विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को
Astrology Services

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

हिमाचल के 1.75 लाख कर्मचारियों को इस माह से बढ़कर मिलेगी पगार

हिमाचल सरकार ने पौने दो लाख से ज्यादा कर्मचारियों को चार फीसदी महंगाई भत्ते की अधिसूचना जारी कर दी है।

21 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

ऊना

बुधवार, 21 अगस्त 2019

मंदिरों में चढ़ाए करोड़ों रुपये मुख्यमंत्री राहत कोष में डाले

हिमाचल के छह मंदिरों में दान किए करोड़ों रुपये एक साथ प्रदेश सरकार के खजाने में डाल दिए गए हैं। कई और मंदिरों का पैसा सरकार को देने की तैयारी है। चार दिन के भीतर कांगड़ा जिले के बज्रेश्वरी मंदिर, ज्वालाजी, चामुंडा देवी और रामगोपाल मंदिर डमटाल के न्यासों की बैठकें बुलाकर आनन-फानन में बिना बजट एक-एक करोड़ रुपये मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए जारी कर दिए गए। बाला बालक नाथ दियोटसिद्ध मंदिर न्यास की भी 17 अगस्त को बैठक बुला 31 लाख और इसी दिन चिंतपूर्णी न्यास की बैठक में 51 लाख रुपये मुख्यमंत्री राहत कोष में देने का फैसला लिया गया। 

सूत्रों की मानें तो नयनादेवी मंदिर से भी एक करोड़ जारी करने के लिए न्यास की आपात बैठक बुलाने की तैयारी है। कांगड़ा के भागसूनाग, बैजनाथ, महाकाल मंदिर न्यासों की भी जल्द बैठकें कर सीएम राहत कोष में करोड़ों रुपये देने की योजना बनाई जा रही है। शिमला और कुल्लू जिले  के प्रसिद्ध मंदिरों के न्यासों की भी बैठकें कर करोड़ों रुपये सीएम राहत कोष में देने की प्रक्रिया चल रही है। सचिवालय के पुख्ता सूत्रों की मानें तो सरकार के खाली खजाने को भरने के लिए सभी जिलों के अधिकारियों को मौखिक रूप से मंदिरों से एक-एक करोड़ रुपये सीएम राहत कोष के लिए जारी करने के निर्देश दिए गए हैं।

  ... और पढ़ें

भारी बारिश से दो दिन में 14.77 करोड़ का नुकसान

ऊना। जिले में दो दिन भारी बारिश से 14.77 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। उपायुक्त संदीप कुमार ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि जिला में सड़कें टूटने से पीडब्ल्यूडी को 4.62 करोड़ की चपत लगी है। आईपीएच की कई योजनाएं भी क्षतिग्रस्त हुई हैं। इनमें 72 सिंचाई तथा 79 पेयजल योजनाएं शामिल हैं। एक सीवरेज स्कीम को भी क्षति पहुंची है। इससे विभाग को 5.51 करोड़ का नुकसान हुआ है।
स्वां नदी बाढ़ प्रबंधन परियोजना के हरोली सर्किल को 1.48 करोड़ तथा ऊना और गगरेट सर्किल को 2.83 करोड़ का नुकसान हुआ है। डीसी ने बताया कि भारी बारिश से बिजली विभाग की लाइनों को भी क्षति पहुंची है। बिजली विभाग को 27.30 लाख रुपये का नुकसान हुआ है। इसके अलावा नगर परिषद ऊना को भी 5 लाख का नुकसान उठाना पड़ा है।
3 सड़कें खोलने के प्रयास जारी
भारी बारिश और भूस्खलन के चलते जिले में कई सड़कें बाधित हुई थीं। इनमें से अधिकतर को यातायात के लिए खोल दिया है। पीडब्ल्यूडी के बंगाणा उप-मंडल में अभी भी 3 सड़कें बंद हैं। इनमें हंडोला-जगातखाना, सैली-हंडोला, ओलिंडा-बोहरू शामिल हैं। डीसी ने कहा कि पीडब्ल्यूडी विभाग जल्द से जल्द इन सड़कों को बहाल करने का प्रयास कर रहा है।
मॉनसून से अब तक 94 करोड़ बहे
डीसी ने कहा कि मॉनसून के सक्रिय होने के बाद अब तक कुल 94.33 करोड़ की संपत्ति क्षतिग्रस्त हुई है। मॉनसून सीजन में दो पशुओं की मौत बिजली गिरने तथा दो की मौत बाढ़ से हुई है।
अगले 24 घंटों में भी बारिश की चेतावनी
मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों के दौरान जिला ऊना में तेज बारिश की चेतावनी दी है। रविवार को 179.2 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई। उपायुक्त संदीप कुमार ने कहा कि आपदा प्रबंधन के टोल फ्री नंबर 1077 पर मॉनसून सीजन के दौरान कुल 33 कॉल आए। किसी भी आपात स्थिति में उन्होंने लोगों से 1077 पर कॉल करने की अपील की है। साथ ही कहा है कि भारी बारिश से जिला के नदी-नाले उफान पर हैं, ऐसे में इनके किनारे न जाएं। उन्होंने कहा कि आम दिनों की अपेक्षा नालों और खड्डों में जलस्तर काफी ज्यादा है। नदी किनारे जाना खतरनाक साबित हो सकता है, ऐसे में लोग सतर्क रहें। ... और पढ़ें

डूमखर खडड में बह गए ट्रैक्टर व ट्राली

दौलतपुर चौक/बंगाणा (ऊना)। पिछले दो दिनों से जिले में मूसलाधार बारिश ने जमकर कोहराम मचाया। बारिश से स्वां नदी सहित सहायक खड्डों का भी जल स्तर बढ़ा गया है। भारी बारिश से जिला के कई क्षेत्रों में भारी क्षति पहुंची है। भारी बारिश ने लोगों की मुसीबतों में इजाफा कर दिया।
दौलतपुर चौक के साथ लगते रायपुर गांव में बारिश से दो मकान गिर गए। बंगाणा उपमंडल के खड्ड में पानी के बहाव में ट्रैक्टर और ट्राली बह गए। नगर पंचायत दौलतपुर चौक के साथ लगते रायपुर गांव के वार्ड छह में रूप लाल पुत्र बरियाम सिंह का कच्चा मकान भारी बारिश के चलते गिर गया। खुशकिस्मत यह रही कि परिवार बाल-बाल बच गया। रूप लाल की पत्नी सुमन कुमारी ने बताया कि पति निजी बस में ड्राइवर हैं। रविवार दोपहर बाद जैसे ही वो कमरे से बाहर निकली मकान धड़ाम से गिर गया।
गनीमत रही कि पास में खेल रहे उनके बच्चे भी बाल-बाल बच गए। उन्होंने बताया कि घर के अंदर रखे सामान, बिस्तर, पेटी भी मकान के मलबे के बीच दफन हो गए। उधर गांव के ही एक अन्य व्यक्ति किशोरी लाल का कच्चा मकान भी बारिश के चलते जमीदोज होने की सूचना मिली है। पंचायत के उपप्रधान तरसेम सिम्मी ने बताया कि बारिश से जमीदोज हुए मकानों का जायजा पटवारी ने ले लिया है।
इसके अलावा उपमंडल बंगाणा के तहत डूमखर खड्ड में पानी के तेज बहाव में ट्रैक्टर और ट्राली बहे गए। क्षेत्र में पांच दिनों से भारी बरसात की वजह से डूमखर खड्ड के किनारे खड़ा ट्रैक्टर पानी के तेज बहाव से बह गया। ट्रैक्टर पानी के साथ दो किलोमीटर तक बहता चला गया। बताया जा रहा है कि ट्रैक्टर को पानी से निकालने के लिए एक अन्य ट्रैक्टर को लाया गया जिसकी ट्राली को सड़क के किनारे पर खड़ा किया गया था, लेकिन पानी का बहाव इतना तेज था कि दूसरे ट्रैक्टर की ट्राली को भी पानी बहा ले गया। कड़ी मशक्कत के बाद ट्रैक्टर और ट्राली को पानी से बाहर निकाला गया। थानाकलां पंचायत के थानाखास गांव में भारी बारिश से पशुशाला जमीदोज हो गई है। हालांकि पशुशाला के गिरने से मवेशियों को कोई नुकसान नहीं हुआ है। गत रात को भारी बारिश से ईश्वर दास पुत्र दुर्गा दास निवासी थानाखास की पशुशाला गिर गई।
रात करीब 12 बजे के करीब पशुशाला के गिरने की आवाज सुनकर ईश्वर दास व उसके परिवार के लोगों ने पशुओं को बाहर निकाल लिया। टीन के छत से निर्मित पशुशाला के गिरने से एक लाख रुपये का नुकसान आंका जा रहा है। पशुशाला में पशुओं के लिए रखा गया चारा भी बारिश की वजह से खराब हो गया है। पीड़ित परिवार ने प्रशासन से इस मुआवजे की गुहार लगाई है। ... और पढ़ें

पंजाब रेजिमेंट सेंटर में भर्ती रैली 6 अक्तूबर से

पंजाब रेजिमेंट सेंटर, रामगढ़ कैंट (झारखंड) इकाई मुख्यालय कोटा के तहत भर्ती रैली का आयोजन कर रहा है। उपनिदेशक, जिला सैनिक कल्याण मेजर (सेवानिवृत्त) रघुबीर सिंह ने बताया कि सात अक्तूबर को सैनिक लिपिक श्रेणी और सैनिक ट्रेड्समैन श्रेणी के लिए भर्ती होगी।

नौ अक्तूबर को सैनिक सामान्य ड्यूटी श्रेणी के लिए भर्ती प्रक्रिया होगी। उन्होंने बताया कि इसके अलावा 6 अक्तूबर से राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उत्कृष्ट खिलाड़ियों के लिए भर्ती रैली होगी। अधिक जानकारी के लिए जिला सैनिक कल्याण कार्यालय में संपर्क किया जा सकता है।
... और पढ़ें
फाइल फोटो फाइल फोटो

शॉर्ट सर्किट से चाइल्ड केयर यूनिट में लगी आग

ऊना। क्षेत्रीय अस्पताल ऊना के चाइल्ड केयर यूनिट में मंगलवार सुबह शॉर्ट सर्किट से बड़ा हादसा होने से टल गया। इससे अस्पताल में अफरा-तफरी का माहौल हो गया। अस्पताल में चिकित्सकों के साथ-साथ तीमारदार की भीड़ उमड़ गई।
शॉर्ट सर्किट के कारण बिजली उपकरणों को आग लगने से नवजात बच्चों की जान को भी खतरा पैदा हो गया था। हालांकि इस घटना में किसी भी बच्चे, तीमारदार और स्टाफ सदस्यों को किसी भी प्रकार का जान और माल का नुकसान नहीं हुआ है।
क्षेत्रीय अस्पताल ऊना के चाइल्ड केयर यूनिट में शॉर्ट सर्किट होने से आईसीयू में बिजली उपकरण जल गए। हालांकि घटना के दौरान अति संवेदनशील यूनिट में करीब छह नवजात थे।
गनीमत रही कि यूनिट में ड्यूटी पर तैनात नर्स और बच्चों के तीमारदारों की सूझबूझ से आग पर समय रहते काबू पा लिया गया। अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था। आग लगने के बाद एकाएक मशीनों में रखे नवजातों को नर्सों सहित तीमारदारों ने सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। आग की सूचना उच्चाधिकारियों को दी गई। अस्पताल के एमएस डॉक्टर विनोद कुमार ने बताया शिशु वार्ड में आग लगने की सूचना मिली है। कोई हताहत नहीं है। समय रहते आग पर काबू पा लिया गया था।
प्राथमिक जांच में शार्ट सर्किट ही आग का कारण माना जा रहा है। सीएमओ डॉ. रमन कुमार ने बताया कि अस्पताल में शॉर्ट सर्किट की घटना सामने आई थी। लेकिन इस घटना में कोई भी बड़ा नुकसान नहीं हुआ है। वहीं, आगे से शॉर्ट सर्किट की घटना न हो, इसके लिए भी उचित प्रबंधन किए जाएंगे। ... और पढ़ें

बरसात से उबरने में लगेंगे आईपीएच को 15 दिन

ऊना। जिले में बीते दिनों लगातार बारिश से आईपीएच की पेयजल और सिंचाई योजनाएं बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई हैं। इससे जिले में आईपीएच को करीब 5 करोड़ 51 लाख 15 हजार रुपये का नुकसान हुआ है। इससे भारी बरसात के कारण आईपीएच का ढांचा पूरी तरह से हिल गया है।
आईपीएच को सामान्य स्थिति में आने के लिए करीब 15 दिनों का समय लग सकता है। भारी बरसात के कारण जिले की गई पंचायतों में आईपीएच की ओर से दी जाने वाली पेयजल की सप्लाई के पाइप जगह-जगह से टूट चुके हैं। कुछ जगह पाइप टूटकर बाढ़ में बह चुके हैं। इससे कई पंचायतों में पेयजल आपूर्ति बंद हो गई है। विभागीय आंकड़ों के अनुसार जिले में पेयजल आपूर्ति योजनाओं को नुकसान पहुंचने से विभाग को 2 करोड़ 88 लाख 35 हजार रुपये का नुकसान हुआ है। साथ ही आईपीएच की सिंचाई योजनाओं को करीब 2 करोड़ 34 लाख 80 रुपये का नुकसान हुआ है। सीवरेज योजना क्षतिग्रस्त होने से 28 लाख रुपये का नुकसान हुआ है।
ये योजनाएं प्रभावित
बरसात के कारण चिंतपूर्णी विस क्षेत्र में आईपीएच की 3 योजनाएं प्रभावित हुई हैं। साथ ही बंगाणा की एक प्रमुख जलापूर्ति योजना बुरी तरह से क्षतिग्रस्त होने से 17 पंचायतों में पेयजल आपूर्ति बाधित हो गई है। इससे प्रभावित पंचायतों के लोगों को पीने के पानी के लिए मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। इन क्षेत्र के लोगों को पेयजल जरूरतों को पूरी करने के लिए अन्य स्रोतों का सहारा लेना पड़ रहा है।
स्थिति सामान्य होने में लगेगा समय : श्याम
आईपीएच विभाग के एसई श्याम कुमार ने बताया कि जिले के तहत आईपीएच विभाग की कई योजनाएं बुरी तरह से प्रभावित हुई हैं। इसेे ठीक करने के लिए कम से कम 15 दिन लगेंगे। बरसात के चलते करीब 5 करोड़ 51 लाख 15 हजार रुपये का नुकसान हुआ है। ... और पढ़ें

उफनती स्वां को पार करने का खतरा मोल ले रहे लोग

जोल (ऊना)। स्वां नदी ने बरसात में रौद्र रूप ले लेती है। ऐसे में नदी में जाना खतरे से खाली नहीं है। अब तक स्वां में कई लोगों की जान जा चुकी है। इसके बावजूद लोग जान का खतरा मोल लेकर इसे पार कर रहे हैं।
कई बार ऊपरी पहाड़ी इलाकों में बारिश होती रहती है और बडूही, चुरुडू में धूप खिली होती है। इस कारण स्वां का पानी एक दम बढ़ जाता है। इस कारण अनहोनी घटनाएं घट जाती हैं। चुरुड़ू से लोहारली जाने के लिए एक ही रास्ता है जो स्वां को पार करके है। उफनती नदी को पार करना आसान कार्य नहीं है। स्वां में अवैध खनन के कारण जगह-जगह बड़े-बड़े गड्ढे पड़ चुके हैं। इससे स्वां में पानी की गहराई नापना मुश्किल हो जाता है। अवैध खनन के कारण कई जगहों पर स्वां इतनी गहरी हो चुकी है। इसमें पूरी गाड़ी ही समा जाए। लेकिन इन सब खतरों को जान कर भी अनजान बन कर लोग नदी हो अभी भी पार कर रहे हैं।
इससे हर वक्त अनहोनी का खतरा बना रहता है। चुरुड़ू-लोहारली के मध्य एक पुल भी मंजूर हो चुका है। इसका कार्य थोड़े समय में शुरू होने की उम्मीद है। तब तक लोग उफनती नदी में पार करने को मजबूर हैं। पुलिस अधीक्षक दिवाकर शर्मा ने लोगों से आह्वान किया कि कोई भी व्यक्ति स्वां में बरसात के दौरान न जाए। स्वां नदी में कब पानी का सैलाब का जाए, बताया नहीं जा सकता। इसलिए लोग स्वां में जाने से परहेज करें। ... और पढ़ें

अब अपहरण की अफवाह फैलाई तो होगी कार्रवाई

ऊना। बच्चों और स्कूली विद्यार्थियों के अपहरण की झूठी अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए जिला पुलिस ने बच्चों, अभिभावकों और लोगों को सख्त निर्देश जारी किए गए हैं। पुलिस ने कहा कि अगर जिले में किसी ने भी बच्चों के अपहरण की अफवाह फैलाई तो पुलिस प्रशासन अब सख्त कार्रवाई अमल में लाएगा। चाहे वह फिर बच्चे या फिर अधिक उम्र के लोग हों।
पुलिस प्रशासन ने अभिभावकों और परिजनों से आह्वान किया है कि वे अपने बच्चों को ऐसी झूठी अफवाह फैलाने से रोकें और उन्हें अच्छी तरह से समझाएं। जिससे भविष्य में उन्हें पुलिस कार्रवाई से न गुजरना पड़े। पिछले कई दिनों से झूठी अफवाहों के कारण जिला पुलिस को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। गगरेट के तहत दो मामले और भरवाईं का एक मामला झूठी अफवाहों का सामने आ चुका है। मंगलवार को भी गगरेट के तहत दो विद्यार्थियों के अपहरण का झूठा मामला सामने आया।
विद्यार्थियों ने खुद झूठ बोलकर स्कूल प्रबंधन, अभिभावकों और पुलिस प्रशासन को गुमराह किया। इसी तरह दो-ढाई माह पहले भी एक ऐसा मामला सामने आया था, जिसमें एक बच्चों ने खुद ही अपने हाथ-पैर बांधकर अपहरण की झूठी अफवाह फैला दी थी। भरवाईं में हाल ही में कुछ स्कूली बच्चों ने शिकायत की थी कि वैन से उतरकर कुछ नकाबपोशों ने उन्हें खींचने की कोशिश की।
बच्चों को स्मार्ट फोन से रखें दूर : डीएसपी
डीएसपी हेडक्वार्टर अशोक वर्मा ने कहा कि अब ऐसी झूठी अफवाह फैलाने वाले बच्चों, अभिभावकों और लोगों को पुलिस कार्रवाई से गुजरना पड़ सकता है। इसलिए अभिभावक बच्चों को समझाएं और उन्हें स्मार्ट फोन और टीवी सीरियल में दिखाई जाने वाली झूठी घटनाओं से दूर रखें। इन चीजों का बच्चों पर बुरा असर पड़ता है। ... और पढ़ें

फल मंडियों में घटेगा आढ़तियों का कमीशन, जानिए हिमाचल कैबिनेट के बड़े फैसले

हिमाचल की फल एवं सब्जी मंडियों में आढ़तियों का कमीशन पांच से घटाकर दो फीसदी किया जाएगा। इसके लिए प्रदेश विधानसभा के चल रहे मानसून सत्र में कृषि उत्पाद मंडी समिति (एपीएमसी) संशोधन बिल-2019 पेश किया जाएगा। मंगलवार को राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में इस बिल के ड्राफ्ट पर चर्चा हुई।
... और पढ़ें

