विज्ञापन

अलीगढ़

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

अलीगढ़ः 30 साल से फरार 25 हजार का इनामी गिरफ्तार

करीब 30 साल से फरार चल रहे 25 हजार के इनामी सत्यवीर सिंह (70) को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वह जवां क्षेत्र के गांव कोटा बहादुरपुर में हुए दोहरे हत्याकांड में सजायाफ्ता था और अपील बेल पर रिहा होने के बाद से फरार चल रहा था। 2016 में हाईकोर्ट ने इसकी सजा को बहाल कर दिया था। तभी से पुलिस इसे खोज रही थी।


सीओ तृतीय श्वेताभ पांडेय के अनुसार, जवां क्षेत्र के गांव कोटा बहादुरपुर में वर्ष 1985 में ग्राम समाज की भूमि से जुड़े विवाद में हुए हमले में रवेंद्र सिंह व विजेंद्र सिंह जख्मी हुए थे, जिनकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी। इस दोहरे हत्याकांड में गांव के ही दो सगे भाइयों गंगा सिंह, जगपाल सिंह के अलावा रामवीर व सत्यवीर जेल भेजे गए।



इन चारों को वर्ष 1988 में सत्र न्यायालय से उम्रकैद की सजा सुनाई गई और चारों जेल भेज दिए गए। 1992 में सत्यवीर सिंह सहित चारों आरोपी हाईकोर्ट से अपील बेल पर रिहा हो गए। फिर सत्यवीर सिंह कभी गांव में दिखाई नहीं दिया। वर्ष 2016 में हाईकोर्ट ने वादी पक्ष की अपील पर सत्र न्यायालय की चारों की उम्रकैद की सजा को बहाल कर दिया। उसके बाद से गंगा व रामवीर जेल में हैं, जबकि सत्यवीर का कहीं कोई सुराग नहीं लगा, जबकि जगपाल सिंह की मौत हो चुकी है।




सजा बहाली के बाद न्यायालय से गिरफ्तारी वारंट आदि के आधार पर 2018 में एसएसपी स्तर से सत्यवीर पर इनाम घोषित किया गया। तभी से पुलिस उसे तलाश रही थी। पुराने अपराधियों की तलाश में चलाए जा रहे अभियान के क्रम में सीओ की अगुवाई में सर्विलांस व थाना पुलिस की टीम ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। एसएसपी स्तर से उस पर 25 हजार रुपये का इनाम घोषित था। गिरफ्तारी के बाद पुलिस टीम ने सजायाफ्ता को मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया।
... और पढ़ें

अलीगढ़ः सत्यवीर है बीमार, जेल से भेजा मेडिकल कॉलेज

जेल भेजा गया सत्यवीर सिंह जीवन के करीब 70 वर्ष पार कर चुका है। वह बीमार है और पैरों से चलने में असमर्थ है। मगर, बीमारी के चलते जेल से उसे मेडिकल कॉलेज में भरती कराया गया है। पता चला है कि फरारी के दौरान वह अपने परिवार के संपर्क में था और जेवर में किराये पर कमरा लेकर रहता था। कभी कभी चोरी छिपे परिवार से मिलने आता था। 


सजायाफ्ता सत्यवीर सिंह को सर्विलांस टीम की मदद से रात सुमेरा तिराहे से गिरफ्तार किया गया। उसके विषय में खबर मिली थी कि वह कभी कभी परिवार से मिलने आता है। उसके चार बच्चे हैं। पूछताछ में पता चला कि अपील बेल मिलने के बाद वह किसी के संपर्क में नहीं रहा।



परिवार से भी उसने नाता नहीं रखा। फिर उसे जेवर में एक ठिकाना मिल गया। वहीं किराये पर कमरा लेकर रहने लगा और वहां उसे खाने पीने से लेकर हर तरह की सुविधा भी मिल गई। यहां वह डेयरी चलाकर अपना गुजर बसर कर रहा था। मगर अब पैरों से चलने में असमर्थ होने के बाद से वह काम धंधा भी नहीं कर पाता था और बीमारियों ने घेर लिया। इसलिए बिस्तर में था।



जीवन के अंतिम समय में वह चुपचाप बच्चों के पास काटना चाहता था। इसी उद्देश्य से वह परिवार के संपर्क में आया था। मगर उसे नहीं पता था कि पुलिस उसके पीछे है। हालांकि जेल में डॉक्टरों के परीक्षण के बाद उसे जेल में रखने योग्य नहीं पाया गया और हालत ज्यादा कमजोर होने के कारण जेएन मेडिकल कॉलेज भेज दिया। इधर, गिरफ्तारी के बाद भी पुलिस ने उसे रात भर जवां सीएचसी पर रखा था।


अब तक का सबसे पुराना अपराधी पकड़ा गया
जिला पुलिस के पुराने अपराधियों की गिरफ्तारी के अभियान के क्रम में यह जिले के पुराने मुकदमे में फरार सबसे पुराना अपराधी है। जिला पुलिस के फरार अपराधियों की सूची में पहले नंबर पर दर्ज यह अपराधी गिरफ्तार हुआ है। अब तक पुलिस पिछले एक साल में पांच ऐसे अपरोधियों को गिरफ्तार कर चुकी है, जिसमें जवां से गिरफ्तार सत्यवीर पर 1985 का मुकदमा है और 1992 में अपील बेल मिलने के बाद से फरार है। इससे पहले मडराक पुलिस ने 4 जुलाई 2021 को 11 वर्ष से फरार 25 हजार के डकैती के इनामी करन को दबोचा था। 27 मई 2021 को 19 साल से फरार हत्या में 25 हजार के इनामी नेहने उर्फ नेत्रपाल को खैर पुलिस ने दबोचा था। 13 अगस्त 2021 को गैंगेस्टर में दस वर्ष से फरार 25 हजार के इनामी नरेंद्र उर्फ छोटू को देहली गेट पुलिस ने दबोचा था। 5 सितंबर 2021 को 13 वर्ष से फरार गैंगेेस्टर में 25 हजार के इनामी साबेज को क्वार्सी पुलिस ने दबोचा था। एसएसपी ने सत्यवीर की गिरफ्तारी पर पुलिस टीम की पीठ ठोंकी है।

- जिला पुलिस द्वारा पुराने अपराधियों की गिरफ्तारी अभियान के क्रम में आज सबसे बड़ी सफलता मिली है। जिले की फरार सूची का सबसे पहले नंबर पर दर्ज 30 वर्ष से फरार अपराधी दबोचा गया है। इसके लिए पुलिस टीम बधाई की पात्र है। - कलानिधि नैथानी, एसएसपी
... और पढ़ें

अलीगढ़ः एएमयू : मुमताज हॉल में छात्रों के दो गुट भिड़े, चाकूबाजी

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के मुमताज हॉल में शुक्रवार देर रात छात्रों के दो गुटों में कहासुनी के साथ मारपीट हो गई। इतना ही नहीं चाकूबाजी तक हो गई। इसमें एक छात्र चाकू लगने से घायल हो गया, उसे जेएन मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। इस मामले में दोनों पक्षों की ओर से एक-दूसरे पर आरोप लगाते हुए थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। हालांकि देर रात तक इस प्रकरण में समझौते के प्रयास भी जारी थे।



प्रभारी निरीक्षक सिविल लाइंस प्रवेश राणा के अनुसार, एएमयू के बीए द्वितीय वर्ष के छात्र महताब पुत्र सलीम निवासी लखीमपुर खीरी का साथी छात्र शहवान आदि से शमशाद मार्केट में किसी बात को लेकर विवाद हो गया, तब लोगों ने छात्रों को समझा-बुझाकर मामले को शांत करा दिया। देर रात मुमताज हॉल में दोनों छात्र गुट फिर से आमने-सामने आ गए और उनके बीच जमकर मारपीट हो गई।




आरोप है कि चाकू के वार से महताब के हाथ की कलाई बुरी तरह से जख्मी हो गई। मारपीट से मुमताज हॉल में खलबली मच गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायल छात्र को जेएन मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया। उन्होंने बताया कि इस मामले में एक पक्ष से महताब ने शहवान आदि के खिलाफ एक राय होकर मारपीट करने का आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज करायी है। दूसरे पक्ष से शहवान ने महताब, आमिर मिंटो, इमरान जलाली आदि के खिलाफ एक राय होकर मारपीट करने व पांच हजार रुपये लूटकर ले जाने का आरोप लगाया है। 




उन्होंने बताया कि छात्र गुटों के बीच हुई घटना की जांच की जा रही है। उधर, एएमयू प्रॉक्टर प्रो. वसीम अली ने कहा है कि छात्रों के बीच मारपीट की जानकारी मिली है। मारपीट किस बात को लेकर हुई है इसकी जांच की जा रही है। दोनों पक्षों की ओर से मुकदमा दर्ज कराया गया है। इंतजामिया की ओर से भी प्रकरण में जांच की जा रही है। इसके बाद अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

अलीगढ़ः सराय हकीम में लाउडस्पीकर बंद कराने को लेकर हंगामा

शहर में हनुमान चालीसा के पाठ के साथ ही लाउडस्पीकर साउंड लगाने के एलान के बाद शनिवार को हनुमान जयंती के दिन पुलिस-प्रशासन बेहद सतर्क रहा। इस दौरान बन्नादेवी के सराय हकीम में लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा बजने पर पुलिस पहुंच गई। इसको लेकर वहां हंगामा हो गया और वहां जाम जैसे हालात पैदा हो गए।




हनुमान जन्मोत्सव पर शनिवार को सराय हकीम के मुख्य बाजार में भाजयुमो के महानगर मंत्री हर्षद हिंदू ने अपने प्रतिष्ठान पर हनुमान चालीसा के लिए साउंड सिस्टम लगा दिया। कुछ ही देर बाद वहां बन्नादेवी  के प्रभारी निरीक्षक सुभाष बाबू फोर्स के साथ पहुंच गए। आरोप है कि इलाका पुलिस ने लगे लाउडस्पीकर को हटाने के लिए आसपास के व्यापारियों पर दबाव बनाना शुरू कर दिया।



इतना ही नहीं, न हटाने की दशा में मुकदमे की भी धमकी दी। इसको लेकर भाजयुमो के हर्षद हिंदू, विशाल देशभक्त, अरुण महादेव, रोहन, प्रशांत आदि आ गए और उन्होंने इसका विरोध करना शुरू कर दिया और लाउडस्पीकर को दोबारा चलवा दिया। उन्होंने कहा कि हनुमान जन्मोत्सव पर हनुमान चालीसा नहीं बजेगा तो फिर कब बजेगा? इसी बीच भाजयुमो के महानगर अध्यक्ष अमन गुप्ता, उपाध्यक्ष अमित गोस्वामी, शशांक, पीयूष आदि भी आ गए।



उन्होंने भी पुलिस के धमकाने पर कड़ी नाराजगी व्यक्त की। हंगामे के चलते बाजार में जाम जैसे हालात पैदा हो गए। हर्षद हिंदू ने कहा वर्षों से जब मुस्लिम लोगों के अजान से कोई दिक्कत नहीं है तो फिर लाउडस्पीकर से होने वाली पूजा से किसी को भी दिक्कत नहीं होनी चाहिए। यहां पुलिस ने किसी तरह मामले को शांत कराया।



अभी नहीं मिली चौराहों पर लाउडस्पीकर की अनुमति
शहर के 21 चौराहों पर लाउडस्पीकर लगाकर हनुमान चालीसा का पाठ करने के मामले में प्रशासन ने अभी तक अनुमति नहीं दी है। एडीएम सिटी राकेश कुमार पटेल व एसपी सिटी कुलदीप सिंह गुनावत ने शनिवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के पूर्व प्रदेश मंत्री बलदेव चौधरी उर्फ सीटू के साथ बातचीत की। हालांकि, बल्देव चौधरी ने साफ कहा कि इस मामले में अभी प्रशासन से अनुमति नहीं मिली है। प्रशासनिक अधिकारियों से वार्ता में तय हुआ है कि शासन के निर्देशानुसार निर्णय लिया जाएगा। उधर, पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों ने कहा कि सार्वजनिक स्थान पर बिना अनुमित के कहीं भी लाउडस्पीकर नहीं लगने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि किसी भी कीमत पर शहर का माहौल खराब नहीं होने देंगे।  एडीएम सिटी ने बताया कि लाउडस्पीकर प्रकरण में बातचीत के जरिए हल निकालने का प्रयास करते हुए समझाया गया है। सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन के बारे में भी उन्हें जानकारी दी गई है।
... और पढ़ें
सराय हकीम में हनुमान चालीसा के लिए साउंड लगाने पहुंची टीम। सराय हकीम में हनुमान चालीसा के लिए साउंड लगाने पहुंची टीम।

अलीगढ़ः अकराबाद गैंगरेप : ऑटो चालक के दोनों साथी गिरफ्तार

 गांधीपार्क बस स्टैंड से ऑटो सवार महिला यात्री से अकराबाद में हुई गैंगरेप व लूट की घटना के दो और फरार आरोपी दबोच लिए गए। पिछले 36 घंटे से लगातार भागदौड़ कर रही पुलिस टीम को शनिवार को यह सफलता हाथ लगी। शुक्रवार रात हुई मुठभेड़ में फरार ऑटो चालक के दोनों साथी अकराबाद क्षेत्र में ही घेराबंदी के दौरान मिल गए। जिनसे पूछताछ जारी है। वहीं रात में मुठभेड़ में दबोचा गया मुख्य आरोपी शनिवार को डॉक्टर से परामर्श के बाद जेल भेज दिया गया।


वाकया बृहस्पतिवार रात का है, जब दिल्ली से चलकर गांधीपार्क बस स्टैंड आई महिला अपने गांव जाने के लिए ऑटो में सवार हुई। तभी उसके साथ ऑटो चालक व उसके दो साथियों ने अकराबाद ले जाते समय नानऊ-पिलखना रोड पर एकांत में दुष्कर्म व लूट को अंजाम दिया। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने मौका मुआयना कर एसपी देहात व एसपी सिटी की अगुवाई में चार टीमों को लगाया। पुलिस टीमों ने रात भर और शुक्रवार को दिन भर के प्रयास के बाद मुख्य आरोपी यूसुफ की पहचान कर ली और शुक्रवार देर रात मुठभेड़ में नानऊ के पास उसे दबोच लिया। इस दौरान उसके दोनों साथी भागने में सफल रहे। इधर, जख्मी यूसुफ अस्पताल में भरती कराया।



शुक्रवार को भी रात भर चली घेराबंदी, दिन में मिले
इसके बाद पुलिस टीमें इलाके में ही घेराबंदी किए रहीं। इस दौरान टीमों ने शुक्रवार पूरी रात टीमों ने पूरे क्षेत्र की कांबिंग जारी रखी। उम्मीद थी कि दोनों पैदल हैं और कहीं निकल नहीं पाएंगे। इसी का परिणाम रहा कि शनिवार को दिन में एक आरोपी को उकावली बंबा के पास और दूसरे को अकराबाद की ओर जाते समय दबोच लिया गया। चूंकि, दोनों के फोटो भी पुलिस के पास आ गए थे, इसलिए उनको पहचानने में भी ज्यादा मुश्किल नहीं हुई। थाने लाकर हुई पूछताछ में दोनों ने यूसुफ के साथ वारदात करना स्वीकारा। ऊकावली बंबा से गिरफ्तार आरोपी ने अपना नाम जीवनगढ़ गली नंबर एक निवासी आजाद व दूसरे ने तौहीद बताया।



दुष्कर्म का नहीं था कोई प्लान, अचानक बिगड़ी नीयत
इन दोनों ने पूछताछ में वही बात स्वीकारी है जो यूसुफ ने बताई थी। स्वीकारा कि उन्होंने पहले क्वार्सी पर शराब पी और फिर अनूपशहर रोड या रामघाट रोड पर सवारी न मिलने पर वे गांधीपार्क आए। यहां से सवारी मिलने पर वे उसे ले जा रहे थे। नशे में रास्ते में लूटने का प्लान बना। मगर अचानक यूसुफ की नीयत बिगड़ गई और जब यूसुफ ने इशारों-इशारों में कहा तो वे भी सहमत हो गए। तीनों की नीयत बिगड़ी और नशे में होने के कारण महिला संग दुष्कर्म किया। इस दौरान यूसुफ ऑटो चलाता रहा, जबकि वे दोनों उसे मुंह व गला दबाकर कब्जे में किए रहे। जैसे ही एकांत आया तो तीनों ने दुष्कर्म किया और लूट के बाद रास्ते में फेंककर भाग गए।



आजाद पहले भी मुठभेड़ में गया था जेल
पुलिस रिकार्ड के अनुसार उजागर हुआ कि आजाद पहले भी एक मुठभेड़ में जेल जा चुका है। उस पर अकराबाद में, तोहीद पर महुआ खेड़ा व अकराबाद में मुकदमे दर्ज हैं। वहीं यूसुफ पर भी अकराबाद में मुकदमे दर्ज हैं। अब इन तीनों पर महिला से लूट व दुष्कर्म का, पुलिस मुठभेड़ व आर्म्स एक्ट आदि के मुकदमे दर्ज किए गए हैं।



बदायूं, हाथरस, कासगंज बॉर्डर तक कांबिंग, 500 सीसीटीवी देखे
बृहस्पतिवार रात 11:30 बजे हुई घटना के बाद से लेकर आरोपियों की पहचान करने तक पुलिस ने पिछले 36 घंटे में करीब 500 से ज्यादा सीसीटीवी चेक किए और 200 से ज्यादा संदिग्धों को ऑटो में देखकर पूछताछ के लिए रोका। इस दौरान उनके ऑटो चेक किए। इसके बाद शुक्रवार रात जब मुठभेड़ हो गई और फिर फरार आरोपियों की तलाश शुरू हुई तो बदायूं, हाथरस व कासगंज बॉर्डर तक पुलिस की टीमें घेराबंदी किए रहीं। अंदेशा इस बात का ज्यादा रहा कि अकराबाद से तीनों बॉर्डर नजदीक हैं। कहीं ये दोनों किसी वाहन की मदद से लिफ्ट लेकर दूसरे जिले में प्रवेश कर फरार न हो जाएं। मगर सड़कों पर पुलिस का जाल बिछा होने के कारण ये दोनों मुख्य मार्ग पर आने की हिम्मत न जुटा पाए और खेतों, पगडंडियों, रजवाहे की पटरी आदि के सहारे गांव-गांव भटकते रहे। इसी बीच दोनों दबोच लिए गए।



- अकराबाद प्रकरण में फरार दोनों आरोपी भी दबोच लिए गए हैं। पुलिस टीमें लगातार काम करती रहीं। इसी का परिणाम रहा कि 36 घंटे के अंतराल में पूरा केस वर्कआउट हो गया। अब प्रयास है कि इन तीनों को सख्त से सख्त सजा दिलाई जा सके। इसके लिए साक्ष्य संकलन के निर्देश दिए गए हैं।-कलानिधि नैथानी, एसएसपी



महिला व परिवार के साथ खड़ी पुलिस
इस घटना के बाद शुक्रवार को मेडिकल परीक्षण आदि की औपचारिकताएं निपटाकर महिला को घर भेज दिया गया। इसके बाद दो पुलिसकर्मी लगातार गांव में मौजूद हैं। इसके अलावा थाना स्तर से व सर्किल स्तर से वरिष्ठ अधिकारी लगातार परिवार के संपर्क में हैं। शनिवार को दिन में भी दो बाद थाना पुलिस गांव में जाकर परिवार व महिला से मिली। पूरी तरह भरोसा दिलाया कि वे परिवार के साथ हैं। किसी तरह से कहीं कोई दिक्कत नहीं आने दी जाएगी।



महिला नहीं भुला पा रही अपने साथ हुआ मंजर
चार बच्चों की मां महिला बृहस्पतिवार रात का वह मंजर नहीं भुला पा रही है। वह बार-बार उस दृश्य को याद कर सिहर उठती है और फफक पड़ती है। बस एक ही बात कहती है कि किसी तरह जान बच गई है। उसे एक बार तो मुंह व गला दबाने से लगा था कि कहीं जान न निकल जाए। मगर इसके बाद आरोपियों ने जो उसके साथ किया है। उसे याद कर वह खुद को संभाल नहीं पाती है। ऐसे में उसका परिवार व महिला पुलिस उसको संभालने का प्रयास करती है।


ये हुआ बरामद:-इन दोनों के पास से पुलिस को महिला से लूटे गए 14 हजार 800 रुपये, जेवरात, मोबाइल के अलावा दो तमंचे व कारतूस मिले। वहीं ऑटो शुक्रवार को ही बरामद कर लिया गया।
 
... और पढ़ें

अलीगढ़ः विवाहिता की हत्या में पति को दस साल की कैद

खैर के मालीपुरा में विवाहिता की दहेज के लिए केरोसिन डालकर जलाकर मारने की घटना में आरोपी पति को दस साल कैद व जुर्माने की सजा सुनाई है। यह फैसला एडीजे प्रथम शाहिद रजा की अदालत से सुनाया गया है। घटना में तीन आरोपी बरी किए गए हैं।



अभियोजन पक्ष के अधिवक्ता एडीजीसी अमर सिह तोमर के अनुसार, हरियाणा फरीदाबाद के डबुआ के सोनू की ओर से 18 दिसंबर 2007 को मुकदमा दर्ज कराया गया कि उन्हें रिश्तेदारों के जरिये खबर मिली कि उनकी बहन को ससुराल में केरोसिन डालकर जलाकर मार दिया है। इस सूचना पर जब वे खैर मालीपुरा बहन की ससुराल आए तो उनकी बहन मीरा की लाश पड़ी थी और ससुरालियों द्वारा कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया गया। मामले में बताया कि 20 जून 2006 को शादी की थी। शादी के बाद से ही कार, बाइक, 50 हजार रुपये नकद, फ्रीज आदि की दहेज में मांग को लेकर तंग किया जा रहा था।




अब उसे जलाकर मार दिया गया। मुकदमे में पति मुकेश के अलावा ससुर जयपाल, सास शकुंतला देवी के अलावा खंडेहा टप्पल के ममिया ससुर गजराज को नामजद किया गया। मुकदमे में सत्र परीक्षण के दौरान साक्ष्यों व गवाही के आधार पर पति को दोषी करार दिया गया, जबकि तीनों अन्य आरोपी बरी कर दिए गए। मुकेश को दस साल कैद व 15 हजार रुपये जुर्माने से दंडित किया है। वहीं आधी राशि पीड़ित को देने के निर्देश दिए हैं।
... और पढ़ें

अलीगढ़ः दुष्कर्म का आरोपी ऑटो चालक मुठभेड़ में गिरफ्तार, पैर में लगी गोली

गांधीपार्क बस स्टैंड से बृहस्पतिवार रात महिला यात्री से अकराबाद क्षेत्र में गैंगरेप की वारदात में 24 घंटे में पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी। सनसनीखेज वारदात का मुख्य आरोपी ऑटो चालक शुक्रवार देर रात मुठभेड़ में पुलिस के हत्थे चढ़ गया। नानऊ पुल के पास हुई मुठभेड़ में उसके पैर में गोली लगी है। इस दौरान उसके दोनों साथी भागने में सफल रहे, जिनकी तलाश में पुलिस टीमें लगी हुई हैं। वहीं, घायल ऑटो चालक को उपचार के लिए जिला अस्पताल लाया गया है, जहां उससे पूछताछ भी जारी है।


यह घटना बृहस्पतिवार रात की है, जब अकराबाद क्षेत्र की महिला दिल्ली से अपने गांव लौट रही थी, तभी उसके साथ ऑटो चालक व उसके दो साथियों ने गैंगरेप व लूट की वारदात को अंजाम दिया। रात में मिली घटना की खबर पर खुद एसएसपी कलानिधि नैथानी, एसपी देहात शुभम पटेल, सीओ समुन कनौजिया सहित पूरी पुलिस टीम हरकत में आ गई। एसएसपी ने घटनास्थल का मुआयना करने के बाद एसपी देहात व एसपी सिटी की अगुवाई में चार टीमों को गिरफ्तारी व खुलासे के लिए लगाया। इस दौरान पुलिस टीमों ने सबसे पहले गांधीपार्क बस स्टैंड से लेकर धनीपुर मंडी तक के सीसीटीवी देखे। इस दौरान वह ऑटो एक सीसीटीवी में कैद पाया गया, जिसमें सवार होकर महिला गई थी। उसे महिला ने पहचान भी लिया। बस उस सीसीटीवी के नंबर के आधार पर आरोपी चालक को चिह्नित किया गया, जिसकी पहचान रजा नगर क्वार्सी के यूसुफ के रूप में हुई।



पुलिस टीमें उसकी तलाश में लगी थीं। इसी बीच देर शाम मुखबिर के जरिये खबर लगी कि इस वारदात में शामिल यूसुफ व उसके साथी नानऊ पुल पर सवारियों के इंतजार में खड़े हैं। इस सूचना पर पुलिस ने वहां पहुंचकर जब घेराबंदी शुरू की तो आरोपियों की ओर से पुलिस टीम पर फायरिंग की गई। जवाबी फायरिंग में यूसुफ पैर में गोली लगने से जख्मी हो गया, जबकि उसके दो साथी भाग गए। तत्काल यूसुफ को जिला अस्पताल लाया गया। जहां उसका उपचार शुरू हो गया है और पूछताछ जारी है। इस दौरान घटना में प्रयुक्त ऑटो, महिला का सामान बैग सहित व हथियार बरामद हुआ है। पूछताछ में उसने अपने दोनों साथियों के भी नाम बताए हैं, जिनकी सरगर्मी से तलाश जारी है। 24 घंटे में ही सनसनीखेज वारदात का खुलासा करने और मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी पर एसएसपी ने पुलिस टीम की पीठ ठोंकी है।



- अकराबाद क्षेत्र में बीती रात हुई महिला संग अपराध की वारदात में पुलिस को 24 घंटे में ही सफलता मिली है। 250 से ज्यादा सीसीटीवी देखने पर आरोपी की पहचान हुई और घेराबंदी के दौरान मुठभेड़ में वह दबोचा गया। चूंकि, वह घायल हुआ है। इसलिए इलाज के लिए भेजा गया है और पूछताछ जारी है।-कलानिधि नैथानी, एसएसपी


होली के बाद से पति रुका था गांव में, बन रहा था मकान
इस घटना की शिकार 35 वर्षीय महिला ने पुलिस पूछताछ में बताया कि वह अपने चार बच्चों व पति संग दिल्ली रहती है। पति वहां टेलरिंग का काम करता है। होली पर पूरा परिवार गांव आया था। उसी समय गांव के मकान के नवनिर्माण पर सहमति बनी। गांव में मकान बनवाने के इरादे से पति गांव में ही रुका हुआ था। खुद बच्चों को लेकर दिल्ली चली गई थी। अब वह जरूरत पर पति को रुपये देने गांव आ रही थी। तभी यह वारदात उसके साथ हुई है। इस वारदात से महिला व उसका पूरा परिवार हिल गया है।



भाड़े पर ऑटो लेकर चलाता था यूसुफ
पुलिस जांच व घायल से हुई अब तक की पूछताछ में उजागर हुआ है कि आरोपी यूसुफ पत्थर बाजार के एक अंकल जी से ऑटो 400 रुपये प्रति रोज के किराये पर लेकर चलाता है। करीब 6 माह पहले एक दोस्त ने उसे यह ऑटो अपनी गारंटी पर दिलवाया था। करीब 24 वर्षीय यूसुफ पांच भाई हैं और खुद एक बच्चे का पिता भी है।



पहले क्वार्सी पर पी शराब, फिर दिया दुष्कर्म की घटना को अंजाम
आरोपी यूसुफ ने स्वीकार किया है कि वह अपना ऑटो अब तक अनूपशहर रोड या रामघाट रोड पर रात में ही चलाता था, क्योंकि रात में वह शहर से बाहर दूर की सवारियां लेकर जाता था और उनसे रात में अच्छा खासा भाड़ा मिल जाता था। रात उसने अपने दोनों दोस्तों संग क्वार्सी चौराहे पर शराब पी और फिर वहां काफी देर तक यात्रियों का इंतजार किया। जब उसे वहां कोई सवारी नहीं मिली तो वह गांधीपार्क बस स्टैंड गया। इसके कुछ देर बाद ही उसे वह महिला यात्री मिल गई, जिसे ले जाते समय रास्ते में तीनों नई उम्र व नशे में होने के कारण उनकी नीयत खराब हो गई और उन्होंने दुष्कर्म व लूट की वारदात को अंजाम दिया।



अक्सर रात में यात्रियों से करते रहे हैं छीना-झपटी
इस दुष्कर्म को जरूर उन्होंने पहली बार अंजाम देने की बात स्वीकारी है। मगर रात में सवारियों को इसी तरह लेकर छोड़ने के दौरान वे यात्रियों से रुपये छीनने जैसी घटनाओं को अंजाम देते रहे हैं। उन घटनाओं को लेकर भी पुलिस पूछताछ कर रही है। कुछ अन्य आपराधिक रिकार्ड भी जुटाया जा रहा है। कई बार जहरखुरानी जैसी घटनाओं की जानकारी भी अभी मिल रही है। जिनके विषय में कुछ सही जानकारी दो अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी पर हो सकेगी।



दोनों साथी भी ऑटो चालक, वारदात में रहते साथ
जो उसके दोनों साथी फरार हैं। उनकी पहचान पुलिस ने गोपनीय रखी है। मगर इतना पता चला है कि वे दोनों ऑटो चालक हैं। तीनों अलग-अलग ऑटो चलाते हैं। मगर रात में किसी भी एक ऑटो पर सवार होकर इसी तरह रुपये लूटने की घटनाएं करते हैं। रात के अंधेरे में यात्री को छोड़कर निकल जाते हैं।



झांसा देकर बैठाते थे किसी भी यात्री को
पूछताछ में साफ हुआ है कि किसी भी यात्री को बैठाने से पहले ऑटो पर एक चालक ही रहता है और आवाज लगाता रहता है। उसके दो साथी अलग घूमते रहते हैं। जैसे ही लगता है कि कोई यात्री आकर ऑटो में बैठ गया है, तभी उसके दो साथी भी यात्री बनकर सवार हो जाते हैं। इस दौरान जब यात्री चलने को कहता है तो उससे कहा जाता है कि एक-दो सवारी आ जाएं तो चल देंगे। जब दोनों साथी आ जाते हैं, तभी ये लोग चल देते हैं और शहर से बाहर निकलने पर एकांत में ही छीना झपटी करते हैं।



शासन तक गूंजी घटना, 250 सीसीटीवी खंगाले
ऑटो सवार महिला यात्री से जीटी रोड पर गैंगरेप व लूट की घटना शासन तक पहुंची। शासन में बैठे अधिकारियों ने इस घटना का विस्तृत ब्योरा लिया। साथ में जरूरी निर्देश दिए। हालांकि रात में ही पुलिस हरकत में आ गई और रात भर पुलिस सोयी नहीं। आधी रात को ही पुलिस ने गांधीपार्क बस स्टैंड खड़े होने के समय व धनीपुर मंडी पर एक यात्री को उताराते समय के सीसीटीवी फुटेज ले लिए। जिनमें यह ऑटो सवार हुआ। इसके बाद दिन भर आरोपी ऑटो चालक की पहचान का प्रयास होता रहा। शाम के समय आरोपी की पहचान हुई। इस पूरी प्रक्रिया में पुलिस की चारों टीमों ने 250 से ज्यादा सीसीटीवी देखे। तब जाकर सफलता हासिल हुई।



दिन भर एक-एक ऑटो के इंजन-चेसिस नंबर देखे पुलिस ने
इस दौरान सुबह तक पुलिस के पास उस ऑटो का नंबर व हुलिया-रंग आदि आ गया था, जिसमें महिला सवार थी। मगर उसके चालक तक पुलिस नहीं पहुंच पा रही थी। इसकी मूल वजह थी कि वह रात में ही चलता था। इस पर पुलिस की टीमों ने अलग-अलग घूमकर क्वार्सी चौराहा, गांधीपार्क बस स्टैंड, एटा चुंगी आदि इलाकों में एक-एक ऑटो के इंजन-चेसिस नंबर चेक किए और उसके चालकों के हुलिया आदि को भी चेक किया। इसी प्रयास में दोपहर बाद आरोपी की पहचान हुई। जिसके बाद आरोपी की घेराबंदी के प्रयास हुए और रात में सफलता मिल गई।
... और पढ़ें

अलीगढंः ऑटो सवार महिला से सामूहिक दुष्कर्म व लूट, मुठभेड़ में मुख्य आरोपी गिरफ्तार

थाना अकराबाद क्षेत्र में हुई घटना में इस्तेमाल ऑटो पुलिस ने बरामद किया।
दिल्ली से आकर अकराबाद क्षेत्र स्थित अपने गांव जा रही महिला संग ऑटो चालक व उसके दो साथियों ने गैंगरेप के बाद लूट की वारदात की। बृहस्पतिवार रात जीटी रोड पर हुई घटना के बाद आरोपी महिला को नानऊ पिलखना रोड पर फेंक गए। कुछ देर बाद होश में आई महिला ने ईंट भट्ठा के चौकीदार की मदद से पुलिस को खबर दी। इस पर सीओ सहित पुलिस अमला वहां पहुंच गया। मुकदमा दर्ज कर आरोपियों की तलाश की गई। बस स्टैंड के आसपास के सीसीटीवी में यह ऑटो कैद हुआ है। देर रात पुलिस मुठभेड़ में मुख्य आरोपी गिरफ्तार हो गया।



अकराबाद क्षेत्र की महिला परिवार सहित दिल्ली के मयूर विहार क्षेत्र में रहती है। बृहस्पतिवार शाम करीब पांच बजे वह अपने गांव जाने के लिए दिल्ली से निकली। रोडवेज बस से वह गांधीपार्क स्टैंड पहुंची। यहां काफी देर तक उसे अकराबाद के लिए कोई वाहन नहीं मिल पाया। इसी बीच एक ऑटो चालक डेढ़ सौ रुपये में जाने के लिए तैयार हो गया।



महिला के बाद ऑटो में तीन पुरुष भी बैठे। इनमें से एक सवारी धनीपुर मंडी के पास उतर गई। आगे पनैठी तिराहे पर ऑटो छर्रा की ओर मुड़ा तो महिला ने ऐतराज जताया तो चालक ने कहा कि दो सवारियां छर्रा की हैं। पहले इन्हें उतार दूं। महिला ने कहा कि उसके पति अकराबाद में बाइक लेकर इंतजार कर रहे हैं। पहले उसे वहां उतार दो। काफी कहासुनी के बाद चालक अकराबाद की ओर चला। चालक की नीयत पर महिला को शक हो गया। उसने अपने पति को फोन पर बताया कि वह पनैठी तक आ गई है। इसी बीच ऑटो में सवार एक युवक ने महिला का मोबाइल छीन लिया और दूसरे ने महिला का मुंह दबा लिया।



इसके बाद चालक नानऊ चौराहे से पिलखना की ओर ऑटो लेकर चल दिया। रात करीब 11 बजे एक रजवाहे के पास तीनों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। फिर मारपीट कर करीब डेढ़ तोला सोने के जेवरात, बीस हजार नकद व मोबाइल लूटकर वहां फेंककर भाग गए। महिला को कुछ देर बाद जब होश आया तो वह पास के ईंट भट्ठे पहुंची। वहां के चौकीदार की मदद से उसने पुलिस व अपने पति को खबर दी।




इस पर सीओ बरला सुमन कनौजिया, इंस्पेक्टर अकराबाद मय फॉरेंसिक टीम के मौके पर पहुंच गए।  सुबह एसएसपी ने भी मौका मुआयना किया। तहरीर के अनुसार मुकदमा दर्ज कर महिला को मेडिकल परीक्षण के लिए भेजा गया। इधर, देर रात पुलिस ने घटनास्थल के पास नानऊ पुल पर मुठभेड़ के दौरान मुख्य आरोपी ऑटो चालक यूसुफ को गिरफ्तार कर लिया। यूसुफ के पैर में गोली लगी है।
--
दिल्ली से आई महिला संग ऑटो चालक व उसके साथियों द्वारा सामूहिक दुष्कर्म की घटना होना बताया गया है। उसके साथ लूट भी हुई है। मुकदमा दर्ज किया गया है। 
-सुमन कनौजिया, सीओ बरला
... और पढ़ें

अलीगढ़ः फर्जी बस पकड़ी, तीन पर दर्ज हुआ मुकदमा

यातायात पुलिस, संभागीय परिवहन अधिकारी व परिवहन निगम के अधिकारियों के प्रयास और अभियान चलाने के बाद भी माफिया के हौसले पस्त नहीं हुए हैं। माफिया फिर से सक्रिय होकर फर्जी बसें चलाने लगे हैं। ऐसी एक फर्जी बस नौ अप्रैल को पकड़ी गई तो चालक-परिचालक व मालिक पर मुकदमा दर्ज करा दिया गया है। 



अलीगढ़ डिपो के सुरेंद्र कुमार शर्मा, राकेश कुमार सिंह व डिपो लेखक सुरेंद्र कुमार शर्मा ने मुकदमा दर्ज कराते हुए बताया कि नौ अप्रैल को यूपी 14 जीटी 4052 बस सारसौल स्थित सैटेलाइट बस अड्डे के सामने आकर रुकी, जो हूबहू रोडवेज बस जैसी ही थी, जिसके आगे कौशांबी डिपो लिखा हुआ था। परिचालक यात्रियों को रोडवेज बताकर ही बस में बैठा रहे थे।



टीआई यातायात व कर्मचारियों ने नाम पूछा तो चालक ने अपना नाम राजकुमार पुत्र इंद्रपाल सिंह निवासी चिढ़हरा थाना दादरी नोएडा बताया। परिचालक ने अपना नाम पप्पू निवासी अहमदगढ़ बुलंदशहर बताया और गाड़ी छोड़कर चला गया।



चालक के माध्यम से बस को बन्नादेवी थाना पहुंचाया गया। चालक ने मालिक का नाम अमित कुमार पुत्र भूप सिंह निवासी गाजियाबाद बताया। उसने कहा कि अमित कुमार की देखरेख में ही बस का संचालन होता है। इस पर तीनों के खिलाफ बन्नादेवी थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है। 
... और पढ़ें

हाथरसः किशोरी से दुष्कर्म में दो दोषियों को 20-20 साल की सजा

एक किशोरी के साथ दुष्कर्म कर उसे गर्भवती बनाने वाले दो युवकों को न्यायालय ने 20-20 साल की कैद और अर्थदंड की सजा सुनाई है। अर्थदंड न देने पर इन्हें अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। 



सदर कोतवाली क्षेत्र की एक कॉलोनी निवासी एक महिला ने थाना कोतवाली सदर में 12 फरवरी 2019 को यह मुकदमा दर्ज कराया था कि उसकी 11 वर्षीय बेटी के पेट में दर्द हुआ। इस पर वह अपनी बेटी को लेकर चिकित्सक के पास गई। चिकित्सक ने बताया कि उसकी बेटी गर्भवती है। इस पर उसकी बेटी ने बताया कि करीब तीन-चार माह पहले उसके घर के ऊपर के क्वार्टर में रहने वाले दो लड़के मुकुल पुत्र बच्चू सिंह व बॉबी पुत्र रमेशचंद ने मुझे शाम को छत पर बुला लिया।



दोनों ने डराकर दुष्कर्म किया और यह कहा कि यदि किसी को इस बारे में बताया तो गर्दन काटकर टंकी में डाल देंगे। किशोरी ने डर की वजह से इस बारे में किसी को नहीं बताया। इसके बाद दोनों लड़कों ने उसे डराकर फिर दुष्कर्म किया। इस मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया और विवेचना की।



किशोरी के बयान के बाद इस मुकदमे में इन दोनों नामजदों के अलावा अभिनेश उर्फ पिंटू पुत्र अशोक का नाम भी सामने आया। विवेचना अधिकारी ने तीनों आरोपियों के  खिलाफ आरोप पत्र न्यायालय में दाखिल किया। मामले की सुनवाई विशेष न्यायाधीश (पॉक्सो अधिनियम) प्रतिभा सक्सेना के न्यायालय में हुई। न्यायालय ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद न्यायालय ने अभिनेश को दोषमुक्त कर दिया, जबकि मुकुल व बॉबी को दोषी माना।



कोर्ट ने इन दोनों को 20-20 साल के कारावास और अर्थदंड की सजा सुनाई है। अर्थदंड न देने पर इन्हें अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। कोर्ट के आदेशानुसार अभियुक्त मुकुल व बॉबी पर अधिरोपित अर्थदंड की धनराशि एक लाख दो हजार रुपये पीड़िता को नियमानुसार उसकी पहचान सुनिश्चित करके प्रदान की जाएगी। अभियोजन पक्ष की ओर से पैरवी एडीजीसी केके शर्मा ने की।  


गर्भपात कराने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई के दिए आदेश
हाथरस। इस किशोरी का गर्भपात भी कराया गया था। इस पर न्यायालय ने एसपी से कहा है कि उन लोगों के खिलाफ भी जांच कराकर आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित की जाए, जिन्होंने पीड़िता का विधि विरुद्ध गर्भपात कराया था। संवाद
... और पढ़ें

हाथरसः संदिग्ध हालात में युवक के हाथ में लगी गोली

शहर से सटे गांव कछपुरा निवासी युवक को घायल अवस्था में परिवार के लोग जिला अस्पताल लेकर पहुंचे, उसके हाथ में गोली लगी थी। डॉक्टर ने इसका कारण जानना चाहा तो परिवार के लोग उसे शहर के किसी निजी अस्पताल ले गए। 



कोतवाली हाथरस गेट क्षेत्र के गांव कछपुरा निवासी अंकित को परिजन जिला अस्पताल लेकर पहुंचे, यहां पर परिवार के लोगों ने बताया कि किसी ने उसके हाथ में गोली मार दी है। इस पर अस्पताल के लोगों ने थाने से मजरूम चिट्ठी लेकर आने के बाद ही उपचार देने की बात कही। पुलिस की बात आते ही घायल के परिजन परेशान हो गए और फिर वह घायल के हाथ में पट्टी बंधवा कर उसे किसी प्राइवेट अस्पताल ले गए। संवाद
... और पढ़ें

हाथरसः फंदे पर लटक कर युवक ने खुदकुशी की

शहर की विभव नगर कॉलोनी में युवक ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। इस बात की जानकारी मोहल्ले के लोगों को हुई तो पुलिस को सूचना दी गई। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा।   



कोतवाली सदर इलाके की जलेसर रोड श्याम नगर कॉलोनी निवासी कालीचरन का 28 वर्षीय बेटा बंटी कुशवाहा ने विभव नगर में किराए पर एक मकान लेकर अपने पार्टनर के साथ मिलकर चूरन पैकिंग का काम शुरू किया था। यहां पर दो तीन लोग रहते थे। शुक्रवार सुबह करीब सात बजे यहां पर लेबर काम करने आई तो आवाज लगाने पर अंदर से किसी ने दरवाजा नहीं खोला।



इसके बाद मकान मालिक ने अंदर झांक कर देखा तो टट्टर में फंदे पर बंटी का शव लटका हुआ था। इस बात की जानकारी होने पर मोहल्ले के लोगों की मौके पर भीड़ लग गई। इलाका पुलिस ने मौके पर पहुंच कर शव को नीचे उतारा और पोस्टमार्टम के लिए भेजा। यहां पर मृतक के परिवार के लोग भी सूचना मिलने पर आ गए। पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने शव परिवार के लोगों को सौंप दिया।
... और पढ़ें

हाथ्ररस ः खेत में सो रहे किसान पर चढ़ा ट्रैक्टर, मौत

अपनी गेहूं की फसल की थ्रेशरिंग कराने के लिए खेत पर ही सो रहे किसान के ऊपर ट्रैक्टर चढ़ गया। इससे किसान गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल को परिवार के लोग जिला अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां पर उपचार के दौरान किसान की मौत हो गई। हादसे की सूचना पर पुलिस अस्पताल आ गई। पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने शव परिजनों को सौंप दिया।



कोतवाली हाथरस गेट क्षेत्र के गांव रहना निवासी 58 वर्षीय सत्यप्रकाश बृहस्पतिवार की रात को अपने खेत पर सो रहे थे। वह खेत पर कटी रखी गेहूं की फसल की थ्रेशरिंग कराने के लिए वहीं खेत में त्रिपाल बिछाकर सो गए। उन्होंने त्रिपाल को ही ओढ़ लिया। रात को करीब एक बजे ट्रैक्टर थ्रेशर लेकर खेत पर पहुंचा, चालक को खेत में उनके सोने का अंदाज नहीं हुआ।



इससे उसके पैरों पर ट्रैक्टर चढ़ गया, जिससे सत्यप्रकाश बुरी तरह से घायल हो गए। वहीं पर वह बेहोश हो गए। आनन-फानन परिवार के लोग घायल किसान को जिला अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां पर उन्हें उपचार दिया गया, इसी दौरान उनकी हालत ज्यादा बिगड़ी और उपचार के दौरान मौत हो गई। इस बात की जानकारी होने पर मृतक के परिवार के काफी लोग जिला अस्पताल पहुंच गए। यहां पर इलाका पुलिस भी आ गई। पुलिस ने शुक्रवार को पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया।
... और पढ़ें
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00