सौभाग्य रहा है कि मुझे हरियाणा से बहुत कुछ सीखने को मिला। जीवन का एक लंबा कालखंड हरियाणा में काम करने का मौका मिला। अनेक दशकों के बाद हरियाणा को मनोहर लाल के नेतृत्व में ईमानदारी से काम करने वाली सरकार मिली है।

यह सरकार दिन रात हरियाणा के उज्जवल भविष्य के लिए सोचती है। जब हरियाणा का मूल्याकंन होगा तो पिछले पांच दशक में सबसे उत्तम, इनोवेटिव काम करने वाली ये सरकार है। मनोहर लाल को मैं बहुत सालों से जानता हूं। मुख्यमंत्री के रूप में उनकी प्रतिभा उभर कर आई है। इस दौरान पीएम मोदी ने सीएम मनोहर लाल और उनकी टीम को बधाई दी। 
... और पढ़ें

रोहतक: आधी रात को चार युवक बजा रहे थे गाने, रोकने पर ग्राम सचिव पर की फायरिंग

रोहतक में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के हलके किलोई के गांव खिड़वाली में ग्राम सचिव द्वारा युवकों को गाने बजाने से रोकना महंगा पड़ गया। चारों ने उस पर फायरिंग कर दी। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची। सदर थाने में चार युवकों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है, जिसमें 3 आरोपी गांव के ही रहने वाले हैं। पुलिस के मुताबिक खिड़वाली गांव निवासी रवि ने शिकायत में बताया कि वह ग्राम सचिव के तौर पर चरखी दादरी में तैनात है। बुधवार की रात करीब 12 बजे लघुशंका करने के लिए घर से बाहर आया तो चार युवक ट्रैक्टर ट्राली खड़ी करके गली में गाने बजा रहे थे। उसने आधी रात को गाना बजाने से रोका तो गांव के युवक नवीन उर्फ बंदर ने कहा कि तू कौन होता है यह पूछने वाला।

ये भी पढ़ें-
ऐलनाबाद उपचुनाव: जींद में बोले पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह-हरियाणा की आगामी राजनीति तय करेंगे इसके नतीजे

डर के मारे बाहर नहीं निकला परिवार
आरोपियों ने झगड़ा करना शुरू कर दिया। उसने अपने भाई व मां को आवाज देकर बुला लिया। शोर सुनकर आसपास के लोग एकत्रित हो गए। उस समय तो बीचबचाव हो गया। ग्राम सचिव अपने भाई व मां के साथ घर के अंदर चला गया। आरोप है कि इसके बाद आरोपियों ने घर की तरफ करके हवाई फायर करने शुरू कर दिए। डर के मारे परिवार के लोग बाहर नहीं निकले। मामले की सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस गांव में पहुंची, लेकिन उस समय आरोपी मौके से जा चुके थे। सदर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच पड़ताल शुरू कर दी है। ... और पढ़ें

देश के साथ टीकाकरण में हरियाणा ने भी रचा इतिहास समेत हरियाणा की बड़ी खबरें

रोहतक में वारदात: भतीजे के कुआं पूजन में गए वकील पर युवक ने की फायरिंग

पूर्व सहकारिता मंत्री के पैतृक गांव समर गोपालपुर में बुधवार की रात भतीजे के कुआं पूजन में गए रोहतक जिला कोर्ट के वकील पर एक युवक ने फायरिंग कर दी। पुरानी रंजिश के चलते की गई फायरिंग में वकील बाल-बाल बच गया। सदर थाना पुलिस मामला दर्ज कर जांच कर रही है। पुलिस के मुताबिक शीतल नगर निवासी तिलक राज ने शिकायत दी है। जिसमें बताया कि वह मूल रूप से समर गोपालपुर गांव का रहने वाले हैं। साथ ही रोहतक कोर्ट में वकालत करते हैं। बुधवार को उनके ताऊ के लड़के सोमबीर और सोनू के घर नवजात शिशु के जन्म पर कुआं पूजन कार्यक्रम था। वे भी गांव में गए हुए थे। कार्यक्रम में दिल्ली से कर्ण उर्फ कुक्कू भी आया हुआ था।

ये भी पढ़ें-
ऐलनाबाद उपचुनाव: जींद में बोले पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह-हरियाणा की आगामी राजनीति तय करेंगे इसके नतीजे

आरोपी ने किए चार फायर
कर्ण के परिवार के साथ उनके परिवार का पुराना मनमुटाव चल रहा है। रात्रि में 11:30 बजे जब कार्यक्रम खत्म होने के बाद वकील बाइक पर रोहतक आने लगे तो रास्ते में कर्ण ने आवाज देकर रोक लिया। कर्ण ने चार फायर किए, लेकिन वे बाल-बाल बच गए। वकील ने गली में भागकर जान बचाई, तभी चाचा श्रीभगवान आ गए। आरोपी जान से मारने की धमकी देकर मौके से फरार हो गया। लिखित में मामले की शिकायत सदर थाने में दी गई है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ वीरवार को हत्या के प्रयास व आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। ... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00