विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

अयोध्या प्रकरणः कल्याण सिंह बतौर आरोपी 27 को अदालत में तलब, विशेष न्यायाधीश ने दिया आदेश

अयोध्या प्रकरण के विशेष न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री व राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह को बतौर आरोपी तलब किया है।

22 सितंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

एटा

रविवार, 22 सितंबर 2019

तार टूटकर गिरा, करंट से मासूम की मौत

सहावर। क्षेत्र के गांव खितौली में दो साल के मासूम पर बिजली का तार टूटकर गिर गया। करंट से मौके पर ही उसकी मौत हो गई। इससे परिवार में कोहराम मच गया। सूचना पर तहसील प्रशासन के अफसर मौके पर पहुंच गए। अधिकारियों ने परिजनों को हर संभव मदद का भरोसा दिलाया है।
ग्राम खितौली निवासी प्रवीन (02) पुत्र सर्वेश मंगलवार दोपहर में अपने घर के बाहर खेल रहा था। इसी दौरान घर के पास से गुजरी एलटी लाइन का तार टूटकर गिर गया। वहीं पर खेल रहा प्रवीन तार की चपेट में आ गया। इससे तेज करंट लगने से उसकी मौके पर ही मौत हो गई।
उसकी की मौत के बाद पूरे परिवार में कोहराम मच गया। चीख पुकार मची रही। घटना की सूचना मिलते ही तहसीलदार मनोज प्रकाश, राजस्व निरीक्षक व लेखपाल के साथ गांव में पहुंच गए। जहां उन्होंने घटना की पूरी जानकारी ली। उसके बाद परिजनों को भरोसा दिया कि प्रशासन पूरा सहयोग करेगा। हर संभव मदद दिलाई जाएगी।
चीख के साथ शांत हो गई किलकारी
सहावर। जब मासूम को करंट लगा तो उसकी चीख निकली और इसी चीख के साथ आंगन की किलकारी सदा सदा के लिए शांत हो गई। दो साल का मासूम अपने चार बहन भाईयों में सबसे छोटा था।
वर्जन-
- घटना की जानकारी मिलने पर मौके पर पहुंचे थे। पीड़ित परिवार की मदद कर रहे हैं। यह एक दुर्घटना है, दैवीय आपदा नहीं- मनोज प्रकाश, तहसीलदार।
- घटना के संबंध में थाने में किसी प्रकार की कोई तहरीर नहीं दी गई है। मौके पर पहुंचकर परिजनों से पूरी घटना की जानकारी ली है- गनेश चौहान, थानाध्यक्ष।
... और पढ़ें

संगठन चुनाव के लिए भाजपा नेताओं ने जिले में डाला डेरा

एटा। संगठन चुनाव के लिए भाजपा नेताओं (निर्वाचन अधिकारियों) ने जिले में डेरा डाल दिया है। 18,19 और 20 सितंबर को बूथ समितियों के चुनाव की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। चुनाव अधिकारियों ने मंडल स्तरीय कार्यशालाओं में चुनाव प्रक्रिया की जानकारी दे दी गई है।
संगठन में मनोनयन संस्कृति को भाजपा ने बाय बाय कह दिया है। कार्यालयों में बैठकर बूथ-मंडल पदाधिकारी नहीं बनेंगे। खुली बैठकों में पार्टी सदस्य एवं कार्यकर्ता इनका चुनाव करेंगे। प्रदेश द्वारा घोषित पांच दिवसीय चुनाव कार्यक्रम के अनुसार जिले के 1572 बूथ समितियों का गठन 18, 19 व 20 सितंबर को पूरा किया जाएगा। वहीं मंडल चुनाव ठीक एक माह बाद कराए जाएंगे। गाजियाबाद के अशोक मोंगा जिला चुनाव अधिकारी एवं अशफाक सैफी सह जिला चुनाव अधिकारी बनाए गए है।
निर्वाचन अधिकारी, सह निर्वाचन अधिकारी की निगरानी में संगठन चुनाव प्रक्रिया जारी है। 18, 19 और 20 को जिले के 1572 बूथ समितियों का चुनाव पूरा हो जाएगा। 18 अक्टूबर को मंडल अध्यक्षों का चुनाव होगा।
---डा. दिनेश वशिष्ठ, जिलाध्यक्ष भाजपा
--------------
... और पढ़ें

बदहाली दे रही विकास की गवाही

एटा। बसपा सरकार में बनवाई गई कांशीराम कालोनियों में बदहाली का आलम विकास की गवाही दे रहा है। सरकारों की वैचारिक वैमनस्यता लोगों की जान पर भारी पड़ रही है। कालोनियों में सिर पर झूलते तार मौत को बुलावा दे रहे हैं, तो गंदगी, कूड़े के ढेर भी बीमारियों को आमंत्रित करते हैं। शहर की पराग डेरी के पीछे बनी कांशीराम कालोनी में दूसरे दिन भी स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पहुंचकर लोगों का उपचार किया।
वहीं पालिका की टीम ने भी पाइप लाइन को दुरुस्त कराया।
शहर में साल 2009-10 में कांशीराम कालोनी का निर्माण कराया गया था। पराग डेरी के पीछे बनी कालोनी में 372 आवास बनवाए गए। जिसमें बेघरों के आशियाने बने और तमाम सुविधाएं दी गईं। समय बदला, सरकार बदली, तो कांशीराम कालोनी का हाल भी बदलकर बदहाल हो गया। यहां पानी के लिए लोगों को तरसना पड़ा, तो बिजली भी कई महीनों तक मयस्सर नहीं हुई। आलम यह हो गया कि बसपा सरकार में कालोनी के चक्कर काटने वाले अधिकारियों ने सरकार बदलते ही कालोनी की ओर मुड़कर तक न देखा। कालोनी में आलम यह है कि जगह-जगह कूड़े के ढेर लगे हैं।
कालोनी के मार्ग पर जलभराव है। बिजली के तार सिर पर झूलते हैं। सालों से कालोनी के आवासों पर कोई रंग-रोगन नहीं हुआ है। ऐसे में बाशिंदों को दिक्कत का सामना करना पड़ता है। लोगों का कहना है कि कई बार अधिकारियों और नेताओं से विकास कराने की मांग की, लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है।
-------------
80 मरीजों की जांची सेहत
दूषित पानी पीने से लोगों की सेहत बिगड़ने के बाद मंगलवार को भी स्वास्थ्य विभाग की टीम ने लोगों का उपचार किया। इस दौरान डा. विशाल सक्सेना और डा. उत्सव जैन ने 80 मरीजों को देखा। इस दौरान मरीजों को दवाएं और बीमारियों से बचने के लिए परामर्श दिया गया।
------------
पाइपलाइन जोड़ने में जुटी रही टीम
कालोनी में टूटी पाइप लाइन को दुरुस्त करने के लिए पालिका की टीम जुटी रही। इस दौरान लोग काम होने पर राहत मिलने की उम्मीद जताते नजर आए। वहीं लोगों ने स्वच्छ पेयजल मुहैया कराने की मांग की।
-------------
लोग कहते हैं
कालोनी में बहुत बदहाली है। तार आए दिन टूटकर गिरते हैं। पानी से तमाम लोग बीमार हैं। यहां के विकास पर कोई ध्यान नहीं देता।
श्रीपाल
---------
कालोनी में गंदगी रहती है। बीमारी फैलने का बड़ा कारण ये भी है। सरकार को व्यवस्थाओं को दुरुस्त कराना चाहिए।
अनीता
-------------
पालिका की टीम पाइप लाइन को जोड़ रही है। एक-दो जगह पाइपलाइन टूटी मिली थी। जिसे दुरुस्त कराने का काम जारी है।
डा. दीप वार्ष्णेय, ईओ
----------
... और पढ़ें

कोई बाग में, तो छत पर पड़ा मिला

मिरहची। मोहल्ला गड्ढा में हुए हादसे के बाद लोगों ने मौत का मंजर देखा। किसी का शव बाग में पड़ा मिला, तो कोई छत पर पड़ा मिला। शवों की हालत देख लोगों के हलक सूख गए। चारों ओर बिखरे पड़े मांस के लोथड़े हादसे की भयावहता को बयां कर रहे थे।
मिरहची में हुए हादसे का आलम यह था कि एक बालिका का शव घटना स्थल से करीब 300 मीटर दूर बाग में पड़ा मिला जो भी बाग के पास से गुजरा, तो शव देख होश फाख्ता हो गए। एक अन्य बालिका खुशी का शव घटना के दो घंटे बाद एक छत से मिला। बताया जाता है कि विस्फोट के बाद बालिका 200 मीटर दूर गिरी। शव पहले दीवार से टकराया और पास की छत पर गिरकर फट गया। शव की हालत इतनी बिगड़ चुकी थी कि लोग बालिका को बमुश्किल पहचान सके। शवों का हाल देख हर कोई दहल गया। कई लोग तो शवों को देख बेहोश हो गए। पुलिस ने लोगों को काफी देर तक घटना स्थल से दूर रखा।
150 मीटर दूर पड़े मिले अंग
घटना स्थल से 150 मीटर दूर शाम को एक छत पर एक बालिका के अंग मिले। जिन्हें पुलिसकर्मियों ने सुरक्षित कराया।
पुलिस ने खाली कराए मकान
धमाके के बाद घटना स्थल के पास के मकानों से लोग निकलकर सुरक्षित स्थानों की ओर भागे। वहीं मोहल्ले के तमाम मकानों को पुलिस ने खाली कराया।
... और पढ़ें
मिरहची के मोहल्ला गड्ढ़ा में आतिशबाजी के धमाके के बाद मलवे से घायलों को लेजाती पुलिस- अमर उजाला मिरहची के मोहल्ला गड्ढ़ा में आतिशबाजी के धमाके के बाद मलवे से घायलों को लेजाती पुलिस- अमर उजाला

हर रोज मौत से लड़ना मजबूरी बन गया

एटा। पटाखे बनाने का शौक नहीं है, मौत से लड़ना कौन चाहता है। लेकिन हर रोज मौत को करीब से देखना मजबूरी बन गया है। पटाखे का काम वाले तमाम मासूम चेहरों को देखकर कोई नहीं कहता है कि काम बुरा है। जब कि हर रोज पटाखा बनाने वाले मौत को बहुत करीब से देखते हैं। चेहरों पर झुर्रिया और पथराई आंखों से जब मौत का मंजर देखा तो यकीन ही नहीं हुआ कि जीवित हैं।
कस्बा में हर रोज करीब 60-70 महिलाएं और बच्चे सस्ती मजदूरी पर पटाखे बनाने का काम करते हैं। पटाखे बनाते समय कई बार छोटी-छोटी वारदातें हुई हैं, लेकिन कोई बाहर आकर नहीं करता। परिवार के सामने पेट पालने की मजबूरी और कोई रोजगार नहीं। ऐसे में जीविका चलाने के लिए सिर्फ पटाखे और देशी बंब बनाना ही मजबूरी बन गया। मुन्नी देवी के मकान में हुए पटाखा विस्फोट में घायल नूरन पत्नी सिंकदर कहती हैं कि पति मोतियाबिंद के शिकार हो गए हैं, घर में कोई कमाने वाला नहीं है। पेट की भूख मिटाने के लिए और कोई काम कर नहीं सकते। ऐसे में पटाखे बनाने के काम में लग गई। मुन्नी देवी के यहां 150 रुपये प्रतिदिन की मजदूरी पर काम करती हूं। पटाखे बनाने का कोई शौक नहीं हैं लेकिन मजबूरी की वजह से हर रोज मौत से लड़ते हैं। नूरन करती हैं कि मैं जिंदा हूं यकीन नहीं हो रहा है। धमाके के समय मकान के पास ही थी लेकिन मामूली घायल नूरन अपने आप को खुशनसीब मानती हैं। नूरन अकेली ऐसी नहीं हैं जो पटाखे बनाने का काम करती हैं, इनकी जैसी दर्जनों महिलाएं और बच्चे पटाखे के काम में लगे हुए हैं। इन सबके सामने बेरोजगारी की वजह से पटाखे बनाना पेशा बन गया है और लंबे समय से हर दिन जिंदगी दाव पर लगाकर काम करते आ रहे हैं।
मिरहची के मोहल्ला गड्ढ़ा में धमाके में पास के मकानों का एक दृश्य- अमर उजाला
मिरहची के मोहल्ला गड्ढ़ा में धमाके में पास के मकानों का एक दृश्य- अमर उजाला- फोटो : ETAH
... और पढ़ें

प्रशासन ने माना: चोरी छिपे घर में बन रहे थे पटाखे

एटा। मिरहची में हुए हादसे के बाद प्रशासन भी एक्शन मोड में आ गया है। डीएम ने मामले में एसडीएम सदर को मजिस्ट्रेट जांच सौंपी है। वहीं प्रशासन ने भी यह माना है कि घर में चोरी छिपे पटाखे बनाने का काम चल रहा था। जबकि गोदाम में पटाखों का भंडारण था। जिले में अन्य जगहों पर चोरी छिपे होने वाले कामों पर भी प्रशासन नजर बना रहा है। पुलिस विभाग की ओर से भी जांच की प्रक्रिया शुरू कराई जा रही है।
मिरहची में रिहायशी इलाके में शनिवार को हुए भयावह हादसे में छह जानें चली गईं। प्रशासनिक अधिकारियों ने तेजी दिखाते हुए तुरंत घटनास्थल का जायजा लिया। डीएम सुखलाल भारती का कहना है कि हादसा बेहद दुखद है। रिहायशी इलाके में काम चल रहा था। माना जा रहा है कि लाइसेंस धारक गोदाम की जगह घर में चोरी छिपे पटाखे बनवा रही थी। बारिश से बचने के लिए ऐसा किया गया है। ताकि पटाखे खराब न हों। मामले की मजिस्ट्रेट जांच एसडीएम सदर को सौंपी गई है। डीएम ने यह भी कहा कि हादसे में मृत लोगों को सरकारी योजनाओं के तहत मुआवजे का लाभ दिलवाया जाएगा।
रिहायशी इलाके का नहीं था लाइसेंस
एसएसपी सुनील कुमार सिंह ने भी विभाग की ओर से जांच शुरू करा दी है। सीओ सदर इरफान नासिर को मामले की जांच सौंपी गई है। एसएसपी ने बताया कि लाइसेंस आबादी से दूर का था, लेकिन रिहायशी इलाके में पटाखे रखे गए, यह एक बहुत बड़ी चूक है। हादसा होने की जांच सीओ सदर को सौंपी गई है, मामले में जो भी दोषी पाए जाएंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
कमिश्नर और डीआईजी पहुंचे
हादसे के बाद देरशाम कमिश्नर अजय दीप सिंह और डीआईजी प्रीतिंदर सिंह ने घटनास्थल का जायजा लिया। इस दौरान कमिश्नर और डीआईजी ने घायलों का हाल जाना। साथ ही घटना के बारे में जानकारी जुटाई। कमिश्नर ने भी मृतकों और घायलों को योजनाओं के तहत लाभान्वित करने के निर्देश दिए। साथ ही अवैध रूप से पटाखे बनाने वालों पर कार्रवाई करने के लिए कहा।
सूचना दें, गोपनीय रखा जाएगा नाम
प्रशासन ने मिरहची हादसे के बाद लोगों को जागरूक करने की योजना बनाई है। डीएम ने बताया कि अवैध रूप से पटाखे बनाने और बेचने वालों के खिलाफ 100 नंबर पर सूचना दी जा सकती है। सूचना देने वाले का नाम गोपनीय रखा जाएगा। साथ ही कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
सांसद बोले, वापस आते ही मिलूंगा
मिरहची घटना पर सांसद राजवीर सिंह ने दुख जताया है। सांसद राजवीर सिंह राजू ने बताया कि कस्बा मिरहची में हुई हृदय विदारक घटना से काफी दुखी हूं। बाहर होने के कारण मौके पर नहीं पहुंच पाया। मैंने अपनी पत्नी प्रेमलता वर्मा पूर्व विधायक को घटनास्थल पर भेजा है। पीड़ित परिवारों को हर संभव मदद की जाएगी। ईश्वर शोक संतप्त परिवारों को इस दुख की घड़ी को सहन करने की शक्ति दे। मैं वापस आते ही पीड़ित परिवारों से मिलूंगा। शनिवार को सांसद पत्नी ने घायलों का हाल जाना।
... और पढ़ें

मौत से मुंह से खींच लाए आठ फरिश्ते

एटा। ‘जाको राखे साईंया मार सके न कोय’ मिरहची के मोहल्ला तकिया (गड्ढा) में धमाके के बाद कोई भी आगे बढ़ने को राजी नहीं था। तभी आठ फरिश्ते घायलों के लिए जिंदगी बनकर आए। ये आठ युवा जान बचाने के लिए मौत से जंग लड़ने को कूद पड़े।
हादसे के बाद मुन्नी देवी के घर में हो रहे धमाकों को सुनकर हर कोई दहशत में था। कोई भी मदद के लिए आगे नहीं बढ़ना चाहता था, लेकिन तभी गांव के ही युवा अरविंद, अजीज, राजेश, मुकेश साहू, विजय भारती, धर्मवीर, सलमान और दिनेश घायलों के लिए मसीहा बनकर आए। मजदूर अरविंद ने बताया कि उन्होंने धमाके की आवाज सुनी तो घटनास्थल पर पहुंचे। पूरा मकान गिर चुका था। जैसे-तैसे करके मलबे को हटाने का काम शुरू किया। सबसे पहले मुन्नीदेवी तड़पती हुई मिलीं। जिनको कोशिश करके बाहर निकाला। अजीज ने बताया कि मलबे के अंदर से आवाजें आ रही थीं, लेकिन एक साथ सब जुट गए, तो करीब आठ जिंदगियां बच गईं। विजय भारती बताते हैं कि चारों ओर धुआं और धूल से कुछ समझ ही नहीं आ रहा था। घायलों को तड़पते हाल में निकालकर अस्पताल पहुंचाया। मदद को कूदे युवाओं की हिम्मत की हर कोई तारीफ करता नजर आया।
... और पढ़ें

एटा: पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट, तीन बच्चों सहित छह की मौत, 11 लोग घायल

मिरहची में हादसे में फसे घायलों को निकालने फरिस्ते बनकर आए युवा- अमर उजाला
एटा का कस्बा मिरहची शनिवार सुबह पटाखा फैक्ट्री में हुए तेज विस्फोट से दहल गया। घटना में तीन मासूम बच्चों सहित छह की मौत हो गई है, जबकि 11 लोग घायल हैं। इनका अलग-अलग अस्पताल में इलाज चल रहा है। 

धमाका इतनी तेज था कि फैक्टरी के पास बने मकान भी ढह गए। 500 मीटर के क्षेत्र में इंसानी मांस के लोथड़े बिखर गए। लोग कुछ समझ पाते, इससे पहले ही धमाके के साथ धराशायी मकान में लोग जिंदा जलने लगे थे। 

थाना मिरहची क्षेत्र के मोहल्ला गड्ढा निवासी मुन्नी देवी पत्नी लालाराम के नाम से पटाखे बनाने का लाइसेंस था, जो मार्च में खत्म हो गया था। इनके मकान में पटाखे रखे हुए थे। शनिवार सुबह करीब 11.30 बजे तेज धमाके के साथ तीन मंजिला मकान धराशायी हो गया। 
... और पढ़ें

पटाखा फैक्टरी विस्फोट: दूर-दूर तक बिखरे पड़े थे इंसानी अंग, शवों को देख दहल गए दिल

एटाः बच्चों से खचाखच भरी वैन अनियंत्रित होकर पलटी, कई बच्चे घायल

जिले में अब ईईएसएल नहीं लगाएगा सोलर लाइटें

एटा। जिले में सांसद निधि के तहत लगवाई जाने वाली सोलर लाइटें अब ऊर्जा दक्षता सेवा लिमिटेेड (ईईएसएल) कंपनी से नहीं लगवाई जाएंगी। सांसद राजवीर सिंह राजू भैया ने नेडा को पत्र लिखकर सोलर लाइटों का काम रोकने के निर्देश दिए हैं।
दरअसल, अब तक जिले में ईईएसएल कंपनी 800 से अधिक सोलर लाइटें लगा चुकी है। पिछले दिनों सांसद राजवीर सिंह को शिकायत मिली कि कंपनी की सोलर लाइटें ठीक से काम नहीं कर रही हैं। साथ ही तमाम जगहों पर सोलर लाइटें कुछ दिनों में ही खराब हो गई हैं। इसे लेकर सांसद ने कंपनी से ली गईं सोलर लाइटों को सही कराने के लिए कहा है। साथ ही कंपनी की सोलर लाइटों की गुणवत्ता पर नाराजगी जताते हुए काम रोकने के निर्देश दिए हैं।
सांसद ने यूपी नेडा के परियोजना अधिकारी को पत्र लिखकर सोलर लाइटें नहीं लगवाने को कहा है। नेडा ने डीआरडीए और डीएम को पत्र लिखकर आवश्यक कार्रवाई करने के लिए कहा ह्रै।
सांसद का पत्र मिला है। ईईएसएल से सोलर लाइटें ग्राम्य विकास अभिकरण लगवाता है। इसके लिए डीआरडीए को पत्र लिखा है।
आनंद प्रकाश दीक्षित, पीओ नेडा
... और पढ़ें

तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने से आक्रोश

अलीगंज। अलीगंज तहसीलदार के खिलाफ 24 दिन बाद भी कार्रवाई नहीं होने पर गुरुवार को अधिवक्ताओं ने एसडीएम न्यायालय का बहिष्कार करने का ऐलान कर दिया। उन्हें एटा और जलेसर के बार अध्यक्ष से भी समर्थन की मांग की है।
वकीलों और तहसीलदार के विवाद में 24 दिन बाद भी कुछ नहीं होने पर गुरुवार को तहसील के बार एसोसिएशन सभागार में अध्यक्ष प्रमोद मिश्रा की अध्यक्षता में बैठक हुई। इसमें उन्होंने बताया कि 24 दिन बाद भी तहसीलदार का न तो स्थनांतरण हुआ और न ही अधिकारियों ने कोई बात की है। इससे अधिवक्ताओं में आक्रोश है। अब सदन में तय हुआ कि शुक्रवार से एसडीएम न्यायालय की अनिश्चितकालीन हड़ताल की जाएगी।
तहसीलदार, उपजिलाधिकारी न्यायालय, नायब तहसीलदार तथा आरके कार्यालय का बहिष्कार रहेगा। अध्यक्ष ने बताया कि जलेसर और एटा के अध्यक्षों से भी बात की जायेगी। जल्द ही उन्हें भी अपने समर्थन में हड़ताल करने की अपील करेंगे। वरिष्ठ अधिवक्ता प्रताप सिंह राठौर ने कहा कि 24 दिन बीत जाने के बाद भी अधिकारियों ने हड़ताल का कोई संज्ञान नहीं लिया। तहसीलदार न्यायालय और कार्यालय में तालाबंदी की जायेगी। बैठक में सचिव अनिल अवस्थी, ओमहरि सक्सेना, बलवीर सिंह यादव, रामेंद्र पाल पांडेय, वीके अवस्थी, बलवीर सिंह राठौर, मुनीश्वरदयाल दुबे, वासुदेव सिंह शाक्य वेद प्रकाश यादव, आनंद शाक्य, संतोष यादव, वीरेंद्र शाक्य, प्रमोद सक्सेना, सुधीर शाक्य मौजूद रहे।
... और पढ़ें

फर्म के फर्जी बिल लगाकर खरीद रहे थे बीज, खुली पोल

एटा। जिले के उप निदेशक कृषि कार्यालय में बीज खरीद के नाम पर लाखों का बंदरबांट हो गया। विभागीय अधिकारी व कर्मचारियों ने एक फर्म के फर्जी बिल लगाकर बीज खरीद लिए। जांच हुई, तो फर्म स्वामी ने बिल बनाने से इनकार कर दिया। इसके बाद अधिकारियों की हवाइयां उड़ गई हैं। उप निदेशक कृषि ने मामले की जांच शुरू करा दी है।
उप निदेशक कृषि कार्यालय से केंद्र सरकार की महत्वपूर्ण फसल प्रदर्शन योजना (क्लस्टर) संचालित हो रही है। इसके माध्यम से जिले की प्रत्येक ब्लॉक में क्लस्टर समूह बनाकर किसानों को शामिल करके नि:शुल्क बीज वितरण किया जाता है।
इस योजना के तहत किसानों के लिए बीज की खरीद फर्मों से की जाती है। सूत्रों का कहना है कि क्लस्टर योजना के तहत 40 क्विंटल बाजरा और इतना ही मक्का का बीज वितरण करने के लिए आया था। इसमें करीब 20 लाख रुपये से अधिक का गबन किया गया है। बीज खरीद में फर्जी तरीके से बिल लगाए गए और ज्यादातर रकम का बंदर बांट भी हो गया है। विभागीय कर्मचारियों ने पहले भी फर्जी बिल लगाकर बीज खरीद का भुगतान कराने के प्रयास किया, लेकिन अधिकारियों ने फर्जीवाड़ा पकड़ लिया, लेकिन कुछ समय बाद भुगतान कर दिया। इसको लेकर सवाल उठने लगे हैं।
फर्जी बिल लगाने वाली फर्म ने किया इनकार
फसल प्रदर्शन योजना केंद्र सरकार की धनराशि से संचालित हो रही है। सरकार धनराशि मुहैया करा दी है और कर्मचारी विभिन्न फर्मों से बीज खरीदकर भुगतान करते हैं। एक ही फर्म से बीज खरीद के बिल तीन ब्लॉकों में लगाए गए हैं। मै. मयंक एग्री जंक्शन धिरामई के बिल लगाए गए हैं, इस फर्म के मालिक ने फर्जी बिल होने की पुष्टि की है और इस तरह के बिल बनाने से इनकार किया है।
फर्जी बिल बनाने का मामला संज्ञान में आया है, जांच कराई जा रही है। दोषी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। धिरामई की फर्म ने फर्जी बिल होने का शपथ पत्र भी दिया है।
विजय शंकर, उप निदेशक कृषि।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree