बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव
Myjyotish

बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

हिमाचल के सिरमौर की श्रेयसी ने जीता रियलिटी शो

हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में नाहन के आंजभोज क्षेत्र के कलाथा गांव की श्रेयसी ने रियलिटी शो किसमें कितना है दम.., का खिताब अपने नाम कर लिया है।

23 सितंबर 2021

Digital Edition

हिमाचल: कैबिनेट बैठक आज, 27 से स्कूल खोलने पर होगा फैसला

हिमाचल प्रदेश में 27 सितंबर से विद्यार्थियों के लिए स्कूल खोलने का फैसला 24 सितंबर शुक्रवार को कैबिनेट बैठक में हो सकता है। बैठक मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में राज्य सचिवालय में होगी। सरकार ने अभी 25 सितंबर तक विद्यार्थियों के लिए स्कूल बंद रखे हैं। संभावित है कि 27 सितंबर से नवीं से 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों को स्कूलों में बुलाया जा सकता है। शिक्षा विभाग की ओर से पांचवीं और आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों को भी स्कूल बुलाने का प्रस्ताव भेजा गया है।

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए स्कूलों के लिए बनाए माइक्रो प्लान से भी बैठक में सरकार को अवगत करवाया जाएगा। इसके तहत एक कक्षा की क्षमता के 50 फीसदी के हिसाब से विद्यार्थियों को बुलाने की योजना है। बैठक में शिक्षा विभाग में 8000 मल्टी टास्क वर्करों की भर्ती का फैसला होने के आसार हैं। इस भर्ती में मुख्यमंत्री की अनुशंसा पर आधे पद और शेष आधे आवेदनों के आधार पर एसडीएम की अध्यक्षता वाली कमेटियों के माध्यम से भरने की योजना है।

सीएंडवी और जेबीटी को गृह जिलों में तबादले करने की नीति में भी सरकार बदलाव कर सकती है। अभी 13 वर्ष बाद दूसरे जिलों में सेवा दे रहे जेबीटी ओर सीएंडवी अध्यापकों को अपने गृह जिलों में स्थानांतरित करने की योजना है। इस समय अवधि को सरकार कम कर सकती है। बैठक में सरकारी स्कूलों में नियुक्त कंप्यूटर शिक्षकों के मानदेय में 500 रुपये बढ़ोतरी की मुख्यमंत्री की बजट घोषणा को भी मंजूरी दी जाएगी। बसों में 100 फीसदी ऑक्यूपेंसी करने पर भी सरकार फैसला ले सकती है।
... और पढ़ें
हिमाचल कैबिनेट की बैठक (फाइल) हिमाचल कैबिनेट की बैठक (फाइल)

चूक: एचपीयू शिमला के एमए समाज शास्त्र का पूरा प्रश्न पत्र आउट ऑफ सिलेबस, परीक्षा रद्द

हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय (एचपीयू) की इन दिनों चल रही स्नातकोत्तर डिग्री कोर्स की परीक्षाओं में सिलेबस के बाहर से प्रश्न पत्र आने का मामला सामने आया है। एमए समाज शास्त्र चौथे सेमेस्टर की सोशल साइकोलॉजी की बुधवार को शाम के सत्र प्रदेश भर के कॉलेजों में हुई परीक्षा में पूरा प्रश्न पत्र आउट ऑफ सिलेबस था। प्रश्नपत्र देख परीक्षार्थियों के होश उड़ गए। प्रिटिंग में गड़बड़ी के चलते परीक्षा के प्रश्न पत्र में पेपर कोड जो 12-ए होना चाहिए था, वह 12 लिखा था। 

परीक्षार्थियों ने ड्यूटी स्टाफ को सिलेबस के बाहर से प्रश्न पत्र आने की शिकायत की। इसके बाद परीक्षा केंद्रों से विश्वविद्यालय को इस चूक की सूचना मिली। प्रशासन ने जानकारी जुटाई तो, मालूम हुआ कि प्रश्न पत्र की प्रिंटिंग के समय प्रेस स्तर पर ही चूक हुई है। विवि के परीक्षा नियंत्रक डॉ. जेएस नेगी ने माना कि सिलेबस के बाहर से प्रश्न पत्र आया था। इसके संज्ञान में आने पर परीक्षा रद्द कर दी है। अब परीक्षा दोबारा होगी, जिसकी तारीख जल्द घोषित होगी। इसकी जानकारी विवि की वेबसाइट पर परीक्षार्थियों को मिलेगी। उन्होंने कहा कि एमए समाज शास्त्र की इस परीक्षा में विषय और अन्य जानकारी सही थी, लेकिन इसमें प्रश्न सिलेबस के बाहर से थे। 

