विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

अयोध्या प्रकरणः कल्याण सिंह बतौर आरोपी 27 को अदालत में तलब, विशेष न्यायाधीश ने दिया आदेश

अयोध्या प्रकरण के विशेष न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री व राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह को बतौर आरोपी तलब किया है।

22 सितंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

लखीमपुर खीरी

रविवार, 22 सितंबर 2019

हरकत में आए जिम्मेदार तो सीएचसी को भी दिया कार्ड बनाने का अधिकार

लखीमपुर खीरी। आयुष्मान भारत के तहत जन आरोग्य योजना को 23 सितंबर को एक साल पूरा हो रहा है। मगर, इसमें अब तक घोर लापरवाही बरती गई। इसीलिए यह योजना पूरी तरह से परवान नहीं चढ़ सकी। योजना के बारे में ज्यादातर लाभार्थियों को जानकारी तक नहीं है। शासन से सख्ती होने पर अफसरों ने सीएचसी को आयुष्मान कार्ड बनाने के अधिकार दे दिए। तब भी लाभार्थियों के कार्ड नहीं बन पा रहे हैं।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीबों को बेहतर इलाज दिलाने की मंशा से 23 सितंबर 2018 को आयुष्मान भारत जन आरोग्य योजना शुरु की थी। इसमें 2011 की आर्थिक जनगणना की सूची में शामिल जिले के 3,66,171 परिवारों को चिह्नित किया गया। इसकी जानकारी देने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने पत्र भी भेजे, लेकिन अधिकारियों ने उनके वितरण में भी लापरवाही बरती। आशाओं को पत्र बांटने की जिम्मेदारी सौंपकर अपना पल्ला झाड़ लिया। इससे न तो सभी पत्र बंट सके और न ही लाभार्थियों को आयुष्मान योजना की जानकारी हो सकी। इस कारण एक साल बीतने को है और अभी तक सिर्फ 54461 लोगों के ही गोल्डन कार्ड बन सके।

30 सितंबर तक बनेंगे गोल्डन कार्ड
स्वास्थ्य विभाग 30 सितंबर तक गोल्डन कार्ड बनाएगा। जिला एवं महिला अस्पताल, सीएचसी गोला, पलिया सहित योजना में शामिल छह निजी अस्पतालों में कार्ड बनाए जा रहे हैं। इसी के साथ लाभार्थी जन सुविधा केंद्र पर जाकर भी कार्ड बनवा सकते हैं। इसके लिए उन्हें 30 रुपये प्रति कार्ड की दर से शुल्क देना होगा।

23 सितंबर को पूरा हो रहा एक साल
3,66,171 परिवार चिह्नित
2,70,000 परिवारों के आए प्रधानमंत्री मोदी के पत्र
54,461 लाभार्थियों के एक साल में बने गोल्डन कार्ड

गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए साथ लाएं ये कागज
प्रधानमंत्री मोदी का पत्र, प्लास्टिक आरोग्य कार्ड, राशन कार्ड, आधार कार्ड लेकर जिला एवं महिला अस्पताल सहित जन सेवा केंद्र पर ले जाकर गोल्डन कार्ड बनवा सकते हैं।

जिला और महिला अस्पताल सहित जन सेवा केंद्र पर गोल्डन कार्ड बन रहे हैं। प्रधानमंत्री का पत्र साथ ले जाकर गोल्डन कार्ड बनवाने सकते हैं। पात्रता सूची में नाम है या नहीं, राशन कार्ड ले जाकर इसकी भी जानकारी कर सकते हैं। -डॉ. मनोज अग्रवाल, सीएमओ
... और पढ़ें

दैवी आपदा माना जाएगा बाघ और तेंदुए का हमला, डीएम राहत कोष से मिलेगा मुआवजा

सरकार ने बाघ, तेंदुए जैसे हिंसक वन्यजीवों के हमलों को दैवी आपदा करार देते हुए पीड़ितों को मुआवजा राशि डीएम के दैवी आपदा राहत कोष से दिलाने का प्रस्ताव किया है। पहले यह मुआवजा राशि वन विभाग की ओर से दी जाती थी।

रेंजर मोहम्मदी महेशपुर मोबीन आरिफ ने बताया कि अब तक बाघ और तेंदुए, हिंसक वन्यजीवों का हमला होने पर मृतक के आश्रितों अथवा गंभीर घायलों को मुआवजा राशि वन विभाग की ओर से दी जाती थी। इसकी फाइल पास होने में महीनों लग जाते थे। 

शासन ने इन हमलों को सूखा, बाढ़, ओलावृष्टि, बिजली गिरने, अग्निकांड आदि आपदाओं की तरह दैवी आपदा में शामिल कर लिया है। 

पीड़ितों को मुआवजा राशि डीएम के दैवी आपदा राहत कोष से दिलाने का प्रावधान किया गया है। इसमें वन्य जीवों के हमले में मरने वाले के आश्रित को पांच लाख और गंभीर रूप से घायल को दो लाख देने का प्रावधान है। 

फाइल में मृतक की पोस्टमार्टम रिपोर्ट और घायल की मेडिकल रिपोर्ट लगाना अनिवार्य है। हमले की पुष्टि वन विभाग के अधिकारी ऑनलाइन करेंगे तब लखनऊ से फाइल डीएम के पास आएगी।
... और पढ़ें

व्यापारी से वसूली करने वाले दोनों सिपाही पर मेहरबानी

लखीमपुर खीरी। महिला से दुष्कर्म का आरोप लगाकर व्यापारी से एक लाख रुपये वसूलने के मामले में सदर कोतवाली के दोनों सिपाहियों पर एक माननीय मेहरबानी इतना काम आई कि वे दोनों न सिर्फ जांच में बरी हो गए, बल्कि उन्हें मलाईदार माने जाने वाली गौरीफंटा कोतवाली भेज दिया गया।
सदर कोतवाली में तैनात दो सिपाही सदर कोतवाली पुलिस की स्पेशल टीम में थे। पांच दिन पहले दोनों पर मोहल्ला रामनगर के रहने वाले एक व्यापारी ने वसूली करने का आरोप लगाया था। व्यापारी ने एसपी को शिकायती पत्र देकर बताया था कि दोनों सिपाही महिला से दुष्कर्म का आरोप लगाकर उन्हें कोतवाली ले गए और हवालात में बंद कर दिया। बाद में उससे दो लाख रुपये की मांग की गई। फिर एक लाख पांच हजार रुपये देने के बाद ही उसे छोड़ा। बाकी के 95 हजार रुपये मांगने सिपाही उनके घर तक पहुंच गए तो व्यापारी ने एसपी से जाकर शिकायत की। एसपी ने मामले को गंभीरता से लिया और सीओ सिटी विजय आनंद को मामले की जांच सौंप दी। सीओ सिटी ने इस मामले में व्यापारी के बयान बिना दर्ज कराए ही जांच रिपोर्ट एसपी को भेज दी। सूत्रों की माने तो एक माननीय ने दोनों सिपाहियों को बचाने का दबाव बनाया। अफसरों पर वह दबाव काम आया। सिपाहियों की जांच रिपोर्ट भी एक तरफा चली गई और उनको विवादों से दूर भारत-नेपाल बार्डर पर गौरीफंटा कोतवाली सुरक्षित जगह भेज दिया गया। यह कोतवाली मलाईदार मानी जाती है। यहां की पुलिस को नेपाल आने-जाने वाले वाहनों से हर महीने मोटी वसूली करने को मिलती है।
... और पढ़ें

चाकू दिखाकर सैनिक की पत्नी से चेन लूटी

लखीमपुर खीरी। दवा लेकर रिक्शे से उतरने के बाद मां के साथ पैदल घर लौट रही महिला से बाइक सवार दो बदमाश चाकू दिखाकर सोने की चेन लूट ली। मां ने एक लुटेरे को पकड़ा तो दूसरे ने चाकू निकाल लिया। इससे मां-बेटी सहम गईं और लुटेरे को छोड़ दिया। दोनों लुटेरे महिला थाने के सामने से भाग निकले। दिनदहाड़े लूट की वारदात से हड़कंप मच गया।
घटना शनिवार सुबह 11.15 बजे की है। सदर कोतवाली की जेल गेट पुलिस चौकी की पॉश अफसर कॉलोनी के पीछे मोहल्ला सिकटिहा में उमा सिंह रहती हैं। उनका मायका भी इसी मोहल्ले में है। उनके पति मुकेश आर्मी में जीडी पद पर कार्यरत हैं। वर्तमान में वह जम्मू में तैनात हैं। करीब 15 दिन पहले उमा सिंह अपने मायके सिकटिहा आई थीं। शनिवार को वह अपनी मां प्रभा सिंह के साथ दवा लेने शहर के प्राइवेट नर्सिंग होम गई थीं। लौटते वक्त रिक्शे से उतरकर पैदल घर जा रहीं थीं। घर से 50 कदम पहले मोड़ पर सामने से लाल रंग की बाइक आई। उस पर दो लोग सवार थे। उनका चेहरा खुला था। दोनों में से बाइक चलाने वाले लुटेरे की उम्र 19 साल और चेन खींचने वाले पीछे सवार बदमाश की उम्र 35 से 40 साल के बीच थी। लुटेरों की बाइक की नेम प्लेट पर नंबर नहीं था। मां-बेटी कुछ समझ पातीं, इससे पहले बाइक पर पीछे सवार व्यक्ति ने बेटी के गले में झपट्टा मारकर चेन खींच ली। दिन दहाड़े ऐसा देखकर देख मां प्रभा सिंह ने हिम्मत जुटाई और एक लुटेरे का गिरेबान पकड़ लिया। इसके साथ ही मां-बेटी शोर मचाने लगीं। जब तक आसपास के लोग समझ पाते, बदमाश के दूसरे साथी ने चाकू निकाल लिया और मां-बेटी को जान से मार देने की धमकी दी। घबराई मां ने लुटेरे का गिरेबान छोड़ दिया। दोनों लुटेरे बाइक से महिला थाना के पास होते हुए भाग निकले। बेटी उमा सिंह ने लुटेरों के खिलाफ सदर कोतवाली पुलिस को तहरीर दी है, लेकिन पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की।
तीन घंटे बाद मौके पर पहुंचे चौकी इंचार्ज
उमा सिंह ने लूट की घटना के तुरंत बाद यूपी 100 पुलिस को सूचना दी। यूपी 100 की बाइक मौके पर पहुंची। बदमाश नहीं मिले तो यूपी-100 के सिपाही भी खानापूरी करके लौट गए। उधर, जेलगेट चौकी इंचार्ज जेपी यादव ने सूचना मिलने के बाद भी तीन घंटे तक मौके पर जाने तक की जरूरत नहीं समझी। तीन घंटे बाद चौकी इंचार्ज मौके पर पहुंचे और मां-बेटी के बयान लेकर वापस लौट आए। पुलिस ने लुटेरों की तलाश नहीं की। चेन स्नेचिंग की सूचना पुलिस को 11.30 बजे मिल गई थी, लेकिन चौकी इंचार्ज घटना दबाए रहे। चौकी इंचार्ज से चेन स्नेचिंग जब घटना के बाबत पूछा गया तो वह बोले, सूचना आई थी। जाकर देखते हैं।--
लुटेरे घंटे भर से कर रहे थे रेकी
घटना स्थल के आसपास के लोगों ने बताया कि दोनों लुटेरे सुबह 10 बजे से मोहल्ले में बाइक से चक्कर लगा चुके थे। तीसरे चक्कर में बदमाशों ने घटना को अंजाम दे दिया। मतलब, बाइक सवार लुटेरों को पहले से पता था कि मां-बेटी गले में सोने की चेन पहनकर दवा लेने गई हैं।
पीड़ित महिला ने तहरीर दी है। जेल गेट चौकी इंचार्ज को मौके पर भेजा गया है। जांच के बाद रिपोर्ट दर्ज की जाएगी।
- फतेह सिंह प्रभारी निरीक्षक कोतवाली सदर
... और पढ़ें

