विज्ञापन
विज्ञापन
घर बैठें बनवाएं फ्री जन्मकुंडली और जानें भविष्य की कहानी ग्रह - नक्षत्रों की ज़ुबानी
Kundali

घर बैठें बनवाएं फ्री जन्मकुंडली और जानें भविष्य की कहानी ग्रह - नक्षत्रों की ज़ुबानी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

हिमाचल: रोहतांग समेत ऊंची चोटियों पर हल्का हिमपात, ठंड बढ़ी

हिमाचल में मौसम ने करवट लेना शुरू कर दिया है। रोहतांग दर्रा सहित ऊंची चोटियों पर गुरुवार सुबह हल्का हिमपात हुआ। प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में ठंड बढ़ना शुरू हो गई है। मध्य पर्वतीय और मैदानी क्षेत्रों में भी सुबह और शाम के समय ठंड बढ़ गई है। बुधवार रात केलांग, कल्पा और मनाली में न्यूनतम तापमान दो से छह डिग्री के बीच दर्ज हुआ। गुरुवार को राजधानी शिमला सहित प्रदेश के कई क्षेत्रों में बादल छाए रहे। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने आगामी एक सप्ताह तक मौसम साफ बना रहने और तापमान में कमी आने का पूर्वानुमान जताया है। सुबह रोहतांग दर्रा सहित घेपन पीक, शीति नाला, लद्दाखी पीक सहित धौलाधार की ऊंची पर्वत शृंखलाओं पर हल्का हिमपात हुआ।

ऊंची चोटियों पर हल्के हिमपात के बाद तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति में रात का पारा शून्य तक आ गया है। सुबह के समय भी पाला जमने से लोगों को ठंड महसूस हो रही है। गुरुवार को कुल्लू में धूप खिलने के साथ आसमान में बादल भी छाए रहे। राजधानी शिमला में भी वीरवार को बादलों की लुकाछिपी होती रही। इससे दिन के समय भी मौसम में ठंडक महसूस हुई।  ऊना में अधिकतम तापमान 33.8, बिलासपुर में 31.5, हमीरपुर में 31.2, कांगड़ा में 30.4, मंडी में 29.1, सोलन में 29.0, सुंदरनगर में 28.8, भुंतर-चंबा में 27.8, नाहन में 26.8, धर्मशाला में 23.8, शिमला में 21.2, कल्पा में 17.6, केलांग में 14.7 और डलहौजी में 14.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। 
... और पढ़ें
रोहतांग दर्रा रोहतांग दर्रा

सरकार ने मुझ पर प्रताड़ना की सारी हदें लांघी, सवा महीने तक काटते रहे घर की बिजली: अनिल शर्मा

पूर्व सीएम और वरिष्ठ नेता शांता कुमार के प्रदेश भाजपा को लेकर दिए बयान से उठे सियासी उफान के बीच अब सीएम के गृह जिला मंडी सदर के भाजपा विधायक अनिल शर्मा ने सरकार की कार्यशैली पर प्रश्नचिह्न लगाए हैं। वीरवार को मंडी में पत्रकारों से बातचीत में विधायक बोले कि सरकार ने मुझ पर प्रताड़ना की सारी हदें पार की हैं।लॉकडाउन के दौरान मुंबई से आए मेरे बेटे आयुष, बहू अर्पिता और उनके दोनों बच्चों को जानबूझकर तंग किया गया।

सवा माह तक जब तक परिवार मेरे घर में रहा, रोज आधी रात को बिजली काटी जाती रही। आयुष के बच्चे रात के अंधेरे में रोते थे। मैं खुद भाजपा सरकार में ऊर्जा मंत्री रहा हूं। हर बड़े अधिकारी को शिकायत की गई। लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। उनके जाने के बाद बिजली दुरुस्त हो गई। उनकी बहू, बच्चे और उनका स्टाफ चॉपर से मुंबई से मंडी पहुंचे। सीएम से गुजारिश के बाद परिवार को मेरे नए घर में ही क्वारंटीन करने की इजाजत मिली।

लेकिन अपने वाहन से चंडीगढ़ आ रहे आयुष को स्वारघाट बॉर्डर पर हवलदार ने दो घंटे तक खड़े रखा और बदसलूकी की। उन्होंने कहा कि परिवार और राजनीति अलग-अलग हैं। परिवार पर आंच बर्दाश्त नहीं होगी। सरकार तीन साल के कार्यकाल में हर मोरचे पर विफल रही है।

सीएम को नसीहत देते हुए यह तक कह डाला कि आने वाले दो सालों में अब वह कुछ ऐसा काम करें, जिससे कम से कम मंडी और प्रदेश की जनता तो याद रखे। हम कहां होंगे, यह अलग बात है। मंत्री महेंद्र भी उनके निशाने पर रहे। बता दें कि लोकसभा चुनावों में अनिल शर्मा के पुत्र आश्रय को मंडी संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस टिकट मिलने के बाद तल्खी शुरू हुई। चुनावों के दौरान अनिल शर्मा ने विधायक रहते हुए भाजपा का प्रचार नहीं किया, फिर बाद में उन्हें मंत्री पद भी त्यागना पड़ा।
... और पढ़ें

शांता के बयान से सार्वजनिक हुई भाजपा की अंतर्कलह: राठौर

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने कहा है कि भाजपा के भीतर सत्ता संघर्ष को लेकर आंतरिक कलह चली हुई है। कांग्रेस पर कोई भी विपरीत टिप्पणी करने से पूर्व भाजपा को पहले अपने घर की सुध ले लेनी चाहिए। राठौर ने कहा कि भाजपा के वरिष्ठ नेता शांता कुमार का यह बयान कि प्रदेश भाजपा में राजनीति प्रदूषित होती जा रही है, अपने आप में एक बहुत बड़ा संदेश है। उनका यह कथन पार्टी के अंदर नेताओं में बढ़ते असंतोष को स्पष्ट इंगित करता है।
गुरुवार को प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में कुलदीप राठौर ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर हो या प्रदेश स्तर पर आज भाजपा ने अपने वरिष्ठ नेताओं को अपनी राजनीति से दरकिनार कर दिया है।

प्रदेश में शांता कुमार भी इसी परिणीति का शिकार हुए हैं। उनका यह आरोप कि उन्हें अपने ही लोगों ने राजनीतिक षड्यंत्र का शिकार बनाया, पार्टी की पूरी पोल खोलता है। राठौर ने कहा कि शांता कुमार के बयान को हल्के में नहीं लिया जा सकता। आज प्रदेश में भाजपा के कुछ मंत्री बेलगाम हो गए हैं। सरकार और ब्यूरोक्रेसी के बीच टकराव की स्थिति है। राठौर ने केंद्र सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि वह देश में किसानों की आवाज दबाने का पूरा प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस किसानों की लड़ाई तब तक जारी रखेगी, जब तक सरकार अपने इस काले कानून को वापस नहीं ले लेती। 
... और पढ़ें

कीरतपुर-नेरचौक फोरलेन में करोड़ों की गड़बड़ी: रामलाल

कांग्रेस विधायक राम लाल ने कीरतपुर-नेरचौक फोरलेन में करोड़ों की गड़बड़ी का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि इंटरनल ऑडिट में बात सामने आई है कि इस परियोजना में करोड़ों की गड़बड़ी हुई है। परियोजना से जुड़े अधिकारियों ने बड़े शहरों में अपनी प्रॉपर्टी बनाई, लेकिन जो लोग अपने रोजगार के लिए इस परियोजना में काम कर रहे थे। उनकी 120 करोड़ रुपये की देनदारी लटकी हुई है।

प्रेसवार्ता करते हुए उन्होंने जिले से जुड़े कई अहम मुद्दों पर प्रदेश और केंद्र सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि जिले में रेलवे लाइन, फोरलेन सहित कई और अहम प्रोजेक्ट चले हैं। उनका सारा मलबा गोविंद सागर झील में डंप किया जा रहा है। प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड चुप बैठा है। गोविंद सागर में होने वाली अवैध डंपिंग से भविष्य में भाखड़ा बांध पर काफी असर पड़ेगा। वहीं मलबा डंप होने से मछली उत्पादन में भारी गिरावट आ रही है। 

ठाकुर ने कहा कि श्री नयना देवी जी विस क्षेत्र के मैहला में फोरलेन में पुल बनाने के लिए पिल्लर दिए गए थे। जिस पर करोड़ों रुपये खर्च किया गया था। लेकिन तीन साल से काम बंद है। बरसात में यह सारे पिल्लर ढह गए। बिलासपुर में अंतरराष्ट्रीय स्तर का स्टेडियम बना है। वहीं यह एकमात्र ऐसी जगह है, जहां जल, थल और हवाई प्रतियोगिताएं करवाई जाती हैं, लेकिन गोविंद सागर झील में जमा होती गंदगी से इस पर प्रभाव पड़ रहा है। अगर जनता से जुड़े मुद्दों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई तो हाईकोर्ट जाएंगे।
... और पढ़ें

जेपी नड्डा ने दिल्ली से किया हिमाचल भाजपा के छह जिला कार्यालयों का शिलान्यास

कांग्रेस विधायक राम लाल
 भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने  गुरुवार को दिल्ली से वर्चुअल माध्यम से भाजपा के छह संगठनात्मक जिलों नूरपुर, कांगड़ा, देहरा, पालमपुर, सुंदरनगर और कुल्लू के जिला कार्यालयों की आधारशिला रखी। प्रदेश सरकार में ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने दिल्ली राष्ट्रीय कार्यालय में मुख्य अतिथि जगत प्रकाश नड्डा का स्वागत किया। 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, पूर्व मुख्यमंत्री प्रो प्रेम कुमार धूमल, शांता कुमार और भवन निर्माण समिति के संयोजक सतपाल सिंह सत्ती वर्चुअल माध्यम से इस कार्यक्रम से जुड़े। इनके अलावा भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कश्यप पालमपुर, केंद्रीय राज्य वित्त एवं कॉरपोरेट मंत्री अनुराग ठाकुर, उद्योग एवं परिवहन मंत्री विक्रम ठाकुर देहरा, वन मंत्री राकेश पठानिया नुरपूर, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री सरवीण चौधरी और सांसद किशन कपूर धर्मशाला, राज्यसभा सांसद इंदु गोस्वामी, प्रदेश महामंत्री त्रिलोक कपूर पालमपुर, जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर, सांसद रामस्वरूप शर्मा और प्रदेश महामंत्री राकेश जम्वाल सुंदरनगर और शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर कुल्लू में उपस्थित रहे।

इस शिलान्यास कार्यक्रम का मंच संचालन प्रदेश महामंत्री त्रिलोक जम्वाल ने भाजपा मुख्यालय दीपकमल चक्कर से किया। 
नड्डा के साथ पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव एवं कार्यालय प्रभारी अरुण सिंह, हिमाचल सरकार में मंत्री वीरेंद्र कंवर और प्रदेश में कार्यालय का कार्य देख रहे रवींद्र राजू भी उपस्थित थे। उन्होंने हिमाचल प्रदेश की जनता को शक्ति उपासना के महापर्व नवरात्र की हार्दिक शुभकामनाएं दीं और हिमाचल के पार्टी कार्यकर्ताओं को प्रदेश कार्यालय के शिलान्यास की बधाई दी। 
... और पढ़ें

हिमाचल कैबिनेट बैठक: नवंबर से नौवीं से जमा दो कक्षा के स्कूल खोलने का हो सकता है फैसला

हिमाचल में नवंबर से नौवीं से जमा दो के विद्यार्थियों के लिए नियमित तौर पर स्कूल खोलने का फैसला 27 अक्तूबर को हो सकता है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में मंगलवार को होने वाली मंत्रिमंडल की बैठक के लिए शिक्षा विभाग ने कई विकल्पों सहित प्रस्ताव भेजा है। बीते दिनों हुईं ई-पीटीएम में मिले अभिभावकों के सुझावों और स्कूलों से भेजे गए माइक्रो प्लान के आधार पर सरकार स्कूलों को खोलने का फैसला लेगी।

उधर, कॉलेजों में फर्स्ट और सेकेंड ईयर के विद्यार्थियों को बिना परीक्षा के प्रमोट करने के प्रस्ताव पर भी कैबिनेट बैठक में मुहर लगेगी। परीक्षाएं लेने के लिए अब समय बचा नहीं है। ऐसे में असेसमेंट आधार पर ही विद्यार्थियों को अगली कक्षाओं में प्रमोट करना लगभग तय है।कैबिनेट बैठक के लिए शिक्षा विभाग ने स्कूल खोलने के लिए कई विकल्प बनाकर सरकार को प्रस्ताव भेजा है। पहले विकल्प के तहत बोर्ड कक्षाओं दसवीं और जमा दो कक्षा के विद्यार्थियों को नवंबर से स्कूल बुलाने की बात कही गई है।

नौवीं से जमा दो की कक्षाएं भी नवंबर से नियमित तौर पर शुरू करने का विकल्प दिया गया है। अधिक संख्या वाले विद्यार्थियों के स्कूलों में सुबह और शाम या एक-एक दिन छोड़कर कक्षाएं लगाने का विकल्प भी प्रस्ताव में शामिल है। पहली से आठवीं के स्कूलों को खोलने के लिए भी प्रस्ताव भेजा है। इसमें कम संख्या वाले विद्यार्थियों के स्कूलों में नवंबर से कक्षाएं शुरू करने की बात कही गई है। ऑनलाइन कक्षाओं को जारी रखने का प्रस्ताव भी भेजा है।

