बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

भातू कालोनी में तोड़ी शराब की 185 भट्टियां

मुरादाबाद। आबकारी टीम और पुलिस ने बृहस्पतिवार को संयुक्त रूप से अभियान चलाकर भातू कालोनी में अवैध शराब की 185 भट्ठियां तोड़ दी। इस दौरान दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया और 1630 किग्रा. लहन नष्ट की गई है।
अवैध शराब के सेवन से जनपद में पूर्व में कई लोगों की जान जा चुकी है। हाल ही मेें बाराबंकी में भी शराब पीने की वजह से कई लोगों की जान गई थी। जिसके बाद से लगातार अवैध शराब के खिलाफ अभियान चलाकर कार्र्रवाई की जाती है। शुक्रवार सुबह छह बजे आबकारी टीम ने पुलिस बल के साथ आदर्र्श कालोनी में दबिश दी। भारी पुलिस बल देखकर वहां अफरा तफरी का माहौल बन गया। अवैध शराब के धंधे में लिप्त लोग घरों से निकलकर भागने लगे। कुछ लोगाें ने अपने घरों में ताले लगा दिए। सहायक आबकारी आयुक्त कुलदीप मिश्रा ने बताया कि मौके से 215 लीटर कच्ची शराब, तीन पेटी अंग्रेजी शराब, चार दोपहिया वाहन जब्त किए गए। मौके से दो आरोपी राकेश, अनिल निवासी दसवां घाट गिरफ्तार किए गए हैं।
... और पढ़ें

लिंक एक्सप्रेस ट्रेन पर किया पथराव

मुरादाबाद। मुरादाबाद रेल मंडल के बबराला में शुक्रवार को साढ़े ग्यारह बजे लिंक एक्सप्रेस ट्रेन पर कुछ शरारती तत्वों ने पथराव कर दिया। जिसमें चालक केबिन के शीशे टूट गए। चालक ने इमरजेंसी ब्रेक लगाकर ट्रेन रोक दी। इसी बीच पथराव करने वाले मौके से भाग गए। इसके बाद ट्रेन आगे के लिए रवाना कर दी गई।
लिंक एक्सप्रेस ट्रेन शुक्रवार को अलीगढ़ से देहरादून जा रही थी। सुबह ग्यारह बजकर 30 मिनट पर ट्रेन बबराला रेलवे स्टेशन से से गुजर रही थी। इसी दौरान कुछ शरारती तत्वों ने ट्रेन पर पथराव कर दिया। पथराव में चालक केबिन के शीशे टूट गए। गनीमत रही कि चालक और सह चालक को पत्थर नहीं लगा। चालक ने इमरजेंसी ब्रेक लगाकर ट्रेन रोक दी। ट्रेन रुकते ही शरारती तत्व फरार हो गए। इसके बाद रेलवे कंट्रोल रूम में इसकी जानकारी दी। जीआरपी और आरपीएफ जवानों ने पथराव करने वालों की तलाश की, लेकिन उसका पता नहीं चल गया। बीस मिनट बाद ट्रेन आगे के लिए रवाना कर दी गई।
... और पढ़ें

रुड़की में बनी नकली क्रीम, दिल्ली से जुड़े तार

मुरादाबाद। नकली दवाएं बेचकर जन स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने वाले आरोपी अभी तक पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ सके हैं। औषधि प्रशासन की छानबीन में गिरोह के नेटवर्क की चेन परत दर परत खुलने लगी है। भोजपुर में लोकल एनेस्थेटिक्स आइंटमेंट की पैकिंग के बाद अब एक नए खुलासे ने विभाग की नींद उड़ा दी है। बरामद नकली एंटी फंगल क्रीम उत्तराखंड के रुड़की में बनी है। रुड़की से मुजफ्फरनगर, दिल्ली और गाजियाबाद होकर मुरादाबाद पहुंची है। औषधि विभाग ने संबंधित जिलों की पुलिस एवं औषधि विभाग को इसकी जानकारी सौंपकर नेटवर्क से जुड़े लोगों को गिरफ्तार करने में मदद मांगी है।
मुरादाबाद जिला खाद्य एवं औषधि प्रशासन की टीम ने बुधवार को बिंदल मेडिकल एजेंसी और फेयर मेडिकोज में छापामारी कर एंटी फंगल क्रीम और लोकल एनेस्थेटिक्स आइंटमेंट की करीब 1500 ट्यूब एवं डिब्बे बरामद किए थे। दोनों दवाएं नकली थी। क्रीम मुंबई की नामी फार्मा कंपनी और आइंटमेंट आयुर्वेदिक कंपनी के नाम से बेची जा रही थी। जब्त दवाओं की कीमत साढ़े बारह लाख रुपये है। फेयर मेडिकोज के स्वामी जाहिद ने पूछताछ में क्रीम गाजियाबाद अल्वी मार्केट, वाल्मीकि बस्ती स्थित गुडविल फार्मेसी से सप्लाई बताई थी। जबकि आइंटमेंट की भोजपुर में ही एक आयुर्वेदिक फैक्टरी में पैकिंग होने की पुष्टि हुई है। औषधि प्रशासन की टीम ने नकली दवा मामले में दोनों मेडिकल स्टोर संचालकों और गाजियाबाद की फार्मा कंपनी समेत पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। फेयर मेडिकोज के स्वामी जाहिद को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। बाकी आरोपी फरार हैं।
औषधि निरीक्षक नरेश मोहन दीपक के मुताबिक छानबीन में गिरोह की परत खुलने लगी है। उन्होंने बताया कि एंटी फंगल क्रीम रुड़की से बनकर मुजफ्फरनगर सप्लाई हुई हैं। वहां से दिल्ली भगीरथ पैलेस और फिर गाजियाबाद पहुंची हैं। गाजियाबाद से क्रीम मुरादाबाद आई है। औषधि निरीक्षक के मुताबिक रुड़की में नकली दवाएं बनती हैं। 28 मार्च 2019 को अमरोहा में पकड़ी गई नकली दवाओं का लिंक भी रुड़की से था। इससे पहले 9 सितंबर 2018 को रुड़की में छापामारी कर नकली दवा बनाने वाली चार फैक्ट्रियां सील हुई हैं। औषधि निरीक्षक ने बताया कि भोजपुर में आयुर्वेदिक फैक्ट्री में छापा मारा गया, लेकिन आरोपी फरार है। आरोपियों की गिरफ्तारी से कई नई जानकारियां सामने आएंगी।
... और पढ़ें

मुरादाबादः ट्यूशन पढ़ाने गई युवती की हत्या, दुष्कर्म की आशंका

शनिवार को ट्यूशन पढ़ाने के लिए घर से गई युवती की हत्या कर दी गई। युवती का शव रविवार की सुबह एक खाली प्लाट में पड़ा मिला। आशंका जताई जा रही है कि उसे दुष्कर्म के बाद मौत के घाट उतार दिया गया। पोस्टमार्टम में गला घोंटकर हत्या की पुष्टि हुई है। दुष्कर्म के शक में स्लाइड बनाकर प्रयोगशाला भेजी गई है। सीएम के दौरे से एक दिन पहले अनुसूचित जाति की युवती के साथ वारदात से पुलिस में हड़कंप मच गया है।

शहर के मझोला थाना क्षेत्र की एक कालोनी की रहने वाली 23 वर्षीय युवती शनिवार दोपहर करीब साढ़े तीन बजे रोज की भांति निकट के ही एक मोहल्ले में बच्चों को ट्यूशन पढ़ाने गई थी लेकिन रात तक वापस नहीं आई। तलाश के बीच रविवार सुबह एक अन्य मोहल्ले में खाली प्लाट में उसका अर्द्धनग्न शव मिला। फोरेंसिक टीम ने मौके से कुछ सैंपल लिए। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवाया। पोस्टमार्टम में गला घुटने से मौत व नाजुक अंगों पर चोट की बात सामने आई। 

उधर देर रात भड़के युवती के परिजनों ने उसका शव लोकोशेड पुल के पास रखकर जाम लगा दिया। आरोपियों पर जल्द कार्रवाई की मांग की। एसएसपी प्रभाकर चौधरी के मुताबिक हत्या का मुकदमा दर्ज कर आरोपियों की तलाश की जा रही है।

परिवार का थी सहारा
मजदूर परिवार की रहने वाली इस युवती के पिता की मौत हो चुकी है। परिवार में कई भाई बहन है। चूंकि युवती बीएससी कर रही थी और इनमें सबसे बड़ी थी तो वह बच्चों को ट्यूशन पढ़ाकर परिवार की काफी मदद कर रही थी। शनिवार को भी वह घर से ट्यूशन पढ़ाने गई थी। उसने एक घर में ट्यूशन पढ़ाया और उसके बाद दूसरी जगह भी गई। वहां भी बच्चों को पढ़ाकर निकली लेकिन वापस नहीं लौटी। परिजनों ने पहले पुलिस को इसकी सूचना दी और फिर रात भर खुद भी तलाश में लगे रहे।

उधर रविवार की सुबह शहर के ही एक कालोनी के खाली प्लाट में एक युवती का शव अर्द्धनग्न अवस्था में मिला। उस समय तक किसी को यह पता नहीं था कि युवती कौन है। चूंकि गायब  परिजन भी तलाश में जुटे थे और पुलिस भी अलर्ट थी तो ऐसे में सूचना मिलते ही पुलिस और परिजन दोनों मौके पर पहुंच गए। परिजनों के आते ही पता चला गया कि शव गायब हुई युवती का ही है।

गले पर थे काले निशान
युवती के गले पर गहरे काले निशान थे तथा नाक और कान से खून भी बह रहा था। पुलिस दो बिंदुओं पर काम कर रही है । एक, कि युवती की इसी प्लाट में हत्या की गई या  उसे किसी दूसरी जगह मारकर यहां फेंका गया। इसके लिए पुलिस ने दो मोहल्ले के कई सीसीटीवी कैमरों की फुटेज चेक की है। फुटेज में भी कई अहम सुराग सामने आ रहे हैं।

इसलिए गायब हो गए थे पुलिसकर्मी
पोस्टमार्टम के बाद शाम छह बजे युवती का शव घर पहुंच गया तो थाना मंझोला पुलिस ने परिजनों से कहा कि उसका अंतिम संस्कार अभी करा दिया जाए। सात बजे गए। पुलिस को लगा कि रात होने के बाद कहीं अंतिम संस्कार कराने पर सवाल खड़े न हो जाएं। हाथरस की घटना में पुलिस ने रात को अंतिम संस्कार कराया था और उसका वीडियो वायरल होने से बड़ा हंगामा हुआ था। ऐसे में पुलिसकर्मियों ने अंतिम संस्कार को तो कहा पर  रास्ते में पुलिसकर्मी गायब हो गए। शव यात्रा जब मोक्षधाम पर पहुंच गई तो यहां गेट बंद था।

भीतर से गार्ड ने गेट खोले से इंकार कर दिया क्योंकि पुलिस तो साथ थी नहीं। ऐसे में युवती के परिजनों ने सड़क पर शव रखकर हंगामा शुरू कर दिया। इससे यहां जाम लग गया। इस पर सभी अधिकारियों के हाथ पांव फूल गए। एसपी सिटी व सिटी मजिस्ट्रेट आनन फानन वहां पहुंचे और स्थिति को नियंत्रित कराया। साथ ही युवती का अंतिम संस्कार भी कराया गया।

मिल  गया फोन और पर्स, खंगाली जा रही है सीडीआर
युवती के फोन कॉल डिटेल रिकार्ड चेक किया जा रहा है। पुलिस यह जानने की कोशिश कर रही है कि किसने उससे अंतिम बार बात की और उसकी अंतिम लोकेशन कहां थी। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक युवती के शव के पास ही उसका पर्स और मोबाइल भी था जिसे पुलिस ने कब्जे में ले लिया। हालांकि इसे अभी उजागर नहीं किया जा रहा है।


पुलिसकर्मी तो अंतिम संस्कार कराने के लिए साथ ही गए थे। हो सकता है थोड़ा पीछे रह गए हों। उधर मोक्षधाम के गार्ड को भी स्थिति का पता नहीं था पर जैसे ही वहां हंगामा शुरू हुआ तत्काल पुलिस पहुंच गई थी। इसके बाद अंतिम संस्कार हुआ। उधर आरोपियों की तलाश में भी सीसीटीवी फुटेज देख रहे हैं। अहम सुराग मिले हैं। 
- अमित आनंद, एसपी सिटी

सुबह एक अज्ञात युवती का शव मिलने की सूचना पर पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा था। बाद में परिवार वालों ने उसकी शिनाख्त की। हत्या का मुकदमा दर्ज किया
गया है। आरोपियों को जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।
-प्रभाकर चौधरी, एसएसपी
... और पढ़ें
crime scene crime scene

लॉकडाउन में नौकरी छूटी तो कॉल सेंटर खोलकर शुरू कर दी साइबर ठगी 

बीमा पॉलिसी का समय से पहले भुगतान कराने का झांसा देकर साइबर ठगी करने गिरोह के सरगना समेत दो आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं। आरोपियों ने पुलिस पूछताछ में कबूला है कि वे बीमा कंपनी में नौकरी करते थे। लॉक डाउन में नौकरी छूटी तो उन्होंने गाजियाबाद के लाजपत नगर में कॉल सेंटर खोलकर साइबर ठगी का धंधा शुरू कर दिया। पुलिस ने एक लाख 49 हजार रुपये नकद और पंद्रह मोबाइल, 19 सिम कार्ड और दो लैपटॉप समेत अन्य सामान भी इनकी निशानदेही पर बरामद किया है। पुलिस इनके एक साथी अभिषेक को तीन दिन पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। आरोपी अभिषेकके बैंक खाते में एक लाख 92 हजार रुपये फ्रीज भी करा दिए गए हैं। 

पुलिस अधीक्षक नगर अमित आनंद और एएसपी कुलदीप सिंह गुनावत ने शनिवार दोपहर पुलिस लाइन में प्रेस वार्ता की। उन्होंने यहां साइबर ठगी करने वाले गिरोह का खुलासा किया। एसपी सिटी ने बताया कि मझोला थानाक्षेत्र के बुद्धि विहार निवासी जागेश कुमार ने साइबर थाने में केस दर्ज कराया था। बिजली विभाग में एसडीओ जागेश ने बताया था कि साइबर ठगों ने उन्हें कॉल कर झांसा दिया कि वो उनकी बीमा पॉलिसी का समय से पहले ही भुगतान करा देंगे। अगर वह लोन लेना चाहते तो लोन भी हो जाएगा। आरोपियों ने खुद को बीमा कंपनी का अधिकारी बताकर बात की थी। 

आरोपियों के झांसे में आए जागेश से उनके बताए खातों में चार लाख 64 हजार 95 रुपये जमा करा दिए थे। इस मामले में साइबर थाने पुलिस ने तीन दिन पहले एक आरोपी अभिषेक निवासी ए 383 चिराग दिल्ली थाना मालवीय नगर( दिल्ली) को गिरफ्तार किया था। उसने पूछताछ में अपने गिरोह और अन्य सदस्यों की जानकारी दी थी। तब से साइबर थाने की पुलिस अन्य आरोपियों की तलाश में जुटी थी। 

शुक्रवार रात को पुलिस ने गिरोह के सरगना आरोपी संदीप राजीव  निवासी सी 26, श्याम पार्क एक्सटेंशन थाना साहिबाबाद जनपद गाजियाबाद मूलरूप निवासी मोहल्ला क्वारसी कस्बा थाना महुआ जनपद वैशाली (बिहार )और इसके साथी संदीप निवासी मोहल्ला महाजनान थाना शाहपुर जिला मुजफ्फरनगर को गाजियाबाद के लाजपतनगर से गिरफ्तार किया है। 

आरोपी राजीव ने पुलिस को बताया कि वह बीमा कंपनी में नौकरी कर चुका है। लॉक डाउन में नौकरी छूट गई थी। उसके पास बीमा धारकों की डिटेल थी। इसके बाद उसने गाजियाबाद के लाजपत नगर में कॉल सेंटर खोलकर लोगों से साइबर ठगी शुरू कर दी। जिन लोगों ने पहले से बीमा पॉलिसी करा रखी थी। उन्हें ही कॉल करते थे। एसपी सिटी ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों के गिरोह में काफी लोग शामिल हैं। सभी के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। 

ये सामान हुआ बरामद 

149000 रुपये नकद
पंद्रह मोबाइल 
दो लैपटॉप 
एक टैबलेट 
19 सिम कार्ड 
13 एटीएम कार्ड  
दो रजिस्टर 
आरोपी अभिषेक के बैंक खाते में 192000 रुपये फ्रीज कराए गए हैं। 

छह माह में सैकड़ों लोगों से कर चुके हैं साइबर ठगी 
मुरादाबाद। पुलिस गिरफ्त में आए गिरोह के सरगना ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उन्होंने अप्रैल माह में ही अपना दफ्तर खोल लिया था। इसके बाद उन्होंने यूपी, उत्तराखंड, राजस्थान, हरियाणा, पंजाब, मध्य प्रदेश समेत देश के अन्य राज्यों के लोगों को कॉल करके उन्हें झांसा देते थे कि वह उनकी बीमा पॉलिसी का भुगतान करा देंगे। अगर वह लोन कराने चाहते हैं तो लोन भी करा देंगे। जो लोग झांसे में आ जाते थे उनसे अपने एकाउंट में रुपये जमा करा लेते थे। 

साइबर थाने की टीम को मिलेगा ईनाम 
मुरादाबाद। एसपी सिटी ने बताया कि साइबर अपराध थाना खुलने के बाद साइबर अपराध की घटनाओं का खुलासा किया जा रहा है। खुलासा करने वाली टीम में निरीक्षक नरेश पाल सिंह, सुरेंद्र सिंह, मोहम्मद शाह फैसल, कांस्टेबल नवीन कुमार और मोंटी व महिला कांस्टेबल संध्या वर्मा ने बेहतर काम किया है। खुलासा करने वाली टीम को सम्मानित किया जाएगा।
... और पढ़ें

ठाकुरद्वारा डबल मर्डर में सनसनीखेज खुलासा, पुजारी ने की थी ये वहशियाना हरकत

दीपावली की रात ठाकुरद्वारा के श्मशान में हुए दोहरे हत्याकांड के पीछे हैरान करने वाली कहानी सामने आई है। वारदात के मुकदमे में शक की बुनियाद पर नामजद युवक ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि श्मशान में पुजारी और एक अन्य युवक की हत्या कस्बे के ही एक मजदूर ने फावड़े से सिर कुचलकर की थी।

खुद को वारदात का चश्मदीद बता रहे युवक का दावा है कि पुजारी ने छह माह पहले मजदूर की बहन के शव को चिता से निकालकर उसका मांस खाया था। इसी से खफा होकर मजदूर ने वारदात को अंजाम दिया।

एसएसपी का कहना है कि मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी से पहले युवक के दावे पर यकीन नहीं किया जा सकता। ठाकुरद्वारा के मोहल्ला होलिका स्थित श्मशान में दीपावली की रात पुजारी राजेंद्र गिरि (35) और ठाकुरद्वारा क्षेत्र के कालाझांडा निवासी नितेश (42) की सिर कुचलकर नृशंसता से हत्या कर दी गई थी। दोनों के रक्त रंजित शव सोमवार को श्मशान में पड़े मिले थे।

राजेंद्र गिरी ठाकुरद्वारा क्षेत्र के ही गांव दूल्हापुर सबलपुर का रहने वाला था और श्मशान में बने मंदिर में पूजा पाठ व तंत्र क्रिया करता था। पुजारी के भाई नंदू ने शक के आधार पर कस्बे के ही मोहल्ला जमनावाला निवासी बंटी उर्फ योगेंद्र को नामजद किया था। मंगलवार को पुलिस ने बंटी से पूछताछ की तो उसने दावा किया कि दोहरे हत्याकांड को ठाकुरद्वारा के ही एक मजदूर ने अंजाम दिया है।

सीओ ठाकुरद्वारा विशाल यादव का कहना है कि बंटी ने जो कहानी सुनाई है उसके मुताबिक मजदूर की बहन की छह माह पहले बीमारी से मौत हो गई थी। उसका अंतिम संस्कार होलिका स्थित श्मशान में किया गया था। तब पुजारी ने जलती चिता से शव निकालकर उसका मांस खाया था। इसी बात से आरोपी आहत था।

दीपावली पर वह पुजारी को मिठाई देने के बहाने श्मशान गया और फिर अचानक फावड़े से उस पर हमला बोल दिया। एएसपी उदय शंकर का कहना है कि मुख्य आरोपी अंकुश की तलाश की जा रही है।

एक युवक ने पूछताछ में हत्या के पीछे एक कहानी सुनाई है। जब तक उसकी बातों की तस्दीक नहीं हो जाती तब तक हम यह नहीं कह सकते कि पुजारी द्वारा जलती चिता से शव निकालकर खाने की वजह से हत्याकांड को अंजाम दिया गया है। अहम सुराग हाथ लगे हैं लेकिन मुख्य आरोपी अभी तक पुलिस की पकड़ से दूर है। उसकी गिरफ्तारी के बाद ही घटना का खुलासा होगा। 
-अमित पाठक, एसएसपी
... और पढ़ें

बड़े अफसर को रूपजाल में फंसाने का नेता ने दिया 30 लाख का ठेका, ऐसे हुआ खुलासा

ब्यूरोक्रेसी को बैकफुट पर लाने के लिए मंडल में एक नेता द्वारा एक आला अफसर को हनी ट्रैप में फंसाने की साजिश रचने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। 

अफसर के पास लगातार पहुंचीं एक लड़की की गैरजरूरी फोन कॉल्स पर शक होने के बाद हुई गोपनीय जांच से मामले का खुलासा हुआ है। सर्विलांस की मदद से अफसर इस साजिश की तह तक पहुंचे तो पता चला कि कॉल करने वाली लड़की को 30 लाख रुपये में अफसर को फंसाने का कांट्रेक्ट दिया गया था।

हनी ट्रैप की साजिश का यह सनसनीखेज मामला मंडल के एक जिले से जुड़ा है। यहां तैनात एक आईएएस अधिकारी के पास पिछले कुछ दिनों से एक लड़की के लगातार फोन कॉल्स आ रहे थे। लड़की अलग-अलग बहानों से आला अफसर से बार-बार संपर्क कर रही थी। लड़की के व्यवहार और लगातार आते फोन कॉल्स पर आईएएस अधिकारी को शक हुआ तो उन्होंने इसकी छानबीन कराने का फैसला किया। 

गोपनीय तरीके से संबंधित लड़की और उसके फोन नंबर की जांच कराई गई तो लड़की के एक कद्दावर नेता के संपर्क में होने का खुलासा हुआ। इसके बाद इलेक्ट्रानिक सर्विलांस की मदद से पूरे मामले की पड़ताल एजेंसियों से कराई गई अफसर भी चौंक गए। सर्विलांस में लड़की को 30 लाख रुपये में अफसर को फंसाने का कांट्रेक्ट दिए जाने की बात सामने आई है। 

अफसर को फंसाने के लिए लिखी गई हनी ट्रैप की पूरी पटकथा उजागर होने के बाद इसकी जानकारी शासन तक भेजी गई है। अभी पूरे मामले को गोपनीय रखा गया है। माना जा रहा है कि लड़की सीडीआर में फोन कॉल्स को आधार बनाकर अफसर से अपने रिश्तों का दावा करने वाली थी। लेकिन इससे पहले ही उसका खेल उजागर हो गया। मामले में आगे के कदम पर अफसर मंथन कर रहे हैं।
... और पढ़ें

यूपी: किन्नर ने युवक को बेहोश कर निजी अंग काटा, अस्पताल में भर्ती

प्रतीकात्मक तस्वीर
सिविल लाइंस थाना क्षेत्र के अगवानपुर में एक किन्नर ने उधारी की रकम मांगने आए युवक को नशीला पदार्थ देकर धारदार हथियार से उसका निजी अंग (प्राइवेट पार्ट) काट दिया। युवक को नाजुक हालत में कॉसमॉस अस्पताल लाया गया। यहां से उसे दिल्ली रेफर कर दिया गया है। पुलिस ने दबिश दी तो आरोपी किन्नर घर से भाग निकला। लेकिन पुलिस ने घटनास्थल से कटा हुआ निजी अंग बरामद किया है। देर रात तक वारदात में कोई एफआईआर दर्ज नहीं हुई थी।

घटना अगवानपुर के एक मोहल्ले में रहने वाले किन्नर के घर हुई। पुलिस का कहना है कि आरोपी किन्नर भी इसी तर्ज पर कुछ साल पहले किन्नर बना था। पीड़ित युवक ने किन्नर के घर कुछ काम किया था। उसके मेहनताने की रकम किन्नर पर बाकी थी। गुरुवार को रात करीब नौ बजे वह किन्नर के घर अपनी रकम मांगने गया था। किन्नर ने चाय पिलाने का बहाना कर उसे बैठा लिया। चाय में नशीला पदार्थ मिलाकर वारदात को अंजाम दिया। युवक ने घर पहुंचकर परिजनों को वारदात की जानकारी दी तो वह उसे लेकर कॉसमॉस अस्पताल पहुंचे।

सूचना पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। इंस्पेक्टर सिविल लाइंस शक्ति सिंह ने बताया कि घटना की बाबत पुलिस को अभी तहरीर नहीं मिली है। आरोपी किन्नर घर से फरार है। युवक का इलाज करने वाले कॉसमॉस के चिकित्सक डा. जावेद का कहना है कि प्लास्टिक सर्जरी से ही युवक का इलाज मुमकिन है इसलिए उसे दिल्ली रेफर कर दिया है।
... और पढ़ें

25 हजार का इनामी मुठभेड़ में जख्मी

मुरादाबाद। दस साल पहले बरेली में कचहरी से पुलिस अभिरक्षा से फरार हुआ 25 हजार का इनामी आरिज उर्फ श्यामबाबू मुठभेड़ के बाद पकड़ा गया है। उसके पैर में गोली लगी है। मुठभेड़ रविवार रात सवा बजे हर्बल पार्क चौराहे के पास हुई है। आरोपी का दूसरा साथी मौके से भागने में कामयाब हो गया है।
सीओ सिविल लाइन राजेश कुमार ने बताया कि आरिज उर्फ श्यामबाबू मूलत: औरेया के थाना दिव्यापुर स्थित कमालपुर डेरा का रहने वाला है। एसओजी टीम को सूचना मिली थी कि वह रविवार रात मझोला थानाक्षेत्र में हर्बल पार्क के पास देखा गया है। उसकी तलाश में एसएचओ मझोला अजय गौतम और एसओजी टीम ने हर्बल पार्क के पास रात सवा बजे घेराबंदी की। इस दौरान लाल रंग की अपाचे पर दो संदिग्ध दिखाई दिए। उनको रोकने की कोशिश की तो संदिग्धों ने पुलिस पर फायरिंग कर दी। पुलिस ने जवाबी फायरिंग की तो एक आरोपी के पैर में गोली लग गई। वह मौके पर गिर गया, उसका दूसरा साथी भाग गया। जख्मी बदमाश ही आरिज उर्फ श्यामबाबू है। वह पूर्व में डकैती की कई वारदातों को अंजाम दे चुका है। अंदेशा है कि आरिज यहां पर किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की कोशिश में था। आरोपी को उपचार के लिए अस्पताल भिजवा दिया गया है। उसके दूसरे साथी का पता लगाया जा रहा है। जल्द ही उसे भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

जहां पहुंचे थे सीएम.. वहीं हुई मुठभेड़
मुरादाबाद। रविवार को मुरादाबाद दौरे के दौरान दिन में सीएम योगी हर्बल पार्क के पास ही बन पीएम योजना के आवास देखने के लिए गए थे। उससे थोड़ी दूरी पर ही ये मुठभेड़ हुई है, जिसमें आरिज पकड़ा गया है।

हाथ में तमंचा, बगल में बाइक
मुरादाबाद। मुठभेड़ की सूचना मिलने पर मीडिया पहुंची तो आरोपी के एक हाथ में तमंचा था। उसके पैर से खून बह रहा था। मौके पर भारी पुलिस बल था। पुलिस आरोपी के कब्जे से बाइक और तमंचा बरामद किया है।
... और पढ़ें

सीएम योगी ने अमरोहा और संभल में पुलिस लाइन बनवाने के दिए निर्देश

मुरादाबाद। मुरादाबाद दौरे पर आए सीएम योगी आदित्यनाथ ने रविवार को अमरोहा और संभल में पुलिस लाइन बनवाने के निर्देश दिए हैं। संभल में महिला थाना भी बनाया जाएगा। इसके अलावा मुरादाबाद में इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सिस्टम तैयार करने के निर्देश भी मुख्यमंत्री ने पुलिस अधिकारियों को दिए हैं। पूरा शहर बहुत जल्द सीसीटीवी कैमरों की जद में होगा।
मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को हिदायत दी है कि आम जनता और फरियादियों के साथ पुलिस कर्मी विनम्रता से पेश आएं। जिले में कप्तान और डीएम औचक निरीक्षण करें। महिला अपराध पर अंकुश लगाया जाए। पुलिस अधिकारी शहर में रोजाना पैदल गश्त करें। पॉक्सो एक्ट के मामलों की पैरवी कर अपराधियों को सजा दिलाई जाए। एंटी रोमियो स्क्वाड शहर और देहात एरिया में जाकर महिलाआें, युवतियों को जागरूक करें। खनन माफियाओं पर सख्ती से कार्रवाई करें। अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए पुलिस द्वारा टेक्नॉलाजी का इस्तेमाल किया जाए। पुलिस के प्रति जनता के दिल में विश्वास को बढ़ाया जाए। इसके साथ ही सभी विभागों के अधिकारी आपस में तालमेल बनाकर काम करें। बैठक में आईजी रमित शर्मा, एसएसपी अमित पाठक सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।
... और पढ़ें

सीएम बोले.. मुरादाबाद की यातायात व्यवस्था बेहद खराब है

मुरादाबाद। साल दर साल जनपद में सड़क हादसों में मरने वाले लोगों की संख्या बढ़ रही है। जिसका जिम्मेदार यहां का ट्रैफिक सिस्टम भी है। यही वजह रही कि सर्किट हाउस से जिला अस्पताल तक आने-जाने के दौरान ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस कमी का पता कर लिया। इसके बाद कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक में दो टूक कह भी दिया कि मुरादाबाद का ट्रैफिक सिस्टम बेहद खराब है। यहां यातायात के नियमों का पालन होता दिखाई नहीं दे रहा है। खासतौर पर वह दोपहिया वाहन पर हेलमेट न पहने जाने के कारण नाराज दिखे।
बैठक में मौजूद एसएसपी अमित पाठक ने सीएम को बताया कि सर.. यहां पर ट्रैफिक सिस्टम को सुधारने का कार्य शुरू कर दिया गया है। एक सप्ताह के अंदर कुछ सुधार भी हुआ है। सीएम ने कहा कि यहां पर तेजी से और सुधार किए जाएं। यातायात के नियमों का पालन करने के लिए लोगों को जागरूक किया जाए, जो न माने उसके वाहनों का चालान कर दिया जाए। एसएसपी ने सीएम को भरोसा दिलाया कि आने वाले समय में यहां पर ट्रैफिक सिस्टम को सुधारने पर विशेष तौर पर फोकस किया जाएगा, यातायात के नियमों का पालन करवाया जाएगा।
... और पढ़ें

विदेश से सीधे अदालत पहुंचा हत्यारोपी सपा नेता

मुरादाबाद। पाकबड़ा के बहुचर्चित आरटीआई कार्यकर्ता कासिम हत्याकांड में फरार सपा नेता हारून सैफी विदेश से सीधा अदालत पहुंचा और शनिवार को आत्मसमर्पण कर दिया। दो जिलों की पुलिस हाथ पर हाथ रखकर उसके विदेश से लौटने का इंतजार ही करती रही। अदालत ने हत्यारोपी की जमानत अर्जी खारिज कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। इस मामले में सपा नेत्री अल्का दुबे और दो अन्य आरोपी को पुलिस पहले ही जेल भेज चुकी है।
पाकबड़ा निवासी कासिम सैफी आरटीआई कार्यकर्ता था। 27 दिसंबर 2018 को कासिम अपने घर से तहसील जाने के लिए निकला था। 29 दिसंबर को उसकी गुमशुदगी दर्ज की गई थी। जबकि तीन जनवरी को गुमशुदगी को अपहरण में तरमीम किया गया था। पुलिस ने तफ्तीश करते हुए नौ जनवरी 2019 को विकास चौधरी को गिरफ्तार उसकी निशानदेही पर शामली से कासिम का शव बरामद किया था। पुलिस ने दावा किया था कि पाकबड़ा के पूर्व प्रधान व सपा नेता हारून सैफी ने सपा नेत्री अलका दुबे के जरिये कासिम की हत्या की सुपारी दी थी। 14 जनवरी को पुलिस ने अलका और कुलदीप को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी हारून सैफी उमरा करने सऊदी अरब चला गया था। पुलिस उसके विदेश से लौटने का इंतजार कर रही थी। शनिवार को उसने अपने अधिवक्ता के जरिये मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया। अदालत ने सुनवाई करते हुए उसकी जमानत अर्जी दाखिल कर उसे चौदह दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। अभियोजन पक्ष के अधिवक्ता अजीत सिंह ने बताया कि हत्या के मामले में हारून सैफी ने सरेंडर किया है।


आरोपी पक्ष ने बिजनौर ट्रांसफर करा ली थी जांच
मुरादाबाद। पाकबड़ा पुलिस ने इस हत्याकांड का खुलासा था। पुलिस ने पूर्व प्रधान और उसके परिवार पर भी शिकंजा कसा। लेकिन इसी बीच आरोपी की बेटी ने एडीजी से जांच बिजनौर ट्रांसफर कर ली थी। कासिम के परिजन जांच वापस पाकबड़ा थाने में कराने की मांग कर रहे थे।




... और पढ़ें

खालिद के आंगन में महकने को तैयार रेशमा बनी तुलसी

मुरादाबाद। मझोला के चिड़िया टोला में रहने वाले एक युवक को बजरंग दल के पदाधिकारियों की शिकायत पर शुक्रवार को पुलिस ने एक युवती को धर्म छिपाकर रखने के आरोप में हिरासत में लिया है। लेकिन इस मामले में युवती ही अब खालिद के बचाव में आ गई है। उसने मझोला पुलिस को बताया कि खालिद से वह प्यार करती है। उसके प्यार की खातिर ही वह अपना धर्म परिवर्तन कर तुलसी से रेशमा बनी और खालिद से निकाह किया है। तुलसी से रेशमा बनी युवती अब खालिद के ही घर में रहने पर अड़ी है।
तुलसी उर्फ रेशमा ने बताया कि वह मूलत: असम के तिनसुकिया की रहने वाली है। उसके माता, पिता और भाई की मौत हो चुकी है। जीविका की तलाश में वह आठ साल पहले असम से अपनी सहेली के साथ दिल्ली आई थी। दिल्ली से वह घरेलू सहायिका की नौकरी करने के लिए मानसरोवर कालोनी आ गई। यहां पर एक कोठी में काम करने के दौरान ही मोहल्ले में कपड़ों की फेरी करने के लिए आने वाले पाकबड़ा के खालिद से उसकी डेढ़ साल पहले मुलाकात हुई। कुछ दिनों बाद दोनों ने एक दूसरे से प्यार का इजहार किया। तुलसी ने बताया कि उसे शुरू से ही पता था कि खालिद दूसरे समुदाय का है। इसलिए दोनों के निकाह में अड़चन आ रही थी। जिस वजह से खालिद के कहने पर उसने बदायूं जाकर धर्म परिवर्तन किया और तुलसी से रेशमा बनी।
दोनों ने निकाह कर लिया लेकिन आठ साल तक शहर में रहने के कारण तुलसी को शहर में रहने की आदत पड़ गई थी। खालिद उसे गांव में ले जाना चाहता था लेकिन उसने इंकार किया। इस वजह से दोनों चिड़िया टोला में किराए के कमरे में रहने लगे थे। रेशमा ने बताया कि खालिद उसका अच्छे से ख्याल रखता है। जब वह बेसहारा थी तो खालिद ने ही उसको सहारा दिया अब वह उसके साथ ही रहना चाहती है। पुलिस से उसने गुहार लगाई कि उसके पति को थाने से छोड़ दें। उसे मामूली विवाद में फर्जी आरोप लगाकर फंसाया गया है। मकान मालिक को रुपये उधार दिए थे। जिसको लेकर कहासुनी हुई थी। एसएचओ मझोला अजय गौतम ने बताया कि मकान मालिक से कहासुनी होेने की वजह से खालिद का शांतिभंग में चालान किया है। उसके खिलाफ लगाए गए अन्य आरोप गलत पाए गए हैं। बेवजह मामले को तूल दिया जा रहा था।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन