विज्ञापन
विज्ञापन
आज ही बनवाएं फ्री जन्म कुंडली और पाएं समस्त परेशानियों के ज्योतिष्य समाधान
Kundali

आज ही बनवाएं फ्री जन्म कुंडली और पाएं समस्त परेशानियों के ज्योतिष्य समाधान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

नाबालिग से दरिंदगीः जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष कर रही है छोटी निर्भया

एम्स में भर्ती 12 वर्षीय दुष्कर्म पीड़िता की हालत गंभीर बनी हुई है। शुक्रवार को सर्जरी के लिए उसे न्यूरो आईसीयू में स्थानांतरित किया गया था,लेकिन सिर में काफी सूजन होने के चलते अभी तक उसकी सर्जरी नहीं हो सकी है। डॉक्टरों का कहना है कि बच्ची की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है और वह वेंटिलेटर पर है। 

एम्स के न्यूरो विभाग के डॉक्टरों का कहना है कि बच्ची अभी भी गम्भीर हालत में है। उसे अभी  तक होश नहीं आया है और वह ठीक से सांस भी नहीं ले पा रही है। इस वजह से उसे वेंटिलेटर सपोर्ट देना पड़ रहा है। पीड़िता की हालत देखकर इलाज करने वाले डॉक्टर भी उसे जल्द ठीक होने की प्रार्थना कर रहे हैं। डॉक्टर ने बताया कि उसे दवा से ठीक करने की कोशिश की जा रही है। दो दिन पहले पीडियाट्रिक सर्जरी और प्रसूति रोग के डॉक्टरों ने मिलकर पीड़िता के पेट के निचले हिस्से की सर्जरी की थी। 

बच्ची का इलाज कर रहे डॉक्टरों के मुताबिक, जिस वक्त उसे एम्स में भर्ती किया गया था तब वह वेंटिलेटर सपोर्ट पर थी, लेकिन बाद में वेंटिलेटर से हटा लिया गया था, लेकिन उसकी हालत स्थिर नहीं हुई। इस वजह से उसे दोबारा वेंटिलेटर सपोर्ट देना पड़ा है। सीटी स्कैन जांच में पता चला था है कि बच्ची के सिर के अंदर चोट के गंभीर निशान हैं। उसके मस्तिष्क में सूजन आ गई है। इस कारण सिर की सर्जरी नहीं हो पा रही है। सूजन कम होने पर सर्जरी की जाएगी। शुक्रवार को बच्ची की प्लेटलेट्स भी काफी कम हो गई थीं, जिसमें शनिवार को थोड़ा सुधार आया है।

बता दें कि पश्चिमी दिल्ली के पीरागढ़ी इलाके में मंगलवार शाम को घर में अकेली 12 साल की बच्ची को दुष्कर्म के बाद कैंची से गोदने का मामला सामने आया था। उसे अधमरी हालत में छोड़कर अपराधी फरार हो गए थे। गंभीर हालत में उसे संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां बच्ची की हालत बिगड़ती देख उसे एम्स में रेफर कर दिया गया था।

आतिशी ने परिजनों को 10 लाख का चेक सौंपा
आम आदमी पार्टी की विधायक आतिशी ने एम्स में भर्ती दुष्कर्म पीड़िता के परिजनों से मुलाकात की और 10 लाख रुपये की सहायता राशि का चेक सौंपा। इससे पहले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पीड़िता के परिजनों से मिले थे और उन्हें सहायता राशि देने का वादा किया था। केजरीवाल ने कहा था कि सरकार बच्ची के परिजनों की आर्थिक सहायता करेगी और उन्हें हर संभव मदद कराएगी। शुक्रवार को मुख्यमंत्री ने अस्पताल जाकर बच्ची की हालत का जायजा भी लिया था। 

आतिशी ने कहा  कि बच्ची अभी भी न्यूरो सर्जरी वार्ड में है और उसकी हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है। वह उसके जल्द से जल्द ठीक होने की प्रार्थना करती हैं। आतिशी ने कहा कि उन्होंने  बच्ची के परिजनों से बात की और सरकार की ओर से उन्हें हर प्रकार की मदद का आश्वासन दिया है। 

आतिशी ने कहा कि उनकी जनता से अपील है कि सभी लोग  बच्ची के जल्द से जल्द स्वस्थ होने की प्रार्थना करें,ताकि वह ठीक होकर अपने परिवार के पास वापस आ सके। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री  के वादे के अनुसार पीड़िता के परिजनों को 10 लाख रुपए की सहायता राशि का चेक सौंप दिया है। उन्होंने कहा कि यह राशि उनके साथ जो घटना घटित हुई है, किसी भी प्रकार से  भरपाई नहीं कर सकती है,लेकिन इलाज और सामान्य जीवन की अन्य जरूरतों को पूरा करने में यह राशि सहायक सिद्ध होगी। 

 
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

दिल्ली-6 के 'कोरोना' ने 60 साल पहले बदल दी कृष्ण भक्ति की शैली

जिस तरह आज कोरोना वायरस ने दुनियाभर में इंसान के जीने का तरीका बदल दिया है, ठीक उसी प्रकार लगभग 60 साल पहले इस्कॉन के संस्थापक अभय चरण भक्तिवेदांत स्वामी ने दिल्ली-6 से खरीद कर लाए एक कोरोना टाइपराइटर से दुनियाभर में कृष्ण भक्ति की रूपरेखा बदल कर रख दी थी। 

भक्तिवेदांत स्वामी ने वर्ष 1960 में वृंदावन से दिल्ली आकर चांदनी चौक के छिपीवाड़ा में 200 गज की एक छोटी सी जगह पर अपना स्थान बनाया था। मालीवाड़ा बाजार से उन्होंने 32 रुपये का एक कोरोना टाइपराइटर खरीदा था। इसी टाइपराइटर से उन्होंने श्रीमदभगवत गीता का संस्कृत से अंग्रेजी में अनुवाद कर टाइप किया था। 

उन्होंने ही इसकी प्रूफरीडिंग की थी और प्रिंट करवाया था। उन्होंने देश के तत्कालीन प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री, राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति डॉ जाकिर हुसैन, शिक्षा मंत्री केएल श्रीमाली और गीता प्रेस के प्रमुख हनुमान प्रसाद पोद्दार को भी श्रीमदभगवतम् की एक-एक प्रति भेंट की थी। 

दुनिया में बदल गई कृष्ण-भक्ति की रूपरेखा
आज दुनिया भर में इस्कान द्वारा बनाए भगवान श्री कृष्ण के 700 मंदिर हैं। अकेले भारत में 108 मंदिर हैं। भगवान श्री कृष्ण के दुनियाभर में लाखों भक्त हैं। लेकिन यह सब तब संभव हो पाया जब अभय चरण भक्तिवेदांत स्वामी कृष्ण भक्ति का प्रचार प्रसार करने अमेरिका जा पहुंचे। उस समय पूरी दुनिया अंग्रेजी भाषा और अमेरिका की तरफ देख रही थी। इसलिए उन्होंने वर्ष 1966 में इस्कॉन का पहला मंदिर भी 20 सेकंड एवेन्यू न्यूयॉर्क में बनवाया। जहां से भगवान श्रीकृष्ण दुनिया भर में सुगमता के साथ पहुंच गए। 

दुनियाभर के इस्कॉन मंदिरों का केंद्र है चांदनी चौक
चांदनी चौक मंदिर के सदस्य नीलकंपठ दास ने बताया की 25 जुलाई सन 1967 को वेदांती महाराज अमेरिका से वापस आए और चांदनी चौक में इस्कॉन की आधारशिला रखी। इसी मंदिर के अंदर वेदांती जी से जुड़ी स्मृतियों को संजोकर रखा गया है। यहां पर कोरोना टाइपराइटर पर काम करते हुए अभय चरण भक्तिवेदांत स्वामी की तस्वीरें आज भी देखी जा सकती हैं। कोरोना काल में जिनकी प्रासंगिकता बढ़ गई है।

कोरोना टाइपराइटर
अमेरिका की स्मिथ कोरोना टाइपराइटर कंपनी की स्थापना 1886 में लेमैन, विलबर्ट, मोनरो और अर्लबर्ट स्मिथ ने मिलकर की थी।
... और पढ़ें

केजरीवाल ने कहा, बदबू वाला प्लांट ठीक करो नहीं तो 10 दिन में बंद कर देंगे

बदबू वाला कंपोस्ट प्लांट या तो ठीक करों नहीं तो दस दिन के भीतर बंद करो। स्थानीय लोगों की समस्या का निदान करने पहुंचे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एनडीएमसी के अधिकारियों को यह निर्देश दिए। 

दरअसल मुख्यमंत्री अपने विधानसभा क्षेत्र में शनिवार को दौरा करने पहुंचे थे। मुख्यमंत्री जब गोल मार्केट के सेक्टर-4 स्थित कंपोस्ट प्लांट का जायजा लेने पहुंचे तो लोगों ने प्लांट से बदबू व मच्छर व मक्खियों की परेशानी से अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने स्थानीय लोगों को आश्सवासन देने के साथ एनडीएमसी के अधिकारियों को 10 दिन का वक्त दिया। कहा कि 20 अगस्त तक समस्या खत्म नहीं हुई तो प्लांट बंद कर दिया जाएगा। 

केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘‘आज अपने नई दिल्ली विधानसभा क्षेत्र के गोल मार्केट इलाके का दौरा किया। क्षेत्रवासियों की समस्याओं पर अफसरों को तुरंत कार्रवाई करने के आदेश दिए। मुख्यमंत्री ने क्षेत्र के लोगों की समस्याएं सुनी और निवारण करने का संबंधित अधिकारियों को आदेश दिए। दरअसल एनडीएमसी ने करीब एक साल पहले भारती पब्लिक स्कूल के पीछे नर्सरी में कंपोस्ट प्लांट लगाया है। 

इस प्लांट में रसोई के गीले कूड़े को लाया जाता है और उससे कंपोस्ट खाद बनाई जाती है, जो बाद में पौधों में देने के काम आती है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इस प्लांट की बदबू से गोल मार्केट स्थित सेक्टर-4 के ब्लॉक संख्या 39 से 69 के लोग सबसे अधिक प्रभावित हैं। जब भी हवा चलती है, तो उनके घर के अंदर तक बदबू आती है। 

मुख्यमंत्री ने एक पार्क में औषधीय पौधा लगाया और उस क्षेत्र की सभी आरडब्ल्यूए पदाधिकारियों की समस्याएं सुनी। पेयजल की कमी, बिजली कटौती और पेड़ों की छटाई नहीं होने की समस्या रखी। मुख्यमंत्री ने तीनों समस्याओं को संबंधित अधिकारियों को शीघ्र निस्तारित करने का निर्देश दिया।

स्थानीय निवासी सतीश कुमार यादव का कहना था कि मुख्यमंत्री के दौरे से काफी खुश हैं। उम्मीद है कि समस्याएं खत्म होंगी। इसी तरह जया नंद ध्यानी का कहना था कि कंपोस्ट प्लांट से आने वाली बदबू से लोग परेशान हैं। अधिकारी सुनने को तैयार नहीं होते थे। अब उन्हें मुख्यमंत्री का आदेश मानना ही पड़ेगा।
... और पढ़ें

जूम एप से मनेगा श्रीकृष्ण जन्मोत्सव, भव्यता में नहीं होगी कोई भी कमी

कोविड-19 के खतरे के बीच आयोजित होने जा रहे श्रीकृष्ण जन्मोत्सव की भव्यता में इस बार भी कोई कमी नहीं रहेगी। मौजूदा समय दिल्ली के सभी हिस्सों में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की तैयारियां जोरों से चल रही हैं। इस बार आयोजन का स्वरूप बदला नजर आएगा। इस साल राजधानी में 1008 से अधिक घरों में जूम ऐप के माध्यम से भगवान श्रीकृष्ण भक्तों के बीच विराजमान होंगे। तो कहीं पर 1008 प्रकार के व्यंजनों से नंदलाल को भोग लगाया जाएगा। 

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का उत्सव 12 अगस्त को सभी छोटे-बड़े मंदिरों में आयोजित होगा। लेकिन कोरोना वायरस के खतरे के चलते इस बार मंदिरों में भीड़ नहीं होगी। दिल्ली भर में इस्कॉन मंदिरों के अंदर श्रीकृष्ण जन्माष्टमी उत्सव की भव्यता हमेशा की तरह इस बार भी बरकरार रहेगी। मंदिरों की सजावट, भगवान के भोग व उनकी विशेष पोशाक तैयार करने का काम और भजन-कीर्तन की तैयारियां तेजी के साथ चल रही हैं। 

लाजपत नगर में 1008 प्रकार के व्यंजनों से लगेगा भोग
लाजपत नगर इस्कान मंदिर के सदस्य युधिष्ठिर गोविंद दास ने बताया कि हर साल जन्माष्टमी पर यहां 6-7 लाख लोग जुटते हैं। इस साल कोविड-19 की वजह से भीड को सीमित कर दिया गया है। अबकी झांकियां नहीं निकलेंगी, लेकिन आयोजन पहले की तरह भव्य होगा। भगवान के लिए देश और विदेश से पुष्प मंगाए गए हैं। मुंबई से विशेष वस्त्र आया है। देश के विभिन्न हिस्सों में प्रसिद्ध 1008 प्रकार के व्यंजनों से भगवान को भोग लगाने की तैयारी है।   

पंजाबी बाग में 1008 परिवारों को घर पर भजन कीर्तन
मंदिर प्रशासन ने ऐसी व्यवस्था की है कि जन्माष्टमी उत्सव से 1008 परिवारों को जूम ऐप के माध्यम से जोड़ा जाएगा। मंदिर के सदस्य प्रेमांजन दास ने बताया कि लोग घर से ही भजन कीर्तन का आनंद ले पाएंगे। मंदिर को भव्य तरीके से सजाया जा रहा है।

द्वारका में प्री बुकिंग से होगी उत्सव में एंट्री
यहां 7 से 12 अगस्त तक श्रीकृष्ण जन्माष्मी उत्सव आयोजित किया गया है। प्रतिदिन शाम 6 बजे से यूट्यूब और फेसबुक लाइव के माध्यम से भक्तों को आयोजन से जोड़ा जा रहा है। वहीं मुख्य उत्सव में शामिल होने के लिए लोगों को प्री बुकिंग की सुविधा प्रदान की गई है।

चांदनी चौक केन्द्र में महीने भर से बन रहा वस्त्र
चांदनी चौक के छिपिवाड़ा केंद्र में भगवान श्रीकृष्ण के लिए एक महीने से वस्त्र तैयार किया जा रहा है। यहां श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर महाभोग लगाने की तैयारी है। मंदिर के सदस्य नीलकंठ दास ने बताया कि सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मनोरम श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का आयोजन किया जाएगा। लेकिन आम लोगों को मंदिर आने से रोका गया है।

पूर्वी दिल्ली में तैयारियों को लेकर असमंजस 
यहां गीता कॉलोनी स्थित श्रीकृष्ण मंदिर में जन्माष्टमी के दिन ही तैयारियां की जाएंगी। वहीं मयूर विहार फेज-1 में केरल शैली में बने श्रीकृष्ण मंदिर के अंदर श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की तैयारियों को लेकर असमंजस है। इसे देखभाल करने वालों ने बताया कि जन्माष्टमी उत्सव का आयोजन होगा, यह अभी तय नहीं है।
... और पढ़ें

 शातिरना अंदाज में पुलिस को गुमराह कर रहा है दरिंदगी का आरोपी

श्री कृष्ण जन्माष्टमी...
पश्चिम विहार वेस्ट में 12 साल की लड़की के साथ दरिंदगी करने वाले आरोपी कृष्ण कुमार ने घटना स्थल से करीब डेढ़ किलोमीटर दूर जाकर अपना मास्क उतारा था। इसके बाद बड़े की आराम से आरोपी ने एक दुकान पर चाय पी और वह अपने घर के लिए निकल गया। पुलिस ने आरोपी को दबोचने के लिए मामले की छानबीन शुरू की। 

इस बीच करीब पांच किलोमीटर के एरिया में लगे 300 से अधिक सीसीटीवी फुटेज को खंगाला गया। इसके बाद पांच फुटेज में आरोपी का सुराग मिला और पुलिस आरोपी तक पहुंच गई। बाहरी जिला पुलिस आरोपी को पांच दिन की पुलिस रिमांड लेकर पूछताछ कर रही है। आरोपी बेहद शातिर है वह पुलिस को गुमराह करने के लिए बार-बार अपने बयान बदल रहा है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक मामले की छानबीन के दौरान पुलिस की एक टीम आरोपी को शनिवार लड़की के घर लेकर पहुंची। वहां आरोपी से क्राइम सीन के बारे में पूछताछ की गई। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि काफी पहले से अपराध करते रहने की वजह से उसे पुलिस को गुमराह करने के दावपेंच आते हैं। ऐसे में बार-बार वह बयान बदलकर पुलिस को कभी कुछ बता रहा है तो कभी कुछ। 

आरोपी ने बताया है कि वारदात के समय वह बुरी तरह नशे की हालत में था। उसे नशे के लिए रुपयों की जरूरत थी। वह चोरी के इरादे से लड़की के घर में घुसा। विरोध करने पर उसने उसके साथ वारदात को अंजाम दिया। आरोपी से पूछताछ कर यह भी पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि वारदात के बाद उसने क्या-क्या किया और वह किन-किन लोगों के संपर्क में रहा।

...और रात भर नहीं सोया
घर पहुंचने के बाद आरोपी पहले नहाया। इसके बाद उसने दूसरे कपड़े बदले। आरोपी को पता था कि उसके हमले से लड़की की मौत हो गई है। इस बात से उसे रातभर नींद नहीं आई। कृष्ण को पता था कि पुलिस ने उसकी तलाश शुरू कर दी होगी। इसलिए आरोपी ने अपने कई जानकारों से पूछताछ कर पुलिस की मूवमेंट का भी पता लगाने का प्रयास किया।

डर की वजह से आरोपी ने फोन भी इस्तेमाल कम ही किया। लेकिन 48 घंटों के भीतर ही वह पुलिस की गिरफ्त में आ गया। लड़की की हालत अभी भी बेहद नाजुक बनी हुई है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि केस में तफतीश में उसका बयान भी बेहद अहम है। आरोपी बार-बार बयान बदलकर घटनाक्रम को सही नहीं बता रहा है।
... और पढ़ें

स्टार्ट-अप में दिल्ली दुनिया को देगी टक्कर, पांच शीर्ष शहरों में होगी शुमार

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को उद्योग जगत के सफल और युवा उद्यमियों के साथ नई स्टार्टअप नीति का मसौदा तैयार करने के लिए सलाह-मशवरा किया। मुख्यमंत्री ने दावा किया कि नई स्टार्ट-अप नीति से सरकार का लक्ष्य दिल्ली को स्टार्ट-अप के शीर्ष 5 वैश्विक स्थानों में से एक बनाना है। इसी मकसद से सरकार दिल्ली में स्टार्टअप की योजनाओं में तेजी लाएगी। इस काम में आम लोगों को इनपुट भी लिया जाएगा।

अधिकारियों का कहना है कि दिल्ली सरकार अपनी स्टार्टअप नीति तैयार करने के लिए दो चरणों में परामर्श सत्र आयोजित करेगी। सबसे पहले, दिल्ली मॉडल की टीमवर्क की भावना को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने शनिवार से विभिन्न क्षेत्रों के उद्योग के सफल उद्यमियों व विशेषज्ञों को बुलाया था। इसमें एचसीएल के सह संस्थापक अजय चौधरी, सेकोइया कैपिटल के एमडी राजन आनंदन, इंडिया एंजल नेटवर्क की पद्मजा रूपारेल, श्रीहर्ष श्रीहर्ष मजेटी (सह-संस्थापक और सीईओ, स्विगी), फरीद अहसन (सह-संस्थापक, शेयरचैट), सुचिता सलवान (संस्थापक और सीईओ, लिटिल ब्लैक बुक), तरुण भल्ला (संस्थापक, अविष्कार), रियाज अमलानी, सीईओ और एमडी, इम्प्रेसारियो रेस्टोरेंट्स आदि कई उद्यमी शामिल हुए।

मुख्यमंत्री ने उद्यमियों को बताया कि देश के अन्य राज्यों की अपेक्षा दिल्ली में सबसे अधिक स्टार्ट-अप सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं। इनका कारोबार करीब 50 बिलियन डॉलर है। एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली 2025 तक शीर्ष 5 वैश्विक स्टार्ट-अप हब बनने की ओर बढ़ रहा है। 

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आईआईटी करने के बाद उन्होंने देखा कि भारत के कुछ मेधावी युवा विदेशों में बेहतर अवसरों की तलाश में चले गए है। भारतीय दुनिया के सबसे होशियार उद्यमी हैं और उन्हें कामयाब होने के लिए सही अवसर और सही परिस्थितियों में मदद की जरूरत है। दिल्ली सरकार इसके लिए तैयार है।

दूसरी तरफ बैठक में शामिल उद्यमियों ने केजरीवाल का स्वागत किया और शहर में कोविड के संक्रमण को कम करने और अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए निरंतर प्रयास करने की कोशिशों की सराहना भी की। साथ ही सरकार के प्रयास में हर स्तर पर योगदान देने का भरोसा भी दिलाया। 

दूसरे फेज में आम लोगों की ली जाएगी सलाह
अधिकारियों का कहना है कि अभी दूसरे उद्यमियों के साथ मुख्यमंत्री चर्चा करेंगे। इसके बाद सरकार स्टार्टअप नीति का एक मसौदा जारी करेगी। इसमें पॉलिसी पर आम जनता से इनपुट लेने के लिए एक ऑनलाइन फोरम शुरू करेगी। सरकार का मानना है कि इससे स्टार्टअप नीति को एक नया परिप्रेक्ष्य मिलेगा और बेहतर नीति तैयार करने में मदद मिलेगी।
... और पढ़ें

दिल्ली में कोरोना वायरस के 1404 नए मामले आए सामने, 16 लोगों की मौत 

राजधानी में शनिवार को 17 दिन बाद कोरोना संक्रमण के 1400 से ज्यादा मामले आए हैं। बीते 24 घंटे में कोरोना के 1404 नए केस आए और 16 लोगों की मौत हो गई। कुल संक्रमितों की संख्या अब 1,44,127 हो गई है। इसमें 1,29,362 मरीज ठीक हो चुके हैं। 

दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग की तरफ से शनिवार को जारी हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक, कुल मौत की संख्या 4098 हो गई। वहीं, इलाज के बाद 1130 मरीजों को छुट्टी दे दी गई। कोविड अस्पतालों में इस समय 13,571 बेड उपलब्ध हैं और 10,469 खाली.हैं। इस समय 5372 मरीज होम आइसोलेशन में हैं। राजधानी में प्रति 10 लाख की आबादी पर 61,489 जांच हो रही है। कुल जांच की संख्या 11,68,295 हो गई है। कंटेनमेंट जोन की संख्या बढ़कर 478 हो गई हैं।

एक माह बाद 24 हजार से ज्यादा लोगों की जांच
शनिवार को 24,592 लोगों की जांच की गई। एक माह बाद जांच का आंकड़ा 24 हजार के पार पहुंचा हैं। इससे पहले 7 जुलाई को 24 हजार लोगों की जांच की गई थी। दिल्ली में दो दिनों में ही 47,618 जांच की गई है। इनमें 80 फीसदी से अधिक टेस्ट एंटिजन प्रणाली से किए गए हैं। 

चार दिन से बढ़ रहे एक्टिव मरीज
एक्टिव मरीजों की संख्या चार दिन से लगातार बढ़ रही है। 4 अगस्त को सक्रिय मरीजों की संख्या 10 हजार से नीचे पहुंच गई थी। जो अब बढ़कर 10667 हो गई है। बीते चार दिनों से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या संक्रमितों से कम है। इससे एक्टिव मरीज बढ़ रहे हैं। 
... और पढ़ें

दिल्ली के तिगड़ी इलाके में एलपीजी सिलेंडर फटने से लगी आग, छह लोग झुलसे

संगम विहार के तिगड़ी जेजे कैंप के पास शनिवार देर शाम करीब 7:00 बजे खाना बनाते वक्त गैस सिलेंडर फट गया, जिससे झुग्गी में आग लग गई। सिंलेंडर फटने से एक महिला समेत छह लोग गंभीर रूप से झुलस गए हैं। सभी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 

हादसे की जानकारी स्थानीय पुलिस और दमकल विभाग को दी गई। मौके पर पहुंची दमकल विभाग की आठ गाड़ियों ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। शुरुआती छानबीन में पता चला है कि एक घर में खाना बन रहा था। उस दौरान अचानक से सिलेंडर में आग लग गई। 

साउथ दिल्ली डीसीपी अतुल कुमार ठाकुर ने बताया कि शाम को सूचना मिली थी कि जेजे कैंप तिगड़ी की एक झुग्गी में सिलेंडर फटने से आग लग गई है। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस और दमकल ने कड़ी मशक्कत कर लोगों को बाहर निकाला।

पुलिस ने बताया कि इस घटना में एक महिला समेत पांच-छह लोग झुलस गए हैं, जिन्हें पास के अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। वहीं आग लगने की घटना के बाद आस-पास के झुग्गी वाले भी आग बुझाने के लिए दौड़ पड़े। लोगों ने बाल्टी में पानी भरकर आग बुझाने का प्रयास किया, लेकिन उसकी लपटों से वह पीछे हट गए। हादसे का शिकार हुए ज्यादातर लोग मजदूरी कर अपना भरण-पोषण करते हैं। पुलिस का कहना है कि झुलसे लोगों का अभी नाम-पता नहीं मिल पाया है। 
... और पढ़ें
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us