बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन

गोरखपुर

विज्ञापन
कालाष्टमी प्राचीन कालभैरव मंदिर दिल्ली में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात, अभी बुक करें
Myjyotish

कालाष्टमी प्राचीन कालभैरव मंदिर दिल्ली में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात, अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

गोरखपुर: बच्चों के अपहरण के आरोपी पिता का घर कुर्क, दो महीने पहले घटना को दिया था अंजाम

गोरखपुर शहर के रामगढ़ताल इलाके के चिलमापुर में बृहस्पतिवार को बच्चों के अपहरण के आरोपी सऊद के घर पुलिस ने कुर्की की कार्रवाई की। महराजगंज की कोल्हुई पुलिस ने यह कार्रवाई की है। एक महीने पहले ही उसके घर कुर्की का नोटिस चस्पा किया गया था, लेकिन पुलिस पहुंची तो उसमें ताला बंद था।  

जानकारी के मुताबिक, महराजगंज के कोल्हुई कस्बे के चंदनपुर तिराहे से 17 नवंबर 2021 को स्कूल जा रहे मासूम भाई-बहन का अपहरण किया गया था। मुख्य आरोपी गोरखपुर के रामगढ़ताल इलाके के चिलमापुर का निवासी सऊद है। इस मामले में पुलिस ने बच्चों की मां तरन्नुम की तहरीर पर तलाकशुदा पति सऊद अहमद व एक दर्जन अज्ञात लोगों के खिलाफ अपहरण का केस दर्ज किया था। तभी से वह फरार था।

उस पर 25 हजार का इनाम भी था। वहीं पुलिस अपहरण में सहयोगी एक ड्राइवर व एक रिश्तेदार को जेल भेज चुकी है। करीब एक माह पूर्व ही पुलिस ने मुख्य आरोपी सऊद के घर कुर्की का नोटिस चस्पा किया था। लेकिन, कानूनी अड़चनों के चलते कुर्की की कार्रवाई नहीं हो सकी थी।

कोल्हुई के थानेदार अजीत प्रताप सिंह ने बताया की कोर्ट के आदेश पर जब पुलिस पहुंची तो आरोपी के तीन मंजिला मकान के गेट पर ताला लटका हुआ था। ग्रामीणों के समक्ष पुलिस ने गेट का ताला तोड़कर कुर्की की कार्रवाई शुरू की। पहली मंजिल से लेकर तीसरी मंजिल तक के कमरों में जो भी सामान मिले, सब बाहर निकाल कर लिस्ट बनवाई गई है। टीम में आठ एसआई, नौ महिला कांस्टेबल, 22 कांस्टेबल शामिल रहे।


 
... और पढ़ें

गोरखपुर: मामा की हरकत से नवजात भांजे की मौत, केस दर्ज

गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां गीडा इलाके के भड़सार गांव में बृहस्पतिवार सुबह मामा की हरकत से नवजात भांजे की मौत हो गई। पुलिस ने उसकी मां की तहरीर पर मामा के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

जानकारी के मुताबिक, लक्ष्मीपुर, कुशीनगर निवासी संध्या पत्नी सुरेंद्र का मायका गीडा थाने के भड़सार टोला गोपालपुर में है। तीन माह पूर्व संध्या, अपने मायके आई थी। मायके में ही 20 दिन पूर्व उसने पुत्र को जन्म दिया था। मामा राजू पासवान पुत्र रामधनी, बुधवार रात अपनी पत्नी से झगड़ रहा था। जिसका संध्या ने विरोध किया था।

बृहस्पतिवार सुबह, संध्या अपने बच्चे को गोद में लेकर अलाव ताप रही थी। उसी दौरान नशे की हालत में मामा आया और अलाव में पैर से ठोकर मारने लगा। जलती लकड़ियां बिखरने लगीं तो बचने के लिए हड़बड़ाई संध्या भागने की कोशिश की। इस दौरान बच्चा हाथ से छूटकर जमीन पर गिर गया और उसकी मौत हो गई।

घटना से परिवार में कोहराम मच गया। पड़ोस के लोग भी जुट गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। प्रभारी निरीक्षक गीडा विनय कुमार सरोज ने बताया कि गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज कर आरोपी की तलाश की जा रही है।


 
... और पढ़ें

गोरखपुर: नवजात की हत्या मामले में बिन ब्याही मां और उसकी मां गिरफ्तार, अनैतिक संबंध बनाने वाले युवक पर दुष्कर्म का केस

गोरखपुर जिले के बड़हलगंज के मिश्रौलिया गांव में नवजात बच्ची को मारकर फेंके जाने के मामले में पुलिस ने बृहस्पतिवार को बिन ब्याही मां और उसकी मां को गैर इरादतन हत्या समेत अन्य आरोपों में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। युवती के कलमबंद बयान के आधार पर मृत बच्ची के जैविक पिता के खिलाफ दुष्कर्म के आरोप में मामला दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी गई है। वह भी जल्द ही जेल की सलाखों के पीछे होगा।
 
इस प्रकरण में नवजात का शव मिलने के बाद अमर उजाला की पहल पर धारा 317 (12 वर्ष से कम उम्र के बच्चे का परित्याग करना) में भाजपा नेता रुद्रेश तिवारी की तहरीर पर केस दर्ज किया गया था। पीपीगंज मेें नवजात बच्ची के मृत मिलने के मामले में दुष्कर्मी, किशोरी मां और किशोरी की मां को जेल भेजवाने के प्रकरण के बाद अमर उजाला को यह दूसरी सफलता मिली है।

अमर उजाला ने बड़हलगंज के मिश्रौलिया गांव मेें पोखरे के पास मृत मिली नवजात की हत्या का ताना-बाना खोलते हुए रिपोर्ट प्रकाशित की। इसके बाद एसएसपी के हस्तक्षेप पर हरकत में आई पुलिस ने आखिर अपराध के आरोपितों के चेहरों से पर्दा उठा दिया। जांच में पुलिस ने आईपीसी की धारा 304 (गैर इरादतन हत्या) बढ़ाते हुए, बिन ब्याही मां और उसकी मां को आरोपित बना दिया था।

 
... और पढ़ें

गोरखपुर: एक लड़की की चाहत में ही कुदाल से की गई थी दोस्तों की हत्या, ग्लव्स पहनकर वारदात को दिया गया था अंजाम

गोरखपुर जिले के झंगहा के नौकाबारी गांव में दो दोस्तों की हत्या का सबब एक लड़की ही बनी। दोनों हत्यारोपी पुलिस के कब्जे में हैं, मगर कानूनी औपचारिकताओं के चलते पुलिस ने अभी इनकी पहचान पर पर्दा डाल रखा है। पुलिस की तफ्तीश में खून से सनी इस प्रेम कहानी की सभी पर्तें खुल गईं है।

संक्षेप में कहानी कुछ ऐसी है कि एक लड़की से एक लड़के को प्यार था। लड़की ने किन्हीं कारणों से उससे किनारा कर लिया और दूसरे लड़के की चाहत बन गई। पहले लड़के को यह इस कदर नागवार गुजरा कि उसने दूसरे लड़के को अपने एक साथी की मदद से मौत के घाट उतार दिया।
 
इस कहानी में पहला लड़का अब इस केस का मुख्य आरोपी है। दूसरा लड़का मौत का शिकार हुआ, आकाश जायसवाल है। दुर्भाग्य से आकाश के साथ रहने की वजह से गणेश को नाहक ही अपनी जान गंवानी पड़ी। आरोपितों ने दोनों को मौत के घाट उतारने के लिए जिस कुदाल का इस्तेमाल किया था, वह भी पुलिस ने बरामद कर ली।

मुख्य आरोपी की कुंडली पुलिस ने खोली तो पता चला कि इस वारदात से पहले, वह दुष्कर्म की घटना अंजाम दे चुका था। इस आरोप में वह कुछ महीने पहले ही जमानत पर छूटकर बाहर आया था।

 
... और पढ़ें
झंगहा क्षेत्र में दोहरा हत्याकांड झंगहा क्षेत्र में दोहरा हत्याकांड

गोरखपुर: मारपीट कर पिकअप लेकर फरार हुए बदमाश, डकैती का केस दर्ज

गोरखपुर जिले के हरपुर बुदहट इलाके के मुरदेवा बाजार में चालक को मारपीट कर पिकअप और मोबाइल फोन लेकर फरार होने के मामले में पुलिस ने डकैती का केस दर्ज किया है। 26 जनवरी को हुई घटना के आरोपितों की तलाश में पुलिस जुटी है।

जानकारी के मुताबिक, संतकबीरनगर जिले के पायलपर निवासी बासुदेव जायसवाल उर्फ बद्री जायसवाल की पायलपर चौराहे पर गल्ले की दुकान है। 26 जनवरी की शाम उनकी दुकान पर तीन लोग पहुंचे और गाड़ी बुक करके संतकबीरनगर जिले के सीमा से गोरखपुर जिले के हरपुर बुदहट थाना क्षेत्र के मुरदेवा बाजार से 400 मीटर आगे ही पहुंचे थे।

पिकअप चला रहे बद्री जायसवाल को मारपीट कर बदमाशों ने पिकअप और उनका मोबाइल फोन लूट लिया। इस मामले में पुलिस ने बासुदेव जायसवाल की तहरीर पर आधा दर्जन अज्ञात बदमाशों पर डकैती का मुकदमा दर्ज किया है।
... और पढ़ें

गोरखपुर: अलाव की लकड़ी मांगने पर भड़के, व्यापारी व उसकी मां को पीटा

गोरखपुर जिले के पीपीगंज नगर पंचायत अध्यक्ष के घर के बगल में स्थित मकान में बृहस्पतिवार की शाम घुसकर व्यापारी और उसकी मां की पिटाई का मामला सामने आया है। घटना से संबंधित वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है।
 
आरोप है कि अलाव के लिए लकड़ी मांगने से नाराज नगर पंचायत अध्यक्ष के समर्थकों ने पहले व्यापारी की पिटाई की। फिर जब मां ने बीचबचाव किया तो उनकी भी पिटाई की गई। पीड़ित व्यापारी ने थाने में तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है।

जानकारी के मुताबिक, पीपीगंज नगर पंचायत अध्यक्ष के आवास के बगल में ही दुर्गेश कुमार का मकान है। घर में ही वह ऑटो पार्ट्स की दुकान चलाते हैं। बृहस्पतिवार को ज्यादा ठंड होने के कारण वह अपनी दुकान में काम करने वाले कर्मचारियों के साथ बाहर आग जलाकर बैठे थे।

लकड़ी खत्म होने पर दुर्गेश ने अपने एक कर्मचारी को बगल में नगर पंचायत अध्यक्ष गंगा प्रसाद जायसवाल के घर पर भेज दिया। आरोप है कि नगर पंचायत अध्यक्ष के आवास पर मौजूद एक युवक ने लकड़ी देने से मना कर दिया। तब दुकान के कर्मचारी ने उससे कहा कि लकड़ी नहीं दे रहे हो तो दुकान पर कभी औजार मांगने मत आना।

इतना सुनते ही युवक भड़क गया और अपने साथियों के साथ दुकान में घुसकर दुर्गेश की पिटाई करने लगा। दुर्गेश की मां और उनका भाई बीचबचाव करने आए तो उनकी भी पिटाई की गई। दुर्गेश और उनकी मां को ज्यादा चोट आई है।

पीपीगंज थानाध्यक्ष दुर्गेश सिंह ने कहा कि इस मामले की जानकारी नहीं थी। जांच कर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

पीपीगंज नगर पंचायत के अध्यक्ष गंगा जायसवाल ने कहा कि समर्थकों और कर्मचारियों को यह नहीं पता था कि पड़ोस के घर से कोई लकड़ी मांगने आया है। मारपीट की जानकारी होते ही मैंने खुद वहां पर पहुंचकर बीचबचाव किया।
 
... और पढ़ें

गोरखपुर डबल हत्याकांड: एक लड़की की चाहत में दो दोस्त मारे गए, दो दोस्त बन गए कातिल

गोरखपुर जिले में झंगहा के दोहरे हत्याकांड में मारे गए आकाश के मोबाइल फोन ने पुलिस को कातिलों तक पहुंचने की राह दे दी। पुलिस ने फोन का डाटा खंगाला तो पता चला कि वारदात के बाद कातिल ने आकाश के फोन से एक लड़की से बातचीत की थी। इसी फोन से पहले एसएमएस भी किया गया था। इसके साथ ही वारदात की पृष्ठभूमि में एक लड़की का चेहरा उभरा।

माना जा रहा है कि इसी लड़की की चाहत में आकाश, अपने दोस्त गणेश समेत मौत का शिकार बन गया।...और इसी लड़की की चाहत में गांव के दो दोस्त कातिल बन गए। पुलिस ने मोबाइल फोन से मिले सुराग पर गांव के ही दो युवकों को उठा लिया है, उनसे वारदात का ताना-बाना समझा जा रहा है। अब तक की तफ्तीश में तस्वीर का यही रुख सामने आया है। हालांकि, आगे की पड़ताल में कहानी कितने डिग्री बदल जाए, कुछ कहा नहीं जा सकता। पुलिस को उम्मीद है कि साक्ष्यों के आधार पर वह घटना का जल्द ही पर्दाफाश कर लेगी।
 
 
... और पढ़ें

गोरखपुर: शादी के मंडप से दुल्हन के गहने ले उड़े चोर, फोटो खिंचवाते रह गए परिजन

झंगहा क्षेत्र में दोहरा हत्याकांड
गोरखपुर सहारा स्टेट के मैरिज हाउस में शादी के दौरान दुल्हन के गहने चोरी हो गए। गहनों की कीमत करीब 10 लाख बताई गई। बरात जौनपुर से आई थी। खोराबार पुलिस ने तहरीर के आधार पर अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

जानकारी के मुताबिक, गगहा के रियाव गांव निवासी गुड्डू शाही व उनके भाई धीरेंद्र कुमार शाही खोराबार के सिकटौर में मकान बनवाकर रहते हैं। वह बैंकॉक से कमाकर आए हैं। धीरेंद्र की बेटी की बुधवार रात शादी थी। शादी के लिए सहारा स्टेट का मैरिज हाउस बुक था। पूरा परिवार समारोह में गया हुआ था।

जौनपुर से बरात भी आ गयी थी। जयमाल का कार्यक्रम चल रहा था और परिजन फोटो खिंचवा रहे थे। इस दौरान मैरिज हाउस के कमरे में रखा दुल्हन का डाल वाला गहना चोरी हो गया। गुड्डू शाही ने बताया कि गहनों की कीमत करीब 10 लाख थी।

चोरी के बाद डायल 112 व स्थानीय थाने को सूचना दी गई। पुलिस की जांच के बाद किसी तरह शादी संपन्न हुआ। गुरुवार सुबह धीरेंद्र ने पुलिस को तहरीर दी है। खोराबार इंस्पेक्टर नरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि शादी में दुल्हन के गहने चोरी हुए हैं। जांच कर आगे की कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

गोरखपुर दोहरा हत्याकांड: परिवार को जिस अनहोनी की थी आशंका, वही हुआ, शव मिलते ही मची चीख-पुकार

गोरखपुर जिले के झंगहा के नौवाबारी गांव में दो परिवारों में मंगलवार को उस समय मातम पसर गया, जब 18 दिन से लापता उनके लाडलों की मौत की खबर आई। परिवार को जिस अनहोनी की आशंका थी, वही हुआ। बड़ी उम्मीद में परिवार वाले उनके इंतजार में थे।

दोनों के परिवार वालों को अनहोनी की आशंका तो थी, लेकिन उन्हें यह भी लगता था कि हो सकता है, कहीं भटक गए हों और लौट आएंगे। लेकिन, ऐसा हुआ नहीं। गांव वालों में गुस्सा इस बात का भी है कि 11 जनवरी को तहरीर देने के बाद भी पुलिस ने केस दर्ज नहीं किया, न ही ठीक से जांच की, वरना दोनों जिंदा बच सकते थे।  

जानकारी के मुताबिक, आकाश और गणेश पढ़ाई के साथ मजदूरी भी करते थे। यही वजह है कि सात जनवरी को जब दोनों घर से निकले तो परिवार वालों को लगा कि वे गीडा गए होंगे, किसी फैक्टरी में काम करने के लिए। मगर, जब गीडा में कई जगहों पर पता किए तो इनके बारे में जानकारी नहीं मिली। इसके बाद रिश्तेदारी में भी पता किए। कहीं पर भी जानकारी नहीं मिलने पर 11 जनवरी को तहरीर दी गई थी। पुलिस चौकी से थाने तक मामला ही नहीं गया। गुमशुदगी तक नहीं दर्ज हो पाई थी। पुलिस अपने स्तर से जांच तो कर रही थी, लेकिन सिर्फ खानापूरी ही हो रही थी।

 
... और पढ़ें

गोरखपुर में दोहरा हत्याकांड: दो दोस्तों की हत्या कर खेत में मिला दफनाया शव, 18 दिन से थे लापता

गोरखपुर जिले में 18 दिन से लापता दो दोस्तों की हत्या कर दफनाया गया शव, मंगलवार की दोपहर झंगहा इलाके के नौवाबारी गांव में मिला। वारदात के शिकार दोनों दोस्त नाबालिग थे। दोनों के हाथ पीछे बांधे गए थे। सिर पर भारी वस्तु से प्रहार कर हत्या किए जाने की आशंका है।

गड्ढों में शव दफन होने की जानकारी लोगों को तब हुई, जब कुत्तों को शव नोचते देखा। डीआईजी जे. रविंद्र, एसएसपी डॉ. विपिन ताडा और एसपी नार्थ मनोज अवस्थी ने मौके पर पहुंचकर जांच की। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। हत्या की असल वजह स्पष्ट नहीं है। चर्चा प्रेम प्रपंच की है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

जानकारी के मुताबिक, नौवाबारी गांव निवासी गणेश जायसवाल (17) पुत्र जितेंद्र और आकाश जायसवाल (16) पुत्र साहब, घर से सात जनवरी को ही लापता हो गए थे। चार दिनों तक घरवालों ने काफी तलाश की, लेकिन उनका कुछ पता नहीं चला। इसके बाद 11 जनवरी को नई बाजार पुलिस चौकी पर घरवालों ने तहरीर दी थी। पुलिस मामले की जांच कर रही थी कि इसी बीच मंगलवार को स्थानीय लोगों ने गांव में ही खेत किनारे कुत्तों का झुंड देखा, जो गड्ढा खोदकर कुछ नोच रहे थे। यह देखकर उस ओर ग्रामीण गए तो आदमी का पैर नजर आया और तेज बदबू भी आ रही थी।

पुलिस ने गड्ढा खुदवाया तो दोनों दोस्तों के शव बरामद हुए। दोनों के हाथ पीछे से बांधे गए थे। एक किशोर का मुंह भी बांधा गया था। दोनों के सिर पर गंभीर घाव के निशान साफ नजर आ रहे थे। देखने से लग रहा था कि किसी भारी वस्तु से प्रहार करके दोनों को मौत के घाट उतारा गया है। अब हत्या के कारण तलाशे जा रहे हैं। पुलिस की अलग-अलग टीमें जांच में लग गईं हैं।

एसएसपी डॉ. विपिन ताडा ने कहा कि दो लापता दोस्तों का शव गड्ढे से बरामद किया गया है। प्रथम दृष्टया मामला हत्या का है। पुलिस हत्या मानकर ही मामले की जांच कर रही है। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। घटना के शीघ्र पर्दाफाश के लिए एसपी नार्थ के नेतृत्व में टीम गठित कर दी गई है।
... और पढ़ें

गोरखपुर: बीस लाख का पकड़ा गया पान मसाला, बिना ई-वे बिल के दिल्ली से भेजा जा रहा था मेघालय

व्यापार कर विभाग ने कुशीनगर जिले में पान मसाला लदे ट्रक को सोमवार रात में पकड़ा। दिल्ली से मेघालय जा रहे इस ट्रक में करीब 20 लाख का माल लदा है, लेकिन चालक के पास माल ले जाने के लिए जरूरी ई-वे बिल नहीं था। मामले की छानबीन चल रही है।

व्यापार कर विभाग से मिली जानकारी के अनुसार दिल्ली की फर्म एसके ट्रेडर्स ने मेघालय की एक फर्म को करीब 20 लाख रुपये का पान मसाला भेजा था। जानकारी मिली कि इस माल को बिना ई-वे बिल (माल ढुलाई के लिए जारी होने वाला इलेक्ट्रानिक पेपर, जिसमें सामान का नाम, मात्रा, गंतव्य स्थल आदि का उल्लेख होता है) के ही भेजा जा रहा है।

लखनऊ मुख्यालय ने गोरखपुर जोन के कुशीनगर कार्यालय को इसकी सूचना दी। सोमवार रात में कुशीनगर के असिस्टेंट कमिश्नर व्यापार कर ने ट्रक को पकड़ लिया। एडिशनल कमिश्नर एसआईबी गोरखपुर राजेश सिंह ने बताया कि पकड़े गए, सामान का आकलन कर उस पर जुर्माना लगाया जाएगा।
... और पढ़ें

गोरखपुर: पुलिस ने गोवंश लदे दो ट्रकों को पकड़ा, चालक फरार

गोरखपुर पुलिस ने रामजानकी मार्ग स्थित कृतपुरा के पास से रविवार को गोवंशीय लदे दो ट्रकों को पकड़ा। दोनों ट्रक में पांच दर्जन पशु ठूंस कर भरे गए थे। इनमें से सात मृत मिले। इस दौरान चालक व खलासी ट्रक छोड़कर फरार हो गए। पुलिस ने पशु क्रूरता अधिनियम, गोवध अधिनियम, जालसाजी का केस दर्ज कर किया है।

जानकारी के मुताबिक, इंस्पेक्टर उमेश बाजपेयी रविवार में अपने सहयोगियों के साथ क्षेत्र में गश्त कर रहे थे। मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने दोहरीघाट की तरफ से आ रहे दो ट्रकों को पटना चौराहे पर रोका। पुलिस को देखते ही चालक गाड़ी लेकर भागने लगा।

पुलिस ने पीछा कर बड़हलगंज-बरहज मार्ग स्थित कृतपुरा के पास गाड़ी रोक ली। इस दौरान चालक और खलासी ट्रक छोड़कर फरार हो गए। ट्रकों में 60 गोवंशीय पशु ठूंसकर भरे गए थे। जिसमें 41 बछड़ा व 19 गाय थी।

जीवित पशुओं को गोला स्थित गोशाला में सुपुर्द कर दिया गया। पुलिस मृत पशुओं के पोस्टमार्टम के लिए पशु चिकित्साधिकारी गोला को रिपोर्ट भेजी है। इंस्पेक्टर ने बताया कि तस्कर गोवंशीय पशुओं को देवरिया के रास्ते बिहार ले जाने के फिराक में थे। टीम में एसआई राजेश पांडेय, जुगेश आनंद, जगदंबा प्रसाद, वीरेंद्र सिंह मौजूद रहे।
... और पढ़ें

गोरखपुर: भाजपा नेता की हत्या करने वाले शूटरों को पुलिस ने लिया रिमांड पर, प्रधानी चुनाव में मारी थी गोली

गोरखपुर जिले के गुलरिहा इलाके में घर के पास ही भाजपा नेता बृजेश सिंह की गोली मारकर हत्या करने के अभियुक्त दो शूटरों को 14 दिन के रिमांड पर पुलिस गोरखपुर लेकर आएगी। पंजाब के रहने वाले दोनों शूटर वर्तमान में बरेली जेल में बंद हैं।

गुलरिहा पुलिस उनसे पूछताछ के बाद हत्या में इस्तेमाल असलहे को बरामद करेगी। दोनों शूटरों ने गिरफ्तारी की डर से दूसरे मामले में कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया था। उनकी गिरफ्तारी अभी इस मुकदमे में नहीं हो पाई थी। उनके साथियों से पूछताछ के बाद इनका नाम सामने आया था।

जानकारी के मुताबिक, गुलरिहा कस्बा निवासी भाजपा नेता बृजेश सिंह प्रधान पद का चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे। पर्चा दाखिला से एक दिन पहले दो अप्रैल 2021 की रात गोली मारकर उनकी हत्या कर दी गई थी। उनके भाई भोला सिंह की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी विनय श्रीवास्तव, पवन श्रीवास्तव, सुनील श्रीवास्तव के खिलाफ केस दर्ज किया था।

हालांकि, जांच में सामने आया कि वे घटना में लिप्त नहीं थे। जांच के आधार पर पुलिस ने नामजद आरोपियों को विवेचना में बरी कर दिया था। पुलिस की जांच में बहादुर चौहान, जितेंद्र सिंह, कृष्ण कुमार गुप्ता, दिवाकर सिंह उर्फ गोलू, राजवीर, सतनाम का नाम सामने आया था।

पुलिस 11 अप्रैल 2021 को आरोपी रामसमुझ, बहादुर चौहान, जितेंद्र सिंह, कृष्ण कुमार गुप्ता, दिवाकर सिंह उर्फ गोलू को गिरफ्तार कर घटना का पर्दाफाश कर चुकी थी। बाद में शूटर राजवीर और सतनाम ने कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया था, जिन्हें पुलिस ने रिमांड पर लिया है।

 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00