विज्ञापन

हिमाचल प्रदेश

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

ठियोग में 12 बोर की बंदूक से बीटेक के छात्र ने खुद को मारी गोली, मौत

हिमाचल प्रदेश के शिमला जिले के पुलिस थाना ठियोग के तहत देवी मोड़ के पास सनाना गांव में 19 वर्षीय बीटेक छात्र ने 12 बोर की बंदूक से खुद गोली मार ली। इससे छात्र की मौत हो गई। पुलिस ने मामला दर्ज कर घटना की छानबीन शुरू कर दी है। हालांकि, उसने ऐसा क्यों किया, इसका खुलासा नहीं हो सका है। पुलिस के मुताबिक रोहित विशाल पुत्र रमेश शर्मा, गांव सनाना, डाकघर संधू ने अपने कमरे में खुद को गोली मार ली। डीएसपी ठियोग लखवीर सिंह ने बताया कि 19 वर्षीय  रोहित प्रगतिनगर के अटल विहारी वाजपेयी इंजीनियरंग कॉलेज में बीटेक का छात्र था। किन्हीं कारणों से उसने अपने आप को बंदूक से गोली मार ली।

सोमवार शाम करीब साढ़े छह बजे पुलिस को इसकी सूचना मिली। मौके पर पहुंची पुलिस की टीम ने शव को कब्जे में लेकर मंगलवार को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। शुरुआती जांच में पुलिस ने आत्महत्या का मामला पाया है और आईपीसी की धारा 174 के तहत मामला दर्ज कर जांच भी शुरू कर दी है। घर में रखी गई 12 बोर की बंदूक का लाइसेंस पिता रमेश चंद के नाम पर है। डीएसपी ने बताया कि पुलिस मामले की गहनता से जांच कर रही है। रमेश बागवान हैं। उनके तीन बेटे हैं। रोहित सबसे बड़ा था। 

खुद को कमरे में बंद कर लगा दिए जोर-जोर से गाने

पता चला है कि रोहित प्रगतिनगर से छैला में वैक्सीन लगवाने आया था। उसके बाद वह घर आ गया। उसने फोन कर छोटे भाई से पूछा कि पापा-मम्मी कहां है। छोटे भाई ने बताया कि वह भी वैक्सीन लगवाने गए हैं। इसके बाद उसने खुद को कमरे में बंद कर लिया और जोर-जोर से गाने चला दिए। शाम को जब उसके पापा आए तो छोटे बेटे को रोहित को बुलाने के लिए कहा। इस पर छोटे भाई ने कहा कि वह सो गया है। जब उन्होंने अंदर देखा तो वहां बंदूक पड़ी थी और रोहित की मौत हो चुकी थी।  
... और पढ़ें

मानवता शर्मसार: कंपकंपाती ठंड में घर के दरवाजे पर छोड़ गए नवजात को, उपायुक्त ने दिए जांच के आदेश

चंबा जिले में मानवता को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। रविवार सुबह छह बजे कंपकंपाती ठंड के बीच नए बस स्टैंड के पास एक घर के दरवाजे के बाहर प्लास्टिक टब में किसी ने नवजात बच्ची को रोता-बिलखता छोड़ दिया। बच्ची जब जोर-जोर से रोने लगी तो घर वाले बाहर निकले। इसकी सूचना तुरंत पुलिस और चाइल्ड लाइन को दी। बच्ची को मेडिकल कॉलेज चंबा पहुंचाया गया। यहां चिकित्सकों ने बच्ची की जांच करके उसे अस्पताल में भर्ती कर लिया।

बच्ची स्वस्थ बताई जा रही है। पुलिस टीम नवजात को छोड़ने वालों की तलाश में जुट गई है। अगर बच्ची का जन्म सरकारी या निजी अस्पताल में हुआ है तो उसका वहां पर रिकॉर्ड दर्ज होगा। इसके जरिये पुलिस उसकी मां तक पहुंच सकती है। अगर बच्ची का जन्म घर में हुआ तो उसके बारे में पता लगाने के लिए पुलिस को कसरत करनी पड़ सकती है।

सूचना मिलते ही चाइल्ड लाइन के साथ बाल संरक्षण इकाई और बाल कल्याण समिति के अधिकारी भी अस्पताल पहुंचे। बच्ची को अस्पताल में सुरक्षित पहुंचाने के बाद उन्होंने पुलिस थाना चंबा में इसकी एफआईआर दर्ज करवाई। बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष अंजना कुमारी ने बताया कि बच्ची की सुरक्षा को लेकर पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं। बच्ची के बिल्कुल स्वस्थ होने पर उसे शिशु गृह शिमला में भेजने की व्यवस्था की जाएगी।

पुलिस अधीक्षक अरुल कुमार ने बताया कि नवजात को छोड़ने वाले अज्ञात व्यक्ति की तलाश की जा रही है। जल्द ही उसे ढूंढ लिया जाएगा। इसके लिए पुलिस पूरी मुस्तैदी से कार्य कर रही है। 

जिलाधीश डीसी राणा ने बताया कि नवजात को इस तरह मरने के लिए छोड़ना अपराध है। इसकी जांच करने के लिए पुलिस को आदेश दिए हैं। दोषी को पकड़कर उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 
... और पढ़ें

धर्मशाला: निजी बैंक में नौकरी दिलाने के नाम पर युवती से 16 हजार की ठगी

अगर आपकी मेल पर भी नौकरी का कोई मैसेज आए तो सावधान हो जाएं। पहले अच्छी तरह जांच-पड़ताल कर लें, नहीं तो आप भी शातिरों के झांसे में आ सकते हैं। ऐसा ही मामला कांगड़ा की एक युवती के साथ पेश आया। एक निजी बैंक में नौकरी दिलाने के नाम पर युवती से सिक्योरिटी और अन्य खर्चों के रूप में शातिरों ने करीब 16 हजार रुपये ऑनलाइन अपने खाते में जमा करवा लिए। लेकिन, उसे नौकरी नहीं मिली। ठगी का शिकार हुई युवती ने पुलिस थाना कांगड़ा में मामला दर्ज करवा दिया है। 

जानकारी के अनुसार पुलिस थाना कांगड़ा के तहत आते गांव भड़वाल की एक युवती ने कहा कि उसकी ई-मेल आईडी पर रोजगार से संबंधित एक मेल आया था। इस मेल पर धर्मशाला में ही एक निजी बैंक में डाटा ऑपरेटर की पोस्ट के लिए आवेदन मांगा गया था। नौकरी की आस में युवती ने आवेदन कर दिया। इसके बाद उसे मोबाइल नंबर 81306-70371 से फोन आया और उससे नौकरी के रजिस्ट्रेशन के लिए 1,000 रुपये की मांग की गई, जिसे युवती ने उनके बताए गए अकाउंट नंबर में जमा करवा दिया। इसके बाद उसके फोन पर मैसेज आया कि आईकार्ड के लिए 3,000 रुपये जमा करवाएं। 

दोबारा युवती को मैसेज किया और उससे नियुक्ति पत्र हासिल करने के लिए 4000, सिक्योरिटी के लिए 5,000 और वर्दी सहित अन्य खर्चों के लिए 3,000 रुपये दोबारा से जमा करवाने को कहा। युवती ने फिर से पैसे जमा करवा दिए। इसके बाद युवती को पीडीएफ फाइल के माध्यम से नियुक्ति पत्र हासिल हुआ, जिसमें उसे 15 दिसंबर को निजी बैंक में नियुक्ति के लिए कहा गया। शातिरों ने युवती को फर्जी आई कार्ड भी भेज दिया। 

शातिरों ने युवती को नियुक्ति पत्र तो भेज दिया, लेकिन उसे कहां पर नियुक्ति देनी है, इस बारे में कुछ नहीं लिखा। इसके बाद जब युवती ने उनसे नियुक्ति देने के स्थान के बारे पूछा तो उसे जवाब मिला कि अभी तक पोस्ट खाली नहीं है, उसे बाद में बता दिया जाएगा। शातिरों के बार-बार टालमटोल करने के बाद युवती ने खुद से हुई ठगी बारे पुलिस थाना कांगड़ा में रिपोर्ट दर्ज करवा दी है। 

अनजान लोगों के झांसे में न आएं 
इस संदर्भ में एसपी डॉ. खुशहाल शर्मा ने कहा कि पुलिस प्रशासन लगातार लोगों को ऑनलाइन ठगी के बारे में जागरूक कर रहा है। बावजूद इसके लोग ठगी का शिकार हो रहे हैं। उन्होंने लोगों से अपील की है कि वह इस प्रकार के झांसे में न आएं। पूरी जांच-पड़ताल के बाद ही किसी अनजान व्यक्ति के खाते में पैसे डालें।
... और पढ़ें

पुलिस की कार्रवाई: नशा तस्करी में संलिप्त दो अफ्रीकी नागरिक दिल्ली से गिरफ्तार

हिमाचल प्रदेश के जिला शिमला के रामपुर उपमंडल में चिट्टा सप्लाई करने वाले दो अफ्रीकी नागरिकों को पुलिस ने दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने हाल ही में चिट्टे के साथ पकड़े स्थानीय युवक की निशानदेही पर इस कार्रवाई को अंजाम दिया है। दोनों के खिलाफ पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

जानकारी के मुताबिक कुछ दिन पहले रामपुर बुशहर के चौधरी अड्डे पर पुलिस ने एक युवक को 7.15 ग्राम चिट्टे के साथ दबोचा था। पूछताछ के दौरान युवक ने बताया कि यह नशा उसे अफ्रीकी मूल के आरोपियों ने दिल्ली से सप्लाई किया था। इसके बाद पुलिस ने दिल्ली से आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। मंगलवार देर शाम आरोपियों को लेकर पुलिस दल रामपुर पहुंचा। पुलिस दोनों से गहन पूछताछ कर रही है। डीएसपी रामपुर चंद्रशेखर कायथ ने इसकी पुष्टि की है। 
... और पढ़ें
चिट्टा मामले में आरोपी गिरफ्तार(सांकेतिक) चिट्टा मामले में आरोपी गिरफ्तार(सांकेतिक)

परवाणू: दो महिलाओं की हत्या के आरोपी पंजाब से गिरफ्तार, पुलिस को ऐसे मिली सफलता

कालका-शिमला नेशनल हाईवे पर कोटी में रेलवे टनल नंबर 10 के समीप दो महिलाओं की हत्या कर बेड शीट में लपेटकर फेंकने वाले दोनों आरोपियों को सोलन पुलिस ने पंजाब से गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस हाईवे पर लगे सीसीटीवी कैमरे की मदद से आरोपियों तक पहुंची है।  पुलिस दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर परवाणू ले आई है। शनिवार को पुलिस इन्हें कसौली कोर्ट में पेश करेगी। बताया जा रहा है कि पैसे के लेनदेन के चलते महिलाओं को मौत के घाट उतारा गया है। हालांकि मामले में पुलिस अभी खुलकर बताने में परहेज कर रही है। जानकारी के अनुसार हत्या मामले में पुलिस ने जितेंद्र सिंह (43) निवासी हाउस नंबर 3918 वार्ड सात खरड़ मोहाली और दिनेश कुमार (32) निवासी झझर मंगूवाल रोपड़ को गिरफ्तार किया है।

इनमें जितेंद्र सिंह टैक्सी चालक है और दिनेश ट्रक ड्राइवर है। पुलिस ने आरोपियों की कार को भी जब्त कर लिया है। महिलाओं की शिनाख्त के बाद पुलिस ने परिवारजनों से पूछताछ पर जांच को आगे बढ़ाया और पंजाब में दबिश दी। टीम ने हाईवे पर लगे सीसीटीवी भी खंगाले। इसके बाद पुलिस ने आरोपियों को पकड़ा। उधर, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सोलन अशोक वर्मा ने बताया कि पुलिस ने दो महिलाओं की हत्या मामले में दो लोगों को पंजाब से गिरफ्तार कर लिया है। दोनों से पूछताछ की जा रही है। हर चीज को ध्यान में रखकर पुलिस कार्रवाई कर रही है।
... और पढ़ें

हिमाचल: जहरीली शराब पीने से दो और की मौत, सात पहुंचा आंकड़ा, चार गिरफ्तार

हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के सुंदरनगर के सलापड़ और कांगू में नकली व जहरीली शराब का सेवन करने वाले दो और लोगों की गुरुवार को मौत हो गई। मरने वालों का आंकड़ा सात तक पहुंच गया है। गुरुवार  को चार और लोगों की तबीयत बिगड़ गई। अब तक जहरीली शराब पीकर तबीयत बिगड़ने के 14 मामले आ चुके हैं। पुलिस ने पूर्व प्रधान समेत चार लोगों को भी गिरफ्तार किया है।गुरुवार को शराब का सेवन करने वाले सीता राम पुत्र बंगालू राम निवासी खनयोड, सुंदरनगर और भगत राम पुत्र गोकुल राम निवासी गांव मालथानी, सुंदरनगर की मौत हो गई। सीता राम ने घर में दम तोड़ा है। वहीं, भगत राम की वीरवार तड़के नेरचौक मेडिकल कॉलेज में मौत हुई है। एक अन्य भर्ती व्यक्ति गणपत को नेरचौक मेडिकल कॉलेज से आईजीएमसी और वहां से अब पीजीआई चंडीगढ़ रेफर कर दिया है। नेरचौक में छह लोग भर्ती हैं। 

 उधर, सूत्रों के अनुसार जहरीली शराब पीने से हुई मौतों के बाद पोस्टमार्टम और बिसरा जांच की प्रारंभिक रिपोर्ट में शराब में मिथाइल अल्कोहल होने की बात सामने आई है। आरोपियों पर शिकंजा कसने में यह अहम साक्ष्य हो सकता है। हालांकि, आधिकारिक तौर पर कोई पुष्टि नहीं कर रहा है। बता दें कि कच्ची शराब तैयार करने वाले मिथाइल अल्कोहल, इथाइल अल्कोहल और यूरिया के अलावा तेज नशे के लिए क्लोरल हाइड्रेड का इस्तेमाल भी करते हैं, जिससे नशे की तीव्रता को बढ़ाया जा सके। अब मृतकों के विसरा परीक्षण की जांच तीन चरणों में होगी। इसमें वैज्ञानिक पता लगाएंगे कि जहरीली शराब तैयार करने में कौन-कौन से केमिकल मिलाए गए हैं।

पुलिस ने सलापड़ पंचायत के पूर्व प्रधान जगदीश चंद, वर्तमान पंचायत प्रधान के ससुर अच्छर सिंह पुत्र बहादुर सिंह समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है। मलोह पंचायत के छज्वार गांव से गिरफ्तार तीसरे आरोपी सोहन लाल उर्फ रवि से पुलिस ने संतरा ब्रांड की नकली शराब की 12 बोतल बरामद की हैं। चौथा आरोपी प्रदीप कुमार उर्फ दीप सलापड़ पंचायत के सरोह गांव का रहने वाला हैं। चारों करीब एक साल से देसी व अंग्रेजी शराब अवैध रूप से दुकानों और घरों में सप्लाई करते थे। एसपी मंडी, शालिनी अग्निहोत्री ने बताया कि पुलिस ने चारों को देर शाम सुंदरनगर की अदालत में पेश किया, जहां से चार दिन की पुलिस रिमांड मिली है। 

 एनआईए में रहे अरविंद एसआईटी में शामिल
 नेशनल इन्वेस्टिगेटिंग एजेंसी (एनआईए) में सेवाएं दे चुके एसपी अरविंद दिग्विजय नेगी को भी डीआईजी मंडी रेंज मधू सूदन की अध्यक्षता में गठित विशेष जांच टीम (एसआईटी) में शामिल किया गया। नेगी के अलावा इस टीम में एसपी कांगड़ा खुशाल चंद शर्मा, एसपी मंडी शालिनी अग्निहोत्री और राज्य अपराध अन्वेषण विभाग (सीआईडी) के एसपी अपराध वरिंद्र कालिया भी शामिल हैं। टीम ने वीरवार को घटना से संबंधित सभी पहलुओं पर चर्चा की। देखा जा रहा है कि कहीं असली की जगह नकली शराब की तो सप्लाई नहीं की गई।

संतरा ब्रांड के लेवल से छेड़छाड़, फूड्स की जगह लिखा फूलस
 चंद पैसों के लालच में शराब माफिया ने हिमाचल प्रदेश में बनने वाली संतरा ब्रांड शराब के लेवल से छेड़छाड़ कर नकली शराब तैयार करके लोगों को परोस दी। यह सब पुलिस और आबकारी विभाग के नाक तले चलता रहा। अब शराब माफिया को राजनीतिक संरक्षण की बात भी सामने आ रही है। बुधवार और वीरवार को पुलिस ने जो शराब की बोतलें बरामद की हैं, उनमें संतरा ब्रांड के दो लेवल वाली शराब पुलिस के हाथ लगी है। एक में कंपनी के नाम के साथ फूड्स तो दूसरी में फूलस लिखा है।
 
... और पढ़ें

सोलन: पत्नी के साथ अवैध संबंध के शक में कर दी साथी की हत्या

सोलन जिले के थाना गांव में एक व्यक्ति ने अपने ही साथी की गला दबाकर हत्या कर दी। घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी फरार हो गया। उसे बद्दी पुलिस ने हरियाणा के नवांनगर से गिरफ्तार किया। आरोपी बद्दी से यूपी जाने की तैयारी में था। आरोपी ने पत्नी से अवैध संबंध के शक में इस वारदात को अंजाम दिया।

यूपी के संभल जिले के काबुलपुर गांव के संजय कुमार (27) और हरदोई जिले के प्रतापपुर निवासी राहुल (23) बद्दी के थाना क्षेत्र में उद्योगों में काम करते थे। दोनों शादीशुदा थे। बताया जा रहा है कि 15 जनवरी को संजय और राहुल ने कमरे में शराब पी। शराब के नशे में इस दौरान राहुल ने संजय को उसकी पत्नी के साथ शारीरिक संबंध बनाने की बात कही।

इसके बाद संजय ने उसे और ज्यादा शराब पिला दी। जब राहुल नशे में चूर हो गया तो उसने गला दबाकर उसे मार दिया और वहां से फरार हो गया। 16 जनवरी को सुबह साढ़े दस बजे थाना पंचायत प्रधान ने इसकी सूचना बद्दी पुलिस को दी। पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लिया। पुलिस संजय की तलाश में जुट गई। रविवार को संजय बद्दी के साथ लगते हरियाणा क्षेत्र में यूपी जाने की तैयारी में बस का इंतजार कर रहा था।

पुलिस ने उसे बस में सवार होने से पहले ही दबोच लिया। एएसपी नरेंद्र कुमार ने बताया कि पुलिस ने आरोपी संजय को गिरफ्तार कर हत्या का मामला दर्ज कर लिया है। आरोपी को सोमवार को अदालत में पेश किया जाएगा। मृतक का पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है।
... और पढ़ें

सीआईडी की कार्रवाई: 65 लाख का सेब लेकर फरार आढ़ती रोहड़ू में गिरफ्तार

सांकेतिक तस्वीर
हिमाचल प्रदेश अपराध अन्वेषण विभाग (सीआईडी) ने करीब 65 लाख रुपये का सेब खरीदकर फरार एक आढ़ती को रोहड़ू में जाकर पकड़ा है। यह कार्रवाई सीआईडी की विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने की है। आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद कोर्ट में पेश किया गया, जहां से आरोपी आढ़ती को सात दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा गया है। आरोपी आढ़ती चेक बाउंस के आधा दर्जन मामलों में भी फंसा हुआ है।

 सीआईडी की एसआईटी के प्रभारी पुलिस अधीक्षक  वरिंद्र कालिया की अध्यक्षता वाली टीम ने आरोपी शशि महात्मा को रोहड़ू जाकर गिरफ्तार किया है। रोहडू़ में आरोपी का ठिकाना बताया जाता है। लंबे समय से सीआईडी उसे पकड़ने के लिए प्रयास कर रही थी। वह वर्ष 2019 से फरार था। कई बागवानों से ठगी करने के बाद उसके खिलाफ एसआईटी के पास मामला दर्ज था। इस ठगी में शामिल रहे कई अन्य लोगों के खिलाफ भी आगामी दिनों में कड़ी कार्रवाई संभावित है। 
... और पढ़ें

अवैध संबंध: चिंतपूर्णी बस स्टैंड में सो रहे व्यक्ति की हत्या, पत्थर से किया वार

चिंतपूर्णी बस स्टैंड में सो रहे एक व्यक्ति की पत्थर मारकर हत्या कर दी गई। घटना मंगलवार देर रात एक बजे की बताई जा रही है। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज खंगालकर सुबह चार बजे भरवाईं पेट्रोल पंप के नजदीक आरोपी को पकड़ लिया है। देहरा पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। देहरा पुलिस के अनुसार मृतक हैपी पुत्र राजेश कुमार निवासी मेन थप्पल कालाअंब तहसील नाहन जिला सिरमौर चिंतपूर्णी बस स्टैंड में ढाबे में काम करता था।

उसका पहले भी आरोपी विजय पुत्र संतलाल निवासी मोगा पंजाब के साथ झगड़ा हुआ था। मंगलवार को हैपी आरोपी के डर से बस स्टैंड के अंदर दुकानों के पीछे सोया था। इस बीच, आरोपी विजय ने सिर पर पत्थर मारकर उसे मौत के घाट उतार दिया और इसके बाद पत्थर बस स्टैंड के पास फेंक कर फरार हो गया। पत्थर फेंकने के दौरान वह सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया। आरोपी चिंतपूर्णी में कबाड़ का काम करता है।

कुछ दिन पहले ही अपने गांव से पहुंचा था। पुलिस छानबीन में सामने आया कि आरोपी ने उसकी पत्नी के साथ अवैध संबंध के चलते हैपी की हत्या की है। आरोपी की पत्नी भी चिंतपूर्णी में साफ-सफाई का काम करती है। बुधवार सुबह एसपी कांगड़ा खुशहाल शर्मा ने घटनास्थल का दौरा किया। उन्होंने बताया कि हत्या आरोपी रात को ही भागने की फिराक में था। बताया कि पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।
... और पढ़ें

छात्राओं से अश्लील बातें करने का मामला: आरोपी कार्यकारी प्रिंसिपल भेजा जेल, मोबाइल खोलेगा कई राज

हिमाचल प्रदेश के शिमला जिले के रोहड़ू में स्थित सीमा कॉलेज में छात्राओं के साथ फोन पर अश्लील बातें करने के आरोप में गिरफ्तार कार्यकारी प्रिंसिपल को न्यायालय ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। पुलिस ने रिमांड का समय पुरा होने के बाद आरोपी को सोमवार को न्यायालय में पेश किया। पुलिस ने प्रिंसिपल के फोन को कब्जे में लेने के बाद फोरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है। फोन की कॉल डिटेल से कई राज खुल सकते हैं। 

