विज्ञापन

शिमला

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

स्टेट नारकोटिक्स सेल: चंबा में 8 किलो चरस के साथ एक गिरफ्तार

चंबा-तीसा मार्ग पर कोटी वर्षाशालिका के पास एक व्यक्ति को पुलिस टीम ने 8.62 किलो ग्राम चरस के साथ धर दबोचा। स्टेट नारकोटिक्स सेल कांगड़ा की टीम ने रविवार दोपहर यह कार्रवाई की। 

पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी की पहचान सूरत दास निवासी बंजाल, डाकघर टिकरीगढ़, तहसील चुराह, जिला चंबा के रूप में हुई। बताया जा रहा है कि पुलिस टीम कोटी के पास मौजूद थी। इसी दौरान एक व्यक्ति वर्षाशालिका में बैग लेकर बैठा था।

वह टीम को देखकर घबरा गया। टीम ने शक के आधार पर तलाशी ली तो उसके बैग से चरस बरामद हुई। पुलिस पता लगाने में जुटी है कि आरोपी चरस कहां से लाया और कहां पहुंचाने जा रहा था। 

गौरतलब है कि जिले में चरस तस्करी के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। अब तक काफी मामले चरस तस्करी के सामने आ चुके हैं। एएसपी विनोद कुमार ने बताया कि मामला दर्ज कर पुलिस छानबीन कर रही है। 
... और पढ़ें

शिमला: छात्रा से अश्लील बातें करने पर कॉलेज के प्रिंसिपल के खिलाफ केस दर्ज

छात्रा के साथ अश्लील बातें करने पर पीजी कॉलेज सीमा के प्रिंसिपल के खिलाफ रोहडू पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। फोन कॉल रिकॉर्डिंग की जांच के बाद कॉलेज के वुमेन सेल ने थाने में इस घटना की शिकायत की है। इसमें स्टाफ के खिलाफ भी आपत्तिजनक टिप्पणी की गई है। जानकारी के अनुसार पीजी कॉलेज सीमा के वुमेन सेल ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि एक छात्रा जब प्रिंसिपल के कमरे में स्कॉलरशिप का फार्म भरवाने गई तो उसको फोन पर बात करने के लिए कहा गया।

आरोप है कि छात्रा ने जब फोन किया तो प्रिंसिपल ने उसके साथ अश्लील बातें शुरू कर दीं। तंग आकर छात्रा ने प्रिंसिपल की फोन कॉल को रिकॉर्ड कर लिया। उसके बाद इसकी शिकायत वुमेन सेल में की गई। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 354ए व 354 डी के तहत मामला दर्ज कर लिया है। डीएसपी रोहडू चमन लाल ने मामले की पुष्टि की है। उन्होंने कहा प्रिंसिपल के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। आरोपों को पुख्ता करने के लिए फोन कॉल डिटेल भी निकाली जा रही है। पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है।
... और पढ़ें

नौकरी के लिए फर्जी विज्ञापन: मामले में एचपीयू शिमला ने पुलिस में की शिकायत

 विभिन्न श्रेणी के सैकड़ों पदों को भरे जाने के विज्ञापन के मामले में हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय ने बालुगंज थाना में शिकायत दी है। विवि की ओर से दी गई शिकायत में विज्ञापन की जांच किए जाने की मांग की गई है। विवि प्रशासन ने शिकायत में साफ किया है कि इस तरह के पदों को विज्ञापित नहीं किया है। इससे पहले कुलपति प्रो. सिकंदर कुमार ने इस मामले की गंभीरता पर दो बार स्थिति स्पष्ट भी की थी। 

विवि प्रवक्ता की ओर से जारी बयान में साफ किया गया था कि विश्वविद्यालय ने कोई भर्ती प्रक्रिया शुरू नहीं की है, इसलिए युवा सोशल मीडिया या मीडिया पर चल रहे विज्ञापनों से भ्रमित न हों। विवि जब भी कोई भर्ती प्रक्रिया शुरू करता है, तो इसकी सूचना विवि की आधिकारिक वेबसाइट पर आवश्यक दी जाती है। पदों के विज्ञापन जारी किए जाते है। अब विवि प्रशासन ने इसे गंभीरता से लेते हुए इसकी जांच के लिए पुलिस में शिकायत दर्ज करवा दी है। विवि के मुख्य सुरक्षा अधिकारी डीएसपी जीडी शर्मा ने कहा कि विवि की ओर से थाना बालुगंज में शिकायत दर्ज करवाई गई है। 