स्कूल नहीं पहुंचे तो सगे भाइयों ने रच दिया अपहरण का ड्रामा

प्राथमिक स्कूल में पढ़ रहे दो सगे भाइयों ने अपने ही अपहरण की कहानी बनाकर परिजनों और पुलिस को सकते में डाल दिया। क्षेत्र के लोग पहले से ही बच्चा चोर गिरोह की अफवाहों से दहशत में हैं।

ऊपर से इस तरह बच्चों के नाटक से क्षेत्र के लोगों के कुछ पलों के लिए हाथ-पांव फूल गए। अंबोटा गांव के दो सगे भाई साथ लगते दियोली गांव के एक निजी स्कूल में पढ़ते हैं। सुबह किसी वजह से उन से स्कूल बस छूट गई। इस पर उन्होंने निजी गाड़ी में लिफ्ट ले ली।

उसके बाद इन बच्चों ने पूरे मामले को एक नाटकीय रूप दिया। बच्चों ने बताया कि एक बिना नंबर की गाड़ी में चार-पांच लोग थे, जिन्होंने उन्हें जबरन गाड़ी में बैठाया और अपहरण करके अपने साथ ले गए।

उन्होंने बताया कि इन लोगों ने कुछ नशीला पाउडर सूंघा दिया। वहां से कुछ दूरी पर एक बाजार दौलतपुर में वे एक ढाबे पर रुके और खाना खाने लगे। इस दौरान उन्हें होश आया गया। इस दौरान वे उनके चुंगल से भाग आए। 
... और पढ़ें

हिमाचल विस सत्र: विधायक से जुडे़ शराब प्रकरण की सीआईडी के आईजी करेंगे जांच

ऊना सदर के कांग्रेस विधायक से जुडे़ शराब मामले में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सीआईडी के आईजी को जांच दी है। इस जांच की रिपोर्ट 15 दिन में मांगी है।

सीएम बोले कि ऊना के एसपी को जांच से अलग रखा जाएगा और अगर एसपी गलत हैं तो उन्हें न केवल पद से हटाएंगे, बल्कि चार्जशीट भी किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने यह बात हिमाचल प्रदेश विधानसभा में उस समय कही, जब विपक्ष हंगामा कर रहा था।

मुख्यमंत्री के आश्वासन के बाद भी विपक्ष एसपी को हटाने पर अड़ा रहा। मुख्यमंत्री ने सदन में कहा कि शराब की पेटियां गाड़ियों में ले जाने के इस मामले में कार्रवाई बनती है।

इस मामले को विधायक के खिलाफ नहीं देखा जाना चाहिए। वह इस प्रकरण की जांच शिफ्ट करने का प्रस्ताव करते हैं। इस मामले की जांच सीआईडी को दी जाएगी। 
... और पढ़ें

कांग्रेस विधायकों ने हिमाचल सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा

ऊना से कांग्रेस विधायक सतपाल सिंह रायजादा ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व विधायक सतपाल सिंह सत्ती पर विधानसभा चुनावों में मिली हार से बौखलाकर एसपी के साथ मिलकर उनके खिलाफ षड्यंत्र रचने का आरोप लगाया है।

मंगलवार को विधानसभा सदन से वाकआउट पर बाहर निकले कांग्रेस विधायकों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला। कांग्रेस विधायकों ने पुलिस अधीक्षक ऊना को जांच चलने तक पद से हटाने की मांग उठाई।

नेता विपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री ने सोमवार को यह कहकर विपक्ष का अपमान किया कि विपक्ष माफिया के साथ खड़ा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को अपने बयान पर खेद जताना चाहिए।

अग्निहोत्री ने कहा कि कांग्रेस हमेशा से माफिया के खिलाफ रही है। माफिया की आड़ में ऊना के एसपी ने कांग्रेस विधायक को बदनाम करने का प्रयास किया है। उन्होंने एसपी ऊना को हटाने की मांग करते हुए कहा कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं होंगी सदन के अंदर और बाहर लड़ाई जारी रहेगी।
... और पढ़ें

शॉर्ट सर्किट से चाइल्ड केयर यूनिट में लगी आग, बाल-बाल बचे छह नवजात शिशु

क्षेत्रीय अस्पताल ऊना के चाइल्ड केयर यूनिट में मंगलवार सुबह शॉर्ट सर्किट से बड़ा हादसा होने से टल गया। इससे अस्पताल में अफरा-तफरी का माहौल हो गया। अस्पताल में चिकित्सकों के साथ-साथ तीमारदार की भीड़ उमड़ गई।

शॉर्ट सर्किट के कारण बिजली उपकरणों को आग लगने से नवजात बच्चों की जान को भी खतरा पैदा हो गया था। हालांकि इस घटना में किसी भी बच्चे, तीमारदार और स्टाफ सदस्यों को किसी भी प्रकार का जान और माल का नुकसान नहीं हुआ है। 

क्षेत्रीय अस्पताल ऊना के चाइल्ड केयर यूनिट में शॉर्ट सर्किट होने से आईसीयू में बिजली उपकरण जल गए। हालांकि घटना के दौरान अति संवेदनशील यूनिट में करीब छह नवजात थे।

गनीमत रही कि यूनिट में ड्यूटी पर तैनात नर्स और बच्चों के तीमारदारों की सूझबूझ से आग पर समय रहते काबू पा लिया गया। अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था। आग लगने के बाद एकाएक मशीनों में रखे नवजातों को नर्सों सहित तीमारदारों ने सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया।

आग की सूचना उच्चाधिकारियों को दी गई। अस्पताल के एमएस डॉक्टर विनोद कुमार ने बताया शिशु वार्ड में आग लगने की सूचना मिली है। कोई हताहत नहीं है। समय रहते आग पर काबू पा लिया गया था। प्राथमिक जांच में शार्ट सर्किट ही आग का कारण माना जा रहा है।

सीएमओ डॉ. रमन कुमार ने बताया कि अस्पताल में शॉर्ट सर्किट की घटना सामने आई थी। लेकिन इस घटना में कोई भी बड़ा नुकसान नहीं हुआ है। वहीं, आगे से शॉर्ट सर्किट की घटना न हो, इसके लिए भी उचित प्रबंधन किए जाएंगे।
... और पढ़ें

हिमाचल में भूस्खलन से 824 सड़कें बंद, नेरवा में 554 छात्राएं फसीं

हिमाचल में तीन दिन तक भारी बारिश के बाद भले ही मंगलवार को मौसम खुल गया, लेकिन दुश्वारियां कम नहीं हुईं। प्रदेश में अभी भी 824 सड़कें बंद हैं। जगह-जगह भूस्खलन से प्रदेश में सैकड़ों लोग और पर्यटक फंसे हैं।

नेरवा में अंडर-19 खेलकूद स्पर्धा के लिए गईं शिमला जिले की 554 छात्राएं फंस गई हैं। रोहतांग मार्ग पर मढ़ी में मंगलवार तड़के चार बजे भूस्खलन से सैकड़ों पर्यटक वाहनों सहित फंसे रहे। लेह के लिए निकली सेना की गाड़ियां मनाली लौट आईं।

मनाली-लेह हाईवे पर बंता के पास तेल के टैंकर पर चट्टानें गिर गईं। हालांकि इससे कोई जानी नुकसान नहीं हुआ है। हालांकि मार्ग कुछ देर के लिए बहाल हुआ, लेकिन शाम को भूस्खलन के चलते फिर से बंद हो गया। इसके चलते सैकड़ों पर्यटक और लाहौल जाने वाले वाहन फंस गए हैं।

शिमला और कुल्लू के ग्रामीण इलाकों में सड़कें बहने से करोड़ों का पेटियों में बंद सेब फंस गया है। पहाड़ दरकने से शिमला-कालका हाईवे तीन घंटे बाधित रहा। हमीरपुर के मैड़ के पास बाधित शिमला-मटौर एनएच देर शाम बहाल हुआ। 
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree