विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

अयोध्या प्रकरणः कल्याण सिंह बतौर आरोपी 27 को अदालत में तलब, विशेष न्यायाधीश ने दिया आदेश

अयोध्या प्रकरण के विशेष न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री व राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह को बतौर आरोपी तलब किया है।

22 सितंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

हमीरपुर

रविवार, 22 सितंबर 2019

दिल्ली में युवती को बंधक बनाकर किया दुष्कर्म, पीड़िता ने मुख्यमंत्री योगी से लगाई मदद की गुहार

हमीरपुर के राठ में शौच को गई विवाहिता को दो दबंगों ने तमंचे के बल पर अगवा कर लिया। दिल्ली में बंधक बनाकर उसके साथ एक पखवारे तक दुष्कर्म किया। परिवार का दबाव बढ़ने पर बुधवार दिन में राठ बस स्टैंड पर छोड़ दिया। पीड़िता ने मुख्यमंत्री सहित अधिकारियों को ऑनलाइन शिकायती पत्र भेज न्याय की गुहार लगाई है।

जलालपुर थानाक्षेत्र निवासी विवाहिता ने बताया कि बीते चार सितंबर को वह शौच के लिए पशुबाडे़ की ओर गई थी। जहां घात लगाए बैठे गांव के दबंग ने अपने साथी की मदद से तमंचे के बल पर अगवा कर लिया और नशीला पदार्थ सुंघा दिया। जिससे वह बेहोश हो गई। जब उसे होश आया तो उसने दिल्ली में खुद को एक कमरे में बंद पाया।
... और पढ़ें

मुख्यमंत्री के लिए जा रहे हेलिकॉप्टर की इमरजेंसी लैंडिंग की सूचना से मचा हड़कंप, चकरघिन्नी बने अफसर

यमुना व बेतवा का कहर जारी

हमीरपुर। मुख्यालय स्थित यमुना व बेतवा नदियों के लगातार बढ़ रहे जलस्तर से कई इलाकों को अपनी चपेट में ले लिया है। इससे लोगों की मुसीबतें बढ़ती जा रही हैं। यमुना के बाढ़ का पानी मुख्यालय के कालपी चौराहा के निकट गड़इया मोहल्ले में घुसने से करीब 50 मकान घिर गए।
वहीं डिग्गी मोहल्ले में बेतवा के बाढ़ का पानी भरने से करीब 55 मकान घिरे हैं। बेतवा नदी का जलस्तर शाम पांच बजे खतरे के निशान से 1.07 मीटर ऊपर है। यह नदी 105.61 मीटर पर बह रही है। जबकि इस नदी के खतरे का बिंदु 104.54 मीटर है। वहीं यमुना नदी मौजूदा समय में खतरे के निशान से 2.48 मीटर ऊपर बह रही है। यह नदी 106.11 मीटर पर बह रही है। इस नदी का खतरे का निशान 103.63 मीटर है।
बेतवा के कहर से राठ रोड स्थित चंदुलीतीर गांव के पास राठ मार्ग पर भी पानी भर गया है। अभी आवागमन जारी है। लेकिन अगर पानी की रफ्तार और बढ़ी तो आवागमन बाधित हो जाएगा। उधर जिलाधिकारी ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया। जहां कल्पवृक्ष के पास बंधे में कटान होने पर बालू भरी बोरियां लगाने के साथ ही शहर के गंदे पानी को निकालने के लिए पंपिंग सेट व लिफ्टरों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए।
नदियों का लगातार जलस्तर बढ़ने से चौथे दिन बुधवार को भी पुराना यमुना घाट, पुराना बेतवा घाट, खालेपुरा, कजियाना के अलावा कुछेछा, पाराओझी गांव में बाढ़ का पानी भरा रहा। यमुना का जलस्तर बढ़ने से बुधवार को पुराना यमुना घाट स्थित चार और मकान बाढ़ की व चपेट में आ गए।
कालपी चौराहा स्थित गड़इया मोहल्ले में बाढ़ के पानी भरने से करीब 50 मकान घिर गए। यहां रह रहे सपा नेता राजेश श्रीवास एडवोकेट ने मोहल्ले में नाव लगाने की मांग की। ताकि घरों में कैद लोग रोजमर्रा की जरूरतों के सामान की खरीद फरोख्त कर सकें। मुख्यालय से सटे डिग्गी मोहल्ले में बेतवा का पानी घुसने से करीब 50 मकान बाढ़ की चपेट में आए हैं। अन्य लोग अपना सामान समेटना लगे हैं।
---------------
जल निगम एक्सईन को डीएम ने फटकारा
शहर के गंदे पानी की जलनिकासी के लिए यमुना व बेतवा में चार स्थानों पर चेक वॉल लगाए गए हैं। नदियों में बाढ़ के कारण सभी चेक वॉल बंद कर दिए गए हैं। जिससे पातालेश्वर व बड़ेदेव बाबा स्थान पर गंदा पानी काफी भर गया है। पानी को निकालने के लिए पंपिंग सेट व एक एक लिफ्टर लगाए गए हैं। बड़े देवबाबा के पास काफी पानी भर जाने से और धीमी रफ्तार से निकाले जाने पर डीएम ने नाराजगी जताई। डीएम ने जल निगम के एक्सईन निखिल श्रीवास्तव के बारे में जानकारी ली। जिस पर विभागीय अधिकारियों ने बताया कि वह राठ गए हैं। इस पर डीएम का पारा चढ़ गया। डीएम ने मोबाइल पर एक्सईन को फटकार लगाते हुए इस स्थान पर दो और लिफ्टर लगाने के निर्देश दिए। कहा कि यह कार्य नहीं हुआ तो शाम तक निलंबन की कार्रवाई की जाएगी।
---------------
चंदुलीतीर व राठ रोड पर दर्जनों मकान गिरे
बेतवा का बढ़ता जलस्तर राठ रोड स्थित चंदुलीतीर गांव में घुस गया। जिससे गांव के लोगों ने अपना अपना घर खाली कर राहत केंद्र कुछेछा पहुंचना शुरू कर दिया है। गांव निवासी रामबाबू, छोटे, विनोद, कल्लू, छोटेलाल, छिद्दू, रामसेवक, बाबू, इंद्रजीत, रामशरण व अमिरता डेरा के रामफूल, कुबेरा, परशुराम, गिरधारी, जयकरन व बलवीर के मकान ध्वस्त हो गए हैं। राठ रोड में करीब डेढ़ से दो फिट तक पानी भरने से मार्ग से आवागमन बाधित हो गया है। सुरक्षा के लिहाज से यहा दो सिपाही ड्यूटी में तैनात किए गए है।
----------------------
वापस हुआ एसपी का वाहन
बुधवार दोपहर करीब साढ़े बारह बजे एसपी हेमराज मीणा अपने स्कार्ट वाहन के साथ राठ की ओर जाना चाह रहे थे। चालक सिपाही ने एसपी के वाहन को राठ रोड में शंकरीपीपल के आगे पानी से भरी सड़क में वाहन को ले गया। मगर चालक ने वाहन को रोक उसे बैक किया और एसपी यहां से वापस हो गए।
-----------------
आईटीबीपी जवानों ने भी लिया जायजा
कोतवाली के एसआई आनंद कुमार साहू के नेतृत्व में बुधवार को आईटीबीपी के जवानों ने भी दोनों नदियों के बढ़ते जलस्तर को देखा। इसके साथ ही मेरापुर, भिलांवा, डिग्गी, पुराना यमुनाघाट, पुराना बेतवा घाट व अन्य मोहल्लों का निरीक्षण किया। एसआई ने बताया कि जरूरत पड़ने पर आईटीबीपी जवानों को भी बाढ़ से पीड़ित लोगों की मदद के लिए लगाया जा सकता है।
बिलौटा पंप कैनाल का सामान बहा
कुरारा। क्षेत्र के उमराहट ग्राम पंचायत के भैदन डेरा स्थित बिलौटा पंप कैनाल का सामान यमुना नदी की बाढ़ में बह गया। बाढ़ से कैनाल का आवास भी कटान से गिरने की कगार पर है। पानी भैदन डेरा के किनारे बने कच्चे मकान गिरने लगे हैं। गांव के चौकीदार रणविजय ने बताया कि दो दिन से पाइप, मोटर आदि सामान जेसीबी से लादकर कैनाल से दूर रखा गया है। काफी सामान पाइप आदि बाढ़ की चपेट में आकर बह गए। विद्युत पोल बाढ़ से गिर गए है। वही पंप कैनाल को गई विद्युत लाइन के तार टूटकर गिर गए हैं। ग्रामीण सामान समेट कर ऊंचाई वाले स्थान पर जा रहे है।
... और पढ़ें

मौसम विभाग की भविष्यवाणी, यूपी के कई शहरों में आज से 27 सितम्बर तक होगी झमाझम बारिश

