बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

सील गोदाम से एक साल में  163 क्विंटल डोडा खपा दिया         

अमर उजाला ब्यूरो             बदायूं। Updated Wed, 24 May 2017 12:03 AM IST
विज्ञापन
अपराध
अपराध - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
बदायूं से चल रहा था रैकेट, संभल पुलिस ने किया खुलासा            
विज्ञापन

डोडा के सील किए गए गोदाम से पंजाब-हरियाणा, छत्तीसगढ़ और पश्चिमी बंगाल तक नशे का काला कारोबार चल रहा था। करीब एक साल पहले सील किए गए गोदाम से माफिया ने 163 क्विंटल डोडे की तस्करी करा दी। फैजगंज बेहटा थाने से करीब एक किलोमीटर दूर स्थित डोडा के गोदाम से नशे का कारोबार चल रहा था और पुलिस को इस बारे में पता तक नहीं लगा। संभल पुलिस ने जब रैकेट का खुलासा किया तो अधिकारियों के होश उड़ गए।        
जिले में डोडा के आठ गोदाम हैं। इनमें सबसे ज्यादा पांच गोदाम बिसौली तहसील में हैं। डोडा पर केंद्र सरकार की पाबंदी के पास 31 मार्च 2016 को सभी आठ गोदामों को सील कर दिया गया था। उस समय सभी गोदामों में डोडा का स्टॉक करीब 1869 क्विंटल था। सबसे ज्यादा ककराला के गोदाम में 832 क्विंटल डोडा था। गोदाम सील किए जाने के बाद भी फैजगंज बेहटा के गोदाम से डोडा की तस्करी होती रही। इस गोदाम में 209 क्विंटल डोडा सील किया गया था। रविवार को चंदौसी में डोडा के साथ दो लोगों की गिरफ्तारी के बाद यहां से चल रहे नशे के कारोबार का खुलासा हुआ। संभल पुलिस और नारकोटिक्स की टीम ने फैजगंज बेहटा में डोडा के गोदाम पर छापामारी की तो साफ हो गया कि रैकेट के तार कहां-कहां तक फैले हुए थे। संभल पुलिस गोदाम मे मौजूद डोडा की एक खेप भरकर अपने साथ ले गई। नशे के कारोबार का खुलासा होने के बाद बदायूं पुलिस-प्रशासन के भी कान खड़े हो गए।             

    
डोडा के तीन गोदामों का सत्यापन, स्टॉक पूरा मिला            
-पांच गोदामों का बुधवार को किया जाएगा सत्यापन            

नशे के कारोबार का भंडाफोड़ होने के बाद आबकारी विभाग और पुलिस-प्रशासन को डोडा के सील गोदामों में स्टॉक सत्यापन की याद आई है। मंगलवार को सिविल लाइंस थाना क्षेत्र के बहेड़ी, सालारपुर और अलापुर क्षेत्र के ककराला में डोडा के गोदामों में स्टॉक का सत्यापन किया गया। यहां स्टॉक पूरा पाया गया है।            
सोमवार को डोडा के कारोबार का खुलासा होने के बाद से ही आबकारी विभाग के साथ पुलिस-प्रशासन के माथे पर भी शिकन थी। एसएसपी चंद्र प्रकाश ने आबकारी अधिकारी आरके शर्मा से गोदामों में स्टॉक की जांच को कहा था। मंगलवार को तीन गोदामों में स्टॉक का सत्यापन किया गया। यहां स्टॉप पूरा पाया गया है। अब बिसौली तहसील के पांच गोदामों का सत्यापन होना बाकी है। बता दें कि बिसौली तहसील क्षेत्र नशे के कारोबार के लिए लंबे समय से बदनाम चल रहा है।             
      
जिले में अफीम उत्पादन के 315 लाइसेंस            
बदायूं। अफीम उत्पादन के मामले में बदायूं का नंबर सूबे में तीसरे नंबर पर आता है। जिले में अफीम उत्पादन के 315 लाइसेंस हैं। 266 नए लाइसेंस पिछले साल ही जारी किए गए थे। इससे पहले बदायूं में अफीम उत्पादन के सिर्फ 49 लाइसेंस थे। हालांकि, केंद्र सरकार ने डोडा को लेकर नीति बदल दी है। अब डोडा को खेत में ही नष्ट करने की व्यवस्था है। इसके बावजूद कुछ लोग चोरी-छिपे डोडा बचा लेते हैं। इसको बाजार में बेच दिया जाता है। हालांकि, अब तक इस तरह का कोई मामला प्रकाश में नहीं आया है।     

 
बहेड़ी, सालारपुर और ककराला स्थित गोदामों में स्टॉक का सत्यापन कर लिया गया है। यहां स्टॉक पूरा मिला है। बाकी के पांच गोदामों का सत्यापन बुधवार को किया जाएगा। सत्यापन संबंधी रिपोर्ट कमिश्नर, डीएम और एसएसपी समेत उच्च अधिकारियों को भेज दी गई है।
-आरके शर्मा, जिला आबकारी अधिकारी

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us