विज्ञापन
विज्ञापन
शिक्षा, शादी, करियर, जॉब फ्री जन्मकुंडली से जानें कैसे रहेगा भविष्य
astrology

शिक्षा, शादी, करियर, जॉब फ्री जन्मकुंडली से जानें कैसे रहेगा भविष्य

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

राष्ट्रीय ड्रॉप रोबाल कमेटी में शामिल हुए शिमला जिले के विशाल चौहान

हिमाचल के शिमला जिले की चौपाल उपमंडल के राष्ट्रीय ड्रॉप रोबाल खिलाड़ी विशाल चौहान को हिमाचल ड्रॉप रोबाल डेवलेपमेंट कमेटी की कमान सौंपी गई है।

28 अक्टूबर 2020

विज्ञापन
Digital Edition

CoronaVirus in Himachal: आईजीएमसी शिमला में दो संक्रमितों की मौत, 300 के पार पहुंचा आंकड़ा

हिमाचल प्रदेश में दो और कोरोना संक्रमितों की मौत हो गई है। गुरुवार को इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (आईजीएमसी) में  कोरोना पॉजिटिव दो मरीजों ने दम तोड़ दिया।  इनमें से एक ननखड़ी निवासी 58 वर्षीय मृतक रामपुर में बैंक प्रबंधक था। मरीज को 23 अक्टूबर को आईजीएमसी में दाखिल किया गया था। वहीं नाहन निवासी 31 वर्षीय महिला मरीज की भी आईजीएमसी में मौत हुई है। महिला को किडनी की बीमारी की भी समस्या थी। प्रदेश में गुरुवार को कोरोना वायरस के 86 नए मामले आए हैं। मंडी जिले में 48, चंबा 13, हमीरपुर 7, सिरमौर 7, किन्नौर 4,और चंबा में 5 नए मामले आए हैं। इसके साथ ही प्रदेश में कोरोना संक्रमितों का कुल आंकड़ा 21187 पहुंच गया है। 2530 सक्रिय मामले हैं। 18328 संक्रमित ठीक हो चुके हैं। 300 कोरोना संक्रमितों की मौत का आंकड़ा 300 के पार हो गया है। 

शिक्षा मंत्री भी पॉजिटिव
वहीं, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर के कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। गुरुवार सुबह उन्होंने मनाली में टेस्ट करवाया लेकिन की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। वहीं मंत्री की पत्नी व सुरक्षाकर्मी की कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। वहीं स्वास्थ्य विभाग ने एहतियातन के तौर पर मंत्री व अन्य लोगों के प्राईमरी संपर्क में आए करीब एक दर्जन से अधिक लोगों के भी सैंपल लिए गए हैं। शिमला से आने बाद शिक्षा मंत्री एवं कुल्लू दशहरा उत्सव समिति के अध्यक्ष गोविंद सिंह ठाकुर का गुरुवार को कुल्लू दशहरा में भाग लेने का कार्यक्रम था। ऐसे में देवी-देवताओं के शिविरों में जाने से पहले एहतियातन तौर पर कोरोना टेस्ट करवाया था जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद मंत्री, उनकी पत्नी व पीएसओ होम आइसोलेट हो गए हैं। उन्होंने ट्वीट कर खुद इसकी जानकारी दी है।
 
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर कोरोना पॉजिटिव, पत्नी और सुरक्षाकर्मी भी संक्रमित

हिमाचल प्रदेश के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर के कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। गुरुवार सुबह उन्होंने मनाली में टेस्ट करवाया लेकिन की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। वहीं मंत्री की पत्नी व सुरक्षाकर्मी की कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। वहीं स्वास्थ्य विभाग ने एहतियातन के तौर पर मंत्री व अन्य लोगों के प्राईमरी संपर्क में आए करीब एक दर्जन से अधिक लोगों के भी सैंपल लिए गए हैं। शिमला से आने बाद शिक्षा मंत्री एवं कुल्लू दशहरा उत्सव समिति के अध्यक्ष गोविंद सिंह ठाकुर का गुरुवार को कुल्लू दशहरा में भाग लेने का कार्यक्रम था। ऐसे में देवी-देवताओं के शिविरों में जाने से पहले एहतियातन तौर पर कोरोना टेस्ट करवाया था जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद मंत्री, उनकी पत्नी व पीएसओ होम आइसोलेट हो गए हैं। उन्होंने ट्वीट कर खुद इसकी जानकारी दी है।

कहा कि उनका स्वास्थ्य बिल्कुल ठीक है और चिकित्सकों की सलाह के अनुसार वह अपने घर में आइसोलेट हुए हैं। वहीं मंत्री ने दशहरा से एक दिन पहले भी कुल्लू में कोरोना का टेस्ट करवाया था और उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी। लेकिन इसे पहले दो दिन पूर्व 27 अक्तूबर को शिमला में हुई कैबिनेट की बैठक के अलावा  शिक्षा मंत्री कुल्लू दशहरा में कई कार्यक्रमों में भी शामिल हुए थे। शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि उन्होंने कोरोना संक्रमित होने की जानकारी मुख्यमंत्री के साथ सभी मंत्रियों को दी है। इसके अलावा उन्होंने सोशल मीडिया में भी कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी को शेयर किया है। सीएमओ कुल्लू डा सुशील चंद्र शर्मा ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग ने प्राईमरी संपर्क में आए करीब एक दर्जन लोगों की पहचान कर उनके सेंपल ले लिए हैं और इसकी रिपोर्ट जिला प्रशासन को दी है। उधर, डीसी कुल्लू डॉ. ऋचा वर्मा ने कहा कि उनके द्वारा इसकी जानकारी शिमला दी गई है।
... और पढ़ें

एमसी शिमला मासिक बैठक: टैक्स जमा करने को 21 दिन का समय, बीपीएल कार्ड को लेकर सदन में हंगामा, जानें बड़े फैसले

शिमला शहरवासियों को अब प्रापर्टी टैक्स जमा करने के लिए 15 की जगह 21 दिन का वक्त मिलेगा। नगर निगम सदन में पार्षद दिवाकर देव शर्मा ने मामला उठाया कि निगम बिल देने के 15 दिन तक ही 10 फीसदी छूट की सुविधा देता है। लेकिन कई लोगों को समय पर बिल नहीं मिलता जिससे वह इसकी सुविधा नहीं ले पाते। ऐसे में इसकी अवधि बढ़ाई जाएगी। सदन ने इसे 21 दिन करने का फैसला लिया।

पार्षद दिवाकर शर्मा ने कूड़ा शुल्क पर लगाई जा रही पैनल्टी भी माफ करने की मांग की। कहा कि कोरोना के चलते कई लोग अभी भी शिमला से बाहर है। यह कूड़ा शुल्क जमा नहीं कर पाए हैं। ऐसे इनके बिल पर लगने वाली पेनल्टी माफ हो। मेयर सत्या कौंडल ने भी इसका समर्थन किया और कहा कि दिसंबर तक पेनल्टी माफ होनी चाहिए। फिलहाल अभी इस पर राहत मिलेगी या नहीं, इस पर आने वाले दिनों में स्थिति स्पष्ट होगी। सदन ने निगम कर्मचारियों को दीवाली पर 20-20 हजार की अग्रिम राशि देने को भी मंजूरी दी।
... और पढ़ें

15 नवंबर तक गड्ढा मुक्त होगा बालूगंज-ब्रह्मपुखर-घाघस नेशनल हाईवे, सीएम ने दिए निर्देश

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने 15 नवंबर तक बालूगंज-ब्रह्मपुखर-घाघस के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग को गड्ढा मुक्त बनाने के निर्देश दिए गए हैं। परवाणू-सोलन फोरलेन को 31 मार्च, कीरतपुर-नेरचैक फोरलेन सड़क को 31 मई तक और टकोली-कुल्लू को आगामी वर्ष 31 सितंबर तक पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं। आगामी वर्ष के अंत तक कालका-शिमला फोरलेन परियोजना के तहत सोलन-कैथलीघाट के कार्य को पूर्ण करने का लक्ष्य दिया गया है। 

मुख्यमंत्री ने गुरुवार को लोक निर्माण विभाग और भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के अधिकारियों के साथ बैठक कर कहा कि राज्य में यात्रियों की सुविधा के लिए उच्च मार्गों को गड्ढा मुक्त बनाना सुनिश्चित करें। नेरचौक से कुल्लू तक पैचवर्क करें और जोगिंद्रनगर-पठानकोट, बद्दी-नालागढ़ और पिंजौर-नालागढ़ सड़क के उन्नयन कार्य को निर्धारित अवधि के भीतर पूरा किया जाए।

उन्होंने कहा कि जिन परियोजनाओं का 3डी कार्य पूरा हो चुका है उनका 3जी सर्वेक्षण करें। कैथलीघाट-ढली फोरलेन परियोजना का मुद्दा भी शीघ्र सुलझाएं। उन्होंने कहा कि कुछ विद्युत टावरों के अलावा 17 ढांचों को इस क्षेत्र से हटाने की आवश्यकता है। सोलन-कैथलीघाट क्षेत्र पर उपयुक्त डंपिंग स्थलों को चिह्नित करने के लिए भी कहा गया है। सीएम ने अधिकारियों को इस क्षेत्र से 13 बिजली टावरों को स्थानांतरित करने के भी निर्देश दिए हैं।

मनाली में पुल के निर्माण में देरी पर जताई चिंता 
सीएम ने वन स्वीकृतियों के कार्यों को शीघ्र पूर्ण करने को कहा है। उन्होंने इन फोरलेन को ‘ग्रीन हाईवे’ बनाने के लिए सड़क के किनारे पौधे लगाने की आवश्यकता पर भी बल दिया। उन्होंने मनाली में ब्यास नदी पर पुल के निर्माण में देरी पर चिंता व्यक्त की।

मय पर काम पूरा करने का आश्वासन
क्षेत्रीय अधिकारी भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण गुरसेवक सिंह सांघा ने राज्य में सभी चार फोरलेन परियोजनाओं को समयबद्ध पूरा करने के बारे में मुख्यमंत्री को आश्वस्त किया है। प्रधान सचिव लोक निर्माण विभाग जेसी शर्मा, मुख्य अभियंता भवन शर्मा, विशेष सचिव लोक निर्माण विभाग अरिंदम चौधरी, मुख्य अभियंता राष्ट्रीय राजमार्ग अर्चना ठाकुर और अन्य अधिकारी भी इस बैठक में उपस्थित रहे।
... और पढ़ें

शिक्षा बोर्ड ने घोषित किया 12वीं की कंपार्टमेंट परीक्षा का परिणाम, यहां देखें

बैठक में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर
हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड धर्मशाला ने सितंबर में ली गई जमा दो की अनुपूरक परीक्षा का परिणाम गुरुवार को घोषित कर दिया। कंपार्टमेंट का परीक्षा परिणाम 61.99 प्रतिशत रहा है। परिणाम बोर्ड ने अपनी वेबसाइट पर अपलोड कर दिया है। स्कूल शिक्षा बोर्ड ने सितंबर 2020 में जमा दो कक्षा की अनुपूरक परीक्षाओं का आयोजन किया था। जमा दो की परीक्षा में कुल 10489 अभ्यर्थी बैठे थे।

इनमें 6493 ने अनुपूरक परीक्षा उत्तीर्ण कर ली है। 3439 परीक्षार्थियों को पुन: कंपार्टमेंट आई है। बोर्ड के अध्यक्ष डॉ. सुरेश कुमार सोनी ने बताया कि जमा दो की कंपार्टमेंट परीक्षा का परिणाम 61.99 प्रतिशत रहा है। परिणाम बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया गया है। परिणाम की जानकारी के लिए विभिन्न जिलों से संबंधित परीक्षार्थी किसी भी कार्यदिवस को सुबह 10 से शाम को पांच बजे तक बोर्ड कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं। 

13 तक करें पुनर्मूल्यांकन/पुनर्निरीक्षण को आवेदन
बोर्ड अध्यक्ष ने कहा कि जो परीक्षार्थी अपनी उत्तर पुस्तिकाओं का पुनर्मूल्यांकन व पुनर्निरीक्षण करवाना चाहते हैं, वे अपने स्कूल के माध्यम से बोर्ड की वेबसाइट पर 13 नवंबर तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। पुनर्मूल्यांकन के लिए परीक्षार्थी को 500 रुपये, जबकि पुनर्निरीक्षण के लिए 400 रुपये शुल्क जमा करवाना होगा। पुनर्मूल्यांकन को आवेदन के लिए संबंधित विषय में कम से कम 20 प्रतिशत अंक होना अनिवार्य होगा। ऑफलाइन किसी भी आवेदन को स्वीकार नहीं किया जाएगा।
... और पढ़ें

शिमला: हाईवे पर कार-ट्रक में जोरदार टक्कर, एक की मौत, तीन घायल

हिमाचल के शिमला जिले में कुमारसैन के खेखर में हाईवे पर एक कार और ट्रक में टक्कर हो गई। हादसे में कार सवार व्यक्ति की मौत हो गईए जबकि कार में सवार दो लड़कियों समेत तीन घायल हैं। हादसा सुबह करीब 10 बजे हुआ। हादसे की सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची।  पुलिस हादसे के कारणों की जांच कर रही हैैै।  हादसे में
 यशवंत(41) पुत्र चुर राम गांव संगलवाडा थुनाग मंडी की मौके पर ही मौत हो गई ।

जबकि गाड़ी चालक नारायण सिंह(46) पुत्र हिरदया राम गांव धवारा थुनाग, चेतन लता(16) पुत्री यशवंत संगलवाडा थुनाग, ज्योति(14) पुत्री यशवंत संगलवाडा थुनाग मंडी हादसे में घायल है। हादसे की पुष्टि की पुष्टि डीएसपी अभिमन्यु ने की है।
... और पढ़ें

हिमाचल: दो नवंबर से खुलने वाले स्कूलों में जनवरी और फरवरी में भी लगेंगी नियमित कक्षाएं

हिमाचल में दो नवंबर से खुलने जा रहे स्कूलों में जनवरी और फरवरी में भी नियमित कक्षाएं लगेंगी। कोरोना संकट के चलते इस बार शीतकालीन छुट्टियों वाले स्कूलों में सर्दियों की छुट्टियां नहीं होंगी। ऑनलाइन पढ़ाई भी जारी रखी जाएगी। साढ़े सात माह तक स्कूल बंद रहने के कारण अब शैक्षणिक सत्र को बढ़ाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। शिक्षा विभाग ने इसका प्रस्ताव तैयार कर लिया है। संभावित है कि नवंबर या दिसंबर की कैबिनेट बैठक में इसे रखा जाएगा। पहली से 12वीं कक्षा की वार्षिक परीक्षाएं इस बार एक साथ पूरे प्रदेश में मार्च 2021 में लेने का फैसला लिया गया है। कोरोना के चलते इस साल मार्च से हिमाचल में स्कूल बंद हैं।

बच्चों की पढ़ाई जारी रखने को ऑनलाइन शिक्षण सामग्री व्हाट्सएप से भेजी जा रही है। ऑनलाइन फर्स्ट टर्म परीक्षाएं भी ली गईं। सेकेंड टर्म परीक्षाओं की तैयारी शुरू हो गई है। ई पीटीएम भी विभाग दो बार कर चुका है। अब प्रदेश में पहले के मुकाबले हालात कुछ सामान्य हो रहे हैं। दो नवंबर से सरकार ने नौवीं से 12वीं कक्षा की नियमित कक्षाएं लगाने का फैसला लिया है। ऐसे में शिक्षा विभाग ने इस बार शीतकालीन स्कूलों में जनवरी और फरवरी की छुट्टियां नहीं देने का फैसला लिया है। इन दो माह में भी स्कूल खोलने का प्रस्ताव तैयार किया गया है। इस मामले को भी कैबिनेट मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि मार्च से स्कूल बंद होने के चलते टीचिंग डे प्रभावित हुए हैं। सिलेबस पूरा करने और बच्चों की पढ़ाई को गति देने के लिए सर्दियों की छुट्टियां नहीं दी जाएंगी। कोरोना के चलते पहले ही स्कूलों की छुट्टियां का कोटा पूरा कर लिया गया है।
... और पढ़ें

हिमाचली बोलियों के विलुप्त होने से चिंतित भाषा के जानकार

 हिमाचल में स्थानीय बोलियों के विलुप्त होने पर भाषा के जानकारों ने चिंता जताई है। वे पहाड़ी भाषा को बढ़ावा देने के लिए वेबिनार के माध्यम से हिमाचल की बोलियों पर चर्चा कर रहे थे। भाषा विभाग की ओर से आयोजित वेबिनार में पहाड़ी भाषा को बढ़ावा देने के लिए चार जिलों सोलन, शिमला, सिरमौर और बिलासपुर की स्थानीय बोलियों के उत्थान पर विचार-विमर्श किया गया। विभाग की सहायक निदेशक कुसुम संघाईक ने कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले वक्ताओं का स्वागत किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. गौतम व्यथित ने की। उन्होंने कहा कि ग्रामीण इलाकों में स्थानीय बोलियों का इस्तेमाल आम है, लेकिन शहरों में खासतौर पर युवा वर्ग भाषा के इस्तेमाल से परहेज कर रहा है।

इससे स्थानीय बोलियां खत्म होने की कगार पर हैं। उन्होंने युवाओं को पहाड़ी भाषा से जोड़े रखने के लिए स्कूल स्तर पर नियमित रूप से पहाड़ी बोली में कार्यक्रम करवाने का सुझाव दिया। कुसुम संघाईक ने कहा कि भाषा विभाग एक नवंबर को पहाड़ी दिवस का आयोजन करेगा। इसी कड़ी में पहाड़ी सप्ताह का आयोजन किया जा रह है। इसमें प्रदेश भर के जिलों को सिलसिलेवार चर्चा में शामिल किया जा रहा है। इस मौके पर शिमला से भूप रंजन और ओपी शर्मा, सोलन से मदन हिमाचली और अमरदेव अंगीरस, सिरमौर के विद्यानंद सरैक और ओम प्रकाश राही, बिलासपुर से कुलदीप चंदेल और राम लाल ठाकुर ने हिस्सा लिया।
... और पढ़ें

हिमाचल में 16 हजार ने कराया पंजीकरण, नौकरी लेने सिर्फ चार ही पहुंचे

बाहरी राज्यों से कोरोना वायरस के चलते लागू किए गए लॉकडाउन के दौरान हिमाचल लौटे और प्रदेश में नौकरियां गंवाने वाले करीब 16 हजार लोगों ने कौशल विकास निगम के पास पंजीकरण करवाया था, लेकिन नौकरी लेने सिर्फ चार लोग ही पहुंचे हैं। कई लोग लॉकडाउन हटने के बाद वापस दूसरे राज्यों में लौट गए हैं, जबकि कई लोगों ने अपने घर के आसपास ही कारोबार शुरू कर लिया है।

तकनीकी शिक्षा मंत्री डॉ. रामलाल मारकंडा ने बताया कि कौशल विकास निगम ने नौकरियों के अवसर मुहैया करवाने को स्किल रजिस्टर शुरू किया था। विभिन्न उद्योगों के साथ मिलकर नौकरियां देने की योजना थी। कोरोना संकट के चलते सरकार की ओर से यह बड़ी पहल की गई थी। कौशल विकास निगम से मिली जानकारी के अनुसार स्किल रजिस्टर में 16 हजार 407 ने आवेदन किया था।

सरकार ने इन युवाओं को नौकरियां देने के लिए बड़ी कंपनियों जैसे हैवल, वोल्टाज, इंडको से संपर्क किया। पंजीकरण करवाने वाले 16 हजार में से 1802 लोगों ने नौकरी की इच्छा जताई थी। इनमें 405 ने आवेदन किए। 282 ने साक्षात्कार दिया, लेकिन अंत में नौकरी लेने सिर्फ चार ही आए। इन चार लोगों में से दो डाटा एंट्री ऑपरेटर, एक अकांउटेंट और एक वाटर कैरियर की नौकरी कर रहे हैं। कई लोग स्किल नहीं होने के चलते भी नौकरियां प्राप्त नहीं कर सके। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X