प्रिंटिंग स्तर पर हुई चूक, मांगा जाएगा जवाब
एचपीयू के परीक्षा नियंत्रक डॉ. जेएस नेगी ने कहा मामला सिक्रेसी का होता है, इसलिए प्रश्न पत्र परीक्षा केंद्र में ही खोले जाते हैं। प्रिंटिंग प्रेस के स्तर पर छपाई के समय में यह चूक हुई है। इसमें जवाब मांगा जाएगा।
... और पढ़ें

आईजीएमसी शिमला नहीं, अब मंडी में लगाया जाएगा पीएसए प्लांट

पीएम केयर फंड के तहत आईजीएमसी लाया गया पीएसए प्लांट अब मंडी शिफ्ट किया जाएगा। प्लांट के अस्पताल परिसर स्थित चयनित जगह पर न पहुंच पाने के कारण सरकार ने यह फैसला लिया है। आईजीएमसी प्राचार्य डॉ. सुरेंद्र सिंह ने इसकी पुष्टि की है।  कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की समस्या को देखते हुए आईजीएमसी अस्पताल के लिए अतिरिक्त प्लांट स्वीकृत किया गया था। जिला प्रशासन, डीआरडीओ और टाटा द्वारा परिसर में जगह का चयन कर प्लांट स्थापित करना था।

लेकिन अब यह प्लांट अस्पताल पहुंचा तो मेडिकल कॉलेज से अस्पताल परिसर लाना मुश्किल हो गया है। लिहाजा, अब इस प्लांट को मंडी शिफ्ट करने के लिए कहा गया है। सूत्रों का कहना है कि अस्पताल में जब प्लांट लगाया जाना था, तो इसमें अस्पताल प्रबंधन की ओर से किसी भी तकनीकी व्यक्ति को शामिल नहीं किया गया। जिस वजह से उक्त अधिकारी यह समझ नहीं पाए कि प्लांट यहां पर कैसे लाया जाएगा। यही वजह रही कि अब इस प्लांट को दूसरी जगह शिफ्ट किया जा रहा है।
... और पढ़ें

कोरोना: हिमाचल में 11 दिन के बच्चे समेत तीन संक्रमितों की मौत, 133 नए मामले

हिमाचल प्रदेश में गुरुवार को तीन और कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत हो गई है। कांगड़ा में 11 दिन के बच्चे की संक्रमण से टांडा अस्पताल में मौत हो गई। इसके अलावा हमीरपुर में 58 वर्षीय और मंडी जिले में 51 वर्षीय संक्रमित महिला ने दम तोड़ दिया। वहीं प्रदेश में कोविड-19 के 133 नए मामले आए हैं। कांगड़ा जिले में आठ बच्चों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। प्रदेश में कोरोना मृतकों का आंकड़ा 3646 पहुंच गया है। अब तक कोरोना के 217776 मामले आ चुके हैं। इनमें से 212336 ठीक हो चुके हैं। कोरोना सक्रिय मामले 1778 हो गए हैं। इसमें से बिलासपुर जिले में 193, चंबा 28, हमीरपुर 408, कांगड़ा 423, किन्नौर 10 , कुल्लू 34, लाहौल-स्पीति 14, मंडी 376, शिमला 188, सिरमौर चार, सोलन 21 और ऊना में 79 सक्रिय मामले हैं। बीते 24 घंटों के दौरान 203 मरीज ठीक हुए हैं और कोरोना की जांच के लिए 9822 लोगों के सैंपल लिए गए।

नवंबर माह के अंत तक कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज जरूर लगाएं: जयराम 
वहीं, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने प्रदेशवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि हिमाचल प्रदेश को कोविड-19 टीकाकरण में राष्ट्रीय स्तर पर अग्रणी राज्य बनाने के लिए हार्दिक बधाई दी जाती है। प्रदेश में शतप्रतिशत पात्र लाभार्थियों को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगाई जा चुकी है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी से प्रदेशवासियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार ने इस वर्ष नवंबर माह के अंत तक वैक्सीन की दूसरी डोज लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इस लक्ष्य को प्रदेशवासियों के सक्रिय सहयोग से ही हासिल किया जा सकता है। सबसे आग्रह है कि कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज जरूर लगाएं। इससे सारा प्रदेश सकुशल और स्वस्थ रहेगा। प्रदेश निरंतर खुशहाली के पथ पर अग्रसर रहेगा।  हिमाचल प्रदेश में जो बुजुर्ग, दिव्यांग और अन्य असहाय लोग कोरोना का टीका लगाने के लिए टीकाकरण केंद्र नहीं आ सकते हैं, उन्हें घर-घर जाकर टीके लगाए जाएंगे। 

ये भी पढ़ें: 
सरकारी नौकरी: हिमाचल बिजली बोर्ड में भरे जाएंगे 1641 पद, ऊर्जा मंत्री ने की घोषणा


ये भी पढ़ें: हिमाचल में भारी बारिश का कहर: एनएच समेत 123 सड़कें बंद, सात मकान क्षतिग्रस्त, मक्की तबाह


 
... और पढ़ें

सरकारी नौकरी: हिमाचल बिजली बोर्ड में भरे जाएंगे 1641 पद, ऊर्जा मंत्री ने की घोषणा

कोरोना पॉजिटिव(सांकेतिक )
हिमाचल प्रदेश बिजली बोर्ड में विभिन्न श्रेणियों के 1641 नए पद भरे जाएंगे। गुरुवार को राज्य अतिथि गृह पीटरहॉफ में आयोजित बिजली बोर्ड कर्मचारी यूनियन के स्वर्ण जयंती समारोह की अध्यक्षता करते हुए ऊर्जा मंत्री सुखराम चौधरी ने यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि 33 केवी उप केंद्रों को ठेके पर नहीं दिया जाएगा। किसी भी आउटसोर्स कर्मचारी को नौकरी से नहीं निकाला जाएगा। चौधरी ने बोर्ड प्रबंधन को कर्मचारियों की पदोन्नति समय पर सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने बोर्ड के कर्मचारियों के हित में सर्विस कमेटी की बैठक भी जल्द करवाए जाने की घोषणा की।

ये भी पढ़ें: 
हिमाचल में भारी बारिश का कहर: एनएच समेत 123 सड़कें बंद, सात मकान क्षतिग्रस्त, मक्की तबाह

उन्होंने कहा कि बीते तीन वर्षों में करीब 4717 नई भर्तियां बोर्ड में की गई हैं। आज के प्रतिस्पर्धा के युग में बोर्ड के कर्मचारियों को अपनी दक्षता बढ़ानी होगी। पूरे प्रदेश में लकड़ी के विद्युत खंभों को बदलने का कार्य मार्च 2022 तक पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने बोर्ड को विद्युत चोरी में कमी लाने और विद्युत हानियों में कमी लाने के निर्देश भी दिए। बोर्ड के प्रबंधक निदेशक पंकज डढ़वाल ने कहा कि सभी वर्गों के कर्मचारियों और अधिकारियों की समयबद्ध पदोन्नति सुनिश्चित की जाएगी। वहीं, ऊर्जा मंत्री की 1641 नए पदों को भरने की घोषणा के सीरे चढ़ने से प्रदेश में युवाओं के लिए रोजगार के द्वार खुलेंगे। 

स्वर्ण जयंती समारोह फ्लॉप शो: हरिनंद
राज्य विद्युत परिषद लिमिटेड मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन ने गुरुवार को राज्य अतिथिगृह पीटरहॉफ शिमला में बिजली बोर्ड कर्मचारी यूनियन के स्वर्ण जयंती समारोह को असफल करार दिया है। प्रदेश अध्यक्ष हरिनंद वर्मा और महासचिव केशवा नंद शर्मा ने इस समारोह में करीब 400 कर्मचारी ही शामिल हुए। समारोह फ्लॉप शो साबित हुआ। उन्होंने कहा कि समारोह में पांच हजार से अधिक कर्मचारियों के भाग लेने का इस तथाकथित यूनियन ने ऊर्जा मंत्री को आश्वासन दिया था जो पूरी तरह झूठा साबित हुआ।  ... और पढ़ें

कसौली रोड से नेशनल कालका-शिमला हाईवे पर जा गिरी कार, तीन सैलानी घायल

हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले के धर्मपुर से कसौली की ओर जा रही एक कार अनियंत्रित होकर सड़क के नीचे लुढ़ककर कालका-शिमला नेशनल हाईवे पर जा गिरी। हादसे में तीन लोगों को चोटें आई हैं। जिन्हें प्राथमिक उपचार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र धर्मपुर भेजा गया। धर्मपुर पुलिस आगामी कार्रवाई कर रही है। जानकारी के अनुसार यह हादसा रात  करीब नौ बजे हुआ, जब चंडीगढ़ से पर्यटक कसौली घूमने जा रहे थे।

इस दौरान जैसे ही कार धर्मपुर-कसौली रोड पर धर्मपुर से एक किलोमीटर आगे पहुंची तो अनियंत्रित होकर लगभग 60 फीट नीचे से गुजर रहे हाईवे पर जा गिरी। इस दौरान कार में तीन लोग सवार थे। लोगों ने हादसे की सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने घायलों को तुरंत उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया। हादसे की पुष्टि धर्मपुर थाना प्रभारी राकेश राय ने की। 
... और पढ़ें

आईएएस अफसरों को 11 फीसदी डीए जारी करने के मामले में हिमाचल सरकार का यू टर्न

आईएएस, आईपीएस और आईएफएस अधिकारियों को 11 फीसदी डीए जारी करने के मामले में राज्य सरकार ने यू टर्न ले लिया है। जयराम सरकार ने 24 घंटे के भीतर अपने फैसले को पलट दिया है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भारतीय प्रशासनिक अधिकारियों को 11 फीसदी डीए जारी करने की अधिसूचना विदड्रा करने के आदेश जारी किए हैं। इसके साथ अब आईएएस अधिकारियों का डीए होल्ड हो गया है। भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारियों और अन्य कर्मचारियों को अब एक साथ महंगाई भत्ता मिलेगा। बुधवार को अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त प्रबोध सक्सेना ने भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारियों को 11 फीसदी डीए जारी करने की अधिसूचना जारी की थी। इसे 17 से बढ़ाकर 28 फीसदी किया गया है। बेशक इसे कर्मचारियों और पेंशनरों की तरह एक जुलाई से दिया जाना है। पर जहां इसे आईएएस, आईपीएस और आईएफएस अधिकारियों के लिए 11 फीसदी डीए देने की अधिसूचना जारी हुई है, वहीं कुछ दिन पहले ही लाखों कर्मचारियों और पेंशनरों को छह फीसदी डीए देना अधिसूचित किया गया है।

ये भी पढ़ें: 
हिमाचल में मौसम: येलो अलर्ट के बीच झमाझम बारिश जारी, चोटियों पर ताजा बर्फबारी

अफसरों को 11 फीसदी और कर्मचारियों के लिए छह फीसदी डीए की अधिसूचना के इस भेदभाव से कर्मचारी रुष्ट हो गए। वीरवार सुबह हिमाचल प्रदेश कर्मचारी महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष अश्वनी ठाकुर पहले मुख्य सचिव रामसुभग सिंह से मिले। उनके सामने अपनी बात रखी। मुख्य सचिव से इस पर स्थिति स्पष्ट नहीं होने पर वह मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से मिले। सीएम जयराम ठाकुर ने भारतीय प्रशासनिक अधिकारियों और कर्मचारियों को एक ही तर्ज पर एक साथ डीए देने की बात की। सीएम ने 15 अगस्त को भी यही घोषणा की थी। महासंघ अध्यक्ष की भेंट के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने राज्य सचिवालय में मीडिया से अनौपचारिक बातचीत में कहा कि संबंधित अधिसूचना को विदड्रा करने को कह दिया गया है। उन्होंने कहा कि अधिकारियों और कर्मचारियों सबको महंगाई भत्ता एक साथ ही मिलेगा।


कृषि विवि के कर्मचारियों को महंगाई भत्ता 
वहीं, कृषि विवि पालमपुर ने अपने कर्मचारियों को प्रदेश सरकार की तर्ज पर छह प्रतिशत महंगाई भत्ता देने की अधिसूचना जारी कर दी है। कृषि विवि के कुलपति प्रो. एचके चौधरी ने भी अपने कर्मचारियों को यह भत्ता देने का फैसला लिया। जिससे विवि के करीब 800 कर्मचारी लाभान्वित होंगे। साथ ही विवि से सेवानिवृत कर्मचारियों को भी इसका साथ ही लाभ मिलेगा। कृषि विवि के कर्मचारियों अब यह भत्ता 153 प्रतिशत से बढ़कर 159 प्रतिशत हो जाएगा। डीए की किस्त एक जुलाई से देय होगी।  कर्मचारियों को सितंबर माह के वेतन में 159 प्रतिशत महंगाई भत्ता नकद मिलेगा। पहली जुलाई 2021 से 31 अगस्त 2021 तक का एरियर कर्मचारियों के भविष्य निधि खातों में जमा कर दिया जाएगा। जबकि जो कर्मचारी सीपीएस स्कीम के अंतर्गत वेतन ले रहे हैं, उन्हें दो माह का एरियर धन की उपलब्धता होने पर सितंबर माह के वेतन के साथ नकद दिया जाएगा। उधर, विवि के संयुक्त निदेशक डॉ. हृदय पाल सिंह ने कहा कि कृषि विवि के कर्मचारियों का भता भी कुलपति प्रो. एचके चौधरी ने प्रदेश सरकार के कर्मचारियों की तर्ज पर बढ़ा दिया है, जिसे जल्द दिया जाएगा।

 
... और पढ़ें

हिमाचल में भारी बारिश का कहर: एनएच समेत 123 सड़कें बंद, सात मकान क्षतिग्रस्त, मक्की तबाह

हिमाचल प्रदेश में बुधवार रात करीब 12:00 बजे से जारी बारिश गुरुवार रात 10:00 बजे तक जारी रही। 22 घंटों के दौरान प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में बादल झमाझम बरसे। बारिश की वजह से गुरुवार को जिला किन्नौर में पोवारी के पास पत्थर गिरने से एनएच-5 सहित प्रदेश भर में 123 सड़कों पर यातायात बंद ठप रहा। शिमला जिला में सबसे अधिक 55, सिरमौर में 33, मंडी में 12, कुल्लू और कांगड़ा में छह-छह, हमीरपुर में पांच, बिलासपुर में चार और सोलन जिला में दो सड़कें बंद रहीं। प्रदेश में सात कच्चे मकान और नौ गौशालाएं भी क्षतिग्रस्त हुई हैं। रोहतांग और किन्नौर में ताजा बर्फबारी हुई है। कई जिलों में पक चुकी मक्की की फसल को भारी नुकसान हुआ है।

ये भी पढ़ें:
आईएएस अफसरों को 11 फीसदी डीए जारी करने के मामले में हिमाचल सरकार का यू टर्न

कुल्लू व लाहौल-स्पीति में चार दिनों से बारिश का दौर जारी है। गुरुवार को सेब व अनार का तुड़ान नहीं हो सका। बारिश के कारण खेतों में तैयार मक्की व सब्जियों का तुड़ान भी रुक गया है। कांगड़ा में पक चुकी धान की फसल को नुकसान हुआ है। ऊना में इस बार आलू की बिजाई के समय से ही बारिश हो रही है। खेतों में जल भराव हो गया है। अधिक नमी से बीज खराब होने की आशंका है। वहीं, कालका-शिमला एनएच पर आधा दर्जन क्षेत्रों में पहाड़ियां दरक रही हैं। प्रदेश के मुख्य द्वार परवाणू के समीप भी पहाड़ी से पत्थर गिरते रहे। सोलन में रामशहर-शिमला मार्ग सिलणू पुल के समीप मलबा आने से पांच घंटे बंद रहा। गुरुवार को प्रदेश के अधिकतम तापमान में सात डिग्री की कमी दर्ज की गई है। शुक्रवार को भी बारिश का दौर जारी रहने के आसार हैं। 27 सितंबर तक पूरे प्रदेश में मौसम खराब बना रहने का पूर्वानुमान है।  

बारिश (मिलीमीटर में)
नयनादेवी        76
झंडूता            60
पालमपुर        40
राजगढ़            36
रेणुका            35
नालागढ़         34
कंडाघाट        32
बिलासपुर        26
सोलन            22
भोरंज         20
कोटखाई    19 
गोहर        18 

ये भी पढ़ें: काजा में विश्व का सबसे ऊंचा इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन शुरू

 
 
... और पढ़ें

बिलासपुर एम्स में अक्तूबर से शुरू होगी ओपीडी, जल्द तय होगी तिथि

  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X