विज्ञापन

लखनऊ

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

रायबरेली: एक मई से लापता सराफा व्यवसायी की ईंट से कूचकर हत्या, झाड़ियों में मिला क्षत-विक्षत शव

महाराजगंज कोतवाली क्षेत्र में एक सराफा व्यवसायी की ईंट से कूंचकर हत्या कर दी गई। वह एक मई से घर से लापता था। मंगलवार को घर से करीब एक किमी. दूर गढ़ी गांव के पास झाड़ियों में उसका क्षत-विक्षत शव मिलने से दहशत फैल गई। चेहरे के साथ ही शरीर के कई अंगों पर गंभीर के चोट निशान थे। खबर पाकर अपर पुलिस अधीक्षक विश्वजीत श्रीवास्तव, कोतवाल जितेंद्र प्रताप सिंह ने फॉरेंसिक टीम संग घटनास्थल का जायजा लिया। टीम ने घटनास्थल से सुबूत जुटाए। बेटे की तहरीर पर पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है।

महराजगंज कोतवाली क्षेत्र के याकूबगंज मजरे सोथी गांव निवासी सराफा व्यवसायी रामनरेश यादव (50) एक मई को घर से खाना खाने के बाद महराजगंज स्थित अपने मकान में सोने जाने की बात कहकर निकले थे। इसके बाद घर नहीं लौटे। काफी खोजबीन के बाद भी पता नहीं चला। इस पर बेटे मुकेश कुमार यादव ने पिता की गुमशुदगी कोतवाली में दर्ज कराई थी। इधर, मंगलवार को घर से करीब एक किमी. दूर गढ़ी गांव में एक प्राथमिक विद्यालय के पास झाड़ियों में व्यवसायी का शव मिलने से हड़कंप मच गया। सूचना पाकर पुलिस भी पहुंच गई। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि व्यवसायी का चेहरे बुरी तरह कूंच दिया गया था। आशंका जताई जा रही है कि ईंटों या फिर किसी भारी पत्थरों से कूंचकर उसे मारा गया। शरीर के अन्य हिस्से पर भी चोट के निशान थे। शव बुरी तरह क्षत-विक्षत था। परिजनों ने कपड़ों के जरिये मृतक की पहचान की। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

संपत्ति या फिर प्रेम-प्रसंग में कत्ल की आशंका
संपत्ति की खातिर या फिर प्रेम-प्रसंग में कत्ल किए जाने की आशंका जताई जा रही है। बताते हैं कि रामनरेश यादव महराजगंज कस्बे के वार्ड नंबर नौ निवासी राम नरेश वर्मा के यहां शुरुआत में मजदूरी करता था। परिवार में रामनरेश वर्मा के अलावा उसकी पत्नी थी। कोई औलाद नहीं थी। ऐसे में मृतक ही रामनरेश वर्मा की देखभाल करता था। अपने जिंदा रहते हुए ही रामनरेश वर्मा ने अपना एक मकान और बावन बुजुर्ग बल्ला में डेढ़ बीघा जमीन उसके नाम बैनामा कर दी थी। करीब पांच साल पहले रामनरेश वर्मा की मौत हो गई थी। एक मकान में राम नरेश यादव रहकर सोने-चांदी की दुकान चलाने लगा तो दूसरे मकान में राम नरेश वर्मा की पत्नी रहती थी। वह भी कुछ समय पहले महराजगंज छोड़कर अपनी रिश्तेदारी में चली गई थी। ऐसे में संपत्ति विवाद में व्यवसायी की हत्या की चर्चाएं हैं। वहीं रामनरेश यादव की पत्नी की कुछ समय पहले मौत हो गई थी। कुछ महिलाओं से उसकी नजदीकियां होने की बात भी सामने आई है।
... और पढ़ें

गोंडा: अपने हत्यारों का नाम लेते हुए गांव की तरफ भागा घायल व्यापारी, रास्ते में गिरकर हो गई मौत, पुलिस खाली हाथ

गोंडा-लखनऊ मार्ग पर मंगलवार शाम दुकान बंद करके घर जा रहे 22 वर्षीय किराना व्यापारी की चाकू घोंपकर हत्या कर दी गयी। कोतवाली करनैलगंज के बालपुर चौकी क्षेत्र में हनुमान मंदिर के पास घटित इस सनसनीखेज घटना को गांव के ही दो सगे भाई अंजाम देने के बाद मौके से फरार हो गए। घटना की जानकारी मिलते ही सीओ करनैलगंज की अगुवाई में पहुंची पुलिस टीम हत्यारों की धरपकड़ को जांच में जुट गयी। सरेशाम हुए इस हत्याकांड से पूरे गांव में आक्रोश व्याप्त है। तनाव को देखते हुए गांव में कई थानों की पुलिस तैनात कर दी गयी है।

कोतवाली करनैलगंज बटौरा बख्तावर निवासी अभय प्रताप सिंह ने बताया कि उसका चचेरा भाई लवकुश सिंह (22) बस स्टाप पर किराने की दुकान करता था। मंगलवार शाम करीब आठ बजे दुकान बंद करके घर जा रहा था। हनुमान मंदिर के पास रास्ते में पहले से घात लगाकर बैठे गांव निवासी दो सगे भाई अरविंद कुमार सिंह व सुरेंद्र सिंह उर्फ छोटू ने दो अन्य अज्ञात लोगों के साथ मिलकर लवकुश पर हमला कर चाकू से ताबड़तोड़ वार कर दिए।

खून से लथपथ लवकुश चिल्लाते हुए गांव की तरफ भागा। अभय ने बताया कि लवकुश दौड़ते हुए कह रहा था कि छोटू और अरविंद ने उसे मारा है। घटना स्थल से कुछ दूर बाद ही वह रास्ते में गिर गया। हो हल्ला सुनकर मौके पर जुटे लोगों ने लवकुश को जिला अस्पताल पहुंचाया। जहां परीक्षण के बाद डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।
... और पढ़ें

सीतापुर: रिश्वत लेने के बाद ही बेचने देता था कच्ची शराब, पैसे गिनते वीडियो हुआ वायरल, दो पर केस दर्ज

कोतवाली देहात इलाके के कचनार चौकी के सिपाही का पैसे लेते वीडियो वायरल होने के मामले में पुलिसकर्मी पर केस दर्ज कर लिया गया है। एक और युवक पर भी केस दर्ज करने की कार्रवाई की गई है।

28 अप्रैल को एक सिपाही वीडियो वायरल हुआ था। जिसमें सिपाही पैसे का लेनदेन कर रहा था। वीडियो कोतवाली देहात इलाके की एक चौकी पर तैनात सिपाही रामकिशोर यादव का बताया जा रहा था। वीडियो में एक शख्स ने बताया था कि कचनार चौकी में तैनात सिपाही रामकिशोर यादव कच्ची शराब के एवज में रिश्वत लेता है। पास के गांव में कच्ची शराब बनाई जाती है। पूरे गांव में अधिकतर लोग कच्ची शराब ही बनाते हैं। इसलिए वहां के लोग हर माह पुलिस को पैसा देते हैं। युवक ने बताया कि जब तक पैसा नहीं मिलता तब तक शराब नहीं बेचने दी जाती थी।

मामले को लेकर इंस्पेक्टर कोतवाली देहात मुकुल प्रकाश वर्मा ने तहरीर दी है। उनकी तहरीर पर केस दर्ज लिया गया है। वादी इंस्पेक्टर की तहरीर के मुताबिक, वीडियो में वायरल हुए आरोपी पुलिसकर्मी रामपुर टिकवापारा निवासी राजेश के सहयोग से शराब बनाने वाले लोगों से पैसा इकट्ठा करवाते थे। भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत सिपाही और दूसरे युवक पर भी केस दर्ज किया गया है।

इंस्पेक्टर कोतवाली देहात मुकुल वर्मा ने बताया कि मामले में उनकी तहरीर पर सिपाही और वीडियो में बयान देने वाले युवक पर केस दर्ज किया गया है। मामले की जांच पुलिस कर रही है।
... और पढ़ें

Crime against woman: नशे में धुत होकर युवती से अभद्रता करने वाला सिपाही निलंबित, जांच में पाया गया दोषी

कोतवाली नगर के अंगूरीबाग कॉलोनी के निकट सोमवार को एक युवती से अभद्रता करने के आरोपी सिपाही को एसएसपी ने निलंबित कर दिया है। आरोपी सिपाही घटना के समय सादे कपड़ों में था और नशे में धुत था। एसएसपी ने सिपाही का मेडिकल परीक्षण करवाकर उसके खिलाफ विभागीय जांच के आदेश दिए हैं।

नगर कोतवाली में तैनात सिपाही सुधीर यादव की यलोजोन ड्यूटी में लगाई गई है। नगर कोतवाली क्षेत्र के अंगूरीबाग के पास सोमवार रात करीब आठ बजे एक गुमटी के बगल में वह नशे की हालत में लघुशंका कर रहा था। इस बीच पास में रहने वाली एक युवती दुकान से दूध लेने आई थी और वहां से गुजर रही थी।

आरोप है कि युवती को देखकर सिपाही ने अभद्रता शुरू कर दी। उसकी हरकतें देख जब युवती वहां से जाने लगी तो सिपाही उसका पीछा करने लगा। स्थानीय लोगों ने सिपाही को पकड़ लिया। मामले का वीडियो वायरल होने पर पुलिस की किरकिरी भी हुई। पहले तो स्थानीय पुलिस मामले को झूठा बताती रही, लेकिन बाद में किरकिरी होने पर एसएसपी ने सख्ती दिखाई।

एसपी सिटी विजयपाल सिंह ने जारी बयान में कहा कि सिपाही सुधीर यादव लघुशंका कर रहा था। इस बीच युवती उधर से गुजर रही थी। आरक्षी नशे की हालत में था। युवती ने आरक्षी पर अभद्रता करने का आरोप लगाया है। एसएसपी ने सिपाही को निलंबित कर दिया है। उसका मेडिकल परीक्षण कराया जा रहा है। उसके खिलाफ विभागीय जांच भी बैठाई गई है। रिपोर्ट आते ही अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

Ayodhya News : मणिरामदास छावनी की धर्मशाला में युवक का शव मिलने से मचा हड़कंप, बिहार से अयोध्या आया था परीक्षा देने

बिहार से अयोध्या परीक्षा देने आए युवक का बृहस्पतिवार को संदिग्ध परिस्थितियों में शव मिलने से हड़कंप मच गया। युवक का शव जिस धर्मशाला में मिला है वह मणिरामदास की छावनी से संबद्ध बताई जा रही है। पुलिस ने धर्मशाला धर्म मंडप का कमरा तोड़ा तो देखा युवक का शव बिस्तर पर पड़ा हुआ है। फोरेंसिक टीम बुलाकर पुलिस ने पूरे कमरे को खंगाला और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

मणिराम दास छावनी की धर्मशाला धर्म मंडप में पांच दिन पहले समस्तीपुर बिहार का रहने वाला पीयूष प्रभाकर अयोध्या के किसी स्कूल में परीक्षा देने की बात करके रुका था। धर्मशाला की गुरुवार सुबह सफाई कर रहे सफाईकर्मी को कमरे से बदबू का अहसास हुआ तो उसने धर्मशाला संचालक को सूचना दी। धर्मशाला संचालक ने पुलिस को बताया। सीओ अयोध्या आरके चतुर्वेदी, कोतवाल देवेंद्र पांडेय, नयाघाट प्रभारी धर्मेंद्र मिश्रा सहित पहुंचे।

पुलिस बल ने दरवाजा तोड़ा तो पीयूष प्रभाकर जो समस्तीपुर बिहार का रहने वाला है अपने बिस्तर पर ही मृत पाया गया। कमरे की खिड़की व पंखा बंद था। पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत के कारणों का पता चल सकेगा। मणिरामदास छावनी के संत आनंद शास्त्री ने बताया कि युवक परीक्षा देने के बाद अयोध्या घूमने के उद्देश्य से धर्मशाला में रुका था। वह स्नातक वर्ग का छात्र था। बताया कि हमारी धर्मशाला में निशुल्क आवास दिया जाता है।

एसपीसिटी अयोध्या, विजय पाल सिंह ने बताया कि कोई सुसाइट नोट नहीं मिला है। परिजनों को सूचना दी गई है। जांच करके आवश्यक विधिक कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

जेल में बड़ा घोटाला: तीन महीने में बंदियों को पिला दिए 36 क्विंटल नींबू, एक दिन में दिखाई 40 किलो खरीद

बाराबंकी जिला जेल में बंदियों पर अफसर कितना मेहरबान है। इसका नमूना देखना है तो इस वर्ष के शुरुआती तीन महीने लीजिए। इन महीनों में जब नींबू की कीमतें आसमान पर थीं तब बंदियों को प्रतिदिन एक नींबू दिया गया। मतलब जेल में रोजाना औसतन 40 किलो का वितरण किया गया। इस तरह से तीन माह में करीब 36 क्विंटल नींबू सिर्फ बंदियों को पिला दिया गया।

जेल अफसर कहते हैं कि कोरोना काल के कारण डॉक्टरों की सलाह पर प्रतिदिन बंदियों को नींबू दिया गया। मगर बंदी इससे इंकार कर रहे हैं। क्योंकि जिन तीन महीनों में नींबू की खरीद दिखाई गई उस समय डेढ़ सौ से लेकर पौने तीन सौ रुपये किलो तक बाजार में भाव था। आम आदमी नींबू के स्वाद को तरस गया था। ऐसे में बंदियों पर यह मेहरबानी गड़बड़ी की ओर इशारा कर रही है। यदि इसकी जांच हुई तो जेल में बड़े नींबू घोटाले की पोल खुल सकती है।

जिला जेल की 20 बैरकों में औसतन प्रतिदिन करीब चौदह सौ बंदी/ कैदी रहते हैं। बीते जनवरी, फरवरी और मार्च में जब नींबू की कीमतें आसमान पर थीं तो उस दौर में प्रतिदिन एक बंदी को एक नींबू दिया गया। इस तरह करीब 40 किलो नींबू की एक दिन में खरीद की गई। इस पर औसतन दो सौ रुपये किलो के हिसाब से आठ हजार रुपये खर्च किए गए। जेल अफसर इस संबंध में अलग-अलग बयानबाजी कर रहे हैं।

जेल अधीक्षक हरिबक्श सिंह बताते हैं कि कोरोना के चलते प्रतिदिन बंदियों को भोजन के समय एक नींबू दिया जा रहा था। इसकी खरीद यहां सब्जी आपूर्ति करने वाले से की गई है। जबकि जेलर आलोक शुक्ला का कहना है कि डॉक्टर जब सलाह देते थे तब बंदियों को नींबू दिया गया। मजेदार बात यह है कि आजकल भीषण गर्मी में अप्रैल और मई मिलाकर करीब डेढ़ महीने से एक भी नींबू की खरीद नहीं हुई है। ऐसे में कौन सही है और कौन गलत, यह अपने आप में कहीं न कहीं गड़बड़ी की ओर इशारा है। क्योंकि जेल में बंदियों से मुलाकात को लेकर अन्य सुविधाएं मुहैया कराने तक के लिए वसूली की शिकायतें अक्सर होती रहती हैं।
... और पढ़ें

सीतापुर: सोशल मीडिया पर परिजनों से माफी मांग कर युवक ने लगाई फांसी, कमरे में पंखे से लटकता मिला शव

सीतापुर जिले के खैराबाद थाना इलाके में बुधवार को एक युवक का शव संदिग्ध हालत में फंदे से लटकता मिला। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

इलाके के मोहल्ला शेख सराय निवासी सुहैल अहमद (23) मोहल्ले में ही स्थित अपने दोस्त के घर में किराए पर रहता था। बुधवार दोपहर उसका शव कमरे में पंखे के सहारे फंदे से लटकता मिला।

मोहल्लेवासियों की मानें तो युवक नशे का आदी हो गया था । नाराज माता पिता ने उसे घर से निकाल दिया था। इस कारण वह अपने दोस्त के मकान में चार साल से किराए पर रहता था। मृतक ने गोरखपुर की एक लड़की से निकाह भी कर लिया था जो अपने मायके में रहती थी।

घटना के पूर्व मृतक ने सोशल मीडिया पर पोस्ट डालकर अपने पिता और चाचा से गलतियों की माफी भी मांगी थी। एसओ अरविंद सिंह ने बताया कि शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। घटना के कारणों का पता लगाया जा रहा है।
... और पढ़ें

Crime in Lucknow: पुरानी रंजिश में बदमाशों ने दिनदहाड़े व्यापारी को मारी गोली, हालत गंभीर, जांच जारी

सुहैल अहमद
मानकनगर इलाके के पूरननगर में मंगलवार सुबह बदमाशों ने व्यापारी सौजन्य शरण को गोली मार दी। वारदात नकाबपोश बदमाश ने अंजाम दिया। पीड़ित के परिजनों ने इलाके के जिलाबदर बदमाश पर आरोप लगाते हुए तहरीर दी। जिस पर पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है। वारदात सिंगारनगर कालोनी के पास एक चाय के होटल के पास हुई। वारदात के दौरान व्यापारी वहां चाय पीने गया था। गंभीर हालात में उसे पास के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उसका इलाज चल रहा है। वहीं डीसीपी मध्य ने वारदात स्थल का निरीक्षण किया और आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए टीमें गठित कर दबिश देने का आदेश जारी कर दिया है।

प्रभारी निरीक्षक मानकनगर अतुल कुमार के मुताबिक कृष्णानगर के भोलाखेड़ा निवासी संजीव शरण का बेटा सौजन्य शरण का आई लेंस की आपूर्ति का कारोबार है। वह कृष्णानगर इलाके में निजी अपार्टमेंट में पत्नी मुस्कान व बेटी के साथ रहता है। मंगलवार सुबह सिंगारनगर कालोनी से पूरननगर की तरफ जाने वाले रास्ते पर गेट है। वहीं पर एक चाय का होटल है। जहां व्यापारी सौजन्य चाय पीने आया था। इसी बीच बाइक सवार नकाबपोश बदमाशों ने उसे गोली मार दी। गोली सौजन्य के कंधे पर लगी है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायल सौजन्य से पूछताछ की तो पता चला कि उसके ऊपर हमला अमीनाबाद निवासी ललित सोनकर ने किया है। वहीं पत्नी मुस्कान ने ललित सोनकर के खिलाफ हमले की तहरीर दी है। जिस पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस आरोपी की तलाश में दबिश दे रही है।

व्यापारी को कॉल कर बुलाया था पूरननगर
अस्पताल पहुंचे घायल व्यापारी के परिजनों के मुताबिक वारदात के पहले सौजन्य घर पर ही था। इसी दौरान उसके मोबाइल पर किसी की कॉल आई। बातचीत के दौरान उसे पूरन नगर आलमबाग इंटर कालेज के पास मिलने के लिए बुलाया गया। बात खत्म होने के बाद सौजन्य उससे मिलने के लिए आलमबाग इंटर कालेज के पास गया। जहां उसे नकाबपोश बदमाशों ने गोली मार दी। परिजनों का आरोप है कि उसे कॉल कर हत्या करने के लिए ही बुलाया गया था। इस साजिश को सौजन्य समझ नहीं सका।

पुरानी रंजिश के चलते चली गोली
घायल कारोबारी के परिजनों का आरोप है कि सौजन्य का ललित से लगभग आठ साल से विवाद चल रहा है। आरोपी दबंग किस्म का बदमाश है जिसके खिलाफ कई मुकदमें भी दर्ज हैं। आरोपी के भय के कारण सौजन्य ने अमीनाबाद का मकान आधे दामों में बेच दिया। इसके बाद चार साल से किराए के मकान में रहते हैं। इसके बाद आरोपी बदमाश उनका पीछा नहीं छोड़ रहा। यहां तक कि रिश्तेदारों के घर भी पहुंच हंगामा कर चला आता था। जिस पर उनके रिश्तेदारों ने भी आरोपी दबंग के खिलाफ  मुकदमा दर्ज करा रखे हैं।
... और पढ़ें

बरात पहुंचते ही दबंगों ने किया हमला: प्रधान ने अपने साथियों सहित मचाया तांडव, बरातियों व घरातियों को पीटा, मंडप भी तोड़ डाला

नगवामऊ कला गांव में एक शादी समारोह में जमकर मारपीट व तोड़फोड़ करने का आरोप है। आरोप है कि प्रधान के सहयोगियों ने जहां शराब के नशे में बरातियों पर हमला बोल दिया, वहीं शादी का मंडप भी तोड़ दिया। वारदात में वर-वधू पक्ष के सात से आठ लोग घायल हो गए।

आरोप है कि रविवार सुबह विदाई के बाद वापस जा रही बरात पर प्रधान व उसके समर्थकों ने लाठी-डंडे से लैस होकर हमला बोल दिया। दूल्हा व दुल्हन के साथ परिजनों को भी पीटा। वारदात के बाद शादी के जोड़े में ही दूल्हा व दुल्हन अपने परिजनों के साथ थाने पहुंचे। वहां लिखित शिकायत की। पुलिस के मुताबिक, दोनों पक्षों से तहरीर मिली है। मामले की जांच की जा रही है।

बीकेटी के नगवामऊ कला गांव के रहने वाले गया प्रसाद के मुताबिक, शनिवार रात अचरामऊ गांव से बेटी पूनम की बरात आई थी। बरात गांव पहुंचते ही दबंगों ने बरात पर हमला कर दिया जिसमें ग्राम प्रधान प्रहलाद, गया, आकाश, अमन, करन और गुडडू ने मिलकर बरातियों और घरातियों को पीटा और शादी के मंडप में तोड़ दिया।
... और पढ़ें

गोंडा: युवती को शादी करने का झांसा देकर किया दुष्कर्म, फिर अश्लील वीडियो बनाकर मांगे 15 लाख रुपये

शादी करने का झांसा देकर युवती को लखनऊ ले जाकर दुष्कर्म करने, अश्लील वीडियो बनाकर शोषण करने के साथ ही ब्लैकमेल कर 15 लाख रुपये मांगने के मामले में मनकापुर पुलिस ने कोर्ट के आदेश पर आरोपी, उसके भाई व माता-पिता के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है।

अदालत के आदेश पर मनकापुर पुलिस ने क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली युवती की तहरीर पर शनिवार को मुकदमा दर्ज किया है। दर्ज कराई रिपोर्ट में युवती ने कहा कि गांव का ही अखिलेश यादव ने उसे प्रेमजाल में फंसाकर दो सितंबर 2021 को शादी करने का झांसा देकर लखनऊ ले गया। वह घर में रखे 56 हजार रुपये कैश व जेवर भी लेकर गई थी। लखनऊ में अखिलेश ने अपने किराए के मकान में ले जाकर अश्लील हरकतें कीं। फिर दुष्कर्म किया। यही नहीं उसने अश्लील वीडियो भी बना लिया। इसके बाद गहने व नकदी किराए के मकान में ही रखवाकर कहा कि गांव चलकर शादी करेंगे।

युवती का आरोप है कि 24 अक्तूबर को अखिलेश उसे गोंडा की बस में बैठाकर भाग गया। घर पहुंचकर उसने परिजनों को पूरे मामले की जानकारी दी। फिर अगले दिन अपने पिता के साथ अखिलेश के घर गई। जहां अखिलेश के पिता श्यामसुंदर यादव, मां नीलम यादव व भाई जय कुमार यादव भड़क गये और धमकाकर भगा दिया। यही नहीं आरोपी अखिलेश अश्लील वीडियो के नाम पर ब्लैकमेल करके 15 लाख रुपये मांग कर रहा है।

पीड़िता के मुताबिक मनकापुर कोतवाली में सुनवाई न होने पर उसने कोर्ट की शरण ली। अब कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने अखिलेश, उसके भाई व माता-पिता के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। कोतवाल मनोज कुमार राय ने बताया कि अदालत के आदेश पर रिपोर्ट दर्ज की गई है। विवेचना करके कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

लखनऊ: वीडियो कॉल पर बात करते समय महिला सिपाही ने काटी नस, फिर लगा ली फांसी

पीजीआई थाना में तैनात महिला सिपाही सरिता निषाद (26) रविवार दोपहर किसी से वीडियो कॉल पर बात कर रही थी। इसी दौरान उसने अपनी कलाई की नस तीन बार काट ली। फिर दुपट्टे का फंदा बनाकर पंखे के कुंडे से फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। दूसरे कमरे में रहने वाली अन्य महिला सिपाहियों ने उसे बुलाया लेकिन दरवाजा नहीं खुला तो खिड़की से झांककर देखा। सूचना पर पहुंची पुलिस ने सरिता के मोबाइल को कब्जे में लेकर फॉरेंसिक लैब भेजा है। शुरूआती पड़ताल में मोबाइल पर अंतिम बार वीडियो कॉल की पुष्टि हुई है।

प्रभारी निरीक्षक पीजीआई धर्मपाल सिंह के मुताबिक, मूलरूप से फतेहाबाद आगरा के कृष्णपुरा भरापुर निवासी सुरेंद्र चंद्र की बेटी सरिता महिला आरक्षी है। उसका चयन 2021 में हुआ था। अंडर ट्रेनिंग महिला सिपाही सरिता की 11 जनवरी 2022 से थाना पीजीआई पर तैनात हुई थी। तैनाती के बाद उसने कल्ली पश्चिम में अन्य महिला आरक्षियों के साथ मिलकर किराये पर कमरा लिया था। रविवार को उसके साथ रहने वाली महिला आरक्षी उसे ड्यूटी पर जाने के बारे में पूछने के लिए कमरे का दरवाजा खटखटा रही थी। दरवाजा नहीं खुला, तो खिड़की से झांककर देखा। अंदर सरिता का शव पंखे से लटका मिला।

वीडियो कॉल के दौरान तीन बार काटी नस
सरिता की पीजीआई थाने में पहली पोस्टिंग थी। वह 10 दिन से छुट्टी पर घर गई थी। शनिवार शाम ही वह लौटी थी। सोमवार को उसे ड्यूटी ज्वाइन करनी थी। रविवार को उसने अपने कमरे के अंदर किसी से वीडियो कॉल करते हुए पहले ब्लेड से अपने हाथ की नस को तीन बार काटा। उसके बाद अपने दुपट्टे का फंदा बनाकर पंखे से लटककर फांसी लगा ली। पुलिस का कहना है कि कमरे से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। पुलिस आत्महत्या के कारणों की पड़ताल कर रही है।
... और पढ़ें

लखनऊ: वक्फ बोर्ड की 45 करोड़ रुपये की जमीन हड़पने वाले जालसाज अशोक पाठक को सीबीआई ने दबोचा

सीबीआई ने लखनऊ के बड़े ठगों में से एक अशोक कुमार पाठक को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया है। वह लंबे समय से फरार चल रहा था। सीबीआई को दो अलग-अलग मामलों में उसकी तलाश थी। सीबीआई के प्रवक्ता ने बताया कि अशोक पाठक ने दो अलग-अलग मामलों में वक्फ बोर्ड के मुतवल्ली का जाली हस्ताक्षर बनाकर वक्फ बोर्ड की 57 हेक्टेयर सरकारी जमीन जिसकी कीमत लगभग 45 करोड़ रुपये थी, हड़प ली थी। बाद में अशोक कुमार पाठक ने अलग-अलग लोगों को यह जमीन बेच भी दी थी। दोनों ही मामले उत्तर प्रदेश सरकार के अनुरोध पर सीबीआई ने 2016 में धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था। दोनों ही मामलों में सीबीआई न्यायालय में चार्जशीट भी दाखिल कर चुकी थी तभी से अशोक कुमार पाठक फरार चल रहा था। बुधवार को उसे गिरफ्तार कर लखनऊ में सीबीआई न्यायालय में पेश किया गया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया।

अशोक पाठक पर लखनऊ में दर्ज हैं जालसाजी के अनगिनत मामले
अशोक पाठक लखनऊ का माना जाना जालसाज है। उसके खिलाफ लखनऊ के विभिन्न थानों में जालसाजी के मुकदमे दर्ज हैं। इसमें चिनहट में दर्ज अलग-अलग मामलों में लखनऊ पुलिस ने उसके खिलाफ गुंडा एक्ट और गैंगेस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की थी। पाठक गोमतीनगर थाने का हिस्ट्रीशीटर भी है। पाठक के खिलाफ लखनऊ के चौक, अमीनाबाद, वजीरगंज, मड़ियांव और सरोजनीनगर थाने में भी केस दर्ज है।

मंदिर से लेकर पुलिस की जमीन तक पर कर लिया था कब्जा
एक समय था जब पुलिस भी अशोक पाठक पर हाथ डालने से घबराती थी। उसने हनुमान मंदिर से लेकर पुलिस विभाग तक की जमीन कब्जा कर रखी थी। सरोजनीनगर में पुलिस ट्रेनिंग की 300 बीघा जमीन पर भी इस जालसाज ने कब्जा कर लिया था।

सरोजनीनगर पुलिस ने इस मामले में भी एफआईआर दर्ज की थी। वहीं अमीनाबाद स्थित हनुमान मंदिर की जमीन पर भी अशोक पाठक ने कब्जा कर लिया था। बीते दिनों यहां बुल्डोजर से अवैध कब्जे को हटाया गया था।
... और पढ़ें

लखनऊ: गमछा पहनकर सड़क पर वीडियो शूट कर रहा था डुप्लीकेट सलमान खान, पुलिस ने किया गिरफ्तार

  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00