उधर, कॉलेजों में विद्यार्थियों को प्रमोट करने के लिए पिछली कक्षा के परीक्षा परिणाम के पचास फीसदी अंक, वर्तमान कक्षा की आंतरिक परीक्षा के तीस फीसदी अंक और शिक्षकों की असेसमेंट के 20 फीसदी अंकों को आधार बनाकर परिणाम तैयार किया जाएगा। यूजीसी के निर्देशानुसार एक नवंबर से नया शैक्षणिक सत्र शुरू किया जाना है। प्रदेश में बीते करीब दो माह से विद्यार्थियों को अगली कक्षाओं में प्रोविजनल आधार पर दाखिले देकर उनकी ऑनलाइन पढ़ाई भी शुरू कर दी गई है। ऐसे में अब परीक्षाएं लिए जाने की अब संभावना बहुत कम है। ऐसे में कैबिनेट बैठक में प्रमोट करने का फैसला होने के आसार अधिक हैं।
--
... और पढ़ें

Navratri Durg Ashtami Date, Time, Muhurat: मां चामुंडा को लगेगा 108 व्यंजनों का भोग

कंडक्टर भर्ती परीक्षा: चार सॉल्वरों को भेजा था प्रश्नपत्र, एसआईटी ने आयोग से तलब किया परीक्षा रिकॉर्ड

कंडक्टर भर्ती की लिखित परीक्षा का प्रश्नपत्र व्हाट्सएप से बाहर भेजने के मामले की जांच कर रही एसआईटी ने कर्मचारी चयन आयोग हमीरपुर से परीक्षा संबंधी सभी रिकॉर्ड तलब कर लिया है। वहीं पूछताछ में खुलासा हुआ है कि मुख्य आरोपी अभ्यर्थी मनोज ने दो दोस्त सॉल्वरों को प्रश्नपत्र व्हाट्सएप पर भेजा था। दो दोस्तों ने आगे दो और सॉल्वरों को पेपर भेजा था। यानी मनोज के अलावा आगे कुल चार युवकों को पेपर व्हाट्सएप के जरिये गया था। आरोपियों में एक एचआरटीसी कंडक्टर और दूसरा रेलवे का को पायलट भी शामिल है। 

पुलिस के अनुसार मनोज कुमार ने पूछताछ में बताया कि उसने परीक्षा केंद्र से अपने चचेरे भाई और एक दोस्त को मोबाइल से पेपर हल करने को भेजा था। मुकेश को जितने सवालों के जवाब आते थे, उसने वे मनोज को व्हाट्सएप से बता दिए थे। कंडक्टर अनिल ने पेपर आगे दो लोगों को भेजा था। इनमें से एक दोस्त ने पेपर के कुछ सवाल हल करके वापस भेज दिए, जबकि दूसरे दोस्त ने पेपर मीडिया में वायरल कर दिया। इस पूरे प्रकरण में कथित रूप से मनोज के अलावा चार युवक शामिल हैं। इनमें से एक युवक एचआरटीसी में दो साल से कंडक्टर की नौकरी कर रहा है, जबकि दूसरा रेलवे में को पायलट के रूप में हाल ही में चयनित हुआ है। चारों आरोपियों पर केस दर्ज हो गया है। ऐसे में दो युवकों की नौकरी पर तलवार लटक गई है। पुलिस के समक्ष युवक उनका भविष्य बचाने को गिड़गिड़ा रहे हैं।

उधर, एसपी कांगड़ा विमुक्त रंजन का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है।उधर, एसआईटी ने आवेदन करने वालों के दस्तावेजों से लेकर परीक्षा के पूरे प्रोटोकाल और नकल रोकने के लिए अपनाई जाने वाली प्रक्रिया की चयन आयोग से जानकारी मांगी है। सूत्रों का कहना है कि चूंकि पिछले साल सिपाही भर्ती परीक्षा के दौरान हुई हाईटेक उपकरणों वाली नकल की घटना सामने आने के बाद गृह विभाग ने कर्मचारी चयन आयोग और राज्य लोक सेवा आयोग को सभी बड़ी परीक्षाओं में जैमर का इस्तेमाल करने को कहा था। एसआईटी जानने का प्रयास करेगी कि आखिर क्यों जैमर नहीं लगे। बता दें कि मामले की जांच का जिम्मा डीजीपी संजय कुंडू ने डीआईजी बिलम गुप्ता की अध्यक्षता वाली आठ सदस्यीय विशेष जांच टीम (एसआईटी) को दिया है। 
 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X