हथियारों के सप्लायर: सिपाही से निकला ये बड़ा कनेक्शन, सामने आई खौफनाक सच्चाई, सबूत हैं ये तस्वीरें

अमर उजाला नेटवर्क, मेरठ Published by: कपिल kapil Updated Fri, 26 Nov 2021 01:08 PM IST
आरोपी गिरफ्तार
1 of 7
विज्ञापन
मेरठ में दौराला पुलिस ने हथियार और कारतूसों की तस्करी के मामले में रुहासा के पूर्व उप प्रधान सदरुद्दीन के दो बेटों शवी अख्तर व रजी अख्तर को गिरफ्तार कर चौंकाने वाला खुलासा किया। आरोपी सिर्फ हथियार तस्करी ही नहीं, बल्कि कारतूस बनाने का धंधा भी कर रहे थे। पुलिस की थ्री नॉट थ्री राइफल तक के कारतूस इनके पास रहते थे। इस काले धंधे में शस्त्र विक्रेता से लेकर खाकी वालों के नाम भी जुड़ रहे हैं।

पुलिस ने आरोपियों के पास से थ्री नॉट थ्री राइफल के 23 कारतूस समेत 392 कारतूस-खोखे बरामद किए हैं। एक राइफल, एक बंदूक और दो तमंचे इनसे मिले हैं। देवबंद में तैनात एक सिपाही का नाम सामने आने के बाद एसएसपी ने उसके खिलाफ जांच बैठा दी है। क्राइम ब्रांच के एक सिपाही का भी आरोपियों से कनेक्शन खंगाला जा रहा है। पीएल शर्मा रोड स्थित शस्त्र विक्रेता जहां से खाली कारतूस लिए जाने की बात आरोपियों ने कुबूल की है, उससे भी पूछताछ की जाएगी।

पुलिस लाइन में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में गुरुवार को एसपी सिटी विनीत भटनागर ने बताया कि पूर्व प्रधान के बेटे शवी और रजी लंबे समय से हथियार तस्करी कर रहे थे। रजी बीडीसी सदस्य भी रहा है। इनका धंधा कारतूस के खाली खोखे लेकर उनको भरकर बेचना था। इन कारतूसों को मेरठ के अलावा मुजफ्फरनगर, शामली, दिल्ली, गाजियाबाद, हरियाणा समेत कई जिलों में बेचा जाता था। आरोपियों ने इंचौली के नई बस्ती लावड़ के रहने वाले शमीम से 50 हजार रुपये में बंदूक और तमंचे खरीदे थे। कारतूस बनाने के धंधे में परिवार की कई महिलाएं भी शामिल थीं। एसपी सिटी ने बताया कि फरार आरोपियों की तलाश में दबिश दी जा रही है। दोनों आरोपियों के घर बुधवार रात को पुलिस ने दबिश देकर हथियार और कारतूस बरामद किए थे।
आरोपी गिरफ्तार
2 of 7
देवबंद थाने के सिपाही ने बेचे थे कारतूस, क्राइम ब्रांच का सिपाही भी घेरे में
जो थ्री नॉट थ्री के 23 कारतूस बरामद हुए हैं, उनको देवबंद थाने में तैनात सिपाही ने पांच हजार रुपये में बेचा था। इससे पहले भी आरोपी थ्री नॉट थ्री के बड़ी संख्या में कारतूस खरीदकर सप्लाई कर चुके हैं। क्राइम ब्रांच में तैनात एक सिपाही का शवी और रजी से कनेक्शन सामने आ रहा है। एसपी सिटी का कहना है कि दोनों की सिपाही से जान-पहचान की बात सामने आई है। आरोप सही पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी। बताया गया है कि शवी का पुलिस वालों के साथ काफी उठना-बैठना था।
विज्ञापन
आरोपी गिरफ्तार
3 of 7
'अफजाल की मुखबिरी की थी, इसलिए फंसाया’
पुलिस कस्टडी में दोनों आरोपियों ने कहा कि कुछ समय पहले उन्होंने गांव के अफजाल को गोकशी में पकड़वाया था। तब से आरोपी रंजिश रखते हैं। हम परिवार के साथ बाहर गए हुए थे, अफजाल और उनके साथियों ने हथियार घर में रखकर फंसा दिया।
आरोपी गिरफ्तार
4 of 7
पड़ोसी की है लाइसेंसी राइफल
आरोपियों के घर से मिली 315 बोर की राइफल उनके पड़ोसी मिनाज की है। आरोपियों ने बताया कि आजकल मिनाज का मकान बन रहा है, जिसके चलते उसने अपनी लाइसेंसी राइफल उनके घर में रख दी थी। पुलिस उसे भी ले आई है।
विज्ञापन
विज्ञापन
एसपी सिटी विनीत भटनागर
5 of 7
हत्या के मामले में जा चुके हैं जेल
एसपी सिटी विनीत भटनागर ने बताया कि आरोपी 1999 में गांव में एक हत्या के मामले में भी जेल जा चुके हैं। इनके खिलाफ पुराने मामलों की भी जानकारी की जा रही है। इनके खिलाफ उस समय भी हत्या के साथ ही अवैध हथियारों की रिपोर्ट दर्ज हुई थी।
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00