सीमा कॉलेज की दो छात्राओं की ओर से कार्यकारी प्रिंसिपल के खिलाफ दो अलग-अलग मामले पुलिस थाना रोहडू में दर्ज किए करवाए गए हैं। दो अन्य छात्राओं की ओर से एक शिकायत शिक्षा विभाग के पास जांच के लिए लंबित है। प्रिंसिपल के खिलाफ दोनों मामले पोक्सो एक्ट में दर्ज किए गए हैं। मामला दर्ज होने के बाद आरोपी कार्यकारी प्रिंसिपल को पुलिस ने तीन दिन पहले गिरफ्तार किया था। 

पुलिस ने आरोपी का मोबाइल कब्जे में ले लिया है। फोन की कॉल डिटेल ही सभी आरोपों को पुख्ता करने में अहम भूमिका निभा सकती है। आरोपी के खिलाफ कॉलेज में उसके कार्यकाल में की गई कुछ भर्तियों और वित्तीय मामलों की विभागीय जांच  शुरू करने की तैयारी भी चल रही है। डीएसपी रोहडू चमन लाल ने कहा न्यायालय से आरोपी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। आरोपी का मोबाइल कब्जे में लिया गया है। इसे जांच के लिए फोरेंसिंक लैब भेज गया है। 
... और पढ़ें

फर्जी डिग्री मामला: राजकुमार राणा की पत्नी और बेटी भगौड़े घोषित

फर्जी डिग्री मामले के आरोपी सोलन स्थित मानव भारती विश्वविद्यालय (एमबीयू) ट्रस्ट के मुख्य ट्रस्टी एवं संचालक राजकुमार राणा की पत्नी अशोनी कंवर व उसकी बेटी आईना राणा को अदालत ने भगौड़ा घोषित कर दिया है। ये दोनों भी विवि की ट्रस्टी हैं। विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने हाल ही में राणा, उसकी पत्नी और बेटे व बेटी की डिग्रियों की भी जांच की थी, जिसमें उनकी डिग्रियां भी फर्जी पाई गई थीं। उन्हें 3 जनवरी तक कोर्ट में हाजिर न होने पर सोमवार को सोलन स्थित न्यायाधीश प्रथम श्रेणी की अदालत ने दोनों को भगौड़ा घोषित कर दिया। गौर हो कि निजी विवि से लाखों फर्जी डिग्री बेचने के रैकेट की जांच स्टेट सीआईडी और हिमाचल प्रदेश पुलिस की संयुक्त एसआईटी कर रही है। वहीं, इस मामले को अब पीओ सेल के हवाले कर दिया गया है, ताकि आरोपियों की गिरफ्तारी हो सके। इस मामले की अगली सुनवाई आगामी अप्रैल में होनी है।

सहायक लोक अभियोजक सिम्मी शर्मा ने इसकी पुष्टि की है। राणा ने हाईकोर्ट से जमानत ले रखी है, जबकि उसकी पत्नी और बेटी फरार हैं। बताया जा रहा है कि राणा को परिवार सहित अदालत में पेश होने के आदेश दिए गए थे, लेकिन वे तय तिथि पर कोर्ट में हाजिर नहीं हुए। जिस पर उन्हें भगौड़ा घोषित किया गया। सोमवार को अदालत में सीआरपीसी 82 के तहत सर्विंग कांस्टेेबल के चस्पानगी ब्यान दर्ज किए गए, जिसके बाद आगामी कार्रवाई हुई। गौर हो कि सीआईडी और पुलिस ने अब तक की जांच के आधार पर राणा की पत्नी व दोनों बच्चों के खिलाफ कोर्ट से गैर जमानती वारंट हासिल कर उनके पासपोर्ट भी जब्त करा दिए हैं। फर्जी डिग्री का आरोपी यह परिवार ऑस्ट्रेलिया में रह रहा है। पासपोर्ट जब्त होने के बाद अब इनके पास भारत वापस आने के अलावा कोई और रास्ता नहीं रह गया है। राणा के नाम पर दर्ज करीब 194 करोड़ रुपये की संपत्तियों को सीआईडी पहले ही ईडी से जब्त करवा चुकी है।
... और पढ़ें

हमीरपुर: जमीन विवाद के चलते दो बड़े भाइयों ने छोटे को मार डाला

पुलिस थाना बड़सर के तहत ननावां पंचायत के ब्याड़ गांव में जमीन विवाद के चलते दो बड़े भाइयों ने छोटे को मौत के घाट उतार दिया। हत्या के इस मामले में पुलिस ने पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्जकर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। इनमें मृतक के दो बड़े भाई और एक भाई की पत्नी, बेटी और दामाद भी शामिल हैं। वहीं, पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल कॉलेज हमीरपुर भेज दिया है। जहां पर सोमवार को शव का पोस्टमार्टम होगा।  

पुलिस थाना बड़सर के तहत पड़ते ब्याड़ गांव के गौरी नंदन (64) पुत्र अनंत राम अपने परिवार सहित चंडीगढ़ में रहते थे। रविवार को वह अपने पैतृक गांव में आए थे। जहां उनके भाइयों के साथ बाथरूम निर्माण के चलते जमीन विवाद चल रहा था। मौके पर पंचायत प्रतिनिधि भी पहुंचे थे, लेकिन इस दौरान तीनों भाइयों में झड़प हो गई और धक्कामुक्की में गौरी नंदन नीचे गिर गए। इससे उसके सिर और आंख पर गंभीर चोटें आ गईं। जिसे उपचार के लिए अस्पताल लाया गया, लेकिन यहां उसकी मौत हो गई।

हत्या के आरोप में दो बड़े भाइयों और आरोपी भाई की पत्नी, बेटी व दामाद को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। डीएसपी बड़सर शेर सिंह ने कहा कि जमीन के झगड़े में एक व्यक्ति की मौत हो गई है। हत्या का मामला दर्ज कर पांच लोगों को गिरफ्तार कर छानबीन की जा रही है। शव को पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल कॉलेज हमीरपुर भेजा गया है। सोमवार को पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंपा जाएगा।  
... और पढ़ें

स्टेट नारकोटिक्स सेल: चंबा में 8 किलो चरस के साथ एक गिरफ्तार

चंबा-तीसा मार्ग पर कोटी वर्षाशालिका के पास एक व्यक्ति को पुलिस टीम ने 8.62 किलो ग्राम चरस के साथ धर दबोचा। स्टेट नारकोटिक्स सेल कांगड़ा की टीम ने रविवार दोपहर यह कार्रवाई की। 

पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी की पहचान सूरत दास निवासी बंजाल, डाकघर टिकरीगढ़, तहसील चुराह, जिला चंबा के रूप में हुई। बताया जा रहा है कि पुलिस टीम कोटी के पास मौजूद थी। इसी दौरान एक व्यक्ति वर्षाशालिका में बैग लेकर बैठा था।

वह टीम को देखकर घबरा गया। टीम ने शक के आधार पर तलाशी ली तो उसके बैग से चरस बरामद हुई। पुलिस पता लगाने में जुटी है कि आरोपी चरस कहां से लाया और कहां पहुंचाने जा रहा था। 

गौरतलब है कि जिले में चरस तस्करी के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। अब तक काफी मामले चरस तस्करी के सामने आ चुके हैं। एएसपी विनोद कुमार ने बताया कि मामला दर्ज कर पुलिस छानबीन कर रही है। 
... और पढ़ें
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00