विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को
Astrology Services

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

हरियाणाः रेवाड़ी में दो बच्चों को लेकर नहर में कूदी पुलिसकर्मी की पत्नी, महिला-बेटे का शव मिला

हरियाणा से बड़ी खबर आ रही है। रेवाड़ी में एक पुलिसवाले की पत्नी अपने दो बच्चों को लेकर नहर में कूद गई।

21 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

पानीपत

बुधवार, 21 अगस्त 2019

विदेश में नौकरी दिलवाने के नाम पर ठगे 11 लाख 43 हजार, रुपये वापस मांगने पर दी जान से मारने की धमकी, केस दर्ज

विदेश में नौकरी दिलवाने के नाम पर गांव नूरवाला निवासी दो युवकों व जिला करनाल निवासी एक युवक ने एक ट्रैवल एजेंट पर लाखों रुपयों की धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया है आरोपी ने इन युवकों से करीब 11 लाख 43 हजार की ठगी करने के साथ-साथ एक युवक से 2400 यूएस डालर भी ठग लिए हैं। मामले का खुलासा उस समय हुआ जबकि विदेश में एक माह तक रहने के बावजूद भी युवकों को काम नहीं दिलवाया। उन्हें खाली हाथ ही स्वदेश वापस लौटना पड़ा। इतना ही एक पीड़ित का वीजा खत्म हो गया, जिस कारण अब उसे विदेश में ही छिपकर रहना पड़ रहा है। रुपये वापस मांगने पर आरोपी ने जान से मारने की धमकी दी। पीड़ितों ने इसकी शिकायत एसपी से की। एसपी ने तत्काल प्रभाव से मामले की गंभीरता को समझते हुए थाना शहर पुलिस को केस दर्ज करने व जांच कर आरोपियों को गिरफ्तार करने के आदेश दिए।
नूरवाला निवासी 35 वर्षीय सुखविंद्र सिंह ने बताया कि करीब दो साल पहले सुरेंद्र सिंह हैप्पी नामक युवक उसके चचेरे भाई का पासपोर्ट देने के लिए तहसील टाऊन मेें आया था। सुरेंद्र ने उसे बताया कि वह मूल रूप से पानीपत का रहने वाला है व फिलहाल मायापुरी जनकपुरी दिल्ली में रहता है। उसने मायापुरी में ही मैसर्ज यूनीअर्बन ट्रेंड लिमिटेड के नाम से फर्म बनाकर कार्यालय खोला हुआ है। वह विदेशों में नौकरी करने के इच्छुक युवकों को वह दूसरे देशों में भेजने व नौकरी लगवाने का काम करता है। उसकी विदेशों में अच्छी सेटिंग है व अब तक काफी युवकों को रोजगार भी दिलवा चुका है। आरोपी ने उससे दो बार मुलाकात की व फोन पर भी संपर्क करते हुए इस बात पर जोर दिया कि अगर कोई विदेश में नौकरी करने का इच्छुक है तो वह उससे संपर्क करवाए। सुखविंद्र का कहना है कि वह आरोपी के झांसे में आ गया व अपने दो पड़ोसियों मलकीत सिंह व मनजीत सिंह का पासपोर्ट आरोपी को दे दिया। कुछ दिनों बाद आरोपी ने उन्हें कुछ जाली दस्तावेज दिखाकर 5 लाख रुपये नकद ले लिए। उसके बाद आरोपी लगातार उस पर दबाव देता रहा है कि यदि एक-दो युवक और मिल जाएं तो खर्च भी कम पड़ेगा व काम भी जल्द होगा। आरोपी की बातों पर विश्वास करने उसने गांव सौकडा तरावड़ी निवासी ओंकार सिंह का पासपोर्ट व 5 लाख रुपये नकद दिलवा दिए। इसके अलावा 1.43 लाख रुपये आरोपी के खाते में भी डलवाए दिए ।
वीजा खत्म होने पर अरमानिया में छिप कर रह रहा ओमकार
पीड़ित ने बताया कि नवंबर, 2018 में आरोपी ने तीनों युवकों को दिल्ली बुलाया तथा कुछ कागजात सौंपते हुए उन्हें बताया कि वह उन्हें यूरोप व कनाडा भेज रहा है जहां पर उसके साथी उन्हें रिसीव करेंगे तथा काम भी लगवा देंगे। आरोपी ने तीनों को एयरपोर्ट से रवाना भी किया। तब भी आरोपी ने उन्हें होटल में ठहरने का इंतजाम करने व अन्य खर्चों के नाम पर 24 सौ यूएस डॉलर ले लिए। फ्लाइट के अरमानिया पहुंचने पर उन्हें पता चला कि उन्हें गलत जगह भेजा गया है। ... और पढ़ें

रक्षाबंधन पर दिल्ली जा रहे मां-बेटे की सड़क हादसे में मौत

क्षेत्र में चार सड़क हादसों में मां-बेटा समेत तीन की मौत हो गई जबकि चार घायल हो गए। पहले हादसे में रक्षाबंधन पर दिल्ली जा रहे कार सवार मां-बेटी के ट्रक की टक्कर से मौत हो गई। दूसरे हादसे में दो बाइक सवारों में एक की मौत हो गई, उसके साथ ही बैठा युवक घायल हो गया। जबकि तीसरे और चौथे हादसे में दो दंपती घायल हो गए।
पुलिस को दी शिकायत में पानीपत निवासी राजकुमार ने बताया कि उनके दोस्त विनोद शर्मा पानीपत स्थित एक होटल में काम करते हैं। वीरवार को विनोद की पत्नी अनु शर्मा और बेटा हार्दिक ऋषि पंजाब से आए थे। उन्हें रक्षाबंधन पर अपने रिश्तेदार के यहां दिल्ली जाना था। उन्हें भी काम था तो वह भी साथ चल दिए। अनु शर्मा और हार्दिक ऋषि एक कार में और वह और विरोद दूसरी कार से दिल्ली के लिए चल दिए। हलदाना बार्डर के पास पीछे से तेज गति में आ रहे ट्रक ने अनु शर्मा और हार्दिक की कार को टक्कर मार दी। कार पलट गई। घायल अवस्था में दोनों को अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को शव सौंप दिया गया है। पुलिस ने अज्ञात ट्रक चालक के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है।
दूसरा हादसा पट्टी कल्याणा के पास हुआ। दातौली निवासी मिथुन ने बताया कि वह और उसका भाई जॉनी समालखा से काम निपटाने के बाद दातौली जा रहे थे। पट्टीकल्याणा के पास अज्ञात वाहन ने उनकी बाइक को टक्कर मार दी और चालक वाहन समेत फरार हो गया। हादसे में भाई की मौत हो गई। तीसरा हादसा समालखा के शराब के ठेके के पास हुआ। झट्टीपुर निवासी यादराम ने बताया कि वह अपनी पत्नी मंजू के साथ समालखा आ रहा था। शराब के ठेके के पास पीछे से आ रही कार ने टक्कर मार दी। जिससे दोनों घायल हो गए। चौथा हादसा नरायणा पुल पर कार की टक्कर लगने से हुआ। जिसमें बाइक सवार पति और पत्नी घायल हो गए। शिकायतकर्ता बलबीर सिंह ने बताया कि वह टाउन प्लानिंग विभाग में नौकरी करते हैं। पत्नी राजकली के साथ बाइक पर समालखा जा रहे थे। पुल पर पहुंचने पर पानीपत की तरफ से आ रही कार ने टक्कर मार दी। ... और पढ़ें

6 किलोग्राम सोना पंजाब एंड सिंध बैंक से हुआ चोरी, दो लोकर से चोरी मिला 2 किलो 70 तोले सोना

सनौली रोड पर हैदराबादी अस्पताल के पास गुरुद्वारे के स्कूल की इमारत में बने पंजाब एंड सिंध बैंक के लॉकर रूम में चोरी के मामले में बैंक अधिकारियों ने दावा किया है कि 6 लॉकर से 3 किलो 290 ग्राम नहीं बल्कि 6 किलोग्राम सोना चोरी हुआ था। बैंक अधिकारियों के मुताबिक जिन दो लॉकर में रखे सोने का अनुमान नहीं लग पाया था। बुधवार को लॉकर के मालिक बैंक पहुंचे और उन्होंने बैंक अधिकारियों को अपने लॉकरों के बारे में जानकारी दी। यानि कुल चोरी का आंकड़ा अब 2 करोड़ 37 लाख का सोना व साढ़े आठ लाख कैश पहुंच चुका है। ये आइआइएफएल कंपनी में डेढ़ साल पहले हुई लूट के बाद जिले की आज तक की सबसे बड़ी चोरी की घटना है। बुधवार को चंडीगढ़ से दोबारा बैंक अधिकारियों की टीमें पहुंची और दिल्ली की एक्सपर्ट टीम ने भी निरीक्षण किया। अधिकारियों ने बंद कमरे में दो घंटे तक बैंक के कर्मचारियों से पूछताछ की।
पुलिस की आठ टीमें सोने की लूट करने वाली गैंग के सदस्यों से पूछताछ कर रही है। अब तक 20 से अधिक बदमाशों से इस संबंध में पूछताछ हो चुकी है, लेकिन नतीजा शून्य रहा। पुलिस मामले का जल्द पर्दाफाश का दावा कर रही है, लेकिन पुरानी गोल्ड कंपनी, एटीएम लूट व उद्यमी से लूट के अनट्रेस मामले देख लोगों को इसकी संभावना कम ही नजर आ रही है।
पुलिस ने बुधवार को बैंक के कर्मचारियों से अलग अलग बुलाकर पूछताछ की है। सीआईए की छह व किला थाना की दो टीमें मामले की जांच कर रही है। करनाल, सोनीपत, जींद, रोहतक, कुरूक्षेत्र, मेरठ, मुजफ्फरनगर, बागपत व शामली में भी पुलिस की छापेमारी कर रही है। इस केस को सुलझाने के लिए दूसरे जिलों व राज्यों की पुलिस का भी सहयोग लिया जा रहा है। एसपी सुमित कुमार पल पल की खबर टीमों से ले रहे हैं।
ये तीन बड़ी वारदात जो हुई अनट्रेस
1. 29 जनवरी 2018 को तीन बदमाशों ने सनौली रोड पर आइआइएफएल गोल्ड कंपनी के कर्मचारियों को बंधक बनाकर साढ़े तीन करोड़ का सोना व ढाई लाख रुपये कैश लूटा था। पुलिस ने इसको अनट्रेस करार दे दिया।
2. 22 मार्च को शहर के बड़े कारोबारी संजय चौधरी के घर घुसकर बदमाशों ने पूरे परिवार को बंधक बना लिया और 15 लाख के गहने व चार लाख रुपये कैश लूट ले गए थे। अब तक ये दोनों बड़े मामले अनट्रेस है।
3. जून माह में एसबीआई एटीएम के गार्ड को बंधक बनाकर बदमाश साढ़े चार लाख रुपये की लूट को अंजाम दिया था। इसका पुलिस अब तक खुलासा नहीं कर पाई है।
जिले की इन तीन बड़ी वारदातों को अंजाम देने वाले बदमाशों को सीआइए और सोनीपत की एसटीएफ भी नहीं पकड़ पाई है। पुलिस ने पानीपत, करनाल, सोनीपत, रोहतक, झज्जर व आसपास के जिलों के अलावा दिल्ली, उत्तर प्रदेश के मेरठ, शामली और मुजफ्फरनगर के 50 गैंग के 130 से ज्यादा बदमाशों की कुंडली खंगाली, लेकिन नतीजा जीरो रहा। जांच जहां से शुरू हुई वहीं आकर खत्म हो गई।
पुलिस की आठ टीम जांच में जुटीं
एसपी सुमित कुमार ने इस वारदात के आरोपियों को पकड़ने का जिम्मा किला थाना पुलिस की दो टीम, सीआईए-1, सीआईए-2 और सीआईए-3 की दो-दो टीम सहित कुल आठ टीम मामले की जांच में जुटी हैं। एसपी सुमित कुमार सभी टीमों से पल-पल की जानकारी ले रहे हैं। उन्होंने सभी टीमों को जल्द आरोपियों तक पहुंचने के निर्देश दिए हैं। सभी टीमों का नेेतृत्व खुद सुमित कुमार कर रहे हैं।
आठ माह में तीन बार बैंक चोरी के हो चुके हैं प्रयास
बदमाश इन आठ माह में तीन बार बैंक में चोरी का प्रयास कर चुके हैं। जीटी रोड स्थित पंजाब एंड सिंध में 15 जनवरी को शटर तोड़कर बदमाश अंदर घुस गए थे, गनीमत रही कि बदमाश स्ट्रांग रूम तक नहीं जा सके। बदमाशों की हरकतें सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी, लेकिन पुलिस उन्हें नहीं पकड़ पाई है। 26 फरवरी को नूरवाला में इलाहाबाद बैंक की दीवार तोड़कर चोरी का प्रयास किया गया था। चोर स्ट्रांग रूम तक नहीं पहुंच पाए थे। 8 अप्रैल को चोरों ने सिवाह गांव स्थित पीएनबी में सेंध लगाकर चोरी का प्रयास किया था।
मामले की जांच सीआईए टू कर रही है। फिलहाल मामले में कोई ठोस सबूत हाथ नहीं लगे है। सीसीटीवी फुटेज खंगाली जा रही है। मामले का जल्द पर्दाफाश किया जाएगा।
सुमित कुमार, एसपी पानीपत। ... और पढ़ें

जैविक खाद की एजेंसी दिवालने के नाम पर देशभर के किसानों से 50 करोड़ की ठगी करने का आरोपी गिरफ्तार

जैविक खाद की एजेंसी दिलाने व खाद की सप्लाई के नाम पर देश भर के किसानों से करीब 50 करोड़ की ठगी करने के मुख्य आरोपी शातिर ठग राम अवतार निवासी अजमेर, राजस्थान को थाना मॉडल टाऊन पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। आरोपी पिछले करीब 10 माह से पुलिस की गिरफ्त से बाहर था।
रामनगर निवासी प्रदीप कुमार पुत्र बलवान ने पुलिस को शिकायत दर्ज करवाई थी कि उसने सीमा कांपलेक्स माडल टाऊन में कार्यालय बनाया हुआ है। उसके कार्यालय में राम अवतार, उसकी पत्नी प्रेमा सिंह व देव करण आए व उन्हेें जैविक खाद धरती धन की एजेंसी लेने को प्रेरित किया। आरोपियों ने उसे बताया कि इस जैविक खाद में मिनरल है जो कि धरती की पैदावार को पहले साल डेढ़ गुणा, दूसरे साल दो गुणा तथा तीसरे साल चार गुणा बढ़ा देगा। आरोपियों ने उसे बताया कि वे उसे एजेंसी दिलवा देंगे। उसे कुल 21 लाख का खर्चा बताया गया। जिसमें से 9 लाख 95 हजार रुपये उसने आरोपियों द्वारा बताए बैंक खाते में ट्रांसफर कर दिए। जबकि 9 लाख रुपये उक्त तीनों आरोपी उनके कार्यालय से आकर लेकर गए। शेष राशि 2 लाख 5 हजार रुपये आरोपी राम अवतार व उसकी पत्नी आकर लेेकर गए हैं।
प्रदीप ने पुलिस को बताया था कि आरोपियों ने उसे बताया कि यह सारा जैविक खाद बीएसडीबी (क्रिप्टो करंसी) के माध्यम से व आपके माध्यम से किसानों को दिया जाएगा। वे पानीपत में कई बैठकें किसानों के साथ कर चुके हैं। आरोपियों के झांसे मेें आकर वे 21 लाख रुपये दे चुके थे। उसे बताया गया था कि मार्च, 2018 तक एजेंसी दिलवा दी जाएगी, लेकिन बार-बार संपर्क करने के बावजूद भी आरोपियों ने उसे एजेंसी नहीं दिलवाई। 12 अप्रैल, 2018 को जब उसने आरोपियों से अपनी राशि वापस मांगी तो आरोपी रामअवतार ने पानीपत आकर उसे जान से मारने की धमकी दी। लेकिन आरोपी रामअवतार के एक अन्य जानकार सुरेंद्र ने मामला सुलझवाने की बात कही। लेकिन करीब 6 माह की टालमटोल के बाद उसने भी हाथ खड़े कर दिए हैं। थाना माडल टाऊन पुलिस ने प्रदीप के बयानों के आधार पर आरोपी रामअवतार, उसकी पत्नी प्रेमा सिंह व देव कर्ण के खिलाफ केस दर्ज करके जांच शुरू कर दी थी। जांच के दौरान ने पुलिस ने आरोपी 36 वर्षीय राम अवतार पुत्र देहूकर्ण निवासी अजमेर, राजस्थान को गिरफ्तार कर लिया है। उसके खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जा रही है। ... और पढ़ें

बंद खाते के पांच फर्जी चेक जारी करने का आरोपी फर्म प्रोपराइटर गिरफ्तार

एक सप्ताह के भीतर ही 15.20 लाख का माल खरीदने उपरांत बंद पड़े खाते के पांच चेक जारी करते हुए धोखाधड़ी करने के मामले में पुलिस ने फर्म के प्रोपराइटर को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास में पुलिस संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही है।
शिव शक्ति वूलटैक्स की मालिक ममता गर्ग निवासी यमुना एन्कलेव सेक्टर 13-17 ने पुलिस को 7 अक्तूबर, 2017 को शिकायत दी थी कि वह धागे का कारोबार करती है। इंदिरा विहार कालोनी नूरवाला स्थित लक्ष्मी टेक्सटाइल के प्रबंधक जगदीश, मैनेजिंग इंचार्ज उसकी पत्नी लक्ष्मी व प्रोपराइटर उसके बेटे लवली ने उससे 8 सितंबर, 2017 से 15 सितंबर, 2017 के बीच 9 बिलों के माध्यम से 15 लाख 20 हजार 392 रुपये व कंबल का माल खरीदा। आरोपी अपनी फैक्टरी में भी कंबल निर्माण का कार्य करते हैं। इस पेमेंट का भुगतान करने के आरोपियों ने उसे पांच चेक दी पानीपत अर्बन कॉ-आपरेटिव बैंक लिमिटेड के जारी कर दिए। जब उसने उक्त चेकों को अपने बैंक खाते में लगाया तो पता चला कि इन्हें जारी करने से पहले ही आरोपियों ने अपना खाता बंद करवा रखा है। बाद में जब आरोपियों से पेमेंट या माल वापस देने को कहा गया तो आरोपियों ने साफ तौर पर इंकार कर दिया। थाना किला पुलिस ने केस दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी थी। पुलिस ने जांच के दौरान फर्म के प्रोपराइटर लवली को गिरफ्तार कर लिया गया। ... और पढ़ें

प्रदेश के दो लाख उद्योगों व कंपनियों में से मात्र 57 के पास ही भू जल निकाले की एनओसी, हर रोज

राज्य भर में दो लाख से अधिक उद्योग व वाणिज्य कंपनियां है, लेकिन प्रदेश में केवल 57 उद्योगों और वाणिज्यिक कंपनियों के पास केंद्रीय भूजल प्राधिकरण से पानी निकालने के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र है। प्रदेश के ये उद्योग और कंपनियां हर रोज 8 करोड़ से अधिक भूजल का दोहन करती है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के आदेश के अनुसार, सभी भूजल उपयोगकर्ताओं को भूजल निष्कर्षण के लिए केंद्रीय भूजल बोर्ड (सीजीडब्ल्यूबी) से एनओसी प्राप्त करना अनिवार्य है। पिछले 10 साल में हरियाणा का भू जल 8 फुट तक गिर चुका है। अब लगातार गिरते भू-जल के कारण पानीपत के समालखा, सनौली व बापौली को डार्क जोन में रखा गया है। एनजीटी के आदेश के बाद, सीजीडब्ल्यूबी ने अधिसूचना जारी की है। इसमें इस बात का स्पष्ट रूप से उल्लेख किया गया है कि सीजीडब्ल्यूए से वैध एनओसी के बिना भूजल खींचने वाले सभी उपयोगकर्ता एनजीटी की ओर से तय किए जाने वाले पर्यावरणीय क्षतिपूर्ति व नुकसान का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी हैं।
जानकारी के अनुसार प्रदेश के 14 जिलों में केवल 57 उद्योगपतियों या वाणिज्यिक उपयोगकर्ताओं के पास सीजीडब्ल्यूए से एनओसी है, जबकि छह जिलों में किसी के पास भूजल लेने के लिए एनओसी नहीं है। सूत्रों का कहना है कि शहर में 400 से अधिक पंजीकृत रंगाई इकाइयां चल रही हैं। इनमें से 300 सेक्टर 29 पार्ट -2 में और अन्य सेक्टर 25 पार्ट -1, 2 और सेक्टर 29 पार्ट -1 में हैं। अवैध रंगाई इकाइयों के लिए, वे पूरे शहर में फैले हुए हैं। रंगाई इकाइयों द्वारा भूजल का निष्कर्षण लगभग 80 मिलियन लीटर प्रति दिन है। अप्रैल और मई में विभिन्न रंगाई और कपड़ा इकाइयों के केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्डों (सीपीसीबी) की टीमों द्वारा किए गए निरीक्षण के दौरान टीमों ने पाया कि ये इकाइयां प्रवाह मीटर स्थापित किए बिना भूजल निकाल रही थीं। नाम न छापने की शर्त पर हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (एचएसपीसीबी) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि उन्होंने भूजल के पुर्नभरण के लिए कोई प्रणाली स्थापित नहीं की है। यहां तक की सरकारी इकाइयां- पानीपत थर्मल पावर प्लांट, नेशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड (एनएफएल) और इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल) भी बिना एनओसी के भूजल निकाल रही हैं। सूत्रों ने कहा कि आईओसीएल के पास भारत पेट्रोलियम (बीपीसीएल) ने मई में सीजीडब्ल्यूबी से एनओसी ले ली है। उद्योगों को एनओसी लेने के लिए 30 सितंबर तक का समय दिया है। एनजीटी पानीपत के उन 47 उद्योगों पर कार्रवाई करने के निर्देश भी दे चुका है, जो बिना एनओसी के भूजल का दोहन कर रहे थे।
ये बहुत चौंकाने वाला है- राठी
आरटीआई कार्यकर्ता अमित राठी ने कहा कि यह चौंकाने वाला है कि केवल 57 को सीजीडब्ल्यूए से जमीन से पानी निकालने की वैध अनुमति है, जबकि हजारों औद्योगिक इकाइयां, बड़े डेवलपर्स और खनन इकाइयां फरीदाबाद, गुरुग्राम, बहादुरगढ़, झज्जर, रोहतक, पलवल में चालू हैं।
भूजल की निकासी की जांच हो
पर्यावरण विद नेम चंद जैन ने कहा कि द्वारा हरियाणा के अधिकतम समूहों को अति-शोषित क्षेत्र में शामिल किया गया है जो चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि भूजल की निकासी की जांच होनी चाहिए और अधिकारियों द्वारा गंभीरता से निगरानी की जानी चाहिए।
इन जिलों में इतने उद्योगों के पास एनओसी
जिला इतने उद्योगों के पास एनओसी
अंबाला 5
फरीदाबाद 6
भिवानी 2
गुरूग्राम 6
हिसार 2
झज्जर 5
महेंद्रगढ़ 1
मेवात 1
पलवल 2
पंचकुला 4
पानीपत 7
रोहतक 2
सोनीपत 6
रेवाड़ी 7
यमुनानगर 1
कुल 57
इन जिलों में किसी के पास नहीं एनओसी
फतेहाबाद, जींद, कैथल, कुरुक्षेत्र, करनाल व सिरसा में किसी भी उद्यमी व कंपनी के पास भू जल का दोहन करने के लिए एनओसी नहीं है। यहां पर बिना एनओसी के ही करोड़ों लीटर भूमिगत पानी का दोहन किया जा रहा है।
सरकार राज्य स्तर पर भू जल प्राधिकरण का करें गठन : राणा
हरियाणा में राज्य स्तर पर भू जल प्राधिकरण का गठन नहीं किया है। उनको दिल्ली से ही एनओसी लेनी पड़ती है। इनमें उनको भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। पानीपत में 80 से ज्यादा उद्यमियों ने एनओसी के लिए अप्लाई किया है, लेकिन एनओसी मिलने की प्रक्रिया बहुत जटिल है। इसलिए इसको आसान करने के लिए राज्य स्तर पर बोर्ड का गठन होना चाहिए।
भीम राणा, प्रधान डायर्स एसोसिएशन ... और पढ़ें

बाढ़ का कहरः हरियाणा में 40 हजार एकड़ फसल डूबी, नौ जिलों में हजारों परिवार प्रभावित

हरियाणा में तबाही मचाकर यमुना का पानी मंगलवार शाम दिल्ली पहुंच गया है। राहत की बात है कि यमुना के साथ-साथ मारकंडा, घग्गर और टांगरी के जलस्तर में भी कमी आई है। फिर भी प्रदेश के नौ जिलों में इन नदियों के आसपास रह रहे हजारों लोग बाढ़ से अब भी प्रभावित हैं। मंगलवार को मारकंडा और यमुना का तटबंध टूटने से कई गांवों पर अब भी बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। 

बाढ़ में फंसे कई परिवारों को बचाव दल ने निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। करीब 40 हजार एकड़ में फसल जलमग्न हैं। सरकार की ओर से हर प्रकार के हालात से निपटने के लिए पुख्ता इंतजाम के दावे किए गए हैं। हरियाणा की मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा ने वीसी के जरिए केंद्र सरकार के कैबिनेट सेक्रेटरी प्रदीप कुमार सिन्हा को बताया कि यमुना का पानी दिल्ली पहुंच गया है।

सोनीपत और करनाल से 25 परिवारों को दूसरे स्थान पर सुरक्षित पहुंचा दिया गया है। सरकार की ओर से हर प्रकार के हालात से निपटने के लिए पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। उन्होंने बताया कि दिल्ली के बाद यह पानी फरीदाबाद और पलवल में पहुंचेगा। इन दोनों जिलों में नदी के साथ लगते निचले इलाकों से लगभग 500 परिवारों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया गया है। अरोड़ा ने बताया कि यमुना, मारकंडा, टांगरी और घग्गर में पानी के स्तर में कमी आ रही है। 

इसे भी पढ़ें- दिल्ली में हथिनीकुंड बैराज के नाम से क्यों है खौफ, यहां का पानी कैसे मचाता है तबाही, पूरी कहानी
... और पढ़ें

रेप के झूठे केस में फंसाने की धमकी दे रहा था रिटायर्ड डीएसपी, परेशान दुकानदार ने निगला जहर

पानीपत के बलजीत नगर नाका स्थित कॉलोनी में एक इलेक्ट्रॉनिक शॉप संचालक ने रिटायर्ड डीएसपी सहित 13 लोगों की धमकियों से परेशान होकर सोमवार रात जहरीला पदार्थ निगल कर आत्महत्या कर ली। 

परिजनों को सामान्य अस्पताल में पोस्टमार्टम के दौरान मृतक के कपड़ों से निकले सुसाइड नोट से उसके मौत का पता चला। इस सुसाइड नोट में करीब 13 लोगों के नाम लिखे हैं। पुलिस ने परिजनों के बयान पर केस दर्ज करते हुए पोस्टमार्टम करवा कर शव परिजनों को सौंप दिया और जांच शुरू कर दी।

बलजीत नगर वार्ड-12 निवासी अजय ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि उसके पिता मोहनलाल सैनी की सनौली रोड पर सैनी इलेक्ट्रानिक्स के नाम से दुकान है। वहीं सनौली रोड पर ही उग्राखेड़ी निवासी राजेश मलिक नामक फाइनेंसर का ऑफिस भी है। जिसे उसके पिता ने 2009 में 20 लाख रुपये ब्याज पर दिए थे।

इसे भी पढ़ें- दिल्ली में हथिनीकुंड बैराज के नाम से क्यों है खौफ, यहां का पानी कैसे मचाता है तबाही, पूरी कहानी

वे जब उससे रुपये मांगते थे, वो कहता था कि उसने ये रुपये उग्राखेड़ी निवासी अमित उर्फ काला को दिए हुए है, वो लौटा देगा, तब वह दे देगा। अजय के मुताबिक आरोपी ने 10 लाख रुपये लौटा दिए थे लेकिन शेष 10 लाख रुपये लौटाने के लिए आनाकानी कर रहा था।
... और पढ़ें

भाई के मर्डर केस में गवाही देने पर जान से मारने की दी धमकी, गांव में बदमाशों ने किए ताबड़तोड़ फायर

प्रतीकात्मक तस्वीर
श्याम बाबा मंदिर चुलकाना में 13 महीने पहले सोमपाल उर्फ लीला हत्याकांड में 18 सितंबर को कोर्ट में गवाही है। उससे पहले ही गवाह में दहशत फैलाने को लेकर रविवार रात करीब साढ़े 9 बजे मंदिर के मुख्य गेट के बाहर गांव के चौक पर कार से उतरे कुछ बदमाशों ने करीब आधा दर्जन फायर किए और मौके से फरार हो गए। घटना मंदिर के सीसीटीवी में कैद हो गई। बदमाश केस के गवाह मृतक के भाई को गवाही देने पर जान से मारने की धमकी देने आए थे। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने मौके का निरीक्षण करते हुए केस दर्ज कर लिया है।
पुलिस को दी शिकायत में प्रवीन निवासी चुलकाना ने बताया कि 26 जुलाई 2018 को गांव के श्याम बाबा मंदिर में उसके चाचा के लडक़े सोमपाल उर्फ लीला की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। जिसमें वह मुख्य गवाह है। इस हत्याकांड में 18 सितंबर को उसकी गवाही होनी है, लेकिन उससे पहले ही भय, दहशत, दबाव बनाने के लिए रविवार रात करीब साढ़े 9 बजे कार मंदिर के बाहर गांव के चौक पर आकर रूकी। उसमें चार युवक बाहर निकले और उन्होंने वहां ताबड़ तोड़ फायरिंग की। इसके बाद कुछ मीटर आगे जाकर उन्होंने फिर से फायर किए तथा मौके से फरार हो गए। फायर की आवाज सुनते ही ग्रामीण वहां इकट्ठे हो गए और उन्होंने पुलिस को इसकी सूचना दी। सूचना मिलने पर पुलिस व एफएसएल की टीम ने मौके पर पहुंचकर निरीक्षण किया। वहीं इस बारे में जांच अधिकारी अनिल कुमार का कहना है कि प्रवीन के बयान पर चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। सीसीटीवी में कैद हुई घटना- फायर करने की पूरी वारदात सीसीटीवी में कैद हो गई। जिसका निरीक्षण करने के बाद पुलिस ने मंदिर के सीसीटीवी की डीवीआर को अपने कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।
13 महीने पहले हुआ था मंदिर में मर्डर
चुलकाना गांव के श्याम बाबा मंदिर में सोमपाल उर्फ लीला 26 जुलाई 2018 को रात करीब दस बजेे प्रसिद्ध श्याम बाबा मंदिर में हत्या कर दी थी। उस समय वह पुजारी सोमबीर के साथ बैंच पर बैठा हुआ था। इसी दौरान हथियारों से लैस ऋषि चुलकाना अपने साथियों सहित वहां पहुंचा। उन्होंने सोमपाल के पास पहुंचे और गाली गलौच करते हुए फायर शुरू कर दिए। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी। ... और पढ़ें

खतरे के निशान से एक मीटर ऊपर पहुंचा यमुना में पानी, 16 गावों की 20 हजार एकड़ फसल डूबी 21-04-55

फोटो: 26 से 36
हेडलाइन: खतरे के निशान से ऊपर पहुंचा यमुना का पानी, 16 गांवों की 20 हजार एकड़ फसल डूबी
24 घंटे में हथिनी कुंड बैराज से अलग-अलग समय पर छोड़ा गया 8.28 लाख क्यूसिक पानी
तटबंध पर पड़े कटाव, प्रशासन कटावों को मिट्टी से रोकने में जुटा, ग्रामीणों को दी रात में जागने की हिदायत
माई सिटी रिपोर्टर
सनौली/समालखा। वर्ष 1972 से अब तक यमुना में इस वक्त सबसे ज्यादा पानी है। यमुना नदी में पानी सोमवार को खतरे के निशान से एक मीटर ऊपर पहुंच गया है। पानी बढ़ने से 16 गांवों की 20 हजार एकड़ में बोई गई सब्जी की फसल पानी में डूब गई है। स्थानीय अधिकारियों की मानें तो बीते 24 घंटे में 8.28 लाख क्यूसिक पानी अलग-अलग समय पर छोड़ा जा चुका है। यमुना नदी में पानी खतरे के निशान 230.85 को पार कर 231.80 क्यूसिक मीटर पर चल रहा है।
रविवार सुबह छह बजे ताजे वाला हेड से पानी छोड़ा जाना हुआ शुरू
ताजेवाला हेड में बीते 24 घंटे में एक-दो घंटे के अंतराल में अब तक 8.28 लाख क्यूसिकसे अधिक पानी छोड़ा जा चुका है। नदी में पहले से मौजूद पानी को मिलाने के बाद इस वक्त नदी में 12 लाख क्यूसिक पानी है। रविवार की सुबह 6 बजे ताजे वाला हेड से 2.55 लाख, फिर 11 बजे 3.11 लाख क्यूसिक पानी छोड़ा गया। जिसके बाद से एक से दो लाख क्यूसिक पानी कई बाद अंतराल में छोड़ा गया। रविवार की देर पानी पानीपत की सीमा में आना शुरू हुआ और सोमवार की सुबह तक खतरे के निशान से एक मीटर ऊपर पहुंच गया। पानी और बढ़ा तो मंगलवार की सुबह तबाही मच सकती है।
- कब कितना रहा पानी
1972 - 7 लाख क्यूसेक
2013 - 8.06 लाख क्यूसेक
2019 - 8.28 लाख क्यूसेक
अपनी फसलों की डूबते देखते रहे किसान
यमुना के तटों पर खड़ी 20 हजार एकड़ की सब्जियों की फसलों में इस वक्त पानी भरा हुआ है। किसान सुबह ही तटबंध के पहुंच गए और मेहनत से उगाई गई अपनी फसलों को डूबते देखते रहे। किसान नूरदीन, महबूब, राजपाल, सतपाल, मामन, रोहतास, बलिंद्र, कृष्ण्पाल, सुभाष, राजबीर, नूरदीन, समसु, सुभाष, नरेश, रोहतास, शमशद, महाबीर ने बताया कि यमुना नदी में अचानक जलस्तर बढ़ने से नदी के अंदर लगे इंजन, झोपड़ियां आदि सभी डूब गई हैं। घीया और मिर्च की फसल पानी में डूबकर खराब हो चुकी है। पानी भरा रहा रहता तो सारी फसल खराब हो जाएगी।
नदी के किनारे रखवाए जा रहे मिट्टी के कट्टे
डीआरओ चंद्र मोहन, नायब तहसीलदार जगदीश चंद्र, सिंचाई विभाग के एक्सईएन सुरेश सैनी, एसडीओ कर्मबीर ने विभाग की टीम के साथ यमुना नदी के तटबंध का जायजा लिया। इस दौरान पानी को आगे बढ़ने से रोकने के लिए मिट्टी के कटावों को मिट्टी के कट्टे रखकर रोकने का काम चल रहा है। यमुना से सटे गांवों का भी टीम ने जायजा लिया। गांव के सचिव और पंचायतों के जरिए बाढ़ से बचाव के इंतजाम कराए जा रहे हैं। गांव में ठीकरी पहरा लगवाया जा रहा है।
- बोले अधिकारी
सिंचाई विभाग के एक्सईएन सुरेश सैनी ने बताया कि दो दिनों से लगातार जल स्तर बढ़ रहा हैं, हालांकि अभी पानी नियंत्रण में हैं। बाढ़ से निपटने के लिए समुचित प्रबंधन किए जा रहे हैं। बाढ़ बचाव के लिए यमुना बांध पर जगह-जगह मिट्टी के कट्टों से कटावों को भरवाया जा रहा हैं। सिंचाई विभाग के एसडीओ कर्मबीर ने बताया कि कटाव को भरने का काम किया जा रहा है, जिससे पानी आगे नहीं बढ़े। नायब तहसीलदार जगदीश चंद्र ने बताया कि यमुना नदी का दौरा किया और बाढ़ प्रबंधों का जायजा लिया। फिलहाल पानी और भी बढ़ सकता है। यमुना किनारे के गांवों के ग्रामीणों को यमुना में जाने पर रोक लगा दी गई है। रात में जागते रहने की हिदायत दी गई, जिससे आपात स्थिति से तुरंत निपटा जा सके।
--------
फोटो- 59 और 60
समालखा के गांवों का अधिकारियों ने किया दौरा
समालखा। हथिनीकुंड बैराज से यमुना में पानी छोड़े जाने के बाद एसडीएम अमरदीप जैन, तहसीलदार राम गोपाल, नायब तहसीलदार अनिल कौशिक, डीएसपी प्रदीप कुमार, एसएचओ प्रवीन कुमार ने राणा माजरा, पत्थरगढ़, बिलासपुर, गढ़ कारकौली, राकसेड़ा, हथवाला, सिम्भलगढ़, खोजकीपुर आदि गांवों का दौरा करते हुए निरीक्षण किया। एसडीएम अमरदीप जैन ने कहा कि प्रशासन किसी भी तरह की स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह से मुस्तैद है। मिट्टी के कट्टों से कटावों को भरा गया है और जहां भी कटाव होगा, वहां कट्टे रखवा दिए जाएंगे। इसके अतिरिक्त ग्रामीणों को जागरूक किया गया है तथा हालात पर नजर रखें तथा उन्हें सूचित करें। ठोकरों का भी निरीक्षण कर इसको लेकर सम्बंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए हैं। डीएसपी प्रदीप कुमार ने बताया कि पुलिस की चार टीम लगाई गई हैं जो रात को गश्त करेंगी। ... और पढ़ें

गबन में पूर्व सरपंच मिला दोषी, गबन राशि की रिकवरी न होने पर मामला दर्ज

गांव रेर कलां के पूर्व सरपंच देशराज पर ग्राम पंचायत के पैसे में गबन का आरोप साबित होने के बाद उन्हें यह राशि ब्याज सहित लौटाने के आदेश जारी हुुए थे। इन आदेशों की सरपंच द्वारा अवमानना करने पर जिला प्रशासन ने पूर्व सरपंच के खिलाफ पुलिस को शिकायत दी है। जिसमें पुलिस ने रविवार को पूर्व सरपंच के खिलाफ मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। वहीं आज तक गांव बोहली में गबन के पांच आरोपियों को भी पुलिस आज तक गिरफ्तार नहीं कर पाई है और न ही उनसे गबन की राशि वसूली गई है। गौरतलब है कि गांव रेर कलां में देशराज 2010 से 2015 मे ग्राम सरपंच थे। इस दौरान उन्होंनें गांव के विकास कार्यों के नाम पर पंचायती खजाने से 1 करोड़ 17 लाख 34 हजार 783 रुपये का गोलमाल कर दिया था। जिसके बाद ग्रामीणों की शिकायत पर सरपंच के खिलाफ जिला प्रशासन और बीडीओ मतलौडा ने कार्रवाई की। छानबीन में सरपंच पर इस करीब सवा करोड़ रुपये के गबन के आरोप सिद्ध हुए। जिसे बीडीओ ने इस राशि को 21 प्रतिशत सालाना ब्याज सहित जमा करवाने के आदेश जारी किए थे। लेकिन ब्याज की राशि की रिकवरी न होने पर बीडीओ ने पूर्व सरपंच को कई बार नोटिस भी भेजे, लेकिन सरपंच की तरफ से कोई संतोषजनक कार्रवाई नहीं हो सकी। इसके बाद बीडीओ ने इसकी शिकायत उपायुक्त को दी। एसएचओ विकास कुमार ने बताया कि उपायुक्त के आदेशों के बाद पूर्व सरपंच के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज कर लिया गया है।
बोहली के गबन के आरोपियों की अब तक नहीं हो सकी गिरफ्तारी
गौरतलब है कि गांव बोहली में भी इसी प्रकार का गबन देखने को मिला था। जिसमें विकास कार्यों के नाम पर करीब 14 करोड़ रुपये का गबन किया गया था। इस मामले में ग्राम सरपंच समेत पांच लोगों को नामजद कर इनसे यह राशि रिकवर करने के प्रयास भी किए गए। इसके बाद जिला प्रशासन की तरफ से इन पर पुलिस में मामला दर्ज कर गिरफ्तार करने के आदेश जारी हुए, लेकिन आज दो साल बाद भी इन आरोपियों में से कोई गिरफ्तार नहीं हो सका है, वहीं गबन की राशि तक रिकवर नहीं हो पाई है। ... और पढ़ें

मां-बेटे पर जानलेवा हमला करने का एक आरोपी गिरफ्तार

प्लॉट का किराया देने के विवाद को लेकर मां बेटे पर जानलेवा हमला करने के मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जा रही है।
राकेश नगर कुटानी रोड निवासी 40 वर्षीय महिला कमलेश पत्नी श्याम सिंह ने पुलिस को शिकायत दी थी कि उसने 50 वर्ग गज का एक प्लॉट पाला पुत्र साधू राम को 2 हजार रुपये प्रति माह किराए पर दिया था। जिसका आरोपी ने 6 महीने तक कोई किराया नहीं दिया व मकान भी खाली करने से भी मना कर दिया। आरोपी ने उन्हें धमकी दी कि यदि मकान खाली करने को कहा तो वह उन्हें जान से मार देगा। गत 14 जुलाई को वह अपने बेटे सुकेश के साथ घर के भीतर बैठी थी कि दोपहर बाद करीब एक बजे पाला राम व उसके बेटे राम मेहर, मनोज, नरेश व तीन चार अन्य युवक उसके घर पर आए और गली में खड़े होकर गाली-गलौच करने लगा। जब वह बाहर आए तो आरोपियों ने उन पर हमला कर मारपीट शुरू कर दी और जान से मारने की धमकी देते हुए भाग गए। थाना किला पुलिस ने महिला की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए आरोपी नरेश निवासी राकेश नगर को गिरफ्तार कर लिया। ... और पढ़ें

तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक सवार को कुचला, मौत

जीटी रोड पर बीबीएमबी कट के सामने तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक सवार को कुचल दिया। इस हादसे में बाइक चालक की मौके पर ही मौत हो गई। इसके बाद ट्रक चालक वाहन सहित मौके से फरार हो गया। घटना की सूचना मिलने पर औद्योगिक सेक्टर-29 थाने में पहुंचे परिजनों के बयान पर पुलिस ने अज्ञात वाहन चालक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया और पोस्टमार्टम करवा कर शव परिजनों को सौंप दिया। पुलिस आरोपी चालक की तलाश में जुट गई।
गांव बराना निवासी किसान 40 वर्षीय प्रवीण कुमार पुत्र जगदीश ने पुलिस को बताया कि शनिवार को उसका साला सीता राम पुत्र भैया राम निवासी घसौली जिला सोनीपत उसके पास मिलने आया था। पानीपत में काम खत्म करने के बाद वह शनिवार देर रात अपनी बाइक पर घसौली जा रहा था। इस दौरान जीटी रोड पर बीबीएमबी कट के पास पीछे से आ रहे एक ट्रक का चालक ने सीता राम की बाइक को टक्कर मार दी। इस हादसे में सीताराम बाइक सहित सड़क पर गिर गया और ट्रक का पिछले पहिये के नीचे आ गया। इस हादसे में उसकी मौके पर ही मौत हो गई। ... और पढ़ें

खतरे के निशान के ऊपर बह रही यमुना, प्रशासन ने जारी किया अलर्ट

खतरे के निशान के ऊपर बह रही यमुना, प्रशासन ने जारी किया अलर्ट
नदी से लगे खेतों की 10 हजार एकड़ फसल में भरा पानी, 15 हजार एकड़ की सब्जियों की फसल के खराब होने का खतरा
माई सिटी रिपोर्टर
पानीपत/सनौली। उत्तराखंड और हिमाचल के पहाड़ों पर हुई बारिश से यमुना नदी का जलस्तर बढ़ रहा है। अगले 24 घंटों में यह पानी दिल्ली पहुंच जाएगा। इसलिए पानीपत में यमुना से लगे गांवों में अलर्ट घोषित कर दिया गया है। रविवार को ताजे वाला हेड से यमुना नदी में एक से दो घंटे के अंतराल में अलग-अलग समय पर सात लाख क्यूसिक पानी छोड़ा गया। तीन बार में इतना पानी छोड़ा गया है। ताजे वाला हेड से पहली बार छोड़ा गया तीन लाख 64 हजार क्यूसिक पानी सनौली यमुना नदी में पहुंच गया और इस वक्त 4 लाख 65 हजार क्यूसिक से अधिक पानी चल रहा है। यह पानी चेतावनी के स्तर 230 को पार कर 230.85 क्यूसिक मीटर के खतरे के निशान पर बहने लगा हैं। नदी का जल स्तर बढ़ने से नदी के अंदर खड़ी 20 हजार एकड़ फसल में से 15 हजार एकड़ घीया, पेठा, तोरी, मिर्च आदि की फसल डूब गई है।
इसके साथ ही करीब दस हजार एकड़ की नदी के बाहर खेतों में खड़ी ज्वार, ईख, ढेंचा आदि फसलें भी पानी में डूब गई हैं। प्रशासन ने सुरक्षा की दृष्टि से आसपास के गांव में ठीकरी पहरा लगा दिया गया है। केंद्रीय जल आयोग की टीम जल स्तर पर निगाह बनाए हुए है। यमुना नदी पुल पर बने केंद्रीय जल आयोग की टीम पल-पल की खबर उत्तर प्रदेश के कैराना एवं शामली, पानीपत सिंचाई विभाग के अलावा दिल्ली कार्यालय भेज रही है।
इन गांवों की भूमि मेें पहुंचा नदी का पानी
राणामाजरा, पत्थर गढ़, नवादा आर, नवादा पार, गढ़ी बेसक, जलालपुर, तामशाबाद, सनौली खुर्द, रामड़ा आर, नन्हेडा, रिशपुर, अधमी, जलमाणा, गोयला खुर्द, मिर्जापुर, रहीमपूर खेड़ी, गोयला कलां, खोजकीपुर आदि दर्जनो गांव की हजारों एकड़ ईख, ज्वार, ढांचा, घीया, पेठा आदि की फसलेें पानी में डूब गईं हैं।
- सब्जी की फसल को बचाने में लगे रहे किसान
यमुना में जिन किसानों ने सब्जी की फसल बोई थी, वह उसे रविवार को पूरा दिन निकालने में लगे रहे। पानी बढ़ने में नदी की तेज धारा के साथ उनकी फसल बह जाने का संकट बन गया है। जिसके चलते किसान दिनभर इसी काम में लगे रहे कि किसी तरह फसलों को बचाया जा सके।
- बोले तहसीलदार
नायब तहसीलदार जगदीश चंद्र का कहना है कि उन्होंने नदी में आए पानी का दौरा किया है, अभी तक नदी का पानी नियंत्रण में है। नदी सटे गांवों में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पटवारियों और ग्राम सचिवों की ड्यूटी लगाई गई है। हर गांव में ठीकरी पहरा बांध के आसपास लगाया गया है। ताकि बांध पर कटाव आदि ना हो सके ।
- बोले सिंचाई विभाग के अधिकारी
सिंचाई विभाग के एसडीओ कर्मबीर ने बताया कि कि अभी तक नदी का पानी नियंत्रण में है। ताजे वाले हेड से छोड़ा गया। बाढ़ से निपटने का पूरा इंतजाम किए जा रहे है। अब यमुना बांध पर पड़े कटाव को भरने के लिए मिट्टी के कट्टे भरवाएं जा रहे हैं। एक्सईएन सुरेश सैनी का कहना है कि यमुना नदी करा दौरा किया और बाढ़ प्रबंधों का जायजा लिया। फिलहाल पानी नियंत्रण में है।
- बोले जल आयोग के अधिकारी
केंद्रीय जल आयोग के जेई लोकेंद्र ने बताया कि शनिवार की रात से नदी का जल स्तर बढ़ रहा है और अभी रात को पानी और बढ़ने की संभावना है, अभी तक खतरे के निशान पर बह रही है।
- हाई अलर्ट जारी, कोई भी नदी के पास नहीं जाए : उपायुक्त
यमुना अब खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। किसानों की दस हजार एकड़ फसल पर खतरा मंडरा रहा है। इसको लेकर प्रशासन भी अलर्ट पर आ गया है। उपायुक्त सुमेधा कटारिया ने पानीपत जिला में यमुना तलहटी से बापौली, सनौली और समालखा क्षेत्र के यमुना के साथ लगते गांवों के लोगों से अपील की है कि कोई भी व्यक्ति यमुना नदी में स्नान,कपड़े इत्यादि धोने के लिए न जाए क्योंकि ताजेवाला हेड से छोड़े गए पानी के कारण यमुना का जलस्तर बढ़ गया है। उन्होंने यमुना के साथ लगते गांवो में ग्रामीणों को सख्त हिदायत जारी करते हुए कहा है कि प्रदेश की सीमाओं के साथ लगते पड़ोसी राज्यों में अधिक बारिश के कारण यमुना नदी उफान पर है, कोई भी नदी के पास न जाए और न ही नदी में नाव आदि लेकर जाए। उन्होंने किसानों को भी यमुना तट के साथ लगते खेतों में ना जाने की अपील की।
- विभागों को किया अलर्ट किया गया, 48 घंटे ड्यूटी पर तैनात रहने के आदेश
प्रशासन ने गांव के सरपंच व नंबरदारों से अपील की कि वे जिला प्रशासन के साथ समन्वय बनाए रखें और सूचनाओं को साझा करें। लोगों की सुरक्षा के लिए सिंचाई विभाग, राजस्व विभाग तथा पुलिस विभाग को भी अलर्ट पर रखा गया है। इसके अतिरिक्त स्वास्थ्य विभाग तथा पशु पालन विभाग को भी तैयार रहने को कहा गया है और इन सभी विभागों को अगले 48 घंटे ड्यूटी पर तैनात रहने के आदेश दिए गए हैं। इसके साथ ही कोई भी अधिकारी या कर्मचारी स्टेशन नहीं छोड़ सकता है। जिले में यमुना नदी के सभी किनारों पर भी नजर बनाए रखने का आदेश है।
सनौली। यमुना पुल को छूता पानी।
सनौली। यमुना पुल को छूता पानी।- फोटो : Panipat
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree