विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को
Astrology Services

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

हिमाचल के 1.75 लाख कर्मचारियों को इस माह से बढ़कर मिलेगी पगार

हिमाचल सरकार ने पौने दो लाख से ज्यादा कर्मचारियों को चार फीसदी महंगाई भत्ते की अधिसूचना जारी कर दी है।

21 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

कुल्लू

बुधवार, 21 अगस्त 2019

तस्वीरें: मुरारीलाल माहेश्वरी स्मृति वाद-विवाद प्रतियोगिता में बिलासपुर कॉलेज बना विजेता

मुरारीलाल माहेश्वरी स्मृति मंडल स्तरीय वाद-विवाद प्रतियोगिता सोमवार को मंडी जिले के नेरचौक स्थित विजय मेमोरियल बीएड कॉलेज में संपन्न हुई। आईजी सेंट्रल जोन एन वेणुगोपाल ने कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। मंडी, बिलासपुर, हमीरपुर, कुल्लू और लाहौल स्पीति जिला को मंडल स्तरीय प्रतियोगिता में शामिल किया गया।
... और पढ़ें

एनएच समेत 50 सड़कें ठप; करोड़ों का सेब फंसा, बिजली और पानी का संकट

कुल्लू। जिले में बारिश के कारण जनजीवन अस्त-व्यस्त चल रहा है। एनएच-305 समेट 50 सड़कें अभी भी वाहनों की आवाजाही के लिए बहाल नहीं हो पाई हैं। जिला प्रशासन 51 सड़कों को बहाल करने का दावा कर रहा है। एक दर्जन बसें कई स्थानों पर फंसी हुई हैं। जिले में इन दिनों सेब का सीजन चला हुआ है। सड़कें बाधित होने से करोड़ों का सेब फंस गया है। जिले में बारिश से 76 ट्रांसफार्मरों में बिजली की सप्लाई प्रभावित हुई है। इनमें से बंजार क्षेत्र में सबसे अधिक हैं। यहां अभी भी बिजली की सप्लाई बहाल नहीं हो सकी है। विद्युत बोर्ड के अधिकारियों का दावा है कि अगर मौसम अनुकूल रहता है तो अगले दो दिन में सभी क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति बहाल कर दी जाएगी।
जिला प्रशासन ने दावा किया है कि कुल्लू जिले की 89 बंद सड़कों में से 51 सड़कों को बहाल कर दिया गया है। बारिश से सड़कें बाधित होने के कारण लोगों को मुुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। लोगों केे कई किलोमीटर तक पैदल ही सफर करना पड़ रहा है। सबसे अधिक परेशानी बागवानों को अपने उत्पादों को मंडियों तक पहुंचाने में आ रही है। उपायुक्त कुल्लू ऋचा वर्मा ने कहा कि सड़कों को खोलने का काम जारी है।
इधर, औट-आनी-सैंज हाईवे 305 सोमवार को भी बसों के लिए बंद रहा। दो दिन से बसों की आवाजाही नहीं होने से लोगों की परेशानी बढ़ गई है। बंजार के घियागी के पास डंगा गिरने तथा जलोड़ी दर्रा के साथ माशनूनाला में भूस्खलन होने से बंद हाईवे के चलते एचआरटीसी कुल्लू की तीन बसें आनी में फंस गई हैं। हाईवे के अवरुद्ध रहने से कई लोग देवता खुडीजल के देहुरी मेले के लिए नहीं जा सके। दो दिन से जलोड़ी दर्रा होकर गुजरने वाले औट-आनी-सैंज हाइवे पर रोजाना करीब एक दर्जन बसों की आवाजाही होती है। एक निजी बस को छोड़कर सभी बसें एचआरटीसी की चलती हैं। हाईवे को बहाल होने में अभी समय लग सकता है। एनएच-305 पर बस सेवा के बंद होने से बाह्य सराज की 58 पंचायतों की सवा एक लाख आबादी की परेशानी बढ़ गई है। लोगों को भारी भरकम किराया देकर टैक्सी में सफर करना पड़ रहा है। कई जगहों पर लोगों को जिला मुख्यालय कुल्लू पहुंचने के लिए मीलों पैदल का सफर भी करना पड़ रहा है। जगदीश चंद, लाल सिंह, भाग चंद, हीरा लाल, तेज राम, हंस राज, पन्ना लाल, ईश्वर दास, प्यारे लाल तथा दीवान सिंह ने कहा कि हाईवे-305 के अवरुद्ध होने से लोगों को परेशान होना पड़ रहा है। हाईवे के बंद होने से रोहाचला बस भी नहीं आ रही है और रघुपुर घाटी के लोग परेशान है। ... और पढ़ें

सेहत के लिए खतरनाक है दवाइयों से पकाया सेब

कुल्लू। अधिक मात्रा में सेब पर रसायन का प्रयोग घातक हो सकता है। बागवानी विशेषज्ञों ने सलाह दी है कि फल को पकाने के लिए रसायन का प्रयोग न करें। सेब सीजन इन दिनों चरम पर है। दाम अधिक लेने के चक्कर में बागवान सेब को पकाने के लिए रसायनों का प्रयोग कर रहे हैं। मंडियों में हाफ कलर सेब के बागवानों को उचित दाम नहीं मिलते हैं। यही कारण है कि सेब को पकाने के लिए रसायन का प्रयोग किया जाता है। यह फल की गुणवत्ता पर असर डालता है। इसके अलावा ऐसे फल के सेवन से सेहत पर असर पड़ता है। बागवानी विभाग के विशेषज्ञों ने सलाह दी है कि बागवान समय पर सेब का तुड़ान करें। सेब फलों में रंग लाने के लिए किसी रसायन का प्रयोग न करें।
सब्जी मंडी बंदरोल, पतलीकूहल, भुंतर में सैकड़ों सेब बॉक्स प्रतिदिन आ रहे हैं। कुल्लू में इस बार सेब की पैदावार बंपर हुई है। कई इलाकों में अभी सेब पका नहीं है। रंग न होने के कारण कुछ बागवान रसायन की स्प्रे कर रहे हैं। जो सेब फल की गुणवत्ता से लेकर आपकी सेहत तक बिगाड़ सकता है। ऐसे में बागवानी विभाग के विशेषज्ञों ने बागवानों को एडवाइजरी जारी करते हुए कहा है कि वह सेब के फल में रंग लाने के लिए बागवान किसी प्रकार के रसायन का इस्तेमाल न करें। ऐसा करने से सेब की गुुणवत्ता प्रभावित होगी। बागवानी विभाग के विषय विशेेषज्ञ उत्तम पराशर ने कहा कि बागवान सेब के फलों को सही समय आने पर ही निकालें। सेब के फलों में रंग लाने के लिए किसी प्रकार के रसायन का इस्तेमाल न करें। इससे सेब की गुणवत्ता प्रभावित होगी।
अधिक रसायनों के इस्तेमाल से अगली फसल पर असर
जब पेड़ों में अधिक रसायनों का इस्तेमाल किया जाता है, तो इसका असर पौधे पर पड़ता है। सेब के पेड़ से पत्ते जल्दी गिर जाते हैं। पौधे में बना प्राकृतिक चक्र भी टूट जाता है। इसका असर अगली फसल पर पड़ता है। पेड़ में उत्पादन क्षमता कम हो जाती है। रसायनों के इस्तेमाल से पौधे की उम्र भी कम रह जाती है। ... और पढ़ें

बहाली के कुछ घंटे बाद मनाली-लेह सड़क फिर बंद, सैकड़ों वाहन फंसे

मनाली-लेह सामरिक मार्ग पर फंसे वाहनों को बुधवार दोपहर बाद 36 घंटे के बाद रफ्तार मिली। 30 मीटर हिस्से को दुरुस्त करने में बीआरओ को डेढ़ दिन का समय लग गया। लेकिन बहाली के कुछ घंटे बाद शाम को करीब 6.30 बजे मनाली-लेह मार्ग फिर बंद हो गया। इस दौरान सेना, पर्यटक, मालवाहक वाहनों के अलावा सब्जियों से लदे सैकड़ों मालवाहक वाहन फिर से फंस गए।

 बताया जा रहा है कि मंगलवार तड़के करीब चार बजे भूस्खलन में एक तेल का टैंकर दब गया था, जिसे निकालकर बुधवार दोपहर बाद करीब चार बजे मार्ग को बहाल किया गया। बीआरओ ने मंगलवार दोपहर बाद राहत कार्य शुरू किया था। देर शाम कुछ घंटों के लिए सड़क को छोटे वाहनों के लिए बहाल किया गया।

लेकिन रात को भारी बारिश से भूस्खलन के कारण सड़क फिर बंद हो गई। ऐसे में मंगलवार रात भर वाहनों की कतारें लगी रहीं। रोहतांग और मढ़ी में फंसे वाहनों में सवार लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। इसमें मनाली की तरफ से केलांग की ओर गए कई लोगों को तो रात को ही मनाली लौटना पड़ा।

मढ़ी से रोहतांग और मढ़ी से कोठी के बीच फंसे लोगों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ा। हजारों पर्यटक और जनजातीय लोग रोहतांग और गुलाबा के बीच भी फंसे रहे। बीआरओ के कमांडर उमा शंकर ने कहा कि बुधवार शाम को मनाली-लेह मार्ग बड़े वाहनों के लिए बहाल कर दिया गया है। लेकिन शाम को फिर भूस्खलन होने से यह मार्ग फिर बंद हो गया है। 
... और पढ़ें

सैंज में कई सड़कें बंद, फंस गया सेब

सैंज (कुल्लू)। घाटी में अधिकतर संपर्क सड़कें भारी बारिश के कारण बंद हो गई हैं। इनमें से कुछ सड़कों में भूस्खलन और अधिकतर सड़कें बाढ़ में बह गई हैं। इन सड़कों को खुलने में अभी समय लग सकता है। सड़कों के बाधित होने से घाटी के ऊपरी क्षेत्र में सेब फंस गया है। घाटी में इस बार सेब की बंपर पैदावार हुई है।
बगीचों में अभी तक 50 फीसदी सेब है। सड़कें बंद होने से बागवान परेशानी में हैं। जिले में मंगलवार को धूप खिलते ही बागवान सेब के तुड़ान में जुट गए। ग्रेडिंग और पैकिंग का काम भी साथ-साथ चल रहा है। मंडियों में भेजने के लिए तैयार पेटियों को सड़क तक पहुंचाने में खासी मशक्कत करनी पड़ रही है। देहुरी, शैंशर, देहुरीधार, शांघड़, रैला, धाउगी और कनौन पंचायत के अधिकतर संपर्क मार्ग बंद पड़े हुए हैं। बारिश के कारण सियूंड-रैला, न्यूली-तल्याहरा, सैंज-देहुरी-मन्याशी, सियूंड-शुकारी, रोपा-खत्यउगी, सैंज-कौंशा तथा रोपा-शांघड़ सहित कई छोटी सड़कें बंद हो गई हैं। सेब उत्पादक क्षेत्र होने से बागवान अपने सेब को मंडियों में पहुंचाने को लेकर चिंता में है। समय पर उत्पादन मंडियों में नहीं पहुंचने से सड़ने का डर सता रहा है। बागवान रमेश कुमार, राज कुमार, आलम चंद, दिवान सिंह, ज्ञान चंद, देस राज, मोहन लाल, लक्ष्मण, हीरा सिंह, देव राज, विद्या प्रकाश ने कहा कि सड़क बंद होने से उन्हें सेब की पेटियां पीठ पर उठा कर मुख्य सड़क तक पहुंचानी पड़ेगी। इसके लिए उन्हें अतिरिक्त खर्च उठाना पड़ेगा। कई गांव में पैदल रास्तों की हालत भी खराब होने से बागवान संकट में हैं। रैला, शैंशर और देहुरी की सड़कों की हालत सबसे ज्यादा खराब है। योग राज, प्रेम सिंह, लाल चंद और रमेश ने कहा कि यदि यही हालत रही तो भारी नुकसान झेलना पड़ेगा। एक तरफ बाजार में सेब की कीमत में लगातार गिरावट आ रही, वहीं दूसरी तरफ सड़कों की बिगड़ी हालत ने चिंता में डाल दिया है। बागवानों ने प्रशासन से गांवों की संपर्क सड़कों को जल्द बहाल करने की गुहार लगाई है। उधर, एसडीएम बंजार एमआर भारद्वाज ने कहा कि क्षेत्र में लगभग सभी मुख्य सड़कें यातायात के लिए बहाल कर दी गई हैं। भारी बारिश से बाधित हुई संपर्क सड़कों की रिपोर्ट मांगी गई है। जल्द ही इन्हें खोलने के लिए मजदूर और मशीनें भेजी जाएंगी। ... और पढ़ें

भारी बारिश से तीन दिन में बह गए दस करोड़

कुल्लू। देवभूमि कुल्लू में तीन दिन तक हुई बारिश से जहां जानमाल की हानि हुई, वहीं करोड़ों की संपत्ति को नुकसान हुआ है। तीन दिन की मूसलाधार बारिश दस करोड़ बहा ले गई। लोक निर्माण विभाग को सबसे अधिक नुकसान हुआ है। सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग और विद्युत बोर्ड को भी करोड़ों की चपत लगी है। कृषि और बागवानी विभाग को भी बारिश से नुकसान हुआ है। यह नुकसान कम है।
विभाग से मिली जानकारी के अनुसार लोक निर्माण विभाग को चार करोड़ 52 लाख का नुकसान हुआ है। इसमें टापू में बही अस्थायी पुल की सड़क, अन्य सड़कें शामिल हैं। बारिश के बाद जिले में करीब 100 सड़कें बंद हो गई थी। सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग को चार करोड़ 31 लाख का नुकसान हुआ है। इसमें 95 पेयजल और दो दर्जन सिंचाई योजनाओं को बारिश से नुकसान हुआ। ग्रामीण क्षेत्रों के नालों में बाढ़ और भूस्खलन से पेयजल लाइनें टूट गई, जिससे पेयजल योजनाओं पर असर पड़ा। बारिश के बाद नुकसान होने के मामले में तीसरे नंबर पर विद्युत बोर्ड है। विद्युत बोर्ड को बारिश से एक करोड़ 55 लाख का नुकसान आंका गया है। बागवानी और कृषि विभाग को काफी नुकसान बताया गया है। भारी बारिश और तूफान के कारण सेब के पेड़ गिर गए, जबकि मक्की और राजमा की फसल ढह गई। कुल्लू में हुई भारी बारिश से तीन लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी। पलचान में बने हाई स्कूल का भवन बह गया। टापू में ब्यास नदी पर अस्थायी पुल की सड़क, कुल्लू-मनाली एनएच तीन का हिस्सा भी बह गया था। इसके साथ बारिश से 16 मकान क्षतिग्रस्त हो गए थे। बारिश के चौथे दिन बाद स्थिति अब धीरे-धीरे सामान्य हो रही है। इस संबंध में एडीएम अक्षय सूद ने कहा कि पिछले तीन दिनों में बारिश से दस करोड़ का नुकसान हुआ है। इसमें लोक निर्माण विभाग को चार करोड़ 52 लाख, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग को चार करोड़ 31 लाख और विद्युत बोर्ड को एक करोड़ 55 लाख का नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि संबंधित विभागों को सड़क, पानी, बिजली आपूर्ति सुचारु करने के निर्देश दिए गए हैं। ... और पढ़ें

बंता मोड़ में भूस्खलन, मनाली-लेह सड़क अवरुद्ध

कुल्लू। भूस्खलन और चट्टान खिसकने से मंगलवार को मनाली-लेह सामरिक मार्ग बंद रहा। सड़क अवरुद्ध होने से सेना की कनवाई मढ़ी से पलचान ट्रांजिट कैंप लौट आई। इसके अलावा मंगलवार सुबह करीब चार बजे मढ़ी से चार किमी रोहतांग की तरफ बंता मोड़ के पास भारी भूस्खलन और चट्टान खिसकने से एक तेल का टैंकर दब गया। यह सड़क मंगलवार देर शाम करीब छह बजे बहाल हुआ।
बीआरओ ने दोपहर बाद ही मलबा हटाने का काम शुरू किया। बीआरओ ने टैंकर को हटाकर मार्ग बहाल किया। लेकिन इसके बाद फिर सड़क बंद हो गई। इसके पहले लाहौल और लेह जाने वाले सैकड़ों लोग दिन भर भूखे, प्यासे गुलाबा बैरियर पर फंसे रहे। इनमें अधिकांश नवजात, छोटे बच्चे और महिलाएं शामिल थे। लाहौल जाने वाले लोग मनाली और कुल्लू प्रशासन से गुहार लगाते रहे कि उन्हें मढ़ी तक छोड़ा जाए, जिससे वहां पहुंच कर खाना मिल सके। लेकिन जनता की अपील के बावजूद लोगों को गुलाबा बैरियर से आगे नही छोड़ा गया। सड़क बंद होने से पिछले दो दिनों से मढ़ी में फंसे सेना के करीब 60 वाहनों को वापस पलचान स्थित ट्रांजिट कैंप लौटना पड़ा। गुलाबा और बंता मोड़ से ऊपर लगभग एक हजार वाहन और करीब ढाई हजार लोग दिन भर भूखे प्यासे फंसे रहे। इसमें गोभी, मटर और अन्य फसलों से लदे दर्जनों वाहन जाम में फंसने से किसानों और व्यापारियों को लाखों का नुकसान उठाना पड़ा है। स्थानीय लोग राजेश, खुशाल, दिनेश, अनिल तथा अंगमो ने कहा कि जब मढ़ी में पार्किंग की व्यवस्था है तो प्रशासन ने गुलाबा बैरियर पर बेवजह लाहौल जाने वाले लोगों को दिन भर रोका। गुलाबा में खाने की व्यवस्था नहीं है। गुलाबा से 15 और मढ़ी से चार किमी आगे सड़क बंद रही। लिहाजा गुलाबा में वाहनों को रोकना किसी तरह जायज नहीं है। उधर, एसडीएम मनाली डॉ. अमित गुलेरिया ने कहा कि बंता मोड़ में भूस्खलन और चट्टान खिसकने से मनाली-लेह सड़क बंद हो गई है। ट्रैफिक को देखते हुए वाहनों को गुलाबा बैरियर पर रोका गया। ... और पढ़ें

बिजली से रोशन होंगे शाक्टी-मरोड़, शुगाड़ गांव

न्यूली (कुल्लू)। सैंज घाटी में ग्राम पंचायत गाड़ापारली के अति दुर्गम शुगाड़, शाक्टी, मरोड़, कोटला गांव जल्द बिजली से रोशन होंगे। आजादी के बाद अब इन गांवों में बिजली की लाइन पहुंचाई जाएगी। गांवों को दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना के तहत बिजली पहुंचाई जाएगी। इसकी तैयारी विद्युत बोर्ड ने कर दी है।
गांवों को बिजली से जोड़ने के लिए करीब 11 किलोमीटर लंबी विद्युत लाइन बिछाई जाएगी, जिसकी तैयारी विद्युत बोर्ड ने शुरू कर दी है। बिजली से जुड़ने को लेकर इन गांवों में खुशी की लहर है। गाड़ापारली पंचायत प्रधान भाग चंद, बीडीसी सदस्य जयवंती, मोती राम, डोले राम, जीत राम, शेर सिंह, तीर्थ राम ने कहा कि दुर्गम होने के चलते यहां आज तक बिजली की लाइन नहीं पहुंच पाई है। ऐसे में लोगों को अपने घरों को मशालों से रोशन करना पड़ता था। कहा कि सोलर लाइटों का भी गांवों में इस्तेमाल होता है। लेकिन सर्दियों के दिनों में गांवों में मुश्किलें पेश आती हैं। गांवों को बिजली से जोड़ने को लेकर आज तक सिर्फ उन्हें आश्वासन ही मिलते रहे। गांव के कई बुजुर्ग बिजली मिलने से पहले ही चल बसे। अब जाकर उनकी बात को सुना गया है। ग्रामीणों ने मांग की कि जल्द इसका कार्य आरंभ कर गांवों को बिजली से जोड़ा जाए।
11 किमी तक बिछेगी बिजली लाइन : रूम
बिजली बोर्ड के अधिशासी अभियंता रूम सिंह ठाकुर ने कहा कि दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना के तहत बिजली पहुंचाई जाएगी। इस विद्युत लाइन की कुल लंबाई 11 किलोमीटर होगी। उन्होंने कहा कि इसकी प्रक्रिया शुरू हो गई है। गांवों को बिजली से जुड़ने पर यहां के बाशिंदों को सुविधा मिलेगी। ... और पढ़ें

बाइक चोरी करने वाले जीजा, साला दबोचे

कुल्लू। पुलिस ने कुल्लू शहर में बाइक चोरी की वारदातों को अंजाम देने वाले शातिर जीजा और साला को दबोचा है। दोनों आरोपी कुल्लू से बाइक चुराकर उनकी नंबर प्लेट बदल देते थे। इसके बाद बाइक को मोडिफाई कर सस्ते दामों पर केलांग, बरशैणी, बजौरा और पंडोह में बेचते थे। पुलिस दोनों के खिलाफ मामला दर्ज कर छानबीन में जुट गई है।
जानकारी के अनुसार पुलिस को सूचना मिली थी कि एक बुलेट मोटरसाइकिल बिना नंबर प्लेट के केलांग में चल रही है। इसके आधार पर टीम केलांग पहुंची, जहां पर चोरी की मोटरसाइकिल बरामद हुई। इसके अलावा जिस व्यक्ति के पास यह बुलेट मोटरसाइकिल थी, उसने पूछताछ में बताया कि उसने यह मोटरसाइकल बली राम (31) निवासी गांव चौक, डाकघर सोमनाचणी, तहसील बालीचौकी से 20,000 रुपये में खरीदी है। इसके बाद पुलिस ने आरोपी को धरा। उसने पूछताछ करने पर जुर्म कबूला। उसने बताया कि यह बाइक चोरी करने के बाद बेची थी। आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने जांच में पाया कि दो अन्य जगहों पर भी बाइक चोरी हुई थी। आरोपी ने कबूल किया कि उसका जीजा लीलामणी (24) निवासी गांव नहरा, डाकघर सोमनाचणी, तहसील बालीचौकी, जिला मंडी भी चोरी की वारदातों में उसके साथ शामिल था। दोनों ने कुल्लू शहर में करीब चार मोटरसाइकिल चोरी किए थे। इसके बाद पुलिस ने लीलामणि को भी गिरफ्तार किया। मामले की पुष्टि एसपी गौरव सिंह ने की। कहा कि चोरी करने के बाद दोनों आरोपी इन मोटरसाइकिलों के नंबर प्लेट बदलकर कम दाम में केलांग, बरशैणी, पंडोह, बजौरा आदि जगहों में बेच देते थे। अभी तक तीन चोरी के मुकदमों में चार बाइक (दो बुलेट, दो पल्सर 220) जिनकी कीमत लगभग 4 लाख 60 हजार तक है, उनको रिकवर किया जा चुका है। आरोपियों ने यह चोरी करीब तीन माह के दौरान की है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस ने विशेष टीम का गठन किया है। ... और पढ़ें

फल मंडियों में घटेगा आढ़तियों का कमीशन, जानिए हिमाचल कैबिनेट के बड़े फैसले

हिमाचल की फल एवं सब्जी मंडियों में आढ़तियों का कमीशन पांच से घटाकर दो फीसदी किया जाएगा। इसके लिए प्रदेश विधानसभा के चल रहे मानसून सत्र में कृषि उत्पाद मंडी समिति (एपीएमसी) संशोधन बिल-2019 पेश किया जाएगा। मंगलवार को राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में इस बिल के ड्राफ्ट पर चर्चा हुई।
... और पढ़ें

हिमाचल में भूस्खलन से 824 सड़कें बंद, नेरवा में 554 छात्राएं फसीं

हिमाचल में तीन दिन तक भारी बारिश के बाद भले ही मंगलवार को मौसम खुल गया, लेकिन दुश्वारियां कम नहीं हुईं। प्रदेश में अभी भी 824 सड़कें बंद हैं। जगह-जगह भूस्खलन से प्रदेश में सैकड़ों लोग और पर्यटक फंसे हैं।

नेरवा में अंडर-19 खेलकूद स्पर्धा के लिए गईं शिमला जिले की 554 छात्राएं फंस गई हैं। रोहतांग मार्ग पर मढ़ी में मंगलवार तड़के चार बजे भूस्खलन से सैकड़ों पर्यटक वाहनों सहित फंसे रहे। लेह के लिए निकली सेना की गाड़ियां मनाली लौट आईं।

मनाली-लेह हाईवे पर बंता के पास तेल के टैंकर पर चट्टानें गिर गईं। हालांकि इससे कोई जानी नुकसान नहीं हुआ है। हालांकि मार्ग कुछ देर के लिए बहाल हुआ, लेकिन शाम को भूस्खलन के चलते फिर से बंद हो गया। इसके चलते सैकड़ों पर्यटक और लाहौल जाने वाले वाहन फंस गए हैं।

शिमला और कुल्लू के ग्रामीण इलाकों में सड़कें बहने से करोड़ों का पेटियों में बंद सेब फंस गया है। पहाड़ दरकने से शिमला-कालका हाईवे तीन घंटे बाधित रहा। हमीरपुर के मैड़ के पास बाधित शिमला-मटौर एनएच देर शाम बहाल हुआ। 
... और पढ़ें

हिमाचल विधानसभा के मानसून सत्र में दूसरे दिन भी हंगामा, विपक्ष ने किया वाकआउट

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के मानसून सत्र के दूसरे दिन भी सदन में हंगामा हुआ और विपक्ष ने वाकआउट कर दिया। ऊना के कांग्रेस विधायक से जुडे़ शराब प्रकरण पर सदन में प्रश्नकाल शुरू होने से पहले ही विपक्ष के सदस्य शोर-शराबा करते रहे। विपक्षी कांग्रेस ऊना के एसपी की बर्खास्तगी और तबादले की मांग करती रही।

सीएम ने जांच के पूरा होने से पहले तबादले से इंकार किया तो नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री के नेतृत्व में कांग्रेस विधायक नारेबाजी करते हुए वेल में चले गए। पहले खडे़ होकर नारेबाजी करते। बाद में चौकड़ी मारकर नीचे बैठ गए। प्रश्नकाल के खत्म होते ही विपक्ष के सदस्यों ने वाकआउट कर दिया। माकपा विधायक राकेश सिंघा ने भी कांग्रेस विधायकों के साथ वेल में जाने के बाद वाकआउट किया। 

मंगलवार को मानसून सत्र की दूसरी बैठक के शुरू में ही नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने हाथ खड़ा कर स्पीकर डा. राजीव बिंदल की ओर इशारा किया। मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि नियम - 67 के तहत उन्होंने आग्रह किया था कि जो ऊना का विधायक से संबंधित मसला है, उसके लिए काम रोको प्रस्ताव मंजूर किया जाए। सीएम ने सदन मेें वह पक्ष रखा है जो पुलिस ने कहा।
... और पढ़ें

हिमाचल कैबिनेट की बैठक आज, इन फैसलों पर लगेगी मुहर

हिमाचल मंत्रिमंडल की बैठक मंगलवार को सदन की कार्यवाही के बाद बुलाई गई है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में यह बैठक प्रदेश विधानसभा परिसर में ही संभावित है।

इसमें विधानसभा में पेश किए जा रहे विधेयकों पर चर्चा के अलावा कई अन्य फैसले लिए जा सकते हैं। वहीं, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर मंगलवार को सदन में अनुच्छेद 370 खत्म करने के मामले में अपना वक्तव्य प्रस्तुत करेंगे।

सदन में स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार गुर्दा प्रत्यारोपण सुविधा देने पर अपना वक्तव्य प्रस्तुत करेंगे। प्रदेश में भारी बरसात से हुए नुकसान के मामले में भी सदन में चर्चा होगी। नियम 130 के तहत इस संबंध में सात विधायकों ने प्रस्ताव लाने को नोटिस दिया है। 
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree