विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

पवीला बाली को सलाम.. जॉगिंग करते-करते उठा लिए 400 किलो पॉलिथीन, पढ़ें प्रेरक कहानी

प्लास्टिक से पर्यावरण को पहुंचने वाले नुकसान को सेक्टर 18 की रहने वाली पवीला बाली ने बखूबी समझा है।

15 सितंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

चंडीगढ़

शनिवार, 21 सितंबर 2019

अकांक्ष मर्डर केस: शिकायतकर्ता के वकील ने पेश की बीएमडब्ल्यू कार की तस्वीरें, उठाए कई सवाल

हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की पत्नी के भतीजे अकांक्ष के मर्डर केस की सुनवाई वीरवार को जिला अदालत स्थित सीबीआई कोर्ट में हुई। केस में अब शिकायतकर्ता के वकील ओर से दलीलें शुरू हो गई हैं। पीड़ित पक्ष के वकील ने बचाव पक्ष द्वारा लगाए आरोपों पर पलटवार किया है। शिकायतकर्ता के एडवोकेट तरमिंदर ने कहा कि तीनों गवाहों अदम्या राठौर, राजन पपनेजा और करणयोग की हरमेहताब और बलराज सिंह रंधावा से कोई दुश्मनी नहीं है। तीनों गवाहों का आरोपियों को झूठा फंसाने का कोई इरादा नहीं है।

बता दें कि बचाव पक्ष के वकील ने अपनी दलील में आरोप लगाया था कि तीन गवाह घायल अकांक्ष को पीजीआईएमईआर नहीं लेकर गए थे। इस पर एडवोकेट तरमिंदर ने कहा कि अकांक्ष के भर्ती होने कागजात में करणयोग का नंबर और अदम्या का नाम है। डॉक्यूमेंट में उनका नाम इसलिए है क्योंकि वो ही अकांक्ष को पीजीआई लेकर गए थे। सुनवाई के दौरान कोर्ट में बीएमडब्ल्यू कार की तस्वीरें भी पेश की गईं, जिससे यह साबित किया जा सके कि कार की सीट और अन्य जगह पर जो खून के निशान थे, वह छिड़के नहीं जा सकते।

बचाव पक्ष के एडवोकेट ने दलील दी थी कि अकांक्ष की मौत की फाइनल रिपोर्ट बनाने वाले डॉक्टर मंडल ने पीड़ित पक्ष के दबाव में अपने बयान दर्ज कराए थे। इस पर एडवोकेट तरमिंदर ने कहा कि आज तक डॉक्टर से यह सवाल नहीं किया गया कि वह उन्होंने प्रभाव में बयान दिए थे। बचाव पक्ष ने यह भी दलील दी थी कि शिकायतकर्ता की पार्टी प्रभावशाली है क्योंकि मृतक हिमाचल के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह का रिश्तेदार है। शिकायतकर्ता के वकील ने कहा कि आरोपी हरमेहताब के परदादा पेपसू स्टेट के मुख्यमंत्री और कैरन सरकार के कैबिनेट मंत्री थे। अब मामले की अगली सुनवाई 23 सितंबर को होगी।  
... और पढ़ें

चंडीगढ़ में डिस्को मालिक को आई कॉल- मैं गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई बोल रहा हूं, मंथली दोगे या सालाना

चंडीगढ़ सेक्टर-26 स्थित बुलवार्ड डिस्को के मालिक को व्हॉटसएप कॉल कर खुद को गैंगस्टर लारेंस बिश्नोई बताते हुए एक व्यक्ति ने मंथली और सालाना रंगदारी मांगी है। रंगदारी की कॉल आने के बाद डिस्कोथेक मालिक ने मामले की सूचना पुलिस को दे दी। सेक्टर-26 थाना पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ आईपीसी की धारा 387 और 507 के तहत मामला दर्ज कर रंगदारी मांगने वाले की तलाश शुरू कर दी है।

पुलिस के अनुसार, मोहाली निवासी दिव्य मलिक सेक्टर-26 स्थित बुलवार्ड डिस्को के मालिक हैं। उनके मोबाइल पर बीती मंगलवार देर शाम को इंटरनेट नंबर से एक व्हॉटसएप कॉल आई। कॉल करने वाले ने खुद को गैंगस्टर लारेंस बिश्नोई बताते हुए कहा कि ‘अपनी सिक्योरिटी के लिए मंथली दोगे या सालाना।’ इतना सुनते ही दिव्य मालिक ने जवाब दिया वह शहर के बाहर हैं।

इसके बाद खुद को लारेंस बिश्नोई बताने वाले ने कहा कि ठीक है अपने पार्टनर से सलाह करके मुझे बता देेना, नहीं तो अंजाम बुरा होगा। यह बात सुनकर डिस्को मालिक सहम गए और अगले दिन शहर वापस लौटने के बाद मामले की सूचना पुलिस को दी। शिकायत के आधार पर सेक्टर-26 थाना पुलिस ने जांच के बाद मामला दर्ज किया। सूत्रों की मानें तो कॉल के दौरान खुद को लारेंस बिश्नाई बताने वाला पंजाबी में बात कर रहा था।

 
... और पढ़ें

भारतीय युवक पर अमेरिका के शिकागो में अश्वेतों ने किया हमला, गोली मारकर मौत के घाट उतारा

अमेरिका के शिकागो में भारतीय युवक की गोली मारकर बेरहमी से हत्या कर दी गई। मामला 18 सितंबर रात करीब 11 बजे का है। जीरकपुर स्थित गांव छत्त निवासी बलजीत सिंह उर्फ प्रिंस (28) दुकान बंद करने के लिए शटर नीचे कर रहा था, तभी दो-तीन अश्वेतों ने उस पर अचानक हमला कर दिया और दुकान से डॉलर लूटकर ले जाने लगे। इस दौरान प्रिंस शटर बंद करने के लिए उठने लगा तो लुटेरों को लगा कि प्रिंस अलार्म बजाने जा रहा है और उन्होंने प्रिंस को गोली मार दी, जो उसके लीवर के पास लगी और वह जमीन पर गिरकर तड़पने लगा।

किसी तरह प्रिंस ने घायल अवस्था में अपने स्टोर मालिक अवतार सिंह को घटना की जानकारी दी। इसके बाद अवतार सिंह वहां पहुंचा और उसे घायल हालत में पास के अस्पताल में ले गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। प्रिंस की मौत के बाद उसके पूरे गांव और परिवार में मातम छाया हुआ है, उसके घर पर गांव के लोगों और रिश्तेदारों का तांता लगा हुआ है। वह करीब डेढ़ साल पहले एजेंट के जरिए मेक्सिको से होते हुए अमेरिका पहुंचा था। इसके लिए उसने एजेंट्स को 25 लाख रुपये दिए थे।

एजेंट के माध्यम से अमेरिका जाने पर उसे सरकार को अलग से 15 लाख रुपये का बांड भरना पड़ा। उसके परिवार में उसके अलावा उसके दादा-दादी, मां-बाप व दो बहनें हैं। प्रिंस घर का इकलौता बेटा था। उसकी बड़ी बहन चरणजीत कौर जर्मनी में स्टडी बेस पर गई थी और अब उसे वहां की पीआर मिली है। छोटी बहन कमलजीत कौर बीए फाइनल इयर की स्टूडेंट है और वह यहीं गांव में ही रहती है। मृतक प्रिंस के मामा अमरजीत सिंह ने भारतीय सरकार से मांग की है कि वह बलजीत का शव अमेरिका से लाने में मदद करे। इसके लिए वह पटियाला की सांसद महारानी परनीत कौर से भी मुलाकात करेंगे। अभी प्रिंस का शव पुलिस कस्टडी में है।

पिता ने 40 लाख रुपये कर्ज लेकर बेटे को विदेश नौकरी के लिए भेजा था
बलजीत उर्फ प्रिंस के चाचा सुखबीर सिंह ने बताया कि बेटे को विदेश भेजने के लिए उसके पिता इंद्रजीत सिंह ने 40 लाख रुपये का कर्ज लिया था। कर्ज के पैसे पिता के सिर से उतारने के लिए वह चार-पांच माह से पैसे भेज रहा था। प्रिंस की छोटी बहन कमलजीत कौर ने बताया कि अब तक उसके भाई ने चार-पांच लाख रुपये घर भेजे हैं और वह वहां दुकान पर अच्छे से काम करता था ताकि वह कर्ज के पैसे उतार सके।
... और पढ़ें

शहीद ऊधम सिंह गवर्नमेंट कॉलेज में 'टैलेंट शो' में युवाओं ने दिखाई प्रतिभा, शबनूर की पेंटिंग अव्वल

हरियाणा के करनाल जिले में इन्द्री कस्बा स्थित शहीद उधम सिंह राजकीय महाविद्यालय में प्रतिभा खोज प्रतियोगिता में विद्यार्थियों ने अपना हुनर दिखाया। कार्यक्रम संयोजिका डॉ. नीतू वर्मा ने बताया कि यह प्रतियोगिता दो दिन चलेगी। पहले दिन काव्य पाठ, भाषण, पेंटिंग और क्विज प्रतियोगिताएं हुईं, जिनमें कॉलेज के विद्यार्थियों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया।

प्रोफेसर राजीव गुप्ता ने कहा कि इस प्रकार की प्रतियोगिताएं बच्चों का आत्मविश्वास बढ़ाती हैं। काव्य पाठ के निर्णायक मंडल में प्रोफेसर रजनी, प्रोफेसर सुनील कुमार व प्रोफेसर वंदना सैनी शामिल रहीं। प्रोफेसर रीटा अरोड़ा, प्रोफेसर सविता रानी और प्रोफेसर मीनाक्षी ने भाषण प्रतियोगिता में निर्णायक मंडल की भूमिका अदा की।
... और पढ़ें
पेंटिंग प्रतियोगिता में हिस्सा लेती छात्राएं पेंटिंग प्रतियोगिता में हिस्सा लेती छात्राएं

कार्रवाईः हरियाणा विस चुनाव से पहले वाड्रा की फर्म को भूमि विकास के लिए मिला लाइसेंस होगा रद्द

हरियाणा सरकार ने विधानसभा चुनाव से ठीक पहले उद्योगपति रॉबर्ट वाड्रा को तगड़ा झटका दिया है। सरकार वाड्रा की कंपनी स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी को भूमि विकास के लिए मिले लाइसेंस को रद्द करने जा रही है। टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग ने लाइसेंस निरस्तीकरण की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

हरियाणा विकास, विनियमन और शहरी क्षेत्र अधिनियम, 1975 के प्रावधानों के तहत लाइसेंस रद्द करने की औपचारिकताएं विभाग ने पूरी कर ली हैं। प्रक्रिया के तहत कॉलोनाइजर को नोटिस देकर उसका पक्ष भी सुना जा चुका है। विभाग के निदेशक केएम पांडुरंग ने कहा कि लाइसेंस रद्द करने के लिए प्रक्रिया का पालन किया जा रहा है। औपचारिकताएं लगभग पूरी हो चुकी हैं।

लाइसेंस धारक का पक्ष सुना जा चुका है, अब अंतिम निर्णय लेना है। गुरुग्राम के सेक्टर-83 स्थित शिकोहपुर गांव में जिस भूमि के लिए स्काईलाइट कंपनी को लाइसेंस मिला था, उसने वह भूमि आगे डीएलएफ को बेच दी और लाइसेंस भी रिन्यू नहीं कराया। इसलिए उस लाइसेंस को रद्द (डीमड टू हेव लैप्सड) माना जाएगा। टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग ने अधिनियम के तहत कार्रवाई कर फाइल अंतिम मंजूरी के लिए सरकार को भेज दी है।
... और पढ़ें

पाकिस्तान टीम आएगी भारत और यहां इस राज्य में हो सकता है कड़ा मुकाबला, जानिए कैसा और कब

पाकिस्तान की टीम भारत आएगी और एक राज्य में मैदान पर दोनों के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिला सकता है। जी हां, अनुछेद 370 खत्म करने के बाद बेशक भारत-पाक में तनाव और जंग का माहौल बन रहा हो, लेकिन इन सबके बीच भारत-पाक एक दूसरे से कबड्डी कबड्डी करते नजर आएंगे। भारत को यकीन है कि पाकिस्तान की टीम भारत में कबड्डी का मैच खेलने जरूर आएगी।

पंजाब सरकार की तरफ से तो इसका प्रचार भी किया जाने लगा है। पंजाब सरकार की तरफ से 1 से 10 दिसंबर तक श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में अंतरराष्ट्रीय कबड्डी टूर्नामेंट-2019 का आयोजन किया जा रहा है। यह आयोजन राज्य के विभिन्न स्थानों पर होगा। अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, कनाडा, केन्या और श्रीलंका की पुरुष टीमों के इसमें हिस्सा लेने की संभावना है।

पंजाब सरकार की तरफ से जीतने वाली टीम को 25 लाख रुपये का इनाम भी रखा हुआ है। पंजाब सरकार को पाकिस्तान सरकार की तरफ से कबड्डी टीम के खिलाड़ियों की सूची भेज दी गई है और उनके वीजा प्रोसेस शुरू हो चुके हैं। पंजाब सरकार ने भी केंद्र से आग्रह किया है कि कबड्डी की टीम को वीजा जरूर दिया जाए। इसके लिए पंजाब सरकार की तरफ से एक पत्र विदेश मंत्रालय को भेज दिया गया है, जिसके साथ खिलाड़ियों की सूची भी है।
... और पढ़ें

हरियाणा के बाद पंजाब के चार रेलवे स्टेशनों को उड़ाने की जैश ने दी धमकी

मुंबई, चेन्नई औरबेंगलुरु समेत हरियाणा के कई रेलवे स्टेशनों और मंदिरों के बाद पंजाब के भी चार रेलवे स्टेशनों को उड़ाने की धमकी मिली है। जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन ने अंबाला और फिरोजपुर डिवीजन के चार स्टेशनों पर विस्फोट करने की धमकी दी है, जिसके चलते फिरोजपुर और अंबाला डिवीजन के स्टेशनों पर चेकिंग अभियान शुरू किया गया है।

फिरोजपुर रेलवे स्टेशन पर वीरवार शाम को जीआरपी और आरपीएफ ने चेकिंग अभियान चलाया। बताया जा रहा है कि आतंकी संगठन ने आठ अक्तूबर को बठिंडा, अमृतसर, पटियाला और फगवाड़ा स्टेशन को विस्फोट कर उड़ाने की धमकी दी है। जीआरपी थाना फिरोजपुर के प्रभारी सुखदेव सिंह ने कहा कि डिवीजन के स्टेशनों की चेकिंग चल रही है, वरिष्ठ अधिकारियों की तरफ से उन्हें चेकिंग करने के आदेश आए हैं।

स्टेशनों और ट्रेनों की चेकिंग की जा रही है। वीरवार को फिरोजपुर शहर और छावनी रेलवे स्टेशन की चेकिंग की गई। ये अभियान लगातार जारी रहेगा। किसी आतंकी की तरफ से धमकी भरा पत्र आया है या नहीं इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, लेकिन वरिष्ठ अधिकारियों के सतर्क रहने के आदेश हैं।

 
... और पढ़ें

हरियाणा विधानसभा चुनाव इनेलो के लिए साख बचाने की लड़ाई, परिवार टूटने से खतरे मे है वजूद

सांकेतिक तस्वीर
हरियाणा में वर्चस्व की जंग ने चौटाला परिवार और इनेलो की प्रतिष्ठा दांव पर लगा दी है। इस समय प्रदेश के सबसे मजबूत क्षेत्रीय दल का वजूद खतरे में है। अगले महीने होने वाला विधानसभा चुनाव इनेलो के लिए साख बचाने की लड़ाई बन चुका है। सबसे बड़ी चुनौती पार्टी और परिवार के विघटन के बाद इनेलो के प्रमुख नेता अभय चौटाला के सामने पुराना दमखम दिखाने की है। वर्तमान हालात में अभय को सबसे अधिक कमी अपने पिता पूर्व मुख्यमंत्री और इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला की खल रही होगी।

अगर ओपी चौटाला जेबीटी भर्ती मामले में सजा काटकर बाहर आ गए होते तो उन्हें फिर से पार्टी को खड़ा करने और बीते चुनावों का प्रदर्शन दोहराने में ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ती। बड़े चौटाला का अब भी हरियाणा के ग्रामीण क्षेत्रों में जहां काफी रसूख है, वहीं ताऊ देवीलाल की विरासत भी उनके पास है। बड़े भाई डॉ. अजय चौटाला और भतीजे दुष्यंत चौटाला के अलग राह पर चलते हुए नई पार्टी बनाने से सबसे अधिक नुकसान इनेलो को ही हुआ है।

जींद उपचुनाव में दुष्यंत चौटाला की जननायक जनता पार्टी के प्रत्याशी दिग्विजय चौटाला दूसरे स्थान पर रहे तो इनेलो प्रत्याशी मात्र चार हजार मतों के अंदर सिमट गए। लोकसभा चुनाव में भी पार्टी को करारी हार का सामना करना पड़ा। पार्टी प्रत्याशियों को बसपा-लोसुपा और कई जगह जजपा प्रत्याशियों से भी कम वोट मिले। इसके बाद इनेलो विधायकों में भगदड़ मच गई और एक-एक अधिकांश विधायक पार्टी छोड़ गए। अब अभय चौटाला के साथ वेद नारंग और ओमप्रकाश बरवा ही विधायक बचे हैं।

बावजूद इसके अभय चौटाला और उनका पूरा परिवार पार्टी को फिर से खड़ा करने और मजबूती देने में लगा हुआ है। अभय जहां पार्टी कैडर को एकजुट कर रहे हैं तो पत्नी सुनैना चौटाला महिला विंग के बैनर तले महिलाओं और बेटा अर्जुन चौटाला आईएनएलडी स्टूडेंट आर्गेनाइजेशन के जरिए युवाओं को पार्टी केसाथ लाने में जुटे हैं। खापों ने परिवार और इनेलो-जजपा में सुलह का प्रयास जरूर किया, मगर सफल नहीं हो पाईं।
... और पढ़ें

चंडीगढ़ः गृहमंत्री अमित शाह के आने से पहले बस स्टैंड पर बम की अफवाह, अफसरों में मचा हड़कंप

गृहमंत्री अमित शाह के चंडीगढ़ आने से एक दिन पहले सेक्टर-17 स्थित बस स्टैंड पर बम की सूचना से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में बम स्क्वॉड समेत पुलिस के आलाधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर पूरे बस स्टैंड पर करीब तीन घंटे तक सर्च अभियान चलाया। इस दौरान बस स्टैंड पर मौजूद यात्री भी दहशत में रहे। सर्च के बाद बम नहीं मिलने पर पुलिस प्रशासन और यात्रियों ने राहत की सांस ली।

पुलिस के अनुसार, बुधवार देर रात करीब 12.30 बजे किसी ने पुलिस को सेक्टर-17 स्थित अंतरराज्यीय बस स्टैंड पर बम रखे होने की सूचना दी। सूचना मिलते पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में डीएसपी दिलीप रतन, ऑपरेशन सेल के एसएचओ जसविदंर सिंह, नाइट चेकिंग अफसर सेक्टर-3 थाना प्रभारी नीरज सरना सहित बम स्क्वॉड टीम मौके पर पहुंची और सघन चेकिंग अभियान चलाया गया।

सभी यात्रियों के सामानों की जांच के साथ यहां मौजूद दुकानों, लावारिस पड़े सामानों की गहनता से तलाशी शुरू की गई। करीब तीन घंटे तक चेकिंग अभियान चलाने के बाद जब कुछ नहीं मिला तो सभी ने राहत की सांस ली। पुलिस जांच में सामने आया है कि कॉल करने वाले युवक का नंबर मुकेरियां का है, लेकिन नंबर पिछले काफी समय से स्विच्ड ऑफ रहा हैै।

एक माह पहले एलांते मॉल में बम की सूचना से मचा था हड़कंप
बता दें कि बीते करीब एक महीने पहले एलांते मॉल में बम रखे होने की सूचना पर महकमे में हड़कंप मच गया था। पुलिस टीम ने पूरे मॉल को खाली करवाकर करीब पांच घंटे तक तलाशी अभियान चलाया था, लेकिन बम नहीं मिला। इसके बाद इंडस्ट्रियल थाना पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया था। फिलहाल अभी तक मामला अनसुलझा है।
... और पढ़ें

यूटर्नः पंजाब सरकार ने नए सलाहकारों को स्टाफ देने का फैसला किया रद्द, तैनात स्टाफ भी वापस

मुख्यमंत्री का सलाहकार नियुक्त किए जाने के कारण उठे विवाद के बीच वीरवार को पंजाब सरकार ने छह विधायकों के साथ तैनात किया स्टाफ वापस ले लिया। हालांकि इस स्टाफ ने उक्त सलाहकार विधायकों के साथ सीएमओ में ही बैठना था, लेकिन सरकार ने उनकी तैनाती सलाहकार विधायकों के आफिस से तो वापस ले ली लेकिन उनकी नियुक्ति को सीएमओ में ही बनाए रखा है।

सरकार के आम राज प्रबंध विभाग ने वीरवार को दो अलग-अलग आदेश जारी किए, जिनमें से एक आदेश के तहत मुख्यमंत्री के नवनियुक्त छह सलाहकारों के लिए पीए व अन्य स्टाफ की नियुक्ति के आदेश को रद कर दिया जबकि दूसरे आदेश के तहत, सलाहकारों से अलग करके कुल 18 कर्मचारियों की सेवाएं मुख्यमंत्री कार्यालय को सौंपी गई हैं।

इस तरह 18 कर्मचारियों की नियुक्तियां अब मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा की जाएंगी। पहले आदेश में, आम राज प्रबंध विभाग के सचिवालय अमला-2 शाखा द्वारा कहा गया है कि सचिवालय प्रशासन द्वारा मुख्यमंत्री के साथ नियुक्त किए गए नए राजनीतिक सलाहकारों के साथ स्टाफ तैनात करने संबंधी आदेश को रद किया जाता है।

इसी तरह दूसरे आदेश में कहा गया है कि प्रबंधकीय आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए पंजाब सिविल सचिवालय में काम कर रहे निजी अमले की सेवाएं, अंदरूनी प्रबंध के तहत मुख्यमंत्री कार्यालय को सौंपी जाती हैं। उल्लेखनीय है कि उक्त दोनों आदेशों के तहत जिन अफसरों व कर्मचारियों की छह सलाहकार विधायकों के साथ तैनाती की गई थी, उन सभी की सेवाएं अब मुख्यमंत्री कार्यालय को सौंप दी गई हैं।
... और पढ़ें

हरियाणा विस चुनाव के लिए ‘36 बिरादरी महागठबंधन’ ने घोषित किए 13 प्रत्याशी, यहां देखें सूची

हरियाणा विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कुछ दल एकजुट होकर महागठबंधन बना रहे हैं। राष्ट्रीय लोकस्वराज पार्टी के अध्यक्ष रणवीर सिंह शर्मा ने इस गठबंधन को ‘36 बिरादरी महागठबंधन’ का नाम दिया है। उनका दावा है कि अभी पांच दलों ने मिलकर यह महागठबंधन बनाया है, जबकि चार और दल उनके संपर्क में हैं और सभी दल मिलकर प्रदेश में विधानसभा चुनाव लड़ेंगे।

रणवीर सिंह शर्मा ने बताय कि राष्ट्रीय लोकस्वराज पार्टी ने 36 बिरादरी महागठबंधन घोषित किया। जिसमें अंबेदकर समाज पार्टी के अध्यक्ष संजय पहलवान, राष्ट्रीय जन समान पार्टी के अध्यक्ष रवींद्र कुमार, अखिल भारतीय जनता दल व अपना दल पार्टी शामिल है। उन्होंने बताया कि इसमें भारतीय जन समान पार्टी को 10 सीटें, अंबेदकर समाज पार्टी को 5 सीटें, अपना समाज पार्टी को 5 सीटें रिजर्व की इसके साथ ही बाकी जो छोटी पार्टियां बची हैं, उनके साथ भी महागठबंधन करके बाकी सीटों की घोषणा करेगी।

वीरवार को राष्ट्रीय लोकस्वराज पार्टी ने अपने सात उम्मीदवार अमित कुमार कालका से, प्रिया शर्मा यमुनानगर से, जीवन दत्त कलायत से,  नितिन अरोरा इंद्री से,  श्याम सुंदर पेहवा से,  बाबा पाला राम नीलोखेड़ी से, डाक्टर रवींद्र मुलाना से, अंबेडकर समाज पार्टी के सोनू चोपड़ा महम से, संजय पहलवान नारनौंद से व डॉक्टर प्रमोद सरोहा हांसी से, राष्ट्रीय जन समान पार्टी के सुनील कुमार बिडू कलानौर से व बहन पारो महंत को अंबाला कैंट से उम्मीदवार घोषित किया है।
... और पढ़ें

पंजाब कैबिनेटः सरकार ने 11वीं और 12वीं की छात्राओं को दिया बड़ा तोहफा, दिसंबर में देगी स्मार्टफोन

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में मंत्रीमंडल ने मुख्यमंत्री के सलाहकार (राजनैतिक) और मुख्यमंत्री के सलाहकार (योजना) को ‘द पंजाब स्टेट लैजिसलेचर (प्रीवेन्शन ऑफ डिसक्वालिफिकेशन) एक्ट-1952’ के घेरे में से बाहर निकालने के लिए ऑर्डिनेंस लाने का फैसला किया है।

मीटिंग के बाद सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि इस ऑर्डिनेंस द्वारा कानून में संशोधन लाया जाएगा कि यह पद उन पदों की सूची में शामिल होंगे जो विधायकों को अयोग्य ठहराने के उद्देश्य के लिए लाभ के पद के तौर पर नहीं विचारे जाते। इस संशोधन के साथ इन विधायकों को अयोग्य नहीं ठहराया जाएगा।

वहीं कैबिनेट की मीटिंग में राज्य के युवाओं को मोबाइल फोन बांटने की रूपरेखा को मंजूरी दे दी गई। फैसले को इस साल दिसंबर में लागू करने का फैसला किया गया है। युवाओं को मोबाइल देने की योजना पूरी तरह से पारदर्शी होगी और इस संबंधी सूचना टेक्नालॉजी कारपोरेशन लिमिटेड द्वारा टेंडर कॉल किए जाएंगे। दो महीनों में प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी और पहले पड़ाव के तहत दिसंबर में युवाओं को स्मार्ट फोन बांटे जाएंगे।

सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि पहले पड़ाव के तहत मोबाइल फोन उन छात्राओं को बांटे जाएंगे, जिनके पास अपना स्मार्ट फोन नहीं हैं और वह चालू साल के दौरान सरकारी स्कूलों में 11वीं और 12वीं कक्षा की छात्राएं हों। यह मोबाइल फोन टच स्क्रीन वाले, बढ़िया कैमरे, सोशल मीडिया एप्लीकेशन और अन्य स्मार्ट फीचरों वाले होंगे। सरकार ने ऐलान किया कि युवाओं को मोबाइल फोन स्कीम उनका चुनावी वादा था और वर्ष 2017-18 के बजट और वर्ष 2018-19 के बजट में इसके लिए फंड भी मंजूर किए गए हैं।

इस योजना का मकसद युवाओं को सूचना टेक्नालॉजी के साथ जोड़ना, शिक्षा, रोजगार के मौके, हुनर विकास और रोजगार के मौके व विभिन्न सरकारी भलाई स्कीमें, जोकि ऑनलाइन चलती हैं, की जानकारी प्रदान करना है।
... और पढ़ें

मोहालीः ससुराल में बेटी के रानी की तरह रहने का सपना चार महीने में टूटा, और वो अब लौट आई घर

एक परिवार ने अपनी बेटी की बड़े अच्छे घर में शादी की। सोचा था कि ससुराल वाले बेटी को रानियों की तरह रखेंगे। लेकिन चार महीनों बाद ही सपना टूट गया। जिस दामाद के साथ सात फेरे लेकर बेटी को विदा किया था, वह ही उसका दुश्मन बन गया। मनीला में ले जाकर उसे तंग करने लगा।

बेटी और दोहती को जान से मारने वाले वीडियो भेजकर पैसे की मांग करने लगा। परिवार ने इसके लिए अपनी संपत्ति तक दांव पर लगा दी लेकिन वह नहीं सुधरा। ऐसे ही एक युवती व उसकी बेटी को हेल्पिंग हैपलेस संस्था के प्रयास से मनीला से अपने देश लाया गया है। दोनों अब सकुशल हैं। वहीं, परिवार में भी खुशी का माहौल है।

इस बारे में संस्था की प्रमुख अनमनजोत कौर रामूवालिया ने बताया कि जगराओं निवासी चरणजीत कौर का विवाह कुछ समय पहले हुआ था। विवाह के कुछ दिन तक तो सब कुछ ठीक चलता रहा। शादी के चार महीने के बाद उसका पति उसे मनीला ले गया। पेरेंट्स ने सोचा कि बेटी विदेश पहुंच गई लेकिन यहीं से उसके लिए मुश्किलों का सिलसिला शुरू हो गया।

उसने वहां से चरणजीत कौर के पेरेंट्स से पैसे मांगने शुरू कर दिए। पैसे न मिलने पर उसे पीटता था। इस बीच उनके घर में एक बेटी ने जन्म लिया। चरणजीत कौर को लगा कि शायद सब ठीक हो जाएगा लेकिन फिर भी उनके रिश्ते मधुर नहीं हो पाए।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree