बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

गोंडा से बरामद हुआ लखनऊ के 1090 चौराहे से अपहरण किया गया ट्रांसपोर्टर, तीन गिरफ्तार

लखनऊ के गौतमपल्ली थानाक्षेत्र के वीमेन पावर लाइन (1090) चौराहे से गुरुवार देर रात कार सवार बदमाशों ने ट्रांसपोर्टर को अगवा कर लिया। बदमाशों ने असलहा दिखाकर उसे कार में खींचकर बैठाया था। इसकी जानकारी होने पर पुलिस टीम ने पड़ताल शुरू किया। ट्रांसपोर्टर के मोबाइल की लोकेशन निकालकर बदमाशों का पीछा शुरू किया। इसके बाद बदमाशों के चंगुल से गोंडा से सकुशल मुक्त करा लिया। पुलिस ने तीन अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक रुपये के लेनदेन में हुए विवाद में ट्रांसपोर्टर को अगवा किया गया था।

प्रभारी निरीक्षक गौतमपल्ली आलोक राय के मुताबिक हजरतगंज के जॉपलिंग रोड निवासी रजीउल्लाह ट्रांसपोर्टर है। गुरुवार देर रात को वह अपनी कार से गोमतीनगर जा रहे थे। इसी बीच वीमेन पावर लाइन चौराहा (1090) पर कुछ कार सवारों ने उन्हें रोक लिया। रजीउल्लाह के चालक रिजवान खां ने गाड़ी रोक दी। इसी बीच कार सवार बदमाश निकले और रजीउल्लाह को असलहा दिखाकर अपनी कार में खींचकर बैठा लिया। इसके बाद कार से अयोध्या रोड की तरफ निकल गये। कुछ देर तक माजरा समझने के बाद चालक रिजवान ने पुलिस को सूचना दी।

मौके पर पहुंची पुलिस ने पूछताछ के बाद बदमाशों की तलाश शुरू की। राजधानी के प्रमुख चौराहे से ट्रांसपोर्टर के अगवा होने की सूचना मिलते ही पुलिस महकमें में हड़कंप मच गया। आनन फानन में प्रभारी निरीक्षक गौतमपल्ली आलोक कुमार राय पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे।
... और पढ़ें

गोंडा: एनआईए के छापे में नकली नोटों का कारोबारी गिरफ्तार, बांग्लादेश से लाकर यूपी में खपाता था

राष्ट्रीय जॉच एजेंसी (एनआईए) मुम्बई की चार सदस्सीय टीम ने रविवार की रात गोंडा पुलिस के साथ नगवा गांव में छापा मारा। एनआईए और गोंडा पुलिस की संयुक्त टीम ने बांग्लादेश से नकली नोट लाकर यहां खपाने के एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। टीम ने आरोपी को अदालत के समक्ष पेश किया। जहां से ट्रांजिट रिमांड के बाद उसे संग लेकर मुंबई के लिए रवाना हो गई।

थानाध्यक्ष वजीरगंज संतोष कुमार तिवारी ने बताया कि मुंबई में 04 दिसम्बर 2018 को राष्ट्रीय जॉच एजेंसी (एनआईए) की टीम ने मुंबई के भिवंडी में नकली नोट का कारोबार करने वाले गिरोह के आठ सदस्यों को पकड़ा था जबकि एक सदस्य टीम को चकमा देकर फरार हो गया था। जिसकी एनआईए तभी से तलाश कर रही थी।

पकड़े गए गिरोह के सदस्यों से जब एनआईए की टीम ने पूछताछ की तो बड़ा खुलासा हुआ। पकड़े गए आरोपियों ने बताया कि वह सभी बांग्लादेश से नकली नोट लाकर यहां उसे देश के विभिन्न राज्यों के जनपदों में खपाते हैं। थानाध्यक्ष के मुताबिक पकड़े गए गिरोह के सदस्यों ने एनआईए की टीम को यह भी बताया कि उनका फरार साथी यूपी के गोंडा जनपद के कोतवाली देहात क्षेत्र के मुगलजोत खोरहंसा का रहने वाला मो. शादाब है।

इसके बाद एनआईए की टीम के विवेचक ने मो. शादाब के खिलाफ एनआईए कोर्ट मुंबई में गैर जमानतीय वारंट की अदालत से याचना की। अदालत ने गैर जमानतीय वारंट जारी कराने के बाद इसी सूचना पर रविवार की देर शाम एनआईए मुंबई के निरीक्षक अमूल कडू, उप निरीक्षक विष्णु शिंदे, सहायत उप निरीक्षक मनोज सिंह व कान्सटेबिल अरूण मोरे की टीम गोंडा पहुंची।

एनआईए की टीम ने थानाध्यक्ष वजीरगंज संतोष कुमार तिवारी, उप निरीक्षक जितेन्द्र वर्मा व कान्सटेबिल चन्दन मिश्रा के साथ क्षेत्र के नगवा गांव में छापा मारकर आरोपी मो. शादाब को गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए मो. शादाब को एनआईए ने अदालत के समक्ष पेश किया। जहां से ट्रांजिट रिमांड मिलने के बाद से साथ लेकर मुंबई रवाना हो गई।
... और पढ़ें

गोंडा: गौरव को प्रेमजाल में फंसाकर डॉ. प्रीति की मदद से किया था अपहरण, मांगे थे 70 लाख रुपये, गिरफ्तार

गोंडा जिले के एससीपीएम मेडिकल कॉलेज के मेडिकल छात्र गौरव हालदार के अपहरण की मुख्य सूत्रधार डॉ. प्रीति मेहरा को गोंडा पुलिस ने हरियाणा से गिरफ्तार किया है। गौरव को अगवा कर 70 लाख की फिरौती मांगी गई थी। बाद में गौरव को गोंडा पुलिस व एसटीएफ की संयुक्त टीम ने दिल्ली में एक मुठभेड़ के दौरान अपहरणकर्ताओं के चंगुल से छुड़ाकर सकुशल वापसी कराई थी। इसमें पहले ही पुलिस ने डॉ. अभिषेक सिंह समेत पांच आरोपियों को गिरफ्तार भी किया था। डॉ. प्रीति ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि उसने शॉर्टकट से पैसा कमाने की जल्दी में गौरव को अपने प्रेमजाल में फंसाया उसके बाद उसको अगवा कर लिया।

बता दें कि बहराइच जनपद के पयागपुर थाना क्षेत्र के सत्संग नगर कॉलोनी काशीजोत के रहने वाले डॉ. निखिल हालदार का बेटा गौरव हालदार गोंडा के एचसीपीएम मेडिलकल कॉलेज का छात्र है। उसका 18 जनवरी को एससीपीएम कॉलेज के बाहर से अपहरण कर लिया गया था।

देर शाम तक गौरव कॉलेज कैम्पस में वापस नहीं लौटा तो उसकी तलाश की गई। मगर कहीं पता नहीं चल सका। 19 जनवरी को अपहरणकर्ताओं ने गौरव के पिता डॉ. निखिल हालदार को फोन करके गौरव की रिहाई के लिए 70 लाख की फिरौती मांगी थी। इसके बाद डॉ. निखिल ने नगर कोतवाली में बेटे गौरव के अपहरण की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।
... और पढ़ें

गोंडा: जेल में कैदी की मौत होने पर अस्पताल के गेट पर फेंक गए शव, परिजनों को सूचना तक नहीं दी

गोंडा जिला कारागार में बंद कैदी की मौत हो गई तो उसके शव को अस्पताल के गेट पर लावारिस की तरह फेंक दिया गया। इसकी जानकारी होने पर जिलाधिकारी ने सीएमओ से रिपोर्ट मांगी है। सीएमओ डा. राधेश्याम केसरी ने कहा कि मामले की जांच शुरू करा दी गई है। जेल प्रशासन से पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी गई है। फिलहाल इस तरह परिवार के लोगों को बिना जानकारी दिए शव को गेट पर फेंके जाने से लोगों में आक्रोश है।
 
इस घटना से जेल और जिला प्रशासन की बड़ी लापरवाही और संवेदनहीनता उजागर हुई है। बताया जा रहा है कि कैदी की मौत के बाद उसका शव काफी देर तक लावारिस हालत में गेट पर पड़ा रहा। सूचना पर लोग पहुंचे तो आनन फानन अस्पताल कर्मी शव को उठाकर लाए और मर्चरी की फर्श पर डाल दिया।

मृतक के पुत्र अंकित पांडेय ने डीएम से जेल और अस्पताल प्रशासन के रवैये की शिकायत करते हुए सूचना न देने का भी आरोप लगाया है। सीएमओ डा. राधेश्याम केसरी ने बताया कि डीएम के निर्देश पर जांच की जा रही है। जो भी दोषी होगा कार्रवाई की जाएगी। जेल प्रशासन से भी पूरी रिपोर्ट मांगी गई है।
... और पढ़ें
शव शव

गोंडा: चुनावी रंजिश में हुई कहासुनी पर चली गोली, लखनऊ रेफर किया गया

गोंडा नगर कोतवाली क्षेत्र में प्रधानी के चुनाव की रंजिश में पूर्व प्रधान प्रतिनिधि ने एक युवक को गोली मारकर घायल कर दिया। इलाज के लिए उसको जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां हालत गंभीर होने पर उसे लखनऊ रेफर किया गया है।
  
नगर कोतवाली क्षेत्र के पोर्टरगंज पथवलिया ग्राम पंचायत में चुनावी रंजिश में गोली चली जिसमें गांव के ही राजेन्द्र तिवारी को गोली लग गई। वह गंभीर रूप से घायल  हो गया। उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया।

जानकारी पाकर मौके पर भारी संख्या में पुलिस पहुंच गई। तनाव को देखते हुए सुरक्षा लगा दी गई है। आरोपी पूर्व प्रधान प्रतिनिधि भुनेश्वर दुबे को पुलिस तलाश कर रही है।

बताया जाता है कि राजेंद्र तिवारी जो बब्बू दुबे के समर्थक हैं। प्रधानी चुनाव में इस बार उषा देवी पत्नी स्वर्गीय बब्बू दुबे प्रधान चुनी गई हैं। किसी बात को लेकर राजेंद्र तिवारी और प्रधान प्रतिनिधि भुनेश्वर दुबे की कहासुनी हो गई। इसे लेकर गोली चल गई। पुलिस ने दो लोगों को हिरासत में ले लिया है। जानकारी पर पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे और छानबीन की। आरोपी भुनेश्वर दत्त दुबे की पुलिस तलाश की जा रही है।
... और पढ़ें

गोंडा: मतपेटिका लूटने का प्रयास करने वाले को देखते ही गोली मारने के आदेश

गोंडा के जिला निर्वाचन अधिकारी व जिला मजिस्ट्रेट मारकंडे शाही ने 19 अप्रैल 2021 को होने वाले पंचायत चुनाव के दौरान मत पेटिका लूटने का प्रयास करने वाले लोगों को देखते ही गोली मार देने के आदेश दिए हैं।

जिला मजिस्ट्रेट ने कहा कि यदि किसी भी व्यक्ति ने मतदान केंद्र पर या उसके अंदर किसी भी प्रकार का उपद्रव करने की मंशा रखी हो तो वो दिमाग से निकाल दे। जिला मजिस्ट्रेट ने संबंधित अधिकारियों को इस बावत आदेश जारी कर दिए हैं तथा मतदान कार्य में खलल डालने का प्रयास करने वाले लोगों से सख्ती से निपटने के आदेश दिए हैं।

जिले में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में प्रशासन ने चुनौतियों से निपटने का खाका खींच लिया है। बूथों पर शांति के साथ ही इस बार कोविड प्रोटोकाल का पालन कराने की रणनीति तैयार की गई है। तीन अपर पुलिस अधीक्षकों के साथ ही सीडीओ, सीआरओ और एडीएम जिले के तीनों जोन पर नजर रखेंगे। इसके अलावा चारों तहसीलों के एसडीएम के साथ ही अतिरिक्त चार एसडीएम भी लगाए गए हैं।

पैरामिलिट्री फोर्स की एक कंपनी के साथ ही एसएसबी, पीएसी व सिपाहियों के साथ ही पांच हजार से अधिक होमगार्ड भी असलहों से लैस होकर बूथों पर व्यवस्था बनाएंगे। यही नहीं जिले की सीमाओं पर छह जनपदों के 15 थाना क्षेत्र हैं। आईजी राकेश सिंह ने सभी थानों को सतर्क किया है कि मतदान के दिन कड़ी निगरानी रहने के साथ ही बैरियर से आवागमन रोकें।

जिला प्रशासन ने पंचायत चुनाव को सकुशल कराने के लिए तैयारियां मुकम्मल कर ली हैं। शनिवार को पुलिस लाइन सभागार में जिला निर्वाचन अधिकारी मार्कंडेय शाही व पुलिस अधीक्षक संतोष मिश्रा ने तैयारियों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि 19 अप्रैल को होने वाले पंचायत चुनाव के दौरान जिले में 26 लाख 69 हजार मतदाता अपने मताधिकार को प्रयोग करेंगे।
... और पढ़ें

गोंडा: बेटी पैदा होने की खुशी में खिलाए लड्डू, एक-एक कर बीमार होने लगे लोग, मच गया हड़कंप

गोंडा जिले के राधा कुंड में एक घर में बेटी का जन्म होने पर बांटे गए लड्डू खाकर दर्जनों लोग बीमार हो गए। सभी को आनन-फानन में अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। बीमार होने वालों में करीब एक दर्जन बच्चे भी हैं।

घटना से घर में मनाई जा रही खुशी थोड़ी ही देर में गम में बदलने लगीं। बीमार हुए लोगों को इलाज के लिए जिला अस्पताल और निजी नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया। सभी लोग अब खतरे से बाहर है।

नगर कोतवाली क्षेत्र के राधा कुंड निवासी गुलजार अहमद (40) के रिश्तेदार मुंबई में रह रहे खलील अहमद के घर शुक्रवार के दिन नातिन पैदा हुई थी। इसका संदेश मोबाइल फोन से आया।  उसी की खुशी में गुलजार ने मरकज मस्जिद के पास एक मिठाई की दुकान से छह किलो मिठाई  मंगाई और नाते रिश्तेदारों को बुलाकर सबको बांट दी।

मिठाई खाने के आधा घण्टे बाद सभी बीमार हो गए जिसमें गुलजार पुत्र मो. जलील, सलीम (30)  पुत्र इदरीश, इबरार पुत्र इदरीश, रेशमा (23)  पुत्री रमजान, शहबान पुत्र रमजान, हीना पत्नी सगीर,  रुसदा पुत्री खुदरु, मरियम पुत्री खुदरु, मो सादिक पुत्र इबरार, शाहीन बानो (45) पत्नी इबरार, सिफा (05) पुत्री वसीम, तैयबा (03) पुत्री वसीम (02) वर्षीय अदनान पुत्र संजू, रीना (04) पुत्र गुड्डू, मरियम (12) पुत्री खुदरु, जैनब पुत्री गुलजार सहित करीब तीन दर्जन लोग बीमार हो गए। इन सभी को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मिठाई दुकानदार के प्रति लोगों में काफी गुस्सा व्याप्त है।
... और पढ़ें

गोंडा: प्रधानी के चुनाव की रंजिश में प्रत्याशी के भाई की सरिया से पीटकर हत्या, दो की हालत गंभीर

लड्डू खाने से बीमार हुई बच्चियां।
गोंडा जिले के नगर कोतवाली क्षेत्र के खैरा गांव में प्रधानी चुनाव की रंजिश में बुधवार की देर रात करीब 10 बजे के आसपास प्रचार कर घर लौटते समय प्रत्याशी के भाई, भाभी सहित तीन लोगों पर घात लगाए बैठे एक दर्जन लोगों ने हमला कर दिया। हमले में प्रत्याशी के भाई की मौत हो गई।

घटना को लेकर गांव में तनाव व्याप्त है। मामले की तहरीर थाने पर दी गई है। दरअसल, नगर कोतवाली क्षेत्र के खैरा गांव निवासी अशोक कुमार उर्फ बब्बू पुत्र राम जागे, पवन कुमार पुत्र शिव कुमार, रामसुरेमन (60) पत्नी शिव कुमार पर एक दर्जन लोगों ने घात लगा कर लाठी, डंडे और सरिया से हमला कर दिया। हमले में तीनों गंभीर रूप से घायल हो गए।

उन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। हालत गम्भीर होने पर अशोक कुमार और पवन कुमार को लखनऊ रेफर किया गया।  अशोक कुमार की अस्पताल ले जाते समय रास्ते मे मौत हो गई।

हमले में घायल रामसुरेमन ने बताया कि उसका देवर कृष्ण कुमार प्रधानी का चुनाव लड़ रहा है। उसी का प्रचार करने के लिए सभी लोग गांव में गए हुए थे और प्रचार करके वापस लौट रहे थे तभी दूसरे पक्ष के प्रधानी का चुनाव लड़ रहे लोगो ने घात लगाकर हमला कर दिया।

उन्होंने बताया कि शोर की आवाज सुनकर वह अपने बेटे पवन कुमार और पति शिव कुमार को बचाने के लिए गई। इस दौरान उसे भी चोट लग गई। मामले में तहरीर दे दी गई है। घटना को लेकर गांव में तनाव व्याप्त है। मौके पर पुलिस लगा दी गई है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।
... और पढ़ें

यूपी : मौसेरे भाई को ठेका न दिला पाने पर सीएमओ ने सात करोड़ कर दिया सरेंडर, मातहतों ने खोला मोर्चा

दवाओं की आपूर्ति से लेकर अपनाई जा रही टेंडर प्रक्रिया पहले से ही दागदार रही है। शासन स्तर से एसटीएफ की जांच चल रही है। लेकिन अब स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने अपने ही सीएमओ पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप गढ़े हैं। आरोप है कि सीएमओ ने अपने मौसेरे भाई को ठेका न दिला पाने पर सात करोड़ रुपए सरेंडर कर दिया और कई कार्य ऐसे किए जो अनियमितता की श्रेणी में है।

केंद्रीय औषधि भंडार के चीफ फार्मासिस्ट प्रभाशंकर द्विवेदी, सीएमओ कार्यालय के प्रधान सहायक रामचंद्र सोनी, कनिष्ठ सहायक शशि कुमार श्रीवास्तव सहित अन्य ने सीएमओ के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए भ्रष्टाचार के कई आरोप मढ़े हैं। आरोप है कि सीएमओ उन लोगों पर गलत कार्य करने के लिए दबाव बनाते हैं।

आरोप है कि सीएमओ ने अपने मौसेरे भाई नीरज सिंह की फर्म मेसर्स याशिका इंटर प्राइजेज के लिए आर्डर बनवाने का दबाव बना रहे थे जिसे मना करने पर सीएमओ ने अपनी प्राइमरी आईडी व पासवर्ड अपने भाई को देकर आर्डर बनवा दिया। यह भी आरोप है कि सीएमओ ने चिकित्साधिकारी भंडार व अन्य कर्मियों से जेम पोर्टल के माध्यम से केवल 25 प्रतिशत खरीद तथा 75 प्रतिशत कोटेशन पर खरीद करने का दबाव बनाते रहे।

यह भी आरोप है कि जेम पोर्टल के माध्यम से करीब चार करोड़ रुपए की सामग्री, उपकरण व दवाओं की आपूर्ति की गई लेकिन सीएमओ ने भुगतान न करके पूरा पैसा सरेंडर कर दिया। इतना ही नहीं सीएमओ पर यह भी आरोप है कि आशा बहुओं का मानदेय करीब तीन करोड़ रुपए का भुगतान नहीं किया गया और उसका बजट भी सरेंडर कर दिया गया। कर्मचारियों का आरोप है कि जब गलत कार्य के लिए उन लोगों ने मना किया तो सीएमओ ने जेम पोर्टल पर गलत तरीके से बायर आईडी बना लिया और अपने चहेतों को लाभ पहुंचाया जा रहा हैै। कर्मचारियों ने महानिदेशक स्वास्थ्य, अपर निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य, जिलाधिकारी गोंडा से पूरे प्रकरण की जांच कराने की मांग की है।

बिना कमीशन के भुगतान के लिए किया मना
कर्मचारियों ने आरोप है खरीद कमेटी के अनुमोदन के उपरांत जेम पोर्टल के माध्यम से जो सामग्री खरीद की गई उसके भुगतान के लिए समय से बिल प्रस्तुत किया गया, लेकिन सीएमओ ने सभी फर्मों के लोगों को बुलाने व कमीशन तय होने पर भुगतान के लिए दबाव बनाया। 31 मार्च का समय बीत गया और बजट सरेंडर कर दिया गया।

समय से प्रस्तुत नहीं किया बिल, बदनाम करने की कोशिश
कर्मचारियों की लापरवाही से बिलों का भुगतान नहीं हुआ है। समय से बिल प्रस्तुत नहीं किया गया। इसलिए 31 मार्च को बजट सरेंडर करना पड़ा। उक्त कर्मचारी उन्हें बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। उनका कोई रिश्तेदार यहां पर काम नहीं करता है। जानबूझ कर उनके खिलाफ साजिश रची जा रही है।
-डा अजय सिंह गौतम, सीएमओ गोंडा
... और पढ़ें

गोंडा: डीएम के निशाने पर आए झोलाछाप डॉक्टर, केस दर्ज कराने के दिए आदेश

गोंडा जिले में बिना डिग्री के इलाज के नाम पर लोगों की जिन्दगी से खिलवाड़ करने वाले झोलाछाप डाक्टर डीएम के निशाने पर आ गए हैं। थाना इटियाथोक अन्तर्गत ग्राम बैजपुर निवासी कुमारी साजिदा खातून पुत्री मुख्तार अहमद ने डीएम से शिकायत की कि ग्राम बैजपुर में डा. बलराम वर्मा पुत्र राम सूरत वर्मा, डा. जितेन्द्र कुमार पुत्र बलराम तथा एक अन्य व्यक्ति द्वारा बगैर मेडिकल डिग्री व लाइसेन्स के नर्सिंग होम का संचालन किया जा रहा है।

शिकायत का संज्ञान लेते हुए डीएम मार्कण्डेय शाही ने डिप्टी सीएमओ डा. टीपी जायसवाल तथा वरिष्ठ चिकित्साधिकारी/नोडल अधिकारी झोलाछाप डा. मनोज कुमार की संयुक्त जांच समिति गठित करते हुए जांच कराई तो झोलाछाप डाक्टर द्वारा बिना डिग्री व लाइसेन्स के नर्सिंग होम संचालन की शिकायतें सही पाई गई।

यहीं नहीं मौके पर कई मरीज व इलाज के उपकरण, ग्लूकोज बॉटल, सीरीन्ज, अल्ट्रासाउन्ड जैली, कैप्सूल ओमेज, मेनीटाल की बोतल, स्टैथोस्कोप, बीपी इन्ट्रूमेन्ट तथा भारी मात्रा में एलोपैथिक दवाईयां मिलीं।
... और पढ़ें

गोंडा: 2696 चुनावी 'खलनायकों' पर कसा शिकंजा, जिलाधिकारी ने तैयार कराई गोपनीय रिपोर्ट

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में खलल डालने वालों पर शिकंजा कसने की कार्रवाई तेज हो गई है। प्रशासन ने गोपनीय रिपोर्ट तैयार कराई है और 2696 लोगों को चिन्हित किया गया है। इन लोगों की पूरी कुंडली तैयार हो गई है। जिलाधिकारी ने ऐसे लोगों को चुनावी खलनायक घोषित किया है। पुलिस अधीक्षक को सूची भेजकर शिकंजा कसने के निर्देश दिए हैं। ये चुनावी खलनायक पुलिस की निगरानी में रहेंगे।

पंचायत चुनाव के लिए जिलाधिकारी ने पूरे जिले में गोपनीय जांच कराई, जिसमें ऐसे लोगों की सूची तैयार किया है जो चुनाव में खलल डाल सकते हैं। उन्होंने ऐसे लोगों को अपने रडार पर ले लिया है। सबसे अधिक संदिग्ध तरबगंज तहसील में हैं और वहां विशेष सतर्कता बरती जाएगी। अभी से पूरे पंचायत चुनाव में तरबगंज तहसील प्रशासन के निशाने पर रहेगा। यहां कई बड़े सियासतदान के परिजन भी चुनावी मैदान में हैं, ऐसे में यहां विशेष सतर्कता बरती जा रही है।

डीएम मार्कंडेय शाही के पास गोपनीय आधार 2696 संदिग्ध व्यक्तियों की सूची पहुंची है। जिसमें सबसे ज्यादा उपद्रवी तहसील तरबगंज में चिन्हित हुए हैं। तरबगंज में 1156 लोगों को संदिग्ध व्यक्ति के रूप में चिन्हित किया गया है। इसी प्रकार अवैध शराब के कार्यों में संलिप्त व्यक्तियों का भी बायोडाटा जिलाधिकारी के पास पहुंच चुका है।

जिलाधिकारी ने बताया कि तहसील तरबगंज में 134, मनकापुर में 119, सदर में 72 तथा तहसील करनैलगंज में 17 लोगों सहित 332 लोग जिला प्रशासन के रडार पर आ चुके हैं। उन्होंने बताया कि ऐसे सभी लोग जो चुनाव में खलल डालने की मंशा पाले हुए हैं, उनका बायोडाटा खुफिया सूचना के आधार पर एकत्र कर लिया गया है तथा पुलिस अधीक्षक को ऐसे सभी लोगों के खिलाफ एक्शन लेने को निर्देश दिये गए हैं।
... और पढ़ें

गोंडा: युवती को घर से उठाकर भाजपा नेता के बेटे समेत पांच ने किया दुष्कर्म, केस दर्ज

गोंडा जिले के कटरा बाजार थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली एक युवती को सोते समय मंगलवार की देर रात बाइक से आए भाजपा नेता के बेटे समेत पांच युवक से उठा ले गए। पांचों ने उसके घर से करीब 500 मीटर की दूरी पर एक बागीचे में उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया।

आरोपियों ने सामूहिक दुष्कर्म के बारे में किसी से बताने पर युवती को जान से मारने की धमकी भी दी। इसके बाद युवती को छोड़कर फरार हो गए। युवती ने अपने घर पहुंचकर परिवार के लोगों को पूरी बात बताई।

मामले में युवती के पिता ने थाना कटरा बाजार में पांचों आरोपियों के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म व धमकी समेत विभिन्न धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई है। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम लगाई गई है।

थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली 18 वर्षीया युवती के पिता ने थाना कटरा बाजार में बुधवार को दर्ज कराई रिपोर्ट में कहा कि उसकी बेटी मंगलवार की रात मड़हे में सो रही थी। तभी देर रात बाइक से आये पांच युवक उसकी बेटी के मुंह में कपड़ा ठूंसकर उसे उठा ले गए।

पांचों युवकों ने घर से 500 मीटर दूरी पर स्थित बगीचे में ले जाकर उसकी बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। आरोपी युवकों ने उसकी बेटी को जान से मारने की धमकी भी दी और फरार हो गए। उसकी बेटी किसी तरह घर पहुंची और पूरी बात बताई।
... और पढ़ें

गोंडा में लाखों की वसूली करते राजस्व निरीक्षक का ऑडियो-वीडियो वायरल, मामले को दबाने में लगे अफसर

गोंडा जिले की तरबगंज तहसील में भ्रष्टाचार के खिलाफ योगी सरकार की जीरो टॉलरेंस नीति धराशाई हो गई है। हद बरारी के नाम पर लाखों की वसूली का वीडियो तथा ऑडियो वायरल  होने के बाद भी दोषी राजस्व निरीक्षक पर कार्रवाई तो दूर तहसील के आला अधिकारी पूरे मामले को दबाने में जुटे हैं जबकि पूरे प्रकरण की जानकारी एसडीएम से लेकर नायब तहसीलदार तक सभी को है।

मामला तरबगंज तहसील क्षेत्र के तुलसीपुर माझा गांव का है। जहां के किसान रणविजय सिंह का आरोप है कि उसका पट्टीदारों से जमीन की हिस्सेदारी को लेकर विवाद था। पीड़ित किसान ने अपनी चक पैमाइश के लिए एसडीएम न्यायालय में अपील किया जिसके बाद पूरे प्रकरण की जांच एसडीएम राजेश कुमार ने टिकरी के राजस्व निरीक्षक राघव राम शुक्ला को सौंप दी यहीं से खेल शुरू हो गया।

किसान रणविजय सिंह का आरोप है कि राघव राम शुक्ला ने उससे हद बरारी कराने के नाम पर उच्चाधिकारियों को देने के लिए कई तिथियों में एक लाख 17 हजार रुपए वसूल लिए लेकिन मामले में आदेश जारी नहीं हो सका जिसके बाद जब रणविजय सिंह ने पैसे वापस मांगने शुरू किए तो राजस्व निरीक्षक राघव राम शुक्ला टालमटोल करते रहे।

प्रकरण की शिकायत एसडीएम से की गई तो उन्होंने रणविजय सिंह को बीते 22 फरवरी को नोटिस जारी कर रिश्वत लेने की सीडी जमा कराने का निर्देश दिया। किसान रणविजय सिंह का आरोप है कि उसे एसडीएम द्वारा भी धमकाया गया। जिसके बाद उसने पूरे घटनाक्रम की सीडी और शिकायती पत्र मंडलायुक्त और जिलाधिकारी को भेजा है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन