विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

अयोध्या प्रकरणः कल्याण सिंह बतौर आरोपी 27 को अदालत में तलब, विशेष न्यायाधीश ने दिया आदेश

अयोध्या प्रकरण के विशेष न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री व राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह को बतौर आरोपी तलब किया है।

22 सितंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

बदायूं

रविवार, 22 सितंबर 2019

पत्नी से कहासुनी के बाद गंगा में कूदे कासगंज के युवक को गोताखोरों ने बचाया

फोटो- 21 बीडीएनयूजेएचपीएच-03
पत्नी से कहासुनी के बाद गंगा में कूदे कासगंज के युवक को बचाया
कछला गंगाघाट पर शनिवार शाम का मामला, पुल पर खड़ा कर दिया था टेंपो
अमर उजाला ब्यूरो
उझानी (बदायूं)। पत्नी से कहासुनी पर गुस्साए युवक ने कछला गंगाघाट पर पुल से छलांग लगा दी। उसे देख आसपास के लोगों ने शोर मचाया तो गोताखोर भी दौड़ आए। गोताखोरों ने मशक्कत कर उसे सकुशल बाहर निकाल लिया। पुलिस की सूचना के बाद देर रात उसके परिजन भी गंगाघाट पर पहुंच गए हैं।
कासगंज जिले के अमांपुर थाना क्षेत्र के गांव सकतपुर गदेपुर निवासी अमरीश (30) पुत्र सोनपाल अपना टेंपो लेकर शनिवार शाम कछला पुल पर पहुंचा। टेंपो उसने पुल पर ही साइड में खड़ा कर दिया। इसके बाद वह कुछ देर तक पुल पर ही घूमता रहा। अचानक ही वह पुल की रेलिंग पर चढ़ा और गंगा में छलांग लगा दी। उसे पुल से कूदते समय पास में ही मौजूद चाट -पकौड़ी का ठेला लगाने वाले युवकों ने देख लिया। उन्होंने शोर मचाना शुरू कर दिया। उसी दौरान पंखियानगला की तरफ से मौके पर पहुंचे दो गोताखोर ने उसे बचाने के लिए गंगा में कूद गए। करीब 15 मिनट की मशक्कत के बाद अमरीश को सकुशल बाहर निकाल लिया गया। सूचना के बाद पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। अमरीश ने पुलिस कर्मियों को बताया कि सुबह में पत्नी से कहासुनी हो गई थी। गुस्से में वह कछला चला आया और आत्महत्या करने के लिए गंगा में कूद गया। पुलिस कर्मियों ने उससे सेलफोन का नंबर पता करके उसके घरवालों को भी घाट पर बुला लिया। टेंपो भी पुलिस के कब्जे में है।
... और पढ़ें

46 लाख की शराब मामले में ट्रक मालिक भी गिरफ्तार

--पंजाब के ध्यानार्थ
46 लाख की शराब पकड़े जाने के
मामले में ट्रक मालिक भी गिरफ्तार
चालक का भाई ही था शराब और ट्रक का मालिक
ट्रक के आगे चलता था, पुलिस ने भेजा जेल
अमर उजाला ब्यूरो
उसावां (बदायूं)। पांच दिन पूर्व कस्बे में पलटे पंजाब की शराब से भरे ट्रक के मालिक को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मालिक ट्रक चालक गुरुप्रीत का ही भाई है। पुलिस के मुताबिक गुरुप्रीत ट्रक चलाता था जबकि गुरदीप उसके आगे चलता था ताकि कोई खतरा होने पर उसे संभाला जा सके।
विगत 17 सितंबर को सुबह करीब 10 बजे उसावां पुलिस कलान बार्डर पर वाहन चेकिंग कर रही थी। उसी दौरान बैरियर से गुजरे ट्रक का चालक घबरा गया और उसका ट्रक अनियंत्रित होकर खाई में पलट गया। उसमें शराब लदी हुई थी। पुलिस ने चालक गुरप्रीत पुत्र सरदारी लाल निवासी रजपुरा थाना बसंतपुर जिला पटियाला (पंजाब) और हेल्पर जसविन्दर पुत्र काड़राम निवासी कस्बा बनूर जिला पटियाला (पंजाब) को हिरासत में ले लिया था। ट्रक की सुरक्षा को पुलिस लगा दी गई थी। पूछताछ के दौरान चालक और हेल्पर ने दावा किया था कि ट्रक में लदी शराब सरकारी है और पंजाब से भूटान जा रही है। इस पर पुलिस और आबकारी विभाग ने मामले की जांच शुरू कर दी। पुलिस ने पंजाब से रिपोर्ट मांगी, जिसमें पता चला कि दोनों अवैध तरीके से शराब ले जा रहे थे। ट्रक में पंजाब की 46 लाख की नौ सौ पेटी शराब (43200 क्वार्टर) भरी थी। पूरी छानबीन के बाद पुलिस ने शराब को कब्जे में लेकर ट्रक को सीज कर दिया। धारा 63/72 आबकारी अधिनियम एवं धारा 420, 468 के तहत रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस ने चालक और हेल्पर को जेल भेज दिया था। चालक गुरुप्रीत ने बताया कि शराब और ट्रक उसके भाई गुरदीप का है। एसओ राजीव कुमार ने बताया कि पंजाब-हरियाणा की शराब दूसरे राज्यों में तस्करी का मुख्य आरोपी गुरदीप है। शनिवार को उसे बदायूं रोड के एक ढाबा के पास से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। उन्होंने बताया कि शराब और ट्रक उसी का है। गुरुप्रीत और गुरदीप भाई हैं। गुरदीप शराब भरे ट्रक के आगे चलता था ताकि कोई खतरा होने पर संभाला जा सके।
... और पढ़ें

भूरा की कॉल डिटेल निकलवाकर मुख्य आरोपी तक पहुंचेगी क्राइम ब्रांच

भूरा की कॉल डिटेल निकलवाने के बाद
मुख्य आरोपी तक पहुंचेगी क्राइम ब्रांच
अंदर ही अंदर चल रही मुख्य आरोपी की गर्दन दबोचने की तैयारी
नवंबर में पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष के नौकर समेत नौ लोगों को पकड़ा था पुलिस ने
पिस्टल कांड: अब नये इंस्पेक्टर कर रहे विवेचना
अमर उजाला ब्यूरो
बदायूं। बहुचर्चित पिस्टल कांड के आरोपी भले ही यह सोचकर खुश हों कि मामला दब गया है लेकिन ऐसा नहीं है। क्राइम ब्रांच अंदर ही अंदर जांच करके उन पर शिकंजा कसने की पूरी तैयारी कर रही है। इसके लिए ककराला निवासी भूरा की कॉल डिटेल निकलवाई जा रही है ताकि यह पता चल सके कि उसके संबंध किस-किस से थे और किसके इशारों पर पिस्टलों की सप्लाई करता था। माना जा रहा है कि कॉल डिटेल के मिलान के बाद कुछ सफेदपोशों के नाम भी इस धंधे में उजागर होंगे।
नवंबर-18 में पुलिस ने एक नगर पंचायत के पूर्व चेयरमैन के गन हाउस पर काम करने वाले नौकर समेत नौ लोगों को पकड़ा था। उनके पास मुंगेर की आठ पिस्टल बरामद हुईं थीं। बताया जाता है कि जब पुलिस को पता चला कि इस मामले में कई मालदार लोग भी फंस रहे हैं तो पुलिस ने कार्रवाई की बजाय लोगों को धमकाकर पकड़ने और पैसा लेकर छोड़ दिया। अगले दिन केवल नौ लोगों के साथ आठ पिस्टलों की बरामदगी दिखाई गई। इससे पहले पुलिस ने मुखबिरी के आधार पर ककराला निवासी भूरा को पकड़ा था, जिसकी निशानदेही पर एक पूर्व नगर पंचायत चेयरमैन व उसके बेटे और नौकर को उठाया गया। बताते हैं कि पुलिस ने पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष के बेटे को रात भर हवालात में रखा और सुबह मोटा सौदा होने के बाद छोड़ दिया। जिन अन्य लोगों को उठाया गया, उनसे भी मोटी सौदेबाजी की गई थी। मामले की जानकारी डीआईजी राजेश कुमार पांडेय तक पहुंचने के बाद इसकी जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई थी। पहले इस मामले की विवेचना क्राइम ब्रांच के सीनियर इंस्पेक्टर कृष्णमुरारी कर रहे थे, लेकिन उनका स्थानांतरण मुरादाबाद होने के बाद अब इंस्पेक्टर प्रमोद कुमार इस मामले की जांच कर रहे हैं। क्राइम ब्रांच इस मामले की जांच भले ही धीमी गति से कर रही हो, लेकिन वह मुख्य आरोपी को दबोचने के लिए कोई रिस्क नहीं लेना चाहती। इसके लिए जांच में हर वह बिंदु शामिल किया जा रहा है जिससे उसके बचने की कोई गुंजाइश न रहे। अब क्राइम ब्रांच भूरा की कॉल डिटेल निकलवाकर उसका मिलान करा रही है, ताकि उसके माध्यम से उन लोगों तक पहुंचा जा सके जो उससे जुड़ेे थे।
---------------
पुलिस ने थाने से छोड़ दिए थे कई लोग
पिस्टल मामले में पुलिस ने बड़ा खेल किया था। पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष के अलावा प्रोफेसर कॉलोनी और कबूलपुरा निवासी एक-एक व्यक्ति, चौधरी सराय निवासी दो लोग व चंदौसी के मई निवासी एक व्यक्ति को थाने से ही छोड़ दिया गया था। आरोप है कि इसके बदले पुलिस ने इनसे मोटा पैसा वसूला था।
-------------------
जनप्रतिनिधि के साथ नजर आता था आरोपी
सपा सरकार में पिस्टल कांड का मुख्य आरोपी एक पूर्व जनप्रतिनिधि के साथ नजर आता था। चुनाव में भी उसने इस पूर्व जनप्रतिनिधि का सहयोग किया था, बल्कि उनकी रैली जुलूस आदि में पूरी सहभागिता निभाई थी। दरअसल आरोपी को इस बात की उम्मीद थी कि वह जिसकी सपोर्ट कर रहा है वह चुनाव जीत ही जाएंगे, लेकिन उसकी बदकिस्मती रही कि वह चुनाव हार गए।
-------------------
क्राइम ब्रांच इस मामले की छानबीन में लगी है। ककराला निवासी भूरा की कॉल डिटेल निकलवाकर उसका मिलान किया जा रहा है कि उसके संबंध किससे थे तथा वह किसके लिए काम कर रहा था। कॉल डिटेल का मिलान करके अन्य आरोपियों तक पहुंचा जाएगा।
- प्रमोद, इंस्पेक्टर क्राइम ब्रांच
... और पढ़ें

यहां तो दलदल जैसी दिखाई देती है सोत, लोग देखना चाहते हैं पुराने स्वरूप में

फोटो-2
सोत नदी से कब्जा छोड़ने को लोग होने लगे तैयार
ग्रामीण कब्जा छोड़ने को होने लगे तैयार, नदी के पुनर्जीवन में करेंगे पूर्ण सहयोग
अमर उजाला ब्यूरो
उसहैत (बदायूं)। कस्बे से होकर निकल रही सोत नदी अब दलदलनुमा दिखाई देती है। हालांकि इसके अधिकतर भाग पर यहां भी खेती हो रही है। अब पानी की दिक्कत के चलते अनेक लोग सोत नदी का अस्तित्व बचाने का मन बना रहे हैं, वह चाहते हैं कि इस संबंध में सरकार पहल करे।
जैसे-जैसे सोत सूखी वैसे-वैसे यहां के लोगों को परेशानी बढ़ने लगी। सोत नदी का पानी क्षेत्र में कम होने के बाद जिन लोगों ने जमीन पर पशुओं को चारा या कुछ ने अस्थायी फसलें बोनी शुरू की थीं, अब वे लोग भी नदी को पुराने अस्तित्व में लाने का मन बना रहे हैं। इसके लिए वे प्रशासन का हर प्रकार से सहयोग करने के लिए तैैयार हो रहे हैं, क्योंकि अब ग्रामीणों को पानी की चिंता सताने लगी है। पहले तो वे सोत नदी के पानी से कम खर्च में सिंचाई कर लेते थे। उनके व जंगली पशुओं को पानी बहुत आसानी से मिल जाता था, लेकिन अब ऐसा नहीं है।
ग्रामीणों से जब सोत के बारे में बात की गई तो वे नदी के पुराने अस्तित्व को लेकर छटपटाते दिखे। उनका मानना था कि सरकार यदि चाहे तो नदी की सफाई के लिए सरकारी कार्य में वे भी पूरा सहयोग करेंगे। ग्रामीणों का कहना था कि अमर उजाला की सोत नदी को लेकर जो मुहिम चलाई जा रही है, वह तारीफ के काबिल है। सरकार को इस नदी के पुनर्जीवन के लिए आगे आना चाहिए। जनता तो चाहती है कि नदी पुनर्जीवित हो, परंतु पहल सरकार को ही करनी होगी। हम लोग नदी पर सरकार के साथ हैं। यहां बता दें कि सोत नदी के रहते हुए कभी सैकड़ों मछुआरों की रोजी रोटी चलती थी और नाविकों के नाव के सहारे परिवार चलते थे। किसानों को कम लागत पर सिंचाई मिलती थी। इन सभी को परिवार चलाने को अब बाहर जाना पड़ा या इन्हें अन्य साधन ढूंढने पड़े। वहीं अनेक स्थानों पर लोगों को अवैध स्थायी, अस्थायी कब्जे करने का अवसर मिल गया।
------------------
क्या बोले लोग
फोटो- 3
सोत नदी को पुनर्जीवित करने के लिए सरकार को आगे आना चाहिए। जनता तो चाहती है कि नदी पुनर्जीवित हो। वह स्वयं इस अभियान में साथ आ जाएंगे।
-रामवीर सिंह कश्यप, प्रधान-बारीखेड़ा
फोटो-4
सोत नदी के खोते हुए अस्तित्व को बचाने के लिए अमर उजाला की पहल अच्छी है। इस ओर शासन-प्रशासन को भी ध्यान देना होगा। नदी में पानी नहीं रहने से जंगली जानवर खत्म होते जा रहे हैं। अपने पशुओं को लेकर भी किसानों को परेशानी आ रही है।
-छत्रपाल, ग्राम बारीखेड़ा
फोटो-5
सरकार की मंशा यदि सोत नदी को पुनर्जीवित करने की बनती है, तो कुछ लोगों ने सोत नदी पर जो जबरदस्ती अस्थायी कब्जे कर लिए हैं वे छोड़ देंगे परन्तु कुछ लोगों ने स्थायी तौर पर भी कब्जा कर लिया है उनमे हड़कंप मचना तय है।
-सोनपाल, ग्राम बारीखेड़ा
फोटो--6
सरकार को सोत नदी की खुदाई करानी चाहिए। इससे नदी के सोत खुल जाएंगे और नदी को लेकर पूरे जिले में किसानों में खुशी की लहर दौड़ जाएंगी। सरकार जनता से जो सहयोग चाहती है वह अवश्य मिलेगा। हम सब सरकार की मुहिम के साथ रहेंगे।
- राजीव, ग्राम बारीखेड़ा
... और पढ़ें

फर्राटा दौड़ में सचिन और रश्मि ने मारी बाजी

फर्राटा दौड़ में सचिन और रश्मि अव्वल
उपरैरा में हुई न्याय पंचायत स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता
अमर उजाला ब्यूरो
बदायूं। विकासखंड जगत क्षेत्र की न्याय पंचायत रसूलपुर के परिषदीय स्कूलों के बच्चों की खेलकूद प्रतियोगिता शुक्रवार को जूनियर स्कूल उपरैरा के प्रांगण में संकुल प्रभारी महीपाल सिंह टंडन के निर्देशन में हुईं। प्राथमिक स्तर की 50 मीटर (फर्राटा) बालक वर्ग की दौड़ में सचिन व बालिका वर्ग में रश्मि ने पहला स्थान पाया।
एबीआरसी सीमा यादव ने दीप प्रज्ज्वलित कर प्रतियोगिता का शुभारंभ किया। इस बीच हुईं प्राथमिक स्तर की 50 मीटर बालक वर्ग की दौड़ में सचिन व बालिका वर्ग में रश्मि ने पहला स्थान पाया। 100 मीटर दौड़ जूनियर (बालक) वर्ग में आजाद, बालिका में मुस्कान ने बाजी मारी। प्राथमिक स्तर की कबड्डी में सूरजपुर, जूनियर में राजेश की टीम विजयी रही। गोला फेंक में कौशल कुमार व प्रमिला ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। लंबी और ऊंची कूद प्राथमिक स्तर पर शिवानी ने प्रथम और रियाज बानो ने द्वितीय स्थान पाया। प्रतियोगिता में विजयी बच्चों को एबीआरसी सीमा यादव, संकुल प्रभारी महीपाल टंडन ने शील्ड और मेडल बांटे। इस अवसर पर अमित वर्मा, विवेक यादव, डेनिस वरुण कुमार, सचिन कुमार सिंह, अरविंद कुमार सिंह, सुनील कुमार, विकास सिंह, ब्रजमोहन आदि मौजूद थे।
इधर, विकासखंड उझानी की न्याय पंचायत दहेमू में भी दौड़, कबड्डी आदि खेलकूद प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। इस मौके पर प्राथमिक शिक्षक संघ के ब्लाक अध्यक्ष अरविंद दीक्षित, व्यायाम शिक्षक परमवीर सिंह, राघवेेंद्र सिंह, रामकिशोर पाल, उमेश यादव, अजयपाल आदि मौजूद थे।
... और पढ़ें

नौ लाख से ज्यादा खर्च, फिर भी इलाज से महरूम लोग

नौ लाख से ज्यादा खर्च, फिर
भी इलाज को तरस रहे लोग
नाम के लिए चल रही योजना, नहीं मिल पा रहा लाभ
अमर उजाला ब्यूरो
बदायूं। केंद्र सरकार की ओर से आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत करने के पीछे मंशा थी कि गरीब लोगों को भी बेहतर से बेहतर इलाज मुहैया कराया जा सके। इस साल विभाग की ओर से गरीबों के इलाज पर नौ लाख रुपये से अधिक खर्च किया है, लेकिन ये खर्च कहां और किन गरीबों के लिए इलाज के लिए हुआ, ये कह पाना संभव नहीं है। क्योंकि जहां इलाज पर 10 हजार रुपये खर्च हुए, वहीं उसका बिल 25 से 30 हजार रुपये दिखाकर सरकारी धनराशि को लूटने का काम किया गया। हालांकि धनराशि कितनी भी खर्च हुई, लेकिन कुछ चुनिंदा मरीजों को ही राहत मिली, जबकि अधिकतर लोग आज भी इलाज के लिए भटक रहे हैैं।
आयुष्मान योजना की बात करें, तो विभाग के आंकड़ों में जिले में तीन सरकारी और आठ निजी अस्पताल संचालित है, लेकिन आठ में से पांच प्राइवेट अस्पताल काम छोड़ चुके हैं। एक लाख 36 हजार 367 कार्ड बनाए जा चुके हैं, साथ ही 65 हजार 191 लोगों के गोल्डन कार्ड भी बनाए गए हैं। लेकिन ये आंकड़े कागजों में ही अच्छे नजर आते है, जबकि हकीकत कुछ और है। लोगों को योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। मरीज अब इस बात से परेशान है कि किसी डॉक्टर के यहां पर कार्ड मान्य है, किस जगह पर कार्ड नहीं मान्य है। अब मरीजों को पहले अस्पताल की तलाश करानी होगी। उसके बाद में इलाज के बारे में डॉक्टरों से वार्ता की जाएगी। हालांकि विभाग की माने तो अब तक इस योजना के तहत डॉक्टरों को नौ लाख 53 हजार से अधिक का पेमेंट जिले में किया जा चुका है, लेकिन धरातल पर इस योजना का लाभ असल में सही लोगों को नहीं मिल पा रहा है।
----------
डॉक्टर भी नहीं हैं पीछे योजना फेल कराने में
शासन की मंशा पर कुछ प्राइवेट डॉक्टर भी जमकर पानी फेर रहे है, जिसकी वजह से आम जनता को सरकार की इस योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है, क्योंकि चयनित आठ निजी अस्पतालों में से सिर्फ तीन ही अस्पताल ये काम कर रहे हैं। पांच ये काम विभिन्न कारणों से छोड़ चुुके हैं। कुछ डॉक्टरों का कहना है कि अगर तत्काल पेमेंट डॉक्टरों के खातों में आता रहे, तो डॉक्टर दूसरा काम न करें लेकिन देर से पेमेंट मिलने की वजह से डॉक्टरों ने काम को बीच में छोड़ दिया है।
-------------
कार्ड है पर नहीं हो रहा इलाज
ब्लाक जगत के रहने वाले जगदीश को काफी समय से पेट संबंधी बीमारी है, लेकिन उसके पास में इतना पैसा नहीं है कि वह अच्छे प्राइवेट अस्पताल में इलाज करा सके। उसके पास में कार्ड भी है, लेकिन मजबूरी है कि जिस प्राइवेट डॉक्टर को दिखाया, वहां पर कार्ड मान्य नहीं है। ऐसे में उधार के रुपये को इलाज कराना मजबूरी बन गई है।
---------
वर्जन-आयुष्मान
आयुष्मान भारत के तहत मरीजों का लगातार इलाज किया जा रहा है। लोगों को बेहतर से बेहतर सुविधा दी जा रही है। अभी तक नौ लाख रुपये से अधिक लोगों केे इलाज पर खर्च हो चुके हैं। आगे भी योजना से लोगों को लाभान्वित किया जाता रहेगा।
-नितिन वर्मा, जिला कोऑर्डिनेटर आयुष्मान भारत योजना
... और पढ़ें

दो लुटेरे गिरफ्तार, 91700 की नकदी और बाइक बरामद

फोटो- 21 बीडीएनएसडब्लूएन-01
दो लुटेरे गिरफ्तार, 91700 की नकदी और बाइक बरामद
एक माह पहले लूटा था रुस्तमटोला निवासी नौशे को
अमर उजाला ब्यूरो
सहसवान। कोतवाली पुलिस ने एक माह पहले बैंक से केसीसी के रुपये निकालकर जा रहे मोपेड सवार किसान के साथ हुई लूट का खुलासा कर दिया। पुलिस ने दो लुटेरों को गिरफ्तार करने के साथ ही लूटी गई 91 हजार सात सौ रुपये की नकदी और लूट में प्रयुक्त बाइक बरामद कर ली।
शनिवार शाम एसपी देहात डॉ. सुरेंद्र प्रताप सिंह ने वारदात का खुलासा करते हुए बताया कि 21 अगस्त को नगर के मुहल्ला रूस्तमटोला निवासी खालिद पुत्र नौशे को पल्सर सवार दो लोगों ने उस वक्त लूट लिया था जब वह बैंक से केसीसी के एक लाख 85 हजार रुपये निकालकर अपने घर जा रहा था। इस मामले में पुलिस ने पीड़ित की ओर से अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। शनिवार को पुलिस ने बदायूं मेरठ हाइवे पर पेट्रोल पंप के पास से दो युवकों को पल्सर बाइक से जाते समय गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने खालिद के साथ हुई लूट कबूल की। पकडे़ गए आरोपियों ने अपने नाम पुष्पेन्द्र पुत्र बलवीर निवासी गांव अफजलपुर बुधैती थाना जरीफनगर और नबी अहमद पुत्र वसीर अहमद निवासी ग्राम आनन्दीपुुर थाना सहसवान बताए। पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही पर गांव खैरपुर खैराती के पास बाग में छिपाकर रखी गई 91 हजार सात सौ रुपये की नकदी बरामद की। पुलिस ने पूछताछ के बाद आरोपियों को मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया।
------------------
आरोपियों पर पहले से दर्ज हैं मुकदमे
सहसवान। पुलिस ने बताया कि आरोपी पुष्पेन्द्र पर लूट समेत तीन मुकदमे जरीफनगर थाना क्षेत्र में दर्ज हैं जबकि आरोपी नवी अहमद वर्ष 2014 में सहसवान में हुई एक लूट के मामले में आरोपी रहा है।
... और पढ़ें

अंग्रेजी माध्यम में चयन के लिए हुई परीक्षा, शिक्षिका की कक्ष निरीक्षक से नोकझोंक

अंग्रेजी माध्यम स्कूल में
चयन के लिए हुई परीक्षा
शिक्षिका की कक्ष निरीक्षक से नोकझोंक
342 शिक्षकों ने ही दी परीक्षा
अमर उजाला ब्यूरो
बदायूं। परिषदीय विद्यालयों में अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाई कराने के लिए शिक्षकों का चयन किया जा रहा है। इसी को लेकर शनिवार को शिक्षकों की राजकीय कन्या इंटर कॉलेज में परीक्षा आयोजित की गई। इसमें कक्ष निरीक्षक से एक शिक्षिका की जमकर नोकझोंक हो गई। बात यही खत्म नहीं हुई, शिक्षिका परीक्षा केंद्र के बाहर आने पर कक्ष निरीक्षक का हड़काने लगी। लोगों के बीच बचाव होने के बाद में मामला शांत हुआ।
शासन के आदेश पर अंग्रेजी माध्यम से शिक्षण कार्य कराने के लिए शिक्षकों को नियुक्त किया जाना है। ऐसे में अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में शिक्षकों की कमी को दूर करने के लिए बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से शनिवार को शिक्षकों की नियुक्ति के लिए परीक्षा कराई। जिले में कुछ 722 शिक्षकों की जरूरत है, लेकिन मात्र 385 शिक्षकों द्वारा आवेदन किया गया था। इसकी परीक्षा शनिवार को जीजीआईसी में हुई, जिसमें मात्र 342 शिक्षक परीक्षा देने पहुंचे। 43 अनुपस्थित रहे। इस दौरान एक शिक्षिका किसी बात पर कक्ष निरीक्षक से उलझ बैठी। काफी समझाने के बाद भी शिक्षिका बाज नहीं आयी। जैसे-तैसे परीक्षा खत्म हुई, तो विवाद कक्ष के बाहर तक आ गया। हालांकि बाद में अन्य लोगों के हस्तक्षेप के बाद में मामला रफा दफा कर दिया गया।
... और पढ़ें

पुलिस की जीप घुसी खड़े ट्रक में, दरोगा समेत तीन घायल

पुलिस की जीप घुसी खड़े ट्रक
में, दरोगा समेत तीन घायल
रात्रि गश्त पर सामने से आ रही गाड़ी को बचाने के चक्कर में हुआ हादसा
सिपाहियों को गंभीर हालत में ले जाया गया मेरठ
अमर उजाला ब्यूरो
बदायूं। रात्रि गश्त के दौरान सिविल लाइंस थाना पुलिस की एक जीप मुरादाबाद-फर्रुखाबाद मार्ग पर खड़े ट्रक में जा घुसी। हादसे में एक दरोगा समेत जीप चालक व गनर घायल हो गए। पिछली सीट पर सवार दो होमगार्ड बाल बाल बच गए। गनर व चालक की हालत गंभीर होने पर उन्हें पहले बरेली फिर मेरठ ले जाया गया है।
थाने के दरोगा अनिल कुमार की रात्रि गश्त पर पुलिस जीप पर तैनाती थी। दरोगा के साथ चालक आनंद तोमर व गनर शिवम तोमर और दो होमगार्ड जीप में मौजूद थे। बताते हैं कि शनिवार तड़के सामने से आ रही गाड़ी को बचाने के चक्कर में चालक शिवम तोमर ने विपरीत दिशा में जीप को मोड़ दिया, जिससे पुलिस जीप हाईवे पर खड़े ट्रक में पीछे से जा घुसी। जोरदार टक्कर में चालक व गनर गंभीर रूप से घायल हो गए, जबकि दरोगा को भी चोटें आईं। मौके पर पहुंची एंबुलेंस ने सभी पुलिस कर्मियों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जहां से दोनों सिपाहियों की हालत गंभीर देखते हुए उन्हें बरेली रेफर कर दिया है। हादसे में पुलिस जीप भी बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई। सिविल लाइंस इंस्पेक्टर ओपी गौतम ने बताया कि घायलों को पहले बरेली और फिर वहां से मेरठ भेजा गया है।
... और पढ़ें

किसान पैसे-पैसे को मोहताज, सरकार डाल रही बोझ: भाकियू

फोटो- 1
किसान पैसे-पैसे को मोहताज, सरकार डाल रही बोझ: भाकियू
मासिक पंचायत में छाया रहा बिजली दरों में वृद्धि का मुद्दा
अमर उजाला ब्यूरा
बदायूं। भारतीय किसान यूनियन की मासिक पंचायत में बिजली के बढ़े हुए मूल्य व प्याज की कालाबाजारी समेत गन्ना भुगतान आदि तमाम समस्याओं को उठाया गया। कहा गया कि किसान पैसे-पैसे को मोहताज हो रहा है और सरकार उस पर बोझ डाले जा रही है।
भाकियू के मंडल प्रवक्ता राजेश कुमार सक्सेना ने कहा कि देश में किसान भुखमरी के दौर से गुजर रहा है, केवल भाषणों में किसान की आय दोगुनी की जा रही है। प्रदेश सरकार की ओर से बिजली के मूल्य को बेहताशा बढ़ाकर किसानों की कमर तोड़ने का काम किया गया है। इस समय किसान गन्ना भुगतान को लेकर पैसे-पैसे के लिए मोहताज है, लेकिन राज्य सरकार निरंतर भुगतान होने की बात कह रही है। इसको लेकर भाकियू 25 सितंबर को लखनऊ में धरना प्रदर्शन करेगी, जिसमें पूरे प्रदेश भर का किसान एकत्र होगा।
जिलाध्यक्ष धर्मपाल सिंह ने कहा कि जब किसानों के खेतों में प्याज था तो उसके मूल्य दो से तीन रुपये प्रति किलो थे, आज किसान उस प्याज को जब बाजार में खरीदने जा रहा है, तो 50 से 60 प्रति किलो मिल रहा है। बोले- ऐसा कौन सा उपकरण लगा हुआ है जो व्यापारियों के भंडारों में जाकर 25 से 30 गुना महंगा प्याज हो गया है। देश के अंदर किसानों को तबाह करने की नीति को अब किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे। इस मौके पर मंडल उपाध्यक्ष चौधरी सौदान सिंह, सतीश चंद साहू, अजब सिंह, सुरेश चंद गुप्ता, शिवदयाल, राजू शेट्टी, चंद्र मौर्य, बनवारी लाल कश्यप, गंगा शरण आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

अवैध खनन: तीन ट्रैक्टर, एक जेसीबी सीज

अवैध खनन: तीन ट्रैक्टर, एक जेसीबी सीज
बगरैन (बरेली)। अवैध खनन को लेकर सरकार की सख्ती का कुछ कम ही सही, मगर असर दिखने लगा है। वजीरगंज पुलिस ने शुक्रवार रात बगरैन के जंगल में अवैध खनन पकड़ा। मौके पर तीन ट्रैक्टर और एक जेसीबी सीज कर दी, जबकि अवैध खनन करने वाले भाग निकले।
जिले के कई इलाके अवैध खनन के लिए बदनाम हैं। पुलिस पर भी सवाल उठते रहे हैं। कुछ समय से सरकार ने अवैध खनन को लेकर ज्यादा सख्ती दिखाई है। वजीरगंज थाने की बगरैन चौकी इलाके में भी अवैध खनन हो रहा था। शुक्रवार रात पुलिस को इस बारे में सूचना मिली। चौकी इंचार्ज राहुल सिसोदिया ने मौके पर छापा मारा। खनन करने वाले वाहनों को छोड़कर भाग निकले। पुलिस ने तीन ट्रैक्टर और एक जेसीबी को कब्जे में लेने के बाद सीज कर दिया।
... और पढ़ें

जानलेवा बुखार ने तीन और जिंदगियां निगलीं

जानलेवा बुखार ने तीन
और जिंदगियां निगलीं
जगत, दहगवां, और बिसौली के गांवों में हुई मौतें
अमर उजाला ब्यूरो
बदायूं। जानलेवा बुखार का प्रकोप जिले में कम नहीं हो रहा। पिछले चौबीस घंटे में बुखार ने तीन और जिंदगियां निगल लीं। सैकड़ों लोग बुखार की गिरफ्त में हैं। अस्पताल पहले से ही बुखार के मरीजों से भरे पड़े हैं। निजी डॉक्टरों के यहां भी कतारें लग रही हैं। बुखार से मौतों के ताजा मामले दहगवां, जगत और बिसौली ब्लॉक के गांवों में सामने आए हैं।
दहगवां। दहगवां ब्लॉक के गांव अफजलपुर बुधौती के अशोक की सात वर्षीय बेटी रविता को बुखार आ रहा था। शुक्रवार को हालत ज्यादा बिगड़ने पर परिवार वाले उसे लेकर सीएचसी पहुंचे। यहां डॉक्टर न मिलने पर निजी डॉक्टर के पास नाधा ले गए। दवा से फायदा नहीं हुआ तो रविता को चंदौसी के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। इलाज के दौरान शनिवार को उसकी मौत हो गई।
गुलड़िया। ब्लॉक जगत के गांव परसुरा के धर्मपाल यादव के पांच वर्षीय बेटे दीपांशु को कई दिन से बुखार आ रहा था। शुक्रवार को बुखार काफी तेज होने से दीपांशु की हाल बिगड़ने पर उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया। यहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। दीपांशु का भाई रमन पाल और पिता धर्मपाल भी बुखार से पीड़ित हैं।
दबतोरी । बिसौली ब्लॉक के गांव उरैना के शिशुपाल की 18 वर्षीय बेटी शिखा को कई दिन से बुखार आ रहा था। स्थानीय डॉक्टर से फायदा न होने पर परिवार वालों ने शिखा को बरेली के नारायण अस्पताल में भर्ती कराया था। इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। मृतका कुमारी मंजू लता मेमोरियल इंटर कॉलेज दबतोरी के प्रधानाचार्य चंद्रपाल सिहं की भांजी थी।
... और पढ़ें

डकैती-हत्या के मामले में दो भाइयों सहित तीन को उम्रकैद, जुर्माना

डकैती-हत्या के मामले में दो भाइयों सहित तीन को उम्रकैद, जुर्माना
स्पेशल जज डकैती ने सुनाई सजा, 17 साल पुराना है मामला
अमर उजाला ब्यूरो
बदायूं। 17 साल पुराने डकैती और हत्या के मामले में स्पेशल जज डकैती राजकुमार सिंह ने दो भाइयों समेत तीन को उम्रकैद की सजा सुनाई है। कोर्ट ने तीनों पर 55-55 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है।
डकैती और हत्या की वारदात थाना गुन्नौर के गांव नदरौली (वर्तमान जिला संभल) में 25 मई 2002 को घटी थी। गांव निवासी सुबराती पुत्र शकूर ने थाने में रिपोर्ट लिखाई थी कि उसने अपने गांव में कुछ जमीन ले रखी थी, जिसमें वह देसी खाद डालता था। पड़ोस में रहने वाले प्रेम सिंह, कल्यान, ऋषिपाल पुत्रगण दाताराम उसकी जमीन पर कब्जा करना चाहते थे। घटना वाली रात में करीब दो बजे प्रेम सिंह, कल्यान , ऋषिपाल और मुकेश पुत्र छोटे निवासी नदरौली थाना गुन्नौर उसके घर में डकैती डालने के इरादे से घुस आये। विरोध करने पर सभी ने अंधाधुंध फायरिंग की। पड़ोस के जहीर अहमद, नबी अहमद और उनकी मां रसूलन और कई लोग छत पर जान बचाने को छिप गए थे। फायरिंग में रसूलन और उसके दोनों पुत्र समेत पड़ोस के कई लोग घायल हो गये। प्रेमसिंह, कल्यान, ऋषिपाल और मुकेश ने सुबराती के घर में रखे 50 हजार रुपये नकद और जेवर, बर्तन लूटकर ले गए। गंभीर रूप से घायल रसूलन की मौत हो गई। सुबराती ने प्रेमसिंह, कल्यान, ऋषिपाल, मुकेश के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ने सभी के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की। मुकदमे के दौरान प्रेम सिंह पुत्र दाताराम की मृत्यु हो गई।
स्पेशल जज राजकुमार सिंह ने पत्रावली पर मौजूद साक्ष्यों का अवलोकन किया। अभियोजन की ओर से एडीजीसी मुनेंद्र प्रताप सिंह और बचाव पक्ष के अधिवक्ता की दलीलों को सुनने के बाद कल्यान, ऋषिपाल और मुकेश को डकैती व हत्या में दोषी माना। कोर्ट ने सभी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई साथ ही 55-55 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree