विज्ञापन
विज्ञापन
घर बैठें बनवाएं फ्री जन्मकुंडली और जानें भविष्य की कहानी ग्रह - नक्षत्रों की ज़ुबानी
Kundali

घर बैठें बनवाएं फ्री जन्मकुंडली और जानें भविष्य की कहानी ग्रह - नक्षत्रों की ज़ुबानी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

बेमिसाल बेटियां: डर के आगे जीत है... यही फलसफा अपनाकर हितिका ठाकुर बनीं 'अपराजिता'

कोरोना के मरीजों की देखभाल करते हुए खुद के चेहरे पर जख्म हो गए। बावजूद इसके उन्होंने हिम्मत नहीं हारी।

20 अक्टूबर 2020

विज्ञापन
Digital Edition

चंडीगढ़ पीजीआई में कोविडशील्ड वैक्सीन का पहला चरण सफल, कल दी जाएगी दूसरी डोज

पीजीआई चंडीगढ़ में ऑक्सफोर्ड की कोविडशील्ड वैक्सीन के मानव परीक्षण का पहला फेज सफल रहा है। परीक्षण में 25 सितंबर को जिन तीन स्वयंसेवकों को वैक्सीन की खुराक दी गई थी, उनकी स्थिति संतोषजनक है। गुरुवार को उन स्वयंसेवकों के ब्लड सैंपल की जांच रिपोर्ट आने के बाद यह निर्णय लिया गया है कि उन्हें शनिवार को वैक्सीन की दूसरी खुराक दी जाएगी।

पीजीआई के निदेशक प्रो. जगतराम ने बताया कि मानव परीक्षण के पहले फेज की सफलता से टीम उत्साहित है। शनिवार को परीक्षण के क्रम को आगे बढ़ाते हुए स्वयंसेवकों को वैक्सीन की दूसरी खुराक दी जाएगी। उसके बाद तय समयसीमा तक आकलन किया जाएगा। ठीक इसी तरह की प्रक्रिया वैक्सीन की पहली खुराक ले चुके अन्य स्वयंसेवकों पर भी अपनाई जाएगी। उनका भी 27वें दिन खून जांच कर रिपोर्ट के आधार पर 28 वें दिन दूसरी खुराक दी जाएगी।  

उन्होंने बताया कि पीजीआई में 25 सितंबर से शुरू परीक्षण में अब तक 100 से ज्यादा स्वयंसेवकों को वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है। वहीं, अन्य स्वयंसेवकों की स्क्रीनिंग का क्रम जारी है, उनकी संख्या 150 के पार पहुंच चुकी है। कोरोना को मात देने के लिए विश्व भर में इस वैक्सीन का मानव परीक्षण चल रहा है। चंडीगढ़ पीजीआई में अब तक 500 से ज्यादा स्वयंसेवकों ने पंजीकरण कराया है। पंजीकरण का क्रम अब भी जारी है। 
... और पढ़ें
पीजीआई चंडीगढ़। पीजीआई चंडीगढ़।

आर्थिक तंगी ने लील लिया परिवार, पत्नी-दो बच्चों को मार डाला फिर व्यक्ति ने खुदकुशी कर ली

पंजाब के बठिंडा के में आर्थिक तंगी व कर्ज से परेशान एक ट्रेडर ने अपनी पत्नी और दो बच्चों की गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद गोली मारकर खुदकुशी कर ली। मृतकों की पहचान दविंदर गर्ग (41), उनकी पत्नी मीना गर्ग (38), बेटे आरुष गर्ग (14) और बेटी मुस्कान गर्ग (10) के तौर पर हुई है। मृतक ने मरने से पहले एक खुदकुशी नोट लिखा, जिसमें आर्थिक तंगी और कर्ज को अपनी मौत का कारण बताते हुए नौ ऐसे लोगों के नाम लिखे हैं, जो उसे पैसे के लिए परेशान करते थे।

बठिंडा की ग्रीन सिटी कालोनी की कोठी नंबर 284 में किराये पर रहने वाले दविंदर गर्ग प्राइवेट कंपनी के जरिए ट्रेडिंग का काम करते थे। लॉकडाउन के दौरान काम बंद होने से उनकी आर्थिक स्थिति कमजोर हो गई थी। वहीं करोड़ों का कर्ज भी सिर पर चढ़ गया था। इससे दविंदर परेशान रहने लगा था। गुरुवार दोपहर करीब चार बजे उसने अपने लाइसेंसी रिवाल्वर से पहले अपनी पत्नी और दोनों बच्चों की गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद अपनी कनपटी पर गोली मारकर खुदकुशी कर ली।
... और पढ़ें

आलोक वर्मा हो सकते हैं हरियाणा लोक सेवा आयोग के नए अध्यक्ष, चेयरमैन पंचनंदा का कार्यकाल पूरा

स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले चुके आईएफएस अधिकारी आलोक वर्मा हरियाणा लोकसेवा आयोग के नए अध्यक्ष हो सकते हैं। उन्होंने 22 अक्तूबर 2020 से स्वैच्छिक सेवानिवृत्त ले ली है। वे 23 अक्तूबर को शपथ ग्रहण कर सकते हैं। वर्मा मुख्यमंत्री के विश्वासपात्रों में से हैं। आयोग के अध्यक्ष आरके पंचनंदा का कार्यकाल 22 अक्तूबर, 2020 को खत्म हो रहा है। आलोक वर्मा मुख्यमंत्री के एडीसी पर्यटन, प्रधान सचिव पर्यटन सहित अनेक पदों पर रह चुके हैं। उन्होंने बुधवार को एक संदेश भी जारी किया। इसमें उन्होंने लिखा कि 31 साल की सेवाएं भारतीय वन सेवा में शानदार रहीं। 22 अक्तूबर, 2020 से सेवानिवृत्ति ले रहा हूं।
... और पढ़ें

30 किसान संगठनों की बैठक में फैसला, पांच नवंबर तक मालगाड़ियों के लिए खोला रेल ट्रैक

केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब विधानसभा के विशेष सत्र में प्रस्ताव पास होने के बाद आंदोलनरत किसान यूनियनों की बैठक में 30 किसान संगठनों ने एक राय होकर पांच नवंबर तक मालगाड़ियों के लिए रेलवे ट्रैक खोल दिया है। हालांकि किसान भाजपा नेताओं के आवास, शॉपिंग मॉल्स और रिलायंस पेट्रोल पंप का रणनीति के तहत घेराव जारी रखेंगे। आगे की रणनीति पर फैसला करने के लिए चार नवंबर को चंडीगढ़ में बैठक बुलाई गई है।

किसान भवन में बुधवार को आयोजित बैठक के बाद पत्रकार वार्ता के दौरान भारतीय किसान यूनियन के प्रधान बलबीर सिंह राजेवाल, डॉ दर्शन पाल ने बताया कि बैठक में विचार-विमर्श के बाद यह तय किया गया है कि अभी उनके संघर्ष का पहला पड़ाव है लेकिन राज्य हितों को देखते हुए पांच नवंबर तक रेलवे ट्रैक खोल दिए जाएं। इसलिए ताकि मालगाड़ियों के जरिए राज्य में जरूरी वस्तुओं की आवाजाही हो सके।

उन्होंने बताया कि आगे की रणनीति बनाने को बुधवार से ही रेल ट्रैक मालगाड़ियों के आवागमन के लिए खोल दिए गए हैं। लेकिन यात्री गाड़ियों को नहीं चलने दिया जाएगा। चार नवंबर को चंडीगढ़ के किसान भवन में बैठक कर अगला फैसला लिया जाएगा। 
... और पढ़ें

चंडीगढ़: अगर नहीं भरा संपत्ति कर तो निगम भेजेगा अंतिम नोटिस फिर कटेगा पानी का कनेक्शन

किसान भवन में 30 किसान संगठनों की बैठक।
नगर निगम ने संपत्ति कर न जमा कराने वाले 200 लोगों के पानी का कनेक्शन काटने का नोटिस जारी कर दिया है। एक माह में लोगों ने अपना संपत्ति कर जमा नहीं कराया तो उनका पानी का कनेक्शन काट दिया जाएगा। निगम के अनुसार अभी शहर में लगभग 9 हजार ऐसे आवासीय लोग हैं, जिन्होंने अपना संपत्ति कर जमा नहीं कराया है। 

अतिरिक्त कमिश्नर अनिल गर्ग ने बताया कि सामान्य रूप से हर साल 31 मार्च तक संपत्ति कर भरना होता है। कोरोना के कारण निगम ने इस बार 31 जुलाई तक का समय दिया था। इससे निगम को 39 करोड़ का रेवेन्यू आ चुका है। संपत्ति कर न भरने वाले लोगों को नोटिस जारी किया गया था। इसमें कुछ लोगों ने तो अपना कर जमा करा दिया, लेकिन कुछ लोगों का अभी भी बकाया है। 

साल 2004 से अब तक संपत्ति कर न जमा कराने वालों को अंतिम नोटिस भेजा जा रहा है। अब भी कर जमा नहीं हुआ तो पानी का कनेक्शन काट दिया जाएगा। साथ ही इस कर को उनके पानी के बिल के साथ जोड़ दिया जाएगा। वर्तमान में 9 हजार रेजिडेंशियल डिफॉल्टर हैं। इन पर लगभग 7 करोड़ रुपये बकाया है। वहीं, 8 हजार कॉमर्शियल प्रॉपर्टी का टैक्स बकाया है। 
... और पढ़ें

यूटी सचिवालय का हाल, यहां आईएएस अफसर उठते-बैठते हैं, पांच साल से जमा है कबाड़

यूटी सचिवालय में पुलिस शिकायत प्राधिकरण कार्यालय के सामने बीते करीब पांच वर्षों से खुले में फर्नीचर और खराब कंप्यूटर पड़े हैं। अमर उजाला ने जब मौके का मुआयना किया तो पाया कि सामानों के इस ढेर की वजह से यहां काफी गंदगी हो गई है। हैरानी की बात यह है कि यूटी सचिवालय शहर का सबसे सुरक्षित भवन है और लगभग सभी आईएएस अधिकारी यहीं बैठते हैं लेकिन यहां पर शराब की बोतलें भी मिल रही हैं। इसको लेकर कर्मचारी भी हैरत में है कि यहां शराब की बोतलें कहां से आईं।

पुलिस शिकायत प्राधिकरण का कार्यालय यूटी सचिवालय में कैंटीन के पास है। इस एरिया में चंडीगढ़ प्रशासन के इंजीनियरिंग विभाग की दो डिविजन और इंजीनियर विभाग की ड्राइंग ब्रांच भी है। कई कर्मचारी यहां काम करते हैं। रोजाना कई कर्मचारी यहां से गुजरते हैं लेकिन आजतक सामानों को यहां से हटाया नहीं गया है।

इस ढेर में कुर्सियां, टेबल, डेस्क, कंप्यूटर व अन्य इलेक्ट्रानिक उपकरण फेंके हुए हैं। यह सरकारी पैसों की सरेआम बर्बादी है। शराब की बोतल यहां कैसे आई, इस सवाल का भी किसी के पास जवाब नहीं है। एसी के पानी के गिरने की वजह से यहां पानी भी जमा हो गया है। इससे कि कर्मचारियों को डेंगू और मलेरिया का खतरा सता रहा है। यह भी हैरत की बात है कि प्रशासक वीपी सिंह बदनौर वॉर रूम की बैठक में अक्सर शहर के विभिन्न हिस्सों में फॉगिंग का सुझाव देते हैं, ताकि लोग डेंगू, मलेरिया व अन्य बीमारियों से दूर रह सकें लेकिन यूटी सचिवालय में ही कर्मचारियों को इसका खतरा सता रहा है।
... और पढ़ें

पंजाब में छह साल की बच्ची का अधजला शव मिला, दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका

पंजाब के होशियारपुर जिले में एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। यहां के थाना टांडा के तहत एक गांव की हवेली से बुधवार देर शाम प्रवासी मजदूर की छह वर्षीय बच्ची का अधजला शव बरामद हुआ है। लोगों ने हवेली में बच्ची का शव देखा तो तुरंत पुलिस को सूचना दी। बच्ची के पिता ने पुलिस को बताया कि दोपहर के वक्त गांव का ही एक व्यक्ति का पोता उनकी बेटी को बिस्कुट खिलाने के बहाने ले गया था। 

इसके बाद वह नहीं लौटी। पिता ने कहा कि आशंका है कि बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या कर शव को जलाकर खुर्द-बुर्द करने का प्रयास किया गया है। थाना टांडा के एसएचओ इंस्पेक्टर बिक्रम सिंह ने बताया कि पिता के बयान पर हत्या का मामला दर्ज किया जाएगा। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

तस्वीरें: नहीं थम रहा पराली जलाने का सिलसिला, किसान बोले- प्रदूषण की वजह वाहन और कारखाने

पंजाब में पराली की वजह से अब वायु प्रदूषण बढ़ने लगा है। प्रदेश के आठ शहरों की हवा खराब हो चुकी है। लुधियाना की हालत सबसे खराब है। दूसरी तरफ प्रदेश के किसान इन लगातार खेतों में पराली जला रहे हैं। पराली जलाने का ये सिलसिला थमने की जगह और बढ़ता जा रहा है। दीपावली से पराली जलाने की ये तस्वीरें लोगों को चिंता में डाल देंगी। क्योंकि दीपावली के बाद प्रदूषण और बढ़ेगा। अमृतसर के जौहल गांव में किसान पराली जला रहे हैं। यहां के किसानों का कहना है कि वे प्रदूषण के बारे में जागरुक हैं। लेकिन हम मजबूर हैं। पराली प्रबंधन महंगा है और सरकार इसमें सहयोग भी नहीं कर रही। प्रदूषण की मूल वजह वाहन और कारखाने हैं। किसानों को सिर्फ निशाना बनाया जा रहा है।
 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X