 डीएपी मुख्यालय कमल वर्मा ने कहा कि समरहिल चौकी में विवि की ओर से विज्ञापन को लेकर शिकायत दी है।  एचपीयू शब्द का प्रयोग कर नौकरी के लिए आवेदन मांगने की शिकायत है। इसकी जांच की जा रही है। इसके बाद ही मामला दर्ज किया जाएगा । 
... और पढ़ें

Bribe Case Shimla: थाना सदर शिमला में 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते सब इंस्पेक्टर को पकड़ा

राज्य विजिलेंस ब्यूरो ने बुधवार को थाना सदर शिमला में एक सब इंस्पेक्टर को 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है। आरोपी सब इंस्पेक्टर कृष्ण लाल ने एक महिला से उसके भाई को किसी आपराधिक केस में बचाने के लिए पैसे मांगे थे। सूचना मिलने पर विजिलेंस ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया है। विजिलेंस को पता चला है कि आरोपी जिला मंडी के सुंदरनगर का रहने वाला है। अब इसे 24 घंटे के भीतर अदालत में पेश किया जाएगा।

आरोपी की सब इंस्पेक्टर की चल और अचल संपत्ति के अलावा बैंक खातों की भी पड़ताल होगी। विजिलेंस का कहना है कि आरोपी सब इंस्पेक्टर ने एक महिला से उसके भाई को आपराधिक मामले में बचाने की एवज में रिश्वत मांगी थी। महिला ने इसकी सूचना विजिलेंस ब्यूरो को दी। इसके बाद विजिलेंस ने सब इंस्पेक्टर कृष्ण लाल को थाने में पैसे लेते समय गिरफ्तार किया। 
... और पढ़ें
सब इंस्पेक्टर रिश्वत लेते गिरफ्तार(सांकेतिक) सब इंस्पेक्टर रिश्वत लेते गिरफ्तार(सांकेतिक)

पुलिस की कार्रवाई: नशा तस्करी में संलिप्त दो अफ्रीकी नागरिक दिल्ली से गिरफ्तार

हिमाचल प्रदेश के जिला शिमला के रामपुर उपमंडल में चिट्टा सप्लाई करने वाले दो अफ्रीकी नागरिकों को पुलिस ने दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने हाल ही में चिट्टे के साथ पकड़े स्थानीय युवक की निशानदेही पर इस कार्रवाई को अंजाम दिया है। दोनों के खिलाफ पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

जानकारी के मुताबिक कुछ दिन पहले रामपुर बुशहर के चौधरी अड्डे पर पुलिस ने एक युवक को 7.15 ग्राम चिट्टे के साथ दबोचा था। पूछताछ के दौरान युवक ने बताया कि यह नशा उसे अफ्रीकी मूल के आरोपियों ने दिल्ली से सप्लाई किया था। इसके बाद पुलिस ने दिल्ली से आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। मंगलवार देर शाम आरोपियों को लेकर पुलिस दल रामपुर पहुंचा। पुलिस दोनों से गहन पूछताछ कर रही है। डीएसपी रामपुर चंद्रशेखर कायथ ने इसकी पुष्टि की है। 
... और पढ़ें

डंडे से किया वार: बहस के बाद पत्नी और बेटे की हत्या, आरोपी गिरफ्तार

मणिकर्ण के जरी में एक नेपाली कामगार ने बहस के बाद पत्नी और बेटे को डंडे से वार कर मौत के घाट उतार दिया। वारदात रविवार दोपहर बाद करीब तीन बजे की है। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। सूचना मिलने के बाद पुलिस अधीक्षक गुरदेव शर्मा भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने बताया कि पुलिस चौकी जरी में सूचना मिली थी कि किराए के एक कमरे में रह रहा नेपाली मूल का परिवार आपस में झगड़ रहा है।

पुलिस मौके पर पहुंची तो वहां माया देवी (30) और उसके 11 साल के बेटे चिंग चोंग का शव चटाई पर पड़ा था। दोनों की हत्या का आरोप माया देवी के पति चंद्र बहादुर पर है। दोनों के सिर पर गहरी चोट लगी हुई थी। 45 वर्षीय चंद्र बहादुर पिछले छह-सात साल से जरी में अपने परिवार के साथ रह रहा था।

यह सूमारोपा नामक जगह पर पत्थर निकालने का काम करता था। रविवार को मौसम खराब होने की वजह से वह काम पर नहीं गया था। पुलिस ने दोनों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। 
... और पढ़ें

हमीरपुर: भरनांग में एसआईटी की दबिश, 500 पेटी शराब पकड़ी

हिमाचल प्रदेश के जिला मुख्यालय हमीरपुर से सटी ग्राम पंचायत भरनांग में मंडी से पहुंची एसआईटी ने एक निजी भवन से 500 पेटी देसी शराब संतरा ब्रांड पकड़ी है। जिस व्यक्ति से शराब की यह बड़ी खेप पकड़ी है, वह न तो आबकारी विभाग में पंजीकृत है और न ही उसके पास मौके पर कोई लाइसेंस पाया गया। जिला पुलिस के नाक तले कोई व्यक्ति लंबे समय से शराब का अवैध कारोबार करता रहा, लेकिन जिला पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लग पाई। एसआईटी की टीम शुक्रवार दोपहर बाद हमीरपुर पहुंची और जिस भवन में शराब होने की सूचना मिली थी, उसकी तलाशी ली। भवन मालिक ने एसआईटी को बताया कि यह भवन उसने कांगड़ा जिले के पालमपुर निवासी एक व्यक्ति को दिया है।

करीब आठ घंटे तक चली इस लंबी कार्रवाई में एसआईटी को बड़ी कामयाबी मिली। देर रात 10 बजे तक एसआईटी शराब की पेटियों की गिनती में जुटी रही। शुक्रवार रात दस खबर लिखे जाने तक एसआईटी ने 500 पेटी शराब की गिनती कर चुकी थी। शेष स्टॉक की गिनती का कार्य चला हुआ था। आबकारी विभाग और हमीरपुर पुलिस को एसआईटी ने लौटा दिया। इससे पहले जब शाम के साढ़े छह बजे जब पुलिस अधीक्षक हमीरपुर डॉ. आकृति शर्मा को फोन किया गया तो उन्होंने बताया कि वह अभी व्यस्त हैं और शीघ्र बात करेंगी। रात नौ बजे उन्हें फोन किया तो उनके पीएसओ ने बताया कि एसपी मैडम अपना फोन गलती से उनके पास छोड़ गई हैं। वह अपने आवास पर चली गई हैं, सरकारी आवास पर लैंडलाइन नंबर भी नहीं, लेकिन 9:49 मिनट पर पुलिस अधीक्षक का फोन आया और बताया कि उन्हें भरनांग पंचायत में पकड़ी  शराब की जानकारी नहीं है, एसआईटी ने यह कार्रवाई की है। हम किसी दूसरी जगह पर जांच के लिए गए हैं।
... और पढ़ें

हिमाचल: जहरीली शराब पीने से दो और की मौत, सात पहुंचा आंकड़ा, चार गिरफ्तार

शराब( सांकेतिक)
हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के सुंदरनगर के सलापड़ और कांगू में नकली व जहरीली शराब का सेवन करने वाले दो और लोगों की गुरुवार को मौत हो गई। मरने वालों का आंकड़ा सात तक पहुंच गया है। गुरुवार  को चार और लोगों की तबीयत बिगड़ गई। अब तक जहरीली शराब पीकर तबीयत बिगड़ने के 14 मामले आ चुके हैं। पुलिस ने पूर्व प्रधान समेत चार लोगों को भी गिरफ्तार किया है।गुरुवार को शराब का सेवन करने वाले सीता राम पुत्र बंगालू राम निवासी खनयोड, सुंदरनगर और भगत राम पुत्र गोकुल राम निवासी गांव मालथानी, सुंदरनगर की मौत हो गई। सीता राम ने घर में दम तोड़ा है। वहीं, भगत राम की वीरवार तड़के नेरचौक मेडिकल कॉलेज में मौत हुई है। एक अन्य भर्ती व्यक्ति गणपत को नेरचौक मेडिकल कॉलेज से आईजीएमसी और वहां से अब पीजीआई चंडीगढ़ रेफर कर दिया है। नेरचौक में छह लोग भर्ती हैं। 

 उधर, सूत्रों के अनुसार जहरीली शराब पीने से हुई मौतों के बाद पोस्टमार्टम और बिसरा जांच की प्रारंभिक रिपोर्ट में शराब में मिथाइल अल्कोहल होने की बात सामने आई है। आरोपियों पर शिकंजा कसने में यह अहम साक्ष्य हो सकता है। हालांकि, आधिकारिक तौर पर कोई पुष्टि नहीं कर रहा है। बता दें कि कच्ची शराब तैयार करने वाले मिथाइल अल्कोहल, इथाइल अल्कोहल और यूरिया के अलावा तेज नशे के लिए क्लोरल हाइड्रेड का इस्तेमाल भी करते हैं, जिससे नशे की तीव्रता को बढ़ाया जा सके। अब मृतकों के विसरा परीक्षण की जांच तीन चरणों में होगी। इसमें वैज्ञानिक पता लगाएंगे कि जहरीली शराब तैयार करने में कौन-कौन से केमिकल मिलाए गए हैं।

पुलिस ने सलापड़ पंचायत के पूर्व प्रधान जगदीश चंद, वर्तमान पंचायत प्रधान के ससुर अच्छर सिंह पुत्र बहादुर सिंह समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है। मलोह पंचायत के छज्वार गांव से गिरफ्तार तीसरे आरोपी सोहन लाल उर्फ रवि से पुलिस ने संतरा ब्रांड की नकली शराब की 12 बोतल बरामद की हैं। चौथा आरोपी प्रदीप कुमार उर्फ दीप सलापड़ पंचायत के सरोह गांव का रहने वाला हैं। चारों करीब एक साल से देसी व अंग्रेजी शराब अवैध रूप से दुकानों और घरों में सप्लाई करते थे। एसपी मंडी, शालिनी अग्निहोत्री ने बताया कि पुलिस ने चारों को देर शाम सुंदरनगर की अदालत में पेश किया, जहां से चार दिन की पुलिस रिमांड मिली है। 

 एनआईए में रहे अरविंद एसआईटी में शामिल
 नेशनल इन्वेस्टिगेटिंग एजेंसी (एनआईए) में सेवाएं दे चुके एसपी अरविंद दिग्विजय नेगी को भी डीआईजी मंडी रेंज मधू सूदन की अध्यक्षता में गठित विशेष जांच टीम (एसआईटी) में शामिल किया गया। नेगी के अलावा इस टीम में एसपी कांगड़ा खुशाल चंद शर्मा, एसपी मंडी शालिनी अग्निहोत्री और राज्य अपराध अन्वेषण विभाग (सीआईडी) के एसपी अपराध वरिंद्र कालिया भी शामिल हैं। टीम ने वीरवार को घटना से संबंधित सभी पहलुओं पर चर्चा की। देखा जा रहा है कि कहीं असली की जगह नकली शराब की तो सप्लाई नहीं की गई।

संतरा ब्रांड के लेवल से छेड़छाड़, फूड्स की जगह लिखा फूलस
 चंद पैसों के लालच में शराब माफिया ने हिमाचल प्रदेश में बनने वाली संतरा ब्रांड शराब के लेवल से छेड़छाड़ कर नकली शराब तैयार करके लोगों को परोस दी। यह सब पुलिस और आबकारी विभाग के नाक तले चलता रहा। अब शराब माफिया को राजनीतिक संरक्षण की बात भी सामने आ रही है। बुधवार और वीरवार को पुलिस ने जो शराब की बोतलें बरामद की हैं, उनमें संतरा ब्रांड के दो लेवल वाली शराब पुलिस के हाथ लगी है। एक में कंपनी के नाम के साथ फूड्स तो दूसरी में फूलस लिखा है।
 
... और पढ़ें

सोलन: पत्नी के साथ अवैध संबंध के शक में कर दी साथी की हत्या

सोलन जिले के थाना गांव में एक व्यक्ति ने अपने ही साथी की गला दबाकर हत्या कर दी। घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी फरार हो गया। उसे बद्दी पुलिस ने हरियाणा के नवांनगर से गिरफ्तार किया। आरोपी बद्दी से यूपी जाने की तैयारी में था। आरोपी ने पत्नी से अवैध संबंध के शक में इस वारदात को अंजाम दिया।

यूपी के संभल जिले के काबुलपुर गांव के संजय कुमार (27) और हरदोई जिले के प्रतापपुर निवासी राहुल (23) बद्दी के थाना क्षेत्र में उद्योगों में काम करते थे। दोनों शादीशुदा थे। बताया जा रहा है कि 15 जनवरी को संजय और राहुल ने कमरे में शराब पी। शराब के नशे में इस दौरान राहुल ने संजय को उसकी पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाने की बात कही।

इसके बाद संजय ने उसे और ज्यादा शराब पिला दी। जब राहुल नशे में चूर हो गया तो उसने गला दबाकर उसे मार दिया और वहां से फरार हो गया। 16 जनवरी को सुबह साढ़े दस बजे थाना पंचायत प्रधान ने इसकी सूचना बद्दी पुलिस को दी। पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लिया। पुलिस संजय की तलाश में जुट गई। रविवार को संजय बद्दी के साथ लगते हरियाणा क्षेत्र में यूपी जाने की तैयारी में बस का इंतजार कर रहा था।

पुलिस ने उसे बस में सवार होने से पहले ही दबोच लिया। एएसपी नरेंद्र कुमार ने बताया कि पुलिस ने आरोपी संजय को गिरफ्तार कर हत्या का मामला दर्ज कर लिया है। आरोपी को सोमवार को अदालत में पेश किया जाएगा। मृतक का पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है।
... और पढ़ें

सिरमौर: दो हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ दबोचा पटवारी

राज्य सतर्कता और भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने गुरुवार को धौलाकुआं पटवार सर्कल के पटवारी भरत सिंह को दो हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ दबोचा है। यह कार्रवाई विजिलेंस की निरीक्षक ममता रघुवंशी की अगुवाई में की गई। जानकारी के अनुसार एक शिकायतकर्ता ने इस मामले में विजिलेंस कार्यालय नाहन में पटवारी को लेकर शिकायत की थी। शिकायतकर्ता ने विजिलेंस को बताया कि जमीन के कुछ दस्तावेजों को लेकर संबंधित पटवारी आनाकानी कर रहा है। साथ ही काम की एवज में दो हजार रुपये की मांग भी की जा रही है। लिहाजा, विजिलेंस की टीम ने जाल बिछाया। शिकायत के आधार पर दोपहर बाद विजिलेंस निरीक्षक ममता रघुवंशी, सब इंस्पेक्टर परमजीत मोती सिंह की टीम ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया। विजिलेंस टीम ने पहले से ही रिश्वत के तौर पर दिए जाने वाले पैसों के नंबर अपने पास सुरक्षित रख लिए थे।

जैसे ही शिकायतकर्ता ने पटवारी को रिश्वत के पैसे दिए, उसके साथ ही विजिलेंस टीम ने उसे गिरफ्तार कर लिया। टीम ने पटवारी से बरामद नोटों में उन रुपयों को भी पाया, जिनके नंबर उन्होंने नोट किए थे। पटवारी भरत सिंह को रंगे हाथ रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार कर विजिलेंस कार्यालय नाहन लाया गया है। मामले की पुष्टि एसपी विजिलेंस अंजुम आरा ने की है। उन्होंने बताया कि पटवारी के खिलाफ दो हजार रुपये की रिश्वत के आरोप में भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। विजिलेंस मामले में आगामी कार्रवाई कर रही है।
... और पढ़ें

सीआईडी की कार्रवाई: 65 लाख का सेब लेकर फरार आढ़ती रोहड़ू में गिरफ्तार

हिमाचल प्रदेश अपराध अन्वेषण विभाग (सीआईडी) ने करीब 65 लाख रुपये का सेब खरीदकर फरार एक आढ़ती को रोहड़ू में जाकर पकड़ा है। यह कार्रवाई सीआईडी की विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने की है। आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद कोर्ट में पेश किया गया, जहां से आरोपी आढ़ती को सात दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा गया है। आरोपी आढ़ती चेक बाउंस के आधा दर्जन मामलों में भी फंसा हुआ है।

 सीआईडी की एसआईटी के प्रभारी पुलिस अधीक्षक  वरिंद्र कालिया की अध्यक्षता वाली टीम ने आरोपी शशि महात्मा को रोहड़ू जाकर गिरफ्तार किया है। रोहडू़ में आरोपी का ठिकाना बताया जाता है। लंबे समय से सीआईडी उसे पकड़ने के लिए प्रयास कर रही थी। वह वर्ष 2019 से फरार था। कई बागवानों से ठगी करने के बाद उसके खिलाफ एसआईटी के पास मामला दर्ज था। इस ठगी में शामिल रहे कई अन्य लोगों के खिलाफ भी आगामी दिनों में कड़ी कार्रवाई संभावित है। 
... और पढ़ें

अवैध संबंध: चिंतपूर्णी बस स्टैंड में सो रहे व्यक्ति की हत्या, पत्थर से किया वार

चिंतपूर्णी बस स्टैंड में सो रहे एक व्यक्ति की पत्थर मारकर हत्या कर दी गई। घटना मंगलवार देर रात एक बजे की बताई जा रही है। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज खंगालकर सुबह चार बजे भरवाईं पेट्रोल पंप के नजदीक आरोपी को पकड़ लिया है। देहरा पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। देहरा पुलिस के अनुसार मृतक हैपी पुत्र राजेश कुमार निवासी मेन थप्पल कालाअंब तहसील नाहन जिला सिरमौर चिंतपूर्णी बस स्टैंड में ढाबे में काम करता था।

उसका पहले भी आरोपी विजय पुत्र संतलाल निवासी मोगा पंजाब के साथ झगड़ा हुआ था। मंगलवार को हैपी आरोपी के डर से बस स्टैंड के अंदर दुकानों के पीछे सोया था। इस बीच, आरोपी विजय ने सिर पर पत्थर मारकर उसे मौत के घाट उतार दिया और इसके बाद पत्थर बस स्टैंड के पास फेंक कर फरार हो गया। पत्थर फेंकने के दौरान वह सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया। आरोपी चिंतपूर्णी में कबाड़ का काम करता है।

कुछ दिन पहले ही अपने गांव से पहुंचा था। पुलिस छानबीन में सामने आया कि आरोपी ने उसकी पत्नी के साथ अवैध संबंध के चलते हैपी की हत्या की है। आरोपी की पत्नी भी चिंतपूर्णी में साफ-सफाई का काम करती है। बुधवार सुबह एसपी कांगड़ा खुशहाल शर्मा ने घटनास्थल का दौरा किया। उन्होंने बताया कि हत्या आरोपी रात को ही भागने की फिराक में था। बताया कि पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।
... और पढ़ें

फर्जी डिग्री मामला: राजकुमार राणा की पत्नी और बेटी भगौड़े घोषित

फर्जी डिग्री मामले के आरोपी सोलन स्थित मानव भारती विश्वविद्यालय (एमबीयू) ट्रस्ट के मुख्य ट्रस्टी एवं संचालक राजकुमार राणा की पत्नी अशोनी कंवर व उसकी बेटी आईना राणा को अदालत ने भगौड़ा घोषित कर दिया है। ये दोनों भी विवि की ट्रस्टी हैं। विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने हाल ही में राणा, उसकी पत्नी और बेटे व बेटी की डिग्रियों की भी जांच की थी, जिसमें उनकी डिग्रियां भी फर्जी पाई गई थीं। उन्हें 3 जनवरी तक कोर्ट में हाजिर न होने पर सोमवार को सोलन स्थित न्यायाधीश प्रथम श्रेणी की अदालत ने दोनों को भगौड़ा घोषित कर दिया। गौर हो कि निजी विवि से लाखों फर्जी डिग्री बेचने के रैकेट की जांच स्टेट सीआईडी और हिमाचल प्रदेश पुलिस की संयुक्त एसआईटी कर रही है। वहीं, इस मामले को अब पीओ सेल के हवाले कर दिया गया है, ताकि आरोपियों की गिरफ्तारी हो सके। इस मामले की अगली सुनवाई आगामी अप्रैल में होनी है।

सहायक लोक अभियोजक सिम्मी शर्मा ने इसकी पुष्टि की है। राणा ने हाईकोर्ट से जमानत ले रखी है, जबकि उसकी पत्नी और बेटी फरार हैं। बताया जा रहा है कि राणा को परिवार सहित अदालत में पेश होने के आदेश दिए गए थे, लेकिन वे तय तिथि पर कोर्ट में हाजिर नहीं हुए। जिस पर उन्हें भगौड़ा घोषित किया गया। सोमवार को अदालत में सीआरपीसी 82 के तहत सर्विंग कांस्टेेबल के चस्पानगी ब्यान दर्ज किए गए, जिसके बाद आगामी कार्रवाई हुई। गौर हो कि सीआईडी और पुलिस ने अब तक की जांच के आधार पर राणा की पत्नी व दोनों बच्चों के खिलाफ कोर्ट से गैर जमानती वारंट हासिल कर उनके पासपोर्ट भी जब्त करा दिए हैं। फर्जी डिग्री का आरोपी यह परिवार ऑस्ट्रेलिया में रह रहा है। पासपोर्ट जब्त होने के बाद अब इनके पास भारत वापस आने के अलावा कोई और रास्ता नहीं रह गया है। राणा के नाम पर दर्ज करीब 194 करोड़ रुपये की संपत्तियों को सीआईडी पहले ही ईडी से जब्त करवा चुकी है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00