झमाझम बारिश झमाझम बारिश

झांसी के डीआरएम ने रागौल स्टेशन का किया निरीक्षण

मौदहा/सुमेरपुर। बांदा-कानपुर रेल लाइन स्थित कस्बे के रागौल रेलवे स्टेशन का डीआरएम झांसी ने निरीक्षण किया। स्टेशन में सफाई सही न मिलने पर अधिकारियों से जमकर नाराजगी जताई। व्यापार मंडल अन्य लोगों ने ज्ञापन दे नई रेल व अन्य रेलों के देरी से आने की समस्या के साथ प्लेटफार्म नंबर दो में बिजली पानी व टीन शेड समस्याओं के बारे में बताया। वहीं सुमेरपुर कस्बे के रेलवे स्टेशन में सफाई से प्रसन्न होकर स्टेशन मास्टर को दो हजार नगद पुरस्कार प्रदान किया।
डीआरएम झांसी संदीप माथुर अपने अधिकारियों के साथ रागौल स्टेशन पहुंचे। जहां उन्होंने शौचालयों से लेकर प्लेटफार्म और अभिलेखों का निरीक्षण किया। उन्होंने स्टेशन की साफ सफाई सही न होने पर संबंधित अधिकारियों से नाराजगी जताई। नगर उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के मोहम्मद यूसुफ उर्फ मुन्ना बार्डर, सोनू चौधरी व अन्य ने छह सूत्री ज्ञापन भी सौंपा। जिसमें सुबह आठ से शाम 4 बजे तक आरक्षण खिड़की खोले जाने व प्लेटफार्म नंबर दो में पानी, बिजली न होने के साथ ही टीन शेड बनवाने की मांग की। बेतवा एक्सप्रेस के चार फेरे किए जाने की मांग की।
दिल्ली तक की नई ट्रेन चलाने, पूछताछ खिड़की खुलवाने व एक लोकल ट्रेन चलाने की भी मांग की। वहीं खजुराहो वाया बांदा कानपुर पैसेंजर ट्रेन के 4 घंटे देरी से आने की शिकायत पर डीआरएम ने कहा कि वह इस समस्या के लिए रेल मंत्रालय को चिट्ठी भेज चुके हैं। भरुआसुमेरपुर प्रतिनिधि के अनुसार मंडलीय रेल प्रबंधक संदीप माथुर ने कस्बे के रेलवे स्टेशन में साफ सफाई से प्रसन्न हो गए। स्टेशन मास्टर को दो हजार नगद पुरस्कार प्रदान किया। स्टेशन मास्टर एसके शुक्ला, संकट मोचन द्विवेदी, जयसिंह, पीएस सुंडी आदि कर्मियों मौजूद रहे।
... और पढ़ें

अराजकतत्वों ने युवक पर झोंका फायर, हड़कंप

राठ। खेत से ट्रैक्टर लेकर घर जा रहे युवक पर आधा दर्जन अराजकतत्वों ने हमला बोल दिया। तमंचे की बटों से पीट कर घायल कर दिया। हवाई फायरिंग कर दहशत फैलाई। घायल को उपचार के लिए सीएचसी लाया गया जहां से चिकित्सकों ने उसे झांसी रेफर कर दिया। पीड़ित की तहरीर पर पुलिस ने एक को नामजद कर पांच के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है।
कोतवाली क्षेत्र के धमना गांव निवासी पंकज कुमार (28) पुत्र विनय कुमार ने बताया कि शुक्रवार रात 10 बजे खेत से जुताई कर वापस लौटा। घर के निकट ट्रैक्टर खड़ा किया और घर की ओर तरफ जाने लगा। तभी बाहर से दो बाइकों पर पहुंचे छह युवकों ने अचानक उस पर हमला बोल दिया। आरोप है कि दबंगों ने उस पर फायर झोंक दिया। जिसमें वह बाल-बाल बच गया। तमंचे की बटों से उसके सिर पर कई प्रहार कर घायल कर दिया।
दहशत फैलाने की गरज से हवाई फायरिंग करते हुए आरोपी भाग निकले। घायल को ग्रामीणों की मदद से सीएचसी में भर्ती कराया गया। डॉ. आलोक ने बताया कि युवक के सिर पर गंभीर चोट आईं हैं। जिसे मेडिकल कालेज झांसी रेफर किया है। शनिवार सुबह दर्जनों ग्रामीणों के साथ कोतवाली पहुंचे घायल पंकज ने तहरीर दी है।
बताया कि एक बाइक का नंबर व एक युवक जीतू निवासी बंगरा थाना चिकासी को उसने पहचान लिया है। ग्रामीणों ने विधायक मनीषा अनुरागी से भी कार्रवाई की मांग की है। कोतवाल मनोज शुक्ला ने कहा कि एक को नामजद करते हुए पांच अन्य अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। कहा कि विवाद के पीछे ट्रैक्टर के आगे बाइक निकालने का मामला सामने आ रहा है।
जलविहार कार्यक्रम के दौरान किया था बवाल
धमना गांव के हरनाथ राजपूत ने बताया कि 16 सितंबर को जलविहार कार्यक्रम के दौरान भी तीन बाइकों पर सवार आधा दर्जन युवकों ने मारपीट की थी। गांव के धीरेंद्र पुत्र हरीसिंह के यहां मिलने आए आरोपी राजेश पुत्र वंशगोपाल के दरवाजे पर खडे़ थे। जहां से जाने की कहने पर उसके साथ मारपीट की थी। बचाने पहुंची भतीजी के साथ भी मारपीट कर दी थी। ग्रामीणों के ललकारने पर हवाई फायरिंग करते हुए भाग गए थे। उक्त घटना से जलविहार कार्यक्रम में अफरातफरी मच गई थी।
... और पढ़ें

वीडियो कांफ्रेंसिंग से मरीजों का कर रहे इलाज

मुस्करा। राज्य सरकार की दूरस्थ चिकित्सा मुहिम के चलते प्रदेश में प्रत्येक जिले के सीएचसी में टेली मेडिसन केंद्र चलाए जा रहे हैं। इस तकनीकी में डाक्टर कहीं दूर बैठकर मरीज का इलाज वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से कर रहे हैं। ऐसा ही केंद्र जनपद के मुस्करा सीएचसी में बनाया गया है। जहां मरीज मात्र एक रुपये का पंजीकरण शुल्क जमा कर दिल्ली, चेन्नई, हैदराबाद के अपोलो हास्पिटल के डाक्टरों से अपना इलाज करवा सकते हैं।
सीएचसी में मेडिकल कर्मचारी नियुक्त किए गए हैं। जो मरीज को देखकर उसके रोग के अनुसार स्पेशलिस्ट डाक्टर से वीडियो कांफ्रेंस के जरिये संपर्क कर सीधे डाक्टर से मरीज को परामर्श दिलवाते हैं। डाक्टर की सलाह पर दवा सीएचसी से मुफ्त मरीज को दी जाती है। इस सेवा का लाभ कोई भी ले सकता है।
इससे ग्रामीण क्षेत्र के मरीज बहुत ही खुश हैं, जो कि राज्य सरकार की इस मुहिम की सराहना कर रहे हैं। साथ ही पोलो टेली मेडिसन हेल्थ केयर सर्विस का भी धन्यवाद कर रहे हैं। टेली मेडिसन केंद्र कर्मचारी विजय कांत व ज्योति सोनकर ने बताया कि एक दिन की टेली ओपीडी में अपोलो के डाक्टर लगभग 20 से अधिक मरीजों को देखकर चिकित्सा परामर्श देते हैं। जिससे मरीजों को आराम मिला है और वह पूर्णतया संतुष्ट भी हैं।
... और पढ़ें

देश में पहली बार क्यूआर कोड की मतदाता पर्चियों से पांच बूथों पर होगा मतदान

जिला निर्वाचन अधिकारी अभिषेक प्रकाश ने बताया कि निर्वाचन आयोग पहली बार पायलट प्रोजेक्ट के तहत सदर विधानसभा में हो रहे उपचुनाव में पांच बूथों पर क्यूआर कोड की विशेष मतदाता पर्चियां मतदाताओं को देगा।
इससे मतदाता मतदान करेगा। देश में पहली बार उपचुनाव में किए जा रहे इस प्रयोग की सफलता मिलती है तो इसे आगामी चुनावों में पूरे देश में लागू किया जाएगा। क्यूआर कोड को स्कैन करने के लिए एंड्रवायड फोन पर इंटरनेट की जरूरत नहीं पड़ेगी।
जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि निर्वाचन आयोग से आए दिशा निर्देशों के तहत यह एक प्रयोग के तौर पर किया जा रहा है। उपचुनाव में पांच बूथों पर शहरी क्षेत्र के तीन बूथों में आर्य समाज के बूथ नंबर 99, कुछेछा के दो 128 व 129 वहीं ग्रामीण क्षेत्र के नारायपुर के बूथ 189 व बदनपुर के बूथ 91 को लिया गया है।
बताया कि क्यूआर कोड की पर्चियों से इन बूथों पर मतदान कराया जाएगा। बताया कि यह क्यूआर कोड की विशेष पर्ची होगी। इसमें क्यूआर कोड बना होगा। कहा कि जब मतदाता मतदान करने जाएगा।
उसके पहले संबंधित बीएलओ उस क्यूआर कोड वाली पर्ची को अपने एंड्रवायड मोबाइल से स्कैन करेगा। जिससे मतदाता का पूरा विवरण उसके मोबाइल पर आ जाएगा। बीएलओ यह जान सकेगा यह मतदाता सही है या गलत। इसके बाद यही प्रक्रिया पीठासीन अधिकारी करेगा। प्रक्रिया पूरी होने पर मतदाता अपना वोट डालेेगा। सबसे बड़ी बात यह है कि क्यूआर कोड को स्कैन करने के लिए इंटरनेट की जरूरत नहीं पड़ेगी।
बताया कि मतदाता यह भी जान सकेगा कि उसके बूथ में कितने वोट पड़े हैं, उसका वोट पड़ गया है या नहीं। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि आयोग यह प्रयोग पहली बार करने जा रहा है।
प्रयोग सफल रहा तो इस प्रक्रिया को पूरे देश में लागू की जाएगी। बताया कि विधानसभा उपचुनाव में बूथ संख्या 91, 99, 128, 129 व 189 पर यह क्यूआर कोड वाली पर्चियों का प्रयोग किया जाएगा।
... और पढ़ें

आकाशीय बिजली से युवा किसान की मौत, पत्नी भी झुलसी

क्षेत्र के उमरी गांव में शुक्रवार को दोपहर करीब डेढ़ बजे बारिश के साथ बिजली गिरने से खेत की रखवाली कर रहे किसान दंपति चपेट में आ गए। इसमें किसान की मौके पर ही मौत हो गई है, जबकि उसकी पत्नी गंभीर रूप से झुलस गई। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
उमरी निवासी अमर सिंह यादव (37) पुत्र रामआसरे शुक्रवार को अपनी पत्नी सविता के साथ खेत में खड़ी तिल फसल की रखवाली करने गया था। दोपहर करीब डेढ़ बजे बारिश के साथ जोर से आसमान में बिजली कड़की और किसान के ऊपर गिर गई।
इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। पास में ही जानवरों के लिए घास काट रही उसकी पत्नी भी झुलस गई। मृतक के चार संतान में दो पुत्रियां ऋचा (15), अंजू (12) व दो पुत्र गौरव (10) व सौरभ (8) हैं।
मृतक खुद तीन भाई थे, जिसमें सिर्फ मृतक की ही शादी हुई थी। बताया गया कि पिता अत्यंत ही वृद्ध है और छोटा भाई दिव्यांग है। पिता के नाम मात्र आठ बीघे कृषि भूमि है इसके चलते मजदूरी करते हैं। जिससे पूरे परिवार का भरण पोषण होता है। ग्रामीणों ने बताया कि परिवार की माली हालत काफी कमजोर है। दोनों पुत्रियां भी शादी के लायक हैं।
घटना की जानकारी पर पहुंचे थाना प्रभारी राजेश कुमार वर्मा ने शव का पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। मौदहा तहसीलदार रामानुज शुक्ल ने पीड़ित परिजनों को ढांढस बंधाया और आश्वासन दिया कि दैवी आपदा के तहत सहायता धनराशि शीघ्र ही पीड़ित परिवार को दिलाई जाएगी।
... और पढ़ें

बाढ़ प्रभावित लोगों को डीएम ने 21 सौ रुपये किए दान

उपचुनाव में बाढ़ से प्रभावित होने वाले मतदान बूथों की तैयारियों के संबंध में जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश की अध्यक्षता में शुक्रवार को कलक्ट्रेट सभागार में बैठक हुई। डीएम ने अपने वेतन से बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए 2100 दान किए। साथ अन्य से अपील कर सहयोग करने को कहा।
बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए डीएम ने अपने वेतन से 2100 रुपये का दान किया है। उनकी अपील पर अधिकारियों, कर्मचारियों ने स्वैच्छिक अनुदान कर सामूहिक रूप से लंच पैकेज की व्यवस्था की।
न्यायाधीशों, अधिकारियों व कर्मचारियों ने बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए 500 लंच पैकेट की व्यवस्था की। वहीं, कलक्ट्रेट के अधिकारियों कर्मचारियों ने तीन हजार लंच पैकेट की व्यवस्था की।
डीएम ने कहा कि बाढ़ के कारण जिन मतदान केंद्रों, बूथों पर विद्युत व्यवस्था बाधित हो रही हैं उसे तत्काल दुरुस्त करें। लोनिवि ने बाढ़ प्रभावित सड़कों की सूची मांग ध्वस्त रास्तों का आवागमन व नाव आदि का तत्काल प्रबंध किया जाए।
स्वास्थ्य विभाग को बाढ़ प्रभावित बूथों की पोलिंग पार्टी, सुरक्षा कर्मियों के लिए आवश्यक जीवन रक्षक दवाइयों की किट्स व्यवस्था के निर्देश दिए।
बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के बूथों पर पोलिंग पार्टियों तथा वहां के सुरक्षा कर्मियों के खाने के लिए लंच पैकेट की व्यवस्था करने को कहा। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के लिए सेक्टर बनाने व इनमें हर केंद्र पर एक सेक्टर मजिस्ट्रेट तैनात करने को कहा।
डीएम ने कहा कि बाढ़ से जो मजरे, गांव के मतदाता प्रभावित हैं उनका सर्वे कर तत्काल सूची तैयार करें। जिलाधिकारी ने जनपद में उपलब्ध नाव तथा नाविकों का सर्वे कर सूचना तैयार करने के निर्देश अधीनस्तों को दिए।
बताया कि मोटर वोट, स्टीमर की व्यवस्था के लिए कानपुर, इलाहाबाद, वाराणसी जनपदों में संपर्क किया गया है, ताकि मतदान के दिन मतदाताओं को लाने ले जाने में कोई परेशानी न हो। बैठक में एसपी हेमराज मीणा, सीडीओ आरके सिंह आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

नदियों का जलस्तर घटने से पीड़ितों को बंधी राहत की उम्मीद

शुक्रवार को यमुना व बेतवा का जलस्तर कम होने से लोगों को हल्की राहत मिली हालांकि बेतवा नदी खतरे के निशान से 1.63 मीटर व यमुना तीन मीटर ऊपर बह रही है। यमुना नदी की बाढ़ की चपेट में मेरापुर व भिलांवा गांव आए हैं।
मेरापुर गांव किनारे मिट्टी की कगार यमुना के तेज बहाव से हुए कटाव कच्चे मकान जमींदोज हो गए। दोनों नदियां दो सेंटीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से घट रही हैं। उधर, शुक्रवार को सुबह माताटीला बांध से एक बार फिर बेतवा नदी में एक लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है।
गुरुवार की रात से यमुना नदी किनारे बसे मेरापुर व भिलांवा में बाढ़ का पानी घुस गया। आनन-फानन में लोगों ने गृहस्थी को समेटनी शुरू कर दी। नदी का पानी डिग्री मोहल्ला स्थित लघु सिंचाई विभाग कार्यालय के गेट तक भर गया।
यमुना नदी की कगार पर रह रहे मेरापुर निवासी खुशीराम ने बताया कि उसके भाई कल्लू समेत दर्जनों लोगों के मकान कगार धंसने से नदी में समा गए हैं। कहा कि उसका मकान भी आधा चपेट में आकर ढह गया है।
नगर पालिका द्वारा बनवाई गई आरसीसी सड़क भी कगार की चपेट में आकर बह गई है। पत्योरा प्रतिनिधि के अनुसार बाढ़ के पानी से हजारों हेक्टेयर फसलें जलमग्न हैं। कच्चे मकान जमींदोज हो चुके हैं।
यमुना नदी में रेलवे पुल खतरे के निशान से दो मीटर ही शेष बचा है। रेलवे विभाग के एसएससी पीके खरे ने बताया कि दशकों बाद ऐसी बाढ़ देखने को मिली है। कहा कि रेलवे पुल खतरे के निशान से अभी दो मीटर दूर है। इलेक्ट्रिक पोल पूरा डूब चुका है। कहा बाढ़ का पानी घटने से राहत मिली है।
मौदहा बांध के एक्सईएन एके निरंजन ने बाढ़ पूर्वानुमान की सूचना जारी की है। इसमें कहा है कि शुक्रवार को सुबह छह बजे माताटीला बांध से बेतवा नदी में एक लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। कहा कि छोड़ा गया पानी आने पर मौजूदा जलस्तर बने रहने की संभावना है। फिलहाल दोनों नदियां दो-दो सेमी प्रति घंटे की रफ्तार से घट रही हैं।
जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश व एसपी हेमराज मीणा ने शुक्रवार को पीएसी के जवानों के साथ मोटर वोट से कुछेछा से लेकर टिकरौली गांव तक बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का दौराकर बाढ़ पीड़ितों का दर्द जाना। डीएम ने उन्हें हरसंभव मदद दिए जाने का आश्वासन दिया है।
मुख्यालय के पुराना यमुना घाट, गढ़इया, गौरादेवी नई बस्ती, पुरारा बेतवाघाट, खालेपुरा, डिग्गी, मोहल्लों में करीब दो सौ से अधिक मकान पानी से घिरे हैं। बाढ़ से प्रभावित परिवार छतों में डेरा डाले हैं, लेकिन पेयजल व शौच की समस्या इन लोगों को ज्यादा है। नाव के सहारे रोजमर्रा की वस्तुएं व पीने का पानी ला रहे हैं। यही हाल कुछेछा, चंदुलीतीर, अमिरता, हेलापुर, ब्रम्हाडेरा, सिकरोढ़ी, मनकीकला जैसे गांवों का है।
कुछेछा स्थित डिग्री कालेज के बाढ़ राहत केंद्र में ठहरे पीड़ितों की मदद में प्रशासन जुटा है। वहीं समाजसेवी भी आगे आकर पीड़ितों की मदद कर रहे हैं। जिला पंचायत सदस्य कौशल किशोर द्विवेदी व समाजसेवी राजेंद्र द्विवेदी (बच्चू महाराज) ने बताया कि शुक्रवार को पुराना यमुना घाट व सिकरोढ़ी गांव के बाढ़ पीड़ितों का भोजन कराया गया।
नगर पालिका अध्यक्ष कुलदीप निषाद ने नाव के जरिए बाढ़ पीड़ितों दर्द जाना। सभासद संजय धुरिया, राजबहादुर, लाला सिंह भी मौजूद रहे। समाजसेवी अवधेध गुप्ता व एमबीएम पब्लिक स्कूल, जिला जज ने शिविर में जाकर बाढ़ पीड़ितों को लंच पैकेट वितरित किए। कलक्ट्रेट कर्मचारी संघ ने भी लंच पैकेट दिए। तो सहायक चकबंदी अधिकारी ने कर्मचारियों के साथ लंच पैकेटों को वितरण किया।
हमीरपुर। बाढ़ से किसानों की लहलहाती तिल, ज्वार, उड़द आदि की करीब 10 हजार बीघे फसल पानी में स्वाहा हो गई है। किसानों के सामने विकराल संकट मंडरा रहा है। सुरौलीबुजुर्ग के प्रधान प्रतिनिधि रामफूल निषाद ने बताया कि मौजे की करीब ढाई हजार बीघा तिल की फसल नष्ट हो गई है।
छोटाकछार व सुरौली बुजुर्ग के निचले इलाकों के कई घर जमींदोज हो गए हैं। बेघर हुए लोगों को राहत शिविरों में रखा गया है। टिकरौली निवासी प्रधान रामप्रसाद पाल ने बताया कि उनके मौजे की करीब दो हजार बीघे तिल की फसल नष्ट हो चुकी है।
कुंडौरा निवासी महेंद्र सिंह, चुन्नू सिंह आदि ने बताया कि गांव में हालात ठीक हैं। लेकिन करीब ढाई हजार बीघे फसल चौपट हो चुकी है। यही हाल पत्योरा, बरुआ, भौंरा, पाराओझी, सिढ़रा, कुछेछा, चंदुलीतीर, मवईजार सहित दर्जनों गांवों का है।
... और पढ़ें

सदमे में परिवार, कैसे होंगे बेटियों के हाथ पीले

राठ। सरसई गांव में बाइकों की भिड़ंत में औंता गांव निवासी किसान की मौत से उसका परिवार बेसहारा हो गया। पत्नी रेखा के सामने जवान हो रहीं बेटियों के हाथ पीले करने की चिंता है।
कोतवाली क्षेत्र के औंता गांव निवासी भोलानाथ राजपूत (45) बुधवार शाम बाइक से अपने गांव जा रहा था। सरसई गांव में पालीटेक्निक कालेज के पास सामने से आ रहे सरसई गांव निवासी दीपू (22) पुत्र जयसिंह लोधी की बाइक से टक्कर हो गई थी। जिसमें भोलानाथ की मौके पर ही मौत हो गई थी। जबकि गंभीर रूप से घायल दीपू को डाक्टरों ने सीएचसी से मेडिकल कालेज झांसी रेफर कर दिया था। भतीजे हरिश्चंद्र राजपूत ने बताया कि मृतक के पास 7 बीघा कृषि भूमि है।
जिस पर खेती कर वह अपने परिवार का भरण पोषण करता था। पुत्रियां रचना (20), नीतू (18) व पुत्र रवि (16) को पढ़ा लिखा कर काबिल बनाना चाहता था। पुत्रियों की धूमधाम से शादी करने के लिए खेतों में जीतोड़ मेहनत कर रहा था। किसान की मौत के बाद उसकी पत्नी रेखा का रो रो कर बुरा हाल है।
उसे बच्चों के भविष्य की चिंता सता रही है। मृतक भोलानाथ के बडे़ भाई शिवकुमार ने दुर्घटना में दूसरी बाइक के चालक सरसई गांव निवासी दीपू पुत्र जयसिंह लोधी के खिलाफ लापरवाही व तेज गति से बाइक चला दुर्घटना करने की तहरीर दी। कोतवाल मनोज शुक्ला ने बताया कि तहरीर पर मुकदमा लिख लिया है। वहीं भतीजे हरिश्चंद्र ने 102 एंबुलेंस के खिलाफ अधिकारियों से शिकायत की। आरोप लगाया कि मौके पर पहुंचने के बाद एंबुलेंस वापस लौट गई थी। पुलिस शव लेकर सीएचसी पहुंची।
... और पढ़ें

माताटीला डेढ़ व कोटा बैराज से छोड़ा गया 5.72 लाख क्यूसेक पानी

हमीरपुर। यमुना व बेतवा नदियों के जलस्तर में बढ़ोत्तरी का क्रम गुरुवार को भी जारी रहा। बाढ़ की विभीषिका से अब हालात बदतर होते जा रहे हैं। बाढ़ का पानी मुख्यालय से सटे कुछेछा में बेतवा का तो कुरारा क्षेत्र के सिकरोढ़ी गांव में यमुना नदी का पानी घुसा है। जिससे लोगों की गृहस्थी का सामान पानी में डूब गया। बाढ़ पीड़ितों ने टायरों के सहारे पानी में जाकर सामान निकाला। उधर बेतवा नदी में माताटीला बांध से डेढ़ लाख क्यूसेक व कोटा बैराज से चंबल नदी में 5.72 लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने से नदियों के जलस्तर में और इजाफा होगा।
मुख्यालय स्थित यमुना व बेतवा नदी के जलस्तर के बढ़ने का क्रम पांचवें दिन भी जारी रहा। गुरुवार की शाम चार बजे बेतवा का जलस्तर 105.920 मीटर व यमुना का जलस्तर 106.410 मीटर रिकार्ड किया गया। इन नदियों में यमुना के खतरे का बिंदु 103.63 मीटर व बेतवा के खतरे का बिंदु 104.54 मीटर है।
बेतवा 1.38 मीटर व यमुना 2.78 मीटर खतरे से निशान से ऊपर बह रही हैं। दोनों नदियों के बढ़ने की रफ्तार करीब दो सेंटीमीटर बताई गई। नदियों के बढ़ते जलस्तर के कारण हाईवे स्थित कुछेछा गांव की बस्ती, कुंडौरा, कुरारा क्षेत्र के सिकरोढ़ी गांव में बाढ़ का पानी घुस गया।
सुबह करीब 11 बजे कुछेछा के बाढ़ पीड़ितों ने टायर का सहारा लेकर पानी में डूबी गृहस्थी को निकालने का खुद काम किया। मुख्यालय से सटे डिग्गी मोहल्ले में बुधवार से घुस रहे बेतवा का पानी अस्सी फीसदी मकानों में पहुंच गया है। मौदहा बांध (निर्माण खंड) के एक्सईएन एके निरंजन ने बताया माताटीला बांध से बुधवार को करीब डेढ़ लाख क्यूसेक पानी बेतवा नदी में छोड़ा गया है।
उधर जालौन जिलाधिकारी अब्दुल मन्नान ने कोटा बैराज से बुधवार को करीब 5.72 लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने की बात कही है। जिससे जलस्तर में बढ़ोत्तरी होना स्वाभाविक है। कोटा बैराज से छोड़े गए पानी के संबंध में एक्सईएन ने अनभिज्ञता जाहिर की है। उधर जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने कहा कि नदियों में आई बाढ़ शुक्रवार से घटना शुरू हो जाएगी। कहा कि बांधों से छोड़ा गया पानी निकल रहा है।
---------------------
टू-लेन हाईवे पर बाढ़ पीड़ितों ने बनाया आशियाना
डिग्गी मोहल्ले में बेतवा का पानी घुसने पर दर्जनों लोगों के मकान जलमग्न हो गए हैं। बाढ़ पीड़ितों ने टू-लेन हाईवे की सड़क किनारे प्लास्टिक की पन्नी लगाकर अपना अपना आशियाना बना लिया है। हालांकि प्रशासन ने इन सबको राहत केंद्र कुछेछा में जाने को कहा मगर वहां कोई जाने को तैयार नहीं है। वहीं कुछेछा के राठ तिराहे की बस्ती जलमग्न है। बाढ़ पीड़ित सड़क पर ही अपना आशियाना बनाए रहे। मगर अब सड़क पर पानी आ जाने से वह राहत केंद्र कुछेछा की ओर रूख करने लगे हैं।
------------------
मवेशियों के चारे का खुद कर रहे इंतजाम
कुछेछा स्थित राहत केंद्र में ठहरे बाढ़ पीड़ित अपने अपने मवेशी भी साथ में लाए हैं। मगर बाढ़ के चलते वह चारे का इंतजाम नहीं कर सके। बाढ़ पीड़ितों ने बताया कि उन लोगों को तो राहत खाद्य सामग्री तो दी गई है मगर मवेशियों के लिए चारे का इंतजाम नहीं हुआ है। बताया कि खेतों से हरियाली काट कर रिक्शे में लाए हैं। यही चारा मवेशियों को खिलाएंगे।
------------
सपा नेता ने बाढ़ पीड़ितों का जाना दर्द
सपा के राष्ट्रीय महासचिव विशंभर प्रसाद निषाद व पूर्व दर्जा प्राप्त मंत्री राजपाल कश्यप गुरुवार की दोपहर कुछेछा स्थित राहत केंद्र पहुंचे। उन्होंने बाढ़ पीड़ितों का दर्द जाना। कहा कि मुख्यमंत्री चुनाव की जनसभा में रैली करें अच्छी बात है। मगर बाढ़ पीड़ितों से मिलने भी आना चाहिए। सपा नेता ने कहा कि बाढ़ का पानी घटने के बाद प्रशासन को सभी बाढ़ पीड़ितों का ठीक से सर्वे कराया जाए जिससे पीड़ित को घर व फसलों की हुई क्षति का वास्तविक आर्थिक मदद मिल सके।
----------------
अफवाह फैलाने पर होगी कार्रवाई
मौदहा बांध के एक्सईएन एके निरंजन ने बताया कि माताटीला बांध से बुधवार को बेतवा नदी में करीब डेढ़ लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। इसके अतिरिक्त कोई भी पानी छोड़ने की न विभागीय और न ही केंद्रीय जल आयोग द्वारा सूचना दी गई है। कहा कि 18 लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने की बात मात्र अफवाह है। कहा कि गलत सूचना व अफवाह फैलाने वालों पर कार्रवाई की जा सकती है।
-----------------
मौदहा क्षेत्र में केन ने कहर बरपाना शुरू किया
मौदहा। मौदहा तहसील की सीमा से निकली केन नदी का भी जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। नदी का पानी गढ़ा गांव के मुख्य मार्ग में पहुंचने से सड़क का संबंध कट गया है। वहीं बक्छा गांव के निकट बनी मंदिर की कुटिया व आसपास के इलाकों में पानी घुसना जारी है। नदी के किनारे खैर, बक्छा, गढ़ा, भुलसी, छानी में पानी बढ़ने से बोई गई हजारों एकड़ तिल उड़द, मूंग व ज्वार की फसलें बर्बाद हो गई हैं। पानी इन गांवों के आबादी की ओर बढ़ रहा है। गढ़ा गांव के संपर्क मार्ग के रपटे के ऊपर पानी आने से आवागमन बंद हो गया है। यहां नाव का सहारा लेकर लोग आ जा रहे हैं। उधर बक्छा गांव के निकट बनी कुटिया को पानी ने घेर लिया है और अब यह पानी गांव की ओर बढ़ रहा है। ग्रामीणों के अनुसार यदि नदियों के बढ़ने का सिलसिला जारी रहा तो आधी रात बाद पानी गांव की निचली आबादी में पहुंच सकता है। हालांकि स्थानीय अधिकारियों ने बताया कि अभीतक कहीं भी कोई बाढ़ से नुकसान की सूचना नहीं है। अलबत्ता फसलों की क्षति पहुंची है। जिसका आकलन पानी उतरने के बाद किया जाएगा।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree