विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

अयोध्या प्रकरणः कल्याण सिंह बतौर आरोपी 27 को अदालत में तलब, विशेष न्यायाधीश ने दिया आदेश

अयोध्या प्रकरण के विशेष न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री व राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह को बतौर आरोपी तलब किया है।

22 सितंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

चंदौली

रविवार, 22 सितंबर 2019

आपदा प्रबंध और पीड़ितों के मदद को प्रशासन मुस्तैद

चंदौली/पीडीडीयू नगर। गंगा में लगातार हो रहे बढ़ाव से जिले के दो दर्जन से अधिक गांव बाढ़ की चपेट में आ चुके हैं। गंगा के तटवर्ती इलाके पानी से घिर गए हैं और पानी गांवों की तेजी से बढ़ रहा है। शुक्रवार को भी जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल और पुलिस अधीक्षक हेमंत कुटियाल ने पड़ाव, दुलहीपुर सहित कई इलाकों का दौरा कर दिशानिर्देश दिया। बचाव के लिए पीएसी की एक टुकड़ी, आपदा प्रबंधन दल, स्वास्थ्य विभाग की नौ टीमें, राजस्व विभाग तथा पंचायतीराज के कर्मचारियों को गंगा के तटवर्ती गांवों में तैनात किया गया है। लोगों की सुविधा के लिए 86 नावों की व्यवस्था की गई है। इसकी मानीटरिंग खुद जिलाधिकारी कर रहे हैं।
बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए डीएम नवनीत सिंह चहल ने मुगलसराय ज्वाइंट मजिस्ट्रेट कुमार हर्ष और सकलडीहा एसडीएम रामसजीवन मौर्य को प्रमुख रूप से जिम्मेदारी सौंपी है। जिलाधिकारी रोजाना बाढ़ग्रस्त इलाकों की समीक्षा कर रहे हैं। इसके अलावा लोगों के उपचार के लिए राजकीय महिला चिकित्सालय पीडीडीयू नगर, भोगवारे स्वास्थ्य केंद्र के अलावा चनिया, सकलडीहा, धानापुर सीएचसी के चिकित्सकों की टीम बनाई गई है जो जरूरत पड़ने पर संबंधित गांवों में पहुंचकर उपचार करेगी। वहीं मुगलसराय और सकलडीहा तहसील के राजस्व निरीक्षक और लेखपालों को क्षति आकलन तथा जरूरत पड़ने पर अनाज उपलब्ध कराने के लिए तैनात किया गया। वहीं राहत शिविरों के आसपास साफ सफाई के लिए पंचायतीराज विभाग को जिम्मेदारी दी गई है। इसके अलावा पशुपालन विभाग के अधिकारी पशुओं का टीकाकरण करेंगे। इसके अलावा दोनों तहसीलों के तहसीलदार नाव प्रबंध का कार्यभार देखेंगे।
जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल ने कहा कि बाढ़ग्रस्त और गंगा के तटीय इलाकों में अधिकारियों की टीम लगातार निगरानी कर रही है। किसी भी आपात स्थिति से निबटने के लिए प्रशासन तैयार है। जिन गांवों में बाढ़ के पानी पहुंच गया है वहां लोगों के बचाव तथा राहत कार्य के लिए विभिन्न विभागों की जिम्मेदारी तय की गई है। सभी एसडीएम को जिम्मेदारी सौंपी गई है। राहत तथा प्रबंधन में किसी प्रकार की लापरवाही नहीं होगी।
खतरे के निशान से 43 सेमी ऊपर बह रही गंगा : पीडीडीयू नगर। गंगा के जलस्तर में लगातार बढ़ाव जारी है। शुक्रवार को भी गंगा में एक सेमी की प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ाव जारी रहा। केंद्रीय जल आयोग के मुताबिक शुक्रवार की सुबह आठ बजे तक खतरे के निशान 71.26 मीटर से बढ़कर 71.62 मीटर पर जलस्तर दर्ज किया गया। शाम को पांच बजे जलस्तर बढ़कर 71.69 मीटर पहुंच गया। इससे बाढ़ का पानी अब मैदानी इलाकेे में तेजी से फैलने लगा है।
डीएम और एसपी ने किया निरीक्षण : पड़ाव। डीएम नवनीत सिंह चहल और एसपी हेमंत कुटियाल ने बाढ़ प्रभावित गाँवों का निरीक्षण किया। सबसे पहले दोनों अधिकारी रतनपुर गांव पहुंचे। वहां नाव की व्यवस्था कराने के साथ ही बाढ़ पीड़ितों को मदद के लिए अधीनस्थों को निर्देश दिया। डीएम और एसपी ने लोगों से भी हाल जाना। इसके अलावा बाढ़ से घिरे बहादुरपुर, मढ़िया गांव में भी आई बाढ़ का निरीक्षण किया। वहां भी बाढ़ पीड़ितों से किया बात कर हरसंभव मदद देने का आश्वासन दिया। वहीं डीएम के निर्देश पर क्षेत्र के चौरहट, बहादुरपुर और जलीलपुर में बाढ़ चौकी पर लोगों के लिए व्यवस्था की गई और बाढ़ पीड़ितों को घरों तक आने जाने के लिए सरकारी नाव मुहैया कराई गई है। इस मौके पर एसडीएम/ज्वाइंट मजिस्ट्रेट कुमार हर्ष, सीओ त्रिपुरारी पांडेय, कानूनगो, लेखपाल मौजूद थे।
ग्रामीणों ने नावों की संख्या बढ़ाने की मांग की : चहनिया। विकासखंड के दर्जनों गांव में पानी घुस चुका है। लोग सुरक्षित स्थान की ओर जाने लगे है। क्षेत्र के मुकुंदपुर, भुसौला, चकरा, पकड़ी, महुअरिया गांव में जाने वाला मुख्य मार्ग पर पानी होने के कारण नाव से लोग घरों तक पहुंच रहे हैं। वहीं ग्रामीणों का कहना है कि एक नाव लगी है जिससे आने जाने में परेशानी हो रही है। ग्रामीणों ने नाव की संख्या बढ़ाए जाने की मांग की है। वहीं पकड़ी ,घनश्यामपुर, महुअरिया, पूरा विजयी, पुरा गणेश, चकरा, सोनबरसा, सरौली, मोहम्मदपुर, हसनपुर, नादी, निधौरा, रईया , रामगढ़, कुरा, मोहम्मदपुर, मझिलेपुर, नदेसर, मारूकपुर, तिरगावा, शेरपुर सरैया ,बिषुपुर तथा नादी द्वितीय प्राथमिक विद्यालय के चारों तरफ गंगा का पानी फैल चुका है।
बाढ़ चौकी से कई प्रभावित लौटे घर : धानापुर। गंगा किनारे बसे गांव गुरैनी व नरौली में कटान को देखते हुए गुरुवार को डीएम के निर्देश पर वहां के लोगों को उसी रात सुरक्षित स्थान बाढ़ शिविर में लाया गया था ताकि लोग सुरक्षित तरीके से रह सकें। कटान को देखते हुए दर्जनों घरों को खाली कराया गया था। मगर शुक्रवार की सुबह लोग अपनी झोपड़ी में वापस चले गए। नरौली की चिंता देवी ने कहा कि बाढ़ चौकी पर किसी भी प्रकार की सुविधा नहीं है। जहां रात भर पति व अपने पांच बच्चों के साथ किसी प्रकार से गुजारा किया। वहीं नोहरा देवी ने कहा कि रात किसी तरह बीता लेकिन सुबह बच्चों को भोजन के लिए हमें अपने बसेरा का सहारा लेना पड़ा है। इस संबंध में एसडीएम सकलडीहा राम सजीवन मौर्य नें कहा कि सुरक्षा की दृष्टि से रात में लोगों को वहां से शिविर में रखा गया था। वहां डाक्टरों की टीम व लेखपालों की टीम बाढ़ क्षेत्रों में लगाए गए हैं।
सुरक्षित स्थान पर पहुंचने की अपील : सकलडीहा। डीएम के निर्देश पर एसडीएम राम सजीवन मौर्य आधा दर्जन बाढ़ प्रभावित गांवों में पहुंचकर किसानों को पशुओं के साथ बाढ़ राहत केंद्र में पहुंचने की अपील की। इस दौरान कई किसानों ने पशुओं का चारा आदि की समस्या से अवगत कराया। गंगा की बढ़ती जलस्तर को लेकर डीएम और एसपी लगातार चौकसी बरत रहे है। शुक्रवार को मुकुंदपुर, बोझवा, गद्दोचक्क, दियां प्रसहटा, बुद्धपुर, नरौली, गुरैनी, प्रहलादपुर आदि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया। इस दौरान मारूफ पुर और बुद्धपुर में बाढ़ प्रभावित ग्रामीणों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचने का अपील की। इस बाबत एसडीएम राम सजीवन मौर्य ने बताया कि कुछ गांवों में पानी गंगा का घुसने पर किसानों को पशुओं के साथ सुरक्षित बाढ़ राहत केंद्र पर पहुंचने का अपील की गई है।
... और पढ़ें

रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम के बीच प्रतियोगिता में विजेताओं को किया सम्मानित

पीडीडीयू नगर। पूर्व मध्य रेलवे मुगलसराय मंडल में चल रहे राजभाषा सप्ताह के समापन पर रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बीच आयोजित हुई प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कृत किया गया। मुख्य अतिथि मंडल रेल प्रबंधक पंकज सक्सेना ने विजेताओं को नगद और प्रमाण पत्र देकर पुरस्कृत किया। इसके पूर्व मंडल कला समिति के सदस्य और स्काउट गाइड के बच्चों ने आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रमों से लोगों का मन मोहा। इसके पूर्व कार्यक्रम की शुरूआत डीआरम पंकज सक्सेना ने दीप प्रज्ज्वलित कर की।
इस मौके पर डीआरएम ने कहा कि हिंदी हमारे भावों और विचारों का सशक्त माध्यम है। हमें अपने कार्यालयों में हिंदी में कार्य करने की जरूरत है। कहा कि भारतीय रेल का सीधा सरोकार हिंदी है। भारतीय रेल की पटरी के साथ हिंदी भी अपनी यात्रा करती है। रेल के कार्यालयों में हिंदी का प्रयोग सर्वाधिक होता है। अतिथियों का स्वागत करते हुए अपर मंडल रेल प्रबंधक सुनील कुमार वर्मा ने कहा कि मंडल में हिंदी के प्रयोग एवं प्रचार प्रसार की प्रगति संतोषप्रद है। राजभाषा के क्रियान्वयन में हमारा मंडल लोन में सबसे आगे है। कहा कि हिंदी हमारे चेतना की भाषा है। इसके पूर्व राजभाषा विभाग की ओर से आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं में मंडल के प्रतिभागी अधिकारी, कर्मचारी और रेलवे विद्यालय के बच्चों सहित 87 लोगों को पुरस्कृत किया गया। हिंदी में काम करने वाले गया, डेहरी आन सोन, जपला, भभुआ रोड आदि में लाइन में काम करने वाले कर्मचारी डीआरएम के हाथों पुरस्कार लेकर प्रसन्न नजर आए। इस मौके पर राजभाषा अधीक्षक अरविंद मिश्र, विनोद कुमार, राजभाषा सहायक रविभूषण, जहांगीर आलम, रामरोस राय रहे। संचालन संतोष कुमार तिवारी ने और धन्यवाद ज्ञापन वरिष्ठ मंडल राजभाषा अधिकारी दिनेश चंद्र ने किया।
हिंदी प्रतियोगिता के सफल प्रतिभागी पुरस्कृत : पीडीडीयू नगर। पूर्व मध्य रेलव प्लांट डिपो की ओर से चल रहे राजभाषा सप्ताह के समापन पर मुख्य कारखाना प्रबंधक ने हिंदी प्रतियोगिता में विजेता प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया। इस दौरान हिंदी को बढ़ावा देने पर बल दिया गया। समापन समारोह का उद्घाटन मुख्य कारखाना प्रबंधक जावेद अख्तर ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि राजभाषा के विकास मे लिए हमें अपना सर्वोच्च योगदान देने की आवश्यकता है। सरकारी काम काज को हिंदी में करना एक संवैधानिक जिम्मेदारी है, इसे हम सभी को पूरा करना चाहिए। इसके पूर्व सप्ताह के दौरान निबंध, हिंदी वाक, हिंदी प्रारूप एवं टिप्पण प्रतियोगिता और राजभाषा क्विज प्रतियोगिता में विजेता कर्मचारियों को पुरस्कृत किया गया। इस मौके पर उपमुख्य इंजीनियर एचसी यादव, अधिशासी इंजीनौियर रामअवध सिंह, आरके त्रिपाठी, आर आर सिंह, दीपकराज राय, संजय कुमार, सुरेन्द्र कुमार, वीके पांडेय, रामफेर यादव, अरविंद कुमार, रामप्रवेश यादव, राजकुमार, अमित कुमार सिन्हा रहे।
... और पढ़ें

अंतृरप्रांतीय बाइक चोर गिरफ्तार, चार बाइक बरामद

चंदौली। सदर कोतवाली पुलिस ने गुरुवार की रात नगर के डाक बंगला रोड के पास से चोरी की बाइक के साथ अंतरप्रांतीय बाइक चोर गिरोह के एक सदस्य को गिरफ्तार किया। उसके निशानदेही पर पुलिस ने खगवल गांव के पास से तीन अन्य चोरी की मोटरसाइकिलें बरामद की।
सदर कोतवाली में शुक्रवार को सीओ पुलिस लाइन नीरज सिंह ने बताया कि गुरुवार की रात कोतवाल लक्ष्मण पर्वत और कस्बा प्रभारी राघवेंद्र कुमार मिश्र नगर के डाक बंगला रोड के पास वाहनों की जांच कर रहे थे। इसी दौरान एक युवक एक युवक काले रंग की बाइक पर सवार होकर आता दिखा। पुलिसकर्मियों ने उसे रोकने का प्रयास किया तो वह बाइक लेकर भागने लगा। लेकिन पुलिस कर्मियों ने उसे घेरकर पकड़ लिया। पूछताछ के दौरान पकड़ा गया युवक बिहार के चांद थाना क्षेत्र के सिहोरिया गांव निवासी नीरज सिंह ने बाइक चोरी करने की बात स्वीकार की। उसने पुलिस को बताया कि खगवल के पास प्राथमिक विद्यालय के पीछे उसने तीन अन्य चोरी की मोटरसाइकिलें छुपाकर रखी हैं। इसके बाद पुलिस ने तीन और मोटरसाइकिलें बरामद की। सीओ ने बताया कि गिरफ्तार युवक चोरी की मोटरसाइकिलों को बिहार में सस्ते दामों में बेचता है। इस गिरोह के अन्य सदस्यों के खिलाफ पुलिस जांच कर रही है।
... और पढ़ें

बालू लदे वाहनों से अभिवहन शुल्क की वसूली हुई बंद

सैयदराजा। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर सैयदराजा स्थित वन रेंज कार्यालय से बालू लदी गाड़ियों से अभिवहन शुल्क वसूलना शनिवार से बंद कर दिया गया है। यह जानकारी डीएफओ आशुतोष जायसवाल ने दी है। बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुपालन में यह निर्णय लिया गया है।
कहा कि गुरुवार की रात से बालू लदे वाहनों से अभिवहन शुल्क लेने के लिए विभाग को मना कर दिया गया है। पहले बिहार से बालू लादकर आने वाले ट्रकों से 38 रुपये प्रति घनफुट की दर से वन विभाग अभिवहन शुल्क वसूलता था। इससे सरकार को काफी राजस्व मिलता था। सुप्रीम कोर्ट ने लगभग एक वर्ष पूर्व अपने एक आदेश में वन क्षेत्र से लदे बालू के वाहनों से ही अभिवहन शुल्क वसूलने का निर्देश दिया था। यह आदेश भी दिया था कि अगर बालू वन क्षेत्र के बाहर से लदकर आता है तो उनसे वन विभाग को अभिवहन शुल्क लेने का कोई अधिकार नहीं है। डीएफओ ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश को मानते हुए अभिवहन शुल्क लेने से विभाग को मना कर दिया है। उन्होंने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार बालू लदी गाड़ियों से अभिवहन शुल्क लेने से मना कर दिया गया है लेकिन कोयले की गाड़ियों से ट्रांजिट शुल्क वसूलना जारी रहेगा।
... और पढ़ें

विश्वकर्मा पूजा पर्व पर अवकाश घोषित किए जाने की मांग की

दुलहीपुर। ऑल इंडिया यूनाइटेड विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा के तत्वावधान में दुल्हीपुर स्थित केंद्रीय कार्यालय पर शनिवार को विश्वकर्मा स्वाभिमान बचाओ सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस दौरान प्रदेश सरकार से विश्वकर्मा पूजा पर्व पर अवकाश घोषित किए जाने की मांग की। साथ ही निर्णय लिया कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं की जाती है तब तक समाज के लोग राजनीतिक दलों का बहिष्कार करेंगे।
इस अवसर पर संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक कुमार विश्वकर्मा ने कहा कि कहा कि राजनीतिक स्तर पर विश्वकर्मा समाज के साथ भेदभाव के चलते आज भी समाज पूरी से तरह से उपेक्षित है। इस दौरान संगठन के कार्यकर्ताओं ने प्रदेशव्यापी व्यापक आंदोलन की रणनीति भी बनाई। सम्मेलन में निर्णय लिया कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में बड़ी संख्या में समाज के लोगों को चुनाव लड़ाया जाएगा ताकि राजनीतिक तौर पर प्रतिनिधित्व मजबूत हो सके। इस दौरान श्रीकांत विश्वकर्मा, डा. प्रमोद कुमार विश्वकर्मा, सुरेश विश्वकर्मा, लोचन विश्वकर्मा, रमेश विश्वकर्मा, भरत विश्वकर्मा, मनोज विश्वकर्मा, रामकिशुन विश्वकर्मा, महेंद्र विश्वकर्मा, मौजूद रहे। लड़ाने का निर्णय किया गया जिसके लिए पंचायत स्तर से लेकर संगठन का विस्तार करने का फैसला किया गया। अध्यक्षता नंदलाल विश्वकर्मा तथा संचालन राजेश कुमार विशेवकर्मा ने किया।
... और पढ़ें

निचले इलाके में बाढ़ का कहर, पशुओं के सामने चारे का संकट

पीडीडीयू नगर। गंगा में बढ़ाव की रफ्तार भले कम हो गई हो लेकिन बाढ़ का पानी तटीय इलाकों सहित निचले इलाकों में तेजी से फैल रहा है। जिले के तकरीबन 30 गांव बाढ़ के पानी से घिर चुके हैं। जबकि तकरीबन डेढ़ दर्जन गांवों में पानी घुस चुका है। इससे लोगों की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। शनिवार को भी बाढ़ से कइ्र मार्ग डूब गए और लोगों का आवागमन बाधित हो गया। सबसे अधिक परेशानी पशुओं के चारे की हो रही है। ग्रामीणों का आरोप है कि जिले में 42 बाढ़ चौकियों बनाई गई हैं मगर वहां कोई सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं। जलीलपुर, धानापुर, चहनिया क्षेत्र के विभिन्न गांवों में बनाई गई हैं मगर वहां कोई सुनवाई नहीं हो रही है। ग्रामीणों का कहना है कि चारा डूब गया है लेकिन पशुओं के लिए अब तक कोई व्यवस्था नहीं की गई है।
बाढ़ का पानी क्षेत्र के रौंना, कुरहना, कैली, भुपौली, सैदपुरा, टड़िया गांव में लगातार पांच दिनों से गंगा के बढ़ाव के कारण किसानों के फसल धान, सब्जी, चारा सहित अन्य फसल बाढ़ के पानी में पूरी तरह डूब चुकी है। रौना के आसपास बाढ़ का पानी आने से निजी और सरकारी स्कूल बंद हो गए है। इसके साथ ही यह गंगा किनारे बसे लोग दहशत के साए में जीवन यापन करने को मजबूर है। ग्रामीणों ने प्रशासन की ओर से किसी तरह की मदद नहीं मिलने पर नाराजगी जताई। पशुओ के लिए चारे की व्यवस्था भी नहीं हो पा रही है।
वहीं धानापुर संवाददाता के अनुसार क्षेत्र में गंगा नदी का पानी नौघरा व बुद्धपुर के सिवान को डूबोते हुए रायपुर-प्रसहटा मार्ग पर पहुंच गया है। अब गंगा का पानी प्रसहटा व दीयां गांव को भी घेरने के करीब पहुंच चुका है। नरौली व गुरैनी गांव में गुजरने वाले रास्ते की कटान भी शुरू हो चकी है। गद्दोचक गांव के संपर्क मार्ग भी पानी से डूब गया है। नौघरा के रामराज यादव, रविन्द्र, प्रसहटा के रामअवध यादव, दीयां के बबलू, गुरैनी के कृष्ण यादव ने कहा कि बाढ़ पीड़ितों को बाढ़ चौकी कोई फायदा नहीं मिल रहा है। बाढ़ में फसलें व चारा डूबने से किसानों को पशुओं के चारा के लिए काफी परेशानी हो रही है। किन्तु बाढ़ राहत चौकी पर किसी भी प्रकार की ब्यवस्था नहीं है। गुरैनी ग्राम प्रधान ने कहा कि बाढ़ से गुरैनी की बिजली भी प्रभावित हो गई है। जिससे बाढ़ पीड़ितों को रात में रूकने पर उजाले की व्यवस्था हो सके। बाढ़ प्रभावित तटवर्ती ग्रामीणों नें कहा कि जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल के निरीक्षण के दौरान दिए निर्देशों का कोई असर नहीं दिख रहा है। इस संबंध में एसडीएम सकलडीहां रामसजीवन मौर्य नें कहा कि बाढ़ राहत चौकी पर जब लोग पशुओं के साथ पहुंचेगें। तब पशुओं को चारा व पीड़ितों को भोजन की व्यवस्था होगी।
पड़ाव संवाददाता के अनुसार रतनपुर, मढ़िया, बहादुरपुर क्षेत्र में पानी अब लोगों के लिए और मुसीबत बनता जा रहा है। अब लोग सुरक्षित स्थानों पर जाने लगे हैं। वहीं गंगा किनारे बने एक मकान में परिवार वहीं दूसरी मंजिल पर रूका हुआ है। परिवार के लोग चोरी के भय से घर नहीं छोड़ रहे हैं।
दुलहीपुर संवाददाता के अनुसार पड़ाव से जाने वाले भूपौली मार्ग पर दो से तीन फीट पानी बह रहा है। लोगों को आवागमन में दिक्कत हो रही है। पानी में गड्ढा न दिख्ने पर फंस कर पलट जा रहे हैं। सबबसे अधिक नुकसान कुंडा खुर्द और भिषौड़ी में पानी बढ़ने से फसल नुकसान हुअआ। घरों में पानी घुस गया है। सुरक्षित जगह जगहों पर घरों से निकल रहे हैं। ट्राली से लोग सुरक्षित स्थान की ओर जा रहे हैं। इन गांवों में मवेशियों को भी रोड किनारे सुरक्षित स्थानों पर रखा गया है। ब्लाक के पशु चिकित्सक डॉ. जेपी सिंह, रामअवध यादव, शमीम अहमद, सुदर्शन सिंह, मवेशियों के चारा की पूरी तरह व्यवसथा करने के लि सर्वे किया जा हरा है।
चहनिया संवाददाता के अनुसार वहीं ग्रामीणों का कहना है कि पकड़ी में एक नाव लगी है। घनश्यामपुर, महुअरिया, पूरा विजयी, पुरा गणेश, चकरा, सोनबरसा, सरौली, मोहम्मदपुर ,हसनपुर, नादी, निधौरा, रईया, रामगढ़, कुरा, मोहम्मदपुर, मझिलेपुर, नदेसर, मारूकपुर, तिरगावा, शेरपुर तथा नादी द्वितीय प्राथमिक विद्यालय के चारों तरफ गंगा का पानी फैल चुका है।
इनसेट
गंगा का पानी 72 मीटर पहुंचने के करीब, हेल्पलाइन नंबर जारी
पीडीडीयू नगर। गंगा के जलस्तर में लगातार बढ़ाव से मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। शनिवार को भी गंगा में दो घंटे में एक सेमी की रफ्तार से पानी बढ़ रहा है। केंद्रीय जल आयोग के मुताबिक शनिवार की सुबह आठ बजे तक खतरे के निशान 71.72 मीटर से बढ़कर शाम छह बजे तक जलस्तर 71.80 मीटर दर्ज किया गया। इससे बाढ़ का पानी अब मैदानी इलाकेे में तेजी से फैलने लगा है। वहीं जिला प्रशासन की ओर से बाढ़ पीड़ितों के बचाव के लिए पीएसी की एक टुकड़ी, आपदा प्रबंधन दल, 86 नाव, स्वास्थ्य विभाग की नौ टीम, राजस्व विभाग तथा पंचायतीराज के लोगों गंगा के तटवर्ती गांवों में तैनात कर दिया गया। इसके अलावा 42 बाढ़ चौकियां बनाई गई हैं। जिल प्रशासन की ओर से हेल्पलाइन नंबर 05412-262557 भी जारी कर दिया गया है। वहां एक कर्मचारी की ड्यूटी लगाई गई है। बाढ़ पीड़ित इस हेल्पलाइन नंबर पर शिकायत कर सकते हैं।जनप्रतिनिधियों संग अफसरों ने बाढ़ग्रस्त इलाकों का किया दौरासकलडीहा, सैयदराजा विधायक ने बाढ़ पीड़ितों का हाल जाना
अमर उजाला ब्यूरो
पीडीडीयू नगर। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में शनिवार को प्रशासनिक अधिकारियों के अलावा जनप्रतिनिधियों ने भी बाढ़ग्रस्त इलाकों का दौरा किया। बाढ़ पीड़ितों से मिलकर उनके हाल जाने और मदद का आश्वासन दिया। वहीं किसान नेता ने भी बाढ़ प्रभावित गांवों में लोगों का हालचाल लिया और जिला प्रशासन से मदद की गुहार लगाई। एसडीएम कुमार हर्ष और रामसजीवन मौर्य ने क्षेत्रों का दौरा कर जायजा लिया।
धानापुर संवाददाता के अनुसार सैयदराजा विधायक सुशील सिंह ने विधान सभा क्षेत्र अन्तर्गत प्रहलादपुर व गुरैनी सहित बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया। इस दौरान बाढ़ पीड़ित लोगों से मिलकर बातचीत की। वहीं बाढ़ पीड़ितों ने नाव और अन्य जरूरत की सामान नही मिलने पर विधायक से शिकायत की। विधायक ने मोबाईल से जिलाधिकारी सहित संबंधित अधिकारियों को अवगत कराया तथा गांव में राहत पहुंचाने का लोगों का आश्वासन दिया। इस मौके पर जनौली सुशील सिंह, अन्नू सिंह, विजय मौर्या, संतोष मौर्या मौजूद थे। चहनिया संवाददाता के अनुसार गंगा के बढ़ते जल स्तर को देखते हुए सकलडीहा विधायक प्रभुनारायण सिंह यादव ने बाढ़ क्षेत्र का दौरा किया। उन्होंने लोगों को आश्वस्त किया कि उन तक प्रशासनिक मदद के लिए उच्चाधिकारियों से बात कर जरूरत के सामान उपलब्ध कराए जाएंगे। सपा के पूर्व राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोज सिंह काका ने भी शनिवार को मुकुंदपुर, सरैया, बड़गांवा, बोझवा सहित कई गांवों का दौरा कर जिला प्रशासन पर नाराजगी जताई। कहा की बाढ़ प्रभावित गांवों के लिए बनाए गए राहत चौकियां कार्य करने में सक्षम नहीं है। इससे ग्रामीण परेशान हैं, लेकिन सूचना के बाद भी जिला प्रशासन इस पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। वहीं जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल से वार्ता कर वहां के समस्यों से अवगत कराया। कहा कि जिला प्रशासन बाढ़ प्रभावित गांव के लिए तत्काल कोई व्यवस्था नहीं करती है तो समाजवादी पार्टी आंदोलन करेगी। इसकी सारी जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी। इस दौरान चंद्रमा यादव, प्रकाश यादव, मटरू, रामाश्रय ,संदीप, मुलायम, केपी यादव, पंचम, सुदामा रहे।
इनसेट
किसानों का प्रतिनिधिमंडल गांवों का किया दौरा
पीडीडीयू नगर। बाढ़ प्रभावित गांवों में शनिवार को किसान नेता केदार यादव के नेतृत्व में लोगों ने दौरा किया। वहां के हालात का जायजा लिया और शासन एवं प्रशासन से उचित मुआवजे की मांग की। केदार यादव ने कहा कि पशुओं के चारे का संकट गहरा गया है। रास्तों पर पानी भरने से आवागमन में दिक्कत होने लगी है। बाढ़ से प्रभावित गांव में बच्चों को स्कूल जाने आने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा हैं। पशुओं को चारा के लिए थे काफी परेशानी बढ़ गयी है। बाढ़ से प्रभावित गांव में झोपड़पट्टी व कच्चे मकान गिरने के कगार पर पहुंच गए हैं। प्रतिनिधिमंडल में डॉक्टर स्वामीनाथ यादव, श्रवण यादव, रमेश तिवारी, चंद्रशेखर सिंह, सुरेंद्र यादव, उमाशंकर यादव, जोगिंदर शामिल रहे।
... और पढ़ें

धूम धाम से मनाया सतपाल महाराज का जन्मोत्सव

पीडीडीयू नगर। मानव उत्थान सेवा समिति की ओर से मानव धर्म के प्रणेता सतपाल महाराज का जन्मोत्सव रविवार को नगर के रविनगर स्थित श्रीहंस सत्संग मंदिर में धूम धाम से मनाया गया।इस दौरान हरिद्वार और काशी से आए महात्मा रमादेवानंद, सौम्याबाई और पूजा बाई ने सत्संग के माध्यम से सद्गुरु के चरणों में स्वयं को अर्पित करने का महत्व समझाया।
संतों ने कहा कि जब भक्त सदगुरु महाराज के चरणों में अपने आपको अर्पित कर देता है तो उसको सब कुछ मिल जाता है। जैसे एक रोगी डॉक्टर के सामने अपने आप को समर्पित कर देता है उसी तरह जब आपका मन स्थिर हो जाएगा। कहा कि चंचल मन को कभी भी प्रभु का दर्शन नहीं होता। भगवान श्री कृष्ण गीता कर्मयोग शास्त्र में कहते हैं कि हे गॉडीवधारी उस तीसरे नेत्र की दृष्टि से ही तू मुझे देख सकता है। अंदर मेरी वास्तविकता को पहचान सकता है। परमपिता परमात्मा कण-कण में विद्यमान है। इसके पूर्व भजन गायक राम भरोसे यादव ने भजन गाकर भक्तों का मन मोह लिया। इस मौके पर भंडारे का आयोजन किया गया। इसमें सैकडों भक्तों ने प्रसाद चखा। इस अवसर पर बचाऊ प्रधान, दशरथ यादव, रामकिशन यादव, शिवधनी यादव, संजय पाल, रमेश यादव, राजू अग्रहरी, अभिषेक, मनोज कुमार, माया देवी, रेखा देवी, सुष्मिता, शकुंतला रहे।
... और पढ़ें

ग्रामीणों के सहयोग से टीम ने मगरमच्छ को पकड़ा

शिकारगंज। स्थानीय क्षेत्र के कुसहीं गांव के सिवान में शुक्रवार की रात बाजरे के खेत में लगभग सात फीट लंबे मगरमच्छ को देखते ही गांव में हड़कंप मच गया। ग्रामीणों ने आनन फानन में इसकी सूचना 100 नंबर पर पुलिस को दी। सूचना पाकर मौके पर पहुंची वन विभाग और पुलिस कर्मियों की टीम ने जाल के सहारे मगरमच्छ को पकड़ लिया। शनिवार की सुबह वन विभाग ने विभागीय कार्यवाही के बाद सरकारी वाहन से उसे चंद्रप्रभा बांध में छोड़ दिया।
कुसहीं गांव के सिवान में शौच करने गए ग्रामीणों ने सात फीट लंबे मगरमच्छ को शिकारगंज पुलिस चौकी पर तैनात चौकीदार चंद्रदेव के बाजरे के खेत में देखा। जिसपर ग्रामीणों ने शोर मचाने लगे। बाद में इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलते ही चंद्रप्रभा रेंजर बृजेश पांडेय और कोतवाली पुलिस अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंच गई। लगभग चार घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद ग्रामीणों के सहयोग से टीम ने जाल के सहारे मगरमच्छ को पकड़ लिया। मगरमच्छ को वन विभाग की टीम कैंपर वाहन से रेंज कार्यालय ले आई। जहां शनिवार की सुबह विभागीय कार्रवाई के उपरांत उसे चंद्रप्रभा वन्य जीव विहार में स्थित चंद्रप्रभा बांध में छोड़ दिया गया। इस दौरान शिकारगंज चौकी इंचार्ज वीरेंद्र सिंह, वन दरोगा आनंद दुबे, वनरक्षक जयप्रकाश, राजेंद्र सोनकर मौजूद रहे।
... और पढ़ें

प्रधानाध्यापकों ने एक-दूसरे से बताया जान का खतरा

कंदवा। बरहनी विकासखंड के दो अलग-अलग विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों नेबरहनी बीईओ को पत्रक देकर एक-दूसरे से जान-माल का खतरा बताया है। बीईओ राकेश सिंह ने मामले की गंभीरता को देखते हुए त्रिस्तरीय कमेटी गठित कर मामले की निष्पक्ष जांच कर एक सप्ताह के अंदर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं।
सिसौरा स्थित प्राथमिक विद्यालय पर प्रधानाध्यापक डा. जयकुमार सिंह व सहायक अध्यापक कमलेश प्रसाद कार्यरत थे। कुछ दिनों पूर्व डा. जयकुमार सिंह का स्थानांतरण चखनिया प्राथमिक विद्यालय मेें प्रधानाध्यापक के पद पर हो गया। उनके जाने के बाद वरिष्ठता के आधार पर कमलेश प्रसाद को सिसौरा स्कूल के प्रधानाध्यापक का पदभार सौंप दिया गया। कभी एक ही विद्यालय पर प्रधानाध्यापक व सहायक अध्यापक रहे शिक्षकों ने एक दूसरे से अपनी जान का खतरा बताया है। इस संबंध में कमलेश प्रसाद ने 17 सितंबर व जयकुमार सिंह ने 19 सितंबर को बीएसए को प्रार्थना पत्र देकर शिकायत दर्ज है। प्रार्थना पत्रों को गंभीरता से लेते हुए बीईओ बरहनी ने त्रिस्तरीय टीम गठित कर दी है। बीईओ ने बताया कि त्रिस्तरीय जांच कमेटी की जांच रिपोर्ट के आधार परविभागीय कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

वाराणसी सहित इन जिलों में हुईं आपराधिक घटनाएं, जानें कौन सी हैं वो खबरें

वाराणसी सहित आसपास के जिलों में आपराधिक मामले में कम नहीं हो रहे हैं। मझ जिले में पुरानी जमीन को लेकर दो पक्षों में खूनी संघर्ष में तीन लोगों की मौत हो गई। इसके साथ ही वाराणसी में भी बदमाशों ने दंपती की गोली मारकर हत्या कर दी। चंदौली में पीएम आवास के लाभार्थी से घूस लेने वाले को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वहीं बलिया में सितंबर को डेढ़ लाख लूट फरार हुए बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। बाकी खबरें पढ़ें आगे...

मऊ जिले के रानीपुर थाना क्षेत्र के ब्राह्मणपुर ग्राम पंचायत के हुड़हरा की मठिया गांव में दो पट्टीदारों के बीच जमीनी विवाद को लेकर उपजे विवाद में शुक्रवार की देर रात खूनी संघर्ष हुआ। धारदार हथियार से लैस पट्टीदार ने अपने साथियों संग दूसरे पक्ष पर जानलेवा हमला कर दिया।

क्लिक कर पढ़ें खबर : 
यूपी : जमीन विवाद को लेकर दो पक्षों में खूनी संघर्ष, तीन लोगों की हत्या से गांव में दहशत

वाराणसी के चेतगंज थाना क्षेत्र के काली महाल क्षेत्र में शनिवार सुबह पिशाचमोचन की गद्दी और संपत्ति विवाद में पूजा कराने जा रहे कर्मकांडी ब्राह्मण और पत्नी की घर में नृशंस हत्या कर दी गई।

क्लिक कर पढ़ें खबर : डबल मर्डर : कर्मकांड कराने वाले गद्दी संचालक और पत्नी की हत्या, एसएसपी से लिपटकर खूब रोया बेटा ... और पढ़ें

बिजली की बढ़ी दरों को वापस लेने की मांग को लेकर अभाकिस ने किया प्रदर्शन

चकिया। बिजली दरों में वृद्धि सहित 11 मांगों को लेकर शनिवार को अखिल भारतीय किसान सभा के बैनर तले कार्यकर्ताओं ने नगर में जुलूस निकाला तथा गांधी पार्क में धरना दिया। धरने के दौरान आयोजित सभा को संबोधित करते हुए नेताओं ने केंद्र तथा राज्य की भाजपा सरकार को आम आदमी विरोधी बताया।
बिजली की बढ़ी दरों को वापस लेने मोटर व्हीकल एक्ट में भारी जुर्माना के कारण पुलिस द्वारा की जा रही लूट को बंद करने, वनों में पंपरागत रूप से आबाद परिवारों को उजाड़ने से रोकने, बैराठ फार्म में अवांछनीय तत्वों पर कार्रवाई करने, प्रधानमंत्री सम्मान निधि का पैसा हर किसान के खाते में भेजने, मचवल, सीहर तथा गोगहरा गांवों के भूमिहिनों को मिले पट्टों पर कब्जा देने, बैराठ, मूसाखाड़, शाहपुर की सिलिंग से निकली भूमि पर हाईकोर्ट में लम्बित मुकदमे में पैरवी करने सहित 11 सूत्री मांगों को लेकर अखिल भारतीय किसान सभा ने नगर में जुलूस निकाला तथा गांधी पार्क में सभा की। सभा में किसान सभा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य पूर्व विधायक दीनानाथ यादव ने कहा कि मोदी, योगी की सरकार जनविरोधी है तथा जनता पर तरह-तरह के टैक्स लगाकर तथा आम आदमी की जरूरतो वाली वस्तुओ को महंगा कर उनका शोषण कर रही है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार पूजीपतियों को फायदा पहुंचाने में लगी हुई है। सभा में शंभूनाथ, राजेन्द्र यादव, लालचंद, भृगुनाथ, कैलाशनाथ, बजरंगी चौहान, लालमनी देवी, गौरीशंकर ने विचार व्यक्त किया। अध्यक्षता परमानंद ने और संचालन लालचंद ने किया।
... और पढ़ें

चंदौली : पीएम आवास के लाभार्थी से घूस लेने वाला प्रधान गिरफ्तार, सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था वीडियो

चंदौली जिले में पीएम आवास के लाभार्थी से घूस लेने वाले सकलडीहा ब्लॉक के दुदौली के प्रधान बजरंगी को शुक्रवार की रात पुलिस ने डेढ़गावा बाजार से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उसके पास से लाभार्थी से वसूले गए दस हजार रुपये बरामद कर लिए।

पूछताछ के दौरान प्रधान ने लाभार्थी से आवास आवंटित कराने के बदले दस हजार रुपये लेने की बात स्वीकार किया। शनिवार को एएसपी प्रेमचंद ने कलक्ट्रेट सभागार में मामले का खुलासा किया। 

एएसपी ने बताया कि सकलडीहा ब्लाक की दुदौली गांव निवासी संजय की पत्नी बेईला देवी के खाते में प्रधानमंत्री आवास की किश्त भेजी गई थी। लाभार्थी बैंक से आवास का 43500 रुपये निकालकर बाहर निकली। तभी वहां मौजूद ग्राम प्रधान बजरंगी ने लाभार्थी से जबरन दस हजार रुपये ले लिए। किसी ने पैसा लेते समय का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया।
... और पढ़ें

बाढ़ : गाजीपुर-बलिया में हालात खराब, वाराणसी सहित आसपास के जिलों में स्थिति चिंताजनक

पूर्वांचल में गंगा की लहरें तबाही मचा रही हैं। गंगा के साथ अब पूर्वांचल के आसपास के जिलों में बहने वाली नदियों में पानी जलस्तर बढ़ गया है, जो खतरे के निशान के ऊपर बह रही हैं। पूर्वांचल में कई जिलों के गांवों का संपर्क टूट गया है और बाढ़ का पानी घरों में घुस गया है। लोगों को पलायन करने को मजबूर होना पड़ा है।

वाराणसी में शुक्रवार को योगी आदित्यनाथ ने बाढ़ प्रभावित इलाको का दौरा किया, और पीड़ित लोगों को राहत सामग्री दी। इसके साथ ही 12 घंटों के अंदर राहत पहुंचाने की बात कही थी। शनिवार को वाराणसी में गंगा का जलस्तर 71.82 मीटर था, जो खतरे के निशान (71.26) से 0.56 मीटर ऊपर बह रही हैं। इसके साथ ही गंगा में एक सेमी प्रति दो घंटे से पानी का बढ़ाव जारी है।

वाराणसी में वर्ष 2016 के बाद यह पहला मौका है, जब गंगा ने वाराणसी में खतरा बिंदु को पार कर लिया है। इससे पहले 2013 को वाराणसी में गंगा ने खतरे का निशान पार किया था। जलस्तर एक घंटा प्रति सेमी बढ़ रहा है। इस लिहाज से गंगा इस समय खतरे के निशान से 20 सेंटीमीटर ऊपर हैं। अगर अगले चौबीस घंटों तक यह गति जारी रही तो कई अन्य कालोनियों में भी गंगा का पानी भर जाएगा और स्थिति काफी भयावह हो जाएगी। गंगा खतरे के निशान को पार करके बह रही है। 1978 की बाढ़ में अधिकतम जलस्तर 73.901 मीटर रहा था।

काशी में बाढ़ ग्रस्त इलाकों का दौरा करने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को अस्सी स्थित गोयनका संस्कृत महाविद्यालय में बने राहत शिविर में पीड़ितों के बीच पहुंचे थे। बाढ़ पीड़ितों को अपने हाथों से खाद्य सामग्री समेत उनके जरूरतों से संबंधित अन्य समान का वितरण किया। सीएम योगी आदित्यनाथ ने पीड़ितों से कहा था कि इस मुसीबत की घड़ी में सरकार के साथ जिला प्रशासन पूरी तरह से उनके साथ खड़ी है। बाढ़ पीड़ितों की हर तरह से मदद की जाएगी, इसके लिए सरकारी खजाना खोल दिया गया है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree