विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

पानीपत और बहादुरगढ़ में अमित शाह बोले-देश में कांग्रेस का मतलब है दरबारी, दामाद और दलाल 

गृहमंत्री व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने बुधवार को बापौली की अनाज मंडी में रैली को संबोधित किया।

17 अक्टूबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

फतेहाबाद

गुरूवार, 17 अक्टूबर 2019

नशा तस्करों पर पुलिस कस रही शिकंजा, बड़ी मछलियों पर ढिलाई

फतेहाबाद। जिला पुलिस छह-आठ माह से नशे के खिलाफ अभियान चलाए हुए है। स्पेशल टास्क फोर्स छह माह में नशा तस्करी के कई मामले पकड़ चुकी है। अधिकतर मामलों में दिल्ली स्थित नाइजीरियन गिरोह का नाम सामने आया है लेकिन जिला पुलिस दिल्ली में बैठे इन नाइजीरियन गिरोह के खिलाफ कोई बड़ी कार्रवाई नहीं कर पाई है। जिले के अंदर मुस्तैद नजर आ रही पुलिस की जांच जिले से बाहर जाने के साथ ही ढीली पड़ जाती है। हाल-फिलहाल की घटनाओं से स्पष्ट हो रहा है कि जिले में नशे की अधिकतर खेप दिल्ली और राजस्थान से आ रही है। एक भी मामले में फतेहाबाद पुलिस के हाथ दिल्ली-राजस्थान की बड़ी मछलियां नहीं लगी हैं। हालांकि जिला पुलिस कप्तान विजय प्रताप सिंह जल्द इस मिथक को तोड़ने की बात कहते हैं। इतना ही नहीं अब तो जिले में नशे का मुद्दा चुनावी में मुख्य बन चुका है।
दिल्ली में पहाड़गंज, करोलबाग के अलावा जनकपुरी और साउथ एक्स बड़े अड्डे
सूत्रों की मानें तो दिल्ली के अंदर पहाड़गंज और इसके आसपास के इलाके, जनकपुरी, करोलबाग और साउथ दिल्ली स्मैक, हेरोइन के बड़े अड्डे हैं। एक सप्ताह में पकड़े गए अधिकतर मामलों में स्मैक और हेरोइन की तस्करी करके जिले में लाने वाले तस्कर दिल्ली से माल लेकर आने की बात स्वीकार चुके हैं। लगभग ढाई साल पहले तत्कालीन एएसपी गंगा राम पूनिया के नेतृत्व में विशेष टीम ने स्मैक की बड़ी खेप के साथ एक नाइजीरियन डीलर को काबू किया था लेकिन इसके आगे पुलिस की जांच मानों बंद हो गई। नाइजीरियन तस्कर से मिले इनपुट के आधार पर फतेहाबाद पुलिस की एक टीम ने कई दिनों तक दिल्ली में पहाड़गंज में नाइजीरियन तस्कर बॉब की तलाश में छापेमारी की थी लेकिन उसका मोबाइल बंद आने के चलते पुलिस उसे ट्रेस नहीं कर सकी।
पीलीमंदौरी में पिछले साल दो भाइयों से पकड़ी ढाई करोड़ की हेरोइन
फतेहाबाद पुलिस तो नशे से प्रभावित इलाकों में पंजाब के साथ लगते गांवों व कस्बों को ही मानती आ रही थी और फतेहाबाद पुलिस के नशा विरोधी अभियान का मुख्य केंद्र भी रतिया व इनके आसपास के गांव ही बनाए गए थे। पिछले साल पंजाब पुलिस की विशेष टीम ने जिले के भट्टू एरिया के गांव पीलीमंदौरी में रातोंरात छापेमारी कर दो भाइयों को गिरफ्तार कर कब्जे से ढाई करोड़ की हेरोइन बरामद की थी। जिला पुलिस के लिए पंजाब पुलिस की ये कार्रवाई अपने आप में एक बड़ा झटका थी क्योंकि ऐसा पहली बार हुआ था कि राजस्थान बार्डर एरिया से पारंपरिक नशे से हटकर चिट्टे की इतनी बड़ी खेप बरामद हुई थी।
दो बार अनशन पर बैठ चुका है प्रवीण काशी
बनारस से आकर फतेहाबाद में नशे के खिलाफ आंदोलन शुरू करने वाले प्रवीण काशी ने इस मुद्दे पर प्रशासन की नाक में दम किया हुआ है। वो पिछले दो माह में दो बार लंबे अनशन पर बैठ चुके हैं। पहली बार तो उनकी बाकायदा सीएम से मुलाकात करानी पड़ी थी जिसमें उन्हें स्पेशल जोन का आश्वासन मिला था लेकिन मांग पूरी न होने पर वो दोबारा अनशन पर बैठ गए। 10 अक्तूबर को सीएम के आने से पहले बीजेपी प्रत्याशी दुड़ाराम ने उनका अनशन समाप्त कराया था।
चुनाव में बड़ा मुद्दा बना चिट्टा
विधानसभा चुनावों में भी चिट्टा एक बड़ा मुद्दा बनकर सामने आया है। विपक्षी दल इस मुद्दे पर सत्ताधारी बीजेपी को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे जबकि बीजेपी इसे पुरानी सरकार की कमजोरी के चलते आई समस्या बता रही है। अब देखना दिलचस्प होगा कि जिले की सबसे बड़ी समस्या के रूप में उभरकर सामने आया नशा क्या इस बार विधानसभा चुनावों में हालात बदलने वाला मुद्दा बनेगा या नहीं।
नशे की ओवरडोज के चलते जिले के आठ युवक गवां चुके हैं जान
तकरीबन चार साल पहले रतिया बीजेपी के नेता के बेटे का शव फतेहाबाद के माडल टाऊन में बने एक खंडहर में मिला था। युवक के आसपास नशे के इंजेक्शन मिले थे और उसी की ओवरडोज के चलते उसकी मौत हुई थी। इसी तरह फतेहाबाद के सुंदरनगर निवासी एक थानेदार का बेटा भी नशे की चपेट में आकर जान गवां चुका है। युवक पहले भी धनौटी के एक नशामुक्ति केंद्र में दाखिल रह चुका था। घर वापिस आकर पहले बीयर पी और इसके बाद अहरवां के पास जाकर नशे का इंजेक्शन लगा लिया जिसके चलते उसकी तबियत बिगड़ी और उसकी मौत हो गई। तीसरे मामले में अक्तूबर 2018 में टोहाना के गांव गुल्लरवाला में भी एक युवक नशे की ओवरडोज का शिकार हो चुका है। गरीब परिवार का ये लड़का अपने कुछ नशेड़ी दोस्तों की संगत में आ गया था। जिसके चलते नशे की लत लग गई और फिर इधर-उधर से पैसे जुटाकर नशा किया करता था। अक्तूबर 2018 में उसने भी दम तोड़ दिया। इसके अलावा टोहाना के ही कुलां इलाके में नशे के चलते युवकों की मौत के दो मामले सामने आ चुके हैं। दोनों मामलों में मृतक युवक खेतीबाड़ी करने वाले परिवार के थे और नशे की ओवरडोज के चलते दोनों की मौत हो गई। पिछले दिनों नागरिक अस्पताल के शौचालय में ही नशे की ओवरडोज लेते समय एक फतेहाबाद शहर के एक युवक की मौत हो गई थी। मृतक युवक का शव अगले दिन सुबह अस्पताल के शौचालय से बरामद हुआ था।
एसपी बोले, जांच जारी, दिल्ली की मछलियों को भी जल्द करेंगे काबू
पुलिस अधीक्षक विजय प्रताप सिंह ने भी माना कि फिलहाल दिल्ली से आने वाले नशे के बाजार की बड़ी मछलियों को पुलिस गिरफ्तार नहीं कर सकी है। लेकिन उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि पुलिस इस मामले में कुछ नहीं कर रही है। पुलिस लगातार प्रयासरत है। आरोपियों की धरपकड़ की जा रही है। दिल्ली की मछलियों को भी जल्द गिरफ्तार करेंगे।
... और पढ़ें

जलघर की डिग्गी में मिला विवाहिता का शव, पति व सास सहित तीन पर केस दर्ज

भूना। गांव खासा पठाना में एक महिला का शव जलघर की डिग्गी में संदिग्ध परिस्थितियों में मिला। महिला के मायके पक्ष के लोगों ने ससुराल जनों पर हत्या का आरोप लगाया है। पुलिस ने मृतका के भाई जयबीर सिंह की शिकायत पर पति सहित तीन ससुरालजनों पर आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मुकदमा दर्ज कर लिया है।
मृतका 28 वर्षीय मीना देवी के भाई जयबीर सिंह ने बताया कि मीना शुक्रवार से घर से लापता थी। उसने आरोप लगाया कि उसकी बहन के पति महावीर सिंह ने शराब के नशे में धुत होकर उसे बेरहमी से पीटा था। शनिवार की सुबह लोगों ने मीना देवी का शव जलघर की डिग्गी में पानी में पड़ा देखा। जिसकी सूचना गांव के सरपंच प्रतिनिधि राजेश कुमार को दी। उन्होंने पुलिस को अवगत करवाया। पुलिस ने शव को जलघर की डिग्गी से बाहर निकाला तो उसकी पहचान मीना देवी पत्नी महावीर सिंह खासा पठाना के रूप में हुई। गांव जांडली कला से मृतका के मायका पक्ष के लोग भी मौके पर पहुंच गए। मीना के भाई जयवीर ने आरोप लगाए है कि उसकी बहन की हत्या करके जलघर की डिग्गी में फेंका गया है। क्योंकि उसकी बहन के साथ कई महीनों से मारपीट का सिलसिला चला आ रहा था। जयवीर सिंह ने बताया कि पंचायती स्तर पर ससुराल जनों के लोगों को समझाने की भी कोशिश की गई। मगर वह अपनी हरकतों से बाज नहीं आए। उसकी बहन की हत्या पति महावीर सिंह व सास माया देवी तथा ननद गीता देवी ने मिलकर की है। पुलिस ने शव को पानी की डिग्गी से बाहर निकालकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।
10 साल पहले हुई थी शादी, 2 बच्चों की मां थी मृतका
जांडली कला निवासी मीना देवी की शादी 10 साल पहले गांव खासा पठाना के महावीर सिंह के साथ हिंदू रीति रिवाज के अनुसार हुई थी। आरोप है कि शादी के कुछ वर्ष बाद ही ससुरालजन मीना को प्रताड़ित करने लगे थे। इस दौरान मीना देवी के दो बच्चे भी पैदा हुए हैं। जिनमें एक लड़का वक लड़की शामिल है। मीना की मृत्यु के बाद दोनों बच्चों का रोकर बुरा हाल बना हुआ है। इस संबंध में पुलिस जांच अधिकारी कृष्ण कुमार ने बताया की मृतका के भाई जयबीर सिंह की शिकायत पर मीना की सास ननद व पति के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मुकदमा दर्ज कर लिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में अगर चोटें मारे जाने की पुष्टि होती है तो मामला हत्या में तब्दील कर दिया जाएगा।
... और पढ़ें

पुलिस पर हमला कर भगोड़े को छुड़ाया, तीन घायल

- दांतों से काटने और वर्दी फाड़ने का भी आरोप, एक रेफर, मामला दर्ज
माई सिटी रिपोर्टर
टोहाना। न्यायालय के आदेश पर पीओ घोषित को दबोचने गए पुलिस कर्मचारियों पर हमले का आरोप है। पुलिस ने मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। हेड कांस्टेबल धर्मपाल ने बताया कि रणधीर सिंह, जिले सिंह, एसपीओ तरसेम सिंह आदि टीम न्यायालय द्वारा घोषित पीओ राजेश को दबोचने के लिए कॉलोनी में गई हुई थी। जब पुलिस टीम गिरफ्तार करने के लिए उसके मकान पर गई तो आरोपी मकान के सामने वाली गली में खड़ा दिखाई दिया। जो उन्हें देखकर भागने लगा। तब उसे आवाज लगाई लेकिन वह नहीं रुका। पीछा करके उसे ढाब बस्ती के पास रेलवे प्लेटफार्म पर काबू कर लिया।
जब वे पकड़ कर उसे पुलिस चौकी कर ले जा रहे थे तो उसके परिजन नरेश, किरना, नीलम ढाब, विमला, सोनिया और संतोष बस्ती की ओर से आए और उन्हें घेर कर मारपीट शुरू कर दी। आरोपी राजेश को छुड़ाने का प्रयास करने लगे लेकिन नहीं छोड़ा गया। हेड कांस्टेबल ने बताया कि इस दौरान आरोपियों ने उनके कपड़े फाड़ दिए। विमला देवी ने रेलवे लाइन के पास से पत्थर उठाकर मेरी कमर पर मारा व साथियों को डंडों से पीटा और दांतों से काट लिया। इस दौरान कुछ महिलाओं ने जबरदस्ती मारपीट कर हिरासत से आरोपी राजेश को छुड़ा लिया। जिसे दोबारा पकड़ने का प्रयास किया तो उन्होंने जान से मारने की धमकी दी। घायलों को नागरिक अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहां से एक घायल कर्मी को अग्रोहा मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया। पुलिस ने विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।
----------------
12एफटीबी20- अस्पताल में उपचारधीन घायल पुलिस कर्मी
... और पढ़ें

भाजपा ने लक्ष्मण को नापकर दी है रतिया से टिकट : हंसराज हंस

रतिया। दिल्ली के सांसद एवं सूफी गायक हंसराज हंस ने बुधवार को गांव भिरडाना में भाजपा प्रत्याशी लक्ष्मण नापा के समर्थन में जनसभा को संबोधित किया। हंसराज हंस ने सूफी संतों के उपदेशों व चुटीले अंदाज में अपना भाषण देकर उपस्थित लोगों को जमकर हंसाया।
लोगों को संबोधित करते हुए हंसराज हंस ने कहा कि लक्ष्मण को नापा नहीं जा सकता, लेकिन भाजपा ने लक्ष्मण को नापकर टिकट दी है। उन्होंने कहा कि मैंने गरीब परिवार में जन्म लिया और बाद में अच्छी शोहरत हासिल की। शोहरत भी इतनी थी कि मंदे से मंदे समय में भी लाखों रुपये कमा लेता था। उन्होंने कहा कि जब मोदी ने दिल्ली से टिकट दिया तो मैंने उनको कहा था कि ये मुझे कहां फंसा दिया वहां तो मुझे कोई जानता ही नहीं। उस समय मोदी ने उनको कहा था कि तुम्हें मोदी चुनाव लड़ने के लिए भेज रहा है। उसके बाद नतीजा आपके सामने है। हंस ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ईमानदारी की मिसाल हैं। इस अवसर पर उनके साथ रतिया विधानसभा प्रभारी गुलशन हंस, बलदेव ग्रोहा, पूर्व विधायक रविन्द्र बलियाला, कालूराम ओड, सुखविन्द्र गोयल, रमेश मेहता, विनोद जग्गा, नरेश टीटू नागपुर, इंद्र गावड़ी सहित अनेक नेता मौजूद थे।
... और पढ़ें

ग्रामीणों ने डीसी से मांगी चुनाव का बहिष्कार करने की इजाजत

फतेहाबाद। गांव मानावाली की ढ़ाणी निवासियों ने विधानसभा चुनावों का बहिष्कार करने को लेकर डीसी व जिला चुनाव अधिकारी धीरेंद्र खडग़टा से इजाजत मांगी है। डीसी को सौंपे मांगपत्र में किसानों ने बताया है कि हमने गांव मानावाली के जलघर से लेकर फतेहाबाद भट्टू रोड को पक्का करने की मांग की थी। इस दौरान हमने लोकसभा चुनावों के बहिष्कार का निर्णय लिया था।
उन्होंने बताया कि इस पर आपके आदेशानुसार तत्कालीन बीडीपीओ ने मुआयना किया था। बीडीपीओ ने हमारी मांग को जायज ठहराते हुए लोकसभा चुनाव के बाद रास्ते को पक्का करने की बात कही थी। लोकसभा चुनावों के बाद भी हमारी मांग की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया गया। इसको लेकर पिछले माह में हम लोग आपसे दो तीन बार मिले थे। आपने समस्या का समाधान करवाने की बात कही थी। लोगों ने कहा कि इस बात को लेकर हम मौजूदा बीडीपीओ से भी मिल चुके हैं। सिर्फ आश्वासनों के अभी तक कुछ नहीं मिला। डीसी मिलने आए बलजीत सिंह रामचंद्र, सीताराम, हरपाल, राजकुमार, जसपाल, संजय, गोपाल, अमित्र महेंद्र सिंह राय सिह, बलवंत, मदनलाल, हरिसिंह व अन्य ने मांग करते हुए कहा कि या तो उनकी ढ़ाणियों की और जाने वाले रास्ते को पक्का करवाया जाए अन्यथा उन्हें विधानसभा का बहिष्कार करने की अनुमति दी जाए।
... और पढ़ें

रतिया से लापता एक लड़की का शव हिसार में बरामद, दूसरी का सुराग नहीं

रतिया। रतिया से मंगलवार को संदिग्ध परिस्थितियों में लापता दो लड़कियों में से एक का शव हिसार के आजाद नगर के पास एक नहर से बरामद किया गया। अन्य नाबालिग लड़की का अभी तक कोई पता नहीं चल पाया है। उसकी तलाश में पुलिस ने टीमें बनाकर कार्यवाही शुरू कर दी है।
जानकारी के अनुसार रतिया के एक व्यक्ति ने पुलिस को दी शिकायत में आरोप लगाया था कि कि उसकी नाबालिग भतीजी एक अन्य लड़की के साथ किसी निजी स्कूल में ट्रेनिंग देने के लिए घर से रवाना हुई थी। देर शाम तक जब दोनों घर नहीं आईं तो उन्होंने अपने स्तर पर काफी पड़ताल की लेकिन दोनों लड़कियों का कहीं सुराग नहीं मिला। पुलिस ने शिकायत पर अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ धारा 346 के तहत मामला दर्ज किया था। परिजनों ने बताया कि मंगलवार देर शाम हिसार के आजाद नगर के समीप से गुजरने वाली नहर के पास एक पड़े एक बैग में मोबाइल की घंटी बज रही था। जब वहां से गुजरने वाले किसी व्यक्ति ने बैग उठाकर उस मोबाइल पर दोबारा बैक कॉल की तो पता चला कि रतिया से लापता हुई लड़कियों में से एक का बैग और मोबाइल है। सूचना मिलने पर परिजन मौके पर पहुंचे और मौके पर पहुंचकर पुलिस के सहयोग से नहर को खंगाला तो पुलिस को लापता एक लड़की का शव नहर में मिला। इस बारे में पुलिस के जांच अधिकारी राधा कृष्ण ने बताया कि कल रतिया से दो लड़कियां लापता हो गई थीं। एक लड़की का शव हिसार आजाद नगर के समीप नहर में मिला है। शव का पोस्टमार्टम करा परिजनों को सौंप दिया है। राधाकृष्ण ने बताया कि पुलिस नाबालिग लड़की की तलाश कर रही है।
... और पढ़ें

बराला और मैं एक ही गाड़ी के दो पहिये, मिलकर करेंगे प्रदेश का विकास : सीएम

टोहाना। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि देश की जनता ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम का सही अर्थ एवरी वोट फॉर मोदी मानते हुए प्रदेश की दसों सीटें बीजेपी को जिताई और अब ईवीएम का अर्थ एवेरी वोट फॉर मनोहर मानते हुए सुभाष बराला को जिताने का काम करें। वे बुधवार को जाखल में आयोजित रैली को संबोधित कर रहे थे।
पहली बार पंजाबी में दिए भाषण की वाहे गुरु दा खालसा वाहे गुरु दी फतेह के उद्घोष के साथ शुरू करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग राजनीति को बिजनेस मान कर चुनाव लड़ रहे हैं और जनता को झूठे सब्जबाग दिखा कर वोट हासिल करना चाहते हैं, लेकिन टोहाना की जनता बहुत समझदार है और उसी उम्मीदवार को वोट डालती है जिसकी प्रदेश में सरकार बन रही हो। उन्होंने कहा कि अगर धन के बल पर सरकारें बनती तो गरीब का बेटा मनोहर लाल कभी मुख्यमंत्री ना बनता।
पंजाबी सूफी गायक हंसराज हंस ने अपना संबोधन मनोहर लाल को साधु स्वभाव का धनी व ईमानदार मुख्यमंत्री बताते हुए किया। कहा कि भाजपा का प्रदेश अध्यक्ष होना बहुत बड़े गौरव की बात है जो जाखल व टोहाना की जनता को मिला है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में भाजपा की सरकार बनते ही मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व पर सुभाष बराला कैबिनेट मंत्री बनेंगे और हलके की सेवा करने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि हरियाणा पंजाब का छोटा भाई है लेकिन आज इस छोटे भाई ने पिछले पांच सालों की भाजपा सरकार के नेतृत्व में हर क्षेत्र में विकास करके देश और विदेश में नाम रोशन किया है।
सुभाष बराला ने गिनवाई उपलब्धियां
सुभाष बराला ने जाखल में करवाए गए विकास कार्यों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि पूर्व की सरकारों ने जाखल को अनदेखा किया लेकिन भाजपा की सरकार ने पिछले पांच सालों में जाखल में 100 करोड़ की राशि से ज्यादा के काम करवाकर टेल से हैड पर ले जाने का काम किया। उन्होंने कहा कि जाखल में लड़कियों के स्कूल की बात हो, अंडर पास बनवाने या जाखल को नगर पालिका के अंतर्गत लाने की बात हो पिछले पांच सालों जाखल को कहीं भी पीछे नहीं रहने दिया। मौके पर पंजाबी सूफी गायक व दिल्ली के सांसद हंसराज हंस, पंजाब से भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष कमल शर्मा, प्रदेशाध्यक्ष एवं सुभाष बराला, जिलाध्यक्ष वेद फूलां, रतिया के पूर्व विधायक रविंद्र बलियाला, विधानसभा प्रभारी रमेश सिंगला, जिला महामंत्री रिंकूमान उपस्थित थे।
... और पढ़ें

पीओ व एपीओ की द्वितीय रिसर्हल आयोजित

जाखल में रैली के दौरान संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री।
21 अक्तूबर को होने वाले विधानसभा चुनाव की मतदान प्रक्रिया को संपन्न करवाने के लिए सामान्य चुनाव पर्यवेक्षक दिनेश श्रीवास्तव की मौजूदगी में प्रीजाइडिंग ऑफिसर, अल्टरनेट प्रीजाइडिंग ऑफिसर को भोडिया खेड़ा स्थित चौधरी मनीराम गोदारा राजकीय महिला महाविद्यालय में मंगलवार को रिहर्सल करवाई गई। सामान्य चुनाव पर्यवेक्षक दिनेश श्रीवास्तव और फतेहाबाद विधानसभा क्षेत्र के रिटर्निंग अधिकारी सुरजीत सिंह नैन ने चुनाव प्रक्रिया से जुड़े अधिकारियों और कर्मचारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए और उनका मार्गदर्शन किया। उन्होंने कहा कि ड्यूटी पर तैनात अधिकारी और कर्मचारी अपनी जिम्मेवारियों को बखूबी निभाएं। चुनाव के दौरान लापरवाही, ढिलाही और कोताही बरतने वालों के खिलाफ नियमानुसार सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। रिहर्सल में रिटर्निंग ऑफिसर सुरजीत सिंह नैन ने चुनाव प्रक्रिया की पूर्ण जानकारी दी। उन्होंने पीओ, एपीओ को उनके प्रत्येक कार्य और जिम्मे-दारियों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इस दौरान पीओ, एपीओ, पोलिंग ऑफिसर को वीडियो के माध्यम से ईवीएम व वीवीपैट मशीनों के संचालन के बारे में समझाया और मौके पर ही ट्रेनिंग दी गई।
मतदान से संबंधित चुनाव प्रक्रिया को अच्छी तरह समझें
सामान्य चुनाव पर्यवेक्षक दिनेश श्रीवास्तव ने कहा कि निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण चुनाव करवाने में आप सभी की भूमिका अति महत्वपूर्ण है। इसलिए आप सभी अपडेट रहे और मतदान से संबंधित चुनाव प्रक्रिया को अच्छी तरह समझ ले। सभी नियम व कानूनी पहलुओं की पूरी जानकारी प्राप्त कर ले। आगामी 21 अक्तूबर को चुनाव के लिए सुबह 7 से सायं 6 बजे तक मतदान होगा। इसमें एक घंटा पूर्व यानी सुबह 6 बजे पोलिंग एजेंट की मौजूदगी में मॉक पोल करवाया जाएगा। इस दौरान विशेष सावधानी के साथ अपनी जिम्मेवारियों का निर्वहन करे। मॉक पोल में सभी प्रत्याशियों को तीन वोट अवश्य डलवाए और पोलिंग एजेंट को इसका परिणाम दिखाकर मॉक पोल की सभी पर्ची को खाली लिफाफे में सील बंद करके रखे। मॉक पोल की प्रक्रिया संपन्न होने के बाद ईवीएम मशीन को क्लियर करना और वीवीपैट से पर्चियां निकालना नहीं भूले। इस प्रकार मतदान संपन्न होने के बाद मशीन को क्लोज करना भी अति आवश्यक है।
सभी पीओ हर दो घंटे के अंतराल में मतदान प्रतिशत और वोट संख्या की जानकारी डायरी में करेंगे नोट
सामान्य चुनाव पर्यवेक्षक व आरओ ने संयुक्त रूप से कहा कि सभी पीओ हर 2 घंटे के अंतराल पर मतदान प्रतिशत और वोट की संख्या जानकारी पीओ डायरी में नोट करेंगे। वह इसकी सूचना नियंत्रण कक्ष में भी भिजवाना सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने फॉर्म 17ए व 17सी और डायरी अन्य सभी प्रकार के दस्तावेज फार्म भरने के संबंध में विस्तार से जानकारी देते हुए मतदान प्रक्रिया की बारीकियों के बारे में विस्तार से बताया।
बुजुर्गों और दिव्यांगों के लिए विशेष सुविधा
उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी अपनी जिम्मेवारियों की गंभीरता को समझ लें। उन्होंने कहा कि पीओ हैंडबुक में सारी हिदायतें व नियम लिखे हैं, जिनकी जानकारी चुनाव करवाने वाले अधिकारी को होना जरूरी है। उन्होंने कहा कि मतदान के लिए बूथों पर महिला व पुरुषों की अलग-अलग लाइन लगवाई जाए। वरिष्ठ नागरिकों व दिव्यांगजनों के लिए मतदान कराने की सुविधा दी जाए।
उन्होंने कहा कि 20 अक्तूबर को पोलिंग पार्टियों को चुनाव सामग्री देकर सरकारी वाहनों के माध्यम से संबंधित मतदान केंद्र तक भिजवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि मतदान केंद्रों पर पेयजल, बिजली, साफ-सफाई, शौचालयों आदि की उचित व्यवस्था करवाए।
उन्होंने हिदायत दी है कि पोलिंग बूथ पर जाकर 20 अक्तूबर को ही पोलिंग पार्टियां वहां की व्यवस्था देखें और सुनिश्चित करे की मतदान केंद्रों पर किसी प्रकार की प्रचार सामग्री न लगी हो। पोलिंग पार्टियां उसी दिन शाम को पोलिंग एजेंट से मुलाकात कर ले और उन्हें बता दें कि 21 अक्तूबर को सुबह 6 बजे सभी एजेंट पोल के लिए मौजूद रहे। एक बूथ पर एक प्रत्याशी का केवल पोलिंग एजेंट ही मौजूद रह सकता है। यह ध्यान रखें कि पोलिंग एजेंट के पास मोबाइल ना हो। रात को पोलिंग पार्टी मतदान केंद्र पर ही मौजूद रहेगी। उन्होंने कहा कि मतदान केन्द्र के अंदर कोई व्यक्ति ना तो हथियार ले जा सकता और ना ही मतदान प्रक्रिया की फोटो या वीडियो बना सकता है, ऐसा करने वाले के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा सकती है। ईवीएम व वीवीपैट मशीनों के बारे में भी विस्तारपूर्वक जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित करें कि खिड़की दरवाजे जहां से प्रकाश आए वहां पर ईवीएम मशीनें ना रखें। वीवीपैट को नमी में ना रखें। उन्होंने कहा कि सीयू, बीयू व वीवीपैट में से कोई भी यूनिट खराब हो जाती है तो सारा सिस्टम बदला जाता है। इसलिए विशेष रूचि लेकर विधानसभा आम चुनाव 2019 को पारदर्शी, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न करवाने में अह्म भूमिका निभाएं।
... और पढ़ें

ई-दिशा केंद्र में लगी आग

लघु सचिवालय के द्वितीय खंड स्थित ई-दिशा केंद्र में मंगलवार अलसुबह अचानक संदिग्ध परिस्थितियों में आग लग गई। आग लगने से वहां पर रखे कई कंप्यूटर, प्रिंटर, स्कैनर्स और कैमरे जल गए। आशंका जताई जा रही है कि शार्ट सर्किट के चलते ये घटना हुई है, लेकिन प्रशासन अपने स्तर पर मामले की तह तक जाने में जुट गया है। इस आगजनी में लगभग तीन से चार लाख रुपये के उपकरण और लाखों रुपये की लकड़ी फिटिंग और सीसीटीवी कैमरों के जलने से नुकसान की खबर है। चूंकि ई-दिशा केंद्र में कामकाज पिछले लंबे समय से संदेह के घेरे में चल रहा था, जिसके चलते इस घटना के पीछे किसी प्रकार की साजिश की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता।
चौकीदार ने सबसे पहले खोला था ई-दिशा का गेट
प्रशासनिक सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ई-दिशा के चौकीदार ने रोजाना की तरह ही ई-दिशा केंद्र का दरवाजा खोला था और बकायदा सभी लाइटें और बिजली उपकरण भी चला दिए। इस दौरान वो किसी अन्य कमरे में गया तो पीछे से अचानक ई-दिशा केंद्र में आग लग गई। जिसके बाद उसने शोर मचा दिया और आसपास के कर्मचारियों ने पहले तो फायर सेफ्टी सिलिंडरों से आग पर काबू पाया और ऐतिहातन दमकल विभाग को भी सूचित कर दिया। लेकिन जब तक दमकल विभाग के कर्मचारी घटनास्थल पर पहुंचे, तब तक आग पर काबू पा लिया गया था।
ई-दिशा केंद्र में कामकाज रहेगा प्रभावित, डाटा रिकवरी की कोशिशों में जुटा प्रशासन
आगजनी की घटना के कारण ई-दिशा केंद्र में काफी उपकरण व सिटिंग एरिया में काफी नुकसान हुआ है। इसके चलते इनकी मरम्मत व अन्य परेशानियों के चलते कई दिन तक ई-दिशा केंद्र का कामकाज प्रभावित रह सकता है। जिसके चलते लाइसेंस, आरसी, जमीन की फर्द, आनलाइन एफआईआर आदि कामों को लेकर भी लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।
प्रशासन की ओर से इस आगजनी के कारण हुए नुकसान का आंकलन किया जा रहा है। फिलहाल कोई बेहद जरूरी रिकॉर्ड के नष्ट होने की कोई सूचना नहीं है। इसके अलावा क्षतिग्रस्त हुए कंप्यूटरों की हार्डडिस्क से भी डाटा रिकवर कर लिया जाएगा। - सिकंदर, जिला सूचना अधिकारी।
... और पढ़ें

हेयर ड्रेसर की दुकान में घुसा सांप, वन कर्मचारियों ने किया काबू

चलती बस पर गिरा रेलवे फाटक का बेरियल

भट्टू मंडी के रेलवे फाटक सी 122 पर सवारियों से भरी बस पर फाटक का बूम (बेरियल) गिर गया। यह बेरियल रेलवे लाइनों की हाई वोल्टेज तारों से छू गया। तार से बेरियल के छूते ही चिंगारियां निकलने पर सवारियां भाग कर नीचे उतर गई। जिससे बड़ा हादसा होने से बच गया। इस घटना में रेवाड़ी से चलकर फाजिल्का जाने वाली सवारी रेलगाड़ी करीब डेढ़ घंटे तक आउटर पर खड़ी रही। इस हादसे की सूचना स्टेशन मास्टर वासुदेव भगत ने उच्च अधिकारियों को दी। जिस पर तकनीकी अधिकारियों ने मौकेे पर आकर करंट को डिस्चार्ज कर बस को लाइनों के बीच से हटवाया। इसके बाद सवारी गाड़ी को अपने गंतव्य की ओर रवाना किया गया।
जानकारी अनुसार मंगलवार सुबह गांव रामसरा से रोडवेज बस सवारियां भरकर फतेहाबाद जा रही थी। भट्टू मंडी में रेलवे फाटक क्रास करते समय फाटक का बेरियल टूट कर बस पर गिर गया। यह बेरियल रेलवे लाइन की 25000 हाई वोल्टेज तार से छू गया। जिससे चिंगारियां निकलने लगी। चिंगारियां देख सवारियां बस से नीचे उतर गई। हादसे के कारण बस फाटक के बीच ही रुक गई। इस कारण रेवाड़ी से चल कर फाजिल्का जाने वाली 54784 सवारी रेलगाड़ी करीब डेढ़ घंटे तक आउटर पर ही खड़ी रही। स्टेशन मास्टर की सूचना पर तकनीकी अधिकारियों ने तुरंत लाइन का करंट बंद कर दिया। करंट बंद होने के बावजूद भी इस लाइन में करीब 3000 वोल्टेज का करंट रह जाता है। जिसे डिस्चार्ज करना पड़ता है। विभाग के तकनीकी अधिकारियों ने मौके पर पहुंच कर करंट डिस्चार्ज कर बस को हटवाया। इस बारे में
यह बोले रोडवेज बस चालक
रोडवेज बस चालक राजेश कुमार ने बताया कि बस में करीब 70 सवारियों से खचाखच भरी हुई थी। बस को रेलवे फाटक को क्रास करते समय फाटक का बेरियल टूट कर बस पर गिर गया। रेलवे विभाग के गेट मेन सुमित ने बताया कि किसान एक्सप्रेस गाड़ी के जाने के बाद फाटक खुलते ही वाहनों का आवागमन शुरू हो गया। फाटक सही प्रकार से पूरा खुला हुआ था। बस के बेरियल से टकराने की आवाज के बाद वह कमरे से बाहर आया और घटना की सूचना स्टेशन मास्टर को दी। इस बारे में स्टेशन मास्टर वासुदेव भगत ने कहा कि हादसे की सूचना मिलते ही उच्चाधिकारियों को अवगत करवा दिया। करंट को डिस्चार्ज कर बस को हटाकर गाडिय़ों को आवागमन शुरू करवा दिया गया है।
कई दिन से खराब चल रहा फाटक
मिली जानकारी अनुसार रेलवे लाइन का यह फाटक कई दिनों से खराब चल रहा है। करीब 15 दिन पहले इसी फाटक का एक साइड का बेरियल खुल गया था लेकिन दुसरी साइड का बेरियल जोकि इस बस पर गिरा है फाटक खुलने के बाद बंद ही रह गया। जिसे काफी देर बाद लोगों ने अपने हाथों से उठा कर वाहन निकाले। इतना ही नहीं गत सोमवार सायं करीब साढ़े आठ बजे यही बेरियल एक टाटा एस के ऊपर लदे चारपाई से टकरा कर मुड़ गया था। बाद में रेलवे के अधिकारियों व गणमान्य लोगों ने पंचायती तौर पर समझौता कर मामले को सुलटा दिया था। करीब 12 घंटे बाद ही यह हादसा अब दोबारा हो गया। रेलवे कर्मचारी इस कमजोर बेरियल की बार बार मरम्मत कर चलाने की कोशिश कर रहे है।
... और पढ़ें

करवाचौथ पर रोहिणी नक्षत्र और मंगल का होगा शुभ संयोग

फतेहाबाद। करवा चौथ कार्तिक मास की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है। इस बार करवा चौथ का का व्रत 17 अक्टूबर दिन गुरुवार को रखा जाएगा। इस व्रत में महिलाएं बिना जल ग्रहण किए व्रत रखतीं हैं और रात के वक्त चांद निकलने के बाद व्रत का पारण करती हैं। करवा चौथ पर इस बार रोहिणी नक्षत्र और मंगल का विशेष शुभ संयोग बन रहा है। करवा चौथ पर बनने वाला यह संयोग 70 साल बाद बन रहा है।
श्याम मंदिर के पुजारी पंडित राजेश शर्मा के मुताबिक करवा चौथ पर रोहिणी नक्षत्र और मंगल का योग अत्यधिक मंगलकारी है। इसके अलावा इस करवा चौथ पर रोहिणी नक्षत्र के साथ सत्यभामा और मार्कण्डेय योग भी बन रहा है जो अन्य योगों की तुलना में शुभकारी है। यह शुभ संयोग भगवान श्रीकृष्ण और सत्यभामा के मिलन के समय बना था। सामाजिक मान्यता है कि सुहागिन महिलाएं यदि करवा चौथ व्रत का विधिवत पालन करें तो उनके पति की आयु लंबी होती है। साथ ही वैवाहिक जीवन खुशहाल रहता है। यह व्रत सूर्योदय होने से पहले आरंभ किया जाता है और सूर्यास्त के बाद चांद निकलने तक रखा जाता है। इस व्रत को लेकर एक मान्यता यह भी है कि इसमें सास अपनी बहू को सरगी देती है जिसे लेकर व्रती महिला व्रत की शुरूआत करती है।
करवा चौथ तिथि
17 अक्टूबर दिन-गुरुवार
करवा चौथ पूजा मुहूर्त- शाम 05 बजकर 50 मिनट से 07 बजकर 05 मिनट तक।
कुल अवधि (पूजा के लिए)- 01 घंटा 15 मिनट
करवा चौथ व्रत समय- सुबह 06 बजकर 23 मिनट से रात 08 बजकर 16 मिनट तक।
व्रत की अवधि- 13 घंटे 15 मिनट।
करवा चौथ के दिन चाद निकलने का समय- 08 बजकर 16 मिनट
चतुर्थी तिथि की शुरूआत- 17 अक्टूबर को सुबह 06 बजकर 48 मिनट से
चतुर्थी तिथि का समापन- 18 अक्टूबर सुबह 07 बजकर 29 मिनट
करवा चौथ और संकष्टी चतुर्थी एक ही दिन
करवा चौथ और संकष्टी चतुर्थी एक दिन पड़ते हैं। संकष्टि चतुर्थी पर भगवान गणेश की पूजा की जाती है। वहीं करवा चौथ के दिन विवाहित महिलाएं पति की लंबी आयु की कामना के लिए निर्जला व्रत रखकर भगवान शिव, पार्वती और कार्तिकेय की पूजा करतीं हैं। संध्या काल में चांद देखने के बाद अर्घ्य देकर व्रती अपना व्रत तोड़ती हैं।
... और पढ़ें

जागरूक नहीं हो रहे किसान, पराली जलाने के 23 मामले आए सामने

फतेहाबाद। सरकार की ओर से जागरूकता अभियान चलाने और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेशों के बावजूद जिले में पराली जलाने के मामले में कमी नहीं आ रही है। धान की कटाई शुरू होते ही जिले के किसानों ने पराली जलानी शुरू कर दी है। अब तक जिले में पराली जलाने के 23 मामले सामने आ चुके हैं। हरसैक की रिपोर्ट के अनुसार सोमवार तक जिले में पराली जलाने की 23 घटनाएं सामने आई हैं। उपायुक्त के निर्देशानुसार इन किसानों को नोटिस भेजने की प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है। पिछले साल आज तक 2378 मामले सामने आए थे और इन सभी को जिला प्रशासन ने नोटिस जारी करके करीब 8 लाख रुपये की जुर्माना राशि वसूली थी। शेष किसानों को दोबारा नोटिस जारी किया गया है।
कृषि विभाग के अधिकारियों की मानें तो पिछले साल फतेहाबाद जिले में कुल 2378 जगहों पर पराली जलाई गई थी, जबकि इस साल अभी तक पराली जलाने की 23 घटनाएं अब तक सैटेलाइट की नजर में आ चुकी हैं। इनमें रतिया, टोहाना व फतेहाबाद उपमंडल शामिल हैं। कृषि उपनिदेशक डॉ. बलवंत सिंह सहारण के अनुसार, जिला राजस्व विभाग, कृषि विभाग व ग्राम सचिव की टीमों द्वारा पराली जलाने की वेरिफिकेशन की जा रही है। गांव स्तर पर किसानों के नाम चिह्नित कर व हरसैक से जानकारी जुटाकर इन्हें नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेशों के अनुसार, कार्रवाई की जाएगी।
पिछले साल 1200 किसानों ने भरा था जुर्माना
बीते साल 2378 किसानों को पराली जलाने के मामले में नोटिस जारी किए गए थे। इनमें से 1200 किसानों ने 8 लाख रुपये की जुर्माना राशि भरी थी। शेष 1178 किसानों को इस साल दोबारा नोटिस जारी किया गया है। अगर यह किसान अब जवाब नहीं देते तो उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई जाएगी। गौरतलब है कि पराली जलाने के कारण जिले का पर्यावरण काफी प्रदूषित होता है। कृषि विशेषज्ञों की मानें तो पराली जलाने से जहां भूमि की उर्वरा शक्ति समाप्त होती है, वहीं उपजाऊपन भी समाप्त होता है। यही नहीं मित्र कीट भी पराली जलाने के कारण मर जाते हैं, जिसका सीधा नुकसान फसल उत्पादन को होता है।
ये है जुर्माना का प्रावधान
नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेशों के अनुसार पराली को आग लगाने से पर्यावरण दूषित होता है । जिससे जहरीला धुआं मानव के शरीर को नुकसान पहुंचाता है। ट्रिब्युनल ने सरकार को निर्देश दे रखें हैं कि दो एकड़ में पराली जलाने वाले को 2500 रूपये, 5 एकड़ में आग लगाने वाले किसान को 5 हजार रूपये तथा 5 एकड़ से अधिक में आग लगाने वाले किसान को 15 हजार रूपये प्रति घटना जुर्माना वसूला जाए।
एसएसएम के बिना नहीं चला सकते कंबाइन
नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के अनुसार, किसान एसएमएस (स्ट्रा मैनेजमेंट सिस्टम)के बिना कंबाइन नहीं चला सकते। कंबाइन मालिक को पहले कंबाइन पर एसएमएस सिस्टम लगवाना होगा, अन्यथा किसान की कंबाइन के विरुद्ध एनजीटी के अनुसार, कार्रवाई की जाएगी।
वर्जन
पराली जलाने पर रोक के लिए प्रशासन हर संभव प्रयास कर रहा है, लेकिन जिले के कुछ किसान तमाम हिदायतों के बावजूद पराली जलाने से बाज नहीं आ रहे हैं। ऐसे किसानों को चिह्नित किया जा रहा है। उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
- धीरेन्द्र खड़गटा, उपायुक्त फतेहाबाद
इस बार पराली जलाने के 23 मामले सामने आए हैं। शीघ्र ही किसानों को नोटिस जारी किए जाएंगे। नोटिस का जवाब न देने पर एनजीटी के निर्देशानुसार कार्रवाई की जाएगी।
- डॉ. बलवंत सिंह सहारण कृषि उपनिदेशक, फतेहाबाद
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree