विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

#9Pm9Minute: दीपों की जगमग रोशनी के साथ एकजुट नजर आए कानपुर सहित आसपास के जिले, देखें तस्वीरें

दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस के संक्रमण से लड़ने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रविवार रात 9 बजे 9 मिनट तक लाइटें बंद करने की अपील का लोगों ने खुले दिल से समर्थन किया।

5 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

महाराजगंज

सोमवार, 6 अप्रैल 2020

कोरोना से बचाव के लिए डीएम ने लोगों से मांगी मदद, कहा- न छिपाएं ये बात

अल्पसंख्यक समुदाय के लोग जमात में शामिल होने से जुड़ी सूचनाओं को प्रशासन से न छिपाएं बल्कि उसे बताना सुनिश्चित करें। सूचना छिपाने से वे स्वयं के साथ-साथ परिवार के अन्य सदस्यों व समाज को खतरे में डाल देंगे। ऐसे में यह जरुरी है कि सूचनाओं को सही समय पर प्रशासन को दिया जाए जिससे कि बचाव को लेकर आवश्यक कदम उठाया जा सके।

ये बातें जिलाधिकारी डॉ. उज्ज्वल कुमार ने शनिवार को सदर कोतवाली में आयोजित अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों की बैठक में कही। उन्होंने कहा कि दिल्ली से तब्लीगी जमात मरकज से लौटकर आने के बाद जिले के कुछ लोगों द्वारा छुपाई गई सूचना ने समाज के लिए मुश्किल खड़ी कर दी है। ऐसे में सभी का यह दायित्व है कि वे स्वयं, परिवार व समाज के हित को देखते हुए समय से सूचना उपलब्ध कराएं।

समुदाय के जिम्मेदार भी ऐसे लोगों का पता करें जो किसी आयोजन आदि से लोटे हों, यदि कोई ऐसा हो तो तत्काल प्रशासन को सूचित किया जाए। पुलिस अधीक्षक रोहित सिंह सजवान ने बताया कि जिला व पुलिस प्रशासन सभी के बचाव को लेकर कृत संकल्पित है, ऐसे में सभी प्रशासन का सहयोग करें। इस दौरान एसडीएम आरबी सिंह, सीओ देवेंद्र कुमार, हाजी मौलाना मोइनुद्दीन, शमशुल हुदा खां समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

जमात से लौटे लोगों की होगी सैम्पलिंग
जिलाधिकारी डॉ. उज्ज्वल कुमार ने बताया कि एक मार्च अथवा उसके बाद दिल्ली के जमात अथवा अन्य किसी भी जमात से वापस लौटे लोगों की चिकित्सकीय स्क्रीनिंग व सैम्पलिंग कराई जाएगी। ऐसे में यदि कोई भी व्यक्ति जमात से वापस लौटा हो तो वह रविवार की शाम पांच बजे तक अनिवार्य रुप से यह सूचना काल, मैसेज व व्हाट्सएप के माध्यम से जिला प्रशासन के नंबर 05523-222162, 9005874545 तथा स्वास्थ्य विभाग के नंबर 7518526772 व 9118101613 पर उपलब्ध करा सकता है। निर्धारित समय तक सूचना न उपलब्ध कराने व बाद में सज्ञान में आने पर ऐसे व्यक्तियों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

मरकज से आए 21 लोगों पर केस दर्ज

मरकज से आए 21 लोगों पर केस दर्ज
महराजगंज। दिल्ली तब्लीगी जमात मरकज से आए कोल्हुई थाना क्षेत्र के 15 लोगों के खिलाफ पुलिस ने संबंधित धाराओं में केस दर्ज कर लिया है। वहीं पुरंदरपुर थाना क्षेत्र के छह लोगों पर भी केस दर्ज हुआ है। एसपी रोहित सिंह सजवान ने बताया कि दिल्ली तब्लीगी जमात मरकज से आए लोगों ने स्वंय नहीं बताया कि वह मरकज से आए हैं। ऐसे में उनके द्वारा तथ्यों को छिपाने में संक्रमण फैल सकता था। इस वजह से उन सभी के खिलाफ संबंधित धाराओं में केस दर्ज किया है। ये सभी लोग जिला अस्पताल के क्वारंटीन वार्ड में भर्ती हैं। साथ ही सदर कोतवाली क्षेत्र के गबडुआ गांव के मस्जिद में 10 लोगों पाया गया, जो जमात करने आए थे। ये सभी गुजरात, मुंबई, बांदा, जौनपुर के हैं। इन सभी को गांव की मस्जिद में ही क्वारंटीन में रखा गया है। इन लोगों का दूरी बनाए रखने के लिए निर्देश दिए गए हैं।
दिल्ली जमात में शामिल नेपाल के 26 लोग पकड़े गए
महराजगंज। नेपाल पुलिस ने दिल्ली तब्लीगी जमात मरकज में शामिल होकर आए नेपाल के कई जिलों से 26 लोगों को हिरासत में लेकर क्वारंटीन में रखा है। अभी संदिग्ध 246 लोगों की तलाश हो रही है। भारत नेपाल की सीमा से सटे मदरसों एवं मस्जिदों में उन सभी की तलाशी हो रही है।
नेपाल के सप्तरी, बीरगंज, जनकपुर, परसा, श्रीपुर, कंचनपुर, रोहतट जिलों में नेपाल पुलिस ने सूचना के बाद दिल्ली तब्लीगी जमात मरकज में शामिल हुए 26 लोगों को उनके घर से हिरासत में लेकर क्वारंटीन में रखा। पुलिस ने संदिग्ध 246 लोगों की तलाश में सीमावर्ती क्षेत्र के नवलपरासी, रूपनदेही, मर्चवार, कपिलवस्तु, लुम्बिनी, रुपईडीहा जिले के मदरसे और मस्जिदों में पहुंची।
शुक्रवार को नेपाल परसा के ग्रामीण इलाके में एक मदरसे और मस्जिद में छह लोगों के छिपे होने के दौरान उन्हें हिरासत में ले लिया गया। पुलिस ने परसा के पटरबसुगुली वीडीसी कंचनपुर गदानी में मदरसे में छिपे दो लोगों को गिरफ्तार किया है। वे सभी बिरगंज श्रीपुर में सिद्धार्थ मावी के संगरोध में रहते हैं। नगरपालिका के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी भुजेंद्र यादव के अनुसार, ग्रामीणों से सूचना मिलने के तुरंत बाद पुलिस दल ने छह लोगों को पकड़ा। इसी तरह अन्य स्थानों से भी उनको पकड़ा गया। डीएम सप्तरी सुनील खनाल ने बताया कि अनुमान है की दिल्ली तब्लीगी जमात में नेपाल के सप्तरी, कपिलवस्तु, रूपनदेही, रुपईडीहा, परसा, बारा, रौतहट, गोरखा और चितवन के मुस्लिम धर्मों के लोगों ने भी हिस्सा लिया है। गृह मंत्रालय के निर्देश पर सीमावर्ती सभी जिलों में सर्च ऑपरेशन चलाया गया है।
... और पढ़ें

14 हजार दिव्यांगों को मिलेगी सहायता राशि

जिले के 14 हजार 840 दिव्यांगों को भी मिलेगी आर्थिक सहायता
संवाद न्यूज एजेंसी
महराजगंज। कोरोना के कारण हुए लॉकडाउन व उत्पन्न हुए विपरीत हालात में दिव्यांगों को सहायता उपलब्ध कराने के लिए शासन व प्रशासन ने पहल प्रारंभ की है। जिले के भी कुल 14 हजार 840 दिव्यांगों को इस सहायता का लाभ प्राप्त होगा।
शासन द्वारा शारीरिक रूप से अक्षम लोगों को भी सामान्य तौर पर 500 रुपए प्रतिमाह की दर से धनराशि प्रदान की जाती है। कोरोना के कारण उत्पन्न हुए विपरीत हालत में उन्हें किस प्रकार की असुविधा से बचाने की भी कवायद की गई है। इसके तहत जिले के दिव्यांग जनसशक्तिकरण विभाग में पंजीकृत दिव्यांगों को भी तीन माह तक सहायता दी जानी है। 1000 सहायता की धनराशि दो किश्तों में दी जाएगी। सहायता राशि मिल जाने के बाद उनकी व उनके परिवार की समस्या काफी हद तक कम हो जाएगी। जिला दिव्यांग जनसशक्तिकरण अधिकारी रत्नेश सिंह ने बताया कि जिले में वर्तमान में कुल 14 हजार 840 दिव्यांगों को सहायता राशि दी जाती है। ऐसे में इन्हें ही लाभ दिए जाने की कवायद होगी।
-----------
मिठौरा ब्लॉक में पंजीकृत हैं सर्वाधिक दिव्यांग
जिले के सभी 12 ब्लॉकों में कुल 14431 दिव्यांग पंजीकृत हैं। मिठौरा ब्लॉक में 1905, सदर में 1557, परतावल में 1517, लक्ष्मीपुर में 1469, पनियरा में 1288, निचलौल में 1202, फरेंदा में 1090, नौतनवां में 1086, घुघली में 1066, बृजमनगंज में 985, सिसवां में 961 तथा धानी में 305 दिव्यांगों को सहायता मिलती है।
----------
निकायों में पंजीकृत हैं 409 दिव्यांग
जिले के निकायों में भी 409 दिव्यांग पंजीकृत हैं। नगर पालिका नौतनवां में 110, महराजगंज में 88, सिसवां में 80, निचलौल में 60, घुघली में 37 व फरेंदा में 34 दिव्यांग पंजीकृत हैं।
... और पढ़ें

दीप जलाकर दिखाई एकजुटता

कोरोना वायरस : दीप जलाकर दिखाई एकजुटता
महराजगंज। कोरोना के प्रभाव को रोकने के लिए प्रधानमंत्री के आह्वान पर रविवार को जिले के ग्रामीण से लेकर नगरीय क्षेत्रों में नौ मिनट तक दीपों से उजाला किया गया। लोगों ने नौ बजे अपने घरों की लाइटों को बंद कर दिया। नौ बजकर नौ मिनट तक दीपक, मोमबत्ती, टार्च व मोबाइल टार्च से रोशनी कर यह संदेश दिया कि अपने मजबूत इरादों व प्रकाश के माध्यम से वे कोरोना को हरा कर ही दम लेंगे। इस दौरान शंख ध्वनि से वातारण गूंज उठा।
प्रधानमंत्री ने जनता कर्फ्यू व लॉकडाउन के बाद रविवार को आमजन से नौ बजे से लेकर नौ बजकर नौ मिनट तक घरों की लाइटों को बंद करते हुए दीपक, मोमबत्ती, टार्च व मोबाइल टार्च से रोशनी करने की बात कही थी, जिसके क्रम में जिले के सभी नगरीय व ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। घर के बच्चों से लेकर बुजुर्ग एवं महिलाओं ने भी अपनी व्यवस्था के मुताबिक दीपक, मोमबत्ती, टार्च व मोबाइल टार्च से रोशनी जलाकर व्यक्ति व राष्ट्र की कुशलता के प्रति अपने दायित्वों का निर्वहन किया। नगर से लेकर गांव तक दीपों, मोमबत्ती, टार्च व मोबाइल से निकल रहे प्रकाश ने जहां सभी के मजबूत इरादों को दर्शाया, वहीं अंधेरे में उजाले की लौ का अहसास भी कराया। नौतनवां, फरेंदा, सोनौली, घुघली, सिसवां, निचलौल समेत अन्य स्थानों के लोगों ने बढ़ चढ़ हिस्सा लिया। जिले के सभी 923 ग्राम पंचायतों में भी इसे लेकर लोग उत्साहित दिखे।
अपर जिलाधिकारी कुंजबिहारी अग्रवाल ने बताया कि कोरोना वायरस की चुनौतियों के खिलाफ लड़ रहे कर्मवीरों के सम्मान में रविवार की रात लोगों ने अपने घर की छत पर दीपक जलाए। वहीं मुख्य विकास अधिकारी पवन अग्रवाल ने बताया कि प्रधानमंत्री के आह्वान पर लोगों ने श्रद्धा और विश्वास का दीप जलाकर कर कोरोना के खिलाफ छिड़ी जंग में एकजुटता का परिचय दिया।
इन विद्युत उपकेंद्रों पर तैनात रहे अवर अभियंता
नौ मिनट के इस कार्यक्रम के दृष्टिगत जिले के बैंकुठपुर, मुख्यालय, चौक, चेहरी, परतावल, भिटौली, घुघली, चौमुखा, निचलौल, डोमा, ठूठीबारी, निचलौल तहसील, सिसवां, बरवां कला, मिठौरा, पनियरा, मुजुुुरी, आंनदनगर नगर व ग्रामीण, धानी, बृजमनगंज, हरपुर, समरधीरा, अड्डा बाजार, लक्ष्मीपुर, कोल्हुई, नौतनवां ग्रामीण व तहसील तथा सोनौली विद्युत उपकेंद्र में संबंधित क्षेत्र के अवर अभियंता तथा आठ उपखंड अधिकारी भी रात आठ से 10 बजे तक तैनात रहे।
... और पढ़ें
भारत नेपाल सीमा सोनौली गेट पर दीप जलाते एसएसबी जवान एवं पुलिस कर्मी। भारत नेपाल सीमा सोनौली गेट पर दीप जलाते एसएसबी जवान एवं पुलिस कर्मी।

सूचना छिपाने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई

सूचना छिपाने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई
महराजगंज। जिले में लॉकडाउन का कड़ाई से पालन कराने एवं जमात से आने वाले लोगों के बारे में सही सूचना देने समेत अन्य महत्वपूर्ण बिन्दुओं को लेकर थानों में बैठक हुई, जिसमें संबंधित थानेदारों ने कहा कि जमात से लौटने वाले लोगों के बारे में सूचना देने में लापरवाही हुई तो कार्रवाई होगी। ऐसे में जिसे भी जानकारी हो, तुरंत पुलिस को अवगत कराएं। साथ ही घरों में रहकर लॉकडाउन के नियम का पालन करें।
पनियरा प्रतिनिधि के अनुसार थाना परिसर में रविवार को गुरुओं के साथ हुई पुलिस प्रशासन की बैठक में लॉकडाउन तोड़ने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी गई। थानाध्यक्ष दिलीप कुमार शुक्ला ने कहा कि लोगों के सुरक्षा के लिए ही देश में सम्पूर्ण लॉकडाउन किया गया है। इसलिए किसी भी परिस्थिति में लोगों को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। इस दौरान अब्दुल जब्बार, आशफाक, उमेश जायसवाल, उमेश तिवारी, सुनील यादव, अमित कुमार गुप्ता आदि मौजूद रहे।
सोनौली प्रतिनिधि के अनुसार कोरोना वायरस के बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुए लॉकडाउन के दौरान सीमावर्ती नगर सोनौली के सभी धर्मगुरुओं के साथ पुलिस चौकी में बैठक हुई। जिसमें एसएसबी के अधिकारी में शामिल हुए। चौकी प्रभारी सोनौली अशोक कुमार ने कहा कि सभी धर्मों के धर्मगुरुओं व्यापारियों, समाजसेवियों के साथ कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को लेकर लॉकडाउन को पूर्ण रूप से सफल बनाने की जरूरत है। इस मौके पर बाबा शिव नारायण दास, पशुपतिनाथ मद्देशिया, गुड्डू गुप्ता, निजामुद्दीन आदि मौजूद रहे। निचलौल प्रतिनिधि के अनुसार उपजिलाधिकारी अभय कुमार गुप्ता व क्षेत्राधिकारी रणविजय सिंह ने संयुक्त रूप से कोठीभर व निचलौल थाने में धर्मगुरुओ के साथ बैठक की। सामाजिक दूरी बनाकर कोरोना वायरस से बचाव के बारे में जानकारी दी गई।
... और पढ़ें

लॉकडाउन का दिखा असर, थम गया शहर

लॉकडाउन का दिखा असर, थम गया शहर
महराजगंज। लॉकडाउन का असर रविवार को शहर की मुख्य सड़कों पर देखा गया। इक्के दुक्के वाहन ही सड़कों पर चलते दिखे। सड़क पर चल रहे गैर जरूरी वाहनों के चालकों से पुलिस ने पूछताछ की। लोगों को लॉकडाउन का पालन करने की चेतावनी दी गई। वहीं शहर की मुख्य सड़क को छोड़ गली मोहल्लों की सड़कों की लोगों की कुछ आवाजाही दिखी। कई जगहों पर लोग सोशल डिस्टेंसिग की अनदेखी करते हुए देखे गए।
शहर में सब्जी मंडी में पुलिस भ्रमण कर सभी लोगों को दूरी बनाए रखने की अपील की। वहीं बैरिकेडिंग स्थल पर तैनात पुलिस कर्मी सभी आने जाने वालो से पूछताछ करते दिखे। अनावश्यक घूम रहे लोगों को चेतावनी देकर छोड़ा गया। कॉलेज रोड, गोरखपुर रोड समेत कलेक्ट्रेट परिसर में सूना रहा। दिन भर पुलिस का गाड़ियां भ्रमण करती रहीं। सिसवा, सोनौली, धानी, फरेंदा, बृमनगंज, परतावल, घुघली, बरगदवां, ठूठीबारी, निचलौल, भिटौली समेत अन्य स्थानों पर सन्नाटा पसरा रहा। सीमावर्ती क्षेत्र में भी सड़कें सूनी रहीं।
बाहरी लोगों के लिए गांव का मुख्य मार्ग बंद
अड्डा-लेहड़ा बाजार। बृजमनगंज ब्लॉक में कोरोना पॉजिटिव मिलते ही लोगों के होश उड़ गए। फुलमनहा ग्रामसभा के अनुकपुर गांव के ग्रामीणों ने गांव को लॉकडाउन करते हुए मुख्य मार्ग को बंद कर दिया। विनोद, राजू, प्रमोद, नागेंद्र यादव, अर्जुन चौरसिया, मनोज पटवा, चंद्रिका यादव आदि ने बताया कि गांव की सभी सीमा पूरी तरह बंद कर दिया गया है। वहीं कोल्हुई थाना क्षेत्र के जंगल गुलरिहा गांव में लोगों ने नो एंट्री का बोर्ड लगा दिया है।
... और पढ़ें

पत्नी मंगलसूत्र बंधक रख क्वारंटीन में पति को पहुंचा रही खाना

मंगलसूत्र बंधक रखा तो घर में बना खाना
क्वारंटीन में रखे गए पति को घर से खाना पहुंचा रही पत्नी
धर्मेंद्र कुमार गुप्ता
निचलौल (महराजगंज)। सरकार भले ही कह रही हो लॉकडाउन में आप घर में रहें, हम जरूरी चीजें वहीं मुहैया कराएंगे, लेकिन ये भी सच है कि बहुत से लोगों को दो वक्त की रोटी भी नसीब नहीं हो रही है। रविवार को कटका उर्फ कवतरी गांव के आंगनबाड़ी केंद्र के क्वारंटीन हाउस में तो ऐसा ही दिखा। यहां क्वारंटीन किए गए लोगों को खाना तक नहीं मिल रहा। यहां रह रहे एक शख्स की पत्नी ने अपना मंगलसूत्र बंधक रखकर रकम का इंतजाम किया और बच्चों के साथ-साथ पति को भी खिलाने क्वारंटीन हाउस पहुंची।
कोरोना संक्रमण के चलते दूसरे प्रांतों व विदेश से लौटे लोगों गांव के प्राथमिक विद्यालय व पंचायत भवन में क्वारंटीन किया गया है, लेकिन यहां रुके लोग जिम्मेदारों की लापरवाही से परेशान हैं। किसी भी क्वारंटीन सेंटर पर जिम्मेदार ड्यूटी तक करते नजर नहीं आ रहे हैं। रविवार को कटका उर्फ कवतरी गांव के आंगनबाड़ी केंद्र के क्वारंटीन हाउस में सुबह ड्यूटी करते कोई नहीं मिला। वहां दो लोगों को क्वारंटीन किया गया है। इसी बीच सेंटर में रह रहे विनोद की पत्नी वितना देवी उनके लिए घर से भोजन लेकर पहुंचीं। वितना ने बताया कि सेंटर पर खाना नहीं मिलता, इसी से पति के खाने के लिए भोजन लाती हूं। लॉकडाउन के कारण कामकाज ठप होने से दुखी वितना देवी ने कहा कि भोजन बनाने के लिए घर पर राशन नहीं था। बच्चे भूखे रहते थे, ऐसे में आभूषण कारोबारी के पास मंगलसूत्र बंधक रखकर रुपये लिए। उसी रकम से राशन खरीदकर भोजन बनाया। बच्चों को खिलाने के बाद पति को दिया। ग्राम प्रधान के पति राधेश्याम गुप्ता का कहना है कि सेंटर पर रुके लोगों के भोजन के लिए पांच सौ रुपये मिले हैं, जो पर्याप्त नहीं हैं।
सीडीओ ने भेजवाई खाद्य सामग्री
महराजगंज। अमर उजाला संवाददाता से जानकारी मिलने के बाद कटका उर्फ कवतरी गांव निवासी वितना देवी को रविवार की शाम चावल, दाल, गेहूं, सब्जी और मसाला उपलब्ध करा दिया गया। यही नहीं, शाम को ही एसडीएम निचलौल एवं सीओ ने मौके पर पहुंचकर जरूरी जानकारी भी हासिल की। मुख्य विकास अधिकारी पवन अग्रवाल ने बताया कि जिले के सभी क्वारंटीन सेंटर पर बेहतर ढंग से भोजन एवं रहने की व्यवस्था की गई है। वितना देवी का मामला संज्ञान में आने के बाद तत्काल संबंधित अधिकारी को जरूरी सामग्री उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया। साथ ही इस मामले की जांच भी कराई जाएगी। ग्राम प्रधान संगीता देवी के पति राधेश्याम के अनुसार महिला को 30 किलो चावल, 30 किलो गेेहूं, दो किलो दाल, सब्जी एवं मसाला दिया गया है। साथ ही क्वारंटीन सेंटर में रहने वाले दोनों लोगों को भोजन समय से मिले, इसकी भी व्यवस्था कर दी गई है।
... और पढ़ें

यूपी में कोरोना से तीसरी मौत, शामली में 5 और मैनपुरी-औरेया में मिले 3-3 कोरोना पॉजिटिव

गांव कटका के क्वांटीन सेंटर पर घर से खाना आने का इंतजार करते लोग।

पत्नी मंगलसूत्र को बंधक रख क्वारंटीन में पहुंचा रही पति के लिए खाना, बोली- नहीं था अन्न का दाना

कोरोना को रोकने के लिए देश में 21 दिनों के लिए लॉकडाउन किया गया है। ऐसे में पूरा कामकाज ठप हो गया है। लॉकडाउन के कारण बाहर से लोग अपने घरों की तरफ चल दिए। घर पहुंचने से पहले की उन्हें प्राथमिक विद्यालय व पंचायत भवन में क्वारंटीन सेंटर में भेज दिया गया।

वहीं निचलौल इलाके में एक पत्नी अपने मंगलसूत्र को बंधक रखकर क्वारंटीन सेंटर में भर्ती पति को भोजन पहुंचा रही है। इसे जानकर आसपास के लोग हैरान हो गए हैं।

दरअसल, रविवार को क्षेत्र के गांव कटका उर्फ कवतरी आंगनवाड़ी केंद्र के क्वारंटीन में दो लोग भर्ती हैं। इसी बीच सेंटर पर रह रहे विनोद की पत्नी वितना देवी पति के लिए घर से खाना लेकर आ गई। वितना ने बताया कि सेंटर पर खाना नहीं बनता है जिसके कारण पति को खिलाने के लिए भोजन लेकर लाई हूं।

आंख में आंसू लिए वितना कहने लगी कि लॉकडाउन के कारण कामकाज ठप हो गया है। भोजन बनाने के लिए घर पर राशन नहीं था। बच्चे भूखे रहते हैं जिसके कारण एक सुनार के घर अपना मंगलसूत्र बंधक रखकर रकम ली है। उसके बाद दुकान से राशन की खरीदारी कर भोजन बनाई हूं। पहले बच्चों को खिलाया बाद में पति के लिए लेकर आई हूं। 

इस मामले को लेकर ग्राम प्रधान पति राधेश्याम गुप्ता ने कहा कि सेंटर पर रुके लोगों के लिए भोजन करने के लिए पांच सौ रुपए दे दिया गया है। महिला की परिस्थति के बारे में जानकारी नहीं थी। अब रसोईया सभी लोगों के लिए खाना बनाएगा।
... और पढ़ें

महराजगंज: जांच के लिए भेजा संक्रमितों के परिवार के 23 सदस्यों का नमूना, मिठौरा सीएचसी में बना 30 बेड का कोविड अस्पताल

महराजगंज जिले के कोल्हुई व पुरंदरपुर थाना क्षेत्र में कोरोना से संक्रमित मिले सभी छह लोगों के परिवार के 48 सदस्यों के नमूने भी शनिवार को जांच के लिए मेडिकल कालेज भेजे गए। माना जा रहा है कि इतने लोगों के नूमने की रिपोर्ट आने के बाद संक्रमितों की संख्या बढ़ सकती है। दूसरी तरफ स्वास्थ्य विभाग भी बचाव को लेकर अपनी तैयारियों में जुटा हुआ है।

कोरोना के नोडल अधिकारी व उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. आईए अंसारी ने बताया कि कोल्हुई व पुरंदरपुर थाना क्षेत्र के चार गांवों में छह लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के उपरांत उनके घरों के सभी संदिग्ध 48 सदस्यों को जिला अस्पताल में लाया गया तथा उनके नमूने जांच के लिए मेडिकल कालेज भेज दिए गए। उन्होंने बताया कि संदिग्धों को क्वारंटीन किया गया है। रिपोर्ट आने के बाद अगला कदम उठाया जाएगा।



मिठौरा में 30 बेड का बना कोविड अस्पताल
अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि जिले में आधा दर्जन कोरोना पॉजिटिव केस सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने अपने तैयारियों को और तेज कर दिया है। मिठौरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को कोविड अस्पताल बनाकर 30 बेड आरक्षित कर लिया गया है। कोरोना संक्रमितों को वहीं पर भर्ती कराया जाएगा। कोरोना संक्रमितों के बेहतर इलाज के लिए 25 सदस्यीय दल भी तैनात है, जिसमें छह चिकित्सक, छह नर्स, दो फार्मासिस्ट, तीन वार्ड ब्वाय, छह स्वीपर व दो लैब टेक्नीशियन शामिल है।

अधिकारी हालात पर रखे हुए हैं नजर
प्रशासनिक के साथ-साथ स्वास्थ्य विभाग के उच्चाधिकारी भी हालात पर नजर बनाए हुए हैं। कोल्हुई व पुरंदरपुर थाना क्षेत्र के कोरोना पॉजिटिव के गांव, जिला अस्पताल, कोविड अस्पताल में सतर्कता दिखाई जा रही है। सीएमओ डॉ. एके श्रीवास्तव, एसीएमओ डॉ. राजेंद्र प्रसाद व डॉ. विवेक श्रीवास्तव, उप मुख्य चिकित्साधिकारी के साथ-साथ विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम भी सजग है।
... और पढ़ें

महराजगंज: कोरोना संक्रमितों के परिवार के 41 सदस्यों का नमूना आया निगेटिव, प्रशासन ने ली राहत की सांस

उत्तर प्रदेश के महराजगंज जिले के कोल्हुई एवं पुरंदरपुर थाना क्षेत्र के छह गांव से 21 जमाती मिले जो दिल्ली से लौटे थे। उनकी जांच हुई तो छह लोगों को कोरोना संक्रमित पाया गया। इसके बाद इनके परिवार के 41 सदस्यों को क्वारंटीन में रखते हुए नमूना जांच के लिए भेजा गया था। रविवार को जांच रिपोर्ट में निगेटिव आया, जिससे स्वास्थ्य विभाग समेत प्रशासन ने राहत की सांस ली।

जिलाधिकारी डॉ. उज्जवल कुमार ने बताया कि दिल्ली तब्लीगी जमात मरकज से आए छह लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं। जिन्हें सीएचसी मिठौरा के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। उनकी निगरानी के लिए टीम लगाई गई है। इसके अलावा जिले में किसी भी स्थिति से निपटने के लिए हर संभव व्यवस्था की गई है।

कोरोना संक्रमित मिले लोगों के कारण गांव को सील कर दिया गया है। तीन किलोमीटर के दायरे में किसी को आने जाने की छूट नहीं है। सुरक्षाकर्मी प्रत्येक हलचल पर नजर रखे हुए हैं।

वहीं स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव में घर-घर जाकर लोगों की जांच कर रही है। इसके अलावा चार गांव को पूरी तरह से सैनिटाइज किया जा रहा है। वहीं गांव में अधिकारियों एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम को तैनात किया गया है।
... और पढ़ें

नोटों पर भी 12 घंटे है वारयस का असर, रहें सावधान

नोटों पर भी 12 घंटे तक वारयस का असर, रहें सावधान
महराजगंज। कोरोना वायरस का संक्रमण नोटों से भी फैलने का डर है। नोटों पर भी वायरस का असर 12 घंटे तक रहता है। ऐसे में बैंकों में जमा-निकासी करते समय सभी सतर्कता बरतें। ऐसा कोई भी कार्य न करें जिससे खाताधारकों, बैंककर्मियों व आमजन की समस्या बढ़ जाए।
कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से उत्पन्न हुए हालात व लॉकडाउन को देखते हुए खाताधारक अधिक से अधिक संख्या में बैंक पहुंचकर अपने धन की जमा व निकासी कर रहे हैं। संक्रमित व्यक्ति द्वारा धन के जमा करने की वजह से नोटों पर भी 12 घंटे तक संक्रमण रहने की आशंका रहती है, ऐसे में यह जरूरी है कि इस विपरीत हालात में हम पूरी सावधानी व सतर्कता बरतें तथा सुरक्षित जमा व निकासी करें। बैंककर्मियों को भी इस पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। 12 घंटे तक संक्रमण की वजह से बैंककर्मियों को भी यह चाहिए कि वे जमा धन को 48 घंटे तक न निकालें तथा उसके बाद ही उसका प्रयोग करें। जिले के बैंक शाखाओं के जिम्मेदारों को भी इस बारे में जागरूक किया जा रहा है।
मार्गदर्शी बैंक के मुख्य प्रबंधक सुरेंद्र कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि कुछ राज्यों में बैंकों में जमा धन को 48 घंटे तक प्रयोग न किए जाने का निर्देश जारी हुआ है। ऐसे में यह आवश्यक है कि सुरक्षा के दृष्टि से सभी लोग सैनिटाइजर व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। बैंककर्मी भी जमा हुए नोटों को 48 घंटे बाद प्रयोग करना सुनिश्चित करें।
... और पढ़ें

महराजगंज: छह जमाती कोरोना संक्रमित मिलने के बाद पुलिस सख्त, गांव में नहीं मिलेगा किसी को प्रवेश

उत्तर प्रदेश के महराजगंज में दिल्ली के तब्लीगी जमात से वापस आए 21 लोगों में से पुरंदरपुर थाना क्षेत्र व कोल्हुई थाना क्षेत्र के तीन-तीन लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। इससे प्रशासन हरकत में आ गया है। ऐसे में गांव के अंदर व बाहर जाने के पर रोक लगा दी गई है।

शुक्रवार देर रात कोरोना की पुष्टि होते ही सभी के परिजनों को जहां आनन-फानन में आइसोलेट कर नमूना जांच के लिए भेजा गया। वहीं प्रशासन ने संक्रमित लोगों के गांव के रास्तों को बैरिकेट कर सील कर दिया है। वहीं स्वास्थ्य विभाग की टीम जांच में जुट गई है।

थानाध्यक्ष पुरंदरपुर शाह मुहम्मद ने बताया कि बीते 21 मार्च को थाना क्षेत्र के 6 लोग दिल्ली के तब्लीगी जमात से वापस आए थे। जिनमें से तीन लोगों में कोरोना के संक्रमण की पुष्टि होते ही उच्चाधिकारियों के निर्देश के क्रम में क्वारंटीन में रखे गए, सभी के परिवार के सदस्यों को स्वास्थ्य टीम के साथ आइसोलेशन वार्ड भेजा दिया गया है। 

वहीं थानाध्यक्ष कोल्हुई राम सहाय चौहान ने बताया कि थाना क्षेत्र के दो ग्राम पंचायतों से तीन लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। जिसके बाद उन्हें क्वारंटीन कर दिया गया है। उनके परिजनों को आइसोलेशन वार्ड भेज दिया गया है। इसके साथ ही पूरे गांव को सील कर दिया गया है।

क्षेत्राधिकारी फरेन्दा अशोक कुमार मिश्र ने बताया कि संक्रमण के फैलने को लेकर पुलिस ने गांव के रास्तों को बैरिकेट कर सील कर दिया गया है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us