विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

अयोध्या प्रकरणः कल्याण सिंह बतौर आरोपी 27 को अदालत में तलब, विशेष न्यायाधीश ने दिया आदेश

अयोध्या प्रकरण के विशेष न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री व राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह को बतौर आरोपी तलब किया है।

22 सितंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

मुजफ्फरनगर

रविवार, 22 सितंबर 2019

मौसम ने बदली करवट, सेहत को लेकर रहे सतर्क, वायरल के प्रकोप से बचने के लिए करें ये उपाय

अफसरों से दोस्ती कर पाई दौलत-शोहरत, तेल का खेल उजागर होने के बाद प्रशासन के निशाने पर आया ज्ञानेंद्र

यूपी पुलिस के दावे फेल, इस जिले में बेखौफ हैं अपराधी, लगातार बढ़ रहा क्राइम ग्राफ

यूपी के बागपत जिले में अपराधी बेखौफ हैं। पिछले 11 दिनों के अंदर तीन लूट की वारदात हो चुकी है। एक के बाद एक हो रही लूट की वारदातों से लोगों में दहशत का माहौल है। घटना के बाद पुलिस एक या दो दिन तक इधर-उधर दौड़ती है, लेकिन नतीजा सिफर है। 

क्राइम कंट्रोल के तमाम दावों के बावजूद जनपद में अपराधों का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। यहां आए दिन लूट की घटनाएं हो रही है। छपरौली क्षेत्र के तुगाना में सिंडिकेट बैंक शाखा में 15 लाख की लूट का पुलिस अभी खुलासा भी नहीं कर पाई थी कि खेकड़ा थाना क्षेत्र के फखरपुर गांव के पास बदमाशों ने कंपनी के कर्मचारी से एक लाख की लूट कर दी। लगतार हो रही घटनाओं से लोगों में दहशत है।
... और पढ़ें

सफाई कर्मचारियों ने मांगा मानदेय, शहर में लगाया जाम

सफाई कर्मचारियों ने मांगा मानदेय, शहर में लगाया जाम
मुजफ्फरनगर। नगर पालिका से लेकर प्रशासनिक अधिकारियों तक गुहार लगाने के बावजूद जब कार्रवाई नहीं हुई तो सफाई कर्मचारियों के सब्र का बांध टूट पड़ा। तीन माह पहले लाखों रुपये लेकर फरार हुई कंपनी से भुगतान दिलाने की मांग को लेकर सफाई कर्मचारी सड़क पर उतर आए और उन्होंने शिव चौक पर जाम लगा दिया। धूप और उमस भरी गर्मी में महिलाएं सड़क पर बैठी रहीं। करीब चार घंटे बाद अधिकारियों के आश्वासन पर उन्होंने जाम खोला।
प्रशासन और नगर पालिका के अधिकारियों ने नगर में सफाई कार्य के लिए आरके कंस्ट्रक्शन को जिम्मा सौंपा था। इस कंपनी ने यहां कर्मचारियों की भर्ती कर उनसे करीब तीन माह काम कराया। उस समय शहर की सफाई व्यवस्था तो सुधर गई थी, लेकिन कंपनी करीब 300 सफाई कर्मचारियों के तीन माह के मानदेय का लाखों रुपये लेकर फरार हो गई। तब भी पीड़ित कर्मचारियों ने जाम लगाकर अपना विरोध जताया था। इस मामले में नगर पालिका की ओर से कंपनी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी, लेकिन उसके बाद मामला ठंडे बस्ते में डाल दिया। इसके बाद से सफाई कर्मचारी भुगतान के लिए अफसरों और नेताओं के चक्कर लगा रहे हैं। कहीं से भी राहत न मिलने पर उन्होंने शनिवार को दोपहर करीब दो बजे शिव चौक पर जाम लगा दिय। इससे चौराहे पर आवागमन बाधित हो गया। महिलाएं धूप के बावजूद सड़क पर बैठी रहीं। एडीएम ने मामले की जानकारी ली। एसडीएम सदर विजय कुमार तथा पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंचे। सफाई कर्मचारियों से वार्ता की, लेकिन उन्होंने जाम नहीं खोला। काफी मान मनौव्वल के बाद आखिरकार शाम करीब छह बजे आश्वासन पर जाम खोला गया। सफाई कर्मचारियों के साथ धरने पर बैठे गुरु वाल्मीकि ने बताया कि एसडीएम ने सोमवार को डीएम कार्यालय पर वार्ता के लिए बुलाया है। उन्होंने आश्वासन दिया है कि मानदेय भुगतान के लिए प्रयास किया जाएगा। जाम लगाने वालों में रेणु, सीता, पिंकी, पूनम, निशा, अनीता, मममता, मंजू, प्रेमो, सुनीता, संगीता आदि शामिल रहीं।
पालिका और पुलिस के बीच फंसे सफाई कर्मचारी
मुजफ्फरनगर। नगर पालिका और प्रशासनिक अधिकारियों ने कंपनी को सफाई कार्य का ठेका दिया था। आरोप है कि कंपनी ने 15-15 हजार रुपये लेकर सफाई कर्मचारियों की भर्ती की। कर्मचारियों का आठ से नौ हजार रुपये प्रतिमाह तक का मानदेय तय हुआ था। तीन महीने तक उनसे काम कराया। जब तीन माह का मानदेय बकाया हो गया तो कंपनी के कर्मचारी फरार हो गए। इस मामले में सफाई कर्मचारियों के जाम लगाने और हंगामा करने के बाद नगर पालिका की ओर से कंपनी के खिलाफ रिपोर्ट तो दर्ज करा दी गई, लेकिन पुलिस ने भी मामला ठंडे बस्ते में डाल दिया। तीन महीने बीतने के बावजूद पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। जाम लगा रहीं महिलाओं ने बताया कि उनके सामने आर्थिक संकट खड़ा हुआ है। पुलिस जरा सा मामला होने पर तुरंत गिरफ्तारी कर लेती है, लेकिन लाखों की धोखाधड़ी करने वालों को गिरफ्तार नहीं किया। उन्होंने आरोप लगाया कि अफसरों की मिलीभगत के चलते कंपनी के खिलाफ न तो कार्रवाई की गई और न ही उनके मानदेय का भुगतान किया जा रहा है।
... और पढ़ें
शिव चौक पर धरना-प्रदर्शन करते सफाई कर्मचारी। शिव चौक पर धरना-प्रदर्शन करते सफाई कर्मचारी।

बिल जमा नहीं करने पर 119 के कनेक्शन काटे

पूर्व मंत्री के घर तीन साल में प्रयोग हुई महज 100 यूनिट बिजली
मुजफ्फरनगर। दस हजार से अधिक केे बकाया बिल के उपभोक्ताओं के विभाग कनेक्शन काट रहा है। शनिवार में 119 लोगों के कनेक्शन काटे गए। 54 लोगों ने कार्रवाई के डर से पैसा जमा कर दिया। विभाग की कार्रवाई की जद में पूर्व मंत्री और रालोद नेता योगराज सिंह भी आ गए। तीन साल में इनके यहां केवल 100 यूनिट बिजली खर्च होना चर्चा का विषय बना है। विभाग ने दूसरा मीटर लगाकर बड़ी कार्रवाई की तैयारी शुरू कर दी है।
शहर में बिजली के बकायादारों के खिलाफ विभाग ने अभियान छेड़ा हुआ है। प्रतिदिन 10 हजार रुपये से अधिक के बकायादारों पर कार्रवाई हो रही है। शनिवार को शहर में अभियान चलाकर विभिन्न कालोनियों में 119 बकायादारों के कनेक्शन काट डाले। साथ ही 54 उपभोक्ताओं ने आठ लाख 63 हजार की बकाया राशि जमा करा दी।
वहीं शिकायत के बाद पूर्व मंत्री एवं रालोद नेता योगराज सिंह के घर पर विभाग ने छापा मारा। यहां विभाग के कर्मचारियों और अधिकारियों की मिलीभगत से चल रहा बड़ा खेल सामने आया। बीते तीन वर्ष में केवल सौ यूनिट ही खर्च होना चर्चा का विषय बना है। घर में कई एसी लगातार चलते हैं। अधीक्षण अभियंता के निर्देश पर एक नया मीटर लगाया गया है। अधीक्षण अभियंता का कहना है कि इस मीटर के आधार पर बीते तीन साल का एसेस्मेंट होगा। इस मामले में बड़ी कार्रवाई होने जा रही है।
... और पढ़ें

बुरे फंसे सपा विधायक नाहिद हसन, अब गिरफ्तारी के लिए ताबड़तोड़ दबिश, ये है पूरा मामला

पाइप लाइन फटी, कई मोहल्लों की जल आपूर्ति ठप

मुजफ्फरनगर। रुड़की रोड पर नाले में जेसीबी से ह्यूम पाइप डालने के दौरान नगर पालिका की मेन पाइप लाइन फट गई। इससे कई मोहल्लों की जल आपूर्ति ठप हो गई। दिन भर लोग पानी के लिए परेशान रहे लेकिन नगर पालिका के अधिकारियों ने कोई सुध नहीं ली। ह्यूम पाइप डाल रहे जल निगम के ठेकेदार के कर्मचारी ही पाइप लाइन की मरम्मत करने के प्रयास में जुटे रहे।
शुक्रवार की रात रुड़की रोड पर शहर कोतवाली के पास नाले में ह्यूम पाइप डालने का काम शुरू किया गया था। जल निगम के ठेकेदार द्वारा यह काम कराया जा रहा है। रात्रि में रुड़की रोड पर आर्य कन्या इंटर कॉलेज वाले गली के सामने जेसीबी से नाले की खुदाई करते हुए नगर पालिका की जलापूर्ति की मेन पाइप लाइन फट गई। इससे पानी नाले में बहने लगा और आसपास के मोहल्लों की आपूर्ति ठप हो गई। इस पाइप लाइन से जुड़े रुड़की रोड, अहाता ओलिया, पुरानी तहसील क्षेत्र, सर्राफा बाजार आदि मोहल्लों में पानी नहीं पहुंचा। स्थानीय निवासी सुभाष गोयल, मनीष राठी, अतुल, चंद्रमोहन आदि ने बताया कि उन्होंने नगर पालिका के अधिकारियों से शिकायत की लेकिन शाम तक भी किसी ने आकर नहीं देखा। दिन भर लोग पानी के लिए हैंडपंप पर ही निर्भर रहे। इस पाइप लाइन से बाजार एवं घनी आबादी क्षेत्र जुड़ा हुआ है। पाइप लाइन फटने के बाद जल निगम के ठेकेदार के कर्मचारी ही इसे ठीक करने में जुटे थे लेकिन देर शाम तक दुरुस्त नहीं हो सकी थी।
दिन भर बहता रहा पानी, बंद नहीं की आपूर्ति
मुजफ्फरनगर। नगर में जल संचयन को लेकर नगर पालिका के अफसरों ने जरा भी गंभीरता नहीं दिखाई। रुड़की रोड पर टूटी मेन पाइप लाइन से एक मिनट में हजारों लीटर पानी की सप्लाई होती है। रात में यह पाइप लाइन टूटी और नागरिकों के पीने का पानी नाले में बहना शुरू हो गया। नाले में साफ पानी बहता रहा लेकिन नगर पालिका के किसी अधिकारी या कर्मचारी ने नलकूप से सप्लाई बंद नहीं की। देर शाम तक भी किसी ने पानी का बहाव रोकने के लिए उपाय नहीं किए न ही नलकूप बंद कराया। यह हाल तब है जब शासन और प्रशासन जल संरक्षण के लिए गांव-गांव अभियान चला रहा है। हद तो यह है कि नगर पालिका के जलकल विभाग के जेई शरद गुप्ता देर शाम तक पाइप लाइन टूटने की बात से इंकार करते रहे। कुछ लोगों ने उन्हें फोन करके सूचना दी तो भी कोई ध्यान नहीं दिया गया।
इन्होंने कहा...
रुड़की रोड पर कहीं भी पाइप लाइन नहीं फटी है। शहर के सभी नलकूप चालू हैं। कहीं भी पानी नहीं बह रहा है।
- शरद गुप्ता, जेई, जलकल विभाग नगर पालिका।
काम करते हुए पाइप लाइन फट गई होगी। उसे ठीक करा दिया जाएगा।
- राजीव त्यागी, अधिशासी अभियंता, जल निगम।
... और पढ़ें

अनुपस्थित चिकित्सक और कर्मचारी का वेतन रोकने के आदेश

रुड़की रोड पर शहर कोतवाली के पास टूटी पाइप लाइन एवं नाले में बहता साफ पानी।
मुजफ्फरनगर। सीएमओ डा. पीएस मिश्रा ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र राजपुरकलां एवं मीरापुर के साथ ही सीएचसी जानसठ का निरीक्षण किया। इस दौरान राजपुर कलां के चिकित्साधिकारी तथा मीरापुर में कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर अनुपस्थित मिले। दोनों का वेतन रोकने के आदेश दिए गए।
शनिवार को सीएमओ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र राजपुरकलां पहुंचे। यहां चिकित्सा अधिकारी डा. अजय रावल अनुपस्थित पाए गए। उनका वेतन रोकने के आदेश दिए गए। ओपीडी रजिस्टर में क्रमांक संख्या अंकित न होने पर तथा रजिस्टर में अलग-अलग लेख पाए जाने पर सीएमओ ने उसे अपडेट करने के निर्देश दिए। अस्पताल परिसर में साफ-सफाई व्यवस्था भी ठीक नहीं मिली। सीएमओ ने फार्मासिस्ट को सफाई दुरुस्त कराने के निर्देश दिए।
इसके बाद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मीरापुर में पहुंचे तो कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर नीतू रानी अनुपस्थित मिलीं। उनका वेतन काटने के निर्देश दिए गए। ओपीडी रजिस्टर में क्रमांक संख्या अंकित न होने पर दुरुस्त करने के निर्देश दिए। निरीक्षण में सीएल रजिस्टर भी नहीं पाया गया, जिसको तुरंत बनाने को कहा। वैक्सीन केयर की साफ-सफाई भी ठीक नहीं मिली। सीएचसी जानसठ के निरीक्षण के दौरान ओपीडी रजिस्टर में डा. मोहम्मद नदीम एवं डा. अभिषेक द्वारा क्रमांक संख्या अंकित नहीं की जा रही थी। उन्हें रजिस्टर अपडेट करने के निर्देश दिए। स्टोर रूम में एक्सपायर रजिस्टर भी अपूर्ण पाया गया। प्रसव कक्ष में गंदगी एवं स्टाफ नर्स के निर्धारित वेशभूषा में मिलने पर सीएमओ ने चेतावनी दी तथा प्रसव कक्ष में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखने के निर्देश दिए। सीएमओ ने सभी को निर्देश दिए कि अधिकारीगण एवं कर्मचारीगण समय पर अपनी ड्यूटी पर उपस्थित होना सुनिश्चित करें तथा चिकित्सा अधिकारी रात्रि निवास करना सुनिश्चित करें। निरीक्षण के दौरान जिला क्षय रोग अधिकारी डा. लोकेश गुप्ता भी मौजूद रहे।
... और पढ़ें

हैदरपुर में 4.43 करोड़ से बनेगा बायो डायवर्सिटी पार्क

मुजफ्फरनगर। गंगा बैराज के नजदीक स्थित हैदरपुर वेटलैंड को बायो डायवर्सिटी पार्क के रूप में विकसित किया जाएगा। यहां पर करीब 4.43 करोड़ रुपये की लागत से विभिन्न कार्य होने हैं। इसके लिए प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेज दिया गया है। सर्दियों में यह स्थान विदेशी पक्षियों की कलरव से गूंजता रहता है। पक्षी विहार के रूप में इस झील का विकास होने से यह पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र होगा।
मेरठ-पौड़ी नेशनल हाईवे पर स्थित गंगा बैराज के नजदीक मुजफ्फरनगर जनपद की सीमा में हैदरपुर झील है। करीब 12 हजार हेक्टेयर में फैली इस झील में गंगा का पानी भरा रहता है। सर्दियां शुरू होते ही यहां विदेशी पक्षियों का आना शुरू हो जाता है। ये पक्षी यहां रुककर प्रजनन करते हैं और गर्मियां शुरू होते ही अपने देश लौट जाते हैं। इसी वर्ष फरवरी माह में वन विभाग ने इस स्थान पर बर्ड वाचिंग डे मनाया था। पक्षियों की बहुतायत को देखते हुए हैदरपुर वेटलैंड को बायो डायवर्सिटी पार्क के रूप में विकसित करने के प्रयास शुरू हुए हैं। वन विभाग ने करीब चार करोड़ 43 लाख रुपये का प्रस्ताव तैयार किया है।
बनेंगे आइसलैंड, होगा पौधरोपण
मुजफ्फरनगर। हैदरपुर झील में तीन वॉच टावर बनाए जाएंगे। साथ ही दो डबल बैरियर चेकपोस्ट बनाए जाएंगे। एक इंटरपिटीशन सेंटर बनाया जाएगा तथा बर्ड वाचर्स के लिए छह प्लेटफार्म तैयार किए जाएंगे। चार आइसलैंड बनाए जाएंगे, जिन पर पौधरोपण किया जाएगा।
240 प्रजातियों के 19500 पक्षी मिले थे
मुजफ्फरनगर। फरवरी माह में हैदरपुर वेटलैंड पर बर्ड वाचिंग डे मनाया गया था। वन विभाग के अधिकारियों ने यहां मौजूद पक्षियों की गणना कराई थी। तब यहां पर 240 प्रजातियों के 19500 देशी एवं विदेशी पक्षी मौजूद मिले थे। वन संरक्षण सहारनपुर वीके जैन ने इस स्थान को पक्षी विहार के रूप में विकसित करने की योजना तैयार करने के निर्देश दिए थे।
हाईवे किनारे होने से पहुंचना आसान
मुजफ्फरनगर। हैदरपुर वेटलैंड मेरठ-पौड़ी नेशनल हाईवे के किनारे गंगा बैराज पर स्थित है। बैराज पुल पार करते ही बिजनौर जिले की सीमा शुरू हो जाती है। बैराज को भी नमामि गंगे के तहत पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया गया है। हैदरपुर में पक्षी विहार बनने से यह पर्यटन स्थल के रूप में विकसित हो जाएगा। दिल्ली, मेरठ, मुरादाबाद सहित उत्तराखंड से यहां आसानी से पहुंचा जा सकता है। इसलिए सर्दी के सीजन में पर्यटकों के लिए यह महत्वपूर्ण स्थान बन सकता है।
इन्होंने कहा...
हैदरपुर वेटलैंड को बायो डायवर्सिटी पार्क के रूप में विकसित करने के लिए प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेजा गया है। यह काफी अच्छा स्थान है और इसके विकसित होने की अपार संभावनाएं हैं। - सूरज, डीएफओ, मुजफ्फरनगर।
... और पढ़ें

बिजली समेत अनेक समस्याओं पर भड़का भाकियू

चरथावल। विद्युत सहित अनेक समस्याओं को लेकर भाकियू के नेतृत्व में किसानों ने धरना, प्रदर्शन किया। भाकियू के मंडल महासचिव राजू अहलावत ने कहा कि किसानों का शोषण बर्दाश्त नहीं होगा। यदि किसानों की समस्याएं एक हफ्ते में हल नहीं हुई, तो डीएम कार्यालय का घेराव कर प्रदर्शन होगा। एडीएम प्रशासन अमित सिंह सहित विद्युत अधिकारियों ने धरने पर पहुंचकर किसानों की समस्याएं शीघ्र निराकरण कराने का भरोसा दिया। उन्हें 11 सूत्रीय मांग पत्र दिया।
चरथावल ब्लॉक कार्यालय पर शनिवार को भाकियू तहसील अध्यक्ष विकास शर्मा के नेतृत्व में समीक्षा बैठक चल रही थी। लेकिन किसानों की समस्याओं को मालूम पडने पर भाकियू ने धरने का ऐलान कर दिया। क्षेत्र के दर्जनों गांवों से सैकड़ों किसान ट्रैक्टर-ट्रालियां लेकर धरने पर आ धमके। किसानों ने बीडीओ ट्रेनी आईएएस कुलदीप मीना को भी धरने में बैठा लिया। मंडल महासचिव राजू अहलावत ने धरने पर आकर किसानों की समस्याओं से रूबरू हुए। उन्होंने कहा कि क्षेत्र की समस्याओं के लिए एक बार नहीं सौ बार भी धरना देने से पीछे नहीं हटेंगे।
विकास शर्मा ने बताया कि चरथावल क्षेत्र के जलालाबाद विद्युत लाइन घटिया बनने से लोग एक दशक से परेशान है। बधाई कलां से बिजली लाइन जुड़ने तक इस लाइन में फाल्ट आने पर लालूखेड़ी बघरा लाइन से वैकल्पिक व्यवस्था करने की मांग की। कहा कि चरथावल डाकघर में आधार कार्ड बनवाने की सुविधा चालू कराई जाए। चरथावल के जेई पर किसानों को परेशान करने पर किसानों में भारी आक्रोश था। चार घंटे से ज्यादा चले धरने पर एडीएम प्रशासन, कार्यवाहक एक्सईन, एसडीओ जयप्रकाश और बीडीओ कुलदीप मीना ने किसानों की समस्याएं शीघ्र हल कराने का भरोसा दिया। किसानों पर दर्ज मुकदमों को जांच कराने की बात कही। एक जेई द्वारा किसान से की गई अवैध वसूली की रकम वापस करने पर सहमति बनी। नगराध्यक्ष अभिषेक बंसल ने किसानों की खाने की व्यवस्था संभाली थी। जिला महासचिव योगेश शर्मा, सोनू त्यागी, सलीम त्यागी, सरफराज कुटेसरा, पवन कुमार चौकड़ा, सुरेश पाल प्रधान मुथरा, मांगेराम त्यागी, दीपक त्यागी, सतीश कसौली, ताहिर अंसारी, रिजवान अली, अंकित चौधरी जिला संगठन मंत्री, मामचंद, पूर्व प्रधान रामकुमार मुथरा मौजूद रहे।
... और पढ़ें

आयुष्मान भारत योजना : ढाई लाख का खर्च, पैकेज 70 हजार रुपये

आयुष्मान भारत योजना : ढाई लाख का खर्च, पैकेज 70 हजार रुपये
मुजफ्फरनगर। गरीबों को नि:शुल्क एवं सस्ता उपचार मुहैया कराने के लिए संचालित आयुष्मान भारत योजना कई खामियों को शिकार हो रही है। योजना में रखे गए बीमारियों के पैकेज निजी चिकित्सकों को नहीं भा रहे। इसलिए उन्होंने इससे किनारा करना शुरू कर दिया है। हड्डी एवं जोड़ रोग विशेषज्ञ डॉ. मुकेश जैन ने भी योजना से संबद्धता खत्म कर दी है। उनका कहना है कि घुटनों के प्रत्यारोपण का खर्च ही लगभग दो से ढाई लाख रुपये तक आता है, इसे मात्र 70 हजार रुपये के पैकेज में कैसे किया जा सकता है।
आयुष्मान भारत योजना के तहत करीब 1300 बीमारियों को कवर किया गया है। प्रत्येक बीमारी के लिए पैकेज निर्धारित हैं, लेकिन निजी अस्पतालों के खर्च के मुकाबले निर्धारित पैकेज को कम बताया जा रहा है। हड्डी एवं जोड़ रोग विशेषज्ञ डा. मुकेश जैन ने अपने वर्धमान हॉस्पिटल को योजना से संबद्ध किया, लेकिन बाद में अलग कर लिया। उन्होंने बताया कि सबसे बड़ी परेशानी तो कागजी कार्रवाई की है। भुगतान देरी से मिलने से तो कोई फर्क नहीं पड़ता है, लेकिन दो से तीन कर्मचारी इसी काम में लग जाते हैं। बीमा कंपनी की आपत्तियों का निस्तारण, बिल एवं रिपोर्ट आदि को लेकर बार-बार कार्रवाई करनी होती है। घुटनों के प्रत्यारोपण का खर्च लगभग ढाई लाख रुपये है, लेकिन योजना के पैकेज में लगभग 70 हजार रुपये है। इसके अतिरिक्त अन्य कई कमियां हैं, जिनकी वजह से योजना से जुड़े रहना मुश्किल है। इसलिए उन्होंने संबद्धता समाप्त करना ही उचित समझा।
पात्रों के नहीं बने कार्ड, इसलिए नहीं कर रहे उपचार
मुजफ्फरनगर। वरिष्ठ नाक, कान, गला रोग विशेषज्ञ डॉ एमके तनेजा ने भी आयुष्मान भारत योजना के तहत ऑपरेशन करने बंद कर दिए हैं। उनका कहना है कि सरकार ने आयुष्मान के जरिये गरीबों की सेवा का मौका दिया है। उसके बदले पैसा भी मिल रहा है तो और भी अच्छा है, लेकिन योजना का लाभ वास्तविक पात्रों को नहीं मिल रहा। उनके पास जो लोग उपचार के लिए आते हैं उनमें से ज्यादातर संपन्न होते हैं। उन्हें किस आधार पर आयुष्मान योजना में शामिल कर लिया। अपात्रों का योजना का लाभ देना गलत है, इसलिए उन्होंने आयुष्मान गोल्डन कार्ड धारकों के ऑपरेशन करने बंद कर दिए हैं। अब उन्होंने केवल उन्हीं लोगों के ऑपरेशन किए हैं, जो वास्तव में पात्र हैं। उधर, योजना में संबद्ध शांति मदन हॉस्पिटल के डा. सहज गर्ग बताते हैं कि उनके अस्पताल में आयुष्मान गोल्डन कार्ड धारकों का उपचार किया जा रहा है। भुगतान भी समय से ही आ जाता है। अभी तक तो कोई परेशानी सामने नहीं आई है।
योजना में 2011 के सामाजिक आर्थिक सर्वे के आधार पर ही पात्रों को शामिल किया गया है। केंद्र सरकार से पात्रों की सूची जारी हुई थी, जिनके नाम सूची में शामिल हैं उन्हीं को योजना का लाभ दिया जाना है - डा. पीएस मिश्रा, सीएमओ।
... और पढ़ें

दांतों की सुरक्षा को हरी सब्जी, फलों का करें सेवन

दांतों की सुरक्षा के लिए हरी सब्जी और फलों का करें सेवन
शाहपुर। अमर उजाला फाउंडेशन की अनूठी पहल अपराजिता- 100 स्माइल्स अभियान के तहत शाहपुर कन्या इंटर कॉलेज में दंत परीक्षण कैंप लगाया गया। शिविर में 135 छात्राओं का दंत परीक्षण किया गया । इस दौरान छात्राओं ने जीवन में स्वास्थ्य के महत्व पर गोष्ठी आयोजित की। कार्यक्रम में छात्रा व शिक्षिकाओं ने शपथपत्र भरकर अमर उजाला के इस अभियान से जुड़ीं।
कस्बे के शाहपुर कन्या इंटर कॉलेज में हुए दंत परीक्षण कैंप और कार्यक्रम का शुभारंभ कालेज के प्रबंधक अरविंद गुप्ता ने किया। उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजन बेटियों को समाज में आगे बढ़ने की शिक्षा देने के साथ उन्हें आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देते हैं। दंत परीक्षण शिविर में दंत रोग विशेषज्ञ डॉ शाहिद सिद्दीकी ने छात्राओं से कहा कि सुंदर व स्वस्थ दांत मुस्कान को सुंदर बनाते हैं। हमें मीठे व चिपकने वाली वस्तु टॉफ़ी, चाकलेट, पिज्जा, बर्गर और चाऊमीन आदि नहीं खाने चाहिए। उन्होंने छात्राओं से आह्वान किया कि विटामिन सी और डी दांतो के लिए फायदेमंद है। इसलिए हरी सब्जी व फलों का सेवन करें। साथ ही सुंदर व स्वस्थ दांत के लिए सुबह शाम दांतों को साफ करने के अलावा समय समय पर जांच कराएं। कार्यक्रम में छात्राओं ने जीवन में स्वास्थ्य के महत्व पर आयोजित गोष्ठी में छात्रा मानवी, अलीशा, रेणु, आफरीन, वर्षा सैनी, गरिमा त्यागी आदि ने अपने उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि स्वस्थ रहने के लिए स्वच्छता आवश्यक है।
कॉलेज की प्रधानाचार्या उषा अस्थाना ने कहा कि अच्छा स्वास्थ्य हमारा सबसे बड़ा धन है। शरीर स्वस्थ नहीं है तो जीवन भार स्वरूप लगता है । इसलिए शरीर को स्वस्थ रखना हमारा पहला कर्तव्य है। छात्रा रेणु ने कहा कि स्वस्थ व्यक्ति ही अपने घर परिवार व राष्ट्र के लिए कार्य करने में समर्थ है। स्वस्थ व्यक्ति में आत्मविश्वास होता है। स्वस्थ रहने के लिए उचित खानपान व नियमित व्यायाम करना जरूरी है ।
-छात्रा सबा ने कहा कि तनाव मानव जीवन को अस्वस्थ करता है । इसलिए हमें तनाव मुक्त रहना चाहिए। हमें शारीरिक स्वास्थ्य के साथ ही साथ मानसिक रूप से भी स्वस्थ होना चाहिए। छात्रा सफरीन ने कहा कि आज का दौर प्रतिस्पर्धा का दौर है। हमें स्वास्थ्य को लेकर भी प्रतिस्पर्धा करनी चाहिए । स्वस्थ रहने के लिए हमें जंक फूड आदि से बचना चाहिए।
छात्रा साक्षी ने कहा कि बेटियां किसी भी क्षेत्र में बेटों से पीछे नहीं है। बेटियों को स्वस्थ रहने के लिए नियमित व्यायाम व खेल प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेना चाहिए।
... और पढ़ें

जच्चा की हालत बिगड़ी, मेरठ ले जाते मौत, हंगामा

महिला की मौत पर बरपा हंगामा, नवजात मेरठ रेफर
खतौली। प्रसव पीड़ित महिला की मौत हो गई। नवजात शिशु को मेरठ अस्पताल में आईसीयू में भर्ती कराया गया है। महिला की मौत को लेकर परिजनों ने सीएचसी के चिकित्सकों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा खड़ा कर दिया। हंगामे की सूचना पर पुलिस मौके पहुुंची।
नगर की लोधा कालोनी निवासी रमेश की पत्नी ज्योति को शनिवार को प्रसव पीड़ा हुई। प्रसव पीड़ा होने पर परिवार के लोग ज्योति को लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पहुंचे। अस्पताल में ज्योति ने शिशु को जन्म दिया। आरोप है कि चिकित्सकों की लापरवाही वजह से जच्चा की हालत बिगड़ गई। चिकित्सकों ने आनन फानन में जच्चा को जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। जिला अस्पताल के चिकित्सकों ने जच्चा को मेरठ के लिए रेफर कर दिया। मेरठ अस्पताल में देर शाम को रास्ते में जच्चा की मौत हो गई। जच्चा की मौत के बाद नवजात शिशु की भी हालत बिगड़ गई। परिजनों ने आनन फानन में शिशु को मेरठ एक हॉस्पिटल में आईसीयू में भर्ती कराया। महिला की मौत को लेकर परिजनों व मोहल्ले के लोगों में आक्रोश फैल गया। परिजनों ने सीएचसी के चिकित्सकों पर आरोप लगाते हुए हंगामा खड़ा कर दिया। परिजनों का कहना था कि चिकित्सकों की लापरवाही की वजह से ज्योति की मौत हुई हुई। सूचना मिलने भाजपा नेता अनुज सहरावत व इंस्पेक्टर संतोष कुमार त्यागी मौके पर पहुुंचे। देर रात तक इंस्पेक्टर व भाजपा नेता परिजनों को समझाने मेें लगे हुए थे।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree