विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
मात्र 2 दिन शेष ,गंगा दशहरा पर कराएं गंगा आरती एवं दीप दान, पूरे होंगे रुके हुए काम
Puja

मात्र 2 दिन शेष ,गंगा दशहरा पर कराएं गंगा आरती एवं दीप दान, पूरे होंगे रुके हुए काम

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

लॉकडाउन में बाहर से कामगार बुलाकर उद्योग ने तोड़ा नियम, केस दर्ज

हिमाचल के सोलन जिले के नालागढ़ में एक टेक्सटाइल उद्योग के खिलाफ बाहर से कामगार लाकर काम करवाने और सरकार व प्रशासन के नियम तोड़ने पर मामला दर्ज किया गया है। दभोटा चौकी के प्रभारी एसआई बाबूराम की अगुवाई वाली टीम ढाणा, भाटियां आदि की तरफ गश्त के लिए गई थी। ढाणा में पहुंचने पर सूचना मिली कि भाटियां स्थित एक टेक्सटाइल उद्योग में कामगार बाहर से आकर काम करते हैं और काम करने के उपरांत उद्योग से बाहर अपने घर व क्वार्टर चले जाते हैं।
 
जब पुलिस उद्योग में पहुंची तो कामगार जा चुके थे। लेकिन उद्योग में उन्हें एचआर प्रबंधक सुरेंद्र सिंह बिंद्रा निवासी गांव रूंदनघोड़ों डाकघर कुमारहट्टी मिले। पूछने पर उन्होंने बताया कि 14 मई को बबली देवी पत्नी बुलेट राम, सुमन देवी पत्नी संजय चौधरी, हरप्रीत कौर पत्नी बलजिंदर सिंह, पूनम देवी पत्नी लाल बिहारी, बिहारी पुत्र मंदिर कराहा निवासी गांव दभोटा, बृजेश पुत्र लल्लू राम निवासी नालागढ़ 12 मई को, चमन लाल पुत्र हरिराम निवासी दभोटा 9 मई को, दलीप सिंह पुत्र कल्याण सिंह निवासी गांव दोराही लुधियाना सात मई से 10 मई तक, इंद्र सिंह पुत्र प्यारा सिंह निवासी गांव दत्तोवाल 9 मई से काम पर आ रहे हैं।
 
इसकी सूची एचआर प्रबंधक ने पुलिस को मुहैया करवाई है। पुलिस अधीक्षक रोहित मालपानी ने कहा कि उद्योग के प्रबंधकों ने डीएम के कोरोना महामारी के लिए जारी आदेशों की अवहेलना की है, जिस पर कोविड-19 जैसी बीमारी फैलने का अंदेशा है। पुलिस ने विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।
 
... और पढ़ें

कसोल में सड़क पर मिला व्यक्ति का कटा सिर और बाजू, घाटी में सनसनी

क्वारंटीन आदेश तोड़ने वाले नौ लोगों के खिलाफ एफआईआर

हिमाचल में दूसरे राज्यों से आकर 14 दिन के क्वारंटीन के आदेश का पालन न करने वालों पर पुलिस की सख्ती जारी है। पिछले चौबीस घंटे में पुलिस ने नौ लोगों के खिलाफ होम क्वारंटीन तोड़ने पर छह एफआईआर दर्ज की हैं। पुलिस अब तक क्वारंटीन के आदेशों की अवहेलना करने वाले 204 लोगों के खिलाफ 166 मामले दर्ज कर चुकी है।

इनमें 150 मामले होम क्वारंटीन तोड़ने के हैं, जबकि 16 मामले संस्थागत क्वारंटीन से भागने वालों के खिलाफ दर्ज किए गए हैं। पुलिस प्रवक्ता डॉ. खुशहाल शर्मा ने बताया कि लोगों को लगातार समझाने का प्रयास किया जा रहा है। विभिन्न स्तरों पर लोगों को जागरूक कर क्वारंटीन पूरा करने के लिए कहा जा रहा है, ताकि वे खुद अपने परिवार और परिचितों की जान जोखिम में डालने के आरोपी न बनें, लेकिन जो लोग ऐसा नहीं कर रहे हैं उनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।

कर्फ्यू में भारी ढील के बावजूद लोगों की ओर से इसका उल्लंघन किए जाने पर अब तक कुल 1671 मामले दर्ज किए गए हैं, जबकि 1445 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं। पिछले चौबीस घंटे में ही 15 मामले दर्ज कर 13 लोगों को जेल भेजा गया है।
... और पढ़ें

पुलिस ने ऊना के अमराली में पकड़ी एक करोड़ की भुक्की

अमराली गांव में पुलिस ने एक ट्रक से भारी मात्रा में भुक्की की खेप पकड़ी है। शनिवार देर रात करीब तीन बजे टाहलीवाल पुलिस चौकी प्रभारी अशोक कुमार की टीम ने गुप्त सूचना पर यह कार्रवाई की। भुक्की का बाजार मूल्य करीब एक करोड़ रुपये बताया जा रहा है। बताया जा रहा है कि आरोपी ट्रक चालक रात के अंधेरे का फायदा उठाकर मौके से भाग गया है। 

पुलिस ने भुक्की की खेप कब्जे में लेकर आरोपी ट्रक चालक/मालिक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। छानबीन की जा रही है कि आरोपी भुक्की की खेप कहां से और कैसे लाया। इसे कहां लेकर जा रहा था। आरोपी से पूछताछ में कई अहम खुलासे हो सकते हैं। पुलिस ने ट्रक से करीब भुक्की की करीब 58 बोरियां बरामद की हैं। टाहलीवाल पुलिस चौकी प्रभारी टीम के साथ रात को गश्त पर तैनात थे। टीम ने अमराली गांव में एक ट्रक को रोककर चेक किया तो 17 क्विंटल 33 किलो 500 ग्राम भुक्की बरामद की गई।

पुलिस ने ट्रक से आरोपी का मोबाइल व ट्रक के दस्तावेज भी बरामद किए हैं। आरोपी ट्रक चालक/मालिक की पहचान जसविंद्र सिंह निवासी गांव पोलियां बीत तहसील हरोली के रूप में हुई है। उधर, एसपी डॉ. कार्तिकेयन गोकुलचंद्रन ने कहा कि पुलिस ने ट्रक सहित भुक्की की खेप कब्जे में लेकर आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। पुलिस आरोपी की तलाश कर रही। एसपी ने बताया कि आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की तीन टीमें गठित की गई हैं।
... और पढ़ें

चंबा के चुवाड़ी में बेटे ने कर दी बुजुर्ग मां की हत्या, आरोपी गिरफ्तार

हिमाचल के चंबा जिले के भटियात उपमंडल के चुवाड़ी के वार्ड नंबर एक में 55 साल के बेटे ने अपनी 82 वर्षीय मां की हत्या कर दी। हत्या के बाद आरोपी ने खुद ही गांव के एक व्यक्ति को इसकी सूचना दी। पुलिस ने आरोपी सुभाष चंद को गिरफ्तार कर हत्या का मुकद्दमा दर्ज कर लिया है। पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए शव सिविल अस्पताल चुवाड़ी के शव गृह में रखवा दिया है। 

पुलिस के अनुसार आरोपी सीआरपीएफ में तैनात था और दो साल पहले ही उसने नौकरी छोड़ी थी। परिवार में मां-बेटा ही थे जबकि पिता की मौत काफी समय पहले हो चुकी है। शनिवार को सुबह के वक्त आरोपी अपने घर के बाहर था और उसने एक व्यक्ति से अपनी मां की मौत के बारे में जिक्र किया। इस व्यक्ति ने नगर पंचायत चुवाड़ी के प्रधान विकास वर्मा को सूचित किया।

विकास ने पुलिस थाना चुवाड़ी को इसकी सूचना दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर छानबीन की। एसपी चंबा डॉ. मोनिका व डीएसपी रोहिन डोगरा भी मौके पर पहुंचे। धर्मशाला से फोरेंसिक टीम ने भी घटनास्थल का जायजा लिया। मृतक महिला के सिर पर गंभीर चोट है। एसपी चंबा डॉ. मोनिका ने बताया कि पुलिस ने भादंसं की धारा 302 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस आगामी जांच कर रही है। 
... और पढ़ें

सचिवालय सैनिटाइजर खरीद मामले में अधीक्षक निलंबित

राज्य सचिवालय में तय रेट से महंगे दाम पर सैनिटाइज बेचने के मामले में हिमाचल सरकार ने सचिवालय के अधीक्षक को निलंबित कर दिया है। सचिवालय प्रशासन की विभागीय जांच के बाद कार्रवाई अमल में लाई है। सचिवालय सामान्य प्रशासन सचिव देवेश कुमार ने इसकी पुस्टि की है।  हालांकि, इस मामले में विजिलेंस जांच चल रही है।

लेकिन उससे पहले विभाग की ओर से की गई कार्रवाई में अधीक्षक की संलिप्ता को देखते हुए उसे निलंबित किया गया। उल्लेखनीय है कि सचिवालय में महंगे सैनिटाइजर की बिक्री में विजिलेंस ने  एक सरकारी ठेकेदार के खिलाफ मामला दर्ज किया। जानकारी के मुताबिक 50 रुपए के सैनिटाइजर पर 130 रुपए की मोहर लगाने के लिए आरएंडआई ब्रांच के इस अधिकारी ने सरकारी ठेकेदार पर दबाव बनाया था। अधीक्षक को जब सरकारी ठेकेदार ने 130 रुपए की मुहर लगाने के लिए इंकार कर दिया तो उसने जबरन उसे कंट्रोल रूम में बैठा कर मुहर लगाने दी।

 बीते 18 मई को विजिलेंस ने सचिवालय के मुख्य गेट से सीसीटीवी फुटेज कब्जे में ले लिया था। जिसमे पाया गया कि आरएंडआई का यह अधीक्षक और सरकारी ठेकेदार सरकारी गाड़ी में साथ आते है। उसके बाद सचिवालय प्रशासन को भी शक हुआ और विभगीय कार्रवाई शुरू की। शुक्रवार को अधीक्षक को निलंबित कर दिया है।
... और पढ़ें

रोहडू में युवक की पीट-पीटकर हत्या, एक आरोपी गिरफ्तार

शिमला जिले के उपमंडल रोहड़ू के तहत छुपाड़ी में युवकों ने मारपीट के दौरान एक युवक की हत्या कर दी। बताया जा रहा है कि युवकों में किसी बात को लेकर पहले नोकझोंक हुई, जो मारपीट में बदल गई। इस दौरान एक युवक को इतना घायल हो गया कि उसने अस्पताल में दम तोड़ दिया। पुलिस ने मामला दर्ज कर एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि दूसरे गंभीर घायल को आईजीएमसी रेफर किया गया है। पुलिस के मुताबिक गुरुवार सुबह तीन युवक छुपाड़ी गांव के समीप देवगढ़ में आपस में झगड़ रहे थे।

प्रत्यक्षदर्शी के अनुसार झगडे़ के दौरान पिकअप में सवार होकर दो युवक मौके से फरार हो गए, जबकि एक युवक घायल अवस्था में सड़क पर तड़पता रहा। गंभीर अवस्था में युवक को लोगों ने सिविल अस्पताल रोहडू पहुंचाया लेकिन, युवक की अस्पताल में लाने के कुछ देर बाद ही मौत हो गई। मृतक युवक की पहचान छुपाड़ी गांव निवासी पवन कुमार (34) के रूप में हुई है। घटना की सूचना मिलने पर डीएसपी रोहडू सुनील नेगी और एसएचओ पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे। इसके बाद पुलिस ने घटना स्थल के साथ लगते क्षेत्रों और संभावित सड़कों की नाकेबंदी कर दी और आरोपियों की तलाश में जुट गई।

कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस ने मौके से फरार छुपाड़ी निवासी दोनों युवकों मनोज और नरेंद्र को झड़ाशली गांव में पकड़ लिया। पकडे़ गए एक युवक नरेंद्र को भी गंभीर चोटें आई हैं, जिसे सिविल अस्पताल रोहड़ू से प्राथमिक उपचार के बाद आईजीएमसी शिमला रेफर कर दिया गया।   आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 302, 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है। युवक की हत्या के आरोप में पुलिस ने नरेंद्र और मनोज को आरोपी बनाया गया है। वहीं, पुलिस ने मनोज कुमार को गिरफ्तार कर लिया है। डीएसपी सुनील नेगी ने मामले की पुष्टि की है। 
... और पढ़ें

घर के आंगन में बैठी महिला को बैल ने मारी टक्कर, मौत

सांकेतिक तस्वीर
हिमाचल के मंडी जिले के सुंदरनगर उपमंडल के भौर गांव में घर के आंगन में बैठी वृद्ध महिला की बैल के हमले से मौत हो गई है। इस घटना से क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई है। रामप्यारी (70) सुबह करीब सात बजे अपने घर के आंगन में बैठी हुई थी। इसी दौरान वहां पर एक बैल आ गया और उसने महिला को जोरदार टक्कर मार दी। हादसे में महिला बुरी तरह से घायल हो गई। चीख पुकार सुन परिजन बाहर निकले और उन्होंने बैल को खदेड़ा।

करीब 11 बजे महिला की तबीयत अधिक खराब हो गई। देखते ही देखते महिला ने दम तोड़ दिया। घटना की सूचना मिलने पर पंचायत प्रधान बिमला देवी मौके पर पहुंची और उन्होंने हल्का पटवारी को सूचना दी। इसके बाद थाना सुंदरनगर में भी घटना की सूचना दी। पुलिस दल ने मौके पर पहुंच कर शव को पोस्टमार्टम के लिए नागरिक अस्पताल भेज दिया है। पंचायत प्रधान बिमला देवी ने प्रशासन से प्रभावित परिवार को उचित राहत राशि प्रदान करने की मांग की है।
... और पढ़ें

खनन माफिया को दबोचने उत्तराखंड पहुंची हिमाचल पुलिस पर पथराव

भंगानी में खनन रोकने गई वन विभाग की टीम पर पथराव करने वाले आरोपियों को गिरफ्तार करने उत्तराखंड गई हिमाचल की पुलिस टीम पर भी पथराव किया गया। हालांकि, पुरुवाला और सिंघपुरा पुलिस की टीम ने जान पर खेल कर तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। वन कर्मियों की टीम पर हमले की शिकायत दर्ज होते ही पुरुवाला थाना प्रभारी विजय रघुवंशी और सिंघपुरा पुलिस चौकी प्रभारी बाला राम की टीम आरोपियों को दबोचने उत्तराखंड रवाना हो गए।

टीम में मुख्य आरक्षी अरविंद, धनवीर सिंह और तरसेम सिंह शामिल रहे।  आरोपी अपने घर से भी फरार थे। पुलिस ने आरोपियों के परिजनों से कड़ी पूछताछ की। देर रात को आरोपियों को दबोचने की कार्रवाई चलती रही। आरोपियों को बचाने के लिए आसपास के ग्रामीणों ने पुलिस टीम के वाहनों पर  ईंट और पत्थरों से हमला शुरू कर दिया। इससे वाहनों को नुकसान पहुंचा है। 

विकासनगर के एसएचओ के वाहन का पिछला शीशा पथराव से टूट गया लेकिन संयुक्त पुलिस टीम ने वन विभागीय टीम पर हमला करने वाले तीन आरोपियों को दबोच लिया। वहीं, खनन के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले ट्रैक्टर को भी कब्जे में लिया गया है।  उधर, एसएचओ पुरुवाला विजय रघुवंशी ने बताया कि लोगों ने आरोपियों को बचाने का प्रयास किया। आसपास गांव के लोगों की ओर से पथराव से पुलिस के वाहनों को ज्यादा क्षति नहीं पहुंची है।   
... और पढ़ें

खनन रोकने पहुंची वन विभाग टीम पर जानलेवा हमला, वन रक्षक लहूलुहान

हिमाचल-उत्तराखंड की सीमा पर स्थित यमुना नदी में अवैध खनन रोकने पहुंची वन विभाग की टीम पर खनन माफिया ने जानलेवा हमला कर दिया। हमले में एक वन रक्षक और एक अन्य वन कर्मी लहूलुहान हो गए। दोनों का सिविल अस्पताल पांवटा साहिब में उपचार करवाया गया। करीब एक दर्जन ट्रैक्टर सवार हमलावर मौके से उत्तराखंड की तरफ भाग निकले। वन विभाग की तरफ से पुरुवाला थाने में शिकायत दर्ज करवा दी गई है।

जानकारी के अनुसार पांवटा वन मंडल के तहत भंगानी में राज्य सीमा पर यमुना नदी में अवैध खनन की शिकायतें मिल रही थी, जिसके बाद सुबह गश्त के दौरान यमुना बीट के वन रक्षक धनवीर सिंह, वन कर्मी किशन कुमार व अन्य वन कर्मियों ने खनन को आए ट्रैक्टर रोके तो लोगों ने टीम पर हमला कर दिया, जिसमें धनवीर सिंह को पत्थर मारकर बुरी तरह से लहूलुहान कर दिया और किशन कुमार भी जख्मी हुए हैं। डीएफओ पांवटा कुणाल अंग्रीश ने बताया कि पुरुवाला थाने में एफआईआर दर्ज करवा दी है। सिविल अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. राजीव चौहान ने बताया कि वन रक्षक को दाईं आंख के पास छह टांके लगाने पड़े हैं। डीएसपी पांवटा सोमदत ने मामले की पुष्टि की है।
... और पढ़ें

मंडी के संत का रोपड़ में बेरहमी से कत्ल, हत्यारों ने सिर के बाल उखाड़े

सतलुज दरिया के हेड वर्क्स पुल के नजदीक ऋषि मुनि दिश्म आश्रम के संत की हत्या कर दी गई है। शव से दुर्गंध आ रही थी। आश्रम का सारा सामान भी बिखरा हुआ मिला। यहां तक कि संत के सिर के बाल भी सिर से उखाड़े हुए थे, जिससे लग रहा है कि कत्ल बड़ी बेरहमी के साथ किया गया था।

सूचना मिलने पर पुलिस ने मौके पर पहुंच कर जांच शुरू कर दी है। फोरेंसिक टीम से जांच करवाई जा रही है। विश्व हिंदू परिषद, शिवसेना बाल ठाकरे सहित अन्य हिंदू संगठनों ने संत के कत्ल की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है। 

संत योगेश्वर सतलुज दरिया के किनारे अपने आश्रम में पिछले लगभग 40 वर्षों से रहते थे और दरिया किनारे पूजा-पाठ करते थे। महात्मा योगेश्वर 20 वर्ष की आयु में ही संन्यासी हो गए थे। वह हिमाचल के जिला मंडी सरकाघाट के निवासी थे। रविवार की सुबह संत का एक भक्त आश्रम में उन्हें भोजन देने के लिए गया।

उसने वहां देखा कि आश्रम का मुख्य द्वार टूटा है और संत कमरे में मृत हालत में पड़े थे। इसकी सूचना उनके भाई दिनेश कौशल को दी गई। उन्होंने इस संबंधी थाना काठगढ़ पुलिस (नवांशहर) को शिकायत की। पुलिस थाना काठगढ़ के एसएचओ परमिंदर सिंह ने बताया कि मौका देखने से पता लगता है कि संत का कत्ल कुछ दिन पहले हो चुका था। शव की हालत भी काफी खराब थी। 

उन्होंने बताया कि एलईडी, इन्वर्टर बैटरा भी चोरी हुआ है। उन्होंने बताया कि इस संबंध में उन्होंने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। कत्ल की जांच के लिए अलग-अलग टीमों का गठन किया गया है। टीमों में फोरेंसिक विशेषज्ञ, फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट और अन्य विशेषज्ञ शामिल किए गए हैं।

उन्होंने बताया कि महात्मा योगेश्वर के कत्ल को लेकर अज्ञात लोगों पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है और जल्द ही दोषियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उधर, विश्व हिंदू परिषद के प्रधान सतीश शर्मा, शिवसेना बाल ठाकरे के प्रधान अश्वनी कुमार सहित अन्य संस्थाओं ने मांग की है कि इस मामले की उच्च स्तरीय जांच की जाए।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन