बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
धन - धान्य प्राप्ति हेतु बगलामुखी जयंती पर कराएं सामूहिक 36000 मंत्रों का जाप
Myjyotish

धन - धान्य प्राप्ति हेतु बगलामुखी जयंती पर कराएं सामूहिक 36000 मंत्रों का जाप

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

छेड़खानी के विरोध में गोली से घायल किशोरी को दिए 50 हजार

दादों थाना क्षेत्र के एक गांव में 21 दिसंबर को छेड़खानी के विरोध में गोली मारने से घायल हुई किशोरी के इलाज के लिए डीएम चंद्रभूषण सिंह ने शनिवार को परिजनों को 50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता राशि दी। किशोरी अभी जेएन मेडिकल कालेज में भर्ती है। इधर, पुलिस आरोपी की तलाश में जुटी है।  


जिलाधिकारी चंद्रभूषण सिंह ने बताया कि बंजारा समाज से ताल्लुक रखने वाली किशोरी के साथ 21 दिसंबर को उसी के गांव का व्यक्ति छेड़खानी करने लगा। विरोध करने पर आरोपी ने किशोरी को गोली मार दी। किशोरी का जेएन मेडिकल कालेज में उपचार चल रहा है। परिवार की आर्थिक स्थिति को देखते हुए जिला आपदा प्राधिकरण की ओर से 50 हजार रुपये की आर्थिक मदद दी गई है।

आरोपी पवन उर्फ रतीराम के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो चुका है। उसकी तलाश पुलिस द्वारा की जा रही है। वहीं, एक अन्य मामले में कांति देवी निवासी डडार, अतरौली ने अर्जी दी थी कि उनके बेटे को ब्लड कैंसर है। इस पर परिवार को 10 हजार रुपये की आर्थिक सहायता रेड क्रास सोसायटी फंड से दी गई।
... और पढ़ें

किराये के मकान में रह रहे पार्ट्स विक्रेता की मौत

देहली गेट क्षेत्र की बांके विहारी कॉलोनी में शुक्रवार रात युवक की संदिग्ध हालत में मौत हो गई। हालांकि मौके पर मिली जहर की शीशी को देख पुलिस आत्महत्या का अंदेशा जता रही है। मगर पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कारण स्पष्ट न होने के कारण विसरा सुरक्षित किया गया है।


पुलिस के अनुसार, इगलास के गांव गुरसेना का 42 वर्षीय पुष्पेन्द्र उर्फ सोनू पुत्र रामवीर सिंह यहां खैर रोड पर ऑटो पार्ट्स की दुकान चलाता था और बांके विहारी कालोनी में किराये पर रहता था। तीन साल से पति-पत्नी में विवाद के चलते पत्नी बेटी को लेकर मायका सासनी में रह रही है। शुक्रवार रात पुष्पेन्द्र कमरे में जाकर सो गया है।


जब सुबह नहीं उठा तो पड़ोसी किरायेदार जगाने के लिए उसके कमरे में पहुंचे तो दंग रह गए। उसके मुंह से झाग निकल रहा था और कमरे में जहर की शीशी रखी थी। इस सूचना पर लोग एकत्रित हो गए और पुलिस भी आ गई। आनन-फानन उसे मेडिकल कॉलेज ले जाया गया।


मगर बचाया नहीं जा सका। खबर पर गांव से परिवार वाले भी आ गए। इंस्पेक्टर देहली गेट के अनुसार प्रथमदृष्टया मामला सुसाइड का लग रहा है। मगर पोस्टमार्टम रिपोर्ट में विसरा सुरक्षित किया गया है। जांच के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

सराय मियां में भिड़े वाल्मीकि-कोली समाज के युवा, जमकर पथराव

सांप्रदायिक दृष्टि से संवेदनशील मिश्रित आबादी वाले सराय मियां इलाके में शनिवार देर रात मामूली से विवाद पर वाल्मीकि-कोली समाज के युवक भिड़ गए। इस दौरान दोनों ओर से जमकर पथराव हुआ और हवाई फायरिंग की भी चर्चा है। इसे लेकर इलाके में तनाव का माहौल बन गया। खबर पर पहुंची पुलिस ने स्थिति को नियंत्रित किया। इस झगड़े में एक युवक के जख्मी होने की जानकारी मिली है। पुलिस मौके पर देर रात तक एहतियात बरत रही थी।

हुआ यूं कि कोतवाली-देहली गेट के बॉर्डर पर सराय मियां स्थित नाले की पुलिया पर एक अंडे की ढकेल लगती है, जिस पर युवक अक्सर शराब पीते हैं। शनिवार रात करीब 10 बजे वहां युवकों की भीड़ जमा थी और शराब पी रहे थे। यह इलाका वाल्मीकि, कोली समाज व मुसलिम आबादी वाला है। इसी दौरान नगर निगम का ट्रैक्टर इलाके में अलाव की लकड़ी डालते हुए निकल रहा था। ढकेल पर मौजूद कोली समाज के एक युवक ने ट्रैक्टर-ट्राली से लकड़ी खींच ली। इस पर वाल्मीकि समाज के युवकों ने विरोध किया कि लकड़ी क्यों खींच ली। यह नियत स्थान पर ही डालेगी। 

इसी बात पर वहां विवाद हो गया और मारपीट शुरू हो गई। कुछ ही देर में दोनों पक्षों के लोग आवाज लगने पर आमने-सामने आ गए और वहां पथराव शुरू हो गया। करीब 20-25 मिनट तक दोनों ओर से अराजक स्थिति बनी रही। हवाई फायर की भी चर्चा है। पास ही मौजूद तुर्कमान गेट चौकी के पुलिस स्टाफ ने पहुंचकर हालात नियंत्रित करने की कोशिश की।

मगर बात नहीं बनी तो कोतवाली व देहली गेट से पुलिस बुलाई। काफी संख्या में पुलिसकर्मियों के पहुंचने पर दोनों पक्षों के हमलावर तितर-बितर हो गए। बाद में वहां से पुलिस ने तत्काल पत्थर साफ कराए और लोगों को धमकाकर घरों में भेजना शुरू किया। 

इंस्पेक्टर कोतवाली रविंद्र सिंह के अनुसार शराब के नशे में यह झगड़ा हुआ है। फायरिंग की बात गलत है। वाल्मीकि समाज से परवेज नाम का एक युवक जख्मी हुआ है, जिसे अस्पताल भेजा गया है। वहीं दोनों ओर से तहरीर देने के लिए कहा गया है। अगर तहरीर नहीं मिली तो पुलिस अपनी ओर से इनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करेगी। फिलहाल स्थिति सामान्य है और मौके पर पुलिस तैनात है।
... और पढ़ें

दीनदयाल अस्पताल में पिता की मौत पर बेटियों ने की मारपीट, तोड़फोड़ 

पं. दीनदयाल उपाध्याय संयुक्त चिकित्सालय (एल-2) में भर्ती पीएसी के सेवानिवृत्त एसआई शेरोमन सिंह की मौत से आक्रोशित उनकी बेटियों ने कोविड वार्ड में जमकर हंगामा और तोड़फोड़ की। डॉक्टर एवं नर्स के साथ मारपीट का आरोप है। इस घटना के बाद डॉक्टर एवं कर्मचारी हड़ताल पर चले गए हैं। 

रात करीब साढ़े नौ बजे आरोपी चार युवतियों समेत पांच लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज होने के बाद डॉक्टर एवं स्वास्थ्यकर्मी हड़ताल खत्म कर काम पर लौट आए हैं।  इसी बीच भर्ती नहीं किए जाने से इमरजेंसी गेट पर एक मरीज की जान चली गई। मृतक की बेटी का आरोप है कि उसके पिता की जान ऑक्सीजन के अभाव में चली गई। 

  पीएसी के सेवानिवृत्त एसआई शेरोमन सिंह को उनकी बेटियों ने तीन दिन पहले पं. दीनदयाल उपाध्याय संयुक्त चिकित्सालय के कोविड वार्ड नंबर पांच में भर्ती कराया था। रविवार शाम को अचानक उनकी मृत्यु हो गई। जानकारी मिलने पर शेरोमन सिंह की चार बेटियां कोविड वार्ड में पहुंच गईं। मृत पिता को देखकर उनका गुस्सा भड़क गया। स्वास्थ्य कर्मियों से सवाल करने लगीं कि उनके पिता का शरीर नीला कैसे पड़ गया है। 

आरोप है कि गुस्से में बेटियों ने टेलीफोन रिसीवर, टेबल आदि पलट दी। कुछ स्वास्थ्यकर्मी चाय पी रही थे, उसे गिरा दिया। डॉ. कोमल, डॉ. इस्लाम एवं अनुराग के साथ मारपीट का भी आरोप है। हंगामा देखकर अधिकतर स्टॉफ वार्ड से भाग निकला। 

मृतक की पुत्री का कहना है कि ऑक्सीजन नहीं मिलने के कारण उनके पिता की जान चली गई। आरोप लगाया कि कि अस्पताल में मेरे पापा को किसी ने नहीं चेक किया। घटना की सूचना के बाद एसडीएम कोल रंजीत सिंह, सीओ अनिल समानिया, क्वार्सी थाना के इंस्पेक्टर छोटेलाल पुलिस-फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए। घटना के विरोध में अस्पताल के डॉक्टर एवं कर्मचारी हड़ताल पर चले गए हैं।

अस्पताल में भर्ती 300 से अधिक मरीजों का जीवन संकट में फंस गया है। हंगामें के दौरान इमरजेंसी गेट के पास सासनी गेट के गोमतीनगर के 78 वर्षीय बुजुर्ग की मौत हो गई। हड़ताल पर गए स्वास्थ्य कर्मियों ने मरीज को भर्ती करने से इनकार कर दिया था। सीडीओ ने मौके पर पहुंच कर डॉक्टरों एवं स्वास्थ्यकर्मियों को समझाने का प्रयास किया। अस्पताल के डॉक्टर एवं कर्मचारी सुरक्षा एवं स्वास्थ्य कर्मियों की संख्या बढ़ाने की मांग कर रहे हैं।


वीडियो चर्चा में : पं. दीनदयाल उपाध्याय चिकित्सालय के कोविड वार्ड के अंदर का वीडियो बाहर आया है। यह वीडियो मृतक की बेटियों की उपस्थिति में बनाया गया है। वार्ड में भर्ती मरीज कह रहे हैं कि ऑक्सीजन की आपूर्ति सहीं नहीं है। मरीजों से कहा जाता है कि पेट के बल लेटिए, इससे ऑक्सीजन का स्तर बढ़ेगा।

तहरीर में ये लगाए गए आरोप 
पिता की मृत्यु के बाद गम और गुस्से में दीनदयाल चिकित्सालय के कोविड वार्ड में हंगामा करने वाली बेटियों सहित पांच महिलाओं के खिलाफ क्वार्सी थाने में तहरीर दी गई है। डॉक्टरों ने मेडिकल प्रोटेक्शन एक्ट 2013 एवं महामारी अधिनियम एक्ट 188 के तहत कठोर कार्रवाई की मांग की है।

 डॉ. मो. इस्लाम एवं प्रीति के तरफ से दी गई तहरीर में कहा गया है कि वार्ड 5 में भर्ती नई अंबेडकर कॉलोनी रामघाट रोड निवासी शेरोमन सिंह की मृत्यु दोपहर करीब 3:55 बजे इलाज के दौरान हुई। सूचना मरीज के परिजनों को दी गई। करीब 4.30 बजे कुछ महिलाएं उत्पात मचाते हुए वार्ड में पहुंचीं। वहां भी उत्पात मचाया। मरीजों की चाय फेंक दी। रिकार्ड अस्त-व्यस्त कर दिए और ड्यूटी पर मौजूद डॉ. मोहम्मद इस्लाम, डॉ. कोमल, डॉ. सतेंद्र, पूनम, कन्हैया, प्रीति, ओमलता और अन्य स्टाफ के साथ मारपीट और अभद्रता की। इसके अतिरिक्त, जो स्टॉफ मिला, उसको हैंडबैग से मारा और दौड़ाया। आईसीयू व अन्य वार्डों के कार्य प्रभावित हुए।

रोते हुए बेटियों ने कहा, ऑक्सीजन मिल जाती तो बच जाती जान
मृतक की चार पुत्रियां हैं। पिता की हालत बिगड़ने की सूचना के बाद चारों बेटियां परिवार के सदस्यों के साथ अस्पताल पहुंच गईं। पुलिस अधिकारियों से कह रही थीं कि उनके पिता को ऑक्सीजन मिल जाती तो उनकी जान नहीं जाती। उन्हें आईसीयू में भर्ती करने की जरूरत थी और उन्हें सामान्य वार्ड में बिना ऑक्सीजन रखा गया। किसी ने ध्यान नहीं दिया, न देखभाल की। डॉक्टर एवं स्वास्थ्य कर्मियों की लापरवाही से पिता की जान गई है।

काम पर लौटे डॉक्टर व कर्मचारी : डीएम 
जिलाधिकारी चंद्रभूषण सिंह ने बताया कि डॉक्टर एवं स्टाफ की तहरीर पर थाना क्वार्सी में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। उसके बाद डॉक्टर एवं कर्मचारी काम पर लौट आए हैं। सीएमओ डॉ. बीपी सिंह कल्याणी ने बताया कि संकट काल में स्वास्थ्यकर्मी जी जान से जुटे हैं। दीनदयाल अस्पताल में दो डॉक्टर एवं 9 स्टाफ नर्स की तैनाती कर दी गई है। दीनदयाल अस्पताल को 10 और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर दिए गए हैं। वहां पर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन की संख्या 54 तक पहुंच गई है। 



 
 
... और पढ़ें
काम बंद कर हड़ताल पर बैठे डॉक्टर( काम बंद कर हड़ताल पर बैठे डॉक्टर(

रोडरेज की घटना में डॉक्टर पर हमला, हालत गंभीर 

महानगर के सिविल लाइंस थाना क्षेत्र के दोदपुर इलाके की बरूला मार्केट के सामने रोडरेज की घटना में शहर के मशहूर न्यूरो सर्जन डॉ. संजीव शर्मा पर शुक्रवार देर रात हमलावरों ने हमला कर दिया। इसी दौरान वहां से गुजर रहे सीओ सिविल लाइंस अनिल समानिया ने माजरा देेेख हमलावरों से डॉक्टर को बचाने का प्रयास किया तो हमलावरों ने सीओ के साथ भी धक्कामुक्की कर दी।


किसी तरह डॉक्टर को बचाते हुए गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया और दो लोग मौके से पकड़ लिए। इधर, इस सूचना पर हमलावर पक्ष के समर्थन में पूर्व विधायक जमीर उल्लाह और डॉक्टर पक्ष से तमाम डॉक्टरों के साथ सांसद सतीश गौतम, कोल विधायक अनिल पाराशर आदि पहुंच गए। जहां दोनों पक्षों में नोकझोंक तक हो गई। बाद में पुलिस के हमलावरों पर कार्रवाई के आश्वासन पर विवाद शांत हुआ। देर रात हमलावर बाप-बेटे के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई जारी रही।

वाकया देर रात करीब 12:00 बजे का है। क्वार्सी इलाके की विक्रम कॉलोनी में रहने वाले डॉक्टर संजीव शर्मा घर के पास ही सस्मित अस्पताल है। वह किसी मरीज को देखने सरसौल स्थित एक निजी हॉस्पिटल में अपनी एक्सयूवी कार से जा रहे थे। कार को चालक अभय चला रहा था, तभी उनको सूचना मिली कि उनके हॉस्पिटल में एक मरीज की तबीयत बिगड़ रही है। इस पर वह वापस हॉस्पिटल लौटने लगे।


तभी दोदपुर में सामने एक जानवर को बचाने के दौरान सामने से आ रही कार से हल्की सी भिड़ंत हो गई। इसी विवाद में दूसरी कार में सवारों ने अभय पर हमला कर दिया। डॉ. संजीव शर्मा अपने चालक को बचाने के लिए नीचे उतरे तो उन पर भी हमला बोल दिया। कुछ ही देर में वहां कार सवारों के समर्थन में भीड़ आ गई और डॉक्टर को पीटने लगे। इसी दौरान वहां से सीओ सिविल लाइंस अनिल समानिया गुजर रहे थे। उन्होंने बीच-बचाव किया तो उनके साथ धक्का मुक्की कर दी। बाद में खबर पर सिविल लाइंस व क्वार्सी पुलिस को दी।


गंभीर घायल डॉक्टर संजीव शर्मा को रामघाट रोड के एक अस्पताल में भर्ती कराया। मौके से दो हमलावरों को पकड़ लिया। उनकी शिनाख्त आरजी खान निवासी दोदपुर व उनके बेटे उस्मान अली खान के तौर पर हुई। पुलिस इनको पकड़कर सिविल लाइन थाने ले गई। यहां हमलावर बाप बेटे के समर्थन में इलाके के लोग पहुंच गए। साथ ही पूर्व विधायक जमीर उल्लाह भी उनके पक्ष में आ गए। दूसरी ओर संजीव शर्मा के समर्थन में सांसद, कोल विधायक के अलावा भाजयुमो जिलाध्यक्ष मुकेश लोधी, अनिल सेंगर, पार्षद पुष्पेंद्र सिंह जादौन व अन्य दर्जनों कार्यकर्ता व डॉक्टर थाने पहुंच गए।


मामला बढ़ता देख एसपी सिटी कुलदीप सिंह गुणावत भी थाने पर पहुंच गए। उन्होंने दोनों पक्षों को सुना। इसके बाद डॉक्टर संजीव शर्मा के चालक अभय से हमलावर बाप-बेटे के खिलाफ तहरीर ली। मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए। इधर, हमलावर बाप-बेटे ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि उन्होंने मारपीट नहीं की। इस पर एसपी सिटी ने आश्वासन दिया कि घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज निकलवाए जाएंगे। अगर उनकी बात सही पाई जाती है तो मुकदमे में तब्दीली कर दी जाएगी।


इस दौरान सांसद व पूर्व विधायक में एसपी सिटी के सामने गरमागरम बहस हुई, जिसे एसपी सिटी ने शांत कराया। वहीं विधायक ने कार्रवाई में किसी भी तरह की लापरवाही पर भी तल्ख लहजे में अधिकारियों से कहा। एसपी सिटी के अनुसार फिलहाल डॉक्टर की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया जा रहा है। दूसरे पक्ष की दलील को सीसीटीवी के आधार पर देखा जाएगा। दोनों पिता पुत्र हिरासत में हैं।

डॉक्टर संजीव शर्मा की हालत गंभीर 
हमलावरों की पिटाई से डॉक्टर संजीव शर्मा की हालत गंभीर बनी हुई है। उनको शहर के रामघाट रोड स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी एक आंख बंद होने के साथ ही पसली भी टूट गई है। खबर लिखे जाने तक उनका आईसीयू में उपचार जारी रहा।
... और पढ़ें

अलीगढ़: चालक ने घर में फांसी लगाकर की खुदकुशी, शव लटके देख बच्चे-पत्नी के उड़े होश

क्वार्सी क्षेत्र के किशनपुर में सोमवार रात चालक ने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। वह बीमारी के चलते परेशान था। देर रात पहुंची पुलिस ने शव मोर्चरी भेज दिया है।

पुलिस के अनुसार 40 वर्षीय चालक देवेन्द्रपाल पुत्र विजय सिंह के परिवार में तीन बच्चे व पत्नी गीता है। वह काफी समय से बीमार चल रहा था और तनाव में रहता था। सोमवार रात पत्नी पड़ोस के घर गई थी। बच्चे ट्यूशन पढ़ रहे थे।

इसी बीच उसने कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। बच्चे पत्नी जब  घर लौटे तो शव लटका देख चीख निकल गई। शोर पर पब्लिक जमा हो गई। खबर पर पुलिस भी पहुंच गई। इंस्पेक्टर छोटेलाल के अनुसार परिवार तनाव की बात कह रहा है। पोस्टमार्टम के आधार पर आगे कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

कारोबारी पर हमले में दीपक को जमानत, कार्तिक हाजिर

आगरा रोड इलाके के नामचीन कारोबारी पर हमले में आरोपी जिला पंचायत सदस्य दीपक चौधरी को सत्र न्यायालय से जमानत दे दी गई है। अदालत ने दीपक के जमानत आदेश में शर्त रखी है और कहा है कि इन शर्तों का उल्लंघन हुआ तो कार्रवाई होगी। वहीं, इसी मुकदमे में आरोपी दीपक के छोटे भाई कार्तिक चौधरी ने सोमवार को न्यायालय में समर्पण कर दिया। जहां से कार्तिक को जेल भेज दिया गया।


वाकया 10 जनवरी का है, जब सेंटर प्वाइंट से शुरू हुए विवाद में कारोबारी की कार में आगरा रोड पर इरादतन टक्कर मारी गई थी। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर मुकदमा दर्ज कर मडराक पुलिस ने जापान हाउस निवासी जिला पंचायत सदस्य दीपक चौधरी को जेल भेजा था, जबकि दीपक के भाई कार्तिक चौधरी व दो अन्य शोभांस व मोंटी की तलाश चल रही थी।


इसी क्रम में कार्तिक चौधरी ने सोमवार को सीजेएम न्यायालय में समर्पण कर दिया। उनके अधिवक्ता चंद्रशेखर दीक्षित ने बताया कि तीनों आरोपियों की समर्पण याचिका अदालत में दायर थी, जिसमें सोमवार को कार्तिक ने समर्पण किया। जहां से न्यायालय ने अभिरक्षा में लेकर कार्तिक को जेल भेज दिया।



अधिवक्ता चंद्रशेखर दीक्षित के अनुसार, जिला जज के न्यायालय में दायर दीपक चौधरी की जमानत अर्जी पर सोमवार को बहस हुई, जिसमें न्यायालय ने सशर्त जमानत मंजूर की है। न्यायालय ने आदेश दिया है कि अगर किसी भी स्थिति में शर्तों का उल्लंघन किया तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

किशोरी से अपहरण और दुष्कर्म में आरोपी को सजा

चंडीगढ़ कोर्ट, हाईकोर्ट, अदालत, न्यायालय
महानगर के कोतवाली क्षेत्र के तमोलीपाड़ा इलाके से किशोरी के अपहरण व दुष्कर्म के आरोपी को न्यायालय ने सजा सुनाई है। एडीजे विशेष न्यायालय तृतीय पॉक्सो के न्यायाधीश ने आरोपी को पॉक्सो एक्ट के तहत दस साल सजा व 50 हजार रुपये जुर्माने से दंडित किया है। मिशन शक्ति अभियान के तहत यह फैसला सुनाया गया है। 

अभियोजन पक्ष के अधिवक्ता एडीजीसी कुलदीप तोमर के अनुसार वाकया 13/14 जून 2014 का है, जब इलाके की 14 वर्षीय किशोरी गायब हो गई। इस मामले में पास ही नौकरी करने वाले भाना उर्फ भानुप्रकाश निवासी सबलपुर डिबाई बुलंदशहर को नामजद कर अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया गया।

मामले में किशोरी की बरामदगी के बाद दुष्कर्म व पॉक्सो एक्ट बढ़ाया गया। अदालत में चार्जशीट दायर की गई। तभी से आरोपी जेल में है। मामले में न्यायालय ने साक्ष्यों व गवाही के आधार पर आरोपी को अपहरण व दुष्कर्म का दोषी करार पॉक्सो एक्ट के तहत दस साल सजा व 50 हजार रुपये जुर्माने से दंडित किया है।
... और पढ़ें

कुख्यात मुनीर के शूटर जुबैर का दोस्त था आतिफ

एएमयू छात्र आतिफ की हत्या वर्ष 2018 में जमालपुर में हुई शाहबेज की हत्या के क्रम में है या वजह कोई और है? इस सवाल का जवाब तो पुलिस जांच के बाद ही मिलेगा। मगर इतना जरूर है कि आतिफ दिल्ली की तिहाड़ जेल में निरुद्ध उस जुबैर का दोस्त था, जो कुख्यात अपराधी मुनीर मेहताब का शूटर है। उसी जुबैर की एक लड़की से जुड़ी रंजिश और जुबैर संग हुई मारपीट के बदले शाहबेज की हत्या हुई थी, जिसमें आज मारे गए आतिफ ने हथियार मुहैया कराए थे। उसी आरोप में पुलिस ने उसे जेल भेजा था। 

ये है इस गैंगवार का मुनीर गैंग से जुड़ाव
इस गैंग के बीच चल रही पुरानी रंजिश पर गौर करें तो आतिफ अपने पिता का इकलौता व घर का बड़ा बेटा था। इसके बाद दो छोटी बहनें हैं। वह खुद एएमयू से बीए ऑनर्स अर्थशास्त्र द्वितीय वर्ष की पढ़ाई कर रहा था। स्कूल में पढ़ाई के दौरान उसकी बरला नौसा के जुबैर से दोस्ती हुई। बाद में जुबैर व उसके तीन बड़े भाई यासिर, फहद व सद्दाम जरायम पेशे में आए। इसी क्रम में जुबैर भी उनके साथ जुड़ गया। बाद में सद्दाम व जुबैर कुख्यात अपराधी मुनीर मेहताब के साथ काम करने लगे। बाद में आपसी टशन में सद्दाम की मुनीर ने हत्या कर दी। मगर जुबैर मुनीर के साथ बराबर काम करता रहा। 

पहले हमले में चली गई थी बच्ची की जान
मुनीर के जेल जाने के बाद जुबैर स्थानीय स्तर पर उसके लिए काम करता था। इसी बीच आपसी टसन में उसका जमालपुर के शाहबेज ग्रुप से झगड़ा हुआ। इस झगड़े की वजह एक लड़की भी रही। इसी बीच जुबैर पर हमला हुआ। उसे पीटा गया। इसके बदले शाहबेज की हत्या की प्लानिंग बनी। इस प्लानिंग के क्रम में एक मर्तबा अब्दुल्ला कॉलेज के सामने दिनदहाड़े फायरिंग हुई, जिसमें ऊपरकोट की एक बच्ची की गोली लगने से मौत हो गई। उसके कुछ दिन बार फिर सितंबर 208 में शाहबेज की हत्या की गई। इस हत्याकांड में कुल 14 नाम पुलिस ने खोले, उन्हीं में आतिफ भी जेल भेजा गया था। 

मौत की खबर पर पिता की तबियत बिगड़ी
जाकिर नगर में देर रात हुई घटना के बाद जब शोर मचा तो आतिफ का परिवार भी मौके पर पहुंच गया था। मगर वहां जब उन्हें अपना बेटा घायल मिला तो वे आनन-फानन उसे मेडिकल ले गए। मगर कुछ ही देर में उसे जब मृत घोषित कर दिया तो पिता की तबियत बिगड़ने लगी। इस पर पुलिस ने तत्काल पिता को वहां से घर भेजा गया।  बाद में शव को पोस्टमार्टम केंद्र भेज दिया।

मौके पर खंगाले जा रहे सीसीटीवी से सुराग
इस घटना में कौन लोग शामिल रहे हैं, इसे लेकर पुलिस की एक टीम इलाके में सीसीटीवी खंगाल रही है। यह प्रयास किया जा रहा है कि शमशाद मार्केट से लेकर जाकिर नगर तक के सीसीटीवी देखे जाएं। ताकि आतिफ जहां से चला था, वहां से घटनास्थल तक के किसी सीसीटीवी में कोई पीछा करता हुआ शायद कैद पाया जाए। 

इसके अलावा इन बिंदुओं पर भी पुलिस की जांच
इस हत्याकांड में गैंगवार से जुड़ी रंजिश के अलावा किसी लड़की से जुड़े विवाद या अन्य कोई रंजिश तो नहीं, इस पर भी पुलिस ध्यान केंद्रित किए हुए है। हां, इतना जरूर है कि पुलिस की फौरी जांच में समझ में आ रहा है कि इस वारदात को भाड़े के शूटरों से अंजाम दिलाया गया है। तीन हमलावर बाइक पर थे और उन्होंने सिर्फ आतिफ को ही निशाना बनाया। उसके साथ कौन था, हमलावरों को उससे कोई मतलब नहीं था। वह चुपचाप बचकर निकल गया। 

जमानत पर आने के बाद बना ली थी गैंग से दूरी
घटना की खबर पर मौके पर पहुंचे परिवार व एएमयू से जुड़े दोस्तों ने एक बात जरूर पुलिस को बताई कि उस घटना में जेल जाने और जमानत पर छूटकर आने के बाद आतिफ ने उस गैंग से जुड़े अपराधी दोस्तों से दूरी बना ली थी। अब वह अपना ज्यादातर समय घर, परिवार, पढ़ाई और एएमयू से जुड़े दोस्तों को ही देता था। फिलहाल परिवार में मां व बहनों का हाल बेहाल था। कुछ करीबी दोस्तों की मदद से पुलिस घटना से जुड़े पहलुओं पर काम कर रही थी।
... और पढ़ें

मौके पर न था कोई साक्षी... अब वैज्ञानिक साक्ष्य देंगे गवाही

शीशियापाड़ा के प्रसिद्ध फर्नेश कारोबारी सुरेश कुमार जिंदल को दिनदहाड़े अगवा कर 6 लाख रुपये की फिरौती वसूलकर छोड़ने की घटना किसी से छिपी नहीं है। मगर, खास बात ये है कि इस घटना में आरोपियों को सजा दिलाने के लिए पुलिस आज भी एड़ी चोटी का जोर लगाए है। मौका-ए-वारदात का कोई गवाह न होने और सीसीटीवी फुटेज में किसी तरह की वारदात कैद न होने के कारण पुलिस इस घटना के आरोपियों के खिलाफ वैज्ञानिक साक्ष्य एकत्रित करने में जुटी है। बदमाशों के डीएनए सैंपल मिलान से लेकर फिंगर प्रिंट और वॉइस मिलान पर काम किया जा रहा है।

ये था घटनाक्रम
वाकया 16 जून की सुबह का है, शीशियापाड़ा से कारोबारी अपनी कार से इगलास क्षेत्र के गांव भौरा गौरवा स्थित अपनी फर्नेश फैक्टरी में जा रहे थे। रास्ते से ही उन्हें स्कार्पियो सवार वर्दीधारी बदमाश यह कहकर अगवा कर ले गए कि उनके पुलिस थाने में वारंट हैं। थाने ले जाकर पूछताछ करनी है। बाद में उन्हीं के फोन से उनकी बीवी से 20 लाख रुपये की फिरौती मांगी और घंटों घुमाने के बाद 6 लाख रुपये फिरौती वसूलकर उन्हें छोड़ गए थे। इस पूरी वारदात की जांच में पुलिस को उठाने से लेकर छोड़ने तक के समय का कोई गवाह नहीं मिला और न कहीं सीसीटीवी फुटेज मिले।


कुख्यात विनोद जाट और गैंग ने की वारदात
25 दिन के प्रयास के बाद पुलिस की जांच में उजागर हुआ कि इस वारदात को हाथरस जनपद के मुरसान क्षेत्र के पुलिस के बर्खास्त सिपाही कुख्यात अपराधी विनोद जाट व उसके साथी विनोद पथैना के गैंग ने अंजाम दिया है। इस गैंग के कुछ साथी पकड़कर जेल भेजे गए। बाद में विनोद जाट व विनोद पथैना पर इनाम घोषित हुआ। पुलिस पीछे लगी तो विनोद जाट ने आगरा में पुराने मुकदमे में न्यायालय में सरेंडर कर दिया, जबकि विनोद पथैना आज तक फरार है। जिसकी तलाश लगातार पुलिस टीम कर रही है।

ऐसे संकलित किए जा रहे साक्ष्य
इस वारदात में कोई स्वतंत्र साक्षी न होने के कारण पुलिस ने वैज्ञानिक साक्ष्यों पर काम शुरू किया। पुलिस ने उस कार से बदमाशों के बाल, फिंगर प्रिंट आदि संकलित कर लिए थे, जिसमें कारोबारी को ले जाया गया था। वह कार कारोबारी की ही थी। जब बदमाश पकड़े और विनोद रिमांड पर लिया गया तो उसके डीएनए व फिंगर प्रिंट सैंपल लिए गए। इनका मिलान होना बदमाशों के खिलाफ ठोस साक्ष्य होगा। इसके अलावा अपहरण के समय सुरेंद्र की पत्नी को उसी के नंबर से बदमाश कॉल कर रहे थे। उस कॉल को महिला रिकार्ड कर रही थी। उस कॉल में रिकार्ड आवाज को विनोद जाट व उसके दो साथियों जयपाल व संतोष की आवाज से मिलान के लिए वॉइस सैंपल भी संकलित कराए जा रहे हैं। इसे लेकर विधि विज्ञान प्रयोगशाला लखनऊ से जिला पुलिस ने तारीख मांगी है कि इन तीनों अपराधियों को किस दिन वॉइस सैंपल मिलान के लिए लाया जाए। वहां से तारीख मिलने पर तीनों को लखनऊ ले जाया जाएगा। अगर आवाज का मिलान होता है तो वह इनके खिलाफ ठोस साक्ष्य होगा।

- इस अपहरण कांड के आरोपियों के खिलाफ वैज्ञानिक साक्ष्य संकलन का काम किया गया है। जिसके तहत अब तक डीएनए सैंपल लिए गए और फिंगर प्रिंट लिए गए। अब वाइस सैंपल भी कराए जाने की कवायद चल रही है। इसके लिए तीनों को लखनऊ ले जाया जाएगा। इसके लिए लखनऊ से तारीख मांगी गई है। यह प्रक्रिया जल्द ही पूरी होगी। इसके बाद जल्द से जल्द ट्रायल शुरू कराया जाएगा।-मुनिराज जी एसएसपी
... और पढ़ें

मुफ्त इलाज व खाने का लालच देकर मरीजों को भर्ती कराते थे एजेंट

स्वास्थ्य विभाग की जांच में पता चला है कि हाईवे भांकरी स्थित जेडी आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज की एंबुलेंस गांव-गांव जाकर प्रचार कर आयुष्मान मरीजों को अस्पताल लाती थी। मरीजों को मुफ्त खाने व इलाज का लालच देकर एजेंट अस्पताल में भर्ती कराते थे। मृतक देवी शरण को भी ऐसे ही लाया गया था। स्वास्थ्य विभाग इन्हीं बिंदुओं पर जांच कर रहा है। वहीं, इस निजी अस्पताल के संचालक सुनील मित्तल ने भी प्रचार-प्रसार की बात स्वीकार की है। 


मित्तल ने बताया कि हमारा उद्देश्य ग्रामीण इलाकों की जनता को इस योजना का लाभ दिलाना है। प्रचार के दौरान ग्रामीणों से अपील की जाती है कि किसी भी समय इलाज की आवश्यकता होने पर वे अस्पताल को फोन कर एंबुलेंस बुला सकते हैं। अस्पताल का फायदा यह रहता है कि यहां अध्ययन करने वाले विद्यार्थी सीनियर डॉक्टरों की निगरानी में इलाज की बारीकियां सीखते हैं। 


सीएमओ डॉ बीपी कल्याणी ने बताया कि आयुष्मान योजना के मरीजों का इलाज करना अलग बात है। लेकिन एंबुलेंस व एजेंटों के जरिये प्रचार प्रसार कराना गलत है। स्वास्थ्य विभाग इन्हीं बिंदुओं पर जांच कर रहा है। जेडी अस्पताल का एक अप्रैल 2020 से अब तक भर्ती आयुष्मान योजना के मरीजों का रिकॉर्ड निकलवाया जा रहा है। इन सभी मरीजों के बयान लिए जाएंगे। इस दौरान आयुष्मान कार्ड से लिए गए भुगतान की जांच की जाएगी। यदि गड़बड़ी मिली तो अस्पताल के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। जांच पूरी होने तक सभी भुगतानों पर रोक लगा दी गई है।


एसडीएम गभाना प्रवीण यादव ने बताया कि पूर्व में चंडौस के अस्पताल में आयुष्मान योजना में फर्जी भुगतान का मामला मिला था। जेडी अस्पताल में हुई जांच में पता चला है कि वहां का स्टाफ यहां आ गया है। सीएमओ ने अस्पताल के आयुष्मान योजना के तहत भुगतान पर रोक लगा दी है। मरीज की मौत के कारणों की जांच मेडिकल पैनल से कराई जा रही है।


- देवी शरण की तबियत बिगड़ने पर उसे मेडिकल कालेज रेफर करने के लिए परिजनों को बुलाया गया था, लेकिन कोई नहीं आया। उसे घर के सामने फेंकने की बात गलत है। 
- सुनील मित्तल, संचालक, जेडी आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज
... और पढ़ें

कुख्यात अपराधी विनोद जाट पर एनएसए की कार्रवाई

आगरा व अलीगढ़ मंडल के जिलों में लूट, डकैती, अपहरण, फिरौती जैसे संगीन अपराधों को अंजाम देने वाले कुख्यात अपराधी विनोद जाट के खिलाफ जिला प्रशासन ने एनएसए (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) की कार्रवाई की है। विनोद जाट फिलहाल आगरा जेल में है। जिलाधिकारी चंद्रभूषण सिंह ने आशंका जाहिर की है कि वह अपनी जमानत कराने के लिए प्रयासरत है।


अगर, वह बाहर आएगा तो समाज के लिए खतरा पैदा करेगा। इस संबंध में उन्होंने प्रमुख सचिव गृह गोपन विभाग को पत्र भेज दिया। शासन अब उसकी एनएसए अवधि के संबंध में फैसला सुनाएगा। बीते 16 जून 2020 को दिनदहाड़े उसने अपने गैंग के साथ शहर के स्क्रैप कारोबारी सुरेंद्र कुमार जिंदल का अपहरण कर सनसनी फैला दी थी। 20 लाख की फिरौती मांगी थी। बाद में व्यापारी की पत्नी ने अपहरणकर्ताओं को छह लाख रुपये पहुंचाए थे।


विनोद जाट पुत्र राजवीर सिंह निवासी महामौनी थाना मुरसान, जिला हाथरस उप्र पुलिस का सिपाही था। अपराधियों के संपर्क में आकर अपराध करने लगा तो सेवा से बर्खास्त कर दिया। इसके बाद उसने आगरा, अलीगढ़, हाथरस, फिरोजाबाद, मथुरा जैसे जिलों में ताबड़तोड़ अपराधों को अंजाम दिया। वर्तमान में उसके खिलाफ 28 मुकदमे दर्ज हैं।


इगलास थाना पुलिस के अनुमोदन पर पिछले दिनों विनोद जाट सहित उसके साथी जयपाल पुत्र परसादीलाल निवासी नगला हरकरना, इगलास, मुकेश उर्फ पिंटू पुत्र विजेंद्र सिंह निवासी, सरसा राया, संतोष पुत्र रामबिहारी निवासी महामौनी, मुरसान, हाथरस पर जिलाधिकारी चंद्रभूषण सिंह ने गैंगस्टर की कार्रवाई की थी। गैंग का सदस्य जयपाल भी पुलिस द्वारा बर्खास्त किया गया था। वह भी सिपाही था। वहीं, राजस्थान के जिला भरतपुर के थाना मुसावर के गांव पथेना निवासी विनोद पुत्र तेज सिंह अपहरण के मामले में वांछित चल रहा है। उस पर 60 हजार का इनाम घोषित है।
... और पढ़ें

कोहरे में आधा दर्जन वाहन टकराए, नौ लोग घायल

शुक्रवार की सुबह करीब पौने नौ बजे घने कोहरे के बीच अलीगढ़-पलवल मार्ग पर आधा दर्जन वाहन एक-दूसरे से टकराए। इस टक्कर से एक कार में आग लग गई। इस हादसे में नौ लोग घायल हो गए। इनमें तीन लोगों की हालत गंभीर होने पर मलखान सिंह जिला अस्पताल में रेफर किया गया।


शुक्रवार की सुबह करीब 8:40 बजे सड़क किनारे खड़े कंटेनर में घने कोहरे के कारण उसमें पीछे से एक बस टकरा गई। इसके बाद बस के पीछे से आ रही कार बस से टकरा गई। कार में आग लग गई। पीआरवी कर्मियों ने मशक्कत कर कार में लगी आग पर काबू पाया। इस हादसे में घायल आदित्य पुत्र महेंद्र (14) निवासी टूंडला जिला फिरोजाबाद, महेंद्र सिंह पुत्र श्रीराम (42) निवासी टूंडला, सोनिया पत्नी विजय (30) निवासी एनआईटी फरीदाबाद, आशीष पुत्र अशोक (19) थाना लक्ष्मीपुर जुमोई, अनिकेत पुत्र सूर्य कुमार चौहान (20) निवासी सोनभद्र, बमबम (22) निवासी बल्लभगढ को चोर्टें आइं। पुलिस ने सभी घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। 


इलाज के बाद छह लोग अपने गंतव्य को रवाना हो गए जबकि हरिराम (43) निवासी उटवारा थाना कुबेर जिला भरतपुर राजस्थान, रंजीत पुत्र विजय बहादुर (23) निवासी चंदीला थाना हरदोई, नीरज पुत्र रामशंकर (22) निवासी कथेरा चंदीला को गंभीर हालत में मलखान सिंह जिला अस्पताल रेफर किया गया है। इसके अलावा तीन और कारें भी इन वाहनों से टकराईं लेकिन मामूली क्षतिग्रस्त होने और यात्रियों को कोई नुकसान न होने पर वह कारें चली गईं।



घने कोहरे में ट्रैक्टर से दो बाइक टकर्राइं, पांच लोग घायल 
शुक्रवार की सुबह करीब साढ़े पांच बजे हाईवे पर कटरा मोड़ के पास घने कोहरे के बीच सड़क पर खराब खड़े ट्रैक्टर से दो बाइकें टकरा गईं। इस हादसे में पांच लोग घायल हो गए। पुलिस ने घायलों को सोमना मोड़ स्थित निजी अस्पताल में भर्ती कराया है। शुक्रवार की सुबह खुर्जा की ओर से आ रहे बाइक सवार जवां के गांव कोटा खास निवासी भानू व बसु कटरा मोड़ के पास खराब खडे़ सीमेंट से भरे ट्रैक्टर से टकराकर घायल हो गए। घायलों को टोल प्लाजा की एंबुलेंस से भांकरी के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसके बाद सुबह सात बजे के करीब बुलंदशहर के थाना अरनियां के गांव रनियावली निवासी आशीष व शुभम अपने पड़ोसी केशव की बाइक पर बैठकर गभाना एक निजी स्कूल में पढ़ने जा रहे थे। वह भी घने कोहरे के चलते खराब खड़े ट्रैक्टर से जा टकराए। इसमें तीनों घायल हो गए। घायलों को पुलिस ने सोमना मोड़ के निजी अस्पताल में भर्ती कराया। इसके बाद क्रेन की मदद से ट्रैक्टर को हटवा दिया।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X