बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
अक्षय तृतीया के शुभ अवसर पर लाएं ये 7 चीजें,खूब आएगा धन।
Myjyotish

अक्षय तृतीया के शुभ अवसर पर लाएं ये 7 चीजें,खूब आएगा धन।

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

गोरखपुर: पहले दुष्कर्म किया, फिर आपत्तिजनक वीडियो भेजकर तुड़वा दी युवती की शादी

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां एक युवक ने पहले तो शादी का झांसा देकर युवती से दुष्कर्म किया, फिर शादी से इनकार कर दिया। इस बीच घरवालों ने युवती की शादी दूसरे जगह तय कर दी। जिसके बाद आरोपी ने लड़के के घरवालों को आपत्तिजनक वीडियो भेजकर युवती की शादी तुड़वा दी।
 
मामला जिले के गोला बाजार इलाके के एक गांव का है। पीड़ित युवती के पिता की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी संतकबीरनगर के मुखलिसपुर निवासी अरुणेश सिंह के खिलाफ दुष्कर्म, बलवा, धमकी और आईटी एक्ट की धाराओं में केस दर्ज कर लिया है।
 
थाने में दर्ज कराए गए मुकदमें के मुताबिक, आरोपी अरुणेश सिंह का ननिहाल युवती के गांव के बगल में है। कुछ वर्ष पूर्व अरुणेश सिंह एक शादी समारोह में युवती के गांव में आया। उसने किसी तरह से युवती का मोबाइल नंबर प्राप्त कर लिया और उससे बात करने लगा।
... और पढ़ें

यूपी: डकैती की साजिश रच रहे बदमाशों से मुठभेड़, छह गिरफ्तार

गोरखपुर के पीपीगंज में सब्जी मंडी के पास डकैती की साजिश रच रहे छह बदमाशों को पुलिस व क्राइम ब्रांच की टीम ने बुधवार सुबह में हुई मुठभेड़ में दबोच लिया। इस दौरान दो अन्य बदमाश भागने में सफल रहे।  

पकड़े गए बदमाशों ने कैंपियरगंज, पीपीगंज और सिद्धार्थनगर में चोरी की घटनाओं में शामिल होने की बात स्वीकार की है। फरार दो बदमाशों की तलाश में पुलिस टीम लगाई गई है। पुलिस ने आरोपितों के पास से तमंचा, चोरी के सामान के अलावा दो लक्जरी वाहन भी बरामद किए हैं।

 पकड़े गए आरोपितों की पहचान संतकबीरनगर के मेंहदावल के उत्तर पट्टी निवासी बलराम, मेंहदावल निवासी बुद्धिराम, संजय जायसवाल, गणेश व संदीप शुक्ला और महराजगंज के पनियरा निवासी शक्ति कुमार गौड़ के रूप में हुई है।

एसएसपी जोगेंद्र कुमार ने पकड़े गए बदमाशों के बारे में प्रेस कांफ्रेंस कर जानकारी दी। एसएसपी ने बताया कि सभी बदमाश मेंहदावल, संतकबीरनगर में किराए का कमरा लेकर रहते थे। वहां से अपने लक्जरी वाहन से निकलते थे और गोदामों में चोरी की घटनाओं को अंजाम देते थे। बलराम और शक्ति गौड़ गिरोह के सरगना हैं। इनके पास से बरामद वाहन चोरी के हैं या नहीं, इसकी भी जांच की जा रही है।
 
... और पढ़ें

यूपी: 100 रुपये के लिए चाचा की हत्या कर फरार हुआ भतीजा, तलाश में जुटी पुलिस

संतकबीरनगर जिले के कोतवाली क्षेत्र के चौरी गांव निवासी चचेरे भाइयों ने आमी नदी के अजगईबा घाट से दो दिन पहले मछली पकड़ी थी। इसकी बिक्री चाचा ने की थी। उससे मिली रकम 100 रुपये की हिस्सेदारी को लेकर विवाद बढ़ा। गुस्से में भतीजे ने एक लाठी वृद्ध चाचा के सिर पर मार दिया था। इससे चाचा की मौत हो गई और भतीजा कातिल बन गया। पोस्टमार्टम हाउस पर आए पीड़ित मां-बेटे ने घटना की कहानी बताते हुए फफक पड़े।

चौरी गांव निवासी 65 वर्षीय सैयद अली का सबसे छोटा 16 वर्षीय बेटा अली हसन उर्फ मूसे और 20 वर्षीय भतीजा लियाकत पुत्र असगर अली मंगलवार को आमी नदी के अजईयबा घाट से मछली पकड़ी थी। इसमें गांव के एक अन्य युवक ने भी सहयोग किया था। मछली को 150 रुपये में बेच दी। उसके बाद तीनों ने आपस में 50-50 रुपये बांट लिया।

सैयद अली की पत्नी हसीना खातून ने बताया कि उसका छोटा बेटा अली हसन उर्फ मूसे दो दिन पहले भी आमी नदी में मछली पकड़ने गया था। बेटे के साथ भतीजा लियाकत भी था, लेकिन उसका मछली पकड़वाने में कोई योगदान नहीं था। बेटे के जरिए पकड़ कर घर लाई गई मछली को पति सैयद अली ने 200 रुपये में बेच दी थी।
 
... और पढ़ें

संतकबीरनगर: विवाहिता ने जहरीला पदार्थ खाकर की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा ये बात

संतकबीरनगर जिले के कोतवाली क्षेत्र के बालूशासन गांव में सोमवार की रात में मायके में आई एक विवाहिता ने अज्ञात कारणों से जहरीला पदार्थ खाकर खुदकुशी कर लिया। सूचना पर पुलिस ने पहुंच कर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

बघौली चौकी इंचार्ज अमित चतुर्वेदी ने बताया कि 25 वर्षीय मोनी राय पुत्री दिलीप राय ने सात वर्ष पूर्व चंद्रभान मौर्य निवासी रमपुरातक थाना हरिपुर जिला बरेली से प्रेम विवाह किया था। इनके पास चार वर्ष की बेटी और दो साल का बेटा है। 

मोनी कुछ दिन पूर्व मायके बालूशासन आई थी। उसके साथ बेटा भी आया था। मोनी ने सोमवार की रात अज्ञात कारणों से जहरीला पदार्थ खाकर खुदकुशी कर लिया। मौके से सुसाइड नोट मिला है। जिसमें लिखा है कि मैंने आप के बच्चों को बहुत दुख दिया है और अब नहीं रहना चाहती हूं। 

उधर, पति चंद्रभान मौर्य ने बताया कि ससुराल से वह हंसी खुशी गई थी, लेकिन पता नहीं क्यों उसने आत्मघाती कदम उठा लिया। चौकी इंचार्ज ने बताया कि शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद जैसी स्थिति होगी, आगे वैसी कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर। प्रतीकात्मक तस्वीर।

बड़ी कार्रवाई: तीन गोतस्करों की 90.45 लाख की संपत्ति हुई कुर्क, गैंगस्टर एक्ट के तहत हो चुकी है कार्रवाई

संतकबीरनगर जिले के दुधारा क्षेत्र के साफियाबाद गांव निवासी दो सगे हिस्ट्रीशीटर भाइयों समेत तीन गोतस्करों की 90.45 लाख की संपत्ति शनिवार को कुर्क की गई।

एसओ श्रीप्रकाश यादव ने बताया कि दुधारा क्षेत्र के साफियाबाद गांव निवासी इम्तियाज उर्फ ईदू और उसके सगे भाई अकरम गोतस्करी करते हैं। इम्तियाज उर्फ ईदू के खिलाफ गोतस्करी के करीब 45 मुकदमे दर्ज हैं। जबकि अकरम के खिलाफ गोतस्करी के करीब 25 मुकदमे दर्ज हैं। दोनों भाई थाने के हिस्ट्रीशीटर भी हैं।

गैंगेस्टर एक्ट के मुकदमे में इम्तियाज उर्फ ईदू वर्तमान में बस्ती जेल में बंद है। जबकि गैंगेस्टर एक्ट के ही मुकदमे में उसका भाई अकरम जमानत पर छूट कर बाहर है। गोतस्करी के अवैध कारोबार से अर्जित संपत्ती से दोनों भाइयों ने अपनी पत्नियों के नाम एक ही गाटा संख्या में 16-16 डिस्मिल जमीन गांव के पास सड़क के किनारे बैनामा कराया था। जिसकी वर्तमान कीमत करीब 90 लाख है।

इसी तरह साफियाबाद गांव का ही रहने वाला गोतस्कर तैयब गैंगेस्टर एक्ट के मुकदमे से जेल से जमानत पर छूट कर बाहर है। उसने भी अपराध से अर्जित रकम से बाइक खरीदी है। जिसकी कीमत 45 हजार रुपये है। तीनों गोतस्करों के जरिए अपराध से अर्जित संपत्तियों को कुर्क किए जाने के लिए उनकी ओर से गैंगेस्टर एक्ट के तहत 14 (1) की रिपोर्ट एसपी को भेजी गई थी।

एसपी डॉक्टर कौस्तुभ की ओर से संस्तुति करते हुए रिपोर्ट डीएम को भेजी गई। डीएम दिव्या मित्तल की ओर से तीनों गोस्तकरों की अपराध से अर्जित संपत्तियों को कुर्क किए जाने का आदेश दिया गया। एसडीएम सदर राज नारायण त्रिपाठी की मौजूदगी में शनिवार को दोनों सगे भाई की पत्तियों के नाम खरीदी गई जमीन कुर्क कर दी गई। जबकि तीसरे गोतस्कर तैयब की बाइक को कुर्क किया गया।

 
... और पढ़ें

गोरखपुर सोना लूटकांड: पुलिस से दो कदम आगे हैं बदमाशों के मुखबिर, इस जिले के बदमाशों का हो सकता है काम

गोरखपुर जिले में बदमाशों के मुखबिर पुलिस के मुखबिरों से ज्यादा सक्रिय और सटीक हैं। महराजगंज के दो व्यापारियों से सोना लूट हो या फिर अमृतसर के स्वर्ण व्यापारी से लूट, दोनों ही मामलों में सटीक मुखबिरी के चलते ही वारदात हुई। लिहाजा, पुलिस का फोकस भी अब उन मुखबिरों तक पहुंचना है, जो शिकार की पहचान कर, उनके पास कितना माल है, उसकी सटीक जानकारी बदमाशों को देते हैं।

जानकारी के मुताबिक, पुराने मामलों में यह सामने आ चुका है कि इस तरह की घटनाओं में मुखबिर की अहम भूमिका रही है। यह मुखबिरी या तो उस दुकान से होती है, जहां पर व्यापारी सामान बेचने या खरीदने जाते हैं, या फिर ठहराव वाले जगह से सटीक मुखबिरी की जाती है। नौसड़ में महराजगंज के स्वर्ण व्यापारियों से लूट की घटना का पर्दाफाश तो पुलिस ने आरोपी पुलिसवालों को गिरफ्तार कर 24 घंटे में कर दिया था। लेकिन, मंगलवार रात हुई अमृतसर के व्यापारी के साथ लूट की घटना में पुलिस अभी खाली हाथ ही नजर आ रही है। पुलिस के सामने सबसे बड़ी चुनौती अब इसी बात की है कि वह अपने मुखबिर तंत्र को कैसे बदमाशों के मुखबिरों से ज्यादा सक्रिय करें, ताकि अपराध ना होने पाए और अगर हो भी तो धर पकड़ जल्द हो जाए।

स्वर्ण कारोबारी से लूट करने वालों की तलाश में गैर जनपद में भी दबिश
गोरखपुर राजघाट इलाके में पांडेयहाता के पास अमृतसर के स्वर्ण कारोबारी सुरेंद्र सिंह से सोना लूटने के आरोपितों की तलाश में पुलिस गैर जनपद में भी दबिश दे रही है। पुलिस सीसी फुटेज की मदद से बदमाशों की पहचान कर उन्हें पकड़ने में लगी है। खबर है कि पुलिस ने बदमाशों की पहचान कर ली है। पुलिस का दावा है कि जल्द ही बदमाशों को गिरफ्तार कर घटना का पर्दाफाश कर लिया जाएगा।
 
जानकारी के मुताबिक, पंजाब के अमृतसर निवासी स्वर्ण कारोबारी सुरेंद्र सिंह के साथ मंगलवार की रात में पांडेयहाता के पास लूट हुई थी। रविवार की रात वह गोरखपुर आए थे और हाल्सीगंज के राधेश्याम धर्मशाला में ठहरे थे। सोमवार को गोरखपुर के सराफा बाजार में गहनों की बिक्री की थी। मंगलवार को वह गहनों की बिक्री करने संतकबीरनगर चले गए। स्वर्ण कारोबारी के मुताबिक, संतकबीरनगर में गहने बेचने के बाद उनके पास 1 किलो 400 के करीब आभूषण बच गए थे। वहां से लौटने पर नार्मल टैक्सी स्टैंड से पैदल ही हाल्सीगंज स्थित राधेश्याम धर्मशाला में जा रहे थे। इसी दौरान पांडेयहाता के पास बदमाशों ने पिस्टल सटाकर उन्हें लूट लिया था।
 
... और पढ़ें

स्वर्ण कारोबारी से लूट का मामला: पुलिस को लंबे कद वाले बदमाश की तलाश, चार टीमें दे रहीं दबिश

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में अमृतसर के स्वर्ण कारोबारी सुरेंद्र सिंह से गहने लूटे जाने के मामले में पुलिस को एक लंबे कद वाले बदमाश की तलाश है। पुलिस के हाथ लगी मौके की सीसी टीवी फुटेज में साफ दिख रहा है कि जिस बदमाश ने वारदात को अंजाम दिया, उसकी लंबाई ज्यादा है।

खबर है कि पुलिस को दस लंबे कद वाले बदमाशों के बारे में जानकारी मिली है। इन बदमाशों की लोकेशन तलाशने के लिए पुलिस की एक टीम लगाई गई है। इस मामले में पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज किया है। बदमाशों की तलाश में पुलिस की चार टीमें लगातार दबिश दे रही हैं।

बुधवार सुबह पुलिस की एक टीम स्वर्ण कारोबारी को लेकर जांच करने संतकबीरनगर भी गई थी। वहां की तीन दुकानों पर जांच-पड़ताल की गई। पुलिस को इस मामले में मुखबिरी करने वाले शख्स की भी तलाश है। डीआईजी/एसएसपी जोगेंद्र कुमार का दावा है कि पुलिस के हाथ कई अहम सुराग लगे हैं। जल्द ही बदमाशों को दबोच कर घटना का पर्दाफाश कर लिया जाएगा।
... और पढ़ें

गोरखपुर: बेटी की मनमानी से परेशान पिता बना हैवान, पेट्रोल डालकर जिंदा जलाया

गोरखपुर लूटकांड।
उत्तर प्रदेश के संतकबीरनगर जिले में ऑनर किलिंग का मामला सामने आया है। यहां बेटी की जिद और मनमानी से परेशान पिता और भाई ने मिलकर उसे मौत के घाट उतार दिया। पुलिस की जांच में पता चला है कि पिता ने अपनी इज्जत के लिए डेढ़ लाख रुपये देकर बेटी की हत्या कराई थी। मारने वालों में वह खुद, युवती का भाई और जीजा भी शामिल था। बाप-बेटे, बहनोई समेत चार आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

प्यार में गोरखपुर की रंजना इस कदर पागल थी कि परिजनों के समझाने-बुझाने को नजरअंदाज कर देती थी। पहले प्रेमी के साथ भागी, जब वापस लौटी तो घर पर सुहागिन की तरह रहती थी जिसे देख कर आर्मी से सेवानिवृत्त पिता और भाई बर्दाश्त नहीं कर पाए। यही वजह रही कि योजनाबद्ध तरीके से खुद की बेटी को घर से 20 किलोमीटर दूर ले जाकर पेट्रोल डालकर जला दिया। पुलिस की पूछताछ में आरोपी बाप-बेटे ने हत्या की यही वजह बताई।

गोरखपुर जिले के बेलघाट क्षेत्र के जितवापुर निवासी आर्मी से सेवानिवृत्त कैलाश यादव की तीन बेटियां और एकलौता बेटा अजीत यादव है। दो बेटियों और बेटे की शादी हो चुकी है। जबकि सबसे छोटी बेटी रंजना (28) अविवाहित थी। इधर, कुछ समय से रंजना का उसी क्षेत्र के शाहपुर गांव निवासी एक शख्स से संपर्क हो गया। दोनों एक-दूसरे को पंसद करने लगे।
... और पढ़ें

जब प्यार चढ़ा परवान तो प्रेमी युगल ने कर ली शादी, चंद घंटों में एक साथ दुनिया को कहा अलविदा

यूपी: एक ही चिता पर मिला प्रेमी युगल का अधजला शव, एक दिन पहले ही हुई थी दोनों की शादी

उत्तर प्रदेश के संतकबीरनगर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां धनघटा क्षेत्र के मूड़ाडीहा गांव के रहने वाले प्रेमी-प्रेमिका की शुक्रवार की रात संदिग्ध हाल में मौत हो गई। दोनों के परिजन आनन-फानन शनिवार की भोर में महुली क्षेत्र के बारीडीहा गांव के पास कुआनो नदी के किनारे एक ही चिता पर शवों को रखकर आग लगा दी। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने चिता से उतरवा कर दोनों की अधजली लाश को कब्जे में लिया।

मूड़ाडीहा गांव निवासी सजातीय 22 वर्षीय सागर पुत्र स्वर्गीय रामलगन और 19 वर्षीय कंचन पुत्री मुखराज आपस में प्रेम करते थे। दोनों शादी करना चाहते थे, लेकिन उनके परिजन तैयार नहीं थे। इधर, प्रेमिका की शादी उसके परिजनों ने दूसरी जगह तय कर दी।

19 मई को प्रेमिका की शादी होने की तिथि भी नियत थी। शुक्रवार की शाम प्रेमिका अपने प्रेमी के घर पहुंच गई। प्रेमी और प्रेमिका ने सादगी के साथ शादी कर ली। रात में प्रेमी के घर से 50 मीटर दूरी पर स्थित पुआल के ढेर के पास दोनों की संदिग्ध हाल में लाश मिली।

बगैर पुलिस को सूचना दिए ही दोनों के परिजन कुछ ग्रामीणों की मदद से शनिवार की भोर में शवों को महुली क्षेत्र के बारीडीहा गांव के पास कुआनो नदी के किनारे ले गए और एक ही चिता पर रख आग लगा दी। इधर, किसी ने महुली पुलिस को घटना की सूचना दे दी।

 
... और पढ़ें

दबंगों के सामने सहेली की जिंदगी की भीख मांगती रही युवती, नहीं पसीजा दिल, बेरहमी से कर दी हत्या

हरियाणा के रेवाड़ी जिले के धारूहेड़ा क्षेत्र में संतकबीरनगर के सेमरियावां की रहने वाली युवती के सामने ही बस्ती निवासी उसकी सहेली की चाकू मारकर बेरहमी से हत्या कर दी गई। जबकि उसकी भी गला दबाकर हत्या की कोशिश की गई। घटना से युवती काफी सहम गई है। पिता के साथ लौट रही युवती ने फोन पर घटना की जानकारी देते हुए फफक कर रोने लगी।

सेमरियावां निवासी राम निवास यादव की पुत्री ममता यादव ने बताया कि बस्ती के पॉलीटेक्निक कॉलेज से पढ़ाई की है। पढ़ाई के दौरान ही नेहा उर्फ ममता भारती के साथ दोस्ती रही। पढ़ाई के बाद उसे हरियाणा के मानसेर में एक कंपनी में नौकरी मिली और उसकी दोस्त नेहा को निमराणा के एक कंपनी में नौकरी मिली।

करीब दो साल से दोनों दोस्त हरियाणा के रेवाड़ी जिले के थाना क्षेत्र धारूहेड़ा के हाउसिंग बोर्ड सेक्टर-छह में एक किराये के मकान में रह रही थीं। वहीं शुक्रवार को सोसाइटी में ऊपर के फ्लोर पर रहने वाले साहिल पुत्र विनोद सिंह मोहनपुरा साकरी उत्तर प्रदेश तथा दूसरा बिहार के चंपारण जिले का रहने वाला अंकुर पुत्र लालबाबू से विवाद हो गया।
... और पढ़ें

संतकबीरनगर: महिला को पेड़ में बांधकर पीटना ग्रामीणों को पड़ा भारी, 20 दिन बाद दर्ज हुआ केस

उत्तर प्रदेश के संतकबीरनगर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां 20 दिन पूर्व महुली क्षेत्र में एक महिला के घर आए व्यक्ति और महिला को पट्टीदारों ने पेड़ से बांधकर पिटाई कर दी थी। इस मामले में एसपी के निर्देश पर बृहस्पतिवार को पुलिस ने चार महिला समेत आठ लोगों पर केस दर्ज किया।

महिला का आरोप है कि आठ जनवरी की रात नौ बजे उसके पड़ोसी भोला परिजनों के साथ पहुंच गए। गोलबंद होकर लोग उसके घर में घुस आए। आरोप है कि लोग उसके साथ अश्लील हरकत किए। विरोध करने पर लोग उसकी पिटाई किए। बाद में लोग उसे घर से बाहर निकाले और दरवाजे पर स्थित नीम के पेड़ में बांध दिए और अर्धनग्न करके पिटाई की।

महिला ने एसपी को तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की। एसपी के निर्देश पर पुलिस ने आरोपी भोला, सजन, प्रकाश , इंद्रेश, गुंजन, प्रमिला, शकुंतला और विफना के खिलाफ केस दर्ज किया है।

एसओ प्रदीप कुमार सिंह ने बताया कि घटना की रात महिला के घर में उसका कोई संबंधी मिलने आया था। पट्टीदारों द्वारा महिला के घर में घुसे युवक को प्रेमी होने का संदेह हुआ और लोग महिला और शख्स के साथ मारपीट व अभद्रता की।

सूचना पर घटना की रात पुलिस मौके पर गई थी लेकिन पीड़ित महिला ने कोई तहरीर नहीं दिया था। बाद में महिला ने एसपी को तहरीर दिया। एसपी के निर्देश पर दंपती समेत आठ आरोपियों पर केस दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी गई है।



 
... और पढ़ें

नेपाल तक फैला है नकली दवाओं का कारोबार, विभाग के हाथ नहीं लग पा रहे आरोपी धंधेबाज

गोरखपुर शहर के अलीनगर में बीते दिनों पकड़ी गई आठ लाख की नकली दवा के मामले में आरोपी धंधेबाज विभाग के हाथ नहीं लग सके हैं। बताया जा रहा है कि पकड़ी गई नकली दवा के अलावा शेष को धंधेबाजों ने जलाया नहीं, बल्कि उसे आसपास के मेडिकल स्टोरों पर खपा दिया। विभाग की ओर से दवाओं के सैंपल भी अब तक जांच के लिए नहीं भेजे गए हैं। नकली दवा पर अंकुश लगाने में विभाग की सुस्ती की वजह से धंधेबाज फिर से सक्रिय हो गए हैं।

जानकारी के मुताबिक, एक पखवारे पूर्व बाजार में नकली दवा आने की सूचना विभाग को मिली थी। इसमें 18 लाख रुपये की दवा बेच दी गई थीं। शेष 18 लाख रुपये की दवा लखनऊ के दुकानदार ने नकली कहकर वापस कर दी। इसी बीच भालोटिया मार्केट से इन दवाओं को गायब कर दिया गया।

विभाग ने इसमें से आठ लाख रुपये की दवा तो पकड़ ली, शेष 10 लाख की दवा छोटे मेडिकल स्टोरों पर पहुंच गई है। इन दवाओं को आसपास के मेडिकल स्टोरों पर खपा दिया गया है। इनमें सबसे अधिक दवा बड़हलगंज, भटहट, गोला, पीपीगंज, कैंपियरगंज, उरुवा बाजार, चौरीचौरा, बेलघाट जैसे जगहों पर पहुंच गई है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन