विज्ञापन
विज्ञापन
अधिकमास : सम्पूर्ण सफलता के लिए जरुर करें यह पांच काम
astrology

अधिकमास : सम्पूर्ण सफलता के लिए जरुर करें यह पांच काम

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

कोरोना कमांडोः दुधमुंहे बच्चे को घर में छोड़कर मां ने निभाया फर्ज और दी आइसोलेशन वार्ड में ड्यूटी

घर में 6 माह का बच्चा दूध के लिए रोता रहा, लेकिन एक मां ने अपने फर्ज के रास्ते को चुनते हुए देश के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाई।

9 जुलाई 2020

विज्ञापन
Digital Edition

पीपीई किट और मास्क पहन चेहरे पर हो गए गहरे जख्म, फिर भी हिम्मत नहीं हुई कम, जारी है जंग

वो कोरोना है तो हम भी इंसान हैं। आज साथ ना होकर भी एक साथ हैं। हम सबके अंदर होता है एक योद्धा, खाली उस योद्धा को जगाना है। इस युद्ध में हर किसी को कोरोना योद्धा बनकर दिखाना है...  कोरोना से इस जंग में लिखी गई कविता की यह चंद लाइनें अस्पतालों में ड्यूटी कर रहे हैं पीजीआई, जीएमसीएच-32 व जीएमएसएच-16 के उन हजारों नर्सिंग ऑफिसर के जज्बे को बयां करती हैं जो अपने घर परिवार से दूर रहकर महीनों से कोरोना के मरीजों की सेवा करने में जुटे हुए हैं।

इतना ही नहीं कोरोना से इस जंग में पीपीई किट और मास्क पहनने के कारण इनके चेहरे पर गहरे जख्म हो गए हैं, लेकिन इनकी हिम्मत कम नहीं हुई है। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए बरते जा रहे हैं एहतियात से उन्हें ड्यूटी के दौरान यह जख्म मिल रहे हैं। इसके बावजूद उनका हिम्मत कम नहीं हुआ है। वे अपने कर्तव्य से हटने की बजाय दोगुने धैर्य और हिम्मत के साथ आगे बढ़ रहे हैं।

कोविड-वार्ड में ड्यूटी के दौरान बचाव के लिए पहने जाने वाले पीपीई किट व एन95 मास्क से नर्सिंग ऑफिसर के चेहरे पर गहरे जख्म बन जा रहे हैं। लगातार छह से 7 घंटे तक किट पहनने से उनके नाके और गालों पर फोड़े हो रहे हैं। इतना ही नहीं कइयों को तो नाक से खून बहने की भी समस्या झेलनी पड़ रही है। बावजूद इसके उन्होंने अपनी ड्यूटी बंद नहीं कि नहीं अस्पताल प्रशासन से कहकर उसे बदलवाया।   
... और पढ़ें
कोरोना योद्धाओं को सलाम कोरोना योद्धाओं को सलाम

चंडीगढ़ में अब घर बैठे मोबाइल पर मिल रही है कोरोना जांच रिपोर्ट, अस्पताल में संक्रमण का खतरा

कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच मरीजों को अस्पताल में कम से कम बुलाने की बात को गंभीरता से लेते हुए जीएमएसएच-16 प्रशासन ने नई पहल की है। अस्पताल ने कोरोना के संदिग्ध मरीजों की जांच रिपोर्ट उनके मोबाइल पर मैसेज के जरिए उपलब्ध कराने की सुविधा शुरू कर दी है। अस्पताल प्रशासन के अनुसार, मौजूदा समय में रैपिड किट से होने वाली जांच की रिपोर्ट 15 से 20 मिनट के अंदर आ जाती है।

इसके बाद रिपोर्ट को पोर्टल पर अपलोड कर के मरीज द्वारा दिए गए मोबाइल नंबर पर मैसेज कर दिया जा रहा है। ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि मरीज को बार-बार अस्पताल आने की जरूरत न पड़े। मैसेज द्वारा रिपोर्ट मिलने की सुविधा शुरू होने के बाद मरीजों को अस्पताल में केवल एक बार सैंपल देने आने के बाद दोबारा रिपोर्ट पॉजिटिव होने की स्थिति में ही आने की जरूरत पड़ेगी। 
... और पढ़ें

कृषि विधेयकः अब मंत्रियों-विधायकों के सहारे किसानों के मनाएगी सरकार, सीएम ने संभाला मोर्चा

हरियाणा में कृषि बिल पर विरोध की चिंगारी अभी सुलग रही है। किसान संगठनों के साथ-साथ विरोधी सियासी दलों कांग्रेस और इनेलो के बागवती सुर भी मुखर हैं। सोमवार को कांग्रेस का जिला मुख्यालयों पर इसी बिल के विरोध में धरना-प्रदर्शन किया गया। सभी जिलों में कांग्रेसियों ने धरना-प्रदर्शन कर जिला अधिकारियों को ज्ञापन भी सौंपा। कांग्रेस की प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा इस दौरान जींद के जिला प्रदर्शन की कमान संभाल रही थी। इसी तरह अन्य कांग्रेसी नेता विभिन्न जिलों में विरोध प्रदर्शनों का नेतृत्व कर रहे थे।

किसानों के साथ-साथ विरोधियों के आंदोलन का जवाब देने के लिए प्रदेश सरकार ने अब अपनी मंत्रियों और विधायकों की टीम फील्ड में उतारने का फैसला लिया है। सीएम मनोहर लाल खुद भी इस मोर्चे पर आगे हैं। वे भी निरंतर विभिन्न मंचों से किसानों के समझाने में लगे हुए हैं। अब मंत्रियों और विधायकों से कहा गया है कि वे भी किसानों के बीच जाकर उन्हें इस कृषि बिल के सही मायनों से अवगत करवाएं। ताकि किसान अपनी राजनीति चमकाने वाले विरोधी नेताओं के चुंगल से बाहर आकर एक बार इस बिल को सही ढंग से समझने की कोशिश करें।

इस दौरान किसानों को बताया जाएगा कि इस बिल से न तो कृषि मंडियां बंद होने वाली हैं और न ही उनकी फसल न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम पर बिकने वाली है। ये तो उनके लिए एक ऐसा विकल्प है। जिसके सहारे किसान अपनी फसल मंडियों से बाहर मार्केट फीस बचाते हुए समर्थन मूल्य से अधिक रेट पर देश में कहीं भी अपनी फसल बेच पाएगा। मंत्रियों और विधायकों के साथ-साथ भाजपा नेताओं से भी कहा गया है कि वे भी किसानों के बीच जाकर उन्हें इस बीच की वास्तविकता से अवगत करवाते हुए उन्हें मनाएं।
... और पढ़ें

अब राफेल विमान उड़ाएगी देश की बेटी, चल रही है खास ट्रेनिंग, उड़ा चुकी हैं मिग-21

नवजोत सिंह सिद्धू (फाइल फोटो)

सीएम मनोहर लाल बोले- पुलिस ने नहीं किया लाठीचार्ज, सीआईए स्टाफ ने आत्मरक्षा में चलाए डंडे

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा है कि पिपली में पुलिस ने लाठीचार्ज नहीं किया। सादी वर्दी में तैनात सीआईए स्टाफ ने आत्मरक्षा में डंडे चलाए। किसानों ने बैरिकेड तोड़कर उन पर ट्रैक्टर चढ़ाने की कोशिश की थी। मुख्यमंत्री यहां ई-बुक के लोकार्पण के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे। उन्होंने सवालों के जवाब में कहा कि कुछ बातें ऐसी होती हैं जिनका सीधा स्पष्ट जवाब नहीं होता। लाठीचार्ज का कोई आदेश पिपली में नहीं था।

लाठीचार्ज क्या होता है चर्चा ये होनी चाहिए। आत्मरक्षा का अधिकार सभी को है, अगर कोई पुलिसकर्मी पर ट्रैक्टर चढ़ाना शुरू करेगा तो वो खुद का बचाव करेगा। लाठीचार्ज की जांच पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हो गई न जांच, वह आपके सामने ही जांच कर रहे हैं। आत्मरक्षा में सीआईए स्टाफ ने डंडा चलाया, ये सामने आया है। चीजों को काबू करने के लिए कुछ चीजें मौके पर ही होती हैं।

दिग्विजय चौटाला के चौधरी देवीलाल के परिवार पर लाठी पड़ने के बयान पर उन्होंने कहा कि इससे भी कोई बड़ी बात कह देगा तो उसमें हर्ज क्या है। तथ्य तो तथ्य होते हैं कहने का क्या है। पिपली में कुछ लोगों पर चली लाठी को लाठीचार्ज नहीं कहा जा सकता, क्योंकि वह आत्मरक्षा में उठाया गया कदम था। सीएम ने कहा कि पिपली के वीडियो में एक व्यक्ति सादी वर्दी में टोप पहने दिखाई दे रहा है, वहीं दूसरी तरफ से ट्रैक्टर बैरिकेडिंग को तोड़कर आगे बढ़ा जा रहा है। ऐसे में कानून का पालन नहीं करने वालों पर आत्मरक्षा में कार्रवाई करनी पड़ी।
... और पढ़ें

हरियाणा: 24 घंटे में 2187 मरीज हुए ठीक, 1818 नए पॉजिटिव मिले, 28 की मौत

हरियाणा में 24 घंटे में 1818 कोरोना के नए मामले सामने आए हैं। जबकि 2187 मरीज ठीक हुए। दो दिनों से रिकवरी रेट बढ़कर 80.37 प्रतिशत पहुंच गया है। जबकि संक्रमण की दर भी बढ़कर 6.65 प्रतिशत हो गई है।

कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 113075 और मरने वालों का आंकड़ा 1177 हो गया है। 28 और मरीजों को कोरोना ने काल का ग्रास बना लिया है। फरीदाबाद में एक, गुरुग्राम में एक, रोहतक में एक, पानीपत में चार, करनाल में एक, हिसार में दो, पंचकूला में तीन, महेंद्रगढ़ में एक, कुरुक्षेत्र में तीन, नूहं में एक, सिरसा में दो, यमुनानगर में दो, कैथल में दो व जींद में चार लोगों ने संक्रमण से दम तोड़ा है।

24 घंटे में फरीदाबाद में 251, गुरुग्राम में 314, सोनीपत में 68, रेवाड़ी में 82, अंबाला में 92, रोहतक में 96, पानीपत में 79, करनाल में 104,  हिसार में 104, पलवल में 53, पंचकूला में 50, महेंद्रगढ़ में 73, झज्जर में 65, भिवानी में 36, कुरुक्षेत्र में 99, नूंह में 2, सिरसा में 89, यमुनानगर में 79, फतेहाबाद में 30, कैथल में 41, जींद में 2 व चरखी दादरी में नौ नए मरीज सामने आए हैं। 

अब तक फरीदाबाद में 18014, गुरुग्राम में 18156, सोनीपत में 7340, रेवाड़ी में 5064, अंबाला में 7882, रोहतक में 5090, पानीपत में 6756, करनाल में 6602, हिसार में 4991, पलवल में 2337, पंचकूला में 5110, महेंद्रगढ़ में 3005, झज्जर में 2215, भिवानी में 2433, कुरुक्षेत्र में 4685, नूहं में 1040, सिरसा में 3163, यमुनानगर में 3509, फतेहाबाद में 2011, कैथल में 2171, जींद में 1676 व चरखी दादरी में 525 संक्रमित मरीज सामने आ चुके हैं। 

ठीक होने वालों की संख्या
ठीक होने वालों में मरीजों में अब तक फरीदाबाद में 16101, गुरुग्राम में 15185, सोनीपत में 6277, रेवाड़ी में 4506, अंबाला में 5684, रोहतक में 3945, पानीपत में 5362, करनाल में 4704, हिसार में 3524, पलवल में 2119, पंचकूला में 3773, महेंद्रगढ़ में 2454, झज्जर में 1844, भिवानी में 2005, कुरुक्षेत्र में 3225, नूंह में 909, सिरसा में 2118, यमुनानगर में 2750, फतेहाबाद में 1481, कैथल में 1691, जींद में 918 व चरखी दादरी में 309 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं।
... और पढ़ें

पंजाबः आधार कार्ड दिलाएगा 8वीं से 12वीं तक की कक्षाओं में दाखिला, ऐसे उठाएं फायदा

पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड (पीएसईबी) ने उन हजारों विद्यार्थियों को बड़ी राहत दी है जो पंजाब स्कूल बोर्ड या दूसरे राज्य बोर्ड से 8वीं, 9वीं, दसवीं और 11वीं पास कर पीएसईबी से जुड़े स्कूलों दाखिला ले चुके हैं। अगर उनके पास निचली कक्षा के पास होने संबंधी कोई दस्तावेज नहीं है। ऐसे छात्रों को अब स्कूलों में बर्थ सर्टिफिकेट या आधार कार्ड के आधार पर दाखिला दिया जा सकेगा।

इसी आधार पर उनकी फाइनल सबमिशन कर दी जाए। इस संबंधी बोर्ड की तरफ से सभी स्कूलों को आदेश जारी कर दिए गए है। वहीं, बोर्ड ने साफ कर दिया है कि अगर कोई नियम तोड़ता है तो स्कूलों पर कार्रवाई की जाएगी। जानकारी के मुताबिक, पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के सामने काफी संख्या में इस तरह के मामले में सामने आ रहे थे।

इसमें कई छात्रों ने आठवीं से लेकर 12वीं तक बोर्ड से संबंधित स्कूलों में दाखिला ले लिया है, लेकिन उनके पास पहले की परीक्षा पास करने का कोई दस्तावेज नहीं है। ऐसे छात्रों के भविष्य को ध्यान में रखकर यह मामला उच्च अधिकारियों के ध्यान में लाया गया है। इसके बाद केस की गंभीरता को देखते हुए बोर्ड ने उक्त आदेशों को लागू करने संबंधी आदेश जारी किए हैं।
... और पढ़ें

लापरवाही की हद... राजिंदरा अस्पताल पटियाला में कोरोना संक्रमित महिला पड़ी रही सीढ़ियों पर

पंजाब के पटियाला जिले का सरकारी राजिंदरा अस्पताल कोविड प्रबंधों को लेकर एक बार फिर से सवालों के घेरे में है। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुई है, जिसमें एक कोविड मरीज महिला सीढ़ियों पर पड़ी है। इस वीडियो में दावा किया जा रहा है कि महिला मरीज पिछले दो घंटे से मृत सीढ़ियों पर पड़ी है और उसे देखने या उठाने को कोई नहीं आ रहा है।

अमर उजाला से बात करते हुए अस्पताल के नवनियुक्त मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. एचएस रेखी का कहना है कि महिला की मौत दूसरे दिन शाम को हुई है। यह घटना 19 सितंबर की है और वीडियो दोपहर का है। डॉ. रेखी ने बताया कि जो वीडियो वायरल हुई है, उसमें सीढ़ियों पर पड़ी महिला करनैल कौर है, जिसकी आयु 60 साल से ज्यादा थी और शनिवार को गंभीर हालत में महिला को सरकारी राजिंदरा अस्पताल दाखिल कराया गया था।

उसे सांस लेने में तकलीफ थी। खून में आक्सीजन की मात्रा नॉर्मल 90 से ज्यादा होनी चाहिए, लेकिन महिला के खून में उस समय ऑक्सीजन की मात्रा 68 थी। जिस कारण उसे कोविड के पांच नंबर वार्ड की आईसीयू में दाखिल कराया गया और साथ ही उसका कोविड का सैंपल लेकर भेजा गया। डॉ. रेखी ने कहा कि कोविड वार्ड में इतने मरीज हैं, हो सकता है कि डाक्टर व अन्य स्टाफ किसी और मरीज को देखने में व्यस्त हो।

इसी दौरान महिला शायद ठीक महसूस न करने कारण उठकर बाहर को चली गई और चार नंबर वार्ड की सीढ़ियों पर गिर गई। उन्होंने माना कि शनिवार को दोपहर करीब एक-डेढ़ बजे की घटना है। बाद दोपहर ढाई बजे महिला को वहां से उठाकर तुरंत आईसीयू लाया गया। महिला उस समय जीवित थी और शनिवार शाम को उसकी मौत हुई है। टेस्ट में वह कोविड पॉजिटिव आई थी।

जबकि वायरल वीडियो में एक महिला दावा कर रही है कि करनैल कौर की लाश सीढ़ियों पर दो घंटे से पड़ी है। कोई उसे देखने या उठाने नहीं आया। वायरल वीडियो में महिला राजिंदरा में कोविड प्रबंधों को लेकर सवाल उठा रही है। अमर उजाला इस वीडियो की पुष्टि नहीं करता है।
... और पढ़ें
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us