विज्ञापन
विज्ञापन
आपकी जन्मकुंडली दूर करेगी आपके जीवन का कष्ट
Janam Kundali

आपकी जन्मकुंडली दूर करेगी आपके जीवन का कष्ट

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

पिता ने बेटी को गड़ासे से काटकर तालाब में फेंका था शव, बोला- प्रेमी के साथ रहने की जिद पर अड़ी थी लड़की

उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के वाल्टरगंज थाने के बेलहरा की अन्नू हत्याकांड का खुलासा करते हुए पुलिस ने उसके पिता शिव गोविंद त्रिपाठी को गिरफ्तार कर लिया है। आरोप है कि बेटी के प्रेम प्रसंग से तंग आकर पिता ने उसे गड़ासे से काटकर मौत के घाट उतार दिया था।

जानकारी के मुताबिक, 12 नवंबर को वाल्टरगंज थाने के पास पिपरा ताल में 18 वर्षीय अन्नू का शव मिला था। काफी कोशिश के बाद शव का शिनाख्त हुआ था। पुलिस तभी से जांच में जुटी थी।

पुलिस अधीक्षक हेमराज मीणा ने प्रेसवार्ता के दौरान बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में अन्नू की हत्या धारदार हथियार से किए जाने की पुष्टि हुई थी। उसके बाद पुलिस ने जांच पड़ताल तेज करते हुए रविवार को शक के आधार पर मृतका के पिता शिवगोविंद त्रिपाठी को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की।

पुलिस ने पूछताछ के दौरान कड़ाई की तो शिवगोविंद ने सच उगल दिया। उसने बताया कि प्रेम प्रसंग के चलते उसने ही बेटी की हत्या कर शव तालाब में फेंक दिया था। बेटी बार-बार प्रेमी के साथ रहने की जिद पर अड़ी थी। इस बात से नाराज होकर वारदात को अंजाम दिया। पुलिस ने हत्यारोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।
... और पढ़ें

यूपी: शादी के नाम पर 'लिव इन' में आई दरार, युवक ने मांगे 35 लाख रुपये

उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां शादी तय होने के बाद आठ वर्ष से साथ रहने वाले मंगेतर ने नौकरी लगने पर शादी से इनकार कर दिया। आरोप है कि शादी करने के लिए वह 35 लाख रुपये दहेज मांगने लगा। पीड़िता की तहरीर पर पुरानी बस्ती थाने में पुलिस मुकदमा दर्ज कर छानबीन कर रही है।

युवती ने तहरीर में बताया है कि गोरखपुर के शाहपुर थाना क्षेत्र के रहने वाले प्रशांत शुक्ला के साथ उसकी शादी 2012 में तय हुई थी। इसके बाद दोनों की आपस में बातचीत होने लगी। बाद में दोनों लिव इन रिलेशनशिप में भी रहने लगे। प्रशांत नौकरी लगने तक शादी के लिए रुकने का झांसा देता रहा। 2016 में उसकी नौकरी बैंक में लग गई।

पीड़िता का कहना है कि इसके बाद घरवालों ने शादी की तारीख तय कर दी। मगर प्रशांत के माता-पिता लालच में आकर 35 लाख रुपये दहेज मांगने लगे। प्रशांत का भाई भी इसके लिए दबाव बनाने लगा।

पीड़िता ने बताया कि उसके परिजन प्रशांत के मां-बाप को 2015 में ही पांच लाख रुपये दे चुके हैं। अब प्रशांत व उसके घरवाले शादी करने से इनकार कर रहे हैं। पुरानी बस्ती पुलिस ने तहरीर के आधार पर आरोपी प्रशांत, उसके माता-पिता और भाई के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।


प्रभारी निरीक्षक अवधेश राज सिंह ने बताया कि आईपीसी की धारा 500 व दहेज उत्पीड़न के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। महिला उप निरीक्षक मीरा चौहान मामले की तफ्तीश कर रही है।
... और पढ़ें

ठंड में सक्रिय हो जाते हैं ये खास गिरोह, लूटपाट के लिए बेरहमी से बहा देते हैं खून

ठंड की दस्तक के साथ ही वारदातों को अंजाम देने वाले कई गिरोह भी सक्रिय हो जाते हैं। ऐसे में एडीजी जोन ने पुलिस से सतर्क रहने और विशेष जांच अभियान चलाने को कहा है। एडीजी ने रेलवे स्टेशन और सड़क किनारे झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वालों की विशेष रूप से जांच करने के निर्देश दिए हैं।
 
दरअसल, बावरिया व कच्छा बनियान गिरोह के बदमाश दिवाली के त्योहार से ही वारदात को अंजाम देना शुरू करते हैं। इसे देखते हुए ही एडीजी जोन ने सभी पुलिस कप्तानों को यह दिशा-निर्देश जारी किया है।

जानकारी के मुताबिक, पूर्व में जोन के कई जिलों में बावरिया व कच्छा बनियान गिरोह के बदमाशों ने कई दुस्साहसिक घटनाओं को अंजाम दिया है। बावरिया गिरोह के सदस्य दिवाली की रात से लेकर कर होलिका दहन तक अलग-अलग जगहों पर जाकर वारदातों को अंजाम देते हैं। आमतौर पर ये लूट व डकैती के दौरान घर में मौजूद सदस्यों की हत्या तक भी कर देते हैं या उन्हें गंभीर रूप से घायल कर देते हैं।  

ऐसे में एडीजी ने पुलिस को सतर्क रहने का निर्देश दिया है। उन्होंने शहर के बाहरी इलाकों की नई कॉलोनियों में खासकर गश्त बढ़ाने के निर्देश दिया है। एडीजी ने कहा कि इस तरह के लोग डेरा डालकर रहते हैं और खिलौने, कागज के फूल आदि बेचने के बहाने कॉलोनियों में जाकर पहले रेकी करते हैं और फिर घटनाओं को अंजाम देते हैं। लिहाजा खिलौने बेचने वाले, भिखारियों और घुमंतू लोगों की विशेष तलाशी ली जाए।

 
... और पढ़ें

यूपी: लंबी है खाकी पर कलंक की फेहरिस्त, इन मामलों में भी शर्मसार हो चुकी है यूपी पुलिस

उत्तर प्रदेश के बस्ती पुलिस कर्मियों की करतूस सामने आने से तूफान मचा हुआ है। अलग-अलग तरीके से इसे परिभाषित किया जा रहा है। नया प्रकरण सामने आने पर पिछले करतूतों की चर्चा हो ही जाती है।

गोरखपुर में व्यापारियों से हुई लूट के मामले में गिरफ्तार चार पुलिसकर्मी जिले में तैनात थे। इस मामले के पर्दाफाश के बाद कुछ पुरानी घटनाओं पर लोग जिक्र करने लगे। हाल के तीन वर्षों के भीतर ही कई ऐसे मामले सामने आए, जिनमें पुलिस कर्मियों को जेल की हवा खाने की नौबत आ चुकी है। जानकार बताते हैं कि खाकी पर कलंक की फेहरिस्त लंबी है।  

घूस लेते हुआ था गिरफ्तार
अक्तूबर 2020 में लालगंज थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर विजय यादव को एंटी करप्शन टीम ने 40 हजार की रिश्वत लेते हुए मौके से गिरफ्तार किया गया था। थाने के बानपुर निवासी धर्मेंद्र चौधरी का शव पंखे से लटकता हुआ मिला था। परिजनों ने उसी गांव के उमेश चौधरी समेत चार अन्य लोगों पर भूमि विवाद को वजह बताते हुए आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया था। इस मामले की जांच एसआई विजय प्रताप यादव को सौंपी गई थी।

 
... और पढ़ें
पुलिस। (सांकेतिक तस्वीरे) पुलिस। (सांकेतिक तस्वीरे)

बस्ती: फायरिंग की झूठी सूचना देना युवक को पड़ा भारी, पुलिस ने ऐसे सिखाया सबक

यूपी के बस्ती जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां पुलिस कंट्रोल रूम को फायरिंग की झूठी सूचना देना एक युवक को भारी पड़ गया। पुलिस ने न सिर्फ उसके खिलाफ शांति भंग का मामला दर्ज किया, बल्कि उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया।

मामला जिले के वाल्टरगंज थाना क्षेत्र के ग्राम मानिकचंद का है। पुलिस के अनुसार, अमित चौधरी निवासी मुस्तफाबाद ने शुक्रवार को दिन में पुलिस कंट्रोल रूम को जानकारी दी कि मानिकचंद चौराहे पर फायरिंग हो रही है। कंट्रोल रूम ने यह सूचना तुरंत वायरलेस सेट पर फ्लैश की और थानाध्यक्ष दिनेश कुमार सरोज को तत्काल मौके पर पहुंचने को कहा गया।

एसओ के साथ मानिकचंद चौराहा पर पहुंचे तो वहां सबकुछ सामान्य मिला। छानबीन शुरू की और सूचना देने वाले को फोन मिलाया गया। तो फोन बंद मिला। कुछ देर बाद फोन खुलने पर लोकेशन ट्रेश की गई तो वह मानिकचंद चौराहे के आगे सड़क पर शराब के नशे में धुत होकर आने जाने वाले लोगों से गाली गलौच करता दिखाई पड़ा।

पुलिस ने युवक को पकड़ लिया। उसका 151 सीआरपीसी में चालान कर मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश कर दिया गया। थानाध्यक्ष दिनेश कुमार सरोज ने कहा कि फायरिंग की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे तो युवक शराब के नशे में आने जाने वाले लोगों को अपशब्द कह रहा था। युवक के विरुद्ध विधिक कार्रवाई करते हुए जेल भेज दिया गया है।

 
... और पढ़ें

यूपी: लुटेरे दारोगा की करतूत से शर्मसार हुआ पूरा गांव, बोले- यकीन नहीं हो रहा

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में स्वर्ण व्यापारियों से 30 लाख की लूट के आरोप में दबोचे गए बस्ती में तैनात दारोगा धर्मेंद्र यादव, सिपाही महेंद्र यादव और संतोष यादव की संपत्तियों की जांच भी कराई जाएगी। अगर अपराध से अर्जित संपत्ति मिली तो उसे भी कुर्क किया जाएगा। एसएसपी जोगेंद्र कुमार ने साफ कहा कि इस मामले में इस तरह की कार्रवाई की जाएगी कि भविष्य के लिए नजीर बने और कानून का कोई रखवाला इस तरह का कदम उठाने से डरे।

जानकारी के मुताबिक, दारोगा धर्मेंद्र यादव गोरखपुर के सिकरीगंज का ही रहने वाला है। वह लंबे समय तक पीएसी में रहा है। गोरखपुर में इस तरह की दो वारदात की बात उसने कबूल की है। पिछली घटना में पुलिस ने इतनी सख्ती नहीं दिखाई और मामला खुल नहीं पाया था। हालांकि पुलिस ने तब भी केस दर्ज कर जांच की थी लेकिन तीन दिन बाद जांच शुरू की गई थी और पुलिस को कोई सीसीटीवी फुटेज या ऐसा सुराग नहीं मिल सका था जिससे वह आरोपियों तक पहुंच सके। लेकिन अब मामला पकड़ में आने के बाद पुलिस तह तक जाना चाहती है।

पुलिस को यह भी संदेह है कि इस तरह की और वारदातें आरोपी पहले भी कर चुके होंगे लेकिन पकड़े नहीं जा सके। यही वजह है कि पुलिस आरोपियों की संपत्ति की जांच कर रही है ताकि अवैधानिक तरीके से अर्जित की गई संपत्ति का पर्दाफाश हो सके। एसएसपी ने साफ कहा है कि इनकी बेनामी संपत्ति मिली तो अपराधियों की तरह ही कुर्की की जाएगी। इस मामले में ऐसी कार्रवाई करेंगे कि भविष्य में कोई पुलिस वाला इस तरह का काम करने की हिम्मत न जुटा सके।
... और पढ़ें

यूपी: बस्ती में तैनात दरोगा व सिपाहियों ने लूटे थे 30 लाख, थानेदार सहित 12 निलंबित

गोरखपुर कैंट इलाके के रेलवे स्टेशन से महराजगंज के दो स्वर्ण व्यापारियों को अगवा कर नौसड़ के पास से 30 लाख रुपये बस्ती में तैनात दरोगा व सिपाहियोें ने मिलकर लूटे थे। गोरखपुर पुलिस ने 24 घंटे के अंदर लूट कांड का पर्दाफाश करके दरोगा धर्मेंद्र यादव व दो सिपाहियों सहित छह आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

आरोपियों के पास से लूट के 19 लाख रुपये नकद और 11 लाख रुपये कीमत का सोना व चांदी बरामद कर लिया गया। गिरोह का सरगना दरोगा धर्मेंद्र यादव को बताया गया है। आरोपी दरोगा ने लूट की एक और घटना कबूल की है। पुलिस के मुताबिक दरोगा ने चार लोगों के साथ कस्टम अफसर बनकर शाहपुर में एक व्यापारी से चार किलोग्राम चांदी लूटी थी। इस मामले में भी एक पुलिस कर्मी आरोपी है। वह अब भी पुलिस की पकड़ से दूर है।

दूसरी तरफ बस्ती के आईजी राजेश राय ने बताया कि स्वर्ण व्यापारियों से लूट के आरोपी पुरानी बस्ती थाने में तैनात दरोगा सहित 12 पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। लापरवाही बरतने पर इंस्पेक्टर अवधेश राज सिंह सहित नौ और पुलिस कर्मी निलंबित किया गया है। निलंबित पुलिस कर्मियों की कुल संख्या 12 है। मामले की जांच एसपी सौंपी गई है। 
     
 
... और पढ़ें

खाकी की आड़ में विभाग को किया शर्मसार, चंद मिनटों में उड़ा लिए 30 लाख

लूट की घटना का खुलासा करते एसएसपी।
महराजंज के दो सर्राफा व्यवसाई को गोरखपुर में अगवा करके 30 लाख की लूट की घटना को अंजाम देने वाले तीनों पुलिस कर्मी 25 महीने से पुरानी बस्ती थाने में तैनात हैं। सहकर्मी बताते हैं कि भले ही उनमें एक दरोगा और बाकी दोनों सिपाही थे लेकिन उनका आपसी तालमेल और गठजोड़ कमाल का था।

अलग-अलग जिलों के निवासी होने के बावजूद माना जाता था कि सजातीय आत्मीयता इनकी निकटता का कारण है, लेकिन गुरुवार को तीनों पुलिसकर्मियों दरोगा धर्मेंद्र यादव, कांस्टेबल संतोष यादव व कांस्टेबल महेंद्र यादव की करतूत ने पूरे महकमे को शर्मसार कर दिया। इनमें कांस्टेबल महेंद्र का शादी के लिए रिश्ता तय है।

एसपी हेमराज मीणा के मुताबिक, सितंबर 2018 में बलिया से स्थानांतरित होकर आया दरोगा धर्मेंद्र यादव और 2018 में भर्ती हुए दोनों सिपाहियों महेंद्र यादव व संतोष यादव की जनवरी 2019 में पुरानी बस्ती थाने पर तैनाती हुई थी।

इनमें दरोगा धर्मेंद्र यादव गोरखपुर जिले के थाना सिकरीगंज के जगरनाथपुर, आरक्षी महेंद्र यादव मऊ जनपद के थाना सराय लखनसी के रैकवारडीह और तीसरा आरक्षी संतोष यादव गाजीपुर जिले के थाना जंगीपुरा के गांव अलवरपुर का मूल निवासी है।

गुरुवार को जब पुरानी बस्ती थाने समेत जिले के अन्य पुलिसकर्मियों को लूटकांड में तीनों के शामिल होने का पता चला तो सभी सन्न रह गए। अब तीनों की आपस की गठजोड़ को लेकर कई तरह की चर्चाएं हैं।
... और पढ़ें

यूपी: चिटफंड कंपनी का इनामी निदेशक गिरफ्तार, रकम दोगुना के बहाने 284 करोड़ की ठगी में था वांछित

सस्ते दर पर फ्लैट व जमीन उपलब्ध कराने का झांसा देकर लोगों से 284 करोड़ रुपये से ज्यादा की ठगी के करने वाली कंपनी के इनामी निदेशक को उत्तर प्रदेश की बस्ती जिले की कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। एसपी ने उस पर 15 हजार रुपये इनाम घोषित किया था।

उस पर किम इंफ्रास्ट्रक्चर, नेक्टर कामर्शियल, किम फ्यूचर विजन और हेल्प फाइनेंस के नाम से चार कंपनियां बनाकर ठगी का आरोप है। कोतवाल रामपाल यादव ने बताया कि चौकी प्रभारी बड़ेबन जनार्दन प्रसाद मय टीम ने कटरा पानी टंकी के पास से कवलजीत सिंह निवासी छज्जल बड़ी थाना खिलचियांन जनपद अमृतसर (पंजाब) को गिरफ्तार किया।

इन कंपनियों के दो अन्य निदेशकों को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है, जिनमें सरगना रविंद्र सिंह सिद्धू निवासी पार्क एवन्यु रेयान स्कूल के सामने दुबर्जी चौक थाना सुल्तानविंड जनपद अमृतसर (पंजाब) और मनोज अधिकारी निवासी संतगढ़ निकट कंधारी चौक थाना तिलकनगर, नई दिल्ली पश्चिमी शामिल हैं। इन दोनों पर हाल में गैंगस्टर की कार्रवाई की गई थी।

एक वर्ष पहले दर्ज था मुकदमा
दिसंबर-2019 में जिले की कोतवाली में हेल्प फाइनेंस कंपनी के नाम से 74 लाख रुपये की धोखाधड़ी करने के मामले में मुकदमा दर्ज था।  तफ्तीश के दौरान पुलिस मनोज अधिकारी तक पहुंची। उसके पास से फ्राड से जुड़े कई अभिलेख बरामद किए गए हैं। मनोज ने शहर के रोडवेज के पास शाखा खोलकर 74 लाख रुपये वादी से जमा कराए थे। एसपी के अनुसार वर्ष-1999 से जिले में कुल चार करोड़ 60 लाख रुपये लोगों के ठगे हैं।

 
... और पढ़ें

बिहार से आलू बेचकर लौट रहे कारोबारी समेत तीन की हत्या, इस हाल में मिला शव

बिहार से आलू बेचकर उन्नाव लौट रहे कारोबारी समेत तीन की बस्ती के छावनी थाना क्षेत्र में हत्या कर दी गई। एक का शव पचवस के पास झाड़ियों में, जबकि दो के शव गोड़सड़ा के पास खड़े ट्रक में मिले।

सूचना पर आईजी अनिल कुमार राय, एसपी हेमराज मीणा व अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे। ट्रक से 1.40 लाख रुपये बरामद होने के आधार पर पुलिस ने लूट के इरादे से हत्या किए जाने से इन्कार करते हुए कहा कि इसके पीछे किसी गहरी साजिश की आशंका है। घटना के पर्दाफाश के लिए एसपी ने छावनी, परशुरामपुर, विक्रमजोत व हर्रैया पुलिस की संयुक्त टीम का गठन किया है।

एसपी हेमराज मीणा ने बताया कि शनिवार कि सुबह पचवस गांव के मॉर्निंग वाक पर निकले कुछ युवकों ने झाड़ियों के पास एक शव को देखा और पुलिस को सूचना दी। मौके पर पुलिस पहुंची तो शव की शिनाख्त खलासी सोनू मौर्या पुत्र राम अवतार, निवासी मीरपुर भरौचा, थाना असीबन जिला उन्नाव के रूप में हुई। उसके पास से मिले कागजात से पता चला कि वह एक ट्रक के खलासी हैं।

कागजात से ट्रक के मालिक मनोज कुमार का मोबाइल नंबर मिला। उनसे बात हुई तो मनोज ने जीपीएस से ट्रक का लोकेशन निकालकर पुलिस को बताया। बताए गए लोकेशन छावनी थाना क्षेत्र के गोडसड़ा के ढाबे के पास पुलिस पहुंची तो वहां ट्रक खड़ा मिला। ट्रक में चालक राजकुमार पुत्र छोटेलाल, निवासी दुर्जनखेड़ा अकबाबाद, जिला उन्नाव व आलू कारोबारी असलम पुत्र अब्दुला, निवासी रतनमाला बगहा, जिला पश्चिमी चंपारन, बिहार का खून से लथपथ शव पड़ा मिला।
... और पढ़ें

बस्ती: मुठभेड़ में बदमाश गिरफ्तार, गोली लगने से सिपाही भी घायल

उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले से बड़ी खबर आ रही है। यहां नगर बाजार थानाक्षेत्र के कूरहा पट्टी गांव के पास सोमवार तड़के पुलिस ने बदमाश को गिरफ्तार कर लिया। उसकी पहचान महुली संतकबीरनगर निवासी अनूप उर्फ मंगल सिंह के रूप में हुई है।

जानकारी के मुताबिक, सोमवार तड़के पुलिस टीम व बदमाश के बीच मुठभेड़ हो गया। इस दौरान एक आरक्षी आनंद दुबे व बदमाश को गोली लगने से दोनों घायल हो गए। जिसके बाद पुलिस ने बदमाश अनूप को गिरफ्तार कर लिया। दोनों घायलों को इलाज के लिए जिला अस्पताल भेजा गया है।

एसओजी प्रभारी का कहना है कि नौ जनवरी को ग्राहक सेवा केंद्र पर हुई लूट के 11 हजार रुपये बरामद किए गए हैं। नगर बाजार थाना क्षेत्र के पाल नगर के पास बदमाशों ने असलहे के बल पर बैंक संचालक से 35 हजार रुपये लूट लिया था।
... और पढ़ें

यूपी: ई-टिकट घोटाला के सरगना का करीबी उसके पिता संग गिफ्तार, बरामद हुआ 12 करोड़ से अधिक का दस्तावेज

आईआरसीटीसी के ई-टिकट का नकली साफ्टवेयर बेचकर करोड़ों की चपत लगाने वाले हामिद गिरोह के दो सदस्यों को पुलिस व आरपीएफ टीम ने मंगलवार को बस्ती जिले के हर्रैया के मुरादीपुर चौराहे के पास से गिरफ्तार किया। हामिद के घर व प्रतिष्ठान पर भी पुलिस पहुंची और वहां से तमाम जमीन-जायदाद के कागजात, शेयर बांड आदि बरामद किया।

एसपी हेमराज मीणा ने प्रेसवार्ता के दौरान बताया कि इस गिरोह का आठ दिसंबर 2019 को खुलासा करते हुए तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया गया था। उनसे पूछताछ के आधार पर गिरोह के दो अन्य गुर्गे पकड़े गए थे। उनसे पूछताछ के दौरान इन दोनों का नाम प्रकाश में आया था। जिसमें सरगना हामिद अशरफ का पिता जमीरुल हसन उर्फ लल्ला निवासी रमवापुर कप्तानगंज भी शामिल है। जबकि दूसरा गुर्गा भदोही जनपद के सुरियांव थानाक्षेत्र निवासी योगेंद्र विश्वकर्मा है जो साफ्टवेयर बेचकर मिली रकम लाकर हामिद के पिता लल्ला को नकद सौंप देता था।

बताया कि इस रकम से लल्ला तमाम जमीनें, मकान आदि खरीदकर उसमें निवेश कर देता था। तमाम रिश्तेदारों के नाम उसने जायदद खरीद रखी है। मुंबई और दुबई में भी फ्लैट होने की जानकारी मिली है। पुलिस को 12 करोड़ की कीमती रजिस्ट्री जमीन के दस्तावेज, बैंक खातों में 90 लाख रुपये के बांड मिले हैं। इसके अलावा 30 लाख रुपये बैक खाते में पाए गए। खाते को फ्रीज किया गया है।

 
... और पढ़ें

बस्ती: घर के सामने मोबाइन टावर से लटका मिला युवक का शव, जांच में जुटी पुलिस

बस्ती जिले के वाल्टरगंज थाना क्षेत्र के लक्ष्मणपुर गांव में रविवार की सुबह मोबाइल टावर से एक युवक का शव लटकता मिला। स्थानीय लोगों की सूचना पर पहुंचे परिजनों ने मृतक की पहचान गांव के साजिद के रूप में की। ग्रामीणों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस इसे खुदकुशी मान रही है, लेकिन घटना के सभी पहलुओं की जांच कर रही है।

जानकारी के मुताबिक, बस्ती-डुमरियागंज मार्ग स्थित लक्ष्मणपुर गांव में बीएसएनएल का मोबाइल टावर लगा हुआ है। इसी के सामने रहमत अली का मकान है। थानाध्यक्ष डीके सरोज ने बताया कि युवक की पहचान रहमत अली के बेटे साजिद (20) के रूप में हुई है। पूछताछ में सामने आया कि साजिद शनिवार की शाम को अचानक घर से निकल गया। देर रात तक वह घर नहीं लौटा तो परिवार के लोग उसे ढूंढने निकले।

काफी तलाश के बाद रविवार को जब परिजन टावर के पास पहुंचे तो साजिद का शव रस्सी से टावर के एंगल से लटका हुआ था। आनन-फानन उसका शव नीचे उतारा गया और पुलिस को सूचना दी गई। इधर, साजिद की मौत की खबर से घर में कोहराम मचा गया है। मां आसमा, भाई निसार व इस्तखार, बहन नुरैना, हसीना, शकीला, नूरजहां, सैयदा खातून, सहित परिवार के सभी लोगों का रो-रो कर बुरा हाल है। थानाध्यक्ष ने बताया कि परिजनों के अनुसार मामला आत्महत्या का लग रहा है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद स्थिति स्पष्ट होगी।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X