लोन के पांच लाख वसूलकर कंपनी के दो मैनेजर भाग निकले

लखीमपुर खीरी। समूह बनाकर महिलाओं को लोन देने वाली इंडसाइंड फाइनेंशियल इन्क्लूजन कंपनी के दो मैनेजर अपनी ही कंपनी के 5.30 लाख रुपये लेकर फरार हो गए। यह रकम उन्होंने 30 केंद्रों की 186 महिलाओं से वसूले थे, मगर कंपनी में जमा नहीं किए। कंपनी के शाखा प्रबंधक ने दोनों मैनेजरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी है।
बरेली की चौपला रेलवे क्रॉसिंग के पास के रहने वाले रोहित शर्मा इंडसइंड फाइनेंशियल इन्क्लूजन लिमिटेड कंपनी की लखीमपुर शाखा में प्रबंधक है। कंपनी का प्रमुख कार्य ग्रामीण और शहरी महिलाओं का समूह बनाकर उनको कम ब्याज पर कर्ज देना है। कर्ज देने के बाद कंपनी महिलाओं से साप्ताहिक वसूली करती है। थाना सेहरामऊ दक्षिणी (शाहजहांपुर) के गांव दिबियापुर के रहने वाले मैनेजर विवेक कुमार ने अपने कार्य क्षेेत्र के केंद्रों से 4,36,117 रुपये वसूले थे। पिछले वर्ष 23 नवंबर को विवेक यह रकम और कंपनी का टेबलेट लेकर भाग निकला। इसके बाद शाखा प्रबंधक रोहित ने उसके नंबर पर संपर्क करने का प्रयास किया तो मोबाइल बंद ही मिलता रहा। रोहित ने विवेक के घर वालों से भी संपर्क किया, मगर उन्होंने विवेक के बारे में सही जानकारी नहीं दी। रोहित अभी मामला देख ही रहे थे कि इस वर्ष 16 जून को दूसरा मैनेजर संजीव कुमार भी अपने 10 केंद्रों के 15 सदस्यों के 94,049 रुपये लेकर भाग गया। संजीव आंवला (बरेली) के गांव केसरपुर का रहने वाला है। कंपनी के शाखा प्रबंधक ने दोनों मैनेजरों के खिलाफ सदर कोतवाली पुलिस को तहरीर दी है। प्रभारी निरीक्षक फतेह सिंह ने बताया कि मैनेजर विवेक और संजीव के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है।
... और पढ़ें

लखीमुपर-मैलानी के बीच दीपावली तक ट्रेन चलने की उम्मीद

बांकेगंज। आमान परिवर्तन का कार्य करा रही संस्था भले ही लखीमपुर और मैलानी के बीच काम पूरा होने का दावा कर रही हो, लेकिन रेलवे अधिकारियों की नजरों में अभी तक काम अधूरा है। इसी वजह से अभी तक सीआरएस ट्रायल की तारीख भी निर्धारित नहीं हो सकी है। ऐसे में सितंबर माह के अंत में ट्रेन से यात्रा करने का ख्वाब दीपावली से पहले पूरा होने वाला नहीं है।
ऐशबाग-पीलीभीत के बीच दो रेल प्रखंड़ों के आमान परिवर्तन का काम पूरा हो चुका है। पहली चरण में ऐशबाग से सीतापुर और उसके बाद सीतापुर से लखीमपुर तक ट्रेनें भी चलने लगीं। जबकि लखीमपुर और मैलानी के बीच अभी काम होना बाकी है। कार्यदायी संस्था काम पूरा होने का दावा कर रही है, लेकिन रेलवे अधिकारियों की मानें तो यात्री सुविधाओं में कमियां हैं। हालांकि कुछ दिन पहले 12-13 सितंबर को सीआरएस ट्रायल होने की चर्चा आम हुई थी, लेकिन इन तारीखों में ट्रायल नहीं हो सका। कार्यदायी संस्था (आरवीएनएल) ने सीआरएस को ट्रायल के लिए पत्र लिखा है। जिस पर कमिश्नर रेलवे सेफ्टी (सीआरएस) ने कई बिंदुओं पर आख्या मांगी हैं। माना जा रहा है कि आख्या रिपोर्ट से आश्वस्त होने के बाद ही सीआरएस की ओर से ट्रायल की तिथि निर्धारित होगी। बता दें कि सीआरएस ट्रायल के बाद भी व्यवस्थाएं पूरी करने में भी 10 से 15 दिन का समय लगता है। इस तरह से ट्रेन संचालन में एक माह का समय लगना लाजिमी है। इसलिए दीपावली तक ही लखीमपुर मैलानी के बीच ट्रेनों का संचालन शुरू हो सकेगा।
लखीमपुर-मैलानी रेलखंड पर लगभग काम पूरा हो गया है। सीआरएस ने ट्रायल की तिथि तय नहीं की है। वहीं कार्यदायी संस्था को स्टेशनों पर यात्री सुविधाओं का काम पूरा कराने के निर्देश दिए हैं। काम पूरा होते की सीआरएस ट्रायल की तिथि तय होगी। -विजयलक्ष्मी कौशिक, डीआरएम, लखनऊ
... और पढ़ें

अगले सप्ताह पांच दिन बैंक रहेंगे बंद, जल्द निपटा लें काम

लखीमपुर खीरी। अगले सप्ताह पांच दिन तक बैंक बंद रहेंगे। 26 सितंबर को दो दिवसीय हड़ताल के लिए बैंक बंद होंगे। फिर दो दिन की छुट्टी के बाद बाद 30 सितंबर को बैंक खुलेंगे तो मगर इस दिन भी अर्धवार्षिक समापन होने के कारण बैंकों में लेनदेन नहीं होगा। लिहाजा पांच दिनों तक बैंक बंद होने से आम आदमी के साथ ही कारोबारियों को दिक्कतेें हो सकती हैं।
राष्ट्रीय संगठन के आह्वान पर बैंकों में 26 और 27 सितंबर को हड़ताल का एलान किया गया है। इसके चलते दो दिनों तक बैंक में कोई लेनदेन नहीं होगा। 28 सितंबर को माह का चौथा शनिवार है, जिससे इस दिन भी बैैंक बंद रहेंगे। फिर 29 सितंबर को रविवार का अवकाश रहेगा। 30 सितंबर को बैंक खुलेंगे, लेकिन यह दिन अर्धवार्षिक समापन के लिए तय है, जिससे सामान्य लेनदेन बंद रहेगा। पांच दिनों तक लगातार बैंक बंद रहने से सबसे ज्यादा असर करोबार पर पड़ेगा, क्योंकि 29 सितंबर से नवरात्र प्रारंभ हो रहे हैं। इसलिए आम लोगों को भी दिक्कतें हो सकती हैं। वहीं कई सरकारी विभागों का वेतन भी समय पर न बंटने का अंदेशा जताया जा रहा है। लिहाजा कर्मचारी भी इसको लेकर बेचैन हैं। इसकी वजह भी है कि एक अक्तूबर को बैंक खुलेंगे, लेकिन इस दिन काफी भीड़ रहेगी। इसके अगले दिन दो अक्तूबर को गांधी जयंती होने से फिर एक दिन बैंक बंद रहेगा। ये छुट्टियां नवरात्र व्रत के मौके पर व्यापार करने वाले लोगों पर भी भारी पड़ सकती हैं, क्योंकि 29 सितंबर से नवरात्र शुरू हो रहे हैं। वहीं इन छुट्टियों में केवल इलाहाबाद बैंक के ग्राहकों को जरूर थोड़ी सी राहत रहेगी, क्योंकि 30 सितंबर को इलाहाबाद बैंक की सभी शाखाओं में लेनदेन होगा।
एटीएम भी दे सकते हैं दगा
पांच दिनों तक लगातार बैंक बंद होने का असर एटीएम पर भी दिखेगा। हड़ताल के दिनों मे 26 और 27 सितंबर को भले ही दिक्कत न आए, लेकिन तीसरे दिन यानी 28 सितंबर से एटीएम कैशलेस हो जाएंगे। वजह है कि एटीएम में दो दिन की कैश क्षमता रहती है। बैंक बंद रहने के दौरान एटीएम में कैश नहीं पड़ पाएगा।
बैंक कर्मियों के संगठन की दो दिवसीय हड़ताल 26 और 27 सितंबर को प्रस्तावित है। इसके बाद 28 और 29 को भी बैंक बंद रहेंगे। 30 सितंबर को बैंक खुलेंगे। इलाहाबाद बैंक की शाखाओं में लेनदेन किया जा सकता है। -जितेंद्र नाथ श्रीवास्तव, एलडीएम
प्रतिदिन 500 करोड़ का लेनदेन होगा प्रभावित
बैंकों की लगातार पांच दिनों तक बंदी रहने से ग्राहकों, कारोबारियों को दिक्कतें आएंगी। वहीं बैंक भी घाटा उठाएंगे। प्रतिदिन 500 से 600 करोड़ रुपये का लेनदेन बैंकों से होता है। हड़ताल और छुट्टियों से प्रतिदिन 500 करोड़ के व्यापार पर असर पड़ेगा। एलडीएम जितेंद्र नाथ श्रीवास्तव ने बताया कि हड़ताल के चलते पांच दिनों में 2500 करोड़ का व्यापार प्रभावित होगा।
बैंक अधिकारियों की ये हैं प्रमुख मांगे
आल इंडिया इलाहाबाद बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन के मंत्री सुरेश भट्ट ने बताया कि बैंकों के विलय का विरोध, वेतन पुनरीक्षण, सप्ताह में पांच दिन काम, सभी कैडरों के पदों पर भर्ती, एपीए खाताधारकों के नाम सार्वजनिक करने, ग्राहकों पर लगने वाला सर्विस चार्ज कम करने आदि मांगे हैं।
... और पढ़ें

प्राकृतिक विरासत को संरक्षित करेगा वन विभाग

बांकेगंज। प्राकृतिक विरासत को संरक्षित करने की दिशा में वन विभाग ने महत्वपूर्ण कदम उठाया है। इसमें दुधवा टाइगर रिजर्व के प्राचीन वृक्षों के बीज संरक्षित कर नई पौध तैयार होगी। फिर उसे जंगल में रोपा जाएगा, ताकि इन प्राचीन वृक्षों की जींस सुरक्षित रहें। इसके लिए ऐसे वृक्षों को चिह्नित करने का काम तेज हो गया है। इसमें पुराने साल और अन्य दुर्लभ प्रजातियों के पेड़ों को शामिल किया जा रहा है।
वन विभाग यूपी जैव विविधता (बायोडायवर्सिटी) बोर्ड की पहल पर दुधवा टाइगर रिजर्व की तीनों डिवीजन दुधवा नेशनल पार्क, बफरजोन और कतर्निया घाट में ऐसे 18 पुराने वृक्षों का चयन किया है जो 100 से लेकर 350 साल से ज्यादा पुराने हैं। इनमें साल, बरगद, पीपल, पाकड़, कुसुम, काकड़, आम आदि के पेड़ शामिल हैं। कुछ ऐसे भी अजीबो गरीब पेड़ मिले हैं जिनकी खूबियों के बारे में सामान्य तौर पर लोग नहीं जानते। वन विभाग यूपी बायोडायवर्सिटी के सहयोग से पुराने वृक्षों के बीजों को इकट्ठा कर उनसे पौध तैयार करेगा। उन पौधों को जंगल में ही उपयुक्त स्थानों पर रोपा जाएगा। इससे जंगल में लंबे जीवन वाले नए पेड़ तैयार होंगे। इसका मकसद जंगल को विस्तार देकर दीर्घजीवी बनाना है। वन विभाग के अफसरों का मानना है कि इससे जंगल की गुणवत्ता में सुधार होगा। लंबी उम्र वाले पेड़ वन्यजीवों के लिए अनुकूल वातावरण तैयार करेंगे।
मिला गुदगुदी वाला वृक्ष..
डीटीआर के कतर्निया घाट डिवीजन में 60 साल से भी अधिक पुराना रैनडिया (गुदगुदी वाला वृक्ष) मिला है। इसके तने पर गुदगुदी करने से पूरे पेड़ की पत्तियां हिलने लगती हैं। ऐसा लगता है कि जैसे पेड़ हंस रहा हो। इस बाबत पर्यावरणविद डॉ वीपी सिंह का कहना है कि जीवों की तरह वनस्पतियों और वृक्षों में भी प्राण होते हैं। और उनमें भी संवेदनशीलता होती है। इसी संवेदनशीलता के चलते ये पेड़ गुदगुदी महसूस करता है और स्पंदन करने लगता है।
डीटीआर की इन रेंजों में हो रहा पुराने पेड़ों का चिन्हीकरण..
दुधवा टाइगर रिजर्व के बफरजोन, दुधवा नेशनल पार्क और कतर्निया घाट डिवीजन के किशनपुर सेंक्चुरी, दुधवा, उत्तरी और दक्षिणी सोनारीपुर, मैलानी, भीरा आदि रेंजों में वृक्षों के चिन्हीकरण का काम हो रहा है। अभी तक कुल 18 वृक्ष चिह्नित किए जा चुके हैं। अन्य वृक्षों की तलाश की जा रही है।
दुधवा टाइगर रिजर्व में कई ऐसे दुर्लभ प्रजाति के वृक्ष हैं जिनका अपना अलग महत्व है। वन विभाग ने इसे प्राकृतिक विरासत मानकर यूपी बायोडायवर्सिटी बोर्ड के सहयोग से संरक्षित करने की योजना बनाई है। ताकि जंगल को और अधिक गुणवत्ता परक और दीर्घजीवी बनाया जा सके।
संजय पाठक, फील्ड डाइरेक्टर, दुधवा टाइगर रिजर्व।
... और पढ़ें

बरेली: घर में घुसा मगरमच्छ, परिवारवालों को बाहर गुजारनी पड़ी रात

बरेली के लखीमपुर खीरी के एक घर में मगरमच्छ घुस आया फिर वह घर के अंदर नौ घंटे तक रहा। इन हालातों से मटैहिया गांव का एक परिवार को गुजरना पड़ा। बीती रात जब मगरमच्छ घर में घुसा तो परिवार के लोगों को डर के कारण पूरी रात खुले आसमान के नीचे गुजारनी पड़ी। जब वन विभाग की टीम ने आकर मगरमच्छ पकड़ा तब कहीं परिवार के सदस्य घर के अंदर घुस पाए।

मटैहिया गांव में रामजी के घर में रात 12 बजे एक विशालकाय मगरमच्छ घुस गया। देर रात जब रामजी जागे तो उनकी निगाह मगरमच्छ पर पड़ी। उसने परिवार के लोगों को बताया तो वे चीख पुकार करते हुए घर के बाहर भागे और वहां खड़े हो गए। थोड़ी देर में ही वहां भीड़ लग गई। मगर किसी की हिम्मत घर में घुसने की नहीं पड़ी।

देर रात वन विभाग को सूचना दी गई लेकिन वन विभाग की टीम सुबह पहुंची। इस कारण सुबह तक परिजन घर के बाहर ही खुले आसमान के नीचे रात गुजारने को विवश हुए। सुबह पहुंची वन विभाग की टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद मगरमच्छ को कब्जे में लेकर नदी में छोड़ा। तब कहीं परिवार वाले घर के अंदर जा पाए। मगरमच्छ के नदी में छोड़ने के बाद भी गांव में दहशत है।
... और पढ़ें

शिकारियों ने डंडे से मारकर की गई थी मोर की हत्या

बांकेगंज। दुधवा टाइगर रिजर्व बफरजोन के भीरा रेंज अंतर्गत पांच दिन पहले हुई राष्ट्रीय पक्षी मोर की हत्या के मामले की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में किसी घातक प्रहार से मोर की हत्या किए जाने की पुष्टि हुई है। अनुमान लगाया जा रहा है कि शिकारियों ने डंडा मारकर मोर की हत्या की है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद हत्यारोपी पर कार्रवाई की धाराएं बढ़ाई जा सकती हैं।
दुधवा टाइगर रिजर्व बफरजोन के प्रभागीय वनाधिकारी दिलीप श्रीवास्तव ने बताया कि रविवार सुबह भीरा रेंज की छैरासी के कंपार्टमेंट 16 में गश्त कर रही वन कर्मियों की टीम ने मोर का शिकार कर उसके शव को बोरे में लिए जा रहे एक आरोपी को गिरफ्तार किया था। जबकि उसका साथी भागने में कामयाब रहा था। आरोपी के पास से बरामद हुए मोर के शव का डॉक्टरों के पैनल से पोस्टमार्टम कराया गया था। उन्होंने बताया कि डॉक्टरों से मिली पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक शिकारियों ने किसी वजनदार डंडे से मोर की गर्दन पर वार किया, जिससे उसकी गर्दन टूट गई और उसकी मौके पर ही मौत हो गई।
... और पढ़ें

पीलीभीत-बस्ती हाईवे के गड्ढों ने ली बाइक चालक की जान

फरधान। पीलीभीत-बस्ती हाईवे पर आधारपुर गांव के पास गड्ढों से बचकर निकल रही एक रोडवेज बस ने बाइक में पीछे से टक्कर मार दी। इससे बाइक चालक की मौत हो गई, जबकि पीछे बैठा उसका साथी घायल हो गया। दोनों हेलमेट नहीं पहने थे। हादसे के बाद चालक बस ले भागा।
पीलीभीत-बस्ती हाईवे इतना जर्जर है कि उस पर किसी भी वाहन से चलना जान जोखिम में डालने के बराबर है। हाईवे पर बड़े-बड़े गड्ढे हैं। इससे आए दिन हादसे होते हैं। गड्ढों की वजह से बचने और बचाने के प्रयास में शुक्रवार को हादसा हो गया। कोतवाली गोला गोकर्णनाथ के गांव रामपुर गोकुल निवासी रामगोविंद वर्मा (55) थाना हैदराबाद के गांव भगौना के रहे वाले अपने रिश्तेदार कामता प्रसाद के साथ निजी काम से लखीमपुर जा रहे थे। बाइक रामगोविंद वर्मा चला रहे थे। गांव आधारपुर के पास गोला की ओर से आ रही तेज रफ्तार रोडवेज बस को ड्राइवर ने गड्ढे में बस जाने से बचाने की कोशिश की। इससे बस अनियंत्रित होकर बाइक में पीछे से टकरा गई। बाइक का संतुलन बिगड़ा तो रामगोविंद और कामता प्रसाद रोड पर गिर गए। सिर में चोट लगने से रामगोविंद वर्मा की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि कामता प्रसाद (45) घायल हो गए। पुलिस ने घायल को 108 से जिला अस्पताल भिजवाया। बस के बारे में बाद में कुछ पता नहीं चल पाया।
... और पढ़ें

शिक्षकों की आपसी लड़ाई में पिट रहे बच्चे

मोहम्मदी। बाजार खुर्द प्राथमिक विद्यालय में शिक्षिकाओं की आपसी नाराजगी बच्चों पर भारी पड़ रही है। शिक्षकों ने प्रधानाध्यापिका पर मारपीट का आरोप लगाया।
रिंकी पत्नी सुनील निवासी मोहल्ला शुक्लापुर ने पुलिस को दी तहरीर में बताया कि कि 20 सितंबर को उसके दो बच्चे कक्षा 4 की ज्योति और कक्षा 3 के अनुज स्कूल में पढ़ने गए हुए थे। बच्चे जब स्कूल बैग लेने पहुंचे तो कन्या जूनियर हाईस्कूल की इंचार्ज प्रधानाध्यापिका माहे निगार ने बैग देने से मना कर दिया। जब बच्चे बैग लेने दोबारा पहुंचे तो इंचार्ज प्रधानाध्यापिका नाराज होकर बच्चे को डंडे से पीटने लगी। इसमें उसका सर फट गया। बच्चा जब जान बचाकर भागा तो बड़े बच्चे ईंट पत्थर फेंक कर मारने लगे। आरोप है कि ये शिक्षिका सुबह भी एक बच्ची को पीट चुकी थी। पुलिस ने बच्ची का मेडिकल कराने के बाद रिपोर्ट दर्ज कर ली। उधर, माहे निगार ने कहा है कि उन पर लगाए गए आरोप निराधार है। विद्यालय में 30 मार्च को चार्ज लिया है। इस से पूर्व यहां दो महिला शिक्षामित्र नियुक्त हैं। उन्होंने विद्यालय में पठन-पाठन का माहौल बनाना शुरू किया। तब से शिक्षा मित्र नाराज हैं। उनके विरुद्ध बच्चों को भड़काती रहती हैं। उन्होंने भी कोतवाली में तहरीर देकर न्याय मांगा। इंस्पेक्टर संजय त्यागी का कहना है कि एक पक्ष की रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। माहे निगार का प्रार्थना पत्र मिला है। उसकी जांच की जा रही है।
... और पढ़ें

झोलाझाप के इलाज से मासूम की गई जान

गोला गोकर्णनाथ। हैदराबाद थाना क्षेत्र के गांव भल्लिया बुजुर्ग में एक निजी क्लीनिक पर इलाज के दौरान मासूम की हालत बिगड़ गई। इस पर क्लीनिक संचालक ने उसे जिला अस्पताल ले जाने की सलाह दी। जिला अस्पताल ले जाते समय रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। झोलाछाप फरधान सीएचसी का कर्मचारी है, जो कई साल से गांव में क्लीनिक चला रहा है। परिवारवालों ने झोलाछाप के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।
भल्लिया बुजुर्ग निवासी सरोज भार्गव का चार वर्षीय पुत्र अभय को बुखार आ रहा था। गुरुवार को सरोज अपने पुत्र को लेकर गांव के क्लीनिक पर दवा लेने गया। जहां पर झोलाछाप सरोज कुमार ने बच्चे को डिप लगा दी। इसके कुछ देर बाद उसकी हालत बिगड़ने लगी। बताते हैं कि इसके बाद घरवाले अभय को गोला के एक निजी अस्पताल ले गए। जहां पर डॉक्टर ने उसे जिला अस्पताल ले जाने की सलाह दी। जिला अस्पताल ले जाते समय अभय की रास्ते में मौत हो गई। घरवालों ने डॉक्टर के खिलाफ कार्यवाही के लिए थाना हैदराबाद पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने बच्चे का शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। गांववालों का कहना है कि सरोज कई साल से गांव में क्लीनिक चला रहा है और वह अपने को फरधान सीएचसी का कर्मचारी बताता है।
भल्लियाबुजुर्ग में एक बच्चे की मौत होने की सूचना पर टीम के साथ गांव गया था, लेकिन क्लीनिक बंद मिला है। मामले की जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।
डॉ. अमित वाजपेई अधीक्षक सीएचसी फरधान
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree