विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in UP Live Updates: प्रदेश में 80 संक्रमित, लखनऊ में 9 दिनों से नहीं मिला कोई मरीज

शासन और प्रशासन संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए लगातार कोशिश कर रहा है। लोगों से भी हर वक्त घरों में रहने की अपील की जा रही है।

30 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

एटा

सोमवार, 30 मार्च 2020

नौ साल की सगी बहन के साथ किया दुष्कर्म

एटा। सगे भाई ने ही खून के रिश्तों को तार-तार कर दिया। नौ साल की बहन को दुष्कर्म का शिकार बना डाला। वारदात को उस समय अंजाम दिया गया जब पिता मायके गई मां को लेने गए थे। आरोपी पर पॉस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है।
थाना रिजोर क्षेत्र के एक गांव में बुधवार की देरशाम भाई (19 वर्ष) ने नौ साल की बहन के साथ खेत में दुष्कर्म कर दिया। इसके बाद भाई वहां से भाग गया। घायल अवस्था में बहन घर पहुंची और छोटे भाई को रोते हुए आपबीती सुनाई। इस दौरान पिता ससुराल पत्नी को लेने गया हुआ था। मां और पिता को इसकी खबर छोटे भाई ने दी तो दोनों के पैरों तले जमीन खिसक गई।
माता-पिता घर पहुंचे तो लहुलुहान हालत में बालिका मिली। जिसको इलाज के लिए निजी अस्पताल में लेकर पहुंचे, हालत अभी भी स्थिर बनी हुई है। बेटे के खिलाफ पिता ने तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने पॉस्को एक्ट के तहत मामला दर्जकर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। थाना प्रभारी सुधीर कुमार सिंह ने बताया है कि आरोपी का चाल-चलन पहले से ही ठीक नहीं है। पिता को भी वारदात वाले दिन पीटा था।
... और पढ़ें

महाराष्ट्र से लौटा युवक संदिग्ध

एटा। बागवाला थाना क्षेत्र के गांव नगल मड़िया के एक ही परिवार के तीन लोगों को संक्रमण से संदिग्ध होने पर आइसोलेट किया गया। इसी क्षेत्र के दो अन्य व्यक्तियों को भी आइसोलेट किया गया है।
नगला मड़िया निवासी एक व्यक्ति महाराष्ट्र में नौकरी करता है। दो दिन पूर्व वह लौटकर घर वापस आया। जहां उसकी हालत बिगड़ गई। परिजन उसे लेकर बागवाला सीएचसी पहुंचे। जहां चिकित्सकों ने संक्रमण की आशंका के चलते उसे जिला अस्पताल में बने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया है। वहीं उसकी मॉ और भाई की भी तबियत खराब होने पर उन्हें भी आइसोलेट किया गया है।
इसके साथ ही क्षेत्र के ही गांव महुमठ निवासी दो व्यक्ति तीन दिन पूर्व दिल्ली से वापस आए। बृहस्पतिवार से उन्हें बुखार की शिकायत हुई। शुक्रवार को वह बागवाला सीएचसी पर दवा लेने गए। जहां चिकित्सकों ने उन्हें भी जिला अस्पताल भेज आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया है। चिकित्सक डॉ सुरेश चंद्रा ने बताया कि महाराष्ट्र से आए युवक का सैंपल लेकर जांच को भेजा जाएगा। वहीं अन्य को बुखार व खांसी की शिकायत है।
... और पढ़ें

बुखार की शिकायत, जालौन के युवक को किया आइसोलेट

एटा। दिल्ली रोड पर हाथरस-एटा की सीमा से पहले सुन्ना पुल पर जिले में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति की स्क्रीनिंग की जा रही है। इस दौरान यहां से होकर गुजर रहे लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है। जहां जालौन जनपद के गांव बबीना निवासी एक व्यक्ति को बुखार होने पर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
जालौन के बबीना निवासी गौरव दिल्ली में कपड़े सिलने का काम करते हैं। बीते दस दिनों से इन्हें बुखार आ रहा है। वहीं दिल्ली में कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते वह अपने घर जा रहे थे। सुन्ना पुल पर पहुंचने पर उनका स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। जहां बुखार का पता चलने पर एंबुलेंस से इन्हें जिला अस्पताल में बने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। चिकित्सक डॉ. सुरेश चंद्रा ने बताया कि युवक को सामान्य बुखार है। संक्रमण से ग्रसित होने के कोई लक्षण नहीं हैं।
लगीं हैं चार एंबुलेंस
सुन्ना पुल पर मरीजों की जांच हो रही है। मरीजों को अस्पताल तक लाने में चार एंबुलेंस लगी हुईं हैं। एंबुलेंसों के प्रभारी विष्णु यादव ने बताया जिले में उनके पास 108 की 23 एंबुलेंस हैं।
संदिग्धों की जांच को भेजी टीम
अलीगंज ब्लाक के गांव बनी में कुछ लोग बीते दिनों केरल से आए हैं। इससे दो लोगों को अभी भी बुखार आ रहा है। किसी ने इसकी सूचना कंट्रोल रूम को दी। जहां से स्वास्थ्य विभाग की टीम को जांच के लिए भेजा गया है।
... और पढ़ें

व्यापार मंडल के पदाधिकारियों, समाजसेवियों, स्वयंसेवी संस्थाओं ने वितरित किए लंच पैकेट

एटा। जिलाधिकारी सुखलाल भारती, एसएसपी सुनील कुमार सिंह, एडीएम वित्त एवं राजस्व केशव कुमार, एडीएम प्रशासन विवेक कुमार मिश्र, एसडीएम सदर अबुल कलाम, क्षेत्राधिकारी इरफान नासिर खान, राजकुमार सिंह सहित अन्य अधिकारियों ने लॉक डाउन के पांचवें दिन पेट्रोलिंग कर शहर में व्यवस्थाओं का जायजा लिया।
डीएम एसएसपी ने शहर में पेट्रोलिंग करने के उपरांत जीटी रोड भदवास स्थित जिले की सीमा पर पहुंचकर ड्यूटी कर रहे पुलिसकर्मियों को मास्क आदि का वितरण किया। साथ ही सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पूछताछ भी की। सीमा पर ही छोड़े गए नागरिक विलाप कर रहे थे, जिनकी समस्या को डीएम, एसएसपी ने गंभीरता से लेते हुए सभी नागरिकों का स्वास्थ्य परीक्षण कराकर, बस को सैनिटाइज कराकर उन्हें उनके गंतव्य तक रोडवेज बस से भेजा।
डीएम, एसएसपी ने निर्देश दिए कि जिले की सीमा पर अधिकारियों, कर्मचारियों द्वारा गहनता से ड्यूटी की जाए, इसमें किसी भी स्तर पर लापरवाही नहीं होनी चाहिए। एनसीआर एवं अन्य स्थानों से आने वाले नागरिकों की हरसंभव मदद करना हमसभी का अहम दायित्व है। इस दौरान लक्ष्मी इंटरप्राइजेज एटा की मालिक पदमा शर्मा द्वारा 51 हजार का चेक डीएम, एसएसपी, एडीएम प्रशासन को सौंपा गया।
डीएम, एसएसपी, एडीएम वित्त एवं राजस्व, एसडीएम सदर अबुल कलाम, क्षेत्राधिकारी इरफान नासिर खान आदि ने सामुदायिक रसोई के कैम्प के माध्यम से निराश्रितों, असहायों, गरीबों एवं एनसीआर आदि क्षेत्रों से आए लोगों को खाने के पैकेट वितरित किए है।
इसके साथ ही संघ के पदाधिकारियों, जनप्रतिनिधियों, व्यापार मंडल के पदाधिकारियों, स्वयंसेवी संस्थाओं, समाज सेवियों आदि ने भी कैम्प लगाकर फल, मिठाई, खाने के पैकेट वितरित किए। डीएम, एसएसपी के निर्देश पर बाहर से आने वाले नागरिकों को एआरएम मदन लाल, पुलिस बल के सहयोग से बसों के द्वारा मैनपुरी, इटावा, कन्नौज, बेवर, छिबरामऊ, कानपुर, लखनऊ, कायमगंज, फर्रुखाबाद, हरदोई विभिन्न स्थानों पर उनके गंतव्य तक भेजा गया।
जिलाधिकारी राहत कोष के माध्यम से करें मदद
एटा। डीएम सुखलाल भारती, एसएसपी सुनील कुमार सिंह ने सूचित किया है कि भारत सरकार एवं उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कोविड-19 के कारण फैल रही महामारी को आपदा घोषित किया गया है। इस मानवीय त्रासदी के समय देश के प्रत्येक नागरिक का यह दायित्व बनता है कि इस चुनौती से निपटने के लिए अपना महत्वपूर्ण योगदान दें।
अत: जनपद एटा के समस्त नागरिकों से मेरी अपील है कि इस त्रासदी से निपटने के लिए जिलाधिकारी राहत कोष के बैंक खाते में अपनी स्वेच्छा से सहयोग धनराशि चैक, ड्राफ्ट, आरटीजीएस के माध्यम से प्रदान करने का कष्ट करें। सहयोग राशि के लिए बैंक खाते के तहत एटा डिस्ट्रिक्ट को-आपरेटिव बैंक लिमिटेड में खाता धारक का नाम जिलाधिकारी, एटा, खाता संख्या 000211005018547 में जमा कर सकते हैं।
डीएम ने जनपद के समस्त ग्राम प्रधानों से की अपील
एटा। डीएम सुखलाल भारती ने सूचित किया है कि कोविड-19 के व्यापक प्रसार को रोका जाना वर्तमान में सर्वोच्च प्राथमिकता है। दिल्ली-एनसीआर एवं अन्य बड़े शहरों से काफी संख्या में लोग परिवार सहित जनपद एटा में अपने गांव में लौट रहे हैं।
समस्त ग्राम पंचायतों के ग्राम प्रधानों से अपील करता हूं कि आपकी ग्राम पंचायत के समस्त मजरों में जो भी व्यक्ति बाहर से आये हैं, उनकी, उनके परिवार की एवं समाज की सुरक्षा के लिए उन्हें परिवार सहित उनके ही घरों में क्वारंटाइन में रहने के लिए कहें। कोई भी बाहर से आया हुआ व्यक्ति अथवा उसके परिजन किसी भी दशा में अपने घर से बाहर न निकलेे। जिला नियंत्रण कक्ष दूरभाष संख्या- 05742-234320, 234327, जिला चिकित्सालय नियंत्रण कक्ष दूरभाष संख्या- 05742-233174 कॉल के द्वारा सहायता प्राप्त कर सकते हैं।
... और पढ़ें
जिले की सीमा भदवास पर रविवार को चेकिंग के लिए पहुंचे डीएम सुखलाल भारती और एसएसपी सुनील कुमार। इस ? जिले की सीमा भदवास पर रविवार को चेकिंग के लिए पहुंचे डीएम सुखलाल भारती और एसएसपी सुनील कुमार। इस ?

गांव लौट रहे लोगों से दहशत, चेकअप के लिए आ रही कॉल

एटा। हैलो! कंट्रोल रूम से बोल रहे हैं, ‘मैं बनवारी खुर्द से आशा मीना देवी बोल रही हूं। गांव में 11 लोग दिल्ली से आए हैं। एक की हालत कुछ ज्यादा ही खराब है। गांव के लोग परेशान हैं। जरा डॉक्टर को भेज कर चेकअप करा लीजिए।’ कुछ ऐसी ही कॉल रविवार को कलक्ट्रेट और सीएमओ कार्यालय में बने कंट्रोल रूम के नंबर पर आई।
कंट्रोल रूम मेें ड्यूटी कर रहीं मलेरिया निरीक्षक ओमना यादव ने काल रिसीव की। इस पर कॉल करने वाले ने कहा कि गांव में 40 लोग पंजाब और नोएडा से आए हैं। चार की हालत ठीक नहीं है। चेकअप करा लो, मलेरिया निरीक्षक ने रैपिड रिस्पांस टीम को गांव भेज दिया।
उन्होंने बताया कि सुबह से जैथरा, निधौलीकलां, बागवाला, सकीट सहित अन्य क्षेत्रों से ऐसी ही कॉल आ रही हैं। टीम भेजकर सभी की जांच कराई जा रही है। उन्होंने कहा कि अभी तक 25 काल आ चुकी हैं। सभी जगह के लिए टीमों को बता दिया गया है।
कंट्रोल रूम का सीएमओ ने किया निरीक्षण
सीएमओ डॉ. अजय अग्रवाल ने रविवार को कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया। उन्होंने रजिस्टर पर दर्ज किए जा रहे नंबरों सहित नामों को देखा। वहीं, टीम गई या नहीं इसकी जानकारी की।
... और पढ़ें

लॉकडाउन में भी खोल रखीं थीं दुकानें, पांच को भेजा जेल

एटा। कोरोना वायरस के दौरान लॉकडाउन का पालन नहीं करना पांच दुकानदारों को भारी पड़ गया है। नियमों का पालन नहीं करने वालों पर पुलिस ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। शनिवार को पुलिस ने पांच दुकानदारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जेल भेजा है।
लॉकडाउन के दौरान सुबह सात से 10 और शाम पांच से सात बजे तक दुकानें खोलने का समय निर्धारित किया गया है। इससे आगे पीछे समय में दुकान खोलने पर पूर्णत: पाबंदी लगाई गई है। इसका पालन नहीं करने पर जैथरा पुलिस ने फगनौल चौराहा स्थित दुकान को खोलकर बैठे अलीम शाह निवासी मोहल्ला सुनार वाली गली धुमरी और गांधी मार्केट के पास कस्बा धुमरी में दुकान चलाते हुए ज्ञान सिंह निवासी खिरिया रोड धुमरी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर जेल भेजा है।
वहीं, थाना नयागांव पुलिस ने गांव अलीपुर में दुकानें खोलकर संचालित करने वाले अलीम, अब्दुल सत्तार और आंशू निवासी अलीपुर को गिरफ्तार कर रिपोर्ट दर्ज करने के बाद जेल भेजा गया है। नयागांव पुलिस ने सराय अगहत में विनोद निवासी सराय अगहत सहित तीन को गिरफ्तार किया है।
वहीं निधौली कलां पुलिस ने मंडी तिराहा से सुभाष चंद्र निवासी निधौली कलां सहित तीन को गिरफ्तार किया है, जबकि जलेसर अड्डा से वीरेश निवासी नगला दुर्जन थाना निधौली कलां सहित चार को गिरफ्तार किया है। सभी को जेल भेज दिया गया है। संवाद
... और पढ़ें

कोरोना के चलते जिला अस्पताल बना रेफरल सेंटर

एटा। लॉकडाउन के बाद से जिला अस्पताल पहुंचने वाले मरीजों की संख्या थम गई है। गंभीर बीमारी हार्ट, सांस और टीबी सहित अन्य मर्ज से परेशान मरीज जिला अस्पताल आ ही नहीं रहे हैं, जो आ भी रहे हैं, उन्हें यहां से आगरा या सैफई रेफर किया जा रहा है। लॉकडाउन के बाद से पहुंचे हार्ट के चार मरीजों को हायर सेंटर भेज दिया गया।
वहीं, इमरजेंसी में एक दिन में 70 से अस्सी मरीज इलाज को पहुंच रहे हैं। इसमे सबसे ज्यादा संख्या दुघर्टना में घायलों की होती है। कोरोना वायरस के बाद जिला अस्पतालों की ओपीडी बंद कर दी गई। इसके चलते मरीज इलाज के लिए नर्सिंग होम पर पहुंचने लगे, लेकिन लॉकडाउन के चलते यहां भी उनकी संख्या कम हो गई।
आलम यह है कि जिला अस्पताल में लॉकडाउन के बाद अब तक दिल के रोग से पीड़ित मरीज चार पहुंचे। जहां अस्पताल के चिकित्सकों ने संसाधनों का अभाव बताकर उन्हें हायर सेंटर पर रेफर कर दिया। वहीं सांस रोग से पीड़ित 28 मरीज पहुंचे। जहां आठ मरीजों को इमरजेंसी वार्ड में थोड़ी देर भर्ती कर रिलीफ होने पर उन्हें घर भेज दिया। वहीं, 20 मरीजों को हायर सेंटर पर रेफर कर दिया।
रविवार को इमरजेंसी में ड्यूटी कर रहे चिकित्सक प्रवीन ने बताया कि इमरजेंसी में गंभीर मरीज को ही भर्ती किया जा रहा है। उन्होंने कहा अस्पताल में वेंटीलेटर की कोई व्यवस्था नहीं है। सांस रोगियों को कब वेंटीलेटर की जरूरत पड़ जाए। यह पता नहीं होता है। इसके चलते उन्हें अस्पताल से रेफर कर दिया जाता है।
फ्लू कार्नर पर देखा जा रहा मरीजों को
सीएम के निर्देश के बाद अस्पताल में खुले फ्लू कार्नर पर बुखार, खांसी और जुकाम से पीड़ित मरीजों का ही उपचार किया जा रहा है। यहां पहुंचने वाले मरीज को देखकर दवा दे उसे घर भेज दिया जाता है।
नर्सिंग होम पर भी चिकित्सक दे रहे कम समय
एमबीबीएस, एमएस डॉ श्याम सिंह शाक्य ने बताया कि वह सुबह के समय दो घंटे के लिए ही नर्सिंग होम पर बैठते है। वहीं मरीजों को एक मीटर की दूरी बनाए रखने क प्रति जागरूक करते हैं। उन्होंने कहा अस्पताल में दो मरीज भर्ती हैं। गंभीर मरीज को ही अस्पताल में रख रहे हैं। डॉ. शैलेंद्र जैन के बताया कि लॉकडाउन के चलते मरीज कम ही आ रहे हैं। वह एक घंटा सुबह व एक घंटा शाम के समय अस्पताल में बैठते हैं। उन्होंने कहा कि सीएमओ ने उनके अस्पताल को चयनित किया है। इसे चलते मरीजों को भर्ती नहीं कर रहे हैं। गौरतलब है कि जिले में एक मात्र इसी अस्पताल में वेंटीलेटर हैं।
जिले में हृदय सहित कई बीमारियों के चिकित्सक ही नहीं
जिले में चिकित्सकों का अभाव है। हृदय सहित कई अन्य बीमारियों के चिकित्सक जिले में नहीं है। जिला अस्पताल में 25 की जगह सिर्फ सात चिकित्सक ही कार्य कर रहे हैं। संसाधनों का भी अभाव है। वेंटीलेटर की मांग की गई है। वहीं चिकित्सकों की भी मांग लगातार की जा रही है। गंभीर होने की हालत में ही मरीज को रेफर किया जाता है।
-डॉ. अजय अग्रवाल, सीएमओ
... और पढ़ें

लॉकडाउन: लड़खड़ाती चाल, मंजिल भी दूर, नहीं टूट रहा पैदल चलने वालों का कारवां

जिला अस्पताल में स्ट्रेचर पर पड़ी घायल महिला उपचार के लिए इंतजार करती हुई। संवाद
लॉकडाउन के चौथे दिन जीटी रोड पर राहगीरों का कारवां टूटने का नाम नहीं ले रहा है। किसी महिला के कंधे पर बच्चा बैठा है तो कोई कपड़ों का थैला पीठ पर लादे लड़खड़ाती चाल से चला आ रहा है। दिव्यांग तो बस स्टैंड पर पीठ पर बैग लादे घसीटते हुए बस की ओर दौड़ा चला जा रहा था।

हालात भयावह देख सुबह से ही जिलाधिकारी सुखलाल भारती और एसएसपी सुनील कुमार सिंह बस स्टैंड पर खड़े होकर लोगों को निजी वाहन, बस और टैंकर, ट्रक आदि में बैठाकर गंतव्य को रवाना करने में जुटे रहे। जिला पंचायत में संचालित रसोई सहित समाजसेवियों और व्यापारियों द्वारा बनवाया गया भोजन लोगों को वितरित कराया गया।

दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा सहित दूर-दराज के इलाकों से पैदल चलकर आने वाले लोगों में किसी को कन्नौज-फर्रुखाबाद तक जाना है तो कोई पटना और आजमगढ़ तक के सफर पर पैदल ही चल निकला है। कोई साइकिल से ही निकल पड़ा है तो कोई रिक्शा से।

11600 से ज्यादा लोग रवाना:

शनिवार सुबह आठ से दो बजे तक जिले में आए करीब 11600 राहगीरों को डीएम और एसएसपी ने अधीनस्थ पुलिसकर्मियों के सहयोग से बस और अन्य वाहनों में बैठकर गंतव्य के लिए रवाना किया। इनमें फर्रुखाबाद के 2800, मैनपुरी के 2100, कन्नौज 2100, इटावा 1500, औरैया 1100, कानपुर 1500, लखनऊ 300 और हरदोई के लिए 200 यात्रियों को प्राइवेट बसों से गंतव्य तक भिजवाया।

बसें कराई सैनिटाइज:-जिलाधिकारी सुखलाल भारती ने बताया कि राहगीरों को लेकर जाने वाली बसों को पूरी तरह से सैनिटाइज कराने के बाद ही भेजा जा रहा है, जिससे लोगों को कोरोना वायरस से बचाव हो सके।
 
सुन्ना पुल पर हो रही स्क्रीनिंग:-जिले की सीमा में प्रवेश करने वाले लोगों की जिले की सीमा में प्रवेश पर अलीगढ़ मार्ग पर सुन्ना पुल पर स्क्रीनिंग की जा रही है। यहां स्वास्थ्य विभाग की टीम लाइन से लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण करने के बाद ही आगे जाने दे रही है।

जिला पंचायत पर बंट रहा भोजन:-प्रशासन ने जिला पंचायत सभागार में आश्रय स्थल बनाया है तो वहीं रसोई संचालित की जा रही है। यहां से भोजन पैकेटों में बंद कर लोगों तक पहुंचाया जा रहा है।

समाजसेवी आगे आए आगे
विधायक विपिन वर्मा डेेविड, भाजपा जिलाध्यक्ष संदीप जैन, पूर्व विधायक शिशुपाल सिंह यादव, गजेंद्र सिंह बबलू, प्रमोद गुप्ता, व्यापारी नेता अतुल राठी आदि ने माया पैलस चौराहा पर लोगों को भोजन बांटा। काली माता मंदिर ठंडी सड़क के महंत संजीव दीक्षित भी घर से दो बोरे में भोजन के पैकेट बनवाकर लाए और बांटे। कांग्रेसियों ने पूर्व जिलाध्यक्ष चौब सिंह बघेल के नेेतृत्व में माया पैलेस चौराहा पर सामाजिक दूरी के लिए चूने से गोले बनवाकर लोगों को भोजन बंटवाया।
 
... और पढ़ें

विदेश से आने वाले सूचना छिपाएंगे तो दर्ज होगी एफआईआर : डीएम

कासगंज। जिलाधिकारी चंद्र प्रकाश सिंह ने विदेश से आने वाले सभी नागरिकों को चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि जो व्यक्ति पिछले 15 दिनों में जिले में आए हैं। वे तत्काल इसकी सूचना कंट्रोल रूम पर दें। जो व्यक्ति सूचना नहीं देंगे, उनके खिलाफ महामारी अधिनियम की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।
जिलाधिकारी ने जिले के विभिन्न इलाकों में भ्रमण किया और लॉकडाउन की स्थिति का जाएजा लिया। उन्होंने भ्रमण के दौरान लोगों को सामाजिक दूरी बनाने के लिए भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जो लोग राहगीरों को भोजन आदि दे रहे हैं, वह भी सामाजिक दूरी का ध्यान रखें। डीएम ने जिला मुख्यालय सहित पटियाली की सीमा कादरगंज तक एसपी सुशील के साथ निरीक्षण किया।
उन्होंने कहा कि आपात स्थिति में 102 या 108 एंबुलेंस सेवा की सहायता लें। कोरोना वायरस के नियंत्रण के लिए शासन, प्रशासन के साथ सहयोग करें। कोरोना वायरस से सतर्क रहें, घबराएं नहीं। अपने प्रतिष्ठान, दुकानें एवं व्यवसायिक स्थलों को बंद रखें। कोई भी व्यक्ति, व्यवसायी किसी भी आवश्यक वस्तु का अत्यधिक भंडारण अथवा कालाबाजारी करने का प्रयास न करें। ऐसा करने पर उनके कार्यवाही की जाएगी।
उन्होंने बताया कि जन सामान्य को खाद्यान्न, दूध, फल, सब्जी, दवाएं और आवश्यक वस्तुएं उपलब्ध कराने की होम डिलीवरी के माध्यम से व्यवस्था की गई है।
... और पढ़ें

राशन सामग्री लेने जा रहे पिता-पुत्र की हादसे में मौत

एटा। लॉकडाउन को लेकर बाजारबंदी के चलते खरीदारी का समय निर्धारित किया गया है। शनिवार की सुबह सात बजे दुकानें खुली तो पिता-पुत्र जरूरी राशन सामग्री की खरीदारी करने के लिए अलीगंज जा रहे थे। इसी बीच वे मैक्स पिकअप की चपेट में आ गए और दोनों की मौके पर ही मौत हो गई।
थाना अलीगंज क्षेत्र के किशनपाल और इनका पुत्र मुनेश कुमार निवासी बिरियन थाना जसरथपुर बाइक से अलीगंज सामान खरीदने जा रहे थे। जब वे गांव लड़सिया के पास पहुंचे तभी वे मैक्स पिकअप की चपेट में आ गए। इससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए। उनकी मौके पर ही मौत हो गई।
हादसा स्थल पर पहुंची पुलिस ने मुनेश कुमार की जेब से मिले मोबाइल नंबर से परिजनों को खबर दी। हादसे की रिपोर्ट मृतक के चचेरे भाई अजीत ने दर्ज कराई है। पुलिस ने दोनों शवों का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिए हैं। परिजनों ने बताया है कि सुबह सात बजे बाजार खुलने के बाद पिता-पुत्र घरेलू सामान खरीदने कस्बा अलीगंज जा रहे थे। तभी हादसे का शिकार हो गए।
... और पढ़ें

सामुदायिक रसोईघर निराश्रित को खिलाएगा खाना

एटा । लॉकडाउन के चलते फंसे लोग ध्यान रखें। सामुदायिक रसोईघर उनके खाने का इंतजाम कर रही है। इसके लिए जिला पंचायत में प्रशासन ने रसोई खोल दी है, जिसमें भूखे प्यासे लोगों को खाना मिलेगा। लॉकडाउन के बाद बड़ी संख्या में दूसरे जिलों एवं प्रांतों के लोगों के यहां पड़े होने का अनुमान है।
इनमें से दिहाड़ी मजदूर ठेला और खोमचा आदि लगाकर रोजमर्रा की सामग्री की खरीदारी कर गुजारा करते हैं। उनके सामने अब कमाई का जरिया न होने से भोजन की व्यवस्था जुटाना संभव नहीं दिख रहा है। ऐसे में प्रशासन ने लोगों को भोजन मुहैया कराने के लिए जिला पंचायत में सामुदायिक रसोई संचालित की है।
इसके लिए अधिकारियों को लगाया गया है । जहां यह लोग घरों से दूर रह रहे लोगों को चिह्नित कराने का काम करेंगे। डीएम सुखलाल भारती ने बताया सामुदायिक रसोई से गैर जनपदों से आ रहे लोगों के अलावा गरीबों के साथ साथ अन्य लोगों के भी भोजन की व्यवस्था की गई है।
एसडीएम सदर नोडल अधिकारी नामित
डीएम सुखलाल भारती ने बताया कि सामुदायिक रसोई शुरू हो गई है। सदर एसडीएम अबुल कलाम को नोडल अधिकारी नामित किया गया है। निकायों के अधिशासी अधिकारी इसमें सहयोग करेंगे। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के दौरान जिले में कोई भूखा न रहे, इसके तहत ही सामुदायिक रसोई का संचालन शुरू किया गया है।
डीएम ने कहा कि गैर जनपदों से पैदल चलकर आ रहे लोगों के लिए जिला पंचायत में आश्रय स्थल भी बनाया है। जहां वे लोग रह सकते हैं। वहीं इन्हें सामुदायिक रसोई से भोजन कराया जाएगा।
... और पढ़ें

जिले में 1.30 लाख महिलाओं को मुफ्त में मिलेगा सिलिंडर

एटा। कोरोना को लेकर केंद्र सरकार ने राहत पैकेज की घोषणा कर दी। इसके तहत जिले में लगभग एक लाख 30, 000 उज्ज्वला योजना से लाभान्वित महिलाओं को 3 माह का गैस सिलिंडर मिलेगा। सरकार के फैसले से महिलाओं को राहत मिलेगी। वहीं, गैस एजेंसियों को सिलिंडर घर तक पहुंचाने के लिए व्यवस्था करनी होगी। सरकार के इस फैसले से उज्ज्वला गैस कनेक्शन धारक महिलाओं के चेहरे में खुशी आ गई है।
केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की घोषणा से जिले में एक लाख इकतीस हजार 147 लाभार्थी कनेक्शन धारकों को लाभ मिलेगा। इसके तहत 3 माह तक उनके घर में सिलिंडर मुफ्त आएगा। सरकार की घोषणा पर महिलाओं ने अपनी राय दीए तो साथी इसे गरीबों के लिए उठाया गया। अब तक का सबसे बड़ा कदम बताया। उन्होंने कहा सरकार हर किसी के लिए सोचती है।
मुफ्त गैस सिलिंडर देने की घोषणा, बड़ी राहत
उज्ज्वला योजना से पहले चूल्हे पर खाना पकाती थी। इससे शरीर को नुकसान पहुंच रहा था। गैस कनेक्शन ने पहले राहत दी। अब सरकार ने तीन माह तक मुफ्त गैस सिलिंडर देने की घोषणा कर बहुत बड़ी राहत दी है।
-रामबेटी, नगला पोथा
लॉकडाउन में रिफिलिंग की समस्या थी
लॉकडाउन के समय सरकार ने तीन माह तक उज्ज्वला गैस कनेक्शन धारकों को निशुल्क गैस सिलिंडर देने की घोषणा कर बहुत बड़ी राहत दी है। लॉकडाउन में रिफिलिंग की समस्या थी। सरकार ने चिंता दूर कर दी है।
देवश्री, संतोष नगर
...............
लॉकडाउन में पति काम पर भी नहीं जा पा रहे हैं। ऐसे में खाना पकाने के लिए संसाधन जुटाने में दिक्कत आ रही है। इस दौरान 3 सिलिंडर मुफ्त मिलने से बहुत राहत होगी। सरकार का यह कदम बहुत अच्छा है।
-ममता, पोथा नगला
... और पढ़ें

नगला मड़िया में पूरे गांव का होगा स्वास्थ्य परीक्षण

एटा। सदर तहसील के गांव नगला मड़िया में एक युवक महाराष्ट्र से लौटकर आया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उसे संदिग्ध मानते हुए आइसोलेट किया है। वहीं उसका सैंपल जांच के लिए अलीगढ़ भेजा गया है। इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग दो टीमों को गांव भेजकर सभी का परीक्षण करा रही है।
कोरोना के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग की टीम सतर्क है। तहसील के गांव में महाराष्ट्र से लौटा युवक को खांसी और बुखार आ गया। जानकारी पर स्वास्थ्य विभाग की टीम में हड़कंप मच गया। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर युवक को जिला अस्पताल में भर्ती कराया और सैंपल जांच के लिए भेजा।
वहीं परिवार के दो अन्य सदस्यों को भी स्वास्थ्य विभाग की टीम ने आइसोलेट किया। वहीं गांव में फैली दहशत के कारण स्वास्थ्य विभाग ने दो टीमों को गांव में जांच के लिए भेजा है। सीएमओ डॉ. अजय अग्रवाल ने बताया कि कोरोना संक्रामक रोग है। महाराष्ट्र से लौटे युवक के कारण गांव में दहशत का माहौल है। ऐसे में सभी की जांच कराई जा रही है।
बस स्टैंड पर किया गया परीक्षण
स्वास्थ्य विभाग द्वारा शनिवार को गैर-जनपदों सें आ रहे लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कराने के लिए बस स्टैंड पर दो एलएस एंबुलेंस लगाई गई। यहां एक हजार से अधिक लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। वहीं बुखार से पीड़ित निकले 19 लोगों को जिला अस्पताल में उपचार के लिए भेजा गया।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us