विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

27 नए मामलों के साथ हरियाणा के 15 जिलों तक पहुंचा कोरोना, कुल संख्या हुई 103, 18 हजार लोग निगरानी में

हरियाणा के चरखी दादरी जिले में सोमवार को कोरोना पॉजिटिव केस सामने आया। इसके साथ ही प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या 77 हो गई।

6 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

झज्जर/बहादुरगढ़

सोमवार, 6 अप्रैल 2020

महिला पुलिसकर्मी ने पूछा- लॉकडाउन में कहां जा रही हो, सुनते ही महिला भड़की, हाथापाई कर वर्दी फाड़ी

कोरोना वायरस के चलते देश में लॉकडाउन है। शुक्रवार को सेक्टर-9 मोड़ पर ड्यूटी दे रही महिला पुलिसकर्मी ने जब यहां से गुजर रही एक महिला से पूछ लिया कि वह कहां जा रही है तो महिला भड़क गई और महिला पुलिसकर्मी के साथ हाथापाई शुरू कर दी। वहां मौजूद अन्य पुलिसकर्मियों ने इस घटना का वीडियो भी बनाया।

4 मिनट 19 सेकेंड का यह वीडिया सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। पुलिस ने आरोपी महिला के खिलाफ सरकारी काम में बाधा डालने और पुलिसकर्मी के साथ मारपीट करने के आरोप में मामला दर्जकर उसे गिरफ्तार कर लिया है। दरअसल, शुक्रवार की दोपहर एक महिला सेक्टर-9 मोड़ से जा रही थी और वहां तैनात महिला पुलिसकर्मी ने उसे रोका और पूछा कि वह कहां जा रही है। यह कहते ही महिला भड़क गई और उसी दौरान महिला पुलिसकर्मी के साथ हाथापाई शुरू कर दी।
 
4 मिनट 19 सेकेंड के वीडियो में आरोपी महिला ने पुलिसकर्मी की वर्दी भी फाड़ दी और हाथापाई करते हुए भद्दी गालियां भी दी। महिला पुलिसकर्मी ने भी उसे जोर से पकड़े रखा और उसे आखिरकार गाड़ी में डालकर थाने ले जाया गया। उसी दौरान वहां मौजूद अन्य पुलिसकर्मियों ने पूरी घटना का वीडियो बना लिया। जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।
... और पढ़ें

बाहर से आए 158 लोगों में से 149 होम क्वारंटीन

झज्जर। लॉकडाउन के दौरान दूसरे राज्यों और विदेश से आए 158 लोगों में से 149 लोगों को स्वास्थ्य विभाग ने होम क्वारंटीन किया हुआ है। जबकि 135 लोगों पर विभाग की टीमों की तरफ से निगरानी रखी जा रही है। झज्जर जिले में अब तक 13 लोगों के सैंपल जांच के लिए प्रयोगशाला भेजे गए थे। जिनमें से 12 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है। एक सैंपल की रिपोर्ट अभी आनी बाकी है। विभाग की तरफ से 9 लोगों को अस्पतालों के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। स्वास्थ्य विभाग विदेश से आने वाले या फिर दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों पर निरंतर निगरानी रख रहा है।
28 दिन रखी जा रही निगरानी
इन लोगों पर 28 दिन तक विभाग की टीम निगरानी रख रही है। विभाग हर व्यक्ति का दिन में दो से तीन बार रिपोर्ट ले रहा है। हालांकि फिलहाल तक झज्जर जिला में एक भी कोरोना वायरस का मामला सामने नहीं आया है। लॉकडाउन के दौरान दूसरे राज्यों से आने की रिपोर्ट मिलती है। पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीमें उन लोगों को तुरंत अस्पतालों में लेकर आती हैं और स्वास्थ्य विभाग की टीम उनके सैंपल लेकर जांच के लिए प्रयोगशाला भेजती हैं।
फिलहाल तक जिला में विदेश और दूसरे राज्यों से 158 लोगों के आने की रिपोर्ट आई है। जिनमें से 135 लोगों पर निगरानी रखी जा रही है। फिलहाल तक जिला में कोई भी कोरोना पॉजिटिव केस नहीं है।
- आरएस पूनिया, सिविल सर्जन, झज्जर।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस से बचाव के लिए गुभाना गांव में चल रहा ठीकरी पहरा

किसी चोरी या अन्य आपराधिक घटनाओं को रोकने के लिए गांवों में रात के समय ठीकरी पहरे लगाए जाते थे लेकिन अब कोरोना वायरस को रोकने के लिए गांवों में ठीकरी पहरे शुरू हो गए हैं। माजरी गांव के बाद शुक्रवार को गुभाना गांव में पहरा शुरू हो गया है। ठीकरी पहरे का फैसला गांव की पंचायत ने सामूहिक तौर पर लिया है।
गांव के सरपंच सतबीर वाल्मीकि ने बताया कि गांव को ठीकरी पहरा लगाकर कोरोना से ग्रामीणों को बचाने की पहल की गई है। गांव को चारों ओर के नाकों लगाकर पूरी तरह से बंद कर दिया है जिसके लिए वार्ड पंच और युवाओं को जिम्मेदारी सौंपी गई है। युवा गांवों में किसी बाहरी व्यक्ति को आने की इजाजत नहीं देंगे। इसके अतिरिक्त फेरी लगाकर सब्जी सहित अन्य सामान बेचने वालों पर पाबंदी रहेगी। जरूरी सामान के लिए गांवों में ही दुकानें हैं। गांव में आने वाले भी लोगों को सैनिटाइज किया जाएगा। लॉकडाउन के दौरान किसी भी व्यक्ति को केवल विशेष परिस्थतियों को छोड़कर ही घर से बाहर निकलने की अनुमति होगी जबकि बिना किसी कारण घर से बाहर निकलने पर पूर्णतया पाबंदी है।
वहीं उपमंडल अधिकारी विशाल कुमार ने बताया कि जिला प्रशासन की ओर से ठीकरी पहरा लगाने के आदेश जारी किए गए हैं। पंजाब विलेज एंड स्माल टाऊन एंड पेट्रोल एक्ट ठीकरी पहरा लगाने के आदेश पारित किए हैं। आदेशों की अवहेलना करने वाले व्यक्ति के विरुद्ध कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
... और पढ़ें

लॉकडाउन : सड़कों पर सन्नाटा, बाहर में कड़ा पहरा

झज्जर। कोरोना वायरस से बचाव के लिए लागू लॉक डाउन का जिले में पालन हो रहा है। सामान्य दिनों में जिन सड़कों पर हजारों वाहन चलते थे। उन सड़कों पर सन्नाटा छाया हुआ है। हर गांव में उपायुक्त के आदेश पर ठीकरी पहरे लगाए हुए हैं। हर रोज ग्रामीणों की 24 घंटे ड्यूटी लगाई जा रही है। गांव के रास्तों पर 3-4 की संख्या में ग्रामीण बैठे हैं और कोई भी वाहन गांव में प्रवेश करता है या कोई आदमी गांव में बाहर से आता है तो उसका पहचान पत्र देखने के बाद ही गांव में प्रवेश करने दिया जा रहा है। जबकि वहां चालकों का मुख्य सड़कों पर भी पहचान पत्र चेक करने के बाद ही उन्हें आगे बढ़ने दिया जा रहा है। मुख्य सड़कों पर मौजूद युवक रजिस्टर में गाड़ी का नंबर, चालक का नाम और मोबाइल नंबर तक दर्ज कर रहे हैं। जबकि उनसे यह भी पूछताछ की जा रही है कि वह किस काम के लिए बाहर जा रहे हैं या गांव में आए हैं। सारी पूछताछ करने के बाद वाहन चालकों को आगे बढ़ने दिया जा रहा है।
मुख्य चौराहों पर पुलिस तैनात
मुख्य चौक चौराहों पर तो ग्रामीणों के साथ पुलिस के जवान भी तैनात हैं और वाहन चालकों की पूरी जांच के बाद ही पुलिस के कर्मचारी उन्हें आगे बढ़ने दे रहे हैं। अगर कोई लॉक डाउन की अवहेलना करता है तो पुलिस की तरफ से उनके चालान भी काटे जा रहे हैं। इतना ही नहीं वाहनों को इंपाउंड किया जा रहा है।
262 गांव और तीन शहर हैं जिले में
झज्जर जिला में 262 गांव और तीन शहर हैं। इन शहरों में झज्जर, बहादुरगढ़, बेरी शामिल हैं। तीनों शहरों में पुलिस प्रशासन की तरफ से जगह-जगह नाके लगाए गए हैं। इतना ही नहीं ग्रामीण क्षेत्रों में भी ग्रामीणों ने नाके लगाकर कोरोना वायरस से बचने के लिए ठीकरी पहरा लगा हुआ है। शहर हो या गांव हर तरफ कोरोना वायरस से बचाव के लिए लोग लॉक डाउन भी पालन कर अपने घरों में ही समय व्यतीत कर रहे हैं।
वर्जन
लॉक डाउन की अवहेलना करने वाले लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जा रही है। लोगों से आह्वान है कि वे बिना किसी आवश्यक काम के घरों से बाहर न निकलें।
- अशोक कुमार, डीआईजी एवं एसपी, झज्जर।
... और पढ़ें
मातनहेल गांव में ठीकरी पहरे पर मौजूद ग्रामीण। मातनहेल गांव में ठीकरी पहरे पर मौजूद ग्रामीण।

डोर-टू-डोर सर्वे से बढ़ा आंकड़ा, 1388 लोग होम क्वारंटीन

झज्जर। स्वास्थ्य विभाग की तरफ से कोरोना वायरस के चलते लॉक डाउन के दौरान दूसरे राज्यों और विदेश से आए 158 लोगों में से 149 लोगों को होम क्वारंटीन किया हुआ था। लेकिन एक मार्च से अब तक दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों को भी विभाग ने होम क्वारंटीन करना शुरू कर दिया है। विभाग की तरफ से डोर-टू-डोर करवाए जा रहे सर्वे के दौरान अब तक स्वास्थ्य विभाग की तरफ से 1388 लोगों को होम क्वारंटीन किया गया है। जबकि 109 लोगों पर विभाग की टीमों की तरफ से निगरानी रखी जा रही है। झज्जर जिला में अब तक 13 लोगों के सैंपल जांच के लिए प्रयोगशाला भेजे गए थे। जिनमें से सभी की रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है। विभाग की तरफ से 14 दिन के लिए होम क्वारंटीन किया जा रहा है।
विदेश से आने वालों पर 28 दिन रखी जा रही निगरानी
विदेश से आने वालों पर 28 दिन तक विभाग की टीम निगरानी रख रही है। हर व्यक्ति से विभाग की तरफ से दिन में दो से तीन बार रिपोर्ट ली जा रही है। हालांकि फिलहाल तक झज्जर जिला में एक भी कोरोना वायरस का मामला सामने नहीं आया है। लॉक डाउन के दौरान दूसरे राज्यों से आने की रिपोर्ट मिलती है। उन लोगों को पुलिस व स्वास्थ्य विभाग की टीमें तुरंत प्रभाव से सूचना मिलते ही अस्पतालों में लेकर आती हैं और स्वास्थ्य विभाग की टीम उनके सैंपल लेकर जांच के लिए प्रयोगशाला भेजती हैं।
वर्जन
विभाग की तरफ से सर्वे शुरू करवाया गया है। जिसके तहत दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों को भी होम क्वारंटीन कर दिया गया है। फिलहाल तक जिला में कोई भी कोरोना पॉजिटिव केस नहीं है।
- आरएस पूनिया, सिविल सर्जन, झज्जर।
... और पढ़ें

आमजन के लिए बंद रहेगी सब्जी मंडी, विक्रेताओं के लिए रेट निर्धारित

झज्जर। लॉकडाउन के दौरान झज्जर जिले की सब्जी मंडी में आमजन के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। केवल विक्रेता ही सब्जी मंडी से सामान ले सकते हैं जबकि आमजन अपने क्षेत्र में रेहड़ी वालों अथवा सब्जी विक्रेताओं से फल-सब्जियां खरीद सकते हैं। जिला प्रशासन की ओर से मार्केट कमेटी के माध्यम से सब्जियों के रेट निर्धारित किए गए हैं। निर्धारित रेट से अधिक सब्जी की बिक्री करने वालों पर प्रशासन की ओर से कार्रवाई की जाएगी।
झज्जर के डीसी जितेंद्र कुमार ने बताया कि निर्धारित रेट से अधिक किसी भी सामान की बिक्री नहीं होगी। निर्धारित रेट से अधिक सब्जी की बिक्री करने वालों पर प्रशासन की ओर से कार्रवाई की जाएगी।
झज्जर मार्केट कमेटी की ओर से तय रेट
सब्जी व फल का नाम दर प्रति किलोग्राम
टमाटर 20 से 25 रुपये
आल 20 से 22 रुपये
प्याज 19 से 25 रुपये
धनिया 11 से 16 रुपये
घीया 12 से 20 रुपये
फूल गोभी 16 से 20 रुपये
अदरक 110 से 125 रुपये
पेठा 15 से 25 रुपये
टिंडा 16 से 20 रुपये
करेला 50 से 55 रुपये
खीरा 15 से 25 रुपये
निंबू 85 से 110 रुपये
लहसुन 180 से 200 रुपये
भिंडी 50 से 72 रुपये
केरी 15 से 18 रुपये
मिर्च 45 से 55 रुपये
बंद गोभी 12 से 15 रुपये
पालक 08 से 10 रुपये
मूली 7 से 10 रुपये
बैंगन 15 से 25 रुपये
शिमला मिर्च 50 से 55 रुपये
फल रेट
संतरा 25 से 30 रुपये
मौसमी 40 से 55 रुपये
अंगूर 50 से 60 रुपये
पपीता 30 से 33 रुपये
चीकू 80 से 90 रुपये
सेब 70 से 100 रुपये
केला 40 से 50 रुपये
अमरूद 30 से 35 रुपये
खरबूजा 40 से 45 रुपये
... और पढ़ें

झज्जर से रोहतक आने-जाने पर चुकाना होगा पांच रुपये अधिक टोल

बेरी। देशभर में लॉकडाउन हुए 13 दिन हो गए हैं। लॉकडाउन के पहले दिन से ही न केवल गांव शहर की गलियां बल्कि शहरों से गुजरते नेशनल हाईवे भी सुनसान हैं। एक ओर जहां केंद्र सरकार लॉकडाउन से लोगों को हुए नुकसान के चलते विभिन्न वस्तुओं और और बैंक ब्याज की दरों में भी कटौती कर रही है। ऐसे में हाईवे पर लगे टोल प्लाजा ने वाहनों की कैटेगरी अनुसार टोल की दरों में इजाफा कर दिया है। लाइट व्हीकल जैसे कार, जीप की टोल दरों में अप डाउन में 5 रुपये का इजाफा किया गया है, जबकि अन्य माध्यम बड़े वाहनों की दरों में भारी इजाफा है। मासिक पास 50 से लेकर सौ रुपये बढ़ाए गए हैं।
बीते सप्ताह इसी माह की एक तारीख से ही टोल की बढ़ी हुई दरों को बाकायदा लागू भी किया जा चुका है। अधिकांश संख्या में टोल से गुजरने वाली कार, जीप जैसे व्हीकल को अब अप डाउन करने पर पहली दरों से पांच रुपये अधिक चुकाने होंगे। बात झज्जर से गुजरते नेशनल हाईवे 71 की करें तो यहां के डीघल स्थित टोल प्लाजा पर भी बीती 31 मार्च की अर्धरात्रि से ही नई दरों को लागू किया जा चुका है। सर्वे के अनुसार प्रतिदिन करीब 12 से 13 हजार वाहन इस टोल से गुजरते हैं। हालांकि लॉकडाउन के चलते अब यह संख्या घट कर एक से दो हजार के बीच ही रह गई है। यहां से गुजरने वाले इन वाहनों से बढ़ी दरों से ही टोल वसूला जा रहा है।
हर साल रिवाइज होती हैं दरें
टोल प्रबंधन कंपनी के मैनेजर नितेश मलिक के अनुसार टोल दरों को नए वित्त वर्ष से हर साल रिवाइज किया जाता है। रिवाइज हुई दरों में श्रेणी अनुसार दरों में कमी व बढ़ोतरी की जाती है। इस बार कंपनी ने टोल दरों में 5 रुपये से लेकर 25 रुपये तक बढ़ोतरी हुई। वहीं बड़ी संख्या में कार, जीप जैसे निजी वाहनों के आवागमन के बावजूद कंपनी ने इनका अप डाउन अब 5 रुपये और महंगा किया हैं।
डीघल टोल प्लाजा के नए रेट
वाहन वन साइड अप डाउन मासिक पास
कार जीप वैन लाइट, मोटर वाहन 45 70 1525
लाइट कॉमर्शियल वाहन, मिनी बस 75 110 2465
बड़े वाहन, ट्रक बस 155 235 5170
हैवी मशीनरी वाहन 245 365 8105
ओवर साइज वाहन 295 445 9865
डीघल टोल प्लाजा पर पुरानी रेट लिस्ट
वाहन वन साइड अप डाउन मासिक पास
कार जीप वैन लाइट, मोटर वाहन 45 65 1475
लाइट कॉमर्शियल वाहन, मिनी बस 70 105 2380
बड़े वाहन, ट्रक बस 150 225 4990
हैवी मशीनरी वाहन 235 350 7830
ओवर साइज वाहन 285 430 9530
... और पढ़ें

कानौंदा आश्रम में आए दो लोगों की कराई स्वास्थ्य जांच, नहीं मिले कोई लक्षण

सुनसान पड़ा टोल प्लाजा।
बहादुरगढ़। क्षेत्र के गांव कानौंदा मेें उत्तर प्रदेश के बाराबंकी से आए दो व्यक्तियों को एक आश्रम के अंदर ही रहने के लिए कहा गया है। वे कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में तो नहीं हैं, इसका पता लगाने के लिए स्वास्थ्य विभाग की जांच टीम को भी बुलाया गया। हालांकि उनमें किसी तरह के कोरोना वायरस के लक्षण नहीं मिले। एहतियात के तौर पर ग्राम सरपंच अशोक कुमार ने दोनों व्यक्तियों को उक्त आश्रम के अंदर ही रहने के लिए कहा है। साथ में उनसे अन्य लोगों के मिलने पर दूरी बनाने के लिए कहा है। इसके अलावा उन्हें खाने-पीने का जो भी सामान दिया जाना है, उन्हें बाहर से ही दिया जाएगा। बता दें कि इस आश्रम में एक व्यक्ति लॉकडाउन से पहले ही यहां रह रहा है। ऐसे में अब उसे भी अंदर ही रहने व वहीं पर खाने-पीने का सामान उपलब्ध कराए जाने के लिए कहा गया है। सरपंच अशोक ने बताया कि उनके गांव में कोई भी व्यक्ति अभी तक कोरोना वायरस से ग्रस्त नहीं है। एहतियात के तौर पर सरकार व प्रशासन की ओर से जो भी दिशा-निर्देश दिए गए हैं उनका पालन किया जा रहा है। उन्होंने ग्रामीणों से लॉकडाउन का पालन करने व कोरोना वायरस के खात्मे के लिए घरों में ही सभी लोगों के रहकर सहयोग दिए जाने की अपील की है। ... और पढ़ें

लॉकडाउन की अहेलना करने पर अलग-अलग मामलों में सात आरोपी काबू

कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए लॉकडाउन किया हुआ है। लॉकडाउन व धारा 144 के आदेशों की अवहेलना करने वालों पर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए अलग-अलग स्थानों से 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। डीआईजी एवं एसपी झज्जर अशोक कुमार के दिशा निर्देश अनुसार चप्पे-चप्पे पर तैनात पुलिस की विभिन्न टीमों ने लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों पर कड़ी निगाह रखी हुई है। पुलिस की विभिन्न टीमों द्वारा लॉकडाउन का उल्लंघन करते पाए जाने पर विभिन्न मामलों में सात आरोपियों को काबू करके, 176 वाहनों के चालान किए और 12 वाहनों को जब्त किया गया। लॉकडाउन व धारा 144 का उल्लंघन करने पर झज्जर पुलिस की विभिन्न टीमों द्वारा मुस्तैदी से कार्रवाई करते हुए थाना सदर झज्जर, थाना सिटी झज्जर, थाना बेरी, थाना लाइनपार व थाना सदर बहादुरगढ़ में अलग-2 मामले दर्ज किए गए।
लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने पर थाना बेरी की एक टीम ने गांव दुबलधन में नियमों का उल्लंघन करके कंस्ट्रक्शन का कार्य करते एक आरोपी को काबू किया। आरोपी जगबीर निवासी गांव दुबलधन के खिलाफ थाना बेरी में मामला दर्ज किया गया। वहीं थाना बेरी शहर पुलिस चौकी बेरी की एक टीम ने बेरी शहर के मेन बाजार में बेवजह बाइक पर सवार होकर बेवजह घूमते एक युवक को रुकवाया गया। बाइक सवार युवक ने सरकारी कार्य में बाधा डालते हुए पुलिस टीम के साथ दुर्व्यवहार किया। पुलिस ने युवक को पकड़कर थाना बेरी में मामला दर्ज किया है। वही थाना सदर बहादुरगढ़ की एक टीम ने गांव कानोन्दा के एरिया से बेवजह घूमते एक व्यक्ति को काबू किया। पकड़े गए आरोपी सुरेश कुमार निवासी आरके पुरम दिल्ली के खिलाफ कार्रवाई करते हुए थाना सदर बहादुरगढ़ में मामला अंकित किया गया।
गाड़ी से तीन पेटी शराब बरामद
लॉकडाउन के तहत थाना लाइनपार बहादुरगढ़ के एरिया में नाका परनाला पर मुस्तैदी से तैनात पुलिस की टीम ने एक सेंट्रो गाड़ी को रुकवाया। गाड़ी की तलाशी ली गई तो उसमें देसी शराब की तीन पेटी बरामद हुई। अवैध शराब सहित गाड़ी में सवार तीन व्यक्तियों को नियमों का उल्लंघन करने के मामले में काबू किया गया। पकड़े गए आरोपियों आयुष, साहिल और आशीष तीनों निवासी खरखौदा जिला सोनीपत के खिलाफ कार्रवाई करते हुए थाना लाइनपार बहादुरगढ़ में मामला अंकित किया गया।
ऑडी कार इंपाउंड, 33 हजार का काटा चालान
थाना साल्हावास के अंतर्गत पुलिस चौकी झाड़ली की टीम ने बेवजह घूमते एक ऑडी कार को इंपाउंड करते हुए करीब 33000 रुपये का चालान किया गया। डीआईजी अशोक कुमार ने आमजन से लॉकडाउन के आदेशों का पूर्ण रूप से पालन करने व अपने घरों में रहने की अपील करते हुए कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए लॉकडाउन का फैसला सरकार द्वारा आपकी सुरक्षा व स्वास्थ्य के लिए किया गया है। बेवजह कोई भी अपने घर से बाहर न निकले।
... और पढ़ें

एक मार्च से अब तब तबलीगी जमात से आए लोगों का डाटा एकत्रित होगा : उपायुक्त

हरियाणा सरकार के निर्देशानुसार एक मार्च से आज तक तब्लीगी जमात से जो भी व्यक्ति झज्जर जिला में आया है उन सभी का कोरोना टेस्ट किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग की ओर से गहनता से सर्वे करते हुए ऐसे लोगों का पता लगाने के लिए कार्य शुरू कराने के दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं। उपायुक्त जितेंद्र कुमार ने कहा कि घर पर रहकर ही हम इस महामारी से बच सकते हैं और यह बेहद अच्छी बात है कि सरकार व प्रशासन के नियमों का अनुपालन झज्जर जिला उल्लेखनीय ढंग से कर रहा है।
स्लम एरिया व सघन आबादी वाले क्षेत्रों में होगा अब घर-घर सर्वे
उपायुक्त ने कहा कि जो भी व्यक्ति जमातियों के संपर्क में आया है वह प्रशासन के हेल्पलाइन नंबर 01251-253118 व 1950 पर सूचना दे, ताकि ऐसे लोगों के स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए टेस्ट करवाया जा सके। उन्होंने बताया कि जिला के स्लम एरिया व सघन आबादी वाले क्षेत्रों में अब घर-घर सर्वे भी स्वास्थ्य विभाग की ओर से किया जाएगा, जिसमें कोरोना वासरस से बचाव की जानकारी देने के साथ ही ऐसे लोगों का पता लगाया जाएगा कि जो तब्लीगी जमात से अथवा किसी की कोरोना संक्रमण से जुड़े विदेश से आए व्यक्ति की हिस्ट्री हो। उन्होंने आमजन को भी प्रशासन का सहयोग करते हुए कोरोना से बचाव की दिशा में उठाए जा रहे कदमों में सहभागिता निभाने के लिए प्रेरित किया। उपायुक्त ने कहा कि आमजन की सावधानी कोरोना जैसी भयंकर बीमारी से दूर रखने में विशेष रूप से जरूरी है।
सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें
उपायुक्त ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए लोगों को जागरूक रहने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि सभी कोरोना वायरस को मात देने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान अवश्य रखें। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार की दवाईयों और स्वास्थ्य कर्मियों के लिए आवश्यक चीजों की कमी सरकार व प्रशासन द्वारा नहीं आने दी जाएगी।
आयुर्वेदिक उपायों को अपनाएं
कोरोना वायरस की रोकथाम एवं प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए उपायुक्त ने आमजन को आयुर्वेदिक उपायों को भी अपनाने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि तुलसी, दालचीनी, कालीमिर्च, मुनक्का से बनी हर्बल टी-काढ़ा दिन में एक से दो बार पीना चाहिए। इसके साथ ही 150 एमएल गर्म दूध में आधा चम्मच हल्दी चूर्ण दिन में एक से दो बार लेना चाहिए और ज्यादा से ज्यादा गर्म पानी का सेवन करना चाहिए।
... और पढ़ें

किसानों की अनूठी पहल, सीधा खेतों से घरों तक पहुंचा रहे सब्जियां

लॉकडाउन के चलते किसानों ने ग्राहकों तक सब्जियां पहुंचाने की अनूठी पहल शुरू की है। बागवानी विभाग के सफेक स्कीम के तहत 30 किसान समूह बनाए गए हैं। विभाग के द्वारा बनाए गए इन किसानों के समूहों को विभाग द्वारा विभिन्न प्रकार से सुविधा मुहैया कराई जाती है। 30 किसानों के समूहों में से 6 किसानों के समूह उगाई गई सब्जियों को सीधा ग्राहकों के घरों तक पहुंचा रहें है। विभाग के अधिकारियों ने बताया कि किसानों ने इस पहल की शुरूआत कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए व ग्राहकों को ताजा सब्जियां उपलब्ध कराने के लिए की है। किसानों का कहना है कि लॉकडाउन के चलते उन्होंने इसकी पहल की है, ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोका जा सके। किसानों के समूह में किसान अगल-अलग अपनी सब्जियों की बिक्री के लिए जाते हैं। ग्राहक से सीधा जुड़ने के कारण समय-समय पर किसानों को उनकी सब्जियों की गुणवत्ता का पता चल जाता है।
किसानों के खेतों में जाकर विभाग के अधिकारी लेते हैं जायजा
इन किसानों की सब्जियों में गुणवत्ता बनी रहे उसके लिए विभाग के अधिकारी किसानों के खेतों में जाकर उनका निरीक्षण करते हैं। विभाग के अधिकारी की निगरानी में होने के कारण किसान अधिक अच्छी गुणवत्ता वाली सब्जियों की पैदावार कर सकता है। वहीं किसानों को सब्जियों की खपत पता होने के कारण सब्जियों को समय पर तोड़ लेते हैं, ताकि सब्जियां खराब न हो।
कोरोना के संक्रमण के कारण किसानों ने उठाया कदम
जिले के 6 गांव के किसानों ने ग्राहकों तक सीधा सब्जियों को पहुंचना शुरू किया है। जिला के मातन, बाढ़सा, अहरी, दादनपुर, खेडी होशियारपुर, पाटौदा किसानों ने अपनी सब्जियों को किसान पहुंचाना शुरू किया है। किसानों का कहना है कि सीधा खेत से तोड़ने के बाद सब्जियों को पैक करके वाहन से एक चालक व विक्रेता ग्राहकों तक पहुंचाते हैं। इससे सब्जियों को मंडी में नहीं ले जाना पड़ता और सब्जियों को कम हाथ छू पाते हैं। जिससे संक्रमण का खतरा काफी कम हो जाता है।
बागवानी विभाग, झज्जर के जिला समन्वयक सौरभ त्यागी ने बताया कि जिले के किसान सफेक बागवानी विभाग की ओर से बनाए गए किसान उत्पादक समूह के द्वारा बनाए किसान उत्पादक समूह के माध्यम से अपनी सब्जियों को लॉकडाउन के दौरान भी पहुंचा रहे हैं। इससे ग्राहकों को उचित रेट पर अच्छी सब्जियां मिल रही हैं।
... और पढ़ें

लोगों की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों को वितरित किए मास्क

कोरोना वायरस की रोकथाम और लोगों में जागरूकता लाने के लिए भारत विकास परिषद ने रविवार को नाकों पर लगे सभी पुलिस कर्मचारियों व आसपास के लोगों में मास्क बांटें। भारत विकास परिषद के अध्यक्ष सतीश शर्मा ने लोगों से कोरोना वायरस को बढ़ने से रोकने से लिए अधिक से अधिक सावधानी बरतने की अपील की और उन्हें अधिक से अधिक समय घरों में रहने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि लोगों को लॉकडाउन का समर्थन करते हुए पुलिस का हौसला बढ़ाना चाहिए। उन्होंने कहा कि छोटे बच्चे, बुजुर्ग आदि के मरीजों में कोरोना वायरस अधिक घातक है इसलिए इन लोगों को अधिक से अधिक सावधानी बरतनी चाहिए। आपको कोई भी समस्या हो तो आप संस्था को बता सकते हैं। ... और पढ़ें

केवल पास होल्डर ही पार कर सकते हैं दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर

बहादुरगढ़। कोरोना वायरस का प्रकोप फैलने से रोकने के उपायों के तहत बंद दिल्ली हरियाणा के सभी बॉर्डर बंद हैं। दोनों राज्यों की सीमा पार करने के लिए आधिकारिक अनुमति पत्र की आवश्यकता होती है।
कोरोना संक्रमण की आशंका को देखते हुए देश की राजधानी दिल्ली की सभी सीमाएं सील हैं। बहादुरगढ़ से सटे टीकरी बॉर्डर पर बनी चेकपोस्ट पर परिचय पत्र देखकर ही प्रवेश दिया जा रहा है। केंद्र सरकार की एडवाइजरी के बाद अंतरराज्यीय सीमाओं को बंद करने के बाद सभी वाहनों की जांच और अनुमति होने पर ही आने देने के निर्देश दिए गए हैं।
टीकरी बॉर्डर चेक पोस्ट पर प्रत्येक वाहन की एंट्री दस्तावेजों की जांच के बाद ही दी जा रही है। गैर जरूरी घूमते पाए जाने पर चालान करने के अलावा वाहन जब्त भी किए जा रहे हैं। केवल पास धारियों को सीमा से इधर-उधर जाने दिया जा रहा है। हरियाणा के अलावा दिल्ली पुलिस की ओर से हर आवाजाही पर पैनी नजर रखी जा रही है। दिल्ली पुलिस या बहादुरगढ़ पुलिस की ओर से जांच के बाद ही वाहनों को अपनी सीमाओं में प्रवेश दिया जा रहा है। डीआईजी अशोक कुमार और बहादुरगढ़ के डीएसपी समेत दिल्ली पुलिस के उच्च अधिकारी भी सीमा पर प्रतिदिन जायजा लेते हैं। जांच के दौरान इमरजेंसी सेवा में लगे वाहनों, सक्षम अधिकारी की ओर जारी पास व बीमार व्यक्तियों को ही सीमा में प्रवेश कर सकते हैं। अब हरियाणा से इक्का-दुक्का प्रवासी श्रमिक ही दिल्ली की तरफ जाने की कोशिश करता है। लेकिन ऐसे प्रवासियों को बहादुरगढ़ के किसी शेल्टर होम भेज दिया जाता है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us