विज्ञापन

हिसार

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

हिसार: चौधरीवाली में मुख्यमंत्री उड़नदस्ते ने छापा मार गोदाम से बरामद किए नकली खाद के 260 बैग

हरियाणा के हिसार में खाद की किल्लत का फायदा उठाकर काली कमाई करने वालों पर प्रशासन ने सख्ती बरतनी शुरू कर दी है। गांव चौधरीवाली में वीरवार को मुख्यमंत्री उड़नदस्ते ने कृषि विभाग के अधिकारियों के साथ एक गोदाम में छापा मारा। इस दौरान गोदाम से विभिन्न कंपनियों के नकली खाद के 260 बैग बरामद किए। इसके अलावा गोदाम से काफी मात्रा प्रिंटेड खाली बैग व भारी मात्रा में ज्वार का बीज, चना, गेहूं, ग्वार, सरसों का अवैध स्टॉक मिला। 

मुख्यमंत्री उड़नदस्ते के इंस्पेक्टर इंद्र सिंह, एसआई ईश्वर सिंह व बजरंग, सिपाही राजबीर, कृषि विभाग से क्यूसीआई डॉ. राजबीर सिंह, फील्ड ऑफिसर रमेश कुमार वीरवार को चौधरीवाली के गोदाम में पहुंचे। जांच के दौरान गोदाम में विभिन्न कंपनियों की खाद के 260 बैग, 3.20 क्विंटल ज्वार का बीज, साढ़े 32 क्विंटल चना, पांच क्विंटल गेहूं, 200 क्विंटल ग्वार व 145 क्विंटल सरसों का स्टॉक मिला।

अनाज के मिले अवैध भंडारण के चलते टीम ने आदमपुर मार्केट कमेटी के अधिकारियों को इसकी सूचना दी। इसके बाद डीएमईओ साहबराम, सचिव जयावंती व ऑक्सन रिकॉर्डर रमेश कुमार मौके पर पहुंचे। कमेटी ने गोदाम मालिक पर 32,275 रुपये फीस व जुर्माना लगाया।

मामले की सूचना पाकर आदमपुर थाने से एसआई बलजीत सिंह मौके पर पहुंचे और गोदाम मालिक कृष्ण बिश्नोई को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया। हालांकि इस दौरान गोदाम मालिक का बेटा विष्णु भाग निकला। खाद नियंत्रण निरीक्षक राजबीर सिंह ने पिता-पुत्र के खिलाफ मामला दर्ज करने के लिए शिकायत दी है।
... और पढ़ें

हिसार: ठेकेदार पर गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज, एसटीपी टैंक में उतरे चार युवकों की जहरीली गैस से गई थी जान

हिसार के उकलाना के गांव बुढ़ाखेड़ा में बने सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) के टैंक में उतरे चार युवकों की जहरीली गैस चढ़ने से मौत होने के मामले में पुलिस ने ठेकेदार जींद निवासी राजेश के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज किया है। मेडिकल कॉलेज अग्रोहा में पोस्टमार्टम के बाद चारों शवों का बुधवार दोपहर को गांव में अंतिम संस्कार किया गया। 

युवाओं की बेरोजगारी का उठाया फायदा, बिना उपकरण मौत के कुएं में उतारा 
बुढ़ाखेड़ा गांव के रहने वाले बीरू राम ने बताया कि भतीजा सुरेंद्र तीन साल से ठेकेदार राजेश के पास काम कर रहा था। ठेकेदार के पास गांव के कई और युवा काम करते हैं। ठेकेदार युवाओं की बेरोजगारी का फायदा उठाता है। बिना उपकरण के उनसे काम करवाता था। मंगलवार को भतीजा सुरेंद्र और राहुल गांव के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट में काम कर रहे थे।

मैंने देखा जब वे काम कर रहे थे तो उनके पास कोई उपकरण नहीं था। जब उनसे पूछा तो उन्होंने कहा कि ठेकेदार ने कोई उपकरण नहीं दिए वह हमारी मजबूरी का फायदा उठा रहा है। दोनों नीचे मोटर ठीक कर रहे थे। इसी दौरान दोनों बेहोश हो गए। मैंने आवाज लगाई तो राजेश और महेंद्र वहां पर आए।

उन्होंने नीचे जाने से पहले सुरक्षा उपकरण की तलाश की लेकिन उन्हें कुछ नहीं मिला। वह दोनों बिना उपकरण के नीचे सुरेंद्र और राहुल को बचाने के लिए गए, लेकिन वे दोनों भी बेसुध हो गए। बाद में चारों को बाहर निकाला गया, लेकिन तब तक देर हो चुकी थी।

ठेकेदार राजेश के अलावा अगर और कोई भी जिम्मेवार है तो उसके खिलाफ केस दर्ज किया जाए। मामले की जांच कर रहे एएसआई प्रदीप कुमार का कहना है कि बीरू राम की शिकायत पर ठेकेदार राजेश के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज किया है। 
 

अंतिम संस्कार में शामिल हुए मंत्री, 17-17 लाख की मिलेगी मदद
प्रदेश के श्रम एवं रोजगार मंत्री अनूप धानक ने कहा है कि उकलाना के गांव बुड्ढा खेड़ा स्थित एसटीपी में हुए हादसे की विस्तृत जांच की जाएगी और जांच में दोषी पाए गए व्यक्तियों पर कड़ी कार्रवाई होगी। सरकार व प्रशासन की तरफ से हर संभव मदद की जाएगी। बुधवार को मृतकों के संस्कार के अवसर पर मंत्री अनूप धानक ने पीड़ित परिवारों को सांत्वना दी। उन्होंने कहा कि इस घटना की न्यायिक जांच के निर्देश दे दिए गए हैं। इसके अतिरिक्त मृतक के परिजनों को श्रम कल्याण बोर्ड से 5-5 लाख, स्वैच्छिक कोटे से एक-एक लाख रुपये और संबंधित एजेंसी द्वारा 11-11 लाख रुपये की आर्थिक मदद दी जाएगी।
... और पढ़ें

हिसार में वारदात: यूनियन बैंक में घुसे हथियारबंद चार बदमाश, जान से मारने की धमकी देकर लूटे 15 लाख 

हिसार के राजगढ़ रोड स्थित सीआर लॉ कॉलेज के पास स्थित यूनियन बैंक में हथियारों से लैस पांच युवक करीब 10 से 15 लाख रुपये लूट ले गए। घटना की जानकारी मिलने के बाद एसपी लोकेंद्र कुमार, आईजी राकेश कुमार आर्य मौके पर पहुंचे।
 
जानकारी के अनुसार दोपहर करीब 12.30 बजे हथियारबंद दो बदमाशों ने बैंक के गार्ड के साथ मारपीट की। सुरक्षाकर्मी की लाइसेंसी बंदूक छीन कर उस पर बट से हमला किया। इसके बाद वे बैंक के अंदर घुसे। इसके बाद दो बदमाश और अंदर आए। चारों ने अंदर घुसते ही सभी बैंक कर्मियों को हाथ ऊपर करने के लिए कहा। बैंक के अंदर मौजूद ग्राहकों को भी हाथ खड़े करने के लिए कहा।

बैंक के कैशियर को जान से मारने की धमकी देकर उससे नकदी ली। बैंक प्रबंधन के अनुसार उस समय बैंक में करीब 10 से 15 लाख रुपये की नकदी थी। बदमाश यह पूरी नकदी लूट कर ले गए हैं। कोई पुलिस को सूचना न दे सके इसलिए बदमाश बैंक कर्मियों के 5 मोबाइल भी छीन ले गए। पुलिस अधिकारी सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपियों की पहचान का प्रयास कर रहे हैं। एसपी लोकेंद्र सिंह ने कहा कि 5 टीमों का गठन कर दिया गया है। सभी नाके सील करने के आदेश दिए गए हैं।
... और पढ़ें

हिसार: लग्जरी लाइफ जीने के लिए चोर बने दो दोस्त, एक कर रहा एयरफोर्स की तैयारी तो दूसरा सीख रहा कुश्ती के गुर

हिसार सीआईए टीम ने बाइक चोर गिरोह के दो गुर्गों समेत पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपियों से 12 बाइक बरामद की हैं। पकड़े गए आरोपियों की पहचान भिवानी जिले के गांव गरवा निवासी सौरभ, प्रदीप, मोहित, सुरपुरा कलां गांव के सुरेश और हिसार के बालसमंद के सुमित के रूप में हुई है। पांचों आरोपियों को बुधवार अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया। एक अन्य आरोपी गरवा निवासी सचिन की तलाश में पुलिस दबिश दे रही है।

डीएसपी कप्तान सिंह ने बताया कि लग्जरी लाइफ जीने के लिए तीन दोस्तों ने बाइक चोरी की साजिश रची। तीनों दोस्त हिसार के ऋषि नगर स्थित एक पीजी में रहते हैं। आरोपी सौरभ एक शिक्षण संस्थान में एयरफोर्स की तैयारी कर रहा है तो आरोपी प्रदीप 12वीं कक्षा पास करने के बाद महाबीर स्टेडियम में कुश्ती के दांवपेंच सीख रहा है। जबकि फरार आरोपी सचिन एक शिक्षण संस्थान से कोर्स कर रहा है। फरवरी माह में तीनों ने मिलकर ऋषि नगर से बाइक चोरी कर अपराध के दलदल में कदम रखा था।

मार्च महीने में चुराई 10 बाइक, 7-8 हजार में बेच देते
डीएसपी ने बताया कि पहली बाइक चोरी करने के बाद नंबर प्लेट बदलकर खुद ही इस्तेमाल कर रहे थे। इसके बाद तीनों ने मिलकर टाउन पार्क, जवाहर नगर, सिविल लाइन थाना एरिया और शहर थाना एरिया से करीब 20 बाइक चोरी कीं। आरोपी चोरी की गईं बाइक को 7-8 हजार में बेच देते और अपने शौक पूरे करते। आरोपियों ने तीन बाइक गरवा गांव के मोहित, बालसमंद के सुमित और सुरपुरा कलां के सुरेश को बेची थी। पुलिस ने इन तीनों को चोरी की बाइक खरीदने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है। सीआईए निरीक्षक प्रहलाद राय के नेतृत्व में टीम ने चोरों को मुकलान गांव से गिरफ्तार किया था।

आरोपियों ने ये वारदात कुबूलीं
  • फरवरी 2022 में सौरभ, सचिन और प्रदीप ने ऋषि नगर से बाइक चुराई।
  • मार्च माह में ऋषि नगर से चार, एचएयू परिसर, जवाहर नगर, डिफेंस कॉलोनी, सेक्टर 14, नागरिक अस्पताल परिसर व एक अन्य जगह से एक-एक बाइक चुराई।
  • अप्रैल माह में टाउन पार्क के बाहर से बाइक चुराकर फरार हुए।
... और पढ़ें
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी। पुलिस की गिरफ्त में आरोपी।

हिसार: 525 किलोग्राम डोडा पोस्त के साथ ट्रक चालक काबू, 'पुष्पा' स्टाइल में ट्रक के फर्श के ऊपर बनाया हुआ था एक और फर्श

हरियाणा के हिसार में पुष्पा फिल्म स्टाइल में सिरसा निवासी ट्रक चालक मादक पदार्थ की तस्करी कर रहा था। हिसार पुलिस को इसकी भनक लग गई और नशा निरोधक पुलिस ने मुकलान गांव के पास चालक को ट्रक समेत गिरफ्तार कर लिया। ट्रक के अंदर से 65 लाख रुपये कीमत का 525 किलोग्राम डोडा पोस्त बरामद किया गया।

आरोपी ने डोडा पोस्त ट्रक के फर्श के ऊपर एक और फर्श बनाकर उसके अंदर कट्टों को छुपा कर रखा हुआ था। पुलिस ने पकड़े गए आरोपी सिरसा जिले के रघुआना निवासी अमरजीत को अदालत में पेश कर पांच दिन के रिमांड पर लिया है। 

चार बार पहले कर चुकी है सप्लाई
डीएसपी कप्तान सिंह ने शनिवार को पत्रकार वार्ता के दौरान बताया कि नशा निरोधक टीम को सूचना मिली की राजस्थान की तरफ से एक ट्रक आ रहा है। जिसमें काफी संख्या में मादक पदार्थ छुपाया हुआ है। टीम के सदस्यों ने मुकलान गांव के पास नाकाबंदी कर ट्रक को रुकवाया। ट्रक को देखा तो वह खाली दिखाई दे रहा था।

जब उसकी गहनता से जांच की तो सामने आया कि फर्श के ऊपर एक और फर्श बनाया हुआ है। उसको खोलकर देखा तो उसके नीचे कट्टे छुपाए हुए थे। जब उनका वजन किया तो 525 किलोग्राम डोडा पोस्त बरामद हुआ। पकड़े गए मादक पदार्थ की बाजार में कीमत करीब 65 लाख रुपये है। पूछताछ में सामने आया कि ट्रक चालक अमरजीत इस से पहले चार बार मादक पदार्थ की सप्लाई कर चुका है। 
 
मादक पदार्थ पहुंचाने पर 20 हजार रुपये मिलते थे
नशा निरोधक टीम के सदस्य कांशीराम ने बताया कि ट्रक चालक अमरजीत को मादक पदार्थ पहुंचाने की एवज में 20 हजार रुपये मिलते थे। पूछताछ में बताया कि राजस्थान के जोधपुर निवासी ओम के कहने पर अकलेरा स्थान से ट्रक में डोडा पोस्त लोड किया था। उसके बाद इसे पंजाब के बठिंडा लेकर जाना था। वहां पर व्यक्ति को ट्रक देना था वह आगे ट्रक लेकर जाता। डोडा पोस्त निकालने के बाद वह ट्रक वापस कर देता। 
... और पढ़ें

हिसार: जिप्सम वाली जमीन दिलाने के नाम पर व्यापारी से 1.47 करोड़ ठगे, मां-बेटे समेत चार पर केस दर्ज

हरियाणा के हिसार शहर के अर्बन एस्टेट टू में रहने वाले और व्यापारी जसवंत गोयल के साथ 1 करोड़ 47 लाख 40 हजार रुपये की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। बीकानेर-कोलायत के पास जमीन दिलवाने के नाम पर धोखाधड़ी की है। आरोप राजस्थान की रहने वाली एक महिला व उसके बेटे समेत चार लोगों पर लगा है। पुलिस ने गंगानगर जिले के रहने वाली रसाल कवंर उनके बेटे विक्रम, नारायण दास और धर्माराम के खिलाफ धोखाधड़ी और जान से मारने का केस दर्ज किया है। 

पुलिस को दिए गए बयान में अर्बन एस्टेट टू के रहने वाले जसवंत गोयल ने बताया कि अगस्त 2017 में बीकानेर निवासी धर्माराम से मुलाकात हुई। धर्माराम ने कहा कि बीकानेर -कोलायत के पास जमीन है जिसमें 30 से 40 टन जिप्सम और खनिज पदार्थ निकलते हैं। धर्मा ने रसाल कवंर, विक्रम और नारायण दास से मिलवाया।

वहां पर जिप्सम व खनिज पदार्थ के सैम्पल देखे। उन्होंने कुछ सरकारी कागजात भी दिखलाए। करीब 30 से 40 हजार टन जिप्सम होने के प्रमाण पत्र दिखाए। हमने 28 लाख रुपये ब्याना के तौर पर दिए। कुल मिलाकर 1 करोड़ 47 लाख और 40 हजार रुपये दिए। 

मैसर्ज तरुण एंड कंपनी हिसार व विक्रम, रसाल कंवर के बीच एक लिखित एग्रीमेंट हुआ। मैजर्स तरुण एंड कम्पनी व नारायाण के साथ एग्रीमेंट हुआ। एग्रीमेंट के मुताबिक तीनो को कुल 1 करोड़ 7 लाख 40 हजार रुपये बैंक खाते से आरटीजीएस से ट्रांसफर किए।

मैंने व मेरे बेटे तरुण कुमार ने नारायणदास व रसाल कवंर को 20-20 लाख रुपये दिए। जब हम मशीनें लेकर उक्त जमीन पर जिप्सम निकालने पहुंचे तो हमें पता लगा हमें जो जमीन दिखाई थी वह जमीन आरोपियों की नहीं है। आरोपियों ने रुपये देने से भी इनकार कर दिया और जान से मारने की धमकी दी। 
... और पढ़ें

हिसार: यूनियन बैंक डकैती प्रकरण में कुलदीप गिरफ्तार, वारदात के बाद आरोपियों ने कुलदीप के पास छिपाए थे रुपये

हरियाणा के हिसार में राजगढ़ मार्ग पर सीआरएम लॉ कॉलेज के पास यूनियन बैंक से हथियारों के बल पर 16.19 लाख रुपये की डकैती डालने के मामले में एसटीएफ टीम ने आरोपियों से 11 लाख 52 हजार रुपये की नकदी बरामद की है। पुलिस ने 2.50 लाख पहले ही बरामद कर लिए थे। अब तक कुल 14 लाख दो हजार रुपये की रकम बरामद हो चुकी है।

तीन अवैध हथियार के अलावा दो गाड़ियां भी बरामद हुई हैं। मामले से जुड़े एक और आरोपी को ढाणी कुतुबपुर निवासी कुलदीप को गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने डकैती के बाद कुलदीप के पास रुपये छिपाए थे। पांच आरोपी आठ दिन के रिमांड पर चल रहे हैं। सभी आरोपियों को मंगलवार को अदालत में पेश किया जाएगा।  

पिछले साल दिया था त्यागपत्र 
एसटीएफ डीएसपी ललित कुमार और निरीक्षक बिजेंद्र सिंह ने बताया कि रिमांड के दौरान आरोपियों से की गई पूछताछ में सामने आया कि नंगथला निवासी जूडो का इंटरनेशनल खिलाड़ी आरोपी सोनी पिछले साल आईटीबीपी में सिपाही के पद से त्यागपत्र चुका था। नौकरी छोड़ने के बाद रुपयों की कमी हुई, तो उसने वारदात की साजिश रची।

बैंक में डकैती की वारदात को अंजाम देने के बाद सोनी अपने साथियों के साथ हांसी एरिया में गया था। वारदात में इस्तेमाल की गई ब्रेजा गाड़ी को वहीं पर एक खेत में छुपा दिया था। सोनी ने अपने चारों साथियों को खुद की कार में बैठाया और उन्हें जीरकपुर छोड़कर आया। वापस आते समय आरोपी प्रदीप उसके साथ आया था। बाद में प्रदीप अजमेर चला गया। सोनू, विकास और नवीन जीरकपुर रुक गए थे। 

पचास हजार में लाए थे अवैध पिस्तौल
वारदात को अंजाम देने के बाद सोनी छाबा ने डकैती की कुछ रकम को अपने साथियों में बांट दिया था। बाकी रकम वह अपने साथ ले गया और ढाणी कुतुबपुर निवासी कुलदीप के पास रख दी। एक-दो दिन के बाद कुलदीप से रकम ले आए और उसे दस हजार रुपये दे दिए। सोनी ने बाकी की रकम छुपा दी थी, जो बाद में आपस में बांटनी थी। पूछताछ के दौरान सामने आया कि सोनी, नवीन और सोनू तीनों हरियाणा-उत्तरप्रदेश के बॉर्डर पर पड़ने वाले गांव जतारी से पचास हजार रुपये में अवैध पिस्तौल लेकर आए थे। 

घर में मंदिर बना रखा था..
पूछताछ के दौरान सामने आया कि भाटला गांव निवासी प्रदीप धार्मिक प्रवृति का है। घर के अंदर एक कमरे में मंदिर बना रखा है। वारदात को अंजाम देने के बाद अजमेर शरीफ गया था और वहां पर दरगाह पर 51 हजार रुपये की नकदी चढ़ाई थी। इसके अलावा वहां पर मौजूद गई लोगों को भी रुपये दिए थे। 

अदालत में करेंगे पेश 
एसटीएफ ने पांच आरोपियों नंगथला निवासी सोनी छाबा, जींद के खरकरामजी निवासी सोनू, भाटला निवासी प्रवीन, सोनीपत के नवीन और सोनीपत के चिडाना निवासी विकास को अदालत में पेश कर 8 दिन के रिमांड पर लिया था। पुलिस ने जीरकपुर निवासी देवेंद्र को रिमांड के दौरान पकड़ा था। अब इस मामले में सातवें आरोपी कुलदीप को गिरफ्तार किया है। मंगलवार को सभी सोनी छाबा, सोनू, कुलदीप, प्रदीप, विकास और नवीन को अदालत में पेश किया जाएगा।
... और पढ़ें

हनीट्रैप: घर बुलाकर खींचे आपत्तिजनक फोटो, फिर दुष्कर्म के केस में फंसाने की धमकी दे ऐंठे 2.60 लाख रुपये

सांकेतिक फोटो
हरियाणा के हिसार जिले के एक गांव में रहने वाले युवक को घर ले जाकर उसके साथ जबरन आपत्तिजनक फोटो खींचने और दुष्कर्म के केस में फंसाने की धमकी देकर 2.60 लाख रुपये की नकदी ऐंठने का मामला सामने आया है। पुलिस ने पीड़ित की शिकायत पर युवती, उसके दो परिचितों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

पुलिस को दी गई शिकायत में युवक का कहना है कि कुछ दिन पहले उसके मोबाइल पर एक युवती की कॉल आई। धीरे-धीरे युवती ने बातचीत करनी शुरू कर दी। 19 अप्रैल को युवती का फोन आया कि एक अस्पताल में उसके भाई का उपचार चल रहा है। अस्पताल जाते समय मुझे भी ले चलना। युवती द्वारा बताए गए पते पर पहुंचा तो उसने कहा कि एक बार घर चलते हैं वहां से खाना लेकर चलना है।

जब युवती को लेकर उसके घर गया तो वहां पर पांच-छह युवक पहले से मौजूद थे। जब उनके पास गया तो सभी ने मारपीट शुरू कर दी। इसके बाद युवती ने जबरदस्ती मेरे साथ आपत्तिजनक फोटो खींच लिए। कुछ देर बाद ही युवती के एक रिश्तेदार सूरज सोनी का फोन आया।

उसने दुष्कर्म का केस दर्ज करवाने की धमकी देते हुए दस लाख रुपये मांगे। डर के मारे दो लाख रुपये देने को राजी हो गया। बताए गए गूगल पे और फोन पे के नंबर के माध्यम से 2 लाख रुपये दे दिए। बाद में तीस हजार रुपये गूगल पे के माध्यम से दे दिए। उन लोगों ने मारपीट कर मेरी बाइक भी छीन ली।

आजाद नगर पुलिस थाना के एसआई बलवान सिंह का कहना है कि युवक की शिकायत पर सोनिया, सूरज सोनी और एक अन्य के खिलाफ षड्यंत्र रचने, मारपीट, ब्लैकमेल करने और जान से मारने की धमकी देने का केस दर्ज किया है। जल्द ही आरोपियों को पकड़ लिया जाएगा।
... और पढ़ें

हिसार: घर में मिला कार ड्राइविंग स्कूल संचालक का लहूलुहान शव, भाई ने मृतक की पत्नी पर लगाया आरोप

हिसार के सेक्टर 1-4 की हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी निवासी 38 वर्षीय राजीव कौशिक की हत्या का मामला सामने आया है। आरोप है कि उसकी पत्नी ने शुक्रवार देर रात अपनी भाभी, भतीजे और अन्य के साथ मिलकर तेजधार हथियार और डंडों से पीटकर हत्या कर दिया। लहुलूहान हालत में उसका शव घर के बाहर पड़ा मिला। सूचना मिलने पर एचटीएम थाना प्रभारी संदीप मौके पर पहुंचे और शव को कब्जे में ले नागरिक अस्पताल के शवगृह में पोस्टमार्टम करवा परिजनों को सौंप दिया। 

पुलिस ने मृतक के भाई संजीव की शिकायत पर मृतक की पत्नी, थुराना निवासी उसकी भाभी, भतीजे, राजस्थान के बासड़ा निवासी दीपक और दो अन्य पर हत्या और अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 

अवैध संबंध को लेकर होता था झगड़ा 
न्यू मॉडल टाउन एक्सटेंशन निवासी संजीव कौशिक ने बताया कि उसका छोटा भाई राजीव परिवार के साथ सेक्टर 1-4 में रहता था। वह दिल्ली कार ड्राइविंग स्कूल चलाता था। उसके साथ राजस्थान के बासडा गांव का रहने वाला दीपक काम करता था। दीपक अक्सर राजीव के घर आता-जाता था। कुछ दिन पहले भाई को अपनी पत्नी का दीपक के साथ अवैध संबंध का शक हुआ।

इस बारे में जब उसने पत्नी ने बात की तो दोनों के बीच झगड़ा हो गया। भाई राजीव अक्सर शराब का सेवन करता था और इसी बात को लेकर पत्नी और बेटों के साथ झगड़ा करता था। शुक्रवार शाम को भाई ने फोन कर पांच हजार रुपये मांगे थे। उसने कहा था कि वह अपनी पत्नी से तलाक लेना चाहता है और इसी संबंध में वकील की फीस देनी है। शुक्रवार को ही राजीव और उसकी पत्नी दोनों कोर्ट भी गए थे।  

संजीव ने बताया कि देर रात को फोन पर सूचना मिली की भाई राजीव की हत्या हो गई है और उसका शव घर के बाहर पड़ा था। इसके बाद राजीव का बेटा और अन्य उसे नागरिक अस्पताल लेकर आए जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। सुबह अस्पताल पहुंचा और पुलिस को बताया। एचटीएम थाना प्रभारी संदीप ने बताया कि मृृतक के भाई की शिकायत पर पत्नी समेत चार नामजद के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। मामले की जांच जारी है। जल्द ही आरोपियों को पकड़ लिया जाएगा। 
... और पढ़ें

व्यापारी से मांगी 30 लाख रुपये की रंगदारी: कहा- दो तीन तुम्हारे, तीसरा दिन मेरा होगा...गोली कहीं से भी चल सकती है

दयानंद कॉलेज मार्ग स्थित अग्रवाल कॉलोनी निवासी व्यापारी दीपक सिंगल से अंतरराष्ट्रीय व्हाट्सएप कॉल व संदेश के जरिये 30 लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई है। बदमाश ने रुपये न देने पर गोली मारने की धमकी दी है। इस बारे में दीपक सिंगल ने शहर थाना पुलिस को शिकायत दर्ज कराते हुए आरोपियों को पकड़ने और सुरक्षा की गुहार लगाई है। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 

पुलिस को दी गई शिकायत में दीपक सिंगल ने बताया कि उसकी लोहे की फैक्टरी और फर्नीचर बनाने का काम है। 20 अप्रैल सुबह साढ़े आठ बजे मोबाइल नंबर पर कॉल आई और कॉल करने वाले ने जान से मारने की धमकी दी। इसके बाद से लगातार इंटरनेशनल नंबर से कॉल आ रही हैं। मंगलवार को वह अपने ऑफिस में बैठा था। उस समय व्हाट्सएप पर इंटरनेशनल नंबर से एक के बाद एक तीन संदेश मिले।

उनमें लिखा था दो दिन तुम्हारे, तीसरा दिन मेरा होगा। 30 लाख रुपये दो, नहीं तो कहीं से भी गोली चल सकती है। उन्होंने बताया कि इंटरनेशनल नंबर से जो कॉल आती थी वह तीस सेकेंड तक चलती थी, इसके अलावा बीच-बीच में आवाज कटती थी। मामले की जांच कर रहे एसआई हरपाल सिंह का कहना है कि शिकायत के आधार पर अज्ञात के खिलाफ रंगदारी मांगने और जान से मारने की धमकी देने का केस दर्ज किया है। जल्द ही मामले को सुलझा लिया जाएगा। 

बदमाश बोला- तेरी पूरी फैमिली को जानते हैं
व्यापारी के व्हाट्सएप पर भेजे गए संदेश में यह भी लिखा हुआ है कि हम तेरी पूरी फैमिली को जानते हैं। तेरी दो फैक्टरियां हैं। तेरी स्टील की फैक्टरी है और तेरे पापा की लोहे की फैक्टरी है। दो दिन का समय देता हूं, दो दिन में रुपये चाहिए। दो दिन तेरेे, तीसरा दिन मेरा रहेगा। 
... और पढ़ें

मंडी आदमपुर: बहन के प्रेम विवाह से खफा भाई ने जीजा पर चलाईं गोलियां, खेत में भागकर बचाई जान

हरियाणा के हिसार जिले के मंडी आदमपुर क्षेत्र में बहन के प्रेम विवाह से खफा भाई ने मंगलवार रात अपने जीजा पर गोलियां चला दीं। गनीमत रही कि युवक को गोली नहीं लगी। उसने खेत में भागकर अपनी जान बचाई। पुलिस ने शिकायत के आधार पर एक नामजद समेत एक अन्य के खिलाफ हत्या के प्रयास समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 

पुलिस को दी शिकायत में गांव ढाणी आदमपुर निवासी विकास ने बताया कि उसने 10 फरवरी 2022 को गांव जगाण निवासी एक युवती से कोर्ट मैरिज की थी। 26 अप्रैल को शाम करीब सात बजे वह अपनी गाड़ी से मंडी आदमपुर से अपनी ढाणी में जा रहा था।

रास्ते में दलीप थालोड़ की किराना की दुकान पर सामान लेने के लिए रुका तो एक बाइक पर उसकी पत्नी का भाई जगाण निवासी रविंद्र एक अन्य युवक के साथ आया और बंदूक से दो गोलियां चलाईं। गनीमत रही कि गोली उसे नहीं लगी। उसने खेतों में भागकर युवकों से अपनी जान बचाई। पुलिस ने विकास की शिकायत पर रविंद्र व अन्य के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 
... और पढ़ें

हिसार: रोडवेज चालक ने अचानक लगाए ब्रेक तो बस से गिरा छात्र, टायर के नीचे आने से गई जान

हरियाणा के हिसार में दिल्ली हाईवे पर सैनिक छावनी के सामने रोडवेज चालक द्वारा बस न रोकने पर चलती बस से उतरने समय पिछले टायर के नीचे आने से जीजेयू से बीटेक कर रहा 18 वर्षीय जावेद खान गंभीर रूप से घायल हो गया। जख्मी हालत में उसे शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। उपचार के दौरान जावेद की मौत हो गई।

मृतक के परिजनों ने रोडवेज बस चालक पर लापरवाही का आरोप लगाया है। सूचना मिलने पर सदर थाना पुलिस ने शव को कब्जे में ले नागरिक अस्पताल के शवगृह में पोस्टमार्टम करवा परिजनों को सौंप दिया। पुलिस ने चालक के खिलाफ लापरवाही से वाहन चलाने का केस दर्ज किया है।

मिलगेट एरिया में रहने वाले पाल खान ने बताया कि छोटा भाई जयवीर फौज में कार्यरत हैं और उनकी सिक्किम में ड्यूटी है। भाई का परिवार सैनिक छावनी के सामने मस्तनाथ कॉलोनी में रहता है। उनका इकलौता बेटा जावेद खान जीजेयू से बीटेक कर रहा था। न्यू इंद्रा कॉलोनी में रहने वाले जगबीर ने बताया कि वह सोमवार दोपहर करीब 12 बजे सैनिक छावनी के सामने एक जूस की दुकान पर खड़ा था।

इसी दौरान हिसार की तरफ से हरियाणा रोडवेज की बस आई जो हांसी जा रही थी। बस की रफ्तार काफी थी। चालक ने सैनिक छावनी के सामने अचानक ब्रेक मार दिए जिस कारण बस की अगली खिड़की में खड़ा जावेद सड़क पर जा गिरा।

चालक ने बस चला दी, जिससे टायर के नीचे आने से जावेद घायल हो गया। जख्मी हालत में उसे शहर के एक निजी अस्पताल में लेकर आए। देर रात उपचार के दौरान जावेद ने दम तोड़ दिया। मामले की जांच कर रहे एचसी राजबीर ने बताया कि अज्ञात बस चालक के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

हिसार बैंक डकैती: आरोपियों ने अजमेर शरीफ दरगाह पर चादर और 51 हजार रुपये चढ़ा मांगी थी गिरफ्तारी से बचने की मन्नत

हरियाणा के हिसार में सीआरएम लॉ कॉलेज के पास यूनियन बैंक में 16.19 लाख की डकैती डालने के बाद आरोपी आजाद नगर की तरफ भागे। एरिया की जानकारी न होने के कारण कई गलियों में भी फंसे, लेकिन सूत्रधान जूडो खिलाड़ी सोनी ने फोन कर उन्हें रास्ता बताया और वे गंगवा से कैमरी और फिर डाबड़ा होते हुए फरार हो गए। रास्ते के बारे में सोनी से पूछते रहे। 

वहीं, वारदात के दो दिन तक जूडो खिलाड़ी सोनी अभ्यास करने के लिए स्टेडियम भी नहीं गया। जब उसे भरोसा हो गया कि पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लगा है तो उसने स्टेडियम जाना शुरू कर दिया। उसके दिमाग में ये भी चल रहा था कि अगर, वह स्टेडियम नहीं गया तो अभ्यास करने वाले अन्य खिलाड़ियों को कहीं शक न हो जाए।

वारदात में शामिल आरोपी भाटला निवासी प्रदीप ने गिरफ्तारी से बचने के लिए सभी की ओर से अजमेर शरीफ जाकर दरगाह पर चादर और 51 हजार रुपये चढ़ाकर मन्नत मांगी थी। लेकिन बुरे कर्म का बुरा ही नतीजा होता है।  एसटीएफ ने पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। अब पुलिस आरोपियों की मदद करने वालों की तलाश में जुटी है।
 
निरीक्षक बिजेंद्र सिंह ने बताया कि डकैती के सूत्रधार नंगथला निवासी सोनी छाबा को जीजेयू के सामने से गिरफ्तार किया। उसके पास से 60 हजार रुपये और सुरक्षाकर्मी से लूटी बंदूक बरामद हुई। भाटला निवासी प्रदीप से 90 हजार रुपये व एक अवैध पिस्तौल, सोनीपत के नवीन से 20 हजार रुपये और अंबाला से पकड़े गए सोनू और विकास से 80 हजार रुपये बरामद हुए हैं। संवाद 

कॉमनवेल्थ गेम्स की तैयारी के लिए अवकाश पर था सोनी  
एसटीएफ टीम के डीएसपी ललित कुमार और निरीक्षक बिजेंद्र ने बताया कि यूथ कॉमनवेल्थ गेम्स में सोना जीतने वाला जूड़ो खिलाड़ी आईटीबीटी में सिपाही के पद पर कार्यरत है। जुलाई में इंग्लैंड में होने वाले कॉमनवेल्थ की तैयारी के लिए उसने विभाग से अवकाश लिया हुआ था। कॉमनवेल्थ में गोल्ड जीतने पर उसे प्रदेश सरकार की ओर से 50 लाख रुपये की इनामी राशि मिल चुकी है। 

सभी आरोपी मोबाइल पर ले रहे थे अपडेट 
18 अप्रैल को वारदात के बाद सभी ने रुपये आपस में बराबर बांट लिए। इसके बाद आरोपी भाटला निवासी प्रदीप अजमेर चला गया और वहां पर दरगाह पर 51 हजार रुपये और चादर चढ़ाई ताकि ऊपर वाला उन्हें बुरे काम से बचा ले। जींद जिले का सोनू और सोनीपत का विकास ये दोनों घूमने के लिए शिमला चले गए। सोनीपत का ही नवीन गुजरात चला गया। नवीन बैंकाक में नौकरी कर चुका है। कुछ समय के लिए अहमदाबाद में भी नौकरी की थी। सभी एक-दूसरे से मोबाइल की मदद से संपर्क में थे। हर रोज आपस में बातचीत करते थे और अपडेट ले रहे थे। 

नाम और शोहरत कमाने की चाह में रची साजिश 
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार सोनू, नवीन और विकास आपस में एक-दूसरे को जानते थे। ये तीनों गुरुग्राम में साथ रहकर नौकरी करते थे। प्रदीप और सोनी की मुलाकात स्टेडियम में हुई थी। प्रदीप के संपर्क में सोनू, नवीन और विकास थे। सभी ने मिलकर स्टेडियम में बैठकर नाम, शोहरत, पैसा कमाने के लिए बैंक में डकैती की साजिश रची थी। जींद का रहने वाला सोनू गिरोह का मुखिया बना। सोनू पर 10 आपराधिक मामले और प्रदीप पर दो केस दर्ज हैं। बैंक डकैती से पहले सोनी ने तीन दिन तक रेकी की थी। इसके बाद सोनू, नवीन, विकास और प्रदीप ने वारदात को अंजाम दिया।  

जीरकपुर से किराये पर लाए थे गाड़ी
वारदात को अंजाम देने से पहले आरोपी जीरकपुर की एक कंपनी से ब्रेजा गाड़ी किराये पर लेकर आए थे। जब गाड़ी किराये पर ली तो उस समय आरोपी नवीन ने अपनी फोटो वहां जमा करवाई थी। पुलिस ने गाड़ी का नंबर मिलने से पहले 100 सफेद रंग की ब्रेजा गाड़ियों की जांच की थी। नंबर मिलने के बाद पुलिस की टीम जीरकपुर उस कंपनी में पहुंची थी जहां से गाड़ी किराये पर ली थी। फुटेज और वहां से मिली फोटो के आधार पर पुलिस आरोपियों तक पहुंची। 
 
... और पढ़ें
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00