विज्ञापन
विज्ञापन
जन्माष्टमी पर कराएं वृन्दावन के बांके बिहारी जी का अभिषेक एवं 56 भोग
Janamashtami Special

जन्माष्टमी पर कराएं वृन्दावन के बांके बिहारी जी का अभिषेक एवं 56 भोग

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

बड़ी पहलः सोने की आभूषणों की परख और हॉलमार्किंग के लिए हरियाणा के नौ जिलों में खुलेंगे केंद्र

हरियाणा में सोने के आभूषणों की परख एवं हॉलमार्किंग के लिए नौ जिलों में केंद्र खोले जाएंगे। भारतीय मानक ब्यूरो ने इसके लिए अभिरुचि की अभिव्यक्ति मांगी हैं। ये केंद्र खुलने के बाद स्वर्णकारों को हॉलमार्किंग के लिए दूर नहीं जाना पड़ेगा। 15 जनवरी 2021 से सोने के आभूषणों पर हॉलमार्किंग करना अनिवार्य हो जाएगा, इससे पहले इन केंद्रों की स्थापना अनिवार्य है।

वर्तमान में भारतीय मानक ब्यूरो ने देश में 919 ऐसे केंद्रों को मान्यता दी है। अभी देश के 489 जिलों में ये केंद्र नहीं हैं। इनमें हरियाणा के नौ जिले भी शामिल हैं। इनके लिए आवेदन निजी क्षेत्र के लोग, सरकारी संगठन व उपक्रम कर सकते हैं। इन केंद्रों की स्थापना के लिए केंद्र सरकार 30 से 75 प्रतिशत तक की वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाती है।

आवेदन 15 सितंबर 2020 तक ब्यूरो के कार्यालय प्रमुख हॉलमार्किंग (भारतीय मानक ब्यूरो) कमरा नं. 555, मानकालय, 9 बहादुर शाह जफर मार्ग नई दिल्ली-110002 पते पर पहुंच जाने चाहिए। इसके अलावा वेबसाइट www.bis.gov.in पर भी अवलोकन किया जा सकता है।

मशीनरी व अन्य उपकरण स्थापित करने के लिए वित्तीय सहायता उपलब्ध कराई जाएगी जो ग्रामीण क्षेत्रों, उत्तर पूर्वी राज्यों व विशेष दर्जे वाले राज्यों में प्राइवेट क्षेत्र को कुल कीमत का 50 प्रतिशत व सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों को 75 प्रतिशत होगी। सामान्य क्षेत्रों में यह क्रमश: 30 व 50 प्रतिशत रहेगी।
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

शराब घोटाला पर गरमाई हरियाणा की सियासत, दुष्यंत चौटाला बोले- एसईटी का काम सिफारिश करना

हरियाणा के बहुचर्चित शराब घोटाले के संबंध में चल रही राजनैतिक नूराकुश्ती खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। विशेष जांच दल (एसईटी) की जांच पर कार्रवाई की सिफारिश के साथ ही गृह मंत्री अनिल विज ने चुप्पी साध ली है। जबकि गेंद मुख्यमंत्री के पाले में है। वहीं एक  बार फिर दुष्यंत चौटाला ने अफसरों के बचाव की अपनी बात दोहराई है।

उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने फिर कहा है कि लॉकडाउन में शराब के ठेके बंद करवाने और इस संबंध में आदेश जारी करने में कोई ढील नहीं रही। पत्रकारों के एक सवाल पर डिप्टी सीएम ने कहा कि शराब कारखानों को सॉफ्टवेयर से जारी हुए परमिट के मामले में विभाग 2 महीने पहले ही कारण बताओ नोटिस जारी कर चुका है।

संबंधित अधिकारियों से स्पष्टीकरण मांग चुका है ताकि ऐसी गड़बड़ी आगे कभी ना हो। 26 मार्च को ठेके बंद करवाने के विषय पर उन्होंने कहा कि विभाग के पास 27 मार्च की सुबह सभी जिलों में ठेके बंद करवा दिए जाने की रिपोर्ट आ गई थी। इसमें ढील की बात कह कर कार्रवाई की मांग करने पर उन्हें एतराज है और यही उन्होंने 2 दिन पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि एसईटी की रिपोर्ट के आधार पर ये कहना गलत है कि शराब से संबंधित मामलों में गलती किसी एक की है। डिप्टी सीएम ने कहा कि गड़बड़ी की शिकायत मिलने पर उन्होंने सख्त कार्रवाई पहले भी की है और गड़बड़ी के जिम्मेदार शख्स पर कार्रवाई करने से अब भी पीछे नहीं हटेंगे।

उन्होंने कहा कि एसईटी ने अपनी जुटाई जानकारियों के आधार पर कुछ सिफारिशें की हैं जिन पर अंतिम निर्णय लेने का अधिकार राज्य सरकार के पास है। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि कानून के हिसाब से जो भी कार्रवाई बनती होगी, वो की जाएगी।

गृह मंत्री अनिल विज ने एसईटी की रिपोर्ट पर कहा कि कोई इसमे उलझ नहीं रहा। विजिलेंस जांच में दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा। उपमुख्यमंत्री के बयानों का मुख्यमंत्री जवाब दे चुके हैं। मैं उसमें कुछ नहीं बोलना चाहता।
... और पढ़ें

और मजबूत होगी हरियाणा की ‘अंतरराज्यीय ड्रग सचिवालय’ की कार्यप्रणाली, अब खैर मनाएं तस्कर

उत्तर भारत में नशा कारोबारियों का नेटवर्क तोड़ने व मादक पदार्थों की तस्करी पर रोकथाम के लिए हरियाणा में स्थापित किए गए ‘अंतरराज्यीय ड्रग सचिवालय’ की कार्यप्रणाली को और मजबूत बनाया जाएगा। ताकि विभिन्न राज्यों की पुलिस के तालमेल से नशा तस्करों पर करारी चोट और मजबूती से की जा सके।

इसी सचिवालय के माध्यम से मिली सूचनाओं के आधार पर हरियाणा पुलिस की फील्ड इकाइयों ने 2020 के प्रथम 7 माह में 119 किलोग्राम 202 ग्राम मादक पदार्थ सहित 35,500 से अधिक प्रतिबंधित गोलियां व कैप्सूल बरामद किए हैं। जनवरी से जुलाई 2020 के बीच सचिवालय हेल्पलाइन नंबरों पर नशे के कारोबार से संबंधित 216 सूचनाएं प्राप्त हुई। जिनके आधार पर पुलिस द्वारा 118 किलोग्राम 952 ग्राम गांजा, 208 ग्राम 137 मिलीग्राम हेरोइन, 42 ग्राम स्मैक सहित प्रतिबंधित दवाओं की श्रेणी में आने वाली 35,785 नशीली गोलियां व कैप्सूल बरामद कर आरोपियों के खिलाफ 22 मामले दर्ज किए गए।

इसके अतिरिक्त, पुलिस को गत वर्ष मई से दिसंबर के बीच हेल्पलाइन नंबरों के माध्यम से मादक पदार्थ के अवैध कारोबार से संबंधित 299 सूचनाएं प्राप्त र्हुइं जिनके आधार पर हेरोइन, गांजा, स्मैक, चरस सहित कुल 23 किलो 982 ग्राम नशा व 36,610 प्रतिबंधित नशीली गोलियां व कैप्सूल जब्त किए गए। बताते चलें कि देश के छह उत्तरी राज्यों हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली तथा केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ द्वारा नशे के नेटवर्क को तोडऩे के लिए सांझा रणनीति बनाते हुए पंचकूला में एक अंतर-राज्यीय ड्रग सचिवालय स्थापित किया गया था।

ताकि मादक पदार्थों के अवैध कारोबार संबंधी सूचनाओं का आदान-प्रदान कर समाज से इस बुराई को मिटाया जा सके। कोई भी व्यक्ति यहां नशा संबंधी सूचना दे सकता है। इसके लिए अंतरराज्यीय ड्रग सचिवालय की हेल्पलाइन नंबर 1800-180-1314  के अलावा मोबाइल नंबर 7087089947 और लैंडलाइन नंबर 01733-253023 पर भी जानकारी दी जा सकती है।
... और पढ़ें

मजबूत होंगी हरियाणा, पंजाब, चंडीगढ़ की डिफेंस इंडस्ट्री, ताकत के साथ रोजगार भी बढ़ेगा

रक्षा मंत्रालय ने 110 सैन्य उपकरणों के आयात पर रोक लगा दी है। इसी के साथ अगले छह सात साल में घरेलू सैन्य उद्योगों को चार लाख करोड़ के कॉन्ट्रैक्ट दिए जाएंगे। इससे हरियाणा, पंजाब, चंडीगढ़ और हिमाचल प्रदेश में स्थित स्थानीय डिफेंस इंडस्ट्रीज को भी बड़ा बूस्टअप मिलेगा। रक्षा उत्पाद विशेषज्ञों का मानना है कि इस फैसले से स्थानीय इंडस्ट्री को न केवल और मजबूती मिलेगी। बल्कि रक्षा उपकरणों में मेक इन इंडिया की ओर बढ़े कदमों से देश की ताकत के साथ-साथ रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे।

देखा जाए तो उत्तर भारत में हरियाणा, पंजाब, चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में रक्षा उत्पाद बनाने की कई महत्वपूर्ण एमएसएमई (लघु, कुटीर एवं मध्यम उपक्रम) इकाइयां है। कुछेक बड़े उद्योग भी हैं। मगर हरियाणा उत्तर भारत में सबसे ज्यादा रक्षा उत्पाद तैयार करने वाला राज्य है।

हरियाणा के अंबाला, पंचकूला, फरीदाबाद, पलवल, पृथला, बहादुरगढ़, गुरुग्राम व झज्जर में रक्षा उपकरण बनाने वाली कई एमएसएमई इकाइयां मौजूद हैं। जो सरकार की ओर से विभिन्न रक्षा उत्पाद बनाने के लिए अप्रूव हैं। इसी तरह चंडीगढ़ समेत पंजाब के रोपड़, लालड़ू और मोहाली व हिमाचल के बद्दी और सोलन में भी रक्षा उत्पाद बनाने वाले उद्योग स्थापित हैं।
... और पढ़ें

हरियाणा: 794 नए पॉजिटिव मिले, छह की मौत, 711 मरीज ठीक भी हुए, कुल 42429 संक्रमित

मेजर जनरल सी. प्रकाश और डॉ. अनिल जैन।
हरियाणा में कोरोना की स्थिति अभी बिगड़ रही है। चौबीस घंटों में कोरोना के 794 संक्रमण के नए मरीज सामने आए हैं। जबकि 711 मरीज ठीक हो गए है। फरीदाबाद में एक, रेवाड़ी में तीन और पानीपत में दो मरीजों की मौत के बाद मरने वालों का कुल आंकड़ा 489 पहुंच गया है। जबकि कुल संक्रमित मरीजों की संख्या भी 42429 पहुंच गई है।

 संक्रमण की दर जहां 5.67 प्रतिशत हैं, वहीं संक्रमण से रिकवरी रेट 83.65 प्रतिशत हैं। अब 29 दिन में मरीजों की संख्या दोगुनी हो रही है। 5726 संदिग्ध मरीजों की सैंपल रिपोर्ट का इंतजार है। जबकि 136 मरीजों की हालत बेहद गंभीर है। जिन्हें वेंटिलेटर और आक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया है।

गुरुग्राम में 57, फरीदाबाद में 154,  सोनीपत में 31, रेवाड़ी में 71, अंबाला में 84, रोहतक में 40, पानीपत में 72, करनाल में 32,  हिसार में 23,  झज्जर में 10,  भिवानी में 11, पंचकूला में 59, नूंह में 5, कुरुक्षेत्र में 43, सिरसा में 22, फतेहाबाद में 15, यमुनानगर में 44, जींद में 3, कैथल में 14 व चरखीदादरी में 4 नए मरीज सामने आए हैं।

अब तक गुरुग्राम में 9785, फरीदाबाद में 10283, सोनीपत में 3240, रेवाड़ी में 2228, अंबाला में 2191, रोहतक में 1883, पानीपत में 16892, करनाल में 1334, हिसार में 1168, पलवल में 1121, झज्जर में 909, महेंद्रगढ़ में 954, भिवानी में 867, पंचकूला में 998, नूंह में 596, कुरुक्षेत्र में 729, सिरसा में 575, फतेहाबाद में 484, यमुनानगर में 503, जींद में 348, कैथल में 358 व चरखी दादरी में 186 नए संक्रमित मरीज सामने आ चुके हैं।

ठीक होने वालों में  मरीजों में अब तक गुरुग्राम में 9004, फरीदाबाद में 9259, सोनीपत में 2858, रेवाड़ी में 1891, अंबाला में 1740, रोहतक में 1499, पानीपत में 1006, करनाल में 1025, हिसार में 830, पलवल में 942, झज्जर में 826, महेंद्रगढ़ में 773, भिवानी में 783, पंचकूला में 590,  नूंह ने 534,  कुरुक्षेत्र में 414,  सिरसा में 309, फतेहाबाद में 315, यमुनानगर में 259, जींद में 248, कैथल में 258 व चरखीदादरी में 129 मरीज़ स्वस्थ हो चुके हैं।
... और पढ़ें

हरियाणा में भारी बारिश की चेतावनी, पंचकूला और अंबाला समेत 15 जिलों में ऑरेंज अलर्ट

हरियाणा में सोमवार को मानसून पूरी तरह से छा गया है। अगले दो दिन मंगलवार और बुधवार को प्रदेश में भारी बारिश का पूर्वानुमान है। मौसम विभाग ने मंगलवार को तीन जिलों पंचकूला, अंबाला और यमुनानगर में और बुधवार को 15 जिलों में भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। बारिश का दौर 14 अगस्त तक जारी रहेगा। 

हालांकि प्रदेश में असमान और छितराई बारिश होगी। कहीं तेज तो कहीं मध्यम बारिश होने के आसार हैं। इधर, मंगलवार को रोहतक शहर में भारी बारिश हुई। दोपहर और शाम के समय कुल 92 एमएम बारिश होने से जगह-जगह जलभराव हो गया। जिले में छितराई बारिश हुई। इससे पहले दिन में उमस भरी गर्मी रही। वातावरण में सुबह के समय 80 प्रतिशत और शाम के समय 85 प्रतिशत आर्द्रता दर्ज की गई। रोहतक में अधिकतम तापमान 37.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 

12 को इन जिलों में भारी बारिश का पूर्वानुमान 
मौसम विभाग ने 12 अगस्त को कुरुक्षेत्र, कैथल, करनाल, महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, झज्जर, गुरुग्राम, मेवात, पलवल, फरीदाबाद, रोहतक, सोनीपत, पानीपत, भिवानी और चरखी दादरी में भारी बारिश को देखते हुए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। इन जिलों में तेज हवाओं के साथ 70 से 100 एमएम तक बारिश हो सकती है। 
... और पढ़ें

Independence Day: अमर उजाला के साथ कीजिए देश को नमन, कवि सम्मेलन और प्रतियोगिताएं

हरियाणा: कृषि भूमि की रजिस्ट्रियां 17 अगस्त से होंगी शुरू, कल से मिलेगा ई-अपॉइंटमेंट

हरियाणा में कृषि भूमि के विलेखों (डीड) की रजिस्ट्रियां 17 अगस्त से दोबारा शुरू हो जाएंगी। सरकार ने 11 अगस्त से ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि भूमि की रजिस्ट्री के लिए ई-अपॉइंटमेंट की प्रक्रिया शुरू करने का फैसला किया है। सीएम मनोहर लाल की अध्यक्षता में हुई समीक्षा बैठक में यह सहमति बनी। बैठक में उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला भी उपस्थित रहे। भ्रष्टाचार की शिकायतें मिलने पर सरकार ने 22 जुलाई 2020 को रजिस्ट्रियों पर रोक लगा दी थी।

बैठक में विभिन्न विभागों को राजस्व विभाग की ई-पंजीकरण प्रणाली के साथ जोड़ने की समीक्षा की गई। शहरी क्षेत्रों में भूमि पंजीकरण के लिए ई-अपॉइंटमेंट प्रक्रिया 17 अगस्त 2020 से शुरू की जाएगी। जल्द ही नए सिरे से पंजीकरण का कार्य शुरू किया जाएगा। सीएम को अवगत कराया गया कि ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि भूमि के ई-पंजीकरण के लिए मॉड्यूल राजस्व विभाग ने तैयार किया है। इसका परीक्षण पूरा हो चुका है, 11 अगस्त से लोग ई-अपॉइंटमेंट ले सकेंगे।
... और पढ़ें
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन